सेक्सी इंडियन बीएफ हिंदी में

छवि स्रोत,बीएफ मुस्लिम का

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स ब्लू सेक्सी फोटो: सेक्सी इंडियन बीएफ हिंदी में, मेरे लौड़े को अपनी चूत में पूरा ले लो और फिर ऊपर-नीचे होकर मुझे चोदती जाओ।फिर उसने ऐसा ही किया।शुरू में तो वो जरा कसमसाई.

जानवर का बीएफ हिंदी

मैं उसकी चूत में करीब 20 से 25 झटके मारने के बाद उसकी गाण्ड को तेजी से पेलने लगा।‘सपाक सपाक चटाक चटाक. हिंदी चुदाई बीएफ हिंदीपर मुझे कुछ दिन पहले ही पता चला कि ये लड़कियों के लिए काफी बड़ा है।मैं एक किराए के कमरे में रहता हूँ, मेरे साथ एक और लड़का मेरे साथ रहता है, वो जॉब करता है और सुबह 6 बजे ही अपनी ड्यूटी पर चला जाता है।उस दिन भी वो सुबह-सुबह अपनी ड्यूटी पर चला गया.

सबने खाना खाया, तब तक 10 बज चुके थे लेकिन रवि की कोई खबर अभी तक मुझे नहीं मिल पाई थी. हिंदी बीएफ हिंदी वाली बीएफकि वो मुझे चोदना चाहता है।तो उसकी दोस्त ने ज्ञान दिया- सेक्सी कपड़े पहन और फिर लौंडे की निगाहों का पीछा कर.

पायल- हाँ यार मेरा भी कुछ ऐसा ही है और सुनाओ कहाँ पढ़ती हो?कोमल तो पहले से ऐसी बातों के लिए तैयार थी। उसने अपनी चिकनी चुपड़ी बातों में पायल को फँसा लिया और जो तीर वो मारना चाहती थी.सेक्सी इंडियन बीएफ हिंदी में: हो सके तो आज रात को तुम्हारे भाई फरीदाबाद गए हुए हैं शायद ना भी आएं.

उसके साथ थोड़ी बहुत बातें हुईं।उसने पूछा- आज कौन सा डे है?मुझे कुछ नहीं पता था.पर थोड़ी देर में वो मेरे लण्ड से खेलने लगी। अब मैंने गाण्ड को मसलते हुए उसकी स्कर्ट उँची कर दी.

जिनके बीएफ - सेक्सी इंडियन बीएफ हिंदी में

और मेरे लंड का उभार भी जींस में से साफ दिख रहा था।मैंने कहा- हम कहीं पेड़ के नीचे खड़े हो जाते हैं, बारिश बहुत तेज हो गई है.एक लड़की योनि को और अपने स्तनों को चूसने मात्र से ही गरम हो जाती है।8.

पर कालेज ख़त्म होने के बाद हम लोगों ने वादा लिया कि एक-दूसरे को कभी कॉल या मैसेज नहीं करेंगे।दोस्तो, यह थी मेरी जिंदगी की एक घटना।आपको यह कहानी कैसी लगी इसके लिए आप मुझको[emailprotected]पर मेल कर सकते हैं।. सेक्सी इंडियन बीएफ हिंदी में फिर मैंने दूध पिया और काजल गिलास लेकर अपने काम में बिज़ी हो गई।मैं कॉलेज चला गया।यह स्टोरी बहुत लम्बी है.

अर्जुन ‘दे दनादन’ एनी की ठुकाई कर रहा था और वो बस सिसकारियाँ ले रही थी।करीब 20 मिनट बाद एनी की चूत लावा उगलने को तैयार हो गई- आय्य्ह आय्य्ह.

सेक्सी इंडियन बीएफ हिंदी में?

दो की तो बहन है और सन्नी आपका बेस्ट फ्रेण्ड है?पुनीत- तू ज़्यादा होशियार मत बन. पर मेरी एक नादानी मेरे मेहनत पर पानी फेर सकती थी।अब मैंने उसके दूसरे मम्मे पर हाथ मारा और दाएं हाथ से उसकी गाण्ड मसलने लगा। अब वो गरम होने लगी थी। मैंने उसके हाथ को मेरे लोवर में घुसा दिया। कुछ देर तक उसने कुछ नहीं किया. फिल्म देखो।मैंने कहा- मैं फिल्म से ज़्यादा अच्छी चीज़ देख रहा हूँ।वो मुस्कुराने लगी।फिर मैंने उसे प्रपोज कर दिया.

इसलिए मैंने अपने और उसके सारे कपड़े उतार दिए।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !अब मेरा लौड़ा उसके सामने आजाद था। एक बार तो वो मेरा इतना बड़ा और मोटा लंड देख कर डर गई. इस चूत की भूख जिसमें दोनों बातें छिपी हैं एक तरफ तो चूत को लण्ड की भूख छिपी होती है और दूसरी तरफ लण्ड को चूत की भूख लगी होती है. बस थोड़ा सहन करो।अब उन्होंने मुझे चोदना चालू कर दिया और मेरा दर्द भी धीरे-धीरे गायब होने लगा। मैं भी अपनी गाण्ड उछाल-उछाल कर उनका साथ देने लगी, हर झटके पर मेरे मुँह से ऐसी आहें निकल रही थी ‘उम्म्म्मम.

प्लीज जल्दी से इसे अन्दर-बाहर करो।मैंने उसकी जाँघों को अपने कन्धों पर रखा और उसकी चुदाई शुरू की। कुछ देर बाद वो अजीब-अजीब आवाजें निकाल रही थी ‘आहह आए. कि मैं बहुत देर तक काजल की गाण्ड मारता रहा। गाण्ड मारने में ही मैं झड़ चुका था और मैंने अपना पूरा माल काजल की गाण्ड में छोड़ दिया।उस वक़्त मेरे पास आइपिल की गोली नहीं थी. ‘तुम्हारा घर किधर है?’उसने मुझे अपने घर का पता बता दिया। मैं अपने दोस्त के साथ उसके घर पास पहुँचा.

सन्नी- अब सब चुप रहो और अर्जुन तुम पायल का आख़िरी कपड़ा निकाल कर गेम को पूरा करो. यह कहानी यहाँ पर खत्म नहीं होती, यह तो बस शुरूआत है।और एक बात दोस्तो, मैंने स्वाति को चोदते समय पूरी नंगी नहीं किया.

बहुत तेजी से ‘हैंडवर्क’ देने लगी। अब मैं भी आँखें बंद करके बैठ गया.

उसने चूत चटवाने से मना कर दिया।आप तो बस जल्दी से मुझे अपनी प्यारी-प्यारी ईमेल लिखो और मुझे बताओ कि आपको मेरी कहानी कैसी लग रही है।कहानी जारी है।[emailprotected].

वो वैसे ही लेटा रहा, मैं लंड को आंड तक मुंह में लेकर चूस रहा था।2 मिनट तक चूसने के बाद उसमें तनाव आना शुरु हुआ और देखते देखते उसका लंड 8. तो सोनी मेरे बिस्तर पर आ गई।हम लोगों ने करीब दस बजे तक पढ़ाई की।उसके बाद सोनी बोली- मुझे नीद नहीं आ रही है. इस तरह लंच के टाइम वो मुझे अपना फोन दिखाने लगी कि उसकी एक सिम से फोन नहीं मिल रहा है।मैंने सारी सैटिंग चैक की.

’अब मुझसे सब्र नहीं हो रहा था, मैंने झट से उसकी सलवार उतार दी।अब वो मेरे सामने सिर्फ पैन्टी में थी, मैंने उसकी पैन्टी भी उतार दी।वाह क्या कहूँ. बीच-बीच में मैं उसके मम्मों को भी चचोरता जा रहा था और उसके गुलाबी चूचुकों को दाँतों से कभी-कभी कुतरता भी जा रहा था।मेरे मुँह में एक चूचा था. मैं समझ गया, मैंने उसको लिटा कर मोर्चा संभाल लिया।उधर नीचे लंड को धीरे-धीरे आगे-पीछे करता रहा.

उसने अपना लौड़ा मेरी गाण्ड के छेद पर टिकाया और एक ही झटके में आधे से ज्यादा अन्दर घुसेड़ दिया और मेरी कमर कस कर पकड़ कर फिर और एक धक्का मार कर अपना लौड़ा पूरा का पूरा मेरी गाण्ड में ठूंस दिया। मैं कुछ कराही.

और थोड़ी देर के बाद वहाँ से चल दिए।यह थी मेरी गाण्ड मारने की स्टोरी. तो वो तुम्हारे साथ मेरी भी खाल उधेड़ देंगी।इतना कहने के बाद वो थोड़ी भड़क सी गई थी।फिर से बोली- देखो जितना मिलता है उतने में खुश होना सीखो और राज़ी हो जाओ. देखते ही मेरा लौड़ा खड़ा हो जाता है।वो बहुत कम बार ही सलवार सूट पहनती है.

तो भी दो इंच से बड़ी नहीं होती। उस चूत की ओपनिंग करने के लिए आराम से चोदना पड़ता है। अगर जबरदस्ती वो चूत बड़े लंड से चोदी जाए. लेकिन मैं उसको चूमते हुए उसकी चूचियों को चूसते हुए चोदता रहा। उसकी कुंवारी चूत इतनी तंग थी कि मेरा लंड उसकी गर्मी बर्दाश्त नहीं कर पा रहा था और एकदम से मुझे लगा कि मैं झड़ जाऊँगा।मैंने जल्दी से अपना लंड उसकी चूत से निकाल लिया और उसके पेट पर अपना पानी गिरा दिया।उसकी चूत से बड़ा हल्का सा खून निकला था. वो रोती रही।दस मिनट बाद मैंने सारा वीर्य उसकी गाण्ड में ही छोड़ दिया और बिस्तर पर उसके ऊपर पड़ा रहा।कुछ देर बाद हम अलग हुए.

फिर वो उसी अवस्था में धीरे-धीरे मेरे खड़े लण्ड पर ऊपर-नीचे होने लगी।मुझको यह पोजीशन बहुत अच्छी लगती है।अब प्रियंका को दर्द कम और मजा ज्यादा आने लगा और वो अब अपनी चूत में पूरा लण्ड लेने लगी।मेरे लण्ड पर उचकते हुए मुझे भी मजा देने लगी.

और ना ही उसके बस में था।पूजा सलवार तो उतार चुकी ही थी सो मैंने भी देर ना करते हुए उसकी पिंक कलर की पैन्टी को नीचे खींच दिया।अब हम दोनों नीचे से बिल्कुल नंगे हो गए थे और मैंने अपना लंड चूत पर रगड़ना शुरू कर दिया।इससे पूजा सिसकारियाँ लेने लगी ‘आहहाअ. या ज़्यादा लंबा मोटा लंड लिया नहीं था।मैंने पूछा तो वो बोली- हाँ 6 महीने हो गए.

सेक्सी इंडियन बीएफ हिंदी में दनादन’ चोदने लगा।मेरी चूत सूखी होने के कारण मुझे दर्द हो रहा था पर कुछ ही मिनट में वो झड़ गया।उसने अपना पानी मेरी चूत में ही डाल दिया।मैंने सोचा ये अब नहीं करेगा. आनन्द के मारे मेरी आंखें बंद होने लगीं थीं और मेरे शरीर का भार प्रवीण की ओर झुकता जा रहा था। मेरी गर्दन पर उसकी गर्म सांसें आकर लग रही थीं जिससे उसका मुझसे सटे होने का अहसास मेरी अन्तर्वासना की आग में घी का काम कर रहा था।अगले स्पीड ब्रेकर पर से बाइक गुजरी और प्रवीण ने अपनी गांड उकसाते हुए अपनी जिप का हल्का सा झटका मेरे चूतडो़ं पे मारा, मेरी धड़कन थोड़ी सी बढ़ गई.

सेक्सी इंडियन बीएफ हिंदी में लेकिन मेरे मन में तो कुछ और ही था।उसके 5 मिनट बाद मैंने उसे उल्टा किया. अब दूसरी बार मैं आप मुझे पैन्टी निकालने को कहोगे यही ना?यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !पायल ने यह बात जल्दी से बोली.

मैं- हाँ जान जैसा तुम बोलो।फिर वो 15 मिनट तक मुझको किस करती रही और इस बीच उसने कब मेरे सारे कपड़े उतार दिए.

सक्से क्सक्सक्स

मेरे ‘हाँ’ करते ही उसने मुझे उल्टा लेट जाने को कहा और उसके तेल से सने हाथ अब मेरी गाण्ड में घूमने लगे और मेरी गाण्ड के छेद की अच्छे से मसाज करने लगे।मैं कुतिया जैसा बन गया. बहुत प्यारा माहौल है।फिर दीपक ने मुझे अपनी बाँहों में भर लिया और बोला- तू मुझे छोड़ कर कहीं मत जाना. और उसके मार्क्स भी अच्छे आए थे।रिजल्ट के बाद ऋतु मेरे पास आकर बोली- तुम्हारी वजह से मेरे मार्क्स बहुत अच्छे आए हैं जिसके लिए मैं तुम्हें तुम्हारी फीस देना चाहती हूँ।इतना कहते ही उसने मुझे किस करना शुरू कर दिया.

अंकल ने अम्मी की सलवार के नीचे से अम्मी की गाण्ड को दबा दिया। अम्मी ने अपनी टांग कुर्सी पर रख दी. वो थोड़ा सेडक्टिव था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैं वापस आया और रात को उसी के बारे में सोचते-सोचते सो गया।सवेरे उठकर जल्दी तैयारी की और मार्केट निकल गया. इसलिए मैं चाहता हूँ कि इस घर के बारे में तुम्हें सब कुछ जानना चाहिए और मुझसे भी तुम्हें कोई झिझक न रहे।मैंने कहा- हाँ.

जो बहुत बढ़िया लोग थे। कुछ साल पहले ही उनकी शादी हुई थी। हमारे दोनों परिवार के बीच काफी घनिष्ठता थी। मैं उन लोगों को भईया और भाभी कहता था। मेरे इन भाई साहब की ससुराल भी उसी शहर में थी.

जिससे मेरी और ऋतु की आँखों में चमक आ गई थी।भाभी भी समझते हुए वहाँ से एक सेक्सी मुस्कान देकर चली गईं. पर वो मेरे ऊपर से उठ गए और बगल में लेट गए।मैंने उनसे पूछा- क्या हो गया आपका?तब वो बोले- नहीं, अब तुम ऊपर आ जाओ और चुदो. आपको ये मेरी कहानी कैसी लगी बताने के इमेल कर सकते हैं।[emailprotected].

और ऐसी राह पर चल पड़ा जिससे लौटना अब मेरे लिए नामुमकिन हो चुका है।आपका अपना अंश बजाज. आधे घन्टे बाद ही मेरा लण्ड फिर से सलामी देने लगा।मैं उसके ऊपर आकर किस करने लगा और मम्मों को सहलाता रहा।अब मैं नीचे आया और उसकी चूत को पीने लगा।वो बोली- चूत मारने की मत सोच. लेकिन सपन कुछ जिद सी कर रहा था।फिर मॉम ने उससे एक पप्पी दी और वो किचन से एक संगीता को गिलास देने को बोला।मॉम ने बोला- क्या करोगे?तो उसने अपनी पॉकेट से दारू की बॉटल निकाल ली। मॉम ने हँसते हुए एक गिलास में कोल्ड ड्रिंक डाल दी। सपन अपने लिए पैग बनाने लगा।फिर उसने बोला- मेरी जान आज तुम्हें भी थोड़ा पीना पड़ेगा।मॉम बोलीं- नहीं.

लेकिन ज़्यादातर मुंबई में ही रहती थीं।नीचे का एक बेडरूम मेरा था और एक बेडरूम मेरी बहन का था. अब बातें ही करेगा या यहाँ से चलेगा भी?टोनी- तुझे बड़ी जल्दी पड़ी है वहाँ जाने की.

तो उसने कहा- खुद ही नाप कर देख लो। फिर न कहना कि मैंने गलत बताया।मेरी तो जैसे लाटरी निकल आई। लेकिन हम दोनों चाहकर भी अभी कुछ नहीं कर सकते थे. (उसने यह बात बाद में फोन पर बताई थी)फिर आयशा थोड़ा शरमाई और ढीठपन के स्वर में बोली- चल. क्योंकि आज मेरा बर्थ-डे है और मैं इस दिन को और यादगार दिन बनाना चाहती हूँ। आज मेरी दोस्त की वाइल्डनैस को आपने देखना है और उसको बस संतुष्ट करना है।ये सब कह कर उसने हम दोनों को एक-एक किस कर दी।अब सिमरन भी आ गई और उसने सारा सामान टेबल पर सजा दिया। मैंने और संजय ने केक के ऊपर मोमबत्तियां लगा दीं.

आज सौम्या को पता चलने वाला था क्योंकि दोषी का चोदने का तरीका बड़ा ही भयंकर था।मैंने आशीष से कहा था- पहली बार सौम्या को पेल रहे हो.

लेकिन मैंने उससे सीधे लेटते ही अपना पैर उसकी जाँघों पर रख दिया और उसको दबोचे रखा।फिर से मैंने उसके मम्मों को दबाना चालू किया और इस बार ज़ोर से दबाना और मसलना जारी रखा।मैंने देखा वो बार-बार अपनी जीभ होंठों पर फिरा रही थी और ज़ोर-ज़ोर से साँस ले रही थी। मैंने देखा कि ज़ोर से दबाने के कारण उसका टॉप आधे पेट तक आ गया है. मुझे कुछ समझ में ही नहीं आ रहा था कि क्या बोलूँ।मैंने बोला- यदि मैं कुछ उल्टा-सीधा बोल दूँगा. यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !घुडचढ़ी कुछ देर बाद खत्म हुई और बारात की तैयारी होने लगी।सब लोग अपनी गाड़ियों में बैठ गए और बाराती जाने लगे.

अकरम अंकल को गाण्ड मारने का शौक था, उन्होंने धीरे से लण्ड गाण्ड में डाल दिया और अम्मी मस्त हो गईं. दनादन’ पेलने लगा।करीब 30 से 40 झटके मारने के बाद मेरा बदन अकड़ सा गया।मेरे हाथ.

और दूसरे चूचे को अपने हाथ से खूब ज़ोर से दबा देता। नीचे मेरा लण्ड अपने आप ही अपना काम कर रहा था। मैं धक्के मार रहा था और वो अपनी गाण्ड ऊपर-नीचे कर रही थी।मैंने झड़ते समय अपना सारा वीर्य उसके पेट पर फेंका. लेकिन क्या करूँ मजबूर हूँ बगैर ऐसा किए हमारी ज़िंदगी में खुशी नहीं आ सकती।वैसे भी अब अक्सर मैं उन्हें सताती रहती हूँ. और लिंग पकड़ कर सुपारे को योनि में घुसा लिया।फिर मैंने उनके चूतड़ों को दोनों हाथ पीछे ले जाकर खुद को एक टांग से सहारा देकर अपनी योनि उनके तरफ धकेला.

आंटी सेक्सी वीडियोस

तुम्हें भी मालूम है कि मैं क्या कर रही हूँ।मैंने कहा- नहीं आंटी गलत है ये.

मैंने मसलना छोड़ दिया और उसे चूसने लगा, अब रिया सिसकारने लगी और मैंने बारी-बारी से दोनों चूचे खूब चूसे।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !करीब 20 मिनट तक चूचे चूसने के बाद. तो मैंने धीरे से अपना हाथ उसकी कमर पर रखा और धीरे से उसके नज़दीक जाकर एक ‘लिपकिस’ कर दिया।वो एकदम से थोड़ा दूर हटी और कहने लगी- पहले दरवाजा तो बन्द करो. लौड़े का रस गाण्ड के छेद से निकल कर थोड़ा सा माल गिराता हुआ उसकी चूत में जा रहा था.

वो घोड़ी वाली पोजीशन थी।मैंने दिव्या को पहले घोड़ी बनाया और उसे ऐसा ही रहने को कहा।फ़िर मैंने पूछा- मैं कैपरी तो खोल लूँ. सुपारे को धीरे-धीरे मुँह में लेने लगी।बस 5 मिनट में ही पायल पूरा लौड़ा ‘गपागप’ मुँह में लेकर चूसने लगी। साथ ही साथ आंडों को भी हाथ से सहला रही थी।अर्जुन- चूस साली रंडी आह्ह. 48 सेक्सी बीएफतो मैंने अपने लण्ड का सुपारा उसकी चूत के मुँह पर रखा और गोल-गोल फेरने लगा।दोस्तो, इतना सब होने के बाद भी वो मुझसे एक लफ्ज़ भी नहीं बोली.

क्योंकि आपको तो पता ही है कि क्या होने वाला है।पिछली बार मेरी चुदाई और झांटों की शेविंग का अनुभव कैसा लगा. क्या करूँ हाथ से ही काम चला लेता हूँ।फिर वो बोली- चल आज के बाद तुझे हाथ से काम करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।इतना बोलते ही उन्होंने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए और चूसने लगी।मुझे बहुत मजा आने लगा, काफ़ी देर तक हम एक-दूसरे के होंठों को चूसते रहे।मैंने उनके ब्लाउज़ के हुक खोल कर उनके चूचियों को आज़ाद कर दिया।पम्मी आंटी की मोटी-मोटी चूचियों को देख कर ऐसे लग रहे थे.

तब जाकर उन्हें आराम हुआ और वो ठीक हो पाए।आज ज़िंदगी में पहली बार वो मुझसे इतना खुश थे कि बताना मुश्क़िल है, वो बोले- आज तुमने मेरी सबसे बड़ी तमन्ना पूरी की है।अब उनका नेचर मेरे साथ पूरी तरह से बदल चुका था, वो मुझे इतना प्यार कर रहे थे. वरना घर में लोग तरह-तरह के सवाल करेंगे।पर उन्होंने मेरी योनि को चूमते हुए कहा- अभी तो मजा आना बाकी है. फिर सोनिया पूरी तरीके से गरम होकर बोली- अमित अब डाल भी दो लण्ड को मेरी चूत में.

एक-दूसरे की जीभ को निशाना बनते रहे।मैंने उसकी नीचे वाली होंठों को दांत से काट लिया, उसके मुँह से सिसकारी निकल गई. मैंने उसकी कई पिक्स देखी हैं और कई बार छोटी मोटी मुलाकातें भी हुई हैं।लेकिन मैम को भी कुछ समझ नहीं आया और वो थोड़ा अटपटा सा. कुछ ही दूर पर मेरे दोस्त अजय की भी फैक्ट्री है। हम दोनों पार्टनर भी हैं।एक दिन अजय के ऑफिस में मेघा नाम की लड़की को कंप्यूटर ऑपरेटर की नौकरी पर रखा गया। एक हफ्ते बाद पता चला.

तो उसने साफ़ मना कर दिया।मैंने भी कुछ ज्यादा ज़ोर ज़बरदस्ती नहीं की और खुद ही 69 की पोज़िशन में उसके ऊपर आकर उसकी चूत चाटने लगा.

फिर उसी होटल में एक रूम बुक किया और कमरे में चले गए।जैसे ही मैं कमरे में अन्दर गया तो सबसे पहले उसने मुझे गले लगाया। फिर कम से कम 10 मिनट हम एक-दूसरे के होंठों को चूसते रहे।मुझे मेरा लंड आज से पहले कभी इतना ज्यादा टाइट नहीं लगा था।फिर मैंने उसको बिस्तर पर पटका और उसकी कमीज को उतार दिया। कसम से दोस्तों. अपना वही हाथ मेरी जीन्स के अन्दर डालना शुरू कर दिया। मैंने पहले से ही अपनी बेल्ट ढीली कर ली थी.

जैसे वो मुझे चोदने आई है।उसने तुरंत मेरी जीन्स की ज़िप खोली और मेरा लंड बाहर निकाल लिया. ये देख तेरी बुआ के दूध कितने बड़े हैं। मुझे उन पर गुस्सा आता है।राकेश- देख अवि. दिल वाला ही समझ सकता है। मगर लगता है कि अब लड़कियों और भाभियों ने कहानी पढ़नी कम कर या लगता है कि जैसे पढ़ना ही बंद कर दी है.

मैंने उससे कहा- क्या मैं तुम्हारे मम्मों को देख सकता हूँ?वो थोड़ा शरमाई. और वो इसी उत्तेजना में अपनी चूत ऊपर को उठा रही थी।मैं भी अपनी उंगली से उसकी चूत की चुदाई तेज करते हुए उसके दाने को बहुत तेज से चूसने लगा. उनका नाम राजू है और उनका घर गाँव से थोड़ा बाहर है।एक बार हमारा टयूबबैल खराब हो गया.

सेक्सी इंडियन बीएफ हिंदी में तो मैंने एक ही झटके में पूरा लण्ड उनकी चूत में डाल दिया।वो चीख पड़ीं- आआअहह. कल दाग देने जाना है।तो जब शाम की तैयारी करने लगे। मेरी सभी बुआएं और चाचियाँ मुझसे बातें करने लगीं कि और कैसा है.

सेक्सी बीएफ एचडी वीडियो देहाती

और उधर आयशा ने भी गुस्से और जलन में अपनी बीच की उंगली उसकी गाण्ड में पेल दी. मैंने सड़क पर गाड़ी साइड लगा कर रोकी और झुक कर उसकी चूचियों से दुपट्टा हटा दिया।विलास अपने दोनों हाथों से उसकी दोनों चूचे सहला रहां था और उंगली के पोर से निप्पल को छेड़ रहा था।मैंने झुक कर अपनी तरफ वाली चूची को देखते हुए उसकी तरफ अपना मुँह बढ़ाया. सच कहूँ तो इतना मजा जीवन में पहली बार आ रहा था। मैंने उसकी लैगी के अन्दर एक हाथ डाल दिया और उसकी प्यारी चूत पर फिराने लगा।एक उंगली उसकी चूत के अन्दर-बाहर करने लगा.

मैं डॉक्टर को बुलाता हूँ।तो उसने कहा- नहीं सिर्फ़ दर्द की गोली ला दो. नहीं तो ऐसी हालत हो जाएगी जिसे तुम सोच भी नहीं सकते।टोनी- अच्छा इतना घमण्ड है तेरे को अपने भाई पर. बोलो बीएफ बीएफउनकी आँखें बंद थीं और धीरे-धीरे उनका लिंग मेरी योनि के भीतर सिकुड़ कर अपनी सामान्य स्थिति में आ गया।हम दोनों कुछ देर यूँ ही पड़े रहे.

’और मैं धक्के पे धक्के दिए जा रहा था।कुछ ही देर में मैंने उसका घोड़ी बनने को बोला और वो तुरंत रेडी हो गई।क्या मस्त मोटी गाण्ड थी उसकी.

ये तो किस्मत ने पहले ही लिख लिया था। उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली- तुम्हारा हाथ तो लड़कियों की तरह गोरा है।इस पर मैं हँस पड़ा. मगर तुम लोग तो अकेले ही जा रहे हो।अर्जुन की बात सुनकर सब ठंडे पड़ गए कि ये क्या हुआ.

जाहिर सी बात है कि मुझे भी लड़कों में रुचि है तो मेरी जिंदगी में भी कुछ ऐसी घटनाएं हुई हैं जो अंतर्वासना के पाठकों के साथ मैं शेयर करना चाहूँगा. दर्द कम नहीं हो रहा है और चलने में भी दिक्कत हो रही है।बस दोस्तो, मैं उसके साथ बस एक बार ही चुदाई कर पाया. जिससे उसको और मुझको दोनों को आसानी हो गई।अब मैं अब उसकी तेजी से चुदाई करने लगा।लण्ड के अन्दर-बाहर जाने की आवाज.

फिर हमने सोने की तैयारी कर ली।मैंने पूछा- मैं कहाँ पर सोऊँगा?भाभी ने कहा- हम दोनों एक ही बिस्तर पर सो जाते हैं।मैं चादर के अन्दर मुँह करके मोबाइल पर अन्तर्वासना डॉट कॉम पर भाभी-देवर की चुदाई की स्टोरी पढ़ने लगा.

भैया ने फिर आवाज़ लगाई- अरे कहाँ रह गया?मैं हड़बड़ाकर बोला- आया भैया. पर अभी मैं पुणे में इंजीनीयरिंग कर रहा हूँ। अभी मैं 21 साल का हूँ।मैं एक मराठी मानुस. लेकिन कभी भी उसको यह एहसास नहीं होने दिया कि मैं फिर से उसको चोदना चाहता हूँ।अपने ईमेल जरूर भेजिएगा।[emailprotected].

देहाती बीएफ एचडी सेक्सएक साथ दो लंड मेरी गाण्ड और चूत में घुसा देते हैं। दर्द भी बहुत होता है. मैं सिस्टम के सामने बिल्कुल नंगी बैठी अपने मुसम्मियों और अपनी चूत को रगड़ने लगी और बहुत ज़्यादा गरम हो गई।चुदास की मस्ती से मेरा सारा जिस्म काँप रहा था और मैं पसीने से लगभग गीली हो गई थी।अभी मैं सेक्स में पूरी तरह डूबी भी ना थी कि इसी दौरान डोरबेल बजी.

सेक्स वीडियो नंगा सीन

सो हम लोग ये सब सहन कर गए।इस तरह हम दोनों जेल जाने से बच गए और हम एग्जाम देकर खुशी-खुशी अपने कमरे पर लौट आए।आप सब अपने ईमेल जरूर लिख भेजिए।[emailprotected]. मुझे तो रोज थका देता है। कभी-कभी लगता है कि कोई उसे मेरे साथ शेयर कर ले. तो लगा कि उसकी गाण्ड अभी भी टाइट ही थी।मैंने एक उंगली डाल कर निकाल दी.

रात भर मैं उसको प्यार करता रहा।जिस रवि की एक छुअन के लिए सैकड़ों लड़कियाँ तरसती हैं, वो मेरी बाहों में था. आप ही आ जाओ।मैं भी अब रोमांटिक मूड में आ गया था ‘भैया तो बहुत मजे लेते है न. मुझको दिया और धीरे से मेरे लण्ड मेरी जीन्स के बटन को और ज़िप को खोलकर बाहर निकाल लिया।मेरी आदत है.

किसी कुंवारी लड़की के साथ करते समय सिर्फ एक उंगली ही डालना। नहीं तो. मैं इसे भेजता हूँ।उसके जाने पर मैंने उसे कमर से टाइट पकड़ कर गोदी में उठा लिया और कहा- चल अब ऊपर जा।वो भी मना करने लगी. मेघा को फैक्ट्री घुमाने के बाद मैं ऑफिस में ले गया। जिस समय मेघा टॉयलेट की टाइल देख रही थी.

कुछ देर बाद मैं पढ़ने में इतना मस्त हो गया कि समय का पता ही नहीं चला और जब मैं उठा तो शाम हो चुकी थी और डिनर का टाइम हो गया था।डिनर के वक़्त मैं काजल को देखकर छोटी सी स्माइल दे रहा था. फिर सविता भाभी तालाब से बाहर निकल गई तो मैं भी नंगा ही बाहर आ गया और ऐसे ही खड़ा हो गया।भाभी ने मेरे लंड को देखकर कहा- आज इसने मेरी तन की आग बुझाई.

मुझे खुद मालूम ही नहीं चला।मैंने एक छोटी उंगली अपनी चूत में डाल ली.

वो बोली- अन्दर ही निकाल दो।फिर मैंने अपना रस उसकी चूत के अन्दर ही छोड़ दिया और उसके ऊपर ही लेट गया।उसने मुझे किस किया और बोली- जान तुमने आज बहुत मजा दिया. भैया का बीएफ’ उनकी उदास सी आवाज आई।मैंने कहा- उनकी जगह मैं होता तो एक भी रात न जाया करता और पूरी रात आपकी चूत से लंड न निकालता. 18 साल की लड़की का सेक्सी वीडियो बीएफउसके मम्मों को हाथों से मसलने लगा।एनी भी अब समझ गई थी कि बातों से कुछ पता नहीं लगेगा. इसलिए अब हर शख्स में मैं उसी को ढूंढ़ने की कोशिश करता हूँ…खैर आज मैं आपको अपनी ज़िंदगी का दूसरा वाकया बताने जा रहा हूँ जब मैं किशोरावस्था में था.

फिर मैंने दूध पिया और काजल गिलास लेकर अपने काम में बिज़ी हो गई।मैं कॉलेज चला गया।यह स्टोरी बहुत लम्बी है.

अब मुझसे भी नहीं रहा जाता।’मैं तुरंत उठ कर उसकी टाँगों के बीच में आ गया. जिसने कुछ महीनों पहले एक बदला लिया था और आज मैं उसे ही बिना कपड़ों के देख पा रहा हूँ।उसने मुझसे कहा- अच्छी तरह से मुझे नहलाओ।मैंने गरम पानी का शावर चालू कर दिया और शमिका को पूरा गीला करने के बाद बॉडी वॉश उठाकर उसके बदन पर मलने लगा।उसका बदन सचमुच एक संगमरमर की तरह था। उसका जिस्म मुलायम तो इतना अधिक था कि हाथ फिसल जाए और कपड़ों को गोंद लगा कर ही पहनाया जाए. इसलिए मुझे पता है कि इसकी आग सिर्फ़ लौड़े से ही बुझेगी।बस फिर क्या था.

जिन्हें मैं जल्द ही अगली कहानी में लिख कर भेज रहा हूँ।आपको यह कहानी कैसी लगी. बस उनकी सेक्सी मूंछों और छाती के बारे में ही सोच सोच कर मुठ मार लेता था. मैंने उसको घुमा दिया और पीछे से कमर से पकड़ लिया, उसकी मोटी गाण्ड दबाने लगा।मैंने कहा- वाह जान.

चुदाई देसी चुदाई

मैंने उसकी तरफ देखा जैसे मैंने उसकी मांग को सुना ही नहीं तो उसने अपनी चूत को सहला कर कहा- मुझे चोदो न. मैं उसकी गाण्ड में आधा लण्ड घुसा कर चोदने लगा। वो दर्द से कराह रही थी और मुझसे लण्ड निकालने की रिक्वेस्ट करने लगी।उसकी आंखों से आँसू आ गए।मैंने अपना लण्ड बाहर निकाला और उसकी गीली चूत पर टिका दिया और एक झटके में पूरा लवड़ा चूत में घुसा दिया और चोदने लगा।मैं उसे लगातार चोदे जा रहा था और वो भी मेरा साथ दे रही थी।फिर वो झड़ गई. आइसक्रीम खाई और मैं उसे उसके घर से थोड़ा दूर छोड़ आया।उसका दूसरे दिन फ़ोन आया, वो बोल रही थी- थैंक्यू.

तभी कोमल मेरे कमरे में आई और बोली- भैया, आपका कमरा बहुत गंदा हो रहा है.

जो उसे मज़ा देने लगा। मैंने लण्ड पर अपना मुँह आगे-पीछे करने की स्पीड मज़ीद बढ़ा दी.

उसके बाद मैं तुझे बताऊँगा कि असली मर्द की चुदाई कैसे होती है।बहुत देर तक पायल लौड़े को चूसती रही. तो सनडे को इनके घर होने पर भी तुमको कॉल करने का रिस्क ना लेती। यह प्यार ही था. मोती मोती बीएफबता कहाँ जा रहा है?मैंने घबराते हुए कहा- सर दिचाऊं गांव जा रहा हूँ.

कोई ना कोई सामान ढूँढने को लेकर मेरे कमरे में ज़रूर आ जाते थे।उसके बाद मैं नोटिस करती थी कि मेरी ब्रा-पैन्टी मेरे रखे हुए जगह पर नहीं मिलती थीं, वो थोड़ी बहुत इधर-उधर ज़रूर रखी मिलती थीं।मैं भी जानती थी कि ये भैया का काम है. जिसने मुझे एक नई दुनिया दिखाई।मैंने अपनी 23 साल की शादीशुदा जिंदगी से बाहर कभी सेक्स नहीं किया था. तब उसने भी मुझे ‘आई लव यू टू’ कहा।फिर मैंने उसे बताया- जब मैं स्कूल में गणित का पेपर देने गया था.

अपनी टी-शर्ट के नीचे से ब्रा निकाल कर फेंक दी, अब वो अपने गोल-मटोल भारी भरकम मम्मों को टी-शर्ट के अन्दर से ही मेरे सामने हिलाने लगी।मैंने देखा कि उसके निप्पल भी पूरी तरह खड़े हो चुके थे. क्योंकि ऊपर से मैं बिल्कुल नंगी थी।अब मेरे जिस्म पर बस पेटीकोट और उसके नीचे अभी नहीं बताऊँगी.

प्रिय पाठको, मैं अंश बजाज अपनी कहनी के अंतिम चरण की ओर बढ़ते हुए चौथे भाग के साथ आप सब के बीच में फिर से हाजिर हूँ.

उसकी चूत में साबुन लगाने लगा। मैंने साबुन से ही उसकी क्लिट को भी थोड़ा रगड़ दिया. इस तरह बातें करते हुए हम दोनों साथ में टहलने लगे।यह सिलसिला अगले 5-7 दिनों तक चलता रहा. जिससे फरहान को बहुत मज़ा आने लगा और इस मज़े की आड़ में ही मैंने अपनी दूसरी फिंगर भी फरहान की गाण्ड में दाखिल कर दी।मैंने फरहान को अपनी दो उंगलियों से चोदना शुरू किया, वो एकदम चिल्ला उठा।‘नहीं.

बीएफ चुदाई फिल्म चुदाई तो मैंने उस साँवली सी आंटी को चाय दी और साथ ही सुधा को भी चाय पकड़ा दी।सुधा बोली- ऋतु ये हैं शांति जी. वो अकड़ सी गई और झड़ गई उसकी गरमी पाकर कुछ देर बाद मैं भी झड़ गया।दोस्तो.

देखा तो पापा का कॉल था।वो बोल रहे थे- आज रात इधर बारिश बहुत तेज हो रही है. उसका हथियार लोहे जैसा तप रहा था और मैं उसे बेतहाशा चूसे जा रहा था।उसने पेंट पूरी निकाल दी थी और अब वो मर्द मेरे सामने घुटनों तक आ चुकी फ्रेंची में नंगा लेटा हुआ अपना 9 इंच का लौडा मुंह में पेले जा रहा था।एकाएक उसने सिरहाने पड़ा तकिया उठाया और अपनी कमर के नीचे रख दिया जिससे मेरी नाक उसकी बालों भरी गांड में जा घुसी और होंठ उसकी गांड के छेद पर. अब उनको शायद मेरे गिरने वाले नाटक का पता लग गया और अनजान बनकर बोले- अंश यार, ये साबुन का पानी जो फर्श पर फैला है इसे साफ कर दे!मैं झाड़ू और डिब्बा लेकर पानी डालने लगा.

बीएफ मूवी सेक्सी हॉट

पर मैंने खुद को संभाला और उससे कहा- तू भी किसी परी से कम नहीं दिखती है अदिति।मैंने चुम्बन करना चाहा. वो अभी भी सिसक रहे थे और रो रहे थे। सच ही है अगर 4 घन्टे तक लगातार किसी की गाण्ड मारी जाए तो सोचिए क्या होगा।अब मुझे भी बुर चुदवाने की ज़रूरत थी लेकिन इनकी हालत इतनी खराब थी कि फिलहाल यह सम्भव नहीं दिख रहा था। वैसे भी रात के एक बज गए थे। मैंने भी कमरे में फैले अपने यूरिन को साफ़ किया और सुबह 5 बजे का अलार्म सैट करके सो गई।सुबह 5 बजे मेरी नींद खुल गई। मैंने देखा कि मेरे पति नंगे ही सोए हुए हैं. तो मेरा लण्ड आधा उसकी चूत में घुस गया।शायद वो पहले भी किसी से चुद चुकी थी.

लंड का टोपा अन्दर चला गया और कोमल की दर्द से हालत खराब होने लगी।मैं भी एक बार को घबरा गया. लेकिन सपन के बार-बार कहने पर वो नीचे बैठ गईं और सपन की पैंट को खोल दिया।सपन ने जैसे ही अपना अंडरवियर उतारा.

’ज्योति ने मुझे समझाया कि मान लो अगर तुम किसी लड़की को पसंद करते हो तो तुम भी कोशिश करोगे उसके करीब जाने की.

तो देखा अब रिया सीना चौड़ा करके सोई थी।टीवी की कम रोशनी में भी उसके मम्मों इतने चमक रहे थे कि मेरी आँखें रोशन हो गई। मैंने एक और कोशिश करने की सोची। फिर से एक बार दुबारा मम्मी को देखा और अपना हाथ वैसे ही ले जाने लगा। मैंने उसके सूट के ऊपर से ही उसके मम्मों को हल्का सा सहलाया. मैंने उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया, उसने भी मेरा पूरा साथ दिया।फिर क्या था. उस रात मैं और मेरी बहन एक ही बिस्तर पर सो रहे थे। वो पिछली रात भी मेरे साथ अकेले इसी बिस्तर पर थी.

उसने एकदम से मॉनिटर ऑफ कर दिया और हमने साथ में चाय पी।मैं थोड़ा डरा हुआ था क्योंकि मेरी चोरी पकड़ी गई थी और मैं चुप था।तब उसने पूछा- बाकी सब कहाँ गए हैं?मैंने उसे बताया- सभी किसी शादी में गए हैं और शाम तक लौटेंगे।उसने मुझे बताया कि वह भी घर पर अकेली थी और घर वाले शाम तक आने वाले थे मुझे अकेले ठीक नहीं लग रहा था तो तुम्हारे पास आ गई।‘हाँ. और कमरे में चले गए। वहाँ जाकर पायल ने कहा कि उसको भूख लगी है तो पुनीत कुछ फ्रूटस ले आया और दोनों मज़े से बैठ कर खाने लगे।पुनीत- पायल अब तो तुम पूरी खुल गई हो. वो- हाँ अन्दर से बहुत बड़े हैं 32 के हैं तुम जब चूसोगे तो 36 के कर देना।‘कब चुसवाओगी?’‘हाँ जानू.

तो मैंने एक महिला को ट्रक वाले को हाथ से लिफ्ट मांगते देखा।चूँकि मैं पीछे था और ट्रक वाले ने ट्रक नहीं रोका।मैंने रात होने की वजह से तुरंत कुछ सोचा और उसकी सहायता करने के लिए अपनी बाईक रोक दी।मैंने उसके पास बाइक रोकते हुए पूछा- कहाँ जाना है?पर जब उसने जवाब दिया तो समझ में आया कि मेरे सामने एक हिजड़ा साड़ी पहने हुए खड़ा था, वो बोला- मुझे शहर तक लिफ्ट दे दो.

सेक्सी इंडियन बीएफ हिंदी में: तो मैंने भी उसकी चूत पर पहला हमला कर दिया।वो पहली धक्के में ही चिल्ला पड़ी. सुधा एक हाथ में जूस लेके आई और मेरे सिर पर हाथ फेरते हुए कहने लगी- ले ऋतु.

उसकी सिस निकल गई और उसने अपनी जांघें भींच लीं।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मेरी केवल तीन उंगलियां उसकी चूत पर थीं. बहुत हसीन लगता है ये…और सबसे ज्यादा दीवाना तो मैं हरियाणा वालों का हूँ. उसने अपना लौड़ा मेरी गाण्ड के छेद पर टिकाया और एक ही झटके में आधे से ज्यादा अन्दर घुसेड़ दिया और मेरी कमर कस कर पकड़ कर फिर और एक धक्का मार कर अपना लौड़ा पूरा का पूरा मेरी गाण्ड में ठूंस दिया। मैं कुछ कराही.

तो मेरी जान में जान आई।दीपेश ने मुझे कमरे का न बता दिया और मुझे चलने के लिए कहा क्योंकि उसको किसी काम से जाना था।मैं चैन की सांस लेते हुए हॉस्टल की तरफ बढ़ा.

जब तुम्हारे जैसा इन्सान मेरे साथ हो।मैं थोड़ा सोच में पड़ गया कि ये क्या कहना चाहती हैं।मैंने पूछा- आपका क्या मतलब है. उसने अपना लौड़ा मेरी गाण्ड के छेद पर टिकाया और एक ही झटके में आधे से ज्यादा अन्दर घुसेड़ दिया और मेरी कमर कस कर पकड़ कर फिर और एक धक्का मार कर अपना लौड़ा पूरा का पूरा मेरी गाण्ड में ठूंस दिया। मैं कुछ कराही. मेरा मन तो किया कि नेहा भाभी को भी अभी कमरे में ले जाकर फुल चुदाई करूँ।इतने में नेहा भाभी बोली- यश क्या हुआ.