ब्लू सेक्सी बीएफ एचडी

छवि स्रोत,सेक्सी मूवी वीडियो गाने

तस्वीर का शीर्षक ,

सैक्स मूवी: ब्लू सेक्सी बीएफ एचडी, !अपनी माँ से ये सब सुनकर एक बार तो मुझे हैरानी हुई पर शराब के नशे में धुत्त माँ की तरफ वेबस हो कर देखता रहा।अमन बोला- प्रिय रानी जा.

सेक्सी गर्ल्स पिछ

मैं उससे बात करती हूँ!और वे टीवी देखने लगीं।मेरी नज़र उनके मम्मों पर थी, मैंने उनसे कहा- भाभी आपने किसी से लव किया है।वो बोली- हाँ तेरे भाईसाहब से!मैंने कहा- गुड. भोजपुर के सेक्सी वीडियो?तो मैंने एक लेटर लिखा, उसको दिया और बोला- पढ़ लेना और फाड़ देना, बस कुछ हंगामा मत करना।उसने मेरे प्रपोज़ल को स्वीकार कर लिया और हम लोगों की प्रेम-कहानी शुरू हो गई। खिड़की पर आकर एक-दूसरे को फ्लाईंग किस करना, बातें करना.

योनि में जो जैल डाला था, उसके वजह से बहुत आनन्द आ रहा था और लिंग बड़े प्यार से मेरी योनि को रगड़ दे रहा था. सेक्सी फिल्म देखने वाली मूवीभईया अच्छी तरह से चौदिये, फाड़ दीजिये मेरी निगोड़ी गाण्ड को ऊफऽऽ ईसऽऽऽ ईसऽऽऽ बहुत सताती है साली, मां की लौड़ी, आह मेरे गाण्डू भईया लूट लो मेरी जवानी, और जोर से, येस ओर जोर से वाहऽऽऽ फाड डालोऽऽऽ चौदू, चौद अपनी बहन की चूत कोऽऽऽ, कैरी आन डौन्ट स्टाप यू फकर बास्टर्ड!रीटा जैसी मासूम स्कूल गर्ल के मुँह से शानदार गालियाँ सुन कर राजू का ठरक चरम सीमा तक पहुँच गया.

मेरी योनि की मांसपेशियाँ सिकुड़ने लगीं और मैं जोर के झटकों के साथ झड़ गई, मैं धीरे-धीरे शांत हो गई और मेरा बदन भी ढीला हो गया.ब्लू सेक्सी बीएफ एचडी: छोटी सी चूत बड़े से बड़े आदमी को कुत्ता बना देती है, अब ये तीनों बाप बेटे मेरे गुलाम बनने वाले थे।कहानी जारी रहेगी।मुझे आप अपने विचार यहाँ मेल करें।.

अब इन्तजार लण्ड के सम्पूर्ण रूप से सलोनी की चूत में समाने का था…10-12 बार यही सब चलता रहा, वो सलोनी को नीचे करता और सलोनी ऊपर उठ जाती… और एक बार भक्क की आवाज आई.आपकी चूत में मेरा लंड जाकर धन्य हो गया आहह…करीब दस मिनट हम दोनों ऐसे ही सिसकारियाँ भरते रहे, फिर मुझे लगा कि मेरा भी झड़ने वाला है, तो मैंने आंटी से पूछा- आंटी, मेरा निकलने वाला है… कहाँ निकालूँ?मेघा- मेरे अन्दर चूत में छोड़ो.

सेक्सी वीडियो वेस्ट इंडीज - ब्लू सेक्सी बीएफ एचडी

मैं नहा कर आ रही हूँ।मैं खुश हो गया और बैठ गया।वो नहा कर एक तौलिए से लिपट कर मेरे करीब से मुस्कुराते हुए गुज़री।उसने कहा- आती हूँ.सो वो आराम करने के लिए हॉस्टल में चली गई।हॉस्टल में उसके अलावा कोई नहीं था, उसने अपने सारे कपड़े उतार लिए और कमरे में बिल्कुल नंगी दर्पण के सामने खड़ी होकर अपने आपको देखा।क्या बला की खूबसूरत थी।फिर वो नीचे देखा.

हाँ मैं कल शाम को आ गया था !’‘तो आपने मुझे कल क्यों नहीं बताया?’ उसने मिक्की की तरह तुनकते हुए उलाहना दिया।‘ब. ब्लू सेक्सी बीएफ एचडी मेरे ससुर बार बार मुझे कहते- बेटी, किसी तरह इसे सुधार दो!पर मैं क्या करती!किसी तरह जिन्दगी चल रही थी, आये दिन कर्ज मांगने वाले आने लगे, इस बीच मैं गर्भवती हो गई.

क्या भाभी?’ मैंने शरारत भरे अंदाज में पूछा।भाभी जान गईं कि मैं उनके मुँह से क्या कहलवाना चाहता हूँ।‘मेरे मुँह से कहलवाने में मज़ा आता है?’‘एक तरफ तो आप कहती हैं कि आप मुझे सब कुछ बताएँगी और फिर साफ-साफ बात भी नहीं करती। आप मुझसे और मैं आपसे शरमाता रहूँगा तो मुझे कभी कुछ नहीं पता लगेगा और मैं भी भैया की तरह अनाड़ी रह जाऊँगा। बताइए ना.

ब्लू सेक्सी बीएफ एचडी?

मेरा नाम आकाश है, मैं उदयपुर में रहता हूँ, मैं नौकरी और पढ़ाई दोनों करता हूँ, मैं दिखने में सांवला हूँ, सेहत भी ज्यादा नहीं है. पहले दस दिन तक तो वह उस एक घंटे में वह मुझ से बहुत ही संकोच से बात करती थी लेकिन आहिस्ता आहिस्ता उसका संकोच दूर हो गया और वह मुझ से खुल कर बात करने लगी. उन्होंने भी वासना भरी आवाज में कहा- चलो कमरे में इसका जादू भी बिस्तर पर देखती हूँ।वो अपने कमरे में जाने लगी और मैं पीछे-पीछे उनके साथ कमरे में पहुँच गया।मैंने कहा- भाभी अगर आप बुरा न मानो तो एक बात पूछूँ?भाभी- हाँ.

तभी पुलिस की गाड़ियों की आवाज आने लगी, लोग भागने लगे, पूरी अफरा-तफरी मच गई, पता चला कि आगे कोई दंगा हो गया है इसलिए पुलिस ने कर्फ़्यू लगा दिया है. एकदम तरोताजा चूत है मेरी बहना की!ऐसा कहते हुए भाई ने धीरे से मेरी चूत में अपना लंड टिकाया।मैं सिहर उठी, क्योंकि दर्द के मारे मेरी जान निकल रही थी। भाई ने मुझे सहलाते हुए कहा- ॠदिमा तेरी इस प्यारी सी चूत में पहले थोड़ा सा दु:खेगा. मुझे मज़ा आने लगा। मैं इसी स्वाद के लिए तड़प रहा था। मेरी जीभ उसकी गाण्ड के मुहाने के निचले कोने पर हरकत करती, फिर लपलपाती हुई ऊपर तक चली जाती।वरुण किसी बकरे की तरह कराह रहा था जिसे हलाल किया जा रहा हो। फर्क सिर्फ इतना था कि उसका कराहना मस्ती भरा था-अहह.

हम कार लेकर घर चले तो पुलिस ने हमें उधर जाने नहीं दिया, बोले- रात भर शहर में कर्फ़्यू रहेगा, उस तरफ के इलाके में दंगे हो रहे आप नहीं जा सकते. और चूत के ऊपर के दाने को अपनी जीभ से पकड़ो और फिर दांतों से हल्का काटो!मैंने वैसे ही किया और जोर-जोर से करने लगा।वो बोलने लगी- गिरि और जोर से. मैं आपका… ?मामी ने मेरे होंठों को अपने मुँह में लिया था… और थोड़ी देर के बाद बोली- मैं 38 की हूँ… तू 18 का… ये यूके है.

!कुछ देर बाद चोदने के बाद में मेरा माल गिर गया। मैंने अपने लंड को गुफा में ही रहने दिया और आंटी के ऊपर लेट गया।थोड़ी देर बाद जब लंड आंटी की गुफा से बाहर निकाला तो लगा जैसे कुछ जलन सी हो रही है। देखा तो मेरी सील टूट चुकी थी। मैं खुश हो गया।आंटी भी मेरी टूटी सील देख कर खुश हो गईं और कहा- अब और मज़ा आएगा. सुलेखा भाभी भी मेरे एक तरफ बैठी हुई थीं, फिर मैंने सुलेखा भाभी को छेड़ने के लिए अपनी एक भाभी से पूछा- भाभी, ये कौन हैं?तो उन्होंने बताया कि ये बुआ के गांव से आई हैं, बुआ की पड़ोसन हैं और उनके साथ आई है, ये भी तुम्हारी भाभी लगती हैं.

’मैं नीचे से दीदी की झूलती हुए चूचियाँ भी साथ ही पी रहा था और बॉस गाण्ड पर थप्पड़ मार-मार कर चोद रहे थे.

!उसने कहा- शाम को बात करवा दूँगा।फिर शाम को जैसे ही उसने मैसज दिया, मैं तुरंत कैम पर आया, उसकी पत्नी कैम पर बैठी थी, उसको मैंने पूछा- आप क्या चाहती हैं?इस पर बोली- मैं पति और आपके साथ सेक्स का मजा लेना चाहती हूँ।मैंने कहा- इसमें मैं क्या कार्य करूँगा?इस पर उन्होंने कहा- हम चाहते हैं कि आप हमारे साथ भी चूत की चटाई करें, जैसा कि आपने अपनी कहानी में लिखा है।मैं बोला- ठीक है.

अजमेर जाने से पहले वह मुझे अपन पता भी दे गई थी और कह गई थी कि जब भी उसके पति शहर से बाहर जायेंगे वह मुझे फ़ोन कर के बुला लेगी लेकिन अफ़सोस आज तक उसका फोन नहीं आया है. भूखा लण्ड – एक प्यास एक जनून-1भूखा लण्ड – एक प्यास एक जनून-3कहानी के पिछले भाग में अपने पढ़ा की निखिल का दोस्त रजत, निखिल और रजनी को चुदाई करते देख लेता है उनका वीडियो बना लेता और फिर रजत उस वीडियो के सहारे निखिल को ब्लैक-मेल करता है और रजनी को चोदने निखिल के घर पहुँचता है।अब आगे. हेल्लो दोस्तो,मेरा नाम विशाल है, सूरत का रहने वाला हूँ और मैं इन्जीनियरिंग का छात्र हूँ, मैं दीखने मैं तो काफी अच्छा दिखता हूँ.

आआहह आपका लण्ड बहुत मस्त है जानू ईई…बहुत सुख दे रहा है…’रूबी मस्ती में बड़बड़ा रही थी।मुझे भी बहुत आराम मिल रहा था। मैंने भी रफ्तार बढ़ा दी, तेज़ी से धक्के लगाने लगा।अब मेरा लगभग पूरा लण्ड रूबी की चूत में जा रहा था। मैं भी मस्ती के सातवें आसमान पर पहुँच गया और मेरे मुँह से मस्ती के शब्द फूटने लगे।‘हाई … मेरी प्यारी रूबी…. मास्टर एक किताब में से उसे कुछ पढ़ा रहा था पर लड़की का ध्यान किताब में नहीं था वो अपने मास्टर की तरफ़ कामुक नज़रों से देख रही थी. अब उसने लंड धीरे धीरे अन्दर बाहर करना शुरु कर दिया, मैं भी गर्म हो चुकी थी, उसके लंड पर अपने चूतड़ ऊपर नीचे करने लगी, मुझे मजा आ रहा था क्योंकि यह मेरा चुदने का मनपसंद स्टाइल था.

पहले तो वो सिर्फ अपने होंठों को दांतों में दबा कर दर्द बर्दाश्त करती रही लेकिन थोड़ी देर में ही उसकी चीखें निकलने लगी, वो हल्के स्वर में चिल्लाते हुए कहने लगी- हाय रे! मादरचोद, फाड़ डाला रे, साले जीजू, कुत्ता है तू! एक नम्बर का रंडीबाज है.

मेरे मन में ख्याल आया कि इन दोनों ने कुछ न कुछ खिचड़ी पकाई है, आज तो यश बेटा या तू नहीं या तेरा लण्ड नहीं. 30 बज गए थे। निखिल ने चाय पीने का पूछा तो मैंने कह दिया मुझे कोई चाय साय नहीं पीनी !ओह … यह निखिल भी एक नंबर का लोल ही है …. विशाल लोगानदोस्तो, मेरा नाम विशाल है, उमर 19 साल है, आजमगढ़ का रहने वाला हूँ और इलाहाबाद में एक कालेज से बी.

तुम नहीं जानती, तेरे को बच्चा हो गया तो तुम क्या करेगी?’उसने मुझे एक डर दिखाया जो कि लड़कियों की बहुत बड़ी मजबूरी है।यह बात सुन कर मैं बहुत घबरा गई थी।तब वो बदमाश सान्याल अंकल मेरी पीठ पर हाथ रख कर मुझे दिलासा देने लगे, फिर मेरी चूची धीरे-धीरे दबाने लगे और कह रहे थे- रामदीन ने तुझे चोदा है, यह तो बहुत अच्छा हुआ. सिर्फ़ वही दिखती थी।आखिर वो दिन आ ही गया जब उसने मुझे अपने घर बुलाया बात करने के लिए। एक बात बताऊँ वो मेरी सीनियर थी, मेरी गांड फ़ट रही थी कि कहीं मेरे घर में बता न दे।मैं एक टॉपर स्टूडेन्ट था इसलिए मेरे सभी इज़्ज़त करते थे। मैं उसके दरवाजे पर पहुँचा तो मुझे 104 डिग्री बुखार था।उसके छोटे भाई ने मुझे कागज़ का एक टुकड़ा दिया और बोला- दीदी ने आपको देने को कहा है।उस पर लिखा था- आई लव यू. मैंने अपनी रफ़्तार और बढ़ा दी अब वो भी अपने चूतड़ उठा-उठा कर साथ देने लगी और हमारी आवाज़ें निकलती रहीं ‘आअह्ह ह्हह अह्ह मम्म.

प्यार में तो सब जायज़ है, तुम बहुत शर्मीली हो।रश्मि- चलो मैं जा रही हूँ और वैसे भी मंडी भी जाना है, सब्जी ख़रीदनी है।‘कोई बात नहीं.

मैंने उसे चूम कर ‘आई लव यू माय वाइफ’ कहा तो उसने भी ‘आई लव यू टू माय हसबंड’ कहा और उसके बाद में उसे उसके घर छोड़ने निकाल पड़ा. ऊपर से पारो की लम्बी चोटी थिरकते चूतड़ों के बीच घड़ी के पैण्डूलम सी दायें-बायें उछलते देख बहादुर को लण्ड की रीड की हड्डी में सिरहन सी दौड़ गई.

ब्लू सेक्सी बीएफ एचडी मैं उसको देखता हूँ…और हवलदार नाक मुँह सिकोड़ता हुआ इंस्पेक्टर के हाथ से डंडा ले मेरे पास आ गया और इन्स्पेटर गाड़ी की ओर चला गया।सलोनी पहले ही वहाँ पहुँच गई थी।हाय… यह अब क्या होने जा रहा था…?????????कहानी जारी रहेगी।. !!समस्या यह नहीं है कि कोई बॉयफ़्रेन्ड उसकी लेगा, परेशानी यह है कि आजकल लड़के लड़कियों को ब्लैकमेल करने के लिए उनका वीडियो बना लेते हैं.

ब्लू सेक्सी बीएफ एचडी जब मैं तेरे छोटे से छेद में अपना मोटा लौड़ा डालूँगा, तो दर्द को कुछ कम करने के लिए तेल लगाऊँगा !’‘मेरी चूत के छोटे से छेद में ! अरे तूने तो मेरे छोटे से छेद को चोद-चोद कर, क्या कहा था तूने पहली बार. गोल मासूम चेहरे पर रेशमी बाल, खूब उभरी हुई कश्मीरी सेबों सी लाल लाल गालें, मोटी मोटी गीली नशीली और बिल्ली सी हल्की भूरी बिल्लौरी आँखें, रस भरे लाल उचके हुऐ मोटे होंट जैसे लॉलीपोप को चूस्सा मारने को लालयित हों.

उसके चेहरे पर नंगे खड़े होने वाली… शर्म जैसी तो कोई भावनाएँ नहीं थीं…बल्कि कुछ मासूमी और हंसी वाले भाव दिखाई दे रहे थे.

ब्लू फिल्म सेक्सी देहाती वीडियो

तो उसने कहा- आप अपने पैर मेरी सीट पर कर लो और मैं आपकी सीट पर और मेरा कम्बल डाल लो।हमने ऐसा ही किया, अब उसने लैपटॉप मुझको दे दिया, मैंने उससे उसका नाम पूछा तो उसने अपना नाम नन्दिनी बताया।उसने मुझसे पूछा- आप क्या कर रहे हो?मैंने उसको बताया- मैं देहरादून से बी. मेरी प्यास बुझा दो।फिर मैंने उनको बाँहों में लिया चुप कराने लगा और भाभी को चूमने लगा।उनके होंठों पर अपने होंठ रख कर चुम्बन करने लगा।क्या होंठ थे उनके… मैं मदहोशी से उनके होंठों का रस-पान करने लगा।उसने अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी. पर मैं उनका काम रस पीने के मूड में नहीं था इसलिए मैंने अपना मुँह उनकी चूत से हटाया और अपनी दो ऊँगलियों से उनकी चूत चोदने लगा.

वो मुझसे बहुत खुश हो गई थी।हम दोनों साथ में ही सो गए।अगले दिन भी मैंने उनकी चुदाई की।वो मेरे लंड की दीवानी हो गई।उसके बाद भी मैंने कई बार उनको चोदा।उसके बाद मैंने उनकी सहेली के साथ भी मजे लिए. हम सभी लोग काफी मज़े कर रहे थे कि तभी मैंने देखा कि सोनिया सबको अपनी स्पोर्ट्स में जीती हुई ट्रॉफियाँ दिखाने लगी और अपने बारे में बड़ी बड़ी बातें कर रही थी. तू ही चूस ले… तेरी ये रंडी बीवी तो साली हरामन है… आह… ओह !’काशीरा ने मेरे कान में धीरे से पूछा- झड़ा दूं या रुक जाऊं? बहुत मस्त खड़ा है, घोड़े के लंड जैसा, अब मरवा लो, बहुत मजा आयेगा।मैंने मना कर दिया- मर जाऊँगा, एक बार झड़ जाने दो चचाजी को, फ़िर सह लूंगा।मैं धीरे से बोला।‘अब चूस डालो मेरे बच्चो.

अम्बिका बोली- जान, आप हम दोनों को खूब प्यार दो, हमें औरों से क्या मतलब !इतने में रोशनी भी आ गई, वो एकदम नंगी थी। रोशनी रोशनी में मुझे देखकर शरमा गई और पीठ मेरी तरफ़ करके खड़ी हो गई।मैं उठ कर उसके पास गया और उसका चेहरा अपनी तरफ घुमा कर उसके माथे पर चूम लिया और उसे गोद में उठा कर बेड पर ले आया.

ऐसा टॉप…ऐसा नहीं था कि इन कपड़ों में कोई सेक्स अपील न हो…उसकी चूचियों के उभार और टाइट जीन्स में चूतड़ों का आकार साफ़ दिख रहा था… मगर एक मॉडर्न परिवार की संस्कारी बहू जैसा ही… जैसा अमूमन सभी लड़कियाँ पहनती हैं. हम लोगों ने शाहिद कपूर की फ़िल्म ‘इश्क विश्क’ देखी थी, उसमे सैक्सी फ़िल्म को रेलगाड़ी की संज्ञा दी गई थी, बस तभी से हम लोग भी इसे रेलगाड़ी कहने लगे. मैं तुम्हें ऐसे ही समझा दूँगा।मैं पहले तो समझा नहीं कि उसने क्या कहा है, जब वो मेरे साथ घर गया, तो हमने अपने कपड़े बदले और हाथ धोकर खाना खाया और घूमने चले गए।मेरे पास मोटरसाइकिल भी है।उसने कहा- किसी कैमिस्ट के पास चल।वहाँ जाकर उसने एक डिब्बी कंडोम की ख़रीदी और हम घूम कर घर आ गए। कमरे में आकर मूवी देखने लगे।उसने कहा- कोई सेक्सी मूवी लगा.

उधर मुझे डर लगता है, कहीं कोई सांप-बिच्छू ने काट लिया तो?तब उसने कहा- जीने का असली मजा तो डर में ही है।और वो जिद करने लगा, रात काफी हो चुकी थी, करीब 12 बज चुके थे तो मैंने भी हार कर ‘हाँ’ कह दी।कहानी जारी रहेगी।मुझे आप अपने विचार यहाँ मेल करें।[emailprotected]. हाँ मेरे लंड की बराबरी नहीं कर सकता है।’‘तुझे कैसे पता?’‘मुझे तो नहीं पता, लेकिन आप तो बता सकती हैं।’‘मैं कैसे बता सकती हूँ? मैंने तेरा लंड तो नहीं देखा है।’ भाभी ने बनते हुए कहा।मैं मन ही मन मुस्कराया और बोला- तो क्या हुआ भाभी. फ़िर उसने धीरे से चूत को थोड़ा ऊपर करके मेरे लंड को अपने चूत की छेद पर सेट करके दबाने लगी। उसकी चूत गीली थी.

मार-मार कर तेरी हालत ख़राब कर दूँगी।उसने एक लात मेरे सीने पर रखी और मुझे धकेला। मैं पीठ के बल गिर पड़ी। वो झुका और दोनों हाथों से मेरा ब्लाउज बीच से पकड़ कर फाड़ दिया। फिर मेरी ब्रा में हाथ डाल कर मेरी एक चूची बाहर निकाली और भींचता हुआ बोला- कुतिया यही दिखा रही थी…!मैं दर्द से चिल्ला उठी। फिर उसने मेरी दूसरी चूची भी बाहर निकाली और मसलने लगा। मैंने उसके हाथ पकड़ लिए तो वो मेरा गला दबाता हुआ बोला- देख. आप टेन्शन क्यों लेते हो ! जाओ स्कूल, क्या पता आज क्या बात है!जीतेंद्र- बात क्या होगी, वही हमेशा का भाषण सुनना पड़ेगा.

बना लो मुझे अपना !इतना कहकर रीना लौड़े को जीभ से चाटने लगी। बाबा ने आँखें बन्द कर लीं और आनन्द के सागर में गोते लगाने लगा।बाबा का सुपारा फूल कर बड़ा हो गया। रीना बड़ी मुश्किल से उसको मुँह में ले पा रही थी और बड़े मज़े से उसको चूस रही थी।दस मिनट की चुसाई के बाद रीना ने लौड़ा मुँह से निकाला।रीना- उफ्फ़. वह बोले- क्या मेरा सारा रस तुम मुफ़्त में पी जाओगी और एवज मुझे कुछ नहीं दोगी? उठो और बेड के ऊपर आकर लेटो ताकि मैं भी तुम्हरी महारानी का रस पी सकूँ. कोई बात नहीं … पता है मैं कितनी उतावली हो रही थी आपसे मिलने को?’‘हाँ हाँ… मैं जानता हूँ मेरी परी ! मैं भी तो तुमसे मिलने को कितना उतावला था !’‘हुंह… हटो परे.

रंडी बता और किस-किस का लंड अपनी चूत में खाया है। रत्ना मादरचोदी बहुत सती सावित्री बनती है तू घूँघट निकालती है रण्डी.

क्यों ना इसी कमरे में ही कर लेते हैं।अगर हमारी बातों को देखें तो ऐसा लग रहा था कि हम मसाज की तैयारी नहीं चुदाई करने जा रहे हैं।जो मेरे मन में था शायद मौसी उस चीज़ से अनजान थी या पता नहीं।मौसी अन्दर जाते ही बिस्तर पर लेट गईं। एक पल के लिए तो मैं उनको देखता ही रह गया।मैं मौसी के पास बैठ गया।मैं- कहाँ से शुरू करूँ?मौसी- देख ले. जिस के बारे में मैंने सपने में भी कभी नहीं सोचा था,वह सब अगले भाग में लिखूंगा।यदि मेरी अब तक की कहानी आप को पसंद आई हो, तो इसे स्टार रेटिंग दीजिये, मुझे मेल कीजिये।आपका प्रतिसाद देख क़र मैं अगला भाग लिखूंगा और अपने कई और कई रंगीन किस्से बताऊँगा।आपका रौनक. !’बेचारा पूरा दम लगाकर मुझे खुश करने पर तुला था। मैंने फुद्दी को सिकोड़ा, वो थोड़ा रुक गया।‘मार मेरी कमीने.

दीदी ने बताया- वो तेरे जीजू के बॉस हैं, एक रात वो घर रुके थे, उन्होंने तुम्हारे जीजू को तरक्की दी थी, सो घर पर पार्टी थी. बस तुम तो मेरे बेटे जैसे ही हो और मेरे दोनों बच्चे भी मेरे जन्मदिन पर मुझे किस कर के ही विश करते हैं और अब तुमने भी कर लिया.

!और कहते हुए झड़ गई। अब वो ढीली पड़ चुकी थी और कुछ देर बाद मैं भी झड़ गया।मस्ती के आलम में हम दोनों शिथिल हो कर एक दूसरे की बाँहों में पड़े रहे फिर कुछ देर बाद उठ कर मैं उसके साथ नहाया और फिर सो गया।उसके बाद तो जैसे हम दोनों जब भी मिलते एक हो जाते और आज भी मैं बिना अपनी बीवी को बताए उसको खुश करता रहता हूँ। तो दोस्तों इसके साथ ही मैं अपनी आपबीती खत्म करता हूँ। अपनी राय जरूर ईमेल करें. !तो उसने कहा- मैं अपनी इस चुदाई को अपने जीवन मैं कभी नहीं भूलूंगी।फिर मैं उसके पास तीन दिन रुका रहा था और तीनों दिन और रात बहुत चुदाई की।तो दोस्तो, यह थी मेरी चुदाई की कहानी। आप जरूर बताना कि मेरी कहानी आपको कैसे लगी।[emailprotected]. मेरे जानू और अन्दर डालो…’पांच मिनट तक ऐसे ही चला फिर मुझे कस कर पकड़ कर बांहों में भर लिया और सिसकारियों के साथ झड़ गई।मैं भी दो-तीन झटकों के साथ अन्दर ही झड़ गया।कुछ देर हम ऐसे ही लेटे रहे.

हिंदी पिक्चर ब्लू पिक्चर वीडियो

‘हायऽऽऽ पता नहीं कब चुदेगी यह निगौडी मां की लौड़ी मेरी चूत!’ बुदबुदा उठी रीटा- काश, आज कोई मादरचोद मेरी कमरतोड़ चुदाई कर दे और मेरी मखमल सी रेशमी गाण्ड फाड़ कर मेरी चकाचक जवानी के कस-बल निकाल दे.

!तो राहुल बोला- आज तेरी चूत और जवानी का मज़ा लूँगा साली, साली कुतिया, चुद… चुद यहीं पे चुदक्कड़ रांड चुद, ले इसे लौड़े को अपने अंदर. कई बार रीटा ने राजू को मज़ाक मज़ाक में द्वी-अर्थी बातें और उलटे सीधे इशारे किये, पर राजू रीटा को मासूम और स्कूल की बच्ची सोच कर और डर के मारे रीटा की हरकतों को नज़र-अंदाज कर देता था और ऊपर ही ऊपर से ठरक पूरा करता रहा. इतने सालों से मैंने भक्ति-तप में अपना जीवन बिता दिया, अब अचानक तू आ गई, तो कहाँ से सब्र होगा ! अब तो तेरी योनि को फाड़ कर ही चैन मिलेगा !रीना जल बिन मछली की तरह तड़प रही थी उसकी बुर में आग लग रही थी कि जल्दी से गर्म लौड़ा उसकी चूत को ठंडा करे।रीना- आ उ.

मैं- चाची, अभी तो मेरी पढ़ाई चल रही है?चाची- तो क्या शादी के बाद नहीं पढ़ सकते क्या?दोस्तो, मैं बता दूँ कि हमारी बिरादरी में शादी बहुत जल्द हो जाती है. उसके होंठो की गुदगुदी और उसके साँसों की गर्मी से मैं अपने आप को रोक न पाया और उसके मुँह में ही अपना सर्वस्व लुटा दिया. सेक्सी फिल्में अंग्रेजी सेक्सीमैंने दरवाजा खोला और बोला- दीदी, यह सब क्या है?और उस आदमी की तरफ देखते हुए बोला- तुम कौन हो बे? मैं अभी पुलिस को बुलाता हूँ.

!’वो बोली- नीचे गीला-गीला हो गया है, बहुत मन कर रहा है, गिरि… प्लीज़ आ जाओ…!मैंने कहा- कहाँ गीला हो रहा है मेरी जान. मैं अपनी बाईक पर था और घर से कुछ जल्दी निकला था, तो मेरे पास समय काफ़ी था, मैं आराम से सड़क के किनारे से अपनी ही धुन में चला जा रहा था.

निशा बेटा आओ…निशा- आँटी, रिया है?मम्मी- ऊपर है अपने कमरे में, जाओ बेटा ऊपर ही चली जाओ।निशा- ठीक है आँटी।निशा आई, तब मैं अपने कमरे में लेटे हुए टीवी देख रही थी और मैंने काले रंग की लैगी और सफ़ेद टॉप पहना हुआ था।मैं- अरे निशा… तुम यहाँ कैसे?निशा- क्यों यार. सुबह में उसने मुझे गाण्ड मारने को कहा तो मैंने उसकी गांड भी मारी… उसने मेरे को खूब मस्ती करवाई…बाद में उसने अपनी रूममेट को भी मेरे से खूब चुदवाया…उसकी सहेली और आगे की चुदाई की कहानी अगली कहानी में…आप मुझे जरूर बताइएगा कि आपको मेरी कहानी कैसी लगी ![emailprotected]. मेरी जान!और यह कहते हुए मैं उसकी दोनों टांगों के बीच में चला गया। उसकी एकदम चिकनी चूत रस से भरी थी, जैसे ही मैं उसकी चूत चाटने लगा वो एकदम से वो हिल गई क्योंकि उसे वो एकदम अजीब सा लगा और जैसे मैं चाटता जा रहा था वो अपनी गांड उठा-उठा कर उछाल रही थी और बड़बड़ा रही थी- यह क्या कर दिया मुझे… एकदम पागल कर दिया.

अब वो और तेज़ी से मेरे लंड को चूसती जा रही थी, जैसे लॉलीपॉप चूस रही हो।करीब 15 मिनट चूसने के बाद मैं उनके मुँह में ही झड़ गया और वो मेरा सारा माल पी गई।वो कहने लगी- तुम्हारा माल तो बहुत मस्त है मेरी जान. उसने अगले कदम में मेरे वक्ष पर हाथ रखा तो मुझे मेरी अन्तर्वासना जागृत होने लगी और मैं उसकी गोदी में बैठ गई और उसको किस करने लगी. ‘बट भईया आई लाईक दि स्टफ वैरी मच!’ गुन्ड़ी रीटा शर्ट के कपड़े की तरफ इशारा कर अपने चुच्चे हवा में राजू की तरफ उछालती बोली- भईया, फील करके देखो, बहुत ही मजेदार और साफ्ट साफ्ट है.

आपके मेल पढ़ने के बाद मुझमें दोबारा लिखने की एक ललक जगी इसलिए मैं उसी घटना के आगे का किस्सा बताता हूँ.

ये घर भी तो तुम्हारा है, बताओ कुछ काम था क्या ?निशा- हाँ, कॉलेज में प्रोजेक्ट दिया है सबने अपने-अपने टॉपिक ले लिए हैं अब बस तू ही बाकी है और हाँ. !!!!!! यह मैं क्या सुन रही हूँ… मेरे मॉम-डैड मेरे साथ एक ही बेड पर हैं और मेरी ही उपस्थिति में चुदाई का प्रोग्राम चल रहा है और ये लोग यह सोच रहे हैं कि मैं सो रही हूँ… लेकिन एक बात माननी पड़ेगी मेरे मॉम-डैड की… कि अभी तक बड़े ही शालीन ढंग से काम चल रहा था… कोई गाली-वाली नहीं, कोई चूत लंड जैसा शब्द उनके मुंह से नहीं निकला था। सिर्फ मेरे डैड ने ‘चोद’ शब्द ही बोला था।मॉम- सुनो.

यह कह कर मैं माही को गोद में उठाने लगी तो हेमन्त बोला- इसे यहीं सोने दो! चलो मैं भी चल कर देखता हूँ कि रमेश की तबीयत कैसी है. विनायक ने मुझे तरसाने के लिए अपना सुपारा मेरी चूत के चारों तरफ गोल गोल रगड़ना शुरू कर दिया। मैंने बेचैन होकर अपनी चूत को ऊपर की तरफ झटका दिया, ठीक उसी पल में विनायक ने अपना लोड़ा मेरी चूत के छेद की तरफ करके धक्का मारा. चोदना शुरू करने के कुछ ही देर बाद वो झड़ गई।करीब दस मिनट के बाद वो फ़िर से झड़ गई और कुछ मिनटों के बाद मैं भी झड़ गया और अपना सारा गरम पानी उसकी चूत में लबालब भर दिया।हम कुछ देर तक थकान से ऐसे ही पड़े रहे और यहाँ-वहाँ की बातें करने लगे।फ़िर वो बोली- एक बात बोलूँ.

मेरी थोड़ी फट भी रही थी क्यूंकि मैं पहली बार उससे बात करने जा रहा था और अगर उसकी माँ या मेरा मामा देख लेता तो इंटरव्यू हो जाता मेरा तो…फिर मेरे दिमाग में आया कि यार प्यार किया तो डरना क्या ! तो मैंने उससे हिम्मत करके पूछ ही लिया- क्या नाम है तुम्हारा?वो बोली- नीलू”मुझे पहले ही उसका नाम पता था लेकिन बात तो कहीं से शुरू करनी थी न. हमारी तो जान में जान आई कि मोनू ने हमसे कोई सवाल नहीं किया, अगर कोई बड़ा होता तो हम बुरी तरह फ़ंस जाते क्योंकि दरवाज़ा अंदर से बंद था और जवान छोरा-छोरी अकेले…पूजा हंसते हुए बोली- बच गए यार… मेरी तो सांस ही अटक गई थी. !मैंने सोचा कि लड़की तो मुझसे भी आगे है। उसके बोलते ही मैं समझ गया कि बुर का जुगाड़ हो गया और उसको कसके दबाया।मेरा लण्ड तो कुतुब मीनार की तरह खड़ा था, मैंने उससे पूछा- दोपहर को पक्का आओगी ना?वो बोली- तुमसे ज्यादा मुझे इंतज़ार ही दोपहर का.

ब्लू सेक्सी बीएफ एचडी सच, मैं कुछ नहीं कहूँगी… मुझे अच्छा ही लगेगा।नलिनी भाभी- कितनी बेशर्म होती जा रही है तू?सलोनी- अरे इसमें बेशर्मी की क्या बात है… अगर मेरे प्यारे पति को और मेरी प्यारी भाभी… दोनों को अच्छा लगे तो मैं तो खुद उनका डंडा आपकी इस मुनिया में डाल दूँ… हा हा…नलिनी भाभी- चल दूर हट मेरे से… मुझे ये सब पसंद नहीं… तू ही डलवा… अलग अलग डंडे… चल ये सब बातें छोड़. !अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, मैंने उसकी चूत पर सुपारा रख कर रगड़ने लगा और वो जोर-जोर से चिल्लाने लगी और कहने लगी- अब बस.

लंड वाली चूत

एक बार दीदी घर आई हुई थी, तब शादीशुदा सगी बहन को देखा कि वो स्नानघर में नहा रही थी और स्नानघर अन्दर से बन्द नहीं था. मैं तो भूत बन कर उसे एकटक देख रही थी।तभी उसने दूसरा सवाल पूछा- तुमने कभी ऐसा कुछ किया था किसी के साथ?तो मैंने मुंडी हिला कर ‘ना’ का इशारा किया तो वो हँसने लगा।मैंने पूछा- हँस क्यों रहे हो?तो अनिल बोला- मैंने तो अंजाने में ही तुम्हारी ओपनिंग कर दी, इसलिए।पर अचानक वो सीरियस हो गया और पूछने लगा- कल का क्या इरादा है?तो मैंने पूछा- किस बारे में?तो उसने कहा- गीता ने कुछ नहीं कहा?तो मैंने कहा- हाँ. !और तेज धार के साथ झड़ गई।फिर मैंने सोनिया को सीधा लिटाया और उसकी टांगें चीर कर चौड़ी कीं तो देखा उसकी चूत बहुत तंग थी।मैं उंगली डालने लगा तो वो रोने लगी- अमित मर जाऊँगी मैं.

मज़ा आ जाएगा।मैंने अपनी जीभ उसकी चूत में डाल दी और जीभ से ही उसकी चूत को चोदने लगा।वो मस्ती में सिसियाए जा रही थी- चाट. ऐसे ही चूस मेरे राजा !’‘तो इमरान की मार लो चचाजी, मेरे से कम नहीं है, एकदम गोरी गोरी और कसी हुई है, मजा आयेगा आपको, सोचो अगर आप अपने भतीजे पर चढ़ कर उसकी मार रहे हो तो कैसा लगेगा !’ काशीरा ने उनको उकसाया‘हाँ. सोनाक्षी हीरोइन सेक्सी वीडियोअह्हा अह्ह्ह्ह्ह्हाआआ…मैं- क्या उन्होंने तेरे सामने ही सलोनी को चोदा?अब मैं उसको जल्द से जल्द पूरी तरह खोलना चाह रहा था इसीलिए अभी शब्द खुलकर बोलने लगा…मधु ने मुस्कुराकर मुझे देखा- हाँ.

बॉस ने हैरानी से पूछा- अच्छा? तो बताओ?सन्ता- पहला तरीका है कि एक सिगरेट को नदी में फेंक दो, इससे boat will become LIGHTER… using this LIGHTER you can light the other Cigarette.

रीटा ने अपनी मस्त जानलेवा कामुक जवानी को शीशे में निहारते हुए पन्जों के बल उचक कर गोरी-गोरी बाहें ऊपर उठा शीशे को तड़का देने वाली अंगड़ाई तोड़ी तो चटाक चटाक की आवाज से रीटा की तंग टैरालीन की शर्ट के टिच्च बटन खुलते चले गये. वह बोले- क्या मेरा सारा रस तुम मुफ़्त में पी जाओगी और एवज मुझे कुछ नहीं दोगी? उठो और बेड के ऊपर आकर लेटो ताकि मैं भी तुम्हरी महारानी का रस पी सकूँ.

बहुत बड़े और सेक्सी हैं।लगता है रूचि मैम अब मुझ में रूचि दिखा रही हैं, इन्हें पटा ही लूँगा और आज तो इन्हें चोद कर ही रहूँगा।मैम- चल पागल कहीं का. अब मजा आने लगा।वो अपनी चूत उठा-उठा कर मेरा साथ देने लगी और चुदाई के स्वर्ग का मजा लेने लगी।वो बोल रही थी, तुम्हारे भैया ने तो कभी ऐसा नहीं पेला. और नरेन् को भी उठाना है… चलो जल्दी करो…अमित- अंकल क्यों?सलोनी- वो स्कूल में साड़ी पहनकर जाना होता है… और मुझे पहननी नहीं आती… इसीलिए वो मदद करते हैं।…ह्म्म्म्म… !!!!उनकी इतनी बात सुनकर ही मुझे काफी कुछ पता चल गया था कि दोनों में बहुत अच्छी दोस्ती हो गई है।अब आगे आगे देखना था कि क्या होता है?!!?कहानी जारी रहेगी।.

!मैंने उसे कहा- वो पुरानी बात थी, उसे भूल जाओ मैं सोने जा रही हूँ।यह बोल कर मैं दूसरी तरफ मुँह करके सोने चली गई, पर अगले ही पल उसने मुझे पीछे से पकड़ लिया और कहा- सारिका, मैं आज भी तुम्हें बहुत प्यार करता हूँ।मैंने उसे धकेलते हुए गुस्से में कहा- क्या कर रहे हो.

रह रह कर उस नन्ही नवयौवना के सुकोमल अंगों में तनाव व कसाव आ जाता और कोरी फुद्दी किसी फड़फड़ाते लण्ड को गपकने के लिये कुलबुला उठती थी. चलो अब चुदाई करते हैं।इतना कह कर रोहन मेरे पास आया और मेरी चूत पर उसका लंड सैट करने लगा। निशा फ़िर बोल पड़ी- रोहन, मेरी जान पहले मेरी चूत चोदो ना. दूध के ऊपर से ही चूमने लगा।मैंने उससे कहा- देखो अगर तुम्हें मेरे ऊपर विश्वास है तो मेरी बात मानो, अपने इन कपड़ों को उतार दो.

सेक्सी वीडियो सेक्सी अंग्रेजराजू सम्मोहित सा फ़ैली हुई गोरी चिट्टी रीटा की बला सी खूबसूरत लबालब रस से भरी नन्ही सी सुडौल आमन्त्रण देती फुद्दी और रबड़ बैंड सी कसी गुलाबी गाण्ड का आँखों ही आँखों में चोदने लगा. नेहा तो नहीं जा रही है, बोल रही है कि अगर कोई दिक्कत ना हो तो आपे ऑफिस में रह जाऊँ?सुरेश जी बोले- नेहा आप कहीं भी रह सकती हो.

भोजपुरी सेक्शी वीडियो

फिर वो बोली- मेरे राजा, अब नहीं रहा जा रहा, तीन महीनों से नहीं चुदी हूँ, मेरी इस चूत की प्यास मिटा दो ना !मैं बोला- तो अभी लो आयशा जान !वो लेट गई, मैंने अपना लोड़ा उसकी चूत में थोड़ा सा ही डाला तो उसके मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगी- आ… उ… आ. घर में सब कैसे हैं?उसके बाद मामी पानी का गिलास लेकर मेरे पास आईं और जैसे ही उन्होंने मेरे हाथ में पानी का गिलास पकड़ाया मैंने गिलास पकड़ने के बहाने से उनका हाथ भी पकड़ लिया।थोड़ी देर तो मामी ऐसे ही खड़ी रहीं, फिर उन्होंने मुस्कुरा कर अपना हाथ पीछे खींच लिया और थोड़ी देर बाद मेरे लिए चाय बना कर लाईं। मेरे चाय पीते-पीते उन्होंने सारे कपड़े भी धो लिए थे।फिर वो बोलीं- तू थोड़ी देर बैठ. 30 हो गये। अरूण 10 बजे तक वापस जाना चाहते थे। मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि उसको कैसे रोकूं। मैंने अरूण को बोला कि आप 10.

बना लो मुझे अपना !इतना कहकर रीना लौड़े को जीभ से चाटने लगी। बाबा ने आँखें बन्द कर लीं और आनन्द के सागर में गोते लगाने लगा।बाबा का सुपारा फूल कर बड़ा हो गया। रीना बड़ी मुश्किल से उसको मुँह में ले पा रही थी और बड़े मज़े से उसको चूस रही थी।दस मिनट की चुसाई के बाद रीना ने लौड़ा मुँह से निकाला।रीना- उफ्फ़. अब तुम कुछ मत कहो तुमने मुझे खूब तड़पाया है।सच में दोस्तों ऐसा लग रहा था कि जैसे मेरा लंड अभी टूट जाएगा. हालांकि मैं शर्म से मरी जा रही थी पर फिर भी मेरी चूत गीली होने को बेताब होने लगी थी, मैंने सोनिया से कहा- मुझे बाथरूम जाना है!सोनिया बोली- क्यों नहीं! हम सब तुझे पेशाब करते हुए देखेंगे.

लेखक : प्रेम गुरुप्रेषिका : स्लिमसीमा (सीमा भारद्वाज)तीसरे भाग से आगे :‘भौजी…चलो कमरे में चलते हैं !’‘वो. सावन दुबेहम दोनों की जीभ कब आपस में अठखेलियाँ करने लगीं कुछ पता ही नहीं चला।कभी ऊपर वाले होंठ मेरे मुँह में तो कभी नीचे वाले होंठ। इसी बीच उसने भी मुझे पकड़ लिया था। कमरे में केवल पंखे और हमारी साँसों की आवाज़ सुनाई दे रही थी, मेरे हाथ उसके कूल्हों पर गया और मैंने उसको नज़दीक खींच लिया।‘अरे ये तो पूरी ताक़त से खड़ा है. इन लड़कों के साथ रहकर सब पता था मुझे कि ये आपस में क्या कोड बातें करते थे, सब पता था पर सच बताऊँ, किसी ने मुझ पर डोरे डालने की कोशिश नहीं की थी।संजय और रौनक तो बिल्कुल बच्चे से मन के थे, हाँ इन में से दानिश सबसे बड़ा था… इंटर का छात्र था.

ऊपर से पारो की लम्बी चोटी थिरकते चूतड़ों के बीच घड़ी के पैण्डूलम सी दायें-बायें उछलते देख बहादुर को लण्ड की रीड की हड्डी में सिरहन सी दौड़ गई. यू आर जूनियर…’वो मुझसे एक साल बड़ी थी, लेकिन मुझे उससे प्यार हो गया। मैं उसे किसी भी कीमत पर प्यार करना चाहता था।मैंने उसकी सहेली जिसका नाम देविका था, उससे कहा- ममता मुझसे रिश्ता बनाए, चाहे जो भी रिश्ता बना ले, पर मुझसे बात करे।मैं वास्तव में उसे बहुत प्यार करता हूँ।मेरी हालत पागलों से भी बदतर थी। मुझे न भूख लगती थी, न प्यास.

उन्होंने भी वासना भरी आवाज में कहा- चलो कमरे में इसका जादू भी बिस्तर पर देखती हूँ।वो अपने कमरे में जाने लगी और मैं पीछे-पीछे उनके साथ कमरे में पहुँच गया।मैंने कहा- भाभी अगर आप बुरा न मानो तो एक बात पूछूँ?भाभी- हाँ.

सम्पादक – इमरानफिर ऐसे ही मस्ती करते हुए हम शादी वाली जगह पहुँच गए।यहाँ तो चारों ओर मस्ती ही मस्ती नजर आ रही थी, बहुत ही शानदार होटल था, सभी कमरे ए सी थे और 3-4 लोगों के लिये एक कमरा सेट था।हम चारों ने अपना सामान एक कमरे में सेट कर लिया था, अरविन्द अंकल और हम. पिक्चर सेक्सी हिंदी पिक्चर सेक्सीकोई बात नहीं !!मैं उनकी बातें सुनकर सोच रहा था कि यार यहाँ तो कमाई भी हो सकती है, बस अरविन्द और मेहता अंकल चुप रहें।मैं यहाँ बहुत ही मस्ती और फिर कुछ शर्त लगाने की भी योजना बनाने पर विचार करने लगा था, देखता हूँ कितनी सफलता मिलती है।फिलहाल बहुत ही मजा आने वाला था।कहानी जारी रहेगी।. वीडियो सेक्सी बीपी मराठीथोड़ी देर के बाद पूजा ने मुझे संभलने तक का मौका ना देते हुए अपनी चूत का सारा पानी मेरे मुँह पर झाड़ दिया. बाद में सब ठीक हो जाता है।उसे चलने में दिक्कत हो रही थी, तो मैंने उससे पेनकिलर दी और उसे उसके हॉस्टल छोड़ कर आ गया!तब से अब तक मैंने उसे 3 बार चोदा है।कैसी लगी मेरी गाथा, दोस्तो, प्लीज़ अपने विचारों का अचार जरूर दें![emailprotected].

मुझे यह सुन कर मस्ती चढ़ गई और मैं उसके मम्मे चूसने लगा।क्या मस्त रसीले मम्मे थे…मुझे लगा कि मेरी क्रीम निकलने वाली है तो मैं बोला- आंटी क्रीम खाओगी?‘हाँ.

मेरा नाम श्लोक है, मैं अहमदाबाद में रहता हूँ। मैं एक कॉल बॉय हूँ, मुझे सेक्स बहुत पसंद है, मैं बहुत गंदा सेक्स करता हूँ…लड़की को देख कर ही मुझे क्या नशा हो जाता है, मेरा हर तरह की लड़कियों से पाला पड़ा है।किसी को 8 इंच का लण्ड चाहिए तो किसी को 10 इंच का. वो बीच बीच में कहता- चोद दे मुझे सूमी, रंडी की तरह चोद, ब्लू फिल्म की तरह चुदाई कर दे आज मेरी गाण्ड की!यह सुन कर मैं अपना पूरा लंड पूरे जोश क साथ उसकी गाण्ड में घुसा रही थी. कॉम पर पढ़ रहे हैं।मैं- तो अब क्या इरादा है?सुनीता- हे सुरभि, क्या बात करती है, मुझे शर्म आती है।सुनील सुनीता के हाथ पर हाथ हुए बोला- सच सुनीता जी, मैंने आपसे ज्यादा खूबसूरत औरत नहीं देखी।कहानी जारी रहेगी।आपके मेल के इन्तजार में[emailprotected].

वो फिर से बोली- दे सकते हो अपने आपको मुझे?मैंने सोचा कि जब यही निमंत्रण दे रही है तो मैं क्यों पीछे रहूँ. !उसने फिर से चुम्बन किया, उसके चुम्बन मुझे दीवाना बना रहे थे।फिर वो बोला- एक बात पूछूँ?मैंने कहा- पूछो ना मेरे राजा. सबके सो जाने के बाद मैंने एक कोशिश की, मैंने पहले उनके करीब जाकर लेट गया, फिर आहिस्ता से, उनके मम्मों पर हाथ फिराया और आहिस्ता-आहिस्ता से दबाने लगा.

सनी लियोन बीएफ सेक्सी

राजू का कच्छा नीचे खिचंते ही राजू का आठ इंचलंबा लण्ड फटाक से रीटा के मुँह पर लगा तो रीटा की डर के मारे चीख निकल गई- ऊईऽऽऽऽमांऽऽऽ! ईत्ता बड़ा? हाय रब्बाऽऽऽ मैं मर जाऊँऽऽऽ!’खुली हवा में आठ इन्च लण्ड झटकों के साथ ऊपर उठता चला गया और बुरी तरह से लोहे सा टना टन छत की तरफ अकड़ गया. अंतत: वह मान गई।मैंने तुरन्त अपने मित्र के अपार्टमेन्ट की ओर गाड़ी मोड़ दी।अमित के अपार्टमेन्ट के पहले वाले मोड़ पर मैंने अन्नू को उतार दिया और कहा- दो-चार मिनट के बाद उस अपार्टमेन्ट में सेकेंड फ्लोर की तरफ सीढ़ी से चली आना। वहाँ पर मैं तुम्हें मिल जाऊंगा. हे भगवान यह मैं क्या देख रहा हूँ? एक ससुर अपने ही बेटे की पत्नी यानी भाभी जी को चोद रहा है और भाभी जी भी मज़े लेकर उनके लंड पर उछल रही हैं… वाहह क्या सीन है.

विनायक के धक्के धीरे धीरे तेज़ होने लगे, अब तो वह लगभग हर बार पूरा लंड चूत से बाहर निकाल कर अंदर धकेल रहा था, मैं भी हर धक्के के साथ कमर उठा कर उसका साथ दे रही थी.

मैं दीदी की पहेलियों को समझ रहा था और मुझे पता था कि दीदी आज खुश क्यों है, रात उसकी मस्त चुदाई जो हुई है.

उसके बाद आमिर ने 2 घंटे तक अपनी खाला की चूत की चुदाई की।अगले ही दिन रूखसाना अपनी बहन आमिना से झूठ बोल कर जरूरी काम का बहाना बना कर आमिर को अपने साथ पुणे लेकर चली गई। वहाँ दोनों ने आज़ादी से एक दूसरे के साथ मज़े किये।. मैं पूजा के ऊपर से उठा तो उसकी चूत से ढेर सारा कामरस बाहर निकला और उसके चूतड़ों से होता हुआ चादर पर गिर गया. नंगी सेक्सी पिक्चर इंडियनगोपाल को कितने दिन हो गए और तुम तो अभी जवान हो, सेक्सी गर्म औरत हो।’ससुर जी के मुँह से अपनी तारीफ सुन कर मैं पागल हुए जा रही थी, मेरी मुनिया ने भी पानी छोड़ दिया था।‘कुछ भी गंदा नहीं है बहू.

उम्मीद करता हूँ आपको कहानी पसंद आई होगी।मुझे मेल जरूर लिखें… आपकी प्रतिक्रिया के आधार पर ही मैं आगे की कहानी लिखूँगा।. दोनों मेरे लंड को मुँह में बारी बारी से ले लेकर चूसने लगी, कुछ देर में मैंने कहा- रुको !और मैं अपना लंड हाथ में ले मुठ मारने लगा और थोड़ी देर में मैंने अपना सारा पानी दोनों के चेहरे पर गिरा दिया और बेड पर जाकर लेट गया. आँखें बाहर को निकल आईं। मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रखे और चूमने लगा। कुछ देर बाद वो नीचे से गांड हिलाने लगी, तभी मैंने भी उसका साथ दिया और आगे-पीछे होने लगा।फिर 15 मिनट तक चूत-लण्ड का घमासान युद्ध हुआ। चूत.

मैंने सोचा कि करवट बदल रही है, अम्बिका ने कहा था मुझे कान में कि थोड़ी देर रुक जाओ, यह सो जाये उसके बाद. आपी पूरी तरह गर्म हो गई थी, उन्होंने बोला- मुझे भी वो डण्डा तो दिखा!तब मैंने अपना लंड निकाल कर उनके हाथ में दे दिया और आपी उसे चूसने लगी.

तो दोस्तो, यह तो हुआ मेरे बारे में, चलिए अब मैं आप को घटना के बारे में बताती हूँ, बात 16 दिसम्बर की है, मैं अपनी एक सहेली के घर पर थी, जिसका नाम सोनिया है, सोनिया और मैं कहने को तो सहेलियाँ हैं, पर हकीकत कुछ और ही है, सोनिया के घर पर उसके जन्मदिन की पार्टी थी.

!बात उन दिनों की है, जब मैं 11वीं में पढ़ता था और इत्तेफ़ाक़न वो भी 11वीं में ही पढ़ती थी लेकिन अफ़सोस मेरे साथ नहीं. आपको बताना ही भूल गई कि पापा ने जाते समय मुझे कहा था कि वो जल्दी वापस आकर मुझे ले जाएँगे, बस इसी वजह से मैं तैयार हो रही हूँ।करीब 9 बजे तक मैं एकदम तैयार होकर पापा का इंतजार करने लगी। आज मैंने पापा की लाया हुआ गुलाबी टॉप और काला स्कर्ट पहना था, जिसमें मैं एक छोटी बच्ची लग रही थी और वैसे भी अभी मेरी उमर भी क्या थी. किसी ने सच ही कहा है कि खूबसूरत औरत को देख कर मर्द अपना आपा खो देता है और मेरा हाल भी अब कुछ ऐसा ही था, मैं तो बस एकटक उसको देखता ही जा रहा था, और वो मुझसे कहे रही थी- मुझको माफ़ कर दीजिए! मुझसे गलती हो गई, मैंने आपको देखा नहीं और टक्कर हो गई, वो अचानक मेरी गाड़ी का टायर पंकचर हो गया और मैंने गाड़ी को एकदम साइड पर कर दिया.

सेक्सी बीपी बॉलीवुड तो मैंने कहा- भाभी, आप फिकर मत करो, मैं आपका साथ दूँगा, मैं आपके जिस्म की प्यास बुझाऊँगा और औलाद की चाहत पूरी करूँगा. वो जाते जाते बोली- तुम बहुत अच्छी बातें करते हो, अब तुमसे कल बात होगी !मुझे ऐसा लगा कि मेरा तो दिल वहीं निकल कर गिर पड़ेगा क्यूंकि इतनी तेज़ी से धड़क रहा था वो… अब तो मेरी चांदी ही चांदी थी.

मुझे लगा कि यूँ तो मैं 15 दिनों की छुट्टी ले कर आया हूँ और यहाँ 3 दिन में ही बोर हो गया हूँ, क्यूँ ना मैं ही चला जाऊँ लेकिन ससुरजी क्या सोचेंगे, यह सोच कर मैं खामोश था. सच मानो दोस्तो, उस समय तो अगर मेरे सामने जन्नत की परी को भी खड़ा कर दो तो एक बार तो मैं उसको भी फ़ेल कर दूँ. दोनों ने जींस टॉप पहना हुआ था, मैंने उसका टॉप ऊपर उठा दिया और ब्रा खिसका कर चूचिया चूसने लगा और दबाने लगा.

सेक्स मूवी वीडियो बीएफ

हम पति पत्नी हैं…मेरी आवाज शायद उस इंस्पेक्टर तक भी पहुँच गई, वो इंस्पेक्टर बोला- क्या बकवास हो रही है वहाँ??? यहाँ लेकर आ दोनों को…मैं दौड़कर उस इंस्पेक्टर के पास गया- सर हम दोनों पति पत्नी हैं और एक पार्टी से आ रहे हैं. यह कहानी शायद आपको एक सेक्सी और कामुक कहानी ना लगे, क्योंकि यह कहानी एक औरत की इच्छाओं पर आधारित है, ऐसी बहुत सी औरतें होगी जिन्हें यह कहानी अपनी सी लगेगी!यह एक लंबी और धीमी गति से चलने वाली कहानी है. अब मेरा शरीर फ़िर से अकड़ने लगा, तो मैंने भी अपने धक्कों की रफ़्तार बढ़ा दी और कुछ ही देर में मेरा झड़ने का वक्त आ गया था, मैंने उसकी कमर को कसकर पकड़ लिया, और अपने लंड से फ़व्वारा उसकी गांड के अन्दर ही छोड़ दिया.

हेल्लो दोस्तो,मेरा नाम विशाल है, सूरत का रहने वाला हूँ और मैं इन्जीनियरिंग का छात्र हूँ, मैं दीखने मैं तो काफी अच्छा दिखता हूँ. अपने कपड़े ठीक कर लीजिए!मैंने तपाक से अपने कपड़ों की ओर देखा तो सब कुछ ठीक लगा, फिर भी मैंने उन्हें संवारने की कोशिश की।तब उसने कहा- उधर नहीं पीछे!मैंने तुरंत अपना हाथ पीछे किया तो मेरी कमीज ऊपर उठी हुई थी। शायद जब मैं गिरने वाली थी और उसने मुझे बचाया तब हो गया होगा।मैंने उसे जल्दी से ठीक किया और दूसरी तरफ देखने लगी और सोचने लगी कि इसने तो मेरा सब कुछ देख लिया होगा पर मैं करती भी क्या.

अगर बोलती हूँ तो मेरे पापा की छवि खराब होती है और ना बोलूँ तो पक्की सहेली से बुराई होती है। सो उसने तय कर लिया कि चाहे जो भी हो वो डॉक्टर नेहा से ज़रूर बात करेगी।तभी चाय आ गई, चाय पीते हुए रश्मि ने धीरे से कहा- यार मैं जो बोलने जा रही हूँ… उसे अपने पास तक रखना और मुझसे मज़ाक मत करना, पर मैं चाहती हूँ कि तुम एक सही निर्णय बताओ।नेहा- तुम बताओ तो सही।रश्मि- ओके.

दीदी एकदम चुप हो गई, फिर कुछ संभालते हुए बोली- प्लीज़ राहुल ये बात किसी को ना बताना, नहीं तो मेरी जिन्दगी बर्बाद हो जाएगी. तो बौड़म राजा हमने चार दिन से अपने पति को चूत में लंड घुसाने ही नहीं दिया। तो हो गई ना आज फ्रेश तेरे लिये !मैंने शिखा रानी के चूचों पर एक एक चुम्बन दागा और पूछा- शिखा रानी हो तो गई चूत फ्रेश. अन्तर्वासना के सभी पढ़ने वालों को मेरा तहे दिल से नमस्कार!मेरा नाम अरमान है और मैं जयपुर का रहने वाला हूँ, उम्र 23 साल है, रंग गोरा और लम्बाई 5’4″ है और मेरा लंड 7″ लम्बा 3″ मोटा एकदम लोहे की तरह कड़क!मैं अन्तर्वासना का बहुत बड़ा फैन हूँ इस में आई हर कहानी मैं नियमित रूप से पढ़ता हूँ.

फाड़ दो मेरी चूत और समा जाओ मुझमें ! अ आह उफ़ आ आह अब आह और अ अ इंतज़ार न… नहीं हो रहा !”विनायक ने बिना देर किये मेरी दोनों टांगों को फैलाया और अपना मूसल सा लंड मेरी चूत के छेद पर टिका दिया।मैंने आने वाले पलों के एहसास को पूरी तरह महसूस करने के लिए अपनी आँखे बंद कर ली और साँसें रोक ली. !पर मैं कहाँ मानने वाला था, मैंने उसके चुचूक को अपने मुँह में लेकर एक और धक्का लगा दिया और मेरा आधा लण्ड उसकी चूत में चला गया। उसकी आँखों से आँसू निकलने लगे और वो कहने लगी- मुझे छोड़ दो. मेरे दिमाग में एक नया आसन आया! कमोद के ऊपर मैंने भाभी को झुकाया दोनों हाथ कमोड के ऊपर रखवाए…भाभी- यह क्या कर रहे हो?मैं- मैं तुम्हें और मजा दूंगा जानेमन.

रंडी बता और किस-किस का लंड अपनी चूत में खाया है। रत्ना मादरचोदी बहुत सती सावित्री बनती है तू घूँघट निकालती है रण्डी.

ब्लू सेक्सी बीएफ एचडी: फाड़ दो मेरी चूत।मैंने उसको खड़ा किया और उसकी फुद्दी पर अपना लंड रख कर और अपने होंठ उसके होंठ रख कर जोर से धक्का मारा। मेरा आधा लंड उसके अन्दर चला गया वो अन्दर ही अन्दर बहुत चिल्लाई, उसके आंसू आ गए। मैंने फिर एक धक्का और मारा अब मेरा पूरा लंड उसकी चूत में था. मोनिका ने जबरदस्ती तितली सी फड़फड़ाती रीटा के चूतड़ों को टेबल टेनिस के बैट से ताबड़तोड़ पीटा तो रीटा भी हिंसक चुदाई में विश्वास रखने लग पड़ी थी.

10 पर हम घर से निकले, रिक्शा किया और हम दोनों गेस्ट-हाउस पहुँच गए।मैंने गीता से कमरा नम्बर पूछा।तो गीता बोली- तू बस देखती जा।हम अन्दर गए, दूसरी मंज़िल पर 201 नम्बर का कमरा था। गीता ने दरवाजे की घन्टी बजाई।अनिल ने दरवाजा खोला, खोलते ही अनिल चहका- वाह. वो चौंक गया और बोला- तू लड़का है?मैंने कहा- बाहर से लड़का अंदर से लड़की, बोल अब करेगा मेरे साथ सेक्स?वो अपने लंड को हिला रहा था, फिर एकदम से बोला- तू मेरी गांड मारेगी?मैंने कहा- हाँ, अगर तुझे कोई प्राब्लम नहीं है तो!वो बोला- मुझे गाण्ड में लंड जैसी शेप के खिलौने डाल कर मूठ मारने में बहुत मजा आता है. मैंने पेटीकोट को उसके पैरों से अलग किया, मेरे सामने अब वो पूरी तरह से नंगी खड़ी थी, उसकी चूत तो ना जाने अब तक कितना पानी छोड़ चुकी थी, मैंने बस कुछ देर उसको देखा, और बिना समय गंवाये उसकी चूत पर अपना मुँह रख दिया और अपनी जीभ को नुकीली करके उसकी चूत के अन्दर दाखिल कर दिया.

पूजा बुरी तरह छ्टपटा रही थी और जोर जोर से सीत्कार रही थी- आआ…ह्ह्ह्ह ऊओह्ह्ह्ह समीर! बहुत अच्छा लग रहा है, मजा आ रहा है… आआऊच आह्ह!मैंने कहा- मेरी जान ये तो शुरुवात है असली मजा तो तुझे चुदाई में आएगा.

वो मधु मक्खी तुम्हें खा जायेगी?’ कहते हुए माया अपनी नाइटी उठा कर नीचे भाग गई।और फिर मैं भी लुंगी तान कर सो गया।मेरे प्रिय पाठको और पाठिकाओ आपको यह’माया मेम साब’ कैसी लगी मुझे बताएँगे ना?आपका प्रेम गुरु[emailprotected][emailprotected]. जब वो नहाकर बालकोनी में खड़ी होती, तब मैं उसको बहुत देखता था तो मेरा लोड़ा उसको देखकर तुरंत खड़ा हो जाता था, कई बार तो मैं उसे देखकर मूठ भी मार लिया करता था, उसको चोदने की मेरी बहुत इच्छा होती थी. चल सुबह बात करते हैं।”रश्मि ने फोन स्विच ऑफ कर दिया, पर वो बुरी तरह शर्मा गई और उल्टी होकर सो गई।कहानी जारी रहेगी।आपके ईमेल का इन्तजार रहेगा।[emailprotected].