इंग्लिश सेक्सी व्हिडिओ बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो चाहिए चलना चाहिए

तस्वीर का शीर्षक ,

ओपन फुल सेक्सी वीडियो: इंग्लिश सेक्सी व्हिडिओ बीएफ, पर कोई खास रिएक्शन ना आने के कारण मन मार लेता।एक दिन मैंने जानबूझ कर स्कूटी का बैलेंस बिगाड़ कर स्कूटी गिरा दी.

करीना कपूर का नंगा फोटो सेक्सी

या फिर उनके उठे हुए चूतड़ों पर टिकी ही रहती थी। मैं उनके हुस्न के ख़यालों में खो जाता. सेक्सी ओपन फिल्म हिंदी मेंहा हा हा हा!यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !पुनीत- रॉनी प्लीज़.

आप सबके सामने अपने जीवन में घटित एक सच्ची घटना प्रस्तुत करने जा रहा हूँ।अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है. वीडियो सेक्सी नंगी ब्लू फिल्मपर आराम से चोदना। उस दिन मेरी गाण्ड में बहुत दर्द हो गया था और मुझको चलने प्रॉब्लम होने लगी थी।मैंने बोला- अब तो ठीक हो सोनिया.

और तेज-तेज झटकों से उसकी चूत के छेद को और बड़ा करने लगा। सुरभि मदहोश हुए जा रही थी और अपने हाथ दोनों हाथ प्रियंका के चूचों के ऊपर रख कर पूरा ज़ोर देने लगी.इंग्लिश सेक्सी व्हिडिओ बीएफ: कुछ देर ऊपर वाले होंठ को चूसने के बाद मैंने आपी के नीचे वाले होंठ को अपने मुँह में दबाया तो मेरा ऊपरी होंठ आपी ने अपने मुँह में ले लिया और मदहोश सी मेरे ऊपरी होंठ को चूसने लगीं।चुम्बन एक ऐसी चीज़ है कि आप अगर पहली मर्तबा भी करें तो आपको सीखने की जरूरत नहीं पड़ती.

मतलब आज उनकी उम्र 28 साल है। शादी के वक़्त उनकी उम्र सिर्फ़ 24 साल थी।चलो अच्छा है। मुझे भी कोई साथ टाइम साथ बिताने के लिए मिल गया था।मम्मी ने बाद में मुझे कहा- अभी एक महीना तेरी मौसी यहीं घर पर ही रहने वाली हैं.आगे बताऊँगी कि किस तरह हमने फुल अमेरिकन अंदाज़ में अन्दर बिना कोई कपड़े पहने शॉपिंग की और क्या-क्या किया.

10 साल लड़की के साथ सेक्सी वीडियो - इंग्लिश सेक्सी व्हिडिओ बीएफ

मैंने महसूस किया कि उसके बाद उसकी मेरी गाण्ड में लण्ड अन्दर-बाहर करने की स्पीड बढ़ती जा रही थी।कुछ ही देर बाद उसके लण्ड ने मेरी गाण्ड में ही गर्म पानी छोड़ दिया।उसके रुकने पर मैंने तेज आवाज़ में कहा- आह्ह.प्रियंका ने उठ कर मेरे बंधन खोल दिए और मैं छूटने के तुरंत बाद सुरभि को अपने नीचे करके.

जिसका बदला ये सब मिलकर ले रहे हैं।पायल- क्या रॉनी भी इनके साथ मिला हुआ है. इंग्लिश सेक्सी व्हिडिओ बीएफ और अपने सीने पर रखी ब्रा को हम दोनों के दरमियान से खींचते हुए राईट हैण्ड से मेरी कमर को वापस अपने जिस्म के साथ दबा दिया।जैसे ही आपी के सख़्त हुए निप्पल मेरे बालों भरे सीने से टकराए.

मुझे पता है कि तू कभी मेरी नहीं होगी।सोनाली अब भी मेरी उंगली से हुई उत्तेजना के कारण अपनी गांड को हल्के-हल्के हिला रही थी और मैं समझ रहा था कि लोहा गर्म है.

इंग्लिश सेक्सी व्हिडिओ बीएफ?

मैंने पूछा- क्यों?वो बोली- विकी घर पर बहुत काम हैं वैसे हम कल ही आने वाले थे. कोई उसके मम्मों को चूस रहा था तो किसी का लौड़ा वो चूस रही थी।लगभग 25 मिनट तक ये तीनों बारी-बारी से पायल को चोद कर ठंडे हो गए। इस दौरान टोनी ने पायल की गाण्ड भी मारी और उसको ज़ोर-ज़ोर से चोदा ताकि वो तेज आवाज में चीखे. बात तब की है जब पापा की मौत एक एक्सीडेंट में हो गई थी।अब मेरे परिवार में तीन लोग हैं। माँ राखी.

’मैंने प्रीत की गांड को चोदते हुए उसके मम्मों को अपनी हथेलियों में भर लिया और तेज रफ्तार से चोदने लगा।प्रीत- ऊऊह्. उसे चूचियाँ चुसवाने में काफी मजा आ रहा था, वो अपने मम्मे के ऊपर मेरा मुँह दबाए जा रही थी।उसने मुझे लोअर उतारने के लिए कहा. तो मैंने पहली बार इतने नजदीक से उनकी चिकनी चूत को देखा। दरअसल मैंने पहली बार किसी औरत की बुर पूरी तरह नंगी और लाल देखी थी।बुआ अपनी चूत के सफेद रस को अपने हाथ में लेकर चाटने लगीं।ये सब देख कर मेरे भी लंड से रस निकल रहा था.

और मैं उसका सारा पानी चाट-चाटकर पी गया।वो अब भी लगातार मेरे लण्ड को चूस रही थी. तभी तीसरे वाले ने कंडोम में भरे हुए वीर्य को मेरे चेहरे पर डाल दिया और अपना लंड मेरे मुँह को दबा खोल कर डाल दिया।वो मेरे मुँह को ही चोदने लगा. ताकि आसानी से अन्दर चला जाए।फिर अपना लण्ड उसके छेद पर टिका कर उसके ऊपर चढ़ गया और उसके होंठ को अपने होंठ में ले लिया, थोड़ा सा दबाव अपने लण्ड का उसकी चूत पर बनाया.

और बच्चे अपने छोटे चाचा के साथ शादी में गए हैं, कल शाम तक आएंगे।यह सुनकर मैंने कहा- मैं आपको एक और दवा दे देता हूँ. दोस्तो, एक बार फिर आप सबके सामने आपका प्यारा शरद एक नई कहानी के साथ हाजिर है।दोस्तो, इस मार्च मेरे साथ दो घटना घटीं। एक मार्च की शुरूआत में.

आपने अब तक बताया नहीं।मैंने कहा- आपने पूछा कहाँ है।वो खिल उठी!मैंने कहा- ऐनी वे… अब हम तो मिलते ही रहेंगे।उसने कहा- या व्हाई नॉट.

तो ऐसे ही एक दिन मैं बाहर गया हुआ था। मेरे मोबाइल पर किसी अनजान नंबर से फोन आया।मैंने उठाया तो कोई लड़की बात कर रही थी।मैंने पूछा- कौन?तो उसने कहा- आवाज़ नहीं पहचानते?मैंने कहा- नहीं.

’ की आवाज आ रही थी।कालू ने मुझे जमीन पर लिटा दिया और बीच में आकर धीरे-धीरे अपना लौड़ा मेरी चूत में सरकाने लगा। उसने मेरी मुँह में अपना मुँह डाल दिया और रफ़्तार तथा दबाव बढ़ाने लगा। मुझे भी अब मजा आने लगा था।तभी मेरी सहेली ने कालू को कहा- तुम्हारा आधा लण्ड तो बाहर है. इसने पायल के बारे में क्या कहा अभी?सन्नी- हाँ सब सुना और ऐसा क्या गलत कह दिया. इसलिए मैंने ही खोज लिया।‘ये तुम्हारा नम्बर है?’उसने कहा- यह दीदी का नम्बर है.

और मैं अपने हाथ से अपने लण्ड को भींचने लगा।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !आपी थोड़ी देर ऐसे ही रुकी रहीं और फिर थोड़ा झुकीं और एक ही झटके में सलवार को अपने पाँव तक पहुँचा कर दोबारा सीधी खड़ी होते हुए अपने चेहरे को हाथों से छुपा लिया और पाँव की मदद से सलवार को अपने जिस्म से अलग करने लगीं।खवातीन और हजरात, यह कहानी बहुत ही रूमानियत से भरी है. तो उनके बोलने से पहले अम्मी ने बाहर निकले हुए लण्ड को नापकर कहा- बस बेटी 5 इंच लण्ड अभी बाहर है. उसके जिस्म पर एक भी बाल नहीं था।वो आहिस्ता-आहिस्ता चलता हुआ मेरे पास आया और मुझसे लिपट गया। अब वो मुझे अपने जिस्म के साथ मजबूती से भींचने लगा।वो अपने लेफ्ट हैण्ड से मेरे राईट कूल्हे को दबाने लगा और राईट हैण्ड को मेरी गाण्ड की लकीर में दबा कर फेरने लगा।मैंने भी उसके साथ ये ही करना शुरू किया.

तो पानी के लिए बहुत भीड़ हो जाती है। इसलिए बावड़ी से पानी लेने जाना पड़ता है। एक दिन उधर वो और मैं थे.

मेरा लण्ड ख़ासा मोटा और लम्बा हो गया था।दिव्या कहने लगी- मैं इतना मोटा और लंबा लण्ड नहीं ले पाऊँगी।मैंने कहा- ये तो कुछ नहीं है लड़कियां तो इससे भी लंबा और मोटा अपनी चूत में लेना पसंद करती हैं।वो हैरान सी मेरे लौड़े को सहलाती रही।मैंने दिव्या से पूछा- क्या तुमने पहले अपनी चूत चुदवाई है?उसने मना कर दिया।फिर मैंने अपना लण्ड उसकी चूत पर रगड़ा. एक महीने के बाद मैं भी शहर चली जाउंगी।कुछ देर इसी तरह की बात होती रहीं फिर मैंने पूछा- मैडम टाइम क्या हुआ।मैडम- अभी 4. अगले दिन कैसे-कैसे चुदाई हुई, यह जानने के लिए मेरी सेक्स कहानी के अगले भाग का इंतज़ार कीजिएगा।मेरी कहानी कैसी लग रही है.

जवाब में प्रियंका बोली- हाँ जीजू वैसे भी आपके लिए हम दोनों किसी नशे से कम हैं क्या??उसने यह कह कर एक तीखी मुस्कान दी और एक बड़ा पैग बना कर सुरभि को पकड़ा दिया. क्यों न जबरदस्ती करनी पड़े।मैंने टीवी ऑन कर दिया और हम दोनों टीवी देखने लगे।मैंने मैच लगा दिया तो उसने कहा- मुझको मैच पसंद नहीं है. तब लण्ड को बाहर निकाल लेना और लण्ड पर तेल लगा कर मेरी गाण्ड के छेद से रगड़ना।जैसे कल तुमने मेरी चूत मारी.

आप मुझे सिखा दो।मैडम- मैं तुम्हें ऐसी चुदाई सिखाऊँगी कि तुम हर लड़की और हर औरत को खुश कर सकोगे।अवि- ह्म्म्म।मैडम- पहले मुझे किस करो।मैंने मैडम के लिप्स पर अपने होंठ रख दिए। लगभग 5 सेकण्ड बाद मैंने उसने छोड़ दिया.

तो मुझे एहसास हुआ कि वो मेरे पीछे खड़ी मुझे घूर रही है। मैंने उससे कारण पूछा. मैंने अपने आपको रोका और हम स्टेशन पहुँच गए।कुछ देर में ट्रेन भी आ गई.

इंग्लिश सेक्सी व्हिडिओ बीएफ मन हो रहा है कि बस शुरू हो जाऊं और खास करके तुम दोनों ने कपड़े भी इतने हॉट पहने हैं कि मैं तो क्या. तब तुझे पता चलेगा।मौसी मुझे अचंभे से देखती हुई बोलीं- तुम ये क्या बोल रहे हो?मैं बोल पड़ा- मुझे सब पता है साली कुतिया.

इंग्लिश सेक्सी व्हिडिओ बीएफ और मैंने उनकी चूत को चाट-चाट कर लाल कर दी। मौसी की चूत ने भी पानी निकाल दिया।।उसके बाद मौसी ने मेरे खड़े लंड को चूस-चूस कर लोहा कर दिया।उसके बाद मैंने लंड मौसी की चूत पर लगाया. मैं पलटा और देखा कि वो मैडम मुझे आवाज़ लगा रही है।मैं उनके पास गया और पूछा- हाँ मैडम अब क्या काम है?तो उसने बोला- क्या हर बार काम ही रहेगा क्या?मैं कुछ समझा नहीं था कि वो क्या बोलने जा रही है।फिर उसने बोला- क्या तुम मेरे साथ शॉपिंग करने चलोगे?मेरे मन में लड्डू फूटने लग गए और मैंने ‘हाँ’ कर दिया। उसके साथ उसका लड़का था.

तो उन्हें अपनी नाभि पर कुछ गिरकर सूखा हुआ सा महसूस हुआ और उन्हें अपनी ब्रा पर भी माल के धब्बे दिखाई दिए।उन्हें कुछ समझ में नहीं आ रहा था और वो उठकर चादर समेटने लगीं.

जी की चुदाई बीएफ

शायद आपी अभी जहनी तौर पर मुकम्मल तैयार नहीं थीं और उन में अभी काफ़ी झिझक बाक़ी थी।मैंने फिर फरहान के होंठों को चूसना शुरू कर दिया और फरहान को घुमा दिया, अब आपी की तरफ फरहान की पीठ थी, मैंने अपने एक हाथ से फरहान के कूल्हों को रगड़ना और दबोचना शुरू कर दिया।कुछ देर बाद मैंने अपने दोनों हाथों से फरहान के दोनों कूल्हों को खोल दिया. अगर कोई आ जाएगा तो टॉयलेट का बहाना बना दूँगी। लेकिन तुम यहीं बिस्तर पर ही बैठे रहोगे। तुम मेरे नज़दीक नहीं आओगे. उसके साथ फ्रेन्डली और टची हो रही थी और मेरी और देख रही थी।वो सोच रही थी कि मुझे जलन हो रही है.

उनकी आँखों में भी वासना की डोरे नजर आ रहे थे।तभी मुझे शांति मिल गई और मैंने हिलना बंद कर दिया।उस समय ऐसा लगा. ठीक है बोलो जी क्या शर्त है?प्रीत बोली- तुमको जिसको भी प्यार करना है. एकदम गोरा बदन और उस पर कसी हुई लाल रंग की ब्रा।फिर मैंने ब्रा के ऊपर से उनकी चूचियों को सहलाया और दबाने लगा।चाची ने अपनी चूचियों को मेरी तरफ और तान दिया।मैंने उनकी ब्रा को खोल दिया और उनके सफ़ेद कबूतर बाहर निकल आए।फिर मैंने उनकी पैन्टी को खोला.

आज की चूत चुदाई का।फिर देखा कि 2 बज गए हैं, मैं तैयार होकर मम्मी से विभा के घर जाने की बोल कर निकल गई और विभा के घर पर पहुँच गई।मैंने देखा कि दो लड़के वहाँ थे।मैं खुश हो गई कि आज मेरी चूत को भी लण्ड मिल ही जाएगा।मैं अन्दर कमरे में जाकर बैठ गई.

और दूसरे से मेरे पीछे अपने हाथ से मेरी गाण्ड को सहलाते हुए अपनी तरफ को आगे धकेलने लगी. बाहर ही धो लो।बाहर छत पर टंकी में नल लगा हुआ था, मैंने पानी से उसका सारा बदन साफ़ कर दिया।अब प्रीत का पानी की बूंदों से बदन चमक रहा था। रोशनी में उसका बदन साफ़ और चमक रहा था।प्रीत मुझे और भी मस्त लग रही थी. अह…मैंने आपी के सीने के उभारों को चूसते हुए ही उनका हाथ को पकड़ा और सलवार के ऊपर से ही अपने लण्ड पर रख दिया। आपी ने फ़ौरन ही मेरे लण्ड को मुठी में दबा लिया।यह कहानी जारी है।[emailprotected].

वो मेरे सामने थी और उसके गले में मुझे अपना मुठ जाता साफ़ दिख रहा था।उस पल तो मानो मुझे ऐसा लगा. आप अपनी राय कहानी के आखिर में अवश्य लिखें।यह वाकिया मुसलसल जारी है।[emailprotected]. फिर बातें करेंगे।’ फरहान ने ऊपर कमरे की तरफ जाते हुए कहा।फिर पहली सीढ़ी पर रुकते हुए कहा- बाक़ी सब तो सो गए होंगे?‘हाँ.

देख साला अर्जुन कैसे जंगली सांड की तरह पायल को चोद रहा है और हमारे लौड़े अकड़ कर दर्द कर रहे हैं. लेकिन इस सिचुएशन में मैंने खुद को एक मॉडर्न लड़की के रूप में रखते हुए वह सब कुछ करने का फ़ैसला कर लिया.

लेकिन मुझे आपका सेल नम्बर तो दीजिए।हमने आपस में नम्बर लिए और वहाँ से नीचे चले आए।वो पहले गई. जबरदस्त।वो मेरे मुँह में से खुद को छुड़ा नहीं पा रही थी।मैंने उससे कहा- लॉज में चलते हैं।उसने ‘हाँ’ कह दी।फिर हम दोनों लॉज में गए और एक कमरा पूरी रात के लिए ले लिया।अब करीब 11 बज चुके थे। हम दोनों जैसे ही अन्दर पहुँचे. तो मैंने कहा- क्या हुआ?वो बोलीं- एक मिनट रूको मुझे मूतकर आने दो।मैंने कहा- तुम मेरे मुँह में धीरे-धीरे मूतो।वो पूरी आँख खोलकर अचंभे से मुझे देखकर बोलीं- बेटा ये क्या बोल रहे हो.

अब मैं अपनी उंगली अन्दर-बाहर करने लगा। कभी मैं उंगली को दरार में ऊपर दाने पर ले आता.

बस महसूस की जा सकती है।जिन्होंने उस खुश्बू को अपनी बहन की चूत से निकलते हुए महसूस किया है या आपमें से जो लोग अपनी बहनों की ब्रा या पैन्टी को सूँघते रहे हैं. तो उसके मुँह से ‘आह’ निकल गई।मैंने उसके कान में कहा- आवाज मत निकाल. पता नहीं उनको इन बातों में ही इतना मज़ा आ रहा था या मेरी नजरें अपनी टाँगों के दरमियान महसूस करके वो गीली हो गई थीं।‘अब बोल भी दो और पहले बाजी का बताओ.

अभी तो लण्ड लेना बाकी है। अगर अभी इतना मज़ा आ रहा है तो जब लण्ड मेरी चूत में जाएगा तब कितना मज़ा आएगा।वो मेरी नंगी चिकनी चूत को चाटता ही जा रहा था। कभी उसमें जीभ से कुरेदता. वो नीचे से थोड़ा ऊपर को उचकी और मेरे और नजदीक आ गई।मैं उसकी चूत को महसूस कर रहा था, उसकी चूत मुझे गर्म लगी।थोड़ी देर बाद हम दोनों के मुँह एक-दूसरे से अलग हुए और हम दोनों ने एक-दूसरे को देखा तो दोनों मुस्कराए.

उसने गाण्ड मराने के लिए ‘हाँ कह दी।अर्जुन ने उसको घोड़ी बनाया और उसकी गाण्ड पर लौड़ा सैट करके उसकी जाँघों को मजबूती से पकड़ लिया और वैसे ही जोरदार शॉट मारा।अबकी बार पहले से ज़्यादा उसको दर्द हुआ और वो बेतहाशा रोने लगी।पुनीत बाहर छटपटा रहा था. मैं तो दीवाना हो गया, मैंने बायाँ चूचा अपने मुँह में भर लिया और दायें वाले को अपने हाथ से दबाने लगा।उसने मेरे सर को अपनी चूची पर ज़ोर से दबा लिया. क्योंकि मेरा छोटा भाई मेरे साथ था। मूवी के बाद हम अपने-अपने बिस्तर पर चले गए.

डॉक्टर पेशेंट की बीएफ

मेरा निक्कर के अन्दर खड़े लौड़े ने उसके पेट को छू लिया था। उसकी मक्खनी चूचियाँ मेरी शर्ट में चुभ गई थीं।इन दो सेकंड में मैं मानो जन्नत में पहुँच गया था.

’ और आपी हँसते हुए फ़ौरन अपने कमरे की तरफ भाग गईं।मैंने पीछे से आवाज़ लगाई- याद रखना बदला ज़रूर लूँगा।आपी अपने कमरे में पहुँच गई थीं. दोस्तो, मैं अरुण एक बार फिर आपके लंड और लड़कियों की चूत में हलचल मचाने के लिए एक नई कहानी आपके सामने लेकर आया हूँ। आशा करता हूँ कि यह कहानी भी आपको मेरी बाकी की कहानियों की तरह खूब पसंद आएगी।यह कहानी मेरे एक दोस्त की है. तो मैंने मैडम को आवाज़ लगाई और उनके पीछे चला गया और मैडम से बोला- वो पुलिस की गाड़ी वहाँ है.

मेरे मम्मों की घुंडियाँ कड़ी होकर बाहर की ओर उभरने लगीं और मेरी बुर में गीलेपन का एहसास होने लगा।अपने आप ही मेरा एक हाथ मेरे सीने पर चला गया और दूसरा हाथ नीचे बुर को छूने लगा. उन्होंने आज वो ही पारदर्शी नेट की साड़ी अपनी नाभि से 3-4 इंच नीचे पहनी हुई थी।मौसी के साथ मेरे शारीरिक सम्बन्ध बन भी पाएंगे या नहीं. सेक्सी गोरखथोड़ी देर प्रियंका ने सुरभि के निप्पलों को चूसने के बाद अपना सर सुरभि की चूत के नीचे कर दिया और तकिए के ऊपर अपना सर रख लिया। अब वो सुरभि की चूत चूसने लगी.

जिसमें कुछ सीन होमोसेक्सुअल भी थे। जैसे एक सीन में एक 18-20 साल का लड़का एक आदमी का लण्ड चूस रहा था। मुझे वो सीन कुछ अजीब सा लगा और सच ये था कि मुझे एक अलग सा अनोखा मज़ा भी आने लगा।फरहान ने स्क्रीन पर ही नज़र जमाए हुए पूछा- भाई इसमें क्या मज़ा आता है इन लोगों को? जब लड़कियाँ मौजूद हैं. आपसे गुज़ारिश है कि अपने ख़्यालात कहानी के नीचे अवश्य लिखें।कहानी जारी रहेगी।[emailprotected].

’ मैंने इसलिए कहा कि मेरी बहन के बड़े-बड़े मम्मे नर्मोनाज़ुक से बाजुओं में छुप ही नहीं सकते थे।मैं आपी के पास जाकर खड़ा हुआ और कहा- आपी प्लीज़ रोओ तो नहीं यार. जीत गया मैं?पुनीत को इस बात का दु:ख था कि पहले ही राउंड में वो हार गया. पर और कुछ नहीं।अब मामला साफ़ हो गया था।मैंने कहा- प्लीज़ एक बार कर लो.

नींद तो नहीं आ रही है।वो बोली- ठीक है।मैंने कहा- लेकिन अडल्ट मूवी देखेंगे।वो बोली- ठीक है।मैंने तुरंत कंप्यूटर ऑन किया और ट्रिपल एक्स ब्लू-फिल्म चला दी।सनी लियोनी की चुदाई की ब्लू-फिल्म देखते ही सपना गर्म हो गई और उसने अपना गाउन उतार दिया। अब वो सिर्फ़ ब्रा और पैन्टी में थी। उसने मेरे पास आकर मुझसे कहा- भैया. हम दोनों नीचे आ गए और चौक में चारपाई डाल कर लेट गए।क्योंकि चौक चारों तरफ से बंद था. इन सब में ज़िंदगी बीत जाती है।मेरी उम्र 22 साल है और मैं पढ़ाई करता हूँ.

उनके लिए एक बार फिर से मैं पिछली कहानी का संक्षिप्त विवरण लिख देता हूँ।पिछली कहानी में आपने पढ़ा कि मैं अपनी दोनों बहनों को चोद चुका हूँ.

मैंने उनका दूसरा चूचा मुँह में भर लिया और एक हाथ को उनकी चूत के ऊपर फेरने लगा।जैसे ही मैंने उनकी क्लिट को छुआ और हल्का सा दबाया. तो बहुत मजा आने लगा था।प्रीत की छत पर ऊपर ही एक बाथरूम बना था। वो उधर जाने लगी तो मैंने कहा- बाथरूम में क्या जाओगी यार.

अब मैं तुम्हें एक दूसरी मुद्रा में चोदूंगा।‘वो कैसे आशीष?’ मौसी मेरे मोटे. तो उसे डर लग रहा था कि कहीं मैं उसको चोद न दूँ क्योंकि एक बार तन्वी ने मुझे अपने घर बुलाया था तो मैंने उससे कहा था कि मुझको चुम्बन करना है।उसके ‘हाँ’ कहने पर मैं उसको लेकर बाथरूम में चला गया ताकि हमें कोई देख ले। जब मैं तन्वी को चुम्बन कर रहा था. जैसे थप्पड़ मार रही हों और फिर ज़ोर से उस जगह को दबोच लिया। ऐसा लग रहा था कि इस सीन ने उन पर जादू सा कर दिया था.

अभी तो मेरी चूत लण्ड मांग रही है।तो मैंने भी सोनिया की चुदाई करना चालू कर दी और सोनिया से बोलने लगा- मदन के घर आज ये हमारी आखिरी चुदाई है. तब तक उसके साथ खेलता हूँ।तो अब समय कम बचा था, काफी वक्त हम दोनों ने फ़ोरप्ले के खेल में ही निकाल दिया था, जिसमें उसका 2 बार पानी निकल चुका था और मेरा एक बार निकल चुका था।फिर भी मुझे अपना कमिटमेंट पूरा करना था. हाय जीजू ने क्या चुदाई की थी।मैंने उसके निप्पल चूसते हुए एक हाथ उसकी स्कर्ट के नीचे डाल दिया और चूत में उंगली करने लगा। मैंने देखा कि साली प्रियंका की पैंटी में बीचों-बीच में एक छेद है.

इंग्लिश सेक्सी व्हिडिओ बीएफ अभी तो मेरी चूत लण्ड मांग रही है।तो मैंने भी सोनिया की चुदाई करना चालू कर दी और सोनिया से बोलने लगा- मदन के घर आज ये हमारी आखिरी चुदाई है. वो भी अधखुले और अधनंगे।उसका दूध सा सफेद बदन देख कर मेरा लण्ड और भी तन गया।वो अब ब्रा में ही थी.

भोजपुरी में भक्ति गाना वीडियो बीएफ

तो आखिरी में पैन्टी निकाल कर वो रुक गया।सोनिया बोली- तुम भी अपनी अंडरवियर उतार दो।मदन ने कहा- सोनिया. मेरी कसम पर यक़ीन नहीं तो आप भाईजान से पूछ लें।‘फरहान सही कह रहा है आपी. मैं घर गया और मम्मी को अपनी तबियत खराब होने के बारे में बताया।एक दिन हॉस्पिटल में एडमिट रहा और घर आया तो मेरी फट रही थी कि दीदी ने बता तो नहीं दिया.

तो साले ये तेरे उस कुत्ते बाप और रंडी बहन से पूछना तू… तेरे हरामी बाप ने मेरी माँ की लाइफ बर्बाद कर दी और इस रंडी ने मेरी माँ को बार-बार जलील किया. तो मैंने फरहान से कहा- तू आज फिर से लड़की बन जा।उसने कहा- भाई ये नहीं हो सकता. एक्स एक्स हिंदी व्हिडीओ सेक्सीउसने मेरे नंगे लंड को अपने नाज़ुक हाथों में लिया और आगे-पीछे करने लगी।मेरा भी मन कर रहा था कि उसके मम्मों को दबाऊँ, मैं भी धीरे-धीरे अपना हाथ उसकी जांघ पर फेरने लगा।मेरे ऐसा करते ही वो उत्तेजित होने लगी और जोर से मेरे लंड को दबाने लगी।फिर क्या था.

पांच मिनट में आ जा वहाँ।मैंने ‘ओके’ कहा और चल दिया ठिकाने पर।थोड़ी देर में वो आई.

मेरे पहले झटके से ही तकरीबन 4 इंच लण्ड उसकी गाण्ड में दाखिल हो चुका था। उसकी गाण्ड का सुराख काफ़ी लूज था. उनकी लैब और वहाँ के सभी कम्प्यूटर्स और कम्प्यूटर्स लैब को मैं ही देखता था.

मुझे मालूम था कि औरतों को भी झांटें होती हैं।लेकिन फिर भी मैंने भोला बनकर रसीली भाभी से पूछा- भाभी जी मैंने सुना था कि औरतों की भी झांटें होती हैं लेकिन आपकी तो नहीं हैं?वो हँसकर बोलीं- हाँ होती है न. दीदी ने मँगवाया है।लड्डू लेकर मामा मुस्कुराते हुए चले गए।रात होने पर मेहमान ज़्यादा होने की वजह से मुझे सोने की जगह नहीं मिल रही थी. उसकी चूत एकदम चिकनी हो रही थी।मैं उसकी चूत के चारों तरफ अपनी ज़ुबान फेरने लगा.

हम दोनों बचपन से ही साथ साथ रहे हैं क्योंकि हमारा घर भी एक-दूसरे से सटा हुआ है इसलिए हम दोनों जब चाहें.

मेरा लण्ड मेरी मुठी में ही था और आपी का भी एक हाथ टाँगों के दरमियान और दूसरा उनके एक उभार पर था. उसके निप्पलों को अंगूठों से दबाने लगी और इसी के साथ उसने अपना मुँह प्रियंका की चूत में घुसेड़ दिया और उसकी चूत को खाने लगी।मैंने फिर से लण्ड निकाल कर उसकी गाण्ड में डाल दिया. आज क्या-क्या हो रहा है हमारे साथ?’ कहकर वो हँसने लगीं।मैं भी हँसा।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !‘अब आप भी सो जाइए.

4 पंजाबी सेक्सीऔर पूरा का पूरा लण्ड उसकी चूत में जड़ तक घुस गया।वो फिर चीख पड़ी।फिर मैंने और जोर से झटके लगाए. मैंने अपने कपड़े उतारे और फरहान का हाथ पकड़ कर बिस्तर की तरफ चल पड़ा।आपी की नजरें मेरे नंगे लण्ड पर ही जमी हुई थीं.

हॉट सेक्सी इंडियन बीएफ

और तुम प्यार से वैसा करोगी तो कोई तुम्हें दोबारा परेशान नहीं करेगा ओके. ।रूही आपी का नाम सुनते ही मुझे आज सुबह का देखा हुआ सीन याद आ गया और फ़ौरन ही मेरे लण्ड ने रिस्पोन्स में मुझे सैल्यूट दे दिया।मैं खाना खा चुका था. इसलिए हमें ऐसे मज़ा बहुत आ रहा था।मैंने गीत की शर्ट को ऊपर किया और उसकी ब्रा साइड में करके उसके निप्पल्स को हाथ से सहलाने लगा।अब गीत भी मस्ती से सिसकार रही थी.

पर अभी दो साल का मज़ा बाकी है।वो कहानी जल्द ही पेश करूँगा।मुझे ईमेल करें।[emailprotected]. अगले दिन कैसे-कैसे चुदाई हुई, यह जानने के लिए मेरी सेक्स कहानी के अगले भाग का इंतज़ार कीजिएगा।मेरी कहानी कैसी लग रही है. फिर चौथी रात को फिर आपी हमारे कमरे में आईं और मुझसे नज़र मिलने पर दरवाज़े में खड़े-खड़े ही पूछने लगीं- सगीर तुम्हारा दिमाग वापस ठिकाने पर आ गया है या अभी भी तुम वो ही चाहते हो जो उस दिन तुम्हारी ज़िद थी?मैंने कहा- नहीं आपी.

तो ना चाहते हुए भी मैंने उससे बात करने की सोची।मैंने पूछा- जयपुर?उन्होंने ‘हाँ’ में जवाब दिया. जिससे मेरी बुर में दर्द होने लगा।हालाँकि पहले एक-डेढ़ इंच अन्दर तक मैं अपनी उंगली और डिल्डो अपनी बुर में डाल चुकी थी. तो उसके गीले बाल और भीगा ज़िस्म बहुत सेक्सी लग रहा था।तौलिये में हनी के सीने के उभार काफ़ी बड़े दिख रहे थे और जब वो वापस जाने के लिए मुड़ी थी.

मुझे लगा कि मामी बहुत गुस्सा में है, मेरे दिमाग से वासना का सारा भूत उतर गया।भैंस भी शायद पाड़े को पटाने के लिए उसे जगह-जगह चाट रही थी. ख़ास कर सभी महिला पाठक जरूर ईमेल कीजिएगा। मुझे गर्म महिलाओं से दोस्ती करना पसंद है।[emailprotected].

पर डर भी लग रहा था।थोड़ी देर सर दबवाने के बाद मैं सो गया।बड़ी मामी फिर छोटी मामी को हेल्प करने रसोई में चली गईं।मैं करीब दो घंटे के बाद उठा, मेरा पूरा शरीर पसीने से लथपथ था।मामी ने कहा- जाकर नहा लीजिए।मेरे ननिहाल में बिजली की सुविधा नहीं है.

वो पैसे भी नहीं लेती थी।मेरे दोस्त को फिर मैंने उसके घर छोड़ा और फिर मैंने उसे मेरे साथ वाली सीट पर बिठाया और उसके साथ बातें करने लगा।मैंने उसे किस किया. नंगी सेक्सी चोदने वालाउन्हें खुश देख कर मुझे बहुत अच्छा लग रहा था।मैं आहिस्ता-आहिस्ता अपनी अंडरवियर को नीचे करने लगी।अंकल मेरे बिल्कुल क़रीब आ गए. जबरदस्ती वाला सेक्सी वीडियो दिखाइएजब मैं मैथ की टीचर सोनिया के पास टयूशन पढ़ने जाता था। सोनिया का चेहरा तो बस ठीक-ठाक ही था लेकिन उसकी फिगर को देख कर किसी के मुँह में पानी आ जाए. तो मेरा मन मुठ मारने का हो जाता है।यह कहानी लिखते-लिखते भी मैंने दो बार मुठ्ठ मारी है।आप सबका भी धन्यवाद.

रुक क्यों गए हो?अवि- वो किताब में लिखा था कि आप।के पति का लण्ड 6 इन्च का है।मुझे लगा कि जैसे मैडम ने मन में सोचा कि अच्छा हुआ इसने पूछ लिया.

तो आज रात के बाद मेरी फुद्दी इतनी ढीली हो जाएगी कि उसमें घोड़े और गधे के लण्ड ही समा जायेंगे. हम दोनों ने एक-दूसरे का पानी पी लिया और दोनों शान्त हो गई।अब विभा बहुत खुश लग रही थी।कुछ देर रुकने के बाद मैं अपना मोबाइल लेकर घर चली आई।रात को खाना खा कर मैं अपने कमरे में जाकर लेट गई और आने वाले कल की चुदाई के बारे में सोचने लगी।चुदाई के बारे में सोचते ही मेरी चूत लण्ड लेने के लिए मुँह फैलाने लगी. तो उसे क्या लगता होगा।वैसे मेरा बहुत लम्बा और मोटा है।हम दोनों बहुत गर्म हो जाते थे और मैं धीरे से उसकी छोटी-छोटी नुकीली चूचियों को पकड़ लेता था.

इससे मैं काफ़ी अपसैट हो गया था।मैंने कुछ दिन उससे बात नहीं की।एक दिन उसने मुझको ‘गुड मॉर्निंग’ विश किया. तो मैंने भी अपने धक्कों की गति बढ़ा दी।अब हम दोनों चुदाई का मज़ा ले रहे थे वो धीरे कह रही थी- भैया आज आपने मेरी सील तोड़ दी है. तो मैं नीचे आ गया था और थका होने के कारण ऊपर चढ़ने की हिम्मत नहीं हुई और नीचे ही सो गया। हाँ.

सेक्सी बीएफ सेक्सी वीडियो हिंदी में

’ अपना लण्ड पेलने लगा।पूरे कमरे में सिर्फ हमारी चुदाई की आवाज गूँज रही थीं. ये एक दोमंजिला घर है। नीचे वाले हिस्से में मेरे मम्मी-डैडी सोते हैं और ऊपर वाले हिस्से में दो बेडरूम हैं।एक में मेरी दोनों बहनें सोती हैं और एक में मैं सोता हूँ। मेरे कमरे में टीवी लगा हुआ है. फिर इसके बाद सीधा सुबह ही रुकेगी।ट्रेन में एक कोच सामान का होता है.

और हौले-हौले मैंने लण्ड उसकी गाण्ड में उतार दिया।जब लण्ड पूरा चला गया.

औरत का कामसेवक जैसा होता है। औरत काम के खेल में मर्द से अपनी सेवा करवाती रहती है.

इसलिए मैंने सोचा कि देख कर आता हूँ कि टिया कहाँ चली गई।मैंने बाहर लॉबी में देखा. यही सोचते हुए मैं उन दोनों के पीछे पीछे झोपड़ी की तरफ चल दिया।गेहूं के खेतों में बनी बीच की डोली (मिट्टी की बंध) पर हम चलते हुए झोंपड़ी की तरफ बढ़ रहे थे. ई-मेल ओपन सेक्सी मूवीमुझे अचानक से उसकी कॉल आई थी मैं भी थोड़ा चौंक गया था की इस समय इसकी कॉल कैसे आई है।मैंने फोन उठाया तो उसने पूछा- कहाँ हो?मैंने कहा- मैं ढाबे पर हूँ।उसने मुझे बर्थ-डे पार्टी में इन्वाइट किया।मैंने पूछा- किसका बर्थ-डे है?उसने कहा- मेरा बर्थ-डे है आज.

और ना ही कोई ब्लू-फिल्म देखी थी।असल बात तो यह थी कि रीना तो खेली खाई लड़की थी और सब कुछ जानती थी। रीना को पता था कि उसकी चूत की सील नहीं बल्कि प्रवीण के लंड का टांका टूटा है।मगर प्रवीण के हट जाने के बाद रीना अपनी पैन्टी ऊपर चढ़ाते हुए प्रवीण को गाली देते हुए बोली- भोसड़ी के तू तो पक्का मादरचोद है. ’मैंने भी स्पीड बढ़ा दी और वो भी नीचे से अपनी गाण्ड उठा-उठा कर मेरा साथ देने लग गई।थोड़ी ही देर में नेहा झड़ गई. मैंने उससे पूछा- माल कहाँ लेना है?वो बाहर झड़ने को कहने लगी।मेरे लंड निकालते ही वो झड़ गई और मैंने भी मेरा सारा पानी उसकी चूत के ऊपर.

जो लड़की के मुँह में जमा होता रहा।उसी वक़्त आपी के जिस्म को भी झटका सा लगा. अब हम दोनों के बीच कोई खास झिझक नहीं रह गई थी। अंकल और मैं कुछ बोले बिना ही एक-दूसरे के इतना समीप आ गए थे कि हमारे जिस्मानी रिश्ते की राह बेहद आसान हो गई थी।मुझे लग रहा था कि अंकल के सीने से लग कर उन्हें खूब प्यार करूँ।मैं अंकल से बिल्कुल लगी हुई खड़ी थी, अंकल ने कहा- आओ.

तो मैंने कहा- साली मैंने तुझे तैयार करके तेरा पानी निकाला और झड़वाया और तू कमीनी मुझे चोदने को बोल रही है।मौसी ने कहा- बोलो कैसे करूँ तुम्हारी सेवा?मैंने कहा- अब तू सही बात कर रही है.

उसे तो सिर्फ़ बुआ को देखते ही पूरे 90 डिग्री की पोजीशन में खड़ा हो जाना रहता था।फिर एक दिन बुआ अपने घर जाने के लिए अपनी पैकिंग करने लगीं. पर क्या कर सकते हैं।मैं अगले दिन मौसी के घर चला गया।अप्रैल का महीना था तो ज्यादा गर्मी नहीं थी।आपको बता दूँ कि मेरी मौसी एक फ्लैट में रहती थीं, मौसी के घर में मौसा-मौसी और भय्या-भाभी और उनका एक बेबी था।मैं भुनभुनाता हुआ जा रहा था. लेकिन सनी का इगो हर्ट नहीं करने का।मैंने उसको उसी के बिस्तर पर पीठ के बल लिटा दिया.

खून करने वाली सेक्सी बोलो तो मैं सिखा देता हूँ कि लण्ड कैसे लिया जाता है चूत में।‘बकवास मत करो. बाथरूम में मामी की पैन्टी टंगी हुई थी। मैंने वहीं मुठ मारी और वापिस आ गया।मेरे आते ही मामी बोलीं- श्याम तेरी गर्लफ्रेण्ड का क्या नाम है?मैंने कहा- मामी मेरी कोई गर्लफ्रेण्ड नहीं है.

मेरे मम्मों की घुंडियाँ कड़ी होकर बाहर की ओर उभरने लगीं और मेरी बुर में गीलेपन का एहसास होने लगा।अपने आप ही मेरा एक हाथ मेरे सीने पर चला गया और दूसरा हाथ नीचे बुर को छूने लगा. जिसकी वजह से हम पूरे के पूरे भीग चुके थे।बड़ी मुश्किल से हम लोग एक-एक कदम आगे बढ़ा रहे थे। बड़ी गाड़ियों के पास से गुजरने से पानी में तेज छपाके तैयार हो जाते. पर इतना पता था कि गाण्ड मरवाने में बहुत दर्द होता है।फिर भी मुझे दिनेश पर भरोसा था कि वो मेरी मर्जी के बिना मुझे नहीं चोदेगा।उस दिन के बाद मेरी और उसकी मेरे प्रति नज़र बदल गई। जब भी हमें एकांत मिलता.

बीएफ सेक्सी डॉग वाली

तो आपी गरम-गरम नाश्ता लाकर मेरे सामने रखतीं और अपने कमरे में चली जातीं।उस वाक़ये को आज ग्यारहवां रोज़ था।सुबह जब आपी नाश्ता लेकर आईं. जिससे मैं बाहर निकल नहीं पा रहा था।मैंने सोनिया को बोला- सोनिया छोड़ो मुझे. मैंने जल्दी से दुपट्टा उठाया और चूचे कवर कर लिए।इसी तरह से अगले दिन भी मैं बहुत नशीली चाल में चहलकदमी कर रही थी। उससे रहा नहीं गया और वो मेरी छत पर आ गया। मैंने जल्दी से दुपट्टा उठाया तो वो दुपट्टा पकड़ते हुए बोला- बस भी करो ये सख्ती.

जिससे वो और मचलने लगी।मैंने पीछे से ही पकड़ लिया, एक हाथ उसके सेक्सी पेट पर. मैंने सबको नमस्ते किया। नानी से थोड़ा देर बात की और कुछ देर बाद नानी के घर से बाहर निकल कर दूसरे घर गपियाने चला गया।मैंने पहले ही छोटे मामा को बता दिया था कि मैं आ रहा हूँ तो उन्होंने बाज़ार से मेरी पसंदीदा डिश मटन मंगवा लिया था। मैं करीब 6:30 बजे शाम को पहुँचा.

और ना ही कोई ब्लू-फिल्म देखी थी।असल बात तो यह थी कि रीना तो खेली खाई लड़की थी और सब कुछ जानती थी। रीना को पता था कि उसकी चूत की सील नहीं बल्कि प्रवीण के लंड का टांका टूटा है।मगर प्रवीण के हट जाने के बाद रीना अपनी पैन्टी ऊपर चढ़ाते हुए प्रवीण को गाली देते हुए बोली- भोसड़ी के तू तो पक्का मादरचोद है.

ज़रा स्टाइल से करना ताकि हमारा मज़ा दुगुना हो जाए और इस कुत्ते की अकड़ भी निकल जाए हा हा हा हा हा. और मेरा दिल करता था कि इसको अभी नंगी करके चोद दूँ।एक दिन मैंने कुछ आगे बढ़ने की सोची कि आज तो उसको किस करके ही रहूँगा. लेकिन फिर भी मैंने दर्द सहते हुए अपने आधे घुसे लौड़े को अन्दर-बाहर करना चालू कर दिया।भाभी जब नॉर्मल होकर मेरा साथ देने लगीं.

और हम दोनों भीगते हुए घर पहुँचे।मैं आंटी को घर के गेट पर उतार कर जैसे ही बाइक को आगे बढ़ाने लगा. मैं अकेला ही ऐसा नहीं हूँ।ऐसे ही 2-3 साल बीत गए जवानी का दौर शुरू हो गया। मेरा रिजल्ट कुछ अच्छा नहीं आया और वजह साफ थी. ’सच में मजा आ रहा था उसे भी और मुझे भी मजा मिल रहा था।कुछ मिनट की धकापेल के बाद हम दोनों हल्के हो गए और उसके बाद मैंने उसे रात भर मज़ा दिया और लिया।वो मेरी चुदाई से बहुत खुश थी.

का अंडरवियर पहना हुआ था जिसमें से उसके लंड का उभार हिलता हुआ हमारे सामने आकर थम गया था.

इंग्लिश सेक्सी व्हिडिओ बीएफ: मैंने फरहान को ऐसे ही अपने सीने पर सिर रखने को बोला और 5-6 मिनट बाद मेरा लण्ड फिर से अपने पूरे जोबन पर आ चुका था। इसके बाद मैंने एक बार फिर उसकी चुदाई की और ये हमारी चुदाई में से अब तक की सबसे बेहतरीन चुदाई थी।फरहान बिल्कुल लड़की लग रहा था और अब मैं जान चुका था कि मुझे चुदाई के लिए लड़की मिल गई है. सम्पादक जूजाआपी रात को करीब तीन बजे मेरे कमरे में आई और मुझे जगा कर मेरी टाँगों के बीच बैठ कर मेरे लोअर को नीचे सरका कर मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ लिया।मैंने अपना लण्ड आपी के हाथों में महसूस किया.

इसलिए किसी को शक नहीं हुआ।पूरे रास्ते पर चलते वक्त मैंने यह काम जारी रखा और उनके पिछवाड़े को सहलाते रहा।इस सबकी वजह से मुझे एक और तरकीब सूझी. मुझे बहुत अजीब सा लगा क्योंकि मेरे लण्ड का पानी अभी भी उसके चेहरे और होंठों पर लगा हुआ था। मैं फरहान को हर्ट नहीं करना चाहता था. खेत में पानी देने।मैंने कहा- मैं अभी आया 2 मिनट में।यह कहकर मैं ऊपर चला गया और भाभी को खिड़की से देखकर लंड आगे-पीछे करने लगा।मैंने सोचा भाभी भी मस्त हैं.

और चुपके से उसकी कमर पर डाल दीं और उससे बोला- अरे अंकल जी तुम्हारे कच्छे में चींटियाँ घुस रही हैं।इतना कहकर मैंने उसका कच्छा नीचे कर दिया.

उनकी एकदम चिकनी चूत देख कर मेरे लण्ड से सलामी मार दी।मैंने उनकी चूत में एक साथ दो उंगलियां डाल दीं. मैं उनको भी चूसने लगा।थोड़ी देर बाद हम वापस मिशनरी पोज़िशन में आ गए। नीलम चाची ने अपनी पकड़ बहुत ही मजबूत कर दी।‘राहुल. मैडम मन में हँसने लगीं- अब आ रहा है लाइन पर फिर वे बोलीं- हाँ हाँ बोलो.