बांग्ला बीएफ बांग्ला

छवि स्रोत,बीएफ पिक्चर यूट्यूब पर भेजें

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी घरेलू बीएफ: बांग्ला बीएफ बांग्ला, [emailprotected]आगे की कहानी:कम्प्यूटर सीखने के बहाने सेक्स का खेल-2.

बीएफ पिक्चर देखनी हिंदी में

अन्दर जाते ही मम्मी ने मुझे सामने देखा, तो उन्हें थोड़ा आश्चर्य हुआ. सेक्स भोजपुरी बीएफफिर वो मेरी तरफ देख कर हल्के से मुस्कुराई, मैंने भी मौके फ़ायदा उठाते हुए अपने होंठ उनके होंठों पर रख दिये.

फिर मैं अपना एक हाथ आगे करके भाभी की चुत पर ले गया और उनकी चुत को अपनी उंगली से चोदने लगा. बीएफ सेक्सी देहाती फिल्मजैसे ही मेरी बुर पानी छोड़ने लगी तो अब पच्च … पच्च …” की आवाजें आने लगीं.

नीरू का और मेरा घर पास में ही थे, नीरू ने मुझे फोन किया- जीजू, सविता और मैं आपके यहां आना चाह रही हैं, मम्मी से कोई बहाना करके आ जाती हैं.बांग्ला बीएफ बांग्ला: अभी तक मैंने सिर्फ़ बनियान और अंडरवीयर ही पहना था और जीन्स पहनने ही जा रहा था तभी पूर्वी हाथ में चाय का कप लिए अंदर आयी और मुझे कप पकड़ाते हुए और नज़रे नीचे किए हुए बोली- क्या हम एक बार और कर सकते हैं?सच कहता हूँ दोस्तो … उनकी उस अदा पर तो दिल ही आ गया.

वो जैसे ही फ्रेश होने के लिए खड़ी हुई तो उसको नीचे बुर में बहुत दर्द हो रहा था.उससे ये पक्का है कि आगे दो-तीन साल में तुझे कोई देसी लड़का नहीं संतुष्ट कर पाएगा.

ब्लू फिल्म की बीएफ - बांग्ला बीएफ बांग्ला

उन्होंने मुझे देखा और बोलीं- तुम यहां?मैं आंटी की आंख से आंख मिलाते हुए और एक हल्की सी नॉटी स्माइल देते हुए कहा कि जी हां.वे बोले कि वन्द्या अब तीन महीने तक तुम्हें कोई प्रॉब्लम नहीं होगी, चाहे तुम कितना भी कुछ करो … चिंता करने की जरूरत नहीं है.

मैं चुपके से देखता था कि वो क्या कर रही है, कब बालकनी में आती है और कब छत पर जाती है. बांग्ला बीएफ बांग्ला और यही बिस्तर आज इस घर में माँ-बेटों की चुदाई का भी प्रत्यक्ष गवाह बनने वाला था.

उसने एक पल के लिए मेरा पूरा लंड अपने अन्दर लेकर कर आंखें बंद करके मुझे कस कर पकड़ लिया.

बांग्ला बीएफ बांग्ला?

मैंने कहा- हां सासू माँ, आज तो मैं आपकी और मेरी दोनों की हर इच्छा पूरी कर दूँगा. मुझे समझ आ गया कि अब मेरी चूत खुलने का कार्यक्रम शुरू होने वाला है. अब तक आपने पढ़ा कि कार में मुझे उन तीनों अंकल ने लंड से चोदा तो था, पर अधूरा चोद कर छोड़ दिया था.

मैं पीछे घूमा, तो देखा भाभी ने पिंक रंग की नाइटी पहनी हुई थी, उसमें उनके मम्मों का उभार क़हर ढा रहा था. मुझसे रहा नहीं गया और उनका लण्ड पकड़कर चूत पर लगा दिया और अपने कूल्हों को ऊपर की तरफ धकेल दिया जिससे उनका लण्ड का थोड़ा सा हिस्‍सा चूत में चला गया।तभी उन्‍होंने अचानक से मेरी चूत में लण्ड को पूरा डाल दिया। मुझे थोड़ा दर्द हुआ तो मैंने भैया को कुछ देर रुकने को बोला तो भाई रुक गए और मुझे किस करने लगे. कॉलेज में मेरे क्लास फेलो लड़के भी हमेशा मेरे इर्द गिर्द घूमते रहते हैं.

उस रात जब वो नाइटी पहनने लगी, तो उसकी उतारी हुई चड्डी पर साफ़ साफ़ चूत रस के चिपचिपे दाग लगे नजर आये. उसकी उम्र तब 19 साल रही होगी। उसने अभी तभी कॉलेज में एडमिशन लिया था. मयूरी- माँ… अगर उनको पता चल गया तो मैं वादा करती हूँ… कि मैं उनको समझा दूंगी.

फ़िर मैंने बोला- मीतू दी मुँह में लो ना?तो वो बोलीं- मीतू दी मत बोल … रंडी बोल मुझे रंडी. ख़ुशी मेरे ऊपर आ कर अपनी चूची चुसवा रही थी … तो मैं नीचे से उसकी चूत में लंड डालने की कोशिश करने लगा.

फिर मैंने गेट पर जाकर कहा- अभी नहीं सीखी हो दूध पिलाना तो चिराग को घर देकर वापस आकर सिखा दूँ?कविता खड़ी खड़ी थोड़ी मुस्कुराई, तो मैं उसकी चुदास समझ गया.

मैंने उनकी टी-शर्ट निकालने के लिए हाथों को ऊपर किया तो उन्होंने भी तुरंत अपने दोनों हाथ हवा में किये और मुझे हरी झंडी दिखा दी.

आखिर पहला कदम उठाते हुए एक दिन जब वो सब्ज़ी काट रहा था, तब चुन्नी उतार सोफे पर रख इधर उधर देख रसोई में उसके पास आ गई. रात को खाना खाते समय सुलेखा भाभी ने फिर से मेरी तबीयत के बारे में पूछ लिया. वे 15 मिनट की चुदाई में ही झड़ चुकी थीं और मैं भी अब तक 2 बार झड़ चुका था.

ये सब इतनी जल्दी जल्दी हुआ कि मुझे कुछ सोचने और समझने का मौका ही नहीं मिल पाया. अब उसने फिर से मुझ पर चढ़ाई कर दी और मेरे होंठों को चूसने लगा, फिर होंठों से होता हुआ गले पर आया और मुझे खूब चाटा और काटा. मैं किचन में पानी पीने के लिए जा ही रहा था कि मेरी किचन की खिड़की पर पड़ी.

मैं बिहार का रहने वाला हूं, उम्र 21 वर्ष है, रंग गोरा है तथा मैं 5 फुट 10 इंच लम्बे कद का हूं.

मैंने एक मिनट इंतज़ार करने के बाद जब वो नार्मल हुईं तो मैंने एक जोर से धक्का मारा. कॉलेज बंद होने से दो पीरियड पहले वो ही लड़की मेरे पास आई और बोली कि तुम्हें प्रिन्सिपल ने बुलाया है. अपने सामने नंगी पड़ी रेवती को देखकर मैंने सोचा क्यों ना रूप की इस देवी को हमेशा के लिए अपने पास रख लिया जाए और मैंने उसी अवस्था में उसका एक फोटो अपने मोबाइल में ले लिया, जिसके लिए मैंने रेवती से इजाजत ली थी.

पूजा अपने होंठों को अपने दांतों से दबा कर मंद मंद मुस्कुरा रही थी और मेरी तरफ नशे में डूबी हुई आंखों से देख रही थी. चाचा- तुम्हारी चूत ही इतनी रसीली है मेरी चुदक्कड़ रानी कि मैं चोदे बिना एक रात भी नहीं रह सकता. और जोर से करो।दस मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों का पानी निकल गया। थोड़ी देर ऐसे ही पड़े रहे.

माइक इधर मुझे बातें करने लगा, उसने पहले तारा की तारीफ करनी शुरू कर दी.

हालांकि लेटे रहने के मन होने के बावजूद मैं उठा और फ्रेश होने चला गया. तभी वो एकदम से खुद को ऐंठते हुए झड़ गयी और उसने मुझे अपने ऊपर जकड़ सा लिया.

बांग्ला बीएफ बांग्ला फिर धीरे से मैंने उसकी आंखों में देखते हुए उसके निप्पल को चूसने लगा. उसने रास्ते से किसी होटल से खाना पैक करवा लिया था, जिसको घर पर पहुँच कर खाया गया.

बांग्ला बीएफ बांग्ला और एक बात, जिससे मैं तुमको मिलवाऊंगी, उसे मैं तुमको अपना कज़िन बोलूँगी. थोड़ी देर बाद मैंने ड्रेसिंग टेबल के शीशे में देखते हुए एकाएक पूजा की पेंटी खींचकर उसके पैरों के पास ले गया.

मैंने सोनल को बोला- मैं आ रहा हूँ … जल्दी से बोल … कहां निकालूँ?तो बोली- आह … अन्दर ही डाल दे … मैं तेरा पानी लेना चाहती हूँ … तू मेरी बुर में ही डाल दे.

নাইজেরিয়া সেক্স

मैं चुपके से देखता था कि वो क्या कर रही है, कब बालकनी में आती है और कब छत पर जाती है. माइक तारा के पीछे आया और अपना लिंग तारा की योनि में प्रवेश करा दिया. मॉम मुझसे पूछने लगीं- ये क्या बोल रही है?अब मैं क्या कहता कि ब्लू फिल्म देखते हुए मुठ मार रहा था, तो मैंने झूठ बोला कि बहन झूठ बोल रही है.

आप कह सकते हैं कि सेक्स लाइफ के बारे में सबसे ज्यादा मैंने यहीं से सीखा है. थोड़ी देर बाद फिर से मेरे लंड को पकड़कर अपने मुँह में घुसेड़ लिया और जोर जोर से चूसने लगी. अब मैं बहुत खुश थी कि मेरे दो ब्वॉयफ्रेंड हैं, लेकिन क्या करें धीरे धीरे मैं अपने ब्वॉयफ्रेंड्स से अलग हो गयी क्योंकि परिवार की वजह से मुझे ये सब करना पड़ा.

दोस्तो, आपने मेरी पहली कहानीडांस कॉम्पटीशन में मस्तीको पढ़ा और सराहा, जिसके लिए आपका बहत-बहुत धन्यवाद.

मनीष और भाभी बेड पर बैठ कर बातें कर रहे थे, मनीष भाभी का सर सहला रहा था. तो मैं अपने होंठों को उसके होंठों पर रखकर चूसने लगा और अपने लंड को उसकी चूत में दबाने लगा. दो मिनट तक मैं यूं ही मन्त्रमुग्ध सा भाभी की सफाचट चूत को देखता ही रहा.

मेरी नज़र उस पर ही थी, जब उसने मुझे लिटाया, तब उसकी नज़र मेरी पहाड़ जैसी चूचियों पर टिकी थी. कामवासना के चलते मैंने एक बार वहां भी भाभी की चुदाई की, फिर बाहर आकर उन्होंने अपना गाउन पहना और मेरे लिए चाय बनाई. मैं बारी बारी से उसके दोनों मम्मों को चूसता और निप्पल काट लेता था, जिससे वो चिहुँक जाती थी और मुझे किस करने लगती थी.

मैं जा रही हूँ … मम्मी आने वाली होंगी, इसलिए तुम‌ भी‌ अब‌ अपने‌ कपड़े‌ पहन‌ लो. मैंने उनसे पूछा कि भाभी आपको कैसे लड़के पसंद हैं?मैं सोच रहा था कि शायद इस सवाल पर भाभी कुछ भड़क जाएंगी क्योंकि वे तो शादीशुदा थीं.

वो झुक कर समझाती, तो में ठीक उसकी चेयर की साइड में खड़ा रहकर उनके बड़े बड़े चुचे देखता रहता. अब तक इस सेक्स स्टोरी के पहले भागकम्प्यूटर सीखने के बहाने सेक्स का खेल-1में आपने जाना कि सोनल ने मुझे अपने हुस्न के हर तरह के जलवे दिखा कर फंसाने की कोशिश की … लेकिन मैंने उसके साथ कोई भी गलत हरकत नहीं की. वो मुझसे बोला- चल आज कॉम्पिटिशन रखते हैं कि कौन ज्यादा देर तक अपने माल को चोद पाता है.

वो मस्ती में आंखें बंद करे हुए अपनी जांघें जोर से दबाए हुए और अपने दोनों हाथों से मेरे हाथ पकड़ते हुए बैठ गई थी.

चाची- आह … आह … कट गई … मैं गई!मैं- ओह चाची … मुझे भी मजा आ रहा है. मैंने उससे बोला कि आज कुछ भी हो जाए … तेरे को नीचे बैठने का नहीं है. योनि के ऊपर हल्के काले बाल, योनि की पंखुड़ियां हल्के काले और किनारे भूरे रंग की थीं, जैसा कि हम आम हिंदुस्तानी औरतों की होती हैं.

मुझे ये बात मेरी सहेली ने बताई थी कि घर में सेक्स करने से यही फायदा है और मुझे ये बात अच्छी भी लगी थी. लालजी ने वन्द्या की सेक्सी सेक्सी फोटो दिखाई थी कुछ नहाते की और कपड़े बदलते की.

शाम को मीतू दी का मैसेज आया- गजल कैसी लगी?मैं- गजल तो अच्छी थी पर…मीतू- पर क्या?मैं- गजल से ज्यादा तो आपके फोन में वीडियो मस्त थीं. मैंने मेरी दोनों टाँगें उसकी जांघों पर कस दी और मेरी बांहें उसकी पीठ को सहलाने लगी. मैं अन्दर नहीं आऊंगा और वैसे भी अगर आ गया तो मुझे अंधेरे में कुछ दिखेगा ही नहीं.

वन टू थ्री सेक्सी

दीमा संग हम दोनों के मुंह से एक सिसकारी सी निकली और नताशा ने अपना मुंह चौड़ा खोलते हुए दोनों टोपों को मुंह के अन्दर लेकर अपनी गुलाबी जीभ से चाटने लगी.

तब मैंने अपने हाथों को पूजा के पीठ पर ले जाकर पहले उसकी पीठ को सहलाया और उसके चूतड़ों को सहलाना शुरू कर दिया. और हम सब चूत के शौकीन लोग अपना एक नया व्ट्सऐप ग्रुप बनायें और सब खिलाड़ी लोग अपने अनुभव साझा करें।मुझे मेल कर के बतायें कि आपको मेरा सुझाव कैसा लगा।धन्यवाद. मैंने पूछा- चाचा आपकी गांड कितनी मारते थे?चाची- जिस दिन तेरा चाचा दारू पी लेता था.

रेवती अब बिस्तर से खड़ी हुई और मेरे कपड़े उतारने लगी और साथ ही मुझे चूमती जा रही थी. फिर उन्होंने मेरा पूरा लंड अपने मुँह में भर लिया, जो सही से उनके मुँह में आया ही नहीं. प्रीति जिंटा का बीएफ वीडियोमेरे शरीर के हथियार डालते ही बड़े ने बहुत हौले से अपने पोल को मेरे होल से थोड़ा सा बाहर निकाला और छोटे को इशारे से कुछ कहा.

हां बगलों के बाल भी पूरी तरह से साफ़ करके पूरी चिकनी चमेली बन कर आना. सुशीला- क्या एक ही कमरा?मैं- हाँ …सुशीला गुस्से से- एक ही कमरे में हम तीनों कैसे रहेंगे … पराये मरद के साथ तो मैं नहीं रह सकती.

मेरी एक बड़ी प्रॉब्लम है कि मैं हर एक खूबसूरत स्त्री से प्रेम करने लगता हूँ, तो शायद उनसे भी करने लगा. मम्मी मुझे देख कर बोलीं- अब कैसी है तेरी तबियत सोनू?मैं बोली- अच्छी हूं अब ठीक लग रहा है. वो अब जानबूझकर मानसी की चूचियाँ जोर जोर से मसलने लगा ताकि उसे दर्द हो!मानसी- आहिस्ता अहह आह … आहिस्ते डॉक्टर साहब!दीपक- चुप रंडी, कितनों से चुदवा चुकी है … तुझ पर कोई असर नहीं होता!बोल कर और जोर से उसकी चूची को मसल दिया और जोर जोर से धक्का लगाने लगा।इधर मैंने सुशीला की चूत से मुँह निकाला और अपना लंड उसके मुँह में दे दिया.

कुछ देर तो नेहा की चूची नमकीन स्वाद देती रही, मगर जब उसका सारा पसीना साफ हो गया तो धीरे धीरे‌ उसकी चूची की चिकनाहट अब मेरे मुँह में घुलना शुरू हो गयी. मैं छुट्टी के टाइम पर बहन के स्कूल उसे लेने गया, लेकिन वो सबके सामने ही शुरू हो गई- क्यों लेने आए मुझे … तुमने तो कहा था कि बात भी मत करियो. मयूरी- माँ… अगर उनको पता चल गया तो मैं वादा करती हूँ… कि मैं उनको समझा दूंगी.

फिर सर ने बड़े प्यार से मुझे सीधा लिटाया और पास पड़े कपड़ों को गोल सा करके मेरे चूतड़ों के नीचे रख दिया.

शीतल ने अपने दोनों बेटों का लंड चूस लिया था। पर इस उसके लिए सब कुछ नहीं था. भूल गई तुम, तुम्हारा स्वागत कैसे किया गया था?फिर दो लड़कियां मेरे पास आईं और बोलीं- जो हम बोलेंगी, तुम उसको रिपीट करना.

मैंने उनके गले और छाती पर चूमना शुरू कर दिया और मेरा हाथ उनके गाउन के अन्दर जाने लगा. वाकयी तारा की हिम्मत का जवाब नहीं था कि उसने इतने मोटे और लंबे लिंग को सहा और शिखर पे साथ चढ़े. कहानी का अगला भाग पढ़ना बिल्कुल मत भूलिएगा दोस्तो क्योंकि अगले भाग में मेरे और रेवती के प्यार को अंजाम मिलने वाला है.

उस तरह की फोटो देखना, मुझे अपने कक्षा के सिलेबस की बुक्स से ज्यादा सेक्सी कहानियां पढ़ने में इंटरेस्ट अपने आप रहता था. नेहा ने भी खिड़की से मेरी और प्रिया‌ की चुदाई देख ली थी, इसलिए शायद वो तब से ही उत्तेजित थी. लेकिन वो वहां पर अपनी बाहों में लेकर बस इधर-उधर किस कर दिया करता था.

बांग्ला बीएफ बांग्ला और उसकी इस हरकत ने मेरी उत्तेजना को सातवें आसमान पर पहुँचा दिया और मेरे होंठों से भी सिसकारी फूट पड़ी. मैंने देर ना करते हुए एक जोरदार धक्का सविता की चूत में लगाया, मेरा आधा लंड सविता की चूत में समा चुका था, सविता के मुंह से हल्की सी आह निकली लेकिन नीरू ने पहले ही उसकी कमर को कस कर पकड़ा हुआ था तो सविता की एक न चली और मैंने अपना लंड थोड़ा बाहर खींचकर एक जोरदार धक्का सविता की चूत में लगाया तो मेरा पूरा लंड सविता की चूत में समा चुका था सविता के मुंह से कराहट निकल उठी.

गंगा सेक्सी व्हिडिओ

उन्होंने भी थोड़ी देर मज़ा लेने के बाद मेरा पेंट उतार दिया और चड्डी में से लंड निकाल कर चूसने लगीं. पर दो-तीन मिनट धीरे धीरे करना और उसके बाद खुद सोनू बोलेगी कि स्पीड बढ़ाओ. फिर मुझे लगा शायद आज ही मनीष की मुराद पूरी हो जाएगी, लेकिन तभी भाभी उठ गईं और बोलीं- मनीष अब सोते हैं.

दो मिनट तक मैं यूं ही मन्त्रमुग्ध सा भाभी की सफाचट चूत को देखता ही रहा. अंकल ने मुझको अपनी बांहों में लिया और लंड को पकड़ कर चुत में हल्का सा धक्का दिया. बीएफ पिक्चर ओपन हिंदीमैं उनके पैरों की तरफ आ गया और उनकी पिंडली के बिल्कुल नीचे वाले हिस्से को चूसना शुरू कर दिया.

नेहा ने भी खिड़की से मेरी और प्रिया‌ की चुदाई देख ली थी, इसलिए शायद वो तब से ही उत्तेजित थी.

मैंने धीरे से पूजा को घुमा दिया, जिससे मुझको उसके साइड और आगे और पीछे का रूप दिख सके. तो वह बोला- बता तो, तेरे लिए तो कुछ भी करेंगे और किसी को पता भी नहीं चलेगा.

मोटा लम्बा लंड एकदम से गांड में घुसने से बेबी को दर्द तो बहुत हुआ, पर वो इस बार चीखी नहीं. उसने मुझसे दोबारा कहा- जब से तुम्हारी फ़ोटो देखी, तब से मिलना चाहता था. तो दोस्तो, कैसी लगी आपको मेरी स्टूडेंट टीचर सेक्स कहानी, मुझे मेल करके जरूर बताइयेगा.

उसकी पेंटी की वो जैस्मिन और गुलाब की सुगंध के साथ हल्की नमकीन वाली मादक खुशबू मानो मुझ पर ऐसा जुल्म ढहा रही थी कि मेरे लंड की सारी नसें फट कर बाहर आ जाएंगी.

मुझे भी यह स्वीकार करने में कोई झिझक या संकोच नहीं है कि मैं भी तुमसे प्यार करने लगी हूं. मेरा रंग सांवला व सेक्सी है, लंड पोरा नपा हुआ 7 इंच लम्बा व 4 इंच गोलाई लिए हुए है. अब वो तीनों भी एक एक बार झड़ चुकी थीं और मुझे भी थोड़ा आराम चाहिए था.

प्रियंका चोपड़ा का बीएफ चाहिए[emailprotected]कहानी का अगला भाग:गांव वाली साली की सहेली को चोदा-2. वो बेबी को मुझसे लेकर बेड पर जाकर शर्ट के ऊपर से ही दूध पिलाने लगी.

सेक्सी गर्ल सेक्सी फिल्म

कुछ देर तक माँ ने मेरी गांड में बैंगन को अंदर-बाहर किया और फिर उसको निकाल कर चाट गई. मुझे भी उसका इस तरह से नम्बर माँगना नॉर्मल सा लगा, तो मैंने अपना नंबर दे दिया. मैं अपने चूतड़ और ऊपर उठा कर अपनी फुद्दी उसके होंठों की तरफ धकेलने लगी- चूस मेरे शेर … उफ्फ मेरे राजा खा जा मेरी फुद्दी … तेरे मालिक से कुछ नहीं होता.

नीरू ने उसकी चूत को चौड़ा करके फैलाया हुआ था और मेरा लंड उसकी दरार पर सेट हो चुका था. प्रियंका की बात से आईडिया आया कि क्यों ना हम लोग वॉशरूम ही चल कर आगे का काम करें. उसके बाद पूजा मुझे फिर से जकड़कर पकड़ते हुए अपनी पतली कमर उठा उठाकर मुझे चोदने लगी.

फिर एक बार मेरे आखिरी झटके के साथ ही हम दोनों के मुख से एक साथ मादक सीत्कार फूट पड़ी. शीतल (हैरानी से)- मतलब तुझे अपने बाप से के लंड से चुदने का मन करता है?मयूरी- मेरा तो मन किसी भी मर्द के लंड से चुदने का करता है माँ… फिर चाहे वो कोई भी हो अपना बाप या कोई और मर्द… और वैसे भी, दुनिया के हर लड़की का पहला प्यार उसका बाप होता है… जैसे दुनिया के हर लड़के का पहला प्यार उसकी माँ होती है. इतने में एक अंकल मेरी गांड में बहुत सारा थूक लगा दिया और चूतड़ खोल कर गांड चाटने लगे, अन्दर जीभ डालने लगे.

उन्होंने अपने हाथों का घेरा बना कर मुझे कस कर पकड़ लिया और मेरा साथ देने लगी. अचानक मनीष ने नीचे से धक्का मार दिया, पूरा लंड एक बार में चूत में घुस गया.

दो पल बाद ही वो जोर से चीखी और मेरे मुँह में पानी छोड़ कर शांत हो गयी.

वो दर्द से डरती थी, वैसे मैंने उसे सब बता रखा था, लेकिन कोई भी नया काम करते वक़्त सबको डर लगता ही है. पुलिस का सेक्सी बीएफमैंने भी उसके एक दूध को चूसना शुरू कर दिया और दूसरी चूची को दबाने लगा. बीएफ मोटी मोटी गांड वालीथोड़ी ही देर में पूर्वी ने खाने का पार्सल लाकर मेज पर रख दिया और अपना ग्लास उठाते हुए- खाना कब खाना है?मैं- अभी जो कर रहे हैं, इसे पूरा करने के बाद देखते हैं. एक स्तन मुँह में लेकर छोटे बच्चे की तरह चूसने लगा दूसरे स्तन के निप्पल को मरोड़ रहा था। ऐसा दस मिनट तक चला। फिर मैंने धीरे-धीरे उसके पूरे बदन पर चुम्बन करना चालू किया। उसके चूतड़ कयामत थे। सोचा साली के चूतड़ ही खा जाऊँ।वो मेरा लण्ड चूस रही थी, मैं उसकी चूत चाटने लगा। जैसे ही मैंने चूत पर मुँह रखा, वो उछल पड़ी और ‘हह.

क्या लगता है ऐसा क्यों हुआ?उस पर मैंने कहा- पता नहीं मेरे साथ क्या अच्छा होने वाला है, जो मैं आपसे बार बार मिल रहा हूँ.

वो बोली- नहीं मैं जल्दबाज़ी में नहीं करना चाहती थी, मुझे पूरे प्यार और टाइम के साथ करना अच्छा लगता है. फिर उन्होंने मेरा पूरा लंड अपने मुँह में भर लिया, जो सही से उनके मुँह में आया ही नहीं. मेरी बुर में वीर्य पूरी तरह से भर गया था और ऐसा लग रहा था कि अब मेरी की बुर में अंकल के वीर्य के अलावा कुछ भी नहीं है.

अब आगे:मेरी पत्नी ने कहा- ओ माय गॉड … आप दोनों कितने हॉट लग रहे हैं! आप दोनों को एक घंटा हो चुका है अभी तक आपने नीरू की सील तोड़ी या नहीं?मैंने कहा- नहीं यार, यह सील तोड़ने नहीं दे रही है, इसको बहुत घबराहट हो रही है. आप कह सकते हैं कि सेक्स लाइफ के बारे में सबसे ज्यादा मैंने यहीं से सीखा है. फिर उसने मेरी ब्रा और पैंटी को भी खोल दिया और मेरे बूब्स को पूरी तरह मसलने लगा.

సెక్స్ ఫొటోస్ సెక్స్ ఫొటోస్

वो नौकर खाना लेकर भी आता होगा!” कम्मो ने मुझे अपने से दूर हटाया और खुद दूर खिसक कर बैठ गयी. मैं भी रुका नहीं, मैं उनकी चुत में से बार बार अपना लंड निकालता और फिर तुरंत उनकी चुत में पेल देता था. मैं भी अब अपनी हथेलियों से धीरे धीरे सुलेखा भाभी के नंगी चिकनी पिण्डलियों को सहलाते हुए धीरे धीरे उनकी साड़ी को ऊपर की तरफ खिसकाने लगा … मगर उनकी जांघों पर पहुंच कर मेरे हाथ रुक गए.

मुझसे अब रहा नहीं जा रहा था इसलिए मैं अब सीधा ही उसके एक निप्पल को मुँह में भर कर गप्प कर गया और नेहा के‌ मुँह से एक‌ मीठी सीत्कार सी फूट पड़ी.

वह समझ नहीं पाई कि उसकी मां क्यों चीख रही है।लेकिन अब तो सुशीला को हम लोग किसी रंडी की तरह से चोद रहे थे, रंडी की गांड में भी दो लंड एक साथ नहीं घुस सकता लेकिन मैंने सुशीला की गांड में दो दो लंड घुसा दिये थे। उसकी गांड से खून बहने लगा था लेकिन वह बहुत गर्म हो रही थी इतना कुछ होने के बाद भी वह अपने गांड को हिला रही थी।मैं समझ गया कि यह कुतिया कितनी गर्म है.

कल रात में दीदी के मुँह में लंड चुसवा कर पानी उनके मुँह में छोड़ा था, अब उनकी सहेली के मुँह में मेरा लंड था. मैंने आवाज दी तो भाभी ने मुझसे बोला कि मैं नहा रही हूँ, तुम बाद में आना. मराठी बीएफ दिखातभी मेरी पत्नी ने एक क्रीम की शीशी उठाई और मेरे लंड पर अच्छी तरह से उसको लगाया और कुछ क्रीम नीरू की चूत के मुहाने पर लगाई क्योंकि नीरू की चूत में बहुत हल्की सी दरार नजर आ रही थी, वह बिल्कुल बंद थी तो उसने उस दरार पर भी क्रीम लगा दी.

मेरे मन में ऐसा महसूस होने लगा, जैसे मैं उसके लिंग को योनि से दबोच लूँ और बाहर न जाने दूँ. बीच बीच में मैं भाभी को भी देखने लगता और कभी कभी भाभी से मेरी आँख भी टकरा जाती थी, पर मैं झट से उनकी तरफ से नजरें फेर देता था. मुनीर ने माइक के लिंग के सुपारे को तारा की योनि में प्रवेश करा दिया.

तेरे लिए तेरी मम्मी को भी पटा लेंगे, चाहे कुछ भी करना पड़े, कितना भी देना पड़े. उसने मुझे समझाना शुरू कर दिया कि औरत की योनि तो रबर की तरह होती है.

अपनी इस महत्वाकांक्षा के फलस्वरूप मैंने अपनी दाई टांग ऊपर हवा में उठा दी और दीमा ने बाईं टांग सोफे से नीचे रख ली.

बात उस रात की है जब रिश्तेदार ज्यादा होने की वजह से मैं मेरी बहनों के पास आँगन के बाहर खुली जगह में सोया हुआ था. प्रिया से बात करके मुझमें अब फिर से विश्वास आ गया था, मैं अब ये सोच ही रहा था कि सब कुछ मालूम होने पर भी प्रिया ने किसी को कुछ बताया नहीं था. मैं- बेटी हम एक बार डॉक्टर को देखने के बाद सारा शहर घूमेंगे।मानसी- अच्छा चाचाजी … आप शहर घुमायेंगे।कहकर खुशी से उछल पड़ी.

विलेज देसी बीएफ जो अंकल मेरी गांड को चाट रहे थे, अब वह पीछे लिपट गए और मेरे कूल्हों में और मेरी गांड में अपना लंड रगड़ने लगे. अचानक तारा ने मुनीर की योनि चाटनी छोड़ दी और जिस हाथ से वो उसकी योनि को सहला रही थी, उसी हाथ से उसकी जाँघें दबोच लीं.

मैं भाभी के साथ इस क्रॉस की सी अवस्था में आ गया, इससे भी लिंग योनि के भीतर उन स्थानों पर चोट मारता है, जहाँ कि साधारण अवस्था में नहीं पहुँच पाता. गांड चुदाई की कहानी बाद में लिखूंगा, तब तक के लिए सभी चूत और लंड वाले भैया भाभियों, माल आइटमों को मेरे लंड का सलाम. बहन बेचारी उस समय कुछ नहीं जानती थी तो वो बोली- जरूरत से ज्यादा खाना खाकर ही कोई भी मोटा हो जाता है.

मराठी सेक्सी व्हिडिओ मराठी मराठी

परमात्मा से मेरे लिए दुआ करना कि मैं इतना सेक्स करूँ कि तेज तेज करके भी मेरा वीर्य ना निकले, मेरा लंड न झड़ पाए!और आखिर में यही कहूंगा … यही दुआ मैं आप लोगों के लिए करूंगा. नमस्कार दोस्तो, जैसा कि आप सभी ने मेरी पहली कहानीपड़ोसन भाभी की कुंवारी गांड की चुदाई की गंदी कहानीमें पढ़ा था कि कैसे मैंने अपनी एक पड़ोसन भाभी की गांड मारी और उसके बाद कई और बार भी उनके साथ चुदाई का लुत्फ़ लिया. साथ में मेरे सामने मीना और मोनिका भी मेरे खड़े लंड को श्रीमती जी की चूत में पेवस्त होते देख रही थीं.

वो अपनी गांड को हिलाते हिलाते उचक रही थीं और मुँह से तरह तरह की आवाजें निकाल रही थी- ह्म्म्म्म म आहह बेटा आअहह ओह…फिर मैं उनके पास पलंग पे आकर बैठ गया और उन्हें भी उठाकर बिठा दिया. मुनीर ने मुझसे कहा- तुम इतनी उम्र की हो … फिर भी बच्चों जैसी बातें करती हो.

मेरे पास आते ही वो वहीं सीढ़ियों पर झुक गई और अपनी स्कर्ट पीछे से उठाती हुई बोली कि प्लीज आज मुझे यह दे दो.

सतीश को टाइम लग रहा था तो हिमांशु बोला- मैडम आप कुछ पिएंगी, कॉफी चाय … मैं ला देता हूं. समाली अंकल अब सीधे इसकी गांड में अपना लंड टिकाओ और मैं सोनू की चूत में जोर से पेलता हूं. वो जैसे जैसे मेरी चूत में ज़ुबान आगे पीछे करते, मैं अपने चूतड़ उठा लुत्फ उठाती.

तब मेरे पड़ोस में एक परिवार रहने आया था। उस परिवार में पति-पत्नि बेटा और बेटी थे।उसकी बेटी मेरी ही हम उम्र थी। थोड़े दिन तो यूँ ही गुजर गए और फिर धीरे-धीरे मेरी और उसकी दोस्ती हो गई। मैं उसका नाम बताना तो भूल ही गया. मेरे मन में तो उस वक्त लडडू फूट रहे थे … फिर भी मैं एकदम सामान्य बना रहा. इतनी देर चुदाई के बाद चूत के होंठ आपस में नहीं जुड़ सके थे, जिस वजह से मुझको अपनी खुली चूत में ठंडी हवा लगनी महसूस हुई.

अंकल मेरी काली और फूली हुई रोएं से भरी बुर पर नज़रें गड़ाए अपनी उंगली से बुर को चोद रहे थे.

बांग्ला बीएफ बांग्ला: आप सभी आंटियों भाभियों एवं लड़कियों तथा हमारे प्रिय दोस्तों से निवेदन है कि आप सभी अपने सुझाव मुझे ईमेल करके भेजें ताकि मुझे और कहानी लिखने की प्रेरणा मिल सके. थोड़ी देर बाद जब मेरा निकलने वाला था, तब मैंने उससे पूछा- कहां निकालूँ?उसने कहा- आह … अन्दर ही निकाल दो.

मेरा रंग सांवला व सेक्सी है, लंड पोरा नपा हुआ 7 इंच लम्बा व 4 इंच गोलाई लिए हुए है. यह सुनते ही सोनू ने मेरा हाथ पकड़ के मुझे अपने ओर खींच कर मुझे अपनी जांघों पे बिठा लिया. दोस्तो, उनके बूब्स काफी बड़े लगते हैं और ऐसा लगता है, जैसे हमेशा उनके टॉप से बाहर आना चाहते हों.

यदि ऐसा ही रहता है तो कपड़ों में से क्यों नहीं दिखाई देता?मैंने कहा- यही तो इसकी खासियत है.

शायद मेरे साथ ये सब करते हुए वो शर्मा रही थी इसलिए मैंने अब खुद ही अपनी कमर को खिसका कर अपने लंड को उसके होंठों से लगा दिया. उसने बुर्का पहन रखा था, तो वो बेफिक्र मेरे कंधे पर हाथ रख कर बैठ गयी. साथ ही मादक आवाजें करने लगी- आह … और जोर से चूसो रेनिश … आज इसका सारा दूध पी जाओ … आआह … प्लीज़ फ़क मी रेनिश … और जोर से!थोड़ी देर मम्मों को चूसने के बाद मैं उसको बेड पे ले आया और उसकी पैंटी के ऊपर से बुर को सहलाने लगा.