एक्स एक्स एक्स भोजपुरी में बीएफ

छवि स्रोत,साउथ इंडियन ट्रिपल एक्स

तस्वीर का शीर्षक ,

ಕನ್ನಡದ ಸೆಕ್ಸ್: एक्स एक्स एक्स भोजपुरी में बीएफ, तुम हो ना सेक्सी!उसने शर्मा कर अपनी आंखें बंद कर लीं और इसी बात का फायदा उठा कर मैं दीदी को किस करने लगा.

सेक्सी वीडियो मराठी बीपी

उसको दिमाग में बुखार था, जिसकी वजह से वह लड़की पागलों जैसा व्यवहार करती थी. बीपी नंगीफिर शाजिया अप्पी को ब्लैकमेल करूँगा कि वह चच्ची को ले के कहीं बाहर टहल आयें रिश्तेदारी में। या सुहैल समेत तुम्हारे ननिहाल ही हो आयें.

फिर मैंने उससे, उसके माथे पर किस करने की अनुमति माँगी… और उसने आँखें बंद कर के सिर हाँ के इशारे में हिलाया. xxxx सेक्सी वीडियोअब धक्के लगाने के बजाए वो अपनी कमर को ऊपर की ओर धकेले जा रही थीं, जैसे वो मेरे लंड को पूरा निगल जाना चाहती हों.

दीदी ने जैसे ही मुझे देखा, वह बैठ गई और तिरछी नजर से मुझे देखते हुए मुस्कुरा रही थी.एक्स एक्स एक्स भोजपुरी में बीएफ: मैंने देखने की कोशिश की कि क्या वो गहरी नींद में है या नहीं, वो सच में सोई हुए थी.

वो पूरी बेशर्म हो के हर तरह से मेरे बेटे अंकुश की बेइज़्ज़ती कर रही थी और उसे बदला लेने में बड़ा मज़ा आ रहा था.और फिर मैंने अपना लंड वैशाली की चूत में डाल दिया और पहले झटके में ही उसकी सील टूट गई.

हिंदी सेक्सी ब्लू फिल्म हिंदी सेक्सी - एक्स एक्स एक्स भोजपुरी में बीएफ

वह और भी शर्माने लगी और मेरे बहुत कहने पर मीठी आवाज़ में बोली- मैं भी आप को प्यार करती हूँ.लालजी ने पूछा- वन्द्या दुल्हन कौन बनेगी?मैं बोली- लालजी दुल्हन मैं बनूंगी और कौन बनेगी?लालजी बोला- तब ठीक है वन्द्या.

मुझसे अब रहा नहीं जा रहा था, वह पूरी गांड को अपनी जीभ से चाटने लगा. एक्स एक्स एक्स भोजपुरी में बीएफ मैंने उससे मुझे छोड़ने को कहा, जिस पर उसने मुझे बिंदु को अपने के लिए बुलाने की हां कर दी.

मैंने राज और मंजू का आपस में परिचय करवाया! राज की आखों में चमक थी, वो मेरी मंजू को देख खुश था!राज ने हमें कैम्पिंग करने के लिए कहा तो हम तीनों शिवपुरी कैंपिंग के लिए चल दिये.

एक्स एक्स एक्स भोजपुरी में बीएफ?

फिर उसने अपनी स्पीड को तेज़ कर दिया, मेरा शरीर कसने लग गया और मैं चरम सीमा पर पहुंच गयी. मेरी कहानी के बारे में अपनी राय से मुझे अवश्य अवगत करायें। मेरी मेल आईडी है. अशोक अपने लंड से मेरी चुत का हलवा बना रहा था और उसका फ्रेंड मेरी चूचियां के बीच में अपना लंड रख बूब फकिंग कर रहा था.

तब मैंने देखा कि माँ और बाप दोनों ही नंगे थे और बाप का मूतने वाला (लंड) खड़ा हुआ था और बहुत लंबा और मोटा भी हो चुका था. बड़ी चाची भी ‘यस यस यस ओह्ह्ह्हह माय पुसी यू सक सो गुड…’ की चुदासी सी आवाजें निकाल कर मुझे उत्तेजित कर रही थीं. शादी के दौरान खाला ने मेरे साथ खूब अपनी सेल्फ़ियाँ ली और मुझसे पूछा कि मेरी कितनी गर्लफ्रेंड हैं.

नूरी खाला बहुत खुश हुई और मुझे गले लगा कर प्यार किया और बोली- बेटा, कभी कुछ भी चाहिए हो तो बेझिझक मांग लेना. मैं अक्सर मेरी ससुराल की फॅमिली की औरतों के बारे में सोचकर मुठ मारा करता हूँ क्योंकि सभी औरतें मोटी मेच्यूर और टाइट फिगर की हैं और उन सभी औरतों को मैंने किसी ना किसी बहाने नंगी देखा हुआ है और देखते देखते मुठ मारी हुई है लेकिन कभी किसी को भी चोद नहीं पाया. अपने बेटे के विवाह से मैं बहुत खुश था कि चलो घर में एक बेटे के साथ एक बेटी भी आ गयी.

यह सुन कर उस अधिकारी का लंड मेरी चुत में ही कुछ ज़्यादा उछाल मारने लगा. मैं सोचने लगा कि मेरे पास गर्लफ्रेंड नहीं और उनके पास उनका शौहर नहीं.

वो जीभ को अन्दर तक पेलकर चुत चाट रहे थे और चुत से निकलने वाले रस को भी चूसते जा रहे थे.

धीरे धीरे हम दोनों अपने आप में इतना खो गए और भूल गए कि वहाँ पर मम्मी भी हैं.

वो मुझे गाली देने लगा- साली चुप कर … थोड़ी देर में तुझे भी मजा आने लगेगा. मैंने अपना सिर ऊपर कर लिया और उनके तृप्त चेहरे को कुछ देर के लिए देखने लगा. कुछ 2-3 मिनट तक मैंने भाई के लंड को जीभ से चाटा, फिर लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी.

एकता ने जोर से ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की आवाज़ निकाली और बोली- बहुत दिनों बाद एक कड़क लंड गांड में गया है. ”यार तू एक बात तो बता?”क्या?”यही कि तू आज पहली बार यह सब करवा रही है, फिर तुझे सब कुछ मालूम कैसे है?”भाईजान मेरी सहेलियाँ मुझे अपनी लव स्टोरी सुनाती रहती हैं. तभी एकदम से भाभी ने करवट ली और उनकी पीठ मेरी तरफ हो गयी तो मैं थोड़ी देर के लिए रुक गया.

चाची बड़े मजे से मेरे टट्टे चाटते हुए रंडी की तरह मुझे मजा दे रही थीं.

भाभी अब केवल ब्रा और पैन्टी में खड़ी साउथ की हिरोइन की तरह लग रही थी. जब आपा कॉलेज चली जातीं, तो उसकी ब्रा निकाल कर उसपे मुठ मारा करता था और उसके आने से पहले ब्रा धोकर सुखा दिया करता था. तभी मैं जल्दी से बोली कि जल्दी से हाथ मुँह धो लो और फिर तैयार हो जाओ.

जब लंड ने हरकत करनी शुरू कर दी तो मैंने भी सब जगह घास डालना शुरू कर दी. जाते वक्त मेरी बीवी ने कोमल भाभी को बोल दिया कि आप सुबह शाम का टिफिन घर पे भेज दिया करो. इससे एक नशा सा चढ़ता था और अजीब से मजे की प्राप्ति होती थी।इस बारे में हालाँकि मैंने कभी किसी और से बात नहीं की.

मेरी मेल और फेसबुक आईडी दोनों एक ही है[emailprotected]कहानी का अगला भाग:बीवी को गैर मर्द के नीचे देखने की चाहत-3.

कुछ देर सहलाने के बाद मैंने अपनी उंगली उसकी चुत में डाल दी, लेकिन उसने नाराज होकर उंगली बाहर निकलवा दी. क्या नशा था जब वो मेरी दीदी, जन्नत की परी बन कर मुझे प्यार कर रही थीं.

एक्स एक्स एक्स भोजपुरी में बीएफ मैंने उनकी गांड के छेद पर लंड टिकाया और एक धक्का दे मारा तो मेरी मम्मी एकदम से उछल पड़ीं. उसने खिड़की के पास बैठते हुए मुझे मुस्कुराते हुए ‘सॉरी’ कहामैं समझा नहीं कि इसने सॉरी क्यों कहा.

एक्स एक्स एक्स भोजपुरी में बीएफ अचानक उसे याद आया कि उसे मेरा पानी देखना था, तो उसने मुझे अपने ऊपर से उतरने के लिए कहा. न ही राशिद से इश्क था।बहरहाल, मन ही मन मैं भी आखिर इस नये और एक और तजुर्बे के लिये तैयार हो ही गयी और सुबह उठी तो कल रात वाला कोई बोझ बाकी नहीं था।अब इस बात का इंतजार था कि वह मौका कब आयेगा। इस बीच चूँकि एक ही घर में रहते थे तो समर से मेरा और अहाना का सामना कई बार हुआ लेकिन उसने किसी भी तरह रियेक्ट ही नहीं किया।हफ्ता गुजर गया.

जीजा जी ने दीदी को अपनी बांहों में लेकर कहा- रानी आज फुल मस्ती करेंगे.

सेक्सी बीएफ आवाज के साथ

पद्मिनी ने जवाब दिया- मैं इस्तरी कर चुकी हूँ बापू… कल रात आप कितने बजे वापस आए थे, मुझको नींद लग गयी थी. भाभी ने कुछ देर मुझको देखा और फिर मुझको देखते देखते ही उखड़े साँसों में बोलीं- आई अम्मी. उसका टोपा किसी काऊबॉय के हैट जितना चौड़ा और मांसल था! उसके लंड का आकार तो सामान्य से थोड़ा बहुत ही अधिक था, लगभग 18 या 20 सेमी लेकिन टोपा किसी दैत्याकार मशरूम के जैसा लग रहा था.

अंकल बोले- मजा आ गया यार… तुझे कैसे लगा?मैं बोला- अंकल पहली बार मुझे इतना मजा आया… बचपन की इच्छा आज पूरी हो गई!अंकल बोले- कैसे?मैं बोला- अंकल, मुझे बचपन से ही आप जैसे बुड्ढे लोगों को नंगा देखना बहुत अच्छा लगता था लेकिन कभी सोचा नहीं था कि एक दिन उनके साथ मजा करने को भी मिलेगा।धन्यवादआपका दोस्त विनोद[emailprotected]. उसको बाइक पे बिठा कर बाज़ार भी ले जाता, जिससे उसके मम्मे मेरी पीठ में बार बार टच होते. ऐसा लग रहा था, बस ये पल यहीं रुक जाए और वो मुझे ऐसे ही किस करती रहें.

मैंने उन्हें मोबाइल देकर बोला- सर किसी का वीडियो बनाकर उसे धमकाकर सेक्स करना.

फिर उसने अपनी स्पीड को तेज़ कर दिया, मेरा शरीर कसने लग गया और मैं चरम सीमा पर पहुंच गयी. एक दिन उसने ऊपर से एक कागज पर ‘आई लव यू!’ लिख कर भी नीचे मेरे ऊपर फेंक दिया. मेरे लौड़े ने बीस पचीस तुनके मारे और हर तुनके के साथ गरम वीर्य के मोटे मोटे थक्के रेखा रानी के मुंह में झाड़े.

पूजा क़ो शर्म तो छोड़ो… अंकुश क़ो चिढ़ाने में मज़ा आ रहा था क्यूंकि उसकी भी अंकुश के दोस्तों के सामने बेइज़्ज़ती हुई थी, मानो वो उसका बदला ले रही थी. मुझे उनकी इस हरकत पे हंसी सी आ गई क्योंकि उनके उस हाथ में डिल्डो भी था और हाथ हिलाते हुए ऐसा लग रहा था, जैसे वो मुझे अपना डिल्डो दिखा रही हों. क्या सही फिगर है मेरी… पर सीमा जितनी अच्छी नहीं है ना!” मैं फिर नेगेटिव सोच रही थी.

उसने कहा- क्रिशु मैं तुम्हें कबसे कहना चाहती थी, पर रिश्ते की वजह से डरती थी, मैंने कभी नहीं सोचा था कि हम दोनों ऐसे करेंगे. मेरी कहानी कोई भी मनघड़न्त नहीं होती, मगर पाठकों की रूचि के अनुसार उसमें कुछ ना कुछ मसाला मिलावट करनी ही होती है.

मेरी पिछली कहानी थीजवान लड़की की बुर की चुदाई स्टोरी‎जिसे अन्तर्वासना के पाठकों ने पसंद किया था. डॉली नीचे झुक कर एकता की चुत को चाटने लगी और मेरी गोटियों के साथ भी खेलने लगी. मैं दूसरे दिन अपने घर मम्मी के पास पहुंच गयी और अब सुबह का इंतजार करने लगी, सवेरा हुआ, जल्दी से तैयार हो गई, मम्मी को पहले ही बता चुकी थी कि सुरेन्द्र जीजा मुझे सतना ड्रेस दिलाने ले जाने को बोले हैं.

नींद तो कामिनी को भी नहीं आ रही थी तो वह मेरे साथ मस्ती करने लगी, वो मुझे यहां वहां छूने लगी, बहन की शरारतों से मुझे गुदगुदी होती थी.

मैंने उससे कहा- कब आ रही हो मेरे पास?उसने कहा- कल सोमवार है, कल आऊँगी. कहने को तो सारी चुन्नटें मिली हुई थीं लेकिन उनमें सख्ती नहीं लग रही थी। मैंने थूक से गीली करके एक उंगली छेद पर सटा कर अन्दर दबाई. सोचो अगर किसी शादीशुदा औरत का पति यदि महीनों महीनों तक घर पर नहीं रहता है तो उसका क्या हाल होता होगा.

पीयूष भी अंडरवियर और ऊपर शर्ट में था, तो वह भी अपने शर्ट की बटन खोलने लगा और उसने भी शर्ट को उतार दिया. ऊपर से होंठों पर लगायी हुयी लिपस्टिक उस नूर पर चार चाँद लगा रही थी.

पहले दोस्त को बुलाएगा फिर साथ में दोस्त की लुगाई को खुद के लंड के लिए बुला लेगा. उसने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और बोला- चल आज मुझे अपना सुख दे दे. ये बात और थी कि तब मुझे यह भी पता नहीं था कि शाजिया अप्पी वहां शाहिदभाई के साथ नंगीहोकर क्या कर रही थीं।तब मैंने उनसे पूछने की कोशिश भी की लेकिन उन्होंने मुझे डांट कर चुप करा दिया था। उस वक़्त बड़ी चिल्ल पों हुई थी और अप्पी की पिटाई भी हुई थी, जबकि शाहिद भाई तो घर से ही भाग गये थे और एक हफ्ते बाद लौटे थे।खैर.

प्रियंका चोपड़ा की बीएफ वीडियो में

अब वो पूरा खुलता जा रहा था और इधर मैं झुक झुक कर उसको अपने मम्मे दिखा रही थे.

मैंने कहा- इसकी कोई बात नहीं… यह देखेगा तो ट्रेन्ड हो जाएगा।जीजाजी- नहीं, मेरी वर्क शॉप में रहा तो ट्रेन्ड तो यारों ने कर दिया होगा। जैसी तुम्हारी इच्छा।उनका पैन्ट में से उचक रहा था, दिनेश ध्यान से देख रहा था, दिनेश किवाड़ लगाने लगा तो उन्होंने रोक दिया. मैंने कहा- अरे क्या हुआ?उन्हें मैंने अपने से अलग किया और गोद में उठा कर बिस्तर के शुरुआती वाले सिरे पे बिठा दिया. मेरी अंगुलियां हल्की झांटों की चुभन को महसूस करते हुए पावरोटी सी चूत को सहलाने लगी.

मैंने अपने लंड को थूक से गीला किया और उसकी चुत पर थूक मला, जिससे कि मेरा लंड उसकी चुत में आराम से चला जाए. नहा कर निकलते ही मेरी नजर आंटी पर पड़ी तो देखा आंटी ब्रा और पैंटी में बाहर निकलीं. मारवाड़ी सेक्सी नंगा वीडियोअपने बेटे के विवाह से मैं बहुत खुश था कि चलो घर में एक बेटे के साथ एक बेटी भी आ गयी.

बिंदु ने कहा- जब कुत्ता यह जानता है कि चाट चाट कर मज़ा यहीं से मिलेगा जबकि वो जानवर है और तुम तो आदमी हो… तुमको तो और जल्दी समझ जाना चाहिए. कुछ देर आराम के बाद मैंने बिना उनके कहे अपना लिंग उनकी योनि में डाला और कार्यक्रम दोबारा शुरू किया लेकिन इस बार सब मजे से सही सही हो गया।जब मैं वापिस आने लगा तो उन्होंने मुझे थैंक्स बोला और कुछ पैसे दिए.

मैंने बहुत हिम्मत करके दिन में उसे अपना प्रपोज़ल दिया कि वो मेरी गर्लफेंड बन जाए. आप अपनी चुत में उंगली बाद में कर लेना, पहले मेरी इस चुदाई की कहानी पर अपने कमेंट्स भेज दो. उन्होंने अब अपनी एक जांघ मेरी जांघों के ऊपर रख दी, वे मेरे से चिपक गए, उनका खड़ा लन्ड मेरी जांघों से टकरा रहा था.

अब तक मैंने बस तीन चूतों का रसपान किया है लेकिन उन्हें चोदा हचक के है, उनकी चीखें निकाल चुका हूं. मैंने उसे गले से लगाया और अगले दिन वापिस आने से पहले अभिलाषा के साथ एक और शानदार चुदाई का सेशन लगाया. उसकी बात सुनकर मैंने भी देर ना करते हुए बोला- संध्या अपनी आंखें बंद करो प्लीज.

राज ने दरवाजा खोला, वो बाहर निकला, बोला- यार तुम? मधु कहाँ है?मैं हैरानी से बोली- मधु यहाँ नहीं आयी? मैं उसे ही ढूँढती हुई यहाँ आयी हूँ.

मेरी वाइफ पानी का मजा लेते हुए बोली- आह… मुझे तुम्हारे पानी से प्रेग्नेट होना है. आज तुमने पहली बार मुझे तीन बार संतुष्ट किया है, अब मैं भी तुम्हारा 3 बार रस निकालूँगी.

मैंने उसके गालों पर किस किया और गले से लगा लिया और उनकी सपाट पीठ को सहलाने लगा. कुछ देर बाद चाची ने मुझे एक लिफाफा दिया और बोलीं- पता नहीं कोई दो मोटी पतली औरतें थीं, तुझे ढूंढते हुए मुझे ये दे गईं. तब बापू ने बिस्तर के दूसरे तरफ जाते हुए, पद्मिनी को अपने सामने पाया.

फिर कुछ ही सालों बाद उनका तबादला कानपुर हो गया, इस तरह वो और हम दूर हो गए. मैंने तेज झटके के साथ अपने वीर्य से उसका मुँह भर दिया, साली जंगली बिल्ली मेरा पूरा पानी पी गई. इन चार में से दो वो थीं जिन्हें देखने मात्र के लिए हमारे कॉलेज के आधे स्टूडेंट रेगुलर कॉलेज जाते थे और जिसकी भी बात होती होगी वो कभी ना कभी हिलाता जरूर होगा इनके नाम पे!खैर इन्होंने तो मुझे नहीं पहचाना और जो बाकी दो थीं, ये भी 30-32 साल के एटम बम ही थीं जिन्हें देखकर मेरी लार घुटनों तक टपकी और मैंने हाँ बोल दिया.

एक्स एक्स एक्स भोजपुरी में बीएफ इस बीच उसके हाथ मेरे बालों को लगातार सहला रहे थे, मेरा एक हाथ उसके बालों को!तब हम लोग एक दूसरे से अलग हुए और एक दूसरे की तरफ मुस्करा कर देखने लगे. कुछ समय बाद शादी में पहुंचा और खाना खा कर दोस्त के रूम में उसके बेड पर लेटा हुआ था.

सेक्सी बीएफ सेक्सी चोदा चोदी

मैंने दोनों का रस चाट कर साफ कर दिया, दोनों का एकदम टेस्टी पानी था. जैसे ही चीखी दिनेश ने मेरा मुँह पकड़ लिया और अपने हाथ से मेरा मुँह दबा दिया. हिमानी की मम्मी सुजाता तो बड़े ही प्यार, अदा और सेक्सी तरीके से चूत मरवाती थी, जो आज तक याद है.

मैं तैयार थी, मैंने लाल साड़ी पहनी थी, जमाई जी के साथ ट्रेन में बैठ गयी। मेरे बगल में जमाई जी बैठे थे जमाई जी मेरी कमर में हाथ डाल दी. जब मेरी पत्नी को नींद आ गई तो मैंने धीरे से ममता के चूचों पर हाथ रखकर हल्के हल्के दबाने लगा. सेक्सी देसी बफयह स्प्रिंग पीछे और आगे से जोर लगा कर चौड़ा करो तब अपने आप ये नीचे हो जाएगा.

मैं दो दिन बाद आने की बोल कर चलने को हुआ तो काजल ने मुझे गले लगाया और किस किया.

एकता भी मेरी तरह निरीह भाव से देखने लगी तो डॉली ने कहा- अरे मैं हूँ ना हेल्प के लिए. आप सबने मेरी पिछली कहानीबुआ के बेटे ने चोद दियाको बहुत प्यार दिया, उसके लिए धन्यवाद.

मैं नहीं माना और उनकी चुत पर लंड रख कर धक्का मार के अन्दर डाल दिया. बापू खड़े खड़े उसको बहुत ज़ोर से सीने से लगाते हुए उसके सर को चूम कर आहिस्ते आहिस्ते उसके गालों को चूमने लगा. वर्ना हम दोनों की बदनामी होगी?मैं- तुम किसी से मत कहना, मैं भी नहीं कहूंगा तो किसे पता चलेगा?तब मेरी बहन मान गई.

पद्मिनी को उसके वीर्य का स्वाद शुरू में तो अच्छा नहीं लगा, पर जल्दी ही मैं उसे गटक कर पी गयी.

ये कुर्ता ठीक उसके घुटनों पर तक ही आता था, मगर ये कुर्ता स्लीवलैस था और पद्मिनी पर काफी बड़ा लग रहा था. वो बोली- मैं सारी रात के लिए चलूंगी मगर मुझे बताओ कि घर पर क्या बोलना होगा?मनोरमा ने उससे कहा- ठीक है मैं तुमको कल एक लैटर दूँगी, जिस पर लिखा होगा कि तुमको किसी विशेष काम के लिए एक दिन के लिए बाहर जाना है, इसके लिए कंपनी तुमको पांच सौ रूपए और रहने का कमरा देगी. अपने बापू के मोटे लंड को अपनी जांघों के बीच पाकर पद्मिनी की चुत भीग गयी और वह कसमसाने लगी.

नुदे सेक्सफिर एक दिन आया जब मैं अपने कमरे में बैठी थी कि मधु का फोन आया- सुनीता, मेरे साथ चल, आज राज के घर जाना है!मैं बोली- यार सुबह सुबह नहीं!मधु बोली- यार ऐसी कोई बात नहीं, उसे काम है तो उसने मुझे बुलवाया है. कुछ ही पलों के बाद उसके होंठों पर दर्द के साथ मुस्कुराहट भी झलक उठी थी.

इंग्लिश में बीएफ चुदाई वाली

इससे मेरी आवाज़ अब बन्द हो गई, मुझे लगा कि दर्द से मेरी जान निकल जाएगी. उधर बाथरूम में रिंकू भाभी भी अपनी चूत में ज़ोर ज़ोर से उंगली कर रही थीं और उनके मुँह से ‘आह ओऊऊऊ ओह यस आआआह…’ की आवाज़ और तेज होती जा रही थी. वो एक बार फिर बुर में लंड डलवाना चाहती थी लेकिन मेरी हिम्मत जवाब दे गयी थी.

अब कमरे में एक चुत और दूसरा लंड था, जो एक दूसरे को देख रहे थे और दंगल होने की राह देख रहे थे. अब तो बुड्ढा मेरी चिता जलाने को तैयार था, बुड्ढा मैडम के ऊपर चढ़ने को आतुर हो रहा था। बुड्ढे ने मैडम की दोनों जांघों को फैलाया और खुद बीच में आकर बैठ गया, वहाँ उसने अपना लिंग उस कामिनी की योनि में अंदर डाला और इधर जैसे मुझे हर्ट अटैक आ गया हो।बुड्ढा अब ऊपर नीचे हुए जा रहा था, मैडम ने अपनी दोनों जांघें बुड्ढे पर वार दी और अपने दोनों हाथों से बुड्ढे की पीठ को नोच रही थी. उससे कुछ बात हुई औऱ बातों बातों में उसने बताया कि वो पीजी कर रही है.

तभी अंकल मेरे पीछे गांड पर अपना लन्ड रगड़ने लगे और जैसे ही मेरे पीछे उनका लन्ड छुआ, जाने कैसे मैं मदहोश सी होने लगी. मैंने जैसे ही उसकी नजरों से नजरें मिलाईं, वो बोली- अब पास आये तो मैं पापा से सब कह दूँगी. तो पाठको, एक अचंभित कर देने वाली कहानी पढ़ने के लिए तैयार हो जाएँ, मेरे साथ जो कुछ हुआ, शायद ही ऐसा किसी व्यक्ति के साथ हुआ हो.

शीशे में अपने आपको देखते ही उन्होंने अपनी आँखें शर्म के मारे झुका लीं. जब हम शिफ्ट हो रहे थे तब कुछ महीने पहले से मॉम पापा में अनबन शुरू हो गई थी.

मेरे होश फाख्ते हो गए और बस यूं लगने लगा कि साली अभी पटक कर चोद दूँ.

फिर दीदी कहती कि क्या करूं भाई भूल जाती हूं और वो हंस कर रह जाती थी. पोर्न सेक्स वीडियो एचडीमैंने उसके नाभि को चूमना जारी रखा और अपने दोनों हाथों से उसके बूबस को दबाना चालू कर दिया. देसी भाभी एक्स एक्सये ऐसा समय हुआ करता था जिस समय मर्द घर पर नहीं होते थे, सब अपने अपने काम पर चले जाते थे. मेरा भाई कॉलेज में रहता है दिन में और पापा खेती के काम में बिजी रहते हैं.

मैंने अपना लंड छोटी चाची की चुत से निकाल के दोनों के सामने कर दिया और झुक कर बड़ी चाची की चुत के रस को चाटने लगा.

इसमें विशेषकर ये बताने लायक है कि मैं लोगों से बात करते वक्त उनसे उसकी बात को सुनता हूं, खासकर लेडीज़ की. नमस्कार दोस्तो, मैं मकबूल खान आपके पास मेरा सेक्स एक्सपीरियंस लेकर आया हूँ, जिसमें मैंने मेरी बहन को चोदा है. पूरे रास्ते मैं यही सोचता रहा कि मॉम को कैसे सरप्राइज दूंगा, दीदी को कैसे सरप्राइज दूंगा.

उसने मुझको फोन किया और बताया कि वह मुझे अपनी गर्लफ्रेंड से मिलवाना चाहता है. साली के चूचे कस कर जकड़ लिए और दोनों पंजे अकड़ा कर उँगलियाँ अंगूठे उनमें गाड़ कर ऐसे मसलने लगा जैसे सचमुच में उनका कीमा बनाना हो. मैंने मौसी को सेक्स की गोली देकर उनकी कामुकता जगाई और मौक़ा पाकर मैंने मौसी को चोद दिया.

सेक्स बीएफ इंग्लिश में

वो अभी भी दर्द से चिल्ला रही थीं- साले कुत्ते फाड़ दी मेरी चूत…आठ दस धक्कों के बाद भाभी को भी मज़ा आने लगा. रीना- यार, रणविजय की बात अलग थी। यह सब हमने सम्मिलित रूप से किया था और इसमें हम सब भागीदार थे लेकिन श्लोक मेरा भाई है मुझे ऐसी बातें करना अच्छा नहीं लगता।मुझसे नाराज होकर तथा डांट कर रीना सो गई. शायद वो भी जान गया था कि मैं क्या चाहती हूँ इसलिए वो भी हवस भरी निगाहों से मेरी ओर देखने लगा।एक दिन वहां बाहर बालकनी में मेरे कपड़े सूख रहे थे तो मैंने देखा कि खिड़की में से वह मेरी पैंटी और ब्रा को हाथ में लेकर सूंघ रहा था और फिर चला गया।फिर एक दो दिन बाद मैंने देखा कि मेरी ब्रा और पेंटी कोई चुरा ले गया.

मैंने लंड हिलाते हुए पूछा- क्या हुआ?छोटी चाची बोलीं- आज तो हम दोनों तेरे लंड का पूरा मजा लेंगे.

जैसे ही अपने हाथ से लंड को दबाया, लालजी तड़प उठा और कसके मुझसे लिपट गया.

मैंने उससे पूछा- सच सच बताओ तुमने चुदाई कहाँ से सीखी?उसने कहा- दीदी मत पूछिए, हम लोग ग़रीब परिवार के होते हैं और चुदाई तो कम उम्र में ही पता लग जाती है. अब आगे…जब पद्मिनी का बाप ठेके पर पहुँचा तो उसको एक दोस्त की मां के देहांत का समाचार मिला और वह पीने से पहले अपने दोस्त के घर चला गया. देसी बाथरूम सेक्सअपनी 24 साल की बाली उम्र में शादीशुदा लाइफ, वो भी कॉलेज करते हुए ये सब हो रहा था.

वो बोली- भैया, इतनी सुन्दर कड़क जवान लोंडिया को देख कर कौन छोड़ देगा. वो मेरे लंड को बड़े आश्चर्य से देख रही थी और उसे हिला कर जोर से पकड़ कर देख रही थी. जूही तब कम उम्र की थी परन्तु वो क्या आफत बनने वाली थी यह दिखने लगा था.

इसके पहले जब पापा ने उससे आशीष की हरकतों के बारे में बताया था, तब बिंदु ने पापा से इसी बात का बदला लेने के लिए मुझे पापा के साथ अपनी चुदाई दिखलाई और धीरे धीरे पूरी चुदक्कड़ बना कर अपने बेटे से चुदवा दिया. अपनी स्कर्ट जो जानबूझ कर चुत के पास तक ले गई जैसे कि मैं शराब पी कर नशे में आ गई हूँ और मुझे नहीं पता कि मैं किस तरह से लेटी हूँ.

अब हम कपड़े पहन कमरा खोल बाहर निकले तो वर्कशॉप के बॉस आ गए थे, दिनेश ने मेरा परिचय कराया- भाई साहब खान साहब, इन्हीं से मैंने पोलीटेक्निक में डिप्लोमा करने के बाद ड्राइवरी सीखी, व मोटर सुधारने का काम सीखा, अब अपलाई करता रहता हूं, इनटरव्यू देता रहता हूं। तब तक जहाँ काम मिले, कर लेता हूं!मैं उन्हें देखते ही पहचान गया था, मैंने कहा- जीजाजी सलाम, मुझे आप भूल गए होंगे.

मैंने कहा- ये तो बहुत देर से तड़फ रहा है, अब बस इसे प्यार कर लेने दो और इसे वो सब कुछ दे दो, जो ये चाहता है. दीदी ने जीजा की गोद में चढ़े हुए ही फ्रिज से बर्फ की बकट निकाली और जीजा को चूम लिया. इतना कह कर चाची मुस्कुराने लगीं और बोलीं- प्लीज़ कैफे वाली बात किसी को नहीं बताओगे तो मैं तुम्हें एक गिफ़्ट दूँगी.

घड़ी सेक्सी ब्लू इस वक्त मैं नहाकर बाहर निकली थी तो मेरे बाल भी गीले थे और मैं बहुत सेक्सी लग रही थी. तभी मैंने अचानक ही एक झटका लगा दिया और दीपू की एक घुटती हुई चीख मेरे लबों के बीच रह गई क्योंकि हम दोनों किस कर रहे थे और मुझे पता था कि वो जरूर चीखेगी.

उसने मेरा लंड पकड़ कर दबाते हुए कहा- हां मुझे याद है मैं मना किधर कर रही हूँ. मैंने पूछा- आप राहुल सर के पास क्यूँ जाती हो?उसने मुझको बोला- मैथ की क्लास लेने जाती हूँ. मैंने उनसे पूछा कि मुझे क्या करना होगा?तो वे बोलीं- ये तुम सोचो! और हाँ, पहले तो कोई बड़ी सी जगह ढूँढो!मैंने कहा- ये मैडम भी ना मरवायेगी मुझे! क्या क्या करवाती है मुझसे!वो दोनों हंसने लगीं तो मैं बोला- हाँ हाँ… हन्स लो, अभी समय है आपका!और वहां से चला गया.

बीएफ एचडी बीएफ वीडियो बीएफ

मैं सब कुछ समझ कर भी अंजान बनने लगा और पूछा- कौन सी बात के बारे में सोचा भाभी?भाभी मेरे इस सवाल पर मेरी तरफ गुस्से में देखकर बोलीं- यही कि तुम मुझे वो खुशी दे सकते हो. मैंने भी अब देर नहीं की और उनकी टांगें फैला कर उनकी मक्खन चुत में अपना सुपारा लगा दिया. मुझे कल सुबह जवाब दे देना क्योंकि अगर मैंने फिक्स कर दिया तो बहुत मुश्किल होगा.

अब मेरा भी निकलने को हो रहा था तो मैंने और भी स्पीड से चोदना चालू कर दिया और जब मेरा वीर्य निकलने को हुआ तो मैंने लण्ड को उसकी चूत से निकाल लिया और अपने हाथों में लेकर चरमसुख की प्राप्ति की आवाज़ आअह्हह्ह आआह्हा के साथ पूरा वीर्य उसके नंगे बदन पर फैला दिया. मैंने डॉक्टर को समझाना चाहा।आप निश्चिन्त रहिये…” उन्होंने मेरी ओर देखते हुए कहा- मुझे कुछ नहीं होगा, मेरे लिए यह कोई नयी बात नहीं है, आप दरवाज़ा खोलिये.

मैं भी अब झड़ने वाला था तो मैंने अपनी चुदाई की रफ़्तार और तेज कर दी.

मैंने भाभी के ब्लाउज को उतार दिया और उनके स्तनों को ब्रा के ऊपर से ही निहारने लगा. मैं अपने हाथों से उसकी पीठ पर हाथ फेरने लगा, कितना सुखद अनुभव हो रहा था! ऐसा लग रहा था कि ऐसा सुख हमेशा मिलता रहे. उसी वक्त मैंने सोच लिया कि आज मौका अच्छा है, घर पे कोई नहीं है, आपा को चोदने का इससे अच्छा मौका नहीं मिलेगा.

पापा जी… अब जल्दी से कर दो प्लीज!” बहूरानी ने लंड मुंह से बाहर निकाल कर अपनी नजर ऊपर उठा कर कहा. बस थोड़ी देर सब्र कर। अभी पहले से ज्यादा मज़ा आने लगेगा।”मेरा सारा नशा काफूर हो चुका था, लेकिन अपनी बिचली उंगली अंदर घुसाये-घुसाये उसने उलटे हाथ के अंगूठे से वही रगड़न देनी शुरू की जहाँ पहले उंगली से सहला रही थी।धीरे-धीरे नशा फिर चढ़ने लगा।उसके कहने पे मैंने अपने दूध और घुंडियों को अपने ही हाथों से मसलना शुरू कर दिया. उसके कमरे में जाकर जब मैंने उसके लंड की तरफ देखा, तो पाया कि उसका लंड एकदम उसके पेंट में खड़ा था.

वो मुझे मस्त और नशीली निगाहों से देखते हुए बोली- अंगूर पसंद आए?मैंने कहा- हां बेहद.

एक्स एक्स एक्स भोजपुरी में बीएफ: उसको कई बार मैंने कॉलेज से बुला कर होटल में चोदा ओर उसके घर जाते हैं, तो रास्ते में बीहड़ पड़ता है. भाबी पूरी गर्म हो चुकी थीं, उनकी आँखों मेंवासना की खुमारीसाफ़ देखी जा सकती थी.

मैंने जानबूझ कर पूछा- बाहर किस लिए चलना है भाभी?भाभी बोलीं- मदद करने का वायदा किया था, अब भूल गए हो क्या?मैंने हंसते हुए कहा- बस कन्फर्म कर रहा था भाभी. एक तो मुझे कोई रूम किराए पर ढूँढने के लिए सहायता और दूसरी नौकरी ढूँढने की. मेरा नाम रिशु है मैं जब स्कूल में पढ़ता था, उस समय से ही मुझे देसी औरतों की सेक्स वीडियो और अन्तर्वासना पर उनकी चुदाई की कहानी पढ़ने का बड़ा शौक लग गया था.

मैंने उनके मुँह में जबरदस्ती लंड पेल दिया और सीधे गरदन तक पहुँचा दिया.

शॉट इतना तगड़ा था कि लौड़े के सुपारे ने रेखा रानी की यूटरस के दरवाज़े पर ज़ोरदार दस्तक दी. मैं उसे पहचानने की कोशिश में ही लगा हुआ था तभी मेरे कानों में मेरी मॉम की आह सुनाई दी और मैंने दोबारा लिविंग की तरफ अपना ध्यान एकत्रित कर दिया. उनका मेन गेट जाली वाला था, पर घर गली में था इसलिए उनके घर को उस टाइम में ही देख सकता था.