भैया भाभी की बीएफ

छवि स्रोत,डॉली सेक्सी व्हिडिओ

तस्वीर का शीर्षक ,

राजस्थानी बीएफ वीडियो: भैया भाभी की बीएफ, उसके बाद …नमस्कार दोस्तो, आपको मेरी सेक्स कहानी कितनी अधिक पसंद आ रही है, इसका अंदाजा मुझे आपके हजारों की तादाद में मिल रहे ईमेल से हो गया है.

सेक्सी भाड़ में जाओ

मैंने धीरे धीरे उसके गाउन को पूरा ऊपर किया और थोड़ा सा उन्हें उठाकर पूरा गाउन उतार कर अलग कर दिया. सेक्सी कार्टून इमेजइधर भले ही कुसुम ने अपने बेटे को समझा दिया था लेकिन उसके दिमाग में अभी भी हमेशा अपने बेटे का मोटा और सख्त लंड घूम रहा था.

मैंने महसूस किया कि कोई मेरे लंड से खेल रहा है और अपने पूरे हाथ को मेरे कपड़ों के अन्दर डालकर फेर रहा है. नादान लड़की की सेक्सीमैंने सोचा कि पता नहीं मामी ने इतनी देर इतनी ठंड को कैसे सहन कर लिया.

तभी आंटी मेरे सामने आ खड़ी हुईं और उनकी नज़र नीचे मेरे खड़े लंड पर जमी हुई थी.भैया भाभी की बीएफ: वो उठकर मेरे पास आई और मेरी आंखों में देखते हुए उसने मेरे अंडरवियर पर हाथ रख दिया.

इस बार मेरा आधा लंड चुत के अन्दर चला गया और उसकी जोर से चीख निकल गयी.वो हल्की से हंसी और बोली- कैसा टेस्ट लगा?मैंने कहा- एकदम मस्त नमकीन मलाई जैसा.

सेक्सी वीडियो मराठी महाराष्ट्र - भैया भाभी की बीएफ

मैं उनके होंठों और स्तनों को चूसते हुए उनको धकापेल चोदने में लगा था और वो भी एकदम किसी पागल चुदासी रंडी की तरह मेरे लंड का मजा लेती हुई कामुक सिसकारियों के साथ चुदने में लगी थीं.मैं उसकी चूत में माल नहीं गिराना चाहता था लेकिन वो क्षण इतना मजेदार था कि मैंने चूत से लंड निकालने के बारे में सोचा भी नहीं.

रोज की तरह मैं मम्मी के कमरे में जाकर उनकी ब्रा ले आया और बाथरूम में चला गया. भैया भाभी की बीएफ अगली सेक्स कहानी में मैं आपको अपनी बहन और मॉम की एक साथ हुई चुदाई की कहानी लिखूंगा.

आधा लंड घुसेड़ कर सत्यम ने कुछ और झटकों में मेरी चूत के अन्दर अपना पूरा लंड घुसा दिया, जिससे मैं दर्द से एकदम से तड़प उठी और चिल्लाने लगी.

भैया भाभी की बीएफ?

मैं ठंड में थोड़ा कांप रहा था और मेरे पास पहनने के लिए कुछ था ही नहीं. बस इतना समझ लीजिए कि पहली बार फोन पर बातचीत में मेरी उससे सीधे चुदाई की बात नहीं हुई थी. अंदर उन दोनों की बीवियाँ मेरे नई दुल्हन के पास बैठी थी। हमें आते देख वो उठ खड़ी हुई।उसके बाद मेरे दोस्त मुझे और मेरी बीवी को नई ज़िंदगी की मुबारकबाद देकर चले गए।अब कमरे में हम दोनों अकेले रह गए।मैंने कमरे के दरवाजे की कुंडी लगाई.

मेरे भाई के कुछ दोस्त, जिनको अभी अभी जवानी चढ़ी थी, वो सब मेरे पीछे दीवाने थे. लेकिन पीयूष कहां मानने वाला था, ऊपर से वायग्रा का असर भी अब उसकी बहन पर चरम पर था. और अब उसकी मंद-मंद सीत्कार आह्ह … आह्ह … ऊह्ह … जैसी जोर जोर की आवाजों में बदल गयी थी- हां अनुराग … आह्ह … ऐसे ही चूसो … खा जाओ … आह्ह … मेरी चूत को खा लो … मेरी चूत प्यासी है।मैं- मेरी प्यारी नैना … आज तुम्हारा सारा जूस पी जाऊंगा.

वो एक पल के लिए चौंका क्योंकि उसे घर का मेन दरवाजा खुला ही मिला था. अब भाभी रोमी से मिन्नतें करने लगी- छोड़ दे यार … एक एक करके चुत ही चोद लो. तीसरे दिन रात को मैंने बहन की गांड में खूब सारी बोरोलीन भरके फिर से लंड पेल दिया.

जेठजी ने अपने दोनों बड़े बड़े हाथों से मेरे सर को पकड़ कर अपनी कमर से धक्का मारा और उनका लंड मेरे मुँह में 3 इंच अन्दर घुस गया. अपने प्लान के मुताबिक पीयूष ने शीना को पीछे से हग कर लिया और ये कहते हुए लेट गया- मेरे साथ लेट जाओ, सब बेचैनी दूर हो जाएगी.

सारा बाथ टब में लेट गयी और लकी ने खड़े होकर उसके मम्मों, पेट और चूत पर पेशाब की बौछार कर दी.

मैंने खुशी को कहा- तुम्हें देखकर किस करने का मन कर रहा था लेकिन मैंने किस लिया नहीं.

मगर मैंने उससे कहा कि तू मेरे साथ शादी करे, तो ही मैं तेरे साथ रहूँगी. ओमी अंकल ने पीछे से मेरे चूतड़ों पर लंड लगा दिया और मेरी चूचियों को दबाते हुए मेरी गर्दन पर चूमने लगे. भाभी हंसने लगीं और बोलीं- क्या लड़कियां खा जाएगी तुम्हें?मैं कुछ नहीं बोला.

आंटी की गड्ढे जैसे गांड में मेरा लंड एकदम ऐसे घुसता चला गया, जैसे मक्ख़न में गर्म चाकू घुसता चला जाता है. वह बीच-बीच में कभी मेरी चूचियों को दबाता या उनको चूस लेता और मेरे होंठों को भी चूम लेता. अब जेठजी अपनी कमर से और जोर जोर से झटके मारते हुए अपने मोटे बड़े लंड को मेरी छोटी सी चूत में घुसाने लगे.

पर सुनील के मेरे साथ हैलो करने के लिए हाथ बढ़ाया, तो मेरा ध्यान टूटा.

जब उसे यह अहसास हो गया कि मैं कुछ नहीं कर रहा हूँ, तो उसने अपने शरीर को भी ढीला छोड़ दिया था. उन सब औरतों … और मेरी मम्मी की तरह, सत्यम मेरी ज़िंदगी का सबसे ज़्यादा खास आदमी हो गया था. उस अद्भुत नजारे को छूने के लिए रोहन के हाथ अपने आप बढ़ गए और उसने अपना एक हाथ मॉम के एक चूतड़ पर रख दिया.

तो दोस्तो, इस तरह से सारा ने अपनी चुदाई की सेटिंग की और आराम से लकी से चुदवाती रही. मैंने अपने लौड़े को भी खूब क्रीम से लथेड़ लिया और जितना हो सकता था उसकी जांघों को चौड़ा कर दिया. मैंने भाभी से पूछा- आपके घर में कौन कौन रहता है?उन्होंने बताया कि मेरे शौहर दुबई में रहते हैं.

उसकी चुदाई किसने की और कैसे की; यही मैं आपको इस कहानी के माध्यम से बताऊंगा.

अब लड़की थी, तो अपने मुँह से सुरेश से नहीं कह पा रही थी कि मुझे चोद दो. लेकिन इसका जवाब मैंने बड़ी चालाकी से दिया कि आंटी रिट्ज अपनी उम्र के हिसाब से बहुत प्यारी है, लेकिन आप में जो बात है … वो शायद इस दुनिया की किसी भी औरत में नहीं हो सकती है.

भैया भाभी की बीएफ अब सरिता भाभी अपनी गांड हिलाते हुए बोलने लगी- आह मारो मेरी गांड … ऊ आह ऊ … फाड़ दो मेरी गांड. पहले तो मैंने दिखावटी विरोध किया लेकिन फिर हार मानने का नाटक करके मैं आराम से लेट गयी.

भैया भाभी की बीएफ मुझे इस बार बड़ा अच्छा फील हुआ क्योंकि इस बार चिकनाई के कारण लंड सही से घुसा था. कभी बांधकर तो कभी तड़पाकर! उसको सेक्स का पूरा मजा लेना होता था।कमल सोचता कि हर घर में ऐसा ही होता होगा, तो वह ऐसा ही करता जैसा सारा कहती.

पहले तो काफी देर मैंने आंटी की गांड को बजाया, फिर खुद मैं ज़मीन पर लेट गया और आकृति आंटी को अपने लंड पर बिठा कर जन्नत की सैर कराने लगा.

লেডিস সেক্স ভিডিও

लकी ने टोका तो सारा बोली- यहाँ नोएडा में दो तीन महीने रह लो, तुम भी साले, बहनचोद, फट गयी जैसे शब्दों के बिना बात नहीं करोगे. मैंने मामी की चूत में लंड डालने का सोचा ही था कि मामी ने मेरे मुंह को अपनी चूत से हटा दिया और मुझे नीचे लिटाकर मेरे लंड पर आ बैठीं. मैं उसके उरोजों को चूसने के साथ अपने लिंग महाराज को भी जोर-जोर से अंदर बाहर कर रहा था.

फिर वो ये बात सुनकर थोड़ी शर्मिंदा हुई और बोली- ठीक है, मगर ये बात किसी को कहना नहीं कि तूने मुझे ये सब करते हुए देखा है. मैं एक बार दिल्ली से भोपाल आ रहा था किसी काम से!मैंने भोपाल एक्सप्रेस में स्लीपर कोच रिजर्व करवा लिया था।9 बजे मैं स्टेशन आ गया और अपनी सीट S8-43 में आकर लेट गया।1 घंटे के सफर के बाद अचानक से एक 25 साल की विवाहित महिला ने आकर मुझे जगा दिया।वो बोली- यह सीट मेरी है. मेरे दो बच्चे हैं, एक बड़ी लड़की हॉस्टल में पढ़ती है और छोटा लड़का मेरे साथ रहता है.

मैं लगा रहा और कुछ देर बाद मैंने उसकी टांगों को अपने पैरों के ऊपर करवाकर उसके ऊपर छा गया.

सारा उससे लड़ पड़ी और बोली- तुमने उसकी चूत में कर दिया अब मेरा क्या होगा. कुछ मिनट तक वैसे ही हाथ रखने के बाद मैंने थोड़ा सा आगे बढ़ने का सोचा और अपनी उंगलियों से उसकी एक चूची को दबाने लगा. मैंने एक हाथ उसकी पीठ और एक उसकी नंगी जांघों पर लगाया और उसको अपनी गोद में उठा कर उसको उसके कमरे में ले गया.

यह इशारा काफ़ी था।मैंने हर्षिता, जो अब तक साले की पत्नी थी, उसे अपनी बांहों में उठाया और प्यार करते हुए अपने कमरे की ओर बढ़ रहा था।घर में मेरे, उसके और बच्चों के सिवा कोई ना था. मैंने कैसे कैसे अपनी कामवासना शांत की?लेखक की पिछली कहानी:मां बेटी की चुदास मेरे लंड से मिटीयह कहानी सुनें. हां अब इतना फर्क हो गया था कि मेरी ड्यूटी सिर्फ सिक्योरिटी गार्ड की ही रह गई थी.

आज जो कहानी मैं आपको बताने जा रहा हूं वो मेरी मौसी की चुदाई की कहानी है कि कैसे मैंने अपनी वासना के कारण अपनी मौसी को चोदा था।मैं यहां पर जगह का नाम और लोगों का नाम नहीं लिखूंगा क्योंकि मैं नहीं चाहता कि कल को कोई मेरी मौसी के बारे में कुछ बोले।अब मैं आपको मौसी के बारे में बताता हूं. मैंने उससे कहा- बसंत तुम ये क्या कर रहे हो … छोड़ दो, जाने दो मुझे!बसंत- निधि तू अपने दिल की बात मुझसे कह सकती हो.

करीब 20 मिनट तक उसके मम्मे चूसने के बाद मैं स्नेहा की साइड में हो गया और उसकी पैंटी उसके बदन से अलग कर दी. इतने में कल्पना ने मुझे दीवार से सटा दिया और मेरी आंखों में देखने लगी. कुछ ही देर में सरिता भाभी भी फिर से गर्म हो गई और अपनी गांड हिलाने लगी.

नासिर जी की बात सुनकर मुझे मेरी चूत में खुजली होने लगी क्योंकि मैं एक बेवा हूँ और पति के जाने के बाद मैंने दुबारा शादी नहीं की.

फिर उन दोनों ने कमरे का दरवाजा बंद किया और बेड के दोनों तरफ आकर खड़ी हो गयीं. फिर देखा कि उसने वही पैंटी पहनी थी, जिसके छेद में मैंने लंड घुसा कर उसकी गांड के पास बड़ा छेद कर दिया था. मीरा से एक बार बात हुई और उसे मेरे बोलने का तरीका पसंद आया, तो वो बोली- लगा तो था गलत नम्बर पर शायद अब मुझे लग रहा है कि मुझे सही नम्बर लग गया है.

उसकी तड़प अब इस हद तक बढ़ गई थी कि वो मेरे होंठों को काटने भी लगी थी. मैं उसके सारे वीर्य को अंदर नहीं ले पाई, वह थोड़ा बाहर मेरी चूचियों पर टपक गया.

मंजू ने अंजलि से पूछा- रमेश ने कुछ ज़्यादा तंग किया क्या?वो मुस्कुरा कर बोली कि नहीं. अपनी मॉम की आंखों में आंसू देखकर रोहन रुक गया है और उसने अपनी मॉम की आंखों को चूम लिया. उसके बाद उसने वो तेल लगाया और अपनी सलवार खोल ली और साथ में चड्डी भी सरका दी.

6 सेक्सी हिंदी में

मैं नासिर जी की तरफ देख कर बोली- अरे जब भाई मुश्किल में हो … और बहन काम ना आए तो क्या मतलब नासिर जी.

मुझे ये काफी अच्छा लगा कि इसमें अपनों के लंड चुत में लेने का मौक़ा मिलेगा. अब कमल ने दोबारा उसकी फ्रॉक उठा कर पैंटी के अंदर उंगली सीधी उसकी चूत में घुसा दी. अब मुझे कुछ समझ आने लगा था और मेरे बदन में चीटियां सी रेंगने लगी थीं.

दरवाजा बंद करके वो दरवाजे से ही अपनी पीठ लगा कर मेरी तरफ कामुकता से देखने लगी. उसको मैंने इसी तरह से लगभग 15 मिनट तक चोदा।जब दोनों झड़ने वाले हुए तो मैंने पूछा- कहां निकालना है?तो वह बोली अंदर ही निकाल दो, अब तो हर रोज चुदाई होनी है. शाहरुख का सेक्सी वीडियोसरिता भाभी ने भी अपनी चूत का पानी विजय के मुँह में छोड़ दिया और विजय ने भी भाभी की चूत के पानी को चाट लिया.

वो बेहद मदहोश होते हुए पागल हो गयी थी।मादकता में उसकी सिसकारियों का शोर बढ़ रहा था। उसकी बांहों ने मेरे सिर को जकड़ लिया. मेरी जवानी की आग को ठंडा करो अनुराग … जब से तुम्हारा लिंगदेव पैन्ट में देखा है तब से मेरी चूत में आग लगी है … बुझा दो मेरी इस आग को।मैंने नजरें उठाकर देखा तो नैना अपनी बांहें फैलाये मेरे सामने खड़ी थी.

हम दोनों गरम हो गए थे और उसकी गान्ड की थप थप थप की आवाज से पूरा कमरा गूंज उठा।अब मैंने उसकी गान्ड से लंड निकाल लिया और मैं सोफे में बैठ गया. कमल के अंदर आते ही वो उससे चिपक गयी और बोली कि नींद नहीं आ रही थी बिना तुमसे चुदे. हॉट गर्ल Xxx कहानी मेरे घर के पास की एक लड़की की कुंवारी बुर चुदाई की है.

कुसुम अब शेखर से बोलने लगी थी- तुम घर में आते ही मुझे चोद दिया करो … और सुबह जाने से पहले भी चोदकर जाया करो. भाभी काफ़ी एक्सपीरियेन्स वाली थीं, उन्होंने छोटी सी उम्र में ही घाट घाट का पानी पिया हुआ था. यह हसबैंड फ्रेंड सेक्स कहानी है मेरी चुदाई की … मेरा गांडू पति जिस मर्द से गांड मरवाता था, उसी से मेरी दोस्ती हो गयी और एक दिन उसने मेरी चूत फाड़ दी.

कुछ 10-11 किलोमीटर बाद खेत के रास्ते से होती हुई वो मुझे किसी फार्म हॉउस पर ले गयी.

मैं फिर से तैयार हो गया और भाभी मेरा लंड पकड़ कर जोर से हिलाने लगीं और ऊपर नीचे करने लगीं. मैंने आस पास देखा कि जब कोई नहीं देख रहा था, तो थोड़ा सा शटर उठा कर उसमें घुस गया.

मुझे भी बहुत तेज़ दर्द हुआ क्योंकि मेरे लंड की सील टूट गई थी … लेकिन मज़ा भी बहुत आ रहा था. दस मिनट बाद हम दोनों की कामनाएं फिर से जवान होने लगीं और जल्द ही दूसरी चुदाई का दौर शुरू हो गया. अपने करीब पाकर उन्होंने अपने पालतू कुत्ते का मुँह अपनी भट्टी जैसी जलती गर्म चूत में घुसेड़ दिया.

मगर आज तो मैं इसे देख कर खुद पर काबू ही नहीं रख सकी।मैंने कहा- तुम्हें लंड चूसना पसंद नहीं?वो बोली- पहले नहीं था. इसी के साथ आंटी ने मेरी कुछ तारीफ भी की और रिट्ज से बोलीं- आज से तुम दोनों दोस्ती कर लो. मैं बाम लगाने लगा तो उसके पेटीकोट के पास से साड़ी बीच में आने लगी क्योंकि उनको दर्द उनकी गांड के बिल्कुल पास रीढ़ की हड्डी में था।वो हाथ लगाकर बताने लगी.

भैया भाभी की बीएफ वो एकदम से चिहुंक गई और अपने चेहरे से मेरे लंड से निकले रस को साफ़ करने लगी. वो ये सुनकर एकदम से खुश हो गयी और मुझे गले से लगा कर थैंक्यू कहने लगी.

தமிழ் ஹவுஸ் விபெ செஸ்

मेरी पिछली कहानी थी:आंटी की गांड चाटी और चुदाई कीआज मैं फिर से एक नई और बेहतरीन सच्ची सेक्स कहानी लेकर आया हूं. सेक्स की जरूरत की कहानी में पढ़ें कि पत्नी की मौत और अपंग होने के बाद मेरी सेक्स लाइफ खत्म हो गयी. वो मुझे फिर से किस करने लगा और खुद ही ज़ोर-ज़ोर से मेरी चूचियों को दबा रहा था.

एक दो दिन तो मैंने किसी तरह सब्र किया लेकिन फिर ससुर का लंड मेरे दिमाग में घूमने लगा. मैंने अब उसकी गांड में उंगली डाली, तो साली की गांड एकदम भभक रही थी और बहुत ज़्यादा टाइट थी. वॉलपेपर सेक्सी मराठीआंटी बोलने लगीं- अरे इसका अकेले जाना ठीक नहीं है, तुम भी साथ चले जाओ.

इस सच्ची ऑफिस Xxx कहानी में पात्रों के नाम बदले हुए हैं लेकिन पूरी सेक्स कहानी सच्ची घटना पर आधारित है.

उनको देख कर मेरे बाबू ने हरकत करनी शुरू कर दी और मेरा लंड खड़ा हो गया. इस तरह मेरे मम्मों की मालिश से मुझमें एकदम से करंट से दौड़ गया और मेरी सिसकारियां भी ‘उफ्फ आह.

मैंने भी बगल की टेबल पर रखा बियर का कैन उठाया और बियर पीते हुए अपनी नंगी होती दीदी की अदाओं को निहारने लगा. हम दोनों मेल पर ही बात करते करते एक दूसरे के काफी करीब और खुल गए थे. उसने पानी बहन को से तरह पहले भी हज़ारों हग बार किया था, इसलिए ये बात उन दोनों के लिए एक सामान्य सी बात थी.

मैंने किसी तरह कंट्रोल किया और उसे हैलो कह कर कार का दरवाजा खोल कर उसे बैठने का इशारा किया.

छूटते ही उसने मेरा हाथ, जो उसकी चूत में था, पकड़ लिया और बोली- नहीं, बस्स … नहीं … अब और नहीं।कहते हुए वो उठकर बैठ गयी।बैठते ही अपनी पैंटी को पहना और खड़ी होकर शीशे में हुलिया ठीक करने लगी।मगर मेरा मन अभी नहीं भरा था. न्यूड भाबी चुदाई कहानी के पिछले भागभाभी ने दूध वाले का लंड खा लियामें अब तक आपने पढ़ा था कि दूध वाले ने भाभी को खूब चोदा था. मुझे जेठजी के जकड़ने से एक मर्दानगी वाली जकड़न का पूरा आभास हो रहा था.

भोजपुरी सेक्सी ऑंटीउसकी बातों से साफ था कि उसने मुझसे सेक्स के लिए ही दोस्ती की थी।मैं भी वही तो चाहती थी कि मेरी सेक्स की भूख को वो शांत करता रहे।बातों ही बातों में उसने मुझे सेक्स के लिए भी बोला और कुछ टालमटोल करने के बाद मैं उससे मिलने के लिए तैयार हो गई।बस अब हम दोनों को सही मौके का इंतजार था. देहरादून से रोहन नई दिल्ली स्टेशन पर पहुंचने वाला था, उसके पिताजी उसे लेने आये थे.

वीडियो में देहाती सेक्सी

दोस्तो, मेरा नाम यश कुमार है, मेरी उम्र 20 साल से कुछ माह ज्यादा है. दोस्तो, ये थी मेरी आंखों देखी मेरी बहन की चुदाई की कहानी।आपको ये मामा भांजी की चुदाई कैसी लगी मुझे जरूर बताना. कुछ देर बाद वो बोली- वरुण प्लीज़ जल्दी कुछ करो, अब रहा नहीं जा रहा है.

उस टाइम शायद हम नहीं मिल सके थे, लेकिन आज मौका है … हमें उसे खोना नहीं चाहिए. फिर बाहर जाकर मैंने एक नया सिम कार्ड ले लिया और भाभी के नंबर पर बतौर एक रॉंग नंबर फ़ोन किया. मैं बुरी तरह से हांफता हुआ उसके कोमल से बदन पर एक कटी हुई डाल की तरह गिर पड़ा.

कुछ ही समय में मैंने अपने हाथों को उसकी गांड की गोलाइयों तक पहुंचा दिया और उसकी गांड को सहलाने लगा. मेरी मां ने मामा से बात कर ली और वो मामी को कुछ दिन के लिए मेरे यहां पर भेजने को राजी हो गये. इंडियन कॉलेज गर्ल सेक्स कहानी मेरी दोस्त की एक मस्त माल सहेली की है.

जिस दिन रोहन घर आने वाला था, उस दिन शेखर और कुसुम दोनों ने मिलकर रोहन के लिए सरप्राईज प्लान किया था. लेकिन इतनी रात को इसको मेनगेट से अन्दर कैसे लाऊंगी, क्योंकि साढ़े ग्यारह बजे के बाद गेट बंद हो जाता है.

आपको मेरी होटल Xxx स्टोरी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे ईमेल करके जरूर बताएं.

उसकी आंखें तो ऐसी हैं कि एक बार नजरें मिला कर बात कर ले, तो कोई भी मर्द उसका दीवाना हो जाए. बांग्लादेश सेक्सी गर्ल्समगर शायद आंटी ने मेरा फूलता लंड देख लिया था, पर उन्होंने कुछ नहीं बोला. हीरोइन मंकी सेक्सीमैंने अपनी बीवी की स्वीकारोक्ति सुनी तो काफ़ी दिनों तक टेंशन में रहा. आज मैं भी अपनी एक सच्ची और सुखद घटना का अनुभव आप सबके सामने इस न्यू सेक्सी भाभी चुदाई कहानी के माध्यम से रख रहा हूँ.

बहुत देर तक मुझे ऐसे ही चोदने के बाद उन्होंने अपना लंड मेरी चूत में से निकाल कर मेरे मुँह में दे दिया और मैं लंड चूसने लगी.

अभी ये अंकल झड़े भी नहीं थे, तब तक तीसरे वाले अंकल भी कमरे में आ गए और मेरी चुत चोद रहे अंकल के उतरने के बाद वो मुझ पर चढ़ गए. तब तक कुसुम ने रोहन को आवाज देकर बुलाया और उसे शेखर के सामने खड़ा कर दिया. कल भले ही मेरे ओर पूजा के बीच बहुत कुछ हुआ था, पर आज मुझे फिर से डर लगने लगा था.

उसके झड़ने के बाद मैं कुछ पल रुका और उसकी चूत से लंड खींच कर उसे घोड़ी बना दिया. मैं- कोमल, तुम्हें दर्द तो अब भी होगा, लेकिन तुम इसके लिए तैयार रहना. मैं- क्या हुआ सेक्सी?कोमल- बदमाशी आप कर रहे हो और मुझसे पूछ रहे हो कि क्या हुआ!कोमल की साड़ी तो पहले ही चूमाचाटी में साइड में हो चुकी थी.

भाभी हिंदी सेक्सी पिक्चर

पड़ोसन की चूत की कहानी के पिछले भागचूत में लंड लेने का जुगाड़में अब तक आपने पढ़ा था कि इस बार भाभी ने अपना शिकार अपने नए किरायेदार विजय को बनाया. मैं इस सेक्सी लड़की की कहानी में आपसे रानी की चुदाई की बात कर रहा था. अगर इन सब जगहों को किस किया जाए या उसको हाथों से धीरे धीरे मसल दिया जाए, तो लड़की की चुदवाने की इच्छा इससे एकदम से बढ़ जाती है.

मैंने ड्रावर से क्रीम निकाली और अपने हाथों से लगाने ही वाला था कि रानी ने मुझे मना कर दिया और बोली कि मैं खुद ही लगा लूंगी.

रंडियां बन जाने के बाद एकाध दिन मौक़ा पाते ही उन दोनों की चुत भी मैं चोद लूंगा.

इसके बाद बाकी का सफ़र मैंने उसकी चुचियों को मसलते और अपने लंड को उसके हाथ से सहलवाते हुए ही पूरा किया. मैंने उसके लंड की पूरी चमड़ी को खोली और आगे लाकर सुपारे को ढका इस तरह से मैंने लंड की मुठ सी मारी. सेक्सी फिल्म घोडाज्यादा पूछने पर बिल्लो ने बताया कि उसके पति का बहुत ही छोटा और पतला है.

मैंने उस लड़के को अभी अपना नाम तक नहीं बताया, मुझे बहुत डर लग रहा है कि कहीं वह लड़का ऐसा वैसा ना निकले. शेखर ने कुसुम से कहा कि कुसुम तुम दोनों के मन में जो हो, वो करो … मेरी तरफ से तुम दोनों को खुली छूट है. वो मेरे खड़े लंड को देख कर खुश हो गई और बोली- हम्म … लग तो मजबूत रहा है.

वो भी मेरे साथ बात करने का कोई ना कोई बहाना ढूंढती रहती थी और मैं भी उससे बात करने का कोई न कोई बहाना ढूंढता रहता था. बाहर किसी को नहीं आता देखकर चुपके से दरवाजे के रास्ते अपने घर चली गयी.

उस आदमी ने कार आगे बढ़ा दी और एक जगह रोक कर मुझे लस्सी पिलाई, फिर मुझे मेरे घर से थोड़ा दूर ड्रॉप कर दिया.

मेरे मुँह से मस्त मादक आवाजें निकलने लगीं- आआह … ऊऊह … साले सांड की तरह चुत चोद रहा है … आआह … ऊऊऊईई … उउउह … मजे लेने लगी. लेकिन सारा पीछे पड़ गयी; बोली- बताओ मुझे नाम उसका वर्ना मैं नहीं चूसूंगी. मैंने अपनी बातों को इतनी अच्छी तरीक़े से रखा था कि भाभी का दिल बहल जाए और वो खुलकर ना या हां करने से पहले सोच लें.

घोड़े और कुत्ते की सेक्सी फिल्म वो सारा के फ्लैट में एक घंटे के करीब रहा और इस बीच ही दोनों ने एक दूसरे की काफी जानकारी ले ली. वीडियो में लड़की का जब हस्बैंड बाहर जाता है, तब लड़का आकर लड़की को चोदता है.

उसने पहले तो मेरी चूचियों को दबाया और फिर मुँह लगा कर बारी बारी से मेरे दोनों दूध खूब चूसे. वो कुछ देर बाद बोली- सिर्फ़ निप्पल ही चूसोगे या और कुछ भी करोगे!मैं बोला- करूंगा ना … अभी तो पूरी रात बाकी है. मैं आगे हाथ करके उसके मम्मों को दबाता हुआ उसकी चुत में लंड धकापेल पेले जा रहा था.

मराठी सेक्सी बीपी भाभी

मैंने भाभी को बेड पर लुढ़का दिया और उन पर चढ़ कर उन्हें किस करना जारी रखा. मैंने आपको अपना नंबर देकर आप पर भरोसा किया है, आप भी मुझ पर भरोसा कीजिए. तो मैंने ओके कहा।कुछ देर बाद वो बोली- विशु धक्का मार!तो मैंने पूरी ताकत से धक्का लगा दिया.

इस अचानक हुए हमले के कारण भाभी दर्द से चिल्ला उठी- हाय मेरी गांड से निकालो अपनी उंगली … आह मेरी गांड से बाहर निकालो. मैं अंजलि के रूम में गया तो देखा कि अंजलि की चुत से अभी भी वीर्य निकल रहा है और वो सोई थी.

हग इस स्टाइल से किया कि उसके मम्मों का दबाव लकी की छाती को मिल जाए.

मुँह आजाद होते ही मैं तुरंत कराहते हुए बोली- अमित … बहुत दर्द हो रहा है … आआ आह बाहर निकाल लो आआआह. फिर कुछ देर बाद रिट्ज स्कूल से जब वापस आयी, तो हमने उसको उसके जन्म दिन का सरप्राइज दिया. कुछ देर बाद बारात के वापस जाने का समय होने लगा था; उन्होंने मुझे कार के पास आने का इशारा किया.

वो अपनी ठोड़ी पर अपने दोनों हाथ लगा कर बैठ गई और मेरी तरफ देख कर बोली- तुम्हें क्या नया चाहिए?मैंने उसकी आंखों में आंखें डालकर देखा और कहा- तुमको भी नया चाहिए हो तो बात बन सकती है. मैं भाभी को चोदने की प्लानिंग करने लगा था लेकिन मुझे ये पता नहीं था कि वो मुझे पसंद करती है या नहीं. वो मेरी तरफ मुस्कुरा कर देखने लगी तो मैं उस पर भूखे शेर की तरह टूट पड़ा.

चुत का रस स्वाद में थोड़ा खारा और थोड़ा खट्टा था, विजय पूरे रस को पी गया.

भैया भाभी की बीएफ: मैंने भी इस बात का मज़ा लेते हुए कहा- अंकल, आपसे तो छोटी ही हूँ और आप मुझे इसलिए नहीं बैठाओगे क्योंकि अगर कहीं आंटी को पता चल गया, तो आपको वो छोड़ेंगी नहीं. उसने जैसे ही अपनी गांड खोली, मैंने लंड का सुपारा गांड में फंसा दिया और तेल टपकाने लगा.

वो जल्दी से बेड के सिरहाने की ओर जाकर लेट गयी और अपनी टांगों को फैला दिया. दस मिनट बाद हम दोनों की कामनाएं फिर से जवान होने लगीं और जल्द ही दूसरी चुदाई का दौर शुरू हो गया. मुझे भी काफी दिन बाद लंड चूसने को मिला था तो मैं भी पूरी तन्मयता से लंड चूस रही थी.

मैं अपने भाई के बगल में जाकर इस तरह झुक कर खड़ी हुई कि मेरी पीछे की पूरी दुकान उस दोस्त को साफ दिख जाए.

फिर उसने फैसला कर लिया कि उसे मॉम के पास जाकर माफी मांग लेनी चाहिए और इन बातों को यहीं खत्म कर देना चाहिए. मेरा नीचे का कमरा था तो खिड़की खोलने पर बगल की गली पड़ती थी, जिसमें से कोई भी आसानी से अन्दर आ सकता था. रानी का पेटीकोट उसके घुटनों तक ऊपर उठ चुका था, जिससे उसकी गोरी गोरी बेदाग टांगें एकदम चिकनी नजर आ रही थीं.