बुर में लौड़ा बीएफ

छवि स्रोत,वीडियो में ब्लू पिक्चर हिंदी में

तस्वीर का शीर्षक ,

महाराजा दरवाजा फोटो: बुर में लौड़ा बीएफ, मैंने कहा- हां मेरी जान, अब मैं तुम्हारी चूत को कभी प्यासी नहीं रहने दूंगा.

इंडियन एचडी बीएफ वीडियो

वो मस्ती से बोले जा रही थी- आह फक मी माय डार्लिंग … अहह … अहहह और जोर से … ओहहह!मुझे भी जोश आने लगा. मुसलमानी की सेक्सी बीएफमौसी ने हमारी फ़ैमिली को भी बुलाया था, पर मैं अकेला ही मौसी के घर चला गया.

ओह डार्लिंग आओ … जल्दी आओ, तुम्हारे लंड में खुजली हो रही होगी … मैं भी तैयार हूँ. बीएफ ब्लू इंडियनकोई 15-20 मिनट चुम्मा चाटी और स्मूचिंग करने के बाद मैंने उनको लंड मुँह में लेने को बोला क्योंकि मैं उनको किसी भी सुख से वंचित नहीं रखना चाहता था.

उसका नाम पिंकी है, वो देखने में इतनी सुंदर और सेक्सी है कि कोई भी उसे एक बार देख ले तो मुठ मारे बिना नहीं रह सकता.बुर में लौड़ा बीएफ: आज मैं आपको बताऊंगा कि मैंने कैसे अपनी प्यारी बीवी की गांड को चोदा.

वो एकदम से चुदासी हो गई थी तो वो मेरा सर पकड़ कर अपनी चूत पर दबाने लगी और कमर हिला कर मेरा साथ देने लगी.भाभी बोलीं- क्यों … तुमको कैसी लड़की चाहिए?मैंने कहा- बस वो आपकी जैसी सुंदर हो तो ही मुझे पसंद आएगी.

लोकल वीडियो बीएफ - बुर में लौड़ा बीएफ

अब मेरे सामने तीनों लौंडियां बिना कुरता के बैठी थीं, जिसमें राधिका ने लाल रंग की ब्रा, दिशा ने प्रिन्टेड ब्लू कलर की ब्रा और सोनल ने एक जालीदार ब्लैक कलर की ब्रा पहनी हुई थी.तुम्हारी दीदी की चूत से तो बहुत ज्यादा ही सुंदर है, कम से कम एक बार तो अपनी साली की चूत जरूर चोद दूंगा चाहे कुछ भी हो जाए.

ऐसा कहते हुए एक जोर का झटका मेरी गांड में आशीष ने पूरी ताकत से मारा, तो लगभग उसका आधा लंड मेरी गांड के अन्दर घुस गया. बुर में लौड़ा बीएफ उन दिनों मैं छुट्टी में घर आया था तो मैं अपने घर की छत पर धूप में बैठा था.

कुछ देर बाद डाक्टर ने लंड सहलाना बंद कर दिया और टिश्यू पेपर से पूरे लंड और अंडकोश को साफ करने लगी थी.

बुर में लौड़ा बीएफ?

कमाल की बात ये थी कि इस रगड़न से मुझे उसकी मुलायम गांड का अहसास कुछ ज्यादा ही हो गया था मगर बंदी ने कुछ नहीं कहा. चाची के घर में केवल तीन ही कमरे थे, जिसमें एक में छोटे चाचा चाची और उनका बेटा यानि मेरा छोटा भाई सोता था और दूसरे में ये दो बहनें सोती थीं. ‘ओह …’ मैं कहकर मैं चुप हो गया, जबकि नम्रता लगातार अपनी कमर को दबाये जा रही थी.

उसने मुझे कहा कि मैं इसके बारे में उसके घरवालों को कुछ नहीं बताऊं और वो जब फ़ोन करेगी, तो मैं उसको स्कूटी से लेने के लिए आ जाऊं. फिर उसने मुझे सीधा खड़ा कर दिया और थोड़ा नीचे झुक कर अपने सीने को मेरे दूध तक लाया और अपने दोनों हाथ मेरी पीठ पे ले जा कर मुझे अपनी ओर खींचा. उसी समय इंग्लिश मीडियम वाले सेक्शन में एक लड़की पढ़ती थी, जिसका नाम अनु था.

उधर नीचे मेरी चूत गीली हो चुकी थी और अंकल जी का गर्म, कठोर लण्ड मेरी जांघों से रगड़ रहा था जिससे एक अलग ही आग मेरे भीतर सुलग उठी थी. वो अब और घबरा गई और अब उसे अहसास हुआ कि मैं उसके सामने नंगा खड़ा था और उसके हाथ में मेरा लौड़ा था. वो भी मेरी चोट सहन करने के लिए राजी दिख रही थी, तभी तो उसने इस बार मेरा कोई विरोध नहीं किया था.

साथ ही साथ मैं उसकी चूत की फलकों को भी अपने होंठों से चूम लेता तो कभी दांतों से काट लेता था. थोड़ी देर का विराम देने के बाद एलेक्स ने अपना लंड फिर से मेरे मुंह में दे दिया.

अब मैंने उसके मुँह के पास लण्ड लगा दिया और बोला- अब इसे चूसो और ज्यादा मज़ा आएगा.

सरिता कामुक आवाज में बोली- प्लीज हर्षद अब कुछ करो ना!मेरा लंड भी जोश में आकर सरिता की चूत से टकरा रहा था.

सुबह 7:00 बजे नींद टूटी तो मेरी महबूबा के आने की खुशी में मैं अलग ही तरह से झूम रहा था. थोड़ी देर ऊपर हाथ फेरने के बाद मैं अपना हाथ उसकी टाँगों के बीच ले गया और उसकी फुद्दी को महसूस किया, जो एकदम रूई जैसी मुलायम थी. फिर मैं अपनी जीभ को कल्पना की चूत के दाने के पास ले गया, जो नीचे की तरफ था.

मां और बापू खेत गए हैं और भाभी नहाने गयी हैं, थोड़ी देर तो मजे लेने दो ना. भाभी ने कमरे में जाते ही अपनी साड़ी उतार कर एक ओर फैंक दी और बाथरूम में घुस गईं. जब उन्होंने पहली बार मेरा लंड देखा था, तो मुझे पटा कर चुदाई कराने लगी थीं.

फिर उसने मेरा अंडरवियर उतार दिया और मेरा 6 इंच का लंड तनकर बाहर आ गया.

”अंकल जी ने मेरी बात अनसुनी करके अपना मुंह मेरी खुली चूत में घुसा दिया और मेरे दोनों बूब्स कसकर पकड़ लिए और चूत की गहराई में चाटने लगे. मुझे बहुत डर लगा रहा था कि अब क्या होगा? मेरे मन में बहुत ही अजीब अजीब ख्याल आ रहे थे कि कहीं वो अपने पापा को ये सब ना बता दे … या फिर किसी से मेरी कुटाई पिटाई न करवा दे. वह जल बिन मछली के जैसे तड़पने लगी और मेरा सर पकड़ कर अपने मम्मों पर दबाने लगी.

उसने मेरे सिर को टांगों से टाइट जकड़ लिया और जोर-जोर से सिसकारियां लेने लगी। उसके मुंह से बस आआ उम्म्ह … अहह … हय … याह … आहह ओह मुंऊ … उम्मईं आआहह … ही निकल रहा था।फिर मैंने उसे मेरा लंड चूसने को कहा. और मुझसे कहा- मैंने तुम्हारी बहुत तारीफ़ की है रश्मि से! इसलिए तुम मेरी बात को खराब न होने देना. मैंने उसकी साड़ी का पल्लू उसके कंधे से नीचे सरका दिया और उसे पकड़ कर उसकी साड़ी अलग करने लगा.

पर तब उसने कहा- आपकी कॉफी ड्यू रही मैं फिर कभी पीऊंगा, अभी मैं जल्दी में हूँ.

मैंने भी उसे बोला- तुम सच बताओ कि तुम्हारा दिल कर रहा है सेक्स करने को या नहीं?वो बोली- मेरा दिल नहीं कर रहा अभी … लेकिन अगर तुम चाहो तो तुम्हारा हर तरह से साथ दूंगी. मेरा मुंह मेरी बांहों में छिपा था पर इस तरह कि मैं तिरछी नज़र से अंकल जी को देख सकूं.

बुर में लौड़ा बीएफ और फिर कुछ देर के बाद मैंने उसकी बगलों को चाटा, वह पागल हो गयी और मुझे कस कर पकड़ लिया. वह मुझसे बुरी तरह से नाराज हो गई थी। अब मुझे रीनल से सच्चा प्यार होने लगा था। लेकिन उसने कभी मेरी एक बात नहीं मानी.

बुर में लौड़ा बीएफ छोटे छोटे सन्तरे के आकार की चूचियां और उसकी निप्पलों को नज़र ना लगे, बिल्कुल मटर के दाने से भी छोटे. कल तो रात भर छोड़ नहीं रहे थे, अब मैं यहाँ रुक भी नहीं सकती?मैंने उससे कहा- मुझे कोई एतराज़ नहीं है, परन्तु तुम्हारे रहते, तुम्हारी बहन के साथ मैं कुछ कर नहीं पाऊंगा.

अब वह जो मेरे गांव वाला पटेल था, वो धीरे-धीरे आवाज में बोला- साली तेरे पीछे मैं दो तीन महीने से पड़ा हूं, तू और तेरी सहेली नीलू तुम दोनों उस नीच जात से फंसी हो.

हिंदी में सेक्सी वीडियो गाने

रोहन ने मस्का लगाते हुए कहा- तुम एक बार करके देख लो, अगर अच्छा नहीं लगा तो हम फिर कभी ऐसे नहीं करेंगे. चीटिंग वाइफ Xxx कहानी में पढ़ें कि कैसे मसाज करने वाली लड़की ने एक विदेशी महिला को मालिश के साथ लेस्बियन सेक्स का मजा देकर गर्म करके अपने पति से चुदवाया. उसी समय इंग्लिश मीडियम वाले सेक्शन में एक लड़की पढ़ती थी, जिसका नाम अनु था.

फिर जब भी मैं छुट्टी पर आता, तो भाभी की देसी चुदाई करने को मिल ही जाती थी. मेरी छोटी सी उम्र में पहली बार मैं आज अपने जिस्म में मेरे सामने से किसी लड़के ने लंड टच कराया, बहुत ही अजीब और गन्दा लग रहा था मुझे. मैं- जीजू, मेरी हालत खराब हो रही है, अब मुझे छोड़ दो प्लीज!लेकिन जीजू कहां मानने वाले थे, उनको तो आज एक सुनहरा मौका मिल गया था, जीजू ने अपनी जीभ मेरी चूत के छेद में डाल दी और अपनी जीभ से ही मेरी चूत को चोदने लगे.

हैलो फ्रेंड्स, मैं अंशित एक बार फिर से आपको अपनी बहन की चुत चुदाई की कहानी का अगला भाग सुनाने के लिए हाजिर हूँ.

जबकि अमर की बीवी को एक लड़की हो चुकी थी और जल्दी ही एक और बेबी होने को था. क्यों अपने आपको तकलीफ़ दे रही हो?मेरा लंड मसलते हुए नफीसा कह रही थी कि जुल्फी मैं यह नहीं कर सकती. किताबें मेरी जिंदगी का हिस्सा बन गई थीं, घर पढाई और फिर घर, मैंने सोच लिया कि मैं एक बड़ी अफसर बनूंगी एक दिन, तो इसमें किसी और का क्या कसूर?मैं- जी … हम लड़के भी अच्छे होते हैं.

मैंने उसकी चूत के अन्दर अपनी एक उंगली डाली और मैंने उसकी ब्रा को भी उतार फैंका. आशीष बोला- तेरी गांड कयामत है बंध्या, ये सिर्फ चुदाई के लिए बनी है. मैंने उन्हें बताया कि अब तक मैं चार लंड अपनी गांड में लिए हैं और आज आप पांचवें मर्द होंगे, जो मेरी गांड मारेंगे.

लंड निकलते ही उसकी चूत से खून के साथ उसका और मेरा माल बाहर निकलने लगा. भाईदूज वाले दिन लंड के सुपारे पर तिलक करवा कर वो मेरी चूत पेलता था और कहा करता था- देख ले साला यह लंड पूरा बहनचोद है.

फिर मैं अपना लंड पूजा की गांड में जोर जोर से अन्दर बाहर करके गांड चोदने लगा. ये लो सोनम … मेरी जान … मेरी रानी … ये ले मेरा लण्ड!”आह अंकल राजा … हां … ऐसे ही … फाड़ डालो इसे आज बहुत सताया है इसने मुझे … बस कुचल कर रख दो इस हरामन को!”तो ये ले गुड़िया रानी …” अंकल जी बोले और मेरे दोनों पैर उन्होंने अपने कन्धों पर रख लिए और दनादन चोदने लगे मुझे. मैंने कहा- मेरा पहली बार है, इसलिए मैं तुमसे बिल्कुल अकेले में मिलना चाह रहा हूँ.

उसे भी मजा आ रहा था पर थोड़ी देर में भाभी की बाहर आने की आहट हुई, तो हम दोनों अलग हो गए.

मेरी नजरें पढ़ कर राधिका ने मुझसे कहा- लगता है राज, तुमको अपनी बहन की चूचियां ज्यादा पसंद आ गई हैं. एक बार जब सारा मेरे लण्ड को सहला रही थी तो डॉक्टर जूली से उसकी नज़रें मिलीं और दोनों मुस्कुरा दीं. घर पर नीचे मैं और ऊपर वाली मंजिल पे भाभी जी ही थी जो कि इस समय अपने ऑफिस गयी हुई थी.

मैं बोला- साली रंडी तू कोई कुंवारी तो है नहीं कुतिया … फिर क्यों चिल्ला रही है. मैंने भी उससे बात करने के लिए घरवालों से छुपकर एक फोन ले लिया और हम देर रात तक मैसेज में चैट करते रहते.

करीब 10 मिनट के बाद उसने मुझे नीचे उतारा और फिर से पलंग में फेंक दिया और मुझे पेट के बल लिटा दिया. पता चला कि भाभी के पति के पेट में दर्द हो रहा है जो क्लीनिक पर आने में असमर्थ था. भाभी का सर मेरे कंधे पर था और मैं धीरे धीरे उनके पूरे पेट औेर कमर पर हाथों से रंग लगा रहा था.

इंग्लिश ब्लू पिक्चर चोदा चोदी

थोड़ी देर किस के बाद उनकी कामेच्छा दोबारा से जागने लगी और अब वो सम्भोग चाहती थीं.

मैंने जैसे ही लंड का दवाब उसकी चुत पर डाला, अमीषी की आंखें चौड़ी होती गईं. उनकी सलवार से मुझे और भी ज्यादा असुविधाजनक लग रहा था क्योंकि मेरा लंड सीधा मम्मा की गांड को टच कर रहा था और मुझसे कंट्रोल छूट रहा था. तीन-चार बार भी घंटी बजाने के बाद किसी ने दरवाजा नहीं खोला तो मैं मायूस सा हो गया.

चूंकि उसने मुझे उसके चूचों को ताड़ते हुए देख लिया था मगर फिर भी कुछ गुस्सा या नाराजगी जाहिर नहीं कि जिसके कारण मेरी हिम्मत उस दिन के बाद कुछ और ज्यादा बढ़ गई. इस गोपनीयता के चलते सोसायटी में मेरा नाम खराब होने का चांस बहुत कम था. बीएफ गांवभाभी ने मेरे लंड को गले से बाहर निकाल दिया और लम्बी लम्बी सांसें लेने लगीं.

जो चाची मेरे भाई को अपना बेटा मानती थी वह मेरे भाई के लिंग को हाथ में लेकर सहला रही थी. एक बार मैंने उसे गर्म करके चोद दिया तो उसे चुदाई में मजा आया और वो लंड मांगने लगी.

चूतड़ों को नचा-नचा कर आगे-पीछे की तरफ धकेलते हुए लंड को अपनी बुर में लेते हुए सिसिया रही थी शारदा चाची. उनके शरीर पर एक भी कपड़ा नहीं था, जिस वजह से उनकी चूतड़, चुचियां सब कुछ साफ़ दिख रहा था. मैंने मज़े से चूस कर कुछ दस मिनट में ही उनके लंड का पानी निकल दिया.

वे अचकचा गए- नहीं नहीं …पर मैंने उनके अंडरवियर में हाथ डाल ही दिया और लंड को बाहर निकाल लिया. मीरा को आराम से उठते देख रितेश समझ गया कि मीरा ने सिर्फ़ कमर में चोट लगने का नाटक किया था. हम जैसे ही उसके घर के अन्दर गए, तो उसने मुझे पीछे से कस के पकड़ लिया.

फिर एक दिन मैं आरती से बोली- यार इन सब को पढ़ने और देखने से क्या होता है, असली लंड भी तो मिलना चाहिए ना.

वैसे फ़लक काफी ज्यादा अमीर थी, उसने मुझे अपने बारे में बताया था, पर वो अपने पति से खुश नहीं थी. ”मेरा जवाब सुनकर वह बहुत खुश हुए, कल की तरह उन्होंने मुझे एक बड़ी सी कैडबरी दी- नीतू एक बात पूछूँ, तुम्हें बुरा तो नहीं लगेगा?अंकल की बातों से ही मुझे लगा कि कुछ नॉटी सवाल पूछेंगे.

वो अकड़ने लगी थी तो मुझे समझ आ गया था कि जल्दी ही उसका पानी निकल जाएगा. आप सभी से निवेदन है सेक्स कहानी को पूरा जरूर पढ़िएगा और अपने विचार दीजिएगा. वह एकदम से पीछे घूम गई और मुझे अपनी बांहों में लेकर मेरे होंठों को चूसने लगी.

जब मैं जवान हुआ तो सेक्स की जानकारी लगी कि नर मादा के बीच संसर्ग के उपरान्त ही बच्चे पैदा होते हैं. अगले भाग में डॉक्टर रेखा की चुत किस तरह से चोदने मिली, उसको लिखूंगा. फिर हम दोनों अपने कपड़े ठीक करके वहां से निकल आए और अपने-अपने घर आ गए.

बुर में लौड़ा बीएफ आह क्या बताऊं यार … इतने मुलायम स्पर्श था कि दूध लगते ही मुझे एक मस्त मजा जैसा लगा. मैं उसके कंधे और बगल पे चाटने लगा तो उसका शरीर एकदम बेकाबू हो गया और वो पागलों की तरह मुझे नोचने लगी.

ब्लू फिल्म इंग्लिश सेक्सी

इसी तरह पूरा महीना निकल गया, मैं उसकी चूत पर अपना लंड रगड़ कर ही पानी निकाल पा रहा था या कभी उसके मुँह में लंड डालकर पानी छुड़ा देता था. फिर दो तीन दिन ऐसे ही भाभी किसी न किसी बहाने से मेरी तरफ देख कर मुस्करा देतीं. सारा बोली- तुम अब जिसको मर्जी चोदो, जिसके साथ साथ मर्जी सुहागरात मनाओ मुझे कोई फ़र्क़ नहीं, लेकिन हर बार तुम्हें अपना पानी मुझमें ही छोड़ना पड़ेगा क्योंकि मुझे हर हाल में जल्दी से जल्दी तुम से बच्चा चाहिए.

साला चाची के खानदान की क्या लड़कियां, क्या औरतें … सब एक से बढ़कर एक!मुझे लगा कि चाची ने हमें देख लिया था. प्रिया- आआहह … और अन्दर ठोकर मारिए … आंह मुझे प्रेग्नेंट कर दीजिए भैया … आप आज मेरी चूत भर दीजिए … मैं रोज चुदूँगी आपसे भैया. सेक्सी बीएफ इंडियनकह कर मैं एक पल रुक गया उसकी मनोदशा समझने के लिए, सलोनी के काले गाल पर भी शर्म की लाली नज़र आई, आंखों में एक अपनापन दिखा, लोहा गरम था, मैंने उसको अपनी तरफ खींचा तो वो कटी पतंग की तरह मेरी तरफ खिंची चली आई, मेरे पहलू में बैठ गई.

अब मेरा अगला स्टेप था इन अंकल जी को सेड्यूस करने का मतलब उन्हें लुभाने का ललचाने का और उन्हें मुझ पर आशिक करवाने का था.

प्लीज आप भी मुझे समाज की तरह गलत मत समझना या गलत नजरों से मत देखना. उसने मेरे बाल पकड़कर गर्दन के पास कंधों में हाथ लगाकर अपनी और दबा दिया और जोर से डाला, तो आशीष का लौड़ा पूरा मेरी चुत में घुस गया.

वे बोलीं- बस उम्र में ही छोटे हो, इस काम में तो बड़ों से भी आगे हो. 38 वर्ष का अजय और उसकी बीवी जिसका नाम है मीना, वो 35 वर्ष की है!अजय ने मेरी कहानी पढ़ कर मुझे मेल किया और मुझसे मिलने की इच्छा जताई, मैंने उस से मिलने का कारण जानना चाहा तो उसने बताया कि वो भी अपनी वाइफ को मेरे साथ संभोग करते हुए देखना चाहता है. एक दिन जब कॉलेज खत्म हुआ, मैं उसको छोड़ने उनके रूम की तरफ जाने लगा, मैंने उससे कहा- आपके लिये मैंने कुछ किया है.

मैं और मेरा भाई, हम दोनों के अलावा उस दिन हमारे घर पर कोई भी नहीं था.

नितिन को शरीर पर बाल बिल्कुल अच्छे नहीं लगते थे, इसलिए मैं अपनी चुत और बग़लों को साफ रखती थी. मैं फिर से जोर जोर से चिल्लाने लगी और उसने पूरी ताकत लगा के चुदाई चालू कर दी. मैंने अपनी माँ को बताया कि सुषी का उसकी माँ के साथ झगड़ा हो गया है.

लड़की की चुदाई वीडियो बीएफबेड पर बैठ कर हम दोनों ऐसे बात करने में लगे थे जैसे हम दोनों बहुत अच्छे दोस्त हों और बहुत सालों से एक दूसरे को जानते हों. वो सेक्सी नज़ारा देखते देखते मैं इतना खो गया था कि मुझे पता ही नहीं लगा कि पम्मी आंटी मुझे कब से आवाज़ लगा रही हैं.

सेक्स image

पर उसके मन में मेरा खौफ़ भी था और इस वजह से वो एक आज्ञाकारी दास की भांति संभोग कर रहा था. मैंने अपने पैरों को कैंची की तरह बनाकर उसके कमर से लिपटा दिया और आशीष से लिपट गई. रास्ते में बाइक लेकर घर जाते हुए सोचने लगा कि क्या यही प्यार होता है?बस मैं सोचता ही रहा और सोचते-सोचते मेरा घर आ गया.

उसने मेरी तरफ सवालिया नजरों से ऐसे देखा मानो वो जानना चाह रही हो कि वो डायरेक्टर उसकी मुट्ठी में कैसे आ सकता था. प्रिया- हां भैया … दिखाओ मत, पूरा डाल दीजिए इसे … और खूब प्यार रगड़ दीजिए मुझे!मैंने प्रिया की दोनों टांगें खोलीं और उसकी चूत की फांकों में लंड सुपारा फंसा कर धक्का दे दिया. मैंने अपने लंड को करीब आधा बाहर खींचकर अब एक जोर का धक्का और लगा दिया और अपने लंड को उसकी मखमली गहराई में जड़ तक ही उतार दिया जिससे मोनी जोरों के साथ चिहुंक गयी और अपने दोनों हाथों से उसने मेरी कमर को कस कर पकड़ लिया.

जब मैंने सोनू की ब्रा में से उसके मम्मे को आजाद किया तो देखा कि वहां पर मेरे काटने के नीले निशान पड़े हुए थे. फिर मैंने उसकी गांड पकड़कर दूसरा धक्का मारा और अपना आधे से ज्यादा लंड चूत में पेल दिया. मम्मा ने थोड़ी देर बाद थोड़ी हरकत की और थोड़ा सा आगे खिसक कर लेट गईं लेकिन वो मुझसे कुछ नहीं बोलीं.

फिर कोई भी सभ्य पुरुष ऐसी लड़की की तरफ आकर्षित कभी नहीं होगा जो इस तरह की प्रवृत्ति वाली हो. तब उसने कहा- सारिका जी क्या आप ऊपर आकर धक्के मारोगी? मैं अब थकने लगा हूँ प्लीज.

चूमते हुए धीरे-धीरे उसकी पेंटी तक पहुंचा और मैंने उसे भी खोलकर दूर हटा दिया और उसकी चूत को देखने लगा।मैं उसकी चूत के दर्शन करने लगा तो वो शरमा गई.

मैं अपनी उंगली पर थोड़ा सा थूक लगा कर उनकी चूत के दाने को मसलने लगा. सेक्सी बीएफ देहातप्रिया ने मेरी आंखों में देखा- बहुत अच्छी लगती हूँ मैं आपको!मैं- हां. ब्लू पिक्चर सेक्स दिखाएंआखिर में शीतल भाभी ने कहा- तुमने तो मेरा पूरा जिस्म देख लिया, अब तुम भी तो अपने कपड़े उतारो. दोस्तो! लड़कियों, भाभियों और आंटियों को मेरे लंड का प्रणाम और भाईयों को हाथ जोड़ कर नमस्कार.

वो सिसकारी लेने लगी- आहह अंकल बहुत मजा आ रहा है … और जोर से चाटिए न.

फिर जब कभी उसका कोई ब्वॉयफ्रेंड उसके घर आ जाता, तो रिम्पी मेरे सामने ही अपने उस ब्वॉयफ्रेंड को किस कर लेती थी. मैं ऑफिस जाने के लिए घर से निकला तो मुझे जानकारी हुई कि स्कूटी की ब्रेक काम नहीं कर रहे हैं. और भाभी पोर्न मूवी जैसे नीचे बैठ गयी, मैंने अपना माल भाभी के मुँह में गिरा दिया और भाभी उसे पूरा पी गयी।भाभी- आह तेरा माल मस्त है, पीकर के मज़ा आ गया।उसके बाद हम दोनों साथ में नहाये।और वहाँ एक बार और मैंने भाभी को चोदा। मैंने उनकी गांड भी मारी शैम्पू लगा के उनकी गांड में! उसके बाद उन्हें तकलीफ हुई चलने में तो मैं उन्हें सहारा देकर बेड तक ले गया और कपड़े पहने.

अन्तर्वासना में उस सत्य कहानी का टाइटल है ‘भाई की कुंवारी साली की सील तोड़ी. सुषी पहले तो टाल-मटोल करने लगी, तरह-तरह के बहाने करने लगी लेकिन मैंने उससे पूछना जारी रखा और अंत में उसने मुझे अपने दिल की बात बता ही दी. पर फिर मेरी जिद पर उन्होंने मुझसे कहा- ठीक है अपनी तीनों बीवियां अपने साथ ही ले जाओ.

एक्स एक्स एक्स ऑनलाइन

फिर उसने मुझे सीधा खड़ा कर दिया और थोड़ा नीचे झुक कर अपने सीने को मेरे दूध तक लाया और अपने दोनों हाथ मेरी पीठ पे ले जा कर मुझे अपनी ओर खींचा. मैंने मालिक को थैंक्यू किया कि जिस चूत को चोदने के नाम पर इतनी मुठ मारी थी, आज वो खुद ही चूत मसल रही है और मुझे आमंत्रित कर रही है. लेडी डॉक्टर, जो मेरी स्कूल की क्लासमेट थी, से बात की तो वो बोली- चूंकि लंड की नसें खड़े रहते समय दबी लगती हैं इसलिए ये बैठ नहीं रहा है बाकी तो पूरी गहन जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है.

जब वो अपने रूम में झुककर झाड़ू लगाती थीं, तो मुझे उनके सेक्सी चूचों के भी दर्शन हो जाते थे.

उसको देख कर ऐसा लग रहा था कि आसमान से कोई परी ज़मीन पर आकर उतरी हो.

यह सुनकर मुझे भी बड़ी प्रसन्नता हुई कि मेरे पाठक मुझे पढ़ने के साथ साथ मेरे साथ खुद को सुरक्षित भी महसूस करते हैं. अन्दर से मेरे पता नहीं कैसी आग सी लगी कि मैं खुद अब अपने होश गवां बैठी. बफ वीडियो भेजोमैं प्रिया को ड्रेसिंग टेबल के सामने ले गया और उसके बालों को हाथ से हटा कर उसकी पीठ को अच्छे से चूमा और खूब चाटा.

पूजा के मुँह से हल्की मदमस्त सी चीख निकली और वो मोबाइल छोड़ कर बेड पर गिर गई. पर मैं इस जवानी के खेल में इतना मस्त हो गया था कि मुझे दर्द का एहसास भी नहीं हुआ. रितेश ने मीरा को बिस्तर पे लिटाया और उसकी कमर के नीचे तकिया लगा कर उसने मीरा की पानी छोड़ती चुत को चूमा और अपना मोटा लंड उसकी चुत में फंसाते हुए एक ही झटके में पूरा घुसा दिया.

पहले एक उंगली पेली, फिर दो डाल दीं, इसके बाद तीन उंगलियां पेल दीं, जिससे उनके अन्दर की आग भड़क गई, वो बोलने लगीं- अब बस कर और मत तड़पा … जल्दी से डाल दे अपना ये मूसल मेरी प्यासी चूत में. आप अपनी आखें बंद कीजिये पहले!” वसुंधरा ने मेरी आँखों में देखते हुए कहा.

मैं भी बहुत जोश में आकर जोरदार धक्के दे देकर उनकी चूत की चुदाई किए जा रहा था.

हम दोनों एक साथ चिल्ला रहे थे- ऊह्ह्हह्ह मर गया …मैंने एक बार फिर पूरी ताकत लगा कर पीठ उठा कर लंड को बाहर खींचने की कोशिश की लेकिन लण्ड टस से मस नहीं हुआ. मैंने ओके कहा और उनकी गांड की तरफ से लंड को चुत की फांकों में रगड़ना चालू कर दिया. एक दिन अचानक से मम्मी मुझसे से बोलीं- बेटा चलो, डॉक्टर के पास चलो, कुछ चेकअप करवाना है.

चूत सेकसी उनके जीभ के स्पर्श से अलग ही सरसराहट पैदा हुई, उन्होंने मेरी नाजुक त्वचा पर हल्के से काटना भी शुरू कर दिया. मैंने उसे बिस्तर पर लेटाया और उसके गाल, माथे, आंखों पर हर जगह बहुत सारी किस करनी शुरू कर दी.

फिर अपने हाथ ऊपर ले जाकर मैंने उनके दोनों मम्मे पकड़ लिए और चूत का दाना, वो छोटा सा भागंकुर अपनी जीभ से टटोलने लगा. मैं बड़ी मुश्किल से अपनी उत्तेजना को काबू करने की कोशिश कर रही थी, पर मेरी चुत?? उसको तो आज बहुत ही जोश चढ़ा था, पूरी गीली होकर मुझे और उकसा रही थी. यह पोर्न कज़िन्स सेक्स कहानी तब की है, जब मैं गर्मियों की छुट्टी में गांव गया था.

सेक्सी मीणा गीत

एक दिन भाभी मुझसे बोली- आप भी इंजीनियर हो, तो सुरभि को कभी कभी किसी सब्जेक्ट में हेल्प कर दिया करो. मैंने लंड को अंडरवियर की इलास्टिक में दबाया ताकि किसी को मेरा खड़ा हुआ लंड दिखाई न दे और सीधा बाथरूम में चला गया. रात की चुदाई के बाद लंड में हल्की सी सूजन थी और बाकी दिनों की अपेक्षा थोड़ा मोटा भी लग रहा था.

मैं नाम से तो नहीं जानती, पर पहचानती थी … और एक गांव का नहीं, बाहर का लड़का था. आज मेरी सासू माँ ने तुमको बुलाया था और मैंने आप दोनों की सारी बात सुन ली है.

सच कहूं वो मेरे नीचे लेटी ऐसी लग रही थी, मानो हाथी के नीचे कुतिया लेटी हो.

अब तो मैं अक्सर उसके रूम पे जाती रहती थी और कभी उसका रूम साफ करने में मदद करती. पर अंकल जी ने मेरी बात अनसुनी करते हुए मुझे पास के पेड़ के तने के सहारे खड़ा कर दिया और मुझे बांहों में लिए चुपचाप खड़े रहे. इस बारे में कई बार मैंने उससे कहा, पहले तो वो यह कह कर टाल रहा था कि घर में यह सब अच्छा नहीं लगता, तो मैं बोली कि दो-तीन दिन के लिये कहीं बाहर चलते है, जहां सिर्फ मैं और वो हों.

मेरे फ्लोर पर जो दूसरी फैमिली थी, उसमें हस्बैंड वाइफ और उनका एक बेटा और भाभी की एक बहन थी. मैंने बताया, तो उसी तरह के सवालात हुए और इन्हीं बातों में पता चला कि भाभी का नाम सृजन है और वो दो साल से यहीं अपने पति के साथ रहती हैं. उस दिन रविवार था तो मेरी छुट्टी थी इसलिए मैं घर पर था और अकेले बोर हो रहा था.

कहानी के तीसरे भागस्विमिंग पूल में दो जोड़ों की अश्लील मस्तीमें आपने पढ़ा कि कैसे दो इंडियन कपल ने स्विमिंग पूल में और रेस्तरां में एक दूसरे के साथी के साथ मजा लेने की कोशिश की.

बुर में लौड़ा बीएफ: मम्मा ने नाराज होते हुए कहा- मुझे जान से मारने का मन है क्या मेरे राजा!मैं- कैसी बात कर रही हो जान … सुहागरात पर शुभ शुभ बोलो. मैंने भी सोचा चलो देखते हैं कितनी अन्दर तक खुली है इनकी बुर, इसलिए मैं दूसरे हाथ की एक उंगली उनकी बुर के छेद में डालने लगा.

अब मुझसे कंट्रोल नहीं हुआ और मैंने सुषी को वापस बेड पर गिरा लिया और उसकी चूत को फिर से चाटने लगा. उसके बाद कई बार जब विशाल भाई घर पर नहीं होते थे तो मैं भाभी को सामान वगैरह के लिए मार्केट भी लेकर जाने लगा. उसने मेरी कमर पर अपने दोनों हाथ लेकर मेरी गांड को अपने लण्ड पर दबाया जिससे मैं भी उसके लण्ड पर बैठने लगी.

हमारा अगले दिन दोपहर की आधी छुट्टी में रूम पर मिलना तय हुआ और सिर्फ किस ही करना है … और कुछ नहीं, ये तय हुआ था.

अब जब कभी भी भाभी को चोदने का मन होता, तो भाभी की जबरदस्त चुदाई करके मजा ले लेता. भाभी मेरी तरफ देख कर बोलीं- आजकल तुम मुझे कुछ ज्यादा ही देखने लगे हो … क्या बात है? क्या गर्लफ्रेंड ने मना कर दिया है. मुझसे रहा नहीं गया, तो मैं भाभी के पास आ गया और बोला- आपकी मदद कर दूँ भाभी?वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुरा कर बोलीं- नहीं रहने दो, मैं कर लूंगी.