बीएफ फिल्म इंडिया

छवि स्रोत,সেক্সি ফিল্ম ভিডিও

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो कपड़ा वाला: बीएफ फिल्म इंडिया, फिर हमने एक प्लान बनाया कि वो तीन दिन बाद शॉपिंग करने शहर आयेगी और मैं भी उसी दिन पहुंच जाऊंगा.

नोन वेज शायरी

पापा के मुंह से सिसकारी निकल रही थी- आह्ह … ओह्ह … माय डार्लिंग डॉटर… सक माय कॉक (मेरी प्यारी बेटी… मेरे लंड को ऐसे ही चूसो… आह्ह।) तुम्हारी मॉम ने भी इतने प्यार से मेरा लंड कभी नहीं चूसा जैसे तुम चूस रही हो… आह्ह … चाटो इसको … ओह्ह।दस मिनट तक मैं पापा के लंड को चूसती रही और पापा मेरे मुंह में झड़ गये. पंजाबी सेक्सी कॉमक्योंकि मैंने अपनी बीवी को कम और ज़ोहरा आपा को पिछले दिनों ज्यादा चोदा था.

उसके जाते ही सबसे पहले मैंने एक दर्द की दवा खाई और फिर बाथटब में गर्म पानी में आधे घंटे लेटी. अरे यार हंस रहा है बारिश की जाएदोस्तो, कैसे हो सब लोग? मैं आपके लिए एक और गर्म सेक्स कहानी लाया हूं.

उसकी पत्नी भी मेरे लौड़े को मेरे अंडरवियर में से ही पकड़ कर दबा रही थी.बीएफ फिल्म इंडिया: पहली नजर में कोई भी निधि की गांड को देखता, तो उससे नजरें ही नहीं हटा पाएगा.

ये कहानी तब शुरू हुई जब मैं गरिमा से मिलने कार में उसके घर जाने लगा.थोड़ी देर बार मेरा मुर्झाया लंड जैसे फिर से होश में आ गया और चेतन होकर अंगड़ाई लेने लगा और फिर तन कर मंजुला की गांड से सट गया.

सेक्सी फुल हद हिंदी - बीएफ फिल्म इंडिया

उनको कहां छोड़ें? वो किसके साथ रहेंगे? अगर किसी के पास छोड़ेंगी, तो पति भी शक करेगा.अब मैं सीधा लेट गया और आरिया से बोला- चल लंड चूस!आरिया लंड चूसने लगी.

उसने बताया कि उसका हस्बैंड दो तीन महीने में उसके साथ चुदाई करता है. बीएफ फिल्म इंडिया मैंने श्वेता के सिर को पकड़ लिया और उसके मुंह को तेजी से चोदने लगा.

अपनी जीभ से उनकी चूत की अन्दर तक कुरेदते हुए उनकी चूत की दोनों फांकों को मुँह में भर कर चूसने लगा.

बीएफ फिल्म इंडिया?

फिर उन्होंने उसमें अपना सारा माल निकाल कर वहीं छोड़ दिया।अच्छा तो ये मलाई पापा की थी. ओह … इसलिए वह नौकरानी मुझे देख कर मुस्कुरा रही थी।सीमा बता रही थी कि वो रात में अकेले में बहुत बोर होती है. उसकी चुत के छल्ले ने मेरे मोटे लंड के सुपाड़े को कुछ ज्यादा ही जकड़ रखा था.

उसकी आह्ह … निकली और उसकी चूत ने गर्म गर्म पानी मेरे मुंह में छोड़ दिया. मुझे भी मालूम था मगर उनकी शादी तय हो जाने की बात सुनकर मुझे न जाने क्यों बहुत गुस्सा आ गया. गुवाहाटी के लिए दिल्ली के आई जी आई एअरपोर्ट से फ्लाइट दोपहर बाद तीन बजे की थी.

शनाज़ की नजर जब मेरी पैन्ट में खड़े लंड पर पड़ी तो वो मेरे पास आई और फुसफुसा कर बोली- आप रात होने का इन्तजार करो. मगर तुम्हें कुछ ऐसा करना होगा कि राजेश मास्टर तुम्हारी बुर की चुदाई करने के लिए खुद ही पागल हो जाये. तभी मैंने माया को फोन किया- मुझे आज रात घर आना सम्भव नहीं हो पाएगा.

मेरा प्लान था कि मैं अपनी चूचियों के दर्शन शैलेश को करवा दूं और उसे उत्तेजित कर दूं. इससे मैं दो मिनट भी नहीं टिकी और मैंने अरमान का सर अपनी बुर पर दबा लिया.

मैंने पूछा- आपसे किसने कहा कि मेरा बहुत बड़ा है?उसने कहा- इतना बड़ा टेंट जब अंडरवियर में बनेगा तो पता चलेगा ही न?फिर अर्चना बोली- देख तो मैंने पहले ही लिया था दरवाजे में छुपकर और जो मैंने देखा तो उससे मेरा मन मचल उठा.

मैंने मन में सोच लिया कि इसकी बेटी को भी चोदूंगा … तब तक इसी की चुत से काम चलाता हूँ.

जब मैं वहां पहुंचा, तो मामा जी बाथरूम में नहा रहे थे और मैं इनके आने का इंतजार करने लगा. कमर में दर्द हो रहा है।मैंने कहा- बाजी, चलो मेरा तो पानी निकल गया और नहीं करना अब!बाजी बोली- मुझे भी नींद आ रही है. मैंने उसे जवाब दिया- नेकी और पूछ पूछ!फिर मैं जल्दी से तैयार होकर 15 मिनट में अर्चना के घर जा पहुंचा।वहां जाते ही अर्चना को मैंने हैलो बोला और रिया के साथ बैठ गया.

ज़ोहरा अपने मन में सोच रही थी- क्या करूँ मैं … कुछ भी समझ में नहीं आ रहा! मैं दो बार अपनी जांच करवा चुकी हूं. लेकिन मैं समझ रही थी कि सागर है इसीलिए चुपचाप मज़ा ले रही थी।मुझे पता तब लगा जब सागर मेरे बगल में था और उसका हाथ में पकड़े थी लेकिन बहुत देर से मेरी गांड मसली जा रही थी. अब गीला लंड फच्च … फच्च … का शोर मचाने लगा। अब मैं लंड को पूरा अंदर तक ले जाने लगा और उसकी चूचियों को मसलने लगा।कुछ देर के गहरे धक्कों के बाद मैंने भी अपने लौड़े से वीर्य निकाल दिया और उसकी चूत में लन्ड घुसा कर उसके ऊपर ही लेट गया।हम दोनों ही थक चुके थे.

आज उन दोनों ने भी उल्टा जवाब दे दिया और बोले- पापा आप तो काम पर जाते नहीं हो.

उसके बाद हम दोनों के बीच में लॉकडाउन के दौरान कई बार लेस्बियन संबंध बने. मैंने मेरे बेटे से बोला- बेटा, आज से तुम रोज स्कूल जाओ और खूब मन लगा कर पढ़ो. आप लोग सोच रहे होंगे कि हम दोनों की उम्र में इतना ज्यादा फर्क क्यों है, तो मैं आपको बता दूं कि मैं अपने पति की दूसरी पत्नी हूँ.

अपने लण्ड को उसकी चूत के अन्दर बाहर करते हुए मैंने पूछा- एक बात बताओ किरण, निखिल को मरे हुए तो दस साल हो गये, इतने साल तुमने कैसे काट लिये?किरण ने चुदाई करवाते करवाते बताना शुरू किया:विजय, बचपन में मेरे पिताजी बताया करते थे कि जीवन में कभी हिम्मत नहीं हारना चाहिए, एक रास्ता बंद होता है तो भगवान दूसरा खोल देता है. उसने अपने बर्थडे वाले दिन अपनी सहेलियों के साथ जन्मदिन मनाया और शाम को 6 बजे मुझे फोन किया. बलविंदर ने अलीमा की चूची दबा कर पूछा- क्या हुआ बेबी?अलीमा चुप रही मगर उसकी नजरें कहने लगी थी कि मैं समर्पण कर चुकी हूं.

मैंने उसे अपनी तरफ खींच कर बांहों में भर लिया और उसके गुलाब की पंखुड़ियों जैसे होंठों को अपने मुँह में भरकर चूसने लगा.

मैं उन्हें कमरे में आता हुआ देख लिया था, पर मैं आंख बंद किए पड़ा रहा. फिर मैंने भी ज्यादा मना नहीं किया और मैं थोड़ी देर में उसका साथ देने लगी.

बीएफ फिल्म इंडिया तो उसने कहा कि बाजार में उसका रूम है, वहाँ कोई नहीं आएगा।फिर मैंने उनको रूम पर चलने को बोला।20 मिनट बातें करते करते हम उसके रूम पर आ गये। चाचा के लड़के ने हमें रूम की चाबी दी और बोला कि वो एक घण्टे बाद आएगा।हम रूम में आ गये। रूम में आ कर उसने अपना घूंघट हटाया. रास्ते में वो थोड़ा थोड़ा मुझे छेड़ने लगी थी, ये शायद बियर की वजह से था.

बीएफ फिल्म इंडिया बड़े पापा से बात करते करते मुझे नींद आ गई और मैं वहीं गहरी नींद में सो गया. वो मेरे तने हुए लंड को देख कर मुस्कराने लगी और चाय को टेबल पर रख कर चली गयी.

तब उसने शर्माकर अपनी टाँगें फैला दी।क्या नजारा था … एकदम गोरी चूत … और चूत की दोनों हल्की काली फांकें बाहर की तरफ फैली हुई खुशबू बिखेर रही थी जो मेरे होश उड़ा रही थी।मैंने अपनी जीभ धीरे धीरे दोनों फांकों पर फिरा दी.

डॉग और गर्ल्स की बीएफ

तो हमने क्या किया?दोस्तो, मैं आपको नंगी लड़की की चुदाई के पहले भागजवान बहन की चिकनी चूत का मजामें बता रहा था कि कैसे मैंने मंझली बहन की चूत मारी और बाद में पता चला कि छोटी बहन राबिया भी हम भाई बहन की चुदाई देख चुकी थी. उनकी मोटी-मोटी जांघें हों, पतली कमर हो या उठी हुई गांड हो … मैं हर जगह रूबी बुआ को टच कर चुका था. फिर मुझे ध्यान आया कि कहीं नहाने तो नहीं गयी है?दरअसल हम लोगों का बाथरूम कॉमन ही था जो ऊपर वाली मंजिल पर बना था.

फिर मैंने भी ज्यादा मना नहीं किया और मैं थोड़ी देर में उसका साथ देने लगी. मैं जिस घर में किराये पर रहता था … उस घर में और भी लोग किराये पर रहते थे. माय हॉट सिस सेक्स स्टोरी आपको कैसी लगी इस पर अपनी राय देना न भूलें.

धीरे धीरे मेरी उम्र बढ़ती गई और अपनी ग्रेजुएशन खत्म करके मैं नौकरी करने दिल्ली आ गया.

वो एकदम से मस्ती में भर गयी और मोबाइल फोन पर सेक्स कहानी पढ़ते हुए अपनी चूत को ऊपर उठाने लगी. मैं समझ गया कि ये अब चुदने को तैयार हो गई है … और इसका दर्द कम हो गया है. फिर मैंने मंजुला की कमर में हाथ डाल कर उसे अपने से सटा लिया और पीछे से ही उसकी चूत की दरार में लंड घिसने लगा.

पीछे से राम ने उसकी गांड में लंड को पेल दिया और उसकी गांड चोदने लगा. अगले ही शॉट में मैंने अपने लंड को बहुत ही जोर से झटका दिया और चुत में लंड अन्दर तक पेल कर भाभी को चोदने लगा. मंजुला ने झट से अपनी चूत के होठों पर अपने दोनों हाथ रखे और चूत को पूरी तरह से खोल दिया और मेरी आंखों में आंखें डाल कर देखने लगी.

मैंने उनसे कहा- ये अफजल है, तुम दोनों में आरजू कौन है?आरजू एक दुबली पतली सांवली सी लड़की थी. उसके साथ जब चुदाई का दूसरा राउंड चल रहा था तो मेरी सौतेली मां भी उसी कमरे में आ गयी जिसमें मैं तनु की चुदाई करके उसके साथ नंगा लेटा हुआ था.

ठकुराईन ये देख कर समझ गई कि अब ठाकुर का काम हो गया और वो वहां से निकल गई. आप जानते ही हैं कि मेरा नाम हरजिंदर सिंह हैं और मैं चुदाई की अनोखी दास्तां आपको सुना रहा था. दरअसल मुझे ये जानकारी मां की डायरी से मिली थी कि एक बार उनकी चुदाई की शुरुआत एक गैर मर्द से कब हो गई थी.

तब मैं वहाँ के माहौल में ढला और मेरे घर के सामने की एक लड़की पटा ली जिसको मैं बहुत प्यार करता था.

मैंने भाभी की एक चुची को मुँह में लेकर चूसने लगा और दूसरी को अपने हाथों से मसलने लगा. प्रियंका को इतना दर्द होने लगा था कि वो चलने में भी नाकाम हो रही थी. जिन पाठकों ने मेरी मां की चुदाई वाली कहानी नहीं पढ़ी है उनके लिये मैं एक हल्की सी झलक पेश कर रहा हूं कि मेरी मां और मेरे बीच में किस तरह से जिस्मानी संबंध हैं.

लंड से मेरी चुत की वाट लगाते हुए अंकल ने मेरा चुचा मुँह में ले लिया और उसे खींच खींच कर चूसने लगे. ” मैंने कहाकितना प्यारा बेटा है आपका, क्या नाम है इसका?” मैंने बच्चे के सिर पर हाथ फेरते हुए पूछाशिवांश नाम है इसका!” वो कुछ मुस्कुरा कर बोली.

अब आकांक्षा की पकड़ मेरे हाथ पर ढीली हो गई थी, जिससे मैं उसकी चूत को और अच्छी तरह से मसलने लगा. अरे तो इसमें क्या … ऐसा ही तो होता है सबका!”कोई न होता ऐसा; शिवांश के पापा का तो इससे बहुत छोटा था, इससे दो इंच कम रहा होगा. फिर उन्होंने जल्दी से मुझे खड़ा किया और एक मिनट में मेरे सब कपड़े ऐसे उतार दिए, जैसे हमारे पास टाइम ही ना हो.

बीएफ सेक्सी फिल्म नई वाली

दोपहर के खाने के बाद मैं कमरे में आयी और कुछ देर बेटी से बात करके एक ब्लूफिल्म देखने लगी.

मुझे अपने कॉलेज के प्रिसींपल से एक काम निकलवाना है, उसके लिए तुम्हें अपनी चूत चुदवानी होगी. अब मैंने एक हाथ आकांक्षा की कच्छी में घुसा कर उसकी चुत पर रख दिया, जिससे आकांक्षा कसमसाने लगी ‘सी … ईईई … आहहह!’मैं अब कभी उंगली से चुत को सहलाता, तो कभी चूत को पूरी मुट्ठी में भर कर भींच देता. मेरी दीदी दिखने में एकदम राबचिक पटाखा माल है लेकिन मैं दीदी की चूत के बारे में नहीं सोचता था.

मनजीत ने मुझे टेढ़ी नज़रों से देखा और बोली- तुम कसम खाओ कि किसी को भी मेरे रिलेशन के बारे में नहीं बताओगे. एक दिन गुरप्रीत नहीं आई तो मैंने फोन करके पूछा तो उसने बताया- उसका पीरियड शुरू हो गया है, इसलिये तीन दिन नहीं आयेगी. कॉलेज की लड़की सेक्सी वीडियोमैंने बरबस ही उसका एक स्तन अपने मुंह में भर लिया और चूसने लगा और दूसरे हाथ से बगल वाला स्तन दबोच कर हौले हौले मसलने लगा और उसके कांख में मुंह लगा कर वहां के मुलायम केशों को चूमने चाटने लगा.

मैंने उनसे पूछा- आपकी देवरानी नहीं दिखाई दे रही हैं?भाभी ने बताया- वो मायके अपनी भाई की शादी में गयी है. फिर कुछ देर बाद जब मेरा दर्द कुछ कम हुआ, तो सामने वाले लड़के ने मुझे सीधा कर दिया और मेरी चूत में थूक लगाकर एक बार चाटा.

बलविंदर के धीरे-धीरे किस करने के बाद अलीमा ने अपने आप सोच लिया कि आज जो हो रहा है, होने दिया जाए. मौसी- तुम तो वहां जाकर मुझे भूल ही गए?मैं- नहीं मौसी, आपसे तो मैं बहुत प्यार करता हूं. बीवी के हावभाव से साफ़ नजर आ रहा था कि वो अजय के मोटे लंड से बड़ी खुश थी.

फिर ये बड़ा होगा; दुनिया को देखेगा सीखेगा समझेगा और बिन बाप के खुद को अकेला पा कर कुंठित हो जाएगा, आगे तुम खुद समझदार हो. उस समय मैं स्वर्ग सुख की अनुभूति कर रहा था।फिर मैं उसकी चूत चाटने लगा. हम दोनों एक साथ स्कूल टाइम में छुप छुप कर बहुत पोर्न देखा करती थीं.

वो भी मुझसे खुलने में संकोच नहीं कर रही थी और होते होते हमने प्यार, मोहब्बत और चाहत से लेकर गर्लफ्रेंड बॉयफ्रेंड तक की बातें कर डालीं.

तभी उन्होंने मेरी नाइटी की डोरी आगे से खोल दी और मैं एकदम से नंगी हो गयी. मौसी फिर मेरी तरफ घूम गई और हम दोनों के होंठों ने एक दूसरे के मुंह का रस पीना शुरू कर दिया.

तो हमने क्या किया?दोस्तो, मैं आपको नंगी लड़की की चुदाई के पहले भागजवान बहन की चिकनी चूत का मजामें बता रहा था कि कैसे मैंने मंझली बहन की चूत मारी और बाद में पता चला कि छोटी बहन राबिया भी हम भाई बहन की चुदाई देख चुकी थी. अब मैंने आपा के गाऊँ को उनके कूल्हों से ऊपर किया और पीछे से अपना लंड आपा की चूत पर दबा दिया. अगले ही शॉट में मैंने अपने लंड को बहुत ही जोर से झटका दिया और चुत में लंड अन्दर तक पेल कर भाभी को चोदने लगा.

इस तरह बेहद लजीज नाश्ता करने के बाद मंजुला ने रूम सर्विस को चाय का आर्डर कर दिया. मनमीत की पतली कमर पकड़कर लण्ड को अन्दर धकेला तो टप्प की आवाज के साथ सुपारा अन्दर हो गया. इसलिये तुम जल्दी से अपनी दीदी और भाभी को अपने रूम में लेकर चले जाओ.

बीएफ फिल्म इंडिया मंजुला सुनो एक बात कहूं?”हां कहिये न? वो अपनी चूत पौंछती हुई कहने लगी. अब उनकी चुदाई की पट … पट … की आवाज मुझे रूम के दरवाजे तक सुनाई दे रही थी.

गांव के बीएफ पिक्चर

चूंकि भाई मेरे कॉलेज के सामने से ही गुजरता था तो वो भी उस लड़के की निगाहें पढ़ चुका था. वो मुझसे कहने लगी- भईया प्लीज छोड़ दीजिए!लेकिन मैंने उसकी बातों पर ध्यान नहीं दिया और बहन की बुर चूसता रहा. फिर जैसे ही मैंने उसकी चूत में उंगली डाली, तो वो दर्द के मारे हिल गयी.

आज मैं ब्रेक भी बार बार लगा रहा था और दीदी भी अपने गोल गोल बूब्स बार बार मेरी पीठ पर दबा रही थी. साथ ही उसने मेरे लंड को मुँह से बाहर नहीं निकाला और लंड को तब तक मुँह में रखा, जब तक कि लंड दुबारा पूरा टाइट नहीं हो गया. लौंडिया लंदन दिलाएंगेयहां की रसीली कहानियां पढ़ कर मेरे मन में भी एक तरंग उठती कि मैं भी अपना इकलौता सेक्स एडवेंचर लिखूं!बड़ी हिम्मत करके कोरोना काल का सदुपयोग करते हुए यह सच्ची सेक्स वासना कहानी पिछले सात आठ माह से थोड़ी थोड़ी लिख रहा था जो अब जा के पूर्ण हुई है.

अभी नाश्ता करते वक़्त मैंने देखा तो सागर के फ़ोन पर सुधा यानि मेरी मम्मी का फ़ोन आ रहा था.

फिर उसकी गर्दन पर काफी देर तक चूमा और उसकी चूचियों को गाउन के ऊपर से दबाने लगा. इस धक्के से मेरे करीब सारे ही लंड ने उसकी चूत की गहराई नाप दी।इस झटके वो सह नहीं पा रही थी वो किसी मछली की तरह तड़प रही थी.

कुछ ही देर में हम दोनों मादरजात नंगे बेड पर गुत्थमगुत्था हो रहे थे. मैंने अखबार को इस तरह से रखा कि सामने से हमारी हरकतें किसी को दिखाई न दें. हम दोनों को ही ऐसा लगा था जैसे हम दोनों ही जिंदगी में पहली बार चुदाई कर रहे हों.

इस बार मैं उसके स्तनों को भी भी ताबड़तोड़ मसलने लगा जिससे उसकी चीख निकल गई और वह सिसकारियां लेने लगी- आह … आह … अभिमन्यु … थोड़ा और ज़ोर से दबाओ.

स्लीवलैस टैंक टॉप और टाइट जींस पहन कर जब हम बाहर जाते थे, तो लोगों की नजरें उसके ऊपर जमी रहती थीं, इतनी वो सेक्सी लगती थी. मैं उसकी बात से खुश हो गया और उसे थैंक्स कह कर डिम्पल को उस दिन अकेले में मिलने का प्रोग्राम बना लिया. अरमान मुझे किस करने लगा और धीरे धीरे लंड को मेरी चुत में डालने लगा.

सेक्सी नई सेक्सी वीडियोहेमा चाची मुझे देख कर दर्द की हालत में भी मुस्कुरा दीं और बोलीं- भास्कर, आज अगर तुम्हारी कोई और ख्वाहिश बची हो, तो बता दो … मैं आज वो भी पूरी कर देती हूँ. दोस्तो, मैं आपको बहनों की नंगी गर्ल सेक्स कहानी के दूसरे भागदूसरी बहन की बुर खोलने की तैयारीमें आपने पढ़ा कि मैं अपनी दूसरी बहन को चोदने की तैयारी में थी.

एक्स एक्स एक्स बीएफ सेक्सी गर्ल्स

आपा को अभी भी मजार पर कुछ दिन और दुआ मांगनी थी तो जीजू हमारे घर ही आये. और तुम वही रात वाली साड़ी पहन कर जल्दी से तैयार हो जाओ।लगभग 35 मिनट बाद मैं तैयार हो गयी. मैंने उसकी पूरी चूत पर जीभ फेरी।उसकी पूरी चूत थूक और चूत के पानी से सन गयी.

एक बार मैं फारेस्ट ऑफिस गया तो वहां एक नयी ट्रेनी अफसर लड़की आयी हुई थी. वहां एक बड़े एरिया को छोटे छोटे पार्टीशन करके छोटे छोटे कमरों में तब्दील किया गया था. दो मिनट बाद उसने अपनी टांगों खुद ही खोलकर मेरी गांड पर लपेट लीं और मेरे होंठों को जोर जोर से पीने लगी.

रास्ते में वो थोड़ा थोड़ा मुझे छेड़ने लगी थी, ये शायद बियर की वजह से था. फिर अंजलि अपनी चुदी हुई चूत को साफ करने बाथरूम में गयी।अब मेरा ध्यान मेघा की ओर गया. चाची का हाथ पकड़ कर खींचते हुए मैंने कहा- तो मेरी जान इतनी दूर क्यों हो, तुम्हारी चूत में खुजली नहीं हो रही है क्या?वो बोली- मेरी चूत तो तुम्हारे लंड के हमेशा तैयार रहती है.

और उसकी चूत पर किसी भी लंड ने आज तक दस्तक नहीं दी है।मन ही मन मुझे लगा कि संगीता झूठ बोल रही है क्यूंकि आज के दिन 30 साल की उम्र तक तकरीबन कोई भी लड़की बिना चुदे नहीं रहती।फिर हमने साथ में खाना खाया और थोड़ी देर वहीं रूककर वापिस मैं उसे रिवाड़ी छोड़ने के लिए चल पड़ा।उस दिन हमारे बीच ऐसा कुछ नहीं हुआ।फिर उसके बाद हमारा मिलना बढ़ गया. मैंने समय देखा तो पता चला कि इनके साथ मुझे साढे़ चार घण्टे हो चुके हैं और अभी भी सफर का साढे़ सात घण्टे बाकी हैं.

जब ट्रेन गोरखपुर पहुंची, तो भीड़ कम हुई और हम नीचे सीट पर आ कर बैठ गए.

कहानी का पिछला भाग:ट्रेन के सफर में मेरे शौहर की कारस्तानी-4थोड़ी देर बाद हम दोनों भी कम्पार्टमेन्ट में पहुंचे. भाभी हिंदी सेक्सी वीडियोलेकिन जिस तरह से माया और वो (अजय) एक्साइटेड थे … वो देख कर मैं भी थोड़ा एक्साइटेड हो गया था. सेक्सी जंगली फिल्ममैं बोला- तो फिर आज सूखा ही रहेगा तू?वो बोला- नहीं, बस लंड चुसवाऊंगा उसको. मंजुला ने अंतिम बार, चाहे झूटमूठ ही सही, अपनी पैंटी उतरने से रोक कर अपनी लाज बचाने की रस्मी कोशिश की पर अगले ही पल उसकी पैंटी नीचे की तरफ जांघों पर से फिसलती हुई पांवों से निकल कर मेरी मुट्ठी में थी.

[emailprotected]ओपन चुदाई कहानी का अगला भाग:मेरे चोदू यार का लंड घर में सभी के लिए- 5.

जब भी करता है … मुझे संतुष्ट ही नहीं कर पाता और मैं प्यासी रह जाती हूं. भाभी बोली- जल्दी से निकाल लो और मेरी चाटो!फिर मैं नीचे लेटा और जल्दी से वो मेरे मुंह पर अपनी चूत को रगड़ने लगी. फिर मैंने घर वालों के आने का नाटक किया।इस बात से मुझे भी कंफर्म हो चुका था कि अर्चना सही बोल रही है और खुद ही मेरे लंड से चुदना चाह रही है.

अब इनकी मम्मी बचपन में ही खत्म हो गई थीं, तो इसमें मेरी क्या गलती है. मॉम बोलीं- ये मेरी वीडियो क्यों बनाई?मैंने कहा- मॉम अगर तुम चुत चुदाई नहीं करने दोगी, तो मैं इसे देखकर ही काम चला लूंगा. मुझे मुस्कराता हुआ देख कर मौसी पूछने लगी- क्या हुआ, क्यों मुस्करा रहे हो?मैंने कहा- कुछ नहीं मौसी.

बीएफ सेक्सी राजस्थान का

मेरा नाम जय ठाकुर है, मेरी उम्र 30 साल है और मैं मैरिड हूँ व अपनी मैरिड लाइफ से बहुत खुश हूँ. वैसे भी मेरी गांड का छेद खुल चुका था तो लण्ड थोडी़ परेशानी के बाद घुस गया. उसको लगा कि मैं सो चुकी हूं तो वो सिर्फ अंडरवियर में मेरे बगल आ कर लेट गया.

जब भी मैं अमन का मम्मों का पीना याद करती हूं, मेरी पैंटी अपने आप गीली हो जाती है.

मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected]देसी हिंदी Xxx कहानी का अगला भाग:ममेरी सास और उसकी नवविवाहिता पड़ोसन- 2.

मैंने उसके माथे को चूमा, उसकी बंद आँखों की दोनों पलकों को चूमा और फिर उसके गालों को भी चूमा।फिर मैं उसकी जीभ को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा और वो भी उसी प्रकार से अपने मुँह में मेरी जीभ लेकर चूसने लगी. मैं एक दिन अपने पति को लेकर डॉक्टर के पास भी गई थी और कुछ दवाई भी लाई थी. गांव की सेक्सी लड़की वीडियोएक हाथ से मैं भाभी की चूत को सहला रहा था और वो अपनी टांगें सिकोड़ कर चूत को सहलाने का पूरा मजा ले रही थी.

इस बार मेरा पूरे का पूरा लंड उसकी चुत के अन्दर घुस गया और वो बहुत ज्यादा छटपटाने लगी. फिर मैंने एकदम से हाथ आकांक्षा की चूत पर रख दिया, तो उसने हड़बड़ाकर मेरी तरफ देखा और मेरा हाथ पकड़ लिया. वो अपनी बहन का हाथ वहां पाकर चौंक गयी और बोली- ये क्या कर रही हो सोनाली?सोनाली बोली- तुम्हें तो शर्म आती नहीं है.

मैं उसके चेहरे और गर्दन को ऐसा चूस रहा था मानो बूब्स को चूस रहा हूं. फिर अपने टीचर और फैमिली की इच्छाओं से जिये, फिर अपने पति की इच्छा से … और बाद में अपने बच्चों की मर्जी से हम लोग जीते आए हैं.

वो लंड की काफी प्यासी लग रही थी क्योंकि इस तरह की कामुक हरकतें वही महिलाएं करती हैं जिनको महीनों भर से लंड नसीब न हुआ हो.

फिर ठाकुर ने घरघराती हुई आवाज में मंजू से पूछा- चाय कब तक बनेगी?वो इठला कर बोली- बस पांच मिनट में. मैंने पूछा- क्यों … इतने रुपए क्यों चाहिए?जिया बोली- असलम जी मेरे पति को एक नया काम शुरू करना है. फिर उसने मुझे बताया कि वो रोज ही जाग रही होती थी और मजा ले रही होती थी.

सेक्सी हिंदी ऑडियो वीडियो वो दोबारा वैसे ही चीखी- प्लीज कमल, बाहर निकाल लो … नहीं तो मैं मर जाऊंगी. और मुझे जो तुम्हारी आदत हो गई है, मेरे तीन दिन कैसे कटेंगे?”मैं कम्पनसेट कर दूंगी.

हम दोनों ने भी अपने मन मार लिये और सोचा कि मां इतनी फीस लायेगी कहां से. हुआ कुछ यूं कि मुझे अपने सरकारी कार्य से सम्बंधित एक कांफ्रेंस में भाग लेने के लिए अचानक गुवाहाटी जाना पड़ रहा था. कुछ देर बाद संजय कमरे से बाहर निकला, तो मैं थोड़ा आड़ में हो गयी कि वो मुझे देख ना सके.

सुहागरात वाली बीएफ बीएफ

मुझे उनकी जांघों के बीच में चूत के दर्शन हुए।मैं तो एकदम होश खो बैठा. और दीदी … मतलब लोरी की मम्मी कैसे झेल लेती है इसे?” वो फिर पूछने लगी. मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खोलकर उसे उतार दिया और कुर्ती को भी उतार दिया.

पीछे हाथ ले जाकर भाभी की गांड और चूत पर भी हल्के हल्के हाथ से सहला रहा था. कुछ छोटी छोटी बातें और हैं जिन्हें मैं इस सच्ची कहानी में संक्षेप में लिख रहा हूं.

रास्ते में मैंने पूछा कि कोई कोल्ड ड्रिंक या जूस पीना है?उसने कहा- मुझे बियर पीनी है.

मैंने हंस कर उसको अपने कपड़े का थैला पकड़ा दिया, जो कपड़े उतारे थे, वो थैले में रख दिए थे. फिर मैं बारिश में नहाने लगा और दीपू भी मेरे साथ नहाने की जिद करने लगी. उनकी बीवी पूजा, जिनकी उम्र 42 साल की थी, दो बच्चे थे, जो पूना में स्नातक की पढ़ाई करते थे.

मैं अक्सर हल्के कपड़े पहनना ज्यादा पसंद करती हूँ, वैसे हर तरह की कपड़े पहनती हूँ. उसके बाद मैं बाहर सबके साथ आ गयी और संजय भी नाश्ता करके शादी वाली जगह पर चला गया. हम दोनों ने अपने प्यार का इज़हार किया और हम दोनों ने मिलने का प्लान किया.

घर आने के बाद देखा तो अजय बाल्कनी में केवल अपनी अंडरवियर में खड़ा था और हमारे घर की तरफ देख रहा था.

बीएफ फिल्म इंडिया: जैसे ही मैं उठने लगा उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली- कहां भाग रहे हो? तुम्हें क्या लगता है कि मैं तुम्हें ऐसे ही गलती पर जाने दूंगी. सबके खाने के बाद मैं सोने के लिए ऊपर चला गया।आज तो रुबीना बाजी ने चारपाई मेरे पास ही बिछाई थी और दूसरी तरफ मेरी दोनों छोटी बहनें थीं।थोड़ी रात होने के बाद सब सोने लगे तो मैंने अपने हाथ से रुबीना बाजी का हाथ पकड़ा और उन्हें जगाने के लिए हिलाया.

मैंने जल्दी से मॉम का गाउन खींच कर उतार दिया और उनके मम्मों को ब्रा के ऊपर से ही मसलने लगा. वो बोली- मैं बाथरूम में गिर गई थी, मेरे पैर में और पीठ में मोच आई है. मैं- इस होटल में कभी किसी लड़की को आंख मारी है?उसने शर्माते हुए कहा- कैसी बात कर रहे हैं आप?मैं- अरे बता न यार?उसने फिर हां में गर्दन हिला दी.

फिर जब संजय कमरे में आ गया, तो मैं से बाहर आ गयी और अपने कमरे में चली आयी.

न चाहते हुए भी मैं उसको छोड़ कर उठा और मैंने उसको प्यार से किस किया और फिर अपने कपड़े पहन कर वापस अपने रूम में आ गया. इस बात के लगभग तीन महीने बाद मंजुला ने मुझे बताया कि जिस घर में वो किराए से रहती थी अब उसे उस घर का किराया देने की जरूरत नहीं है और अब वो खुद पूरे घर की मालकिन है. लेकिन पता नहीं मैं मजा लेता रहा और अचानक ही मेरा वीर्य निकलने को हो गया और मैंने सारा वीर्य मौसी के मुंह में ही छोड़ दिया.