बताइए बीएफ

छवि स्रोत,चोदा चोदी वाला बीएफ बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू फिल्म वीडियो नंगी: बताइए बीएफ, यह कहकर उसने मेरी बीवी के बाल पकड़कर उसके आराम से उसके होंठ खाने लगा.

जवानी 16 साल की बीएफ

उसकी चुत की फांकों के ऊपर से चाटते हुए धीरे धीरे मैंने अपनी जीभ को चुत की दोनों फांकों के बीच घुसा दिया और अब चुत की दोनों फांकों के अन्दर के गुलाबी भाग को अपनी जुबान से चाटने लगा. एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ ओपनमैंने उसको बोल दिया कि मुझे उसके जैसी आज तक कोई मिली ही नहीं जिसको मैं अपनी गर्लफ्रेंड बना सकूँ.

मैंने जैसे ही उसकी चूत को टच किया, सलोनी ने झट से मेरा हाथ पकड़ लिया. रानी के सेक्सी वीडियो बीएफमैं दूध लाने जा रहा था, तो भाभी जी ने बोला- आशिक, कहाँ जा रहे हो?तो मैं बोला- भाभी जी दूध लाने!भाभी जी बोलीं- क्या करोगे, मैं चाय बना रही हूँ.

इस कहानी को पढ़कर सभी भाभी लोग मेरे लंड के नाम की अपनी चुत में उंगली करेंगी.बताइए बीएफ: लड़की को अधूरे में कोई चोदना छोड़ दे तो वह सोच नहीं सकता कि लड़की की क्या हालत होती है.

अन्दर सोनल को दादाजी के सुपारे को मुँह में लेकर चूसते देख कर उत्तेजना से मेरी आंखें बंद होने लगी थीं.मेरी पिछली कहानीमेरी प्यासी चूत में जीजू का लंडकी तारीफ़ बहुत सारे पाठकों ने की.

सेक्सी बीएफ चुदाई फोटो - बताइए बीएफ

उसकी नई-नई चूचियों को भींचते हुए उसकी चूत में लंड डालने का चस्का मुझे ऐसा लग चुका था कि मैं जल्दी ही अपने चरम पर पहुंच जाता था.अगर मैं अपनी सेक्स की दास्तान के बारे में बात करूं तो करीब-करीब एक सौ बार मैं अपनी चाची की चूत चोद चुका हूँ.

उसकी योजना थी कि हम कहीं होटल या घर की जगह ऐसी जगह मिलें, जहां कोई आता जाता न हो. बताइए बीएफ हो गयी तसल्ली? कर आया अपनी मर्जी? या और भी कुछ बाकी है …” उसने गुस्से से मेरी तरफ देखते हुए कहा और वहां से जाने लगी.

आप कमेंट्स के द्वारा ज़रूर बताना कि आपको मेरी यह डर्टी सेक्स वाली गंदी चुदाई की कहानी कैसी लगी.

बताइए बीएफ?

उसने मेरे लंड को टच किया और मुझे आँख मारी तो मैं भी उसको बांहों में भर कर किस करने लगा. ” मैं ये सब सोच ही रहा था कि तभी नेहा ने मुझे गहरी निगाहों से देखते हुए छुआ. हम दोनों जोश में थे, तब उन्होंने मुझसे बोला- मनीषा आज तो दो हो जायें?मैं उनका इशारा समझ चुकी थी, मैंने ना में इशारा किया।परंतु वे नहीं माने.

मैं खुद पर काबू नहीं रख पाया और जल्दी से उसके पेटीकोट के साथ उसकी पेंटी भी उतार दी. जैसे ही मेरे लंड के सुपारे ने नेहा की मुनिया को छुआ … उसके पैर जोरों से कंपकंपा गए और उसने ‘इइईईई … श्श्श्श्श्श … अह्हहहह …’ की एक सुबकी सी ली. अगर आपको इसमें कोई ऐतराज ना हो तो?चाची ने मुझसे कहा- हाँ ठीक है, तुम बैठकर अपना मन बहला लो, मुझे उसमें कोई आपत्ति नहीं है!उस समय चाची ने सफेद रंग का सलवार कुर्ता और चूड़ीदार पजामा पहना हुआ था जिसमें वो बड़ी सुंदर नजर आ रही थी.

दो मिनट में ही उसके निप्पल एकदम कड़क हो गए और वो मेरी तरफ को घूमी तो मैं उसके एक चुचे को मुँह में भर कर चूसने लगा और एक हाथ से दूसरा चूचा दबाने लगा. क्याआआ?” हैरानी के कारण मेरे मुँह से निकल गया और मैं तुरन्त नेहा की तरफ देखने लगा … वो अब मेरी तरफ देखकर मुस्कुरा रही थी. ऐसे करते हुए उनकी पता नहीं कब सैटिंग हो गई, मुझे मालूम ही नहीं चला.

वह कोई न कोई बहाना बनाकर बाहर निकलती थी और मेरे कमरे की ओर देख कर वापस चली जाती थी. कुछ देर के बाद मामी को उसने नीचे लेटा दिया और वह मामी के ऊपर चढ़ गया.

नैना ने थोड़ा ऊपर होके खुद ही अपनी पैंटी उतार दी और मैं उसकी बिल्कुल साफ़ चूत को देखने लगा.

मैंने लगा उठ कर देखा, तो कंचन मैम ने फिर से मेरा लंड मुँह में ले लिया था और वो लंड चूसने में लगी थीं.

मैं उसके निप्पल को छोड़ पेट को चाटता हुआ जांघों पर पहुंचा तो मैंने देखा नंगी बुर को देखा. यहां तक कि बाद में नीना अपनी सहेलियों और बहनों को भी ‘चक्की’ स्टाइल में चुदाई करने की मुफ्त सलाह देने से कभी नहीं चूकी. हमारी गौशाला से सटे मकान में कोलकाता से एक बंगाली परिवार रहने को आया था.

एक दिन हमेशा की तरह मकान मालिक और उनकी बीवी के जाने के बाद मैं और ऊषा घर में अकेले बचे. मैं पिछली फरवरी में अपनी बहन की ससुराल गया, तो सुनीता वहीं बैठी थी. उनकी आंखों से आंसू आ गये, लेकिन मुझे उनके चेहरे पर संतुष्टि साफ साफ नजर आ रही थी.

मैंने तुरन्त उसकी चूचियों को दबोच लिया और उसके होंठों का रसपान करते हुए बारी बारी से उसकी दोनों चूचियों को भी मसलने‌ लगा.

जबकि सुखबीर ने मुझे ऐसे सुझाव देने शुरू कर दिए थे, जैसे मैं कोई अबला नारी हूँ. थोड़ी देर बाद मैडम झड़ने लगी, वो मेरे लंड के ऊपर ही झड़ गयी और मेरी छाती के ऊपर लेट गयी. अनु इतना जल्दी जल्दी और इतना जबरदस्त चूस रही थी, बिल्कुल कुल्फी की तरह लंड चुसाई हो रही थी.

उसके बाद मैं इसकी नियमित पाठक बन चुकी हूं और आज अपनी ज़िंदगी की एक मस्त चुदाई लेकर आई हूं. अब स्वीटी बहुत मजे से अपनी कमर उछाल उछाल कर मेरे लंड से चुदवा रही थी. मैं आपको अपनी मकान मालकिन भाभी की कामुकता की आग की कहानी बता रहा हूँ.

मैंने उनसे पूछा- कहां जा रहे हो?तो वो बोले कि एक रिश्तेदारी में जा रहे हैं.

दीवार के सहारे रखी अनाज की बोरियों पर मामा बैठ गए और अपने सामने खटिया को रखा. आज इतने साल बाद मेरा लंड इतना खड़ा हुआ है और मैंने इतना चोद पाया है तुझे.

बताइए बीएफ मेरा नाम राज है, उम्र 26 साल है और जैसा कि चुदाई की कहानी के लिए सबसे जरूरी लंड के बारे में बताना होता है, मेरे लंड का साइज 6 इंच के आस-पास है और मेरी हाइट 6 फीट है, जो कि एकदम रीयल है. अगले हफ्ते फिर पति चले गए, तो उस रात भी बहुत सी बातें हुईं और फ़ोन रखने से पहले उसने मेरे और मेरे पति के बीच सम्बन्धों के बारे में पूछने चाहा.

बताइए बीएफ उसने मुझसे कहा- इसकी क्या जरूरत थी?मैंने उससे कहा- जान आज हमारी सुहागरात है तो पति का फर्ज़ होता है कि अपनी पत्नी के लिए कुछ ना कुछ उपहार लेकर आए. ये कहकर मेरे जेठ मेरे कपड़ों की तरफ बढ़े, उन्होंने मेरा पल्लू मेरे सीने से पहले ही अलग कर दिया था.

मैं उसके रस भरे मम्मों को मसलता और ऊपर से उसके जिस्म का मजा लेने लगा था.

माधुरी दीक्षित की नंगी सेक्सी फिल्म

चाची मुझे अब भी मेरे होंठों और गालों पर चूम रही थीं और मुझे अपने चूचे पिला रही थीं. मुँह से मुँह लगा कर चुम्मी लेने से मेरा 7 इंच का लंड अब पूरा मोटा तंबू बना हुआ था. मुझे देखते हुए देख कर भाभी बोली- ऐसे क्या देख रहे हो राजा?मैंने खा- भाभी की चूत का मूत देख रहा हूँ.

मैंने अपने मुँह को खोल दिया, तो मैक ने मेरे मुँह के अन्दर अपनी जीभ को डाल कर मेरी जीभ से जोड़ दिया. मैं मेरे पति को भी नहीं बोल सकती थी, कहीं उनको ऐसा ना लगे कि मैं उन दोनों के बीच में गलतफहमी पैदा करने की कोशिश कर रही हूँ. चाची की गांड हर धक्के पर ऐसे हिल रही थी, मानो पानी से भरा गुब्बारा हिल रहा हो.

भाभी बोली- देवर जी, ऐसा हुस्न देखा है कभी?मैं भाभी की कमज़ोरी पहचान गया था.

इस बीच मैंने भाभी के दूध भी पकड़ लिए और दबाने लगा, जिससे भाभी और भी ज्यादा गर्म हो गईं. मैंने सोनू से पूछा- तुम्हें मेरा किस करना और यह सब करना अच्छा लग रहा है या बुरा लग रहा है?सोनू ने कहा- अच्छा लग रहा है. मैं खाट पर लेटी रही और सब ने मेरे मुँह में अपना लंड देकर अपना रस मुझे पिला दिया.

मैं तो मानो पागल सी हो जा रही थी।फिर धीरे से उनके दोस्त ने मेरे सर पर हाथ लगा कर अपने लंड की तरफ इशारा किया. साली रांड क्या मस्त लंड चूस रही थी … आह क्या बताऊं … हाय और दूसरी तरफ वो आनन्द का लंड हिला रही थी. वो जब मुझे अपने किस्से सुनाती तो बदन में सिरहन सी होने लगती। उसके पास सब कुछ था फ़ोन, अच्छे कपड़े, आशिक़ … वह सब कुछ जो एक जवान लड़की के पास होता है। उसके ज़रिये कई लड़कों ने मुझे परपोज़ किया पर मैं अपने परिवार से डरती थी, अपनी जवानी पर कंट्रोल करती थी। बीतते हुए समय के साथ मैं और भी मस्त हो चुकी थी। तराशे हुए जिस्म, उभरी हुई गांड की मालकिन हो चुकी थी।एक दिन पिंकी के घर हम अकेले थे.

फिर मेरे पास बैठकर मेरा पेटीकोट और मेरी पैंटी दोनों को काट कर मेरी शरीर से अलग कर दिए. पिघलता भी क्यों नहीं … मनीषा का फिगर था ही ऐसा 34-30-36मैंने भी उसको किस किया और फिर समझाकर नीचे भेज दिया कि यहाँ कोई देख लेगा.

फिर मेरे परिवार ने मुझे काफी समझाया कि चिंता की कोई बात नहीं है, वो लोग घर संभाल लेंगे. तभी उसने मेरे कान पे अपने दाँतों से काटा और कहा- कहाँ खो रहे हो?मैं- कहीं नहीं!मनीषा- बताओ ना … क्या सोच रहे थे?मैं- कुछ भी नहीं सोच रहा था. मुझे चोदने के इरादे से आये हुए मेरे जेठ जी ने अन्दर अंडरगारमेंट्स भी नहीं पहने हुए थे.

अगर वही पर चूत में लंड डालने की अनुमति मिल जाती तो और भी अच्छा होता.

इससे मेरी सिसकारियां भी निकलने लगीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मुझे रहा नहीं जा रहा था. भाभी- तो क्या मैं बाहर अकेले नहीं रह सकती क्या?मैं- क्यों नहीं … ज़रूर, लेकिन ऐसे आप बाहर रहोगी तो आपको किसी की नज़र लग जाएगी. मेरी कहानी किसी के लिए झूठ साबित हो सकती है या कोई ऐसा भी हो सकता है कि किसी ने उसे सच में जिया हो.

प्रिय अन्तर्वासना पाठकोफरवरी 2019 प्रकाशित हिंदी सेक्स स्टोरीज में से पाठकों की पसंद की पांच बेस्ट सेक्स कहानियाँ आपके समक्ष प्रस्तुत हैं…पूरी कहानी यहाँ पढ़ कर मजा लीजिये …पूरी कहानी यहाँ पढ़ कर मजा लीजिये …पूरी कहानी यहाँ पढ़ कर मजा लीजिये …पूरी कहानी यहाँ पढ़ कर मजा लीजिये …पूरी कहानी यहाँ पढ़ कर मजा लीजिये …. वास्तव में आज तक तो उसे इस अंदाज में किसी ने चोदा ही नहीं और बाद में भी कोई ऐसा नहीं मिला, जिसने ‘चक्की’ स्टाइल में ऑफ़र करके चुदाई की हो.

तभी उस लड़की ने बताया कि उसका कम्प्यूटर भी ठीक से काम नहीं कर रहा है. इसमें कोई बुराई नहीं है क्योंकि यदि मर्द अगर एक या एक से अधिक औरतों के साथ संभोग कर सकते हैं, तो स्त्री का भी सामान्य अधिकार है. इसलिए धीरे धीरे मैंने अब अपने धक्कों के माप को बढ़ा दिया और अपने पूरे लंड को नेहा की चुत में अन्दर बाहर करने लगा.

सेक्सी वीडियो आदमी के साथ

मैंने बस पांच छः झटके ही लगाये थे कि मेरे लंड ने भी नेहा के मुँह में अपना लावा उगलना शुरू कर दिया.

अंकल पीछे मेरी कूल्हों को पूरा फैला कर तकिए से और ऊपर उठा लिया और एक ही झटके में मेरी गांड में पूरा लौड़ा डाल कर घुसा दिया. मैं बोला- हां क्यों बुलाया है?वो बोली- ऐसे ही बुलाया है … क्यों आपको अच्छा नहीं लगा लगा क्या?मैं बोला- नहीं ऐसी बात नहीं है. वास्तविकता भी ये थी कि हम दोनों लोग एक दूसरे के साथ सेक्स करना चाहते थे.

उसके मुँह में मेरा लंड बड़ी मुश्किल से जा रहा था फिर भी वो चूस रही थी. सब काम करते करते मुझे लगभग 11 बजे गये थे और मैं भी अपने कमरे में चली गई, लाईट बन्द कर ली जिससे सबको लगे कि मैं सो गई हूँ. बीएफ बीएफ पिक्चर सेक्सी वीडियोवो मेरी आंखों में आंखें डाल कर मुझसे बोला- बोल न … सबके लंड एक साथ लेगी?मैं उसकी तरफ आंखें करके एकटक उसे देखने लगी.

यानि‌ कि‌ सुलेखा भाभी‌ को‌ भी अब नेहा और प्रिया के साथ ये सब करने से कोई ऐतराज नहीं था. कुछ दिन बाद भाभी वापस आईं और उसी दिन उनसे फोन पर बात हुई तो मैंने उनसे किस माँगा.

मैंने भी अपना ध्यान अब फिर से नेहा की चुत को चाटने पर लगाया और अपनी पूरी जीभ निकाल कर उसकी चुत में गहराई तक पेलने लगा. कुछ ही पलों में रूपा का बदन अकड़ गया और उसकी चूत ने पानी छोड़ना चालू कर दिया. सनी मेरी बॉडी को चूसते चूसते नीचे की तरफ आ गया और एकदम से उसने मेरे लंड को मुँह में भर लिया.

मैं बहुत दिनों से सरिता को चोदने की फिराक में था क्योंकि मुझे पता था कि लंड की प्यास तो उसे भी होगी. वो कितनी प्यासी और चुदासी सी लग रही थींमैंने आंटी की जीभ चूसते हुए उसके होंठ पर काट लिया, जिसके उनके मुँह से आवाज़ निकल आयी- हहहह … विक्रम क्या कर रहे हो? आज से मैं तेरी ही हूँ… जब मन करे तब रौंद देना मेरी चर्बीदार जवानी को!इतना सुनते ही मेरा जोश डबल हो गया. फिर शाम को मैंने आ कर देखा कि हमारे सारे रिश्तेदार जा चुके हैं, घर खाली था.

जब पहले लहंगा उठा कर टांगें पौंछी, तब कुछ नहीं बोली, तो अब क्यों बोल रही है?वो बोली- मेमसाब आने वाली होंगी.

वो बोली- यह मत करो यार …मैंने बोला- करने दो न …वो बोली- नहीं जानू …मैंने हाथ हटा लिया और उसको अपनी तरफ खींच कर उससे चिपक कर बैठ गया. खाला बोलीं- आमिर, आज सारा भी वापिस आ जाएगी और शाम को तुम्हारा उसका निकाह हो जाएगा.

उसने मेरा लौड़ा पकड़ा और चूत के छेद में लगा कर बोली कि मैं बहुत दिनों से प्यासी हूँ … प्लीज मेरी प्यास बुझा दो. अब तक की इस मस्त सेक्स कहानी में आपने पढ़ा था कि नेहा अब खुलती जा रही थी उत्तेजना के वश उसने अब शर्म हया छोड़ दी और खुद ही अपनी चुत को मेरे मुँह पर घिसना शुरू कर दिया था. उसके बाद मेरे मम्मी पापा मुझे आगे की पढ़ाई के लिए किसी बड़े शहर के अच्छे कालेज में भेजना चाहते थे.

कुछ देर बाद मैंने भी खाना खा लिया और मेरी दीदी के सास ससुर के पास बने आगे वाले कमरे में चला गया. हाँ हो सकता है कि वो आपको पसंद न आए, लेकिन याद रखें कि वो है तो एक कहानी ही. नेहा की चुत का एक बार मैं रसपान कर चुका था और रस्खलन के बाद मेरा पप्पू भी अब मूर्छित अवस्था में था.

बताइए बीएफ अमित- नेहा, तुम्हारा जिस्म बहुत मस्त है यार … मैं आज पूरी रात तुम्हें चोदना चाहता हूँ।मैं- मैं तो तुम्हारी ही हूँ जान … आज पूरी रात के लिए. उस दिन हमने कोई मेक-अप नहीं किया था क्योंकि हमें पता था कि पानी के अंदर तो सारा मेक-अप धुल ही जाना है.

कैटरीना का सेक्सी वीडियो दिखाओ

अगले दिन आंटी जी सुबह ही आ गईं, उन्होंने दरवाजा बजाया, जिससे मेरी आंख खुल गयी. दो महिलाएं और एक आदमी भी मनमाड़ से ही बैठे थे लेकिन मैंने उन पर उतना अधिक ध्यान नहीं दिया था. अब मेरे पति अपना लम्बा और मोटा लंड हाथ से हिलाते हुए मेरी चुत में डालने के लिए करीब को आये, तो मैंने उनको मेरी चुत में लंड डालने के लिए मना कर दिया.

वो अचानक मुझे रोककर और मुझे बेड पर धकेलकर खुद मेरे ऊपर आ गई और पूरी तेज़ी और जोश से धक्के मारने लगी. उसकी गांड के छेद पर मैंने लंड रखकर एक झटका मारा, तो मेरी टोपी अन्दर चली गई. हिट सेक्सी बीएफतभी मुझे खिड़की पर किसी के होने का आभास सा हुआ, जिससे मेरी नजर खिड़की पर चली गयी, जो कि हल्की सी खुली हुई थी.

मेरी चूत में बहुत दिन के बाद लंड गया था, इसलिए मेरी चूत मेरे देवर का लंड पूरा अन्दर तक ले रही थी.

तुम एकदम अलर्ट हो गईं और तुमने कहा- गाली तो मत दो यार!लेकिन तुम्हारी बातों से मुझे कोई फर्क पड़ने वाला नहीं था. मुझे तो सुनकर ही डर लग रहा है कि आज मेरा क्या होगा?मैंने रूपा को छोड़ कर खटिया पर बैठते हुए कहा- मेरी रांड … चल अपनी मामी की तरह तेरी भी चौड़ी कर देता हूँ, चल आ जा इधर.

चाची- तुम्हारा चाचा ऐसे कभी नहीं चोद पाता है … जैसे तुम चोद रहे हो. इस उल्टा पल्टी में मेरा लंड सुलेखा भाभी की चुत से बाहर निकल गया था मगर मुझे अपने‌ ऊपर खींचकर भाभी ने अब पहले तो अपनी दोनों‌ जांघों के‌ बीच दबा लिया और फिर खुद ही अपने एक‌ हाथ से मेरे लंड को पकड़कर अपनी चुत के मुँह पर लगा लिया. अब मुझे बहुत तकलीफ हो रही थी क्योंकि मैं अरुणा से बहुत प्रेम करता था.

उन्होंने मेरी चीख को नजरअंदाज किया और वे मुझे इसी पोज में दस मिनट तक चोदते रहे.

मैं- भाभी, पैसा भिजवाया क्या बिरजू भाई ने?रेखा- नहीं भिजवाए हैं … कल के लिए बोल रहे थे. इस सबके बाद भी, अब ये कौन सा ऐसा जादू हुआ कि धीरे धीरे मेरा दर्द गायब हुआ और अब अचानक से मुझे अजीब सी मदहोशी और एक बेहद रोमांचक मजा आना शुरू हो गया. मैंने आनन्द का लंड पकड़ के थोड़ा बाहर निकाला और उसकी सिर्फ टोपी ही अन्दर रहने दी.

देहाती लड़की का सेक्स बीएफअब मालिनी खुद को मेरी पत्नी मान चुकी थी, तो वो मेरा पूरा साथ दे रही थी. मैंने पानी पिया फिर बात की- जी कहिये … क्या हुआ?अभी तक मेरे और रेखा के बीच में कोई ऐसी बात नहीं हुई थी कि मुझे या उसे कुछ गलत लगे.

चोदा चोदी सेक्सी वीडियो चलने वाली

मेरी बातें सुनकर उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा, वह दौड़ कर मेरे पास आए और मुझे किस कर लिया. उसने मेरी जीन्स और टी-शर्ट को निकाल के फेंक दिया और मेरी फ्रेंची में हाथ डाल के लंड सहलाने लगी. फिर मैंने उसके ब्लाउज का हुक खोला और दोनों चूचियों को दबा दबा कर चूसने लगा.

तभी करण पाल जोर जोर से आवाज देने लगा- अनु … मेरी अनु जी …अनु बाहर आ गई, उसने नाइटी पहन रखी थी. और अगर आज मैं केन को खाली किये बिना चला गया तो मुझे मेरी औरत की बहुत याद आयेगी. हाआअ … राआआजा … आईसीईई … चोदो और जोर से चोदो … आज मेरी चूत को फाड़ दो … आज कुछ भी हो जाए … लेकिन मेरी चूत फाड़े बगैर मत झड़ना … आआह और ज़ोर से … उउईईई अल्ला … आहह …” वे ऐसे ही गर्म आहें और कराहें निकाल रही थीं.

साथ ही में वो बोली- रमित क्या कर रहे हो? मैं तो रात से पागल हुई पड़ी हूँ तुम्हारा यूँ मेरे लिप्स पे किस करना मुझे पागल सा कर गया, मैं रात से आग में जल रही हूँ और तुम मुझे छोड़ के जाने की बात कर रहे हो. आप सब लोग मुझे मेरे ईमेल करके मेरी लेस्बियन कहानी पर अपनी प्रतिक्रिया दे सकते हैं. फिर उसने मेरे होंठों पर किस करते हुए एक ज़ोरदार धक्का लगाया जिससे उसका आधा लंड मेरी चूत में समा गया जिसके कारण मुझे बहुत दर्द हुआ और उम्म्ह… अहह… हय… याह… मैं दर्द के मारे छटपटाने लगी.

लगा ली क्योंकि मेरे पति तो सोशल मीडिया साइट यूज़ नहीं करते थे और मैं शिखा के हस्बेंड के साथ ली गई उसकी पिक को लाइक करती और कमेंट भी करती। और मेरे किये कमेंट को उसका पति लाईक करता और आखिर एक दिन मेरा अंदाज़ा और तीर सही जगह लगा. मैं भी अकेले होने के चक्कर में अपने लंड को हिला रहा था, तभी दीदी ने मुझे आवाज दी और कमरे में आ गईं.

बिस्तर में लेटते ही इतनी जल्दी नींद लगी कि पता नहीं चला कि कब मैं नींद के आगोश में चली गई.

फिर हम बात करने लगे, उत्तेजना के वशीभूत हो मैंने पूछा- कविता भाभी, आप अकेले कैसे रह लेती हो? मुझसे तो नहीं रहा जाता. कंडोम वाली सेक्सी बीएफउसकी सासू माँ ने भी कहा- हां, तेरी दीदी सही बोल रही है, तू हमारे साथ आ जा. हिंदी देहाती बीएफ देहाती बीएफनैना ने थोड़ा ऊपर होके खुद ही अपनी पैंटी उतार दी और मैं उसकी बिल्कुल साफ़ चूत को देखने लगा. स्टेशन पर आकर मम्मी ने मुझसे कहा कि संभल कर रहना और वंदना का खूब अच्छे से ध्यान रखना.

प्रिया का नाम सुनते ही मेरी नजर अब फिर से खिड़की पर चली गयी … वो अब भी खिड़की पर ही थी मगर अपना नाम सुनकर शायद दीवार के पीछे छुप गयी थी.

इस बीच जब-जब प्रशांत से नीना की आंखें चार हुर्इं, तो दोनों ने अपनेआप में अजीब तरह का बदलाव पाया. मैंने उत्तेजना में उनका ब्लाउज फाड़ दिया और ब्रा के ऊपर से उनके रसीले मम्मों को चूसने लगा. मेरा लंड जो सुस्त पड़ा था, एकदम से उसमें आग सी लग गयी और धीरे धीरे वो अपनी औकात दिखाने लगा.

मैंने अपने लंड का सुपारा उसके छेद पर रखकर आगे करना चाहा लेकिन सुपारा छेद छोटा होने की वजह से उसमें सेट नहीं हो पा रहा था. उस वक्त मैं कहीं व्यस्त था इसलिए मैंने उस फोन कॉल पर ध्यान नहीं दिया. मुझे सिगरेट पीने की थोड़ी आदत है, तो मैं घर के तीन चार गली के बाद एक चाय की दुकान है, वहां चाय और सिगरेट पीने हर शनिवार को सुबह जाता था.

देहाती सेक्सी गांड

चाची- जब से तुम्हारे चाचा जेल गए हैं, तब से चुदी नहीं हूँ … इसीलिए चूत आग उगल रही है. फिर मैं भी यही सोचता था कि अभी यह नई-नई लंड की शौकीन है इसलिए इसके साथ ज्यादा जोर-जबरदस्ती करना भी ठीक नहीं है. सुलेखा भाभी की उत्तेजना तो जोर मार रही थी … मगर शायद वो थकी हुई थी.

उसके बाद कोलकाता आने तक मैंने उसे 5 बार और चोदा, एक बार उसकी गांड भी मारी.

जब नेहा ने फिर से अपनी जांघों को भींचा, तो अब मेरा हाथ उसकी जांघों के बीच, उसकी कमसिन मुनिया पर जम गया था.

उन्हें शायद यकीन नहीं आ रहा था कि मैं उनके दरवाजे पर उनके सामने खड़ा हूँ. और दूसरा मेरी बहुत टाइट गांड में घुसे हुए थे और वह दोनों सांड राक्षस की तरह दिखने वाले नीग्रो बेदर्दी से मुझे चोद रहे थे. हिंदी में बीएफ वीडियो परमम्मी ने कहा- कोई बात नहीं बेटा, हम लोग 4 दिनों के लिए ही जा रहे हैं.

उसने कैंटीन की ओर एक नजर डाल कर देखा और मुझे अनदेखा करके आगे चली गयी. फिर मैंने अपने दोनों हाथ पीछे से आगे को लिए और उसके मम्मों को छूना चालू कर दिया. कुछ देर बाद अजय ने अपने मस्त लौड़े से मेरी गांड को चोदना शुरू कर दिया.

मैं समझ गया कि शायद रिया को नींद आने वाली है। मैंने कुछ देर तक उसके होठों को चूसा और जिस्म से खेलता रहा।जब मैं उसके जिस्म को चाट कर थक गया तो हम दोनों अलग हो गए। रात भी काफी हो चुकी थी. अब वो बहुत खुश हुई और कहने लगी कि आज तक उसके पति ने उसकी चूत कभी नहीं चाटी.

ये सब बोलकर उसने मुझे गले लगा लिया और रोने लगी, वो मुझे गर्दन पर चुम्बन करने लगी और फिर मैं भी पिघल गया.

वो सब मुझे कुछ ऐसे निगाहों से देखने लगे … जैसे कि मैं किसी चिड़ियाघर से आई हूँ. मेरी नज़रें बार-बार उन दोनों की तरफ जा रही थीं क्योंकि कब से वो देखे ही जा रहे थे।अभी कुछ ही देर हुई होगी कि राहुल और अमित हमारी तरफ आए और पूछने लगे कि उन्हें भी हम लोगों के साथ खेलने को मिल सकता है क्या?मैं कुछ बोलती उससे पहले रजनी ने बोल दिया- हां क्यों नहीं. शायद मेरे इतने बड़े लंड को एक बार में ही अपनी चुत में लेने से सुलेखा भाभी को पीड़ा हुई थी, मगर वो सारा दर्द पी गईं और खुद ही मेरे दोनों हाथों को पकड़कर अपनी चूचियों पर रखवा लिया.

तमिल बीएफ मूवी इधर एकता अब मेरे लंड को अपने मुँह में ले कर पूरा अन्दर बाहर कर रही थी. इस बार मैंने उनका एक पैर अपने कंधे पर रखा और बिना कंडोम का लंड एक ही झटके में सीधा चूत में पेल दिया.

फिर उसने झुकते हुए मेरी चूत को चूम लिया और ज़ुबान से मेरी चूत को कुरेदने लगी. मेल आईडी है[emailprotected]आगे की कहानी:प्यासी बंगालन की सहेली की हवस पूर्ति. मैंने साथ ये भी कहा कि मैं जल्दी ही कंपनी को बोल कर किसी दूसरी सोसाइटी में फ्लैट ले लूँगा ताकि बात यहीं दब जाए.

इंडियन फिल्म सेक्सी हिंदी

मैंने दरवाजा तो बन्द किया हुआ था मगर शायद प्रिया ने हमें खिड़की से देख लिया था. मैंने बारह बजे आने का इशारा किया, तो वो मुस्कुरा उठी और दरवाजा बंद कर लिया. तभी मैंने उसको अपने से थोड़ा दूर किया और बोला- ज़ोर की पेशाब लगी है, मैं कर के आता हूँ.

मैंने पूछा- खाला, मज़ा आ रहा है?वो धीरे से बोलीं- हाँ बहुत मज़ा आ रहा है … मेरी इस चूत का इलाज सिर्फ तुम्हारी चुदाई ही है … हायईई … म्म्म्मम!मैंने धक्के तेज किए तो वो जोर-जोर से चिल्लाने लगीं. तभी अचानक से चाची उठ गई और मुझसे पूछने लगी- तुम यहाँ पर इस समय क्या कर रहे हो?मैंने मन बना लिया था कि मैं आज आर या पार करूँगा तो तपाक से उनसे बोला- क्या आप एक मिनट के लिए बाहर आयेंगी?और फिर मेरे कहने पर वो तुरंत बाहर आ गई.

क्या आप रॉकी बात कर रहे हैं?जब उसने मेरा नाम लिया तो मैं थोड़ा घबरा-सा गया.

वंदना मुझसे बोली- जानू, अब बर्दाश्त नहीं हो रहा … तुम मेरी चुत को अपने लंड से चोदो … और मुझे अपनी औरत बना लो. पर तभी ट्रेन ने एक हिचकोला सा लिया, तो उनका पूरा लंड मेरी चूत में घुस गया. आनन्द ने उसका हाथ पकड़ कर अपने तने हुए लंड पर रखा, तो वो लंड को आगे पीछे करने लगी.

अनिल अब मीनाक्षी का पूरा मुँह चोदने के बाद उससे बोला- अब कुतिया बन जा. इन पूरे तीन महीनों में ना तो चाची ने कभी मेरा लंड चूसा था, न ही उन्हें ये पसंद था. सबने मेरे बारे में पूछा कि ये हैंडसम जवान लौंडा कौन है? क्या बॉडी है साले की …और वे सब इसी तरह की बातें करते हुए मेरी शर्ट के अन्दर हाथ डाल कर मेरे सीने पर हाथ फिराने लगीं.

उस वक्त मेरे दिमाग़ में आया कि आज ट्रेन के अंधेरे में इसकी चुदाई का मौका बन सकता है.

बताइए बीएफ: शाम के वक्त चाची का मेरी माँ के पास फोन आता है और वह उनको बताती है कि वह घर पर अकेली हैं. मैंने उसकी चूत को किस करते हुए उसके होंठों को किस किया और उसने मेरा लंड मुँह में लेकर चूसा.

चूत को हर तरह से बजाने के बाद एक बार मेरे पति को मेरी गांड की चुदाई करनी थी, लेकिन उस वक्त मेरी गांड का उद्घाटन नहीं हुआ था, जिस वजह से मेरी गांड एकदम टाईट थी. जब पहले लहंगा उठा कर टांगें पौंछी, तब कुछ नहीं बोली, तो अब क्यों बोल रही है?वो बोली- मेमसाब आने वाली होंगी. मैं जब भी ब्लू फिल्म कालों की चुदाई देखती थी, तो मेरे मन में भी इतने ही बड़े लंड लेने के सपने आते थे.

करण पाल मेरी बीवी को बांहों में लेकर कमरे में ले गया और उसने गेट भी बंद कर लिया.

एक बुड्ढा करीब 70-75 साल का था और एक बहुत मोटा सा काला सा पहलवान था. तब मैंने उसका पैर और ज्यादा उठाया, लेकिन तब भी नहीं जा रहा था, तो मैंने पूजा के दूसरे पैर को भी उठा कर अपने लंड पर टांग लिया. मैं बस स्वर्ग के आनन्द में डूबकर केवल उसके बाल पकड़े हुए मादक सिसकारियां ले रही थी ‘ऊउफ़्फ़ बेटा … अअअहह … ऊऊम्म्म … नहीं!दस मिनट की धुआंधार चूत चटाई के बाद ही मेरा पहली बार माल निकल गया और मैं वहीं सोफे पे आंख बंद करके पड़ी थी.