बीएफ ब्लू फिल्म दिखा

छवि स्रोत,girlfriend बनाने का तरीका

तस्वीर का शीर्षक ,

दीपिका सेक्सी पिक्चर: बीएफ ब्लू फिल्म दिखा, उस दिन मॉम ने कहा कि आज शाम को मेहमान आने वाले हैं इसलिए मैं आज कुछ स्पेशल बनाऊंगी.

लेटेस्ट सोफा

दोस्तो यह सेक्सी कहानी कैसी लगी आपको? मुझे ज़रूर बताएं और अपनी कीमती राय दें।मुझे मेल करें[emailprotected]पर।धन्यवाद।. अलार्म सेटिंगलगभग 5 मिनट तक ये चूसने चाटने के खेल खूब जबरदस्त चला और अब उसका लंड खड़ा हो गया था.

उस मुसीबत से कैसे निजात मिली … वो मैं आपको अपनी अगली सेक्स कहानी में बताऊंगा. फोकी कैसी होती हैवो लोग सुबह आए और शाम तक रुके, फिर शाम को वो लोग घर के लिए निकल गए.

तभी दूसरी तरफ से प्रिन्सिपल भी आ गया, उसने भी मेरी जांघ पर हाथ रख दिया.बीएफ ब्लू फिल्म दिखा: मैंने उसकी टांगों को पकड़ कर चौड़ी कर दिया और अपने लंड को उसकी चूत के ठीक बीच में लगाकर अंदर धकेल दिया.

वो बोली- यहां पर इतना बाल होता है क्या?मैंने सोनी से कहा- जब तुम और जवान हो जाओगी तो तुम्हारी बुर भी ऐसे ही बालों से भर जाएगी.तेज धक्कों से माही रोने लगी और बीच बीच में मुझे गालियां देती रही- आआहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… मादरचोद कुत्ते साले अह्ह आईईई … भैन के लंड धीरे चोद साले … थोड़ा धीरे कर … मैं तेरी कोई रांड नहीं हूँ … धीरे कर साले!उसकी गालियां सुनकर मुझे और जोश चढ़ रहा था.

दादा पोती का सेक्स - बीएफ ब्लू फिल्म दिखा

मैंने भी जल्दी से अपने कपड़े उतार दिए और अब मैं भी पूरा नंगा ही गया था.पापा बहुत जोर से अपने लंड को अन्दर बाहर करने लगे और मम्मी जोर जोर से चीखने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह उह उह!फिर दस मिनट बाद प्रशांत ने मम्मी की चूत में अपना पानी झाड़ दिया.

तेज-तेज चलती सांसें, अत्यंत व्यस्त सी काली मैक्सी।मैं अपने दोनों हाथ नीचे से चारू की मैक्सी में डाले और उसकी मैक्सी को उसके गले के उपर से ही किचन में ही उतार दिया. बीएफ ब्लू फिल्म दिखा भाभी अभी भी छूटने की कोशिश कर रही थी मगर वो यह भी जानती थी कि बगल में ही उसका पति सोया हुआ है.

उधर से हम सब सीधे मैरिज गार्डन में आ गए … जहां शादी का प्रोग्राम था.

बीएफ ब्लू फिल्म दिखा?

उनके हाथ मेरे दिल पर थे और वो भी ये जान गई थीं कि मेरे तन में क्या चल रहा है. सर का इतना बड़ा लंड था कि वो पूरा मेरे मुँह के अन्दर नहीं जा रहा था. मेरा लंड दर्द करने लगा था लेकिन उसकी चूसने की इच्छा पूरी नहीं हो रही थी.

अम्मी कह रही थीं- आजकल तू जल्दी क्यों झड़ जाता है … मेरी तो प्यास ही नहीं बुझी. मैं भी गालियां देने लगा- साली रांड, आज तेरी ऐसी प्यास बुझाऊंगा कुतिया कि मुझे जिन्दगी भर याद रखेगी. एक बात और कहना चाहता हूं अगर तुम बुरा न मानो तो?मौसी ने कहा- बोलो।मैं बोला- मुझे आपकी गांड भी चोदनी है.

लेकिन वादा करो कि आप मेरी शादी रोहित से करायेंगे?”मैं कराऊंगा, यह मर्द की जबान है. मैं- ठीक है तब सुषमा मादरचोद … अब तू देख … कैसे तुझे रंडियों के जैसे चोदता हूँ. अब अगले दिन सुबह मैं तैयार होकर उसी तरह का हॉट सा सूट पहन कर नीचे आ गई.

मेरा हाथ आगे चूत की ओर बढ़ना चाह रहा था लेकिन उससे पहले ही मौसी ने अपने ब्लाउज के हुक खोलने के लिए कहा. भाभी के आई लव यू बोलते ही मैंने उन्हें अपनी तरफ घुमाया और अपने होंठ उनके होंठों पर रख दिए.

अब आगे :उल्फ़त अपनी गांड उठाते हुए बोली- आह भाईजान … मजा आ रहा है … और तेज करो भाई … आज मेरी चूत को फाड़ दो.

उसने भी ख़ुशी ख़ुशी मुझे पहले वो हिस्सा दिखाया, जिसमें उसका कॉमन रूम, किचन, बेटे का कमरा, गेस्ट का कमरा, डाइनिंग रूम और एक बड़ी से बालकनी थी.

मगर अब भाभी उदास रहती थी और मैं जान गया था कि उसको भाई की कमी लग रही है. मैंने कहा- इतना सब बता दिया, कर भी लिया और अब मैदान छोड़ कर भाग रही हो … लगता है तू डर गई है. चारू की योनि की संकीर्ण दीवारों ने मेरे लंड को चारों तरफ से बांध लिया था.

मैं कपड़ा बांधने में लग गया और वो दोनों साड़ी उतार कर ब्लाउज़ और पेटीकोट में कपड़े धोने लगीं. जब वह वापस ऊपर जाने लगीं तो मैंने उनका हाथ पकड़कर उनको सीढ़ियों के नीचे ले गया. वो तेजी से सिसकारने लगी- आह्ह … वाह्ह … आऊ … मजा आ रहा है… और चोदो आह्ह … पूरा दम लगा दो.

वैसे तो मैं अन्तर्वासना का पुराना पाठक हूँ, पर पिछली सेक्स कहानीपड़ोसन भाभी ने बनाया प्लेब्वॉयकी अच्छी सफलता और आपके प्यार ने मुझे अगली सेक्स कहानी बहुत ही जल्दी लिखने के लिए प्रेरित किया है.

उन्होंने एक्सलिरेटर एकदम से दबा दिया, तो मैंने एकदम से ब्रेक लगा दिया, इससे निशा भाभी आगे को हो गईं और स्टेयरिंग में घुस गईं. मेरी रोती हुई दशा देख कर क्लासटीचर मेरी बगल में आकर मुझे सांत्वना देने लगा. मैं इस बार उसके एक दोस्त से कैसे चुदी और उसके बाद मेरे तीन ब्वॉयफ्रेंड ने मुझे कैसे पेला, साथ ही मैं अपने सगे चाचा से कैसे चुद गई … ये सब मैं आपको अगली सेक्स कहानी में लिखूंगी.

यह कहानी 6 महीने पहले की है, जब मेरे दोस्त ने मुझे अपनी जन्मदिन की पार्टी में मुझे आमंत्रित किया था. यह उसकी पहली चुदाई थी, तो मैंने भी उसे भरपूर मजा देते हुए उसकी चूत को अपनी गर्म वीर्य से लबालब भर दिया. वो आदमी दीदी को किस करने लगा और बोलने लगा कि मैं तो तुमको देखते ही समझ गया था कि तुम मेरे लंड की जुगाड़ हो.

कुछ देर बाद उन्होंने मुझे पलंग पर पेट के बल लेटा दिया और गर्दन पीठ को चूमते हुए मेरे चूतड़ों को चाटने लगे.

वो मेरी बगल में बैठ गया और अपने लण्ड को मेरे हाथ में पकड़ा कर उसको सहलाने के लिए मुझे बोलने लगा. शायद वहां पर रोज अश्लील किताबें पढ़कर और अंकल की यौन इच्छाओं से वह भी उनके जैसी ही हो गई थी.

बीएफ ब्लू फिल्म दिखा माँ- राजा मैं तेरी मॉम नहीं … रांड हूँ और मुझे मॉम मत बोल … मेरा नाम लेकर बोल … और रही बात चुदने की, तो ये तो तेरा लंड तय करेगा. इस पर सुनीता चौंक पड़ी, उसके मुंह से सीधा ही निकला- क्या वह तुम्हारी चुदाइयों के बारे में भी जानती है?शकील थोड़ा हंसने लगा और कहा- खुद मुझसे चुदती है.

बीएफ ब्लू फिल्म दिखा वो कुछ ही देर में मेरी अम्मी को ताबड़तोड़ चोद रहा था और मेरी अपनी कुहनियों के बल रसोई की स्लैब से अपने आपको टिकाए हुए खड़ी थीं. मैं जानता था कि मॉम ब्रा नहीं पहनती हैं, पर पैंटी पहनती हैं, ये मैंने आज जाना था.

पर जहां तक मुझे पता था, आज तो कॉलेज में कोई प्रोग्राम और एग्जाम भी नहीं था.

ब्लू हिंदी ब्लू हिंदी

पर आज शनाज़ ऐसे अनाड़ी जैसे लंड क्यों चूस रही है?मुझे लंड चुसवाने में मजा नहीं आया तो मैंने अपनी ज़ोहरा आपा के मुँह से अपना लंड निकाला और लंड को सीधा ज़ोहरा आपा की चूत की दरार के बीच में टिका दिया. मेरे प्यारे दोस्तो, मैं राजेश हूँ, 23 साल का मैं शादीशुदा नहीं हूँ, मैं अपनी माँ के साथ दिल्ली में रहता हूँ. तीसरे दिन अंकल और आंटी और उनकी दोनों बहुएं अपने पतियों के साथ चली गई थीं.

आंटी ने मुझे बहुत किस किये और फिर अपनी साड़ी पेटीकोट निकाल कर टांगें फैला दीं. उसके बाद मॉम ने अंकल का अंडरवियर नीचे खींच दिया और अंकल अपने लंड को हाथ में लेकर मॉम की चूत पर फिराने लगे. कुछ देर तक उसकी चूत को चूसने और चाटने के बाद मैंने उसकी चूत पर लंड को रख दिया.

पर जब से उसने मेरे सामने अपने मामा की लड़की काजल का नाम लिया था, तब से ही मुझे उसके सपने आते थे.

वैसे इस समय पर वे बाथरूम में नहाती हैं और करीब आधा घंटा लगता है उन्हें बाथरूम में. मैं रिंकी को जोर जोर से चोदने लगा तो वो चिल्लाने लगी- आह भैया … मार दिया … कितना अन्दर तक लंड पेल रहे हो! बड़ा मजा आ रहा है भाई! आह चोदो और जोर से चोदो. उन्होंने मुझे फिर से कुर्सी पर आगे की तरफ बिठा दिया और वो नीचे बैठ गईं.

मैंने एक दूध को मुँह में भरा और बहुत ही जोर से निप्पल खींचते हुए चूसा. उस वक्त मैं यही सोच रहा था कि सच में आंटी हॉट माल हैं, इनको पकड़ कर अभी चोद चोद कर ऐसी हालत कर दूं कि वो दो दिन तक चल ही ना पाएं. गांड मरवाने की कहानी में पढ़ें कि जवान होते ही मेरी गांड में खुजली होने लगी थी.

मेरे बगल वाले घर में एक नवविवाहित जोड़ा आया तो भाभी से मेरी दोस्ती हो गयी. और क्लास में आते ही मैंने अपनी व्हाटसअप पर अपनी एक बहुत सेक्सी वाली डी पी लगा लिया जिससे जब वो मेरा नंबर देखे तो उसे दिख जाए।मैंने शाम तक इंतज़ार किया कि वो मैसेज करेगा.

उसे देख कर ऐसा लग रहा था जैसे कोई विदेशी पोर्न स्टार सामने खड़ी हो।उसके बूब्स उसकी टीशर्ट के अंदर बिल्कुल फिट थे. ऐसा करने से मजा तो आ रहा था लेकिन डर भी लग रहा था।अब हवस मेरे ऊपर हावी हो चुकी थी. मैंने नींद का नाटक करते हुए कहा- आप ही बंद कर देना।बुआ बोली- नहीं तुम अंदर से बंद कर लो। रूम में बहुत सामान है।फिर बुआ बाहर निकल गई और मैंने दरवाजा अंदर से बंद कर दिया।अब मेरी खुशी का ठिकाना नहीं था.

कभी मैं उसके होंठ चूसता, कभी गर्दन, कभी बूब्स!ऐसे धीरे धीरे मैं उसके पेट की तरफ बढ़ा और उसकी चूत में अपना मुंह लगा दिया और चूत को चाटने लगा.

मैं मुठ मारकर अपने आप को शांत कर देता था लेकिन चोदने का ख्वाब देख नहीं सकता था. मैंने बड़ी बुआ की चूत चाटनी शुरू की और छोटी बुआ अब मेरा लंड मजे से मुँह में लेने लगीं. मैंने उसे बेड पर धकेल दिया और उसकी ऊपर आकर उसके स्तनों को मसलने लगा.

मुझे हल्का दर्द हुआ, मेरे मुंह से ‘आह’ निकली क्योंकि उनकी उंगली भी बड़ी और मोटी थी. अब मैंने चारू के वस्त्रविहीन जिस्म को अपनी जिह्वा से चाटना शुरू कर दिया.

पति पत्नी का अलग अलग कमरा देख कर मुझे कुछ अजीब लगा, पर मुझे क्या करना था. मैम के मदमस्त चूचों को दबोचे हुए मैं उनकी चुत में हचक कर झटके दे रहा था. वो बेड की तरफ बढ़ ही रही थी कि मैंने पकड़ कर उसे बेड की तरफ झुकाया और पैर फैला दिये.

राजस्थानी आंटी का सेक्सी वीडियो

मैं अपनी बड़ी बहन की मौजूदगी से अनजान में उस पानी टंकी की दूसरी तरफ खड़ा होकर अपनी बीवी शनाज़ का इंतज़ार कर रहा था.

शकील ने कहा- आज मैं आपकी कमर की मालिश ऐसे करूंगा कि सब जोड़ खुल जाएंगे. पता नहीं कैसे लेकिन शायद फेसबुक लोकेशन की वजह से उसको मेरे दिल्ली में होने की भनक लग गयी. तभी भाभी की मोटी गांड पर मैंने कसके काट दिया, तो भाभी आह करने लगीं.

पर अब मेरे नागराज गुफा में घुसने के लिए बेताब थे, तो मैंने ज़्यादा देर करना ठीक नहीं समझा. तो मुझे नहीं पता था कि कितना वक्त था मेरे पास। लेकिन मैंने मीनाक्षी के गालों को चूमा, फिर उसके होंठों को चूमा और दोनों हाथों से उसके चूतड़ मसल दिए. माधुरी दीक्षित xxx videosमैं ये न्यूड भाभी सेक्स कहानी इसलिए लिख रहा हूं ताकि आपको बता सकूं कि अपने ही घर में चुदाई करने का अलग ही मजा होता है.

होटल रूम सेक्स कहानी के पिछले भागचाची को होटल में लेजाकर चोदामें अब तक आपने पढ़ा था कि चाची की चुदाई का राज प्रियंका भाभी ने जान लिया था और वो भी मुझसे चुदने के लिए कहने लगी थीं. अब मैंने उसे कुतिया बनाए हुए ही बेड के कोने में खींचा और खुद बेड से उतरकर खड़ा हो गया.

मैंने अपनी पैंटी निकाल दी और बाबा ने धोती उठाकर अपना लंड मेरी गांड पर रगड़ना शुरू कर दिया. उसने मेरे लंड को अच्छे से साफ किया और मैंने उसकी चुत को अच्छे से साफ किया. इतना बोलकर अंकल ने पास में रखा लोशन उठाया और अपने लंड पर लगाने लगे.

जैसे ही उसने अपना हाथ मेरी चूत पर रखा, मैंने अपने दोनों पैरों को सटा लिया. मेरी बॉडी एक मस्त दिखने वाली बॉडी है, क्योंकि मैं रोजाना जिम जाता हूँ. लगभग दो महीने तक नार्मल बातें करने के बाद मैंने उसे एक बार फिर मिलने के लिए तैयार कर लिया और इस बार का सम्भोग तो और भी मादक था.

चाची की सेक्सी बातें सुनकर मैंने और तेजी से धक्के लगाने शुरू कर दिये और दो मिनट बाद मेरे लंड का माल चाची की चूत में गिरने लगा.

पहले उसने मना किया लेकिन दूसरी बार कहने पर ही उसने पूरा लंड मुँह में ले लिया।थोड़ी देर बाद हम 69 पोज़िशन में आ गए और मैं उसकी चिकनी चूत चाट रहा था जो उसने कल ही साफ की थी. बहुत गांड हिलाते हुए चलती है ना … अब बताता हूं जब गांड में लंड जाता है, तो क्या होता है.

कभी वो मेरा पूरा लौड़ा मुँह में भर लेती, तो उसकी सांस अटकने को हो जातीं. कुछ ही देर में मेरी औरभाभी की चुदासभड़क गई और हम दोनों ने एक बार और चुदाई का मजा लिया. मैंने कहा- फिर भी कुछ बताओ तो, मुझे क्या पता मेरे अंदर क्या पसंद आयेगा किसी लड़की को.

यानि दीदी के दोनों बड़े-बड़े बूब्स दबा रहा था और निप्पल चूस रहा था. उनकी ये सब रिकॉर्डिंग सुन कर मुझे सारी कहानी समझ आ गई कि शकील और मेरी अम्मी का जिस्मानी रिश्ता है. उस वक्त मुझे अपने किये पर इतना पछतावा हो रहा था कि मन कर रहा था मैं चुल्लू भर पानी में जाकर डूब मरूं.

बीएफ ब्लू फिल्म दिखा मैंने उसका नंबर ले लिया हम फोन पर बातें करने लगे। उसके बाद …नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम रमेश है और मैं उत्तराखंड के नैनीताल जिले से हूं. फिर मैंने मम्मी की चूत को चाटना शुरू कर दिया और मम्मी सिसकारियां भरने लगीं.

भाई और बहन का सेक्सी वीडियो

मैंने सीधे ही अपनी आंखों को भाभी की आंखों से मिलाकर उनसे बात करना शुरू कर दी थीं. हालांकि अम्मी प्यासी रह गई थीं … लेकिन तब वो आज कोई रिस्क नहीं लेना चाहती थीं. वो मस्ती में सिसकारने लगी और उसकी चूत से निकल रहे रस का स्वाद मुझे मेरे मुंह में आने लगा.

यीशा धीमे से राजीव से बोली- जीजा जी, आप दूसरे कमरे में जाओ और सो जाओ. उनकी इस बात से मुझे ये भी समझ आ गया था कि जब मां को चुत चुदवाने की आग लग चुकी है, तो अब किस बात का डर. सट्टे का नंबर देने वाले बाबाउसको किस करना शुरू किया मैंने और धीरे धीरे करके उसकी चूत में आधा लंड घुसा दिया.

वो अंकल बार बार मॉम की चूत पर अपने लंड का सुपारा हल्का सा अंदर करते और फिर दोबारा से बाहर निकाल लेते.

मैं समझ गया और एकदम से बात को घुमाकर बोला- अरे पगली … मैं तो तुम्हारे साथ मज़ाक कर रहा था. दस मिनट मस्ती से लंड चुसवाने के बाद वो मुँह को चूत के तरह चोदने लगा.

मेरा नाम विशाल है, मैं अपनी बीवी यीशा और अपने छह साल के बेटे के साथ दो बेडरूम के फ्लैट में रहता था. पिंकी अपनी चूत की तरफ इशारा करके बोली- अपनी लुल्ली को इसमें घुसा दो. मुझे पता नहीं था और ना ही उसने बताया कि चुदवाने से आठ दिन पहले उसकी एमसी बंद हुई थी.

और शायद मेरा पहला हस्तमैथुन भी उस अंकल ने ही किया था जिसका मुझे भी चस्का लग गया था.

मेरी सच्ची हिंदी सेक्सी चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे बड़े भाई ने छोटी बहन को चोदा. उसकी मोटी चूचियों से जैसे ही उसने ब्रा को हटाया तो उसकी फुटबॉल के आकार की मोटी चूचियां एकदम से हवा में झूल गयीं. अब मैं घर में अकेला रह गया और मेरी गांड को लंड की जरूरत महसूस होने लगी.

फिगर कैसे बढ़ते हैंधीरे धीरे हम दोनों का नशा बढ़ता गया और उसका हाथ एक बार फिर से मेरे लंड पर चला गया. कज़िन सिस सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं छुट्टियों में अपनी बुआ के घर गया.

नंगी फोटो नंगी फोटो नंगी फोटो

मैं भी सुन रहा था कि क्या बात हो रही है।फोन बगल वाले घर से अभय का था. दूसरे दिन सर ने जब सबसे कहा कि जिसने जिसने होमवर्क नहीं किया है, वो क्लास से बाहर चला जाए. अब भाभी चिल्ला रही थीं- आह पंकज अपनी स्पीड बढ़ाओ मेरे राजा … आह मेरी चूत फाड़ दो.

मैंने कहा कि घर से पहली बार दूर आने में ऐसे ही लगता है, मुझे भी हुआ था. अब मेरा हाथ उसकी चूत को सहला रहा था और उसका हाथ मेरे लंड पर आ गया था. रुहाना बहुत तेज चिल्लाने लगी और कहने लगी- चूत में जलन हो रही है … निकालो इसे … आह्ह … बहुत दर्द हो रहा है.

भाभी के रेडी हो जाने के बाद वो थोड़ा सा पीछे को हुई और मेरे ऊपर आ गयी. क्योंकि मैं पहली बार कोई चूत चोद रहा था तो मुझे चुदाई करनी नहीं आती थी. अपनी बहन की खूबसूरत जवानी को देखता रहता था लेकिन कभी चोदने का नहीं सोचा था.

उसके बूब्स हैं तो बड़े … यानि 36 के हैं … पर वो 34 की ब्रा पहनती थी. आंटी कराहने लगीं- आह्हह!जैसे ही मैं आंटी के बोबे को मुँह में लेता था, तो उनकी एक मस्त सीत्कार निकल जाती थी.

मैंने पूरे नौ महीने तक हॉस्टल में रह कर हर दिन घर की उस वीडियो रिकॉर्डिंग को देखा था और मैं हस्तमैथुन कर लिया करता था.

सुनीता जोर से हंस दी और अम्मी को मजाक में कहा- इस पिछवाड़े के चक्कर में तो बहुत लोग पड़े हैं. एशियाई पेंटपूरा लंड पेलने के बाद एक मिनट तक हम दोनों वैसे ही पड़े रहे, फिर वह नीचे से अपनी गांड को ऊपर करने लगी और धक्का लगाने के लिए बोलने लगी. अर्चना भाभी की चुदाईमुझे मालूम था कि हम लोग गरीब हैं और मां मुझे ज्यादा कुछ नहीं खिला सकती हैं, इसलिए मैं गांव में कुश्ती आदि लड़ कर इनाम वगैरह जीत लाता था. उस वक्त अंजलि बर्तन साफ कर रही थी।मेघा से थोड़ी देर बात की और मैंने उसे अपनी गोद में बिठाया और उसका दर्द कम किया।उसके बाद वो अपने रूम में लेटकर सो गयी.

एक मिनट बाद अंकल ने अपनी एक उंगली मॉम की चूत में डाल दी और उसे आगे पीछे करने लगे.

अंकल का मोटा लंड मेरी चुत को चीरता हुआ अन्दर घुसा, तो मेरी चीख निकल गई ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’लेकिन अंकल मुझे दबादब चोदने लगे. सवा नौ बज चुके थे, हम लोग कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे और राजी खुशी शादी हो गई. एक आदमी अपनी प्लेट में खाना निकाल कर पीछे हटा तो वो मुझे धकेलते हुए निकला। वहां जगह ना होने के वजह से मैं एकदम पीछे को गिरने को हुई.

उसकी चूत से तो तू ही बाहर निकला था और उसके पेट अन्दर तू ही तो 9 महीने रहा था. मेरे सीने के उभार बिल्कुल लड़कियों जैसे उभरे हुए चूचे जैसे दिखते हैं. मैंने उनके होंठों से अपने होंठ मिला दिए और उनको लिपकिस करना शुरू कर दिया.

सेक्सी फिल्म नंगा सीन

लेकिन मैंने अपने कॉलेज की एक सीनियर लड़की को पटाकर लड़की की चूत चुदाई कैसे की? पढ़ें!नमस्कार दोस्तो, आप सभी प्यारे पाठकों को मैं अपना परिचय दे रहा हूँ. मैंने कहा- फिर भी कुछ बताओ तो, मुझे क्या पता मेरे अंदर क्या पसंद आयेगा किसी लड़की को. उसकी आह निकली और वो बोली- क्यों मजे ले रहे हो … जरा रुक जाओ न जानू.

सही में ये आकार इतना मस्त लगता है कि कोई भी उस तरह के शेप को देख कर मचल जाए.

मैंने उल्फ़त से पूछा- उल्फ़त तुम्हारा कोई ब्वॉयफ्रेंड है क्या?उल्फ़त बोली- नहीं भाईजान, मेरा कोई ब्वॉयफ्रेंड नहीं है.

फिर मैंने दरवाजा बंद करके मुठ मारी और तब जाकर मेरा नाग शांत हुआ और उसका फन नीचे गिर गया. इससे मुझे भी थोड़ी हिम्मत आ गई और मैंने अपना हाथ मॉम की जांघों पर रख दिया. साड़ी वाली की चुदाई हिंदी मेंवो सफेद रंग के टॉप और लेगिंग पहने हुए थी, जो इतनी टाइट थी कि उसकी पैंटी की लाइन साफ चमक रही थी.

मैं भाभी की चुत के ऊपर टूट पड़ा और उसे अपने मुँह में भर कर चूसने लगा. मेरा भी थोड़ी देर बाद काम होने को आ गया और मैं भाभी के गले तक लंड देते हुए उनके मुँह की मां चोदने लगा. पर शायद यीशा को राजीव के मोटे लंड पर दिल आ गया था, इसलिए वो कुछ समझ नहीं पा रही थी क्या करे.

मुझे थोड़ा सा अजीब लगा और थोड़ा गुस्सा भी आया और मैंने कंडोम लगाया ही नहीं. उसकी चुत के दाने को दो उंगलियों में पकड़ कर मींजा, तो उसने अपनी टांगें खोल दीं.

तो चलिए आते हैं सीधा मेरी कहानी ‘ट्रक ड्राईवर की बीवी की चुदाई’ पर.

फिर मेरा हाथ उसकी चूत पर चला गया और मैं अपनी बहन की चूत मसलने लगा और उंगली करने लगा. उसके छोटे छोटे सन्तरे मेरी छाती से टकराने लगे।मेघा के बूब्स मेरे हाथ में आ जाएं इतने ही बड़े थे।मैं दोनों हाथों से दोनों बूब्स को दबा रहा था। मैं उसके गले पर लव बाइट देने लगा और उसके फूले हुए गालों को काटने लगा।नीचे से मेरा लौड़ा मेघा की चूत में जाने को तैयार हो गया।उसको मैं किस करता जा रहा था. तब क्या और कैसे हुआ?हैलो फ्रेंड्स, मैं सोनिया, मैं आपको मेरी सच्ची हिंदी सेक्सी चुदाई कहानी बताने जा रही हूँ.

अंग्रेजी ब्लू फिल्म दिखाइए मुझे बड़ा दर्द भी हुआ, लेकिन मैं नशे में थी, तो ज़्यादा कुछ मालूम नहीं चला. भाभी जी की चुत चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे एक भाभी ने मुझसे सम्पर्क किया कि उसे माँ बनना है.

आकांक्षा मेरे ही क्लास में पढ़ती थी, जिससे मेरी हाफ इयरली के एग्जाम के दौरान बातचीत हुई थी. मेरे पिंक निप्पल्स और गोल गोल गांड को देख कर उन दोनों के ही लौड़ों में हरकत सी आनी शुरू हो गयी थी. उसकी इस स्टाइल से चुदाई की मैं कायल हो गई … आज पहली बार मैं इस तरह से मोटे लंड से चुद रही थी.

भतीजे ने बुआ को चोदा

उसके अन्दर एक खूबसूरत हसीना ने उंगली के इशारे से मुझे अपनी तरफ़ बुलाया. मैं बस उसकी चूत को चोदते हुए उसकी चूत में माल भरना चाह रहा था ताकि मेरे लंड को थोड़ी शांति मिल जाये. मेरा नाम संजय है, उम्र 24 साल, मैं जिला होशियारपुर पंजाब का रहने वाला हूं.

उधर मैंने अपना हाथ बढ़ाकर कुसुम की गांड को अपनी तरफ किया और उसकी चूत में अपनी दो उंगली डालकर उसको चोदने लगा. वो थोड़ा असहज मसहूस कर रही थी लेकिन फिर उसके हाथ भी मेरी पीठ पर फिरने लगे.

मैंने पूछा- तुम अभी लौटे हो?वो बोला- नहीं, मैं तो यहीं बाहर से छुपकर तुम्हारी जोरदार चुदाई देख रहा था.

उल्फ़त ने मेरा खड़ा लंड देखा और आइला से बोली- आइला, देख लो तुम्हारे सगे भाई का लंड तुम्हारी चूत को देखकर कैसे चुदाई का मन बना रहा है. वह मस्ती से ‘आहाहा … उह उह …’ करते हुए तड़पने लगी और चूत में लंड डालने के लिए मिन्नतें करने लगी. थोडी़ देर बाद दोनों ने ताश खेलने का प्रस्ताव रखा तो हम तैयार हो गये.

तभी मेरे दिमाग में आईडिया आया कि क्यों न पहली बार में ही बुआ की गांड भी मार ली जाए. अब आगे:मैंने उनको देखा तो बड़ी बुआ बोलीं- अब तेरे से क्या शर्माना … तूने तो हमें नंगा देखा ही है. मुझे थोड़ा अंदाजा था कि हो सकता है कि वो अपने पति के साथ उस तरह से खुश न हो जैसे कि एक पत्नी को होना चाहिए।भाभी की जवानी तो पूरी आग थी और उनका पति भाभी के सामने बहुत ही कम था.

मेरे ट्यूशन टीचर ने एक रात मुझे साड़ी पहना कर …लेखक की पिछली कहानी:बेटे के भविष्य के लिए कई मर्दों से चुदीदोस्तो नमस्कार.

बीएफ ब्लू फिल्म दिखा: दो मिनट तक दूसरी बार लंड चुसवाने के बाद मुझसे भी फिर रहा न गया और मैंने चाची की टांगों को चौड़ी करते हुए फैला दिया. मैं उसकी चूत को चूसता रहा, चाटता रहा और कुछ देर बाद वह तेज तेज सिसकारने लगी.

मैंने सोचा कि बहुत देर हो गई है, कोई आ जाए, इससे पहले भाभी का काम उठा देता हूँ. हमें जब भी मौका मिलता हम चुदाई करने लगे और तीनों घर में ही मजे लेते रहे. अब मैं मौसी की पीठ से लेकर नीचे कमर की मालिश करते हुए उसकी गांड की दरार तक अपनी उंगलियां चलाने लगा.

तभी राबिया एकदम चिल्लायी- अम्मी!तो मैं रुक गया और पीछे मुड़ा तो अम्मी हम दोनों को देख रही थी।हम दोनों खड़े हो गए.

फिर वो मेरे पास आकर बैठ गई और बोली- हम्म … आप कहां खो गए जनाब?इस पर मेरे मुँह से तपाक से निकल गया- आज तुम इस गाउन में कितनी सेक्सी लग रही हो. अब तो मेरी दीदी की गांड भी उठ कर मेरे लंड से लड़ने की कोशिश कर रही थी. अब दोनों ही मेरे सामने अंडरवियर में खड़े होकर अपनी अपनी पैंट सुखा रहे थे.