सेक्स सेक्स बीएफ एचडी

छवि स्रोत,बीपी सेक्सी वीडियो भोजपुरी

तस्वीर का शीर्षक ,

बालबीर डाउनलोड: सेक्स सेक्स बीएफ एचडी, लंड बड़ा होने के कारण मानवी भाभी से ठीक से सांस भी नहीं ली जा रही थी और उसकी आँखों से पानी निकलने लगा.

सेक्सी वीडियो दिखाओ बीएफ सेक्सी

इसी तरह हम मेले में पहुँचे, वहां काफ़ी भीड़ थी और तरह तरह के झूले लगे हुए थे. बीएफ चित्रमैं कमल के धक्के बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी, मेरे मुँह लगातार मादक सिसकारियां और आवाजें आ रही थीं ‘आआअहह.

जब मैंने उसका ये मेल पढ़ा तो मैंने उनको धन्यवाद बोल कर जवाब दिया और मेल से लॉग आउट हो गया. राजस्थानी सेक्सी बीएफ वीडियोबहूरानी के कोमल पैरों का स्पर्श मेरे लंड को और कठोर बनाता जा रहा था और अब वह पूरा अकड़ चुका था.

पर मैंने थोड़ी सी खोल रखी थी। मधु को लगा कि मैं सो गया हूँ।मधु ने पूछा- कौन?बाहर से आवाज आई दीदी खाना लग गया है.सेक्स सेक्स बीएफ एचडी: अब वो लंड निकाल कर उलटा मुँह करके मेरे लंड को अपनी चुत में सटा कर फिर चोदने लगीं और बोलने लगीं- आह.

फिर मैं रात को पहले से ही जाकर बेसमेंट के रूम में खूब पुराना सामान रखा है, वहाँ जाकर छुप गया.और मेरे साथ चल पड़ा। मैंने सोचा चलो अपने भतीजे का तो साथ बना। उसका नाम रविंदर था.

बीएफ बीएफ एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स - सेक्स सेक्स बीएफ एचडी

आप लोगों तक मैंने अपनी सच्ची घटना को पहुंचाने की कोशिश की है, धारा प्रवाह में गलतियां हों, तो उसे मिला कर पढ़ने का कष्ट करें.फिर रोज योग का सेशन होने लगा और एक दिन मुझे रात को ऑफिस जाने का आईडिया आया और मैंने मोना को बताया तो वो थोड़ी नाराज हुई पर बाद में समझाने पर मान गई.

मैंने- किधर डाल दूँ?वो मेरी छाती पर मुक्का मारते हुए बोली- सताओ मत. सेक्स सेक्स बीएफ एचडी बॉस- नेहा, तुम मेरे लंड से प्यार करती हो?मैं- हाँ सर!बॉस- कितना?मैं- बहुत प्यार करती हूँ, चाहती हूँ कि आपका लंड हर वक्त मेरे छेद में घुसा रहे। मैं आपके लंड को चूसती रहूँ।बॉस- तो आओ, मुझे नंगा करो और मेरा लंड अपने मुंह में ले लो।मैं नकली लंड चूत में लिये हुए दूसरा असली लंड मुँह में लेने के लिये चल दी.

खाना खाकर मैं सोने लगा तो माँ दूध लेकर आयी तो मैं जान कर नहीं उठा तो वो चली गयी और कुछ देर बाद फिर आयी और मेरे सिर पे तेल लगा के मालिश करने लगी.

सेक्स सेक्स बीएफ एचडी?

पन्द्रह दिन मुझे पन्द्रह महीने लग रहे थे, मैं टीवी पर सिर्फ किसिंग वाला सीन देखूँ तो भी मुझे सेक्स चढ़ जाता है, मेरी सांसें तेज हो जाती है और मेरी चूत गीली हो जाती है. लेकिन मेरा असली इरादा तो उसकी माँ तक पहुँचने का था जिसे मैंने अभी तक देखा भी नहीं था. शादी के बाद से उसने अंकित को रोक रखा था लेकिन आज जो भी कुछ हुआ ऑफिस में, उसके बाद माया बहुत उत्तेजित भी थी और उसके मन में अंकित को मजा देने की इच्छा भी थी.

थोड़ी देर के बाद वो मेरे पास आ कर मेरे कंधे पे अपने कंधे मार के मैरिज हॉल की सीढ़ियों पर चढ़ गईं. मुझे भी बहुत अच्छा लगता था दीदी को खुश देख कर भी और क़िस्सी लेकर भी. और वो मूली मैं वैसे ही बाहर सड़क पर फेंक दी।अब तो अक्सर उस्मान भाई और मेरे बीच नज़रों के तीर चलते ही रहते थे, इशारेबाज़ी भी शुरू हो चुकी थी। वो अक्सर अपनी लुँगी में झूलते अपने लंड को हिला कर मुझे दिखाता और मैं भी समझ जाती कि वो क्या कह रहा है और मैं भी मुस्कुरा देती।मेरी कामुकता से भरी चोदन कहानी जारी रहेगी.

कुछ देर यूं ही लंड घिसने के बाद अचनाक से ऐसा धक्का दे दिया कि उसका पूरा का पूरा लंड मेरी गांड के अन्दर घुस गया. वो जब भी मेरे पास आतीं तो मैं उनके नितंबों में खींच कर हाथ मार दिया करता था और वो मुस्कुरा कर चल दिया करती थीं. ये ससुरी ना दुखती… इसे तो लंड से जितना मारो पीटो… उतनी ही ज्यादा खुश होती है बेशरम!” बहूरानी जी खनकती हुई हंसी हंसी.

ये ड्रेस पहन का जाने का मेरा मन नहीं है लेकिन मन में आया कि मेकअप का सामान उपयोग कर लेती हूँ और एक बार इसको पहन कर देख भी लूँ कि कैसी है. मैंने उसको बेड पे पीठ के बल लिटाया और उसके मम्मे अपने हाथों में लेकर चुत चोदने लगा.

फिर बहूरानी का मादरजात नंगा जिस्म मेरे नंगे बदन से लिपट गया और वो मेरे ऊपर चढ़ गयीं और मेरे होंठ चूसने लगीं साथ में अपनी चूत मेरे लंड पर रगड़ने लगीं.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग :पड़ोसन का चोदन देख कामुकता जागी-2.

उसके बाद पन्द्रह मिनट में मैं झड़ गया और हमने अपने कपड़े पहने और बाहर आये तो देखा कि बाहर कोई नहीं था. फिर बहूरानी शीशे के सामने जा खड़ी हुयी, कुछ पलों के लिये उसने खुद को शीशे में निहारा, फिर झुक गयीं और सामान रखने वाले काउंटर का सहारा लेकर डॉगी बन गयी. इतनी चुदाई के बाद भी मेरे लंड का कड़कपन कम नहीं हुआ तो वो फिर से चुत में डाल कर दनादन चुत चोदने लगा.

पूरी नंगी होकर मम्मे मेरी तरफ तानकर बोली- सर कैसी लग रही हूँ मैं आज?आह. मैं डर रहा था कहीं करण की माँ या फिर करण घर पर ना आ जाए क्योंकि करण कॉलेज कुछ देर पहले ही निकला था. अपना एक हाथ नीचे ले जाकर अपना लंड उसकी बुर पर सैट किया और दोनों हाथों से उसे टाइट पकड़ लिया.

”अगले ही पल ब्रायन ने अपना लंड मेरी छोटी सी चूत में पेवस्त कर दिया.

मैं सीधा उसके घर गया जाते ही उसे दीवार के सहारे लगा कर उसपर टूट पड़ा. आगे मेरी एक दुखभरी चुदाई की कहानी है, वो मैं आपको बताना चाहता हूँ कि कैसे मेरी प्यारी रोशनी मेरी भाभी बन गई. उनकी दोनों चुचियां और सपाट पेट, गहरी नाभि के साथ पूरा नंगा मेरे सामने था.

ससुराल छोड़ कर आने के बाद माधुरी ने पढ़ाई की और किसी स्कूल में नौकरी करने लगी. मैं उसके गले पे किस कर रहा था और एक हाथ से उसकी प्यारी सी चुत को सहला रहा था. उस दिन शाम में मीना आंटी ने अपने पड़ोसी को मेरी ट्यूशन क्लास के बारे में बताया कि कैसे मैंने पिंकी और रोशनी को पढ़ाने के साथ साथ उनकी बॉडी लैंग्वेज भी विकसित कर दी है.

मेरे हाथ में बॉडीलोशन ख़त्म हो चुका थे, फिर भी मैं उनकी पीठ पर हाथ फेर रहा था.

मेरा लंड खड़ा हो रहा है, जल्दी हटाओ नहीं तो कसम से चोद दूँगा, बाद में कहना मत. इसमें आनन्द का बचना भी मुश्किल था, पर जब तक मोना कोई पहल न करे और मुझे उस पर पूरा भरोसा था कि वो नहीं करेगी.

सेक्स सेक्स बीएफ एचडी अब किशोर धक्के मारने लगा, वर्षा आँखें बंद किए किशोर की पीठ पर प्यार से हाथ फेर रही थी, जैसे कि वो उसे धन्यवाद दे रही हो. जब सारा रस चाट कर साफ कर दिया, तो वो मेरे कुछ इस तरह बैठ गया कि उसका 7″ का मोटा लंड मेरे होंठों के एकदम पास आ गया था, जिसे देखते ही मेरी जान निकल गई.

सेक्स सेक्स बीएफ एचडी उनकी साड़ी का पल्लू हटाकर मम्मों को पकड़ लिया और नाभि में जीभ फिराने लगा. मैंने धीरे धीरे से धक्का मार कर पूरा लंड अन्दर कर दिया और चुपचाप कल्याणी के ऊपर लद गया.

इधर मुझ पे तो सेक्स का भूत चढ़ा था, उसके मस्त मम्मों को देख कर तो मैं और भी पागल हो गया.

अदा शर्मा xxx

मैं बोला- जब मैं वहां पे रहूँगा तो सब कुछ कैसे होगा?छाया ब़ोली- उसके जाने के बाद. इस बार मैं अपने घर आया तो पता लगा कि विशाल की अभी नई नई उसकी शादी हुई थी और वो अभी यहीं है तो इसलिए मैं उसके घर पर उसे बधाई देने चला गया. बस मन कर रहा था कि साली को यहीं चोद दूँ, पर मजबूर था क्योंकि मैं रेस्टोरेंट में था.

फिर जीजू ने मेरी शर्ट के सारे बटन खोल कर मेरी शर्ट को पूरा उतार दिया और फिर मेरी जींस के बटन को भी खोल दिया, मेरी जींस को उतार दिया, मैं बस ब्रा और पेंटी में रह गयी. बहन ने पेंटी नहीं पहनी थी, तो मैंने बहन से कहा- बहन क्या तुम पेंटी नहीं पहनती हो?तो वो बोलीं- अरे बुद्धू तुम आने वाले हो, ये बात मुझे मालूम थी ना, इसलिए तुम्हारे स्वागत के लिए निकाल रखी है. पर जब उनकी ब्रा की स्ट्रिप दिखती, तो मैं उसको पकड़ कर खींच कर छोड़ देता और उन्हें इससे ज़ोर से लग जाती.

ससुराल छोड़ कर आने के बाद माधुरी ने पढ़ाई की और किसी स्कूल में नौकरी करने लगी.

मेरा नाम स्वयं है। मैं ऑफिस के काम से डलास शहर जो कि टेक्सास(अमेरिका) में है. ब्रायन मम्मी को एक टांग खड़ी करके चोदे जा रहा था, लंड से झटके पर झटके लगाये जा रहा था. मैं एकदम से उछल पड़ी और संजय के बालों में हाथ डाल कर उसके होंठों को जोर से काटने लगी.

बस तभी सिराज ने वो सारा पानी हाथ में लेकर अपना हाथ मेरे गांड के छेद में डालना शुरू किया।आगे आने वाले संकट को लेकर मैं सचेत हो गयी. मैं कुछ समझती उससे पहले तो मेरा नाड़ा खिंच चुका था और मेरी सलवार जमीन पर थी. मेरा दिमाग खराब हुआ और मैंने भाबी को उठा कर दूसरे बेडरूम में बेड पर लाकर पटक दिया.

अरे भाभी ये क्या? मैं तो अधूरा ही रह गया!”अरे कोई बात नहीं आप कन्टीन्यू रखिए अभी केवल तन भरा है, मन नहीं. मैं उन्हें खूब प्यार से समझाने लगा कि जीवन में धैर्य बड़ी बात होती है.

अब मेरा एक हाथ उसकी जाँघों से होता हुआ उसकी चूत की तरफ बढ़ने लगा और दूसरा हाथ उसकी चूचियों को दबाए जा रहा था. आओ ना…” प्रिया की गुहार सुन कर मैं बेखुदी के आलम से वापिस पलटा। मैंने बहुत ही नाज़ुकता से प्रिया को अपनी गोदी में बिठा कर आगे-पीछे हिलना शुरू कर दिया. मैं- आहह आह दी…दी… आह मुझे कुछ हो रहा है दी…दी… कुछ आ रा है बाहर दीदी… दीदी मेरा सूसू आ रहा है आप मुँह हटा लो ना प्लीज़…लेकिन दीदी ने मेरी बातों को अनसुना कर दिया और मेरे लंड से कुछ सफेद सफेद निकल गया जिसको दीदी ने पूरा का पूरा पी लिया.

मैंने किशोर को देर तक लंड हिलाने नहीं दिया और किशोर को लंड डालकर पड़े रहने को बोला.

अन्तर्वासना पर हिंदी में गंदी सेक्स कहानी का मजा लेने वाले मेरे प्यारे दोस्तो, मैं एक और चुदाई स्टोरी के साथ आपके सामने आया हूं. यहां मैं बताना चाहता हूं कि मुझे मेरी बीवी के बारे में पता पहले चला था कि उसका जो ये साथी है, वह उससे काफी खुल चुकी है. वो अपनी गांड मटकाते हुए मोहन लाल के पास गई और मुस्कुराते हुए बड़े ही कामुक अंदाज में बोली- आप आ गए पापा?मयूरी मोहन लाल के इतने पास खड़ी थी कि वो चाहता तो उसकी चूचियों को पकड़ कर मसल देता, पर मोहन लाल ने ऐसा कुछ नहीं किया.

मैंने कपड़े पहने, मेकअप किया, लिप एंड आई लाइनर, लिपस्टिक आदि लगा ली ताकि यहाँ के लड़के भी मेरा जलवा देख सकें और बाहर आ गई. मैंने भी उनका दिल रखने के लिए हाँ बोल दी और हम दोनों खाना खाने लगे.

उसकी टांगों के बीच में आकर उसके ऊपर लेट गया और उसके होंठों को चूसने लगा. मैं कभी कभी चाचा के लंड को उनकी पैन्ट में देखती थी क्योंकि वो जब भी मेरी चूची को देखते थे और मुझसे बातें करते थे तो उनका लंड खड़ा हो जाता था और मुझे भी अब लंड से चुदवाने का मन करने लगा था. राजधानी एक्सप्रेस के प्राइवेट कोच में हम ससुर बहू ने क्या क्या किया ये सब जानने के लिए कल ट्रेन चलने का इंतज़ार कीजिये.

बिकनी क्या होता है

जमैका ने नजदीक आकर उसके गांड के छेद के ऊपर काफी सारा थूक गिरा दिया और ओमार ने मेरी भार्या को कमर के बल लेटाते हुए उसके जमैका के थूक से तर गांड के छेद को अपने लंड से भर दिया.

गुलाबी रंग का टॉप और नीले रंग की जींस पहने हुई थी, क्या मस्त कयामत लग रही थी, मैं बता नहीं सकता. दीदी- सन्नी, ऐसा मत करो प्लीज़… तुमने बोला था कि तुमको सिर्फ़ लंड चुसवाना है, अब ये सब मत करो. प्रिया प्रेम की पराकाष्ठा पर जल्दी से पहुँचने के लिए तमाम बंधन तोड़ने पर उतारू थी लेकिन मैं आज के अपने इस अभिसार को सदा-सर्वदा के लिए यादगार बनाने पर कटिबद्ध था.

यही मेरी किस्मत में लिखा था।दोस्तो, मेरे जीवन की इस होने वाली घटना से मुझे भविष्य में क्या हासिल होने वाला था. उनके 5 मिनट बाद ही दूसरा दोस्त भी झड़ गया, उसने अपना माल मेरी बीवी के स्तन पर निकाल कर हाथ से चारों ओर फैला दिया. एक्स एक्स एक्स चालूकुछ ही मिनट बाद दीदी ने कहा- आज तेरा पहली बार है इसलिए मुझे तेरे लंड से चुदने की जल्दी मच रही है.

कुछ देर बाद मैं झड़ने वाला था, मैंने सुकुमारी भौजी के मुँह से अपना हथौड़ा निकालना चाहा मगर उनकी पकड़ के आगे विवश था. माशूक और नमकीन लौंडा होने के कारण मेरे पर कई लौंडेबाज मरते थे और मैं भी कच्ची उम्र से गांड मराते मराते गांड मारने मराने का शौकीन हो गया.

मैं हंसा और बोला- आज से तुम्हें मेरा हर कहना मानना होगा, तभी मैं तुम्हें छोड़ूँगा. मगर मुझे लंड को टच करना अच्छा लगने लगा और धीरे धीरे मैंने सुपारे को मुँह में भर लिया और चूसने लगी. किशोर ने वर्षा के मुँह से लंड निकाला और उसके पैर सीधे किए और उसकी सूजी हुई चूत पर थूक लगाकर चूत पर लंड घिसने लगा.

मैंने छूने के साथ ही हल्के से दबाए तो वो कहने लगीं- आह प्लीज़ हाथ हटाओ. वो जहां रहती थी, वहां कॉलोनी थी पर ठंड होने के कारण सब घरों में दुबके पड़े थे. मैंने उससे कहा- मैं झड़ने वाला हूँ, बोलो कहाँ निकालूँ?वो बोली- अन्दर ही डाल दो प्लीज!कुछ ही देर बाद मैं उसकी इंडियन चुत में ही झड़ गया और उसके ऊपर ही गिर गया.

लंड तो लंड ही होता है उसके पास सोचने समझने के लिए बुद्धि विवेक कहाँ होता है; लंड को तो किसी औरत के जिस्म की आंच महसूस हो तो वो तुरन्त ही लड़ने भिड़ने को, दंगा करने को तैयार हो जाता है; उसे तो नर मादा के बीच बनने वाले उस एक रिश्ते को ही निभाना आता है.

फिंगरिंग करते हुए ही निर्मला का सारा माल निकल गया और वो ठंडी पड़ गई और उन्होंने मेरा लंड चूसना बंद कर दिया. आपको मेरी गरम कहानी अच्छी लगी या नहीं, मुझे मेल ज़रूर करें ताकि मैं अपनी अगली गर्म कहानी भी आपके सामने ला सकूं.

मैंने पीछे से एक हाथ की उंगलियों से बड़े प्यार से उसकी निप्पल को सहलाया, दूसरे हाथ की उंगलियों से उसकी क्लिट वाली लुल्ली पे घुमाने लगा. मेरे रोंगटे खड़े हो गए। मैंने अपना मुँह तकिया में दबा लिया और चादर को कस कर पकड़ लिया।उसने और ज़ोर लगाया. मैं गई और उस बैग को उठाकर स्वाति वाले रूम में चली गई और कमरा अन्दर से बंद करके ड्रेस बदलने लगी.

अब वो थोड़ा करहा रही थी, मैंने एकदम से झटका मार कर लंड पूरा उसके अन्दर उतार दिया जिससे उसने जोरदार चीख मारी और मैं रुक गया और आराम से आगे पीछे करने लगा. मैंने अपना चेहरा साफ किया और कमल के पास आ गई, उसने मुझे गले लगा लिया और मेरे कान को अपने दांतों से चुभलाते हुए बोला- सरिता आई लव यू. मैं बैठ गई और कॉफ़ी पीने लगी, वो मुझसे बातें कर रहा था और मुझे बड़े गौर से देख रहा था.

सेक्स सेक्स बीएफ एचडी उसने आगे जारी रखते हुए कहा- अगर ये बात घर में पता चल जाए ना, तो मम्मी पापा तुझे मार मार के घर से निकाल देंगे. अब वो धीरे-धीरे मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगीं बिल्कुल पोर्न मूवीज की अभिनेत्री की तरह.

सेक्सी बॉयज

अवी- ओके, देखो ये ड्रेस भी मुझे बहुत अच्छी लग रही है और तुम पर भी अच्छी लगेगी. मैं भाग कर गया तो देखा वहां पर एक छिपकली थी और चाची उसी को देख कर डर गई थीं. कभी कभी वो मुझे किस भी कर रहे थे और हमारी चुदाई की कामुक आवाजें कमरे में गूंज रही थी.

फिर दो तीन दिन बाद अमित ने कॉल किया- कहाँ हो मिनी तुम्हें अपना काम याद है ना?मैं- हाँ याद है बताओ कब और कहां उनके पापा से मिलना है?अमित- हाँ वही बताने के लिए कॉल किया है. मैं भी डर के मारे दूर हो गई तो अवी ने कहा- डियर देखता हूँ मैं… तुम यहीं रहो, जब मैं कहूँ तब बाहर आना. सेक्सी ब्लू पिक्चर हिंदी में दिखाओरज़ाई एक ही थी काफ़ी बड़ी थी। रात को सोने से पहले मैंने सबको फोन करके बता दिया कि हम दोनों होटल में रुके हैं.

फ़िर बहन ने मेरा हाथ अपनी चुत पे रख दिया और मुझे अपने ऊपर खींच कर मुझे चूमने लगीं.

फूफा ने मम्मी की नाइटी की डोर खोल कर उतार दिया और उनको जमीन पर लिटा दिया. सो गये क्या जानू… सॉरी राजा मैं लेट हो गयी आने में!” वो बोली और मेरे नंगे जिस्म को छाती से नीचे तक सहलाया और मेरे खड़े लंड पर अपनी नाजुक उंगलियाँ लपेट के इसे मुट्ठी में दबाया.

हर एक नाते-रिश्तेदारी की कोई ना कोई लड़की और महिला मेरे लच्छेदार बातों के जाल में फंस ही जाती. अगली सीडी में दीदी एक पहलवान नुमा हब्शी जैसे गुलाम की पीठ पर सवारी कर रही थीं. भाभी की चुत पर बिल्कुल छोटे छोटे बाल उगे हुए थे, जो कि पकड़ में भी नहीं आ रहे थे.

मेरे लंड का मुख उसकी बुर के अंदर था और मैंने हल्का सा झटका दिया तो वो रोने लगी.

इस बीच में मैं उसके मम्मों को भी मसल रहा था और उन्हें चूस भी रहा था. मेरी गर्मी के आगे वो टिक नहीं पाया और उसने मेरी चुत अपने पानी से भर दी. अब जब हमने भी इसी शहर में रहना चालू कर दिया तो मेरा चाची के घर उठना बैठना शुरू हो गया.

ब्लू ब्लू पिक्चर हिंदी मेंइसके लिए मैंने एक फ्रेंड के फ्लैट को टयूशन सेंटर में बदल लिया जो मॉडल टाउन में था. मैंने दीदी के दूसरे हाथ को भी छोड़ दिया और दोनों हाथों से बूब्स को मसल मसल कर चूसने लगा, दीदी बस अपने सर को हिलाती रही और तड़प कर मुझे ऐसा करके से रोकती रही लेकिन दीदी के हाथ अपनी जगह पर ही थे.

ओपन द बीपी

संजय ने अपने धक्के और तेज कर दिए, जिससे मैं समझ गई कि वो भी अब झड़ने वाला है. और मेरे बालों को पकड़ कर राजेंद्र अंकल ने मेरी गांड को जोर से कस के और अपना पूरा लौड़ा अन्दर घुसा दिया पूरी तरह! अंकल मेरी गांड चोदते हुए जोर से पकड़ के घुसाने लगे और मेरे बाल जोर से पकड़ कर गाली देते हुये बोले- और ले अपनी गांड में मेरा पूरा लंड!और इस तरह से उन्होंने अपना लंड गरम गरम रस मेरी गांड में भर दिया और मेरे पीठ से लिपट गए. अमित वो हाथ की ड्रेस पकड़ कर ही दूर हो गया था, तो साथ में वो ड्रेस भी पूरी निकल गई.

उनको चूमने के बाद मैंने अपनी पैंट उतारी और अपना 7 इंच का लंड निकाला तो दीदी के होश उड़ गए. क्या इनके लिए भी कुछ है?” उसने अपनी चुचियों को दोनों हाथों में थामकर पूछा. उस दिन वे मुझसे पूछने लगीं कि तुम्हें फ्रूट कौन से पसन्द हैं?मैंने उनके मम्मों की देखा और बोला- भाभी मुझे चूसने वाले आम पसन्द हैं.

तभी माँ ने मुझे बोला- अपना फ़ोन दो!तो मैं डर गया लेकिन माँ की बात थी तो डरते डरते देना पड़ा. ऐसा मैं नहीं कहता, जिन्हें मैंने अपने मोटे लंड से चोदा है, वे कहती हैं. कुछ देर बाद उसने मुझे उल्टा लिटाया और मेरी गांड को चाटने लगा और कहीं कहीं पर काटने भी लगा.

फिर मैं बेड पर ही खड़ा हुआ और अपनी जीन्स एंव अंडरवियर को निकाल दिया और मेरा 6 इंच का खड़ा लंड उसकी आँखों के सामने आ गया, उसने शर्म से अपनी आंखें नीचे कर ली. मैंने तुरंत नीचे उतरना चाहा मगर सिराज ने मुझे रोक दिया, मेरे बदन पे हाथ फेर कर उसने कहा- बहुत गंदी हो गयी है तू छोरी। रुक तुझे साफ़ करते हैं.

दीदी- तेरे पर गुस्सा क्यूँ नहीं करूँ, तू भी तो अमित जितना ही कसूरवार है, उसने मेरी वीडियो बनाई लेकिन ब्लॅकमेल तो तूने भी किया ना मुझे, तो क्या फ़र्क है तेरे में और अमित में?मैं- सॉरी दीदी… मैं आपको ब्लॅकमेल नहीं करना चाहता था लेकिन आपके इस खूबसूरत जिस्म ने मुझे पागल कर दिया था, मैं अपने होश खो बैठा था.

इस पर मैंने कहा- हाँ अगर मोना को कोई ऐतराज ना हो तो मुझे क्या दिक्कत हो सकती है. देश की ब्लू फिल्मतभी मेरे पापा का फ़ोन मेरे मोबाइल पे आने लगा, मैं तो डर गया लेकिन मैंने हिम्मत करके फ़ोन उठाया तो पापा ने पहले पढ़ाई के बारे में पूछा, फिर बोले- तुम्हारी मम्मी का मोबाइल ऑफ़ है तो बात करा दे!मैं माँ के पास गया अपना फोन लेकर परन्तु माँ ने बात करने से मना कर दिया और बोली- बोल दो कल बात करने के लिए!तो पापा ने फ़ोन कट कर दिया और मैं भी जाकर सोने लगा. सनी लियोन सेक्सी वीडियो नंगीवो बोली- मुझे पता है इसलिए मैं तब तक आपके साथ सम्भोग करूँगी, जब तक माँ ना बन जाऊं. एक हाथ से उसके दूध जैसे धवल उरोजों को सहलाता हुआ, दूसरे हाथ से उसकी क्लिट को मसलने लगा, जबकि किड इस समय आराम से मीठी गोरी लड़की की गांड को पेलने में लगा हुआ था.

तभी उस आदमी को किसी ने आवाज़ लगाई, उसने मुझसे बोला- आप इनको लेकर चले जाओ… पार्किंग में देख के आ जाओ… मुझे कोई बुला रहा है.

दीदी तीन दिन हुए अब भी कभी कभी मेरी चूत में मस्त मस्त ठंडी ठंडी लहरें उठ रही हैं, जो मुझे इतनी ठंडक देती हैं कि मैं बता नहीं सकती. चाह कर भी उन गुंडों जैसे आदमियों को देख कुछ भी कर पाने की हिम्मत अपने में नहीं जुटा पा रहा था. मैंने अब ताकत भरे करीब पचास झटके मारे, रोशनी की साँसें तेज होने लगी और मैं उसकी चूत में ही झड़ गया.

मेरे घर वालों ने मेरी जान रोशनी और मेरे भैया जो दूसरे शहर में जॉब करते थे, उनके साथ करने का फैसला लिया. मयूरी समझ गई थी कि इस 48 साल के आदमी ने अभी अभी अपने बच्चों आपस में सेक्स करते हुए देखा है और इसके मुँह से एक आवाज़ तक नहीं निकली थी, इसका मतलब ये जरूर कुछ न कुछ सोच रहा था, जोकि इस घर में हो रही चुदाई की पक्ष में था. मैंने उसे कोई क्रीम लाने को कहा और उसे उसकी गांड पर अच्छी तरीके से क्रीम को मला और उसे अच्छे तरीके से सहलाया.

हॉट सेक्सी गेम

मेरा नाम बन्टी है, मैं अमेरिका में रहता हूँ, यह मेरी पहली सेक्सी स्टोरी है. दोनों आगे बढ़े और पहली बार पूरी आज़ादी और बेफिक्री से दोनों के होंठ एक दूसरे से मिले. कुछ देर ऐसे ही चुदाई करते करते हम दोनों एक साथ झड़ गए और निढाल होकर लेट गए.

मैंने कहा- छाया जी, फिल्मों में तो लड़की एक ही बार में माँ बन जाती है.

मैंने भी जवाब में कहा- मुझे भी!फिर मैं स्वाति के गले से लगी और स्वाति के हालचाल पूछे और उसने भी बताया.

मुझे कभी किसी बात की कमी नहीं होने दी, फिर भी मेरी जिंदगी ने कुछ ऐसा मोड़ लिया, जो मैंने कभी ख़्वाब में भी नहीं सोचा था. भाभी आगे बता रही थीं:उन दोनों को देख मेरे दिल की धड़कन बढ़ रही थी, तथा दिख जाने के डर से मैं उन दोनों को कामलीला के मध्य में छोड़ कर बाहर आ गई और बाहर से दरवाजे पर कुंडी लगा कर ऊपर चली गई. बीपी ब्लू सेक्सी ओपनथोड़ी दूर जाने के बाद हमारे पीछे एक लड़का आ रहा था, तो मैंने अंजू से पूछा- ये कौन है?उसने कहा कि इसी से मैं मिलने आई हूँ.

इस तरह मुझे भी उन्हें चोदने में बड़ा मजा आ रहा था क्योंकि यह मेरा फेवरेट आसन है. मैं कालेज से आया ही था कि भाबी नाश्ता ले आईं और मैंने भाबी की आँखों में एक अजीब सी चमक और आवाज में मिठास देखी. जब लंड पेल रहा था तो वो केवल मेरी दोनों जांघों के बीच में लंड करके बहुत तेज आगे पीछे करने लगा.

हमारे सोसाइटी में सुनयना भाभी रहती हैं, उन्हें मैंने वह सीडी को पकड़ाते हुए कहा कि भाभी एक बार आप इन सभी सीडी को देख लेतीं. मैंने अपना नाम शालू बताया तो उसने रूम से बात की और मुझसे कहा कि वो आपका ही इंतजार कर रहे हैं.

अब भी उनकी और मेरी ईमेल पे या फ़ोन पर बात होती रहती है, हम काफी अच्छे दोस्त हैं.

तो मैंने उन्हें कहा कि अबकी बार अगर हमारे खेत में नजर आयी तो तुम्हारी खैर नहीं!तभी अचानक उनमें से एक ने मुझे थोड़ा अजीब तरीके से देखना शुरू कर दिया।मैंने भी उसे उसकी भाषा में जवाब दिया और उनके पीछे जाने लगा. मुझे पटा था कि मैं फर्स्ट क्लास का माल हूँ चोदने के लिए!चाचा और मैं, हम दोनों धीरे धीरे एक दूसरे के करीब आने लगे थे. इसलिए क्योंकि उसे लगा कि मुझे रास्ता समझ में नहीं आ रहा था।मुझे भी अब कुछ कुछ समझ में आ रहा था कि रोशनी को भी मेरे साथ वक्त बिताना अच्छा लग रहा है।बातों ही बातों में उसने मुझे बताया- मेरे घर वाले मेरे लिए रिश्ता ढूंढ़ रहे हैं और शायद एक साल में शादी हो जाएगी.

बिहारी आंटी का बीएफ संजय ने दोनों हाथों से मेरे चूचों को मसलना शुरू कर दिया और अपनी गरम जीभ मेरे निप्पल पे रख दी. प्यार से उसकी तरफ देखा तो पता चला कि वो नींद के आगोश में दुबकी हुई है.

मैंने अपनी बाँहें पसार दीं और उनसे कहा- दीदी, मैं आपके साथ सीडी वाला सेक्स करना चाहता हूँ. धीरे धीरे मैं उसके पेट पर जीभ फेरता हुआ उसकी चुत तक आ गया और जीभ से उसकी चूत को चाटने लगा. मैंने दीदी से कहा कि आज अगर मैं जीत गया तो आपको पूरे कपड़े उतारने पड़ेंगे.

राजस्थानी सेक्सी नंगी पिक्चर

मेन लाइन से लूप लाइन पर जाती ट्रेन फिर वापिस मेन लाइन पर आती हुई… पटरियों की खटर पटर सच में एक मीठा उन्माद भरा संगीत सुनाने लगी. जब भी कोई मुझसे फेसबुक पर चैट करता है और वो मेरी पिक देख लेता है तो मुझसे मिलने के लिए बेचैन हो जाता है. पहले मैं अपने बारे में बता दूं, मेरी हाइट 5’6″ है और मेरे लंड का साइज़ का 6 इंच का है.

किस करते करते धीरे धीरे मैं अपना एक हाथ उसकी पेंटी के ऊपर ले गया और पेंटी के ऊपर से ही उसकी इंडियन चुत को सहलाने लगा. फक मी आयुष फक मी हार्ड…’मैं भी कहां रुकने वाला था, तो ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाता रहा.

इसके बाद उसने मेरे कपड़ों को एक एक करके मेरे शरीर से निकल फेंका और खुद भी नंगा हो गया.

अब मैंने निर्मला की चूत में अपनी पूरी उंगली घुसेड़ दी तो आनन्द वश उनके मुख से आह निकली और उनका मुख जैसे ही पूरा खुला. हमारे घर में रहते या कभी हॉस्टल में रहते वक़्त जब प्रिया हमारे घर आती तो ‘मौसा जी! नमस्ते’ कह कर ही इतिश्री कर देती थी लेकिन उस दिन अपने घर में तो प्रिया ‘मौसा जी!’ कह कर मुझ से ज़ोर से लिपट कर मिली. पहले हाथ में लंड लगा तो मुझे अजीब सा लगा, मैंने बड़ी तेजी के साथ खींच लिया.

फिर मेरा लंड सीधा उनकी बच्चेदानी में जा कर झड़ गया और मैं उनको अपने जिस्म से सटा कर किस करने लगा. मैं- तो कहाँ जाना चाहता है आपका लंड?अब मैं उठ कर बॉस की तरफ जाने लगी. अब महेश मेरी चूत को चाट कर गीला कर रहा था और मैं उसके लंड को मज़े से चूस रही थी.

आनन्द फिर लंड को चुत के होंठों के पास लेकर गया और मोना की चूत फैला कर एक जोर का धक्का लगा दिया, जिससे आधा लंड मोना की चूत में घुस गया.

सेक्स सेक्स बीएफ एचडी: फिर कभी नीचे, उसने जीन्स पहनी हुई थी, तो उसकी जीन्स पर हाथ लगा कर वापस पेट पर चला जाता. उसने दिल्ली में ही एक होटल में रूम बुक कर लिया, जहाँ हम मिलने वाले थे.

यह कहानी अनन्या नाम की शादीशुदा 24 वर्षीया एक जवान सेक्सी लड़की की है जो इलाहाबाद में रहती है। वह बहुत खूबसूरत है, उसका बदन 34-30-34 आकार का है। पतली कमर और चेहरा भी काफी सेक्सी है। इतने सेक्सी माल को देख सबके लंड सलामी देने लगते थे. मैंने गौर किया कि दरअसल सभी सीडी में दिख रहे गुलाम, दीदी के ऑफिस में काम करने वाले शादीशुदा मर्द थे. यह कहानी अनन्या नाम की शादीशुदा 24 वर्षीया एक जवान सेक्सी लड़की की है जो इलाहाबाद में रहती है। वह बहुत खूबसूरत है, उसका बदन 34-30-34 आकार का है। पतली कमर और चेहरा भी काफी सेक्सी है। इतने सेक्सी माल को देख सबके लंड सलामी देने लगते थे.

अब मैंने निर्मला की चूत में अपनी पूरी उंगली घुसेड़ दी तो आनन्द वश उनके मुख से आह निकली और उनका मुख जैसे ही पूरा खुला.

यह टाइम तो नागपुर पहुँचने का था और जल्दी ही ट्रेन स्लो होती चली गई फिर रुक गई. मैं- मोना मेरे लिए नाश्ता बनाओ और आनन्द जी आपको फिटनेस के लिए हमने रखा था, वो लक्ष्य पूरा हुआ और ये रहे आपके पैसे. मेरा नाम बबलू गुप्ता है, मैं शादीशुदा हूँ किंतु जॉब के कारण कोलकाता में अकेले रहता हूँ.