एचडी बीएफ ओपन सेक्सी

छवि स्रोत,ಸೆಕ್ಸ್ ಸೆಕ್ಸ್ ಕನ್ನಡ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी पिक्चर बीएफ देसी: एचडी बीएफ ओपन सेक्सी, एक दिन जब घर में कोई नहीं था तो मैंने उसको पीछे से पकड़ कर उसके गालों पर चुम्मी ले ली, वो तो बेचारी शर्मा कर भाग गई.

की सेक्सी फिल्म दिखाएं

ये मेरी सच्ची कहानी है, इसमें बिल्कुल भी झूठ नहीं है, और जो घटना मेरे साथ जैसे जैसे हुई थी वो सब इस कहानी में है. दूध वाली भाभी की सेक्सी वीडियोमैंने भी कहा- हाँ मैं ठीक हूँ और पढ़ाई की अभी कोई बात मत करो प्लीज़; अभी मुझे छुट्टियां एन्जॉय करने दो.

मैं नाइट शिफ्ट होने के कारण अक्सर अपने स्टाफ को आनंद विहार छोड़कर आता था और वहां से वापस आने में मेरे को दो तीन जो गुड़गांव सवारी मिल जाती हैं, मैं उनको लेकर आता था. हिंदी+में+सेक्सी+वीडियोमुझको कमरे में देख कर कामिनी बोली- बाहर नहीं जा सकते थे?मैंने कहा- मुझको क्या मालूम कि तुम लोग बाहर आ जाओगे?वो बोली- देख रहे हो विवेक इसको?विवेक बोला- अब जाएगा भी यहाँ से कि यही गांड मराता रहेगा?मैं कमरे के बाहर आ गया.

पर बदले में मुझे भी उसे ओरल की परमिशन देनी पड़ीजब आप प्यार में होते हो आप कुछ भी गलत या सही का अंदाजा नहीं लगा सकते.एचडी बीएफ ओपन सेक्सी: थोड़ी देर ऐसे ही पड़े रहने के बाद मैंने उसकी चूत देखी वो फूल कर लाल हो रखी थी.

बस आप सभी से एक इल्तिजा है कि आप किसी महिला मित्र का नम्बर मांगने की जिद न किया करें… आप सिर्फ एक कहानी समझ कर ही इसका आनन्द लें.पिछली बार जब मैं पटना गया था तो चाची मेरे साथ कई बार सिनेमा देखने पटना के मोना थियेटर गई थीं.

सेक्सी चुदाई वीडियो साड़ी वाली - एचडी बीएफ ओपन सेक्सी

अगर उसको भी चोदना चाहते हो?उसने कहा- जब उसकी बेटी सामने होगी तो वो नहीं आएगी.” राखी बोली।मैं शर्त नहीं हारूँगी, अभी तक तुमने खोल कर कहाँ देखा है.

प्रिय पाठको, मैं अपने इस लेख में कुछ गुप्त ज्ञान की बातें बता रहा हूँ. एचडी बीएफ ओपन सेक्सी वो तो इंतज़ार ही कर रहा था कब दरवाजा खुले और कब वो अन्दर कर मुझे चोदे.

जब आप तैयार हो तो मैं भला आपकी बहन को खुश करने के लिए मना कैसे कर सकता हूं?इसके बाद हमने फिर से सेक्स करना शुरु कर दिया.

एचडी बीएफ ओपन सेक्सी?

फिर दीदी मेरे लंड का सुपारा खोलकर अपने मुँह में डालकर उसे जीभ से चाटने लगीं और उसे लॉलीपॉप की तरह चूसने और चाटने लगीं. क्योंकि सूरज ढलने लगा था और हम दोनों को घर पहुँचना था तो हम उस किले से जल्दी से बाहर निकल आए. उसने लंड को मेरी चुत पर सैट किया तो मैंने भी उसके लंड को पकड़ कर अपनी चुत में फंसा लिया.

फिर थोड़ी देर तक मैं ऐसा ही करता रहा और फिर मैंने एक जोरदार झटका मारा और मेरा पूरा लंड उसकी गांड में घुस गया. इतना कह कर मैं अपना पेंट उतारने लगा, इतने में वो बोली- पहले दरवाजा तो अच्छे से बंद कर लो जीजू. वो फ्रेश होकर जब आई तो पूरी नंगी ही बाथरूम से निकली थी और मुझको अपनी चूत दिखाने लगी.

जाने से एक दिन पहले जब पापा ऑफिस में गए हुए थे और हम तीनों ही घर पर थे तो उसने बिंदु माँ से कहा- माँ आज फिर फर्स्ट डे जैसा प्रोग्राम करो ना. मगर तब तक चंदर का लंड फिर से खड़ा हो चुका था और उसने भी बिना टाइम गंवाए मेरी चुत पर हमला कर दिया. फिर मैंने चुत की फांकों के बीच में केला फंसाया और अन्दर घुसेड़ दिया.

नमस्ते दोस्तो, मेरी जीवन की पहली कहानी अन्तर्वासना पर प्रकाशित हुई तो मुझको बहुत अच्छा लगा. दो तीन बार रगड़ने के बाद उसने अपना मुँह मेरी तरफ किया और मेरे लण्ड को अपनी गोरी, चिकनी और पाव रोटी सी फूली चूत में रगड़ने लगी और कमर मटकाती रही.

इसी के साथ वो अपना एक हाथ ऊपर करके बारी बारी से दोनों मम्मों को भी दबाने लगा.

प्रिया का बायाँ हाथ मेरी पीठ पर कस गया और दायाँ हाथ मेरे सर के पृष्टभाग पर जमा कर प्रिया मुझे ऐसे अपनी ओर दबाने लगी जैसे चाहती हो कि मैं उस के उरोजों में ही समा जाऊं.

हमारे घर में 2 ही कमरे हैं, जिसमें एक में मेरे मम्मी पापा सोते हैं और एक में मैं और मेरी बहन सोते हैं. उसकी सांसें बहुत तेज चल रही थी उसकी गुदाज मांसल जांघें उसके यौवन रस से भीगी हुई थी और चमक रही थी उसकी तेज सांसों के साथ के साथ सांसों के साथ के साथ उसके ऊपर नीचे होते हुए पेट उसे और भी कामुक बना रहे थे, मैं भी उसके बगैर लेट गया लेट गया और उसका हाथ अपने हाथों में पकड़ लिया. क्या राजे तू सचमुच स्वर्ण रस पियेगा… यार मैं तो अभी तक ये समझ रही थी कि कहानी को ज़्यादा दिलचस्प बनाने के लिए तू ऐसा लिखता है.

उसके संग चुत चुदाई और खुला सेक्स करने के बाद खुद को मुठ मार कर शांत कर लेता था. फिर धीरे धीरे मुझे भी जोश आ गया तो मैंने अपना एक हाथ धीरे धीरे भाभी के मम्मों पर फिराना शुरू कर दिया. मैं पूरा 6’1″ लंबा गोरा पंजाबी लड़का हूँ, फ़ुटबाल खेलने का शौक़ीन हूँ इसलिए फिटनेस भी खिलाड़ियों जैसी ही है.

आहहह आहहह और चोद मैगी यस… साले पूरी रात मुझे चोद आहहह…”फिर कुछ देर हम 69 पोजीशन में आ गए.

बोल दो ना कि ओवर टाइम करना है तो यही काम करना पड़ेगा वरना काम छोड़ दो. फिर वो मेरी चूचियां मुँह में ले कर उन्हें चूसता और मम्मों के आस पास दांतों से काटता रहा. कुछ ही पलों में मैंने भाभी को पलट दिया और उनके ऊपर आ कर उन्हें चोदने लगा.

उसने अपनी टांगों को और चौड़ा करके चूत को बिल्कुल लंड सामने ठोकने के लिए अड़ा दिया. फिर एक दिन मुझसे माँ बोलीं- तुमको अब मैं असली लंड का मज़ा दिलवा दूँगी तभी तुम को पता लगेगा कि चूत की महिमा क्या होती है. वैसे मेरी तरफ से हां बोल दी है अगर लड़का और लड़की दोनों एक दूसरे को पसंद कर लेते हैं तो.

मैंने कहा- घर वालों को बताना तो मेरा फर्ज बनता है, कल अगर उनको पता चलेगा कि मुझे सब मालूम था.

कुछ ही देर में वो भी धीरे धीरे गरम होने लगी और उसने भी मेरे होंठों पे अपने होंठ लगा दिए. मैंने उससे कहा कि साक्षी मैं तुझसे बहुत प्यार करता हूँ और तुझको ठंड लग रही थी न, इसलिए मैं ये सब कर रहा था ताकि तुझको ठंड ना लगे.

एचडी बीएफ ओपन सेक्सी एक दिन मैं और मेरी सहेली शॉपिंग करने गए क्योंकि जब भी ऑफिस की छुट्टी होती है तो हम दोनों लोग शॉपिंग के लिए जाते थे. आंटी ने हांफते हुए कहा- राज अब हो गया… अब मुझसे और न हो पाएगा… मुझे दर्द हो रहा है.

एचडी बीएफ ओपन सेक्सी जब वो अंदर बाहर होता है, तो गांड सिकुड़ा कर महसूस करने का अपना ही मज़ा है. मैंने हंसते हुए पूछा- क्या हुआ आंटी?आंटी ने भी हंस कर कहा- कुछ नहीं.

उसकी बुर पानी निकाल रही थी, उसके तड़पने के बावजूद मैंने उसे नहीं छोड़ा.

चूत का सेक्स

मैं बाजार में घूम रहा था तो मेरे सामने दीदी की चूची और गुलाब के फूलों जैसी चुत घूम रही थी. तू ठीक पौन घंटे लगा रहा रिकार्ड तोड़ दिया… तूने रात को उसकी गांड मारी, जिसने हम सबकी मारी. हालांकि अब तक कभी भी चाची ने मुझे कोई इशारा ऐसा नहीं दिया था जिससे मैं ये साफ़ समझ सकूँ कि चाची मुझ पर फ़िदा हैं या मुझसे चुदना चाहती हैं.

अब हम दोनों लगभग हर रोज़ ही शाम को मिलते और ऐसे ही चूमा चाटी करके चले जाते. तभी अचानक मेरे लंड से वो रस निकल ही गया, जिसे भाबी ने बड़ी शिद्दत से चूसने का मन बना लिया था. यह बात अभी 6 महीने पहले की है, जब मैं, मेरा भाई और मेरी मम्मी, मौसी के यहाँ कुछ दिनों के लिए गए थे.

इस बार मैंने हाथ कंबल के अन्दर डाल दिया और उसकी शर्ट के अन्दर हाथ डाल कर सीने पे हाथ फिराने लगा.

उसने लंड को मेरी चुत पर सैट किया तो मैंने भी उसके लंड को पकड़ कर अपनी चुत में फंसा लिया. मेरा गारमेंट्स का बिजनेस कुछ ठीक नहीं चल रहा था, मैं हमेशा दुखी और चिड़चिड़ा रहने लगा था. उधर मेरी पतिव्रता पत्नी ने एरिक के लंड को अपनी नर्म गुलाबी जीभ से चाटना जारी रखा.

लोन विभाग में काम करने वालो को मार्केटिंग के लिए बाहर ही रहना पड़ता है, दूर दूर गांवों में जाना पड़ता है. जज्जी क्या हुआ क्या हेल्प चाहिए आपको?मैडम जी ने कहा कि मेरे रूम का पंखा बहुत स्लो चल रहा है और गर्मी भी बहुत हो रही है. उस चैट को पूरा पढ़ कर पता चला उसके बहुत सारे नंगे फोटोज उसने सर को भेजे हुए थे.

जब हमारी धड़कन कुछ संयत हुई तो उन्होंने मुझसे पूछा- तुम यह कब से चाहती थी?मैंने कहा- मैं आप से बहुत पहले से प्यार करती हूं और हमेशा आपको पाने की चाहत रखती थी लेकिन खुद को काबू में रखा लेकिन आज दीदी के आपसे खराब व्यवहार के बाद खुद को काबू में नहीं रख पाई। आप मुझसे वादा कीजिए कि दीदी के साथ-साथ आप मुझे भी इसी तरह से प्यार करते रहेंगे. फिर अशोक मेरे पास आ कर बोला- मैडम आज से यहाँ पर ये कपड़े नहीं चलेंगे.

सर चाय का कप पकड़े हुये कह रहे थे- अरे छोड़ो… चाय गिर जाएगी।पर मुझे क्या… मैं तो लंड चूसने में व्यस्त थी। लंड तो बहुत देर से बर्फ का स्पर्श झेल रहा था साथ ही मैं मुठ मार मार कर उसे निकलने के अंतिम क्षण तक ले आयी थी. कसम से मैं उनकी फूली हुई चूत और तने हुए मम्मों पर तो एकदम से पागल ही हो गया. कोई लेडी अपने ब्वॉयफ्रेंड की बांहों में बाँहें डाल कर डांस कर रही थी, तो कोई बार में बैठ कर ड्रिंक ले रही थी.

मैं कुछ भी कहने लायक नहीं थी मुझे तो पैसे की चमक ने अँधा कर दिया था.

वो फिर से छटपटाते हुए मुझे अपने ऊपर से हटाने लगी, पर मैं उसके ऊपर ही चढ़ा रहा. वो तो अब प्यासी मछली की तरह तड़पने लगी और ज़ोर से सिसकारियाँ लेने लगी और उसने भी अपना हाथ मेरे लंड पे रख दिया. फिर कुछ देर में सारा काम निबटा कर चाची भी आकर मेरे बाजू में लेट कर सो गईं.

कभी एक फांक को चूसता तो कभी दूसरी फांक की माँ चोदता… उसने बहुत देर तक ऐसे ही किया, जिसका असर यह हुआ कि मेरी चूत की फांकें बाहर को आने लगीं. अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज के पाठको, कैसी लगी मेरीमेरी चालू बीवी की गैर मर्द के साथ गंदी कहानी? मुझे मेल करके बताएं![emailprotected].

आज मैं भी एक कहानी आप लोगों के सामने बताने जा रहा हूँ जो मेरे जीवन की ही है, उम्मीद करता हूँ कि आप लोगों को मेरी ये कहानी जरूर पसंद आएगी और आप लोग अपना प्यार मुझे ज़रूर देंगे. मैं बाहर ही रह गया… कपड़े आदि पहन कर तैयार हो गया और दीदी कमरे में चली गई. फिर इस वक्त रोशनी भी कम थी… इसलिए मुझे उसको पहचानने में जरा देर लगी- माफ करना भाई पहचानने में देर हुई.

ಸೆಕ್ಸ್ ಹಿಂದಿ ಪಿಕ್ಚರ್

एक बार उनके पति दो दिन के लिए बाहर जाने लगे तो उन्होंने मुझे बुला कर इन दो दिनों में उनकी बीवी की दोबारा से अच्छी तरह से चुदाई करके उनकी बीवी की कामुकता को शांत करने को कहा.

सुबह उठने के बाद देखा कि उसकी चूत सूज गई है, उससे चला भी नहीं जा रहा. पता नहीं उस दिन यानि 25 अप्रैल को दीदी को देखने का अंदाज़ ही एकदम से बदल गया. लिहाज़ा मेरी होंठों और जीभ का सफ़र उस पर्वत की चोटी पर पहुँचने से पहले ही रुक गया.

चुदाई के बाद चंदर बोला- बिंदु जी, जिस दिन आपका पति कहीं आउट स्टेशन हो, तो आपको मुझसे चुदाई के लिए पूरी रात के लिए आना होगा. उसने अबकी बार मेरी गांड पर लंड लगाकर धक्का लगाया और उसका लवड़ा मेरी गांड फाड़ अन्दर घुस गया. सेक्सी वीडियो दिखाने’ चीखने लगीं, वो दर्द से कराहते हुए बोल रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… बहुत दर्द हो रहा है.

मैंने यहां की बहुत सारी सेक्स स्टोरी पढ़ीं तो मुझे लगा कि मुझे भी अपनी सेक्स स्टोरी आप लोगों के साथ शेयर करनी चाहिए. अब उसकी भी मज़ा आने लग गया था और वो भी मज़े से लंड ले रही थी और चुदाई का मज़ा ले रही थी।उसने कहा- जीतू, और जोर से चोदो! इतने दिनों से क्यों तड़पा रहे थे!और मैं उसे और ज़ोर से चोदने लगा.

फिर धीरे धीरे कर हम दोनों ने एक दूसरे के कपड़े उतार दिए, उसके बाद भाभी ने लंड मुँह में ले लिया और मैं उनकी चूत पे हाथ फेरने लगा. फिर वो उस आदमी से बोला- तुम नीचे लेट जाओ, यह तुम्हारे ऊपर चढ़ कर तुम्हारा लंड चूत में खुद ही डालेगी, जिससे पता लगेगा कि यह तुमको चोद रही है… ना कि तुम इसको. फिर हम दोनों ने एक दूसरे के होंठों को चूसा और सहर ने मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ लिया और उसको सहलाने लगी.

”मेरी बात सुन भाईजान ने मुझे अपनी गोद में खींचा और कसकर दोनों चूचियों को दबाते मेरी जम्पर को उतारने लगे. मैं जिस मकान में रहता था, उस मकान में और भी किरायेदार लोग रहते थे लेकिन मेरी उम्र का कोई नहीं था तो ज़्यादा मैं किसी से बातचीत नहीं करता था. उनके यहाँ काफी महिलाओं का आना जाना था, सभी हाई प्रोफाइल घर की या बड़ी पोस्ट पर या बड़े बड़े बिजनेस मेन की पत्नियां या उन्हीं के घर में से थीं.

क्योंकि जब भी मेरी माँ मेरे सामने आएगी, तो मुझे वो नंगी ही दिखाई देगी, जिसे मैं चोद रहा होऊंगा.

ये मेरी पहली सेक्स स्टोरी है, तो किसी तरह की भूल को नजरअंदाज करते प्लीज़ माफ़ कर दीजिएगा. आप ठीक कह रही हैं, लेकिन आज मैं उसे घर से बाहर लेकर निकला हूँ तो इस उम्मीद में किसी लड़की से जान पहचान हो जाए… लड़की के साथ तो मैं मजे मजे में रूसी सीख जाऊँगा!”अच्छा आईडिया है… क्या मिली कोई लड़की?” नताशा ने पूछा.

सेजल भाभी की नाभि को चूसने के बाद मैं आगे बढ़ा और सम्भाल कर उनकी ब्रा बचाते हुए पूरी ड्रेस काट दी. आंटी नहाते वक्त अपनी चुत में उंगली कर रही थीं और ऊंहां… ऊऊऊऊ… स्स्स्स्स्…” जैसी कुछ कामुक आवाजें निकाल रही थीं. इस तरह से कहानियां पढ़ने वाले काफी लोग थे परन्तु छपी हुई कहानी जैसे कोई बहुत अधिक सर्कुलेशन नहीं था.

दोस्तो, मैं फेहमिना एक बार फिर आप सबके सामने अपनी नई कहानी लेकर हाजिर हूँ।आप सबने मेल के जरिये अपना बहुत सारा प्यार मुझे दिया इसके लिए आप सबका बहुत बहुत धन्यवाद।बहुत सारे अन्तर्वासना पाठकों ने मुझे नई कहानी लिखने को कहा था क्योंकि मेरी पिछली कहानीशिमला टूअर में सेक्स टीचर के साथको प्रकाशित हुए दो महीने हो चुके थे. चाचा के जाने के बाद अब चाची ने कहा- बच्चू… अगर ये बातें मैं आपके चाचा जी को बता दूँ तो जानते हो क्या होगा?मैंने चाची से कहा- प्लीज़ आप ये बात किसी से नहीं कहना… मैंने आप पर भरोसा करके आपको ये सारी बातें बताई हैं. वो बोला- ओके दोपहर एक बजे मैं ड्राइवर को भेजूँगा, उसके साथ चली आना.

एचडी बीएफ ओपन सेक्सी उधर उन्होंने आशीष को पूरी तरह से समझा दिया था कि आज तुमको इस मुर्गी को अच्छी तरह से चोद कर हलाल करना है और मैं सब कुछ देखने के लिए वहीं पर रहूंगी. यह मेरा पहला अवसर नहीं था पर समीर बहुत हैंडसम था और उसका लंड बहुत बड़ा लग रहा था इसलिए मेरा दिल बैठ जाता था सोच सोचकर.

एक्सएक्सएक्स वीडियो देहाती

दोस्तो, आज भी मुझे याद है, जब उसका पानी निकला तो उसके पानी ने मेरे लंड की जड़ तक बौछार मारी थी, बहुत सुखद समय था. वो पूरी तरह से गरम हो गई थी और किस करते हुए अपनी जीभ मेरी जीभ ले लड़ा रही थी और चूस रही थी. दीदी ने अपने पति से यह सब बात बताई और बोली- तुम्हारा भाई राक्षस है, मेरी बहन के साथ जबरदस्ती करने की कोशिश की, वन्द्या बेचारी अभी बहुत छोटी और भोली मासूम है।बहुत हंगामा हुआ और सुरेंद्र जीजा को सब ने बहुत गालियां दी और बहुत बेइज्जत घर में किया.

मेरे दोस्त की बीवी की चुदाई की कहानी के पहले भागगया था छोड़ने, आ गया चोदकर-1में आपने पढ़ा कि मैं अपने दोस्त की बीवी को उसके घर छोड़ने गया तो बारिश आ गयी, हम भीग गए. मेरा भी इसी वजह से आंटी के पास आना जाना लगा रहता था, जिससे मुझे आंटी के मम्मों के दर्शन हो जाते थे. రోజా సెక్స్ ఫొటోస్एक बार उसकी चूत में लंड को डाल देता और अगली बार उसकी गांड में धकेल देता.

जब वो नहीं होता था तो मैं अलका को फोन करके पूछ लेता कि कोई काम हो तो बता दे, मैं करवा दूंगा.

जैसे ही हम अन्दर पहुँचे, मैं आपे से बाहर हो गया और उसे बुरी तरह चूमने चाटने लगा. ”मैंने कहा- अच्छा आप कॉफ़ी बनाइये… मैं आपको सुलाने का इंतज़ाम लेकर आता हूँ.

घुमाने ले जाने के बहाने मैं उसे एक अच्छे से होटल में ले गया और वहां एक रूम बुक कर लिया. आख़िर वो बोला- अब बात बनी ना बिंदु जी, अब आप जाओ और रात को फिर से आ जाना. अब वो हफ्ते में एक दो बार आता और कामिनी और वो घर पे ही आराम से ड्रिंक करते, डिनर करते, फिर उनकी रास लीला चालू हो जाती.

रात को नींद में लगा कोई मेरे साथ चिपका हुआ लेटा है, वह मेरे बदन को सहला रहा था.

मैंने उसी वक़्त उसके बूब्स को मुख में भर लिया और ज़ोर ज़ोर से चूसने लगा. आराम से मसलो न उम्म्मम्म…”कोमल केवल चुसवाओगी ही या चूसोगी भी…?”अरे जरूर जल्दी से 69 में आ जाओ. थोड़ी दूर वो एक घर के पास रुका और मोबाइल निकाल कर किसी को फोन करके बोला- दरवाज़ा खोल.

सेक्सी ब्लू पिक्चर का वीडियो दिखाओमैंने कहा कि अभी मेरा तो निकला ही नहीं है तो कैसे रहने दूँ?पर उसकी हालत देख कर मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया और उसके बाजू में लेट गया. मैं- नहीं नहीं अलका जी… मैं तो ग्यारह से पहले नहीं सोता… बोलिये क्या बात है? कैसे इस वक़्त फोन किया? सब ठीक ठाक है ना?अलका- नहीं राज जी सब ठीक है… मैंने तो सिर्फ यह बताने को फोन किया था कि आपकी दो कहानियां पढ़ ली हैं… बहुत रोचक तरीके से लिखते हैं आप… दोनों कहानियां बहुत अच्छी लगीं.

सुनीता भाभी की सेक्सी वीडियो

मैं तो शराब पीता ही रहता था, लिहाजा मुझे थोड़ी कम चढ़ी हुई थी, मंजू कभी कभी बियर पीती थी तो उसको नशा ज्यादा हो गया, अब मंजू बहकने लगी थी, उसके अंदर का जोश छलकने लगा था. इस पर पापा ने 50000 रूपए से विक्रम का तिलक कर दिया और इतने ही उसके पापा को भेंट देकर कहा कि यह रिश्ता अब पक्का हो गया है. सर ने मुझे आलिंगन में लेते हुये किस किया, फिर छुड़ाते हुये बोले- कल मेरा ऑफ है, आइये घर पर कभी भी… अपने हाथ की बनी चाय आपको पिलाता हूँ।इसी क्रम में सर ने मेरी चूचियों को भी मसल दिया।मैंने मुस्कुरा कर कहा- अवश्य आऊँगी… आप पूरी तरह से तैयार रहना।मेरा हृदय हर्ष और गर्व से फूल गया, मेरी खुशी की कोई सीमा नहीं थी।टीचर के साथ चुदाई की कहानी जारी रहेगी.

फिर अगले दिन शाम को हम सेक्टर-18 में ही एक रेस्टोरेंट कम बार में पहुंचे. ” मैंने बोला।राजू ने हम तीनों के ग्लास हमारे हाथों में दिए और राखी का ग्लास टेबल पर रखकर जाने लगा तो सीमा बोली-ओह… राजू… कहाँ जा रहे हो… तनिक रुको ना!राजू अपनी जगह पर रुक गया. वो जोर जोर से बाजारू रांड की तरह हंसते हुए बोली- जल्दी जल्दी चाट… जब तक अपनी चूत चुसवा चुसवा के… चटवा चटवा के साफ़ ना करवा लूँ… साफ न करवा लूँ, तुझे छोडूंगी नहीं.

सड़क इन बंगलों के बाद फिर बाएं घूम जाती है और इस बार उस पर एक पायदान जूनियर अफसरों के, दूसरे स्टाफ और सुपरवाइज़रों के घर हैं. जब बाहर आई तो अशोक बैठा हुआ था और बोला- इधर आओ और यह अपने कपड़े लो. मैं कुछ देर के बाद मकान मालिक के साथ उसकी कार में बैठकर शॉपिंग करने चल दी.

अब मैं बिना देर किए उसकी चुत पर पिल पड़ा और एक ज़ोर का झटका दे मारा. यहाँ पर तुम्हें कोई भी देखेगा तो तुम्हें नहीं पता लगेगा, जिससे तुम शर्मा जाओ और दूसरा फायदा ये है कि यह नहीं पता लगेगा कि चुदाई के समय किस का लंड अच्छा और ताकतवर है.

मैं उनको मना नहीं कर पाया और खाना खा कर अपने घर आकर दिल्ली के लिए तैयारी करने लगा.

मुझे अपनी इस फंतासी को पूरा करने का मौका मिला, जब मुझे बस से बंगलोर जाना था. हॉट इंडियन सेक्सी व्हिडिओमेरे पति रवि का लंड तो बिल्कुल किसी दस साल के बच्चे के जैसा लुल्लीनुमा है. ગુજરાતી બિપીतो मैंने कहा- नहीं, ये तब नहीं हो सकता है, मैं हमेशा सेफ सेक्स ही करता हूँ. लेकिन मेरे होंठों पर मौसी की चुत का रस लगा हुआ था तो मौसी को घिन आई लेकिन मैं मौसी को जबरन चूमने लगा और उनके मुख में अपने होंठ जीभ घुसा कर उन्हें उनकी ही चूत का रस चखा दिया.

कुछ समय तक तो मेरी खुशी का ठिकाना नहीं था मगर जैसे ही उसके कपड़े उतार कर नंगी करने का टाइम आया तो मेरा दिल मुझे झकझोरने लग गया और उससे मैंने कहा कि तुम यहां से चली जाओ.

मैंने मंजू से पूछा- क्या बात है जान, आज बड़ी प्यासी लग रही हो? बहुत आग लगी है क्या चूत में?मंजू मस्ती में थी, बोली- हाँ लगी है, बुझा दो नहीं तो कहीं और चली जाऊँगी. एक बार फिर मैं साहिबा आप सबके समक्ष मेरी नई हिंदी सेक्स कहानी लेकर हाजिर हूँ. बस के ड्राइवर व कन्डक्टर ने उनके पैर छुए व कहा- दादा आपकी सवारी फ्री जाएगी.

मैंने उससे पूछा- तेरी शादी कब हुई और ये सब क्या है?उसने मुझे सब बताया कि वो किसी लड़के से प्यार करती थी और उसने उसी के कोर्ट में शादी कर ली, किसी को नहीं बताया है. अब वो ना तो अपने लंड को दबा सकता था और ना ही उसे खड़ा होने से रोक पा रहा था. सबके जाते ही वो टेबल पर पसर गई और बोली- सर अब मेरी प्राब्लम भी सुलझा दो!उसने बात एक दम सेक्सी तरीके से कही।मैंने उसकी तरफ मुड़ कर देखा तो एक झटका लगा। उस के पसरने के कारण उस के स्तन उस के सूट में से बाहर आए हुए थे।मेरी आँखें फटी रह गई।कुछ सेकेंड्स बाद मुझे होश आया तो मैंने कहा- ठीक से बैठो.

वीडियो फिल्म ब्लू फिल्म

इसलिए वो मेरे दूसरी ओर रहने वाली औरत से बात कर रही थी कि आजकल जनाब मकान में ही पड़े रहते हैं, निकलते ही नहीं. मैं उन दिनों घर में अकेली होती हूँ, जब मेरे पति कुछ दिनों के लिए शिप के साथ निकल जाते हैं. मैं बोला- तुम्हारी चूत चोदने के बाद पूरा रस पिलाऊँगा।फिर क्या था… वो एकदम से बिस्तर पर बिछ गई और बांहों को फैला कर बोली- आ जाओ!मैंने अपने लिंग को उनकी चूत की दोनों फांकों के बीच रख कर एक जोरदार धक्का दिया कि उनकी आँखों से आँसू निकल आये, बोली- जान निकाल लोगे क्या? क्या हो गया है आज तुझे? बड़ी बेरहमी से मेरी चुदाई कर रहे हो?तकरीबन दस आसन बदलकर मैंने उनकी मैराथन चुदाई की.

वो खुद किसी कंपनी में काम करती हैं, उसी के प्रॉजेक्ट के लिए यहां आई हैं.

कुछ देर बाद की लंड चुसाई के उपरान्त मैडम मेरे ऊपर चढ़ गईं और मेरे मुँह के पास आकर बोलीं- मुँह खोलो.

तब तक मैंने सोचा कि अपनी जान को बता दूँ मेरे फ़ोन का इंतज़ार कर रहा होगा. मामी ने मना कर दिया, कहती- आज नहीं, कोई आ ज़ाएगा तो प्राब्लम हो जाएगी, तुम्हें जो करना है, यहीं पे करो लेकिन चूत में लंड नहीं डालना, मैं प्रेग्नेंट हूँ. सेक्सी लानाआह… क्या नजारा था क्या बताऊं! उसको देखते ही मेरा लंड खड़े खड़े ही झटके मारने लगा.

मैं एक जगह बैठ गया और अपनी आँखें बंद करके सेक्स के ख्यालों में खो गया. उसने मेरे से हाथ मिलाया और कहने लगी- आप तो बहुत ही स्मार्ट और सेक्सी हैं. माशाअल्लाह! हरामज़ादी ने मैरून रंग की रेशमी साड़ी, उसी रंग के हल्के शेड का ब्लाउज पहन रखा था.

लेकिन उनके कुछ न कहने से और ना ही कोई रिएक्ट करने से मुझे कुछ भी सूझ नहीं रहा था कि क्या किया जाए. थोड़ी देर इधर उधर की बातें करने के बाद मैंने उसे चूमा तो वो शरमाने लगी.

इसे आप यहाँ से download करें!भारतीय लड़कियों से हिंदी अंग्रेजी और स्थानीय भाषाओं में सेक्स चैट, विडियो सेक्स करने के लियेसेक्स चैट, विडियो चैटपर आयें और सेक्स की मजेदार बातें करके, नंगी लड़कियों को देख कर मजा लें!.

लेकिन आखिर कब तक टिकता… लंड के भाग्य में तो यही लिखा है कि चूत की गहराई में जाकर चूत को सींचना और एक नए जीवन का सृजन करना…मेरे लंड ने भी अंततः मौसी की चूत की सिंचाई कर दी इसी आशा से कि इस सिंचाई से मौसी को संतान फल की प्राप्ति होगी. धीरे धीरे प्यार परवान चढ़ रहा था हमारा, हम अक्सर ही बाहर घूमने जाया करते थे. वो बोली- कह तो तू सच ही रही है मगर आज रात को तुम भी मुझे कम्पनी देना.

दिव्या भारती के सेक्सी वीडियो शीनू का एक भाई था और उसके पापा भी निजी कंपनी में काम करते थे, जो सुबह जल्दी जाते थे और लेट आते थे. मैंने उससे पूछा कि आज से पहली किसी से चुदवाया है?तो उसने मुझे किस करते हुए कामुक अंदाज में कहा कि तू ही पहला है साले, जो मुझे नंगी देख रहा है.

फिर धीरे धीरे मैं उसके नाभि की तरफ बढ़ा और उसकी गहरी नाभि में अपनी जीभ फिरा कर चूमने लगा, जिससे वो और भी उत्तेजित होकर मेरे सिर पर अपने हाथ फिराने लगी. ये सब उधेड़बुन मेरे दिमाग में चलती रही और मैं फ्रेश होकर नीचे खाने के लिए चला गया. एक दिन वो रबर का लंड लेकर आईं और बोलीं- इसको मेरी चूत में डाल कर गोल गोल हिलाओ.

पंजाबी सैक्स

कहानी तो मैं भी समझ चुका था, लिहाजा अपनी नीना की जुबानी सुनने को बेताब हो रहा था. अचानक उसकी सांसें बहुत तेज होने लगी। मैं भी पहली बार सेक्स कर रहा था।अब हम 69 पोजीशन में ओरल सेक्स कर रहे थे, मेरा लण्ड उसके मुँह में था, क्या अहसास था मैं बयान नहीं कर सकता कि जैसे ही उसके गीले और मुलायम होंठ मेरे लण्ड को चूस रहे थे मैं कामवासना से आपे से बाहर हो गया, कुछ समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूँ बस चूमे जा रहा था काटे जा रहा था. इसके मुंह में तुम्हारा लंड घुसा था, नहीं ये रो रो के चिल्ला चिल्ला कर पागल कर देती.

कुछ मिनट तक उसकी चुत को चाटने के बाद मैंने अपनी पेंट को उतार दिया और 69 पोज़िशन में आकर उसके मुँह में लंड दे दिया. चुदाई करते करते मैंने भी पानी छोड़ दिया और उसके बाद उसके ऊपर ही लेट गया.

कुछ पल बाद ही उसने मेरे लंड को किसी छोटे बच्चे के जैसे लॉलीपॉप समझ कर चूसना शुरू कर दिया.

इसको भी उन्होंने सीसी कैमरे में रिकॉर्ड कर लिया और मुझको दिखा कर बोलीं- अगर कभी मुँह खोला तो यह सब तुम्हारे पापा को दिखा दूँगी. अब मैं पिंजरे के पंछी की तरह से थी, जिसके पर तो हैं, मगर उड़ नहीं सकता था. इसके बाद तो जब तक जूसीरानी मायके से वापिस नहीं आ गई, रोज़ रोज़ सभी रातें चुदाई में ही व्यतीत हुई.

छलके भी क्यों न… कहते हैं कि 34 से 40 वर्ष की महिला को सेक्स की भूख तेज होती है, वो उसी दौर में थी. जैसे ही सॉरी कहते हुए मैं आगे बढ़ा, मेरा तौलिया खुल कर नीचे गिर गया. कामिनी बोली- अरे यार विवेक, क्या कर रहे हो?वो बोला- तुमको तो मालूम है.

मेरी चालू बीवी की इंडियन सेक्स कहानी के पिछले भागमेरी बीवी गैर मर्द की बांहों मेंमें आपने जाना था कि मेरी बीवी अपने बॉस के साथ पूरी रात कमरे में चुदवाती रही.

एचडी बीएफ ओपन सेक्सी: मॉम ने झट से अपने एक हाथ से अपनी पैंटी चुत से एक साइड खिसका दी और एक हाथ से थोड़ा सा थूक अपने मुँह से निकाल कर अपनी चुत के अन्दर लगा दिया. रहने दो!” रानी बनावटी गुस्से से बोली- अब ध्यान आया है अपनी रानी का… जब मेरे स्तनों को कुचल रहे थे तब ध्यान ना आया तुमको… और मेरे भीतर जो अपना मूसला घुसेड़कर मेरे अंदर का मलीदा बना दिया तब भी ना ख्याल आया अलका रानी का… अब हाल पूछ रहे हैं.

अगले दिन मॉर्निंग क्लास में विक्की ने कहा- सर, आज अंग्रेजी पढ़ने की इच्छा नहीं है. मैं थोड़ी देर रोने के बाद उठी और बाथरूम में जा कर गीजर ऑन करके बाथटब में लेट कर चुत की सिकाई देने लगी. कामिनी की चूत तो पहले ही विवेक से चुदने के लिए पानी छोड़ने लगी थी, विवेक बोला- मेरी जान तुमको तो बहुत गुस्सा आता है.

उसने कामिनी से कहा कि देखा तुमने इसको?कामिनी बोली- यार ये तो बहुत बड़ा कमीना है, आज इस हरामजादे की गांड मारो.

सुहानी मुझे चोदते हुए देखा तो छूट मसलते हुए बोली- तुम दोनों ने मेरा मूड ख़राब कर दिया है, जब देखो चुदाई में लगे रहते हो. शायद वो उससे अभी और चुदना चाहती थी, उसने मुझसे कहा- तुम यहीं वेट करो, मैं अभी फ्रेश होकर आती हूँ. अन्तर्वासना की सेक्स कहानी का मजा लेने वाले मेरे प्यारे दोस्तों को मेरा नमस्कार… मेरा नाम राजीव कुमार है, मैं कानपुर उत्तर प्रदेश का रहने वाला हूँ.