सेक्सी बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,देसी भाभी के सेक्सी व्हिडीओ

तस्वीर का शीर्षक ,

jio वाली सेक्सी: सेक्सी बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ, जब तक मैं हूँ तो कुछ नहीं होगा।यह कहते हुए उसने मेरी जांघ पर हाथ रखा और आहिस्ता आहिस्ता उस पर अपनी हथेली रगड़ने लगी।मेरा टाइट लौड़ा देखकर बोली- तुझे कुछ नहीं आता.

बड़ा लिंग की सेक्सी

एक बार तन की आग भड़क जाए तो उसको दबाना आसान नहीं होता है। कुछ ऐसा ही पायल के साथ हुआ था। जो कुछ हम दोनों के बीच सुबह में हुआ था और उसके दो बार के स्खलन ने उसके जिस्म की प्यास बहुत बढ़ा दी थी, अब वो पूरा सुख चाहती थी।मेरा भी यह पहला अवसर था. सेक्सी पिक्चर की वीडियो भेजोकि कैसी उछलती है ये!मैंने झट से कोमल को पूरा फैला दिया और उसकी चूत में मेम ने अपने पर्स से क्रीम निकाल कर लगा दी। कुछ क्रीम मैम ने मेरे लंड पर भी लगा दी, मैं उसकी चूत को लौड़े से रगड़ने लगा।वो डर रही थी.

मैं तुम्हारे लिए चाय बनने रख कर आती हूँ।पर यहाँ सब्र किसे था, मैंने कहा- चाय रहने दो आज मुँह तो मीठा आपके होंठों से ही करूँगा।मैंने उन्हें पलटा कर अपने होंठ उनके होंठों पर रख दिए।मैंने उन्हें बताया- मैंने सारी रात आपके ख्यालों में ही बिता दी. सेक्सी क्लीप सेक्सी क्लीपउउउम्म्म्म…’हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए।मैं उनकी चूत चाट रहा था और वो मेरा लंड चूस रही थीं। ऐसा लग रहा था कि मैं जन्नत में हूँ।अब हम दोनों सीधे हुए, वो मुझसे कहने लगीं- प्लीज़ आप लंड अन्दर डाल दो।मैंने भी वैसा ही किया.

फिर उसने मेरा लंड पकड़ा और मुझे ऊपर के बाथरूम तक ले गई। दोस्तो, जब वो चल रही थी, उसकी गांड की लचक देख कर मैं पागल हुआ जा रहा था। मुझे अपने आप पर एकदम कंट्रोल नहीं हो पा रहा था।तभी मैंने डंबो से कहा- डंबो मुझसे अब कंट्रोल नहीं हो रहा है।तो तुरंत उसने कहा- चल शोना.सेक्सी बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ: थक गया हूँ कल जाऊँगा।फिर मैं सो गया।सुबह उठते ही मैं सोनिया को चोदने का मौका तलाशने लगा.

’हम दोनों एक-दूसरे की जीभ को मस्त तरीके से चूस रहे थे और मेरी गर्ल-फ्रेण्ड कोमल उधर खड़ी-खड़ी ये सब देख रही थी।मैं निशा मेम के मम्मों को ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगा और उनके निप्पलों को हाथ से निचोड़ने लगा।उतने में निशा मेम ने कोमल को भी अपने नजदीक खींच लिया और बोलीं- क्यों री कुतिया.फिर मुझको लगा कि मेरा भी निकलने वाला है।मैंने पूछा- मेरा निकलने वाला है.

देसी सेक्सी गांव की वीडियो - सेक्सी बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ

तो देखा कि उसकी चूत बिल्कुल साफ़ और बिल्कुल पिंक कलर की है।मैंने एक उंगली उसकी चूत में डाली.पर पहले मैंने पैन्टी के ऊपर से ही मॉम की चूत को चाटा और मॉम ने भी मेरा साथ देते हुए मेरे बालों को पीछे से पकड़कर अपनी चूत पर लगवाया और बिना कुछ बोलते हुए बस मुझे वहीं दबाए हुए रखा।धीरे से मैंने मॉम की पैन्टी साइड में की और अपनी अधपहनी पैन्ट पूरी तरह से उतार कर लंड को मॉम के ऊपर लेटे हुए चूत से सटा दिया।चुद चुद कर मॉम की चूत इतनी टाइट तो नहीं रह गई थी.

आपी की कमर के नीचे तकिया रखा और आपी की एक टांग मैंने अपने कंधे पर रख कर अपने लण्ड को हाथ में पकड़ा और आपी की चूत पर रगड़ने लगा।आपी ने बेसब्र होते हुए कहा- सगीर एक ही झटके में पेल दो. सेक्सी बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ मुझको दीवाना बना रही थी।मेरे बॉक्सर में मेरा लण्ड आकार लेने लगा था.

कई का लौड़ा फिर खड़ा ही नहीं होता, फिर वे शर्म से कोशिश भी नहीं करते।वो कहती रही कि कई लोगों को मैंने प्रोत्साहित करके काम चलाया है। लेकिन कई तो बिल्कुल बेदम हो जाते हैं।ऐसे में फिर मैं किसी वेटर से काम चलाती हूँ कि क्योंकि एक बार लण्ड डालकर खुजली पैदा कर दी जाए और वह खुजली खत्म न की जाए.

सेक्सी बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ?

पर मुझे कहाँ नींद आने वाली थी। मेरे दिमाग में तो रोशनी ही घुसी थी, मैंने कमरे से बाहर निकल कर उसे मिसकॉल किया।वो थोड़ी देर में बाहर आई- मिसकॉल क्यों किया?मैं- बस तुम्हारी याद आ गई थी।उसने उस वक्त ब्लैक कलर की नाइटी पहनी थी और वो भी बैकलैस।मैंने अपने हाथों से उसके गालों को पकड़ा और उसके होंठों पर किस किया। किस करते ही मानो. तब तक मैंने अपनी जीभ उसकी चूत में घुसा दी और चाटने लगा।वो मेरे सर के बालों को पकड़ कर मेरा सर अपनी चूत पर दबाने लगी।मेरे लिए भी ये सब नया सा था, टेस्ट कुछ नमकीन था. मैंने उनका सारा पानी पी लिया।मैंने भी उनके मुँह में ही धक्के लगाने शुरू कर दिए। कुछ ही समय में मेरा लावा भी उनके मुँह में गिरने लगा जिसे वो पूरा चाट-चाट कर साफ कर गईं।हम दोनों को ही इस ओरल सेक्स चूसा चुसाई में बहुत मजा आया।थोड़ी देर सुस्ताने के बाद वो फिर से मेरा लौड़ा सहलाने लगीं, मेरा हथियार फिर से खड़ा हो गया था।सुनीता- अब ना तड़पाओ राज, डाल दो इसे मेरी चूत के अन्दर.

मतलब तुम अपनी गर्लफ्रेंड के लिए वफ़ादार रहोगे।मैंने कहा- तो अच्छा है ना तुम्हारे लिए. ’मैंने अब उसको मेरी तरफ मोड़ा और कमर के सहारे से उसे ऊपर उठा लिया और उसे कपड़ों के ऊपर से ही अपने लंड पर रख लिया।उसकी गर्म चूत ने मुझे बीस सेकण्ड में ही झाड़ दिया।अब हम दोनों बिस्तर पर जाकर लेट गए।मुझे कुछ शिथिलता सी महसूस हो रही थी. प्राची के मुँह से अजीब से दर्द वाली आवाज़ निकली, उसकी आँख में आंसू थे।‘तुम्हें इतना दर्द हुआ.

और बिल्कुल मेरे सामने आ गई थी।मैंने उससे फिर पूछा- आज तक किसी से चुदवाया है?तो उसने अपना मुँह नीचे कर लिया।मैंने सोचा कि मुझे क्या. मेरी तो आदत है आज पहली बार थोड़ी पी रही हूँ।मैं हँस दिया।फिर उसने कहा- अगर सेक्स करना है तो कमल को कैसे भी करके यहाँ मत सोने देना।मैंने एक प्लान बनाया और कमल को कॉल किया ‘साले साहब. यह काटेगा नहीं।यह कहकर वे मेरी हालत पर हँसने लगे।मैंने बिना उनके लिंग को हाथ लगाए अपना मुँह उसके पास किया और पूरी श्रद्धा से चूम लिया।क्या मस्त महक आ रही थी.

मैं इस बार मुम्बई गया तो एक अजीब अनुभव मिला।एक होटल में रुका हुआ था मैं! रात में मैं बहुत देर से होटल पहुँचा था और काफी ड्रिंक कर चुका था. मेरी पड़ोस की लौंडिया रिहाना से मेरी दोस्ती हो गई थी, वो मेरे नीचे थी।अब आगे.

मैं तुम्हें चाहने लगा हूँ।वो शर्मा गई और जाने लगी।मैंने कहा- कहाँ जा रही हो बोलो ना.

जिससे मिलकर मेरी फुद्दी से भी पानी रिसने लगा।मैं उनको शांत करने के लिए उनके चेहरे एवं गले पर धीरे-धीरे हाथ से सहलाने लगी।‘मेरी बिल्ली बिल्ली.

तुझे नंगी देखकर मैं दुबारा कामुक हो गई तो सारे कपड़े निकालकर तेरे मम्मों से खेलने लगी थी।मैं बोली- तू भी ना. क्योंकि चाटते हुए उसका पानी निकला और वो पूरी तरह संभल भी नहीं पाई थी कि मैंने लंड घुसा दिया था।खड़े-खड़े मानसी को चोदते हुए उसके पैर दुखने लगे. अब तक आपने हेमा की जुबानी इस कहानी में जाना था कि आज हेमा ने सुरेश का लंड जी भर का चूसा था और वो आज तृप्त हो गई थी।अब आगे.

जब मैं 12 वीं में पढ़ता था। मैं अपनी मौसी के यहाँ गया था। मेरी मौसी की लड़की निधि. आज तो इतनी खुशी का दिन है और मैं ये घर छोड़ कर थोड़ी कहीं चला जाऊँगा. पर मेरा अभी बाकी था।मैंने कुछ और धक्के लगा कर झड़ने को हुआ तो भाभी से पूछा- कहाँ निकालूँ?भाभी ने कहा- मेरे बोबों पर गिराना।उसके बाद मैंने कोई 15-20 तगड़े शॉट मारे और लण्ड निकालकर उनके बोबों पर मुठ मार कर माल निकाल दिया।उन्होंने सारा वीर्य अपनी छाती पर मसल लिया।इसके बाद हम दोनों काफी देर तक बिस्तर पर लेटे रहे.

नहीं तो मैं मर ही ज़ाउंगी।मैंने कहा- कोई बात नहीं अब दर्द नहीं होगा।लेकिन फिर भी वो बोली- नहीं मुझे नहीं चुदवाना.

फिर इस हरामी मूसल को हाथों से ही संतुष्ट करना पड़ता था।उसके बाद मेरी मुलाकात हुई मीना नाम की एक पहाड़ी भाभी से हुई जो कि मेरे दोस्त की पार्ट टाइम गर्ल फ्रेंड थी।वो दिल्ली में रहती थी। मेरी भी उससे एक-दो बार बात हुई थी. मानो अभी कुरते को फाड़ कर बाहर आ जाएंगी। उसके मखमली गुलाबी होंठ आज कुछ ज्यादा ही रसीले लग रहे थे।मेरे साथ यह सब पहली बार हो रहा था। मुझे एक अजीब सा. मैं समझ गया कि ज़्यादा मोटा और लंबा लंड होने के कारण से बुर से खून निकल आया है, कुछ खून तकिये पर भी गिरा था।राज ने फिर से लंड संजना की बुर में पेल दिया.

फिर तेरे को बताऊंगा कि मैं क्या करूँगा।उसने हाथ से टेबल की तरफ इशारा कर के कहा- उसमें है।मैंने तेल की शीशी उठा ली और कुछ तेल अपने लण्ड पर लगाया और कुछ तेल उसकी चूत पर लगाया।फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रख कर रगड़ना शुरू कर दिया। वो पूरी तरह से मस्त हो चुकी थी और कह रही थी ‘आप और मत तड़फाओ. तीनों का कॉम्बिनेशन ऐसा मिला कि उसकी आँखें लाल हो गईं।अब वो बड़े मजे से ऊपर-नीचे झटके लगा रही थी, मेरे लौड़े को लॉलीपॉप की तरह चूस रही थी।वो जितना मजा ले रही थी. क्या मैं अपनी बहन को किस नहीं कर सकता?तो वह कुछ नहीं बोली।तब मैंने उसे बहुत सारे किस किए.

ये मेरा वादा है।दोस्तो आज भी मैं आंटी से हफ्ते में दो बार मिलता हूँ और उनको मैं उनकी मर्जी से चोदता हूँ। वो भी मेरी मर्जी जान कर मेरे लण्ड को दर्द के साथ सहन कर लेती हैं।मेरी कहानी आपको केसी लगी वो मुझे जरूर बताना। मेरा ईमेल आईडी नीचे लिखा है।[emailprotected].

और सोचा कि मैं भी अपनी कहानी आप सभी के लिए लिख देता हूँ।यह मेरे सच्ची कहानी है और मुझे यकीन है कि ये आप सभी को काफी पसंद आएगी।मेरी जब भी स्कूल की छुट्टियाँ होती थीं. तुम आराम से ले लोगी।वो कुछ असमंजस में थी तो मैं उसके मम्मों को चाटने लगा।वो आहें भरने लगी ‘उहह.

सेक्सी बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ वो चीखने लगी।मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उसके चूचों को दबाने लगा।जब दर्द थोड़ा कम हुआ. वो तुम्हारा इतज़ार कर रहा है।पायल ने अजीब से नज़रों से मुझे देखा और बोली- वहाँ किस?मैंने पायल को धीरे से बैठा दिया और लण्ड को उसके होंठों के पास कर दिया।पायल समझ गई कि मैं क्या चाहता हूँ,पायल ने धीरे से मेरा लण्ड पकड़ा और एक मादक सा चुम्बन मेरे लण्ड के ऊपर कर दिया।मैं- ओह पायल.

सेक्सी बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ इसी लिए नहीं आ पाए होंगे।वो कुछ नहीं बोली।तो मैंने कहा- आपको कोई भी ज़रूरत पड़े. मैंने आपी को चूमना चालू कर दिया और नीचे से हल्के हल्के धक्के लगाने लगा।आपी की चूत इतनी टाइट थी कि मेरे लंड को चारों तरफ से खिंचाव सा महसूस हो रहा था.

पूरे हफ्ते भर हमने मजे लिए। फिर मिलने की सोची और फिर कैसे मेरी मौसी की लड़की भी हमारे खेल में साथ हो गई.

नौकर मालकिन की सेक्सी

और उसने भी चूतड़ उठाने शुरू कर दिए।हम दोनों ही पूरे शबाव पे थे, मैं ज़ोर-ज़ोर से उसके दूध मसल रहा था।थोड़ी ही देर में हम दोनों झड़ गए और एक-दूसरे की बांहों में सिमट कर लेट गए।वो मुझे. तो वो रोज रात को खाना खाने के बाद डाइनिंग टेबल पर अपना घाघरा उठा कर लेट जाती है।फिर उसकी सास सबसे पहले उसके पास आती है और उसकी पैन्टी को अपने दाँतों से निकाल देती है।फिर वो अपना मुँह उसकी चूत में घुसा कर जो चूसना शुरू करती है. पर दर्द के मारे मैं रोने लगा।सर फिर मेरे होंठ चूसने लगे।थोड़ी देर बाद सर ने फिर कोशिश की, अपना लंड मेरी गांड पर रख कर धक्का मारा.

फिर मुझको लगा कि मेरा भी निकलने वाला है।मैंने पूछा- मेरा निकलने वाला है. मेरी चड्डी पकड़ने लगा।मैंने कहा- खोल दे!उसने कहा- डाल दूँ।मैंने कहा- डाल दे. वो जोर-जोर से धक्के मारने लगा।सूरज मेरे मुँह में अपना लंड डाल कर मुझे मुँह में ही चोदने लगा।तभी पैट्रिक भी मेरे पास आया और मेरी कमर से बेल्ट निकाल कर उसने वो खिलौना लंड मेरी चूत में घुसा दिया।अब मैं सब जगह से चुद रही थी।उसने प्रिया को बुलाया और उससे कहा- इसकी चूचियों को वैसे ही मसलो.

’ करते हुए उसकी चूत से इतना पानी निकल गया कि बिस्तर की चादर गीली हो गई।परंतु अभी मेरा बाकी था.

मेरा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है।फिर धीरे से उसने मेरे कान में कहा- आप हो ना।इतना सुनते ही मेरा हौसला बढ़ गया और मैं धीरे-धीरे उसके मम्मों को दबाने लगा।वो मस्त हो गई. पर उसमें से भी उसके दूध के उभार साफ़ नज़र आ रहे थे।यह देख कर मैं सोचने लगा कि काश मैं इसे चोद सकूँ।बस चली. जब मॉम बिना शर्म के अपनी हल्की लाल आँखों से मेरे लंड को इस तरह निहारने लगीं.

इस वक्त वो बहुत सेक्सी लग रही थी।वो मेरे लंड को सहलाने लगी, मेरे सारे कपड़े उतार दिए।अब मैं पूरा नंगा था. ’उसकी इन बहुत तेज आवाजों को सुनकर मुझे और जोश आ गया। मेरा लण्ड एकदम लोहे का हो गया। मैं और तेजी से उसकी चूत का पानी चूसने लगा।फिर मैंने उसके मम्मों को बहुत जोर से अपने दोनों हाथ से पकड़ लिए और मसलने लगा, उसके निप्पल चूसने लगा।उसने कहा- आह्ह. अब मैंने अपने लंड को उनकी गांड के छेद में बाहर से ही फिट किया और अपना पूरा जोर लगा दिया.

पर इतने प्यार से अन्दर डालता है कि गांड में दर्द नहीं होता, मरवाने में आनन्द आता है. ’मैं उसकी चूत में तेज-तेज अपनी जीभ चलाने लगा और उसकी गांड को भी पीछे से थपथपाता जा रहा था।ये सारा सीन कविता का पति यानि रोहित सामने खड़ा देख रहा था। रोहित का लौड़ा भी खड़ा था, परन्तु वो देखकर ही मज़ा लेना चाहता था। मैंने अपने दोनों हाथों से कविता के मम्मों को भी सहलाना शुरू कर दिया था।जब कविता बहुत ज्यादा गर्म हो गई तो वो सीत्कारने लगी ‘उन्ह आह उन्ह उई सी सी.

आज तुम्हें इतना चोदूँगा कि तेरी चूत का भोसड़ा बना दूँगा।भाभी के मम्मों को चूसने लगा तो भाभी बहुत गरम हो गई थीं और जल्दी से लण्ड को चूत में डाल देने का बोल रही थीं।लेकिन मैं भाभी को और गरम करना चाहता था। मैंने थोड़ा नीचे आकर भाभी की चूत में उंगली डाल दी। भाभी की चूत में उंगली जाते ही वे एकदम से उछल पड़ीं।वे ‘ओओहह. लेकिन डर था कि इस ठरक के चक्कर में मेरी बनी बनाई इज्जत न चली जाए।वैसे तो मैं रोज ही उनके घर जाता. नीचे सोफे पर बैठ कर मैंने हनी को कहा- मैं ऊपर टेबल पर अपना एक पैकेट भूल आया हूँ.

पर मैं अपनी छुट्टियों में अपने ताऊ-ताई के घर पर गया था।उनके 2 बच्चे हैं.

सी राहुउऊउल…’वो मेरी चोट से एकदम से चिहुंक उठी थी और अपने थूक को गले से अन्दर उतारने लगी. चुदवा ले अब इसके बाद तेरी गांड मारने की बारी है।सील फटने से पहले तो उसको दर्द हुआ. वो सब भी आपको मजा देगा।मेरा नाम राहुल है, उम्र 19 साल की है। मैं एक छोटे शहर से हूँ।मैं देखने में स्मार्ट, लम्बा और फ्लर्टिंग टाइप का हूँ।मैंने अपने शहर से 2013 में 12 का एग्जाम पास किया.

पर बाद में मज़ा भी आएगा।अब मैंने उसको दोबारा चोदना शुरू किया। तभी उसके कंठ से एक जोर की आवाज आई।मैंने कहा- रूबल लगता है चूत तो फट गई. जो कुछ ही महीनों में 2-3 घंटों तक हो गया। अब तो ऐसा हो गया था कि जब तक हम दोनों एक-दूसरे से बात नहीं कर लेते.

तो मुझे महसूस हुआ और कुछ मेरे लंड पर भी लगा था।उसी पल फिर से मैंने लंड को चूत में डाला, पहले झटके में जितना गया था. थोड़ी ही देर में मेरे शरीर में से पसीने छूटने लगे।इस लंड चुसाई को अभी कुछ मिनट ही हुए थे कि डंबो ने कहा- मेरे शोना को भूख लगी होगी ना?मैंने सिर झुका कर ‘हाँ’ कहा. प्राची बिना कुछ बोले एक चेयर पर बैठ गई। दो मिनट बाद हम अलग हुए और बिस्तर पर बैठ गए। मैंने प्राची से उसके हाल-चाल पूछे और बात ही बात में खींसे निपोरते हुए कहा- यार कण्ट्रोल ही नहीं हुआ अभी।वो मुस्कुराई.

सेक्सी चुदाई जंगल में

मैं लगातार उसकी क्लिट को चूस रहा था और अपनी जीभ से उसकी चूत को चोदता रहा, वो कोहनी के बल बैठी थी और अपना एक हाथ मेरे सिर में घुमा रही थी।तभी वो अकड़ गई और उसने पानी की तेज पिचकारी छोड़ी।मैंने धीरे-धीरे सारा माल साफ कर दिया।वो बोली- सैम प्लीज़ अब और नहीं रुका जा रहा.

बस मेरा काम बन गया।मैंने उनसे जान पहचान बढ़ाई और शादी के माहौल में थोड़ी ही देर में वो मुझसे घुल-मिल गईं।थोड़ी ही देर के हँसी-मजाक में हम दोनों काफी खुल गए, फिर मैंने उनका नम्बर माँगा।तो बोलीं- क्या करोगे नम्बर का?मैंने बोला- भाभी जी पहले नम्बर दो तो सही. ऊपर से लटकता हुआ उनका लौड़ा मेरी टांगों के बीच तक आ रहा था।बाबा बोले- लिंग का योनि से स्पर्श करवाओ बेटी।मैंने लटकते हुए लिंग को बीच में से मुठ्ठी में पकड़ा और अपनी फुद्दी के पास ले आई।लिंग के सुपाड़े को मैंने अपनी फुद्दी की दरार में रखकर घिसना शुरू किया।मुझे मालूम था कि सिर्फ स्पर्श करवाना है लेकिन मैं रुक नहीं पा रही थी।मस्ती के जोश में मैंने अपनी टाँगें खोल दीं. उसी तरह से मेरा लण्ड लेती जाओ।आंटी बहुत दिनों से लण्ड की भूखी लग रही थीं।आंटी की चूत भी अब खुलने लगी थी, अब आंटी ने स्पीड बढ़ाई और जोर से मुझे चोदने लगीं।कुछ मिनट के बाद आंटी ने पानी निकाल दिया और उन्होंने मुझे जोर से चूम लिया।वो एकदम से रोते हुए बोलने लगीं- काश.

मैं करवाती हूँ आज तेरी जवानी का उद्घाटन।यह कहते हुए उसने मुझे आवाज दी और अपने कमरे में बुलाया।मैंने जाकर देखा दोनों एक साइड में खड़ी थीं और सामने टीवी पर पोर्न मूवी चल रही थी।मैंने उससे कहा- हाँ जी. उसने झट से मेरे लंड को अपनी चूत के छेद पर रख लिया और बोली- डाल दो अब. अंग्रेजों के साथ सेक्सी वीडियोका रहने वाला एक पंजाबी हूँ और अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली हिन्दी सेक्स कहानी है।मेरी बुआ की लड़की जिसका नाम देविंदर है.

खून निकाल दिया।मैं- जानेमन चूत चुदाने से पहले अपनी सहेली से पता तो कर लेती कि पहली बार खून आता ही है. तब भी मैंने ज्यादा ध्यान नहीं दिया और नहाने चली गई।बाहर बारिश हो रही थी.

मेरी नंगी गांड देखकर वो कुछ पागल सा हो गया और मेरी गांड में तीन-चार थप्पड़ रसीद दिए। मैं एकदम से चिल्ला उठा. मैं फ्रेश सा महसूस कर रही हूँ।मैं- पायल एक बात पूछूँ?पायल- हाँ पूछो. अगर तुम्हारी जगह कोई और होता तो मुझे बहुत जोर से चोदता और मेरी मर्जी के खिलाफ मेरी चूत का और मेरी मजबूरी का गलत इस्तेमाल करता।मैं चुप रहा।उन्होंने मुझे फिर से चूमा और बोला- तुम ये बात किसी से बोलोगे तो नहीं?मैंने आंटी को बोला- आंटी मुझे आपकी सब बात मालूम हो गई है.

एक दिन सिद्धू की माँ का फोन आया और बोलीं- मुझे एक जरूरी सामान मंगवाना है।मैं बोला- बोलो आंटी. जिसे वो पी गईं।मैं- भाभी अब बोलो कैसा लगा गाण्ड मरवाना।भाभी- राज दर्द तो बहुत हुआ. मैं सब कुछ ठीक कर दूँगा।यह कहकर मैंने भाभी के लबों को चूम लिया।मैं भाभी को डाइनिंग टेबल पर ले गया, टेबल पर लिटाया और खुद नीचे खड़ा होकर उनकी दोनों टांगों को पकड़ कर उनकी पैंटी उतार कर चूत को चूसने लगा।उनकी चूत पूरी गीली हो चुकी थी और वो मादक सिसकारियां निकाल रही थीं।कोमल- जय.

दोस्तो मैं सागर… यह मेरी पहली कहानी है।मुझे लिखने की प्रेरणा भी अन्तर्वासना से ही मिली, मुझे लगा कि यह कहानी मुझे आप सभी के साथ शेयर करना चाहिए।वो दिन बहुत ही सुहाना था, चारों ओर घने बादल थे.

’ मेरे मुँह से सीत्कार निकल रही थी और मैं उसका मुँह और जीभ अपनी चूत के अन्दर अपने हाथों से दबा रही थी।मैंने खुद बिस्तर से तकिया उठाया और अपनी गांड के नीचे लगा दिया, अब मेरी चूत का मुँह अच्छी तरह से खुल गया था, मैं उसकी जीभ को अब ठीक चूत के अन्दर आता-जाता हुआ महसूस कर रही थी।कमरे में उसकी जीभ से चूत चाटने की मस्त आवाज आ रही थी ‘ल्लपल्लाप. क्यों तड़पा रहा है।मुझे उनकी यह हालत देखकर मजा आ रहा था, मैंने भी कहा- भाभी आपने मुझे बहुत तड़पाया है.

’ उसने ये कहते हुए एक बार फिर से मुझे चूम लिया।मैंने भी उसके प्यासे सुन्दर पतले-पतले गुलाब की पंखुड़ी जैसे होंठों पर चूम लिया।‘देख पम्मी. तो बातें खुद ही अच्छी हो जाती हैं।इसी तरह बातें करते-करते नेहा भाभी का हाथ मेरे गालों से होते हुए मेरे सीने तक आ गया था। वो मेरे सीने पर हाथ फेरते हुए बड़े प्यार से बोलीं- क्या तुमने कभी किसी के साथ चुदाई की है?नेहा भाभी के मुँह से अचानक ‘चुदाई’ जैसे शब्द सुनकर मैं तो अवाक हो गया और घबरा कर मैंने अपना सर नीचे कर लिया।उसके बाद वो मेरे जाँघों पर हाथ फेरते हुए बोलीं- मैं बहुत दिनों से अकेली हूँ. और मेरी चूत पर भी खून लगा था।मैंने दोनों को कपड़े से साफ किया और फिर बाथरूम में नहाने चली गई। बिस्तर की चादर भी खराब हो गई थी.

वो बिना कुछ बोले नीचे बैठ गई और मेरा लंड चूसने लगी, कुछ ही पलों में वो मेरा लंड लॉलीपॉप की तरह चूस रही थी।वो बिल्कुल एक एक्सपर्ट रंडी की तरह लौड़ा चूस रही थी, मैंने उससे पूछा- इससे पहले मेरे अलावा किसी और का भी चूसा है?तो वो कुछ नहीं बोली और चूसती रही।फिर मैंने उसकी पैन्टी उतारी और हम 69 की पोज़िशन में आ गए। अब मैं उसकी चूत चाट रहा था।हाय. जो उतारना बहुत आसान था। उसके नीचे मैंने भी बस अंडरवियर ही पहना था।मैं बेड के ऊपर आ गया और नीलू भी मेरे पास आ गई, हमने अपनी टांगों पर कम्बल डाल लिया और साथ बैठ कर दूध पीने लगे।मैंने नीलू को कहा- जानेमन, बहुत दिन हो गए. ’ निकल गया और वो मुझसे लिपट गई।मैंने भी ज्यादा वेट नहीं किया और उसकी टी-शर्ट के अन्दर अपना हाथ डाल दिया और उसको सहलाने लगा।मुझे बहुत ही मज़ा आ रहा था और मैं थोड़ा डर भी रहा था क्योंकि मैं फर्स्ट टाइम सेक्स कर रहा था।आरती को अचानक न जाने क्या हुआ, उसने अपने हाथ को मेरे लंड पर रख कर पकड़ लिया।उसने जैसे ही लंड को पकड़ा और मुझको बहुत ही जोर से झटका मारा, मेरे मुँह से भी उसकी इस हरकत से ‘आह्ह.

सेक्सी बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ तो राहुल ने वो लपक कर अपने हाथ से साफ कर दी और चाट गया।मैं बोले जा रही थी- वह क्या स्वर्गिक स्वाद है तेरी रबड़ी का. जो मेरी गोद में बैठी हुई थीं।रचना आंटी ने एक बॉटल को मेहता आंटी के ऊपर डाल दिया और एक को खुद के ऊपर डाल लिया। तीनों आंटियां फर्श पर लेट गईं और एक-दूसरे की बॉडी को चाटने लगीं।मैं भी नफ़ीसा आंटी को चूसने लगा और वो मुझे चाटने लगीं।फिर सविता आंटी ने सबकी चूत और गाण्ड में एक-एक कैंडल ठूंस दी। नफ़ीसा आंटी ने ये काम खुद अपने हाथों से किया।उन्होंने मुझसे बोला- घोड़ा बनो बेटा।जैसे ही मैं घोड़ा बना.

सनी लियोन सेक्सी एक्स एक्स एक्स

तो उनकी मटकती गाण्ड देखकर मेरा लंड तुरंत ही खड़ा हो जाता है।मेरी दीदी तभी से ही मुझे अच्छी लगती हैं. मैं उसके चूचों को पागलों की तरह से चूस रहा था और हल्के-हल्के से निप्पल को काट रहा था. सो मैं बर्दाश्त नहीं कर पाया और जल्द ही मैंने अपना रस उसके मुँह में छोड़ दिया।‘यह क्या कर दिया.

अपने होंठों से चाट रही थीं।सविता आंटी ने कहा- मेरा किरायेदार, कब चोदेगा मुझे?रचना ने कहा- रूको सविता पहले मेरा नंबर है. और जब भी मुझे मौका मिलेगा, तब मैं तुमसे चुदवाऊँगी क्योंकि तुम बहुत दमदार चुदाई करते हो।इतने समय में मेरा लण्ड फिर से खड़ा हो गया. लिंग चूसने वाली सेक्सीजो कि अब तक टूटी भी नहीं थी।उसकी गोरी-गोरी फुद्दी पर हल्के-हल्के रेशमी बाल थे।मैंने बस अपना मुँह उसकी फुद्दी में लगा दिया और खूब मजे से चाटने लगा।मैं इतना बेताबी के साथ चाट रहा था कि मेरा लंड तड़पने लगा।मुझे चोदना तो था ही उसे.

ऐसे करते हैं सेक्स? अकल से काम लो थोड़ा किस से शुरु करो।तो फरहान ने अपना मुँह उठाया और उठ कर ऊपर हो गया तभी मेरे लण्ड ने एक और झटका मारा जो कि आपी को फील हुआ।आपी ने मेरी तरफ देखा और अपना हाथ नीचे ले जाकर मेरे लण्ड को पकड़ लिया।मेरा लण्ड फुल तना हुआ था.

और फिर से लंड डाल कर उसकी चुदाई करने लगा। कुछ मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों झड़ गए. तो मैंने अपने दोनों हाथ की दोनों उंगलियों को दोनों की चूत में घुसेड़ दीं और अन्दर-बाहर करने लगा।दोनों ‘आआआअ.

’मैंने कहा- क्या डाल दूँ बेबी?वो मेरे लंड को हाथ में लेकर बोली- ये डाल दो यार. अन्तर्वासना पर हिन्दी सेक्स स्टोरीज पढ़ने वालों और पढ़ने वालियों को चूतनिवास के लौड़े के 31 तुनकों की सलामी!अभी दो दिन पहले मुझे अपने व्यापार में बहुत अच्छा लाभ हुआ तो मैंने मस्त होकर मन में अपनी आराध्य देवी का ध्यान किया। शीघ्र ही देवी मन में प्रकट हो गईं और पूछा क्यों याद किया? मैं अच्छी भली अपनी सखी से गप्पें लगा रही थी कि तूने बीच में बाधा डाल दी।. और वो मदहोश होने लगीं।मैंने बहुत सोच कर अपना प्लान तैयार किया था। प्लान के मुताबिक मैंने मॉम से कहा- मॉम मैं एक बात बोलूँ बुरा मत मानना।मॉम ने कहा- हाँ बोलो बेटा।मैंने कहा- मॉम, कई दिनों से मेरे नीचे बहुत जलन होती है.

फिर भी हमारा अनमोल वीर्य वाशरूम की नालियों में क्यों बह रहा है।कहा जाता था कि अच्छे दिन आएंगे.

लेकिन वो नज़रअंदाज़ कर देती या फिर शायद उसको भी अच्छा लगता था।मैं उसके काफ़ी करीब आ गया था. रात को लगभग 12 बजे होंगे।मैं पीछे वाली सीट पर सुमेर और उस बन्दे के बीच में थी. ’ की आवाज़ निकल रही थी।अचानक पायल जोर से मचलने लगी, मैं समझ गया कि अब वो और मेरा लण्ड नहीं झेल पाएगी। मैंने भी स्पीड बढ़ा दी करीब 10-12 शॉट्स के बाद से मैंने उसकी चूत अपने कामरस से भर दी।इसी बीच वो भी किलकारी भरती हुई बिस्तर पर निर्जीव सी गिर पड़ी और मैं उसके ऊपर गिर गया।मेरा लण्ड सिकुड़ कर सामान्य हो गया। थोड़ी देर में हम दोनों के साँसें सामान्य हो गईं.

सलमान खान कैटरीना कैफ सेक्सीउस मूवी में किसिंग सीन आ रहा था और मैंने देखा कि वो गौर से उस सीन को देख रही है. पता नहीं कितनी बार चुदाई की।फिर उन्होंने मुझे दिल्ली ड्रॉप किया और पैसे दिए और एंजाय करने को कहा।मैंने मना किया.

पोर्न भिडियो

जैसे कोई परी खुद मुझसे कह रही हो कि आओ और मुझे चोद दो।मेरा तो पूरे दिमाग ने काम करना बंद कर दिया था, अब मैं सिर्फ उसे चोदने की सोचने लगा और उसकी तरफ बढ़ने लगा।तभी वो बोली- सिर्फ मेरे ही कपड़े उतारोगे या अपने भी उतारोगे।मैंने कहा- तुम खुद ही उतार दो।उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए और मेरी चड्डी भी उतार दी। उसने जैसे ही मेरी चड्डी उतारी. मेरे जीभ लगाते ही वर्षा उछल पड़ी। मैंने भी उसके पैर पकड़ लिए और उसकी चूत चाटने लगा. ऊपर से शर्ट के टूटे हुई बटनों में से दिखती हुई गोरी कठोर उभरी हुई छाती.

तो कृपया आप एडजस्ट कर लीजिए।मैंने उससे निवेदन किया और अपना परिचय पत्र दिखाया. मैं अन्तर्वासना का 5 साल पुराना पाठक हूँ। मैंने यहाँ पर बहुत सी कहानियाँ पढ़ी हैं। आज मैं आपको अपनी सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ। मुझको उम्मीद है कि सबको मेरी कहानी पसंद आएगी।मेरा नाम गौरव है। मैं पंजाब के अमृतसर शहर का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 20 वर्ष है। मैं बी. हल्के गर्म पानी की फुहार ने हम दोनों के जिस्म की दिन भर की थकान को भी पानी के साथ बहा दिया।पायल के होंठों में मेरे होंठों का मिलन एक नई उत्तेजना प्रदान कर रहा था। मैं उसको चुम्बन कर रहा था.

अब तक मैं अपने कपड़े धो चुका था।वो बोलीं- यहीं चैक करोगे या कमरे में चलोगे?‘कमरे में करूँगा!’मैं आन्टी को अपने रूम में ले गया और अन्दर से दरवाजा बंद कर दिया।मैं बहुत खुश था. साली ऐसे निकली हुए थी कि लौड़ा बागी हो उठता था।वो ऐसे चलती थी तो लगता था जैसे उसकी पिछाड़ी डांस कर रही हो। इतना भरा हुआ शरीर था उसका. फिर खाना बनाएगी और फिर सोने चली जाएगी। तुम चलो चाय पिओ, फिर मस्ती करते हैं।मैंने चाय खत्म की और बोला- चल कुतिया साली.

इसलिए मैं पहले स्पर्श में ही झड़ चुका था और मेरा लंड दोबारा सख्त हो गया था।उसकी पीठ मेरी तरफ थी. आपने देखा कि किस तरह मेरे देवर रवि ने बड़ी ही होशियारी से मेरी चुदाई की।उसके बाद उसने एक साल तक मेरी चुदाई की.

बहुत रोमांटिक सा माहौल था। उसका चेहरा एकदम साफ़ और गोरा सा था। वो एकदम फ्रेश लग रही थी। शायद वो अभी नहाई थी।वह लोअर पहने हुए थी और एक वाइट सी हल्की सी बिना बाँह वाली टी-शर्ट डाले हुई थी।वो थोड़ा पतली थी.

ये मेरा वादा है।दोस्तो आज भी मैं आंटी से हफ्ते में दो बार मिलता हूँ और उनको मैं उनकी मर्जी से चोदता हूँ। वो भी मेरी मर्जी जान कर मेरे लण्ड को दर्द के साथ सहन कर लेती हैं।मेरी कहानी आपको केसी लगी वो मुझे जरूर बताना। मेरा ईमेल आईडी नीचे लिखा है।[emailprotected]. आलिया भट्ट ना सेक्सी वीडियोपर लौड़ा अन्दर ही नहीं जा रहा था।उसने एक हाथ से मेरा लन्ड पकड़ा और मैंने तुरंत धकेल दिया. राजस्थान की सेक्सी फिल्म हिंदी मेंये चूत अब तुम्हारी भी है।उसने धीरे-धीरे अपनी गति बढ़ाई।उस वक्त मेरे मुँह में जोर-जोर से आवाज निकलने लगी ‘आआहह. तो वो अकड़ जाती थीं। शायद वो उसकी सबसे ज्यादा सेंसटिव जगह थी। मैं समझ गया था तो मैं बार-बार उनके कान की लौ को चूस लेता था.

और ये तो बताओ कैसा लगा बर्थ-डे गिफ्ट?वो मुस्कुराई और कहने लगी- अब तक की ज़िन्दगी का सबसे अच्छा गिफ्ट मिला है।वो इतना थक गई थी कि 5 मिनट के अन्दर ही फिर सो गई।फिर मैंने अपनी जीन्स और अंडरवियर को भिगा दिया और सूखने के लिए बाहर रूम में चेयर पर रख दिया।वहाँ अंकिता की पैन्टी पड़ी हुई थी। वो बहुत टाइट थी.

तो बाथरूम से आवाज़ आई, वो उनकी ही आवाज़ थी, उन्होंने कहा- मैं नहा रही हूँ. आपकी सारी बातें गुप्त रहेंगी।याद रखना विश्वास की साँस पर ये दुनिया चलती है।मुझे मेल करें।[emailprotected]. बाकी की बस खाली थी। ख़ुशी मुझसे बोली- हम लास्ट वाली सीट पर बैठते हैं।मैंने भी ‘ओके’ बोला और चल दिया।हम दोनों जाकर लास्ट वाली सीट पर बैठ गए।अब ख़ुशी कहने लगी- देखो यहाँ पर कोई खास भीड़ नहीं है। मुझे पता था इस समय बस खाली मिलेगी.

तो राहुल ने वो लपक कर अपने हाथ से साफ कर दी और चाट गया।मैं बोले जा रही थी- वह क्या स्वर्गिक स्वाद है तेरी रबड़ी का. मुझे अब यह सब नहीं करना है।मैं वासना में भड़का हुआ था तो मैंने चूत में करारी ठोकर लगा दी। मतलब मैं उसके दर्द को नजरअंदाज करते हुए अपना काम किए जा रहा था।कुछ देर की पीड़ा के बाद वो शांत हो चुकी थी।मैं धीरे-धीरे अपने लंड को अन्दर-बाहर करने लगा। अब उसे भी मजा आने लगा था। वो धीरे-धीरे मादक आवाजें निकालने लगी ‘उफ आह. जब तक माफ़ नहीं करोगी, मैं नहीं जाऊँगा।’देखते ही देखते इस ड्रामे में सुबह के 7 बज गए। सब उठ गए थे.

desi एक्सएक्सएक्स वीडियो

अब मिलो तो उससे मेरी पूछना।फिर एक दिन जब मैं अपने कमरे में अकेला बैठा था और घर में कोई नहीं था तो चाचा मेरे कमरे में आए।मुस्करा कर बोले- तुम्हारा दोस्त कहाँ है. तो मैं अक्सर उनको देख ही लेता हूँ।उनकी छत मेरी छत से लगी हुई थी। उनकी छत पर एक कमरा भी बना हुआ है।उनके घर में पति पत्नी के अलावा एक नौकरानी रहती है।शादी के बाद 4-6 महीने तक तो भाभी घर से बाहर आती ही नहीं थीं लेकिन धीरे-धीरे आने लगी हैं।राहुल कहने को हैं तो डॉक्टर. ?’उसने शालू को कहा- देखो शालू मैं तुम्हें कुछ नहीं कहूँगी और न ही तुम मुझसे डरना.

भगवान ने मुझे सच्चा प्यार दिया।फिर हमने दीवार के साथ लग कर एक बार फिर से चुदाई की। अब तो यह सिलसिला चलने लगा। हर हफ्ते एक-दो बार चुदाई पक्के में होने लगी।उस औरत के साथ मेरी ये वफा भरी कहानी जारी रहेगी। दोस्तो यहाँ से हमारे जिस्मानी सम्बन्धों की शुरुआत हुई थी। ये मेरी लाइफ का पहला मौका था। मुझसे लिखने में कहीं कोई ग़लती हुई हो तो माफ़ कीजिएगा।आपके कमेंट्स का इन्तजार रहेगा।[emailprotected].

देखो मेरा लौड़ा इसे सींचने के लिए कब से तैयार खड़ा है।फिर हम दोनों 69 में आ गए.

चित्तौड़ में पैदा हुआ हूँ। मैं दिखने में बहुत अच्छा हूँ। मेरा लंड लम्बा और मोटा है. वो इतनी टाइट थी मानो किसी कुँवारी लौंडिया की चूत हो।फिर मैंने उंगली को धीरे से अन्दर डालकर अन्दर से चूत की दीवारों की मसाज करना शुरू किया।अब उन्होंने अपना हाथ मेरे सिर पर रख कर उसे ज़ोर से चूत की ओर किया, मैं समझ गया कि अब टाइम आ गया है।मैं तुरंत उनकी चूत को मुँह में लेकर चूसने लगा, वो ज़ोर-जोर से ‘आहें. रानी भाभी सेक्सी वीडियोवो शायद पूरी दुनिया में किसी भी मर्द को पागल कर सकता था।उसके दोनों मम्मे मेरे दोनों हाथों में जैसे-तैसे बस आ ही पा रहे थे।मैं उन दोनों मम्मों को एक छोटे बच्चे की तरह चूसने लगा। डंबो मेरे सर को अपने दोनों हाथों से अपने छाती की ओर खींच रही थी और हल्की-हल्की सी सिसकियाँ ले रही थी।मेरे सिर से उसका हाथ कब मेरी कमर पर पहुँचा और कैसे उसने मेरी बनियान मुझसे अलग की.

तो कभी मुझसे चिपक कर सो जाती।बड़ी सुबह जब मैं टॉयलेट जाने के लिए उठा और जैसे ही मैं वापस आया. पर मन कहाँ मानने वाला था। मैंने काजल को भी हाल में ही सुला लिया और फिर अपना काम शुरू कर दिया।मैंने उसकी कुर्ती उतार दी. आंटी अपने को मुझसे छुड़ाने लगीं लेकिन मैंने उनको कसकर पकड़ लिया और अपना सारा रस आंटी की चूत में छोड़ दिया।जब मैंने अपनी पकड़ ढीली की.

पर ऐसा लगा कि मेरा हाथ रिया की कमर पर पड़ा हुआ है और मेरी आंख खुल गई।सच में मेरा हाथ उसकी पीठ पर ही था।मैंने थोड़ी देर यूं ही रहने दिया और सोचने लगा कि क्या करूँ. तो मैंने बोला- अपना मुँह खोलो।उसने हिचकते हुए नीचे बैठ कर अपना मुँह खोल दिया।मैंने अपना लण्ड उसके मुँह में डाल दिया और पूरा माल उसके मुँह में निकाल दिया।उसने चटखारे लेकर मेरा माल खा लिया।फिर उसने हँस कर कहा- मुझे मालूम था कि ये चूत चोदने के लिए बना है.

उसे अन्दर आने दो।नीलू ने उसे अन्दर ही भेज दिया, पीछे-पीछे खुद नीलू भी आ गई।आते ही संजय ने हमें देखा और बोला- अरे वाह, यहाँ तो बड़ा मस्त मौसम है।मैंने कहा- अब तुम चाय पानी छोड़ो, बातें बाद में करना। पहले जिस काम के लिए बुलाया है.

वो चुपचाप टीवी देखती रही।फिर मैंने हिम्मत बढ़ाकर उसकी जांघ पर हाथ रख दिया. तो भाभी मेरा सर दबाने लगीं।वो मुझे दुलारते हुए कहने लगीं- अले अले मेरे लाल को क्या हो गया।और उन्होंने मेरे गाल पे दो तीन किस कर दिए।मैं समझ गया कि आज भाभी का मूड है, मैं भी उनको चूमने लगा।उन्होंने मेरी जीभ को अपने मुँह के करीब ले लिया और होंठों से चूसने लगीं।मैंने भाव खाते हुए कह दिया- अब बस करो।लेकिन वो बेतहाशा चूसने लगीं. मैं इससे आगे की कहानी नहीं लिख सकती मुझे बहुत शर्म आ रही है। बस आप यूं समझ लीजिएगा कि हम दोनों एक-दूसरे के जिस्मों में तब तक उलझे रहे जब तक हम दोनों के जिस्मों की आग शांत नहीं हो गई।इसके बाद मैं अपने घर चली गई।आज मुझे इस घटना का जिक्र करते हुए बहुत हिचक हो रही थी.

सेक्सी वीडियो देवर चुदाई वो नीचे बैठ गई और अपनी जीभ को निकाल कर मेरे लंड के टोपे पर फेरने लगी।मेरा लंड कंट्रोल से बाहर हो चुका था।मैंने उसे दीवार के सहारे झुका दिया. पर जगह ठीक नहीं थी, गाँव में इससे ज्यादा कुछ ना हो सका।वहाँ सभी मुझे पहचानते थे, इसलिए इतने में ही सन्तोष करके मैं दिल्ली वापस आ गया।अगले ही दिन मैंने उन्हें फोन किया।वो बोलीं- कौन हैं आप?मैं बोला- आपका प्यारा देवर.

उसके घरवालों ने उसे माफ़ कर दिया है।उसके घरवालों ने उसकी शादी अच्छी जगह करवा दी है। उसका पति अच्छा आदमी है और वो उसे खुश रखता है। आज उसकी एक लड़की भी है।हम अब सिर्फ़ कभी-कभी फ़ोन पर ही बात कर पाते हैं।आज इतने सालों बाद मैंने यह स्टोरी लिखी है. तो वो और भी मजे से मेरा लौड़ा चाटने लगी और मैं उसके मुँह को चूत समझ कर उसी में अन्दर डाल रहा था।तभी मेरा निकलने वाला था. जो उसके तेज आती-जाती साँसों के साथ फूल और पिचक रहा था, खुल और बंद हो रहा था.

ब्लू सेक्स दिखाओ ब्लू सेक्स

वे मुझे धक्का देने लगीं, पर मैंने भाभी को छोड़ा नहीं और धक्कों पर धक्के मारता रहा। कुछ देर भाभी का दर्द कम हो गया और वे भी उछल-उछल कर मेरा साथ देने लगीं। मैं भाभी को धक्के पर धक्के मारने लगा। भाभी की चूत अब मेरा लण्ड आसानी से अन्दर ले रही थीं। भाभी से भी अब रहा नहीं जा रहा था. सो मैंने फिंगरिंग करके उस दिन अपनी चूत की खुजली शान्त कर ली।उस दिन से मुझे भी चुदने की इच्छा होने लगी। मुझे बॉयफ्रेंड बनाने का कोई शौक नहीं है. कैसे लगी आपको मेरी यह कहानी, मुझे मेल कर के जरूर बताएँ।[emailprotected]दोस्तो, यह थी विकास की कहानी, विकास की जुबानी।आप सब से अनुरोध है कि आपको ये कहानी कैसी लगी, इसके जवाब में अपनी मेल ऊपर दी गई ईमेल पर ही भेजें।आप चाहो तो मुझे भी मेल की कॉपी कर सकते हो।[emailprotected].

दोस्तो, मेरी हिंदी सेक्स कहानियाँ आपको पसंद आती हैं, यह आपके भेजे मेल्स को पढ़कर पता चलता है और अच्छा लगता है।आज की सेक्स स्टोरी हमारे एक पाठक ने यू. मेरी गांड बहुत सेक्सी है।फिर शीशे में से देखा तो कार्तिक भैया ने मुझे पीछे से आकर पकड़ लिया और मैंने डरने का नाटक किया।मैंने पूछा- आप यहाँ कर रहे हो.

तो मुझे हैरत से एक झटका लगा।फरहान और आपी कंप्यूटर टेबल के सामने बैठे थे और कंप्यूटर पर एक ट्रिपल-एक्स मूवी चल रही थी। फरहान ने टी-शर्ट और ट्राउज़र पहना हुआ था और उसका लण्ड ट्राउज़र से बाहर था।रूही आपी.

और एक-दूसरे से चिपकने लगे। हमारा बदन एक-दूसरे की गर्मी को महसूस कर रहा था. ’मैंने चूसते हुए ही अपनी ज़ुबान आपी की चूत में दाखिल कर दी और चूत के अन्दर ही हिलने लगा।आपी और जोर से मेरे सर के बालों को खींचने लगीं और कहने लगीं ‘सगीर अन्दर तक करो. बस वैसे ही लेटा था। फिर मैंने ही अपना एक हाथ धीरे-धीरे उसके पैंट के अन्दर डालना शुरू किया.

लगभग गेंद के आकार के चूचों वाली बहुत ही सुन्दर लड़की थी।उसे कोई एक नजर भर देख ले. वो जानबूझ कर सोने का नाटक कर रही थी या सही में गहरी नींद में थी।अब तक कुछ हलचल ना होने पर मेरी हिम्मत और बढ़ गई थी। मैंने बहुत हल्के हाथ से उसकी पजामी सहित पैंटी धीरे-धीरे नीचे खिसका कर उसके चूतड़ नंगे कर दिए थे।मैंने अपना हाथ सीधे ही गाण्ड पर रख दिया. ’ कर रही थी। वो बोली- अब मुझसे रहा नहीं जा रहा।मैं जल्दी से उसके ऊपर आ गया और उसकी टांगें अपने कंधे पर रख कर लंड को चूत पर रख दिया।मैंने हल्का सा धक्का मारा.

फिर भी मुझे पता नहीं क्यों डर लग रहा है। प्लीज आप मेरे साथ यहीं बिस्तर पर सो जाओ।मेरे जिद करने पर चाची मान गईं और बिस्तर पर आकर लेट गईं।फिर कुछ देर लेटने के बाद मैं चाची से चिपक गया और उनकी चूचियों को कपड़ों के ऊपर से सहलाने लगा।चाची बोलीं- अंश ये तुम क्या कर रहे हो.

सेक्सी बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ: साथ ही अरुण मुझसे कुछ वर्ष छोटा था।एक बार मैं उसके घर गई तो वो खाट पर लेट कर चादर के अन्दर अपने लंड को हिला रहा था।मैंने खाट के नजदीक जाकर चादर खींच दी।चादर के हटते ही अरूण का खड़ा लंड दिखाई देने लगा।मैंने कहा- ये तुम क्या कर रहे हो. फिर वो आँख बंद करके सो गई।फिर अंकिता ने मुझे खाना खिलाया और हम देर तक बात करते रहे।जब कुछ अँधेरा हुआ तो अंकिता ने मौका देख कर मुझे घर से निकाल दिया। तब मैं हॉस्टल जा कर चैन से सो पाया।इसके बाद भी मेरी ज़िन्दगी के कुछ हसीन पल बीते। जानने के लिए अन्तर्वासना डॉट काम पढ़ते रहिए और मेल करके मुझे ज़रूर बताइए कि मेरी कहानी से आपको कैसा अहसास हुआ। क्या कमी रही.

जिससे डोले ऊपर-नीचे होते और मैं उन्हें छूकर अनुभव करता।उसकी बगल में छोटे-छोटे बाल उग आए थे. सारा दिन तेरे साथ बिताऊँगा।उसने कहा- मुझसे दोस्ती करोगे?मैंने झट से ‘हाँ’ कर दी।फिर तो दिन पर दिन हमारी दोस्ती बढ़ती गई और हम अपनी बातें एक-दूसरे से शेयर करने लगे।एक दिन उसने मुझे बताया कि वो अभी तक वर्जिन है।मैं नहीं माना. जो मुझे अपनी ओर खींच लें।‘मेरे बारे में तुम्हारा क्या ख्याल है?’ उसने पूछा।‘क्या मतलब?’‘क्या तुम मुझ पर कहानी लिख सकते हो.

क्योंकि सही से हस्तमैथुन कैसे करते हैं, मुझे ये उस वक्त ज्ञान नहीं था।उसकी सिसकारियां और तेज़ होती जा थीं ‘आह आह.

जो उसे और भी सेक्सी बना रहे थे। अब मैं उसकी मजबूत छाती तक पहुँचा और उसके पीछे खड़ा हो गया। मैंने अपने दोनों हाथों में लेप ले लिया और उसकी छाती के दोनों उभारों पर अपने हाथ रख दिए और बिल्कुल होली खेलने वाले ढंग से उसकी छाती पर लेप लगाने लगा।वाह. आपने अब तक अन्तर्वासना पर मेरी हिन्दी सेक्स कहानी के पहले भाग में पढ़ा. जबकि रोज़ाना मेरे दरवाज़ा खोलने पर वह मेरी ‘गुड मार्निंग’ विश का जवाब देकर चली जाती थी।मैंने उसे गौर से देखा और पूछा- क्या हुआ?वह झेंप कर चली गई।मुझे उसका व्यवहार अजीब सा लगा और फिर मेरा ध्यान मेरे लण्ड की तरफ गया.