बीएफ सेक्सी दिखाओ वीडियो में

छवि स्रोत,लड़कियों के सीने में बाल क्यों होते हैं

तस्वीर का शीर्षक ,

ववव यूट्यूब कॉम वीडियो: बीएफ सेक्सी दिखाओ वीडियो में, वो जुलाई तक वहीं रहने वाली थी।रोज की तरह मैं और मोनिका रात में फोन पर चैट कर रहे थे।वो दिन था 13 मई 2016अचानक मुझे याद आया कि 2 दिन बाद मोनिका का जन्मदिन आने वाला था.

डॉग लेडीज सेक्सी व्हिडिओ

आँटी बोली- नहीं, अब तुम जाओ, मुझे खाना बनाना है, बच्चे स्कूल से आने वाले हैं. सेक्सी पिक्चर दिखाएं इंग्लिशवो मेरी गांड में तेल लगाकर अपना लंड धीरे-धीरे मेरी गांड में डालने लगा.

उसके निप्पल को मैंने दांत से काटा, तो रूबी मेरे लंड को पूरी ताकत से खींचने लगी. असली ब्राह्मण कौन हैथोड़ी ही देर में भाभी अचानक से अकड़ने लगीं और एक ‘आह …’ के साथ झड़ गईं.

उसकी चूत अब गीली होने लगी थी और मुझे उसको रगड़ने में गजब का मजा आ रहा था.बीएफ सेक्सी दिखाओ वीडियो में: मेरे मन में भी विजय के लिए अब इज्जत बढ़ गई थी और प्यार उमड़ने लग गया.

फोन काट कर मैं पीछे के रास्ते से नीचे गया और भैंसों वाले कमरे की छत से होता हुआ ऊपर चढ़ा.बसन्त कुमार जी 15-20 दिन बाद दुकान का सामान लेने बड़े शहर जाते रहते थे और रात को वहीं रुकते थे.

भोजपुरी हिंदी सेक्स - बीएफ सेक्सी दिखाओ वीडियो में

मनोज से दरवाजा खोला, तो मैंने उससे कहा- देखो … कौन मिलने आई है?जब उसने अनन्या को देखा तो नमस्ते करते हुए बोला- मेरी खुशकिस्मती है कि आपने इस घर में अपने पांव तो रखे.मगर मुझे यहां आए दो हफ्ते से ज्यादा हो गए थे, पर अभी तक भी ममता जी के साथ मेरा काम‌ नहीं बन पा रहा था.

मैं सिसकार उठा- आह्ह … आह्ह … क्या बात है मेरी रानी … तू तो कमाल है. बीएफ सेक्सी दिखाओ वीडियो में भाई ने अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और मां ने अपनी चूत को मेरे मुँह पर रख कर रगड़ना शुरू कर दिया.

खाते-खाते मैंने उससे पूछा- ज़ारा!ज़ारा- हां?मैं- एक बात बताओ!ज़ारा- क्या?मैं- तुम्हें नहीं लगता कि तुम आजकल कुछ जल्दी ही झड़ जाती हो?ज़ारा- मुझे तो उतना ही टाइम लगता है! आप घोड़े हो गये हो!मैं- घोड़ा?ज़ारा- और क्या? टंगे ही रहते हो मेरे ऊपर!हम हंसने लगे.

बीएफ सेक्सी दिखाओ वीडियो में?

यह प्रस्तुत कहानी मेरे जीवन की ही एक घटना है।यद्यपि यह पत्नी की चुदाई कहानी शत प्रतिशत सत्य नहीं है मगर पूरी तरह से झूठ भी नहीं है. मैंने एक बार अंगूर को चबाया, उतने में ही उसने मेरे मुँह में मुँह डालकर उस अंगूर को खुद के मुँह में लेकर गटक लिया. वो इस दौरान सनसनी से पागल हो गई थी तथा उसने अपनी एक टांग हवा में उठाने की कोशिश भी की थी.

फिर दो मिनट के बाद मेरे लंड ने वीर्य छोड़ दिया और सारा माल उसकी चूत पर फैल गया. जरा सा लंड अन्दर गया भी नहीं था कि रचना की चीखें निकलने लगी- बेबी, धीरे डालो, दर्द हो रहा है. मैंने कहा- जब सरिया था तो पहले क्यों नहीं खोला?विपिन हंस कर बोला- बस मन नहीं था, आपको आधे अधूरे कपड़ों में देखने का मन था, पर देख तो बिना कपड़े के भी लिया.

इन सेक्स सम्बन्धों में मेरी ताई ने पहल करके मुझे उनके साथ सेक्स के लिए बढ़ावा दिया. फिर मैंने अनन्या को अलग से ले जाकर पूछा कि लौंडा पसंद आया?वो बोली- क्या मतलब?मैंने कहा- अभी ये हम दोनों की चुत को ठोकेगा. कि सोनल के मोबाइल पर मामी का कॉल आया- क्या कर रही हो, सोनल?पढ़ रही हूँ, मम्मी.

एक मेरी मॉम की चूत चाटने लगा और नमन मॉम के चुचे ज़ोर ज़ोर से दबा रहा था और काट रहा था. उधर मैंने उसके लंड को मुंह में भर लिया।मुदित जी का गोल गोल सुपाड़ा बहुत सुंदर लग रहा था.

मैंने अदिति से कहा- हां अदिति … अब मैं भी झड़ने वाला हूँ … हम दोनों साथ में ही झड़ेंगे अदिति.

स्नेहा भी अपने रूम में आकर फटाफट हल्के मेकअप के साथ ओपन शोल्डर वाला टाईट शॉर्ट टॉप विद आउट स्ट्रेप वाली ब्रा, जिसमें उसकी चूचियां और कहर ढा रही थीं.

वो बोली- क्यों, ऐसे में क्या दिक्कत है … मैं क्या तेरे से जबर करूंगी? इधर देख क्या मैंने कपड़े पहने हैं? प्रकाश तू इतना डरता क्यों है?मैंने जवाब दिया- देख शामली, मैं एक हद तक चुप रह सकता हूँ. इससे संजू की सिसकारियां बढ़ गईं और वो आंखें बंद किये हुए ‘आंह … आह … उई मम्मी. वाह क्या आनन्द था वो!फिर वो डॉक्टर झड़ कर मेरे ऊपर ही लेट गया और उसने मुझे कसके पकड़ लिया.

इसी के साथ अर्चना बहन एकदम से चीख मार कर मुझसे छूटने के लिए छटपटाने लगी- अहह मेरीईई ईईई … फट गई … चुत भैनचोद … साले कुत्ते … हरामी … रुक ज़ाआअ … आह बाहर निकाल लो … उम्म्ह … अहह … हय … याह … मम्मी. उसने कुछ नहीं कहा तो मैंने उसको बांहों में भर लिया और बोला- भाभी, मान जाओ ना … एक बार बस?वो मुझे पीछे हटाने लगी लेकिन मैंने उसको और जोर से पकड़ कर उसकी गांड सहला दी. अगले कुछ ही पलों में शैली के मुँह से एकदम से निकला- आंह फास्टर अवि … आई एम कमिंग.

उसे कुछ दर्द हो रहा था लेकिन कुछ ही देर में चुत ने लंड के लिए जगह बना दी थी और उसने भी नीचे से ठुमके लगाना शुरू कर दिए थे.

रेशमा- हेलो सर, मैं रेशमा बोल रही हूँ, आप कहाँ हैं?मैं- क्यों क्या बात है?रेशमा- सर कुछ पेपर हैं जिन पर आपके दस्तखत चाहिए. जब उन दोनों की बातें खत्म हुईं … तो मैं और प्रीति आपस में घर परिवार की बातों में लग गईं. उसको अपना अपमान भी महसूस हो रहा था लेकिन साथ ही साथ वो गर्म भी हो रहा था.

इन्द्रेश अंकल थोड़ा कसमसाते हुए- हाय बेटी आह छोड़ दे … ये क्या कर रही हो?कशिश- रूको न पापा, आपका लंड टाइट हो गया है. अब उसकी योनि योनिछिद्र से अंदर तक गुलाबी दिख रही थी।रेनू और मैं हांफने लगे।मगर दोनों की आंखों में एक संतुष्टि थी, जैसे आज वर्षों की प्यास बुझ गयी हो।मैंने समय देखा तो उसने कहा- अरे अभी तो बहुत समय है, अभी तो इसको एक और चढ़ाई करनी है. फिर मैंने 10-12 धक्के देते हुए आपा की चूत में अपनी सारी मनी गिरा दी.

फिर मैंने तीसरी बार फोन करने के लिए नहीं सोचा और अपने काम में लग गया.

हम दोनों ने नग्नावस्था में चाय नाश्ता किया और उसने एक हसरत भरी नजरों से मेरे मुरझाये हुए लिंग को देखा।चाय नाश्ता करने के बाद वो आकर मेरे पास लेट गयी और हम दोनों पुरानी बातें करने लगे. और पहली बार सरिता ने मुझे ऊपर से नीचे तक बड़ी गूढ़ नजरों से देखा और उनके चेहरे पर एक रहस्यमयी मुस्कान दौड़ गई.

बीएफ सेक्सी दिखाओ वीडियो में काम खत्म करके हमने दिन में जयपुर घूमा और रात का खाना खाकर होटल आ गए. सुरेश ने उसे धीरे से गाली दी- बहन की लौड़ी … मस्त हो रही है भैंस की तरह।फिर तो वो जैसे जानवर बन गया.

बीएफ सेक्सी दिखाओ वीडियो में उन्होंने मुझे तुरंत ही घोड़ी बना दिया और पीछे से मेरी गांड में लंड डालकर जोर जोर से हिलाने लगे. उसने पहले अपने दोनों अंडरआर्म देखे, उसके बाद अपनी चूत के आस पास हाथ लगाया तो उसको सुनहरे रोंयें जैसे लगे.

क्या तुम मुझे प्यार करोगे?मैंने कहा- भाभी आप जो चाहोगी, मैं आपके लिए करूंगा.

बीएफ पिक्चर हिंदी में बीएफ बीएफ बीएफ

भाभी की चूत की कहानी में पढ़ें कि भाई की बीवी को एक बार चोद लेने के बाद उसके जिस्म का नशा मेरे ऊपर चढ़ गया. देसी GF सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मेरी गर्लफ्रेंड के जन्मदिन पर मैंने उसे होटल के रूम में सरप्राइज पार्टी दी. कुछ देर की चूमाचाटी के बाद मैं खुद उठ खड़ी हुई और उसके बिठा कर उसकी गोद में बैठ गयी.

इसलिए मामाजी के घर पहली बार अनु दीदी को लेकर मैं दोपहर को पहुंच गया. अगस्त का महीना चल रहा था, एक दिन सोनी का मैसेज आया कि उसने जिस कंपनी में आखिरी बार इंटरव्यू दिया था, उसमें उसका सिलेक्शन हो गया. मैंने कहा- जब सरिया था तो पहले क्यों नहीं खोला?विपिन हंस कर बोला- बस मन नहीं था, आपको आधे अधूरे कपड़ों में देखने का मन था, पर देख तो बिना कपड़े के भी लिया.

उसके बैग को बाइक पर पीछे बांधकर हम दोनों बाइक पर सवार होकर बनारस के लिए निकल पड़े.

जो नये लोग ज्वाइन करते थे तो मेरा टीम लीडर मुझसे पूछता था तो मैं बता देता था किसमें क्या क्षमता है. दिखावे के लिए मैं उनको रुकने का कहने लगी लेकिन असल में मुझे बहुत मजा आ रहा था. वो बोली- हाय बाप रे … इतना बड़ा? तेरा तो बहुत बड़ा है अंकित।मैं बोला- नहीं वैशाली भाभी.

मुझे जवानी में कदम रखते ही चूत का ऐसा सुख मिलेगा, मैंने सोचा भी नहीं था. दिल्ली में जून जुलाई के महीने में कितनी गर्मी‌ होती है, ये तो शायद आपको बताने की जरूर ही नहीं. जब मेरी शादी हुई थी तो मुझे लगा मेरी बीवी पहले से ही चुदाई की शौकीन है.

उसकी योनि अभी भी कमसिन थी। शायद मेरे चचेरे भाई के लिंग ने उसकी योनि को वह प्यार नहीं दिया था जिसकी वो हकदार थी. मेरी गांड तो कुलबुलाने लगी कि इतना मस्त हथियार तो मेरी गांड में भी भोला डाल दे, मगर मैं कह नहीं पाया.

मगर प्रियंका ने सीधे उसके दूसरे निप्पल को होंठों में दबा लिया और उसे चूसते हुए काटने सी लगी. पीहू ने टॉप और जींस दोनों एक साथ निकाल दिए और पूरी नंगी ही मेरे साथ चिपक कर सोने लगी. वो लगातार मुझे चूमे जा रही थी और बोले जा रही थी- वाह जीजू, आपने तो मुझे आज स्वर्ग दिखा दिया है.

फिर उसको पूरा बिस्तर पर चित लेटाया और उसकी चुत देखते हुए उसके ऊपर लेट गया.

फिर मैंने भाभी को ये बात बताई तो उसने अपनी दोस्त पूजा को अपने घर बुलाया. हम दोनों साथ में नहाने लगे और फिर से किसिंग और सकिंग का दौर शुरू हो गया. थोड़ी देर बाद उसने गप्प से उस खीरे को अपनी चूत में घुसेड़ लिया और हमारी तरफ देखने लगी.

सामान्य दिनों में जब मैं और गुलजान अपने अपने ब्वॉयफ्रेंड को बुला कर अपनी चुदाई करवाती हैं, तो उन्हें चुल्ल होती है. साथ ही उन्होंने भी अब नीचे से अपने कूल्हों को‌ उचका उचका कर धक्के लगाने शुरू‌ कर दिए थे.

अपने हाथों से उसने मेरी पैंटी को उतार दिया और मुझे पूरी तरह से नंगी कर दिया. पर कविता ने जिद पकड़ ली कि मैं ही उसके लिए सारा इंतजाम करूं और कुछ दिन अपने घर पर उसके रहने का इंतजाम कर दूं. फिर मैंने दोबारा से उसी नम्बर पर कॉल किया तो वो पहुंच से बाहर बताने लगा.

दिल्ली के बीएफ एचडी

मैं- मैंने भी अभी जीवन के अनमोल 22 साल यू हीं भागदौड़ में खो दिए ताई जी, तो मैंने यह रास्ता चुना ताकि मैं भी अपने शरीर की कामाग्नि को शांत कर सकूं.

मैंने कभी ऐसा पहले किया नहीं था लेकिन आप मुझे इतना ज्यादा अच्छा लग रहा था कि मैंने सोचा कि यह जो भी कहेंगे, मैं करूंगा. लोवर में लंड के उभर आने से चाची जी को भी ये एहसास हो गया था कि लंड अकड़ गया है. फिर मैंने आंटी की गांड पर लंड को लगाया और उसकी गांड पर चिकने लंड के सुपाड़े को फिराने लगा.

वो हंसते हुए बोला- देख राकेश तेरी बीवी की चूत कैसे पानी छोड़ रही है. मैंने मन में सोचा कि यार ये तो बहुत बड़ी गलती हो गयी आज!! क्यों साले से पचास हजार रूपए उधार लिए?मगर मेरा अंदाजा गलत साबित हुआ क्योंकि सुरेश ने उसकी गांड की बजाय चूत में दोबारा से लंड घुसाया था. राजस्थानी घरलेकिन उसके अगले दिन हमने लॉज में जाकर अपनी पांचवी सालगिरह अपने तरीके से मनाई.

ख़ुशी ने एक भद्दी सी गाली निकाली- इस मादरचोद को भी अभी ही आवाज देनी थी. हम दोनों लोग गाड़ी के पास गए तो गाड़ी का एक टायर पंचर पड़ा था, स्टेपनी भी खराब थी.

मेरे ज़ोरदार झटकों से गुलजान मचल रही थी और उधर गुलजान हेलीमा की ज़ोर से चूत चाट रही थी. जब मैंने पूछा- आँटी, आपको चुदवाये कितने दिन हो गए हैं?तो आँटी उदास हो गई और कहने लगी- बड़े दिन हो गए हैं … 6 महीने से भी ज्यादा. जैसे ही लंड पिचकारी मारने लगा तो मैंने मौनी के होंठों पर होंठ लगा दिये और उसके होंठों का रस पीने लगा.

फिर मैंने उसके मुंह के सामने लंड कर दिया और वो पल की देर किये बिना ही लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी. उसे देखकर वो मुस्करा गयी और फिर उसने मेरी गर्दन पर चुम्बन करना शुरू कर दिया. उसके दर्द को देखकर मेरी आंखों में पानी आ गया- जानू इतना दर्द हो रहा था तो रात को क्यों नहीं बताया?रचना ने पहले मेरे आंसू पौंछे और बोली- चलो फिर से चुदाई शुरू करते हैं.

भाई मां से बोला- कभी ऐसा मजा किया है?मां बोली- नहीं, पहली बार कर रही हूँ.

तो मुझे पहली बार मेरे लैंडलार्ड ने कैसे चोदा?नमस्कार दोस्तो, मैं कोमल एक बार फिर से आपके सामने हाजिर हूं. कुछ लोग कहेंगे कि 35 या 30 के बाद औरत की चूत फ़ैल जाती है, तो मैं उनको बताना चाहूंगा कि जो मज़ा एक शादीशुदा और अधेड़ उम्र की औरत के साथ सेक्स करने से आता है, वह जवान लड़की के साथ चुदाई नहीं आता.

लड़कियों को मैं यह बताना चाहूंगा कि वो अपनी जिंदगी में एक बार गांड ज़रूर मरवाएं. भाभी के चूचे काफी नर्म, गोल और किनारों पर सख्त थे, जिसकी वजह से अगर वो ब्रा न पहनें … तब भी उनके स्तनों में उभार रहता था. लंड पूरा सिकुड़ा हुआ था लेकिन वो ऐसे अंदाज से लंड पर हाथ फिरा रही थी कि लग रहा था जैसे दो मिनट में ही लंड को फिर से खड़ा कर देगी.

शादी के बाद सोनी से दूसरे तीसरे दिन व्हाट्सएप पर ही बात होने लगी थी. मुझे उस समय कुछ नहीं पता था कि यह सब क्या होता है क्योंकि मैं बहुत शर्मीला टाइप का था और हमेशा घर पर ही रहता था. फिर उसका मोटा लौड़ा अपने मुँह में लेकर मैं लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.

बीएफ सेक्सी दिखाओ वीडियो में मैंने अपना लण्ड बाहर निकाला, नाइटी नीचे खिसकाई और सोनल के पास आ गया. पूरा गाना तो याद नहीं है, पर उसमें एक लाइन थी कि ‘लौड़ा लेकर नाच मेरा …’ मैं बिल्कुल वही कर रही थी और मेरे ऊपर अब चुदाई का मानो भूत सवार हो गया था.

जानवर वाला बीएफ कुत्ता वाला

मैंने कहा- तो पहले भी चुदाई करते रहे हो?वह बोला- साहब पहले धमका देते थे, अब नहीं।मैंने पूछा- अब क्यों नहीं?उसने मेरे इस प्रश्न का कोई उत्तर न दिया. मेरे दोस्त और मैंने मिल कर मेरी पत्नी को नंगी करके उसकी गांड मारी और चूत भी सैंडविच बना कर!दोस्तो, सेक्स कहानी में जय दत्ता का नमस्कार. आज मैं भतीजा बुआ सेक्स कहानी की उसी कड़ी से जुड़ी हुई कड़ी को आगे बढ़ाना चाहता हूँ.

मगर हमारे इस चुम्बन का बाहर खिड़की पर खड़ी शायरा पर शायद कुछ और ही असर हो रहा था. मेरी बेटी की चुत की कहानी के पहले भागमेरा दोस्त मेरी बेटी की चूत का प्यासामें अब तक आप पढ़े चुके थे कि मेरे ठरकी दोस्त सुरेश ने पैसे उधारी देने के बदले में मेरी बेटी की चूत मांग ली थी. सेक्सी अंग्रेजों की वीडियोकशिश दीदी इन्द्रेश अंकल का लंड अपने मुँह में लेकर ज़ोर ज़ोर से चूसने लगीं.

वो सिहरती रही और मैं नीचे को आता गया, उसकी गोरी गोरी टांगों को चाटने लगा.

अगले दिन पति ने मुझसे कहा कि अपनी सहेली और उसकी बहन से मेरी बात कराओ. फिर मैंने उनकी चूत के अन्दर अपनी जीभ चलानी शुरू कर दी जिससे उनके मुँह से आह आह जैसी मादक आवाज़ें आने लगीं.

अब मैं भाभी की चूचियों को धीरे धीरे अपने दोनों हाथों से दबा रहा था जिससे भाभी की चूची से और भी दूध रिसने लगा. मैंने उस पट्टे को कसकर पक़ड़ लिया और पास में पड़ा कौड़ा उठाकर धीरे से उसके अंडकोषों पर मार दिया. विक्रम संजू के पीछे आ गया और संजू जो कि घुटने के बल बैठकर मेरा लंड चूसे जा रही थी, उसके पीछे से उसने चूत में अपना विशालकाय लंड घुसेड़ दिया.

जिस पर मैंने भी अपना रंडीपना खुल कर दिखाना शुरू कर दिया और उन तीनों से मुझे खुल कर चोदने का कह दिया.

सुरेश का लंड अब सिर्फ साढ़े पांच इंच लम्बा रह गया था और उसके लंड का टोपा आधा खाल से ढका हुआ रह गया था. तभी मैंने कहा- एक ही प्लेट में?वो बोली- मेरे साथ खाना खाने को नहीं चलेगा क्या … चूत चाट ली तब तुझे कुछ नहीं हुआ?तभी मैं शांत हो गया, तो बोली- क्या हुआ प्रकाश एकदम क्यों शांत हो गए. तो दोस्तो, मेरा इंटरव्यू हुआ और एक हफ्ते के बाद मुझे नौकरी जॉइन करनी थी। मैं घर से अकेली ही मुंबई आ गई.

देसी राई दिखाएंमैं उसको उसकी बात का जवाब देने लगा- इस प्यार वाली बात में ऐसा नशा होता है … ऐसा मजा आता है कि दुनिया की सारी खुशियां एक तरफ … और प्यार एक तरफ. कोई जवाब नहीं आया।मैं सीधा उसके रूम पहुंचा तो वो वहां भी नहीं थी।मैंने उसे फ़ोन लगाया वो बोली- राज मैं बाहर आई हुई हूं, आज तुम घर मत आना.

नेकेड बीएफ नेकेड बीएफ

मैंने अब आराम से खड़े होकर उसकी कमर पकड़ ली और अपना लंड के झटके पर झटके मारते हुए उसकी चुत को मजे से चोदने लगा. मैंने महसूस किया कि दिव्या की सांसों में हल्की हल्की गर्मी थी।अब दिव्या की तपती जवानी पर बस अंतिम वार करना बाकी था।मेरे प्रिय पाठको, आपको मेरी यह कामुक कहानी कैसी लग रही है इस बारे में अपने सुझाव और विचार मुझ तक पहुंचाते रहें. चपत की आवाज सुनते और देखते ही मैं भी अनामिका की मस्त शेप वाली गांड में दोनों हाथों से चपत लगाने लगा.

सरिता आगे आगे ऊपर कमरे में जाने के लिए सीढ़ियां चढ़ने लगी, मैं उनके पीछे चलने लगा. कविता के अलावा मेरी बाकी की सहेलियों से निरंतर बातें होती थीं, मगर कविता कुछ ज्यादा ही उत्सुकता दिखाती थी. मैंने एक बार उसकी दोनों चूचियों को मसला और एक बूब को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा.

मैं हॉल में चला गया और भाभी अपने तौलिया को लपेटने की कोशिश करते हुए अपने उछलते चूचों के साथ मेरा पीछा कर रही थी. मैंने उनकी ब्रा के हुक खोल दिए और उनकी एक चूची को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा. उसकी कसी हुई चूत में लंड इतना टाइट जा रहा था कि मुझे लगा कही लंड छिल न जाए.

मेरे इस तरह से दूध पीने से भाभी की चूत भी गर्म हो गई थी और वो अपनी दोनों टांगों को आपस में रह रह कर रगड़ रही थीं. मैं उसके कान के पास गया और पूछा- क्या तुम इसे एन्जॉय कर रही हो?उसने आंखें खोलीं और मेरे होंठों पर एक जोरदार किस दे दी.

मतलब गांड मराने का शौकीन हूँ … साधारण भाषा में मुझे आप गांडू कह लीजिए.

आप टेंशन ना लो।और भाभी जोर जोर से मेरे लंड को रगड़ने लगी।मैं भी भाभी को किस करते करते हुए अपने दोनों हाथ भाभी के दोनों चूचों पर ले आया और उनको रगड़ने लगा. सेक्सी वीडियो चाहिए फुल एचडी मेंमैंने उनकी आंखों में आंखें डालकर कहा- जब तक आप दोनों बात करो, मैं ऊपर टॉयलेट से होकर आता हूँ. प्रेगनेंसी में ब्राअपनी ही उंगलियों को गांड में डालकर उनसे गांड मरवाने का आनन्द लेती थी. उनका रंग एकदम गोरा है, शरीर एकदम पतला सा और चूचियां भी छोटी छोटी हैं.

दूसरी बार की चुदाई शुरू हुई तो मनोज ने बोला- अब तुम अपनी चुत को लंड पर चढ़ाओ.

संजू बोली- क्या यार, तुमने मुझे रात भर सोने नहीं दिया है … और मेरी एक एक नस को तोड़ कर रख दिया है. भैया ने मुझसे कहा- लॉलीपॉप को तुम्हें मुँह में लेकर आगे पीछे करना है और करते रहना है, जब तक इसमें से दूध नहीं निकल जाता. मैं अपने भाई शिवम से चुदती थी और मेरे साथ मेरी चचेरी बहन का लड़का विवेक और लड़की लूसी, जो जवान थे, वो भी मेरे साथ चुदाई का मजा लेते थे.

कोई 15 मिनट बात होने के बाद शामली उससे बोली- आज इधर बहुत बारिश हो रही है. अभी परसों ही मैंने बैगन घुसा कर अपनी चुत ठंडी कर रही थी, तब से पता नहीं क्या हो रहा है कि चुत के अन्दर खुजली सी बनी रहती है. मुझे भी बहुत आनंद आने लगा, मैं भी उनका सर दबा कर अपने बूब्स चूसवाने लगी।लेकिन फिर अचानक घर की डोर बेल बजी.

आंटी की बीएफ चुदाई

हम्म … याद है तुमने वादा किया था कि शादी के बाद सुहागरात के दिन तुम जो चाहो, जितना चाहो कर लेना. वो इस दौरान सनसनी से पागल हो गई थी तथा उसने अपनी एक टांग हवा में उठाने की कोशिश भी की थी. मैं अब अपनी आगे की पढ़ाई का सोच रहा था और फिलहाल घर में ही रह रहा था.

मेरा ईमेल आईडी है[emailprotected]देसी लड़की चुदाई कहानी अगले भाग में जारी रहेगी.

कुतिया अपनी चूत में तू कितने लंड घुसवा चुकी है … मगर कुछ बोल नहीं पाया.

देसी आंटी सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं अपनी चाची की फुफेरी बहन के घर में पेयिंग गेस्ट बन गया. मैं ये सब उनके रूम के दरवाजे के बाहर खड़ा हुआ देख रहा था और अपने लंड को सहला रहा था. सेक्सी वीडियो हॉररखड़े होते ही सरिता ने मेरे उभार को देखा और बोली- ये क्या पढ़ रहे थे?मैं हकला गया और बोला- वो … मैं … कुछ नहीं … बॉडी के पार्ट्स देख रहा था … आज पढ़ाये थे … सर ने.

चाहता तो मैं आम लड़कों की तरह सीधे लौड़ा उसकी चूत में पेल सकता था, पर मैं इस खेल का कोई नौसिखिया नहीं … बल्कि एक शातिर खिलाड़ी था. ’स्नेहा- विनीता दी वाली स्टोरी सुनाओ ना दीदू?नेहा- फिर कभी, क्योंकि वो कहानी एक घंटे या एक दिन में खत्म होने वाली नहीं है. फिर आंटी की चूत पर लंड का सुपाड़ा सेट कर दिया और एक झटके में उसकी चूत में लंड को घुसा दिया.

इधर सोनी नौकरी के लिए भाग रही थी और उधर सोनी के पापा लड़का खोजने में लगे थे. साड़ी ऊपर करते ही मैंने उसकी पैंटी देखी, जो ब्राउन कलर की थी और गीली हो चुकी थी.

मुझे कुछ समझ नहीं आया लेकिन अगले ही पल उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मेरे होंठों से होंठों को मिलाकर मुझे अपनी आगोश में ले लिया.

ललिता भाभी की सिसकारियां बढ़ने लगीं और चूत लंड पर अपना कसाव बढ़ाने लगी. लंड घुसने के साथ ही उनकी तेज चीख निकल गई और आंखों से आंसू निकल पड़े. सरिता ने मुझसे पूछा- तुम खाना कहां खाओगे?तो मैंने कहा- मैं अपने खाने का अरेंजमेंट होटल से कर लूंगा या जो टिफिन सप्लाई करते हैं उनसे टिफिन मंगवा लिया करूंगा.

साउथ अफ्रीका सेक्स वीडियो एचडी बहुत लफड़ा होता।उनकी ओर देखकर मैं मुस्कराया।शेखर- तुमने तो बताया नहीं मगर भूरा ने बताया. मैं- पर … बहुत टेस्टी हैं, आज कहीं जाकर मुझे घर का खाना मिला है वरना रोज रोज होटल का खाना खाकर पेट खाली ही बना रहता था.

उन्होंने मेरी कमर को जोर से थामा और मेरी गांड में कस कस कर शॉट मारने लगे. अब जब भी हमें मौक़ा मिलता है, तो हम दोनों किस कर लेते हैं, कभी कभी मैं उनके चूचे भी दबा देता हूँ. इतने में ही ट्रेन की सीटी ने मेरी नींद तोड़ी और मैंने खुद को वहीं स्टेशन पर भूरा के साथ खड़ा पाया.

हरियाणा की बीएफ पिक्चर

इसका परिणाम ये निकला कि कुछ ही देर में हम‌ दोनों अपने अपने चरमोत्कर्ष पर पहुंच गए. वो बोली- हां व्योम … मेरा सब तुम्हारा है जान … जैसे चाहो वैसे कर लो. उसके पेट की नाभि में अपनी जीभ घुसा घुसाकर उसे गर्म करने लगा।अब मैंने उसकी चूत पर सलवार के ऊपर से ही हाथ रख दिया.

वाईन पीने के बाद ऐसा लग रहा था, जैसे हम लोग सर्वशक्तिमान हो गए हैं. क्या कर रहा है मारेगा क्या? आराम से कर ना … आह कितने दिन बाद तेरा ले रही हूँ.

मैं उसकी टांग उठाए हुए अब थक सा गया था, तो मैंने उससे कहा- तुम बाल्टी पकड़ कर डॉगी पोज़ में आ जाओ.

उसने मेरे शॉर्ट तौलिये को मेरी गांड के ऊपर कर दिया जिससे मेरी गांड पूरी तरह नंगी हो गई और मुझसे चिपक कर निकर के ऊपर से अपना लण्ड मेरी गांड में दबा दिया. फिर मैंने उसे कंधों से दबाते हुए नीचे बैठने का इशारा किया तो वो समझ गयी. मेरी पीठ पर हाथ फेरते फेरते उनका हाथ नीचे मेरे चूतड़ों तक चला जाता था.

जल्दी ही एक और सेक्स कहानी के साथ आप सबसे रूबरू होऊंगा, तब तक आप सब अपना और अपने परिवार का ख्याल रखें और कोरोना नियमों का पालन करें. मैं उसकी जांघ पर अपनी जीभ रगड़ने लगा और ऐसा करते हुए उसकी साड़ी कमर तक ऊपर कर दी. वो- मुझसे डर, मैंने क्या किया? अच्छा अच्छा … उस दिन के लिए? उसके‌ लिए सॉरी.

भाभी ने भी मुझे उनकी चूची को घूरते हुए देख लिया और बोलीं- क्या देख रहे हो देवर जी?मैंने कहा- क्या भाभी इतना ही देखने में शर्मा गईं, अब तो मत शर्माओ यार … मैं तो आपका बहुत कुछ देख चुका हूँ.

बीएफ सेक्सी दिखाओ वीडियो में: मैं फिर से बात को टालने की कोशिश की और बोला- अरे मैडम, आपको जरूर कुछ गलतफहमी हो रही है. कभी कभी मैं धीरे से हल्का सा उसके कान को भी काट लेता था, जिससे उसकी सिसकारियां और भी बढ़ने लगी थीं.

उसके अंकल का काला कोबरा जैसा मोटा लंड उसकी चूत में जगह बनाने में लगा हुआ था. मैंने मीना की गांड चुदाई भी की।फिर एक दिन मेरे दोस्त मोहित को मेरे और मीना के बारे में पता चल गया तो उसने मुझसे बातचीत ही बंद कर दी. लंड को क्या चाहिए बस छेद … मैंने गीला सा लंड उसकी चूत पर पेल दिया और झटके देने लगा.

उसके बाद उसने नेहा की तरफ देखते हुए कहा- भाभी, आप इसके साथ जाओ जो चाहिए सब मिलेगा.

मुझे लगा कि पहली बार झड़ने की वजह से वो समझ नहीं पा रही थी कि उसकी चुत को लंड की जरूरत है. दरअसल कोटा में नई जवानी लिए लड़के लड़कियाँ घर से दूर स्वच्छन्द वातावरण में रहते हैं और पढ़ाई सीखें या न सीखें, चुदाई जरूर सीख जाते हैं. उन्होंने मेरा हाथ पकड़कर अपने लंड पर रख दिया तो मैंने भी उनका लंड सहलाना शुरू कर दिया.