झारखंडी देसी बीएफ

छवि स्रोत,नेपाली लड़कियों का फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

সেক্স ভিডিও নেপালি: झारखंडी देसी बीएफ, लड़के की गांड मारने की बात सुनकर मुझे कुछ हंसी सी आई कि ये जैल इधर मिलने का क्या मतलब हो सकता है.

चूहा मारने वाली दवा

उनकी चूत के बीच चॉकलेटी कलर का तिकोना भाग बाहर को निकला हुआ था … तथा चूत की दोनों पंखुड़ियों के समान गुलाबी होंठ एक दूसरे को स्पर्श कर रहे थे. हिनदी सेकसरोहिणी मुस्कराई और बोली- क्यों रात को जी नहीं भरा था क्या?मैं उसे बांहों से पकड़ कर बेड की ओर खींच कर बोला- अगर जी भर जाता … तो यहां बुलाता ही क्यों!रोहिणी बोली- कोई अन्दर आ जाएगा … मैं उठ कर दरवाजे को अन्दर से बन्द कर देती हूँ.

मैंने उनका एक पैर उठा कर बेड पर रखा और मामी से लिपट कर उनको खड़े खड़े चोदने लगा. सेक्सी फोटूमैंने होंठ आगे किए, तो मौसी ने प्रत्युत्तर में होंठों को अपने मुँह में लेकर जीभ से जीभ मिला कर चूसना शुरू कर दिया.

इसका मतलब वो समझ गया था और अब वो बहुत ज़्यादा उत्तेजना से कस कस के मेरे मम्मों को मसलने लगा था.झारखंडी देसी बीएफ: अनामिका- हां जीजू, मैं आपका मूसल लंड लेने के लिए पूरी तरह तैयार हूँ.

मैंने उससे बोला- नहीं रहने दो, कोई बात नहीं … आप एन्जॉय करो और मैं जाकर खुद ले आऊंगी.मामी बोलीं- तुम उस समय मुझे ऐसे क्या घूर रहे थे?मैं बोला- मामी आप बहुत सुंदर हैं.

काजल रघवानी का सेक्सी - झारखंडी देसी बीएफ

उसने बताया- उसको आज सुबह ही निकाल दिया गया … क्योंकि वो कल रात भर दारू पीकर होटल से कहीं गायब था.यूं ही दस मिनट के बाद उसने बोला- विवेक अब मुझसे रुका नहीं जाता, रात को जल्दी आना.

मैं थोड़ी गुस्से में बोली- जो भी करना है कर दे … मेरे से अब बर्दाश्त नहीं हो रही है. झारखंडी देसी बीएफ इस समय शाम की चाय आ चुकी थी विमला और उसकी बेटी के आने का समय हो चुका था.

मैं- आज कल तो ये सब चलता है, वैसे अभी नहीं पटाया … मैं उन्हें पहले से ही जानता था मगर इतने दिन से मिलने की कोई जगह ही नहीं मिल रही थी.

झारखंडी देसी बीएफ?

इसकी वजह से मैं खाना खाकर अपने रूम में चली आयी और कपड़े बदल कर सोने की तैयारी करने लगी. जब वो मेरी झांट साफ करने लिए थोड़ा आगे आती, तो मेरा लंड कभी उसके गालों से तो कभी उसके होंठों से टच हो जाता. सायरा को इस तरह अपनी चूत की आग को शांत करते देखने से मुझे खुद पर ही बहुत गुस्सा आ रहा था कि मेरी वजह से उसी सायरा को आज अपनी चूत की आग बुझाने के लिए उंगली का सहारा लेना पड़ा रहा है, जिसने मेरी इज्जत बचाने के लिए अपनी पूरी जिंदगी बिना सोचे समझे दांव पर लगा दी थी.

भाभी बोलीं- ऐसे कोई बिना बात के थोड़े ही बात करना छोड़ देता है, तुमने उसका दिल दुखाया होगा. मेरे घर के पास वाले घर में ही एक भाभी से मेरी नजरें टकराईं और एक दिन उसने मुझे खिड़की से मुठ मारते देख लिया. कुछ ही धक्कों के बाद मैं भी उसके अन्दर ही झड़ गया और उसके ऊपर ही लेट गया.

आहह … आहह … क्यों बेटा सुहानी … मजा आ रह है ना!मैंने भी कहा- आहह … चाचा जी पूछो मत … कितना मजा आ रहा है. मैं रुक गया तो उसने पूछा- क्या हुआ?मैंने बोला- कंडोम महसूस नहीं हो रहा है. मैं समझ गया मगर बन कर बोला- कैसी आस चाची?वो इधर उधर देखते हुए बोलीं- तू तो जानता ही है कि शीतल के पापा की अब तबियत ठीक नहीं रहती है.

मैंने नजर दौड़ाई, तो देखा एक बड़ी सी कार मेरे सामने सड़क के उस पार खड़ी थी. क्योंकि पत्नी के मरने के बाद पहले अपनी साली, सलहज और आजकल महाराजिन को चोद कर ही गुजारा कर रहा था.

ये सब मैं समझ ही रहा था तो मैं उठा और बाथरूम के दरवाज़े को नॉक करके सुमन को बाहर आने के लिए बोला।उसने एक बार बोला- नहाकर आती हूँ.

उसके बेटे को चोट लगी थी और भाभी ने मुझे उसके साथ ही रुकने के लिए कह दिया.

‘या तुम चाहो तो हम वाइन पी सकते हैं!’उसने मेरे पीछे से आकर मेरे कंधे पर अपना मुँह रखते हुए कहा- और प्लीज अब ये मत कहना कि खाना खा लिया है एंड आल देट बुलशिट. मनीषा ने उससे सिगरेट लेकर एक कश मारा और सिगरेट प्रिया की ओर बढ़ा दी. इससे मुझे थोड़ी गर्मी महसूस हुई, तो कुछ देर बाद मैं उठी और अभिषेक की तरफ मुँह करके उसकी गोद में बैठ गयी और उसके गले से लग गयी.

वो कहने लगा कि अगर मुझसे शादी करना चाहती हो तो चार साल इंतजार कर लो. वो भी मेरी गांड को पकड़ने की कोशिश कर रही थी मगर मेरी स्पीड बहुत तेज थी. लंड को आजाद करने के बाद वो महीनों से भूखी औरत उसको अपने हाथों से प्यार से सहलाने लगी.

कुछ देर बाद हम अलग हुए तो बिन्नी के चूतड़ों से होता हुआ बहुत सा वीर्य मेरे बेड की चादर पर टपक रहा था.

अब तक की इस कामुक कहानीमरीज की मम्मी को पटा कर चोदामें आपने पढ़ा था कि मैंने रात को रोहिणी देवी को बाथरूम में चोद दिया था उसके बाद उसे अपने बिस्तर पर भी चोदा था. पहले तो उसने मेरी गांड के छेद को खूब बढ़िया से चाट कर एकदम गीला कर दिया. शायरा को शायद विश्वास था कि अगर मैं भी सही में उससे प्यार करता हूँ, तो मैं उसका ये इशारा समझ जाऊंगा.

कॉलेज में भी कुछ खास नहीं होता था, बस कुछ थकेले टीचर मुझ अकेले बच्चे को लेक्चर देकर चले जाते थे. उसके गोल-गोल और उठे हुए कूल्हे को छूते हुए और थोड़ा चिढ़ाने के अंदाज में बोला- क्या बात है सायरा, तुम्हारी गांड तो काफी उठ गयी है. मैं आपकी सिमरन एक बार फिर से अपने एक और बीडीएसएम सेक्स रोमांच के साथ आ गयी हूं.

फिर मैंने सोचा कि क्यों न अपने खुद के साथ घटी हुई एक सच्ची कहानी आप लोगों के साथ शेयर करुं!ये कहानी है पिछले साल की … जब मैं परीक्षा देने के लिए बस के द्वारा अहमदाबाद से राजकोट जा रहा था.

तुम बता तो दो, कौन सा लाना है!शर्म से शायरा इस बार कुछ बोल‌ नहीं पा रही थी … इसलिए शर्माते हुए कहने लगी- अब कोई भी ले आओ. इधर शुरू में मुझे हल्का सा दर्द ही हो रहा था, तो मैं ‘आहह … आह … स्सी … आई.

झारखंडी देसी बीएफ आपको ये माँ चोद कहानी मेरी मां की चुदाई की, आपको कैसी लगी … प्लीज़ मेल करके बताएं. वो- मैंने बनाया तो अब पनीर तुम्हारा फेवरेट बन गया?मैं- कसम से झूठ नहीं बोल रहा, चाहो तो मेरी भाभी से फोन करके पूछ लेना.

झारखंडी देसी बीएफ आप लोग तो जानते ही होंगे कि सेल्स में आने-जाने और रहने का खर्च कंपनी ही देती है और ज्यादातर लग्ज़री रिसोर्ट्स में ठहरने का मौका मिलता है. [emailprotected]लड़की की गांड की कहानी का अगला भाग:महिला मित्र की कुंवारी गांड मारी- 2.

उसके बाद वो पीछे से ही मेरे ऊपर चढ़ गया और मेरी गांड में अपना लंड डाल कर मुझे चोदने लगा.

हिना का बीएफ

इन भावों के साथ उसको चुदते हुए देखकर मैं धीरे धीरे स्खलन की ओर बढ़ रहा था. अब तो सिर्फ वासना की आग में जलना था और अपनी कामाग्नि को शांत करना था. मुझे उससे बात करना बहुत अच्छा लग रहा था।फिर हमारी बातें सेक्स तक पहुंच गई। मैं उस पर भरोसा करने लगा.

भाभी की सिसकारियां निकलने लगी- उईई ईईईई सीईई ईईई … उम्म्ह … आह!थोड़ी देर बाद मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसके होठों पर अपने होंठ रख दिए और चूसने लगा।उसकी चूत में लन्ड रगड़ने लगा और एक झटके में घुसा दिया।वो झटपटा रही थी और मैं उसके होठों को चूसने लगा।तभी मैंने अपने लंड को बाहर निकाल लिया और जोर का धक्का मारा. वो बोला- सॉरी मैम! अंदर आने से पहले मुझे दरवाजा नॉक कर लेना चाहिए था. अपनी भतीजी अनु की चुदाई के बाद मैंने एक सिगरेट सुलगाई और कश खींचने लगा.

वही प्रियंका अपनी सहेली अनामिका की इसी कामुकता में चुत में तीन उंगलियां पेल कर चुदाई का खेल करने लगी.

इतने में वो मेरी चुत से हाथ निकलते हुए बोला- नहीं मेरी रंडी … चुत नहीं आज तो तेरी गांड मारूंगा. क्या आपने भी किया?अगर हां तो मुझे आप वॉइस कॉल पर बता सकते हैं और गर्म सेक्स चैट का मजा ले सकते हैं. दोनों ने एक दूसरे के लंड को सेम टाइम पर पूरी इज्जत देकर अपने मुँह में एक दूसरे का पूरा स्वाद भर लिया.

हड़बड़ाहट में उसने जेब से मेरी पैंटी निकाली और उसको एकदम से फर्श पर फेंक दिया. मेरे बालों को सहलाती हुई मेरे होंठों को चूमती हुई वो बिस्तर पर चित लेट गयी. क्या हुआ कोई दिक्कत क्या?मैंने ‘ना …’ में सिर हिलायालड़का- अरे परेशान मत होइए, आप मुझे बता सकती हैं.

फिर वो प्रमिला के सुझाव पर मुझे अपनी सूरत वाली एक दोस्त हेतल के पास लेकर जाने लगीं. मैंने उसकी तरफ देखा तो उसने गांड उठा कर चुदाई शुरू करने का इशारा दे दिया.

’डॉक्टर की बात से मैं संतुष्ट होकर वापिस घर आ गयी और शीशे के सामने खड़े होकर डॉक्टर के एक-एक स्पर्श का अनुभव करने लगी. एक बार दबाते ही उसको सेक्स चढ़ गया और वो फिर दोनों हाथों में दोनों चूचियों को दबाने लगा. फिर तभी अनामिका ने खुद ऊपर आकर प्रियंका को नीचे कर दिया और उसके चूचे चूसने लगी.

मैं- कसम से सच कह रहा हूँ अगर तुम्हारी शादी ना हुई होती … तो मैं तुमसे शादी कर लेता और रोज तुम्हारे खाने की तारीफ करता और रोज मुझे टेस्टी खाना खाने को मिलता.

फिर मेरी छाती की तरफ बढ़ते हुए मेरे मम्मों को अपने मुँह में भरकर बारी-बारी से पीने लगा. वो भी गर्म होकर कसमसाने लगी और बोली- क्या कर रहा है? आ जायेगा कोई, इतना बहुत है, अब छोड़ मुझे. राजेश बोल कर चुप हुआ, तो मैं बोला- इस समय मैं जयपुर के एक सरकारी अस्पताल के एल-थ्री ग्रेड के कोविड वार्ड में एडमिट हूँ.

मैं अनिल अपनी कहानी को अपने और अपनी बीवी के शब्दों में पेश कर रहा हूं. शायरा तो अब इतनी गर्म हो गयी थी कि उससे और ज्यादा बर्दाश्त नहीं हुआ और उसने अपना पानी छोड़ दिया.

मैं फिर से उसकी बुर चाटने लगा और अपनी दो उंगलियां बुर में डालने लगा. अब मेरे मन में ख्याल आने लगे थे कि चाची अब चाहे न चाहे मगर अब मैं इसको नंगी करके चोद ही दूंगा. दोपहर के 3 बजे जब मेरी नींद खुली तो वो भी जाग रही थी।हमने बाहर जाकर हल्का नाश्ता किया और वापस आ गए।फिर हमने काफी टाइम पास किया.

बीएफ वीडियो एचडी सेक्सी फिल्म

मैं उधर से अनु और कमल को जल्दी मुम्बई बुलाने का वादा करके मेहसाणा से निकलने लगा.

मुझको आपका लंड बहुत पसंद है, उसे पेलो न!वो इस पोजीशन में मेरे कानों को कभी कभी काट भी ले रही थी. दस मिनट मासी की चुत ताबड़तोड़ चोदने के बाद में मासी के ऊपर ही गिर गया. फ्रेशर स्टूडेंट और हैंडसम लड़कों के बीच में हमेशा मैं घिरी रहती थी.

पर मेरी चूत इतनी टाइट थी कि लंड एक सेंटीमीटर भी नहीं घुस पा रहा था. मेरा 6 इंच का लंड लोहे की तरह टाइट हो गया और उसके पीछे की दरार पर टिक गया. इंग्लिश नंगी पिक्चर दिखाइएवो किसी के भी साथ करने को तैयार है, पर पिंकी और तेरा नाम लेते ही भड़क जाती है.

चाची की सांस तेज हो रही थी और प्यार से मेरे सिर पर हाथ फेर रही थी।मैं बारी बारी से चूचियों को चूस रहा था. आज से हम फिर से दोस्त बन रहे हैं और इस पर मैं अब कुछ नहीं सुनना चाहता.

मगर मैं प्यार से उसके चेहरे में आ रहे बालों को हटाता हुआ लम्बी सांस लेकर लखनऊ के अदब के साथ बोला- साली साहिबा, अगर इज़ाज़त हो तो आपके आमों को चूसने से पहले आपके होंठों का रसपान कर लूं. इससे मेरे पूरे जिस्म में सिरहन सी दौड़ गयी और मुझे पहली बार एक असीमित आनन्द आया. वो जैसे ही थोड़ा आगे चला, मैंने नैना को देखा … और नैना ने मुझे गुस्से से देखा- प्लीज यार, थोड़ा तो प्रोफेशनल रह ले, अपने अरमानों को थोड़ा काबू में रख!नैना ने कहा तो सामने खड़े लौंडे ने मानो सुना अनसुना कर दिया.

भाभी बोलीं- क्या हुआ … अभी तक मन नहीं भरा क्या?मैंने कहा- इतनी सुंदर हसीना मेरे साथ में नंगी लेटी हो, तो किसका मन भरेगा. रात को हम तीनों ने रेस्टोरेंट में जाकर डिनर किया, जहां हमें शादी के बारे में कुछ भी बात करने से मानवेन्द्र ने ये कहकर टाल दिया कि शायद मिस्टर धीमान ये सब कुछ खुद ही हमारे साथ डिसकस करेंगे. उसने हेवी स्नैक्स बनाए थे, उसे मालूम था कि आज की महफ़िल लेट हो जाएगी, फिर डिनर का पता नहीं कितनी देर से होगा.

वो बोली- थैंक्स।मैंने कहा- मीनू, मैं एक बात बोलूं?उसने कहा- हां, बोलो।मैं- यार … मैं तुझे लाइक करने लगा हूं.

अब दोनों चूचियां मेरे सामने नंगी होकर मुझे चूसने का निमंत्रण दे रही थीं. आखिर मेरी चूत भी पूरी गीली हो चुकी थी और चाचा जी भी सुड़प सुड़प करके चूत चाटे जा रहे थे.

अपर्णा को गर्म करने के लिए मैं उसके बूब्स दबाने लगा और एक बोबे को आम की तरह चूसने लगा जिससे अपर्णा फिर से गर्म होने लगी. रात के खाने का समय हो गया था, इसलिए मैंने अब बाहर आकर पहले तो होटल‌ पर खाना खाया … फिर पास के ही किराना स्टोर से एक‌ गुलाब का फूल खरीद‌कर घर आ गया. अब मैं नीचे उसकी चुत में बड़ी तेजी अपनी तीनों उंगलियों को आगे पीछे करने लगा.

उन्होंने तुरंत अयान को आवाज लगाई और मुझे बताया कि अयान बहुत अच्छा पैर दबाता है. अब डेजी ने मेरी पैंट को खोलकर उसे नीचे गिरा दिया और मेरे अंडरवियर में से लंड को बाहर निकाल लिया. इतना कहते ही चाचा ने पूरी ताकत से झटका दिया कि उनका मूसल लंड चूत की जड़ तक घुस गया और संध्या चाची की चूत में समा गया.

झारखंडी देसी बीएफ अब मैंने भी कोई आडंबर नहीं किया और होंठों को उनकी सेवा में खोल दिया. हम दोनों के बीच में आगे क्या क्या हुआ वो मैं आपको अपनी अगली स्टोरी में बताऊंगा.

बीएफ फिल्म वीडियो एचडी हिंदी

वो चाहता था कि ऊपर ऊपर से चाहे सब कुछ हो जाए मगर चुत नहीं चुदना चाहिए. मैं इतनी ज्यादा थकी थी कि सीधे अपने स्टेशन आने से आधा घंटा पहले उठी और अपने घर आ गयी. ऐसा लग रहा था कि पति के सामने ग़ैर मर्द, जिसके लंड को पहली बार उसने अपने पति से छिपा कर अवैध रूप से देखा था, उस लंड से अपने पति की मौजूदगी में चुदाई करवाने का अहसास उसको कुछ ज्यादा ही उत्तेजित कर रहा था.

मैं बोला- यार कैसी बात कर रही है, मरवायेगी क्या?वो ये सुनकर हंसने लगी और बोली- नहीं कहूंगी, ये बातें बताने की नहीं होती. उसका लंड काफी बड़ा और लम्बा था जो मुझे मेरी चूत में पूरा अंदर तक लग रहा था. जेंट्स सेक्सवो मेरे ऊपर आ जाये और मैं उसको बांहों में कैद करके उसको चूमूं और उसको प्यार करूं.

मैंने फोन लिया, तो वीणा मौसी ने पहले तो अपने मुँह से मुझे ढेर सारी गालियां निकालीं.

उन्होंने कुछ भी रियेक्ट नहीं किया तो मैंने उनके होंठों पर अपने होंठ धर दिए और चूमने लगा. मैंने एक पल के लिए बिस्तर की सफ़ेद चादर पर देखा … तो चुत फटने से उसका खून बिखरा हुआ था.

फिर प्रियंका के साथ जाकर और अनामिका और सुरभि को भी ले आना दीवान उठाने के लिए. इसलिए मुझे और अनु को खुल कर चुदाई का खेल खेलने में सुविधा होने लगी थी. तब मैंने कहा- मेरी कमर की एक बाजू एक घुटना और दूसरी तरफ दूसरा घुटना रख कर आ जाइए.

उसके पूरे बदन को मैंने चाट डाला और वो वहीं नंगी खड़ी जोर जोर से सिसकारने लगी.

वहां क्या कैसे हुआ?हैलो फ्रेंड्स, मैं शिवराज एक बार फिर से आपके बीच ग्रुप सेक्स कहानी का अगला भाग लेकर हाजिर हूँ. वहां की एक खास बात ये थी कि आप सस्ते में दिन भर के लिए ऑटो रिक्शा या वैन बुक कर सकते हो, जो दिन भर में आपको लगभग 7-8 जगह घुमा देगाहमने भी 400-400 ₹ में दिन भर के लिए 3 ऑटो बुक किए. मैंने फिर पूछा- अच्छा यह बताओ, जब तुम बाहर आई तो रोहन से चिढ़ी हुई क्यों थी?बिन्नी ने कोई जवाब नहीं दिया.

दर्प सेक्सीउसकी उठी हुई छाती को देखो, उस पर से नजर ही नहीं हटती … और एक तुम हो, जिसमें कुछ है ही नहीं. संजू ने भी फ्रेश होकर एक नाईट ड्रेस को पहन लिया था और कमरे का दरवाजा बंद कर दिया था.

गांव रानी बीएफ

चाचा जी बोले- ऐसे करेगी, तो कैसे मजा आएगा … शुरू शुरू में अजीब लगता है, बाद में तो तू लपक कर लंड चूसा करेगी रंडियों की तरह. थोड़ी देर मैं ऐसा ही रहा।फिर चाची बोली- इब हट ले न … या चुत काट ले जा … जी ना भरता तो तेरा।मैं बोला- तु त मस्त है मीना तेरे बिना अब क्या जीना!फिर चाची ने एक कपड़े से चुत साफ की और सलवार बांधने लगी।चाची बोली- इब के मिलगा तनै … दर्द कर दिया. अब ऊपर रश्मि मेरे मुंह को अपनी चूचियों में दबा कर आह्ह … आह्ह … की आवाजें करने लगी.

मैंने अनामिका से पूछा- क्या सच में तुम ऐसे चुदवाना चाहती हो?अनामिका ने अपने मम्मों से बिना हाथ हटाए थोड़ी दबी आवाज में कहा- हां जीजू, मुझको पहली चुदाई रोमांटिक तरीके से याद रखनी है. [emailprotected]सेक्सी इंडियन वाइफ स्टोरी का अगला भाग:पतिव्रता बीवी की चुदाई दोस्त के बड़े लंड से करायी- 3. उसके सामने टांगें खोलकर मैंने दो उठक बैठक लगाई ताकि उसको मैं चूत का नजारा दिखाकर तड़पा सकूं.

मुझे पता है तुम ठीक से खाना नहीं खा रही, तभी तो ऐसी हालत हो गयी है. [emailprotected]गे बॉय सेक्स कहानी का अगला भाग:गे वैडिंग प्लानर की लंड की ख्वाहिश- 2. मैं- शायद तुम्हारी किस्मत में यही लिखा हो!वो- पता नहीं क्यों मेरी किस्मत ऐसी है!मैं- तुम्हारा हज़्बेंड यहां नहीं है … तो भूल जाओ कि तुम शादीशुदा हो और अपनी लाइफ को एंजाय करो.

संध्या चाची- एक रात मैं तुम्हें चोदने को नहीं मिली तो इतनी बेचैनी हो गई … च्च्चच. मैं- अच्छा है … मेरे लिए भी आयशा के बाद ये एक नया एक्सपीरियंस होगा.

उससे मिलकर मुझे अपनी बहन की चुदाई वाली फीलिंग आती है और मैं संतुष्ट हो जाता हूं.

यह गाँव की लड़की की चुदाई एक साल पहले उस समय की है, जब मैं अपने रिश्ते के भाई की शादी में गया था. शहीदी शायरीहम सबने एक साथ खाया और शाम को मैं अपने घर आ गया।उसके बाद मैं मौका देखकर उसके घर जाता और दोनों खूब चुदाई करते।फिर एक रात में उसके घर गया और रात को चोदा।मैंने उसकी सास को नहाते हुए देख लिया था. सुबह उठकर क्या करेमैं भी समझ चुका था कि भाभी को क्या चाहिए … मैंने भाभी के होंठों को चूसना शुरू कर दिया. अब धीरे धीरे मैं मामी की चुचियों पर हाथ से चांटे मार रहा था और चूमे जा रहा था.

आप अगर मेरी सुहागरात की कहानी लिखने का मेरा मकसद नहीं समझे हैं तो मैं आपको थोड़ा और क्लियर कर देती हूं.

मासी मादक सिसकारियां लेने लगीं- अह अह … अभय चूसो … आह मैं बहुत प्यासी हूँ. अब मैं उसके लंड की तेजी से मुठ मार रहा था और वो मेरी गांड में उंगली से चोद रहा था. वो हल्का सा उठा और अपनी पैंट को अपनी गांड से नीचे सरका कर जांघों तक कर लिया.

मैं कहा- मैं एक बात कहूँ?वो बोली- अब कुछ कहना भी बाकी रह गया क्या?मैं बोला- आप मेरे साथ ड्रिंक लेना पसन्द करेंगी!वो बोली- सोशयली मैं कभी कभी बियर ले लेती हूँ. ऐसे ही बात करते हुए दोनों फिर से गर्म हो गए थे और उनके बीच देवर भाभी रोल प्ले शुरू हो गया. फिर मैंने अपना लोड़ा निकाला और करने लगा नई दिल्ली पुरानी दिल्ली!मतलब मुठ मारने लगा.

सेक्स सेक्स बीएफ ब्लू

अब मेरा गोरा बदन सिर्फ ब्रा और पेंटी में रह गया था जो उनके सामने बेड पर पड़ा था।उन्होंने शेरवानी निकाली और उसको एक तरफ डाल दिया. वो दारू के नशे में किसी को भी बोल सकता था, इसलिए मैंने उसे हाथ ही नहीं रखने दिया. एक तो मेरी फ्लाइट कैंसल हो गयी है और आप मुझे ये सब सलाह दे रहे हो?इस दौरान वो हरामी मेरी क्लीवेज और मेरी जांघों की सुडौल शेप देख रहा था.

वासना स्टोरी इन हिंदी के पिछले भागमेरी सहेली का हैण्डसम बॉयफ्रेंडमें आपने अब तक पढ़ा था कि मेरी सहेली मानसी का ब्वॉयफ्रेंड अभिषेक कमरे में लंड हिला रहा था.

मेरे घर में मैं अकेला था क्योंकि मेरी पत्नी का देहांत 15 साल पहले हो गया था और मेरा बेटा अपनी पत्नी व बच्चों के साथ लन्दन में रहता है.

मैं भाभी के बगल में जाकर बैठ गया और उनकी सुंदरता की तारीफ़ करने लगा. आपके घर में मैं हूं ना!मेरी बात सुनकर मासी ने भी मुझे जोर से गले लगा लिया और पूछा- तू पूरा करेगा मेरी जरूरतें!मेरे लौड़े ने तुरंत सलामी दे दी और मैंने मासी का चेहरा हाथ में ले लिया. नंगी के फोटोअगर सेटिंग हो गयी तो चाची अकेली रहती है, दिन रात खूब मजा देगी।आपको पहले भी बताया था कि हमारे घर के पीछे और आगे भी दोनों जगह बाथरूम व खाली जगह ताकि सर्दी में आराम से धूप में बैठ सकें.

स्कूल सेक्स की हिंदी कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी सहेली के बॉयफ्रेंड को अपने सेक्सी बदन से रिझाने की कोशिश की. मैंने कहा- ऐसे नहीं, आप लेट जाओ आंखें बंद करके, मुझे जो करना है … वो करने दो. उसने अपनी स्पीड और रोक दी और पिंकी से बोला- तुम्हें अनिल से क्या डर लग रहा था?पिंकी बोली- अगर वो और आगे बढ़ जाता तो?रवि बोला- तो क्या हो जाता, हम दोनों मिल कर तुम्हें पेलते.

उसने बताया- उसको आज सुबह ही निकाल दिया गया … क्योंकि वो कल रात भर दारू पीकर होटल से कहीं गायब था. पहले तो पूरा लंड मुँह में लेने में उसे थोड़ी परेशानी हुई लेकिन देखते ही देखते पंकज के पूरे लम्बे और तक़रीबन दो ढाई इंच चौड़े लंड को सुमन ने पूरा अपने मुँह में घुस लिया.

वो- प्यार?मैं- तुम प्यार नहीं करती मुझसे?वो- पर हमें ये सब नहीं करना चाहिए था.

किसी जवान भाभी को ऐसे किस करने में जो मज़ा आता हैं ना … वो बताया भी नहीं जा सकता. आपकी सुनीता अवस्थी[emailprotected]चुत में लंड की कहानी का अगला भाग:शिमला में लंड की तलाश- 3. इससे पहले आपने मेरी‌ पिछली सेक्स कहानीखामोशी: द साईलैन्ट लवको पढ़ा और उसको हद से ज्यादा पसन्द किया, उसके लिए आप सभी का धन्यवाद.

माधुरी की नंगी तस्वीर मैं अपने अंडरवियर के ऊपर से भाभी को लंड का उभार दिखा कर हिलाने लगा. पहले उससे नॉर्मल बातें कीं, हाल चाल पूछा और बाद में सीधा मैं मुद्दे पर आ गया.

दोस्तो, अब तक की सेक्स कहानी में मैंने आपको चुदाई का भरपूर मजा दिया है, ऐसा मुझे आपके मेल से मालूम पड़ रहा है. आई आई टी इंजीनीयर है और फिलहाल एक एमएनसी में दिल्ली में कार्यरत है. लड़की की पहली चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरे बॉयफ्रेंड के नाकाम रहने पर उसके चचा ने मेरी कुंवारी बुर को चोद कर मुझे मेरे फर्स्ट सेक्स का मजा दिया.

इंग्लिश बीपी बीएफ

संध्या चाची- अरे साले तेरी मां को गदहा चोदे रंडी की औलाद … ये तेरा ही लंड है या किसी गदहे का. अब हालत ये हो गई थी कि भाभी जितना मना करतीं कि छोड़ दो, उतना ही मैं अपना लंड और तेजी से अन्दर बाहर करने लगता. रवि ने पिंकी को मोबाईल पर अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज भी भेजनी शुरू कर दीं.

मैंने नीचे पैंटी पहनी थी जो मेरी चूत के पानी से गीली होती जा रही थी. मेरे पति अच्छे हैं लेकिन मैं प्यार तो आज भी अपने विक्की से ही करती हूं.

अपनी सहेली के ब्वॉयफ्रेंड की गोद में बैठते ही मुझे उसके लंड का अहसास होने लगा और मैं कामातुर हो गई.

लेकिन फिर मैंने इसका कैसे मजा लिया?दोस्तो, मैं सारिका कंवल एक बार फिर से आपके सामने अपनी लेस्बियन सेक्स कहानी का भाग लेकर हाजिर हूँ. मजे में वो बड़बड़ाने लगी- और चोदो राजा … पूरा लंड डाल दो … फाड़ दो मेरी चूत को … रण्डी बना मुझे … तेरी रखैल बनूंगी मैं … चोद चोद कर मेरी चूत को उधेड़ दे।भाभी की चूत की गर्मी अब बहुत ज्यादा बढ़ गयी थी और अब वो किसी भी समय शायद झड़ने को हो गयी थी. वो- ऐसे?मैं- तो क्या करता? तुम्हारे बिना ये मान ही नहीं रहा था … इसलिए मैं इसे हाथ से ही तुम्हारा प्यार दे रहा था.

और मैं अन्दर की तरफ मुँह करके बात कर रहा था, इसलिए मुझे पता ही नहीं चला कि वो‌ लड़की कब उस दुकान में आ‌ गयी और मेरी सभी बातें सुनती रही. चाचा जी बोले- उम्महह … उम्म … बेटा सुहानी मैंने आज तक किसी की गांड नहीं मारी है … हम्म … प्लीज … एक बार पीछे से लंड डलवा लो. वह उछल पड़ी और साथ ही एक उंगली चूत के अंदर डाल दी और वह सिसकारी लेने लगी.

मेरा यौवन मेरी ब्रा में कैद जैसे कह रहा था कि अभी उसे निर्वस्त्र न किया जाये.

झारखंडी देसी बीएफ: उसकी इस बात से मानो केएलपीडी हो गई मतलब ‘खड़े लंड पर धोखा …’ हो गया था. वो- तुम्हें कैसे पता वो मेरा था?मैं- अब इस घर में दो ही तो औरतें हैं, एक तुम और दूसरी मकान मालकिन.

काफी देर तक चुत चोदने पर मुझे लगा कि अब मेरा माल गिरने वाला है, तो मैंने भाभी से बोला- मेरा माल गिरने वाला है … जल्दी बोलो क्या करूँ?भाभी ने धीरे से कहा- साले तुझसे किस लिए चुद रही हूँ तुझे मालूम नहीं है क्या … तुम पूरा रस अन्दर ही टपका दो. उसके कुछ देर के बाद मेरी चूत में से दर्द जैसे गायब हो गया और मैं चुदने का मजा लेने लगी. मैं भी जैसे वहीं खड़ा खड़ा उसकी चूत में कपडों के ऊपर से ही लंड घुसाने को आमादा हो रहा था।मेरी गांड बार बार आगे होकर उसकी चूत वाले भाग में लंड को धकेल रही थी.

क्यों आपका भी मन कर रहा क्या भाभी की गांड मारने का?राजू चाचा- तुम गांड की बात कर रही हो, मैं तो सोच रहा तेरे बगल में भाभी को पटक कर नंगी करके चोद ही दूं साली को.

थोड़ी देर अनामिका मेरा सर दबाते हुए बोली- जीजू, प्रियंका कहां है?अनामिका के मुँह से प्रियंका की सुनकर मुझको होश आ गया … और मैंने उसको छोड़ दिया. मैंने अनामिका की तरफ देखा, वो वासना से भरी ललचायी हुई आंखों से हम दोनों को देख रही थी और शर्मा रही थी. फिर एक बार थूक डाल कर उंगली को गांड में पूरा डाला और उनकी गांड को चौड़ी करने लगा.