बीएफ सेक्सी वीडियो में चुदाई वाली

छवि स्रोत,t20 वर्ल्ड कप लाइव स्कोर

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स फिल्म इंग्लिश में: बीएफ सेक्सी वीडियो में चुदाई वाली, कुसुम- देख मैं तो तेरे भले के लिए ही बोल रही हूँ कि तू चाहे जो भी कर ले.

सेक्सी पिक्चर मराठी सेक्सी

मैं किसी ऑटो के इन्तजार में था, तभी मेरा ध्यान बाजू की गली से निकली एक खूबसूरत सी लड़की जो कि ऑटो की तरफ जा रही थी, पर पड़ी. செக்ஸி பிபி பிக்சர்रोशनी, चूत को पढ़ना बहुत कठिन काम है, पर तुम और पिंकी आसानी से सीख जाओगी.

जिस लड़की को मैं चोदना चाहता था, वो बिना किसी मेहनत के लिए चुदने के लिए तैयार थी. राजस्थान सेक्सी ओपन वीडियोमैंने अपनी जीभ पारुल की चूत के दाने पर रखी तो पारुल ने मेरा सिर पकड़ कर चूत पर दबा दिया, मैं थोड़ी देर चूत को ऊपर से ही जीभ से चाटता रहा.

इस तरह मैं आंटी के घर जाकर उनके बदन के भी दीदार कर लेता था और कभी किसी बहाने उनके बदन को हाथ भी लगा लेता था.बीएफ सेक्सी वीडियो में चुदाई वाली: तो मैंने सोचा कि अभी देखने का ही मजा लेते हैं, कम से काम आज साली की चूत तो देखने को मिलेगी.

”रोशनी ने उसका इंग्लिश में नाम पढ़ा, पर वहां चूत की फ़ोटो पर दो नाम थे, पहले तीर के निशान पे क्लिट्स लिखा था और दूसरे तीर पर वेजिना लिखा था.इस बार मैंने भी अपनी गांड थोड़ा पीछे की और करके थोड़ा ऊपर उठा दी ताकि उसकी उंगली को रास्ता मिल जाए.

मिर्जापुर टू फुल मूवी - बीएफ सेक्सी वीडियो में चुदाई वाली

तभी रमेश अंकल के उन दोस्त का पानी निकल गया, जो अपना लंड मां की चूत में पेला हुआ था.मैंने पेंटी के ऊपर से ही उसकी चुत को सहलाना शुरू किया तो वो पलट कर सीधी हो गई और उसने मुझे गले से लगा लिया.

साथ ही प्रिया की आँखें उलट गयी तथा वो निष्चेष्ट सी हो कर मेरी बाहों में झूल गयी. बीएफ सेक्सी वीडियो में चुदाई वाली पहले मैंने उससे बोला- अपने हज़्बेंड की ड्रिंक की बोतल दे, आज भेजा घूमा हुआ है.

जैसे ही मैंने उनका हाथ अपने हाथ में लेकर किस किया तो वो सिहर सी गईं.

बीएफ सेक्सी वीडियो में चुदाई वाली?

तभी आधी रात को एक पुलिस वाला आया और बोला- चलो बड़े साहब ने बुलाया है. खाना दे कर वो मेरे पास बैठ गई और फरवरी में चल रहे दिनों के बारे में बात करने लगी और अचानक से बोली- आप ने कभी किसी को किस किया है?मैंने चुपचाप ना में गर्दन हिला दी क्योंकि मेरा छोटा भाई वही बैठा था. खैर मेरे ऐसा करने से वो एक बार झड़ गई और मेरे गले लग कर मुझे चूमने लगी.

मेरे पति मुझसे बहुत नाराज हुए, पर मेरी जिद के सामने किसी की नहीं चली और हम अलग हो गए. विनय- नेहा, मेरे लंड को देखोगी, जो पूरी रात तुम्हारी याद में रोता रहा है?मैं उठ कर बैठ गई और विनय की चड्डी के ऊपर से ही उसके लंड को सहलाने लगी. कि मेरी जान सी निकल गई।अब जाकर कहीं मैंने उसके चेहरे की तरफ गौर से देखा। उसका चेहरा शर्म से बिल्कुल लाल हो गया और उसके होंठों पर साड़ी की मैचिंग की लिपिस्टिक लगी थी। कुल मिलाकर उसकी तारीफ के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं।मैं बोला- इसमें बेशर्म वाली कौन सी बात है?मधु बोली- क्यों.

शायद पापा से उनकी चूत की आग बुझाए नहीं बुझती थी इसलिए वे अब रमेश अंकल के लंड की मुरीद हो गई थीं. जब तुम्हारी चुदाई को देखा था तो मन कर रहा था, मैं भी तुमको चोद दूँ. पारुल ने हाथ में मेरा लन्ड पकड़ा हुआ था और हाथ से लन्ड की स्किन को आगे पीछे करने लगी.

उसने कहा- ऐसा क्यों?मैंने कहा- क्योंकि मैं जानता था कि आज कुछ ना कुछ ज़रूर होगा. वो मुझे देखकर मुस्कुराने लगा तो मैंने भी उसे मुस्कुराते हुए उसके गाल पर एक हल्की सी चपत जड़ दी.

मैं जब अन्दर गई तो पहले तो वो एकटक मुझे देखता रहा और बोला- आपको यह सब करते हुए शरम नहीं आती?मैं कुछ कहने लायक नहीं थी, इसलिए चुप रही.

अब तुम सोच लो किसी को पता भी नहीं चलेगा और तुम फ्री भी हो जाओगी और ऐसे इलाज में ज़्यादा खरचा भी नहीं होगा.

”अरे छोड़! मैं तुझ से प्यार करता हूँ और जिस से प्यार करते हैं उस को दिया करते हैं, उस से मांगा नहीं करते. एक दिन हमारे एक रिश्तेदार के यहाँ से शादी का बुलावा आया, वैसे जाना तो हम सब को ही था पर यही मौका देखते हुए अम्मी ने जाने से मना कर दिया और मुझे भी रोक लिया। बड़ी मान मनुव्वल के बाद अब्बू और भाई जाने के लिए तैयार हुए। उनको दूर शहर जाना था, सब जल्दी जल्दी में हुआ था तो रिजर्वेशन भी नहीं मिला था, अब्बू और भाई जाने के लिए रात में नौ बजे घर से निकल गए. मैं अपने घुटने के बल फर्श पर बैठ गया था और मेरे सामने वह चुपचाप खड़ी थी.

यहाँ हम दोनों चुदाई में लगे थे और इस वक्त मुझे सुहानी का बुलाना पसंद नहीं आया. उनके द्वारा एकदम से लंड पेल देने से मां की चीख निकल गई और वे एकदम से चिल्लाने लगीं- हाय मर गई… मेरी चूत फट गई आह… निकला लो प्लीज़ तुम्हारा बहुत मोटा लंड है. अब उसने अपना एक हाथ मेरे एक चुचे पर रखते हुए मेरे कान में पूछा- क्या मैं तेरे मम्मों को दबा सकता हूँ?मैंने कहा- ज़रा ध्यान से.

फिर मुझे उसने प्यार से अपने पास बिठाया और मेरी गोद में सिर रख के लेट गई.

उसने बताया कि पहली बार में लड़की के खून निकलता है और दर्द बहुत होता है. अचानक मेरे निचले होंठ पर किसी मधुमक्खी ने डंक मारा हो जैसे… मैं एकदम से हड़बड़ा गया और बैडरूम प्रिया की खनकदार हंसीं से गूँज उठा. उनकी आँखें बंद थीं और वो जोर जोर से सिसकारी भर रही थीं- आ आ आ आ ऐसे ही चूसो.

गांड थोड़ी खुल गई थी।उसने धीरे से अपना लौड़ा अन्दर बाहर करना शुरू किया। मेरी गांड अन्दर से गर्म हो चुकी थी, मैंने रोते हुए कहा- ओह. अब अंजलि को दर्द होने लगा था, वो कहने लगी- आराम से करो!लेकिन अब मैं कहाँ मानने वाला था क्योंकि मैं अब पूरे चरम पर था, अब मेरा भी निकलने वाला था, मेरी स्पीड और बढ़ गयी, 5 या 7 धक्कों के बाद मैं भी अंजलि की चूत में झड़ गया. मॉम ने पैर टेबल पर रख कर अपने मुँह से थोड़ा सा थूक निकाल कर अपनी चुत पे लगाया.

अगर तुमसे 40000 मिल भी जाएंगे तो भी बाकी की रकम मुझे ही पैदा करनी है.

जब मेरा माल आने वाला था, तब मैंने लंड निकाल कर उसके मम्मों के ऊपर अपना पूरा जूस निकाल दिया. वो कराहते हुए रोने लगी, लेकिन मैंने ध्यान ही नहीं दिया और एक के बाद एक शॉट मारता गया.

बीएफ सेक्सी वीडियो में चुदाई वाली शरमाना क्या?मैं अब सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में बाथरूम में उसके सामने खड़ी थी और वो सिर्फ़ अंडरवियर में था. पूजा जैसे ही बोलने को हुई, तभी मैंने जोरदार धक्का दे मारा, इससे पूजा की आवाज लड़खड़ा गई और चुदते हुए बोली- आ… आह…ती हूँपूजा आह आह…” करने लगी और मुझसे कहा- यार, जल्दी माल निकाल दे…पर मैं इतना जल्दी नहीं होने वाला था.

बीएफ सेक्सी वीडियो में चुदाई वाली इतनी मुश्किल से ये रिश्ता मिला था, अब अगर कहीं छोड़ छुड़ाव हो गया तो इज्जत भी जायेगी और बेटी का बोझ भी हमारे सर पर आ जाएगा. हमारी हर रात हसीन रही और पूरी मस्ती के साथ हर तरीके से चुदाई करी।मेरी फ्री सेक्स कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करें-[emailprotected].

मैं विनय की बातों से उत्तेजित होने लगी और मैंने देखा विनय का लंड भी वासना से खड़ा हो गया है.

सेक्सी डे

अर्पिता- उसके बाद?उसके बाद मैंने उसकी जांघों पर हाथ रखा और मसलने लगा, उसकी साँसें बढ़ने लगी और वो सिसकारियाँ लेने लगी. चड्डी उतारते ही मेरा 5″ लंबा और 3″ मोटा लंड उसके होंठों को छूता हुआ उसकी नाक पर लगा. भोसड़ी ना तारी माने चोदे खोल मने दुखे छे…” वो दर्द के मारे गुजराती भाषा में बड़बड़ा रही थीं.

जब अंजलि ने मुझे कमरे से गायब पाया तो उसने मुझे आवाज लगाई- अंकित भाई कहाँ हो? आ जाओ, चाय ठण्डी हो जायेगी. एक गली में मुझे एक बोर्ड दिखाई दिया, उस पर लिखा था कि रूम भाड़े से देना है और नीचे कॉन्टैक्ट नंबर दिया हुआ था. मनन- चुदाई?रीमा- बोला ना, मैं ऐसी ही हूँ, तुम लड़के कर सकते हो तो हम लड़कियाँ क्यों नहीं?मैं- तब तो तुम्हारा ब्वॉयफ्रेंड भी होगा.

हमारे यहाँ बेटियों की शादी जल्दी ही कर दी जाती है तो हम अपनी बेटी के लिए रिश्ते की तलाश में थे। कुछ लोगों से बात बनी नहीं, कुछ की दहेज़ की मांग बहुत थी।मेरे पति किसान हैं, वो खेती करते हैं.

मेरी पिछली सेक्स से भरी कहानीपड़ोस की सेक्स की भूखी भाभी की नंगी चूतआप सभी ने पढ़ी और आप सभी पाठकों का बहुत अच्छा रेस्पॉन्स भी मिला. मैं कल्पना करने लगा कि उसके निप्पल कैसे होंगे? शायद गुलाबी होंगे? क्योंकि वो बहुत गोरी है! या शायद भूरे हों!मैं बस अपनी बहन की बुर और चुची के बारे सोचते हुए चाय पीता रहा और हम दोनों ने चाय खत्म कर ली. अपने जन्मदिन पर मेरी बीवी ने अपने आशिक यार को हमारे घर बुलाया हुआ है पार्टी के लिए.

दोनों हाथों से मैंने उसकी कमर तो थोड़ा सा उठाया और उस मखमली गोरे दूध जैसे सफ़ेद पेट पर किस करने लगा. मैं अपने रूम में आ गया, आंटी भी मेरे पीछे मेरे रूम में आ गईं और मेरे पास सोफे पे बैठ गईं. लेकिन आज मेरी छोटी चाची घर में थीं तो मैं खेलने के बहाने से उससे ऊपर वाले कमरे में ले गया, जहां हम सभी लोग सोते थे.

उन्होंने मेरी चूत में पीछे से लंड डाला और मेरे मम्मों को पकड़ के मसलते हुए चोदना शुरू कर दिया. उसने झट उसे अपने मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया और मैंने उसके कंधे पकड़ कर थोड़े से दबा दिए.

ये सब अचानक से हुआ तो मैं भी खुद को सम्भाल नहीं पाया औऱ मैं गिर गया. काफ़ी देर ऐसे मज़े लेने के बाद मैंने बोला- रिया रूम पर चलें?तो उसने हां बोल दी. मेरी माँ की चूत अब चुदाई की भूखी हो चुकी थीं, उनको लंड की जरूरत हद से ज्यादा होने लगी थी.

और फिर जब भाभी थोड़ी शांत हुई तो मैंने और एक ज़ोरदार शॉट मारा और पूरा लंड भाभी चूत में घुसेड़ दिया और फिर भाभी के मुख से चीख निकल गयी- उईईई ईईई मां री ईईईईई मर गयी रे मैं… निकाल ले देवा इसे… मेरे से इतना बड़ा लंड सहन नहीं हो रहा है.

ओके!मैंने होली के तीसरे दिन यानि कि सन्डे का तय कर लिया और बेसब्री से उस दिन का इंतज़ार करने लगा. अब मैं लंड भाभी की गांड पर लगा कर धक्का मारा, मेरा आधा लंड भी अन्दर नहीं गया था कि वो रो पड़ीं और बोलने लगीं- अमित एक बार निकाल ले, बहुत परपरा रही है. उन्होंने अपने आप को इतना मेंटेन कर रखा था कि कोई उन्हें 25 साल से ऊपर तो कह ही नहीं सकता था.

दीदी थोड़ा चिल्लाईं और मैंने जल्दी से एक बार फिर जल्दी से लिंग बाहर निकाल कर उतनी तेजी से वापस अन्दर पेल दिया. फिर उसने मेरी पत्नी को किसी बिल्ली के बच्चे की तरह मुंह के बल तकिए पर पलट दिया और इस प्रकार उसकी ऊपर की ओर उठ गई, इस समय तक चुद चुद कर मेरी मुट्ठी जितनी चौड़ी और चुकंदर की तरह लाल हो चुकी गांड को खोल कर एरिक संग हमें दिखाने लगा.

अब मेरी हालत तो खराब हो गयी, मैं अपना लन्ड पारुल की चूत में जल्दी से जल्दी डालना चाहता था. मैंने आइसक्रीम को आंटी के चुचों की लाइन में डाल दी और उनके रसभरे मम्मे चाटने लगा. मेरी हालत तो तब और अधिक खराब हुई, जब एकदम से एक फैमिली वहाँ पर आ गई.

शिल्पी राज porn

उसकी शिकायत की जा चुकी थी और पुलिस ने हम दोनों को बंद कमरे में आकर दबोच लिया.

भाईसाहब भी स्कूटी का स्पीड कम कर चला रहे थे, जिससे कि मारुति हम लोगों से आगे चली जाए. मैंने भी उसका साथ देते हुए उसके निचले और ऊपर के होंठों को काटते हुए चूमना शुरू कर दिया. अब मैं धीरे से उठी और एकदम कूल्हे मटकाती हुई धीरे धीरे वापस उस भीड़ की तरफ चल पड़ी.

उसके बॉयफ्रेंड ने मुझे भी फोन पर बहुत गालियां दीं क्योंकि वो लड़का शायद सच में रुचिका से सच्चा प्यार करता था. हुआ यूँ कि एक मेल मेरे पास आया कि आपकी दूसरी स्टोरी ‘आपा के साथ सुहागरात. रक्षा बंधन कामैंने फोन करके अपनी वाइफ से कह दिया कि काम ज्यादा निकल आया है, मुझे रुकना पड़ेगा.

बुआ के साथ हिन्दी इन्सेस्ट कहानी पर अपने विचार मुझे बताएं![emailprotected]. उनके गहरे गले वाले ब्लाउज से दूधिया घाटी देख कर मेरे हाल बुरा हो रहा था.

और इधर मुझे मेरी आपबीती आपके साथ शेयर करने का मौका मिला है, इसलिए मैं इस साईट का बहुत शुक्रगुजार हूँ. मेरी साली का विरोध कम होते हुए देख उसने एक हाथ से मेरी साली की गांड को सहलाना शुरू कर दिया. बस बुर और निप्पल ही बचे थे, जो किसी ने मतलब सैम ने ना देखे हों, तो मुझे शर्म भी नहीं लगती थी.

तुम्हें वहां सोफे पर बैठना है और देखना है क्या होता है और चुत कमाई कैसे करती है. अब सिगरेट को आंटी के मुँह में रख के सुलगाया और आंटी को कश मारना सिखाया. कुछ देर बाद बुआ झुक गईं और मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगीं.

दिन भर में भाई तो मेरा मस्त दोस्त बन गया और उसकी दीदी भी फ्रेंडली हो गई.

अभी एक साल पहले वो मुझसे कहने लगी कि वो घर में बोर हो जाती है और वो जॉब ज्वाइन करना चाहती है. मैं इतना गया गुजरा भी नहीं हूँ और न ही मुझे लड़कियों की नजर का पता लगता है.

मैंने उसकी ब्रा पेंटी उतारी और उसके सारे अंगों को कपड़ों छुटकारा दे दिया. उन दोनों के लंड अभी आधे ही खड़े हुए थे तो मैं उनके लंड को बारी बारी मुँह में लेकर चूस रही थी. उसके जाने के बाद मैं दो बार उसके नाम की मुठ मार चुका था और तब भी अपने आपको शान्त नहीं कर पा रहा था.

उसने दूसरी बार झड़ने के बाद दो पैग दारू के लगा कर तीसरी बार भी मुझे पेला. जब मैंने कॉलेज जाना शुरू किया तो मैं पढ़ाई के चलते कभी कभार की जिम जा पाता था और ज्यादातर कसरत मैं अपने घर के सामने के आंगन में ही करता था. कुछ देर बाद मूवी में एक हॉट गाना आने लगा तो उसको भी कुछ कुछ होने लगा.

बीएफ सेक्सी वीडियो में चुदाई वाली कभी वो दोनों मुझे उछाल उछाल कर मेरी चूत और गांड की चुदाई करते, तो कभी मुझे कसकर पकड़कर खुद धक्के लगा कर मेरे दोनों छेदों को ठोकते. मेरी साली भी स्वभाव से गंभीर किस्म की लड़की है और हमारे बीच में आमतौर पर सिर्फ काम ही बात होती है.

देवर भाभी की सेक्सी फोटो

मैंने उनके बेटे को अन्दर बेडरूम में लेटाया और भाभी ने उसकी पट्टी कर दी. दो पल बाद मैं भी जन्नत की सैर कर रही थी कि उसने अपने उंगली गांड में से निकाल कर थोड़ा और नीचे करनी चालू कर दी और इससे पहले मैं कुछ कर पाती, उसकी उंगलियां चूत की तलाश में मेरे लंड से जा टकराईं. मैंने उनसे पूछा- आप क्यों परेशान कर रही थी मेरे दोस्त को… आपकी भी नई नई शादी हुई है, भैया जो आपको परेशान करते हैं, उसका बदला निकल रही हो?तो वो बोली- पागल… मेरी शादी को 14 साल हो गये और मेरे दो बेटे हैं.

मैं शर्मा कर नीचे देखने लगी और बोली- नहीं मैं इतनी भी खूबसूरत नहीं हूँ. जिसकी वजह से उसकी 32 इंच की कठोर चुचियां ऐसे ऊपर नीचे हो रही थीं, जैसे दो पहाड़ हिल रहे हों. घोड़ा घोड़ीमां के इस ब्लाउज का गला बहुत गहरा था, जिससे उनकी चूचियां आधी से ज्यादा दिखाई डी रही थीं.

क्या आपको मेरी यह इरोटिक सेक्स स्टोरी फेंटेसी लग रही है? जो भी हो, इस सपनीली सेक्स स्टोरी के ऊपर आपके मेल पाना चाहूँगा.

सोचते सोचते बहुत गर्म हो जाती, मेरी पैंटी भीग जाती गीली हो जाती थी।यह कोई मेरी कहानी नहीं है, एक एक शब्द एक एक बात पूरी सच लिख रही हूं, यह मेरे जीवन की सच्चाई है, इसे झूठ कोई मत मानिएगा।मैं अपनी मम्मी की कसम खाती हूं और गॉड कसम… सब कुछ बिल्कुल एक-एक शब्द सच लिखा है।यह बात सच है कि मुझे खुद भी बहुत ही ज्यादा मजा आया, यह कैसा सुख और इंज्वाय है मैं इसे नहीं जानती थी। पर बहुत ही बेस्ट अनुभव रहा है. पर सुबह उठने से लेकर ही मुझे तो सिर्फ चुदाई की ही याद आ रही थी, पता नहीं ये दोनों मेरी चुदाई कब करेंगे.

भाईसाहब भी स्कूटी का स्पीड कम कर चला रहे थे, जिससे कि मारुति हम लोगों से आगे चली जाए. दो-तीन बार अन्दर बाहर करने में ही वो इतनी उत्तेजित हो गई कि ज़ोर ज़ोर से आवाज़ें निकाल कर दूसरी बार झड़ गई. स्पष्ट था कि आज मेरा सामना छुई मुई प्रियतमा से नहीं बल्कि किसी जंगली बिल्ली से होने वाला था.

माँ- और फर्स्ट??मैं- माय माँ…माँ- रियली??मैं- यप, क्या कुछ ग़लत है इसमें?माँ- ग़लत नहीं है… अगर वे तुमको बिस्तर में पसंद करती हैं तो इसमें क्या गलत है.

उसने कहा कि मैडम फोन तो मिल जाएगा मगर एक बात याद रख लो जो भी कुछ उस फ़ोन में कॉन्टेक्ट्स और बाकी की डिटेल हैं, मैंने वो सब कॉपी कर लिए हैं. देखिए कामवासना किस कदर दिमाग पर चढ़ जाती है कि अपने सगे रिश्तेदार की तबियत खराब होने पर भी दुखी होने की बजाए हम दोनों को खुश कर रही थी. आप यहाँ इतने कपड़े क्यों खरीद रही हैं? लाई नहीं है क्या?मैंने कहा- नहीं.

मेरी बहना दीवानी हैमैं बहुत खुश हो गई थी कि मुझे भी अपनी गोद में बच्चा लेने का सौभाग्य प्राप्त होगा. उसने मेरा परिचय अपनी भाभी से कराया तो भाभी ने कहा- अच्छा ये वही हैं, जिनके बारे में बच्चे बात करते हैं.

पागल गूगल

अगले दिन मैं फिर से पार्क में गया और शाम को 2-3 घंटे वहीं बैठा रहा. मैं आआह सिसस्स उम्म आआआ… कर रही थी।वे धीरे धीरे मेरी गर्दन को किस करते हुए पीछे से मेरे एक एक ब्लाऊज के हुक को खोल रहे थे। मेरे जमाई जी ने मेरा ब्लाउज उतार दिया, फिर उन्होंने मेरी ब्रा को भी खोल दिया. दीदी के चुचे काउंटर से टच होने लगे… और झुकने के कारण दीदी की गांड पीछे की ओर और भी ज्यादा बाहर निकल आई.

जब उसने दरवाजा खोला तो मुझे देख कर कुछ हिचकिचाया और बोला- आपको किससे मिलना है. उसने आँखें खोलीं और फूलो से सजा हुआ कमरा देखकर हैरत से बोली- ये सब क्या है मयंक?मैंने बोला- आज शादी हुई है, तो अब सुहागरात भी होनी चाहिए. वो मेरे लिए खाना लाया, मेरी इच्छा नहीं थी तो उसने अपने हाथों से थोड़ा खिलाया.

मैंने उसकी शर्म को तोड़ने के लिए कहा- जल्दी चलो, मेरी मम्मी ने तेरे लिए गरम गरम खाना परोस के रखा है. रेखा ने पंकज को रोकना चाहा, पर जब तक आदमी का माल नहीं निकले, उस पर शैतान सवार होता है. और मैंने इस तरह से उसको और भी मस्त कर दिया था जिससे उसकी हालत इतनी मस्त हो गई थी कि उसने मेरा लंड खुद ही अपनी चूत पर रख दिया और फिर वह मुझसे उसको अन्दर डालने को कहने लगी.

मैंने भी उसका साथ देते हुए उसके निचले और ऊपर के होंठों को काटते हुए चूमना शुरू कर दिया. अब भाभी ने अपनी जीभ अपने होंठों फिराने लगीं, मैं समझ गया कि भाभी को लंड चूसना है.

मैंने उसके साथ काफी देर फ़ोरप्ले किया और अब तो एक दूसरे के कपड़े उतारने लगे.

फ़िर मैंने दोनों टांगों से पैंटी को काट दिया और पैंटी कटी फटी हालत में नीचे गिर गई. घोड़े की सेक्सी वीडियोबुआ भी गरम हो गई थीं, बुआ झट से बोलीं- पहले दरवाजा बंद कर दो, आते जाते किसकी नज़र पड़ गई तो गलत लगेगा. सैकस मूवीमैं आपको उसके शरीर के बारे विस्तार से बता दूँ, उसकी लम्बाई लगभग साढ़े पांच फुट के आसपास थी. मेरा भी यही हुआ था जब मेरी चूत फाड़ दी थी मेरे पति देव ने… वो तब हुआ था जब मेरी शादी हुई थी, मेरी पहली रात थी, उस रात को मेरे सारे कपड़े उतार कर मेरी पहली चुदाई की थी मेरे पति देव ने!क्योंकि तब से पहले कभी मैंने अपनी चूत में लंड नहीं लिया था तो मेरी चूत फट के लाल हो चुकी थी.

उसने पेंटी भी वो वाली पहन रखी थी, जिसमें पीछे से पूरी गांड खुली होती है, बस आगे से चुत ढकी होती है.

वो धीरे धीरे चुत से धक्के लगा रही थीं और मेरे बालों को सहला रही थीं. कॉलेज खत्म हुआ और मैंने परमिट शॉप से जाकर एक वोद्का की बॉटल ले आया. फिर मैं उसके चूचों को चूसने लगा तो अब वह भी बिल्कुल मस्त हो गयी थी।फिर मैं उस जवान नंगी लड़की को अपनी गोद में उठाकर बेडरूम में ले गया, मैंने उसको बेड पर लेटाया और मैं फिर से उसके चूचों को चूसने लगा और धीरे धीरे मैं उसको किस करते हुए उसकी चूत को चाटने लगा तो वह फिर से सिसकियाँ भरने लगी थी.

फ़ाइनल प्रोग्राम यह बना कि प्रिया की माताश्री वीरवार शाम तक हमारे घर आ जाएंगी और सुधा और उन को मैं वीरवार शाम को चाचा जी के घर जा कर बस चढ़ा आऊंगा और शनिवार सुबह को चाचा जी के घर जा कर ले आऊंगा। दोनों बच्चे यहीं हमारे पास रहेंगें. हालांकि मैंने उसका सहयोग किया, पर मैं शर्म के मारे दीवार की तरफ मुँह करके खड़ी हो गई. मैं हर धक्का इतनी जोर से मार रहा था, जैसे मेरे लंड को उसके मुँह से निकाल देना चाहता हूँ.

तृषा कर मधु की सेक्सी वीडियो

शायद उसकी आँखों में अपनी पहली चुदाई का मंजर घूम गया और उसको अपनी चुत की झिल्ली टूटने पर हुआ दर्द याद आ गया. जिसके पीछे कॉलेज के सभी लड़के पड़े रहते थे, पर ये अपनी नजरें भी ऊपर नहीं करती थी। खुद मैं भी इसे पटाने की सोचता था। मैं ये भी नहीं जानता कि वो मुझे पहचानेगी भी या नहीं। क्योंकि वो कक्षा के किसी लड़के से बात तो दूर. जब उसका लंड कुछ देर तक खड़ा नहीं हुआ तो मैंने दोबारा से उसके लंड को मुँह से चूसना शुरू कर दिया.

तब मुझे ये सब नहीं देख रहा था, मेरे ऊपर तो बस चोदने का भूत सवार था.

फिर मैंने भाईसाहब से कहा कि मेरे पतिदेव को बुला लें होली खलेने के लिए, वो कहीं बैठकर नॉवेल पढ़ रहे होगें, उन्हें तो नॉवेल और एक बॉटल पानी दे दो.

वो खुद ही रात में बोली- वो एम डी सर का बेटा है, उसके साथ जाना पड़ता है क्लाइंट के पास! तुम तो जबरदस्ती शक करते हो!और मुझको पुचकारने लग गई. फिर मां की चूत पर थूक लगाकर अंकल के एक दोस्त मां की चूत में अपना लंड घुसाने लगे. सेक्सी पिक्चर एचडी फिल्मयह सुन कर उसकी जान में जान आ गई और वो हाथ जोड़ता हुआ बोला- आपने इस मुसीबत की घड़ी में जो मेरे लिए किया है, उसे मैं जिंदगी भर नहीं भूलूंगा, क्योंकि यह नौकरी आप नहीं समझ सकती कि मेरे लिए क्या मायने रखती है.

क्या आपको मेरी यह इरोटिक सेक्स स्टोरी फेंटेसी लग रही है? जो भी हो, इस सपनीली सेक्स स्टोरी के ऊपर आपके मेल पाना चाहूँगा. वो दो उंगलियों से मेरे कूल्हों को हटाकर अपनी तीसरी उंगली उसमें डालने की कोशिश करने लगा, पर मेरी गांड तो एकदम टाइट थी तो उंगली घुस ही नहीं रही थी तो उसने हाथ वापस निकाल लिया, मुझे लगा कि इससे आगे अब कुछ हो नहीं सकता. एक दिन मैं ऑफिस से निकला तो थोड़ी दूर पे रेड लाइट पे एक फॉर्चूनर आकर रुकी और जैसे ही ग्रीन सिगनल हुआ, वो आगे निकल गयी, एक जगह सुनसान जगह पर वो मेरे आगे चलने लगी और एकदम से ब्रेक मार दी.

दीदी अपनी दो उंगलियां वी शेप बना कर अपनी चुत के दोनों फांकों पर रख दीं और उंगलियों को फैला कर चूत को पूरा खोल दिया. मैंने उसको अपना फोन नम्बर भी दिया और फिर से मिलने का वादा भी किया था।फिर कुछ दिन के बाद उसका फोन आया और उसने मुझसे कहा कि उसकी माहवारी नहीं आई है पाने वक्त पर… उसे डर लग रहा है.

मैंने समझाया कि जिस तरह का दर्द पहली चुदाई में होता है, वैसा ही होगा और फिर मज़ा भी बहुत आएगा.

आज मैं अपनी बीवी को पक्का चुदवाने वाला था तो मैंने उसे फोन करके बोल दिया था कि जब हम दोनों घर आएं तो वो बिल्कुल नंगी मिले और कपड़े बदलने का नाटक करे. मैंने तेल की बोतल ले कर अपने लंड पे तेल लगा लिया और उसकी चुत पर भी तेल की मालिश कर दी. अब मैंने फिर छोटी के पैरों से मालिश करना शुरू किया, और जांघों तक मालिश करने के बाद ऊपर की ओर बढ़ गया।छोटी सामने से ज्यादा कमजोर नजर आ रही थी, कहीं कहीं तो उसकी पसलियाँ भी नजर आ रही थी। अब मैंने उसके सर को अपने हाथों कि उंगलियों से मालिश किया, मस्तक, कान के ऊपरी भाग और सर के पिछले भाग पर हल्के हाथों से मालिश करता रहा और फिर गले और कंधे के बीच मालिश करने लगा.

இங்கிலீஷ் செக்ஸ் வீடியோஸ் मैंने इक निःश्वास भरी- ठीक है प्रिया! जैसा तुम चाहती हो वैसा ही होगा. अगले 15 मिनट तक मैं उनके मम्मों को चूसता रहा और वो दीवार के सहारे खड़ी कामुक आहें भरती रहीं.

मैं समझ गया कि ये लड़की चुदवाने के विचार में है, मैंने कहा- मैं कोई चीज उधार नहीं रखता. इसके बाद मैं अपना हाथ को उसके लोअर के अन्दर ले गया और उसकी चुत को मसलने लगा. अब सिगरेट को आंटी के मुँह में रख के सुलगाया और आंटी को कश मारना सिखाया.

मां बेटे की ब्लू फिल्म दिखाएं

मैंने फोन करके अपनी वाइफ से कह दिया कि काम ज्यादा निकल आया है, मुझे रुकना पड़ेगा. चूंकि आंटी ने तो मुझे वश में कर ही रखा था ताकि मैं उसे छोड़कर न जाऊं… सो वो बेफिक्र थी. कामिनी ने जीन्स ली, कुछ टॉप पसंद किए जो कामिनी ने उसको पहन कर दिखाए और फिर उस बन्दे के किये कामिनी ने टीशर्ट और जीन्स वगेरह ली.

तभी कुछ दिनों के भीतर ही हार्ट अटैक में चाचा की मौत हो गई, सभी बहुत दुखी हुए लेकिन इस पर किसका जोर चल सकता है. मैं उसकी टी-शर्ट उतारने लगा, पहले तो वह शर्मा रही थी, पर थोड़ा कहने के बाद मान गई.

तू उस बुढ्ढे के लंड के नीचे कैसे पहुँच गई यार… तेरी बात सुन के तू मेरी भी चुत पानी छोड़ने लगी है.

मेरा कद करीब पांच फीट आठ इंच है, रंग सामान्य है ना ज्यादा गोरा और ना ज्यादा काला!मेरे लंड की लंबाई करीब 6 इंच है और मैं मेरी कॉलोनी में बहुत फेमस हूँ, मैं सब से हंस बोल कर चलता हूँ, बड़ों को राम राम, नमस्ते, हमउम्र लोगों को हाय हेलो बोलता हूँ तो सब मुझे पसंद करते हैं. तो सोचिये कि दिन की हालत कैसी होगी।अब मुझे मेरे ऑफिस जाने के लिये सुबह जल्दी निकलना पड़ता है।ऐसे ही एक सुबह मैं अपने ऑफिस के लिए घर से निकला कि कुछ दूर जाने पर एक लड़की ने मुझे हाथ का इशारा देकर रूकने के लिये कहा। उस समय वो अपने मुंह को ढके हुयी थी।मैं उसके पास जाकर रूक गया. पिंकी जाओ बाथरूम में क्लीन करके आओ और अपने एसहोल से रुई भी निकाल लेना.

कोई भी सरकारी कागज, जो मयूर उनके पास लेकर जाता था, उसे बिना पढ़े साइन कर देते थे… वो मेरे पति पर बड़ा भरोसा करते थे. अब आगे…अब भाभी मेरे ऊपर आ गईं और मेरी छाती पर निकले खून को चाट गईं. वो मेरे ऊपर बैठ कर मेरे साथ सेक्स कर रही थी, इससे उसकी चूत और टाइट हो गई और मेरे लंड में भी दर्द होने लगा.

अब मैं लंड भाभी की गांड पर लगा कर धक्का मारा, मेरा आधा लंड भी अन्दर नहीं गया था कि वो रो पड़ीं और बोलने लगीं- अमित एक बार निकाल ले, बहुत परपरा रही है.

बीएफ सेक्सी वीडियो में चुदाई वाली: कोई भी सरकारी कागज, जो मयूर उनके पास लेकर जाता था, उसे बिना पढ़े साइन कर देते थे… वो मेरे पति पर बड़ा भरोसा करते थे. माँ की सुबकियों ने मुझे ये समझने पर मजबूर कर दिया कि पापा माँ की आग को नहीं बुझा पाते हैं, वे अपनी वासना शांत करके हट जाते हैं.

मैंने उसकी चूत की दरार में ऊपर ऊपर ही अपनी उंगली फिराई, फिर मैं उसकी चुत चाटने लगा. मैंने भी झुक कर दूध दिखाते हुए कहा- हां, मैं तो उन्हें अपनी फ्रेंड ही मानती हूँ और वो बहुत खुले विचारों वाली हैं खास करके सेक्स के मामले में. दीदी थोड़ा ऊपर उठाकर पूरा लंड बाहर निकालतीं और फिर धच से बैठकर पूरा लौड़ा अपनी चुत में घुसा लेतीं.

उसके बड़े भाई ने एक दो बार देख लिया कि वो मुझसे बिल्कुल चिपक कर सोता है, लेकिन कुछ नहीं कहते थे.

मैंने झट से अपना हाथ उसके मुँह पे रख दिया और मैं कुछ देर के लिए रुक गया. दिल कर रहा था यहीं पकड़ लूँ लेकिन उसके हज्बेंड की वजह से फट भी बहुत रही थी. कॉलेज के पीछे करीब 2 या 3 किलोमीटर तक कुछ भी नहीं है, सिर्फ़ झाड़ियां बबूल और बेर के पेड़, सरपट या काँस की झाड़ियां हैं.