बंगाली बीएफ देसी

छवि स्रोत,देसी भाभी चुदाई वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

नया सेक्स व्हिडिओ: बंगाली बीएफ देसी, मस्त मांसल चूचियों के बीच निप्पल प्रत्याशा में खड़े अपने मर्दन का इंतजार कर रहे थे.

एक्स एक्स एक्स इंडियन गर्ल

वो चिल्ला चिल्ला कर अपने चूतड़ उछाल उछाल कर मेरे लंड पर कूद रही थी. सेक्सी मूवी नंगी पिक्चरकुछ देर तक भाभी ने मेरी मर्दानगी को निहारा और अपने गालों पर हाथ रख कर हैरत जताई.

मैं समझ गया कि मामा अपना लंड मामी के मुँह में दे चुके हैं क्योंकि उनकी आवाजें थोड़ी कम हो गई थीं. हॉट एक्स एक्स एक्स सेक्सबच्चे को गिराने के बाद मेरी आस कमजोर हो गई थी उधर मोनिका खुद शारीरिक रूप से बहुत कमजोर हो गई थी.

अभी लीजिए…” यह कहते हुए जीजाजी ने बुआ को बेड पर झुका दिया और उनका पेटीकोट पीछे से उठाकर अपनी लुंगी खोलकर फनफनाते मूसल को उनकी पनियायी चूत में झटके से पेल दिया.बंगाली बीएफ देसी: अब तो विजय भी मेरे मुंह को चोदने लगा था और उसका पूरा लंड मेरे मुँह में गले में छूने लगा था.

’फिर उसने पूछा- तो तुमसे ये पहली बार होगा?मैंने कहा- नहीं प्रोफेशन में पहली बार है.सुमन- दीदी, आपने कैसे उनकी लाइफ बर्बाद कर दी और आज मेरी बारी आई तो आपकी अंतरात्मा जाग गई ऐसे कैसे?टीना- नहीं सुमन, उस टाइम मैंने बस उन लड़कियों को संजय के करीब किया था.

सेक्सी वीडियो भाभी चुदाई - बंगाली बीएफ देसी

वो मेरे पास आई और लंड को हाथ से पकड़ कर मेरे होंठों में होंठ डाल दिए.करीब आधे घंटे तक बाथरूम में सुनामी के बाद मैं मामी की चिकनी गोरी गांड में ही झड़ गया.

मैं उठी तो मेरी गांड पर मैंने हाथ फेरा, वो एकदम चिकनी और खुली सी लगी. बंगाली बीएफ देसी सुमन- मैंने तो ऐसा सोचा भी नहीं मगर अपने ये क्यों बोला पापा?पापा- व्व…वो ऐसे ही मुँह से निकल गया.

मैंने उससे कहा- जान, क्या तुम मुझसे प्यार नहीं करती?नेहा बोली- करती हूँ, अपनी जान से भी ज्यादा.

बंगाली बीएफ देसी?

उसकी चूचियां काफी मुलायम थी, मुझे बहुत मजा आ रहा था और उसे भी जरूर मजा आ रहा होगा. फिर मैं चुपके से पैर दबा कर अपने बिस्तर पर आने लगी कि पैर से एक बर्तन से टकरा गया। मामा चौंक कर देखने लगे, मामी नजाकत को संभालते हुए बोली- लेट जाईए, बिल्ली होगी।मैं कांप उठी थी।सुबह मामी मुझसे बोली- तो मेरी बिल्ली रानी, रात में मेरा दिया तोहफा तुम्हारे कुछ काम आया?मैंने भी मामी का आभार माना और गले में लिपटते हुए एक गहरा चुम्बन प्रदान कर दिया. इसकी खूबी ये थी कि इसके असर से उस व्यक्ति को ये नहीं महसूस होता कि उसे दवा देकर उत्तेजित किया गया है.

मैंने मौका देख कर बाल ठीक करते टाइम उस की चूचियों को टच कर लिया, वो मेरे तरफ़ देखती हुई हंस दी और बोली- तुम अपनी बीवी को बहुत खुश रखोगे क्योंकि तुम रसोई में बहुत अच्छी तरह से हेल्प करते हो. तुमने तो कहा था कि वो कुछ दिन बाद आएँगे?मोना- अरे मैंने बताया तो था कि वो बहुत ज्ञानी हैं. अब आगे:मौके का फायदा उठा के ईशा ऑफिस में आ गयी, ऑफिस में फैली वीर्य की खूशबू ईशा के नथुनों में घुस गयी.

मैंने सब कुछ देखा, तुम अपने भाई से ज़बरदस्ती कर रही हो?दीदी ने अभी भी मेरा लंड हाथ में पकड़ रखा था. फिर ससुर जी कमरे में आए और बोले- पहले मैं तुमसे शादी करूँगा फिर सुहागरात मनाऊंगा. अब धीरे धीरे मेरी ममेरी बहन होश में आने लगी और मेरी पकड़ से निकलने की बेकार कोशिश करने लगी.

ये देख कर उस्मान से रुका नहीं गया और वो माया का चेहरा पकड़ कर अपने लंड के पास ले आया. मेरी चोदन कहानी के पिछले भागविनीता का मुख और गांड का चोदन-1में आपने पढ़ा कि कैसे मैंने विनीता का मुख चोदन किया.

मैंने आंटी को गांड मरवाने के लिए बोला तो उन्होंने ना बोल दिया, पर मेरे ज़ोर देने पर मान गईं.

वीरू- यार तू अपना बदला बाद में लेते रहना, पहले हमको मज़ा करवा देना बस.

मैं तेरी गांड को चाट कर रेडी करता हूँ और तू मेरे लंड को जल्दी से चूस कर तैयार कर दे. खुले बिखरे लट जो 36-32-36 चूतड़ों तक लहराते हुए और उन्नत पर्वत की चोटी की तरह दोनों चुचे मूक आमंत्रित करते हुए उस पर गहरी नाभि और मोटी मोटी रानें झीनी नाईटी में कुछ अलग समां बांध रही थीं. तीन चार बार आगे पीछे होने के बाद मेरे लंड ने चूत के छेद को ढूंढ लिया और उसमें घुस गया.

फिर मैंने उनसे पूछा- अगर मैं आपके साथ सेक्स ना करता या किसी को बता देता कि आप मुझसे चुदना चाहती हो तो क्या होता?वो बोलीं- मुझे अपने भाई पर इतना तो विश्वास है. 30 बज गया था; मैंने भाभी को गद्दे पर लिटाया और अपनी मन पसन्द पोजीशन- भाभी की दोनों टांगों को अपने कंधे पर रख कर जोर जोर से चोदना शुरू किया. मैंने उसको मम्मों की फोटो माँगी तो उसने कहा- जब मिलोगे खुद खोल के देख लेना.

एक दिन वैशाली ने फ़ोन पर बताया कि आज सायम् को उन्होंने शिवानी और उस के हस्बैंड को खाने पर बुलाया है, मैंने मेरे पति से बात कर ली है कि हम लोग आज राज को भी बुला लेते हैं.

अब वो उठे और मुझे नीचे लेटा कर मेरे ऊपर आ गये और मेरी चूत पर अपना लंड टिकाकर रगड़ना शुरू कर दिया।मैं भी कामुकता के आवेश में हो रही थी, मैंने उनके चूतड़ पकड़ कर अपनी तरफ खींच लिए तो उनका लंड मेरी गीली चूत में समा गया और जीजू झटके मारने लगे. और चोदेगा कमीने??मैंने भी कहा- जान, मेरा लंड भी अभी कड़क है, जी भर के चुदना. ऐसा करते वक्त वो अपनी आँखें बंद कर रही थी और अपने होंठों को अपने दाँतों से दबाती थी.

भीड़ की वजह से पसीना चू रहा था और वो कॉटन की साड़ी पसीने से कमर और पेट पे चिपकी थी. एक हाथ से वो मेरे बदन को सहला रही थी और दूसरे हाथ से मेरे लंड को दबा रही थी. मैंने देवर के लंड को अपने मुँह में ले लिया और तेजी के साथ चूसने लगी.

मैंने उसकी इस हालत का थोड़ी देर तक मजा लिया और फिर अचानक उसे पूरी तरह अपनी पकड़ से मुक्त कर दिया और उसे लिटा दिया.

कुछ देर तक लिपकिस करने के बाद चाचाजी ने मेरे कान के पास आके धीरे से कहा- शाहीन मेरी जान अब तुम्हारी बारी है. पूरा लंड मेरी चुत में घुसाने के बाद उसने एक ही झटके से अपना पूरा का पूरा लंड बाहर खींच लिया.

बंगाली बीएफ देसी परन्तु शादी का आखिरी दिन था तो जाहिर सी बात है कि घर में मेहमानों की भरमार थी. पहले स्कूल में मेरा फिगर ऐसा नहीं था, पर हाईस्कूल में गई, तब मेरी सब सहेलियों की संगत के कारण ऐसी हो गई.

बंगाली बीएफ देसी कुछ ने तो सीटियां मारी।हम आगे बढ़ी तो एक बेहद सुन्दर लड़की ने आकर मुझे आगोश में लिया, मेरे होंठों को किस करते हुए कहा- ओह बेबी… आज तो तुम्हें भगवान् ही बचा सकता है!मैंने और रिया ने एक दूसरी की तरफ देखा, पता नहीं क्यों मगर हम एक दूसरी की तरफ देखकर हंस पड़ी और फिर उस जादुयी दुनिया में खो गयी. तभी शमशेर ने जोर जोर से ठाप लगाई और 25-30 कस के ठापें मारीं और शांत हो गया.

फिर गांड का बाजा बजाइए, आपको मेरे शरीर से जो भी आनन्द चाहिए, वो लेने के लिए आपको खुली छूट है.

एक्सएक्सएक्स वीडियोस

सन 2015 में दीपावली से 2 दिन पहले यानि के धनतेरस के दिन मैं अपने घर के मेन गेट को पानी से धोकर साफ़ रहा था. जब ट्रेन चल दी तो उसने डोर लॉक कर दिया और अपनी बर्थ पर जाकर लेट गया. मैं मन ही मन खुश हो रहा था कि भगवान ने तो लाटरी निकाल दी।हमने 8 बजे खाना खाया और शेखर भैया 8.

अनिता- हा हा हा हा आपका तो आज पोपट बन गया हा हा हा… आपका केएलपीडी हो गया है. मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और पूरी ताकत से अपना 8 इंच का लंड चाची की गांड में पेल रहा था. जब वो दोनों आपस में बातें कर रही थीं तो नई वाली लड़की कभी कभी इधर मेरी तरफ भी देख लेती थी.

करीब पन्द्रह मिनट के बाद चाचाजी का कन्ट्रोल छूटा और चाचाजी ने मेरे मुँह में गर्म गर्म लावा छोड़ दिया.

मैं और अदिति भी किसी प्रेमी युगल की तरह एक दूसरे का हाथ पकड़े हुए दुकानों के नज़ारे देखते जा रहे थे. दोस्तो, मैं दिनेश, मेरी पिछली कहानीमेरी मामी के साथ सहेलियों का लेस्बियन सेक्समेरी साली ममता की सहेली सुधा की थी, भूल गए तो बता दूँ कि मेरी साली ममता बड़ी नखरे वाली थी, उसे मैंने बड़ी मुश्किल से पटा कर चोदा था. मैं- क्यों? क्या हो गया?आयशा मुस्कुराते हुए बोली- वो दूध भर गया है ना.

जब कोई लड़का उस पर फिकरा कसता या भीड़ में कोई उसका बदन छूता तो उसे अच्छा लगता था. पूरी रात में गुलशन जी ने 5 बार अपने लंड का रस सुमन की चुत में भरा और सुमन का तो पता नहीं कितनी बार पानी निकला होगा. इस बार सुपारा चुत को फैलाता हुआ अन्दर घुस गया और उसके साथ ही सुमन को असीम दर्द हुआ मगर उसने मुँह से एक आवाज़ भी नहीं निकाली, बस दाँत भींचे पड़ी रही.

मुझे लग रहा था कि किसी ने गरम लोहे को भाला मेरी चुत में घुसेड़ दिया हो. अब हम दोनों को अपने कपड़े उतारने में एक मिनट से भी कम का समय लगा क्योंकि हमारी चुदास बढ़ चुकी थी.

मैं बहूरानी का बदन चूमते हुए नीचे की तरफ उतरा, होंठ चूसने के बाद गला दोनों दूध पेट नाभि और जांघें; इन सबको चूमते चाटते मैं उसकी गुलाबी जांघों पर ठहर गया. मैं समझ गया कि चाची को मेरा लंड पसंद आ गया है इसीलिए वो मेरे साथ इतना खुल रही हैं. मैंने भाभी के होंठों पे एक किस किया और अपने पूरे लंड को उनके भोसड़े के अन्दर जड़ तक डाल दिया.

यही सोचते हुए मैंने भी अपना गिलास खाली किया और विनीता से पूछा- मजा आया कि नहीं?वो ‘हाँ’ कहते हुए झेंप रही थी.

शादी के बाद राज ने मुझसे नौकरी छोड़ देने को कहा तो मैंने नौकरी छोड़ दी. जल्दी से मेरे ऊपर आकर मेरे मम्मे कसके मसल और पूरे बदन को चूसना शुरू कर दे. मैंने दोनों चूतड़ों पे हल्के से दांत से काट लिया, तो उस की हल्की से सिसकी निकल गई.

उसने अपनी ब्रा अपनी बांहों से उतार कर रख दी और मुझसे बोली- यार हुक खोल कर पैन्ट उतार… मुझे तेरा लंड देखना है. पहली बार के दूध का स्वाद बड़ा अजीब लगा लेकिन इस वक़्त हवस हम सभी पर हावी थी, तो मैं जोश जोश में उनकी चुचियों को निचोड़ने लगा.

इसके बाद मैंने भी गौर किया तो पाया कि अर्चना अक्सर मुझे लगातार देखती रहती थी. वही रंग रूप, वही तने हुए मम्में, केले के तने जैसी चिकनी जांघे और उनके बीच काली झांटों में छुपी उसकी गुलाबी चूत. एक खाली हरा स्थान देख कर उसने अपनी शर्ट और स्कर्ट उतार दी और बड़े से पत्थर पर सहारा ले कर खड़ी हो गई.

एक्स एक्स एक्स ब्लू मूवीस

यश ने कहा- तुम दोनों को चोदने से पहले मैं नंगा डांस करना चाहता हूँ.

मैंने देखा कि इस दौरान साली का एक हाथ पैंटी के अन्दर चला जाया करता था. रीना ने दर्द के मारे चीख मारी, पर दीपक उसके मुँह को होंठों में दबा लिया और रीना ने दर्द के मारे तड़फ कर तकिया, बिस्तर की चादर सब नोंच डाली. पिंकी ने रेखा को उस तरफ देखते हुए देखा तो वो भी मुड़ कर देखने लगी और फिर मुस्कुरा कर रेखा से बोली- क्यों रेखा? क्या देख रही हो?कुछ नहीं.

शाम को जब चाचा आए तो मैं थोड़ा बाहर की तरफ जाने चला गया और फिर उनकी बातें सुनने लगा. मैंने बाद में उनसे ये बात पूछी तो उन्होंने मुझे बताया कि उनकी एक आदमी से सैटिंग थी. ऑंटी सेक्सी ऑंटीबस सबके मेल इसी तरह से आते रहे थे कि मुठ मार लो … कोई चुत मिलने वाली नहीं है और अगर ज्यादा चुदास चढ़ी हो, तो तो किसी रंडी के साथ चुदाई कर लो.

वैसे तो सर्दी का महीना था, फिर भी मैंने दोनों से प्रकाश कुल्फी खाने के लिए कहा, क्योंकि सर्दी में कुल्फी या आइसक्रीम खाने का मजा ही कुछ और है. अब तो मुझे अपने आपको रोकना बहुत ही मुश्किल हो गया था क्योंकि किसी भी आदमी का लंड जब कोई औरत अपने नरम और मुलायम होंठों से चूसती है तो कितना मजा आता है.

फिर वो थोड़ी देर रुका और धीमे धीमे धक्के लगाना शुरू किया और 5 मिनट बाद उसके धक्कों ने शताब्दी की तरह स्पीड पकड़ ली और वो मुझे तेज़ी से चोदने लगा।करीब 10 मिनट बाद फिर से मेरा बदन ऐंठने लगा और मैं फिर से झड़ गई लेकिन वो फिर भी मुझे लगातार पेलता रहा. ये कह कर उसने मेरे होंठों पर एक किस किया और उठ कर कपड़े पहनने लगी क्योंकि अब दीदी और उनकी सास के आने का टाइम हो चला था. यह कहते ही मैं फिर उसकी चुचियों पे टूट पड़ा और दोनों ही अमृत-कलशों को पूरा निचोड़ डाला.

मैंने फिर कहा- अगर तुम्हारे दिल में मेरी जगह है, अगर तुम भी मुझसे प्यार करती हो, तो तुम्हें आना ही होगा. तभी सलमा उस अजनबी के बदन से अलग हुई और वे दोनों हम लोगों के पास आ गए. चूंकि उसकी स्कर्ट काफी कसी हुई थी जिस वजह से उसकी गांड काफी तनी सी दिख रही थी.

अब तो मुझसे ज्यादा मेरी साली चुत की आग शांत करवाने का मौके का इंतजार करती थी.

इसी के साथ आयशा निढाल होकर लेट गई और मैं भी उस के नंगे बदन के ऊपर लेट गया. करीब एक महीने के बाद दिसंबर में क्रिसमस की छुट्टियों में 7 दिन के लिए हमारा शिमला कुल्लू मनाली जाने का प्रोग्राम बना.

लौड़े को देखकर शिवानी की आँखें फटी की फटी रह गई, एक दम बोली- ओह माई गॉड, इतना बड़ा!उसने लपक कर लौड़े को दोनों हाथों में पकड़ लिया और बोली- मेरे हस्बैंड का लंड तो उस के टट्टों में ही घुसा रहता है, जब खड़ा होता है तो दो ढाई इंच का होता है. मैं भी मिलने की बहुत जल्दी में था क्योंकि एक एक दिन बड़ी बेसब्री से गुजार रहा था और जो लत मामी ने लगाई थी, उसकी खुराक भी उनके पास ही थी. उसने मेरी पैन्ट के साथ अंडरवियर भी खींचते हुए निकाल दिया और मेरे लंड को हाथ में ले लिया.

मैं जुबान की नोक से उस के दाने को सहलाता रहा, फिर जुबान उसकी चूत में घुसेड़ने लगा. फिर उन्होंने काफी कोशिश की लेकिन मम्मी ने मुँह में नहीं लिया तो शमशेर बोला- चलो साली की चुदाई करते हैं. मैंने चुपके से एक वियाग्रा की टेबलेट खाई और मैं भी उस के पीछे बेड रूम में चल पड़ा.

बंगाली बीएफ देसी मेरे ऐसा करते ही बहूरानी नीचे घुटनों के बल बैठ गई और मेरा लंड अपने मुंह में भर लिया, लंड को कुछ देर चाटने चूसने के बाद वो नंगे फर्श पर ही लेट गई और मेरा हाथ पकड़ कर अपने ऊपर खींच लिया, फिर अपने दोनों पैर ऊपर उठा कर मेरी कमर में लपेट कर कस दिए और मेरे कंधे में जोर से काट लिया. ”आपको पता था मैं रोज आपके मम्मे निकाल के स्वाति को दूध पिलाता हूँ, फिर भी आपने कभी बोला नहीं?”तुम स्वाति को दूध पिलाते थे, मुझे अच्छा लगता था इसलिए कभी कुछ नहीं बोला.

xxx मुसलमान

मैं नीचे बैठी और जीजू की अंडरवियर को खींच कर उतार दिया और उनके खड़े लंड को मुंह में ले कर चूसने लगी. ”कई बार मन ही मन चाहा भी कि आप आओ और मुझ में जबरदस्ती समा जाओ; मैं ना ना करती रहूँ लेकिन आप मुझे रगड़ रगड़ के चोद डालो अपने नीचे दबा के. जैसे ही मेरे हाथ मम्मों तक पहुँचे, उसने अपने दोनों हाथों से मेरे हाथ पकड़ लिए.

नीतू चाय बनाने चली गई और मोना मन ही मन खुश होने लगी कि उसको अब ज़्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ेगी. बर्तनों के खनकने की आवाज से भाभी उठ गई और अंदर के बर्तन न देख कर समझ गई कि चंदा ने सब कुछ देख लिया है। खैर, भाभी ने मेरे ऊपर चादर डाली और बाहर गई। फिर वे चंदा से बात करके आई। औरतें आपस में खुली होती हैं. देसी सुहागरात चुदाई वीडियोअपने रसीले मम्मों को दबवाते ही वो एकदम से गर्म हो गई और इधर मेरा लंड भी उफान पर आ गया था.

अरे हुक टूटा तो क्या हुआ? जब यहाँ से जायेगी तो जान तू क्या सीने पे पल्लू नहीं लेगी? उम्म बड़ा गर्म माल है तू.

मेरी पत्नी इस स्थिति में थी कि उसके बूब्स वो लड़का बहुत साफ़ देख पा रहा होगा. कुछ पल बाद मेरी चूची दबाते दबाते जीजू ने अपना हाथ मेरी मैक्सी के अन्दर डाल दिया.

इसी तरह अजय ने फ्लॉरा की चुत पर क्रीम लगाई फिर उंगली से क्रीम को चाट लिया. फिर जीजू ने कहा- देखो न रोमा, मौसम कितना सुहाना हो रहा है, बारिश के भी हल्के हल्के छींटे आ रहे हैं क्या इस मौसम में तुम्हारा चुदाई करने का मन नहीं कर रहा?मैंने कहा- जीजू, कर तो बहुत रहा है पर करेंगे कहाँ?तो जीजू ने कहा- यहीं छत पर मैं तेरी चूत चोदूंगा… रोमा आ जाओ न मेरी बाँहों में!कह कर जीजू ने मुझे अपनी बाँहों में ले लिया और मुझे चूमने लगे. आज फीलिंग्स कुछ अलग ही थी क्योंकि आज हमारा ऑफिशियल हनीमून था, जिसका इंतज़ार शायद हम दोनों को ही बेसब्री से था.

मेरी ट्रू सेक्स स्टोरी के पहले भागक्सक्सक्स फिल्म दिखा कर साली को मनाया चुदाई के लिये-1में अभी तक आपने पढ़ा कि कैसे अपनी गुस्सैल साली को क्सक्सक्स ब्लू फिल्म दिखा कर चोदा था.

और हम दोनों ने ही नोटिस कर लिया था कि वो मेरी वाइफ पे कुछ ज्यादा ही फ़िदा हो रहा था, हर समय उसे देखना, कुछ मंगवाने के लिए पूछना, उसके आस पास रहना!और मेरी वाइफ जैसा कि आप लोग जानते हो, उसे पराये मर्द से फ़्लर्ट करने में बहुत ही मजा आता है, वो उसके बहुत मजे भी लेती थी, और उसका फायदा भी लेने लगी, वो घूमने के दौरान वाइफ का सामान उठा लेता था, बेबी को गोदी में ले लेता था. अब मैंने उन दोनों को बेड पर लिटा कर उनकी सलवार और कुर्तियाँ निकाल दीं. मैंने भी मजाक में आंटी से कहा- आपके कितने ब्वॉयफ्रेंड हैं?तो वो बोलीं- अब औरत हो गई हूँ.

ब्लू ब्लू सेक्सी वीडियोउसने फट से वो मुद्रा बना ली, फिर मैंने अपने लंड को रेखा की कमसिन चूत में घुसा दिया. वो अपनी जीभ से नाभि के चारों तरफ चाटने लगा और धीरे धीरे अपनी जीभ को लड़की की बुर की फांकों में डाल दिया.

बीपी सेक्सी व्हिडिओ बीपी सेक्सी व्हिडिओ

मैं तीन दिनों के अनुभव को लेकर एक रफ्तार में चुदाई करता रहा और अर्चना को ऐंठ ऐंठ कर गरम कामरस छूटने को महसूस करता रहा था. एक दिन मम्मी ने मुझे एक पैकिट दिया और कहा कि बेटा इसे अपने कचरे के ढेर में फेंक आओ, तो मैं उसे लेकर गया लेकिन मेरा शैतान दिमाग कुछ और ही कह रहा था तो मैंने उसे खेला तो देखा कि उसमें कुछ बालों का गुच्छा सा था जो कम से कम मम्मी के सिर के तो नहीं थे. कल जहां चाचा ने कुछ सामान रखा था, मैं वहां गया और देखने लगा कि चाचा ने वहां पर क्या रखा था.

मेरे लंड के मुँह से चिकना चिकना लेसदार पानी निकाल कर रेखा के पेट पर लग रहा था. पप्पू ने हाथ फिर रूपा की कमर में डाल के उसे अपने से सटते हुए कहा- रूपा जैसा अच्छा तेरा नाम है वैसा अच्छा तेरा रूप है. मैंने फिर से चूत को अपने हाथों से खोला और चूत के भीतर का जायजा लिया.

हाँ बिल्कुल नहीं थी, क्योंकि मेरी जिन्दगी की नाव में छेद करने का साहस मुझ में नहीं था. लेकिन कुछ देर बाद दीदी की गांड से मेरे लंड की दोस्ती हो गई तो उन्होंने अपनी गांड मटकाना शुरू कर दी. पप्पू तू पहला मर्द नहीं जो मेरा कसा जिस्म देख के मेरे पीछे पड़ा, पर पिछले कई सालों में तू वो पहला मर्द है जिसे मैंने पूरी लिफ्ट दी है.

क्या हुआ माया हम नया मकान बनाएं?मुझे काफी अच्छा फील हुआ, खुद पर गर्व भी हुआ. करीब बीस मिनट की धकापेल चुदाई के बाद मैं अपनी बहन की नरम गांड में झड़ गया.

उस दिन तो तो मैं डिनर के बाद वापस लखनऊ आ गया लेकिन अब अपने लंड को नियंत्रण में रखना मेरे लिए संभव में नहीं था लिहाजा मैंने लखनऊ की अपनी सहेली पर जाते ही चढ़ बैठा और भरपूर ठुकाई की.

उसी समय मामी ने भी अपना रस छोड़ दिया।इधर मैंने भी अपने रस से नकली लंड को भिगो दिया. बिहार चुदाईपूजा- आह… बस भी करो मामू… आह… अब थोड़ा पैरों को आराम दे दो आह…संजय ने चुत से लौड़ा निकाल कर पूजा को पकड़ कर बैठा दिया और लौड़ा उसके मुँह में घुसा दिया. ओपन देहाती सेक्सी वीडियोसाहिल- यार संजय, ये बदले वाली बात टीना को पता लगेगी तो क्या होगा?संजय- उस रंडी से मुझे कैसा डर? वो तो हमारे लंड के लिए बनी है. उनको तो बस सुमन की गांड का गुलाबी छेद दिख रहा था और उनकी नियत उस पर पूरी तरह बिगड़ चुकी थी.

दोस्तो! हर आदमी जब भी अपना लंड किसी औरत की चूत में डालता है तो वह लंड को अपने हाथ से पकड़ कर ही डालता है, परंतु घोड़ा या दूसरे जानवर सीधा मादा के ऊपर चढ़ कर कई बार छेद पर आगे पीछे ट्राई करके डालते हैं.

जब थोड़ी देर बाद हम दोनों के शरीर में जान वापस आई तो मैंने उसे किस किया और बोला- जानेमन. तभी एकदम से दीपक ने खड़े होकर अपना काला लंड हिलाया और मामी के मुँह की तरफ लपका. मैं उससे बोला कि बोलिए क्या लोगी?तो उसने कहा- कुछ नहीं!मैंने कहा- ये भी क्या बात हुई.

मैं बोली- अच्छा तो तुम्हारा ध्यान तुम्हारी बहन की गांड पर भी है क्या?सागर बोला- क्या करूँ डियर कितनी खूबसूरत गांड है मेरी बहन की. मैं ऐसे मौके पर अगर कोई डोर पे होता है तो ज़्यादातर खिड़की में से ही बात करता हूँ. उन्होंने अपना पेटीकोट अपने दाँतों में दबा के अपना ब्लाउज निकाला और फिर जैसे ही सूखा हुआ दूसरा पेटीकोट उठाने के लिए झुकीं, तो उनके दाँतों में दबा हुआ पेटीकोट दाँतों से निकल के नीचे गिर गया और आंटी पूरी तरह से नंगी मेरे सामने खड़ी थीं.

ब्लू सेक्स वीडियो हिंदी में

वो सब जाने दो, देखो अब टीवी ऑन करो नहीं तो मैं आप से नहीं बोलूँगी और रूम में चली जाऊँगी अंकल. मैंने जैसे तैसे करके चाचाजी को अपने आप से अलग किया और धीरे से कान में कहा- मेरी जान सब्र करो. इस चुदाई की कहानी में अब तक आपने पढ़ा था कि मामी की चुत चुदाई के बाद मैंने मामी की बेटी अर्चना को उसके कमरे में फिर से चोदा था.

वो बोली- क्यों नहीं मेरे चोदू, पर आज मैं तुझे चोदूंगी, जबरदस्ती चोदन कर दूँगी तेरा.

कुछ देर में मैं झड़ चुकी थी मगर वो दोनों जालिम मेरा भाई और मेरा यार लगे हुए थे धक्के पर धक्के मारने में!वो दोनों भी झड़ने वाले थे, मैंने कहा- कमीनो, तुम दोनों अपने लंड का माल मेरी चूत में ही छोड़ देना… मुझे तुम दोनों के बच्चे की माँ बनना है.

अगले दिन सुबह मैं जब बरामदे से होते हुए दूसरे कमरे में जा रहा था कि अचानक तभी अर्चना ने मुझे पीछे से पकड़ लिया, अपने सीने से चिपका कर मुझे खींचते हुए चूमा और जल्दी से दूसरे कमरे में चली गईं. मैंने कहा- भाभी जी की क्या लालसा है?उसने लिखा कि उसे किसी कुंवारे लड़के के साथ चुदाई करना है. एक्स एक्स एक्स एक्स चुदाईनहीं पापा जी, स्त्री की उम्र उसकी चूत की बनावट और ढीलेपन के अनुसार ही इसका प्रयोग कुछ फेर बदल के साथ किया जाता है.

मेरी कामुकता इतनी बढ़ा गई थी कि मैं वहीं से ऑटो पकड़ कर उसी समय अंशुल गोयल के घर आ गई तो मुझे पूछने पर पता चला कि वो एक जिगोलो है और इस समय किसी क्लाइंट को अटेंड करने गया हुआ है. आप मेरी पुत्रवधू के साथ सेक्स की मेरी रियल सेक्स स्टोरी पढ़ रहे हैं. अब तुम और गोपाल यहाँ लेट कर कामक्रीड़ा करो और मैं इस कन्या को आशीर्वाद देता हूँ.

’उसे बेहद दर्द हो रहा था, मेरा 7 इंच का पूरा लौड़ा उसकी फुद्दी के अन्दर आतंक मचा रहा था. अब मेरे सामने थे-मेरी चूत की भूख और भाई का लंडमुझे भाई का लंड लेना था.

फिर मैंने अपनी सहमति दी तो उसने मेरी आँख बंद कर दी और फिर कार स्टार्ट करके आगे चल दी.

फ्लॉरा के पास मोबाइल था तो उसने घर पे बता दिया कि शाम तक आएगी, तब तक सुमन ने किचन से कुछ खाना गर्म किया जो रात का बचा था. उसके बाद मैंने धीरे से अपना लंड उसकी गांड के छेद के ऊपर रखा और हल्का सा झटका लगया तो पहले तो लौड़ा फिसल गिया. मैं धीरे धीरे स्कूटर चला रहा था, मेरी साली ममता पीछे काफी सतर्क हो कर बैठी थी.

ચૌદા ચૌદી अचानक उसने मेरा सर धकेल कर कहा- जानू, आज मैं कुछ अलग कुछ भद्दा सुनना चाहती हूँ. मैंने अन्तर्वासना की कई हिंदी में देसी चुदाई की कहानी में ये सब पढ़ा था.

इधर मामी फिर से दोनों टांगें ऊपर कर तैयार थीं, मैंने अर्चना की चूत से गीला लंड खींचा और मामी की चुत में पेल दिया और जोर जोर से चोदने लगा. यूं ही घूमते घामते, खरीदारी करते करते सवा नौ बज गए; अब भूख भी जोर से लगने लगी थी अतः बहूरानी की पसन्द के रेस्तरां में हमने बढ़िया डिनर लिया. मुझे ऐसा लगा जैसे मेरा लंड किसी ने अपनी मुट्ठी में पकड़ कर ताकत से दबा रखा हो.

इंडियन कुपल चुदाई

मैं भाभी की चूत में लण्ड डाले डाले नीचे लेट गया और उनकी पोजीशन ऊपर हो गई। काफी देर तक वे मेरा लण्ड चूत में लिए लिए मेरे ऊपर लेटी रही और हल्की फ़ुल्की बातें करती रही। उन्होंने कहा- मुझे बाथरूम जाना है।मैंने भाभी को छोड़ दिया और वे नंगी ही बाथरूम चली गई और अपनी चूत को धोकर आई। मैं ऐसे ही लेटा रहा। भाभी किचन में से मेरे लिए एक गिलास दूध और कुछ बादाम ले आई और कहने लगी, ये खाओ और दूध पिओ. इनकी बातें चल रही थीं, तभी वहां गुलशन जी आ गए और तीनों को देखकर खुश हो गए. अगले 2 मिनट गुलशन जी ने फुल स्पीड से सुमन की चुदाई की और दोनों बाप बेटी एक साथ झड़ गए.

मैंने कहा- कमीनी आज तू मेरी पर्सनल रंडी है, बहुत चुदासी हो रही है, बहुत फड़क रही है तेरी फुद्दी, दो लंड की बात कर रही है. मैं सच में नहीं जानती थी कि औरत की चुत से भी जूस निकलता है क्योंकि आज तक मेरी चुत का जूस कभी निकला ही नहीं था.

अब सुमन शांत हो गई थी मगर ये अहसास कि उसके पापा उसका रस चाट रहे हैं, उसको और अधिक रोमांचित कर रहा था.

मैंने उन्हें देख कर कहा- जीजू, आप यहाँ मेरे घर की छत पर कैसे आये?तो उन्होंने बताया कि उन्होंने मेरे घर की बिल्डिंग ओर उनके घर की बिल्डिंग के बीच में लकड़ी के दो फट्टों को लगा दिया है जिससे एक ब्रिज बन गया. मैंने उसे बताया कि अब मेरा लंड झड़ने वाला है तो उस ने बोला कि कंडोम उतार कर मेरी गांड मारो और पूरा माल गांड में छोड़ देना. धीरे धीरे उसको पूरी तरह से नंगी कर दिया और उसने भी मुझे। उसकी चूत एकदम क्लीन थी जैसे आज ही शेव की हो। मतलब साफ़ था कि उसकी चूत में खुजली हो रही थी और उसने सोच समझ कर पूरी तैयारी के साथ मुझे बुलाया था अपनी चूत चुदवाने के लिए!मेरे लंड के आस-पास थोड़े हेयर थे.

उसके अपने दोनों छोटे भाई बहन आपस में प्यार करने में लगे हुए थे, पर ये प्यार भाई बहन के प्यार की तरह बिल्कुल नहीं था. सुमन- आह… आह… पापा एमेम मेरी जान निकल रही है ओफ्फ… एयेए…गुलशन जी ने सुमन को बहलाया कि वो आराम से करेंगे. सॉरी दोस्तो, मैंने वेरषा के बारे में तो आपको बताया नहीं, वेरषा एक दुबली पतली सी गोरी चिट्टी 28 साल की प्यारी और सेक्सी औरत है.

उसे देखते ही एक बार तो मैं काम्प सा गया, मुझे मोबाइल वाला गेम बच्चों का गेम लगने लगा.

बंगाली बीएफ देसी: हम दोनों जैसे ही निकले तो मम्मी ने कुछ सोच कर आम रास्ते से जाने के बजाए छोटे रास्ते से जाने का निर्णय किया जो खेतों के बीचों बीच डोल से जाता था. दोस्तो, यह कोई फेक सेक्स कहानी नहीं है बल्कि एक सच्ची सेक्स कहानी है.

और एक तेज चीख ममता के मुँह से निकल पड़ी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… मर गई…’वो केवल इतना बोली- नहीं जीजा जी… नहीं…उसकी आँखों के किनारे से आँसू निकल रहे थे. रिया की भी हालत कुछ और नहीं थी, उसके मुँह में एक लंड था, एक-एक चुत में और गांड में घुसा था. अब हम दोनों एक दूसरे के आमने सामने हो गए और मैंने उसकी गांड उठाई और नीचे तकिया लगा कर लंड गांड में डाल दिया.

उसकी डार्क ब्राउन कलर की चूत को चाटने में कुछ अजीब सा स्वाद आया लेकिन मस्त फीलिंग आ रही थी.

मेरा आधा लंड उसकी गांड में घुस गया और साथ ही उसकी हल्की सी सिसकी निकल गई. मैं आज आप लोगों के सामने अपने एक दोस्त की कहानी लेकर प्रस्तुत हुआ हूँ, जिसने मेरी सेक्सी कहानी पढ़ने के बाद अपनी कहानी मुझसे शेयर की और उसे आप सभी की ओर से मेरी फेवरिट साइट अन्तर्वासना पर प्रकाशित करवाने का अनुरोध किया. इसमे मेरी कोई कसूर नहीं… अगर पति दूसरी औरत का हो जाए तो पत्नी क्या करे!मेरी उम्र छब्बीस वर्ष है, तीन महीने पहले ही मेरी शादी हुई है.