बीएफ सन 2021

छवि स्रोत,ट्रिपल एक्स वीडियो दिखाओ

तस्वीर का शीर्षक ,

बारिश के सेक्सी वीडियो: बीएफ सन 2021, उनके चूत चाटने के साथ साथ मैं भी एक हाथ से चिंटू के बदन को सहला रही थी और दूसरे हाथ से मेरी चूत को ऊपर से ही मसल रही थी.

ससुर ने बहु की चुदाई करी

मुझे बड़ी लाज आई, मैंने जल्दी से अपने कपड़े पहने और कमरे से बाहर आई।फिर नहाने धोने लगी. बीएफ वीडियो सेक्सी इंग्लिशमैं आशा करता हूँ कि आपको मेरी दीदी की चुत चुदाई की कहानी पसंद आई होगी.

दोस्तो, अन्तर्वासना साईट पर यह मेरी पहली कहानी है, एक कुवारी दुल्हन की सेक्स कहानी… मुझे विश्वास है कि आप इस कहानी को बेहद पसंद करेंगे।मेरा नाम है चार्ली, मैं कोल्हापुर महाराष्ट्र का रहने वाला हूँ। मेरी हाइट लगभग 6 फुट की है और मेरी बॉडी भी ठीक है… बात करे मेरे लण्ड की तो वो 6. ओड़िया सेक्सी बीएफवो सोच रही थी कि ‘क्या करेगा यह?’ संजाना को पता सब कुछ था लेकिन फिर भी खुद के मन को समझाने के लिए खुद से अनजान बन रही थी.

अम्मी ने सबसे पहले मेरे होंठो में होंठ रख दिए और बड़े प्यार से चूसने लगी.बीएफ सन 2021: कुछ देर बाद मिंकी ने अपने दोनों हाथ मेरी बगल से निकलते हुए मेरी पीठ पर कस लिये और मुझे जोर जोर से मेरे चेहरे पर चूमने लगी.

वहां पे एक पैकेड ब्रश रखा था, मैं समझ गया कि ये सेजल भाभी ने मेरे लिए रखा है.फिर मैं धीरे धीरे उसके पेट को चाटे गये नीचे की ओर सरका और उसकी लेगी को उसकी जांघों पर से सरका कर पूरा उतार दिया.

इंडियन सेक्सी बीएफ चाहिए - बीएफ सन 2021

मैंने कमर उठा कर लंड को भाभी की चुत की जड़ तक ठेलते हुए कहा- क्यों नहीं भाभी.फिर दूसरे जब वो मुझे मिला तो बोला- यार, तेरे यहां तो दारू पीने में मज़ा आ गया.

जैसे ही उसने लंड को देखा, वो बोली- बाप रे बाप इतना बड़ा और मोटा लंड, मेरे पति का तो इससे काफ़ी छोटा है. बीएफ सन 2021 मैं खड़े होकर उसके दोनों पैरों के बीच आ गया और अपना लंड उसकी चूत पे रगड़ने लगा.

सेजल भाभी- यू आर रॉकिंग माइ जानू उफ्फ्फ्फ…उन्होंने अपने दोनों घुटने मोड़ कर टांगों को चौड़ा कर दिया.

बीएफ सन 2021?

अब मेरी नजर अपनी बुर पर टिकी देख कर अंजलि समझ गई कि कुछ तो गड़बड़ है. जिस भी लड़के को या मर्द को वो देखती थीं, सबसे पहले वो उसके लंड के बारे में सोचती थीं और अगर मौका मिल जाता तो वो उससे जरूर ही चुदवा लेती थीं. मैंने तेल की बोतल ले कर अपने लंड पे तेल लगा लिया और उसकी चुत पर भी तेल की मालिश कर दी.

मुझे भी मजा आने लगा, मैंने दूसरा धक्का लगाया तो लन्ड पूरा अंदर तक चला गया, पारुल को थोड़ा दर्द हुआ, बोलने लगी- अंदर बच्चेदानी पर जा कर लगा!खैर अब मैं जोर जोर से धक्के मारने लगा. वैसे तो मैं लड़का हूँ लेकिन मेरी टांगें और मेरा फिगर एकदम लड़कियों जैसा है. फिर मैं सोचने लगा कि किसको लाऊं, जो मेरी वाइफ की चुत को ठंडा कर सके.

ऐसी ही बालों से रहित, रोमविहीन प्रिया की मनमोहक और कोमल योनि भी होगी…” ऐसा सोचते ही मुझ में तीव्र उत्तेज़ना की लहर उठी. उसकी सिसकारियाँ निकल रही थी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’उसने मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत के छेद के बीच में रखा और बोली- अब देर क्यों लगा रहे हो? जल्दी से घुसा दो ना एक बार!उसकी वासना की आग को देखते हुए मैंने भी अब देर करना उचित नहीं समझा और मैंने एक झटके में आधा लंड उसकी चूत में पेल दिया. अब आगे:मम्मी अजय को कंधों से पकड़ कर खींच कर बोली- साले अनीता के पीछे पीछे भागता रहता है, आज मुझे भी अपना दम दिखा।यह बोल कर मम्मी ने अपने होंठ अजय के होंठों से लगा दिए और चूमने लगी.

चूँकि ये सब अनुभव मेरे लिए नया था तो मैं सब काम बड़ी तसल्ली से कर रहा था. मैं आज आपको एक कहानी बताने जा रहा हूँ, जिसमें मैंने पूनम भाभी की इच्छा पूरी की.

कुछ ही देर में मां के दोनों छेद, यानि एक मुँह और दूसरा उनकी चूत में लंड अपनी मस्ती बिखेर रहे थे.

सुपारी को खूब चाटने के बाद अलका रानी ने लंड मुंह में और गहरा घुसा लिया और धीमे धीमे करके पूरा का पूरा जड़ तक लंड मुंह में ले लिया.

अगर आप लोग का प्यार मिलता रहेगा तो ऐसे ही कहानियां मैं भेजता रहूंगा।आपका दोस्त बैड मैन[emailprotected]आगे की कहानी:गर्लफ्रेंड की सहेली की प्यासी चूत और गांड. और फिर अचानक मेरे तेजी से चलते कदमों में एक ठहराव सा आ गया; मेरी टांगें अपने आप पास पास आ गईं और मैं एकदम लड़कियों की तरह मटक मटक कर चलने लगी; मेरी चिकनी जांघें आपस में रगड़ खाने लगीं; मेरे कूल्हे अपने आप मटकने लग गए; मेरी चाल में अजीब सा नशा, अजीब सी ख़ुशी छाने लगी; मैं एक पूरी सेक्सी लड़की बन कर चलने लगी. तब उसने मुझको थोड़ी देर बाद कॉल की, जब मैंने बात की, तक पता चला कि ये वो रवि नहीं था.

आंटी इतनी बार चुदी होने के बाद भी जोर से चिल्लाईं- उई ममाँ मर गई रे. मैं उसकी जांघों पर चुम्बन करने लगा और फिर पेंटी के ऊपर से उसकी चूत को सूंघा. इन सब में काफी टाइम हो गया था और उसके घर वाले भी आने वाले थे, वो कपड़े पहन कर चली गई.

फिर कुछ दिनों तक स्कूल नॉर्मली चलता रहा और मैं भी उस घटना को भूल चुकी थी.

इस बार मैंने आंटी की टाइट गांड में आइसक्रीम डाल कर गांड को फाड़ दिया. जहां से मैं निकलती थी, लोगों की पैन्ट फूल जाती थी… और लोग मुझ पर लाइन मारते नहीं थकते थे. वॉव… मैं तो उसको ब्रा में देखते ही पागल हो गया और उसके कंधे पे अपने होंठ रख कर उसे बेतहाशा किस करने लगा ‘मुहह मुहह मुउऊह मुऊउऊहह…’वो भी गरम सिसकारियां ले रही थी.

उसने मेरी पीठ पर किस किया और लंड को बाहर निकालने लगा, मुझे हद से ज़्यादा दर्द होने लगा. जैसे कहानियों से कोई परी निकलकर मेरे सामने आ गई हो।मधु ने बैग उठाया और बोली- माँ जी उस कमरे में हैं. मेरे मुंह से निकलने लगा- आआह जमाई… जी… आआह… उमआआआ…वो भी बोले- हां हां… सासु… जी… बोलो ना?मैं बोली- धीरे… आउच… धीरे… पियो ना… मेरे बूब्स को!वो भी अपने दांतों में मेरे निप्पलों को दबा रहे थे।फिर वो मेरी नाभि के ऊपर जुबान फिराने लगे, मैं मचलने लगी.

मैंने अपना सुपारा उसके मुँह में घुसा दिया और उसके गालों को पकड़ कर धीरे धीरे धक्के मारने लगा.

शाम को जब वो मेरे लिए नाश्ता लेकर आई तो मुझे नाश्ता देकर मेरे सामने बैठ गई. मैंने वैसा ही किया, आधा फुव्वारा गांड के अन्दर होते ही लंड खींच कर भाभी के मुँह में ठूंस दिया और वो छिनाल की तरह मेरा पूरा लंड चूस गईं.

बीएफ सन 2021 फिर थोड़ी ही देर में मैंने एक और धक्का मारा और इस बार अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया. मैंने अपनी चुदाई की जो कहानियां कुंवारी उम्र में सोची थीं, आज वो आस इस लोहे के लंड से पूरी होने वाली थी.

बीएफ सन 2021 अगर मयूर के पक्ष में वो ब्यान देते तो मीडिया वाले कहते कि बॉस और चेले दोनों ने मिलकर मोटी रिश्वत ली होगी और गरीब लोगों के हक के मकान अमीरों को बांट दिए. पीछे का इलाका उठी हुई गांड का, एकदम ऐसा लगता था कि दो मीडियम साइज़ के दो खरबूजे लगा दिए हों.

रीमा- क्या हुआ?मैं- तेरे चुचे तो वैसे ही टाईट है, आसमान को देखते रहते हैं तो तुझे ब्रा पहनने की क्या जरूरत.

सेक्सी बीएफ हिंदी में भेजें

शायद क्योंकि मैं भी काफी स्मार्ट हूँ और आंटी तो पहले से ही सेक्स की बहुत प्यासी थीं. मेरी साँसें तेज़ी से चलने लगीं और अचानक मेरी चिकनी गांड पर उसका हाथ फिसलता हुआ मेरी गांड के छेद पर आ गया. मैंने अपने लंड को उसकी चूत में रखा और हल्का सा धक्का मारा, तो मेरा लंड फिसल गया.

मेरी वासना भारी यह हरकत नाज़ शीशे में देख रही थी और कामवासना से उसकी आंखें बड़ी होने लगी।फिर मैंने जूही की शर्ट ऊपर कर के उसकी चुची नंगी कर ली और मसलने लगा और लोवर में हाथ डाल कर चूत मसलने लगा. एक दिन वो फोन किसी से चुदाई करवाते हुए गलती से उसी ग्राहक के पास ही रह गया. नताशा इस समय उत्तेजना के चरम पर थी और बिना किसी थकावट के दो लंडों को अपनी चूत और मेरे लंड को अपने मुंह में लेते हुए मस्त हुई जा रही थी.

मैंने बियर का ढक्कन खोला तो आंटी ने कहा- विकी मेरे बचे हुए कपड़े भी उतार दो.

एक दिन की बात है कि घर के सब बड़े लोग इकट्ठे बाजार गये थे और हम दोनों घर में ही रह गये थे क्योंकि बाहर बहुत तेज धूप थी और बड़े लोगों के साथ बाजार जाने का हमारी बिल्कुल इच्छा नहीं थी. अब मैं हल्की हल्की आवाजें निकालने लगा- आअ आआह्ह्ह… प्लीज चाची इसकी भी मालिश कर दो न… ये बहुत दर्द कर रहा है. आंटी की चुत में एक साल से लंड नहीं गया था, इसलिए उन्हें दर्द हो रहा था.

मैंने फिर से सुपारे को चूत के अन्दर डाल कर निकाल लिया, फिर पूरे तेजी के साथ उसकी चूत में अपना लंड पेल दिया. मेरे इसका” बुरा हाल है।मैं लण्ड की तरफ इशारा करते हुए बोला। जैसे ही मधु ने मेरी उंगली के इशारे की तरफ देखा. अब मैं और नीचे उनकी चूत तक आ गया और उनकी चूत को अपनी गीली जीभ से लप लप चाटने लगा.

यह कहानी जीजा साली की चूत चुदाई की है, मेरी उस साली के साथ सेक्स के बारे में है जिसे मैं बहुत पसंद करता था. जो सुख मुझे मेरी सगी बीवी, मेरे बेटे की माँ नहीं दे सकी थी वो सुख उसकी बीवी, मेरी पुत्रवधू… कुलवधू मुझे दे रही थी.

मुझे लगा कि मैं उनसे कहूँ कि लंड चूसो, अभी मैं ये कहता कि उन्होंने अपने मुँह में लंड भर लिया और लंड चूसने लगीं. मैंने लैपटॉप वगैरह बंद किया और अब मॉम और दीदी को कैसे चोदूँ, बस यही सब सोचने लगा. अब ये मामा का लड़का कहाँ बीच में आ गया?”यार तुम्हारे ससुराल वाले तुम्हारे मामा को जानते हैं.

तुम्हीं बताओ कि मैं क्या करूँ?उसका जवाब सुन कर एक बार तो ठंडी लहर सी मेरी रीड की हड्डी से निकल गई.

”उसकी कामुक आवाजें मुझे जोश दे रही थीं और मैं एक के बाद एक कड़क झटके देता रहा. वो भी इतनी गरम हो गई थी कि जैसे ही मेरे होंठ उसकी चुत को चूमते, वो अकड़ जाती. मैं विक्की का इशारा समझ गया और रोशनी भी तन कर अपने उभार को आगे की तरफ करने लगी.

दीदी ब्लू रंग की ब्रा और ब्लू रंग की जी स्ट्रिंग पहने हुए अपनी गांड मटकाते हुए किचन में दाखिल हुईं. मैंने देसी भाभी की चूत में निशाना साध कर अपना लंड घुसाते हुए कहा- ले.

उसने विक्रम से बोला कि डार्लिंग इसको इसके घर पर छोड़ना है, अपने ड्राइवर से बोलो कि छोड़ कर आए. हमारी हर रात हसीन रही और पूरी मस्ती के साथ हर तरीके से चुदाई करी।मेरी फ्री सेक्स कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करें-[emailprotected]. ओह्ह रचना… मैं बता नहीं सकता कि तुम्हारे रूप का रस पीने के लिए मैं कितना प्यासा था.

सेक्सी वीडियो चोदने वाली बीएफ

”यह सुनकर मेरा चेहरा उतर गया तो उसने मुझे आश्वासन दिया- फ़िक्र मत करो.

यह देख जूही ने उसे लिप किस कर के जितना हो सका वीर्य उसके मुंह से चाट लिया।अब हम तीनों थक गए थे, थोड़ी देर हम ऐसे ही पड़े रहे कि तभी नाज के दिमाग में पता नहीं क्या सूझा, वो उठ कर मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगी. माँ ने तभी अपना गाउन उतारा और एक तरफ रख दिया और कहा- खुद ही देख लो…मेरा लंड एकदम से खड़ा हो गया. दोस्तो, अब पारुल की गांड भी मेरे सामने थी, मैंने अपना लन्ड पीछे से उसकी चूत पर रखा और एक ही धक्के में पूरा लन्ड पारुल की चूत में डाल दिया और अपने दोनों हाथों से उसके चूतड़ों को पकड़ कर जोर जोर से लन्ड पेलने लगा.

”और ठीक इसी वक़्त मैंने अर्पिता की जांघ पर हाथ रख दिया और अर्पिता की भी साँसें तेज हो गयी।अर्पिता- उसके बाद?उसके बाद मैंने उसके टीशर्ट में हाथ डाला नीचे की तरफ से और पेट पर हाथ फेरने लगा. मैंने धीरे से उसका हाथ पकड़ा और अपने अंडरवियर के अन्दर अपने लंड पर रख दिया. बीएफ हिंदी में सेक्सी मूवीमेरी चीख निकलने को हुई, पर सर का मुँह मेरे मुँह पर ढक्कन जैसा लगा हुआ था.

वो बिस्तर पर गिरते ही किसी गेंद की तरह उछलीं और वापस बिस्तर पर गिर गईं- यू आर वाइल्ड…भाभी अपनी आवाज़ को तीखी करके बोलीं. दीदी की गांड का तो क्या पूछना, दीदी की गांड मॉम से काफी बड़ी थी और पीछे की ओर बहुत निकली हुई थी.

वो बोले- चलो रचना… अब जल्दी से घोड़ी बन जाओ… इसी तरह मुझे औरतों को चोदना पसंद है. हमारा घर एक हनीमून सूइट हो गया था, जहाँ मैं और मेरे देवर के अलावा कोई नहीं था. ”फिर मैंने उसके आंसू पोंछे और कहा कि कुछ आंसू तुम्हारी चूत से निकल रहे हैं.

मैं उन सबका धन्यवाद करती हूँ, जिन्होंने मेरी कहानी को पढ़ा और उनको मेरी आपबीती को जानकर अच्छा लगा. अंजलि बोली- तुम मेरी ब्रा का हुक खोल दो! फिर आराम से दबाना!मैंने अंजलि की ब्रा का हुक खोल दिया और ब्रा ऊपर करके उसके निप्पल को हाथ से दबाने लगा; अंजलि को मजा आने लगा और उसने मेरी जिप खोल दी और लन्ड बाहर निकाल कर सहलाने लगी. विवेक कामिनी के नीचे दबा हुआ धीरे धीरे अपने चूतड़ हिला कर चुदाई कर रहा था, कामिनी को शायद मजा नहीं आ रहा था हलके हलके झटकों से, वो बोली- हो गया तुम्हारा चलो!विवेक बोला- अरे मैडम, अभी तो बैटिंग शुरू नहीं की… और हो गया? मैं तो थोड़ा क्रीज पे पैर जमा रहा था.

मुझे देखते ही वो अपना लंड सहलाते हुए बोला- तुम्हारी माँ बहुत ही मॉडर्न हैं और मुझे लगता है वो तुम्हारे पापा को पूरा मस्त करके रखती होंगी.

मैंने उनका लंड मुँह में लेकर चूसा और लंड के नीचे के बॉल्स भी बड़े मजे से चूसे. चाची धीरे धीरे गर्म होने लगीं, तो मैंने उनकी गांड से अपना मुँह हटाया और एक ही झटके में अपना पूरा लंड डाल दिया.

” करके नवीन की ओर देख कर चिल्ला रही थीं- जल्दी जल्दी चोद न कमीने… दम नहीं बची है क्या भोसड़ी के तेरे अन्दर हरामी मादरचोद. मैंने झट से कपड़े पहने और घर से बाहर ये कहते हुए निकल गया- फ़ोन पे बात करूँगा. अब मैं उसी कमरे में कसरत करता था, तो सिर्फ वंदना ही मुझे कसरत करते देख पाती थी.

तो बोली- कितनी भाभियों को पानी पिलाया है अपना?मैंने कहा- एक मिली थी जब दिल्ली में रहता था, नीलू नाम था उनका, उनके भी दो बच्चे थे, बंगाली थी लेकिन भाभी, सही कह रहा हूँ उनकी जैसी खिलाड़ी मुझे आज तक नहीं मिली. उसने पूरा गिलास सोडा मिला कर मेरे आगे रख दिया और बोला- आप किस फटीचर कम्पनी में नौकरी कर रही हैं. शाम को जब वो मेरे लिए नाश्ता लेकर आई तो मुझे नाश्ता देकर मेरे सामने बैठ गई.

बीएफ सन 2021 जिससे वो थोड़ा जोश में आ जाता, उसने लंड को अन्दर करने के लिए और ज़ोर लगाया। लंड मेरी टाइट गांड को चीरता हुआ अन्दर जा रहा था।मैंने तकिया पकड़ लिया और उस पर अपना मुँह दबा लिया. कुछ देर बाद वह एक महिला के साथ बाहर आया और बच्चे के बारे में बात करने लगा जिसे सुनकर मुझे समझ आया कि वो जवान मोटे लंड वाला चोदू आदमी अपनी दमदार चुदाई से अपनी बीवी को माँ बना चुका था.

मारवाड़ी बीएफ सेक्स वीडियो

rajveermidh[emailprotected]रोमांटिक सेक्स स्टोरी का अगला भाग :स्त्री-मन… एक पहेली-3. मैंने उसके चूचों को दबाते हुए मज़े लेने लगा तो वो कसमसा सी गई और सिसकारियां भरने लगी. भाई साहब मेरे पति को पकड़ कर ले आए, फिर सबने उन्हें रंग से रंग दिया.

वो बोला- जल्दी ये भी उतार!मैं बोला- प्लीज गलती हो गई, जाने दो!वो नहीं माने और उसने एक मोटा डंडा उठा लिया, बोला- बताऊँ क्या?मैंने अपना बनियान और अंडरवियर उतार दिए. लेकिन ये भी था कि वो पूरी तरह से गरम हो चुकी थी और ये सही टाइम था लंड अन्दर डालने का. सेकस काहानीमैंने पानी पीया और फिर मैंने उनको अपनी बांहों में ले लिया और भाभी को किस करना शुरू किया.

मैंने गोलू को प्यार से समझाया कि तुम पर कोई नहीं हँसेगा और कोई हँसा तो मैं उसे सजा दूंगा.

फिर उन्होंने भी देर नहीं की और चिंटू ने मुझे उनकी गोदी में उठा कर अपने लंड को मेरी चूत में फंसाने लगा. वो तो जैसे जन्मों की भूखी निकली, उसने मेरी जीभ को चूसना शुरू कर दिया.

कमरे में चंदर भी नंगा बैठा अपना लंड हिलाता हुआ मेरा इंतज़ार कर रहा था उसका लंड तन्नाया हुआ खड़ा था, जैसे वो मेरी चूत का कई दिनों से इंतज़ार कर रहा हो. फिर जब पूरा पानी निकल गया तो मेरी टांगें और हाथ खोल कर बोला कि बाथरूम में जाकर सफाई कर लो, सुबह ऑफिस भी जाना है. मैंने कहा- नहीं… सच में कोई नहीं है!उन्होंने कहा- परवीन कैसे लगती है?मैंने मुस्कुरा कर कहा- अच्छी लगती है.

यह देख कर मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उन्हें अपने मुंह में ले लिया और जोर जोर से चूसने लगा।मामी एकदम से जोर जोर से सिसकारियां लेने लगी।थोड़ी देर बाद मैं स्तनों को चूसते चूसते नीचे उनकी पेट पर किस करने लगा और एक हाथ से उनके पेटिकोट का नाड़ा खोल दिया तो उनकी लाल रंग की पैंटी दिखने लगी।मैं तुरंत उनकी पैंटी उतार कर उनकी काली चूत को देखने लगा.

उस समय मेरे मौसी और मौसाजी दोनों ही राजकोट एक शादी अटेंड करने गए हुए थे।घर में अकेला होने के कारण मैं सोया हुआ था तो उसने मुझे फोन करके बताया- मैं आपके घर के गेट पर खड़ी हुई हूँ, आकर अपना दरवाजा तो खोलो।दोस्तो, मैं रात को सिर्फ बनियान और पजामे में सोता हूँ और हमेशा पैन्ट, जीन्स या पजामे के अंदर कुछ नहीं पहनता हूँ और सुबह के समय लंड खड़ा हो ही जाता है. कमाल की बात ये थी कि उस दौरान हम दोनों मां बेटा के बीच में कोई बातचीत नहीं होती थी और बस खेल खत्म होने के बाद हम दोनों माँ बेटा की तरह सो जाते थे. चलो अब कर ही चुके हो, तो मजा आया कि नहीं?परवीन बोली- ये बहुत गंदा है, इसने मुझे मार ही डाला था आज.

क्सनक्सक्स हद सेक्सतभी वह रोने लगीं और अचानक मेरे हाथ छुड़ा कर लंड से नीचे उतर कर अपनी पैंटी पहनने लगीं. मैं उसकी प्यारी सी मखमली चूत पर हाथ फेरने लगा, तो वो ‘सीईईई सीईईईई.

सेक्सी बीएफ फुल सेक्स

फिर विनय ने एक और शॉट मारा, जिससे उसका पूरा लंड मेरी चूत में घुस गया. अब मुझे सर का सानिध्य मजा देने लगा था, मैंने भी सर को चूमना शुरू कर दिया. अब उसके गाल और नेक पर किस करते करते मैंने उसे लिप किस करना शुरू किया.

मैं तड़पने लगी- जान… ऐसे क्यों पी रहे हो… रुको, तुमको असली मजा देती हूँ. मैंने लंड एक पल भी नहीं निकाला और आंटी को चूमने चाटने लगा, आंटी भी दुगुने उत्साह से मेरा साथ देने लगी, उनके शरीर को भी मैंने खूब सहलाया जिससे उसकी चूत की गर्मी और बढ़ी और मेरा लंड खड़ा रहने में सक्षम हो पाया. भाई साहब को छुट्टी नहीं मिली, जिस कारण भाभी कह कर गईं कि थोड़ा भाई साहब को देखती रहिएगा, अगर हो सके तो खाना बना कर बाई के हाथ भिजवा दीजियेगा.

उस रात राहुल की मुझसे फोन पर बात हुई तो मैंने उसको बताया कि नानी की तबियत खराब होने के कारण मम्मी पापा उधर गए हैं और उनको आने में कुछ दिन लग सकते हैं. उनकी हवस जागने के बावजूद भी वो समझ नहीं पा रही थीं, वो बोलीं- पर राहुल. मैंने उसे सांत्वना दी और कहा बस कुछ देर में सब ठीक हो जाएगा और मजा आने लगेगा.

अन्तर्वासना के पाठको, आपको मेरी मॉम के व्यभिचार की यह हिंदी सेक्स स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल करके बताएं. उसने खड़े लंड को देखा और कराहते हुए मुस्कुरा कर बोली- अब मुझमें इतनी ताक़त नहीं है कि मैं आपके इस हथियार का सामना कर पाऊं.

गोरे चिट्टे, लंबे और सभी की शर्ट की एक बटन खुली हुई…मैं काम होने के बाद भी कुछ समय वही खड़े होकर उन जवान कातिलाना जिस्मों को निहारता रहा… साले हँस हँस कर बाते करते हुए काफ़ी मर्दाना और कातिलाना लग रहे थे.

मैंने अपनी बेल्ट खोली और पैन्ट को थोड़ा नीचे किया और अंजलि को थोड़ा नीचे करके लन्ड उसके मुँह में दे दिया; अंजलि मेरा लन्ड जोर जोर से चूसने लगी. ब्लू फिल्म दिखाएं ब्लू फिल्म दिखाएंइससे मुझे काफ़ी बुरा फील हो रहा था क्योंकि क्लास में बैठे लड़के और मेरे वो हरामी टीचर, पढ़ने के बहाने मुझे देख रहे थे. वीडियो फिल्म बीपीपर उससे पहले उसने मुझसे पूछा- फ्रिज में खाने को क्या रखा है?फ्रिज में आइसक्रीम थी, मैं जाकर ले आई. मामी की चूत दो लंडों से चुद चुकी थी लेकिन अब तक उनकी चूत ने लंड के रस का स्वाद नहीं ले पाया था.

लंड देख कर भाभी पागल होकर लंड पर टूट पड़ीं… मेरे लंड पे किस करने लगीं फ़िर मेरे लंड की चमड़ी को खींच कर टमाटर जैसे लाल सुपारे को बाहर निकाल कर चारों तरफ़ जीभ से चाटने लगीं.

आपको मेरी लिखी हुई सेक्सकहानियाकैसी लग रही हैं, मुझे मेल करें![emailprotected]कहानी जारी है. मैं उसे बाथरूम में लेकर गया और शावर चला कर वहाँ भी खूब पेलमपेल चोदा. तभी वो बोली– यार ज़रा मेरे निप्पल चूसो ना!मैंने उसका एक निप्पल मुख में लिया और चूसने लगा, दूसरी चुची को मैंने हाथ में दबोच लिया और से जोर जोर से मसलने लगा.

अब मैं भी सेजल भाभी की चूत चाट रहा था और उनकी गांड को उंगली से चोद रहा था. मेरी बीवी का रोमांस उसके बॉस के बेटव से चल रहा था; उनको जैसे न मेरा डर था न जल्दी!विवेक बोला- जानू, डांस करने का मन कर रहा है तुम्हारे साथ!वहाँ ग्लास वाली कैंडल लाइट रखी थी, वो बोला- एक काम करो… यह कैंडल लाइट जलाओ और लाइट ऑफ कर दो; एकदम रोमांटिक माहौल हो जाएगा. अब तक की इस हिंदी सेक्स कहानी में आपने पढ़ा था कि पैसे के चक्कर में मैं किसी की फर्जी गर्लफ्रेंड बन कर गोवा पहुँच गई थी.

सेक्सी हॉट बीएफ इंग्लिश

शायद मधु झड़ चुकी थी।मैंने दाने को चाटते हुए उंगली अन्दर डाल दी और आगे-पीछे करने लगा। मधु तड़प उठी और अपनी हिंदी चुत को भींच दिया और मेरे सर को चूत पर दबा दिया। मैंने उंगली की रफ्तार बढ़ा दी जिससे थोड़ी देर में ही मधु के पैर काँपने लगे और चूत ने पानी छोड़ दिया, मधु के मुँह से आह. उसके मम्मे तो कपड़े फाड़ दें कुर्ती के ऊपर से ऐसे टाइट दिखते रहते थे. ताकि वो कमजोर ना हो जाए क्योंकि उसका काफ़ी पानी निकला था।अगली सुबह भी मैंने एक बार गांड उससे मरवा ली। फिर बाथरूम में जाकर मैंने उसका जमा हुआ पानी अपनी गांड से निकाल दिया।उसी रात उस आदमी से भी अपनी गांड मरवा कर कर्ज माफ़ करवा लिया।मुझे इतना दर्द उस आदमी से नहीं हुआ जितना भतीजे के लंड ने दिया था।फिर तो मेरे भतीजे को मेरी गांड मारने की आदत ही पड़ गई। वो एक साल तक मेरे पास रहा.

तभी वो गाड़ी की तरफ आई और अन्दर बैठ कर मुझसे बोली- क्या हुआ जनाब इतने में ही ये हाल है क्या?मैं क्या बोलता, मेरा हाल ही ऐसा था.

यूं ही कुछ 20-30 सेकेंड हम एक दूसरे को गम्भीरता से देखते रहे, फिर अचानक ज़ोर ज़ोर से हंसने लगे.

उसने भी ‘हाँ’ बोल दिया था।अब तो मैं उस दिन का इंतज़ार कर रहा था। जैसा कि मैंने बताया सब घर वालों के जाते ही वो ठीक 11 बजे आई। वो उस दिन बहुत खूबसूरत लग रही थी। सच कहूँ दोस्तों. प्रिया की योनि में से कामरस के साथ साथ जैसे आग की लपटें निकल रही थी. लड़की वाला वॉलपेपरके! अब अगर मैं आप से कुछ माँगूँ तो क्या आप मुझे देंगें??” कुछ पल बाद प्रिया ने पूछा.

जिम जाता है?मनन- लंड तो तुम अपनी चुत में लोगी, तब पता चलेगा कितना बड़ा है. अलका रानी लंड चूसने के साथ साथ मेरे अंडे भी बड़े हल्के हल्के हाथ से सहला रही थी. मैंने अलका रानी के होंठ छोड़ के उसकी तरफ देखा, वो भी अब गरम हो चली थी, उसने आधी मुंदी हुई मस्त आँखों से मेरी तरफ बड़े प्यार से देखा, दोनों हाथों मेरा चेहरा पकड़ा और फिर अपनी तरफ खींच के मेरे होंठ चूसने लगी.

मैंने उसके लंड की गोटियों पर भी हाथ फिराना और सहलाना चालू कर दिया, जिससे उसकी गरम आवाजें निकलने लगीं. मैंने भी उसके लंड के हर धक्के का जवाब अपनी गांड उठाते हुए तगड़े धक्कों से देना शुरू किया.

इसी दौरान अंजलि चाय लेकर कमरे में आ गई पर मैं तो उस समय बाथरूम में अंजलि की चूत चुदाई का सोच कर मुट्ठ मार रहा था.

अंदर जाते ही मैंने उसे दबोच लिया और उसके पूरे शरीर पर किस करने लग गया. जब मैं जवान होने लगी थी, तभी से उनकी निगाहें मेरी तरफ गंदी हवस भरी होने लगी थी. मुझे बहुत से पाठकों के मेल मिले हैं और उसमें से कुछ ने चुदाई भरी चैट करने की भी कोशिश की है.

आंटी बीएफ आंटी बीएफ हमारे जिस्मों की ताप पर ऐ सी की कूलिंग भी कोई असर नहीं डाल पा रही थी. मेरे स्पर्श से उनकी कामुक सिसकारी निकलना शुरू हो गई और वो बोलीं- प्लीज़ रॉनित ऐसे मत करो.

इस बार मैंने आंटी की टाइट गांड में आइसक्रीम डाल कर गांड को फाड़ दिया. मैंने उसे उठाया उसको पैंटी और जीन्स वापस पहनाई और उसने मेरा कंडोम उतार के एक पैकेट में डाल दिया. वैसे तो मैंने कभी सेक्स बहुत ज्यादा नहीं किया था लेकिन ब्लू फिल्म देख कर सब तरह के खेल सीख गया था.

बीएफ देखना है वीडियो में बीएफ

पता नहीं आज मेरा क्यों नहीं निकल रहा था… शायद ड्रिंक की वजह से जल्दी नहीं निकल रहा था. यह सुन कर वो बोला- अगर आप मेरी कोई सहायता करना चाहती हैं तो मेरी बहन बन कर कर सकती हैं. एक हाथ से फोन पकड़े हुए, आँखें मूंदे हुए… अपने होंठों को दांतों के नीचे दबा कर दूसरे हाथ से खड़े खड़े अपनी चुत को मसल रही थीं.

’मैंने उसको और तड़पाया और उसकी चूत में लंड डालने से पहले उसके मम्मों को दबाना शुरू किया, साथ ही क़िस करना भी शुरू कर दिया. जिस वक़्त मैं घर पर आई, उस वक़्त भी मैंने पूरी ड्रेस जैकेट और जीन्स के नीचे ही पहन रखी थी.

एक बार पूरा लंड अन्दर घुस जाने के बाद मैंने माँ को रगड़ना चालू कर दिया.

जब दीदी बेसुध पड़ी रहीं तो धीरे से अपने हाथों को पजामे से बाहर निकाल लिया. ज़ोर से और ज़ोर से!उसकी इन आवाजों से मेरा तो एक्साईटमेंट और बढ़ जाता था. थोड़ी देर बाद दीदी अपने एक हाथ से अपने एक पैर को पकड़ कर फैलाने लगीं ताकि चुत थोड़ी और खुल जाए और दूसरे हाथ से दोबारा करेले को पकड़ सीत्कारियां लेते हुए उसको अपनी चुत में अन्दर बाहर पेलने लगीं ‘ओह फ़क… ओ माय गॉड… आह आह ओह…’थोड़ी ही देर में दीदी की हाथों की रफ़्तार मशीन की तरह बढ़ गई थी और दीदी चेयर की पीछे की ओर गर्दन झुकाये हुए चिल्लाते हुए अपनी चुत चोदे जा रही थीं.

दो मिनट बाद मैं उसके लंड पर बैठ गई और गांड हिला के उसके लंड का मज़ा लेने लगी. थोड़ी देर बाद विवेक ने कामिनी को खींच लिया अपनी तरफ और बोला- बहुत तड़पा रखा है!वो बोली- अच्छा… मेरा क्या?और उसने विवेक के सीने पे हाथ फेरने चालू कर दिए. पिंकी लगता है तुम्हारी किसी ने चुदाई की है, तुम्हारी चूत तो पूरी खुली हुई है.

मैं बोली- छोड़ कुत्ते कमीने, मत कर साले, घटिया जीजा, मादरचोद छोड़!जो गालियां आती थी, सब दे डाली और रो भी बहुत रही थी पर जीजा को कोई भी फर्क नहीं पड़ रहा था, वो फिर से अपना लन्ड घुसाने में लग गए.

बीएफ सन 2021: मैंने उन्हें बिस्तर पर चित लिटा दिया और अपने लंड पर थूक लगा कर लंड को उनकी चुत के मुहाने पर टिका दिया. और वो आनन्द से चिल्लाने लगी- असाह्ह आआह आह्ह ह्ह स्सशआ आह्ह्ह… भाई… आह!दस मिनट की चुदाई के बाद मैं झड़ने ही वाला था तो मैंने उसे बताये बिना अपना लंड अपनी बहन की बुर से बाहर निकाल कर उसके पेट पर अपना माल छोड़ दिया.

लेटर में लिखा था कि डार्लिंग, जो मैंने लिखा है उसे पढ़ कर क्या घबरा गईं? तुम फिक्र मत करना, मैं अपना लंड तब तक किसी चुत में नहीं डालूँगा सिर्फ तुम्हारी चूत छोड़ कर, जब तक इस इंक का रंग खत्म नहीं हो जाता. बिस्तर पर मेरी आँख खुली तो मम्मी मुझसे पूछने लगीं कि बेटा ये सब कैसे हुआ?पापा डॉक्टर साहब से बात कर रहे थे. उसके गाल एकदम मस्त चिकने थे, मैं जब उसको चूमता था तो उसके गालों को काट खाने का मन होता था.

मैंने उसको बेड पर लिटाया और अपना लंड उसकी चुत पर थोड़ी देर रगड़ कर उसको और उत्तेजित करके जैसे ही उसकी चुत में लंड डाला कि उसने एक दर्द भरी चीख के साथ मेरी पीठ पर कस कर नाख़ून गड़ा दिए.

वैसे उनका बर्थ डे कब होता है?मैं- बस आने वाला है… इसी 31 अक्टूबर को है. मुझे नहीं पता था कि आशीष और उसके दोस्त, जिसका नाम चंदर था, में आपस में कौन सी खिचड़ी पक रही थी. क्षण भर के लिए प्रिया के चेहरे पर उलझन की बदली सी छायी… लेकिन जैसे ही उस को बात समझ में आयी तो उस के चेहरे पर मुस्कान आ गयी, चेहरे पर हया की लाली छा गयी और उसने दोनों हाथों से अपना चेहरा छिपा लिया.