बीएफ गंदा

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो राजस्थानी सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

देवर भाभी की देसी बीएफ: बीएफ गंदा, अब उसका मुँह मेरे पेट के पास था और इस वजह से उसके स्तन मेरे दोनों घुटनों पर दब गए.

मितवा मराठी मूवी

बच्चे की फीस का पैसा भी अब तक नहीं दिया है … स्कूल से भी रोज कॉल आ रही है. सेक्स की मूवीमैंने पहले भी बताया था कि मेरे पति की खासियत है कि जब तक वो नहीं चाहते, तब तक उनका वीर्य लंड से बाहर नहीं आता.

मैंने कहा- अच्छा चलो कोई बात नहीं … आप पढ़ाई करो और मैं मन में सोचने लगा कि प्रेशर तेरा तो क्या … तू मेरी बहन का प्रेशर निकाल कर आया है. डायमंड की कीमतलेकिन इस बार झड़ने के बाद वो और गर्म हो गयी और नीचे से अपने चूतड़ उठाने लगी.

तभी आंटी बोलीं- तुम ही विक्रम हो?तो मैंने बोला- जी आंटी, मैं ही विक्रम हूँ.बीएफ गंदा: उसकी खुली हुइ चूत मेरे लंड के ठीक सामने थी और मेरे लंड को आमंत्रित कर रही थी.

मैंने सोनू को फिर प्यार किया और कहा- ठीक है, आज से हम दोनों पक्के फ्रेंड हो गए हैं.उसके चूचे क्या कमाल के थे … गारी से गोरे … गोल और एकदम तने हुए मम्मे देख कर लंड हिनहिनाने लगा.

सांसो का क्या भरोसा रुक जाए चलते चलते - बीएफ गंदा

होंठ पर काटने से मैं दर्द से कराह उठा और जल्दी से अपने होंठों को नेहा के मुँह से छुड़वाकर उसके चेहरे की तरफ देखने लगा.आंटी की मोटी माँसल जांघें देख कर लगता था कि इनको दांतों से नोंच नोंच के खा जाऊं, पर क्या करूँ अभी मामला सैट नहीं हुआ था.

श्श्शशश … आआह्ह्ह …” की जोर‌ जोर से सिसकरियां भरते हुए अपनी कमर को भी जल्दी जल्दी ऊपर नीचे करने लगी. बीएफ गंदा प्रिया की चूत की खुशबू लेते हुए मैंने अब फिर से अपना काम चालू कर दिया.

मैंने विंडो ग्लास खोल दिया तो जगत अंकल बहाने से बोलते हुए मेरे कान में धीरे से बोले- ये दादा साहब तुम्हें बहुत पसंद करते हैं.

बीएफ गंदा?

मदन ने पूछा- सर बाइक पर बड़ा मज़ा आया … आपका तो बहुत बड़ा है, फिर से दिखाइये ना जरा. मैंने कार को हिलते देखा तो मुझे भी लगा कि सच में कोई चूत चुद रही है. अन्तर्वासना पर मैं पहली बार मेरे साथ हुई घटना को शेयर कर रहा हूँ, जो पहले कभी सपना था अब हकीकत में बदल चुका है.

आंटी वहीं खड़ी रहीं और बोलीं- कल एक व्रत है, जिसे सुहागन औरतें अपने पति के लिए रखती हैं और अब चूँकि मालिनी भी यहीं है, तो उसे भी रखना है. मैंने चाची के पेटीकोट को उसकी जांघों तक चढ़ा कर उनकी जांघों को सहलाना शुरु कर दिया. हमारी चुदाई के बाद जब हमने वापस अन्दर देखा तो हम तो फिर से उत्तेजित होने ही वाले थे क्योंकि अन्दर मॉम अपने पेट के बल लेटी थीं और नामित उनकी दोनों टांगें फैला कर अपनी जीभ से उनकी गांड के छेद को चाट रहा था.

तो मैं जा रही हूँ।मैं- अच्छा मेरी बन्नो, जा ले मज़े उसके लन्ड के और अच्छे से जाना।रजनी- तू भी ले ले मज़े आज अमित के।तभी अमित ने मुझसे चलने के लिए कहा और हम बाहर आ गए।अमित- राहुल और रजनी तो गए।मैं -हाँ।अमित- तो हम भी चलते हैं …मैं उसकी तरफ देखकर मुस्कराई और उसकी बाइक पर बैठ गई। अमित पूरी स्पीड से बाइक चलाने लगा और जल्दी ही हम एक अपार्टमेंट में जा पहुंचे. मैंने पूछा- क्या हुआ? तुम भी शराब पीते हो क्या?वो- नहीं नहीं … सर वो मैं सोच रहा था कि आप पीकर घर वापस कैसे जाएंगे, सो मैं रुक गया. कुछ देर उनका खेल ऐसे ही चलता रहा, लेकिन फिर सोनल उत्तेजना के चरम पर पहुंच गयी और अपनी दोनों टांगें भींच कर झड़ने लगी.

वो अपने हाथों को नीचे लाकर मेरी गांड को दबाए जा रहा था जो मुझे और ज्यादा उत्तेजित कर रहा था। मैं भी उसे चूमे जा रही थी. मेरे पति ने शादी की पहली ही रात में मुझे उनके भाई के बारे में बता दिया था.

मैंने एक बार में ही उसके सारे कपड़े निकाल दिए और उसपे टूट पड़ी, मैं बस उस वक्त उसके मम्मों को पूरी तरह निचोड़ देना चाहती थी.

वहां का माहौल बिल्कुल किसी पोर्न फ़िल्म के दृश्य जैसा था, जिसमें चुदाई के चक्कर में दो जिस्मों ने किसी सुनसान रात में कोई अस्त व्यस्त सा फार्म हाउस ढूंढ लिया हो और हल्की रोशनी में मानो भारी चुदाई होने की तैयारी हो.

लगता है कि अपने साथ तुम्हें ले जाऊं और तुम्हारे बदन से लिपटा ही रहूं. ये तो अभी मुश्किल से जवान हुई होगी, पर कोई रंडी भी इसके सामने नहीं लगती. थोड़ी देर चलने के बाद मेरी कार में से कुछ आवाज आने लगी और मेरी कार का टायर भी पंचर हो गया.

आगे बढ़ने से पहले मैं आप से फिर से विनती करता हूँ कि कृपया किसी का नाम पता ना मांगें क्योंकि मैं दोस्ती में किसी के साथ धोखा नहीं करता हूँ. मैं खुद पर काबू नहीं रख पाया और जल्दी से उसके पेटीकोट के साथ उसकी पेंटी भी उतार दी. बाद में मेरी बीवी खुशबू ने मुझे बताया कि कविता की उम्र 29 वर्ष होगी.

मैं इस चुसाई को अपने दिल और दिमाग में सदा के लिए कैद कर लेना चाहती थी.

बोलो न चाची रोज रोज चुदवाओगी न मुझसे?चाची- हाँ रे … अब तो रोज चुदवाऊंगी तुम से … तुमको जब भी मुझे चोदने का मन करे … आ कर चोद लेना. ये सब दीदी के साथ ही करना!” प्रिया ने झूठमूठ का गुस्सा दिखाते हुए कहा, मगर मुझे हटाने की कोशिश या फिर मेरा विरोध उसने बिल्कुल भी नहीं किया. उसने बिना मुझसे कुछ और सुने उस डिल्डो (जिस पर उसने पहले से ही कोई क्रीम लगा रखी थी) मेरी चूत के मुँह पर रख दिया और बोली- ले मीता तू आज से लड़की नहीं रहेगी … अब तू औरत बनने जा रही है.

तब मैंने उससे कहा- डरो मत, मैं तेल लगाकर प्यार से डालूंगा, जिससे तुम्हें दर्द नहीं होगा. उसके इतना बोलते ही मैं उसके ऊपर आ गया और उसकी टाँगें चौड़ी करके लन्ड डालने लगा. उसके बाद उसने अपना हाथ नीचे ले जाते हुए अपने अंडरवियर को निकाल दिया और फिर उसने मेरा एक हाथ अपने लंड पर रखवा लिया और मैं भी उसका लंड आगे-पीछे करने लगी और वो मेरी चूत में उंगली करने लगा.

प्रिया की बहन नेहा की चुत को उस रात मैंने देखा तो नहीं था मगर हाथों से महसूस जरूर किया था.

मैं डर की वजह से अपने कपड़े पहनने लगी लेकिन थोड़ी देर बाद ही वे दोनों कमरे में आ गए. अभी तक तो मैं सिर्फ एक बार ही चुदी हूँ … वो भी अठारह साल की उमर में … और अभी मैं 23 साल की हूँ.

बीएफ गंदा मीठी-मीठी पीड़ा के साथ हुई इस चुदाई में चूत तो अब फूल कर एकदम पावरोटी बन गई थी. ऐसा सच में होता है क्या?मैंने कहा- बिल्कुल होता है, तुम्हें करवाना है क्या?इस पर वो बोली- मैंने वो मजाक में कह दिया था, मैं ऐसा सोच भी नहीं सकती.

बीएफ गंदा मेरी दवाई अब और असर करने लगी और मेरे अन्दर क्या मस्त चुदास की आग भड़क गई थी. लेकिन उनका लुक एक गांव के जवान देसी चोदू ग्वाले जैसा लग रहा था, जो नग्न अवस्था में पशुओं को खाना पानी दे रहा था.

वो मेरे सर को अपनी चुची पर दबाने लगी और बोली- हां बिल्कुल ऐसे ही और जोर से!मैंने भी उसकी बात रखते हुए जोर जोर से चूची चूसना शुरू कर दिया और पूरे जोर से दूसरी चुची को दबा रहा था जैसे उसे उखाड़ ही लूँगा.

জম্বু কাশ্মীর

फिर बोली- यह तब तक अन्दर ही रहेगा, जब तक तुम ये नहीं बोलोगी कि हां मज़ा आ रहा है … इसको अन्दर रहने से तुझे मजा आ रहा है. मैंने उसे कई बार चोदा और भी कई लड़कियों को चोदा, पर उसे कभी इस बारे में नहीं बताया. इससे मुझे साफ पता चलता था कि उसकी चुत में खुजली हो रही है और वो चुदवाना चाहती है.

मुझे भी अब आदत हो गयी थी और ऐसे ही मैं भी अपने देवर से थोड़ा घुल मिल गयी हूँ. मैंने सोनू को खींचकर बेड के किनारे पर किया और उसकी दोनों टांगों को अपने कंधों पर रखकर उसकी चूत में लंड डाला. ओह्ह्ह्हह … मां … मुझे कुछ हो रहा है महेश्श्श … प्लीज कुछ करो … मैं मरर … जाऊंगी.

होंठ पर काटने से मैं दर्द से कराह उठा और जल्दी से अपने होंठों को नेहा के मुँह से छुड़वाकर उसके चेहरे की तरफ देखने लगा.

कुछ ही मिनट की चुदाई में ही मनीषा पहली बार झड़ गयी और उसका शरीर ढीला पड़ गया. मेरे पति का बहुत दिनों का सपना था कि वे मेरी चुत और गांड बदल बदल कर चोदें. उसने मेरी ट्रैक पैंट को उतार दिया और मेरे लंड को हाथ में लेकर सहलाने लगी.

वो बहुत अलग ही तरीके से मेरे होंठों में अपनी जीभ को धीरे धीरे ऐसे चला रहा था कि मेरी हालत उसकी हरकत से बिगड़ रही थी. छत्तू अगर मुँह में हाथ नहीं रखते, तो मैं चिल्ला चिल्ला के सबको यह पता करवा देती कि मेरी चुदाई हो रही है. मैं सोच रहा था कि मैं उसको फोन कर लेता हूँ लेकिन वो एक लड़की थी, मैंने सोचा कि कहीं उसको बुरा न लग जाए.

एक शाम, मैं अपने दोस्त के साथ एक सुनसान रोड पर बाइक पर बैठ कर सिगरेट पी रहा था. रूपा अपने दोनों हाथों की उंगलियों को मेरे बालों में घुमाते हुए सिसकारी भरी- ओह्ह सीईईईई मालिक बससस्स ओर्रर्रह बर्दाश्त नहीं हो रहा, आप जल्दी से पेल दीजिए ओह्ह्ह्ह्ह.

लंड डालने के बाद मैंने उसके घुटनों को मोड़ दिया और उसकी दोनों छातियों को पकड़कर भींचने लगा. छछो …ड़ो …” वो टूटे फूटे शब्दों में बोल ही रही थी कि मैंने अपने होंठ उसके रसीले होंठों पर रख दिए और उसके नर्म नाजुक अधरों को हल्के हल्के चूसने लगा. तब मैंने वंदना को बताया और मैं और वंदना के बीच में बातचीत शुरू हुई.

वास्तविकता भी ये थी कि हम दोनों लोग एक दूसरे के साथ सेक्स करना चाहते थे.

जब मैं चलने लगा तो मैंने अपना हाथ सोनू की तरफ बढ़ाया, सोनू ने मेरे हाथ को पकड़कर हाथ मिला लिया. पैन्ट नीचे करते ही चड्डी के नीचे से ही उनका लंड लग रहा था, जैसे एक हाथ का हो. इसलिए भाइयो, किसी से दिल मत लगाओ, जो मिले उसे चोद लो या उससे चुद लो.

इसके बाद उन्होंने दीदी को पैसे दिए और कहा- अब तू जा और अलगे हफ्ते दुबई से कुछ लोग आएंगे, हम तुझे फोन कर देंगे तो तू से फिर आ जाना. मैंने चाची की दोनों चुचियों को जोर जोर से मसलते हुए जोर से धक्का मारा.

नेहा ने हँसते हुए कहा- तो अब देख ले, सीट का पर्दा बन्द कर देते हैं. फिर मैंने अपने लंड का सुपारा उसकी चूत पे टिकाया और हल्का सा एक धक्का दे मारा. तकरीबन एक हफ्ते बाद ऑफिस में मेरी थोड़ी तबियत खराब होने लगी तो मैं छुट्टी लेकर घर आ गया.

अमरपाली की सेक्सी मूवी

प्लीज समझ भाई … तू मेरा भाई है, मैं तेरे सामने ऐसा थोड़ी कर सकती हूं.

वो बुरी तरह से थक गई थी तो मैंने उसे घोड़ी बनने को कहा और पीछे से जोरदार चुदाई करने लगा. मैं उत्तरायण स्नान के एक दिन पहले दोस्त के घर गया, तो उसने मुझे सबसे मिलाया. बाथरूम से आकर वो मेरे ऊपर ही लेट गयी और हम दोनों काफी देर तक इधर उधर की बातें करते रहे.

और फिर अपने आप मेरी आंखें बंद हो गयी, मैं उस लम्हे में डूब गयी।फिर मैं और वो एक दूसरे के होंठों को चूस रहे थे। लगभग दो मिनट तक मुझे किस करने के बाद उसने मुझे छोड़ दिया। मैंने आँखें खोली, अब मेरा डर निकल चुका था और मैं मुसकुराते हुए नीचे देख रही थी।हर्षिल बोला- यार तुम इतनी मासूम सी हो दिखने में … कि ज़बरदस्ती करने का दिल नहीं कर रहा।और मैं मुस्कुरा दी।कहानी अगले भाग में समाप्त होगी. मेरा तो क्या, सामने ऐसा सीन देख कर किसी का भी लंड सिर्फ हाथ से ही झड़ जाए, यहां तो नेहा आंटी इतनी सेक्सी मदमस्त तरीके से लंड अपने मुँह से चूस रही थीं. लव यू बेबीमगर मैंने बिना देर किए अपने तने हुए 8 इंच लंबे 4 इंच मोटे मूसल से लंड की फोटो सेंड कर दी.

फिर कुछ देर बाद उन्होंने मेरी पैंट को खोला तो मेरी चड्डी में मेरे लौड़े ने आतंक मचा रखा था. जब तक उसको मेरी चूत में पूरी तरह से फँसा ना दिया, वो नकली लंड को मेरी चूत में पेलती रही.

चूंकि उषा झड़ चुकी थी, तो उसे अब मजा नहीं आ रहा था और मेरा शरीर उसे बोझ लग रहा था, ये बात मैं समझ रहा था. मैं उनकी चूत को अपनी जीभ से चोद रहा था, जिससे वो थोड़ी ही देर में झड़ गईं. यह मेरी पहली कहानी है, कुछ गलती हुई हो तो अपनी गीली चूत से माफ कर देना.

मैंने पूछा- मैं जीजा जी के पास ही सो जाऊं?दीदी ने हां कह दी, तो मैं अपने जीजाजी के साथ जाकर सो गई. इस बार फचाक की आवाज से लंड कौशल्या की चूत को चीरता हुआ पूरा अन्दर तक घुस गया. मुझे पहले तो काफी दर्द हुआ लेकिन बाद में उसके लंड से चुदकर मेरी गांड खुल गई और मैं उसकी चुदाई का आनंद लेने लगी.

फिर तौलिये से एक दूसरे के बदन के एक एक अंग को पौंछा और बिना कपड़ों के बेडरूम में आ गए.

चाची ने उस समय सलवार सूट पहना हुआ था और उस पर उस समय उनकी चुन्नी भी नहीं थी जिसकी वजह से उसके दोनों बूब्स इतने बड़े गोरे नजर आ रहे थे कि वो मुझे साफ साफ बाहर निकले हुए दिख रहे थे इसलिए कुछ देर तो मैं उसको अपनी चकित नजर से देखता रहा!मैंने उनसे दही माँगा तब चाची ने मुझे बैठने के लिए कहा और वो दोबारा पौंछा लगाने लगी. फिर जगत अंकल ने पीछे तरफ से मेरी स्कर्ट को ऊपर उठा दिया, तो मेरी गांड तक मैं बिल्कुल नंगी सी हो गई.

जब तक मालती दूसरा डिल्डो निकाल कर उसकी बेल्ट पूरी तरह से बाँधती, मेरी चूत फिर से अपनी पुरानी शक्ल में आने लगी. तभी मेरी निगाहें उसकी आंखों से मिलीं तो वो बड़े ही कातिलाना अंदाज से अपने होंठ चबाने लगी. ऐसा बोल कर वो घुटनों पर आ गया और उसने मेरे सोते हुए लंड को अपने मुँह में भर लिया.

मैंने बहुत हल्का मेक-अप किया और एक बहुत टाइट जीन्स की पैंट पहनी जिसमें से मेरी गांड का उभार साफ़ दिखे और एक गहरे गले का टॉप पहना. मेरे गांड में लंड न लेने की बात को वह मान तो गए लेकिन बिल्कुल गांड ही ही तरह मुख की चुदाई का आग्रह करने लगे, जिसे मैंने सहर्ष स्वीकार किया. अरुणा घोड़ी बन गई अैर अंकल ने पीछे से अपना लौड़ा उसकी चूत में एक बार में ही घुसा दिया.

बीएफ गंदा और यह सब अपने आप ही हो रहा था, मैं ऐसा सब कुछ सोच समझकर नहीं कर रहा था. मेरा दूसरा हाथ मामा की छाती पर था और मैं मामा के कान के पास जाकर अपने मुँह से आह.

सेक्सी मंगल

फ़ोन उठाने पर उसने तो पहले मेरा हाल चाल पूछा, फिर बहाने से यह कहकर बात आगे बढ़ाने लगा कि मैं अकेली हूँ, सब ठीक ठाक है, वही सब पूछने को फ़ोन किया था. फिर फोन बंद करके अमीषा ने मां से बात की और उसको भी मना लिया। इसी से घर की बात घर में रहेगी और किसी को कोई प्राब्लम नहीं होगी।अगले दिन वो आया तो अमीषा ने देखा कि वो माँ से कुछ बात करने लगा. जैसा कि मैंने अपनी पिछली कहानियों में बताया था कि मैं ग्वालियर शहर में रहकर अपनी पढ़ाई कर रहा हूँ और मैं शहर से थोड़ी दूर एक छोटे शहर या कस्बे का रहने वाला हूँ.

उसने धीरे-धीरे डिल्डो को अपनी चूत में लेना शुरू किया और उसको दर्द होने लगा. अब जब भी वह घर पर अकेली होती है तो मैं उसकी चूत चुदाई करके उसको संतुष्ट करने पहुंच जाता हूँ. 16 साल लड़की का सेक्स वीडियोमदन ने पूछा- सर बाइक पर बड़ा मज़ा आया … आपका तो बहुत बड़ा है, फिर से दिखाइये ना जरा.

इसके बाद दो ड्राइवर मुझे चोदने के लिए मेरे साथ एक अलग कमरे में आ गए.

फिर उसने अपना लंड नेहा की चूत में डाला और तेजी से अन्दर बाहर करने लगा. चाची के बाद अब तक मैं 2 कुंवारी लड़कियों और दो शादीशुदा महिलाओं के साथ सेक्स कर चुका हूँ.

बात उस समय की है जब मैंने एक सोशल साइट पर कॉल ब्वॉय की आई-डी बनाई थी. उसके बाद हमने इस बात को छोड़ दिया और दूसरी बात करने लगे, लेकिन अब हमारे बीच थोड़ी-थोड़ी एडल्ट और सेक्सी बातें होने लगी थीं और हम एक-दूसरे को एडल्ट जोक्स भी भेजने लगे थे। फिर कुछ दिन के बाद फिर हम फोन पर चैट करते हुए बात कर रहे थे, जो कुछ ऐसी थी-मैं- तुमने ड्रिंक की है कभी?नेहा- ना कभी नहीं, तुमने?मैं- हाँ, मैंने तो बहुत बार की है. मैं भी अपनी सहेली के पति से बात करते करते खुल गयी थी और वो भी मुझसे खुलकर बातें करने लगे थे.

जब मैंने उसका हाथ नहीं छोड़ा तो पता नहीं उसको क्या सूझा, उसने अपने बदन के भार से धकेलकर मुझे बिस्तर पर गिरा लिया और खुद भी‌ मेरे साथ साथ मेरे ऊपर ही गिर गयी.

मुझे भी गुस्सा आ गया था, मैंने वैसे ही हाथ हटाया, तो तुम मुझसे लिपट गईं. थोड़ी देर देर बाद हम दोनों फिर चार्ज हो गए और मैंने फिर से चुदाई शुरू कर दी. लिहाजा बगल में रखे हुए थर्मस से गरम पानी निकालकर उसने पहले अपनी चूचियों से लेकर पेट से होते हुए चूत तक की सफाई की.

सेक्सी मद्रासी मूवीफिर दोनों हाथों से उसकी कमर को जोर से पकड़ा, अपनी तोंद उठाई, हल्के से लंड को उसकी चूत पे टिकाया और एक जोर का शॉट लगा दिया. इसलिए मैं खुद ही राहुल को अपनी चुदाई करने के लिए बुला लेती हूँ। वह आता है और मेरी चुदाई करके चला जाता है.

अक्षरा सिंह का सेक्सी वीडियो भोजपुरी

उसकी गर्म चूत पर मैंने जैसे ही जीभ रखी तो वह तड़प उठी और उसके मुंह से सिसकारी निकल गई. जो बुड्ढे से मियां थे, अनवर उन्हें बोला- भाई जान आप भी जल्दी से उतार लो. हमारी बातें अब तक सिर्फ़ फोन से ही होती थी, मिलना तो मुमकिन नहीं था पर एक दूसरे को आमने सामने आना भी नसीब नहीं होता, बस कभी फोन और वीडियो कॉल हो जाती थी.

मैंने ख़ुशी ख़ुशी उसे नंबर दे दिया और उसका मोबाइल नंबर भी ले लिया।छुट्टी के दूसरे दिन उसका फोन आया- क्या हो रहा है सुन्दर साहब?मैंने कहा- कुछ नहीं … बस तुम्हारे बारे में ही सोच रहा था। लगता है गेम बढ़िया तरीके से सीख गयी हो?हाँ … जब आप सिखाओगे तो बढ़िया ही सीखूंगी. उसकी हरकतों से मुझे सब पता लग रहा था कि अब असल में भी चुदवाना चाहती है. मैंने तीन-चार ज़ोरदार धक्के मारे और मैंने अपना वीर्य उसकी गांड में गिराना शुरू कर दिया.

मेरी बहन ने जीजा जी को धकेलते हुए कहा- ये तुम दोनों क्या कर रहे हो?मैं तो कुछ बोल ही नहीं पाई. मैंने अपनी एक उंगली उसकी गांड में डाल दी और वो एकदम से उछल कर उतर गयी. ये कहते हुए उसने मुझे उल्टा करने की कोशिश की, तो मैं उल्टा हो गयी और अपने घुटनों पे अपने शरीर का वजन डालते हुए अपनी गांड उसकी तरफ उठा दी.

मैंने उसकी चुची दबाते हुए अपने पैर मेज़ पर से नीचे किये और उसे गोद में ले लिया. वैसे अजय ने भी कोई जल्दबाजी नहीं दिखाई मुझसे गंदी बात शुरू करने में.

मैं हैरान था जिसकी मैं कल्पना करता था आज वो मेरे सामने नंगी पड़ी है.

शायद उसके शौहर ने आज तक उसकी चूत नहीं चाटी थी, इसीलिए वो इस मदहोशी से पागल सी हो गयी. साउथ की हीरोइन के सेक्सी वीडियोसाथ ही साथ मैं अपने हाथों से चाची के निप्पलों को खींच कर दबा रहा था. पुष्पा फिल्म फुल एचडीअब मुझसे भी नहीं रहा गया तो मैंने भी उसके कपड़े निकालने शुरू कर दिए ताकि मैं भी उसके दूध पी सकूं. वो मेरे कंधे को पीछे से पकड़ कर बहुत तेजी से धक्के लगाने लगा और एक मिनट के अन्दर ही रमीज का पूरा रस मेरी गांड में भर गया.

फिर मैंने उससे बात की और उसने 25 दिसम्बर की शाम का वक्त फिक्स कर दिया.

इस हालत में मैं बिल्कुल पागल सी हो गई और अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था. तो यह देखकर सोहन और हेमा दोनों ने थ्रीसम का प्लान बनाया और सोचने लगे कि किसको बुलाया जाए. दोपहर का खाना खाकर में रोहन के कमरे में सो गया और शाम को उठा तो छत पे जाकर घूमने लगा.

चूंकि वो उम्र में उनसे 10 साल छोटी थी, इसलिए उनमें अभी बहुत सेक्स का खुमार बाकी था. मैंने नेहा से पूछा- फिर बोल … क्या करना है?नेहा कामुक मुस्कान के साथ बोली- हम दोनों की चुत को ठंडा करना है, बस तुम साथ दो. मैंने इस बीच उसका गाउन उतारा और उसकी गदराई हुई जवानी को देख देख कर मस्त होने लगा.

इंडियन इंडियन सेक्सी पिक्चर

मैंने अपनी टी-शर्ट और जीन्स उतारी और उसके गाउन के ऊपर से ही उसकी चूचियों को सहलाने लगा. तभी गैब्रियल ने अब अपना लंड तेजी से निकाला और मेरी गांड में घुसा कर अपनी पोजीशन थोड़ा सा ऊपर किया और मेरे कूल्हों को हाथ से फैलाया और अब वो बैठ कर मेरी चुदाई करने लगा. जिससे ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… इइईईई … श्श्शशश … ओय्य्येऐऐऐ …’ की आवाज के साथ प्रिया के मुँह से सिसकारी निकल गयी और उसने दोनों‌ हाथों‌ से मेरे हाथ को पकड़ लिया.

मुझे आज ये बात समझ आ गई थी कि जब औरतों को लंड नहीं मिलता है, तो वे किसी से भी चुदवाने लगती हैं.

इतना कहते ही उसने मेरी पैंट खोलकर मेरी चड्डी पर ही जीभ से सहलाने लगी और झटके से चड्डी को नीचे कर मेरे लौड़े को मुंह में भर लिया और पूरे 5 मिनट तक भूखी शेरनी की तरह मेरे लौड़े को चूसती रही.

करीब 5 मिनट बाद ही मेरा माल निकल गया क्योंकि मैंने कुछ दिनों से मुठ्ठ भी नहीं मारी थी. उन्होंने चुदासी सी आवाज में कहा- नहीं, पानी डालने से फफोले आ सकते हैं. रात कैसे बनाएंआह … क्या गर्म चूत थी उसकी, मानो किसी आग की भट्टी पर ही मैंने अपना हाथ रख दिया हो … मैं अच्छे से उसकी चुत को सहला कर देखने लगा.

मैं- अच्छा, फिर तुम क्या करती हो?सरिता- जाने दो, मुझे नहीं बोलना, तुम खुद ही समझ लो. मैंने कई बार कोशिश भी की कि उसको अपना लंड चुसा दूँ लेकिन वह हमेशा मुझसे यह कहकर मना कर देती थी कि उसको लंड मुंह में लेना पसंद नहीं है. तभी मेरी फूफी की बेटी ज़ीनत यानि मेरी बहन भी मेरे पास आ गयी और मेरे एक कान का इयरफोन निकाल कर अपने कान में लगा कर वो भी गाने सुनने लगी थी.

अब तक इस सेक्स कहानी के पहले भागमेरी मस्त पड़ोसन की चाय और गर्म चूत-1में आपने पढ़ा था कि दोस्तों के साथ दारू पीने के बाद दोस्तों के उकसाने पर मैंने अपनी कामुक पड़ोसन कौशल्या के घर चला गया था. जब वो चले गए तो मैंने राहुल को उठाया।राहुल ने पूछा- भाई कहां है?तो मैंने उन्हें बता दिया कि वो कल आएंगे.

उसने बोला- बाहर विराट आ गया होगा और मेरी मॉम भी सोच रही होगी कि मैं कहां हूँ तो अभी रुक जाओ.

मैं उस दुकानदार के पास गया और उससे पूछा कि कोई जुगाड़ हो सकता है क्या?वह बोला- साहब, अकेले सफर कर रहे है क्या?मैंने हां में जवाब दिया. मुझे चूत चाटने का बहुत मन करता है और जब भी सेक्स करता हूँ, तो चूत जरूर चाटता हूँ. कुछ ही देर में हम दोनों सेक्स की 69 की पोजीशन मैं होकर एक दूसरे को चाट रहे थे.

गर्ल सेक्स एचडी वीडियो मुझे चूत चाटने का बहुत मन करता है और जब भी सेक्स करता हूँ, तो चूत जरूर चाटता हूँ. फिर उसने पास में ही पड़ी हुई क्रीम की बोतल उठाई और काफी सारी क्रीम अपने लंड और मेरी चूत पर लगा दी और अपने लंड को मेरी चूत पर सेट कर लिया.

वो नीचे से कमर उठा कर लंड ले रही थी और बोले जा रही थी- यसस्स कम ऑन … जोर से चोदो अहहह अहह … अहहह … बड़ा मजा रहा है. मैं भी उसका हाथ‌ पकड़े रहा और जबरदस्ती उसके गाल पर चूम लिया, जिससे वो और भी जोर से गुस्सा हो गयी. सुलेखा‌ भाभी के‌ जाने‌ के बाद मैंने भी अब अपने‌ कपड़े‌ पहन‌ लिए और फिर से बिस्तर पर ढेर हो गया.

ब्लू पिक्चर फिल्म सेक्सी वीडियो में

उसके बाद राहुल ने मुझे पलटा दिया और मेरी गांड को दबाने और सहलाने लगा. गुड़िया लगातार सिसिया रही थी- आह … आ … आऊ … बाबू स्लोली कर … दुख रहा है. चूंकि कार में गजल सांग बज रहा था और साउंड सिस्टम की आवाज कुछ तेज थी.

मेरे एक बड़े भाई की शादी 5 साल पहले ही हो गयी थी और इस बार 2 लोगों की शादी एक साथ होनी थी. बहुत देर तक सोनू मेरे ऊपर लेटी रही और लंड को लेकर ऊपर नीचे होती रही.

भाभी- मतलब कुछ किया विया भी नहीं उसके साथ?मैं हंस कर बोला- हां बस किस वगैरह किया था.

शर्म के मारे उन्होंने अब तुरन्त ही अपनी साड़ी व पेटीकोट से अपनी चुत को छुपा लिया और उठकर बिस्तर पर बैठ गईं. वो तो मैंने धीरे धीरे उस आदमी को मौसी के मन से निकाला है और बड़ी मुश्किल से तैयार किया है इस सबके लिए!”मौसी ने दुबारा शादी क्यों नहीं की?”पहले तो मौसी उसका इंतज़ार करती रही और अब वो करना नहीं चाहती … कहती है कि उम्र हो गई … अब क्या करना शादी करके. इन सालों में मैंने हजारों बार उसे चोदा होगा और लंड तो पता नहीं, कितनी बार चुसाया होगा.

फिर मैं दोपहर के समय आया तो मैंने देखा कि ज्योति मेरे ही रूम में सोई हुई थी. अगर सही तरीके से किया जाए तो इतना दर्द शुरू में लड़की को होता भी नहीं है. तब उन्होंने कहा- तुम सिर्फ मुझे राजा बोलो और यह अंकल मंकल अब से मत बोलना.

उस वक्त तक मेरी कई सहेलियों के बॉयफ्रेंड थे और वो बहुत मज़े लेती थीं.

बीएफ गंदा: मैंने उसे बेड पर लिटाया और अपना हाथ धीरे से उसके चूचुक तक पहुंचा दिया. उसका मन लंड लेने का दिखने लगा, तो मैंने लंड सहलाते हुए कहा- इसे अन्दर लेना है?उसने हां में सर हिला दिया.

मैंने आज तक उनको वासना भरी नज़र से नहीं देखा था लेकिन उस दिन पहली बार मेरी नज़र उनके बदन पर गयी. उसके मोटे लंड ने मेरे अंदर की प्यास को अच्छी तरह शांत कर दिया था इसलिए उससे जुड़ाव हो गया था. तो मैंने उसकी चूत से लन्ड निकाल कर उसके मुँह में दे दिया और वो मुँह में लेकर चूसने लगी.

उसकी सुर्ख गुलाबी सुपारे से अंदाज लग गया कि वो पहले से ही अत्यधिक उत्तेजित था.

कितना मजा देती है आपकी गुंदाज चूत मेरे लंड को … आह बड़ी मस्त चूत है आपकी … ओह … मेरी मस्त चूत वाली चाची … मेरी छिनाल चाची … मेरी चुदक्कड़ चाची … मेरी रंडी चाची … ले और अन्दर तक लंड ले!चाची का जोश और बढ़ गया. ऊपर से नेहा जोर जोर से सांसें ले रही थी, जिससे उसकी मुनिया में संकुचन व प्रसारण भी हो रहा था. खैर नीना ने अपनी हमराज सहेली मनीषा से इसका प्राथमिक इलाज पूछा, तो मनीषा ने हंसते हुए चुटकी ली- भाई साहब तो हैं नहीं … किसके साथ टांका भिड़ गया मेरी मैडम का? ऊपर से बेरहम ने इतनी तगड़ी धुनाई कर दी.