बीएफ सेक्सी हिंदी एक्स एक्स एक्स

छवि स्रोत,एक्स एक्स एक्स हिंदी एचडी में

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी देसी बीएफ व्हिडिओ: बीएफ सेक्सी हिंदी एक्स एक्स एक्स, मयंक, उसकी बुआ गाँव पहुंच गए थे, वो दिन के बाद आने वाले थे, यह समाचार आंटी ने मुझे दे दिया था और मैंने मन मन ही सोच लिया कि अपना काम पूरा हो जाएगा.

विलेज क्सनक्सक्स

उसकी पहली दो ऊँगलियाँ चूत के होंठों को मसल रही थी और फिर उसने धीरे से एक उंगली चूत के अंदर दे दी. मराठी सेक्स व्हिडिओ साडीवालीदीपा- पर तू इतनी चुदककड़ है तुझे देख कर नहीं लगता?रेशमा- नहीं रे, बस साहिल चोदता मस्त है पर एक बार तेरा पति हमारे घर डिनर को आया था तब मेरे हाथ से दाल तेरे पति के कपड़ों पे गिर गई थी तो वो वाशरूम गये थे.

तो वो मुझसे बोलीं- चुत में ही पानी छोड़ दिया।मैं हैरान होकर खड़ा हुआ तो देखा कि कन्डोम फट कर लंड के ऊपर चढ़ गया था और मेरा लंड पर भाभी की चुत का पानी लगा हुआ था। भाभी की चुत से मेरे लंड का पानी निकल रहा था।वो उठीं और उन्होंने अपनी सलवार उठा कर उससे अपनी चुत अन्दर तक साफ की और मेरे लंड को भी साफ़ करके भाभी बाथरूम में नहाने चली गईं।मैं अपने कपड़े पहन कर घर आ गया। उसके बाद भाभी को जब भी मौका मिलता है. सेक्सी फिल्म नंगा फोटोहाँ जब स्कूल ओवर होने लगा तो रोहन ने सबको हकीकत बता दी, सभी बच्चे चले गये, सबसे पीछे में निकला, मैंने एक बार फिर क्लास में नजर दौड़ाई तो पाया की सुधा ने मरियम का हाथ पकड़ कर रोक रखा था, मैं तुरन्त ही दरवाजे के पास चिपक कर खड़ा हो गया ताकि दोनों की बात सुन सकूँ.

लेकिन राहुल ने मुझे जींस, टॉप और शॉर्ट्स दिलवाए, बोला- आप यहाँ तो ये सब पहन सकती हो! आप पर ये कपडे अच्छे भी लगेंगे.बीएफ सेक्सी हिंदी एक्स एक्स एक्स: कुछ ही देर में वो झड़ गई और मैंने भी उसके अंदर ही अपना माल निकाल दिया.

रानी और मैं पहले तो एक दूसरे को देखती रहीं, फिर हमने बात को टाल दिया और फिर जब वो जाने लगे तो उन्होंने एक बार फिर हमसे बोला पर हमने बाद में जवाब देने का बोल दिया.मुझे सच में नहीं पता।टीना- क्यों तू अंडरगार्मेंट्स नहीं पहनती क्या.

भोजपुरी भाषा में बीएफ - बीएफ सेक्सी हिंदी एक्स एक्स एक्स

मैंने कहा- अच्छा तो हैप्पी बर्थडे टू यू!उसने कहा- थैंक यू विक्रम जी, पर आपको तो आज गिफ्ट देना पड़ेगा!मैंने पूछा- क्या चाहिए आपको?उसने कहा- इतनी जल्दी भी क्या है अभी तो आई हूँ बताती हूँ बाद में… अभी आज के मोबाइल के आर्डर पूरा कर लेते हैं पहले!मैंने कहा- चलो, ठीक है.मैंने तो बस वरुण को कस कर पकड़ लिया!वरुण ने झटके मारने चालू कर दिये और मेरी चुत गीली होने की वजह से पच पच की आवाज़ आने लगी.

मेरा कद लगभग 5 फुट 3 इंच है, चौड़ी छाती, मजबूत भुजाएँ हैं और आकर्षक हूँ. बीएफ सेक्सी हिंदी एक्स एक्स एक्स ’ वो कामांध हो कर बोल रही थी, मैं भी जोरों से उसकी चुत को चोद रहा था।कुछ देर बाद मैंने उसे वहीं घोड़ी बना कर कमर पकड़ कर लंड पेलकर चोदना शुरू कर दिया। सामने शीशे में खुद को चुदती हुई देखकर वो खुश हो रही थी। शीशे में उसके चेहरे के कामुक भाव मुझे मजा दे रहे थे।तभी ‘आ.

तभी परीक्षित ने भी रानी की गांड से लंड को बाहर निकाला और मेरे मुँह में दे दिया, मुँह में लेते ही उन्होंने मेरे मुँह को चोदना शुरू कर दिया और रानी को किस करने लगे.

बीएफ सेक्सी हिंदी एक्स एक्स एक्स?

मैंने आंटी से पूछा- आप कैसी हैं और आज अचानक ऊपर कैसे आई?तो उन्होंने बताया- तुम्हारे अंकल बाहर गये हैं, तो मन नहीं लग रहा था, तुमसे बातें करने ऊपर चली आई. बहुत तेज बारिश हो रही थी। लगभग 8 बजे मुझे पुणे से मुंबई की बस मिली. मैंने कहा- जान, तुम किसके बारे में सोच रही हो जो आज इतना उछल उछल कर चुद रही हो?दीपा- मैं न… रजत को याद कर चुद रही हूँ.

अब सुनीता गांड उठा उठा कर अपनी चूत चुसाई का मजा ले रही थी और ऊपर से हाथों से मेरे सर को जोर जोर से अपनी चूत पे दबा रही थी. मोना के खिले हुए चेहरे को देख कर मीना समझ गई कि ज़रूर गाँव में मोना ने चुदाई करवा ली है. मैंने अपना मुंह पूरा पूरा खोल दिया और रानी की एक चूची मुंह में घुसा ली.

और मैं धक्के पर धक्के दिए जा रहा था। दीदी भी उछल-उछल कर मेरा साथ दे रही थीं। मैं ज़ोर-ज़ोर से अपना लंड उनकी चूत में पूरा अन्दर-बाहर करने लगा। दीदी कभी अपने बाल नोंच रही थीं. ये अभी का ही मामला है मुझे बताने का समय ही नहीं मिला।मैंने कहा- ओके, तो अब बता दो न?‘किसी से कहना मत दीपक…’‘अभी तक तुमने मुझे जो कुछ भी बताया है. मैंने कब मना किया है।मैंने कहा- आप अपनी आँखें बंद करो।वो कहने लगीं- क्यों करूँ.

सुधा की आवाज मेरे कान में पड़ी वो मरियम को बोल रही थी कि उसने मेरे साथ ऐसा क्यों किया, तो बोली- सुबह जो उसने बोला, उसका सबक सिखाना था. वो दूसरी वाली।मैंने कहा- कौन सी यार? नाम भी तो बताओ?उसने कहा- जो उस दिन फोन में डाली हुई थी।मैंने कहा- अच्छा चुदाई वाली वीडियो?उसने शरमाते हुआ कहा- हाँ।मैंने उसको ब्लू-फिल्म लगा कर फोन दे दिया। वो बड़े मज़े से ब्लू-फिल्म देख रही थी और उसकी माँ किचन में काम कर रही थी।मैं टीवी देख रहा था.

उस वजह से पसीना आया है।वो हंस कर बोलीं- ठीक है जा अब नहा ले।तो मैं घर जाने के लिए निकला, तभी आंटी बोलीं- अरे कहाँ अब घर जाता है.

तब तू हल्का होगा।टीना ने सुमन का जो वीडियो बनाया था उसको चालू करके फ़ोन संजय को दे दिया और दोबारा उसके लंड को मुँह में लेकर होंठ भींच लिए।सुमन का अनछुआ यौवन देख कर संजय की आँखें फटी की फटी रह गईं.

सुमन तो अब शराफत के रास्ते से हट ही रही थी मगर इन दो दिनों में उसके साथ कोई खास बात नहीं हुई. मैं गिर गई पर रोहन ने मुझे नहीं संभाला, मैं जानती थी कि उसने मुझे क्यों नहीं संभाला, जबकि वो संभाल सकता था। मैं खुद से उठी और वो ‘तुम ठीक तो हो ना. काफ़ी दिनों के बाद उनकी पूरी जानकारी लगी, उनका एक बेटा था जो मेरी ही उमर का था, मैंने उससे दोस्ती की कोशिश की और धीरे धीरे दोस्ती हो गई लेकिन मैं अभी तक आंटी तक नहीं पहुंच पाया था.

उस महिला ने मुझे मेरे बारे में थोड़ी और जानकारी बताई, तब मुझे लगा कि यह अवश्य ही कोई परिचित महिला है, पर कौन हो सकती है, यही मैं समझ नहीं पा रहा था. फिर मैंने उनके होंठों को दोबारा चूसा और उनके बूब्स को एक बार फिर बहुत अच्छे से सहलाया जिससे उनकी कामाग्नि एक बार फिर से जल उठी और इस बार वो मेरा लंड अपनी चूत में पूरी तरह से निगल जाना चाहती थी. उसकी आँखों से आंसू टपक रहे थे और मेरी दोनों उंगलियाँ उसके खून से लाल हो गई थी.

मैंने कहा- सच… तो मुझे दो दो नई चूत का मजा मिलेगा!दीपा- हां… और मुझे रजत के लौडे का… मैं तो उसके लौडे को कच्चा खा जाऊँगी.

उस वक्त उसने सिर्फ़ तौलिया लपेटा हुआ था। अंजलि इस वक्त बहुत खूबसूरत लग रही थी।बहन की बुर की चुदाई की हिंदी पोर्न स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैंने उसे देखा तो वो मुस्कुरा दी। मैंने उसे फिर से अपने आगोश में खींच लिया और फिर से लंड खोल कर उसको चोदना चालू कर दिया।तो वो मुझे चूमते हुए कहने लगी- भाई… रात भर में जी नहीं भरा क्या. मेरा लंड बैठने का नाम नहीं ले रहा था और लेता भी कैसे, उसके सामने ऐसा संगमरमर माल जो था. पीछे घूमने के बाद उनकी पेंटी का शेप देख कर मेरी हालत खराब हुई जा रही थी.

उसके चुप होते ही थोड़ा जोर लगा कर मैंने उसकी चूत का दरवाजा एकदम से फाड़ दिया. इधर मैंने अपनी चूत को सहलाकर उसका रस निकाला और अच्छे से नहाकर अपने जिस्म की खूबसूरती को निहारकर मटकती हुई अपने बाथरूम का दरवाजा खोलते हुए बेडरूम में आई तो देखती हूँ कि मेरे बेड पर तरुण (मेरे मामा का लड़का) बैठा हुआ है और उसका तक़रीबन 8 इंच का एकदम कसा हुआ लंड जो काली घुंघराली झांटों से भरा हुआ था, उस पर मेरी पैंटी को रगड़ रहा था. तू कॉलेज जा तुझे देर हो रही होगी।सुमन- अरे आपको नाराज़ छोड़कर कैसे चली जाऊं.

मैं सबको गेम खिला रहा था तब मिताली बोली- ऐसी क्या बोरिंग गेम खेल रहे हो, चलो तम्बोला खेलते हैंतो मैंने कहा तम्बोला की टिकेट्स और टोकन नहीं हैं.

नशे में रजत कृष्णा के बिस्तर में और कृष्णा रजत के बिस्तर में गया था और यह बात सुबह सबको पता चली जब नीलिमा और रीता ने सुबह एक दूसरे के पतियों को बिस्तर में देखा. यह मॉम सेक्स स्टोरी है कि कैसे अपनी मॉम की चुदाई उसके सगे बेटे ने की जब वे लोग लंदन घूमने गए थे.

बीएफ सेक्सी हिंदी एक्स एक्स एक्स और ऐसे ही सेक्स करना हमारा रूटीन बन गया। हम रोज दो बार सेक्स करते हैं एक रात में. वो बोले- नहीं, तुम भी मेरे साथ पीओ!मैं मना कर दिया पर वो ज़िद किये जा रहे थे- तुम दारू मत पीना, बियर पी लेना, बियर पीने से कुछ नहीं होगा!मैं बोली- चाहे दारू हो या बियर… मैंने कुछ नहीं पीनी!पर वो ज़िद पर अड़े थे!मैं मन ही मन सोच रही थी कि आज कुछ तो गड़बड़ है नहीं तो ये इतनी ज़िद कभी नहीं करते और आज मुझे बियर पिला रहे हैं.

बीएफ सेक्सी हिंदी एक्स एक्स एक्स अब उसका चेहरा भी सामान्य हो गया था और उसकी आवाज़ में कम्पन भी नहीं था. वो तुरंत मुद्रा में आ गई, पीछे से मैंने अपना लिंग उनकी चुत के मुहाने पे रखा, भाभी की चुत से इतना रस निकल रहा था इतनी चिकनी चुत क्या बताऊँ…एक झटके से पूरा लन्ड उनकी चुत के अंदर दे मारा और जोर जोर से धक्के देने लगा.

उस पर हम दोनों बैठ गए।फिर उन्होंने हालचाल पूछा और इधर-उधर की बातें की।कुछ देर बाद खाना खाने के लिए उन्होंने हम दोनों को घर के आंगन में बुलाया।हम दोनों वहाँ आ गए.

पेंटी लेडीज

मैं बोला- तो इसका क्या?वो बोली- है ना मेरे पास इलाज!और यह कह कर वो घुटनों पर बैठ गई और बड़े आराम से मेरा लंड चूसने लगी. मैंने भी देर ना करते हुए उसकी चूत पर अपना 6 इंच लंबा लंड रखा और एक ही झटके में उसकी चूत में घुसा दिया. मैं आंटी के पेट को चाट रहा था और धीरे धीरे उनकी झाँटों को चाटने लगा, आंटी मस्ती में आवाजे निकाल कर हिल रही थी.

साथ ही अब मैं खुद ही अपनी चूचों को दबा रही थी।फिर कुछ पल बाद मैंने अपने कम्बल को हल्का सा हटाकर देखा तो वो वहाँ खड़ा था।‘मैं आ रहा हूँ. रजनी ने मुझे इतने जोर से पकड़ा हुआ था कि मुझे भी बाहर निकालने की बजाये अंदर ही छोड़ना उचित लगा. उनके भरे हुए चूतड़ों के कारण उठी हुए गांड और मदमस्त भरी हुई चूचियाँ… गहरी नाभि, नंगा पेट देख कर मेरा लंड खड़ा हो जाता था.

मैं और आलोक माँ को गचा गच चोदे जा रहे थे, माँ आनन्द विभोर होती जा रही थी- आआअ उउउउ उउउउआ आआअ… आआह… आआआ मरीईई ईई… आआह अम्म्म मिइइइ … मज़्ज़ाअ आआअ रहा है.

मैं तो पागल हुई जा रही हूँ अहहह…मैं जोर-जोर से देसी भाभी की चुत को चूसते हुए उनकी गांड में उंगली अन्दर-बाहर करने लगा. चुदाई की रफ़्तार की वजह से भाभी के मम्मों जोरदार तरीके से ऊपर-नीचे हिचकोले खा रहे थे. मैंने पूछा- भाभी, बच्चे नहीं दिखाई दे रहे हैं?भाभी ने कमरे का दरवाज़ा बंद करते हुए कहा- बच्चे अपने पापा के साथ गाँव गए हैं.

‘आआआ… ओओओ… हाँआआ… ऐसे! हाँ ऐसे मारो धक्के… और जोर से!’ मेरी पतिव्रता बीवी अपने हाथों को पीछे की ओर ले जाकर स्वान के लंड को अपनी गांड में घुसवाने में मदद करने लगी और अपनी बारीक़ आवाज में उसे और जोरों से धक्के लगाने की प्रार्थना करते हुए हम सभी को उत्तेजना के चरम पर ले गई. चारों अब चुदासे हो रहे थे… भूख भी लग आई थी तो रेस्तराँ में ब्रेकफास्ट करके वापिस विला की ओर चल दिए. अजय धीरे धीरे चला रहा था क्योंकि साराह को डर लग रहा था… साराह मगर हंस रही थी और वो देख चुकी थी कि रूबी ने विवेक का लंड पकड़ा है तो उसने भी आगे खिसक कर अजय के लोअर के अंदर हाथ डाल दिया और अजय का लंड पकड़ लिया.

इसके बाद मैं अपने घर चला आया।दोस्तो, मैं यह कहानी लिखना तो नहीं चाहता था, पर कुछ दिन पहले मैंने डॉ. अभी उंगली डाली तो तुझे दर्द हुआ था, लंड जाएगा तो बहुत दर्द होगा और तेरे चिल्लाने से सबको पता लग जाएगा।पूजा- हाँ दर्द तो बहुत हुआ.

’ की मादक आवाजें निकलने लगीं। वो बड़े आराम से एक रंडी की तरह मेरे लंड को चूसने लगा।मैं भी उसके लंड को हिला रहा था और थोड़ी देर में ही उसने अपना माल मेरे हाथ पर निकाल दिया।माल निकलने के बाद वो दूसरी ओर मुँह करके सो गया। पर मैं क्या करता. ’मुझे ऐसा लगा कि जैसे मैं जन्नत में हूँ। मुझे आकाश का चुत चाटना अच्छा लगने लगा। मैंने अपनी चुत ऊपर को उठाते हुए आकाश के मुँह से लगा दी।अब तो आकाश की ज़ुबान मेरी चुत के बहुत अन्दर तक घुस कर हरकत कर रही थी।तभी मैं झड़ गई. अंजलि के एकबारगी सिसकारी निकल गई- ह आह्ह आह हय ईई ईई हई उफ़्फ़ ह्म्फ़…उसके मुँह से सिसकारियों की आवाज बढ़ती ही जा रही थी, तभी वो अपनी कमर तेजी के साथ हिलाने लगी और अटक अटक कर बोली- हाँ आ.

पिछली कहानी में आप सबने पढ़ा कि कैसे मामी और मैंने एक दूसरे की अन्तर्वासना को समझा.

राजे ने साफ बोल दिया- रंडी तू ये असंभव सा आईडिया को दिमाग से निकाल दे, कहीं ऐसा न हो तेरे जूसी रानी से सम्बन्ध ही टूट जाएँ, तेरा यहाँ आना जाना ही बंद हो जाए और जितनी चुदाई मिल रही है, तू उसे भी खो बैठे. मेरी बात सुन कर माला ने थोड़ा घूम कर उस स्तन को मेरी ओर करते हुए बोली- लीजिये साहिब, जी भर कर ताज़ा गर्म दूध पी लीजिये. पर मेरी गांड में तो पूरा लम्बा मोटा महालंड घुसा था। मैं दो मिनट ही रुक पाया कि गांड कुलबुलाने लगी।मैं गांड में हल्की-हल्की हरकत करने लगा। मैं करने क्या लगा.

मैं उसके कंधे को, होंठों को और गालों को बेतहाशा चूमने लगी और वो पागलों की तरह मेरी चूत में डंडा देने लगे. ऋषि दिखने में भी बहुत अच्छा है, मन में एक बार तो आया था कि उसे अपना बॉयफ्रेंड बना लूँ पर अपने माँ बाप की इज़्ज़त पर कोई आँच नहीं आने देना चाहती इसलिए सिर्फ़ दोस्त ही रहने दिया उसे भी.

लड़की के गले में पड़ी पतली सी बेल्ट द्वारा उसकी गर्दन को झटकना वो नहीं भूलता था!!थोड़ी देर बाद राजू ने लंड मुंह से बाहर निकाल कर मेरी ओर कमर की, मेरे लंड को अपनी गांड में पिलवा रही नताशा को बिना मेरा लंड बाहर निकलवाए, 180 अंश पर घुमाते हुए उसका चेहरा मेरे चेहरे की सीध में ला दिया. भाभी हंसते हुई खुल कर बोलीं- गांड की मालिश कर ना जानू!मैं ज़ोर से भाभी के मम्मों को दबाते हुए बोला- आज तो आपकी गांड चुत सबकी मालिश करूँगा भाभी जान. 30 बजे हिम्मत ने मेरे खाते में 4000 रुपये डलवा दिए और फोन करके बता दिया कि पैसे जमा कर दिए हैं.

हिंदी में चुदाई सेक्सी बीएफ

मॉम रोज किसी काम पर जाती हैं? वो रोज ये सब काम करती हैं तभी हमारे घर का गुजारा चल रहा है और जानती भी हो.

शायद वो सोच रहा था कि भाभी को कुछ पता नहीं चला!सुबह उठते ही मैंने अपने पति को सारी बात बता दी. घर पहुँच कर उन्होंने कहा- मैं काफी थक गई हूँ, मैं शावर लेकर आती हूँ, तुम बैठो. मेरे पति मुझसे पूछने लगे- क्या हुआ?तो मैं बोली- शायद उसका काम हो गया!इतने में बाथरूम का दरवाजा खोलने की आवाज़ आई तो मैं और मेरे पति वैसे ही लेट गये, जैसे लेटे थे!वरुण आया, कमरे की लाइट जला कर देखा, सब सो रहे हैं तो लाइट बंद कर के मेरे बगल में लेट गया.

मैं झड़ने लगा, मेरे लंड से निकलने वाले वीर्य ने नताशा का चेहरा ढक दिया, कुछ बूंदें उसके मुंह के अन्दर भी नजर आ रही थी. मैंने तुरंत उठ कर माला के कन्धों पर उसका लटकता हुआ ब्लाउज और अधखुली साड़ी को खींच कर उसके बदन से अलग कर दिया. एक्स एक्स एक्स बीएफ पंजाबी मेंमेरी तो आँखें उनकी गोरी और एकदम टाइट ब्लाउज से बाहर आने वाली चूचियों पर टिकी थीं, ख़ास तौर से मैं भाभी के मम्मों के बीच वाली घाटी में अपनी नजरें में टिकाए था.

झांटें छोटी छोटी हों जिनमें से चूत के लिप्स की स्किन भी दिखती रहे, ज्यादा घनी नहीं!नेट पर पोर्न देखने के मामले में भी मैं काली झांटों वाली लड़की ज्यादा प्रेफर करता हूँ. सुलेखा के मुंह में तेज़ी से बहती हुई लार के कारण जब भी मादरचोद मुंह को आगे पीछे करती तो सुड़प्प सुड़प्प सुड़प्प की ध्वनि आती.

फिर सुबह हुई और हम नाश्ता कर रहे थे, मैं अब चोर नज़र से मैडम को ही बार बार देख रहा था और तभी मैडम मुझसे बोली- क्या बात है, आज तुम बहुत चुपचाप हो?मैंने कहा- ऐसा कुछ नहीं है. मैंने चूत पर लंड टिका के पेल दिया और उसकी पीठ चूमते हुए उसके कंधे पकड़ के चोदने लगा. भाभी क्या मस्त लग रही थी!भाभी बोली- अंकित, तुम्हें गर्मी नहीं हो रही क्या?मैंने कहा- हो तो रही है भाभी… लेकिन क्या करूँ?भाभी ने कहा- अच्छा!अब तो मैं सोच रहा था कि एक बार भाभी आज गर्मी शांत कर दे तो मजा आ जाएगा.

फिर मैंने उसे डॉगी स्टाइल में झुकाया और इस पोज़िशन में काफ़ी देर तक चोदता रहा, वो इस बीच 2 बार झड़ चुकी थी. भाई बहन की चुदाई की यह हिंदी सेक्सी स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैं उसकी चूत में उंगली करने लगा था. डाइनिंग टेबल पर नाश्ता लग चुका था, हमने नाश्ता किया और फिर मैं अंशुल के आने का वेट करने लगी.

मैंने पूछा- संदीप भैया, हम पहुंचने वाले हैं न?संदीप ने कोई जवाब नहीं दिया, मैंने सोचा शायद हवा के शोर में उनको सुनाई नहीं दिया.

फिर मैं भी जोश में था और भाभी भी… फिर भाभी लेटी और अबकी बार तो मैंने अपने लंड का टोपा भाभी की चूत में डाल दिया और भाभी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… उउहह!’ की आवाज़ करने लगी. झड़ने के बाद रोहन ने अपने लंड को बाहर खींच लिया और मेरी बगल में आकर लेट गया.

नमस्ते दोस्तो, आप सबने मेरी पिछली कहानीमेरे पति ने मुझे उनके दोस्त से चुदते देख लिया-1को बहुत पसंद किया. झड़ते ही रानी की टाँगें ढीली पड़ गईं, तो मुझे साँस भी ठीक से आने लगी. लेकिन मुझे समझ नहीं आ रहा था कि उसे चोदने के लिए कैसे कहूँ। मैं भी जानती थी कि वो मेरे बड़े-बड़े मम्मों को घूरता है.

तू चूसती रह जब अचानक लंड की गर्मी बढ़ जाए उसमें एक्सट्रा तनाव महसूस होने लगे तो समझ जाना कि बस उसका रस निकलने वाला है।सुमन- हाँ दीदी. हम बस अड़्डे पर पहुंच गए और बहादुरगढ़ की बस का इंतज़ार करने लगे लेकिन बस का टाइम 6 बजे का था, तब तक हमें वहीं पर वेट करना था. फिर आलोक माँ के चूत पर अपना लंड घिसने लगा और फिर जोर से अपना लंड माँ की चूत में घुसा दिया.

बीएफ सेक्सी हिंदी एक्स एक्स एक्स तू कब से ले रहा है इसकी?’मैंने कहा- भाई मैंने तो आज ही ली है।‘तो डर क्यों रहा है. पर उसकी गांड बहुत बड़े लंड को आराम से ले लेती थी, सो मेरा लंड भी आराम से घुस गया।मैंने कहा- तुझे दर्द नहीं हुआ?तो बोला- अपना काम कर यार.

ब्लू नंगी दिखाओ

टयूब निकाल कर साहिल ने उंगली मेरी गांड में डाली और अन्दर अपनी उंगली घुमाने लगा, फिर थोड़ी क्रीम साहिल ने लेकर अपने लंड पर लगाई, उसके बाद उसने फिर लंड को गांड में डालने की कोशिश की. इसीलिए मैं भी अपनी हवस के लिए तुमसे दोस्ती बनाना चला था, पर तुम्हारे बारे में जानकर मेरी हवस चली गई और तुमसे बात करने के बाद तो मुझे भी ये सब अच्छा नहीं लग रहा था।फिर सुनयना भाभी मेरे पास आकर मुझे गले लगा के और रोने लगीं। मैंने उन्हें चुप करवाया और मजाक में कहा- कोई देखेगा तो सोचेगा कि मैंने ही तुझको रुलाया है और इसी वजह से मुझे पब्लिक मारेगी।इस बात पर भाभी हंसने लगीं और उन्होंने कहा- तुम भी ना. अब इसमें क्या है?मोना- यार, काका ने मेरी चुत का भोसड़ा बना दिया है.

तुम हो ही इतनी खूबसूरत।मैंने कहा- तुम कैसे प्यार करोगे मुझे? उसने कहा- मैं तुम्हें खाना चाहता हूँ. मैं बोली- मुझे बहुत शर्म आएगी आप दोनों के सामने!तब उन्होंने समझाया कि वो भी लड़कियाँ ही हैं और शरमाने की कोई बात नहीं है. हिंदी में ब्लू पिक्चर हिंदीनताशा के मुंह से ओह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह की मधुर ध्वनि कमरे में शास्त्रीय संगीत की भांति गूंजते हुए वातावरण को गुंजायमान कर रही थी.

सुमन तो अब शराफत के रास्ते से हट ही रही थी मगर इन दो दिनों में उसके साथ कोई खास बात नहीं हुई.

कभी उसकी सहेलियों के कमरे पर चुदाई हो जाती है।आपको मेरी ममेरी बहन की सील तोड़ चुदाई की हिंदी पोर्न स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल कीजिएगा।[emailprotected]. इस तरह उन दोनों को बहुत मजा आ रहा था।हम दोनों अमिता की ताबड़तोड़ गैंग-बैंग चुदाई कर रहे थे।अपनी पत्नी को अपने बेस्ट फ्रेंड से चुदवाकर मैं बहुत खुश था.

उसने अपने होंठ हटा के जूसी से कहा- जूसी रानी, तेरी बहन के होंठ भी मस्त हैं और उसके मुंह का रस भी मस्त. कभी रयान ने ऋषिका को बाइट खिलाया कभी ऋषिका ने रयान को!डिनर से फारिग होकर दोनों ने मिलकर किचन को साफ़ किया. मजा आ रहा है।कुछ मिनट के बाद हम सब झड़ गए और वहाँ से निकल गए। फिर होटल पहुँचने तक के रास्ते भर मस्ती करते हुए आए। फिर होटल पहुँच कर कपड़े उतार कर सो गए।अगले दिन सुबह वापिस आए और तैयार होकर ऑफिस आ गए।निधि वहाँ मिली.

’तभी टीटी आया तो मैंने टिकट चैक करवा लिया और इसके बाद मैं कम्बल ओढ़ कर सो गई। उसने लाइट ऑफ की और वो भी अपनी बर्थ पर सो गया।अचानक रात को 12 बजे के लगभग मुझे लगा कि मेरे कम्बल के अन्दर कुछ है। मैंने देखा कि वो एक हाथ था जो कि मेरे पास आ रहा था। मुझे पता चल गया कि ये वो ही है। फिर भी मैं जानबूझ कर उसके हाथ के पास को हो गई। उसने मुझे छू लिया.

तो सोना भाभी ने धीरे से ब्रेक लगाकर जैसे मुझे और किस की अनुमति दे दी। मेरा दिमाग घूम गया. सुन्दर ने लंड चूत से बाहर निकाला और वह मुझे उल्टा करने लगा, मुझे लगा की वो मुझे घोड़ी बना कर चोदना चाहता होगा. मेरे मुंह से चूत शब्द सुनकर उसके चेहरे पर एक क्षण के लिए मुस्कान खिली फिर वो सामान्य हो गई और चुप ही रही.

इंग्लिश बीएफ वीडियोएक तरफ तो वो पुलिस वाला गबरु जवान और साइड में दिख रहा उसका लंड… मेरा मन ललचाया कि किसी तरह इसके लंड को छू लूं… इस पर हाथ फेरूं, लेकिन फिर अंदर से आवाज़ आई ‘ये मैं क्या कर रहा हूँ… जहाँ भी लंड देखा बस उसी के पीछे चल दिया… नहीं, ये गलत है… लंड चाहे कितना भी अच्छा और मोटा क्यों न हो… मर्द चाहे कितना भी हैंडसम और जवान क्यों न हो… जो प्यार मुझे रवि ने दिया, वो कोई और नहीं दे सकता. फिर धीरे-धीरे उसको चोदना स्टार्ट किया।अब नीलू को भी अच्छा लगने लगा.

बीएफ सेक्स पाकिस्तानी

थोड़ी देर बाद तो मानो जैसे मुझे कोई डर नहीं और मुझे कोई दर्द नहीं… सब ठीक हो चुका था. पर बाद में मजा आता है।मैं उसके ऊपर कुछ देर ऐसे ही पड़ा रहा, थोड़ी देर में वो सामान्य हुई और अपनी कमर उचकाने लगी। मैं उसका इशारा समझ गया और उसकी चुत से लंड बाहर निकाल कर एक ही झटके में सारा अन्दर उतार दिया।यह देशी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!उसे इस बार भी दर्द हुआ. इनको देखा देखी अजय ने भी रूबी को ऊपर बिठा कर उछल कूद शुरू कर दी थी.

तब मैंने सोचा कि क्यों न कोई कंप्यूटर कोर्स कर लिया जाये!मैंने अपने घर के पास के इंस्टिट्यूट का नाम सुना था. मैं 5 फिट 9 इंच कद का लड़का हूँ बॉडी भी मस्त है, दुबई में जिम ट्रेनर हूँ, मेरे लण्ड का साइज़ काफी बड़ा है और इतना गोरा की कोई भी मुंह में लने को तैयार हो जाये!मेरी मौसी के ऊपर मेरी नजर बहुत पहले थी, उनकी गांड का मैं दीवाना हूँ. मैंने नहीं देखा प्राइवेट पार्ट कैसा होता है?तो मैंने कहा- आंटी क्यों झूठ बोल रही हो.

लेकिन अब वो यहाँ बाथरूम में कहाँ से आई। मैंने मेरी ब्रा देखी तब मुझे उसमे कोई चिपचिपी सी चीज़ लगी हुई मिली। मुझे पता चल गया कि ये वीर्य है और पक्का अविनाश ने ही मेरी ब्रा में मुठ मारी थी।मैंने बाहर आकर देखा तो अविनाश जा चुका था। मुझे बड़ा गुस्सा आया. ये क्या बात हुई ऐसे तो तू कहती है सुमन मेरी बेस्ट फ्रेंड बन गई और इसे पार्टी का पता भी नहीं?टीना- आप भी ना मॉम कहाँ इस बुद्धू की बातों में आ गईं। पार्टी मैंने थोड़ी दी थी जो इसको इन्वाइट करती. मैं भी बस सो ही रही हूँ।काका के जाने के बाद मोना कुछ देर वैसे ही पड़ी रही.

मगर वो जानती थी कि यहाँ ज़्यादा सोना ठीक नहीं तो वो उठी और नहा-धो कर रेडी हो गई। फिर अपनी सास के पास चली गई।निर्मला- उठ गई बहू. एक तेल की शीशी लाए और मेरे लंड पर तेल लगा दिया। थोड़ा तेल उन्होंने अपनी गांड पर भी लगा लिया और बेड पर ऊपर पैर करके लेट गए।फिर मैंने उनकीगांड में पहले उंगली करके छेद देखाऔर अपना लंड लगा दिया.

शादी के बाद सुहागरात पर पहली बार सेक्स का आनन्द लेने का मौका मिला था मुझे जीवन में!सुहागरात की चुदाईमेरी पहली चुदाई थी.

मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि किसी सुनसान रास्ते पर मेरी चुदाई होगी. एक्स एक्स एक्स हॉट बीएफउसने फटाफट अपने सारे कपड़े निकाले और मुझे चूमते हुए बेड पर लिटा दिया, फिर मेरे कोमल पर सख्त, मुलायम पर कसे हुए बूब्स को जोरों से चूसने लगा, मेरे पेट को चूमते हुए मेरी चूत तक पहुँच गया और फिर एकदम से टूट पड़ा मेरी भीगी हुई चूत पर…उफ अशश्स आह्ह्ह आह्ह ह्ह की आहें बरबस ही मेरे मुख से निकलने लगी. ब्लू फिल्म हिंदी में फुल मूवीमेरी बीवी का नाम पूजा है, उसकी उम्र 37 वर्ष है, हाईट साढ़े पांच फीट है. हम दोनों अब एक दूसरे के बिल्कुल समीप थे, दोनों एक दूजे की आँखों में खोये हुए थे कि इतने में कब उसने मेरे होंठों को अपने लबों में ले लिया, पता ही नहीं चला यारो!मेरे अन्दर भी सेक्स की अधूरी कामनायें पूरी तरह से जाग चुकी थी और वो भी आज मुझे पूरी तरह से भोगने के लिए तैयार था.

अन्तर्वासना के सभी दोस्तों को मेरा नमस्कार!आज मैं महीनों नहीं, सालों बाद अन्तर्वासना पर कुछ लिख रहा हूँ.

मैं धीरे से रूम में घुसा तो देखा कि बिमलेश लाल साड़ी में ही बेड पर लेटी थी।मुझे देख कर बिमलेश मुस्कुराई और मुझे नमस्ते बोला और पेट के बल लेट गई. तूने क्या समझा कोई लड़की है क्या?‘हाँ भाभी मैं तो यही सोच रहा था।’तो भाभी बोलीं- मैं भी किसी लड़की से कम नहीं हूँ।मैं बोला- जी भाभी. मैं अगले दिन 5 किलो प्याज़ खरीद कर आंटी के घर पर गया, आंटी घर के काम कर रही थी, वो मॅक्सी में थी जो स्लीवलेस थी, उनके नंगे हाथ मुझे उत्तेजित कर रहे थे.

मैं बहुत शर्मा रहा था कि ये क्या हो रहा है मेरे साथ!मगर मैडम ने मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ा तो मेरा लंड तनाव खाने लगा, एक मिनट में ही मैडम के सुंदर गोरे हाथ लगते ही मेरा लंड तन गया. मैंने एक या डेढ़ घंटा सब के सो जाने का इंतज़ार किया, फिर मैं भी रीना रानी के रूम में जा पहुंचा. मैंने सहारा देकर भाभी को उठाया, भाभी अपने घर चली गई।उस दिन के बाद तो मैंने उस देसी भाभी को इतना चोदा, शायद ही उसके पति ने चोदा होगा।दोस्तो, एक बात मुझसे मेरे गांव का नाम और भाभी से दोस्ती के विषय में मेल ना करें।देसी भाभी की गांड चुदाई की सेक्सी कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करें![emailprotected].

यूपी सेक्सी बीएफ वीडियो

लंड देखकर दीदी मेरे लंड को अपनी हथेली से सहलाने लगीं। कुछ देर बाद दीदी को लंड से मजा आने लगा तो उन्होंने किस करते हुए मेरे लंड को ज़ोर से दबा दिया।फिर मैंने कहा- चलिए हम आज सुहाग दिन ही मनाएँगे।मैंने उनको अपने बांहों में उठा लिया और ले जाके बेड पर लिटा दिया।उनको किस किया तो वो बोलीं- किस में ही टाइम खराब करोगे या कुछ आगे भी करोगे?मैं उनके एक निप्पल को चूसने लगा. योगिराज एक ही झटके में कोमल की गान्ड में घुस गया और कोमल की चीख निकल गई, कोमल चीखते हुए बोली- मादरचोद, मैंने तेरा क्या बिगाड़ा था जो मेरी गान्ड फड़वा दी?अब मैंने कोमल की चुचियों को सहलाया और उसको हिम्मत दिलाई- कोई नहीं, दर्द में ही तो मजा है चुदाई का!मैंने कोमल को बाँहों में भर लिया और मोहन को इशारा किया तो मोहन ने कोमल कीचूत में लंडपेल दिया. 5 इंच का लंड पूरा अपने मुँह में भर लिया और बड़े प्यार के साथ उसे चूसने लगी.

भाई बहन सेक्स की इस कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने मौसी की लड़की को पड़ोसी लड़के के साथ सेक्सी हरकतें करते देखा तो उसकी पोल मेरे सामने खुल गई और मुझे भी बहन की चूत मिल गई!मेरा नाम अभिमन्यु चौधरी है, मैं हरियाणा का रहने वाला हूं.

तब तक वह नहा कर कपड़े सुखाने बाहर आ गई थी, उसके गीले बालों से पानी उसके उरोजों पर टपकते हुए उसके शर्ट के अंदर से शायद उसकी चूत तक बह रहा था.

अब उसे इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता था कि गांड में दूसरा लंड कभी भी आकर घुस जाता था!इस समय उसकी गांड का वास्तविक भोसड़ा बन चुका था, और वो खुश थी. राजे ने मेरे चूचे देख के एक ज़ोर की किलकारी मारी- जूसी रानी, जूसी रानी, देख बहनचोद अपनी बहन के चूचे… हैं न दिल को लुभाने वाले! हरामज़ादी का साइज 42 डी से कम न होगा… जूसी रानी, तुम दोनों बहनों ने दुनिया के बेहतरीन चूचे ले लिए भगवान से… दोनों के दोनों बदजात रंडियाँ… छू के देखता हूँ. मराठी झवाडया बायकाफिर मैंने उन्हें कहा कि वो अपने दोनों हाथों से मुझे मेरी गर्दन से कस के पकड़ लें.

जैसाकि निशा ने कहा है कि मैं उनके और मेरे बीच हुई कहानी को भी आपके सामने पेश करू तो ऐसा जल्दी ही करने की कोशिश करूंगा दोस्तों. मेरी ये सेक्स स्टोरी मेरी मुँहबोली सिस्टर की है, उसे मैंने कॉलेज में सिस्टर बनाया था, वो भी मेरे कॉलेज की लड़कियाँ पटाने के मतलब के लिए बनाया था. कपड़े उठाने को झुका कि मैंने भाई साहब का हाथ अपने चूतड़ पर फिरते हुए महसूस हुआ। मैंने गर्दन मोड़ कर देखा तो वे मेरे पीछे खड़े थे। अब उनके हाथ की उंगली मेरी गांड के छेद पर थी.

क्योंकि मैंने उसे वो कभी बताया ही नहीं। उस राज को मैंने राज ही रहने दिया. पर मैंने उनके साथ जाने से मना कर दिया क्योंकि कार में सफर करते करते मेरा मन भारी हो गया था।सब लोग बाजार घूमने चले गए… मैं अपने रूम में अकेली ही थी और बोर हो रही थी तो मैंने एक स्लीवलेस और डीप नैक ब्लाउज वाली साड़ी पहनी जिसमें से मेरे आधे मम्मे बाहर को आ रहे थे और फिर मैं नीचे जाकर होटल रिसेप्शन के पास पड़े हुए सोफे पर बैठ गई।मैं वहाँ पर रखी हुई मैगज़ीन पढ़ने लगी.

तभी उसने तेज गति से धक्के लगाने का बोला, मैंने भी भी उसकी बात मान ली और तेज गति से धक्के लगाने लगा.

पूजा ने लंड मुँह से निकाला और मासूमियत से पूछा- मामू चुत में डालने से ज़्यादा मज़ा आता है. मानसी अपनी टूटी हुई आवाज़ में मुझसे बोली- तूने वादा किया था कि कुछ नहीं होगा और तू मेरा ख्याल रखेगा. पता नहीं रात को मेरी गांड का क्या हाल होने वाला है।मोना नीचे बैठ गई और काका के लंड को चूसने लगी। अब इसे इन दोनों की किस्मत कहो या कहानी की ज़रूरत.

आर्केस्ट्रा सेक्सी बीएफ वीडियो ’वो आँखें बंद करके चुम्बनों और चुसाई का मजा लेने लगी।मैंने धीरे-धीरे अपना मुँह नीचे किया और जीन्स और पेंटी एक साथ उतार दी।आह क्लीन शेव्ड चिकनी चुत थी. मैंने उसके पैर अपने कन्धों से उतारे और मोड़ कर उसी को पकड़ा दिये इससे उसकी चूत अच्छी तरह से उठ गई; अब मैंने चूत में चक्की चलाना शुरू की… सीधी फिर उल्टी.

फिटकरी है घर में या नहीं मैं देख लूं…मीना ने ‘हाँ’ की तो मोना चली गई. मैडम सिसकारियाँ लेते हुए मुझसे बोली- तू चूत को बहुत अच्छा चाटता है. उसके सभी घर वाले छत पर सो रहे थे और उसने सीढ़ियों के दरवाजे पर कुण्डी लगा ली थी ताकि कोई ऊपर से ना आ सके.

झारखंडी सेक्सी वीडियो हिंदी

आज पहली बार मुझे चुदाई का मौका मिला है। मैं तो आज आपकी जम कर चुदाई करूँगा. मैंने दोबारा क़ॉल लगाई तो फोन एक लड़के ने उठाया, मैंने पूछा- आप कौन बात कर रहे हैं, आपके फोन से मिसकॉल आई हुई है. उसका पूरा लंड मेरी चुत में घुस गया मुझे तो बड़ा मजा आया और अजय मेरे मुँह लंड अंदर बाहर करने में लगा था!अब अजय का दोस्त मुझे जोर जोर से चोदने में लगा था.

इस समय हम दोनों के ही लंड फट पड़ने को हो रहे थे, हमारी प्रेमिका ने समझते हुए दोनों हाथों में हमारे लंड पकड़ कर चूसने शुरू कर दिए. मैंने उसके होठों पर किस करना चाहा तो उसने रोक दिया और बोली- कोई देख लेगा!पास में ही एक बिल्डिंग है जो काफी दिनों से बंद पड़ी है.

उसकी चूत भी दो बार पानी छोड़ चुकी थी पर वो अपने मन में घबरा रही थी इस तरह रयान को धोखा देकर!निष्ठा ने कपड़े बदले और बेड में घुस गई.

मैं उठा फ्रेश हुआ और भाईसाहब से चलने की इजाजत ली।मैं पलंग के पास खड़ा था कि सुकांत ने मुझे पकड़ लिया और कहा- थोड़ा रुको न सर!मैं उसके बगल में लेट गया। अब मेरे एक तरफ भाईसाहब लेटे थे। फिर मैं फिर सुकांत और उसके बाद वह अधबना इंजीनियर. तो मैंने गिलास खाली कर दिया।चंदन ने मुझे इसी तरह से पेप्सी का और एक गिलास भर दिया। जैसे मुझको पता न था कि इसमें शराब है. बहनचोद ड्रामा करना भी तो ज़रूरी था ना- मुझे तेरी ख़ुशी बर्बाद करके अपनी ख़ुशी नहीं चाहिए.

गहरी गहरी साँसें लेता हुआ मैं भी बिल्कुल मुरझाया सा पड़ा था और सुल्लू रानी मेरे ऊपर पड़ी थी. उसके कबूतर काफी चुस्त थे, उसकी गोलाइयों को देख मन नहीं भरता… मैं उसके निप्पल चूसने लगा और अपने एक हाथ से उसकी जाँघों को सहलाने लगा. 5 मिनट हम वैसे ही लेटे रहे और फिर हम दोनों ने कपड़े पहने और घर की तरफ निकल गए.

अब आंटी ने मुझे नीचे किया और मेरी चेस्ट को काटने लगी और बोली- बहुत चौड़ी छाती है तेरी!मैंने आंटी का ब्लाउज उतारा और उनके निप्पल से खेलना शुरू कर दिया.

बीएफ सेक्सी हिंदी एक्स एक्स एक्स: हमारी गांड चुदाई की बात सुनकर उन दोनों के चेहरे की ख़ुशी देखते ही बनती थी. दिखने में स्मार्ट हूँ और मेरी हाइट 5 फुट 6 इंच है और मेरे लंड का साइज़ 3 इंच मोटा और 7.

मैं रीना के कहे अनुसार फर्श पर घुटनों के बल बैठ गया और रीना रानी बेड पर ठीक मेरे सामने आकर उकड़ूँ बैठ गई. ’आगे से राहुल राहुल के अधखुले कच्छे से उसका लौड़ा माँ के मुँह से निकल गया तो माँ ने राहुल का लंड हाथ में ले लिया। पवन अंकल झटके मारते रहे ओर माँ ‘म्मा. दारू का वो गिलास खाली हो चुका था, फिर उन्होंने मुझे अपने से अलग किया और सोफे का सहारा लेकर कुतिया स्टाईल में खड़ी हो गई और अपनी चूत में हाथ फेरते हुए बोली- आओ अब मेरी चूत में अपना लंड डालो.

ना बाबा कहीं उसने मेरे साथ कुछ कर दिया तो मैं तो मर ही जाऊंगी।टीना- अरे कोई ज़बरदस्ती कुछ नहीं करता। तुम एक बार ट्राइ तो करो, डर लगे तो मत करना.

उसने हॉल में ही गाउन निकाल कर फेंक दिया और मुझे पूरी नंगी कर दिया, उसने मुझे धक्का देकर सोफे पर गिरा दिया और मेरे पैर फैला कर मेरी बुर को चाटने लगा, उसके लपालप चूसने के वजह से मेरी बुर ने पानी छोड़ दिया- उई माँआआ आआ… स्सस्स…‘देखा कितनी चुदासी है तू… आज तेरी चुदास मिटाता हूँ!’ ऐसा कह कर उसने जीभ का हमला मेरे चूत पर जारी रखा, मेरी चूत का कोना कोना वो चाट रहा था. या शायद भैया को बहुत प्यार करती थीं। मैंने हर तरीके से उनको छूने की कोशिश की, लेकिन एक दिन उन्होंने मुझसे कह दिया कि वो मेरी शिकायत मम्मी-पापा से कर देंगी। उस दिन से मैं उनसे दूर रहने लगा।फिर कुछ दिन बाद मम्मी-पापा किसी रिलेटिव की शादी में बाहर गए हुए थे। तो मैंने एक प्लान बनाया। मैं मार्किट गया. चूसने में बहुत मज़ा आया।अब उसने भी रेस्पॉन्स देना शुरू कर दिया और हम बेड पेर लेट कर किस करने लगे। फिर मैंने उसके मम्मों को कपड़ों के ऊपर से ही दबाने स्टार्ट किए तो वो सीत्कार करने लगी।मैं समझ गया कि उसको मज़ा आ रहा है और जब मैंने उसकी गर्दन के पीछे किस किया तो वो और ज्यादा मचलने लगी।तक़रीबन 10 मिनट तक हम किसिंग करते रहे। फिर मैंने उसका कुर्ता उतारा और ब्रा भी उतार दी।वउओ क्या ठोस चूचे थे.