इंग्लिश बीएफ बढ़िया वाला

छवि स्रोत,हाट सेक्सी विडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

हॉर्सेसेक्सी: इंग्लिश बीएफ बढ़िया वाला, इसके बाद करीब आधा घण्टा अपने बीते कॉलेज के बीते दिनों की बातें करने के बाद दोनों ने एक बार फिर चुदाई की और फिर एक दूसरे को आलिंगन में लिए गहरी नींद में वो दोनों सो गए।दोस्तो, मेरे छोटे भाई विक्रम ने अपनी भाभी की चूत को चोदने की कामना पूरी कर ली थी.

हीरोइन का एक्स एक्स एक्स

बात को समझते हुए नम्रता बोली- तो तुम बताओ किस तरह पीना चाहोगे चूत बियर. नंगी ब्लू पिक्चर बताओक्या बताऊं दोस्तो … उस वक्त उसने ब्रा नहीं पहनी थी और उसके दूधिया रंग की वजह से अंधेरी जगह में भी उसके ठोस उरोज मस्त अठखेलियां कर रहे थे.

अलका- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैं- नहीं … अब तक तो कोई भी नहीं है. शक्तिमान सेक्स वीडियोरास्ते में डीडवाना से आगे जाने पर एक शादीशुदा महिला जिसकी उम्र लगभग 26 वर्ष के करीब थी, वहां से बस में चढ़ी.

महेश और अनामिका ने सामान पैक कर लिया था, सिर्फ सामान को नए फ्लैट में शिफ्ट करना था.इंग्लिश बीएफ बढ़िया वाला: इस दोहरी चोट को वो सह नहीं पाई और बहुत ज़ोर से चीख़ पड़ी उम्म्ह… अहह… हय… याह… जिसको मैंने अनसुनी करके अपना लंड पूरा निकाल कर वापस से एक ज़ोर का झटका दे मारा.

दोस्तो, मेरी सेक्स कहानी के अगले भाग भेजने में हुई देरी के लिए माफी.कोई दस मिनट तक किस करने के बाद मैं अपने हाथ उसके टॉप के अन्दर ले गया.

नई लड़कियों की चुदाई - इंग्लिश बीएफ बढ़िया वाला

आह्ह … जीजू … आपका लंड कितना मस्त है … दीदी तो बहुत किस्मत वाली है … ओह … और जोर से करो जीजू … आपके लंड को लेकर तो मेरी चुदास बढ़ती ही जा रही है.अब तो उसे भी रहा नहीं जा रहा था, वो तुरंत बोला- पक्का न मेमसाब? किसी को पता नहीं चलेगा?मैं बोली- हां पक्का!इतने में वो मेरे पास आ गया.

मुझे अपनी चूची चुसवाने में बड़ा मजा आ रहा था मैं खुद अपने हाथ से अपना दूध पकड़ कर उसको पिला रही थी. इंग्लिश बीएफ बढ़िया वाला बीच-बीच में वह मेरी गोलियों को किस कर लेती थी और कभी पूरी की पूरी मुंह में भर लेती थी.

मेरी तरफ से कोई विरोध होता न देख कर उन सभी को समझ आ गया कि मैं उनसे क्या चाहती हूँ.

इंग्लिश बीएफ बढ़िया वाला?

फिर मैंने उससे बोलना ठीक समझा और एक दिन मैं उससे बात करने के लिए ऑफिस जल्दी आ गया. थकी तो नहीं कामिनी?”बिल्कुल नहीं, तुम तो मेरे पति हो, मेरे हर अंग पे हक है तुम्हारा, जब चाहो जैसे चाहो मेरी लो!” मैं लेट गयी, टांगें उठाने लगी. उसके बाद मैं राधिका को किस करते हुए उसकी लचकदार गांड पर हाथ से सहलाने लगा.

अब मैंने पूरा ध्यान मौसी की चूत पर लगाया और जोर जोर से धक्के लगाने लगा. अब तो वो भी अपने डर को भूलकर मुझपर टूट पड़ा और सीधा मेरे दूध में हमला बोल दिया, अपने हाथ से मेरे दोनों दूध को मस्त मसलने लगा. म्म्मम … ये क्या आज तो जनाब मुँह में चोदेंगे मुझे … कहीं मुँह में ही ना झड़ जाना!”मैंने अपना लंड मुँह में ठूंस दिया.

जहां पेपर देने जाना था, वहां से ही थोड़ी दूर पर मेरे दोस्त की गर्लफ्रेंड एक हॉस्टल में रहती थी. एक मिनट ही बीता था कि डॉली खिसककर मेरे पास आई और अपना हाथ मेरे सीने पर फेरने लगी, थोड़ी देर में उसने मेरा हाथ पकड़कर अपनी चूत पर रख दिया. तो वो बोले- अरे तू तो मेरी बीवी की एक्टिंग कर रहा है, तो शर्मा क्यों रहा है? वो तो इसे बड़े प्यार से चूमती है और लॉलीपॉप की तरह चूसती है.

मैं बोली- अंकल जी, अभी नहीं … मुझे कुछ टाइम और दो … उसके बाद हम सब करेंगे. इस दोहरी चोट को वो सह नहीं पाई और बहुत ज़ोर से चीख़ पड़ी उम्म्ह… अहह… हय… याह… जिसको मैंने अनसुनी करके अपना लंड पूरा निकाल कर वापस से एक ज़ोर का झटका दे मारा.

उसने मुस्कराते हुए जवाब दिया- हां, अपने मम्मी-पापा और भाई के साथ रहती हूं.

जीजा ने धीरे से मेरे कान के पास आकर अपना मुंह लाकर कहा- तुम्हारे कहने पर मैं तुम्हें अभी के लिए छोड़ रहा हूँ लेकिन आज तुम्हें मेरा और तुम्हारी दीदी का सेक्स रात को जरूर देखना है.

तो मैंने कहा- कोई बात नहीं, मुझे बस उस बात का दुख है कि तुमने मेरा फोन नहीं उठाया और फोन बन्द कर लिया. इसी तरह मैंने वाइन उसे फिर से पिलाई और उसके होंठों पे फिर होंठों रख दिए. किस्मत से मेरा तीर निशाने पर लगा और उसने खुद ही कह दिया कि अगर मैं बुरा न मानूं तो मैं उसके घर रात में रुक सकता हूँ.

सरला के हाथ भी कहां शांत थे, वह मेरे चूतड़ों पर अपने हाथ घुमा रही थी. एक ओर मुझे ऐसा लग रहा था कि ये सब ग़लत है और एक तरफ लग रहा था कि अब पूरे मज़े कर ही लूँ. उनका गोरा बदन, भरे हुए 38 की साइज के बड़े बड़े चुचे, उठी हुई 36 साइज की गांड और कमर का 30 था.

हां, मगर ये भी सत्य है कि एक पुरुष एक साथ दो औरतों के साथ आराम से सेक्स कर सकता है किंतु वह एक ही समय पर दोनों को एक साथ सन्तुष्ट कर पाये ये जरूरी नहीं है.

कुछ दोस्त मुझसे सेक्स करने की चाहत रखते हैं, तो कुछ ने लड़की के नाम से मेल आईडी बना कर हेल्प के लिए मुझसे सम्पर्क किया. मेरी चूत से प्रीकम निकल रहा था और उसे ये नमकीन पानी बड़ा मजा दे रहा था, जिससे वो मेरी चूत को बड़े मनोयोग से चाट रहा था. मौसी भी कमोवेश गर्म हो गई थीं क्योंकि उनकी चुत से भी नमकीन पानी टपकने लगा था.

जब मैं उससे पहली बार मिलने गया तो उसने मुझे एक रेस्तराँ में बुलाया. अब उसने मुझे घोड़ी बनने के लिए कहा और फिर पीछे से मेरी चूत में अपना लंड डालकर मेरी चूत मारने लगा. अब आगे:मेरे मम्मों को दबाते दबाते उसे भी बहुत मज़ा आ रहा था, वो बोला- आशना, कैसा लग रहा है?मैं कुछ नहीं बोली और बस ‘उन्नह.

अंकल ने अब अपनी रफ्तार बढ़ा दी और वो पूरे लंड से लम्बे लम्बे झटके देने लगे.

)वो अब और खूंखार हो उठे थे और अपनी पूरी दम से मेरी गांड चूत मार रहे थे. मैंने तुरंत उसकी गांड पर थूक लगाया और पूरा लण्ड अंदर करने की कोशिश करने लगा।जैसे ही गांड में लंड ने रास्ता बनाना शुरू किया तो हर के सेंटीमीटर की गहराती हुई गहराई के साथ गीतू की दर्द भरी चीखें उसके भीतर को फाड़ कर बाहर आने की कोशिश करती मगर मेरी प्यारी गीतू उन चीखों का अंदर ही गला घोंट दे रही थी.

इंग्लिश बीएफ बढ़िया वाला मैंने पूरे 20 मिनट तक लगातार पोज़ बदल बदल कर उसकी चूत चोदी और अंत में मैंने उसके मम्मों पे अपने लंड का सारा माल निकाल दिया. इतने में मेरे दोस्त की मम्मी ने हमें खाना खाने बुला लिया और हम जाने लगे.

इंग्लिश बीएफ बढ़िया वाला मुझे बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी कि इस आनंद का अंत दो पल में ही हो जायेगा. वे भी मेरा साथ दे रही थी और नॉर्मल हो चुकी थी और मेरे लंड मज़ा ले रही थी.

इसलिए उस दिन के बाद से मैंने सुमिना की गतिविधियों पर नजर रखना शुरू कर दिया.

गर्ल हस्तमैथुन

वो अपने चिकने बदन को अपने कपड़ों के अंदर ऐसे छिपा कर रखती थी जैसे कोई सुनार तिजोरी में सोना छिपाकर रखता है. आंटी पहले तो मना कर रही थी लेकिन बाद में फिर मान गई क्योंकि आंटी भी सारा दिन घर पर बोर हो जाती थी इसलिए उन्होंने सोचा कि उनका मन भी बहल जायेगा. मैं राधिका को पेलते हुए उन दोनों से बोला- चलो कपड़े निकाल कर तैयार रहना … जल्द ही तुम दोनों का नंबर आएगा.

यही ज़न्नत थी और मेरे होंठ इस जन्नत का लुत्फ़ लेने से एक-डेढ़ इंच ही दूर थे. उसने अपनी एक टांग को मेरे दोनों टांगों के बीच फंसा कर दूसरी टांग को मेरी कमर पर चढ़ा दी. पहले तो टेंडर अटेण्ड करने और नेगोटिएशन्स के लिए, फिर इक बार प्री-डिलीवरी इंस्पेक्शन के लिए आदि-आदि.

मैं ठरकी तो था ही इसलिए सोनिया या अनामिका की चुत चुदाई के बारे में भी सोचकर मुठ मार लिया करता था.

अब आगे:भाभी ने मुझे समझाते हुए कहा- इस बार बहुत ही धीरे धीरे उसके छेद में घुसाना, नहीं तो मैं बहुत मारूंगी. उसने मुझे अपने दोनों हाथों से ज़ोर से दबाया और मुझे बिस्तर पर गिरा दिया. उसके साथ कुछ देर तक मैंने बातें कीं और फिर मैंने अपने कपड़े पहन लिये.

अब मैंने जान-बूझकर उसको सांत्वना देने के बहाने से उसकी चूचियों को दो बार और टच कर दिया. भाभी शालू के कमरे से बाहर आ गईं और उन्होंने शालू के कमरे का दरवाज़ा बाहर से बंद कर दिया. मुझे डर था कि कहीं बनी बनाई बात बिगड़ न जाए … न जाने फिर मौक़ा आए न आए! यही सब दिमाग़ में था और मैं नहा कर वापस आया.

मुझे भाभी का लंड सहलाना बहुत अच्छा लगने लगा, इसलिए मैं कुछ नहीं बोला. उसके बाद मैं उसे स्मूच करते हुए उसके सीने के भाग पर किस करते हुए बोबों की तरफ बढ़ा। उसके बोबे एकदम कड़क थे। उठे हुए सुडौल, जैसे किसी पॉर्न स्टार के होते हैं। मैं उसके दूधों को पीने लगा। वो आह्ह-आह्ह करती हुई कह रही थी ‘चोद दो भाई मुझे प्लीज … चोद दो मुझे.

फिर मैंने उनको वह कहानी बताई जब मेरे जीजा के भाई सुरेंद्र और उनके मकान मालिक ने मुझे मिल कर चोदा था. उसने लंड रस का पानी बगल में रखे डस्टबिन में थूक दिया और मेरे बगल में लेट कर टांगें खोलते हुए बोली- अब मेरी बारी. अगर कोई टाइट कपड़ों में ऐसे ही देख ले तो उससे मुट्ठ मारे बिना नहीं रहा जाए और यह तो मेरे सामने अपने असली रंग को दर्शाती हुई नंगी गांड थी।मैंने वीणा के बालों को पीछे खींचते हुए उसकी चूत में अपना लंड ठेल दिया और अपनी पूरी जान लगा कर वीणा की चूत को चोदने लगा.

उसके बाद मैंने आसानी से उसके गर्म चूत में लंड पेल दिया और चोदन प्रक्रिया करने लगा.

यह सुनकर मैं बहुत शर्मा गई, मैं समझ गई थी कि भाई का लंड अब मेरी चूत फाड़ेगा. मेरे बदन का और धक्कों का सारा ज़ोर रानी के चूचुक पर आ रहा था, क्यूंकि मैंने उनमें अपने नाख़ून गाड़ के उन पर पंजे टिका के धक्के ठोक रहा था. उसकी चूत को चोदते हुए मैं उसके सूट के ऊपर से उसके चूचों को दबाने लगा.

वो कभी मेरा एक मम्मा चूसता और दूसरा दबाता, तो कभी दूसरा चूसता, तो पहला दबाता. फिर अगले सौ डेढ़ सौ धक्कों में उन दोनों ने मुझे रंडी बना ऐसा चोदा कि मैं खड़ी भी नहीं हो पा रही थी.

आंटी बोली- अरे अरे … क्या कर रहे हो? मैं शारदा से तुम्हारी शिकायत कर दूंगी. तू अब तक कहाँ था, सोनू? सोनू मेरे राजा, अन्दर बाहर करना शुरू कर और आज अपनी आंटी को चोद दे. इसमें बदनामी भी नहीं है और किसी प्रकार की चिंता भी नहीं रहेगी और धोखे का तो फिर सवाल ही नहीं उठता।4.

ब्लाउज डिजाइन का फोटो

घर वालों ने उसको नीम्बू पानी पीने के लिए रोक लिया और फिर घर में वोटिंग किसने किसको की, नींबू पानी पीते हुए इस पर चर्चा शुरू हुई.

सपाट पेट और बल खाती 32 इंच की रसीली खरबूजे जैसी मस्तानी गांड किसी का भी लंड खड़ा कर देने में सक्षम है. सरिता एक कामुक मुस्कान के साथ बेड से उठी और एक मादक अंगड़ाई लेकर बोली- पापा आज किसी को पक्के में बुलाकर हम दोनों को मज़ा दिलवा दो … आप तो रोज़ ही कहते हैं. भाई ने ये कहते कहते मेरी टांगें फैला दीं और अपना लंड सैट करके मेरी चूत में डाल दिया.

अब अंकल भी मस्त होकर मुझे भोग रहे थे और अपनी किस्मत पर नाज कर रहे थे कि मुझे कुंवारी बुर भोगने को मिली. क्योंकि आंटी नीचे है थीं, मगर हम जब भी मिलते थे, ऐसे ही गन्दी बातें करते थे. खोज पोर्न वीडियोउठते हुए मेरे बाप बने जीजा से बोला- भाई तू अपना लंड अब इसकी गांड से निकाल ले और अपनी बेटी को अपनी बीवी मान कर इसकी चूत को जम कर रगड़ दे.

पूरी मर्दानगी के साथ लंड को गांड की तरफ धकेला और गांड को लंड की तरफ खींचा तो कुछ बात आगे बढ़ी. तो मैंने पूछा- दो दिन में लड़की में क्या क्या देखेगें?तो वो बोली- पागल … उनकी मामा की लड़की के अदली बदली में शादी होगी, तो उनके मामा भी जा रहे हैं.

उनका लंड इतना गर्म था कि क्या बताऊँ … उनके लंड का सामने का भाग काफी मोटा था. दोस्तों बस चुत एक बार मिलते ही मेरा सारा डर दूर हो गया और ऊपर वाला भी मेहरबान हो गया था, जहां चुत लेने की कोशिश की, वहां कभी निराश नहीं हुआ. मैं भी उन्हें पीछे से चूमते उनके साथ गया और अपने लंड से उनकी गांड पे बाहर से ही टक्कर मारता रहा.

फिर तेल को उसकी चूचियों पर फैलाया, तो उसकी चूचियों के निप्पल तन गए. भाबी के इस तरह गांड को उठा उठा कर लंड पर बैठने की अदा मुझे बड़ी भा रही थी. फिर मैं टॉवल लपेटकर बाहर आई और रूम बंद करके मैंने लैपटाप ऑन कर दिया.

पारो ने गुलाबो का श्रृंगार गुलाबों से किया था उसकी उम्र 18-19 साल की होगी.

मेरे बालों को चाची ने पकड़ लिया और मेरे सर जोर से अपनी चूत पर दबाने लगीं. सीधी-सादी भाषा में इस का यही मतलब निकलता था कि वसुन्धरा मन ही मन मुझे पसंद करती थी.

उस दिन मैंने देखा कि आगे वाला मेन दरवाजा अंदर से लॉक नहीं किया गया था. उसके चूचों पर लाल निशान हो रखे थे जो शायद उसके यार ने चूस-चूस कर या दबा कर किये थे. दो तीन बार ऐसा करने के बाद मुझे मजा आने लगा, तो मजे के लिए मैं तुम्हारे जिस्म से चिपक जाती.

एक दिन हम दोनों साथ बैठ कर एक फ़िल्म देख रहे थे, तो उसमें एक सेक्स सीन आया. अब आगे:मैंने अनुषी से कहा कि मुझे पूरी रात तुम्हारे साथ बितानी है, वो भी तुम्हारे घर में … या तुमको समय निकल सकता है, तो किसी होटल में. मालूम हुआ कि मैडम जी के सास और ससुर किसी सत्संग में एक हफ्ते के लिए अमृतसर गए हुए हैं और उनका पुराना नौकर मोहन दास अचानक बीमार हो गया तो छुट्टी पर था.

इंग्लिश बीएफ बढ़िया वाला मैंने कहा- लेकिन 5 लोगों के साथ कैसे कर पाऊंगी?सर बोले- परेशान मत हो तुम्हें भी मजा आएगा. फिर जब सब कुछ सामान्य हो गया तो मैं फिर से उसके दर्शन करने अपनी बालकनी में आकर उसके रूम में झांकने लगा.

छोटा लड़की के साथ सेक्स

रेस्टोरेंट पर खाने का आर्डर किया, बेड दुरुस्त किया और गुप्ताइन को फोन किया कि मैंने खाना मंगाया है. अन्दर जाते ही मैं आयशा पर भूखे शेर की तरह टूट पड़ा।वो बोली- क्या कर रहे हो? कोई आ जाएगा।मैंने कहा- कोई नहीं आएगा, बस थोड़ी देर … केवल 5 मिनट।वो मना करने लगी. बस अब क्या था, जैसे ही चूची मेरे हाथ में आकर नंगी हो गईं तो मैंने उसकी चूचियों को बारी-बारी से मसलना और भींचना शुरू कर दिया.

रात को मैं निहारिका के पास गया, तो वो उसी सूट में तैयार खड़ी, मेरा वेट कर रही थी. मैंने लाल रंग की साड़ी पहनी और ससुर जी को याद करते हुए मैंने गहरे गले का ब्लाउज पहना, ये ब्लाउज पीछे से एकदम खुला हुआ था, जिसमें से मेरी पीठ एकदम नंगी दिख रही थी. மும்பை செஸ் வீடியோपांच मिनट की जोशीली चुदाई के बाद वह मेरी चुत में झड़ने लगा, तो मैं लगभग बेहोश सी हो गयी थी.

निक मेरे से थोड़ा ही दूर आ कर बैठ गया और पूरे समय मुझे ही ताड़ता रहा था.

फिर मैंने नीचे आते हुए उसकी नाभि में अपनी जीभ डाल दी, इससे वो सिहर गई. लेकिन बुआ और ताऊ जी की वो चुदाई मुझे जब भी याद आती है मेरा लंड तन कर जैसे फटने को हो जाता है.

वहाँ मेरा कोई फ़्रेंड नहीं था। मैं समय काटने के लिए मैं फ़ेसबुक पर बहुत ऑनलाइन रहता हूँ और पहले भी कई लोगों से मुलाक़ात कर चुका हूँ। साथ में मैं ऑनलाइन सेक्स मूवीज़ भी देखता हूँ।फ़ेसबुक पर मैं बहुत सी लड़कियों और भाभियों को रिक्वेस्ट भेजता हूँ कि काश़ कोई मिले और मैं मज़े ले सकूँ. मैं बोला- अरे यार … मैं तो वैसे ही फोन काट रहा था … मैं नाराज नहीं हूँ. मुझे बहुत दर्द हुआ मगर साथ में बच्चे सो रहे थे इसलिए मैंने अपनी दर्द भरी आवाज को अंदर ही दबा लिया.

मैंने स्माइल दे दी।उसके दोस्त के आने के बाद उसने मुझे तैयार होने को कहा.

मैंने नम्रता को उसी पोजिशन में अपने ऊपर लिया और मेरे लंड की चुदाई करने को कहा. कुछ ही मिनट में उसके लंड से वीर्य निकल कर मेरे सारा का सारा वीर्य मेरे मुंह में झड़ गया. फिर सुमिना ने उसे अपने ऊपर से हटाते हुए उसको पीछे किया और वो अपने घुटनों पर आ गया.

अमीषा पटेल सेक्सीभाबी जी भी अपनी गांड उछाल उछाल कर अपना भोसड़ा मुझसे चटवाने में लग गईं. पिछली बार जब मैं दिल्ली से घर आई थी, तो मुझे पहाड़ों में आकर बहुत सुकून मिला.

गढ़ा सेक्स

मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी कमर को पकड़ लिया और एक जोर का झटका दे मारा. उसका लंड राकेश से काला था और मोटाई थोड़ी कम थी और लम्बाई बराबर!मैंने जल्दी से उसे मुंह में ले लिया और चूसने लगी. राधिका ने कहा- सबसे पहले दिशा थी, फिर मैं आई थी और आखिर में सोनल थी.

मानसी के ऊपर लेटकर रितेश जीजू ने उसके होंठों को जोर से चूसते हुए उसके चूचों को मसल डाला. मेरी मोटी और गोल चूचियों को देख कर नीचे वाले लड़के ने अपने दोनों हाथों में उनको भर लिया और उनको कस कर दबाने लगा. दोस्तो, मैं ये तब की बात बताने जा रही हूँ, जब मैं बारहवीं कक्षा की तैयारी कर रही थी.

मैंने उनकी गांड के नीचे तकिया रखा और अपना लंड उनकी चुत पर रगड़ने लगा. पिछली तीन रात जो मैंने सारा और ज़रीना के साथ गुजारी थी और जो जलवा देखा था उसके बाद सोचने लगा अगर सारा ज़रीना मीठी और सीधी थी तो नमकीन कैसी होगी?फिर सारी बहनें मुझसे मेरी सुहागरात का किस्सा पूछने लगी तो मैं हिचकिचाया. इसके बाद क्या हुआ … ये जानने के लिए आप सब अपने विचार मुझे मेल से भेजिएगा.

एक गिलास उन्होंने दीदी के हाथ में देना चाहा मगर फिर कुछ सोच कर खुद ही दीदी को अपने हाथों से जूस पिलाने लगे. वो भी शायद किसी पर ट्रस्ट नहीं करती हैं … वरना अब तक उनका अफेयर हो चुका होता.

पति- देख नम्रता ऐसी बात मत कर, नहीं तो मैं सब छोड़-छाड़ कर आ जाऊँगा और तुझे पटक-पटक कर चोदूंगा.

अगर आपका रेस्पोन्स अच्छा रहा तो मैं आपके साथ अपनी और भी कई सारी आपबीती शेयर करना चाहूंगा. गांड मारी वीडियोपर मैं जानती थी कि नंबर बाई नंबर सलवार पैंटी कुर्ती ब्रा सब को ही उतरना ही था. ओल्ड कपड़ों का बाजारकुछ ही पलों आग भड़क उठी और हम दोनों की जीभें एक दूसरे के मुँह में एक दूसरे के रस को चूस रहे थे. जब वो दोनों सुबह लंगड़ाती हुई चल रही थी तो नूरी खाला ने सारा और ज़रीना की हालत देखी तो वे माजरा समझ गयी.

उसने दोबारा से मेरा लंड मुंह में ले लिया और मेरी गांड पर हाथों को दबाकर उसे जोर से चूसने लगी.

उसने मेरे लंड पर और खुद की चूत पर खुद का थूक लगाया और लंड को चुत में डाल ही दिया. अब वो जोर जोर से लंड को चूसती और मैं चुत में उंगली अंदर बाहर करके उसे मज़ा देता. मैंने बोला- मैडम अभी तो प्रोग्राम शुरू हुआ है … सुबह हमारी चुदाई के नंबर देना.

मैंने कहा- आप बनाती रहो, मैं कब मना कर रहा हूँ?दीदी खाना बनाने लगी और मैं पीछे से दीदी की चूची को दबाने लगा। थोड़ी देर में खाना तैयार हो गया।दीदी बोली- चलो पहले खाना खा लिया जाए, फिर तुम अपनी इच्छा पूरी कर लेना।मैं बोला- दीदी मैं पहले नहा लेता हूं. मेरा लंड उसकी जांघों के बीच में घुस जाना चाहता था मगर बीच में उसकी नाइटी आ रही थी. एक दिन की बात है, क्रेन में कुछ मैकेनिकल प्राब्लम हो गई थी, जिसके वजह से मैकेनिक को बुलाना पड़ा.

सबसे छोटी चुत

फिर मैंने अपना रात्रि में पहनने वाला गाउन पहना और बाहर आकर अपने बिस्तर पर लेट गई. उसने मुझे फिर से अपने ऊपर खींच लिया और मेरी छाती के नीचे उसके चूचे दब गये. यह बात बहुत साल पहले की है, उस वक्त मुझे सेक्स के बारे में भी कुछ नहीं पता था, लेकिन सेक्स के मज़े से में ज्यादा दिनों तक अंजान ना रह सका.

फिर वाइन खत्म होने के बाद उसने डाइनिंग टेबल पर आ कर पहले से आर्डर से मंगाया हुआ खाना सर्व किया.

मैंने एक दो धक्के मार कर उसके चूचों को चोदा तो लंड सायमा की ठुड्डी से जा लगता.

वनिता बोली- हम्म झूठ मत बोलो यार … एक बात कहूँ, मेरे ससुर जी तुम पर फ़िदा हैं. मौसी नशे में बोलीं- तेरा लंड इतना लम्बा कैसे हो गया?मैंने कहा- अपने आप. लंड मोटा करने की दवाभाबी- और वो गले लगाते वक़्त तुम्हें क्या मस्ती सूझ रही थी?मैं- मैंने क्या किया भाबी?भाबी- अच्छा तुमने कुछ नहीं किया … गले लगाते वक़्त तुमने मेरे कूल्हे नहीं सहलाए थे क्या?मैं- भाबी अब मैं क्या करूं … आपकी गांड को देख कर मुझसे रहा ही नहीं गया … इसलिए ये गुस्ताख़ी कर दी.

जीजा ने मेरी गांड को अच्छी तरह चोदा और फिर तब भी मेरी प्यास न बुझी तो उन्होंने मेरी चूत को चोदते हुए अपना गर्म लावा मेरी चूत में भर दिया. मैं उसको देख कर हंसने लगा और वो गुस्से से बोली- तू यहां क्या कर रहा है मेरे रूम में?मैंने कहा- तुझे भी यह सब पसंद है ना … फिर तू मुझसे मना क्यों कर रही थी?उसके हाथ में मैंने डिल्डो की तरफ देखते हुए कहा- और ये सब क्या हो रहा था?मेरे सवालों का उसके पास कोई जवाब नहीं था. पूरी ताकत लगा दी अंतर्मन ने एक सवाल पूछने में- आप यहां पर फैमिली के साथ रहती हैं क्या?काजल को शायद पहले से ही उम्मीद थी कि मैं उससे बात करने की पहल जरूर करूंगा, इसलिए उसको मेरे सवाल पर हैरानी होने की बजाय हर्ष ज्यादा हुआ.

तो गुस्ताखी की पेशगी माफ़ी की गर्ज़ के साथ अर्ज़ है कि इस फ्रंट पर इस से ज्यादा सुधार की कोई गुंजाईश … अभी तो नज़र नहीं आती. उधर मैं फोन पर आशीष को भी इसी तरह से कामुक सिसकारियां लेते हुए उत्तेजित रखने की कोशिश कर रही थी लेकिन असली मजा तो मुझे यहां जीजा के साथ आ रहा था.

इसके बाद मैंने उसके होंठों पर किस किया और पूछा- क्या तुम्हारी सलवार भी निकाल दूँ?उसने मुझे चूमते हुए कहा- अब क्या दिक्कत है … निकाल ही दो बेबी.

खिड़कियों पर खूबसूरत गहरे नीले परदे और एक पूरी दीवार पर कपड़ों वाली अलमारियां. मैं चुप रही और बस इंतजार कर रही थी कि अगले पल में क्या होने वाला है मेरी चूत के साथ. वो पूरे जोश के साथ धक्का लगाते और पूरा लंड बुआ की चूत में घुस कर ताऊ की जांघें बुआ की जांघों से टकरा जाती और फट्ट की आवाज होती.

और बेटे की चुदाई तुम देखना पसंद करोगी?मैं डर गई, मुझे समझ में आ गया कि वो क्या कहना चाहता है. लेकिन इस बीच उसके पापा आ गए, तो बस हमेशा की तरह उन दोनों का दिखना मुहाल हो गया.

पर अपनी सामाजिक पद प्रतिष्ठा का ख्याल करके मैं कभी भी ऐसा करने की हिम्मत नहीं जुटा पाई. मैं आप सबको बताना चाहता हूँ कि यह कहानी बिल्कुल सत्य घटना है, कोई मनघड़न्त बकचोदी नहीं है. फोन पर ही हम दोनों एक दूसरे में इतना खो जाते थे कि कब मेरी टोंटी से पानी निकल जाता, पता ही नहीं चलता था.

चोदने वाली पिक्चर

थोड़ी देर बाद मुझे शरारत सूझी और मैंने अपना एक हाथ रीना की कोमल जांघों पर बढ़ाया और हल्के हल्के उसकी कोमल मखमली जाँघें सहलाने लगा. फिर अचानक एक दिन उसका कॉल आया- तुम कहां हो, मैं अजमेर में ही हूँ … तुम आ सकते हो क्या?मैंने उससे पूछा- अजमेर में तुम कहां हो?उसने बताया तो मैं जल्दी से उसे मिला और उसको लेकर एक रेस्टोरेंट में ले गया. काफी देर गाने सुनने के बाद जब मैं बोर होने लगी, तो मैं आस पास देखने लगी.

मैं जिम करता था इसलिए मुझे वजन उठाने में कोई परेशानी नहीं हो रही थी. इसके बाद तो मानो काजल की उफनती जवानी का जलवा ही मेरे सामने बिखर रहा था.

वह उस समय बिल्कुल नंगी थी। उसके हाथ में एक ट्रे में कॉफी थी। वो मेरे पास आकर मुझसे नाश्ता करने के लिए कहने लगी.

कई बार खाना बनाने के वक्त वो अपनी साड़ी पेट के नीचे दबा लेती हैं और उस वक्त उनकी नाभि साफ झलकती है. फिर मैंने उम्मीद छोड़ दी लेकिन उसकी चुदाई करके मैंने खूब मजे लिये।दोस्तो, ये थी मेरी कामुक कहानी. पर इससे औरतों को जो सुख मिलता है, खुशी मिलती है … उसे किसी भी तरह से शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता है.

उसकी चूचियों को पीते हुए मैं उसके होंठों को भी चूसना चाहता था मगर अगले ही पल मेरा ध्यान उसकी चूत की तरफ चला गया और मैंने एक हाथ नीचे ले जाकर उसकी चूत पर रख दिया. जून 2014 को मैं और मौसी जिनका नाम पुष्पा है, अपनी नानी के घर ट्रेन से जा रहे थे. अब मैं 18 साल की कमसिन स्कूल गर्ल बिल्कुल मादरजात नंगी उनके सामने बैठी थी; मेरी नंगी चूत एक गैर मर्द के सामने नुमाया थी और मर्द भी वो जो मेरे पिता की उम्र के थे.

रूम सर्विस वाला आया, तो उसने एक रेड वाइन की बोतल कॉमप्लीमेंट्री दी, मिनरल वाटर दिया.

इंग्लिश बीएफ बढ़िया वाला: ‘आआहह … आअहह … आआअहह … उउइई माँआअ … मैं मर गई … आअहह…’थोड़ी देर बाद उसने मेरे होंठ पर होंठ जमा दिए. वो वनिता को किस करने लगे और वे दोनों बेड पर एक दूसरे के कपड़े उतारने लगे.

मैंने थोड़ी सी कोल़्ड ड्रिंक अपनी पैंट पर गिरा ली और गिलास को नीचे टेबल पर रख कर पैंट को अपने हाथ से साफ करने लगा. मैंने भी लंड पेलते हुए अपनी कमर को झटके के साथ हिलाना शुरू कर दिया. तब भी भाभी को ये नहीं मालूम चल सका था कि मैं अपनी बीवी शालू की गांड में लंड पेल रहा था.

इसलिए पूछ रही थी कि तुम्हारी बीवी को … कि आकर मालिश कर देती।किशोर बोला- मेमसाब अगर आप को बुरा न लगे तो मैं कर सकता हूँ.

अब मैंने पीछे से उसके दोनों मम्मों को अपने हाथों से पकड़ लिया और जोर जोर से दबाने लगा. उसके बाद जीजा ने भी अपनी जीभ को दीदी की चूत से बाहर निकाल लिय़ा और दीदी को घोड़ी की पोजीशन में झुका लिया. चूंकि मैं देखने में अच्छा था और मेरी बॉडी भी काफी फिट थी इसलिए लड़कियां जल्दी ही मुझे पसंद कर लेती थीं.