भाई-बहन की बीएफ हिंदी

छवि स्रोत,इंग्लिश में सेक्सी डबल बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी नंगी फिल्म बताइए: भाई-बहन की बीएफ हिंदी, उसने सलवार-कुर्ता पहन रखा था, मैंने उसका कुर्ता उठा कर अपना हाथ उसके नंगे पेट पर रख दिया और हल्के हल्के सहलाने लगा.

बीएफ सेक्सी एक घंटा की

उनको इस वक्त एक पल के लिए भी लंड के धक्के रोकना बर्दाश्त नहीं हो रहा था. जापानीस बीएफजब वो अधिकारी आ गया तो देखा कि वो कोई 45-46 साल का आदमी था, बस फिर उसको फंसाने का पूरा इंतज़ाम कर लिया.

उन्होंने मुझे और निशा को इस हालत में देखा, तो वो उल्टे पाँव चली गईं. सेक्सी पिक्चर बीएफ नेपालीइससे ज्योति को बहुत तेज दर्द हुआ लेकिन काजल दीदी के होंठों में होंठ फँसे होने के कारण उसकी चीख नहीं निकल सकी.

वो बोली कि पीछे गर्मी लग रही है, तो मैंने एसी के कारण उसको आगे की सीट पर आने को कहा और वो आगे आ गई.भाई-बहन की बीएफ हिंदी: फिर एक दिन भाभी जी मोबाइल पर एक मिस्ड कॉल आया जो कि एक अज्ञात नंबर था.

मुझसे बिलकुल नहीं रहा जा रहा था… मैंने दीदी को कस के पकड़ा और उनके होंठों को प्यार से चूमने लगा.मैं अब जोर जोर से धक्के मार रहा था और माधुरी भी मजा ले कर चुद रही थी.

जवानी की सेक्सी बीएफ - भाई-बहन की बीएफ हिंदी

वो चाहता था कि अगर बच्चेदानी को चुत का पानी चाहिए तो वो आराम से ले ले.उसने मुझे फिर अगले दिन फोन कर के आने को कहा तो मैंने कहा- यार आज तो नहीं आ सकता, मुझे कुछ जरूरी काम है.

पता नहीं मुझे कभी माँ का सुख मिलेगा भी या नहीं?मैंने भाभी के कंधे पे हाथ रखते हुए बोला- भाभी सब ठीक हो जाएगा परेशान नहीं हो. भाई-बहन की बीएफ हिंदी क्योंकि जब तक भाभी अपने मुँह से आई लव यू…” नहीं बोलतीं, मुझे चैन मिलने वाला नहीं था.

मैं जैसे ही आंगन में नहा कर आई, सुरेंद्र जीजा सामने आ गये और उस समय अगल बगल कोई नहीं था तो मुझे बोले- वन्द्या जी, तुम्हारा सब कुछ दिख रहा है, मेरी नियत मत खराब करो नहीं अच्छा नहीं होगा.

भाई-बहन की बीएफ हिंदी?

ज्योति के दाखिले का काम करवाने के बाद मैं दिल्ली जाने की तैयारी कर रहा था. वह हँसते हँसते बोला- तुम सुर में गा रहे हो, गला अच्छा है पर शब्द गलत हैं तुम्हारे चू…. राज ने एक लंबी सांस ले कर एक जोर का शॉट मारा और उससे मैं लिपट गई- आह्ह राज… राज… और… और करो… मजा आ रहा है… चोदो मुझे… और तेजी से चोदाई करो मेरी!और राज शॉट पर शॉट मारने लगा.

मैंने पूछा- बेटे का क्या करोगी?तो उन्होंने कहा- उसे उसकी नानी के घर भेज दूँगी. वे उसे हैरान देख कर बोले- मेरा थोड़ा बड़ा है पर दूसरे को तकलीफ न हो इसका ख्याल रखता हूं।वे खड़े खड़े ही मेरी मारते रहे, मैं मस्ती से आंख बन्द किये चूतड़ हिलाहिला कर गांड मरवा रहा था।जीजाजी बोले- इस बार तो मजे ले रहे हो, उस बार तो तुम बहुत फड़फड़ाए थे. मैंने उसके सिराहने पहुँच कर उसके गालों को एक हाथ से दबाते हुए पूछा- रानी कैसा लग रहा है?सुकन्या ने धीरे से बस एक ही शब्द कहा- अच्छा!ग्रीन सिग्नल मिलते ही मेरे हाथ उसकी कुछ कड़क कुछ नाज़ुक चूचियों को पकड़कर मसलने लगे, मरोड़ने लगे.

चाची के मुँह से मादक कराहें निकल रही थीं- आह्ह आह्ह आह्ह आह्ह चोदो मुझे और जोर से चोदो. दोस्तो! मेरा नाम राज शर्मा है। आज मैं आपके साथ मेरा एक और अनुभव शेयर कर रहा हूँ. लेकिन मैंने उनकी बातों पर ध्यान ना देकर धक्के लगाना शुरू किया, मेरे प्रत्येक जोरदार धक्के पर उनकी चीख स्वाभाविक थी ही… साथ में कुछ आंसू थे, वो अलग!तो मैंने धक्कों की रफ़्तार थोड़ी कम कर दी.

अब मैं माधुरी के 32 इंच के दूधों को मसलने लगा, वो भी मेरे लंड को दबाने लगी. फिर मैं नीचे आया और उनके एक मम्मे को अपने मुँह में लिया और दूसरे हाथ से उनके दूसरे मम्मे को दबाता रहा.

तुम्हें सारा से सिर्फ शादी ही नहीं करनी, उसके साथ सोना भी है और शौहर बीवी की तरह चोदना भी है.

मैंने उन्हें रोकते हुए कहा- अरे भैया… रुको तो अभी यार… थोड़ी देर… रुको… प्लीज़…कहते हुए उनके लन्ड को और भी सहलाने की कोशिश की.

मैंने फिर दो आईस-क्यूब उनकी चुत के अन्दर डाल दिए… और लंड चुत में डाल के चुदाई करने लगा. खैर जब उसका नालायक पति चुदाई ज़्यादा नहीं कर पाता होगा तो चूत ढीली होती भी कैसे. नवीन ने एक आज्ञाकारी नौकर की तरह हाँ में सर हिला कर कहा- जी मालकिन.

अब रेखा रानी के मुंह से भी उत्तेजना से भरी हुई सीत्कार आने लगी थी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ लगता था कि मेरी दूसरी रानियों की तरह यह रांड भी पांव चटवा के बहुत मज़ा पाती थी. वो पूरी बेशर्म हो के हर तरह से मेरे बेटे अंकुश की बेइज़्ज़ती कर रही थी और उसे बदला लेने में बड़ा मज़ा आ रहा था. वो बोली- भैया, मुझे और मम्मी हम दोनों को बच्चा टिका दो!शीतल ने भी हामी भरी और मैं बिना लौड़ा निकाले ही सो गया शिवानी के ऊपर!इस तरह से हम सबको बदन में शांति मिली और सब लोग बेसुध होकर सो गए!यह कहानी आपको कैसी लगी? मुझे मेल करें![emailprotected]कहानी का अगला भाग:मेरी मम्मी रंडी निकली-5.

चाची मुझसे पूछने लगीं- क्या तुमको नहीं पता कि जवान बीवी को क्या चाहिए होता है?मैंने पूछ लिया- क्या चाहिए होता है?तो बोलीं- ज्यादा भोले मत बनो साहिल तुम्हें सब पता है.

वापस आकर देखता हूँ कि उन्होंने अपने हाथों में मेरा सेक्स टॉय पकड़ रखा है. उनके मम्मे दबाते दबाते मैंने अपना लंड बाहर निकल लिया और एक हाथ उनकी शर्ट के अन्दर घुसा दिया और चूची दबाने लगा. उनकी पकड़ मेरे पीठ पे कमजोर होती जा रही थी, लेकिन उनके पैर अभी भी मेरे शरीर को जकड़े हुए थे.

रेखा रानी ने मेरी पीठ पर मस्ती में अपने नाखून गड़ा दिये और ज़ोर ज़ोर से खरोंचने लगी. जैसे ही मैंने उसकी चूत पर हाथ लगाया तो वो चिहुँक उठी और मेरा हाथ पकड़ कर दूर करके फुसफुसा कर बोली- दीदी जग जाएगी. इतना कहकर अंजलि शिवानी शीतल और मेरी मम्मी अंदर गए और जब बाहर आये तो उन्हें देख कर मेरा लौड़ा सातवें आसमान तक खड़ा हो गया था.

नहींऽऽपापा जी …” बहूरानी के मुंह से निकला और वो मुझे फिर से अपने ऊपर लिपटाने लगी.

मैंने देखा बहूरानी खिली खिली सी प्रसन्न लग रही थी, यह तो होना ही था. तुमको याद है?मैं बोला- हां याद है जान!यह कह कर मैंने उसको ज़ोरदार किस की और उसके मम्मे दबाने लगा.

भाई-बहन की बीएफ हिंदी पूजा के वस्त्र, उस की साड़ी, ब्लाउज पेटीकोट, बरा पेंटी सब बिस्तर पर उसके सिराहने ही रखे हुए थे, पूजा पूरी नंगी थी तो उसकी चूत भी एकदम नंगी थी, मेरी आँखों के सामने थी. लेकिन रानी इतनी मस्त थी कि वो खुद ही अपने मम्मे नाख़ून घुसा घुसा के निचोड़ रही थी और धक्के भी मारती जाती थी.

भाई-बहन की बीएफ हिंदी उसके बाद उसने एक झटका मेरी चूत में दिया और उसका लंड मेरी चूत में चला गया. उसका भी बहुत मन था लेकिन हम डर भी रहे थे कि कहीं मम्मी ना जाग जाएं.

मेरी ड्रेस उस वक़्त ऐसी थी कि अगर कोई बूढ़ा भी देख लेता तो अपने लंड पर हाथ फेर लेता.

नेपाली हॉट सेक्सी

शायद मेरी इस बिंदास स्वीकारोक्ति से मॉम को भी कुछ लगा था और इसी बीच मैंने नोटिस किया कि वो मेरे खड़े लंड को बार बार देख रही थीं. जैसे ही मैंने उसकी चूत पर हाथ लगाया तो वो चिहुँक उठी और मेरा हाथ पकड़ कर दूर करके फुसफुसा कर बोली- दीदी जग जाएगी. मैंने अपने चूतड़ों से एक झटका मारा और मेरा लंड बिना किसी रोक टोक के मेरी बहन की चूत में घुसता चला गया.

वो हांफ रही थीं और उनके दोनों हाथ मेरे सर से हटके उनके कमर के दोनों तरफ बेड पे पड़े हुए थे. अच्छा अब आपका लंड मेरी चूत में घुसा दो और चोद डालो अपनी बहू रानी को. [emailprotected]अगली कहानी में मैं बताऊंगा कि मैंने अपनी पत्नी के साथ सुहागरात कैसे मनाई.

यह कह कर मैंने फिर से अपना लंड भाभी के मुँह में दे दिया और वो फिर से लंड चूसने लगीं.

और तभी आरुषि ने कराहते हुए कहा- उम्म्ह… अहह… हय… याह… प्लीज़ संचित, निकाल लो, बहुत दर्द हो रहा है. हम दोनों बिल्कुल चिपके खड़े थे, मेरे दोनों हाथों को वो अपने हाथों में जकड़े हुए थी, मेरी साँसें उनकी सांसों से टकरा रही थी। मैंने हल्का सा उनके होंठों पर चुम्बन लिया और कहा- प्रिया जी, आँखें तो खोलिये!प्रिया ने धीरे से आँखें खोली पर मुझसे नजर नहीं मिलाई।मैंने अपने हाथों को छुड़ाया, उनके चेहरे को दोनों हाथों से पकड़ा, उनके होंठों पर अपने होंठ रख लिए और किस करने लगा. पर वो आज भी मेरे साथ जबरदस्ती करती है, वो मेरे लंड को अपनी चूत में घुसाने के लिए कहती है, मेरी बहन मुझसे चुदना चाहती है.

उन्होंने मेरे बालों को कसके अपने हाथों में भींच लिया, जिसके कारण दर्द से मेरी भी आह निकल गई. मैं पहली बार लंड ले रही थी, इसलिए मज़े से भरी थी, पर आधा लंड जाते ही कसमसाने लगी. तभी मॉम हंसने लगीं और नवीन के लंड को पाजामे के ऊपर से ही पकड़ कर बोलीं- तुम देहात वालों को सिर्फ अन्दर डालना ही आता है क्या.

ये सब कहते हुए दोनों घुटनों के बल नीचे बैठ गईं और मेरे 8 इन्च लम्बे और तीन मोटे फ़ुल साईज लंड को बड़े गौर से देखने लगीं. अब मधु उसे अपने दोनों हाथों से अपने ऊपर से हटा रही थी, कुछ पल बाद राज मधु के नंगे बदन से अलग हो गया और मधु की नंगी जांघों पर लंड से गिरा हुआ माल उसने मधु की सलवार से ही साफ़ कर दिया.

मंजू ने मुझे अपने बिस्तर में जाने को कहा, मैं ठहरा जोश का मारा… मैं मंजू को चुप करवाते हुए उसे सेक्स के लिए मनाने लगा. अब रानी ने हौले हौले मेरे टट्टे झुलाने शुरू किये और सुपारी पर जीभ से टुकुर टुकुर करने लगी. तबस्सुम ने उनको देख कर कहा- नहीं, यह आज हमारी मेहमान है और सिर्फ़ हम सबको देखेगी और फिर यह किसी खास आदमी की अमानत है.

जब मुझे कोई नहीं मिलता है तो भिखारी लोगों को एक वक़्त का खाना खिला कर और कुछ पैसे देकर उनसे भी चुदवा लेती हूँ, क्योंकि अब मैं इसी तरह से जीना सीख गई हूँ.

मनोरमा ने कुछ घड़ियाली आंसू बहा कर उससे कहा कि मुझे नहीं पता था कि वो इतने लुच्चे निकलेंगे. मैंने तुरंत अपने होंठ नेहा दीदी के होंठों पर रख दिए और नेहा दीदी को किस करने लग गया. मैंने लंड ठेलते हुए पूछा- भाभी भैया आपको चोदते नहीं हैं क्या, आपकी चूत तो काफ़ी टाइट है.

मैंने किसी को कुछ नहीं बताया, मुझे डर था कि वो मम्मी को न बता दें, पर कुछ दिनों तक डर के साथ जीने के बाद अहसास हो गया कि आंटी ने कुछ नहीं बताया है, तो मैं सामान्य जीवन जीने लगा. मैंने उसकी दीदी के ऊपर से होकर उसको लिप किस किया, जिसमें उसने खुल कर साथ दिया.

मेरे लंड के नसीब से अच्छी बात ये थी कि वो मुझपे काफी लाइन मारा करती थी. पद्मिनी की जांघों के पास बैठ कर बापू ने हल्के से अपना हाथ उसकी कोमल, मुलायम नाज़ुक जांघों पर फेरा. बहुत कहने पर भाभी ने लंड पर किस किया और लंड के टोपे पर अपनी जीभ फेरने लगीं।कुछ देर बाद भैया ने भाभी को लिटा दिया और 69 की अवस्था में आ गये.

ముస్లిం సెక్స్ వీడియో

ये सब कहते हुए दोनों घुटनों के बल नीचे बैठ गईं और मेरे 8 इन्च लम्बे और तीन मोटे फ़ुल साईज लंड को बड़े गौर से देखने लगीं.

काजल दीदी मुझे देखकर खुश हो गईं, क्योंकि उन्होंने तो सुबह मेरा लंड चूसा था लेकिन ज्योति शर्मा रही थी. दो दिन बाद उसने फिर से कहा कि यार चुत तो गंदी होती है, फिर भी वो कैसे उसकी फ्रेंड और उसका बॉयफ्रेंड एक साथ एक दूसरे की चुत और लंड चाटते होंगे. मैं उस आदमी को पहचान नहीं पा रहा था क्योंकि उसकी पीठ किचन के दरवाज़े की ओर थी.

जब मैंने पूछा तो उसने बताया कि उसकी शादी को एक साल हो गया है पर मेरे पति मुझे खुश नहीं रख पाते हैं और कभी कभी झगड़ा भी करते हैं. आंटी ने कहा- देखो बेटा, तुम मेरे बेटे जैसे हो इसलिए तुम्हें समझा रही हूं, हस्तमैथुन मत किया करो. ब्लू पिक्चर देखने वाली बीएफएकदम से एक तेज़, गरम बिजली के करंट जैसी लहर मेरी रीढ़ से गुज़री, मेरे मुंह से एक ज़ोर की सीत्कार निकली और मैं झड़ा, मैंने रानी के बाल जकड़ के एक ज़ोरदार धक्का मारा.

मैंने भी अपने लंड पर हाथ फेरते हुए कहा- हां, आपको इतना ख्याल तो रखना ही चाहिए, जो मैं कहूँ वो आप करो. कुछ देर बाद उसकी गांड उठने लगी तो मैं समझ गया कि ये फिर से गरमा गई है.

आठ इंच लंबा और तीन इंच मोटा लंड मेरी चुत में फंस फंस कर जा रहा था और जगत बुरी तरह से चुत को ठोक रहा था. कभी कोई किसी को चूमता और मम्मे दबाता, कभी कोई किसी की चूत में उंगली करता. मैंने मुँह बाँध कर निकलना शुरू कर दिया था और इस तरह से निकलते वक्त मैं गहरे गले का टॉप पहनती थी ताकि मेरे मम्मों की घाटी लोगों का लंड खड़ा कर दे.

फिर वो पहनने के लिए अपनी पैंटी को उठाने लगीं तो मैंने वो पैंटी को उनके हाथ से छीन लिया और बोला- सॉरी भाभी ये तो आपको नहीं मिलेगी. हम ऐसे ही किस करते रहे चिपके रहे, कुछ देर बाद मैं अपनी रज़ाई में आ कर सो गया. मेरे आने पर वहाँ सभी लोग बहुत खुश हुये लेकिन मेरी नज़रें तो प्रिया को खोज रही थीं और तभी प्रिया छत से नीचे दौड़ते-दौड़ते आ गई, हमने एक दूसरे को मुस्करा कर देखा, वो फिर शरमा कर चली गई.

अब मेरे दिमाग में उसकी तस्वीर कुछ दूसरी बनने लगी थी, लेकिन उसकी मदभरी आवाजें मुझे कुछ और सोचने पर मजबूर भी कर रही थीं.

दस मिनट बाद लंड निकाल के देखा तो उस पर खून के थोड़े से कतरे लगे हुए थे. मैंने अपने मुंह बोले पुलिस ऑफिसर भाई से इस बारे में सलाह मांगी तो उसने मुझे दूसरे दिन सुबह बात करने का कह दिया.

उस लड़के ने मेरी स्कीम के तहत कोल्ड ड्रिंक के नाम पर उसे शराब मिला कर पिला दी. दनादन मेरे लंड से वीर्य के मोटे मोटे लौंदे एक के पीछे एक बड़ी रफ़्तार से छूटे. तो मैंने अंकल को बताया कि एक नई मूवी आई है, उसी को देखने के लिए भाभी लैपटॉप लाई थीं.

रीना ने बाथरूम का दरवाजा खोला तो देखा रमेश पूजा को अपनी बाँहों में पकड़ कर किस किये जा रहा था और अपने लन्ड को पूजा की चूत पे रगड़ रहा था. अब पद्मिनी के जिस्म का हर एक हिस्सा बापू को बेहद प्रिय लगने लगा और हर उस हिस्से को वह अपनाना चाहता था. अचानक एकता ने स्पीड बढ़ा दी और अब वो जोर जोर से लंड के ऊपर कूद रही थी.

भाई-बहन की बीएफ हिंदी बिल्डिंग में से बहुत से लोग छुट्टी पे गए थे, तो ज्यादातर फ्लैट बंद थे. मैंने अपने चूतड़ों से एक झटका मारा और मेरा लंड बिना किसी रोक टोक के मेरी बहन की चूत में घुसता चला गया.

सेक्सी वीडियो 36

मैंने जैसे ही उनके निप्पल को मुँह में लिया, भाबी की कामुक सिसकारी निकलने लगीं. ”यार तू एक बात तो बता?”क्या?”यही कि तू आज पहली बार यह सब करवा रही है, फिर तुझे सब कुछ मालूम कैसे है?”भाईजान मेरी सहेलियाँ मुझे अपनी लव स्टोरी सुनाती रहती हैं. उनकी साड़ी जो पूरी पारदर्शी थी, उनके बदन से लिपटी थी और उन्होंने साड़ी के नीचे कुछ भी नहीं पहना था.

मैं उन्हें किस करने लगा और फिर जब वो सामान्य हुईं तो मैंने जल्दी जल्दी धक्के मारने शुरू कर दिए. यह भी सही है कि उसका लंड बहुत मोटा लम्बा सख्त था, ऐसे लन्ड धारी कम होते हैं. बीएफ एरियाजैसे ही लालजी के लंड के सुपारे की चमड़ी को नीचे खींचा उसका लाल गुलाबी आंवला जैसा सुपारा मेरे सामने आ गया.

तो उसने मुझे बताया कि वह ग्रेजुयेशन कर रही है और साथ ही सिविल सर्विसेज़ की तैयारी भी कर रही है.

जब ये तूफान ख़त्म हुआ तो पता चला ब्लड निकल रहा है, भाभी के शरीर से भी और मेरी पीठ पर भी. मैंने एक एक करके उसके दोनों चूचुकों को चूसा, प्रिया ने अपने दोनों हाथ मेरे पीठ पे रखे हुए थे और आह… आह… की आवाज कर रही थी.

वो ‘उन्ह एयेए एयेए उम्म्ह… अहह… हय… याह… हुहह आई आ न्न्ह उन्ह…’ कर रही थी. आर्थर अब अपने लगातार फैलते और लम्बे होते जा रहे लंड को मेरी कमसिन बीवी का सिर पकड़ कर उसके मुंह में पचर-पचर की आवाज़ के साथ घुसेड़ने लगा था. उस पार्सल में एक बेल्ट से बंदा हुआ रबर का लंड था, जो 8 इंच लंबा और 2.

तो मैंने अपना पिस्टन जोर जोर से मारना शुरू किया… और पूरा पानी उनकी चुत में डालके ही उसके ऊपर पड़ा रहा.

एक घंटे बाद मैं उनके घर पे था, उनका घर तलवंडी में था, काफी पॉश कॉलोनी है. बिंदु ने कहा- जब कुत्ता यह जानता है कि चाट चाट कर मज़ा यहीं से मिलेगा जबकि वो जानवर है और तुम तो आदमी हो… तुमको तो और जल्दी समझ जाना चाहिए. वहाँ मेरी मुलाकात प्रिया से हुई जो कि मेरे जीजा के बुआ की लड़की थी.

छोटी लड़कियों की बीएफ सेक्सशादी इंदौर में थी। उस शादी में संयोग ऐसे बने कि वर पक्ष से चाची और वधू पक्ष से मैडम दोनों एक जगह टपक पड़ीं और ऐसा हो नहीं सकता कि इनमें से कोई मेरे साथ बिना कुछ किए रह सके!मैंने तो जाते ही साफ़ साफ़ बोल दिया- ना! मतलब कुछ नहीं होगा. उसने अच्छी तरह से साबुन लगाया लेकिन पीठ पर उसके हाथ नहीं पहुंचा रहे थे.

मारवाड़ी राजस्थानी सेक्स पिक्चर

पद्मिनी ने जवाब दिया- मैं इस्तरी कर चुकी हूँ बापू… कल रात आप कितने बजे वापस आए थे, मुझको नींद लग गयी थी. और फिर मैंने अपना लंड वैशाली की चूत में डाल दिया और पहले झटके में ही उसकी सील टूट गई. मैं फिर से ये रोनू नाम सुनके सोचने लगा कि मेरी शब्बो ने ये मुझे निक नेम दिया है या मुझे चिढ़ाने के लिए बोलती है रोनू, लेकिन मैं रोता तो नहीं हूँ.

मैंने उस मौके का फायदा उठाने की सोची और मैं भाभी के रूम में जाके टीवी देखने लगा. जब मैंने कुछ नहीं कहा तो वो मुझे किसी सुनसान जगह पर ले आया और अपनी पैन्ट खोल कर बोला कि देख ले आदमी का ऐसा होता है. मैंने झट से खड़की से अपने मोबाइल से 4 फोटो उनकी चुदाई की निकाल लीं.

उसके बाद दीदी ने अपने सूट को ऊपर की तरफ उठा दिया और इशारे से मुझे कमर पे तेल लगाने के लिए बोलने लगी. हम एक दूसरे को तब तक चूमते और चाटते रहे, जब तक हमने एक दूसरे को स्खलित नहीं कर दिया. अन्दर जा कर मैंने जानबूझ कर दो तीन बार झुक कर उसको अपने मम्मों के दर्शन करवा दिए.

यह चुदाई की घटना मेरे एक फ्रेंड की बड़ी बहन के साथ घटित हुई है, जो मैं आप सभी में बताना चाहता हूँ. अभिलाषा ने एक बार फिर मुझसे कहा- मिस्टर राज! मैं अभी ड्यूटी पर हूँ, यह सब बाद में कर लेना.

तो बापू ने हौले से अपने एक हाथ को पद्मिनी की जाँघ पर फेरते हुए सहलाया और पद्मिनी ने एक छोटी सी सिसकारी छोड़ी.

वो बताती थी कि जब मैं उसके साथ सेक्स की बातें करता हूँ, तब वो कैसे गरम हो जाती है. नंगी बीएफ चलती हुईमेरा नाम रिशु है मैं जब स्कूल में पढ़ता था, उस समय से ही मुझे देसी औरतों की सेक्स वीडियो और अन्तर्वासना पर उनकी चुदाई की कहानी पढ़ने का बड़ा शौक लग गया था. न्यू बीएफ व्हिडीओफिर वो पहनने के लिए अपनी पैंटी को उठाने लगीं तो मैंने वो पैंटी को उनके हाथ से छीन लिया और बोला- सॉरी भाभी ये तो आपको नहीं मिलेगी. उस दोस्त को उसने कहा था कि मैं तुम्हारे पास अपनी कज़िन को भेज रहा हूँ.

ऐसा बोल कर उसने एक किस होंठों पे किया और हम दोनों बिना चुदाई किए एक दूसरे की बांहों में लिपट कर सो गए.

थोड़ी ही देर में मैंने अपना एक हाथ उसकी बुर में डाला ही था कि मानो उसको बिजली का करंट लग गया हो. बेटी याना की चुत मेरे मुँह पर पानी छोड़ रही थी और उसकी चुचियां मेरे हाथ में थीं, जिनको ज़ोर से मसल रहा था. फिर मेरा मंतव्य समझ कर चेहरा घुमा लिया। यहां भी उसने चेहरा कवर कर रखा था और मैं बस उसकी आंखें देख सकता था।कैसे जानते हैं आप आरिफ को?”फेसबुक से.

मैंने कहा- फिर कपड़े उतारने में भी पहल करो मम्मी जी!इतना सुनते ही मेरी सासू माँ हंसने लगी और बेड से उठ कर लाइट जगा दी रूम की और अपने कपड़े उतारना शुरू किया. उनकी चूत से वीर्य बाहर बहने लगा जिसे उन्होंने अपने हाथ से रोक कर पूरी चूत और जांघों पर मल लिया. तभी मैंने देर न करते हुए अचानक हाथ उनके पेटीकोट के अन्दर डाल कर उनकी चुत पेंटी के ऊपर से छेड़ने लगा, तो भाबी समझ गईं और उन्होंने झट से उठते हुए अपनी साड़ी और पेटीकोट दोनों अपने आप उतारना शुरू कर दिया.

सेक्सी चाहिए फुल एचडी

अपने बापू के साथ इस अनोखी रगड़न के कारण उसको दिल ही दिल में मज़ा भी आ रहा था. पद्मिनी ने शीशे में देखा कि बापू ने उसके चूतड़ों को फैलाया और अपना मुँह उसकी दरार में डाल दिया. फ़िर बड़ी चाची ने हंस कर छोटी चाची के दोनों चूचे अपने मुँह में भर लिए और चूसने लगीं.

खैर कॉफ़ी ख़त्म हुई तो अलका ने दोनों मग लिए और किचन में उनको रखने चल दी.

वो मुझे लंड चूसने के लिए बोलने लगा और मैं उसके लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.

फिर अपना मशहूर लंड निकाला और दिनेश से कहा- उस ताक से तेल की शीशी ला।वह लाया तो मैंने कहा- दिनेश, तू साहब के लंड पर तेल लगा।दिनेश हल्के हल्के से लगा रहा था, जीजाजी मुस्कराए, तो मैंने कहा- दिनेश भाई! लंड पर तेल कस कर रगड़ कर लगाते हैं, दो तीन सड़का मार।तब उसने उनका लंड रगड़ा, अब वह तन गया था. अब धक्का दे… हाँ… हाँ दे… दे… दे… हाँ हाँ ऐसे ही दिये जा राजे… हाय राजे मैं कहाँ उड़े जा रही हूँ… लगता है अब गिरी और अब गिरी… आह आह आह!और एक तेज़ झुरझुरी के साथ रेखा रानी स्खलित हो गई. बीएफ पंजाबी देसीएक दिन उसने ऊपर से एक कागज पर ‘आई लव यू!’ लिख कर भी नीचे मेरे ऊपर फेंक दिया.

उसके चेहरे पर अब फिर वही सदाबहार मुस्कान लौट चुकी थी, उसकी गोरी मक्खन जैसी मुलायम गुलाबी गांड को चोदता हुआ आर्थर उत्तेजना से फटा जा रहा था और उसके मुंह से किसी भेड़िये जैसी गुर्राने वाली आवाज निकल रही थी. मेरी सेक्स कहानी के पिछले भागमेरा नौकर राजू और मैं-1में आपने पढ़ा कि कैसे मैं अपने पति के साथ सेक्स से वंचित थी और अपने जवान नौकर के साथ चुदाई के सपने देखने लगी थी. पर बेटा मैंने तेरे पैदा होने के बाद ऑपरेशन करा लिया था, जिससे अब मैं प्रेग्नेंट नहीं हो सकती.

मैंने खुद ही खड़े होकर अपने कपड़े उतार दिए!मैंने मंजू के मुख में अपना लन्ड डालने का प्रयास किया लेकिन मंजू ने मना कर दिया. जबकि हकीकत यह थी कि सच वह भी नहीं था। मेरी नजर में सच की जरूरत भी उसे नहीं थी और न ही किसी पढ़ने वाले को होनी चाहिये क्योंकि कहानी का उद्देश्य मात्र मनोरंजन होता है और हर पढ़ने वाले के लिये वही मुख्य होना चाहिये।वह निश्चिंत हो गयी तो उसे बातचीत की पटरी पर लाना आसान हो गया.

थोड़ी देर में सोनू चिकन लेकर आ गया, मैंने चिकन बनाया और सबसे पहले शिवानी को खिला दिया.

अपने बापू के मोटे लंड को अपनी जांघों के बीच पाकर पद्मिनी की चुत भीग गयी और वह कसमसाने लगी. चाची ने बड़ी चाची की चुत को मुँह से चोद कर एक गहरी कराह भरी और बोलीं- अरे ये ताला बहुत दिन से बन्द पड़ा है जरा प्यार से कर मादरचोद. मेरे हाथों को थोड़ा ऊपर उठाते हुए कमर और पीठ पे हाथ फेरते हुए मुझे मजा देने लगी.

हिरण वाली बीएफ मैं भी जोश में जा गया और मैंने एक साथ अपनी तीन उंगलियां उसकी चूत में घुसेड़ दीं. मैंने अपनी स्पीड थोड़ी बढ़ा दी तो भाभी तेज तेज सिसकारियाँ लेने लगीं- आ.

एक उनके दूध घाटी में रखा दूसरा उनकी नाभि पर और एक को उनकी चूत के ऊपर रख दिया. एक दिन मैं नहा के आयी, व्हाइट कलर की मैक्सी पहन कर नहाई थी, अंदर ब्लैक कलर की ब्रा और पैंटी थी पानी में भीगने के कारण सब दिख रहा था. मैंने उन्हें रोकते हुए कहा- अरे भैया… रुको तो अभी यार… थोड़ी देर… रुको… प्लीज़…कहते हुए उनके लन्ड को और भी सहलाने की कोशिश की.

मूवी सेक्सी एचडी

फर्क साफ़ नजर आ रहा था, आखिर आर्थर का लंड मेरे लंड से लगभग दो गुना मोटा, और इतना ही लम्बा था!करीब पांच मिनट की धुआंधार चुसाई के बाद हम सभी बेड के ऊपर आ गए. क्योंकि जिस तरह से उसका बाप उसको चूस रहा था… उससे वो खुद उत्तेजित हो रही थी. नताशा भी अब कराहने लगी थी और ये दर्द वाली कराहट नहीं थी!और कुछ देर के बाद तो नताशा दोबारा पहले जैसी बुलंद आवाज के साथ अपनी गांड में आर्थर के लंड के धक्कों का जवाब देना शुरू हो गई.

उसके तीनों छेद तीन लंडों द्वारा सील थे! लेकिन उसकी आँखों में फिर भी कोई भय नहीं दिख रहा था और वो धीरे-धीरे दोबारा सामान्य होती जा रही थी. भाभी नीचे झुकीं और मेरी पैन्ट के ऊपर से मेरा लंड पकड़ के कहा- अब से ये मेरा हुआ.

भाभी ने अपने दोनों हाथों से सेल्फ को पकड़ लिया और सिसकारियों के साथ ही बोलीं- रोहण, अभी जाने दो वरना प्राब्लम हो जाएगी, प्लीज.

तो अपनी सेक्स की इच्छाओं की पूर्ति के लिए मैंने एक मेल मास्टरब्यूटर (सेक्स टॉय) खरीद रखा है आप इसे सेक्स टॉय के साइट पर देख सकते हैं. उसे ये बात शायद समझ में नहीं आई थी, वो बोला- मेमसाब… हाँ तो ड्राइवर ही हूँ ना. वही तो चाहिए ना!अगर सेक्स लाइफ में मर्द की जरूरत के हिसाब से सेक्स करे और सोचे भी नहीं तो औरत की उससे क्या फायदा? दूसरा, एक अपनेपन का एहसास भी काफी जरूरी है और वो बातें करने से मिलता है.

फिर मैंने उससे कहा कि तुमने मुझे रोका क्यों नहीं?तो उसने कहा- मैं आपको दु:खी नहीं करना चाहती थी. वो खड़े हुए तो मैंने जल्दी से उनकी पैन्ट के बटन को खोला और पैन्ट नीचे कर उनकी अंडरवियर भी नीचे खिसका दी. फिर उसने मुस्कुराते हुए अपना कुर्ता भी पहन लिया और बोली- बस अब बहुत हुआ.

वो सोच रहा था कि अगर लोग सोचते हैं कि वह पद्मिनी को चोदता है, तो उसको चोदना ही चाहिए.

भाई-बहन की बीएफ हिंदी: अभी एक महीने की ट्रेनिंग पर बंगलुरू गया है, वापस आयेगा तो शायद नोएडा ही रहना पड़ेगा।”और मान लीजिये कोई मेडिकल इमर्जेंसी हो जाये तब?”पड़ोसी ही काम आयेंगे, थोड़े बहुत काम या वक्त जरूरत के लिये पड़ोसियों से बना के रखनी पड़ती है और उनकी उम्मीद भी बनी रहती है।”उम्मीद. दीदी ने धीरे से मेरे कान के पास आकर कहा- क्रिशु, अब शर्त लगी थी तो पूरी करनी पड़ेगी ना.

उसने अपने लण्ड का पानी मेरे मुंह में छोड़ दिया, मैं भी सारा पानी पी गई. मैं मेडिकल स्टोर से नींद की गोली ले आया और शाम को मौसमी के जूस में डाल कर सबको पिला दिया. मैं अभी अभी नहाकर बाथरूम से आई थी और मेरे जिस्म की खुशबू उसको पागल बना रही थी.

उनके चूत की खुशबू मेरे नथुनों में घुसने लगी और मुझे जैसे नशा सा होने लगा.

उसका हाथ मेरी चूत पर पड़ा ही नहीं बल्कि वहाँ पर फिरना भी शुरू हो गया. उसने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और मेरी दोनों टांगों को खोल कर मेरी चूत को अपने लंड से रगड़ने लगा. उसके आने के बाद भी जब भी हम दोनों को मौका मिलता है, हम चुदाई कर लेते हैं.