नई बीएफ 2022 की

छवि स्रोत,देहाती साड़ी वाली सेक्सी फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

साउथ मूवी 2020 का नया: नई बीएफ 2022 की, अब गांड की बारी !”कभी गांड और कभी बुर करते हुए मैं आंटी को चोदता रहा करीब तीन घंटे तक …आंटी साथ में गाना गा रही थी :तेरा लंड मेरी बुर …अंदर उसके डालो ज़रूर …चोदो चोदो, जोर से चोदो …अपने लंड से बुर को खोदो …गांड में भी इसे घुसा दो …फिर अपना धात गिरा दो …इस गाने के साथ आंटी घोड़ी बन चुकी थी और और मैं खड़ा होकर पीछे चोद रहा था। मेरा लंड चोद चोद कर लाल हो चुका था.

सेक्सी मारवाड़ी सेक्सी चुदाई

मुझे डर लग रहा था कि अगर कोई आ गया या कोई उठ गया तो क्या होगा!पर वो आराम से मेरे पैर से अपने मम्मे मलवा रही थी. सेक्सी वीडियो तमिल एचडीतब चित्रा ने स्थिति को संभालते हुए कहा- मैंने कहा था! हम आगे से ऐसा कुछ दोबारा नहीं करेंगे.

मैंने चुपचाप अपने कदम लड़कियों वाले बाथरूम की तरफ बढ़ाये, बाथरूम में से हमारे स्कूल की एक मैडम की आवाज आई. सेक्सी चालू वालाउन्होंने मुझसे पूछा- घर चलना है?मेरे हाँ कहते ही उन्होंने कार का दरवाजा खोला, मैं उनके बगल की सीट पर बैठी और थोड़ी ही देर में घर पहुँच गई.

! ! मेरी योजना यही थी।जब आखिर में मैं झड़ने को हुआ तो मैंने सारा वीर्य उसकी चूत में डाल दिया और उसे कुतिया बना कर लण्ड चटवाने लगा।तब मैंने कहा,क्यूँ साली मुझे चूतिया समझती थी … क्या सोचा था प्यार से जाल में फंसा कर पैसे कमाएगी.नई बीएफ 2022 की: फिर मैंने उसकी पैंटी उतारी और चूत को चाटने लगा। चूत से मस्त वाली खुशबू आ रही थी।मैंने कारण पूछा तो बोली- परफ्यूम लगाया है.

वो उठकर चला गया। मौसी थोड़ी गुस्सा होने ही वाली थी कि :दूसरा ग्राहक- मैं देता हूँ ! चल ! मगर तीन घंटे बैठूंगा और पूरा मज़ा लूँगा।सुनीता- आ जा मेरे राजा ! बजा दे मेरे भोसड़े का बाजा।सुनीता ने उसकी बाहों में बांह डाल दी और चल पड़ी चुदवाने।मौसी- साली बड़ी तेज है ! 4 दिन में 20000 रु.पूर्व कथा : मीना के साथ बिताये रंगीन पल-1मीना के जाने के बाद मैं सोचता रहा कि अब क्या होगा.

सेक्सी मराठा - नई बीएफ 2022 की

बुआ की बेटी प्यार में पड़ कर चुद गईसे आगे की कहानी!असल में शालू तो बस एक काम चलाऊ चीज थी, मुझे तो अमिता को चोदना था.मेरी एक चूची उसके हाथ में आते ही वो बदमाश हो गया और उसने मेरी चूची को अपने हाथ से सहलाना और मसलना शुरू कर किया.

मैंने सोनम की तरफ इसलिए भी ध्यान नहीं दिया क्योंकि सोनम एक मुस्लिम लड़की थी और उसके तीन भाई भी थे और आप सभी लोग तो जानते ही हैं कि मुस्लिम लड़की को उसकी मर्जी के खिलाफ छेड़ना मतलब मौत को दावत देना!हमारे पास आकर सोनम बोली- हमारे सारे क्लासमेट जयपुर घूमने जाने का कार्यक्रम बना रहे हैं, क्या तुम दोनों भी चलोगे?मैं कुछ बोलता, इससे पहले ही योगी ने हाँ कर दी. नई बीएफ 2022 की हम दोनों के पानी से कॉपी रूम का कारपेट गीला हो गया।पर अभी हम कहाँ रुकने वाले थे। उसने मुझे घोड़ी बना कर फिर चोदा.

उसके चूचे मेरे सीने से रगड़ खा रहे थे, उसका दिल भी जोर से धड़क रहा था, वो मेरी आँखों में देखने लगी.

नई बीएफ 2022 की?

गोमती ने बड़े प्यार से दोनों फ़ड़फ़ड़ाते कबूतरों को सहलाया और अपनी हथेलियों में ले लिया. एक तरफ नीना मेरे लंड पर सवार थी तो पीछे से अमित उस चूत में अपना घोड़े के लंड जैसा मूसल लंड डाल दिया. मेरी बड़ी बुआ के लड़के की शादी थी, मेरी सबसे छोटी बुआ की लड़की चित्रा भी आई थी, उम्र 18 साल, गोरा बदन, सेक्सी, लंबाई 5 फीट 6 इंच और उसके मम्में करीब 34 और गांड 36 की होगी.

थोड़ी देर रुक कर मैंने दुबारा एक जोर का धक्का दिया और मेरा पूरा लौड़ा उसकी चूत में उतर गया. मैं अपना मुँह नीचे की तरफ़ लाया उसके पेट पर से होते हुए उसके दोनों जांघों के बीच में मैंने सर रखा और नाभि का चुम्बन लेते हुए उसकी जांघों को हाथों से फैलाया. आज तो मैं तेरा वो हाल करूँगा कि तू आगे से किसी को चांटा मारने से पहले सौ बार सोचेगी.

जैसे ही हम दोनों कमरे में पहुँचे तो मैंने देखा कि सभी दोस्त वहाँ पहले से ही खड़े थे और सभी मेरी तरफ देख कर हंस रहे थे. पूरा कमरा आंटी की सिसकारियों से गूंज रहा था और वो सिसकारियाँ मुझे अच्छी लग रही थी. आंटी पूरी नंगी क़यामत लग रही थी, बुर पर बड़े बड़े बाल थे आंटी के, आंटी ने कहा- हैरी, चल मेरे मोमे दबा और चूस! तुझे मजा आएगा.

की आवाजें निकाल रही थी। मैंने अब उसे अपने नीचे किया और उसकी बुर पर अपना लंड रखा, फिर उसकी चूची दबाने लगा।उसने कहा- अभी, प्लीज अब मत तड़पाओ……मैंने भी बिना देर किये जोर से धक्का दिया और आधे से ज्यादा लंड उसकी बुर में घुसेड़ दिया।वो बहुत तेज चिल्लाई…. मैंने उस से कहा – तो यह पढाई होती है स्कूल में?तो निधि बोली,”नही सर यह मेरा नही है, मुझ तो यह यहाँ पड़ा हुआ मिला, मैं तो इस ऐसे ही देख रही थी.

उफ़ अब तो मुझे बहुत दर्द हो रहा था, मेरा दिल चिल्लाने को कर रहा था मगर थोड़ी ही देर में चुदाई फिर शुरू हो गई। मैं दोनों के बीच चूत और गाण्ड की प्यास एक साथ बुझा रही थी और वो दोनों जोर जोर से मेरी चुदाई कर रहे थे।मैं दो बार झड़ चुकी थी.

”जी मैम… मुझे जरूरत तो है…पर आपका घर का पता नहीं मालूम है…”रोहित तुम कहाँ रहते हो?…” उसने अपने घर का पता बताया.

मैंने खिड़की से झांक कर देखा तो मैं दंग रह गया क्योंकि अंदर दीदी बॉस की बाहों में थी और उनके तन पर कपड़े के नाम पर सिर्फ पेंटी थी और उनका बॉस उनके चूचे चूस रहा था. मैंने अपनी पैंट खोली और अपना लंड ले जाकर ज्योति के मुँह के पास ले गया तो ज्योति ने खुद ही उसे पकड़ा और चूसने लगी क्योंकि वो इस खेल में काफी माहिर खिलाड़ी थी तो वो सब कुछ जानती थी और काफी देर तक मेरा लण्ड चूसती रही. वो कितनी देर तक मुझे नोचता खसोटता रहा, मुझे नहीं मालूम था, मैं तो नींद के आगोश में जा चुकी थी.

मैंने उस लड़की को कई बार कालोनी में शाम को घूमते देखा था और कई बार उसको याद करके मुठ भी मारी थी. फिर मैं उठा और बाथरूम में से तेल की बोतल ले आया और थोड़ा सा तेल अपने लण्ड और थोडा सा उसकी चूत में डाल दिया ताकि लण्ड आसानी से अंदर घुस जाए और उसके बाद मैं अपना लण्ड झटके से अंदर घुसाने लगा मगर झटके की वजह से आयशा फिर से चिल्ला उठी और मना करने लगी लेकिन मैं तेज-तेज झटके मारता रहा. मुझे लगा कि उसे मज़ा आ रहा है तो कुछ देर और चूस लेती हूँ क्यूँकि उधर मुझे भी चूत चटवाने में मज़ा आ रहा था.

५ इंच तो जरूर होगा !और सुपाड़ा ?वो तो लाल टमाटर की तरह है !अच्छा तेल लगा लो और फिर मुट्ठ मारो !ठीक अभी लाता हूँ !दोनों हाथों से मार रहे हो या एक ही हाथ से काम चला रहे हो ?एक हाथ में तो मोबाइल पकड़ रखा है !क्या तुमने कसम खा रखी है दिमाग से काम नहीं लोगे ? एक नम्बर के लोल हो तुम मैंने कहा था ना ?ओह ….

शायद एक साथ !इंस्पेक्टर अपनी पैंट उतारने लगा … एक जवान ने मेरी टॉप उतारी … दूसरे ने स्कर्ट !अब सिर्फ ब्रा-पैंटी रह गई थी. मुझे नहीं मालूम था कि लण्ड का रोग लग जाने के बाद मेरी चूत चुदाने के लिये इतनी मचलेगी. मैंने राजू का लंड तैयार करते हुए उससे कहा,’चलो राजू तुम अपना अधूरा काम पूरा करो !’मेरी बात सुनते ही राजू हँसते हुए मेरे पीछे आ गया और बोला ‘क्यों नहीं मैडम अभी लो !!’अब सब लोगों ने अपनी अपनी पोज़िशन ले ली.

मैंने कहा- यह काम मैंने पैसों के लिए नहीं किया है, मुझको तो सेक्स करने की बहुत इच्छा होती है!तो वो बोली- अगर मैं ये पैसे तुमको नहीं देती तो कोई और लेता. ‘अरे तो क्या?… देखो कितने रसीले हैं… और मसल दूँ!’ जीजू ने फिर से मेरी छोटी छोटी सी चूचियाँ मसल दी. मॉनीटर पर देखा कि हमारा विमान अफगानिस्तान की पहाड़ियाँ लांघ कर ईरान की सीमा में प्रवेश कर रहा था और विमान के इस्तंबुल पहुँचने में पांच घंटे का समय था।तो मैंने भी उसे गुड नाईट कहा.

चाचा का उपहार-1तभी चाचा ने दरवाज़ा खटखटाया तो चाची एकदम मुझसे अलग होकर खड़ी हो गई।चाचा आकर हमारे पास बैठ गया और बोला- बेटा राज… हमारे माल पर ही हाथ साफ़ करने का इरादा है क्या…? यह मत भूलो बेटा कि यह तुम्हारी चाची है.

निकाल ले साले…निकाल ले…मैं कहाँ मानने वाला था…मैंने उसे जोर से जकड़ लिया और एक धक्का लगा दिया…लंड थोड़ा और आगे सरकते हुए उसकी तंग गांड में थोड़ा और अन्दर चला गया।उसकी आँखों से आँसू निकलने लगे और वो मेरी मिन्नत करने लगी- प्लीज़ निकाल लो विक्की! मैं तुम्हारे आगे हाथ जोडती हूँ… मारना है तो चूत मारो मेरी. आखिर वो दिन भी आ गया जब हमें जयपुर के लिए निकलना था, हमें सुबह 10 बजे मिलना था मगर सुबह 8 बजे ही सोनम का मेरे पास फोन आया, मुझे लगा शायद जयपुर के टूअर के बारे में कुछ बात होगी मगर हुआ बिल्कुल उल्टा, सोनम ने मुझसे पूछा- मैं आज क्या पहनूँ?मुझे लगा कि सोनम मजाक कर रही है इसलिए मैंने भी मजाक में ही कह दिया- तुम बुरका पहन लो उसमें ही अच्छी लगती हो.

नई बीएफ 2022 की उसने यह भी बताया कि देवरानी तो कभी कभार ही झड़ती है वरना उसे ही फ़ारिग होकर उतरना पड़ता है. भाभी के मुँह से आवाजें आने लगी- आह! ओह्ह! मजा आ गया!अब भाभी बोली- बहन के लौड़े! तूने मुझे पहले क्यों नहीं चोदा? और तेज़ चोद मेरे राजा! आज तो तूने सच में चुदाई की.

नई बीएफ 2022 की मैं डौगी स्टाईल में झुक गई एक जन मेरे नीचे था मैंने अपनी गांड नीचे झुकाते हुए उसका लंड अपनी चूत में डाल लिया और पीछे से राजू ने अपना लंड मेरी गांड में डाल दिया. !?मैं : आपको कैसे पता कि मेरे वहाँ बाल हैं…???मम्मी : मेरे भी हैं… सभी के होते हैं…!!!मैं : पर आप तो वहाँ कंघी नहीं करती…???मम्मी : तू कंघी करती है क्या.

पर बहादुर अब थोड़ा संभल चुका था, वह रीटा को लाहपरवाह समझ हाथ निकालते निकालते रीटा के ठोस स्तन को भींच कर खींच सा दिया.

गांव की गोरी फेसबुक

वो बहुत गर्म हो गई और मुझे लिटा कर मुझे नंगा करके मेरा लण्ड अपने मुँह में लिया और चूसने लगी. वो भी हंसी मजाक में कभी कभी मेरे चूतड़ों पर हाथ मार देते थे, कभी मेरी पीठ पर हल्के से मुक्का मार देते थे. फिर मैं उसकी चूची के अंगूर को चूसने लगा और शालू मेरे लण्ड को मुँह लेकर अपने मुँह को चुदवा रही थी.

उसने मुझे उसकी बेटी को पढ़ाने के लिए रख लिया, मैं उसे मना करना चाहता था मगर पढ़ाने के लिए उसने काफी ज्यादा पैसे देने कि पेशकश की और मैं कॉलेज के साथ-साथउसकी बेटी को पढ़ा भी सकता था इसलिए मुझे कोई परेशानी नहीं थी और मैंने हाँ कह दी. यह सुन कर मुझे शर्म आने लगी और मैं कमरे से बाहर आ गया और रोने लगा क्योंकि आज तक कभी मुझे कोई भी लड़की शादी लायक नहीं लगी थी और जब लगी तो वो भी मजाक निकला. उसकी बात सुन कर मुझे भी हंसी आ गई और फिर उसका विचार भी सही था इसलिए मैंने तुरंत हाँ कर दी।मैं भी इस फिराक में था कि लड़कियों के साथ रात में शायद कोई नज़ारा देखने को मिल जाए या फिर कोई जुगाड़ ही हो जाये.

कि रात को जो कुछ हुआ सिर्फ एक सपना था…और उसी उत्तेजक स्वप्न के कारण ही मेरी कच्छी गीली थी…नहाने के बाद खुद को शीशे में देख कर मैं अपने ही यौवन पर इतराने लगी.

मेरे हाथ तो उसके ब्लाउज के बटन खोल रहे थे। उसका हाथ मेरे हाथ पर था। लेकिन कोई हरकत नहीं थी. ’‘अभी मत होना… सोनू… मैं भी आया… अरे हाय… ओह्ह्ह्ह’हम दोनों के ही जिस्म तड़प उठे और जोर से खींच कर एक दूसरे को कस लिया. अंकल- चिंता मत करो डार्लिंग! शिकायत का मौका नहीं दूंगा!यह कह कर अंकल ने मम्मी के ब्लाऊज़ की तरफ हाथ बढाया और खोल दिया.

मैं- विश्रांती तुझे पता है रेशमा तो इसे आइसक्रीम से भी अच्छा प्यार करती है…विश्रांती- वाह रे बदमाश! अपनी विश्रांती को लंड मुँह में लेने बोल रहा है…. पर उत्तर नहीं मिल रहे थे …क्या वो जैसा मुझे दिख रहा था वैसा ही था… या फिर वो सर्फ मेरे साथ ही ऐसा था. ‘तो फिर आओ… आपकी इच्छा पहले!’ मैंने राधा को फिर से अपनी बाहों में उठा लिया और बिस्तर की ओर बढ़ चला.

15-20 धक्कों के बाद हम दोनों का माल एक साथ निकल गया और हम निढाल हो कर वैसे ही सोफे पर गिर गए. उस पर मेरा और उसका दोनों का रस लगा हुआ था और उसकी चूत से भी मेरा क्रीम बहते हुए उसकी गांड की तरफ़ बह रहा था।उसकी चूत एकदम लाल हो चुकी थी.

बस में होम वर्क कॉपी करना और साथ में लंच करना… हमारी दोस्ती जो बस यूँ ही शुरू हुई थी और प्रगाढ़ होने लगी… अब वो मुझे अपनी कक्षा के किस्से-कहानियाँ लंच में सुनाता… किसने किसको चांटा मारा, किसने किसकी स्कर्ट खींची, किसने किसे प्रोपोज किया, किसने अध्यापिका को पेन मारा. मैंने पास ही में रखा मेंथोप्लास की डिब्बी उठाई और थोड़ा निकाला और उसके सिर पे धीरे धीरे मलने लगा. जालिमों की तरह चोदै है, तेरी मां तांई तै खुस रेहवे है पर मन्ने कोई इसा मज़ा ना देवै ?मैं : छी.

पिछले तीन सालों से मुझे लड़कों का चस्का लगा है, घर में माहौल ही ऐसा था कि कदम खुद ब खुद बहकने लगे थे.

भाई! यह मत पूछना कि आगे क्या हुआ? वैसे समझ लो कि जो हर चुदाई में होता है, वही नीना की चुदाई में भी हुआ- चूमा चाटी, कपड़े उतारना फिर चूची चूसना, चूत चाट कर मस्त कर देना और फिर लंड-चूत का खेल. अगर कोई एम एम एस ‘वाट दा फ़क’ के नाम से मिले समझना कि वो आपकी श्रेया की है …मैंने फिर जोजो का फ़ोन नहीं उठाया … आपका फोन ज़रूर रिसीव करुँगी पर आप तो ऐसा धोखा नहीं दोगे ना?. अन्दर आते ही उसने कूप अन्दर से लाक कर लिया और मेरे करीब आ कर मुझे अपनी सुडौल बाँहों में भरता हुआ बोला- आओ.

और इधर माँ का बुरा हाल था- आआह्ह्ह ओह्ह्ह्ह उह्ह्ह्ह मह्ह्ह्ह अहाआअफिर मैंने उन की दोनों टांगें फैलाई और बीच में आ गया. तो वो बोली- तो चोदिये ना मुझको सब तरीके से!मैं बोला- रानी अभी तुम 30 मिनट से यहाँ चुद रही हो, और मुझे तो खुशी होगी कि रात भर तुमको चोदूँ पर अभी घर जाओ, कल जल्दी आ जाना तो 4-5 तरीके से चोदूंगा.

फिर मैंने सोनम से कहा- मैं उसके साथ शादी से पहले सुहागरात की प्रेक्टिस करना चाहता हूँ!यह सुनकर सोनम हंस दी, कुछ नहीं बोली और आकर मेरे पैर छूने लगी. अब अंकल की आँखों में मुझे एक अजीब सी चमक नज़र आ रही थी और मम्मी की आँखों में एक नशा सा दिखाई दे रहा था. थोड़ी देर में किसी ने मुझे पीछे से आवाज लगाई, मैंने मुड़ कर देखा तो वो चित्रा थी, वो बोली- मैं कैसी लग रही हूँ?चित्रा सिर्फ ब्रा-पेंटी पहने थे और वो किसी परी से कम नहीं लग रही थी.

सेक्सी लड़की का नंबर चाहिए

प्रेम गुरु की कलम सेअच्छा चलो एक बात बताओ जिस माली ने पेड़ लगाया है क्या उसे उस पेड़ के फल खाने का हक नहीं होना चाहिए ? या जिस किसान ने इतने प्यार से फसल तैयार की है उसे उसके के अनाज को खाने का हक नहीं होना चाहिए ? अब अगर मैं अपनी बेटी को चोदना चाहता हूं तो क्या गलत है ?”….

वास्तव में जब से मैंने अपने किरायेदार प्रशांत से उसे रात में चुदवा कर लौटते समय देख लिया था. इसी तरह उन्होंने एक बार नहाते हुये मेरा सख्त लण्ड पकड़ लिया और बोली- राजू, अब तो तेरे लिए दुल्हनिया लानी ही पड़ेगी, वरना यह तो कुंवारा ही रह जायेगा. बेहद मृदु स्वभाव के, मेरा खुशी का पूरा ख्याल रखने वाले, प्यार से चोदने वाले, सच बताऊँ तो मेरे दिल को उन्होंने घायल कर दिया था.

’ कहते हुए वो उठने लगी।मैंने उसके कान में फुसफुसाते हुए कहा- नहीं रागिनी मुझे मत रोको प्लीज़. अगली रात चली तो गई लेकिन अँधेरा होने की वजह से किसी और की बाँहों में जा बैठी!या सोचा समझा धोखा था? जो भी था, रहस्य है, दो के साथ? बहुत आया! क्या बहुत आया?जानने के लिए अगली कड़ी ज़रूर पढ़ना![emailprotected]. विदेशी सेक्सी फिल्म हिंदीशीतल ने मुझे लड़की पटाने की भी बहुत टिप्स दी। आज मेरी एक खूबसूरत गर्लफ्रेंड होने की वजह से कभी कभी शीतल को ना चोदने का मन करता है। दो औरतों को लेने जितनी मेरी सहनशक्ति नहीं है।पर क्या करूँ, आज शीतल मेरी रखैल नहीं है, बल्कि मैं उसका रखैल बन चुका हूँ।.

‘दीदी, आपको तो कोई मुस्टण्डा ही चाहिये चोदने के लिये, घोड़े जैसा लण्ड वाला!’‘घोड़े से चुदवा कर मेरा बाजा बजवायेगी क्या… ‘‘अरे दीदी, बहुत दिन हो गये, साहब तो चढ़ते ही टांय टांय फ़िस हो जाते है, लण्ड झूल कर छोटा सा हो जाता है. मुझे आज मेरे सपनो की रानी को जी भर कर प्यार करने दो!’और मैं फ़िर से उसके निपल मुँह में लेकर एक एक कर चूसने लगा।‘आआआ आआह्ह्ह.

D किया हुआ है। साले ने जरूर कहीं से कोई फर्जी डिग्री मार ली होगी या फिर हमारे मोहल्ले वाले घासीराम हलवाई की तरह ही इसने भी Ph. ” कनिका के मुंह से निकला ओह … बाहर निकालो मैं मर जाउंगी !”अरे मेरी बहना रानी ! बस अब जो होना था हो गया है। अब दर्द नहीं बस मजा ही मजा आएगा। तुम डरो नहीं ये दर्द तो बस 2-3 मिनट का और है उसके बाद तो बस जन्नत का ही मजा है !”ओह. क्यों कामिनी… ”तुम्हे साहिल चोदेगा और मैं कामिनी को… तो साहिल हो जायें चालू… ” राहुल ने बिना शरमाये समझा दिया.

मर्दों की तो मर्द जाने! एक औरत होने के नाते मेरी चूत तो गीली हो जाती है, पढ़ते-पढ़ते हाथ नाड़ा खोल कच्छी में चला जाता है, फिर दिल करता है कि रात को पतिदेव जल्दी घर आयें और मुझे चोदें. ? कविता बोली।मैंने फिर परची डाली और रेशमा को कहा- एक एक कर के तीनों को उठाओ।रेशमा ने उठाई तो पहली परची में पिंकी का नाम था, दूसरी में रेशमा का और तीसरी में कविता का नाम आया।मैंने कहा- देखो, परची में जैसे नाम आएँ हैं, वैसे ही मैं एक एक को चोदूँगा…. फिर प्यार से देखो… और अपने होंठ लगा कर इसे मदहोश कर दो… यह तुमको प्यार करने के लिए है… तुमको तकलीफ देने के लिए नहीं…मुझे भी इतना बड़ा लौड़ा देखने की इच्छा हो रही थी… मैंने उसके कच्छे को उतार दिया…कहानी जारी रहेगी।आपकी प्यारी सेक्सी कोमल भाभी[emailprotected]2230.

मम्मी जोर से चीखी- बाप रे! यह लंड है या फौलाद? मेरी चूत की तो वाट लग गई!अंकल ने कहा- चुप मादर चोद! कब से कह रही थी डाल दो! डाल दो! अब जब डाल दिया तो कहती है बाप रे? अब मैं तुझे बताऊँगा कि चुदाई किसे कहते हैं!यह कहकर अंकल ने जोर जोर धक्का लगाना शुरु कर दिया.

!” अजय ने मेरी उत्सुकता को बढ़ाते हुए कहा।मैंने अजय के हाथ को दबाते हुए दुबारा जोर दे कर पूछा- प्लीज अजय, बताओ ना. शुरू से आखिर तक बहादुर ने रीटा को पूरी स्पीड से चोदने से रीटा बहादुर की बहादुरी पर बलिहारी हो तीसरी बार लगातार झड़ती चली गई.

मैं और वो सुबह सोकर उठे, मैंने सोचा कि चिंकी मम्मी से मेरी शिकायत करे, उससे अच्छा है कि मैं इससे माफ़ी मांग लूँ. रीटा समझ गई कि बहादुर जाल में तो फंस गया है पर बहादुर का डर को दूर करने के लिये कुछ करना पड़ेगा. ले…पूरा ले मुँह में रांड……ले ले मेरे लौड़े को !” मैं बोला।उसके बाद हमने कपड़े पहने और फिर उसे उसके घर छोड़ दिया।इस घटना के बाद मैंने कई बार कोशिश की उससे मिलने की, मगर वो कहीं नहीं मिली………आप बताइए, आपको मेरी कहानी कैसी लगी?.

‘भैया, मुझे कुछ हो रहा है… ये तुम किस बारे में कह रहे हो…?’ उसकी आवाज में वासना का पुट आता जा रहा था. कोई शैतानी ताकत मेरे अन्दर काम करने लगी थी, किसी ने जैसे अंधेरे रास्तों की तरफ मेरी राहनुमाई कर दी थी और मैं उस राहनुमा का हाथ थामे अंघेरी गलियों में दाखिल हो गई, यह भी ना देखा कि भला अंधेरे रास्तों की तरफ ले जाने वाला मेरा हमदर्द भी हो सकता है. मुझे चुदाई में बहुत मज़ा आ रहा था इसलिए मैंने उनकी बातों पर दयाँ नहीं दिया और ट्रेन के हिलने की गति के साथ ही हिल हिल कर लंड लेने लगी.

नई बीएफ 2022 की अपने लंड को धीरे धीरे आगे पीछे करने लगा, अब उसका सर पटकना कुछ कम हुआ और वो भी धीरे धीरे अपने चूतड़ उछालने लगी. खुद भी लो और मुझे भी लेने दो… !इतना कह कर उसना मेरा हाथ पकड़ लिया, उसका कोमल हाथ गर्म था और आँखें लाल हो रही थी….

यूपी वीडियो सेक्स

मैंने उसके गालों पर फ़िर से चूमते हुए उसके कान में कहा- रागिनी मैं तुम्हें प्यार करता हूँ. सोनिया की मम्मी-2से आगे की कहानीप्रेषक : राज कार्तिकदोस्तो,आपने मेरी कहानीबुआ हो तो ऐसी-1औरसोनिया की मम्मी-1पढ़ी और पसंद की, धन्यवाद. तभी विनोद अंकल मुस्कराते हुये आगे बढ़े और राजेश का लण्ड पीछे से आ कर थाम लिया और उसकी मुठ्ठ मारने लगा.

दोस्तो, जब सेक्स के दौरान लड़की को मजा और दर्द दोनों आएँ तो उसके चेहरा बहुत सेक्सी लगता है. चलो शुरू हो जाओ !ठीक है !मैं भी सोफे पर बैठी मुट्ठ ही मार रही थी !तुम मेरे पास चली आओ ना ?ऐसे तो बड़े मिट्ठू बनाते हो मैना के ?तुम मधु से इतना जलती क्यों हो ?वो साली चीज ही ऐसी है ! हाय क्या मस्त चूतड़ हैं ! इसीलिए तो कहती हूँ उसे तो उल्टा पटक कर ही ठोकना चाहिए।ठीक है, क्या तुम भी गांड मरवाती हो ?हाँ कभी कभी पर मेरे पति का तो बहुत छोटा है ?कितना बड़ा है ?कोई ३ या ४ इंच का होगा !बस ?हाँ. राजस्थान की सेक्सी बताइएमैंने एक सुनसान जगह पर कार रोक दी और दीदी के गालों पर एक चुंबन दिया और कहा- आपको घबराने या शर्माने की कोई जरूरत नहीं, मैं जानता हूँ इस उम्र में ऐसा हो जाता है.

मैं अपनी यौवनकलिका को हिला हिला कर अपनी उत्तेजना बढ़ाती चली गई और फिर स्खलित हो गई.

आंटी ने कहा- जोर जोर से चोदो मुझे! आज मेरी प्यास बुझा दो! अह्ह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्ह्ह सीईईईईई!मैंने अपनी गति बढ़ा दी और आंटी को जोर जोर से चोदने लगा. कमल ने मेरे पैरों को फैला के अपना मुँह मेरी चूत में लगा दिया और जीभ निकाल के फिराने लगा। मेरी चूत तो सोमा की चुदाई देख कर ही पनिया गई थी।रांड पूरी गर्मी में है…… कमल ने सोमा को देख कर कहा जो मेरे होठों को चूसे ही जा रही थी।चल पेल दे अपना लौड़ा इसकी चूत में……….

जोर से… मजा आ गया…” निकल रहा था।वो चुदाई का पूरा मज़ा ले रही थी। वो बहक चुकी थी और अब और बहकना चाहती थी। वो दोनों हाथों से मेरी कमर को पकड़ पकड़ कर खिंच रही थी और मेरे हर धक्के को अंदर तक महसूस करना चाहती थी,”चोद मेरे राजा. मैंने मौका देखा और बिना किसी हिचक चाची की भारी चूचियाँ पकड़ ली और दबाने लगा- चाची, आप जो हो ना, प्लीज मेरा कंवारापन तोड़ दो!वो मेरा हाथ अपनी चूचियों से हटाने लगी. अगले दिन मैं सुबह 6 बजे ही उनके घर के लिए निकल गया क्योंकि मुझे डर था कि कहीं भाभी सुबह ही ऑफिस न निकल जाए वर्ना मुझे पूरा दिन जयपुर की गलियों में बिताना पड़ेगा.

मैं थोड़ा हैरान हुई!उसने कहा- सेक्स में यह सब करना पड़ता है! तेरा पति भी करवाया करेगा!मुझे उसका चूसना अच्छा लगने लगा.

मैं भी आँखें बंद करके मजे लेने लगा…मुस्कान तो मेरे लंड को छोड़ ही नहीं रही थी…मैंने साथ में उन सबकी पैंटी भी उतार दी और चूत में ऊँगली डाल कर मसलने लगा…तीनों ने मुझे तब तक नहीं छोड़ा जब तक लंड का पानी बाहर नहीं आ गया. मुझे शर्म आ रही है !उसने एक ना सुनी और मेरी टांगें फैला दी … जब मैंने उसका लंड देखा तो मैं डर गई. एक बात बता ?’‘क्या ?’‘ये मैना और मिट्ठू दिनभर अन्दर ही घुसे क्या करते रहते हैं ?’‘दिन में तो साहबजी दफ्तर चले जाते हैं !’‘ओह ! तुम भी निरी जाहिल हो ! मैं ऑफिस के बाद के बाद की बात कर रही हूँ।’गुलाबो हंस पड़ी, ‘ओह.

इंडियन फुल एचडी सेक्सी मूवीइसको पहले मुँह में लेगी या इससे पहले तेरी सील तोड़ूँ?मोना कुछ भी नहीं बोली और उसने अपना चेहरा दूसरी तरफ घुमा लिया…यह देख अब्बास को बहुत गुस्सा आया और उसने झुक कर मोना के दोनों मम्मों पर अपनी जीभ रगड़ी… इस हमले से मोना के मुँह से मादक कराहें निकलनी शुरू हुई… मोना ने बोला- नहीं… ऐसा … मत…कर !मोना बेचारी तो कुछ बोल भी नहीं पा रही थी …. मुझे भी कभी कभी लगता था कि रोहित मुझे अपनी बाँहों लेकर चूम ले… रोहित ही आज की कहानी का नायक है.

कैटरीना कैफ हॉट वीडियो

जब वो नहा रही थी…” वो शर्माता भी जा रहा था और मैंने देखा कि उसका मुंह लाल हो रहा था. !रोहण भी हंस दिया।बारात चलने लगी रोहण बारात में खूब नृत्य किया। फिर करीब डेढ़ घंटे बाद हम शादी के मण्डप में पहुँच गए …. उसके हाथ में कोई किताब थी और उसके पैर पिंडलियों तक खुले हुए थे… खाली गाउन पहनने के कारण उसके बड़े बड़े मम्मे एक तरफ लटक रहे थे.

मैं नाइटी तो उतार दूँ ?”मैंने अपनी नाइटी निकाल फैंकी। वह तो पहले से ही नंग-धड़ंग था, उसने झट से मुझे अपनी बाहों में भर लिया। वो मेरे मम्मों को चूसने लगा और अपना एक हाथ मेरी लाडो पर फिराने लगा। मैं अभी उसका लण्ड अपनी लाडो में लेने के मूड में नहीं थी।आप हैरान हो रहे हैं ना ?ओह. आप ब्रा के अन्दर हाथ डाल कर निकाल लो न प्लीज़ !!’मेरी बात सुनते ही उसके होंसले बुलंद हो गए और उसने अपना पूरा हाथ मेरी ब्रा के अन्दर घुसा दिया. मौसी- बस अब तुम अपने कस्टमर सम्भालो ! मैं और सीमा एक कस्टमर की गोद में रहने वाली हैं पूरे दिन.

उसकी बात सुन कर मुझे भी हंसी आ गई और फिर उसका विचार भी सही था इसलिए मैंने तुरंत हाँ कर दी।मैं भी इस फिराक में था कि लड़कियों के साथ रात में शायद कोई नज़ारा देखने को मिल जाए या फिर कोई जुगाड़ ही हो जाये. लेकिन अगर तुम यह बात गुप्त रखोगे तो मैं इसके बाद भी तुम्हारे साथ करने के लिए तैयार हूँ।’ कहकर उसने मेरे होंठो को चूम लिया. चुदवाने के ख्याल से दिल बल्लियों उछल रहा था, मन में हल्का सा डर भी था लेकिन डर पर चाहत भारी थी.

उसके बाद मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए और सोनम को एक बेड पर लिटा दिया और वो किया जो मैंने टी. करीब दो मिनट बैठने के बाद मेरी अन्तर्वासना ने मुझे एक नया निर्णय लेने के लिए विवश कर दिया.

पाठको, आप को यह मेरी चुदैल बीवी की सच्ची कहानी कैसी लगी? जब आपकी प्रतिक्रिया मिलेगी तभी मैं नीना की चूत के और किस्से लिखूँगा.

गोमती ने बड़े प्यार से दोनों फ़ड़फ़ड़ाते कबूतरों को सहलाया और अपनी हथेलियों में ले लिया. इंडियन सेक्सी सीन वीडियोकितने दिनों के बाद मिली तू!दोनों सहेलियाँ एक दूसरे से बात करती रही और मैं रागिनी को देख रहा था. ससुर जी की सेक्सीइतनी मुलायम चूचियाँ को सहलाना, नीचे लंड का विश्रांती से चुसवाना… सच्ची काफ़ी बढ़िया कॉम्बिनेशन है…मैं- विश्रांती, लंड चुसवाने में इतना मजा आज तक नहीं आया… विश्रांती मेरा मुँह भी रसपान के लिए तड़प रहा है, विश्रांती उल्टा-पुल्टा करें…. से मेरे घर फ़ोन किया। एक-डेढ़ घंटे बाद मुझे मेरे भाई और छोटे वाले जीजाजी लेने आ गए और मैं अपनी सूजी हुई चूत लेकर अपने मायके रवाना हो गई वापिस कभी न आने की सोच लेकर!पर क्या ऐसा संभव है! तो यह अनुभव रहा मेरी सुहागरात का!आपको कैसा लगा? यह सौ फीसदी सच है।मेरी आपबीती जारी रहेगी।[emailprotected].

हम मौसी के कमरे में पहुंचे आलीशान कमरा था और ए सी भी लगा था। मौसी ने सिगरेट जलाई, बड़ी सेक्सी लग रही थी, उसकी उम्र 40 साल से ज्यादा नहीं होगी। उसने सी.

सुबह भैया-भाभी को ऑफिस जाना था इसलिए सभी अपने अपने कमरों में जाकर सो गए और मैं भी आराम से अपने कमरे में आ गया और दुबारा भाभी को चोदने की योजना बनाने लगा मगर एक सवाल मेरे दिमाग में अभी भी था कि आखिर शनिवार की रात को भाभी के कमरे में कौन था. मैं अब घुटनों के बल बैठ गया और मामी वैसे ही नीचे से सर हिला के अपने मुँह को खुद चुदवा रही थी. फिर मैंने बिना देर किये उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और फिर हम प्रगाढ़ चुम्बन करने लगे। करीब दस मिनट तक तक हम एक दूसरे को चूमते रहे। चूमते चूमते मैंने उसकी जांघ पर हाथ रखा और धीरे धीरे अपना हाथ उसकी चूत के ऊपर रख दिया और उसको दबाने लगा। उसकी चूत काफी फूली हुई लग रही थी ऊपर से।ऐसा करने से उसकी साँसें और तेज़ होने लगी और वो मुझे और जोर जोर से चूमने लगी.

फिर मैंने चित्रा को देखा और उसके होंठो पर अपने होंठ रख दिये और उसे बाहों में उठा कर योगी के कमरे में ले गया. पर मैं पहले बार में नाकाम रहा… दोबारा धक्का मारा तो एक इंच के करीब घुस गया…फिर मैंने अपने बैग से तेल निकाल कर उसकी चूत पर और अपने लण्ड पर लगाया… जिससे वो चिकना हो गया फिर मैंने एक और जोर का झटका दिया और उसकी चूत फट गई और खून निकल गया. जोर जोर से चोद मुझे…बहुत दिन से इस चूत को फड़वाना चाहती थी पर कोई तेरे जैसा लण्ड मिल ही नहीं रहा था.

ब्लू पिक्चर वीडियो में देखनी है

?वह कुछ और ही सुनना चाहती थी …मैंने जारी रखा- तुम्हारे बड़े-बड़े स्तन … तुम्हारे चूतड़ … मैं इन्हें सहलाना चाहता हूँ … इनमें डूब जाना चाहता हूँ. थोड़ी देर में मुझे मजा आने लगा, मेरा दर्द कम हो गया और मैं धीरे धीरे अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा. मुझे इंतज़ार करते करते पाँच मिनट बीत गए तो मैंने सोचा कि क्यूँ न पहले खाना खाकर फ्री हो लूँ ये सोच कर मैंने अपना खाना निकाल लिया जो मैं घर से साथ लाई थी.

मेरे से बैठा भी नहीं जा रहा था… उसके बहुत बार कहने के बाद मैंने कुछ निवाले खाए… फिर मुझे अजीब सा कुछ महसूस हुआ.

वो… ऐसी बात नहीं पर… और… वो… एक ही कमरे में एक ही बिस्तर पर…?’‘क्यों अपने आप पर विश्वास नहीं है क्या?’‘नहीं ऐसी बात नहीं है पर… वो.

सबसे पहले मैंने उसे आवाज लगाई, वो कुछ नहीं बोली तो मैं समझ गया कि मेरी बहन नींद में है. मैंने भी उनकी हंसी में साथ दिया और पूछा- तो फिर आप ही बताओ कि क्या व्यवस्था की जाए. घोड़े की सेक्सी पिक्चर घोड़े कीमेरे सामने नन्ही मुन्नी सी गुड़िया नंगी लेटी थी और मैंने उसे पकड़ लिया। और जब अब पकड़ ही लिया था तो चोदना तो बनता ही है न !”मुझे उसकी हरामीपने की बातें सुन कर शर्म आ रही थी मगर मुझे उसके धक्कों से मजा भी आ रहा था।आह्ह्ह्ह ….

मैंने कहा- आंटी, आप को गाण्ड भी बहुत प्यारी है और बड़ी भी! मुझे चोदनी है!आंटी ने कहा- पहले मेरी चूत का पानी निकाल दे, अभी तो सारी रात बाकी है, गाण्ड बाद में मार लेना!मोना जोर जोर से मेरे लण्ड पर वार करने लगी, जोर जोर से सिसकारियाँ ले ले कर आंटी ईईये ये ये यीईईई उईईई आआआ ऊऊऊऊ उफ्फ्फ्फ आयेच कर रही थी और धक्के लगा रही थी और मैं भी आंटी की कमर पकड़ कर आंटी को जोर जोर से चोद रहा था. अगले दिन प्रिया भाभी सुबह ही अपने मायके से वापिस आ गई क्योंकि रविवार था, प्रिया भाभी कि छुट्टी थी. आज हम दूर हो गए और कई लड़कियाँ मेरे बिस्तर पर आ चुकी हैं पर मोना और उसकी दीदी के साथ गुजरे सेक्स के वो पल और उन बहनों के नंगे जिस्म मुझको बहुत याद आते हैं.

तुम्हारे इन रस भरे होंठो का एक चुम्बन ही तो मांग रहा हूँ मैं! समझो मैं भीख मांग रहा हूँ।’‘भीख मांगने से कोई फायदा नहीं है, मैं इसके लिए आपको मना करने वाली नहीं!’ और वो मुस्कुरा दी।उसके सफ़ेद दांत उसके सुंदर चेहरे पर और चार चाँद लगते हुए दिखे- ठीक है! लेकिन सिर्फ़ एक ही दूंगी. मेरी रांड बहन बोली- कोई भाई ऐसा भी करता है?तो मैंने उससे कहा- मेरी रांड! चूत और लौड़े का कोई रिश्ता नहीं होता!फिर मैंने उसे अन्तर्वासना की कहानियाँ पढ़वाई, जिन्हें पढ़ कर उसे अच्छा लगा कि और दुनिया में और भी भाई हैं जो अपनी बहन को रंडी बना कर चोदते हैं.

उसके मुँह से आवाज निकलने लगी तो मैं समझ गया कि वो जाग रही है और सोने का नाटक कर रही है.

’‘छीः मैं गाण्ड नहीं मारता… भोसड़ी की आई है बड़ी गाण्ड मराने वाली!’‘गाण्डू है मेरा देवर, भाभी की इतनी सी इच्छा पूरी नहीं कर सकता?’‘मां की लौड़ी, मुझे कह रही है, भेन दी फ़ुद्दी, गाण्ड फ़ट के हाथ में आ जायेगी!’‘ओह्हो, बड़ी डींगे मार रहे हो, और भड़वे, गाण्ड नहीं चोदी जा रही है?’वो गुर्रा कर और उछल कर मेरी पीठ पर सवार हो गया. गरम और गाढ़ी मलाई से मेरे नितम्ब लिपट ही गए।मैं उठ कर बैठ गई और फिर उसके गले से लिपट गई। मैंने उसके गालों पर एक चुम्मा लिया। उसने भी मुझे बाहों में कस लिया और मुझे चूम लिया। थैंक्यू मेरी जान …. इसका कारण ये था कि मेरी माहवारी ख़तम हुए अभी एक ही दिन बीता था और जैसा कि आप सब लोग जानते हैं ऐसे दिनों में चूत की प्यास कितनी बढ़ जाती है.

भाभी सेक्सी वीडियो डॉट कॉम वो मेरे घर से काफ़ी दूर था।अगर तुम्हें आना हो तो ४ बजे शाम को आ जाना… मेरा पता ये है. दर असल मेरे साथ पढ़ती थी !’‘फिर?’‘मैंने पढ़ाई छोड़ दी !’‘हम्म !!’‘अब वो मेरे साथ बात नहीं करती !’‘तुम्हारी इस हरकत का उसे पता चल गया तो और भी नाराज़ होगी !’‘उसे कैसे पता चलेगा?’‘क्या तुम्हें उसके नाम लिखी जगह पर सू सू करने में मज़ा आता है?’‘हाँ… ओह.

प्रेषक : रिन्कू गुप्ताप्रिय पाठको,मेरा नाम रिंकू है जैसा कि आप लोग पहले से ही जानते हैं. उसका इतना कहना था कि मैंने लंड को उसकी चूत के छेद पर रखा और दो-तीन बार ऊपर नीचे रगड़ा और छोटे से लाल सुराख़ पर रखा. मेरी बुआ के घर में एक किराएदार रहते थे उनकी एक लड़की थी नाम था अमिता! वो बहुत सुन्दर थी, मैं उसे चोदना चाहता था.

बच्चा पैदा करने वाला सेक्स

कर उठोगी मेरी जान !” मैंने उसे समझाया।और मैंने चूत में से लंड निकाल कर उसकी गांड के छल्ले पर रख दिया। अब मैंने दोनों हाथों से कसकर उसकी कमर पकड़ी और अपने लंड को धीरे से आगे पुश किया । क्या मस्त टाइट गांड थी साली की । पहली बार में केवल टोपा ही अंदर गया और चिल्लाने लगी उईई … मा…आ … मर गई …. जिस घर में मैं ब्याही थी उसमें बस दो भाई ही थे, करोड़पति घर था, शहर में कई मकान थे. मेरी दीदी की जब शादी हुई तब मैं 18 साल की थी पर 18 साल की उम्र में मेरे वक्ष पके आम की तरह हो गए थे, चूतड़ उभर गए थे और उनकी दरार क़यामत ढाने लगी थी.

फिर मैं अपने कमरे से एक पतला वाला बैंगन उठा लाई और बाहर जहाँ मेरी पड़ोसियों की बाइक खड़ी थी, वहाँ चली गई. नमस्कार दोस्तों,सबसे पहले तो मैं आप सबका धन्यवाद करता हूँ कि आप सभी को मेरी पिछली कहानीमैं और मेरी प्यारी शिष्याकाफी पसंद आई।साथ ही आपसे क्षमा चाहता हूँ कि मेरी अगली कहानी में इतना विलम्ब हुआ। दरअसल बीच में ज़िन्दगी कुछ ज्यादा ही व्यस्त हो गई थी, पहले तो यू एस ए का दौरा और फिर मेरा तबादला नई दिल्ली में.

मेरी बात सुनते ही वो उठकर मेरे पास आ गया और मेरे गाउन में हाथ डालता हुआ बोला- क्यों नहीं मैडम मैं ख़ुद निकाल लूँगा!!ये बात कहते हुए वो बड़ी अदा से मुस्कुरा उठा था.

‘मस्त लण्ड का जायका तो लेना ही पड़ता है ना… अरे वो राजेश जी अब तक क्या कर रहे हैं…?’‘मैं हाजिर हूँ श्वेता जी…’ तभी कहीं से एक आवाज आई. वो अंकल की चुदाई का पूरा मजा ले रही थी और अंकल भी इतनी खूबसूरत औरत को जमकर चोदना चाहते थे. तभी मैंने अमिता को खड़ा किया और घोड़ी बना कर पीछे से उसकी चूत मारने लगा और शालू भी अब लण्ड मांगने लगी.

अब ये आ गये- क्यों जानू? कैसा लगा मेरे भाई के साथ सेक्स?मैंने कहा- मजा आ गया! पर अब तुम्हारा छोटा पड़ेगा!मैंने ऐसे ही मजाक में कहा था. झुरमुट कहीं का…!!!मुझे उन दिनों नाम बिगाड़ने और नए बनाने की बड़ी गन्दी आदत लग गई थी जो आज तक नहीं छूटी…. कोमल ने मेरी वासना को और बाहर निकाला- पापा… मम्मी से दूर रहते हुए कितना समय हो गया…?बेटी, यही करीब 16-17 साल हो चुके हैं!”क्या?? इतना समय… साथ भी नहीं सोये…??”साथ सोये? हाथ भी नहीं लगाया…!”तभी…!”क्या तभी…?” मैंने आश्चर्य से पूछा.

सप…”राहुल ने निखिल का सर पकड़ लिया और हल्की-हल्की आह भर के अपना लंड चुसवा रहा था। उसकी आँखें नशीली हो गई थी।करीब दस मिनट तक निखिल राहुल की जांघों से लिपटा उसके लंड को ऊपर से नीचे तक चाट-चाट कर चूसता रहा। अब राहुल से रहा नहीं जा रहा था।उठ.

नई बीएफ 2022 की: मैंने अपनी बहन को कहा- मैं तो तुझे एक ऐसी गश्ती बनाऊँगा कि तू साली तीन-तीन लौड़े एक साथ लेगी मेरी बहन! जो तेरी चूत, गांड और मुँह में होंगे! क्यों मेरी रांड बनेगी न गश्ती?तो बोली- सच भाई? मैं भी यही चाहती हूँ! और बाकी आपकी मर्जी! आप जो मर्जी बनाओ मुझे! मेरे दलाल भाई!फिर तो मैं रोज चोदने लगा कुतिया को! मेरे साथ ही जो सोती थी. अन्दर घुसकर दरवाजा बंद किया तो तौलिया लपेटे अमित मेरे सामने आ गए, शायद नहाने जा रहे थे.

वैसलीन लगाई ! मैंने अपने आधे लंड को उसकी चूत में घुसाया ही था कि वो तेजी से चिल्लाने लगी, उसकी चूत खून से लथपथ हो गई, मेरा जोश और बढ़ गया और मैंने धमाधम चुदाई शुरू कर दी ……. जीजू ने अपने चाकू से जैसे वार कर दिया हो, तेज मीठी गुदगुदी के साथ चाकू मेरी चूत को चीरता हुआ भीतर बैठ गया. मैंने उसका पूरा नमकीन पानी चाट कर साफ किया तब अमिता कहने लगी- क्यों तड़पा रहे हो? अब मुझे चोद दो!तो मैंने शालू से कहा- इसके मुँह पर अपनी चूत रख दो.

और इधर माँ का बुरा हाल था- आआह्ह्ह ओह्ह्ह्ह उह्ह्ह्ह मह्ह्ह्ह अहाआअफिर मैंने उन की दोनों टांगें फैलाई और बीच में आ गया.

वो दर्द से चिल्ला रही थी-…मार डाला… आह्हा दर्द हो रहा है! निक्काअल प्ल्लज्ज्ज़ मईई रीएआ…तुरंत मैंने अपने हाथ से उसका मुँह बंद किया और धीरे-धीरे मैं अपना लण्ड आगे पीछे करता रहा. जिन लोगों को नहीं पता उन्हें मैं बता दूँ कि मिरांडा कॉलेज एक गर्ल्स कॉलेज है और वहाँ की ज्यादातर लड़कियों के लिए स्मोकिंग और ड्रिंकिंग तो आम बात है. मेरी योनि जख्मी हो गई है…??? मैं असमंजस में थी, घर पहुँच कर मम्मी को बताऊँ या नहीं.