सेक्सी बीएफ भोजपुरी गाना

छवि स्रोत,सेक्सी ब्लू विडिओ

तस्वीर का शीर्षक ,

தமிழ் ஓபன் செஸ்: सेक्सी बीएफ भोजपुरी गाना, वो भी तनिक लजा कर बोली- मैं भी तुमको पसन्द करती हूँ पर कभी कह नहीं पाई.

सेक्सी हिंदी कहाणी

तुम तो ऐसा नहीं सोचती हो, चलो फिर कहीं मुझे ले चलो कोई मुझे कुछ नहीं कहेगा. देसी सेक्सी पिकमैं दो मिनट रुक गया और फिर एक धक्का लगाया तो उसकी चूत से खून आने लगा और वो भी दर्द से रोने लगी.

उसने हमारे लंड पे कंडोम को चढ़ा दिया, मैंने धीरे से उसे थैंक्यू कहा. ஷகீலா செஸ் பிலிம்मैं दो मिनट रुक गया और फिर एक धक्का लगाया तो उसकी चूत से खून आने लगा और वो भी दर्द से रोने लगी.

इतने में पूजा रूम में आ गई, उसने पिंकी को इस हाल में देखा तो हैरान हो गई.सेक्सी बीएफ भोजपुरी गाना: शाकिर मुस्कराते हुए मेरे पास आया, मेरे पैन्ट के बटन खोलने लगा, मेरे से बोला- भाई साहब तेरे पर मरते हैं, परसों तेरे को देखा तो बोले इसकी दिलवाओ तो मैं तेरे को ले आया.

वो ऐसे मसल दबा रहा था कि मानो उनमें से उसे कुछ निकालने के मूड में है.रोशनी ने प्यार से मेरे पास आकर सॉरी कहा और मेरा कंडोम उतार कर कचरे में फेंक दिया.

वीडियो सेक्सी हिंदी देसी - सेक्सी बीएफ भोजपुरी गाना

अभी तक की इस कामवासना से भरपूर बहु की चुदाई कहानी में आपने पढ़ा कि हम ससुर बहू अपने केबिन के बाहर की दुनिया से बेपरवाह अपनी ही दुनिया में खोये हुए सेक्स का मजा कर रहे थे.अब इसके आगे की कहानी में मैंने उसको क्या जबाव दिया और उसकी चुदाई का क्या सीन रहा। ये सब अगले भाग में लिखूंगा।आपके ईमेल मिल रहे हैं.

कुछ पल बाद उसने अपने लंड को निकाला और मुझसे कहा इसे पकड़ कर मुँह में लो. सेक्सी बीएफ भोजपुरी गाना इधर मैं अपने लंड को सहला सहला कर चरमोत्कर्ष की स्थिति में आते ही छोड़ देता, लंड की नसें फूल गई थीं.

वो शाम को आ गई तो उसने वही ड्रेस लिया जो मेरे लिए पसंद किया था और पहन लिया.

सेक्सी बीएफ भोजपुरी गाना?

वो बोली- हम्म… तो ये बात है जनाब… फिर अब तक मेरे को बोला क्यों नहीं तुमने?मैं बोला- बस मैं कहने से डरता था, कहीं तुम मना ना कर दो. हमने दुबारा एक दूसरे के लंड और चूत चाटकर फिर से एक दूसरे को तैयार किया. पर मैं पहली मुलाक़ात में उसे परेशान नहीं करना चाह रहा था। इसलिए मैं उसे ‘गुड नाईट’ हग करके बाहर आ गया। जब गाड़ी की चाभी देखी.

वैसे माँ की हाइट 5 फ़ीट 10 इंच है लेकिन उनकी चूचियाँ 38 इंच की थी जो उनके लम्बे बदन पे चार चाँद लगा रही थी. विक्की तू अपनी रोशनी दीदी के पीछे से हाथ पकड़ और मैं इसके कपड़े उतारता हूँ. अदिति के चचेरे भाई की शादी थी तो बेटे बहू का जाना ज्यादा अच्छा लगता.

मैंने इस विषय में कुछ सोचा नहीं था, फिर भी अचानक ही कह दिया- व्यवसाय में दिक्कत हो रही है बाबा!तो उन्होंने अपने पास एक कटोरे में रखी छोटी सी कागज की पर्ची मुझे उठा कर थमा दी और थोड़ी दूर पर एक मेज की ओर इशारा करके कहा- वहाँ चले जाओ।मैंने जी बाबा जी कहते हुए फिर चरण छुए और उस मेज की ओर बढ़ गया।कहानी जारी रहेगी. फिर रोहण ने मेरी दो बार चूत मारी और दो बार गांड!मेरे बेटे ने अपनी माँ की पूरी वासना शांत कर दी और मेरी चूत और गांड बंदर की तरह लाल कर दी थी. अगर आप मेरी कहानी पढ़ना चाहें तो मेरा ईमेल आईडी इस वेबसाइट पर टाइप करके पढ़ सकते हैं.

आज इतने लौड़े लिए अंदर मगर अभी भी खुजली नहीं गयी तेरी? मेरा लौड़ा चाहिए न तन्ने लौंडिया- तो ये ले, ये और ले… और ले अंदर मेरा लौड़ा कुतिया!कहते कहते उसने मेरा गला छोड़ा और कमर पकड़ कर ऐसे चोदने लगा कि ये उसकी जिंदगी की आखरी चुदाई हो. भाभी मेरे लंड को देख कर बोलीं- जीत यार, तुम्हारा लंड तो बहुत बड़ा है.

उसका नाम था भीम जी काका था, एकदम शांत स्वभाव था, उनका उनकी हाईट लगभग करीब 6 फुट होगी जिसे मैं अंकल कहती थी.

बॉस ने अपना लंड पैंट से बाहर निकाल लिया और खड़े होकर मेरे मुँह में डाल दिया.

कुणाल ने मेरी माँ से कह दिया कि आंटी आज रवि दोपहर को घर खाना खाने नहीं आएगा, हो सका तो हम कल सुबह घर वापिस आएंगे. घर पहुँचने पर मेरी मम्मी और पापा से मैंने नमस्ते किया और मम्मी ने गले से लगाया और कहा कि देखो पढ़ाई में मेरी बेटी कितनी पतली हो गई है, इतनी मेहनत करनी पड़ती है. और 38 की बड़ी सी उठी हुई गांड… उसके आगे तो भरी जवानी वाली 21 से 25 साल की लड़कियां भी कुछ नहीं थीं.

पहले तो मुझे चुदक्कड़ बना दिया गया, पर अब जब भी मेरी बुर को चुदाई की दरकार होती तो वो कोई न कोई बहाना बनाने लगते और दूसरी तरफ पलट कर सो जाते. मैं तुरन्त गेहूँ की फसल में छिप गया और झुरमुट से उसकी गांड उठा-उठाकर फसल की कटाई को देख रहा था. ”अब तक हम थोड़ी दूरी बनाकर बैठे थे पर कहानी सुनने के लिए उसे नजदीक आना पड़ा.

चाची मेरे लंड का सारा माल पी गईं और उन्होंने मेरे लंड को चाटकर पूरा साफ कर दिया.

मैं सुबह उठी तो मैंने फिर वही देखा रोहण ने मेरे बूब्स को मुख में ले रखा था और एक हाथ से दबा रखा था. कब तक और कुछ गलत सलत तो नहीं करना होगा?अमित- नहीं मिनी असल में उसके पापा ने जिद की है कि तू शादी कर ले तो उसने कहा है कि उसकी एक गर्लफ्रेंड है, जिसे वह प्यार करता है और उसी से शादी करेगा और उसकी अभी पढ़ाई पूरी नहीं हुई है. उनके चेहरे पर ब्रायन के लंड जड़ तक घुस जाने के कारण दर्द साफ झलक रहा था.

वो मेरे पास आ गया और कहा- अब अपना दूसरा वादा पूरा करो और मेरे गले से लगो. अब मैं चाची से भी ज्यादा बात नहीं करता था, उनका फोन आता तो मैं उठाता भी नहीं था और न ही उनके घर जाता था. मैं भाभी के मुँह से चुदाई शब्द सुन कर घबड़ा गया, पर देखा कि भाभी पूरी तन्मयता से अपनी कहानी कह रही थीं- सुनिधि भाभी जवान थीं.

आपको आंटी की चुत चुदाई की मेरी यह फ्री सेक्स स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल करना न भूलें.

फिर हम सभी मिलकर पार्टी की तैयारी करने लगे और तैयारी पूरी होने के बाद सभी फ्रेश होकर पार्टी के लिए तैयार होने लगे थे. फ़िर शनिवार को शाम में वो अपने समय से जल्दी ही आ गई और अपना काम करने लगी.

सेक्सी बीएफ भोजपुरी गाना मैंने काफी जगह अपने रेज़्यूमे दिए थे, जिस वजह से मुझे कुछ दिन बाद एक मधुरा नाम की लड़की ने फोन किया. मैं कभी कभी उनके घर जाता और सोनू के साथ खेलता और भाभी से भी बातचीत और हँसी मज़ाक करता रहता.

सेक्सी बीएफ भोजपुरी गाना फिर मैं अपने होंठों को उसके होंठों के पास ले गया और हम दोनों स्मूच करने लगे. तो वो बोली- तुझे मुझमें सबसे ज्यादा क्या पसंद है?मैं कुछ नहीं बोला, वो अपने चूचे उठा कर कहने लगीं- देख शर्मा मत.

मैंने उसे कहा- क्यों इन्कार करती हो? तुम जानती हो कि मैं जो चाहता हूँ वो करता हूँ… तो चूसो… चलो!वो कुछ भी नहीं बोली.

फौजी वीडियो सेक्सी

मैं- तो करो ना खुद… मुझे क्यों मजबूर करती हो ऐसा करने को!दीदी ने मुँह खोला और लंड की टोपी को लिप्स में भर के मुँह में लिया और हल्के से चूसने लगी. उसने दिल्ली में ही एक होटल में रूम बुक कर लिया, जहाँ हम मिलने वाले थे. पर भाभी की चुत बहुत टाइट थी ऐसा लग रहा था जैसे उसकी चूत की सील अभी तक बंद हो.

तो मैंने गर्दन के पास सहलाना शुरू कर दिया और एक हाथ उसके बड़े बड़े स्तनों अन्दर से घुमने लगा दूसरा हाथ उसके गाउन के क्लिप खोलने में लग गए. कुछ देर बाद मैं वासना से लिप्त मदान्ध की स्थिति में पहुँच गया और धीरे से उठकर, सहमे सहमे कदमों से उस ललचाती गांड की तरफ चल दिया. मैंने उसके चुचों को कसके पकड़ा और ताकत से एक एक इंच अन्दर घुसाता हुआ हिलने लगा.

मैंने ब्रा का भी हुक खोल दिया, उनके दूध आजाद कर दिए और उनके मम्मों पर टूट पड़ा.

मुझे चोदने वाले दोनों थोड़ी ही देर पहले मेरे अंदर अपना पानी गिरा चुके थे तो जाहिर था कि वो अब की बार जल्दी नहीं छूटने वाले थे. अब मैं उन्हें क्या बताती कि उनका संजय जिसकी वो इतनी फिक्र कर रहे हैं, वो बिस्तर पे उन्हीं की खूबसूरत बीवी की नंगी चुत में अपना मोटा लंड डाले पड़ा है और उनकी पतिव्रता बीवी, जिससे वो बहुत प्यार और भरोसा करते हैं, वो अपनी नंगी चुत का उसको हकदार बनाए उसके मोटे लंड से चुद रही है. हमारे जाने पहचाने होंठ यूं ही पता नहीं कितनी देर अठखेलियाँ करते रहे, हमारी जीभ एक दूजे के मुंह में घुस कर लड़ती झगड़ती रही और तन में वासना का ज्वार हिलोरें लेने लगा.

मैं धीरे धीरे उनके पेट को चाटते हुए उनकी नाभि पर आया, नाभि में जीभ घुसा कर कहता तो उनको मजा आया. अपने नाम की ही तरह वो किसी भी साधु की तपस्या भंग करने का हुनर रखती है. चूंकि मैं उसे मन मन ही प्यार करता था लेकिन उसे बताने में डरता था कि कहीं वो गुस्सा न हो जाए और मैं उसे देख भी न पाऊं.

मैं भी उसी पलंग पर आ गई, मैं पीछे से वर्षा की चूत में जीभ डालने लगी. ”यह सुन कर भाभी की आँखों में एक चमक दिखने लगी थी, भाभी ने कहा- तो तुम डॉक्टर्स को भी जानते हो और क्या मैं दिखाने आऊँगी तो तुम मुझे दिखवा सकते हो?मैंने तुरंत हां कर दिया और इसके बाद कुछ देर यूं ही गपशप के बाद मैं अपने कमरे में चला गया.

मेरे गुस्सा करने पर कहीं मुझे भी ये लोग मार पीट न देवें, तो मैंने तय किया कि अभी मेरा गुस्सा करना ठीक नहीं है. कमल मुझसे कहने लगा- ओह सरिता, यार तुम बिना कपड़ों के बिल्कुल अप्सरा लग रही हो. सबसे पहले शैलेष ने हाथ बढ़ाया और कहा- आप काफी अच्छी लग रही हैं, मेरा नाम शैलेष है और आपका?मैंने भी हाथ बढ़ा दिया और हाथ मिलाते हुए कहा- थैंक्यू.

मुझे उससे ऐसी उम्मीद नहीं थी तो मैं लड़खड़ाते हुए अपने बिस्तर पर गिर गया और वो दरवाज़ा खोल कर चलती बनी.

आह…मैंने उन्हें चुप कराने के लिए तुरंत ही उनके होंठ चूसने शुरू कर दिए. मैंने चाची की दोनों टांगों को अपने कंधे पर रख लिया और एक ही झटके में अपना आधा लंड चाची की चुत में बाड़ दिया. मैंने सोचा कि पहले कपड़े बदल लेती हूँ बाद में अवी से मोबाइल के बारे में पूछ लूँगी.

मुझे बड़ा ही मजा आ रहा था, कुछ देर तक इसी तरह उसकी चूचियों को लंड से चोदता रहा. जब कोई का काम निकल जाता है तो थोड़ी याद करेगा?आंटी- कुणाल एक अच्छा लड़का है.

मैं जानता हूँ कि तू मेरी बहन है, पर ना चाहते हुए भी मैं तुझे नहीं भूल सकता. उसके चुचे भी जोर जोर से ऊपर नीचे हो रहे थे, जो मादकता को और बढ़ा रहे थे. मैंने कहा- जो देखने के लिए होता है, मैं वही देख रहा था, उसमें बुरा क्या था?तब भाभी बोलीं- अच्छा तो तुम्हारी मम्मी को बोलना पड़ेगा.

मारवाड़ी देसी सेक्सी फिल्म

इस भाई बहन की चुदाई की सेक्स स्टोरी पर आपके कमेंट्स का इन्तजार रहेगा.

संजय मुझे लगातार किस कर रहा था और मैं अपने आपको उससे छुड़ाने की नाकाम कोशिश कर रही थी. मतलब घर का कोई कोना ऐसा नहीं छूटा, जहां संजय ने मेरी चुदाई ना की हो. सुबह पांच बजे ही मैं जग गया और मोबाइल उठा कर रात वाली वीडियो देखने लगा.

मैं लंड चूस रही थी तो वो बड़ा होने लगा और फिर इतना बड़ा हो गया कि मेरे मुँह में आ नहीं रहा था. फिर जल्दी ही मेरा दोस्त रुक गया और बिल्कुल आराम से लंड आगे पीछे करने लगा, शायद उसका माल छूट गया था. देहाती सेक्सी बीफक्योंकि मेरी छटी इन्द्रिय कह रही थी कि यहाँ उसी की खुशबू चारों ओर फैली हुई थी.

तो उसने बताया कि उसकी शादी को सिर्फ एक साल हुआ है और अभी तक बच्चा पैदा नहीं हुआ है. दीपक भैया ने रीना के नीचे कटि प्रदेश पर आक्रमण कर दिया और मैं पहले से ही उसके चुचों, होंठों की चुसाई करता रहा.

मैं- कोई लड़के ने तुमको पटाने की कोशिश नहीं की?कल्याणी- बहुत लोग ट्राई कर चुके हैं. कालेज की वजह से पापा ने मुझे घर में रूकने को कहा, जो मैं चाहता ही था. पूरी होने पर वह उसी से शादी करेगा तो वही तुझे अपने पापा से मिलवाएगा बस.

फिर मैंने उसे नीचे लिटा लिया और ऊपर चढ़ कर उसकी चूत चोदने लगा और उसके मम्मे चूसने लगा. जहाँ कोई अच्छा खूबसूरत माल दिख जाए, लंड खड़ा होकर चड्डी के नीचे की ओर से बाहर आने को बेकरार हो जाता है. अब तक उसके जिस्म के लिए मैं इतना पागल हो चुका था कि मेरा एक एक दिन बड़ी मुश्किल से कट रहा था.

मैंने पहले ही बताया था कि कोई भी मेरी भाभी की सेक्सी गांड देखेगा तो उसका सोया हुआ लंड भी जाग जाएगा.

मैं बोली- वर्षा तेरा काम तो हो गया अब मेरी चूत कब से पानी पानी हो रही है. संजय ने बताया कि वो काफी अच्छा पेन्टर भी है, उसने अपनी ड्राइंग की हुई कुछ तस्वीरें भी हमें दिखाईं, जो वाकयी बेहद खूबसूरत थीं.

मैंने धीरे से उनके लबों को चूमा और उन्हें दीवार के पास खड़ा कर दिया. मैंने सोचा कि हो सकता है माँ को सब पता हो इसलिए ये कुछ नहीं बोल रही तो मैं उनकी साइड घूम गया और अपने हाथ को उनके ऊपर इस तरह रख दिया कि उन्हें लगे कि मैं सो रहा हूँ. इतने में वो उठ गईं और बोल पड़ीं- यह क्या कर रहा है तू?मेरे तो जैसे होश उड़ गए.

पिछले कई सालों से मैं पुणे में रहकर अपनी स्टूडेंट वाली ज़िन्दगी जी रहा था. वो मजे से गांड आगे पीछे करने लगी और कहने लगी- जान पूरा का पूरा लंड पेल दो. पुलकित ने भी बिना कोई और बात किए, मंजरी के लिपस्टिक लगे सुर्ख होंठों पर अपने होंठ धर दिये.

सेक्सी बीएफ भोजपुरी गाना बहूरानी टॉयलेट जाकर फ्रेश हो आयी फिर उसने अपने उलझे बाल सँवारे और हल्का सा मेकअप किया. मैं समझ गया कि मैं पूरी तरह अपनी बीवी के चक्रव्यूह में फंस गया हूँ.

हॉलीवुड सेक्सी एचडी

मैं भी जल्दी जल्दी से तैयार हो गई और अपने पहले वाली ड्रेस उसी बैग में रख कर बाहर आ गई. प्रिया प्रेम की पराकाष्ठा पर जल्दी से पहुँचने के लिए तमाम बंधन तोड़ने पर उतारू थी लेकिन मैं आज के अपने इस अभिसार को सदा-सर्वदा के लिए यादगार बनाने पर कटिबद्ध था. ”मैंने उसकी दोनों चुचियों पर शहद लगाया और धीरे धीरे जुबान से चाटते हुए उन्हें एक एक कर अपने मुँह में भर लिया.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग :ट्रेन में मिली शादीशुदा लड़की की कामवासना और चुदाई-2. उसने बोला- तू मेरा थूक पी जाएगा?मैंने उसके सामने अपना मुँह खोल दिया. ब्लू फिल्म सेक्सी हिंदी में चाहिएमैं- मेनका आह… मेरा लंड आह या आह आह फॅट रा है आह… कुछ करो वरना मैं मर जाऊँगा… आह आ…मेनका- ऐसे ही थोड़ी मरने दूँगी मैं अपने राजा को… अभी तो इसे एक ज़रूरी काम करना है.

दीक्षा तो मुझे गुस्से से देख रही थी क्योंकि मेरी बात सिर्फ वो ही समझी और कोई नहीं.

पर मुझे तो तेरे साथ सोना है ना… प्लीज… ना मत कर…” मैं आगे हुआ और उसके हाथ को चूमा और कहा- एक चान्स दे दो प्लीज… तुम्हें नाराज नहीं करूँगा. ये बात मेरी समझ में आ गई और मैंने स्वाति बहन को मेरे और मेरे बाजू वाले लड़के के बीच में बिठा दिया.

हम हमारे अधूरे काम को कब पूरा करेंगे?ये पहली बार था जब संजय ने मुझे नाम से पुकारा था. अब तक मैंने उनकी पीठ की भी मालिश शुरू कर दी थी, इसलिए मैंने मेरे पैर हटा लिए थे. मैं इनको बोल देती हूँ आपके यहां सोने के लिए ताकि आपका घर सुरक्षित रहे.

किसी कारण से वो स्कूल बंद हो गया तो उसने अपना प्ले वे स्कूल खोल लिया लेकिन वो कुछ ज्यादा अच्छा नहीं चल रहा था.

फिर बहूरानी ने मुझ पर बैठ के मेरा सुपारा अपनी चूत के छेद पर सेट किया और लंड को दबाने लगी. खाली पैकेट गैस स्टोव पर जला दिया और उनके लिए दाल भात, रोटी और दही ले आई. उसने मेरे लंड को देख कर समझ लिया कि मैं उसकी गांड मारने की फिराक में हूँ.

সেক্সি ফটোসकमल ने अपना लंड को एक बार फिर मुझे खूब चुसाया, मेरा लंड गीला हो गया तो कमल ने मेरे पीछे आकर मेरी गांड के छेद को गीला करके अपने लंड को मेरी गांड में घुसाने लगा. विवेक ने कामिनी को अपनी जाँघों पर बिठा रखा था और वो दोनों एक ही गिलास से सिप कर रहे थे.

ट्रिपल एक्स मराठी बीपी सेक्सी व्हिडिओ

उसके निप्पल को सहलाने लगा, मेरा खड़ा लंड उसकी चूत को हल्के से छू रहा था. जैसे ही मैं अपने घर पहुंचा उसका मैसेज आया- अच्छा हुआ तू चला गया क्योंकि तेरे जाते ही मम्मी आ गई थीं!फिर कुछ दिन ऐसे ही निकल गए. दीदी- सन्नी, ऐसा मत करो प्लीज़… तुमने बोला था कि तुमको सिर्फ़ लंड चुसवाना है, अब ये सब मत करो.

मैंने भी तपाक से बोला- अंडरवियर न हटाता तो आपको इसके दर्शन कैसे होते?चाची थोड़ा गुस्सा होने का नाटक करके बोलीं- बेशरम चाची हूँ तेरी. फ़िर शनिवार को शाम में वो अपने समय से जल्दी ही आ गई और अपना काम करने लगी. मैं चाहता हूँ कि आप मुझे मेरी भाभी की चुदाई कहानी के बारे में मेल करें और बताएं कि आपको मेरी कहानी कैसी लगी.

मैंने भी तो पूरा मजा लिया था और सच बताऊं उस दिन जो हुआ, उसको मैं भूल नहीं पाई थी. भाभी बोलीं- यहां कोई आएगा तो नहीं ना?मैं बोला- आप जब तक बस नहीं बोलोगी. थोड़ी ही देर में उसका रस निकल कर मेरे होंठों पे आ गया और वो ढीली पड़ गई.

वो तीनों हमारी इतनी तारीफ कर रहे थे कि हमें ही शर्म आने लग गई।तभी रानी ने केक काटने के लिये बोला जो चिंटू और परीक्षित लेकर आये थे।केक काटकर रानी ने सबसे पहले मुझे खिलाया और उसके बाद तीनों को, फिर मैं बेशर्मी दिखाते हुए उसे हैप्पी बर्थडे” बोलते ही उसके होंठों पर किस करने लगी। हमें इस तरह किस करता देखकर उन तीनों ने भी रानी के होठों पर किस दी उसके बाद हमने खाना खाया. मेरे धक्का देने से मेरा लंड नीचे खिसक गया क्योंकि उसकी चूत फिर से उतनी ही टाइट हो गई थी, जितनी पहली चुदाई के वक्त थी.

मैं भी भाभी के बगल से जाकर रज़ाई में घुस गया और उनकी जाँघों को और मम्मों को दबाने लगा.

स्क्रीन बड़ी होने की वजह से आम फिल्में देखने को मजा तो आता ही था, पर पोर्न फिल्में को भी मजा आता था. सेक्सी वीडियो खेसारीहम दोनों चुदाई करने लगे और मैं चिल्ला रही थी कुछ दर्द से तो कुछ आनन्द से!हमने बहुत देर तक चुदाई की और फिर झड़ गए. वीडियो सेक्सी गाना वीडियो सेक्सी गानाथोड़ी देर बाद महेश ने मुझे सीधा किया और मेरे पैरों को मोड़ कर बीच में बैठ गया. अब सुरेश और मयूरी भी दरवाजे की तरफ खड़े अपने पिता और ससुर को देखने लगे.

”मैंने कहा- फिर एक बार इंजेक्शन देना पड़ेगा पीछे से…वो मुस्कुरा कर मुझे मुक्का दिखाने लगी.

डिजाइनर ब्रा में बहू के मम्में और भी दिलकश लग रहे थे और उसकी पैंटी में वो उभरी हुई चूत… चूत का त्रिभुज और लम्बी सी दरार बिल्कुल साफ़ साफ़ दिख रही थी पैंटी के ऊपर से! पैंटी के ऊपर चूत की दरार इस तरह से दिखे तो पोर्न की दुनिया में इसे कैमल टो Camel toe कहते हैं. इसी के साथ उसने एक हाथ की उंगली को मेरी चुत में घुसेड़ा और मुझे अपनी तरफ करके मेरे मुँह में अपना मुँह डाल दिया ताकि मैं चीख न सकूं. अब बॉस ने खड़े होकर मेरी गांड में दो उंगलियां डाल कर उंगली से मेरी गांड को फैलाने लगे और मुझे वो लिफाफा खोल कर देखने को बोल दिया.

”क्या मतलब? लड़कियों के?”जब मर्द लड़की की चाटता है, तो इतना गंदा नहीं लगता. हॉलीवुड सेक्सी एचडी. फोन पर ही उन्होंने मुझसे ये सब बताते हुए पूछा- आपको चुनने का एक कारण और ये भी है कि हम अगले हफ्ते आपके शहर सूरत में एक शादी में सम्मलित होने आ रहे हैं तो आपकी क्या राय है?मैंने उनसे कहा- मैं आपकी बात समझता हूँ पर पहले मैं आपकी बीवी से पूछना चाहता हूँ कि वो भी ऐसा ही चाहती है.

सेक्सी भोजपुरी सेक्सी पिक्चर

मैं- आह आह मेनका, मेरा निकलने वाला है… आह आह अहहहह… मैं आह आह गया…मेनका- आह हा आह आह अहहहा आ जा मेरे राजा, मेरे अंदर ही आ जा… मैं भी गयी बस आह आह हा अह्हहह… गयी… आह आह आह… मेरे… आह आह राजा…और मैं और मेनका एक साथ आ गये. अवी ने मुझसे कहा- बेबी क्या लोगी बताया नहीं?मैं- एक कोई अच्छी सी ड्रेस लेनी है और एक टॉप दिव्या के लिए बस. मैंने कुछ ग़लत कह दिया?मैं उसे नाराज़ नहीं करना चाहती थी तो मैं उसे मनाने लगी।वो- चाची प्लीज़ मुझे आपके साथ करना है.

उन्होंने घुटने के बल बैठ कर बोला- देखूँ तो सही तुम्हारा एरोप्लेन कैसा है… उड़ने में मज़ा आएगा या नहीं.

इधर रमेश एक हाथ से काजल की चूत पर हमला किया जा रहा था और दूसरे हाथ से उसने उसकी एक चुची को संभाल रखा था.

मुश्किल से एक मिनट ऐसे किया होगा कि कुछ गर्म गर्म लगा नीचे, जहां वो लंड आगे पीछे कर रहा था. मैं घर से बाहर हमेशा बुरके में ही निकलती हूँ और घर में भी ज्यादातर रुमाली या फुल साईज दुपट्टे में ही रहती हूँ. नवी सेक्सी वीडियोअब तक मैंने उनकी पीठ की भी मालिश शुरू कर दी थी, इसलिए मैंने मेरे पैर हटा लिए थे.

ये उन्होंने मुझे बाद में बताया ताकि चाची मुझसे पूछें तो मैं उनको यही बता सकूँ. मैंने बिन रुके एक और झटका दिया तो मेरा लौड़ा पूरा का पूरा उसकी बुर के अंदर जा चुका था. सिराज के धक्के इतने तेज हो रहे थे कि मुझे कई बार लगा कि उसका लंड मेरी चुत से घुस कर मेरा पेट फाड़ कर ही बाहर निकलेगा। तभी सिराज ने किसी से कहा- अबे, इस लौंडिया के जूते पहना दो रे.

मेरी एडल्ट स्टोरी पर आप अपनी राय नीचे दिए ईमेल पते पर भेजें![emailprotected][emailprotected]. ये सब सुन कर महेश भी उनकी बातों में आ गया, वो गुस्से से आग बबूला हो गया.

उस दिन मैंने अपनी भाभी को 4 बार चोदा और इसी तरह 7 दिन तक लगातार चोदा.

फिर रोहण ने धक्के मारना शुरू कर दिया और फिर हमारी चुदाई की आवाज पूरे रूम में गूँज रही थी. जब मैंने उनके नाईटी निकालनी चाही, तो उन्होंने कहा- अभी नहीं, पहले शावर लेते हैं और साफ सफाई कर लेते हैं. ऐसा हम कम से कम 20 मिनट तक करते रहे, उसी बीच में उसने अपनी स्पीड ओर तेज कर ली.

tamilsex வீடியோ जब वो किचन में जाने लगी, तब मैंने उसे अपने कमरे में आने के लिए बोला लेकिन वो बोली- नहीं, जो बोलना है यहीं बोलिए. तभी उन्होंने मेरा एक हाथ अपने मम्मों पर रख दिया, मैं भी जोश में आकर उनके मम्मों को दबाने लगा.

कुछ 5 मिनट की लंड चुसाई के बाद मैंने खुद ही उनको पकड़ कर खड़ा किया और बेड पर लेटा दिया, उनकी दोनों मखमली टांगों को फैला कर, मैं उनकी चुत में अपनी उंगलियों से खेलने लगा. पर हर कहानी क्या सच में सिर्फ़ कहानी ही होती है? मेरा तो ख्याल है कि बिल्कुल नहीं… खैर! यह वार्ता फिर कभी… अब वापिस आते है अपनी कहानी पर!जिन पाठकों ने मेरी पिछली कहानी ‘हसीन गुनाह की लज़्ज़त’ नहीं पढ़ी है मैं उन पाठकों से अनुरोध करता हूँ कि इस रचना का संपूर्ण आनन्द लेने के लिए पहले आप मेरी पिछली कहानी पढ़ लें. मैंने उन्हें कुछ नहीं कहा और चुपचाप देखता रहा, अपना लंड सहलाता रहा.

सेक्सी पिक्चर देवर और भाभी

अब मैंने अपना हाथ चूत से हटाया और दूसरी चुची को टॉप में से आजाद कर दिया और दोनों हाथों से उसकी दोनों चुची को दबा व मसल रहा था. फिर संजय उठा और मेरे ऊपर चढ़ गया और मेरे होंठों को मुँह में लेकर कस के चूसने लगा. मैं हर दोपहर को ऊपर मानवी भाभी के पास जाने के नए नए बहाने ढूँढता रहता.

जब वो तैयार होकर अपने कमरे से बाहर आईं तो एक पल के लिए मेरी साँसें थम गईं. मैं समझ गया कि इसके मन में चोर है और मेरे मन का चोर तो उसे देखते ही जाग गया था.

जैसे ही पुलकित ने मंजरी का ऊपर वाला होंठ अपने होंठों में लिए, मंजरी ने भी पुलकित का नीचे वाला होंठ अपने होंठों में ले लिया दोनों बारी बारी से कभी ऊपर वाला तो कभी नीचे वाला होंठ चूस रहे थे, दोनों की साँसें तेज़, धड़कन भी तेज़… दोनों ज़ोर ज़ोर से एक दूसरे को अपनी बाहों में समेटने की ऐसी कोशिश कर रहे थे, जैसे एक दूसरे को खुद में समा लेना चाहते हों.

” की आवाजें निकलने लगी थी। अब मैं ऊपर से चूमते चूमते श्रुति के शरीर के नीचे की ओर आने लगा और जैसे ही मैं कमर के नीचे आया तो उसकी साँसें तेज होने लगी।मैंने उसकी पैंटी निकाल दी और पैरों को फैला दिया। एडल्ट फिल्मों में तो बहुत देखा था लेकिन आज हकीकत में भीचूत के दर्शनहो ही गए।मैं उसके चूत को चूमने लगा. मैं उसके बेड रूम के अन्दर गया तो देखा कि बाथरूम का दरवाजा थोड़ा सा खुला था. मैं कभी कभी सोनू का सर सहला देता था, लेकिन मेरी हिम्मत नहीं हुई कि उनकी चुची को छू सकूँ.

हमारे जाने पहचाने होंठ यूं ही पता नहीं कितनी देर अठखेलियाँ करते रहे, हमारी जीभ एक दूजे के मुंह में घुस कर लड़ती झगड़ती रही और तन में वासना का ज्वार हिलोरें लेने लगा. ससुर बहू के सेक्सी खेलों भरी गर्म कहानी आपको कैसी लग रही है, मुझे मेल कर के अवश्य बताएं![emailprotected]. उसे थोड़ी देर पहले जो मयूरी ने सिखाया था, उस ज्ञान का वो सम्पूर्ण उपयोग कर रहा था.

सोनू को सुलाने के बाद भाभी ने कहा- तुम मेरे सर में जरा विक्स लगा दो.

सेक्सी बीएफ भोजपुरी गाना: पता नहीं मेरे किस जन्म के कुकर्मों का फल इस पाप कर्म के रूप में उदय हो रहा था. रीना के थूक से लिपटे लंड को दीपक भैया अपनी बहन रीना की चौड़ी गांड को फांक करके लंड डालने लगे.

जय लक्ष्मी जी, जो हमारे बैंक में एक महीने के लिए इंटर्न के लिए आई थी मतलब पोस्टिंग से पहले ट्रेनिंग के लिए. तो फिर देखना चाहोगे?”मैं- क्या?वही जो तुम देखने की कोशिश कर रहे थे. दुर्गा पूजा के टाइम मैंने उसे रूम पर आने को मना लिया क्योंकि उस हर कोई मस्ती में खोया रहता है और कोई रोक टोक और समय की पाबंदगी नहीं होती है.

क्या देख रहे थे?मैंने कहा- भाभी, मुझे कहने में थोड़ी झिझक लग रही है.

जीन्स का मुझे कोई शौक नहीं है।यह कहानी उस वक्त से शुरू होती है जब मैं अपनी पढ़ाई कर रही थी। मेरी गाण्ड पीछे को निकलने लगी थी और मम्मे एकदम फूल गए थे. उन्होंने मुझसे रेट पूछा और सारी बात हो जाने के बाद उन्होंने मैरिज वेन्यू के लिए जम्मू के एक स्कूल (शिक्षा निकेतन जीवन नगर जम्मू) का अड्रेस लिखवा दिया. जब मुझको लगा कि उसका दर्द कुछ कम हुआ है, तो मैंने बहुत धीरे धीरे अपना लंड हिलाना शुरू किया ताकि उसकी चूत मेरा लंड खाने लायक चौड़ी हो जाए.