सेक्सी बीएफ लड़की वाली

छवि स्रोत,सूरत कॉल गर्ल

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ इंडियन पिक्चर: सेक्सी बीएफ लड़की वाली, शाम को जब निष्ठा घर वापिस आई तो कुशल ने पूछ लिया- कोई काम हो तो बता दीजियेगा.

தமிழ் செக்ஸ் ஃபிலிம்

तो मैं डर गई और चुदाई अधूरी रह गई थी। इसके बाद अब तक फिर कभी मौका ही नहीं मिला।लेकिन अब मेरा इंतज़ार खत्म होने जा रहा था।मैं इंजीनियरिंग में तीसरे साल में थी. लाडला फिल्म अनिल कपूरकुछ ही देर में वो झड़ गई और मैंने भी उसके अंदर ही अपना माल निकाल दिया.

मीना- बता ना यार कौन था और कैसे ये सब हुआ? मुझे तो लग रहा था तुझसे नहीं हो पाएगा मगर तूने कर लिया. सेक्सी वीडियो कुत्ते वालीवो बेचारी सीधी-साधी कभी ऐसी बातों के करीब भी नहीं गई और आज अचानक उसके साथ ये सब हो रहा था।सुमन- व्ववो.

आज भी यश जोर जोर से झटके पे झटके मारे जा रहा था… मम्मी जोर जोर से चिला रही थी… आहह उईई माँ… अआह… ओहह उम्म्हाह…पूरा खेत मेरी माँ की चुदाई की सेक्सी सेक्सी आवाजों से गूंजने लगा.सेक्सी बीएफ लड़की वाली: हैलो फ्रेंड्स, मैं अमन अपनी भाई बहन की चुदाई स्टोरी को लेकर आया हूँ। मैं 22 साल का दिल्ली से हूँ। मेरी हाइट 5 फुट 11 इंच है, फेयर कलर का हूँ। मेरे लंड का साइज़ 7 इंच लम्बा और 2.

मैंने दूसरी तरफ अपना मुँह कर लिया लेकिन उसने लोअर में तानकर खड़े हुए लंड को देख लिया क्यूंकि लोअर बहुत ज्यादा उपर उठा हुआ साफ़ दिख रहा था.जॉय की बात ममता को समझ आ गई फिर जॉय ने कहा- डॉक्टर की ज़रूरत नहीं है.

सेक्स बीपी सेक्स बीपी सेक्स - सेक्सी बीएफ लड़की वाली

आज ये भी ट्राई कर ले और फिर मॉंटी तो घर का ही है उससे कोई ख़तरा भी नहीं होगा.लेकिन स्वान ने लंड बाहर नहीं निकाला और वो खुद भी उसके ऊपर गिरते हुए चुदाई करने में लगा रहा.

तू कब से ले रहा है इसकी?’मैंने कहा- भाई मैंने तो आज ही ली है।‘तो डर क्यों रहा है. सेक्सी बीएफ लड़की वाली सुन्दर ने मुझे आवाज लगाई- मंजू, ये बर्तन ले जा तो!मैं जैसे ही अंदर गई उसने दरवाजे के पास ही मुझे पकड़ लिया.

मैं जोधपुर(राज) में रहता हूँ।मेरे घर के पड़ोस में एक अंकल अकेले रहते थे, उनकी उम्र कोई 35-36 साल की रही होगी। उनकी वाइफ का एक्सिडेंट हो गया था और वो मर गई थीं.

सेक्सी बीएफ लड़की वाली?

थोड़ी देर हम ऐसे ही एक-दूसरे से लिपटे रहे और एक-दूसरे की पीठ पर हाथ फेरते रहे. जल्दी आना।और मैं घर से निकल गई!फिर ऑटो में बैठकर मैंने अक्षय को कॉल लगाई- हां. जीजू ने मेरे बालों को पीछे से पकड़ा और मुझे अपने लंड की तरफ खींचने लगा.

तुम्हें अन्दर तक प्यार करना चाहता हूँ।मैंने कहा- वो कैसे?तो उसने मेरा हाथ अपने लंड पे डाल दिया और बोलने लगा- मैं इससे तुम्हारी फुद्दी के अन्दर जाकर चूमना चाहता हूँ। मैंने पहली बार लंड छुआ था. कुछ देर ऐसे ही बात करने के बाद अचानक ही उसने प्रिया (जो हमारी मित्र है बचपन की) के बारे में भी बता दिया और वो भी हमारे सेक्स के बारे में… पर परोक्ष रूप से!इतना सुनकर तो मुझे और चिंटू दोनों को पसीना आ गया और हम दोनों एक दूसरे की तरफ देखते रहे. अम्मा की सारी बात सुनने के बाद मुझे महसूस हुआ कि उन दोनों ने मेरे साथ संतान पाने के लिए छल किया था.

आज से लगभग 3 महीने पहले एक दिन की बात है, वो मंडे था, मैं कॉलेज नहीं गई थी पर मेरा भाई रोज की तरह कॉलेज चला गया और मम्मी बैंक में…मैं अकेली क्या करूँ… बस अन्तर्वासना सेक्स हिंदी में पढ़ने लगी. तो वो बोली- मैडम ने बोला है कि सर आने के बाद उनको चाय देकर फिर मीटिंग के लिए निकलो, तो मैं जल्दी आ गई. मैंने जिप खोल कर लन्ड बाहर निकाल लिया तो भाभी मेरा लन्ड सीधे अपने मुँह में डालकर हिला हिला कर जोर जोर से चूसने लगी.

पर अंत में वो जीत गई। जैसा कि हर खेल में होता है, हारने वाली टीम को जीतने वाला टीम का कहा मानना पड़ता है. थोड़ी देर के बाद जूसी का फोन आया- रेखा तू आजा हमारी तरफ!मैं उठ खड़ी हुई और चलते हुए सोचने लगी कि जूसी ने फोन करके क्यों बुलाया, खुद आकर भी बुला सकती थी.

मैं भी उसको चूस और चाट रहा था, चॉकलेट का स्वाद अच्छा लग रहा था और उसकी चुत की गर्मी से चुत में से भी चॉकलेट पिघल कर बाहर आ रही थी.

उस वक़्त मुझे भी अच्छे से पता नहीं था कि सोनाली ने सब कुछ देख लिया है या नहीं… पर मेरा लंड अभी भी खड़ा हुआ था.

बुआ और चाची तो फिर भी दादाजी का लौड़ा ले लेती हैं, बेचारी कामिनी भाभी को लौड़ा चूसे और लिए हुए काफी वक़्त हो गया है, वो भी आज लौड़ा देख कर कल की चुदाई की तैयारी कर लेगी वर्ना इतने वक़्त से मेरी चूत चाट कर गुज़ारा कर रही हैं. उसने हॉल में ही गाउन निकाल कर फेंक दिया और मुझे पूरी नंगी कर दिया, उसने मुझे धक्का देकर सोफे पर गिरा दिया और मेरे पैर फैला कर मेरी बुर को चाटने लगा, उसके लपालप चूसने के वजह से मेरी बुर ने पानी छोड़ दिया- उई माँआआ आआ… स्सस्स…‘देखा कितनी चुदासी है तू… आज तेरी चुदास मिटाता हूँ!’ ऐसा कह कर उसने जीभ का हमला मेरे चूत पर जारी रखा, मेरी चूत का कोना कोना वो चाट रहा था. तभी दूसरा नीचे लेट गया, मैं उसके लंड की सवारी करने लगी लेकिन चार पाँच झटकों के बाद वो रुक गया और मुझे अपने ऊपर झुका कर मेरे होंठ को चूसने लगा.

बैडरूम के की-होल से पेंटर हमें देख रहा था और हमारी बातें सुन रहा था. एक दिन उसने ही मुझसे कहा कि अब यह फोन सेक्स की बातें अच्छी नहीं लगतीं वो मुझसे मिलना चाहती है और उसे यह सब कुछ करना है. ये समझ लो।फिर मैंने उसे बेड पर धकेल दिया। मेरा बाबूराव फटा जा रहा था.

क्योंकि बाहर वाशरूम में तो विवेक और साराह थे… तभी साराह की आवाज आई कि वो दोनों जा रहे हैं और लंच पर रिसोर्ट के रेस्तराँ में एक घंटे बाद मिलेंगे.

उसको मैंने पीछे से पकड़ा था इसलिए उसकी गांड में मेरा लंड चुभ रहा था. मादरचोद मज़े की हद हो गई… चूत ने लपलपा के लौड़े का स्वागत किया और साथ में ढेर सा जूस भी निकाल दिया. मैंने अपनी गांड को हाथ लगाया तो लगा जैसे किसी ने बाँस डाल कर फैला दिया है.

तो मैंने बगल में लेटे लड़के का भी चुम्बन ले लिया। सुकांत फ्रेश होने जा रहा था, चलते-चलते बोला- इसे मैं आपके कमरे पर लाऊँगा।मैं भी उठा. बहुत देर तक उन यादों में खोये रहने के बाद मुझे पता ही नहीं चला कब नींद आ गई और अगला दिन शनिवार होने के कारण मैं देर तक सोता रहा. कल्पना ने मेरे बहुत सारे बाल नोचे और बदले में मैंने उसके मम्मों को ऐंठ दिया, हम दोनों ही इस दर्द का आनन्द उठा रहे थे, मैं चूत चाटने में लगा था तो मुझे पता भी नहीं चला कि कब आभा डिल्डो लेकर आ गई.

मैंने खीर के डोंगे में लौड़ा पूरा डुबा दिया और फिर खीर से खूब लिबड़े लंड को बाहर निकाल के दोनों रंडियों को खीर चाटने को बोला.

मुझे भी बड़ी हैरानी हो रही थी, मैं तो समझता था कि मेरा लंड साधारण सा है, मगर गीता ने बताया- मैंने एक नहीं बहुत से लंड लिए हैं, मगर इतना लंबा, मोटा और बड़ा लंड आज तक नहीं देखा. तू तो मेरी स्वीट फ्रेंड है, तेरे लिए सब कुछ करूँगी।सुमन- दीदी, देखो मैं पूरी गीली हो गई हूँ। कपड़े चेंज कर लूँ.

सेक्सी बीएफ लड़की वाली मुझे डर लगने लगा।मैंने उसके लण्ड को अपने हाथों में लेकर कुछ देर तक ऊपर-नीचे किया. नारी के जीवन की कई व्यथाएँ हैं जो उसे समय समय पर विचलित करती रहती हैं, पर उनसे कैसे उभरना है वो नारी को बहुत ही अच्छे से पता होता है.

सेक्सी बीएफ लड़की वाली मैं तो मरा जा रहा था क्योंकि वो मेरे सामने भीगी हुई साड़ी में खड़ी थीं, जो गीली होने की वजह से उनके जिस्म से एकदम चिपकी हुई थी।मैंने अपने पर बहुत कंट्रोल किया।तभी आंटी ने फिर धीरे से कहा- आप अपने कमरे में क्या देख रहे थे?तो मुझे याद आया कि मैं जल्दबाजी में अपने कमरे की टीवी बंद करना भूल ही गया था और जब आंटी मेरे कमरे में प्लायर लेने गई होंगी तब उन्होंने वो सब कुछ देख लिया होगा. कुछ देर बाद वो अपने शरीर की टॉवल से पौंछने लगे, एक बार तो उन्होंने अपना लंड चड्डी से बाहर निकाला और फिर जल्दी से उसे टॉवल से पौंछा और फिर अंदर कर लिया.

पर वो मुझे देख रही थी। वो चारपाई से खड़ी हुई और नीचे चली गई।फिर अगले दिन वो मेरे घर पर आई.

तमिल सेक्सी वीडियो

तो क्या मस्ती मिली रे, रोज नई-नई स्टाइल से चोदने का आनन्द लेना चाहिए मेरी जान।दीदी गांड हिलाते हुए बोलीं- तो आज मेरे ऊपर कर नई-नई स्टाइल का इस्तेमाल. हालाँकि उसमें रात को स्विमिंग अलाउड नहीं थी, पर फिर भी कुछ विदेशी जोड़े उसमें उतरे हुए थे और खुल कर बेशर्मी कर रहे थे. शाम का समय हो रहा था और लंबे सफर के बाद मुझे काफी थकान महसूस हो रही थी, मैंने बस अड्डे पर बने एक स्टॉल पर जाकर चाय बनवा ली.

उसको देख कर उसको मज़ा आ रहा था। उसने पूरे 20 मिनट तक मूवी में सब कुछ देखा।थोड़ी देर बाद मैंने फोन माँगा कि अब तो गेम खेल लिया होगा. लंड एकदम से फनफना उठा, सच में बहुत मज़ा आया।अब हम दोनों दोस्त जैसे हो गए थे। मैं इधर-उधर कभी भी नीलू को टच करता, तो वो कुछ नहीं बोलती। कभी-कभी माँ नहीं होतीं. उसके मुँह से तेज़ आवाज़ निकली। कुछ देर बाद जब उसका दर्द कम हुआ तो मैंने तेज़ रफ़्तार के साथ उसको चोदना चालू किया। हम दोनों की साँसें भी उतनी ही तेज़ी से चल रही थीं।दस मिनट की उस तेज़ रफ़्तार की चुदाई के बाद मैंने उसको घोड़ी बनाया और उसके चूतड़ों में से लौड़े को छेद में डाला।करीब 10 मिनट इस स्टाइल से चोदने के बाद हम दोनों झड़ गए और हमने थोड़ा सा आराम किया.

लेकिन किस्मत ने जब जिससे जहाँ मिलना होता है, मिला देती है और शायद किस्मत को ऋषि को मुझसे मिलना था.

स्नेहा ने मेरे हाथ से खाली प्लेट ले के पास के डब्बे में डाल दी और हिरनी जैसे कुलांचे भरती हुई चल दी मैं पीछे से उसके नितम्बों का उतार चढ़ाव देखता रह गया. अभी मैं आपको अपनी एक नई स्टोरी के साथ!जैसा कि आप सभी जानते हो कि मेरा वाइफ स्वैपिंग क्लब है जिसमें बहुत सारे कपल हैं जो वाइफ स्वैपिंग का मज़ा लेते हैं. जीजू अपनी उंगली से चूत को खरोंच रहे थे और मैं ऐसा बड़े आनन्द लेकर करवा रही थी.

मैंने उसे 20 मिनट तक चोदा, तब मैडम बोली- अब बस कर, अब और नहीं कर सकती. आज ये भी ट्राई कर ले और फिर मॉंटी तो घर का ही है उससे कोई ख़तरा भी नहीं होगा. आज भी यश जोर जोर से झटके पे झटके मारे जा रहा था… मम्मी जोर जोर से चिला रही थी… आहह उईई माँ… अआह… ओहह उम्म्हाह…पूरा खेत मेरी माँ की चुदाई की सेक्सी सेक्सी आवाजों से गूंजने लगा.

लड़के ने ऋषि से हाथ मिलाया और मुझे कहा- डरो मत, मैं ऋषि का दोस्त हूँ, मैं आपको वहाँ छोड़ कर आऊंगा और फिर कल दोपहर लेने भी आऊंगा और फिर ऋषि आपको यहीं से ले जाकर हॉस्टल छोड़ देगा. ऋषिका ने कल और आज में पूरा घर चमका दिया था और उसका बेड रूम भी अच्छे से सेट कर दिया था.

उनके शरीर में करंट सा लगा जिसको मैंने महसूस किया, शायद उनको मजा आ रहा था. ऋषि ने जैसे ही मेरा फोन उठाया, मैंने उससे रोते रोते सब बताया कि क्या हुआ. जिसको वो चूस रही थीं।अब वो अकड़ रही थीं तो मैंने देर ना करते हुए अपना लंड उनकी चूत के दरवाजे पर सैट किया और रगड़ने लगा।वो लंबी साँस भरकर कहने लगीं- राजा कितने सालों से मैं इस बुर को कंट्रोल करते-करते तड़प गई थी, पर आज मेरी प्यास बुझा दे मेरे सोना.

मैं उसके बालों में हाथ डाल कर उसका सिर अपनी चूत पे दबा रही थी और ख़ुशी मेरे सिर को इधर उधर घुमा रही थी.

मेरा लंड बैठने का नाम नहीं ले रहा था और लेता भी कैसे, उसके सामने ऐसा संगमरमर माल जो था. उसमें अगर ना हुई तो अंजाम बुरा होगा। तुम्हें कोई टास्क नहीं करना होगा बस हमारा ग्रुप जाय्न कर लो और धीरे-धीरे फास्ट बनो. क्योंकि जैसे ही मैं धक्का मारता वो हिलने लगती।जब लंड घुसने में नाकाम हो गया तो वो हंसने लगी।मुझे गुस्सा आ गया.

तब असली बात समझ आएगी।मैंने शायद आपको ज़्यादा बोर कर दिया, चलो वापस इस सेक्स स्टोरी का मजा लेते हैं।दोस्तो, इतनी ज़बरदस्त चुदाई के बाद मोना को बहुत अच्छी नींद आ गई. हमने नशे में खाना खाया और बेड पर चले गए मैं तो एक बियर में ही होश खो बैठी थी! मुझे कुछ पता ही नहीं चल रहा था कि मैं क्या बोल रही हूँ क्या कर रही हूँ!मैंने अपने कपड़े उतार कर फेंक दिये और अपने पति के ऊपर गिर गई.

‘अंकल जी सब सोचा है मैंने और रानी भाभी ने… शाम को उसके पति और ससुर छह बजे दूकान चले जायेंगे. मैंने अपने दोनों हाथ उसके कंधे पर रखे और उसकी ब्रा की स्ट्रेप को नीचे की तरफ सरका दिया. इस बीच चाची मेरे लंड पर हाथ ले जा कर सहलाना शुरु कर दिया था, उसने पैन्ट का जीप खोल कर लंड बाहर निकाल लिया और हाथ में लेकर सहलाते हुए बोली- वैसे तेरे बाप के लंड में तो दम नहीं है, उसका तो सबसे छोटा है, तेरे माँ को एक बेटा नहीं दे सका, तब तेरे चाचा ने तेरी माँ को चोदा, तब तू पैदा हुआ.

सट्टा 786 किंग

पर जब वो स्विम सूट में पानी में उतर रही थी तब उन्हें देख सबकी साँसें थम गई, नीलिमा ने गुलाबी स्विम सूट पहना था और रीता ने काला… दोनों गजब लग रही थी.

रेशमा- कैसे?दीपा- मैं तुम्हें मेरे पति से चुदवाने में मदद करूंगी और तू मुझे रजत से चुदवाने में!रेशमा- हाँ पक्का… मेरी चुत में यह सोच कर ही पानी आ रहा है. पत्नी की भतीजी रीना रानी ने अपनी माँ की चुदाई करवाई-1तभी रीना रानी ने फिर पूछा- मैंने पूछा मम्मी ये सब क्या है?सुलेखा की आँखों से आंसू टपकने लगे. मुझे मज़े का पता ही नहीं चला था, मगर आज बहुत मज़ा आया। उस दिन बस दर्द हो रहा था।उसको पहली बार में खून भी नहीं निकला था। इसको लेकर वो खुद कहने लगी कि पता नहीं खून क्यूँ नहीं निकला। तब मैंने उसको समझाया कि ज़रूरी नहीं हर लड़की को पहली खून निकले।दोस्तो, रिश्ते में भरोसा ज़रूरी है, खून निकलना या सील का टूटना जरूरी नहीं.

तब तक सुजाता का भी हो गया था, वो भी मेरे साथ नहाई और बाहर आकर दोनों कपड़े पहन कर बैठ गये।फिर उसको याद आया कि चाय तो बनाई ही नही! वो किचन में गई और बतर्न में उसके चुची से दूध निकालने लगी और उसकी चाय बना कर मुझे दी।अभी तो टाईम था सिर्फ साढ़े छः बजे थे, मैंने सुजाता को पूछा- तुम्हें कुछ खाना है? फ्रिज में देखो, जो चाहिए वो ले लो. कुशल ने तुरंत ही पलट कर फोन किया, वो घबरा कर बोला- क्या हो गया?निष्ठा बोली- नींद नहीं आ रही. हंसी मजाक वाली वीडियोउन्होंने मुझे देखते ही गले लगाया, गले लगते ही मेरे सीने से उनके बूब्स टच हुए, मेरा लण्ड तो झटका मार के खड़ा हुआ और वो शायद मौसी ने महसूस कर लिया, थोड़ी स्माइल दी और कहा- आ गया तू? अब टाइम मिला है मौसी से मिलने का?मैंने कहा- मौसी, सॉरी थोड़ा लेट हो गया!उन्होंने मुझसे चाय पानी पूछा और कहा- अब कहीं मत जाना, तुझसे बहुत सारी बातें करनी हैं.

मैंने दरवाजे पर जैसे ही उसे देखा तो बस मदहोश हो गया और उसको देखता ही रह गया. भाभी ने लाल रंग की साड़ी पहन रखी थी, क्या बला की सुन्दर लग रही थी वो!उन्होंने मुझे अपने पास बुलाकर कहा कि मैं उनके ब्लाउज की पिछली डोरी को बांध दूँ, मेरे तो हाथ पाँव ही ठंडे पड़ गये, उन्होंने अपनी पीठ मेरी तरफ कर दी और अपने बालों को पीठ से हटा दिया, उनकी पीठ मुझे साफ़ दिखाई दे रही थी, उनका ब्लाउज पारदर्शी था जिसमें से उनकी सफ़ेद रंग की ब्रा बिलकुल साफ़ दिखाई दे रही थी.

बोलती क्या?बोलने को था ही क्या?मेरा दावा है कि उस टाइम उसके दिल में यही ख्याल चल रहा होगा कि अब सिवाय आत्महत्या के कोई इज़्ज़त बचाने की राह नहीं है. अब मैंने उसको औंधा कर दिया और उसकी गर्दन पकड़ कर उसकी चूत में लंड पेलने लगा. ’ की आवाज़ आने लगी थी। मैं लंड चुसवा कर जन्नत की सैर कर रहा था। मैंने कुछ ही देर उसके मुँह में ही अपना कम निकाल दिया।उसने मेरे लंड को चाट कर साफ़ कर दिया और फिर अपनी पेंटी निकाल के खड़ी हो गई। अब वो अपनी बुर को मेरे मुँह पर रगड़ने लगी।मैं बोला- यार मुझे बुर चाटने का मन नहीं हो रहा।तो वो कहने लगी- मेरी बुर अच्छी नहीं है क्या?प्रीति, मेरीबहन की चुततो मस्त थी.

नम्बर उसी परेशान करने वाली का था।और उसने सॉरी के अलावा और कुछ नहीं लिखा।अब उस नम्बर से मिस कॉल आने बंद हो गये. भाभी उस वक़्त जाग रही थी, मैं भी जग रहा था पर भाभी को यह जता रहा था कि मैं नींद में हूँ. उसी दिन पढ़ना और चुत को शांत करना बस।सुमन- ओके दीदी ये सही रहेगा। अब आज के लिए मेरे लिए कोई टास्क है वो बता दो।टीना- अभी कुछ नहीं है शाम को बताऊंगी। अभी तो कॉलेज चल देर हो जाएगी।दोनों घर से निकल गईं और कॉलेज पहुँच गईं। वहां जाकर सब जमा हुए.

उसने झट से मेरा लंड अपने मुँह से बाहर किया और सुपारे को चुचियों के पास ले जाकर लंड की मुठ मारने लगी। मैंने ‘अया अया.

उसने झट से लंड को चूसना शुरू कर दिया। वो उसे ऐसे चूस रही थी, जैसे ना जाने आज के बाद कभी लंड मिलेगा ही नहीं। उसने अपनी लार से लंड को तार कर दिया था।काका- बस राधा बस. मैंने बड़े प्यार से उनके हाथों को उनके मम्मों से हटाया और भाभी को अपने सीने से लगा लिया।इसके बाद भाभी के पेटीकोट का नाड़ा खींच दिया.

मैं समझ गया था कि इसकी गर्मी शांत करना मेरे लिए सबसे ज्यादा जरूरी है वरना ये कुछ भी कर सकती थी. आज पहली बार सुमन की चुत का लावा बाहर निकला था और इतना पानी निकला कि उसकी पेंटी तो क्या, पजामा भी गीला हो गया। वो धम से बिस्तर पे गिरी और लंबी साँसें लेने लगी।टीना- क्यों डार्लिंग मज़ा आया ना. तभी मरियम चुपचाप आई, मैं कहानी पढ़ने में इतना मग्न था कि मैं नहीं जान पाया कि कब मरियम कमरे में आ गई और मुझे स्टोरी पढ़ते हुए देखने लगी.

वो ख़ुद नीचे से चूतड़ों को उठाने लगीं। मैं समझ गया कि वो अब लंड को निशाने पर रख के तैयार हैं, मैंने एक झटके से उनकी चूत में लंड डाल दिया और झटके मारने लगा।धकापेल चुदाई हुई. दोस्तो, मेरा नाम शालीन (बदला हुआ) है, मेरी उम्र 26 साल है सामान्य बॉडी है और लंड का साइज़ 6. तो तुझे बुरा तो नहीं लगेगा ना?वो- बुरा क्यों लगेगा, हग तो हग होता है।मैंने चुटकी ली- और मेरे चेस्ट में कुछ चुभाएगी तो नहीं.

सेक्सी बीएफ लड़की वाली हम मिलते और खूब मजे लूटते।कैसी लगी आपको मेरी यह आपबीती शादीशुदा गर्लफ्रेंड की चूत में लन्ड की कहानी? आपके मेल्स का इंतज़ार रहेगा. गे सेक्स स्टोरी: गांड की चुदाई के शौकीन-1अब तक आपने मेरी इस गे सेक्स स्टोरी में पढ़ा था कि मेरा एक वकील दोस्त मिल गया था जो मेरी गांड की चुदाई करने में झिझक रहा था।अब आगे.

मैं हूँ न फुल मूवी

वो दोनों सम्भल भी नहीं पाये और जब तक सम्भलते तब तक हम दोनों उनके लंड को मुँह में ले चुकी थीं. 30 बजे तक आये।कोमल ने तब तक डिनर बना लिया था। हमने डिनर किया और कोमल अपने बेटे को सुलाने चली गई।मैंने मोहन को बताया- यार अभी 2 राउंड करेंगे चुदाई के और उसकी ब्रॉडकास्ट करेंगे, जिससे थोड़ी आपकी कमाई हो जायेगी। मेरा एक कपल दोस्त हमारी चुदाई देखना चाहते हैं. तब मैंने पूछा- आपके दोस्त का नाम क्या है?उन्होंने बताया- संजय… और उसी का लंड सबसे बड़ा है.

अंदर छेड़ा छाड़ी पूरे जोरों पर थी, चारों ओर अँधेरा था, हल्का म्यूजिक चल रहा था. उनकी चुत का स्वाद बड़ा नमकीन था।चुत चाटते हुए धीरे से मैंने अपने हाथ उनके दोनों मम्मों पर रख दिए। भाभी की कामुकता भरी सिसकारियों से कमरे में मादक माहौल छा गया- उ ऊऊ हाहा. गे सेक्स ब्वॉय बिग कॉक जींस पैंट देसीउस वक़्त मुझे भी अच्छे से पता नहीं था कि सोनाली ने सब कुछ देख लिया है या नहीं… पर मेरा लंड अभी भी खड़ा हुआ था.

कुछ देर तक मैंने ऐसे ही होंठों और जीभ के जोर से सुनीता की चूत को खूब चूसा और सुनीता के मुख से ‘उन्ह आह सी सी…’ निकलने लगा.

तू क्या अपनी फैमिली के बारे में बता रहा है? यार पूजा के बारे में बता ना मुझे।संजय- अबे साली. और फिर अगले दिन रीना काले सूट में आई, क्या बताऊँ… एकदम जबरदस्त माल दिख रही थी, उसको देखते ही मेरा लण्ड एकदम से तन कर खड़ा हो गया.

करीब 15 मिनट में मस्ती के बाद हम सेक्स करने के लिए फिर से तैयार हो चुके थे। मैंने फिर से उसको घोड़ी बनाया और काफी देर तक लगातार चोदा।फिर उसको प्यार के साथ विदा कह दिया।ऐसे हमारा अक्सर मिलना शुरू हो गया. उसकी हल्की आवाज़ें भी निकल रही थीं।अब तक मेरा लंड भी खड़ा हो गया था। मैंने भी ट्राई मारी और अपने लंड को लोवर के ऊपर से ही हल्का एड्जस्ट किया. मैं अपने बारे में बता दूँ, मैं 5’6″ का एक ठीक ठाक लड़का हूँ पर लड़कियों को पटाने के मामले में एक्सपर्ट हूँ.

‘अंकल जी, मैं कोशिश तो करती हूँ लेकिन उस वीडियो की तरह नहीं होता मेरा!’ वो झिझकते हुए बोली.

उसमें अगर ना हुई तो अंजाम बुरा होगा। तुम्हें कोई टास्क नहीं करना होगा बस हमारा ग्रुप जाय्न कर लो और धीरे-धीरे फास्ट बनो. फिर हम दोनों रोज रात को फोन सेक्स चैट करते थे, एक दूसरे की सेक्सी पिक्स एक्सचेंज करते थे और दोनों मौका ढूंढने लगे. बाकी लड़के भी तो नॉर्मल हैं, फिर मुझे ही क्यों भगवान ने लड़कों के लिए आकर्षण दिया… और अगर दिया तो ऐसे समाज में पैदा ही क्यों किया.

मस्तराम की कहानीसाहिल ने अब उसको चोदते चोदते उसके संतरे चूसना शुरू किया और रेशमा भी अब कमर उचका कर उसके लंड को अपनी चूत में और गहरा ले रही थी. वो बोली- आज ये बिल्ली भूखी है, मलाई चटनी है इसको!मैंने अपने कपड़े उतार दिए.

मालिश करने वाला

तभी आदित्य में अपना पूरा लंड मेरे गले में उतार दिया और वहीं रुक गया।उसका लण्ड बहुत लम्बा था. यश धक्के पर धक्के मारता रहा और मम्मी यश के ओंठ चूसती थी… आह क्या नजारा था… बहुत देर हो गई थी उन्हें चुदाई करते करते… इस बीच में मैं भी झड़ चुकी थी. मैंने सोचा यहाँ से निकल जाना चाहिए वरना सुबह सब उठ गए और चेहरा पहचान लिया तो मारे जाएंगे।फिर हम दोनों दोस्त वहाँ से रवाना हो गए।इसके बाद फिर कभी उस गांव की ओर नहीं गए।मैंने जो मेरे साथ रात में घटना हुई इसे आज तक किसी को नहीं बताया है.

सलोनी का हाथ उसकी चूत में और तेज-तेज चलने लगा, मैंने अपनी जीभ उसकी चूत पर लगा दी. अब वो आदमी उसकी गांड को दो-चार बार चोदता और अपने लंड को बाहर निकालता और उस लड़की की गांड जो अब पूरी तरह से आदमी के लंड के गोलाई के आकार में खुल गई थी, उसमें वो लार बनाकर थूकता और फिर चोदता. !यह हिंदी सेक्सी स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!सच में आकाश मेरी चुत को बहुत मस्ती अच्छे से चोद रहा था.

उसकी चूत के छेद और नीचे गांड के छेद में मुश्किल से दो अंगुल का फासला रहा होगा. नमस्कार दोस्तो, मैं कमल राज सिंह, आपका पुराना दोस्त, एक बार फिर अपनी कहानी लेकर हाज़िर हूँ।दोस्तो मेरी उम्र 27 वर्ष, कद 5 फीट 10 इंच, सीना 44 इंच है, मैं एक मज़बूत बदन का पंजाबी लड़का हूँ।मैं चंडीगढ़ में एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करता हूँ, अपने मम्मी पापा जो रिटायर्ड हैं, के साथ अपनी बड़ी सी कोठी में रहता हूँ. उसकी सांसें धौंकनी की तरह चलने लगीं, लंड से भरे हुए मुंह से अजीब अजीब सी आवाज़ें आने लगीं.

राजे ने अब पूरी ताक़त से धक्के मारने शुरू कर दिए, कालचक्र थम गया, मेरी सुध बुध गुम हो गई, मुझे सिर्फ कुछ आवाज़ें सुनाई दे रही थीं, यह भी नहीं मालूम कि वो आवाज़ें मैं कानों में सुन रही थी या दिल में या शायद दोनों में… राजे के मुंह से निकलती हुई हैं हैं हैं और गालियाँ, मेरे मुंह की सीत्कारें, सिसकियाँ और आहें, जूसी की किलकारियाँ. कोई एक घंटे बाद मेरे मोबाइल पर रामू काका का फोन आया, तो मैं वापिस अपने क्वाटर में आ गया.

इस तरह बार बार चूत चुदाई जैसी बातें सुन कर भी वो कोई ऑब्जेक्शन नहीं कर रही थी, न ही उसके चेहरे से पता चल रहा था कि उसे वैसी बातें अरुचिकर लग रहीं थीं, मतलब इस तरह की नॉनवेज बातचीत उसे भी अच्छी लगने लगी थी.

जल्दी आना।और मैं घर से निकल गई!फिर ऑटो में बैठकर मैंने अक्षय को कॉल लगाई- हां. सेक्सी वीडियो फुल मूवी एचडी मेंहम दोनों हँसने लगे।अब मेरा लंड फिर से खड़ा होने लगा। मैंने पूछा- तुम तैयार हो?वो बोली- हाँ. डॉट कॉम सेक्सीअब मैंने अपनी बीवी के ओंठ चूमने शुरू किये और उसकी एक चूची दबाने लगा, उसकी चूचियाँ काफी कड़क हुई थी… शायद उसको दोपहर से ही चुदास लगी थी. पर मुझे तो अपनी चुत चुदाई करवानी थी, मैं बोली- जब मैं सोई हुई थी तो तू क्या कर रहा था?बस मेरा इतना ही कहना था कि भाई रोने लगा- ग़लती हो गई बहन… माफ़ कर दे प्लीज!मैंने उसे गले लगा लिया और बोली- क्यों रो रहा है, तू मेरा प्यारा भाई है, तेरा हर ग़लती माफ़, बस रोना नहीं!वो चुप हो गया.

और साथ ही उसके होंठों पर किस कर दिया।वो अब भी पॉर्न मूवी देख रही थी। फिर मैंने उसकी पेंटी में हाथ डालना स्टार्ट किया तो उसने पेट को अन्दर कर लिया ताकि मेरा हाथ आसानी से अन्दर जा सके। मैंने उसकी चुत पर हाथ फेरा और अपनी उंगली चुत में डालकर उसको उंगली से ही चोदने लगा।करीब 15-20 मिनट यही खेल चलता रहा.

तो उनके लिए टाइम वेस्ट करने से कोई फायदा नहीं। आप खुद समझदार हो जब किसी की ज़्यादा जरूरत होगी, मैं बता दूँगी और रही इस मकान की बात. मगर तुम्हारे लच्छन ठीक नहीं लग रहे मुझे।मोना- ये आप कैसी बातें कर रहे हो, मैंने क्या किया है. मैंने मेरे मित्र चिंटू से भी इस बारे में बात की, पर समझ नहीं पा रहा था कि यह कौन हो सकती है?फिर एक दिन उसने ही मुझे मिलने के लिये बोला, पर मैंने फिर मना कर दिया.

प्लीज़ आप नाराज़ मत हो मगर मुझे कोई आसान सा टास्क दे दो। ये सब नहीं प्लीज़. देर हो रही है?टीना- अरे रुक मेरी जान तुझे यहाँ ऐसे ही थोड़े बुलाया मैंने. इस बार होली पर मुझे अपनी चाची की चुदाई की कहानी याद आ गई जो मेरे साथ पिछले साल हुई थी.

सेक्सी ऑडियो क्लिप

तुम्हें डर नहीं लगा?फ्लॉरा- तुम चोदू हो ये जानकर ही तो यहाँ चुदने के लिए आई हूँ. लेकिन स्वान ने लंड बाहर नहीं निकाला और वो खुद भी उसके ऊपर गिरते हुए चुदाई करने में लगा रहा. एक घंटे बाद रूम का फोन बजा… विवेक और साराह बाहर आ रहे थे, अजय ने फटाफट बरमूडा और टॉप और रूबी ने एक फ्रॉक डाली और दोनों बाहर आ गए.

अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज पढ़ने वाले सभी दोस्तों को राज का प्रणाम! यह सेक्स स्टोरी मेरे और मेरे भाई की पड़ोसन अमिता के बीच की है.

भाभी बोली- अरे भूक्के… आराम से… मैं अभी यहीं हूँ!मैं तो पागल हुआ जा रहा था, मैं कहाँ रुकने वाला था, मैंने उनकी चुची को आटे की तरह गूँथ डाला और चूत में जैसे ही लंड डालने लगा तो जा ही नहीं रहा था.

वो मेरे माथे को पीछे से पकड़ के अपने लौड़े से दूर करना चाह रहा था लेकिन मैंने अपना लपलपाना जारी रखा. मगर फिर उसे लगा कि काका खुद मोना को लंड चुसवा रहा था वो क्यों डरे?राजू- मेरी बात जाने दो. मारवाड़ी सेक्सी राजस्थानीबस नॉर्मल सा घर था। गायत्री के कहने पर सुमन सामने के कमरे में चली गई।टीना- अरे आओ मेरी प्यारी गुड़िया.

मेरा नाम सुशील शर्मा है, मैं लुधियाना में रहता हूँ, मेरी उम्र 23 साल की है, मैं दिखने में बहुत हैंडसम हूँ! मैं काफी समय से अन्तर्वासना का पाठक हूँ. उसे पता चल गया कि मेरा माल निकलने वाला है, तभी उसने मुझे धक्का मार के पीछे किया और मेरा पूरा लंड अपने मुख में ले लिया, अपने होठों और जीभ से चूस चूस कर उसने मेरा सारा पानी निचोड़ डाला. अब तो हर शुक्रवार को मैं राजे के घर आ जाती हूँ और तीन दिन खूब चुदती हूँ.

लेकिन बाली दीदी ने उसे रोक दिया कि ऐसा करेगी तो तेरे बच्चों को एक न एक दिन ये भेद खुल जायगा कि तू राजे से चुदती है. मैंने फिर हिम्मत को कॉल किया और कहा- भाई, 10 बजे हमारी चुदाई शुरू होगी।बिमलेश से भी बात की तो वो बोली- यहाँ से लौटते समय हमारे यहाँ रुकना, आपके योगिराज की बहुत याद आ रही है।कोमल 9.

तो भगत खुद ही शाम को घर आ जाता। उसके आने पर फिर वही होता, माँ हम दोनों को दूसरे रूम या छत पर जाने को बोल देती थीं।वे बोलती थीं कि भगत जी 1-2 घंटे पूजा करेंगे.

मैं परीक्षित को धन्यवाद करती हूँ कि उन्होंने मेरी चोदन कथा को लिखने में मेरी मदद की. उसका लंड जब मेरी बच्चेदानी में जाकर ठोकर मारता, मुझे इतना मजा आता कि मैं बता नहीं सकती. अजय और विवेक तो केवल लोअर में थे उनके अंदर से उनके तम्बू से लंड झाँक रहे थे.

एसएक्सईबीपी समय-2 पर वो उसके अंडे भी चाटती और हाथ से खोल कर उसके टोपे को भी!इस प्रक्रिया ने मुझे इतना आनंदित कर दिया कि मैं खुद को स्वर्ग में महसूस करने लगा. मैं बाहर ऋषि का वेट कर रही थी और 5 ही मिनट में ऋषि अपने किसी दोस्त की मोटरसाइकल लेकर आ गया.

थोड़ी देर बाद अचानक ही उसने मुझसे मेरी शादीशुदा जीवन के बारे में पूछ लिया और चिंटू से भी. माला ने भी मेरा पूरा साथ दिया और खुद ही अपने पेटीकोट का नाड़ा खोल कर उसे नीचे गिरने दिया तथा पूर्ण नग्न हो गई. रशियन लूडो और ग्रुप सेक्स-1मेरी ग्रुप सेक्स स्टोरी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि मैं रूस में रहता हूँ, मेरी बीवी रशियन है.

डॉग सेक्सी डॉग सेक्सी डॉग सेक्सी

आंटी हंसते हुए- और क्या अच्छा लगता है?मैं- आप पहले बेड पर चलो!आंटी नीचे झुकी, मेरे गाल पर किस जड़ दी और मुझे हाथ पकड़ कर बेड पर ले गई और अपनी साड़ी उतार कर पेटीकोट, ब्लाउज में बेड पर लेट गई और अपने बाल खोल कर बोली- और क्या अच्छा लगता है तुझे’मैं भी अपनी टीशर्ट निकाल कर आंटी के लिप्स पर अपनी जीभ लगाकर बोला- मुझे आपके लाल लिप्स भी बहुत अच्छे लगते हैं. बहुत देर चुदाई चली जिसके बाद दोनों एक साथ स्खलित हुए और एक दूसरे की बाँहों में लिपट गए. यूं तो हमारे मोहल्ले में एक से बढ़ कर एक भरपूर जवानियाँ और खिलती कमसिन कलियाँ हैं जिनसे मोहल्ले में रौनक, चहल पहल बनी रहती है, जैसे किसी बाग़ में रंग बिरंगे फूल खिले रहते हैं और तितलियाँ मंडराती रहती हैं और सबको लुभाती रहती हैं.

मैं दिखने में कुछ खास नहीं हूँ और ना ही इतना खराब हूँ, कहने का मतलब यह कि ठीक-ठाक हूँ. उन्होंने आधे घण्टे तक बदल बदल कर हमें सिर्फ घोड़ी और कुतिया बनाकर ही हमारी गांड चुदाई की.

फिर मैंने मैडम की पेंटी को उतारा और उनकी चूत को अपनी एक उंगली से सहलाने लगा, फिर मैंने अपनी उंगली को चूत में घुसा दिया, जिसकी वजह से मैडम सिसकारियाँ लेने लगी और आअहह उफ्फ्फ्फ़ करने लगी.

तो उन्होंने मुझे मिठाई खिलाते हुए कहा- शादी के पूरे 5 साल बाद संतान सुख संभव हुआ है. जब तक अन्दर जमा हुआ रस पूरी ताकत से पिचकारी की तरह बाहर नहीं आयेगा तब तक न तुम्हें सम्पूर्ण आनन्द प्राप्त होगा और न तुम्हारा चेहरा निखरेगा!’मैंने उसे समझाया. माँ- आआई यईईई… आह आह ठीक से चोद, मेरे चूचे मत काट… उईई!उसने अपना लंड धीरे से आधा बाहर खीचा और वापस अंदर डाला.

अभी भी वहीं थे। मोना ने सोचा कि काका के अलावा तो यहाँ कोई है भी नहीं. आप चीटिंग कर रहे हैं!’‘नहीं गुड़िया, ये चीटिंग नहीं है, उसी क्रिया का पार्ट है!’‘नहीं… आप तो वही ट्रीटमेंट दे दो जिसकी बात हुई थी, और कुछ मत करो!’‘अरे वही सब तो कर रहा हूँ जो तुम्हें उस वीडियो में दिखाया था, शुरुआत तो ऐसे ही होती है न!’‘लेकिन मुझे पता नहीं कैसा कैसा लग रहा है और घबराहट सी भी हो रही है. उस वक्त मेरा शौहर होता है।फिर हम रोज़ दिन में बात करने लगे। मैंने एक बात नोट की थी कि मैं जब भी उसके शौहर के बारे में कोई बात करता, तो वो कहती छोड़ो.

मेरा फोन उसके फोन से कनेक्ट हो गया था उसके ब्लू टूथ का नाम था ‘हिरनी’ मैंने झट से एक पोर्न विडियो उसे भेज दिया.

सेक्सी बीएफ लड़की वाली: मैं ना चीखने की हालत में था ना कुछ और करने की… मैंने खुद को बचाने के लिए उसकी चूत में अपनी दो उंगलियाँ झटके से ठूँस दी जिससे वो तड़पी और उसने मेरे टट्टे को आज़ाद किया. मेरा मतलब आभा के नाखूनों से है।उसने उत्तेजना में आकर अपने नाखून मेरे कमर में गड़ाये और अपने पैरों को मेरे दोनों तरफ करके अपनी चूत मेरे मुंह से टिका दिया, उम्म्ह… अहह… हय… याह… और मेरा लंड अपने मुंह में ले लिया.

पीस डालो…ऑडियो सेक्स स्टोरी-ऑडियो सेक्स स्टोरी- श्वेता और शब्दिता ब्यूटी पार्लर में लेस्बियन सेक्ससेक्सी लड़कियों की आवाज में सेक्सी बातचीत का मजा लें!मैंने तुरन्त निप्पल को कस के काटा और फिर अपने दाँत चूची में गाड़ दिये. मैं उनका सारा पानी पी गया।फिर अपने लंड को उनकी चुत की फांकों पर लगाकर उसे रगड़ने लगा. एक दादा थे जो चल बसे।शाम को गाँव में जब ये लोग पहुँचे, वहाँ दुख का माहौल था.

अब वो जैसे करे, हम उसका साथ देंगे ताकि उसको लगे हम उसको कितना प्यार करते हैं। अगर हमारी सख्ती से वो तंग आ गई तो किसी के बहकावे में आकर अपनी बुआ की तरह भाग जाएगी.

उसकी लप लप लप करती हुई रस बहाती हुई चूत मानो लौड़े को न्योता दे रहे थी. सब एक साथ मेरे ऊपर टूट पड़े, एक मेरी चूत को चाट रहा था, दूसरा मेरी गांड को चाट रहा था, तीसरा मेरे बूब्स को चूस रहा था, चौथा अपना लंड मेरे हाथ में पकड़ाए था. अब आपने हिम्मत बंधाई है तो जल्दी ही किसी बहाने मम्मी के पास चली जाऊँगी फिर लौट के नहीं आना है इस घर में.