बीएफ सी सेक्सी

छवि स्रोत,पाॅर्न म्हणजे काय

तस्वीर का शीर्षक ,

छत्तीसगढ़ का सेक्सी बीएफ: बीएफ सी सेक्सी, अब आगे:इधर महेश अपने लंड को लिये अकेलेपन में तड़प रहा था और वो अपने कमरे से निकलकर अपनी नीलम के कमरे में जाने लगा। उसने दरवाज़े के पास जाकर जैसे ही दरवाज़े को धक्का दिया वह अपने आप खुल गया। महेश अंदर दाखिल हो गया और दरवाज़ा अंदर से बंद कर दिया, नीलम बेड पर लेटी हुयी थी और उसकी आँखें बंद थी.

ब्लू फिल्म वीडियो हिंदी एचडी

क्या अपनी माँ के सामने कोई ऐसी हरकतें करता है क्या … रूको ज़रा सब्र से काम लो. सेक्स तमिळ सेक्सतुम्हारी इससे पहले कितनी गर्लफ्रेंड रही हैं?रोहन- केवल एक और वह भी हाई स्कूल में बनी थी.

ज्यादातर लड़कियों के काले ही होते हैं लेकिन लाखों में किसी एक लड़की के निप्पल इस तरह के होते हैं. बहु ससुर की चुदाई वीडियोमैं उनके सामने नंगी हो गयी और मुझे नंगा देख कर मोहन भैया ने भी अपना अंडरवियर निकाल दिया.

फिर वो भी एकदम से पूरे लंड को मेरी चूत में घुसा कर शांत होता चला गया.बीएफ सी सेक्सी: मेरी पैंटी मॉडर्न पैंटी थी, जिससे मेरी गांड तो पूरी बाहर ही दिखाई दे रही थी.

नीचे मैंने उसकी गीली पेंटी को देखा, जो इतनी ज्यादा गीली हो चुकी थी कि बस यूं समझो कि उसकी चूत का सारा पानी उसी पेंटी में बह गया था.भाभी ने कहा- दीपक मैं बहुत प्यासी हूँ … आज मेरी प्यास को अपने प्यार के पानी से बुझा दो.

बिहारी चोदा चोदी बीएफ - बीएफ सी सेक्सी

श्वेता- अब क्या?मैं- इस हालत में मैं बाइक चला नहीं सकता और घर पे नहीं जा सकता.इसलिए जब भी आपके मन में कोई शंका पैदा हो तो आप अपने किसी सगे संबंधी या अपने मित्र गणों से इस विषय पर चर्चा करने से कतई परहेज न करें.

‘ऊऊऊहह दामाद जी … चोदो … अपनी सास की चुत मार लो … आअहह उहम्म्म … क्या … मस्त चोदते हो यार … नशा भी करवाते हो और नशा उतरवा भी देते हो … आओह … उऊह. बीएफ सी सेक्सी एक हल्की हंसी के साथ शबनम ने अंकित से कहा- मैं बहुत दिनों से ये कल्पना कर रही थी कि तुम मेरे साथ ये सब कर रहे हो.

जैसा कि मैंने आपको पिछली कहानी में बताया था कि मेरी इन मौसी के कोई बच्चे नहीं थे.

बीएफ सी सेक्सी?

वो कुछ सेकंड मेरी गांड घूरता रहा और फिर उसने मुझे अपने दोनों हाथों में ऊपर उठा लिया. गुलाब काका अपने के उठे हुए चूतड़ों के पीछे आये और दोनों हाथों से दोनों कूल्हे फैला कर अपना लंड बीच में टिका कर अपना लंड अपनी चुदासी भाभी की चूत में डालने लगे. अनीता ने अपना मुंह बेड के गद्दे में दबा लिया ताकि उसकी कराहना कमरे से बाहर न जा सके.

मेरे जाने से पहले सासू माँ ने मुझसे कहा- बहू, कुंवर साहब का ख्याल रखना, कोई शिकायत और तकलीफ नहीं होनी चाहिए … और हां हमेशा घूंघट लेकर ही उनके सामने जाना. अंकित कराहने की आवाज़ के साथ धीरे से शबनम के स्तनों की तरफ बढ़ गया और उसके निप्पल को चूसने लगा. मैंने मज़ाक करते हुए कहा- ठीक है जी रुक जाता हूँ, पर मेरा क्या फायदा होगा?ये कहते हुए मैंने आंख दबा दी.

फिर उस लड़के से अपने लंड को मेरे मम्मों के बीच में डालकर आगे पीछे करना शुरू कर दिया. फिर उसने भी मेरे कपड़े उतार दिए और मेरे लंड को अंडरवियर के ऊपर से सहलाने लगी. चूंकि मैं अपने ब्वॉयफ्रेंड के लंड को भी चूसती थी इसलिए चाचा के लंड को चूसने में मुझे कोई परेशानी नहीं हो रही थी.

उसने कहा- ऐसे नहीं खाते इसे!चॉकलेट का रैपर निकाल दिया उसने और आधी चॉकलेट अपने मुंह में दबा ली और मुझे खाने का इशारा किया।मैं धीरे धीरे उसकी तरफ बढ़ा और आधी निकली हुई चॉकलेट अपने होंठों में दबा ली। उसकी गर्म सांसें मेरे चेहरे पर आ रही थी जो एक अजब सी उत्तेजना पैदा कर रही थी। शायद उसने पहले से ही सौंफ या इलायची खा रखी थी।मैंने चॉकलेट खानी शुरू कर दी. मगर सबसे ध्यान देने वाली बात यह है कि आप अपने मन में किसी भी बात को दबा कर न रखें.

हैलो दोस्तो मैं गुरू … एक और सच्ची कहानी लेकर आपसे रूबरू होने जा रहा हूं.

मैंने भी अमित का मुझ पर विश्वास जताने के लिए धन्यवाद दिया और जल्दी ही उससे मिलने का वादा किया.

जो लोग अन्तर्वासना को बहुत पहले से पढ़ रहे हैं, वो सभी मुझे सनी गांडू के नाम से जानते हैं. वो जल्दी-जल्दी अपने काले लंड को मेरी बीवी की गोरी चूत में पेलने लगा. वहां पर एक आंटी काम करने के लिए आती थी, जिसका नाम सुनीता (बदला हुआ नाम) था.

मैंने उसके लंड को हाथ में पकड़ा और फिर उसको मुंह में लेते हुए चूसने लगी. मैंने उसे अपने केबिन में बुला कर कहा- हग तो मुझे भी तुम्हें करना है. इधर कई महीने से रिलेशनशिप में होने के बावजूद भी मैं और राज कभी चुदाई नहीं कर सके थे.

इधर मैं खाना बना रही थी और उधर वो दोनों शराब पीने में व्यस्त थे। सुखविन्दर बार बार मुझे देखे जा रहा था। कई बार मुझे देख मुस्कुरा भी देता तो मैं भी मुस्कुरा कर उनका अभिवादन कर देती.

मेरा आठ इंच का मूसल लंड अब प्रिया की मुनिया को तहस नहस करने पर उतारू था. भाबी बस ज़ोर ज़ोर से सिसकारियां ले रही थीं- इस्स … ऊऊह एयायाह …मैं ज़ोर ज़ोर से भाबी को किस करते हुए एकदम पागल हुआ जा रहा था. अपने ‘ऑन बेंच … ’ पीरियड के शुरूआती दिनों के दौरान मैं हर दिन ऑफिस जाता था और अपने एचआर से मिलकर नए प्रोजेक्ट्स के बारे में पूछताछ करता रहता था.

सुखविन्दर मेरे खाने की बहुत तारीफ कर रहे थे और साथ में पति को बोल रहे थे- तुम्हारी बीवी बहुत अच्छा खाना बनाती है. मोहन भैया के लंड के घुसते ही मेरी सिसकारी निकल गई और मैं उनके मोटे लंड से एकदम से कराह उठी. अगले दिन वो एक पैकेट अपने साथ लेकर आई और बोली- इसे अपने साथ ले जाना और घर पर जाकर खोलना.

अपनी जरूरतों के अनुसार जब भी मौका मिले, इसका आनन्द उठाया जा सकता है.

मैंने उसकी मैक्सी से लन्ड पौंछा और उसने भी अपनी चूत पौंछी, फिर सीधा मेरे लन्ड को पकड़ कर अपनी चूत की तरफ करके बैठ गयी।मेरा लन्ड थोड़ा खिंचाव सा महसूस करता हुआ उसकी चूत में घुस गया। हम दोनों को हल्का सा दर्द महसूस हुआ. एक दिन मैं बेटी को लेकर स्कूल से घर आयी, तो देखा तो सामने कुंवर साहब बैठे थे.

बीएफ सी सेक्सी मैं अपने काम में कुछ ज्यादा ही बिजी ही गया था जिससे मुझे उनको फोन करने का वक़्त भी नहीं मिला. यहाँ क्लिक अन्तर्वासना ऐप डाउनलोड करके ऐप में दिए लिंक पर क्लिक करके ब्राउज़र में साईट खोलें.

बीएफ सी सेक्सी मैं उनको अच्छे से देखने लगा, फिर मुझे खुद ही बुरा लगा कि मेरी मदद करने वाले इंसान की बीवी को मैं ऐसे देख रहा हूँ. उनसे उनका रिश्ता (दोस्ती का) निभाओ मुझसे मेरा रिश्ता (प्यार का) निभाओ.

ये तेरे फोन में ये क्या चीज़ है?मैंने उससे बोला- नाटक मत कर तुझे सब पता है … तभी तू अपनी चूत में उंगली कर रही थी.

नौकरानी की बीएफ सेक्सी वीडियो

देखना चाह रही थी कि देवर भाभी जो कभी प्रेमी-प्रेमिका वाले आकर्षण से गुजरे हों अगर उनको एक मौका दिया जाये तो वो किस हद तक चुदाई का मजा ले पाते हैं. उसने चूस चूस कर भाई के लंड को पूरा खड़ा कर दिया और फिर खुद ही भाई के लंड पर बैठ कर चुदने लगी. मैंने उनसे पूछा- भाभी जी क्या आपके घर में किराए के लिए कोई कमरा खाली है.

मेरे लिए ये सब नार्मल था … क्योंकि वो मेरी सबसे अच्छी दोस्त थी और हमारी दोस्ती बहुत समय पुरानी थी. प्लीज …रोहन- नो प्रॉब्लम मिसेज ब्यूटीफुल … लेकिन एक चीज है, जो आपको मेरे लिए अभी करनी पड़ेगी …सोनिया- क्या?रोहन- अपनी नई स्कर्ट पहनो और मुझे दिखाओ. लेकिन वो मुझे पूछने लगी- क्या हुआ? सब ठीक रहा?हां, सब ठीक! लेकिन लग रहा था कि वह नशे में थी.

अब मैं वापस उसके पीछे खड़ा होकर उसकी गांड को हिलते हुए और मटकते हुए देख रहा था.

अगर तुम्हारी पढ़ाई पूरी हो चुकी हो, तो मैंने तुम्हारे लिए एक जॉब अपने यहां पर रिज़र्व की हुई है. जब वो काले रंग की ब्रा पहनती है तो उसके चूचे बिल्कुल दूध जैसे सफेद दिखाई देने लगते हैं. दिल्ली में मेरे कई दोस्त बन गए थे, जिनमें यश और रोनित मेरे बहुत ही अजीज दोस्त हैं.

रोहन- इतनी कम उम्र में … मैं यह नहीं मान सकता कि बैंगलोर जैसे शहर के लोग भी कभी-कभी ग्रामीणों की तरह व्यवहार कर सकते हैं. चाची तो बस सिसकारियां ‘आं ऊँ ऊं शस्श्ह ससस आआ आह आह … और तेज चोदो मुझे … बस चोदते रहो … काश तुम मेरे पति होते … आह आआआ … कोई बात नहीं आज से तुम मेरे चोदू भतीजे हो!इधर मुझे तो बस पूछो मत … मुझे चाची को चोदने में आनन्द आ रहा था। बीच बीच में रुक कर मैं चूत से लंड बाहर निकाल लेता और चाची को चूसने को बोलता. शादी के दो साल बाद भी बहुत प्रयास करने के बाद भी मैं प्रेगनेंट नहीं हो रही थी.

इसलिए मैंने जीजाजी और उनके ससुराल के जितने भी थोड़े बहुत लोगों को जानता था उनके बारे में पूछने लगा. मैंने सोचा कर बोला- भाभी जी काम तो है … पर क्या आपके पति मान जाएंगे?भाभी जी बोलीं- आप आकर समझा कर देखना.

मुझे अपने साथ ले जाकर उन्होंने पूछा- चाय कॉफ़ी क्या लोगी?मैंने कहा- नहीं सर, कुछ नहीं चाहिए … मैं तो आपसे अपने किसी निजी काम से मिलने आई हूँ. शबनम ने अपनी एक टांग उठा कर अंकित के ऊपर रख दी और उसके और पास खिसक कर अपनी चूत को हल्के हल्के रगड़ने लगी. अपने लंड पर फिर से तेल लगाया और उसकी टांगों को अपने हाथों में पकड़ कर फिर से उसकी गांड में लंड को पेल दिया.

इतनी आसानी से नहीं थकता।अब विक्की भैया ने मम्मी को खड़ा किया और एक पैर पलंग पर तो दूसरा पैर जमीन पर रख दिया। विक्की भैया ने अपना लंड मम्मी की चुत पर रख और जोर जोर से लंड को अंदर बाहर करने लगे।मम्मी विक्की की बांहों में समा गई.

इस पर मैंने कहा- अगर निशा भाभी मेरे साथ सेक्स करने को तैयार नहीं हुई तो?मुकेश ने कहा- यार कोशिश तो कर! जब मैं तेरे साथ हूँ तो क्यों डर रहा है? आज तुझे उसकी गर्मी निकलनी ही है … आज ही उसकी सुहागरात मनाएंगे. वो जिस वेग से प्रिया की मुनिया के अन्दर जा रहा था, तो उससे भी दुगने वेग से बाहर आकर फिर से अन्दर जा रहा था. अगले कुछ पलों के बाद उसने कहा- आह्ह … मैं आ रही हूं!वो जोर से चिल्लाते हुए झड़ने लगी.

मैं सबसे पहले नीचे उनकी चूत पर आया और पैंटी के ऊपर से ही उनकी चूत पर चुम्मी ले ली, जिससे उनकी चूत ने उसी पल पानी छोड़ दिया. फिर मैंने उसकी कमर पर अपने हाथों को घुमाया और जैसे एक कुम्हार घड़ा बनाते समय उस पर हाथ लगा कर हल्के हाथों से आकार देता है, मैं भी ऐसा ही करने लगा.

मैं भी महसूस कर पा रहा था कि बरसों के बाद उसकी चूत को आज लंड का सुख मिल रहा है. उसने अपने दोनों हाथों से मेरे लंड को लोवर के ऊपर से ही पकड़ा हुआ था. कॉलेज की लड़कियां भी जब कबीर को मेरे साथ देखती थीं तो उनकी गांड सुलग जाती थी.

साउथ अफ्रीका एचडी बीएफ

फिर मैंने उसकी टांगों को उठा कर अपने हाथ में पकड़ कर अपने कंधे पर रखवा लिया और उसकी गुलाबी चूत में फिर से अपना लौड़ा पेल दिया.

फिर मैंने अपने हाथ उसकी 34 की साइज की चूचियों पर रखे और जोर से उन्हें दबाने लगा. मैं हर 2-3 दिन में कई कई बार कॉल लगता हूँ मगर कोई उठाता ही नहीं है. चोद दे ना मुझे?बिक्कू बोला- साली मरवाएगी क्या? तेरा भाई घर पहुंचने ही वाला है 2 मिनट में.

तो क्या फिर समीर से तुम्हारी बात हुई?” महेश ने दूसरा सवाल किया।नीलम ने रोते हुए अपने ससुर को सारी बात बता दी जो भी समीर और उसके बीच पहली रात को हुई थी।बेटी अपने आपको सम्भालो, तुम्हें अगर अपने पति को वापस पाना है तो उसे जलाना होगा. मैं ऊपर से उनकी गर्दन, पीठ को छूता हुआ अपने हाथों से उनकी बगलों को सहला रहा था. राजस्थान सेकसिअब तक की इस मस्त सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि प्रिया की चुदाई जारी थी और उसकी कुंवारी चूत की सील टूट चुकी थी.

पूछा- लग तो नहीं रही?वह मुस्कराया, बोला- गांड मराने में थोड़ी बहुत तो लगती ही है, चलता है।मैंने कहा- लगे तो बताना!उसने ढीली कर ली, मैं धक्के लगा रहा था।जाने क्या हुआ, वह फिर गलत समय गांड चलाने लगा, जल्दी जल्दी बार बार टाइट ढीली टाइट ढीली करने लगा. तब उसके बाद मैंने कई बार उनके घर जाकर भी भाभी के साथ खूब मजा किया था.

फिर मैंने एक दिन आराम आराम से नकली लंड तेल लगा कर अपनी गांड में घुसा लिया. मैंने उनके बालों को एक साइड में सरका कर उनकी गर्दन पर किस करना शुरू कर दिया. देखना चाह रही थी कि देवर भाभी जो कभी प्रेमी-प्रेमिका वाले आकर्षण से गुजरे हों अगर उनको एक मौका दिया जाये तो वो किस हद तक चुदाई का मजा ले पाते हैं.

भाभी जी ने पूछा- आप कौन?मैं बताया कि अरे भाभी जी आपने पहचाना नहीं, मैं वही सुबह आया था … वही फायनेंसर बोल रहा हूँ. आप लोगों का प्रेम स्नेह मिलता रहा तो आगे मैं और कहानियों को लिखने का प्रयास करता रहूंगा. भाभी जी बोलीं- मैं आपका अहसान कभी नहीं भूलूंगी, मेरे पति को भी आपने काम में लगवा दिया.

मेरी नौकरी पक्की हो चुकी थी और मुझे उस दिन काम के बारे में समझा कर दूसरे दिन से ज्वाइन करने के लिए कह दिया गया.

दीदी बोलीं- फिर बिकनी ही क्यों पहना रहे हो? सीधे नंगी ही होने को बोल दो ना … अरे बिकनी का ग्लैमर देखना है, तो जरा सब्र करो. कैसा लग रहा है आंटी आपको?” अंकित ने शबनम के कान में फुसफुसाते हुए कहा और शबनम की गर्दन पर गर्म गर्म सांसें छोड़ते हुए चूमने लगा.

और समझा दो मेरी चुत को कि मोटे लंड से चुदवाने का मतलब क्या होता है. इसी तरह करते करते वो पहली बार मेरे मुंह में अपना झरना दे बैठा और मैं पहले की तरह उसे चाव से पी गया।वो निढाल होकर सीट पर लेट गया।5 मिनट आराम करने के बाद उसने मेरे निप्पल्स पर धीरे से काटा तो मेरी आह निकल गयी. उसके इस अचानक प्रहार से मैं एकदम से चिल्ला उठी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… मादरचोद धीरे चोद भोसड़ी के.

कभी कभी वो किस करते करते मेरे पेट पर, मेरी नाभि पर … और कभी निप्पलों को काट लेती. मैंने उससे पूछा कि अरी करम जली साफ साफ बता … उसका क्या बड़ा है?तब सलमा ने मेरे कान में धीरे से कहा- अम्मी उसका नीचे का बहुत बड़ा और सख्त है. वो बड़े रॉब से चिल्लाते हुए बोली- आपने लेडीज रूम के क्या अरेंजमेंट करके रखे हैं? लेडीज कहां बैठेंगी?मुझे गुस्सा आ गया और मैंने उससे बोला- देखिए मैडम, मैं यहां का स्टाफ नहीं हूँ.

बीएफ सी सेक्सी यह सुनने के बाद उन्होंने मुझसे कहा- आप बिना झिझक के कहो, जो भी कहना है. मेरी पहली चुदाई की कहानी आप लोगों को इतनी पसंद आयेगी मुझे इसका अनुमान नहीं था.

हिंदी बीएफ 12 साल की लड़की

मेरा मन नहीं कर रहा था साथ जाने का, लेकिन अक्षय बहुत ज़िद कर रहा था. उसे नशा भी अधिक हो गया था, पर अभी भी उसकी चूत मेरे मुँह पर ही लगी थी. कबीर ने कहा कि मैं जानता हूं कि राज तुम्हारे साथ सेक्स क्यूं नहीं कर रहा है.

ये कहते हुए मैंने मोहिनी से कहा- देखो आज की रात भी आपकी बेटी टॉयलेट करने के लिए टॉयलेट जा रही थी. उसने मुझे धक्का देकर और अपने ऊपर से हटाने की बहुत बार कोशिश की लेकिन मैंने उसको नहीं छोड़ा और मैं उसको बहुत कसकर पकड़े रहा और उसे धीरे धीरे चोदता रहा. सेक्सी सेक्स बीएफदोस्तों जैसा कि मैंने शुरुआत में ही बताया था कि आप सबकी सेक्स कहानी पढ़ कर ही मुझे सेक्स कहानी लिखने की इच्छा हुई थी.

इतना कहकर मैं उसको किचन की पट्टी से सटा कर उसके सामने आ गया और उसका दूसरा हाथ हाथों में लेकर उसकी आंखों में देखने लगा.

उसने हार नहीं मानी और फिर रोज ही वो मेरे फोन पर ढेरों मैसेज कर दिया करता था. मेरे धक्के बहुत ही हल्के थे लेकिन फिर भी शालिनी के मुंह से सिसकारी निकल रही थी.

मैंने उससे पूछा- तेरा मरद क्या करता है?तो उसने हंस कर कहा- कुछ नहीं. आज ससुर के बाहर चले जाने से मैंने मन बना लिया था कि आज सास को चोद कर रहूँगा. मैं अब कहां छोड़ने वाला था, मैं उसको अपनी बांहों में भरकर बैठे बैठे ही बिस्तर पर लुढ़क गया और वो ‘क्क्या कर रहे हो? छ.

मैंने अन्दर जाकर देखा, तो भाभी ने अपना ड्राइंग रूम बहुत अच्छे से सजा रखा था.

मेरी हिंदी सेक्सी कहानी पर अपने विचार नीचे दिये गये मेल आईडी पर दें. मैंने प्रीति के गले पर किस करते हुए अपना मुँह प्रीति के कान के पास किया और कान में कहा- आय लव यू जान … तू बहुत अच्छी लग रही है … आज मैं अपनी दुल्हन को प्यार करूंगा और तेरी सील तोड़ दूँगा. कुछ देर बाद स्मृति ने मेरे मुरझाये लंड को अपने मुँह में लेकर चूसना शुरू किया.

चाची कि चुदाइवर्जिश से मेरी बॉडी काफी शेप में है और दौड़ने की आदत की वजह से ज्यादा मोटा भी नहीं लगता।आते हैं कहानी पर … तो मैं अपने घर की छत पर व्यायाम ख़त्म करके घूम ही रहा था कि मेरी नजर एक महिला पर पड़ी जो गेट से घर में प्रवेश कर ही रही थी. विक्की भैया ने अपनी आँखें बंद करके अपना लंड मम्मी के मुंह में अंदर बाहर करना शुरू कर दिया।और विक्की बीच बीच में मम्मी के बालों को पकड़कर उसके मुंह को अपनी तरफ दबा देता जिससे लंड मम्मी के गले तक उतर जाता मम्मी की आँखों से आँसू निकालने लगे तो लंड मुंह से बाहर निकाल दिया।अब मेरी मम्मी बोली- विक्की, तुम्हारा लंड चूस कर मुझे आज मजा आ गया.

सऊदी अरब की बीएफ मूवी

जब उसने मेरे बूब्स को चूसना शुरू किया तो मेरे बदन में एक झनझनाहट सी होनी शुरू हो गई. उन्होंने मुझे खुश करने के लिए मुझे बाइक को एक रेस्तरां कम बार में रुकने बोल दिया. अगली कहानी में बताऊंगा कि कैसे मैंने अपने देहाती आशिक के गांव जाकर सोनिया को चुदवाया और उसको गर्भवती करवाया.

अब प्रीति मेम बोलीं- दीपक … जब से मैंने तुम्हें देखा है, मैं तुम्हें चाहने लगी हूँ. उसने फुसफुसा कर कहा- अब्बू ने अम्मी जान … ऐसा मजा कभी नहीं दिया होगा. मेरी अदिति बहूरानी मेरे साथ नहीं आयीं क्योंकि उन्हें तो अपनी नयी भाभी के साथ कुछ दिन रुकना था, उसकी सुहागरात की तैयारियां भी उसी के जिम्मे थीं.

थोड़ी देर बाद वो गांड हिलाने लगी, तो मैंने एक और झटका मारा और पूरा लंड चूत की जड़ तक घुसा दिया. अब मैंने जोर का झटका मारा, जिससे मेरा पूरा लंड आलिया की चुत में घुस गया. जब बीवी झड़ने वाली होती है तो बीवी के चेहरे को देख कर जो मज़ा आता है ना … वही मज़ा उसे किसी और पराये मर्द से चुदती हुई देखने के लिए प्रेरित करता है.

मेरी स्माइल देख कर वो धीरे से मेरी तरफ बढ़े, मेरे दिल की धड़कनें तेज हो गयी थीं. गोरी गुलाबी मस्त पॉव रोटी की तरह फूली हुई चूत गीली होकर रस बहा रही थी.

जब तक मैं कुछ समझ पाता, उसने एक हाथ से मेरी बेल्ट खोल दी और पेंट से लंड बाहर निकाल कर लंड हाथ से हिलाने लगी.

जैसे जैसे बटन उतरते गए, उसका बालों से भरा चौड़ा सीना मुझे दिखाई देने लगा।उसने अपनी शर्ट उतारकर आगे रख दी. सबसे अच्छी बीएफमैं आगे बढ़ गया और उसे अपनी मजबूत फौलाद जैसी बांहों में कस कर जकड़ लिया. भाभी देवर की चुदाई वीडियो बीएफमैं गीली ही उसकी छाती से चिपक कर अपने मम्मों को उसके बदन से रगड़ने लगी. वो पहले से चुदाई कर चुकी थी इसलिए उसने और अच्छे से मुझे सब बात समझाया.

मामा जी ने उसे मेरी जांघों पर बिठा दिया- नखरे नहीं … पेल दे … ये तैयार है और तू बहाने कर रहा है?उसने तेल की शीशी उठाई, लंड पर चुपड़ा और लंड को मेरी तड़पती गांड पर टिका दिया.

उसने पानी पीया और भाई व बिक्कू बाइक लेकर दोनों ही कहीं बाहर चले गये. मैंने उसकी जाँघों को चूमते हुए उसकी चूत में जीभ डाल दी और धीरे धीरे चूसने लगा. भाभी जी लंड की मोटाई से तड़फ उठीं और चिल्लाने लगीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मैंने पूछा- क्या हुआ आप तो खेली खाई हो?भाभी जी ने बताया- शराब पीने के लत ने मुझे मेरे पति संतुष्ट ही नहीं कर पाते थे, इसलिए उन्होंने मुझे महीनों से छुआ ही नहीं है.

मैंने भी कपड़े पहन लिए थे मैंने भी जाते हुए उसकी चुचियों को मसला और नीचे हॉल में आकर बैठ गया. कुछ ही धक्कों के बाद शबनम का पानी निकलने वाला था- ओह हां!जोर से कराहते हुए शबनम ने अपने कूल्हों को आगे की तरफ धकेला और अंकित के कूल्हों को पकड़ कर वहीं का वहीं रोक दिया. तो आपको एक साथ करने में कोई दिक्कत तो नहीं होगी?नहीं, मुझे कोई परेशानी नहीं है.

छक्का के बीएफ

उन नकली पुलिस वालों ने अपने जांघिया उतार दिये और फिर ऋतु उनके लंड के साथ खेलने लगी. मुझे लड़के की बात तो सुनाई नहीं दी, बस इतना सुना कि कल दो बजे का समय फिक्स कर लिया गया था. उन्होंने मचलते हुए कहा- साले हरामी … आज तुझे जो करना है, वो कर … लेकिन जल्दी चोद … कंडोम पहना है, तो पहन या ना पहन … पर मेरी खुजली मिटा दे.

पर कुछ फर्क नहीं पड़ा, अंत में सब आशाएं छोड़कर मैंने डिवोर्स पेपर पे बिना कोई शर्त के साइन कर दिए.

मतलब उसकी चुत चाट कर और थोड़ी चूत की चुदाई भी करके पहले उसको झड़ने दो.

यह सुन कर मैं उत्तेजना से पूछने लगी- कौन है वो लड़की?भाई ने कहा- तुम उसको पहले से ही अच्छी तरह जानती हो. फिर रोनित बोला- मुझे तुम्हारा स्क्रीन टेस्ट लेना पड़ेगा, जिसके लिए तुम्हें अपने कपड़े उतारने पड़ेंगे. सील पैक बीएफ वीडियो मेंमैं बिलख गई, पर मेरे पति ने मुझे गांड मार कर भी चोदा था, इसलिए दो तीन झटकों में ही गांड ने डिस्को करना शुरू कर दिया.

आंटी के मुँह से चीख निकल पड़ी- आह … मर गई रे … एकदम से पेल दिया!मैंने उनकी आह का मजा लिया और उनके स्तनों को मसलने लगा साथ ही आंटी के होंठ भी चूसने लगा. फिर उसने झुके झुके ही अपनी गांड को खोल कर उसका छेद मुझे दिखाने लगी. आज ससुर के बाहर चले जाने से मैंने मन बना लिया था कि आज सास को चोद कर रहूँगा.

उस रात के बाद तुम मुझसे मिली क्यों नहीं?” मैंने अब उसके पास ही बिस्तर पर बैठते हुए कहा. तुम्हें कैसे पता कि वो फल खट्टा होता है?रोहन- कौन सा फल?सोनिया- ओह गॉड … तुम बातें बनाने में बहुत उस्ताद हो.

मैं तुरंत मान गई, वो अपने अंडरवियर को छोड़ कर सारे कपड़े निकाल कर सीधा लेट गए.

वो जोर जोर से सिसकारियां लेते हुए अपनी गांड को मेरे मुंह की तरफ दबाने लगी और उफ्फ उफ्फ आह आह करके झड़ गयी. आपने रिकवरी न भेजने की बात मानकर मुझ पर बड़ा अहसान किया है … आपका बहुत बहुत शुक्रिया. मैं- ना ही मुझे नाश्ता करना है और ना ही आपसे बात करनी है, आप नाश्ता कर लीजिए.

बीएफ हॉट इंडियन फिर नीचे आकर मैं अपनी चूत में उंगली करने लगी और कुछ ही देर में मैं झड़ गई. सलमा सिर्फ 19 साल की थी, तब मेरे पति पैसा कमाने के लिए 2 साल के लिए दुबई चले गए थे.

एकदम गुलाबी और गीली थी भीतर से। मैंने एक उंगली डाल कर उसमें अपनी उंगली को अंदर बाहर किया और फिर अपनी जीभ से उसके दाने को सहलाने लगा।वो एकदम मदहोश होकर मजे से मेरे सिर के बालों को सहलाने व नोंचने लगी. ”नहीं … मुझे याद नहीं तू क्या कह रही है?”मेरा बेटा आया हुआ है, जो बेटा है पर बेटी जैसा है। अब समझे?”ओह, समझा। चिकना है? मज़ा देगा? छाती लड़कों की तरह सपाट तो नहीं?”अरे नहीं चौधरी साहब, छाती तो उसकी है नहीं … भरी भरी चुचियाँ हैं और चूतड़ों से तो पूरी लड़की ही है। और मज़ा देगा नहीं, मज़ा देगी और गांड भी देगी. मैंने उसे पैर फैलाने को बोला, जिससे मेरे लंड के लिये रास्ता हो जाए.

मियां खलीफा के बीएफ वीडियो में

मैंने तो खुद रकुल को शादी से पहले देखा नहीं था।सीमा- ऐसे कैसे हुआ?नील- बस दादा जी का अंतिम समय आने वाला था और उन्होंने अपनी इच्छा रख दी कि जल्दी से जल्दी नील की शादी करवाओ. मैंने अपने दोस्तों को बाय बोला और पार्किंग से अपनी गाड़ी लेने चला गया. मैंने उसकी गांड पर लंड लगाया और थोड़ा जोर लगाया, तो वो आगे की तरफ गयी.

उनकी चमड़ी इतनी नरम मुलायम, नाजुक और मक्खन सी चिकनी थी कि उनकी फूली हुई नसें भी मुझे साफ़ नज़र आ रही थीं. वो बोले- देख अगर तू सारे कपड़े उतार कर मुझे अपना जिस्म दिखाएगी, तो मैं तुझे 5000 हजार दूंगा और मैं जो चाहता हूँ, वो करने देगी … तो 10000 दूंगा.

फिर उन्होंने मेरी गर्दन को किस कर दिया और मेरे होंठों को जोर से चूसने लगे.

”क्या चौधरी साहब मैं गरीब आपको क्या दे सकती हूँ, क्या लेंगे आप?”साली मेरी रंडी मेरे से मज़ाक करती है, तेरी गांड लेनी है. ”मैंने जैसे ही उषा को फोन लगाया, तो रितिका ने मेरे हाथ से मोबाइल खींच लिया. हालांकि, मैं मिलने के लिए उत्सुकता दिखाकर इस मौके को बर्बाद नहीं करना चाहता था, इसलिए मैं थोड़ा सब्र से काम ले रहा था.

अब भाभी जी मेरा घर देख कर बोलीं- अरे बाप रे ये सब क्या है … सब इतने फैला हुआ सामान … ये घर है कि कबाड़खाना. रशीद थक चुका था, मुझे उस पर दया आ रही थी क्योंकि उसकी हालत हारे हुए जुआरी की तरह हो गयी थी. मैं- थैंक्यू सर!हालांकि ब्लाउज को सेक्सी कहने से मैं जरा गर्म हो गई थी.

मुकुल राय ने कुछ पल के लिए परीशा के चेहरे की तरफ देखा, जो अपनी आँखें बंद किए हुए लेटी हुई थी, उसने अपने होंठों को दांतो में दबा रखा था। जैसे वो अपने आप को उस दर्द के लिए तैयार कर रही हो.

बीएफ सी सेक्सी: मेरे होंठों पर होंठ रख दिए और जीभ अन्दर तक डाल कर डीप किस करने लगी. लेकिन कल मेरी अन्तर्वासना को टटोल कर उसने मुझे बेशर्म बनाने पर मजबूर कर दिया था.

मगर थोड़ी दूर ही चले थे कि तेज़ बारिश शुरू हो गई और तेज़ हवा भी चल पड़ी। दो मिनट में ही हम भीग गए. मैंने देखा कि सबकी सब लंड और चूत जैसे शब्दों का प्रयोग ऐसे करती थीं, जैसे कि सब्ज़ी में नमक डालना ज़रूरी हो. मौसी ने मुझे मना कर दिया और बोलीं- मैं अपने पति को धोखा नहीं दे सकती.

तब सागर ने मुझसे कहा- बात तो आपकी सही है, मगर एक बात मैं आपसे पूछता हूँ.

मैंने पूछा- कहां तक अपना मानते हो? अभी शिवानी को देख कर तुम्हारी जैसे हवाइयां ही निकल गई थीं. उसने मुझे कुछ बोलने का मौका तक नहीं दिया और बस मेरे लण्ड को पैंट के ऊपर से ही चलाए जा रही थी और मुझे ताबड़तोड़ किस किए जा रही थी. औरत अगर खूबसूरत हो और उसको कोई ना देखे … तो उसके खूबसूरत होने का क्या फायदा?सब कुछ अच्छा चल रहा था.