या खलीफा के बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी हिंदी में बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

घोड़ा के वीडियो सेक्सी: या खलीफा के बीएफ, बहू बोली- डैडी जी, मैंने कभी सोचा नहीं था आप इस उम्र में भी इतने रंगीन मिजाज होंगे.

जूही चावला बीएफ सेक्सी

मैं खट से मम्मी के ऊपर आ गया और अपना मूसल सा लण्ड मम्मी की चूत में पेल दिया. ट्रिपल एक्स ब्ल्यू फिल्म हिंदीमानवी जो मेरे सामने वाली सीट पर सो रही थी, उसने अपने कम्फर्ट के हिसाब से क्रॉप टॉप और कैफ्री पहन रखी थी.

हम दोनों भाई बहन और यहां तक कि मेरी मां भी मेरे पापा से बहुत डरती थी. बीएफ सेक्सी सेक्सीकिसी तरह से मेरी अन्दर एंट्री हुई, तो मैंने देखा वहां लड़के लड़कियां मस्ती कर रहे हैं, यूँ कहो कि शराब और शबाब का सैलाब दोनों एक साथ बह रहा था.

मैंने इन तीनों के साथ कैसे सेक्स किया और आज तक कर रहा हूँ, ये सभी बातें मैं आपके साथ शेयर करना चाहता हूँ.या खलीफा के बीएफ: मैं सुबह 5 बजे उठ कर चुपके से उसके क्वार्टर से निकल गया और अपने हॉस्टल में आ गया.

मुझे जल्दी नींद नहीं आती, तो मैं अपने ईयरफ़ोन निकल कर गाने सुनने लगा.तभी दीदी नाइट सूट पहन कर बाथरूम से बाहर निकल आईं और अपने बालों को संवारते हुए मेरी ओर देखने लगीं.

क्सक्सक्स बीफ विडिओ - या खलीफा के बीएफ

उसने मेरी तरफ देख और पूछा- क्या सहलाऊं?मैंने अपने लंड पर उसका हाथ रखा और कहा- इसे लंड कहते हैं.उसने कहा- क्या ख्याल है, एक बार फिर हो जाये?मैंने हाथ जोड़ कर कहा- मेरे दोनों छेद जल रहे हैं.

जब मैं नीचे आ रहा था तो मैंने देखा कि अम्मी के हाथ में उनकी ब्रा और पैंटी थी. या खलीफा के बीएफ मामी ने पूछा- कैसा लगा?मैं- बहुत मज़ा आया।मामी- तुम इतने दिन से इस मज़े से अनजान थे और तुम्हारी मामी ने तुम्हें सिखाया। तुम्हें मुझको थैंक्स बोलना होगा।मैंने मामी को थैंक्स बोला तो मामी बोली- ऐसे नहीं, इधर आओ और मेरे बूब्स को चूसो.

वो नेहा को डांटते हुए बोली- मैं तेरा घर में इंतजार कर रही हूं और तू सीधा यहां चली आई? पता है मैं कितनी परेशान हो रही थी?उसकी मां की बातों का भी उस पर कोई असर नहीं हो रहा था.

या खलीफा के बीएफ?

फिर धीरे-धीरे उसका भाई मेरे रूम में आने जाने लगा और हमारी थोड़ी बहुत बातचीत शुरू हो गई. कुछ देर निधि की चूचियों को दबाने के बाद मैंने निधि के कंधों पर से साड़ी का पल्लू नीचे गिरा दिया।निधि की चूची को ब्लाउज के ऊपर से दबाने के बाद उसके ब्लाउज का हुक खोलकर उसके ब्लाउज को निकाल दिया।मैंने निधि के ब्रा का हुक खोलकर उसे निकाल दिया. पर आप मुझसे एक वादा कीजिए कि आप छोटी को कुछ नहीं बताएंगी?भाभी ने कहा- मैं वादा करती हूँ.

वो बोलीं- चुप कर!उसके बाद दीदी ने गुड नाइट का मैसेज भेज दिया और सोने के लिए कहा. उसके कड़क निप्पल देखते ही मैं उन पर टूट पड़ा और बारी बारी से चूसने लगा. पर इसके आगे बढ़ने का मौका हमें नहीं मिलता था।रात में फोन पर कई कई घण्टे बातें किया करते थे.

मानवी जो मेरे सामने वाली सीट पर सो रही थी, उसने अपने कम्फर्ट के हिसाब से क्रॉप टॉप और कैफ्री पहन रखी थी. फिर मीनू ने मेरे को एक चेयर पर बैठने के लिए कहा और खुद बैड के साइड में बैठ गयी और मेरे लंड पर तेल लगा कर मुठ मारने लग गई. तो उसका जवाब यह है कि इन सब हरकतों के अलावा वे एक बहुत अच्छा पति हैं.

मैं आगे ड्राइवर के साइड वाली सीट में बैठ गयी और दूल्हा दुल्हन दोनों पीछे की सीट पर बैठे थे. लेकिन हमें भी सभी साथियों की राय लेना जरूरी था। तो मैंने कहा कि हमें सबके वापस आने तक रुकना चाहिये।शाम तक हमारे साथी वापस लौटे.

अब मैंने उसके पेट को बिना किसी के डर के दबाते हुए उसका सूट ऊपर कर दिया.

जैसे ही मैं आया, वो मुझे देख कर मुझसे लिपट कर रोने लगी क्योंकि उसकी बुआ जी की मृत्यु हुई थी.

थोड़ी देर बाद नितिन ने अपना लौड़ा निकाला, जो कि बहुत कठोर हो चुका था. मैंने कहा- बहू उसका नाम है शालिनी!बहू बोली- वही न जो अपने घर से थोड़ा दूरी पर रहती है?मैंने कहा- हाँ बहू वही!बहू बोली- डैडी जी, वो तो काफी जवान है अभी. मैंने हनी से कहा- तुमने तो मेरा लण्ड चूस लिया, मैं भी तो तुम्हारी चूत चाट लूँ.

उसकी नाइट ड्रेस में उसकी उभरी हुई चूचियां देख कर मेरा मन बहकने लगा. अब यह उसके आगे की कहानी है।पिछली कहानी में जैसा कि मैंने आपको बताया था कि मेरी मां ने अजय अंकल के साथ चुदाई करवा ली थी. कुछ पल मैंने उसके खुले जिस्म का नजारा लिया और अपनी उत्तेजना बढ़ाने लगा.

मैंने फटाफट अपने कपड़े उठाये और रूम से बाहर आने लगा।अच्छा … इतने में ही डर गए? अब नहीं नहाना साथ में?” भाभी ने हंसते हुए कहा।भाभी जी, नहाना तो नहीं … कुछ और हो जाएगा अंदर.

रानी का पानी 1 बार निकल चुका था मेरी चुदाई से …मगर उसने भी मुझे रोका नहीं! और मैं जानवरों की तरह उसे चोद रहा था. मैं चादर के अन्दर से मामी को देख रहा था कि मामी की सांसें तेज़ हो रही थीं. ये सुनकर मैंने ताबड़तोड़ 20-25 धक्के खींच खींच कर लगाए और अपना सारा माल उसकी चूत में ही उगल दिया.

बीच बीच में कुछ पल के लिए अपनी पकड़ को ढीली छोड़ देता था और वो हौले-हौले मेरे लंड को चूसने लग जाती थी. मेरी मामी की उम्र 40 साल से कुछ ज्यादा है और वो दो बच्चों की माँ हैं. वह मुझसे पूछने लगा कि आप कहां जा रहे हो?मैंने उसे बताया कि मैं अपने मामा के यहां दिल्ली जा रहा हूं.

क्योंकि मैं समझता था कि तुझ जैसी जवान और खूबसूरत लड़की मेरे जैसे काले कलूटे के जाल में सीधे-सीधे नहीं आएगी.

कॉलेज के बाहर कुछ लड़के खड़े थे और कॉलेज से निकल रही हर लड़की का एक्सरे अपनी आँखों से कर रहे थे. अगले दिन मामाजी की ऑफिस की छुट्टी थी तो मैं उनके साथ घूमने के लिए चला गया.

या खलीफा के बीएफ मैं उसके चेहरे और उसके होंठों को पागलों की तरह चूमने लगा और वो अपने मुँह से ‘सीई ससीईई सससीईईई. तभी उसने अचानक करोना का नाम लिया और कहा कि मिस करोना इस अभियान के लिए मेरी निजी सचिव होंगी.

या खलीफा के बीएफ उसके दो मिनट के बाद वो उठी और उस नकली लंड को एक कपड़े से बेड की ग्रिल पर बांध दिया. फिर उसने लंड को बाहर निकाल दिया और उसको चाट कर बिल्कुल साफ कर दिया.

कुछ देर ऐसे ही धक्के लगाने से गांड का छेद अब थोड़ा खुल गया था, जबकि दर्द आकांक्षा को अभी भी हो रहा था.

नेपाल की सेक्सी फिल्म वीडियो

कुछ परेशानियां होती हैं, कुछ मजबूरियां होती हैं, जिनसे उसे इस नर्क में जाना पड़ता है. मेरे लंड के टोपे पर जुबान फिराकर और पूरा मुँह में लेकर ऐसे चूस रही थी, जैसे लंड को नहीं, सोफ्टी आइसक्रीम को चूस रही हो. ब्यूटीशियन ने आपा के इशारे पर चुत की दरार खोल कर नसरीन की वर्जिनिटी दिखा दी … जो पूरी तरह से सीलपैक बुर थी.

अब बारी पवन की थी … मैंने उसे रात में सोने के लिए अपने घर बुलाया क्योंकि मेरे घरवाले बाहर किसी की शादी में गए थे और दोपहर से पहले आने वाले नहीं थे. हरप्रीत शर्माते हुए बोली- क्यों झूठ बोल रहे हो?मैंने बोला- सचमुच यार … आज तुम बम लग रही हो. और रानी जैसे ही जाने लगी, मैंने उसका हाथ पकड़ लिया- देख रानी, मेरी बीवी भी मुझे चुदाई नहीं करने देती है.

मैंने उनसे पूछा- रस कहां निकालूं?उन्होंने बोला- गांड में ही निकाल दो.

पापा बोले- बेटी, तुम ठीक हो न … कहीं चोट तो नहीं आई?मुझे उस टाइम कमर में दर्द हो रहा था … तो मैंने कहा कि पापा मेरी कमर में बहुत दर्द हो रहा है, मुझसे हिला भी नहीं जा रहा है … ये मेरी डिलीवरी का टाइम भी नजदीक है, मैं क्या करूं?पापा बोले- तुम घबराओ मत … मैं हूं ना … मेरे पास एक तेल है, जो बहुत ही असरदार है. उसके मुंह से कामुक आवाजें निकलने लगी थी। जो मेरे को और ज्यादा उत्तेजित कर रही थी।लगभग दस मिनट की बहन की चुदाई के बाद मेरा माल निकालने वाला था तो मैंने उसको पूछा- कहाँ निकालूं बहना?तो उसने बोला- भाई साहब, अपनी बहन की चूत के अंदर ही निकाल दो।मैंने उफ़ आ उफ़ ऊ येस आह ओह करते हुए उसकी चूत में अपना पूरा माल छोड़ दिया।उस रात को मैंने दो बार अपनी बहन को चोदा. आप तो जानते ही हो दोस्तो, सामने जब जवान लड़की सो रही हो तो कंट्रोल करना कितना मुश्किल हो जाता है.

बस यही सोचकर मैं अपना लण्ड चूतड़ों के बीच खिसकाते हुए चूत तक पहुंचाने की कोशिश करने लगा. एक रूम में हम सब लोग रहते थे और दूसरे में हम रसोई का काम कर लेते थे. इधर मैंने साड़ी को पेट से खूब नीचे से बांधी थी, जिससे मेरा पूरा पेट दिखे और नाभि सभी को दिखे.

लेकिन निशा ने लंड का रस न केवल पी लिया था, बल्कि वो अब भी लंड को चूसे जा रही थी. और भाभी के बच्चों का भी टाइम हो चला था ट्यूशन से लौट के आने का … तो मैं रुक गया।मैंने उससे कहा- तो फिर अब क्या करूं?तो उसने बोला- तुम रात को अपने घर से बहाना मार के आजाना बोल देना कि आज दोस्त के घर सोऊंगा और मैं रात को बच्चों को जल्दी सुला के भाभी को उनके चाचा के घर भेज दूंगी.

मुझे उम्मीद है आप लोगों को मेरी पुरानी कहानियांमौसी की बेटी की चुत चुदाईकामवाली भाभी की मस्त चुदाईपढ़ने में मजा आया होगा. अपनी गांड को थोड़ा और आगे बढ़ाते ही चिन्ना के अनुभवी लण्ड को करोना बेटी के कुंवारी चूत की झिल्ली महसूस हुई और झिल्ली पर कड़क लण्ड का प्रेशर पड़ते ही अब तक हवस में मस्तायी करोना के माथे पर पसीना सा आ गया. वो मुझे हटाने का ज़रा मरा प्रयास करती रही लेकिन उसका विरोध ज्यादा प्रबल नहीं था.

मेरी गांड फट गई … एक साथ दोनों छेदों में लंड लेने का ये मेरा पहला अवसर था.

मैंने और जोर जोर से उसके चूचे दबाए और ब्लाउज के ऊपर से ही उनको काट लिया. ये कहते हुए उसने मेरी कच्छी नीचे खींच दी और अपना हाथ मेरी चूत पर डाल दिया. उसके दो मिनट के बाद वो उठी और उस नकली लंड को एक कपड़े से बेड की ग्रिल पर बांध दिया.

दो मिनट बाद मैंने भाभी को उठाया और बिस्तर पर लिटा कर उनकी टांगों से उनकी पैंटी को खींच लिया. उसकी चुत को जैसे ही मैंने अपनी उंगलियों से फैलाया, तो चुत के अन्दर का नजारा एकदम से सुर्ख लाल था.

मैं सबकी नजरों से बच कर बाथरूम के पास जाकर खड़ा हो गया।थोड़ी देर बाद सौम्या भी वहां पर आ गई. मैं उसका पानी का चाट चाट के साफ़ कर रहा था और बहू मेरी चूत चटाई का मज़ा ले रही थी. उसने मुझे लेटते देखा, तो वो मेरे खड़े लंड की तरफ लालसा से देखने लगी.

वेलम्मा कॉमिक्स

मैंने उसकी चूत में दो-चार धक्के तेजी के साथ लगाये और जब माल एकदम आने लगा तो मैंने जल्दी से लंड को निकाल कर उसके मुंह में दे दिया.

इस बीच मैंने पूछा- सिम्मी तुम इतनी खूबसूरत हो, तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड नहीं था क्या?सिम्मी ने कहा- नहीं।मैंने पूछा- ये तो हो ही नहीं सकता. कहानी के अगले भाग में मैं आपको बताऊंगा कि कैसे मैं मां के नंगे बदन के मजे लेने में सफल हुआ. इस तरह की बात को बोलकर वह मुझे खुला निमंत्रण दे रही थी।मैं भी उठ कर उसके पास गया और उसके कंधे पर हाथ रख कर बोला- भाभी जी, तुम्हारा भी तो उभार हैं एक बार मुझे भी दिखा दो।अरे नहीं, मैं तो मजाक कर रही थी.

मैं यही सोच कर परेशान रहने लगा था कि यहां तो कुछ देखने का चान्स ही नहीं मिल रहा है. मैंने भाभी की साड़ी के ऊपर से ही उसकी चूत पर हाथ लगा कर कहा- भाभी, ये जो चूत होती है ये चुदने के लिए ही होती है. भाई बहन का चोदा चोदी बीएफउसने मुस्कुराते हुए मुझे देखा और हम दोनों के लिए एक ही थाली में खाना लगा कर रूम में ले आई.

मैंने पीछे से उसकी चूत में लंड डाला और झटके मारने लगा तेज तेज।मैम की गांड एकदम एप्पल के जैसी लग रही थी और फैलकर बहुत बड़ी दिख रही थी. सब मुहल्ले वाले उनकी तरफ वासना वाली नजरों से देखते और उनको पता नहीं क्या क्या बोलने लगे।फिर वो रोज बाहर जाने लगी.

आकांक्षा आज भी सेक्स करते समय ऐसे शर्माती थी, जैसे पहली बार कर मेरे साथ सेक्स रही हो. उधर नसरीन आपा की बात सुन कर अन्दर ही अन्दर शर्माने के साथ डर भी रही थी. मैंने लंड को बाहर निकाल लिया और मैंने लंड की मुठ मारना शुरू कर दिया.

दोस्तो, चूत को जब लंड का स्वाद मिल जाता है तो उसको दर्द में भी मजा आने लगता है. फिर अगले दिन सुबह के 10:00 बजे भाभी के पास में गया और उनसे बोला- आपको कैसा लगा?उन्होंने बताया- मुझे बहुत अच्छा लगा. चार बार लंड अन्दर बाहर करने के बाद मैंने धक्के लगाने शुरू किए और उसने साथ देना.

उसने अपनी आंखें बंद कर ली थीं … इससे मैं भी पूरी मस्ती से बुर का मजा लेने लगा था.

बीच में मुझे दो एक झटके जोर के भी मारने पड़े क्योंकि लंड अंदर जाने से जैसे रुक गया था. मैंने जाने की बात की तो उन्होंने बोला कि मैं तुम्हारे लिए ट्रेन का टिकट बुक करवा देता हूँ, तुम अकेली चली जाओ.

फिर मैंने जोर जोर से उसकी चूचियों को अपने दांतों से काटते हुए उसको दबोच लिया और मेरे लंड से वीर्य की धार निकल कर उसकी चूत में गिरने लगी. रानी भाभी ने भी मुझको उनके स्तनों को घूरते हुए देखा, तो मुझे टोका नहीं बल्कि मुस्कुरा कर पूछा- मोहित कैसे हो?मैं घबराते हुए बोला- ठीक हूँ भाभी. बैंक का कर्मचारी गणित वाला दिमाग बाद में मेरे समझ में यह बात आई कि यह अपने पति के साथ नहीं जाना चाहती.

स्पष्ट था कि वो वासना की आग में जल रही थी पर नारी सुलभ लज्जा उसके और मेरे बीच में झीनी सी दीवार बनी खड़ी थी. और जब दिन में चिन्ना भाषण देता तब बेचारी करोना नीचे खड़ी होकर चिन्ना अंकल के लण्ड की चुसाई करके उसकी सेवा में लगी रहती. उसने अपने दोनों हाथ अपनी दोनों चूचियों पर रख लिये और अपना सिर झुका लिया.

या खलीफा के बीएफ मेरे शौहर को जरा भी अफसोस नहीं था अपने कारस्तानियों पर!जैसे तैसे कार्यक्रम निपटा और हमने वापसी का प्रोग्राम बनाया. मैंने कहा- बहू उसका नाम है शालिनी!बहू बोली- वही न जो अपने घर से थोड़ा दूरी पर रहती है?मैंने कहा- हाँ बहू वही!बहू बोली- डैडी जी, वो तो काफी जवान है अभी.

ओल्ड एंड यंग सेक्स

मैं उसके कपड़े उतारने लगा और भाभी के शरीर से इतनी अच्छी खुशबू आ रही थी. फिर वो बोली- अब चोद भी दे हरामी! मेरी जान निकालने का इरादा है क्या? अब और कितना तड़पायेगा मुझे?मैंने भी उसको और ज्यादा तड़पाना सही न जाना. मेरा मन कर रहा था मैं इन भाभी को घोड़ी बनाकर आज खूब चोदूँ।पर मैं जल्दबाजी करके माहौल को बिगाड़ना नहीं चाहता था.

मैंने चुदाई की पोजीशन सैट करते हुए पूछा- कबसे प्यासी है?वो बोली- दो महीने पहले लिया था. दीदी- ओहह राज … धीरे पेलो … उहह आहह याह उह याह राज … मुझे दर्द हो रहा है … रुक जाओ … प्लीज़ तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है. बीएफ बीएफ सेक्सी एचडी मेंफिर मैंने उसके बालों को छोड़ दिया और उसकी कमर को थाम कर उसके होंठों को जोर से पीना शुरू कर दिया.

जब से मेरा पेट फूला था, मेरी चुत में लंड नहीं गया था, इसलिए बड़ी चुदास लग रही थी.

उसने फोन किया और बोली- आ जा तू मेरे घर … वो लड़का यहीं है … वो तुझे संतुष्ट कर देगा. पापा बोले- बाल हटाने वाली क्रीम कहां है?मैंने कहा- बाथरूम में पड़ी है.

भाभी ने अपनी आंखों में वासना के डोरे तैराए और मुझसे सरगोशी से बोलीं- मोहित, क्या तुम मुझे चोदोगे?मैं उनके होंठों को चूमा और दूध मसल कर बोला- मैं तो कब से लंड खड़ा किए हूँ मेरी जान. ये सुनकर भाभी ने मेरा हाथ पकड़ कर बोला कि नहीं मोहित तुमसे बात करना तो मुझे अच्छा लगता है. अगर तुझे मालिश ही करवानी है तो मैं कर देती हूं चल।मैंने कहा- नहीं अम्मी, आप क्यों तकलीफ करती हो.

भाभी ने अपनी आंखों में वासना के डोरे तैराए और मुझसे सरगोशी से बोलीं- मोहित, क्या तुम मुझे चोदोगे?मैं उनके होंठों को चूमा और दूध मसल कर बोला- मैं तो कब से लंड खड़ा किए हूँ मेरी जान.

लेकिन मुझे रेजर से डर लगता है कि कहीं कट न जाए … इसी वजह से आज तक कभी बाल नहीं काटे हैं. अपनी गांड को थोड़ा और आगे बढ़ाते ही चिन्ना के अनुभवी लण्ड को करोना बेटी के कुंवारी चूत की झिल्ली महसूस हुई और झिल्ली पर कड़क लण्ड का प्रेशर पड़ते ही अब तक हवस में मस्तायी करोना के माथे पर पसीना सा आ गया. मुझे तो मजा आ गया चाचू आपका लंड अपने अंदर लेकर!मैं बोला- मेरी जान, मैं तो कब से तुझे चोदना चाहता था, पर डरता था कि तू बुरा ना माँ जाए।अब हम लोग रोज रात में चुदाई का मजा लेने लगे। वो प्रेगनेट ना हो जाये इसके लिये उसके लिए ‘सहेली’ गोलियाँ लाकर रख ली थी, मैं उसे रोज गोली खिला देता था। अब कोमल मेरे साथ बहुत खुश थी.

इंडियन सेक्सी बीएफ एक्स एक्स एक्समैं सेक्स का अब आदी हो गया था क्योंकि जब मैं घर से बाहर था, तब तो मुझे कभी भी कोई भीगर्लफ्रेंड सेक्स के लिएमिल ही जाती थी. फिर उसने भी मेरे कंधे पर अपना सिर रख दिया। मुझे उसकी जिस्म की खुशबू मदहोश करने लगी थी।अब मैं उसके साथ मस्ती करना चाहता था.

ஒடியா செக்ஸ் வீடியோ

मैंने सारिका की टांगें अपने कंधों से उतारकर उसे घोड़ी बना दिया और अपने लण्ड पर कॉण्डोम चढ़ाकर उसकी चूत में डाल दिया. मैं नया नया जवान हुआ था लेकिन इतना भी ठरकी नहीं बना था कि अपनी मामी की चूत के बारे में ही सोचने लगूं. मैंने भाभी को तफसील से बताया कि बगल में पड़ोस वाली लड़की के साथ मेरा काफी दिनों से रिलेशनशिप था, लेकिन अब नहीं था.

मम्मी का हाथ अपने हाथों में लेकर उसको चूमते हुए मैं बोला- आई लव यू, रेनू. करीब पचास धक्कों के बाद जैसे ही भाभी फिर अपने चूतड़ों को उठाने लगीं, तो मैंने भाभी के दोनों पैर अपने कंधों के ऊपर ले लिए और जोर से उनकी चुत में लंड के झटके लगाना चालू कर दिए. उसके बाद का सीन देख कर मुझे हंसी आ गयी … क्योंकि उसने पैंटी तो निकाली ही नहीं थी.

और इन्हीं से मुझे आज अपना यह नया सेक्स आर्टिकल लिखने का विचार आया और मैं हाज़िर हूँ. मैं जितनी तेजी से धक्का लगाता, स्प्रिंग वाला गद्दा होने के कारण उतनी ही तेज़ी से नीचे से भी धक्का लगता।निधि ने अपने दोनों पैर मेरी कमर में लपेट लिए थे और अपनी बांहों में कसकर मुझे जकड़ लिया था. मैं नजरें झुकाए भाभी के करीब से होते हुए ऊपर दोस्त के रूम पर चला गया.

उसके बदन पर हाथ फेरकर, उसे चूमकर, सहलाकर मैं उसे नार्मल करने की कोशिश कर रहा था. जब मैंने डिस्चार्ज के बाद अपना लण्ड सारिका की चूत से बाहर निकाला तो उठकर मुझसे लिपट गई और बोली- अंकल आपने तो जन्नत दिखा दी.

वह बहुत गर्म हो चुकी थी और जोर जोर से सिसकारियां ले रही थी। वह मेरे बालों पर हाथ भी फेर रही थी और साथ में मेरे होंठों को चूस रही थी.

आंटी की गर्म और गीली चूत में लंड जाने के बाद मैंने तेजी से आंटी की चूत में धक्के लगाने शुरू कर दिये. बीएफ चायनाये आवाज तेज हो पाती, उससे पहले ही मैंने उसके होंठों को अपने होंठों में दबा लिया और हम दोनों मजा लेने लगे. रंडी की सेक्सी चुदाईपर अनुभवी चिन्ना स्थिति को भांपते हुए संभाल ली और ऐसे दिखावा किया जैसे कुछ नहीं हुआ हो. तो यह सुनकर मैंने उसे पलंग पर लिटा दिया और उसकी दोनों टांगों के बीच में आ गया और उसकी गांड के नीचे तकिया रखा जिससे उसकी चूत थोड़ा सा ऊपर को गई।मैं उसकी तरफ झुकता चला गया उसके घुटनों को मोड़कर ऊपर की ओर उठाया और अपने लंड का सुपारा उसकी चूत के छेद पर लगाया। देखा कि उसकी चूत तो किसी भट्टी की तरह गर्म थी.

मैं मजाक में पूछा- वो क्या?शिल्पा- मजाक नहीं अब जल्दी से डाल दो … बहुत मज़ा आ रहा है.

उसकी मां के इलाज मैंने पच्चीस हजार खर्च किये थे और वो सिर्फ तीन सौ रुपए लेकर आई थी. जैसा कि उसने ये फैसला किया है कि शादी होने तक वो मेरे अलावा किसी से नहीं चुदेगी … इसलिए वो मेरे लंड के नीचे ही रहती है. ऊपरी बदन नँगा होते ए सी की ठंडी हवा लगने से करोना कुछ होश में आई और उस पर फिर शर्म हावी होने लगी.

आपकी प्रतिक्रयाओं से ही मुझे पता लगेगा कि मैं ये कहानी लिखने में कितना सफल हो पाया हूं. गांड में बीस पच्चीस ठोकरें खाने के बाद सारिका चिल्लाने लगी- आह अंकल, आह अंकल, और करो अंकल, जोर से करो अंकल, जल्दी करो अंकल, बस करो अंकल, फट गई अंकल, मर गई अंकल. अनुभवी चोदू चिन्ना ने इसी तरह कुछ देर मालिश करवाने के बाद करोना से रुकने के लिए इशारा किया और कहा- बेटी, अब मेरी थकान उतर गई है.

sexy song हिंदी

अचानक कमरे में किसी की आहट होने के कारण हम अलग हुए, मैंने अपने आपको जल्दी से ठीक किया और कमरे से बाहर और उनके घर से अपने घर के लिए रवाना हो गया।जब अपने घर पहुंचा तो रात में मैंने उसे फोन किया. ‘कुणाल कहां खो गया बे!’मैं हड़बड़ा कर चौंका और जैसे ही उधर देखा, तो अब तक वो भाभी भी घर से बाहर आ चुकी थी और मुझे ही घूर रही थी. उसका हाथ नीचे सरक कर मेरे पेट को सहलाता हुआ मेरे पैंट तक पहुंच गया था.

उसकी नर्म और गर्म मुलायम चूत पर लंड का सुपारा फिराते हुए मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मैं मलाई में लंड को चला रहा हूं.

वो बोली- वो कैसे?मैंने कहा- जब लड़के का लंड लड़की की चूत में घुस कर उसकी चूत को चोदता है तो वो औरत बनने लगती है.

बोली- आंह … ऐसा मज़ा तो आज तक मुझे किसी ने नहीं दिया … और चाटो साहेब … मेरी चुत में बड़ी आग लग रही है. बात करते करते मैं घर के पास आ गयी थी और मैंने उसे घर से दूर ही रोक दिया और कहा- घर तक मत चलो, नहीं लोग गलत समझेंगे. बीएफ बहन भाई कामेरे लंड का सुपारा ही अन्दर गया था कि आकांक्षा चीख उठी- आआईईई मां उफ़्फ़ ओहह हह उईईई मार डाला …आकांक्षा छटपटाने लगी.

आज मुझे पहली बार चुदाई में ऐसा महसूस हुआ कि जैसे आज से पहले मैं चुदी ही नहीं हूँ. वो बोली- और जोर से अर्पित … और चाटो …खा जाओ मेरी चूत को … इसकी सारी गर्मी निकल दो. मैंने पहली बार उसे दूध देखे थे … तो मुझ पर कण्ट्रोल नहीं हो रहा था.

वो कहने लगी कि उसको उसकी मशीन ठीक ही चाहिए किसी भी कीमत पर या फिर इसको वापस करवा दीजिये. 2-3 मिनट में ही मेरा लंड अपने भाई की बीवी की चूत में घुसने के लिए तैयार हो गया था.

उसके बाद मैंने उसे अपने ऊपर से हटा कर खुद उसके ऊपर आ गयी और उसके निप्पलों को मैंने चूसना शुरू किया.

मैं अक्सर उसके पास जाता और उसको खड़ा करके उससे देरी से आने का कारण पूछता. मैंने ऐसा ही किया, पापा ने जैसे ही तेल मेरी कमर पर डाला … तो तेल बहुत गर्म लग रहा था … शायद तेल ही ऐसा था. वो हाथों से अपने बूब्स ढकने लगी, तो मैंने अपना लंड उसके फेस पर टच करना शुरू कर दिया और अपने हाथ उसके अधनंगे जिस्म पर फेरने लगा.

इंडियन बीएफ मूवी सेक्सी कुछ मिनट ऐसे ही चोदने के बाद मुझे लगा कि अब मेरा लंड भी अपना सारा लावा छोड़ने की हालत में आ गया है. निशा ने आंख दबाते हुए चुटकी ली- सपने में सिर्फ देख रहे थे या कुछ कर भी रहे थे.

मुझसे अश्लील भाषा में बात करो, मुझे चोदो, मेरी चूत की धज्जियां उड़ा दो, मेरी चूचियां नोचो, काटो. पहले तो वो दर्द में कराह रही थी, पर फिर वो मज़े ले कर अपनी गांड पीछे कर करके चुदवाने लगी. तो अगले दिन क्या हुआ?टेलर मास्टर से मेरी चूत और गांड की चुदाई कहानी के पहले भागलेडीज टेलर का लंड और मेरी चूत गांड-1में आपने पढ़ा कि मोहन नाम के टेलर ने मुझे अपनी दुकान में ही चोद दिया था और अगले दिन मेरे घर आकर मुझे लहंगे चोली की ट्रायल लेने की बात कही थी.

गांव की सेक्सी चाहिए

इसलिए हिचकें नहीं और न ही शरमायें, यह काफी लाभप्रद हो सकता है जो आपको एक अलग ही अहसास की दुनिया में ले जाता है, आपको एक दैवीय ऊर्जा का अहसास करवा सकता है. उसी वक्त अंदर आकर चोद देता मुझे, तेरे अब्बा तो अब चोद नहीं पाते मुझे, तू ही मेरी चूत को लंड का सुख दे अब। चोद बेटा!मैंने अम्मी के कंधों को पकड़ कर उनकी चूत में लंड के धक्के लगाना शुरू कर दिया. जब वहां मैंने किस किया, तो वो एकदम से ‘सीई…’ की आवाज के साथ मचल गयी.

उसी रात मैं अपने रूम में गाने सुन रहा था तो गाना बदलते ही मॉम और पुष्पा आंटी की रिकॉर्डिंग चालू हो गयी. उसने गुस्से में कहा- बहन की चूत, अब देख मैं तेरा क्या हाल करता हूं.

उसने एक हाथ नीचे ले जाकर मेरे मुरझाए हुए लंड को पकड़ लिया और धीरे धीरे से सहलाने लगी मसलने लगी।मेरे लंड ने फिर से धीरे से अंगड़ाई लेनी शुरू कर दी और धीरे-धीरे उसने उसे अपने हाथ में भर लिया और धीरे धीरे मेरे लंड की मुठ मारने लगी.

थोड़ी देर बाद मैंने उंगली बाहर निकाली और दो उंगलियां उसकी गांड में आगे पीछे करने लगा. फिर मैंने थोड़ा जानबूझ कर उसकी बुर पर उंगली से इधर उधर दबा कर खोलकर देखा कि कहीं बाल तो नहीं बचा है न. आपके पैरों के नीचे रहना चाहता हूं हमेशा!भाभी को भी मेरी बात पसंद आई.

उसे मैंने अपनी बहन को दिखाया- देखो, बस ऐसे ही तुम्हारी बुर में भी होता है. पर मैंने थोड़ी मेहनत करके दुबारा से लंड थोड़ा सा अन्दर घुसेड़ा, तो प्रीति की चीख निकल गयी. दस-पंद्रह मिनट में ही मैंने चाची की चूत को रगड़ कर उनकी चूत का पानी निकाल दिया.

मैं बोला- ऐसा करो, तुम लोवर निकाल कर स्कर्ट पहन लो … तब तक मैं पानी गर्म कर लेता हूं.

या खलीफा के बीएफ: इसके साथ ही मध्य पूर्व की शादियों में इस तरह का चलन काफी आम रहा है. मुझे यह अजीब लग रहा था कि उन्होंने अपनी कोई कपड़े नहीं उतारे थे और मैं पूर्णतया निर्वस्त्र हो चुकी थी.

आपको यह कहानी कैसी लगी मुझे[emailprotected]पर मेल करके जरूर बतायें. काजी जी ने दोनों के निकाह की बात मान कर दस दिन बाद शादी की तारीख दे दी. उसके बाद चिन्ना द्वारा ली गई हर परीक्षा को अव्वल नंबरों से पास किया और खुद भी एक पारंगत सेक्स गुरु बन गई, जो अब किसी भी जवान होते लड़के को कोई भी पाठ अच्छे से पढ़ा और समझा सकती थी।[emailprotected].

उसके बाद उन्होंने खाने का इंतजाम किया कुछ देर बाद हम लोग थोड़ी बातचीत के साथ खाना खाने लगे.

मैं दीदी की जांघ पर हाथ फेर रहा था और दीदी मेरे लंड को ऊपर से महसूस कर रही थी. उसने कहा- कुछ दिनों में वो लड़की तुम्हें खुद संपर्क करेगी।दिल है … कहाँ मानता है. मैं अभी जब भी लखनऊ जाता हूं, तो रूबी के यहां रुक कर सारी रात उसकी चूत को शांत करता हूं.