फुल एचडी की बीएफ

छवि स्रोत,भाभी की सुहागरात वाली बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

कामुकता सेक्स: फुल एचडी की बीएफ, मेरा खड़ा लंड देख कर भाभी मेरे करीब आईं और बोलीं- खोल कर दिखाओ … अभी इसकी अकड़ को मैं देखती हूँ.

मियां खलीफा एक्स एक्स एक्स बीएफ

साली जी के पांव जब नीचे की तरफ आते तो मेरे लंड का सुपारा भी फोरस्किन से बाहर निकल झांकने लगता. मां के साथ बीएफमैंने भी उसे कभी अपनी भतीजी नहीं बल्कि अपनी छोटी बहन ही माना है। इसलिए मैंने उसको हमेशा अपनी बहन की तरह ही प्यार और सम्मान दिया है.

सदस्यों को पूर्ण संतुष्टि देने के मामले में वेबसाइट की हर महिला की एक प्रभावशाली छवि थी. सेक्सी फिल्म बीएफ इंग्लिश मेंमैं आंखें बंद करके सोच रहा था कि इन दो दिनों में मां को कैसे कैसे चोदूं.

भाभी कहने लगी- रानी, तुम्हारा शरीर तो चुदने के लिए बिल्कुल तैयार है और तुम तो बड़े से बड़ा लंड भी ठंडा कर सकती हो.फुल एचडी की बीएफ: हाउस मेड सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी कमसिन कामवाली को अपने बातों और तोहफों के जाल में फंसा लिया था.

भाभी ने मुझे छोड़ा और बोली- सुबह के तीन बज गए हैं, अब थोड़ा सो लेते हैं, मैं अपने बेडरूम में जा रही हूँ, नेहा हर रोज छः बजे उठकर अपने लिए चाय बनाती है.वहां पर क्या क्या हुआ?लेखक की पिछली कहानी:तीन चूतों की गैंग बैंग चुदाईनमस्कार दोस्तो! मैं रवि आप सभी का एक बार फिर से अन्तर्वासना पर स्वागत करता हूँ.

हिंदी बीएफ सेक्सी लड़की की - फुल एचडी की बीएफ

पर हम दोनों के पास समय की कमी थी, जिस वजह से मेरी और भाभी दोनों की वासना अधूरी थी.फिर एक दिन दोपहर के वक्त उसका फोन आया और वो कहने लगी कि उसको कैमिस्ट्री के कुछ सवाल हल करने हैं.

मुझे आज भी याद है वो कितना शानदार नजारा था कि मेरा लंड निष्ठा की गांड में अन्दर बाहर हो रहा था और वो खुद अपनी चूत में उंगलियां घुसा के अपनी चूत चोद रही थी और अपना दाना मसल रही थी. फुल एचडी की बीएफ आप जानो आपका काम जाने, अब जो करना हो आप खुद ही कर लो, थक गयी मैं तो बुरी तरह!” वो थोड़ा झुंझला कर बोली.

वानी- प्लीज सर, मेरी गांड में उंगली मत डालो, इसमें अभी भी बहुत दर्द हो रहा है.

फुल एचडी की बीएफ?

सुबह 4:00 बजे जब मेरी आंख खुली तो मैंने भाभी के ऊपर चादर डाली, बाथरूम गया और कपड़े पहन कर ड्राइंग रूम में आ गया. भाभी लगातार अपने चूतड़ उठा उठा कर अपनी चूत को मेरी चूत पर पटकती रही और मेरी चूचियों और होंठों को चूसती रही. तो क्या पता मेरी बात बन जाए।मगर इसके लिए बहुत हिम्मत चाहिए थे।तो उस रात मैंने चोरी से अपने एक दोस्त की मदद से दो पेग लगाए.

वहां बाथटब में गुनगुना पानी भर कर उसमें सोप का ढेर सारा झाग भर दिया. उसकी नंगी और सेक्सी गोल मोटी गांड को ऐसे अपने सामने देख कर मेरा मन करने लगा कि उसकी गांड को चोद दूं. कोमल के जाते समय मैंने कोमल की गांड पर चपत लगा दी और वो मुस्करा कर चली गई.

दोस्तो, मैं सिमरन एक बार फिर से वापस आ गयी हूं अपनी स्टोरी का अगला भाग लेकर।आप लोगों ने मेरी इस स्टोरी के पिछले पार्टसेक्सी कॉलेज गर्ल ने जूनियर को बनाया सेक्स गुलाम- 1में देखा था कि कैसे मैंने अपने जूनियर को अपनी चूत चटवाकर मजा लिया था. साली जी के गाल चूम डाले, होंठ चूस डाले गर्दन भी चूमी तो साली जी मुझसे कामातुरा होकर लिपटने लगी. तो चिकनाहट की वजह से उसके लंड का मुंह मेरी गांड में घुस के अटक गया.

मैंने लण्ड बाहर निकाल कर पैंटी को अपने लण्ड पर रगड़ा और उसे लण्ड पर लटका लिया. तुम्हारे साथ बिताए हर पल के बारे में बताया मुझे … अपने बहुत निजी पलों में तुम्हारे साथ शामिल कर लिया.

एक दिन सुमीना के बेटे की तबियत बिगड़ गयी और मैं उसे इलाज के लिए अस्पताल ले गया.

फिर मैं उठकर वॉशरूम गया और मुँह हाथ धोकर बाहर आया, तो देखा कि उसने अपने कपड़े पहन लिए थे.

)मैं प्रीति की ताबड़तोड़ चुदाई कर रहा था और वो उतने ही जोर से मेरा हौसला बड़ा रही थी. ब्रश आदि से फ्री हो कर जैसे ही मैं मुड़ा तो दरवाजे के पीछे नेहा की बहुत ही सुंदर पैंटी और ब्रा टंग रही थीं. बारी बारी से मेरे दोनों निप्पलों को चूसने के बाद उसने बिना कहे मेरा लंड सहलाते हुए अपने मुंह में ले लिया और अच्छे से चूसने लगी.

फिर एक दिन ऐसी घटना मेरी आंखों के सामने आयी कि उस दिन के बाद से गुंजन के प्रति मेरा नज़रिया ही बदल गया. मैंने पूछा- भाभी, कई दिनों से भैया घर पर नहीं आ रहे हैं, रात में आपको अकेले इस तरह से डर नहीं लगता है?वो बोली- नहीं, उनका होना न होना अब बराबर सा ही लगता है. मेरे बहुत ज़ोर देने पर उसने बोला- अगर आपको बता भी दूँगा तो क्या मेरी परेशानी आप दूर कर दोगी?उस पर मैंने बोला- बताओ तो … देखूँ शायद कोई समाधान हो मेरे पास।अखिल ने बताया कि आज उसके दोस्तों की तरफ से पार्टी है और उसकी कपल्स थीम है.

भाभी और मैं फिर आपस में लिपट गयी और एक दूसरी के अंगों को छेड़ने लगी और न जाने हमें कब नींद आ गई.

राजेश ने शीला को एक बार फिर चूमा और बोला- आज मुझे पहली बार सेक्स का मजा आया है. mp3जैसे ही उन्होंने चड्डी निकाली उनका फनफनाता हुआ लंड मेरी आँखों के सामने आ गया।सच बताऊँ तो मेरे जीवन में अभी तक का वो सबसे बड़ा लंड था. अब भाभी मेरी टीशर्ट पर झपट पड़ी और मेरी टीशर्ट को निकाल कर मुझे भी पूरा नंगा कर लिया.

उसके बाद मैंने फिर से उसके नितम्बों को अपने दोनों हाथों से भींच दिया. तो वो मुस्करा कर बोली- जान अब क्यों डरते हो … अब तो हमें हमारी बड़ी दीदी ने भी स्वीकार कर लिया है. इस तरह से 15 मिनट तक उसने अपनी चूची दिखा दिखा कर मुझे पागल कर दिया.

मैंने कहा- मुझे क्या पता कैसे चोदता है आदमी?भाभी मुस्कुराई और बोली- अच्छा, चल आ नीचे, मैं तुम्हें चोद कर दिखाती हूं.

यहां तक कि हर धक्के पर बेड अपनी जगह से सरकने लगा था और चूत घर्षण से इतनी गर्म हो चुकी थी कि अचानक नेहा की चूत की दीवारों ने फव्वारे छोड़ दिये और उसी वक्त मेरे लंड ने भी अपना फव्वारा खोल दिया. मेरी उंगली अंदर जाते ही वो जोर से चीखी- आह … ओह्ह!मैं धीरे धीरे अपनी उंगली अंदर बाहर करने लगा.

फुल एचडी की बीएफ मैंने नेहा की छाती पर खड़े उसके दोनों मम्मों को पकड़ लिया और उन्हें जोर जोर से मसलने लगा. आते ही हम दोनों एक दूसरे से लिपट गये और जोर जोर से एक दूसरे को चूसने लगे.

फुल एचडी की बीएफ फिर जरीना नीचे से धक्के लगाने लगी। तो मैं समझ गया कि लड़की तैयार है। फिर मैंने धीरे धीरे स्पीड बढ़ा दी।जरीना- आआः आह आह अम्मी … धीरे चोदो … फ़ाड़ दोगे क्या आज ही?मै- नहीं मेरी जान … ऐसे थोड़ी ना फ़ाड़ दूंगा. वहां पर आने-जाने वाले लोग प्रीति को घूर घूर कर देख रहे थे और जैसे मुझे चिढ़ा रहे हों कि लंगूर के मुहं में अंगूर दे दिया.

मैंने कहा- क्या काम करना है, बताइये?मुझे लगा कि शायद कोई सामान लाने का काम होगा.

सरिता ऑडियो स्टोरी

नमस्कार दोस्तो, आपके मेल मत मुझे प्राप्त हो रहे हैं, यथा संभव मैं सभी का जवाब भी दे रहा हूँ … समर्थन और सुझाव के लिए मैं आप सभी का आभारी हूँ. दोस्तो, अब तो 2 महीने भी मुझे 2 साल से ज्यादा लग रहे थे और इन 2 महीनों में मैंने कसरत करना शुरू कर दिया था ताकि जब पहली बार प्रीति मुझसे मिले तो मुझे देखते ही इम्प्रेस हो जाए. अच्छा जीजू बोलो खाना लाऊं? मैंने आलू के परांठें बनाये हैं साथ में टमाटर धनियां हरी मिर्च की चटपटी चटनी भी है, बोलो चलेगी?” साली जी कुछ इठला कर बोलीं.

पर तुम्हारी शादी है, तुम सोच लो कि क्या करना है और क्या होगा।खुशी ने फिर कहा- तुम सचमुच बुद्धू हो, अरे यार तुम्हारा लिंग मुझे अपने लिए नहीं अपनी सहेलियों के लिए चाहिए. तो ले मेरी बुलबुल अब देख इस लंड का कमाल!” मैंने कहा और फिर निष्ठा की गांड में बलपूर्वक स्पीड से धक्के मारने लगा. जैसे जैसे मैं चुदाई की रफ़्तार बढ़ाता गया, प्रीति जोर जोर से सिसकारियां लेने लगी- अह्ह्ह … उम्म … बहुत मजा आ रहा है अजय … हाये … चोद दो … मेरी चूत को खोल दो अजय … आह्ह अजय … ओह्ह अजय … फक मी … आह्ह … फक मी … जोर से।चुदते हुए वो बोली- अजय, लगता है तुमने तो सेक्स में पीएचडी कर रखी है.

उसने कमर तक चादर ढक रखी थी।मैं पागलों की तरह उसके जिस्म को देखे जा रहा था.

बेडरूम में जाकर मैंने मैंने अपनी शर्ट व बनियान उतार दी और मनजीत का ब्लाउज व ब्रा उतार दी. वो बात करने वाले को एकदम से रियल वाली फीलिंग देने की काबिलियत रखती है. पापा के क्रेडिट कार्ड से मैंने अपने क्रेडिट खरीद लिए और तुरंत ही सेक्स चैट सेशन शुरू हो गया.

मैं झट से उसके कमरे में घुसा और उसे अपनी बांहों में भरकर अच्छे से उसके गालों को काटा, उसके होंठों को चूसा और खूब देर तक बांहों में भींचा. मैंने तेरे मामा को बहुत बार बोला, लेकिन उनका तो पीछे के गेट पर आते-आते ही दम तोड़ देता है. मेरा लंड फनफना रहा था और उसके हाथ में मैंने अपना गर्म लौड़ा दे दिया.

उसने जीभ से लंड को चाटा, तो लंड ने फुंफकार मार दी और उसने उसी समय अपने हाथ से लंड की चमड़ी को ऊपर चढ़ा कर सुपारा बाहर निकाल लिया. कभी निप्पल चूसती, तो कभी होंठ … तो कभी कान की लौ चूमने लगती, तो कभी गर्दन पर गर्म सांस छोड़ते हुए होंठ फेरने लगती.

तभी मैंने टोका- ये क्या हो रहा है यहां?जैसे ही मेरी आवाज़ उनके कानों में गयी तो वो दोनों हड़बड़ा कर यहां-वहां देखने लगे।तभी मैं बाहर उनके सामने आ गया और उनके होश सफेद हो गये. उसने मेरे पंजे को पूरा मुंह में भर लिया और दोनों पंजों को बारी बारी से चाटने लगा. मैं सीधा होकर अब अहिस्ता अहिस्ता अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा, तो मम्मी भी अपनी गांड उठा उठाकर मेरा हथियार अपनी चुत मे ले रही थीं.

पहले दिन सुबह ही दोनों लड़कियों ने हमारे लौड़े चूस कर हमें बुरी तरह से तड़पा दिया.

वो बराबर जोर जोर से सिसकारियां ले रही थी और बराबर कुछ न कुछ बड़बड़ा रही थी. अब मैंने ट्रेन से जाने का कहा, तो वो बोली कि हवाई जहाज के टिकट बैंगलोर के ले लो. मेघा- क्या तुम्हें इस तरह से मेरी गांड का गोल गोल नाचना पसंद आ रहा है बेबी? अपने लंड को और तेजी से मुठ मारो … ओह्ह यस बेबी … और तेजी से मुठ मारो … मेघा की उत्तेजक बातों से बेकाबू होकर मैंने अपनी मॉनिटर स्क्रीन पर अपने वीर्य की तेज पिचकारी फेंक दी.

जिया ने मुझे अपनी बांहों में ले लिया तो मैं उसके होंठों को चूमने लगा. अब वो मेरा दर्द कम करने के लिए मुझे चूमने लगे, मेरे होंठों को चूसने लगे, मेरी चुचियों को दबाने और पीने लगे.

लेकिन उदय सर ने इतनी कसके मेरे बालों को पकड़ रखा था कि मुझे उनसे छूटना मुश्किल था. मैं बोला- घबराओ मत, आज तुम्हें जीजा साली सेक्स का असली मजा दूंगा मैं। फिलहाल तुम अपनी कुर्ती पहन लो वरना कोई आ गया तो मुसीबत हो जायेगी. हॉट सेक्स स्टोरी इन हिंदी का पिछला भाग:कभी कभी जीतने के लिए चुदना भी पड़ता है-3मैंने लगभग उसका 15 मिनट इंतज़ार किया.

साड़ी xxx

चलिये देखते हैं कि आपको उत्तेजना आती है कि नहीं?अस्मि ने अपनी स्कर्ट को पेट तक चढ़ा लिया और उसकी मोटी गांड जिस पर नेवी ब्लू रंग की पैंटी कसी हुई थी, वो अपनी गांड को नागिन की तरह लहराने लगी.

दो मिनट धीमी स्पीड से चोदने के बाद मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और साथ में जिया की कामुक आवाजें भी बढ़ गईं. हम दोनों मर्द अकेली गीत को चुसाई का मज़ा दे रहे थे और नेहा हम दोनों को ऐसा करते हुए पास से देख रही थी. मैं वहीं गांव के दूसरे रास्ते पर चला गया और कुछ देर बाद गुंजन का फोन आया कि वो लोग मेला देखने के लिए निकल गये हैं.

फिर मैंने उसके दोनों चूतड़ अपने दोनों हाथों से फैलाए और धीरे धीरे लंड घुसा दिया,वह आआ करने लगा. जावेद ने नाश्ता बनाने का कहा तो मैंने कहा- हम और तुम तो शादी से लौटे हैं … डिनर कर आए हैं … सलीम भाई भी होटल से बढ़िया बिरयानी खाकर आए होंगे. बीएफ मैथिली बीएफमैंने मजाक से कहा- सिर्फ दिल जीत सकता है? और चूत नहीं जीत सकता क्या?तो नेहा ने मेरे सीने को चूम कर कहा- हां सिर्फ दिल जीत सकता है.

मेरे गाल और कान एकदम लाल हो गए थे और मेरा हाथ रह- रहकर होंठों से होता हुआ मेरी चूत पर जा टिकता था. फिर वो पैन्ट की चैन खोलने लगी और सबसे कहा- आईंदा ध्यान रखना कोई रंडी का चुंबन देखने की बात कहे … मतलब वो लंड पर लड़की के होंठों को पाना चाहता है.

फिर मैंने अलमारी खोली और अपनी पसंदीदा ब्राज़ीलियन शॉर्ट पैंटी निकाली. अब तक की मेरी इस सेक्स कहानी में आपने पढ़ा था कि प्रकाश भाईसाब की दूकान में ही सलीम ने मेरी गांड मार ली थी. फिर मैं उसके ऊपर छा गया और चूत रस के गीले होंठ उसके होंठों पर रख दिए और चूमने लगा.

परन्तु लड़कियों को तो बहुत ज़्यादा सावधानी रखनी ज़रूरी है और वह भी विशेषतः टीवी वाली जानी पहचानी लड़कियों को. मम्मी सीत्कार भरकर बोलीं- ओह हर्षद प्लीज … लंड को और अन्दर डाल दो ना. मैंने उसे अपने नीचे लिया और उसकी चुत की फांकों पर लंड का सुपारा घिसने लगा.

हम भी तो मिलें आपके दोस्त से।बीवी की ख्वाहिश पर रमेश बोला- ठीक है, कोशिश करुँगा.

”वो … साड़ी पहनाते समय मैं मधुर के पेट, कमर और नितम्बों पर हाथ लगाता था तो उसे बहुत गुदगुदी होती थी तो जानबूझकर बार-बार उन पर हाथ फिराया करता था. जानते हो रमित, उसने इतने कम समय में मेरे साथ बहुत अच्छा वक़्त बिताया है.

सोने से पहले उन्होंने गैलेरी का पीछे का दरवाजा भी खोल दिया और अपना बेडरूम अंदर से बंद कर लिया ताकि किसी को शक न हो. आह मेरी रखैल हो!वो बोली- आह रणदीप … मैं तुम्हारी रखैल हूँ रंडी हूँ. परन्तु मैं भी तय किये हुए था कि गुड्डी रानी को बहुत अधिक बेहाल करने के बाद ही लौड़ा दूंगा ताकि लंड के घुसते ही एक बार तो डार्लिंग झड़ ही जाए.

मेरा दास विक्की अपने तने हुए लंड के साथ अपनी मालकिन के सामने घुटनों पर था जो अपनी मालकिन को प्यासी नजरों से देख रहा था. और वैभव का परिवार सेनेटरी और सीमेंट के बिजनेस से जुड़ा हुआ था।मैं कार्ड ही देख रहा था कि खुशी का मैसेज आया. ईस्स्स … की मधुर आवाज और बदन की सिहरन के साथ ही नेहा के रोम रोम का झंकार बाथटब के जल को तरंगित कर गया.

फुल एचडी की बीएफ वह गांड उछालने लगी और बोलने लगी- अब बर्दाश्त नहीं होता, मेरी चूत में आपका लंड डाल कर इसे आशीर्वाद दे दो. ननद ने बाहर जाते टाइम मुझे आंख मारी और बोली- रात में कुछ परेशानी हो तो बता देना … हम दोनों है न … आपकी हर परेशानी को दूर कर देंगी.

चैन डिजाइन

उसकी आंखें बंद ही थीं, जैसे वो अन्दर ही अन्दर मेरे प्यार में खो गई हो. इसके अलावा मुझे नये दोस्त बनाना भी बहुत पसंद है इसलिए मैं घूमती ही रहती हूं. नीरजा- ओह्ह यस राज … जोर जोर से चोदो … आंह बहुत मजा आ रहा है … आह मेरी बुर की प्यास आज तुमने बुझा दी है.

मेरे मोबाइल की बैटरी बिल्कुल समाप्त हो गयी थी जिस कारण मैंने अपना मोबाइल कमरे में ही चार्जिंग पर लगा दिया था।मैं तुरन्त मोबाइल लेने ऊपर गया और कमरे का दरवाजा खटखटाया. शायद प्रिंसीपल सर को भी पता लग गया था कि मैं भी चुदासी हूँ और इसीलिए बिना पैंटी के आई हूँ. हिंदी बीएफ देवर भौजाई कीसाली जी, पहले इसमें तेल लगा दो अच्छी तरह से! फिर इसे प्यार से आगे पीछे करना तो ये जल्दी पानी छोड़ देगा और वापिस छोटा हो जाएगा.

राजेश ने उसकी टांगों को नीचे से पकड़ा और ज्यादा चौड़ाया और एक बार पूरी ताकत से लंड को गहराई तक पेला.

मगर कमर हिला हिला कर चोदने का मज़ा आया, ना की हाथ से लंड फेंटने का।अब मैं हमेशा इस बात का ख्याल रखता कि लवी अपने मोबाइल से कब दूर होती है. कुछ मिनट बाद वो लोग चले गए और अब प्रिंसीपल सर ने अपनी कुर्सी को पीछे कर दिया.

वे बोले- कोई सामान नहीं डालना पड़ा … पहियों के टायर ट्यूब सही थे … केवल बाल्व बदले हैं … अब हवा नहीं निकलेगी. जहाँ जाता है वहां सेटिंग कर लेता है। ठीक है रीता को नहीं लाऊंगा आज रात।रवि- मगर तू कोशिश करके जल्दी आना. और वो चिहुंक चिहुंक कर मेरे हर धक्के पर झड़ गई।मैं पीठ के बल लेटी रंजु की कसी हुई चूत में बहुत रगड़ कर पेलता रहा और घोड़ी बनीं आएशा की चूचियों को मसलता रहा.

शादी से पहले और शादी के बाद भी मेरे शारीरिक संबंध लड़कियों और भाभियों के साथ रहे हैं और भी नई हसीनाओं के साथ शारीरिक संबध बनाने के लिए उत्सुक भी हूँ.

मैं बोला- पर तुम्हारे पास तो कोई है ही नहीं?वो बोला- ऊपर वाले की कृपा से मिल गयी है. राजेश ने शीला को एक बार फिर चूमा और बोला- आज मुझे पहली बार सेक्स का मजा आया है. उसे बांहों में भर कर मैंने फिर ढेर सारे किस किये और धीरे धीरे एक एक करके उसके सारे कपड़े निकाल दिये और उसने मेरे।हम एक साथ बाथ टब में बैठ गए और फिर हमने पानी में मस्ती शुरू की.

लड़की चोदने वाला बीएफमेरे लिए वो बिल्कुल शॉर्ट मिडी ले कर आया और बोला- जल्दी से आप इसको पहन कर तैयार हो जाओ. मैंने भाभी से पूछा- कल तो मैं ऊपर अपने कमरे में सोऊंगा, तो कल कैसे होगा?भाभी- देखते हैं, मैं कोई न कोई रास्ता जरूर निकाल लूंगी, तुम चिंता मत करो.

नोएडा सेक्स वीडियो

मैं मीठी कराह से बोला- आह रीना अब बस भी करो मेरी जान … मुझे चुत से लंड चुसवाना है. और तुम्हारे बात करने का अंदाज बहुत प्यारा है और उससे भी ज्यादा तुम खुद प्यारी हो। अब तुम जा सकती हो।उसने चहक कर थैंक्यू सर कहा और जाने लगी. पर अलग जाति की होने से बात शादी तक नहीं पहुंची और वे दोनों घर वालों के आगे झुक गए.

खुले घुंगराले बाल, आँखों में काजल, हाथ पैरों पर नेलपेंट और होंठ पर गहरी लाल लिपस्टिक. तभी राजीव ने छत पर आने वाले दरवाजे को बंद कर दिया और मेरे पीछे आ गया. मीता- धत्त कितने गंदे हो आप … पर आप में दम बहुत है … मेरा कितनी बार हुआ, मुझे खुद ही नहीं पता.

कुछ ही देर में मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया और मैंने भी भाभी को जोर से उनकी पीठ से पकड़कर और उन्हीं की तरह से अपने पांव की कैंची बनाकर उनके चूतड़ों के ऊपर से ले जाकर भींच लिया. लंड के साइड से बह कर नीरजा की बुर का पानी गांड के छेद से होता हुआ नीचे रखी नीरजा की पैंटी को गीला कर रहा था. कुछ देर लंड चुसवाने का मजा लेकर रमेश ने रति को अलग किया और बेड पर लिटा दिया.

कुछ समय बाद जब मुझे समझ आया कि मैंने क्या पकड़ा है, तब मैंने तुरंत अपना हाथ हटा लिया. अन्तर्वासना एक सबसे बढ़िया मंच है आपके साथ अपने सेक्स के तजुर्बे साझा करने के लिये। मेरी कुछ ख़ास पाठिकाएं और पाठक जो मेरे साथ व्हाट्सएप पर जुड़े हुए हैं, उनका भी मैं धन्यवाद करता हूं।आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद कि आप लोग समय समय पर मुझे और अधिक कहानियाँ लिखने के लिए कहते हैं और मेरी कहानियाँ पढ़ कर अपनी चूतों और लौड़ों को शांत करते हैं या चुदाई करते हैं.

बार बार सर की निगाहें मेरी चुचियों पर जा रही थीं, जिसको मैं अनदेखा कर रही थी.

मैं बोली- अब मेरी पैंटी को उतार कर अपनी मालकिन की गांड को भी चाट।उसने मेरी काली पैंटी को अपने दांतों से पकड़ कर एक ही बार में नीचे कर दिया. प्रियंका सेक्सी बीएफकुंवारी लड़की की चुदाई कहानी के पिछले भागठरकी मामा ने की सेक्सी भांजी की चुदाई-2में पढ़ा कि कैसे मैं अपने घर में मेरी भानजी की यानि एक कुंवारी लड़की की चुदाई का मजा लेने की तैयारी में था. हिंदी बीएफ फिल्म नईराजीव ने अपने होंठों पर जीभ फिराते हुए चटखारा लिया और बोला- आह … मजा आ गया. मेरे लिए वो बिल्कुल शॉर्ट मिडी ले कर आया और बोला- जल्दी से आप इसको पहन कर तैयार हो जाओ.

फिर उसने एक हल्का धक्का दिया और उसके उस हल्के से धक्के से ही मैं निढाल होकर बिस्तर पर गिर गया।उसने मेरी जांघों में फंसे मेरे कच्छे को मेरी टांगों से निकाल कर मेरे शरीर से ही अलग कर दिया और अपना जिस्म भी नंगा कर लिया.

मैंने अपना पूरा लंड उसके मुँह में गले तक ठांस दिया था, जिससे उसकी सांस फूल गई थी. वो अपनी चूचियों के उभारों को स्क्रीन बिल्कुल पास ले आयी और मुझे लगा कि मैं इनको चूस रहा हूं. अब मुझे वो सिर्फ एक सेक्सी लड़की के रूप में ही दिखती थी।उसकी अधनंगी तस्वीरें देखना और फिर हाथ से मुट्ठ मारना, तो जैसे मेरे रोज़ की रूटीन हो गई।मगर मुट्ठ मारने से ज़्यादा मुझेचुदाई करने का शौकथा.

उस दिन मुझे गांड में लंड लेकर गांड चुदाई करवाने में बहुत मजा आया लेकिन इसमें अभी बहुत दुख रहा है. उसमें पट्टियों का इस्तेमाल नहीं किया गया था बल्कि एक मोटा लंड उसमें सीधा टांगों के मिलने वाले स्थान पर बीच में चिपका दिया गया था. मैंने अपनी पिछली जीजा साली सेक्स की कहानीबड़ी साली की दबी हुई अन्तर्वासनामें बताया था कि कैसे मैंने अपनी बड़ी साली की दबी हुई अन्तर्वासना को जगा कर उसके साथ सम्भोग का आनंद प्राप्त किया।उस रात सम्भोग करने के बाद मैं अपने कमरे में चला गया.

www मराठी झवाझवी com

लेकिन मैं तुम्हें एक चीज बताना चाहती हूँ कि जिस प्रकार से आदमी को खाने की भूख लगती है उसी तरह से औरत और आदमी के अंदर सेक्स की भूख भी होती है, अच्छा राज! तुम एक बात बताओ ‘क्या तुमने कभी पशुशाला देखी है?’मैंने कहा- हाँ देखी है. तब तो उसने उछल उछल के, चूतड़ कुदा कुदा जो धक्के ठोके हैं कि क्या बताऊँ. उसकी सिसकारियां पूरे कमरे में बहुत तेज़ गूँजने लगीं- ऊंहह … ऊंहह … हम्म … आह्ह … वाह्ह … आहाह … हाय … स्स्स … ऊई मा … आह्ह ओह्ह … फाड़ दी मेरी।उसने मेरे गाल को जोर से काट लिया.

मुझे मेल करके बताएं कि मेरी गांडू सेक्स कहानी कैसी लग रही है?आपका आजाद गांडूकहानी जारी है.

ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि होटल में आने जाने वाले मेहमानों को कम कम से असुविधा हो.

कुछ देर बाद भाभी जी की ‘आ आआह निकलने लगी और वो ज़ोर से और कांपने लगीं. बेबी रानी ने कहा- मैं नहीं मानती … पिस इज़ पिस … तू कैसे बता सकता कौनसा अमृत किसने निकाला … हम दोनों की चूचियों का साइज अलग अलग है इसलिए चूची तो तू कुत्ते तू हाथ से फील करके बता देगा. रंडी की चुदाई बीएफ सेक्सीवरना आम तौर पर तो लोग सोचते हैं कि गश्ती की चुत एक बार मार ली, अगली बार किसी और गश्ती की लेंगे.

वैसे तो यह परिवार किसी से ज्यादा घुलमिल कर नहीं रहता था और जबसे मैं उस घर में रहने लगा था तो उन्होंने बिल्कुल ही पड़ोसियों से मिलना बंद कर दिया था. मुझे उम्मीद है कि आपको मेरी स्टोरी पढ़ने में उतना ही मजा आया होगा जितना मुझे करवाने में आया. उसकी चूत के रस से अब अंदर और ज्यादा चिकनाई हो गयी थी और मेरा लंड मलाई की तरह उसकी चूत में अंदर बाहर हो रहा था.

मैंने भाभी को कहा- यह क्या कर रही हो भाभी?भाभी कहने लगी- कोई बात नहीं, मुझे मालूम है भैंस की तरह तुम भी गर्म हो गई हो, वैसे तो मैं भी गर्म हो गई हूँ. बातों बातों में ही दोनों मेरे पैर पर अपना हाथ भी रख रहे थे … और मौका देखकर दबा भी रहे थे.

इतने में उसने मुझसे पूछा- राकेश क्या सच में मैं तुम्हें अच्छी लगती हूं?मेरे मुँह से कुछ ना निकला.

मैं ये सोच ही रही थी कि मैंने देखा वो लड़का वापस वहीं आ गया और वो कार से उतरकर किसी को ढूंढने लगा. नीरजा- पागल हो क्या?मैं- पागल तो तुमने गांव में ही कर दिया था, जब मेरा पैर तुमने अपने पैरों के बीच में दबा लिया था. मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और उसकी कमर के नीचे तकिया लगा के उसके पैर मोड़ के अच्छे से ऊपर उठा दिए.

बीएफ सेक्सी वीडियो सारी वाली अगर नहीं हिलाना हो, तो मेरी ईमेल आईडी पर अपने मैसेज भेजिए और मेरे गोरे गदराए हुए जिस्म का लुत्फ उठाइए. मैंने अपनी बात खत्म करते हुए कहा- मैंने सही परखा या नहीं?बाकी तो शांत रहीं, पर अनीता और रेशमा ने कहा- मान गए उस्ताद.

उसने किसी तरह घुटी हुई आवाज में कहा- छोड़ दो यार!मैं- चुदवाना पड़ेगा अभी. वाह! क्या नज़ारा था … झुकी हुई रजनी, उसके गदराये मांसल नितम्ब मेरी तरफ, सामने पर्दे पर मूवी, तेज आवाज़, पर्दे से आती हल्की रोशनी और मेरा चेहरा उसके नितम्बों के बीच में … और मैं जीभ से चूत के दाने से छेड़ छाड़ करता ही जा रहा था. भाभी यह सब जानती थी कि क्या क्या होता है इसलिए उन्होंने ऊपर आते ही मेरी एक चूची को अपने मुंह में ले लिया और दूसरी को हाथ से मसलने लगी.

नेपाली कॉल गर्ल

चूंकि वो जूनियर था और मैं सीनियर इसलिए वो किसी वजह से मेरी इज्जत भी करता था और शुरूआती दिनों में तो मुझसे बात करते हुए भी काफी घबराता था. नेहा ने जरूर अपना रस त्यागा था, पर चुदाई का समापन नहीं था … ये तो शुरूआत थी. भाभी बोली- क्या हो रहा है लाडो? जरूरत महसूस होने लगी लगता है, अभी तो छोटी हो, अभी नहीं मिलेगा.

”ओह … अच्छा? … फिर?”वो बता रही थी कि यह ब्रा पैन्टी उसके बॉय फ्रेंड ने गिफ्ट दी है।हा … हा … हा … ज्यादातर सच्चे बॉय फ्रेंड यही गिफ्ट देते हैं. नमस्कार दोस्तो, मैं आप लोगों की प्यारी मधु अपनी आत्मकथा में एक बार फिर तहेदिल से आप सभी का स्वागत करती हूँ और उम्मीद करती हूं कि आप लोग अच्छे और स्वस्थ होंगे.

मुझे ऐसा लगा कि स्वरा भी यह आनन्द लेने के लिए खुद को तैयार कर चुकी थी.

निष्ठा को तो मैंने हर तरह से भोग लिया था अब सिर्फ एक ही ख्वाहिश बाकी थी कि मैं उसे अपनी दुल्हन के वेश में देख कर उसकी गदराई, उफनती जवानी को अपने लंड से रौंद डालूं!यही सोच कर मैंने उससे कहा- साली जी, हम इस बार आखिरी बार आपको चोदेंगे, हर तरह से प्यार करेंगे. इसी के साथ मैंने अपनी इस यात्रा में सफर करने वाली एक धनाड्य महिला को कैसे चोदा और उसने मुझे क्या क्या मजा दिलाए. कमरे में ले जाकर एक कार्ड जैसी पुस्तिका देते हुए बहुत सी बातें बताई।सबसे पहले कहा- इसमें सभी सुविधाओं के लिए अलग-अलग नं.

गीत ने मेरे लौड़े को अपने हाथ में पकड़ा और अपनी जीभ को मेरे लंड की नोक पर टच कर दिया जिससे मैं सिहर उठा. जब तक उसकी चूत ने फिर से मेरे लंड पर पानी नहीं छोड़ दिया, वह नहीं रुकी. टॉप के नीचे वह हमेशा हल्के रंग की लैगिंग पहनती थी जो बहुत ही टाइट फिटिंग वाली होती थी.

शांति को अपनी चूत पर हाथ फेरते देखकर मैं समझ गया कि भट्ठी गर्म हो चुकी है और भुट्टा भूना जा सकता है.

फुल एचडी की बीएफ: पूरा का पूरा मुँह खोल कर ज़्यादा से ज़्यादा चूची को मुंह में घुसेड़ने की चेष्टा कर रहा था. वो लंड की चोटों से मस्ती से बोल रही थीं- आह कितना मजा आ रहा है … पूरा अन्दर तक जा रहा है … आह आज फाड़ दे मेरी चुत को अतुल … फाड़ दे इस निगोड़ी को.

काफी देर तक रीता की छिछोरी हरकतों को वो बर्दाश्त करता रहा मगर फिर उसने रीता को भी झड़क दिया. मैंने पूछा- क्या खिलाओगी खाने में?तो नैना ने बोला- जो आप चाहो, सब मिलेगा. अब भला कौन तैयार होगा?पर जिसने भी उसकी शर्त मान ली, उसकी ड्रेस का डिज़ाइन इंस्टिट्यूट में सबको पसंद आता.

साथ में अपने दोनों हाथ के अंगूठों और एक उंगली के बीच में दबा कर दोनों निप्पलों को मींजने लगा.

आंटी की गीली चूत को देखते हुए मैं जोर से मुठ मार रहा था और आनंद में डूबा जा रहा था. आपके अनुसार कहानी सही चल रही है या नहीं? आप अपनी राय इस पते पर दे सकते हैं।[emailprotected]. मुझे लगता है कि खुद को कंट्रोल में रखकर हम भी एक दूसरे के बदन की गर्मी ले सकते हैं, क्या कहते हो?मैं- मैं तो तैयार हूं.