ओके गूगल बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ मराठी

तस्वीर का शीर्षक ,

लंड और चूत का खेल: ओके गूगल बीएफ वीडियो, अन्तर्वासना का नाम सुनते ही वो लेडी एकदम से चहक उठी और बोली- वाह, तुम भी अन्तर्वासना साईट के फैन हो.

मोतियों की बीएफ

तो आंटी ने मुझे उसी नीचे वाली सीट पर ही बैठने को कह दिया ताकि हम दोनों आराम से बैठ सकें. करीना कपूर का बीएफ एचडीदोस्तो, मेरी कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि मैं जॉब तलाश करने के लिए दिल्ली में पी.

मुझे लग गया कि ये सगे भाई बहन का नाता नहीं रहा, अब ये अलग नाता बन गया है. नई-नई लड़कियों की बीएफ सेक्सीमैं भाभी की चूत को धीरे-धीरे सहलाने लगा, उन्होंने मुझे खींच लिया और मेरे मुंह को अपनी चूचियों में दबाने लगी.

पर आपने कभी मेरे बारे में सोचा कि आपके बिना मैं यहाँ कैसे रह रही हूं?”तुम लोगों के लिए ही तो मैं बाहर रहता हूं.ओके गूगल बीएफ वीडियो: इसके बाद सुदीप का जब भी मन करता है, वो मुझे चोदने मेरे रूम पर ही आ जाता है.

दोपहर का खाना खाने के बाद मैं और मम्मी जी साथ में बैठे … ना तो मम्मी जी कुछ बोल रही थीं और न ही मैं.आखिर में मैंने एक बहुत ही ज़ोरदार झटका मारा, तो मामी जी के मुँह से फिर से चीख निकल गई- अहहहहाआ … मररर्रर गईई.

सेक्स वीडियो सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ - ओके गूगल बीएफ वीडियो

मैंने सोचा कि इतनी सुंदर और सभी को आकर्षित करने वाली महिला के साथ आखिर क्या वजह हो सकती है कि रिश्ते अच्छे नहीं हैं.कुछ मैडम के बालों पर गिरा, तो कुछ लौंदे उनके गाल पर और कुछ ने उनके गले और चूचुक के ऊपरी भाग पर ठिकाना लिया.

उस दिन बर्थडे पे हम दोनों सभी क्लास खत्म करके नाइट आउट के लिए बाहर निकल गए. ओके गूगल बीएफ वीडियो रिया ने कहा- यार अबकी बार बहुत दिन हो गए मुझे एक साथ कई लंड से चुदने का मजा नहीं मिला.

लेकिन मैं तो ऊपर से लगा हुआ हुआ था पूरी जोश से उसे पेलने में! मेरा लंड जब जोर जोर से भाभी की चुत के अंदर बाहर होता तो इंदु की चूचियाँ हिलती तो मुझे और अधिक आनंद आता.

ओके गूगल बीएफ वीडियो?

यह कहानी मेरी खुद की ही आपबीती है जो मेरी गर्लफ्रेंड के साथ हुई थी. ज़रीना जोर से चिल्लायी। खून की धार बह निकली मेरी नई दुल्हन की गांड से!डरो मत मेरी जान! अब मेरा लंड पूरा का पूरा तुम्हारी गाँड में है, सब ठीक हो जायेगा. विनय ने भी दीदी के बालों को पकड़ा हुआ था और उनके मुंह को अपने लंड की तरफ धकेल रहे थे.

इस बात से भाभी एकदम से शर्मा गईं … और बोलीं- चलो दूर हटो … अभी मुझे काम कर लेने दो, दिन में होली खेलेंगे. तब बृजेश आगे आ गया, अब प्रेम और बृजेश के लंड मेरे मुंह में जाने लगे. मैंने उसको उठाने की कोशिश की, पर उसने बोला कि अभी उसका लंड खड़ा नहीं हो सकता.

जब प्रसंग पूरी तरह से चुदाई करके अपने घर चला गया तो मैंने आरती से कहा- यार, तुम तो बहुत पहुँची हुई चीज़ हो. उसने बोला- प्लीज़ इसे बंद करो, इसको देखने से अच्छा है कि हम खुद ये करते हैं. राजन एकदम से डर सा गया और उसने अपने दोनों ही हाथों को अपने लिंग के ऊपर रख लिया और अपने लिंग को छिपाने की कोशिश करने लगा.

जिससे मुझे समझ आ गया था कि मैडम जी हो न हो चूत चुदवाने के जॉब की बात कर रही हैं. मेरे पूछने पर उसने बताया- मेरा नाम रितिका है और मैं देहरादून के एक इंजीनियरिंग कालेज के हॉस्टल में रहकर अपनी पढ़ाई कर रही हूँ और मैं पहली बार सेक्स करके अपनी सील तुड़वाना चाहती हूँ और दो तीन दिन आपके साथ बिताकर प्यार करना चाहती हूँ.

उसके लिंग का उभार अंडरवियर पर साफ़ नज़र आ रहा था, मानो मेरे योनि को चीरने के लिए तैयार हो.

मेरा नाम जोर्डन (बदला हुआ नाम) है, मेरी उम्र 27 साल है। इस समय में सीकर (राजस्थान) में रहता हूं। मेरी बॉडी एवरेज बॉडी है दिखने में ठीक ठाक हूँ और लण्ड का साइज 7.

दोनों ने दस मिनट तक चुदाई का मजा किया … फिर दोनों ने एक एक करके रिया की चुत में लंड डाल कर चुदाई करने लगे. मैं भी ओकेज़नली पी लेता था इसलिए नवीन के कहने पर मैं भी उनके साथ शामिल हो गया. मुझे भी नहीं पता था कि ये तो बस एक शुरूआत है और ज़िंदगी ना जाने अब और कैसे मीठे यौन कामना के एहसास करवाएगी.

मैं लंड को उसकी चूत में डाले ही उसके ऊपर लेट गया और उसको चूमने लगा और लंड सिकुड़ कर धीरे धीरे बाहर निकलने लगा और साथ में चूत में से खून मिक्स वीर्य भी निकलने लगा। अब मैं उसकी बगल में लेट गया और होंठों को चूमता रहा. रात को करीब 10 बजकर 15 मिनट के आस-पास मैंने अपने घर का रूम लॉक किया और मैं बाहर निकल गई. मैं साइड टेबल से सिगरेट का पैकेट उठा कर सिगरेट पीने ही लगा था कि उसने मुझे फ्लास्क से दूध निकाल कर गिलास को भर कर दिया … जो नीम गरम था.

थोड़ी ही देर में यह कड़क लंड मेरी नीना की चूत में सरपट दौड़ लगाने के लिहाज से तैयार हो गया.

अपने मित्र को मैंने कह दिया कि वह जैसा भी काम मुझे बताएगा मैं वही काम करने के लिए तैयार हूँ, लेकिन मुझे आमदनी अच्छी होनी चाहिए. मिसेज पाटिल मुझे सभी जगह चूमे जा रही थीं और एक वासना भरी निगाह से देख रही थीं. घर की सारी ज़़रूरतें पूरी हो जाती हैं और बेटियों की पढ़ाई का खर्च निकलने के बाद भी हमारे पास पैसों की कमी नहीं होती है.

मैंने उसपे छोटी सी चुम्मी दी और नीचे से ऊपर चाटा, वो तो चिल्ला उठी और लगभग चीखते हुए बोली- उम्म्ह… अहह… हय… याह… चूसो मेरी चुत. मैंने एक डॉटेड का पॅकेट उठाया और जल्दी से पे करके उसके अपार्टमेंट पहुँच गए. ”मैंने तो पहले ही कहा था कि मेरा लंड पूरी तसल्ली करवाने में माहिर है.

मामी बोली- मेहमान जी! आपने ऊषा को कहाँ-कहाँ छुआ था?विपिन बोले- कितनी बार तो माफी मांग चुका हूँ मामी.

इतनी सुन्दर गुलाबो को देख मेरे मुँह से निकला- वाह!! तुम तो गुलाब ही हो. मैंने अपने दोनों हाथों से उसके पजामे को नीचे सरकाने की कोशिश की मगर वह अभी पजामा उतारने के लिए तैयार नहीं थी.

ओके गूगल बीएफ वीडियो और उसे कभी कभी अपने बदन के ऊपर दबा लेता जिससे वो पूरे नंगी मेरे साथ चिपक जाती. वह बार-बार मेरे हाथ को रोकते हुए अपने पजामे को ऊपर की तरफ खींचने की कोशिश कर रही थी.

ओके गूगल बीएफ वीडियो करीब 20-25 जबरदस्त शॉट लगाने के बाद मैं उसकी गांड में ही झड़ गया और उससे लिपट कर कुछ देर शान्त हो गया. मेरी जेठानी अड़ियल तरह से मुझसे व्यवहार करने लगी थी और मैं भी कुछ नहीं कर सकती थी.

कुछ पल बाद चूत के रस से चिकना होकर लंड का आधा भाग में चूत में जा घुसा और उसके बाद एक झटके में पूरा लंड अपनी चूत में उतरवा लिया हमारी ऊषा रानी ने.

गधा कैसे बोलता है

मैं कुछ नहीं बोली, तो मामा खड़े हो गए और कस के मुझे अपनी बांहों में भर लिया. मणि ने कोमल की चूत में लंड पेल दिया और संजय ने कोमल के मुँह में लंड में दिया हुआ था. वो मुझसे अब ऐसे व्यवहार करने लगी, जैसे मैं उसकी शिक्षिका हूँ और वो मेरी शिष्या है.

फिर तू मिल गया और तेरे भैया तो कल ही चोदेंगे ना, तब तक मैं बिना लंड के नहीं रह सकती. पर चपड़ चपड़ की आवाज साफ सुन रही थी मैं।दीदी बुरी तरह तड़पकर लगभग चिल्लाने लगी- जल्दी चोदो मुझे … बर्दाश्त नहीं हो रहा. मगर क्या आपने सोचा कि यदि कोई आपकी पसंदीदा हिरोइऩ किसी दिन आपके सामने ऐसे लिबास में आ जाए, जिसमें से उसका मलाई बदन करीब से निहारा जा सके तो आप पर क्या गुजरेगी.

उनकी चूत ऐसी लग रही थी, जैसे एक छोटा करेला किसी ने छील कर बीच में से चीर दिया हो.

उसके बाद अनन्त जीजू ने अपने लंड को दीदी के चूचों के बीच से निकाल लिया और एक तरफ हट गए. फिर हमने अपना अपना ग्लास उठाया और चियर्स करके गिलास होंठों से लगा लिए. भाभी के स्तन बड़े ही जोरदार थे, मैं उनको चूसना चाहता था पर भाभी मेरे ऊपर थी और मेरे होंठ चूस रही थी इस कारण मैं उसके स्तन चूस नहीं पा रहा था.

कुछ समय बाद उसने मुझसे कहा- करीम, तुम्हारे लंड के में पूरे मजे ले रही हूँ … पर तुम मुझे धीरे धीरे करके चोदो तुम्हारा लंड मेरी नाभि को ऊपर की ओर भेज रहा है. मुझे समझ नहीं आया कि क्या कहूँ।मैंने कहा- जब कोई सामने से दिखाएगा तो कौन गधा होगा जो नहीं देखना चाहेगा. हम दोनों का किस कब स्मूच में बदल गया, कब हमारी जीभें एक दूसरे के मुँह में आने जाने लगीं, पता ही नहीं चला.

आनंद लीजिए।सलाम वालेकुम दोस्तो, मैंबिलकिस बानो, आपको तो याद ही होऊँगी, पहले भी मेरी कई कहानियाँजैसेमेरे घर में सेक्स का नंगा नाचअब्बू के बाद भाई जान ने बहन को चोदाआयी और आप लोगों के बहुत सारे मेल भी आए. और इमरान का जब तक इलाज नहीं हो जाता, तक तक रोकते हैं, फिर देखते हैं.

सुधा ने आगे की कहानी बताते हुए जारी रखी- ममता, हम लोगों का प्लान ‘ए’ तो कामयाब रहा. नमस्कार दोस्तो, कैसे हो आप सब? आप सब ने अन्तर्वासना पर बहुत ही गर्म कहानियाँ पढ़ी होंगी. घोष बाबू- अरे आप सर को जानती हैं? पर कैसे? मेरी तो आज पहली मुलाकात है इनसे!मोहिनी जी- आपको काम से फुरसत मिले तब ना आप जानेंगे जी.

मैंने उससे कहा- साक्षी चाय क्यों ले आई … मुझे तो तुम्हारा दूध पीना है.

चिन्टू की अटपटी सी बातें सुनकर मीना को थोड़ा गुस्सा आया और उसके माथे पर सिलवटें उभर आई, वो बोली- तू क्या कह रहा है? मतबल क्या है तेरा?कुछ नहीं मौसी, आप मेरे पास बैठो और बताओ कि मौसाजी कब आएंगे?” उसने पूछा. तो दोस्तो, बात ऐसी है कि पिछली कहानी में आपने पढ़ा था कि मेरे घर में सामूहिक चुदाई का हंगामा मचा हुआ था और मेरे घर के सभी लोग नंगे एक साथ एक ही पलंग में सोये हुए थे. यह बात अब से काफी पुरानी है, जब मैं अपनी ज़िन्दगी का काफी समय अपने मामाजी के गांव में बिताया करता था.

नहीं मौसी, मैं मज़ाक नहीं कर रहा … आप मुझे सच में बहुत पसंद हो, मेरा दिल बस आपको देखते रहने का करता है, इसीलिए तो मैं आपके घर बार बार आता हूं. मै, बृजेश, निकुंज और उसके दो दोस्त प्रेम और आदिल … इस तरह कुल मिला कर हम पांच लोग थे.

वो झड़ने वाली थी तो मैंने धक्कों की स्पीड और गहराई बढ़ा दी और सिसकारियां भरते हुए झड़ने लगी. कुछ ही देर में वह दोबारा गर्म हो गई और मुझे पकड़कर अपनी तरफ खींचने लगी. दे गुरु दक्षिणा अपनी इस गुरु को!मैंने कहा- बोल क्या दूं?उसने कहा- अपनी चूत और मम्में मेरे पास गिरवी रख दे.

हार्ड सेक्सी हिंदी में

वह बहुत धीरे-धीरे और बड़ी अदा से बात करती थी, आंखें हमेशा उनकी ऐसे रहती थी जैसे उन्होंने ड्रिंक किया हो.

अब कुछ देर बाद मैंने उसको सीधा लिटा दिया और उसकी गांड के नीचे तकिया लगाकर के उस पर चढ़ गया. भाभी के शरीर पर कोई भी कपड़ा नहीं था और भाभी एक अप्सरा की तरह दिख रही थी. बारात पास के ही गांव में जानी थी, तो सभी छोटे बड़ों को भी ले जाया गया.

मैंने धीरे से अपने होंठों से उसके नीचे वाले होंठ को अपने दोनों होंठों के बीच लिया और उसे चूसने लगा. अगर आपके मन में सेक्स को लेकर कोई सवाल या कोई फैंटसी है, तो बता दीजिये, ताकि हम उसका पहले ही कोई सोल्यूशन निकाल सकें. बीएफ वीडियो खुल्लम खुल्ला सेक्सीवो जरा जल्दी में थी, तो उससे ज्यादा बात नहीं हो पाई, लेकिन न जाने क्यों मेरे कलेजे को एक अजीब सी ठंडक मिली.

फिर मैंने उसे बताया कि मैंने ये नाटक क्यों किया क्यों तुम्हारे भाई के डर से मैं हर कदम सोच समझ कर उठाना चाहता था. जैसे जैसे उसकी कमर नीचे आ रही थी, उसकी चुत की मादक खुशबू मेरे नथुनों में भर रही थी.

मैंने कहा- जब भी तुम्हें दर्द हो मना कर देना, पहले लण्ड के साथ दिल लगाकर खेलो. अंकल जैसे टैलेंटेड इंसान को भला मैं किस तरह की मदद कर सकती थी?वे बोले- मुझे मेरे ब्लॉग पर एक आर्टिकल लिखना है, उसके लिए ही मुझे तुम्हारी मदद चाहिए. उसके बड़े-बड़े बोबे और गुलाबी निप्पल हिलते हुए बहुत ही मस्त लग रहे थे.

होटल से बाहर के लोग हमें कपल समझ रहे थे, लेकिन हम दोनों होटल में अलग अलग रूम में रहते थे. मैंने उसे और तड़पाना ठीक नहीं समझा और उसकी पेंटी उसके योनि से अलग कर दी. मेरा लंड उसकी चूत पर दस्तक दे रहा था जो उसकी गर्म बॉडी से टच होकर खड़ा हो चुका था.

दोनों ने दस मिनट तक चुदाई का मजा किया … फिर दोनों ने एक एक करके रिया की चुत में लंड डाल कर चुदाई करने लगे.

मैंने उसे अपने पास खींचा और उसके गले में बांहें डाल उसकी आँखों में देखते हुए पूछा- ऐसा क्या है मुझमें, जो प्रीति में नहीं है?सुखबीर ने उत्तर दिया- वो आपकी तरह खुले विचारों की नहीं है और न ही उसे कामक्रीड़ा का कोई अनुभव है. फिर जब उसका मन होगा और तुम वो करोगी, जो तुम्हारा पति चाहता है, तो वो दंग रह जाएगा और पक्का तुम दोनों के संबंध बदल जाएंगे.

क्या हुआ नीतू?”मैं उन्हें बोली- अंकल, मुझे ठीक से पकड़े रखो, नहीं तो मैं गिर जाऊंगी. तब पहली बार स्कूल में मम्मी पापा ने मेरा एडमिशन कराया और मुझे पढ़ने भेजा. वैसे यह कहानी मैंने आहना को बता कर ही लिखी है … और उसे बहुत पसंद भी आई है.

उससे कहा कि संभोग से पूर्व वो खुद ही आगे बढ़े और रतिक्रिया की शुरुआत करे. करीब 3 मिनट तक उंगलियों से रगड़ने के बाद आशीष बोला- छोड़ मेरे लौड़े को … मैं तेरी चुत को फाड़ ही दूं … पर बंध्या तेरी चुत चाटने में जो मजा है, वो मजा चुदाई में नहीं आ सकता है. उसने काफी देर तक मेरे स्तनों से दूध पिया और फिर धीरे धीरे मुझे पेट, नाभि से चूमता हुआ मेरी योनि तक पहुंच गया.

ओके गूगल बीएफ वीडियो लेकिन हां मैं एक मदद कर सकती हूं … अगर तुम पार्ट टाइम जॉब करना चाहते हैं, तो मैं तुम्हारी जॉब लगवा सकती हूं, जिससे तुम अच्छे खासे पैसे कमा सकते हो. धीरे-धीरे उसकी चूत में गर्मी आने लगी और उसके मुंह से कामुक सिसकारियाँ निकलने लगी.

हिंदी सेक्सी गांव का

नीचे जाकर मैंने दीदी को आवाज दी तो शिखा ने बताया कि वह घर पर नहीं हैं. आज पहली बार में ही दो बार मेरी चूत को दो अलग अलग मर्दों ने चाटा था. सच बता कितनी लड़कियों को चोदा है?मैं बोला- भाभी, मैंने किसी के साथ कुछ नहीं किया है … और मुझे इस बारे में कुछ नहीं पता है.

डॉली उनसे बोली- कैसा लगा हमारा घोड़ा?मिसेज पाटिल भी अब नार्मल हो गई थीं. मैंने बोला- भाभी आप मेरी सपनों की रानी हो, मुझसे जितना बन सकेगा आपको खुश करने में मैं पूरी कोशिश करूंगा. बीएफ एचडी नंगीइस तरह से नीना को उसकी जन्नत नसीब हुई यानि अब जाकर इस चुदाई में प्रशांत का गदहलंड नीना की चूत में पूरा-पूरा समा गया.

पर मैंने मैडम की चूत को चूसने की जगह चोदना ठीक समझा और सीधा होकर उनकी चूत की फांकों में लंड को अड़ा दिया.

वह दिखने में ऐसी है कि किसी का भी दिल करेगा कि उसके साथ सेक्स हो जाये. दूसरे हाथ से मैंने उसके कुर्ते के ऊपर से बोबे बाहर निकाल दिए और दबाने लगा.

ठंड का मौसम सम्भोग और जिस्मानी आनन्द के लिए सबसे उपयुक्त माना जाता है. अगले ही पल मैंने उसकी पैंटी को भी निकाल दिया और निकालते समय मुझे ये पता चला कि उसकी पैंटी थोड़ी गीली हो चुकी थी. रमेश- जी मालिक मुझे सब पता है, पर ये बात नहीं है, मैं तो आपका वफादार हूँ मुझसे क्या छुपाना.

तभी भाभी चुटकी बजाती हुई बोली- क्या बात है, ऐसे क्या देख रहे हो?मैंने कहा- नहीं … कुछ तो नहीं, बस ऐसे ही।बस ऐसे ही?” मधु भाभी ने कहा।मुझे लगा कि कहीं भाभी नाराज़ हो जाये, मैंने तुंरत बोल दिया- भाभी आप बहुत खूबसूरत हो। आपके लिप्स कमाल के हैं.

वो अब मेरे मुंह की चुदाई करने लगा, फिर मुझे उल्टा लिटा दिया और घोड़ी बना दिया. मैं उनको हल्के हाथ से धीरे धीरे घुमा रहा था और बड़े प्यार से सहला रहा था. मैंने कहा- बिल्कुल … मैं आपका दास हूँ आज की रात पूरी बाकी है, जो मन हो वो करवाइये.

बीएफ कैटरीना बीएफमैंने ऊषा को थोड़ा सा और वक्त दिया ताकि वह अच्छे तरीके से आलिंगनबद्ध हो सके. मेरे मुंह में मलाई छोड़ने के बाद वो नीचे लेट गया और मैं उसके पूरे बदन को चाटने लगा.

hard सेक्स

उसने बोला- अन्दर मेरे हस्बैंड नहीं हैं, वो कुछ दिनों के लिए बाहर गए हुए हैं. उधर अब्बू लहंगे में खुद कारीगरी में लग गए, अम्मी और भाभी किचन में जाकर खाना बनाने लगी. अगर ऐसा नहीं होता तो सोचिए आपको इतनी अच्छी मामी जी मिलतीं क्या?मैंने हंसते हुए कहा- हां वो तो है.

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम पंकज है (ये बदला हुआ नाम है) मैं अपने बारे में बता दूं, मैं सोनीपत हरियाणा का रहने वाला हूं. भैया बोले- अमित अभी तेरी भाभी किचन में काम करेगी, जब तक हम बाहर से मस्ती करके आते हैं, फिर तेरी भाभी के साथ होली खेल लेंगे, आज मुझे भी इसको जम के रंगना है क्योंकि ये हम दोनों की पहली होली है. करीब पांच मिनट की धीमी रफ्तार से चुदाई के बाद मैंने एक झटका मारा, तो लंड करीब चार इंच अन्दर घुस गया.

मैंने उसके सिर पर हाथ फिराया और कहा- हो गया है, अब सारी उम्र तुम्हें इस काम में केवल मजा ही मजा आएगा. थोड़ी देर ऐसे ही खड़े रहने के बाद मैंने धीरे धीरे अपनी गर्दन को नीचे करते हुए उनकी गर्दन तक लेकर आया और गले पर किस करने लगा. पर तुम फिकर मत करो, हमारा एक दूसरा फ्लैट भी है, जो दूसरे अपार्टमेंट में है, हम दोनों वहां चले जाएंगे.

मैं- कुछ किया भी या नहीं?वो- क्या करना था … घूमे फिरे औऱ वापस आ गए. आँखों में आई ब्रो, आई लाईनर और काजल लगा कर हम दोनों लंच करने जाने के लिए तैयार हो गए.

भाभी ने ऊपर-नीचे होना तेज़ कर दिया और कुछ ही देर में उनकी चूत ने दोबारा पानी छोड़ दिया और वह मुझसे लिपट गई.

मैं जैसे ही ऊपर की ओर गया, मेरा खड़ा लंड उसके गांड पे ठोकर मारने लगा, जिससे वो और भी रोमांचित होने लगी. न्यू सेक्स बीएफ हिंदीउसने भी लंड निकाल कर अपना रस मेरे पेट पर निकाला और वो मेरी चूत चाटने लगा. गंदा सेक्सी बीएफप्रीति से बात करते हुए पता चला कि वो 45 साल की है और उसकी 2 बेटियां हैं, उन दोनों का विवाह हो चुका था और अपने अपने ससुराल में हैं. मगर वह इतना छोटा था कि उसके चूचों की क्लीवेज साफ-साफ दिखाई दे रही थी.

फिर मैं अपने आप उठी और जैसे चलने को हुई, तो मम्मी बोलीं- कहां जा रही है?मैं बोली- यहीं आस-पास हूं.

मेरी माँ भी नीचे से अपनी गांड को उछाल-उछालकर मेरे लंड से अपनी चूत को चुदवा रही थी. कुछ ही देर में उन्होंने हेमा भाभी के बारे में बातें शुरू कर दी और उनकी बातों से मुझे पता लगा कि लता भाभी उनके सजने-संवरने और अदाओं से चिढ़ती थी. उसने अपने हाथों से मेरे हाथ पकड़ लिए थे और मेरे बोबे चूम कर मेरी चूचियों को काट रहा था.

यह देखकर मेरे पति ने मुझे अपनी तरफ खींच लिया और अपने साथ बेड पर लेटा लिया. मैंने कहा- अगर दो दिन बाद करोगी तो बिल्कुल भी दर्द नहीं होगा और बहुत मजा आएगा. फिर मैंने उसे बताया कि मैंने ये नाटक क्यों किया क्यों तुम्हारे भाई के डर से मैं हर कदम सोच समझ कर उठाना चाहता था.

308 धारा क्या है

मैंने उसकी चूची मसलते हुए कहा- अगली बार तुम्हारी यह ख्वाइश भी पूरी हो जाएगी मेरी जान. रास्ता पैदल का था और मैं सबसे छोटा मैं पूरे रास्ते घोड़े पर बैठ कर गया और वापस भी घोड़े पर ही आया था. अगर आपको कहानी पसंद आई हो तो मुझे मेल करके जरूर बताना ताकि मैं आगे भी आप लोगों के लिए अपनी और भी कहानियाँ लिख सकूँ.

मैंने कहा- तुम क्या मुझे पागल समझती हो जो इस तरह की बात किसी को बताऊँगी? मैं मिल बाँट कर खाने वाली हूँ.

मैंने भाभी से कहा- आज हम दोनों मिले हैं तो लता को भूल जाओ और आओ साथ मिलकर इस मिलन को रंगीन बना दें.

सुधा ने बताते हुए कहा- मैंने भी मामी से जोश में आकर कह दिया कि अगर मामी तैयार है तो छेद से चुदाई का सीन दिखाने की बजाय मैं तो उनके सामने ही अपनी चूत को चुदवाकर दिखा दूंगी. मामी जी की सिसकारी निकल गई- अह्ह्ह्ह ओह राहुल … तुम मुझे मार ही दोगे. बीएफ वीडियो ब्लैकपापा मेरी चूत के रस को अपने हाथों में लेकर दिखाते हुए बोले- तुम में बहुत आग है मेरी परी, आज तुम्हारे पापा उसको शांत करेंगे बेटा, तुम दो मिनट रुको!इतना बोले और पापा रूम से बाहर चले गए।dio तीन मिनट बाद पापा वापस आये और उनके हाथ में दो कंडोम थे.

बेचैन होकर मैं रोने लगी, तब दीदी ने अजय को रोकने का प्रयास किया पर अजय गुर्राकर आंख दिखाने लगा. मैंने कुछ देर तक उसकी जीभ को अपनी जीभ से लड़ाया और फिर मुँह में मुँह लगा कर देर तक चुसाई का मजा लिए. मैंने सोनू को समझाया कि भगवान ने लंड का सुपारा सॉफ्ट इसलिए बनाया है कि पहली चुदाई में या बाद की चुदाई में लड़की की चूत को कोई नुकसान न हो.

मैं- हां मामी जी, चली जाएं, सुबह सुबह थोड़ा टहलने से आपको भी अच्छा लगेगा. मैं उसको हल्का सा कांपते हुए और साथ ही साथ साँस थामे हुआ देख रहा था.

वैसे तो मेरी एक कहानी यहाँ बहुत पहले भी प्रकाशित हो चुकी है उसका नामफुफेरी भाभी की चुदाईहै.

उम्मीद है कि आप लोगों को ये पसंद आएगी और आप लोग ढेर सारा प्यार मुझे देकर प्रोत्साहित करेंगे. उसने एक दिन मुझ से कहा- ये सब बेकार की मॅगज़ीन हैं, अगर कुछ मस्त देखना है तो मैं तुम्हें दिखा सकता हूँ कंप्यूटर पर. मैं जल्दी से नहाया और फटाक से कपड़े पहन कर उसको लेने के लिए चला गया.

बगाली बीएफ मैंने उसको अपने पास बैठाया और उससे पूछा- क्या हुआ तुम उदास क्यों हो?तो वो बोली- मैंने तुमसे झूठ बोला और बताया नहीं कि मेरा एक बच्चा भी है. मैंने फिर कोशिश की तो उसने हाथ बाहर निकाल दिया और गांड से लगा दिया.

उसकी चूत का फूलापन देखकर मेरे लंड ने मेरी पैंट में तंबू बना दिया था. जिस वजह से उसके स्तन मेरे मुँह पर कभी दबाव बनाते, तो कभी दबाव हटाते. रात को करीब 10 बजकर 15 मिनट के आस-पास मैंने अपने घर का रूम लॉक किया और मैं बाहर निकल गई.

राजधानी नाइट की चार्ट बताओ

रवि मामा ने फिर से मुझसे लड़कियों की बातें करना शुरू कर दीं और वो आज तो अपनी जुगाड़ों के बारे में भी बताने लगे थे. अपनी दोनों कुहनियों से मैंने सोनू को अपने शरीर के नीचे साइडों से दबाया और लंड पर थोड़ा दबाव और डाला. भाभी लंड को चूत के अंदर लिए बैठी रही और मेरी कमर को अपने नाखून से काटती रही.

चूत पर हाथ के स्पर्श से मामी जी की आंख खुल गई और उन्होंने मेरी तरफ देखा. हम दोनों ने कुछ देर बात की और उसके बाद हम दोनों लोग साथ में डिनर करने लगे.

चाची बोलीं- साले … ऐसे देखना पसंद है क्या?मैं शरमाते हुए बोला- हां.

मैं उसकी चूत को चाटने लगा तो उसने मेरे मुंह को अपनी चूत में दबा लिया और फिर दोबारा से मुझे नीचे लेटा दिया. उसकी चूत को कपड़े के ऊपर से ही चूसने के बाद मैंने उठते हुए कहा – सॉरी यार कुछ मिनट ज्यादा हो गए. पहले एक दो दिन तो केवल सुबह संदेश भेजता था, पर देखा, तो अब रात सोने से पहले भी आने लगे.

5 इंच का लौड़ा उसके मुख में था।अब मैंने सोचा कि कुछ और नया किया जाये।मैंने उसको उठाया वहां से और रूम के अंदर बेड पर ले गया. मेरे मुंह से निकल गया- उस दिन रात को जब आपको देखा तो मैं आपको देखता ही रह गया था. उसके गुलाबी होंठ, हसीन चेहरा, हिरनी जैसी आँखें, घने काले लम्बे बाल, गोल मटोल और सुडौल बूब्स, साड़ी में लिपटी हुई उसकी आकर्षक कमर, उसकी मटकती हुई गांड … मन करता है कि उसे अपने दोनों हाथों से पकड़कर हिला दूँ.

उसका नाम था समीरा!जब मैं पहली बार उससे मिला तो मुझे लगा कि इसको कुछ प्रॉब्लम है.

ओके गूगल बीएफ वीडियो: मैंने उसको दूर किया और पूछा- क्या सच में तुम ऐसा चाहती हो या सिर्फ पति से गुस्से के कारण ऐसा कह रही हो?वो बोली- नहीं … ये एक औरत की चाहत बोल रही है. उन्होंने मुझे अपने घर ही मिलने के लिए 4 दिन बाद बुलाया और मैं मान गया.

मैंने कुछ देर प्रीति की चूत में ही लंड को डालकर रखा और उसके साथ लेटा रहा. और इमरान का जब तक इलाज नहीं हो जाता, तक तक रोकते हैं, फिर देखते हैं. किसी को नहीं मालूम था कि मैंने भी उन तीनों की ये चुदाई देखी। लेकिन तब से मैं दीदी के घर जाने से हिचकने लगी। मगर अनन्त का दीदी के घर पर आना-जाना आज भी जारी है.

मैं भी उनसे ज्यादा नहीं बातें करती थी क्योंकि जब कोई बात छिड़े, तो किसी न किसी की बुराई या बढ़ाई के अलावा कुछ नहीं था.

भाभी नंगी ही अपनी गांड मटकाते हुए उठकर किचन से लिक्विड चॉकलेट का डिब्बा ले आई. मैंने आहना को नीचे लेटा कर फिर से उसकी योनि में लिंग डालकर उसका मर्दन शुरू कर दिया. उसका गोल चेहरा, लंबी नाक, गुलाबी होंठ, ऐसा लग रहा था मानो कोई पहाड़ी कश्मीरी महिला हो, जिसे देख किसी भी मर्द का मन मचल उठे.