कैमरा मे बीएफ

छवि स्रोत,દેશી ભાભી ચૂદાઈ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वी डियो: कैमरा मे बीएफ, और मेरी बीवी एक दो टके की रण्डी की तरह धीरे से बोल उठी- मुझे चोद दो.

चुदाई सेक्सी पिक्चर

’ किया और अपनी गाण्ड थोड़ी ऊपर करके मेरी इस हरकत पर एतराज जताया लेकिन उन्होंने कुछ कहा नहीं. क्सक्सक्स देसी पोर्नसन्नी ने अर्जुन से सब का परिचय करवाया और अर्जुन को सन्नी ने एसीपी बताया.

मुझे तो जैसे किसी कश्मीरी सेब की तरह मजा आ गया।अंजान और गैर अनुभवी के लिए तो यह ही काफी था।परी का चेहरा देखने लायक था।उसने मुझे गुस्से से देखा. कामवाली सेक्सी व्हिडिओमैंने भी उसको अपने दिल की बात बताई और कहा- तुम नहीं जानती कि मेरा क्या हाल है.

तो दूसरे हाथ से मैं उसकी चूत में उंगली कर रहा था।उसकी चूत गीली हो चुकी थी। उसने पैंटी भी नहीं पहन रखी थी। सो मेरी उंगली आसानी से सलवार के ऊपर से ही उसकी चूत में जा रही थी। वो बहुत जोर से आवाज कर रही थी।‘उन्नन्नन्न न्नह्हह.कैमरा मे बीएफ: और उसने मुझे नीचे लिटा दिया। मेरी टी-शर्ट उतार फेकी और मुझे चूमने लगी। उसका हाथ मेरे लोवर पर घूम रहा था.

उसके लंड से माल गिरने लगा।मॉम अब उठ कर उससे चिपक गईं, दोनों 5 मिनट ऐसे ही लिपटे रहे।फिर सपन ने बोला- मुझे भूख लगी है.’ का इशारा करने लगी मैं तेज-तेज उंगली चलाने लगा।आयशा गरम होकर मेरा लण्ड कसके दबोच रही थी और जीन्स के ऊपर से ही.

गांड मारने वाले वीडियो - कैमरा मे बीएफ

मुझे सुनाई नहीं दिया तुमने क्या कहा? जरा फिर से कहो?उसने मुस्कुराते हुए कहा- नीचे से हाथ डालो.और साथ ही आपकी चूचियों को मींजने का मन कर रहा है।इसके लिए दीदी तैयार हो गईं।फिर क्या था.

हमें बातें करते हुए एक घंटा हो चुका था और मेरे दिमाग और दिल से अब अनजानेपन की बात भी निकल चुकी थी।फिर मैंने उनसे कहा- मैं बाथरूम होकर आती हूँ।मैं बाथरूम गई और पेशाब कर वापस आकर उनके बगल में दुबारा बैठ गई।मेरे आने के कुछ देर बाद उन्हें भी पेशाब करने की सूझी. कैमरा मे बीएफ ’ से मेरी हिम्मत अब बढ़ गई थी।मैं खुल कर बोला- तुम्हारी ब्रा और शर्ट निकाल दूँगा।वो- आगे.

और हमें देख रही थी।यह सुन कर भाभी डर गईं कि कहीं वो भैया को ना बता दे.

कैमरा मे बीएफ?

तब मैंने आहिस्ता-आहिस्ता हिलना शुरू कर दिया।अब उसको भी मज़ा आने लगा और उसने भी आगे-पीछे हिलना शुरू कर दिया. उसकी छाती उसके चूचे पर जा टिकी और वो रवि को चूमने लगी पागलों की तरह और रवि की गांड को अपने हाथों से दबाते हुए लंड को चूत में धकेलने लगी।अब रवि की स्पीड भी बढ़ गई थी और गाड़ी हिलने लगी. टायलेट में चलते हैं।मगर उसने आँखों से नहीं का इशारा किया।मेरा लंड अब पैन्ट के अन्दर दर्द करने लगा.

पर मुझे नहीं दिखा।दोपहर में मैं मैडम के घर गया, आज भी मैडम ने नाइटी पहनी थी।फिर हमारी बातें शुरू हुईं।मैडम- कुछ पियोगे।अवि- हाँ. गाण्ड लाल करते हुए अपना लण्ड उसकी चूत में पेलता चला गया।‘ले धक्के पे धक्के. आँखों से आंसू आ गए।मैंने उसके होंठों को मुँह में भर लिया और चूसने लगा और दर्द का कम होने का वेट करने लगा। एक मिनट बाद वो कुछ शान्त हुई.

वो मजे में झूम रही थी। उसके मुँह से मादक आवाजें और सिसकारियाँ निकल रही थीं। ये सिसकारियाँ मुझे और भी ज्यादा पागल बना रही थीं और मुझ में जोश भर रही थीं।इन सबके बीच सोनी आज पहली बार कुछ बोल रही थी।सोनी- भाई और जोर से अहहाह अहह. आज से तुम इससे ही खेलोगी।फिर उन्होंने मेरा पेटीकोट भी निकाल दिया। अब मैं और भाई पैन्टी और कच्छे में थे।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मेरी पैन्टी पूरी गीली हो चुकी थी. मैं अपना लण्ड भाभी की चूत में नहीं डाल पाया और बाहर ही ढेर हो गया। मेरी तो कलेजा गले में आ गया कि ये क्या हो गया।मैंने अपने ऊपर थोड़ा काबू किया और भाभी की सलवार को ऊपर करके दूसरी तरफ मुँह करके सो गया.

और उसने मुझे गाल पर एक चुम्मा कर दिया।मैंने भी उसको गाल पर एक चुम्बन दे दिया।बस फिर क्या था. भले ही तू जीत गया होगा मगर फिर भी मैं तुझे पहले टच नहीं करने दूँगी.

इस पोर्न स्टोरी के पिछले भागउसकी चूत चुदाई का कभी सोचा ही न था-1में अब तक आपने पढ़ा.

तब मुझे विश्वास हुआ कि ये सपना नहीं था।तब मैंने काजल से कहा- तू इतनी रात को मेरे कमरे में क्या कर रही है.

ये बहुत ज़्यादती है आप ऐसा नहीं कर सकते।बदल सिंग- अरे बावली करने को तो मैं घनो कुछ कर सकूँ हूँ. आज तुम कली से फूल बन गई हो।मैं छटपटाती रही और वो धीरे-धीरे अपने मूसल लवड़े को चूत में आगे-पीछे करने लगा और बोला- अब तुम्हें इतना मजा आएगा कि आज तक कभी नहीं आया होगा।मैं भी अब सहन कर रही थी वो हचक कर लौड़े को आगे-पीछे करने लगा। करीब 10 मिनट बाद मुझे भी मजा आने लगा और मेरे मुँह से ‘उम्म्म्मम. नहीं तो दोनों को थाणे ले जाकर नंगे कर दूँगा।पायल- सर प्लीज़ हम अच्छे घर से है.

अब वो भी मेरा साथ दे रही थी।पूरे कमरे में ‘फच फच’ की आवाजें आ रही थीं।वो सिसकारियाँ लेकर चुदाई का मजा ले रही थी ‘चोद मेरे भाई और जोर से चोद. जिसमें वो इतनी गरम हो चुकी थी कि कई बार झड़ चुकी थी।चुदाई के बाद हम दोनों निढाल होकर पड़े रहे।उस रात मैंने मनप्रीत की पूरी रात में 3 बार चूत चोदी. और धीरे-धीरे करके उसने पूरा लौड़ा मुँह में ले लिया और लॉलीपॉप की तरह लौड़े को चूसने लगी।अर्जुन- आह्ह.

पर मुझे कुछ दिन पहले ही पता चला कि ये लड़कियों के लिए काफी बड़ा है।मैं एक किराए के कमरे में रहता हूँ, मेरे साथ एक और लड़का मेरे साथ रहता है, वो जॉब करता है और सुबह 6 बजे ही अपनी ड्यूटी पर चला जाता है।उस दिन भी वो सुबह-सुबह अपनी ड्यूटी पर चला गया.

पिछली होली का खुमार उतरा नहीं था कि इस साल भी होली आ गई…कुछ जल्दी ही आ गई।होली से एक दिन पहले रवि ने कहा कि इस बार बॉस की होली में उसे भी बुलाया गया है।बॉस यानी किशोरकांत… मैने उन्हें एक बार ही देखा था, लंबी-तगड़ी कद काठी-गठा हुआ शरीर, बुलंद आवाज।मैंने रवि से पूछा- क्या पहन कर जाना होगा?रवि बोला-. वो साल में एक महीने के लिए गाँव आता है।मेरे चाचा के घर में तीन बेडरूम हैं। एक में चाचा-चाची सोते थे। एक स्टोर रूम था और एक कमरा मेरा था।मेरी जिंदगी अच्छे से चल रही है। जब मैं बड़ी कक्षा में गया. हल्की-हल्की ठण्डक भी थी। मैंने सोचा क्यों न आज सोनी की पहली चुदाई खुले आसमान के नीचे की जाए।पांच मिनट बाद सोनी भी आ गई और वो मेरी छत पर आ गई.

अगर सोनिया को मज़ा आया तो चूत में दो लण्ड डाल कर मज़ा लेंगे।उधर सोनिया नीचे बैठ कर रिंकू का लण्ड चूस रही थी। अब रिंकू ने सोनिया को बिस्तर पर लिटा दिया और उसके मम्मों को चूसने लगा. पर तब मैंने गौर नहीं किया था।आज रात मेरी नींद रात में खुल गई, मैं उठा. एक छोटे चाचा और दादी हैं।मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ और 2014 से पहले लगता था इसमें प्रकाशित कहानियाँ सब यूँ ही बनावटी होती हैं लेकिन जब मेरे साथ उस साल हादसा हुआ.

स्कूल, मार्केट, शादी, ब्याह… जहाँ कहीं भी जाता, बस नज़रें लड़कों के शरीर का जायज़ा लेना शुरु कर देती थीं.

पर मैं फिर भी उतना अच्छे से नहीं लिख पाता हूँ।कुछ लोग झूठी स्टोरी को भी इस तरह लिख देंगे कि वो पूरी रियल ही लगने लगती है।अब ज्यादा टाइम ना लेते हुए. प्लीज मेरी प्यास बुझा दो।मैंने भी बिना टाइम लगाए उसकी चूत पर लंड रख दिया।उसने डरते हुए कहा- बाबू.

कैमरा मे बीएफ कॉफी पीने के बाद में घर चला आया, रास्ते में मैं किताब के बारे में ही सोच रहा था।बाय मित्रो, मिलते हैं अगले भाग में. ताकि वो उसकी गाण्ड में अपना लौड़ा घुसा सके।सन्नी ने कोमल की कमर में हाथ डालकर उसको अपने सीने से चिपका लिया और धीरे-धीरे नीचे से झटके मारता रहा।अर्जुन ने अपने लौड़े को देखा वो एकदम रूखा सा हो गया था.

कैमरा मे बीएफ मेरे अन्दर आग लगने लगी और मेरी पैन्टी भीग गई, लगभग 6 महीनों से मैंने आनन्द नहीं लिया था।मोनू ने अचानक मेरी एक चूची मुँह में ले ली, मैंने उसका सर पकड़ कर अपने साथ भींच लिया, मोनू बिल्कुल बच्चे की तरह चूसने लगा. दर्द होता है।मैं जानता था कि लण्ड के दर्द के आगे यह दर्द कुछ भी नहीं.

और मैं जाकर आगे वाली सीट पर उसकी बगल में बैठ गया।गाड़ी चली और उसने गाने लगा दिए.

ऑडियो हिंदी सेक्सी

मैं बेतहाशा उसके होठों को चूसने लगा और मेरे हाथ अपने आप ही उसकी छातियों को दबाने लगे. तो मैंने उससे मुँह में ले लिया और चूसने लगी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !कुछ देर चूसने के बाद उसने मुझे बिस्तर पर चित्त लिटा दिया और वो मेरे ऊपर आ गया, उसने अपना लंड मेरी चूत पर लगा दिया और उसे वहाँ रगड़ने लगा।मैंने कहा- मत सताओ. उस दिन छुट्टी थी और उसने घर का पता दिया तो मैं उस पते पर उसके घर पहुँच गया।मैंने बेल बजाई.

फिर पेटीकोट भी उतार दिया।मैं अब बस बीच सड़क में अपनी ब्रा पैन्टी में खड़ी थी, मेरा गोरा बदन ट्रक की हेडलाइट में चमक रहा था।मैंने कहा- हो गया. तो उसके साइड से खुली आस्तीनों से मैं हल्के से हाथ डालकर उसके मस्त मम्मों को स्पर्श करने लगा। तो आयशा ने जो बैग ढीला सा पकड़ा हुआ था. ’ सिसकारने लगा।मैं चाहता था कि मेरा माल मेरी बीवी के मुँह में ही छूटे पर मैंने जल्दी से अपना लौड़ा अपनी बीवी के मुँह से बाहर खींच लिया ताकि इतनी जल्दी मेरा माल न छुट पाए।मेरा ऐसा करने से मेरा लवड़ा मेरी बीवी के मुँह से ‘प्लॉप’ की आवाज करते हुए निकल आया.

मैं तुम्हारा रस अपनी चूत में ही लेना चाहती हूँ।फिर 15-20 झटकों के बाद मैं और जूही साथ साथ झड़ गए।उस रात मैंने उसकी 3 बार चूत मारी और फिर हम लोग 2 बजे बिना कपड़े पहने नंगे ही सो गए।सुबह जूही ने मुझको 11 बजे जगाया और कहा- आप जा कर फ्रेश हो जाएं.

पर आज काम में बॉस का कुछ ज्यादा ही मन लग रहा था और मुझे भी मजा आ रहा था।मैं बॉस के बगल में बैठी थी कि अचानक पानी का गिलास मेरे ऊपर गिर गया और मेरी जीन्स गीली हो गई, मैं तुरंत खड़ी हो गई।बॉस ने तुरंत अलमारी खोली और कहा- तुम कपड़े चेंज कर लो. जिसे सुनकर सब ज़ोर-ज़ोर से हँसने लगे।रॉनी- अरे कोमल तू तो बड़ी भोली बन रही है यहाँ. प्रियंका की आवाज सुनते ही चौंक कर हड़बड़ाहट में सुरभि ने कॉफ़ी का कप ले लिया।प्रियंका- मैम कैसी है कॉफ़ी?सुरभि- कॉफ़ी.

वरना कोई नहीं कहता कि वो बला 27 साल से ज़्यादा की नहीं होगी।इतनी सेक्सी. पहले तेरे रसीले होंठों से शुरू करूँगा उसके बाद इन चूचों को मसलूंगा फिर तेरी चूत चाटूँगा. कोई आ जाएगा।उसने भी जल्दी से कपड़े उतार दिए। मैं भी नंगा हो गया।गौरी की चूत देखकर मेरा लन्ड सलामी दे रहा था। मैंने जल्दी से गौरी को सीधा लिटा दिया और लन्ड को चूत के मुहाने पर टिका कर एक झटका मारा.

मेरा लण्ड नब्बे डिग्री के कोण में खड़ा हो गया था। वह मेरी ओर मुँह करके मेरे लण्ड के ऊपर चूत रख कर धीरे-धीरे ऊपर-नीचे करने लगी. वो सीधे रसोई में गई।मैं वहाँ पहुचा तो देखा वो चाय बनाने लगी थी।मैंने उससे पीछे से पकड़ लिया.

और वो झुक कर चीजें उठा कर रख रही थी।नाईटी खुले गले की होने के कारण उसकी चूचियाँ मुझे साफ दिखाई दे रही थीं।मेरा लंड खड़ा हो गया था. तब तक मैं उसको चोदने के लिए रेडी करता हूँ।सन्नी- ठीक है मैं उनको भेज कर आता हूँ. क्योंकि आमतौर पर ऐसे काम करते वक़्त लोग सारे काम धीरे-धीरे और शांति से करते हैं। लेकिन यह ऐसा था जैसे जानबूझ कर दरवाजे को जोर से बंद किया गया था।खैर.

मैंने खुद भी अपनी जिंदगी में ऐसे वाकये देखे हैं जब एक जाट ने दोस्त के लिए वो सब किया है जो हम किसी अपने के लिए करने के बारे में भी 100 बार सोचेंगे.

वे मोर्चा संभालने ऊपर आ जाती थीं।अंत में मैं ऊपर था तो जैसे ही मेरा निकलने को हुआ. क्यों न गोलू की वाइफ को भी यहीं बुला लूँ।मैंने राज से पूछा- भाभी को भी बुला लें?उसने हाँ का इशारा किया।फिर क्या था. ’प्रियंका ने सारी वारदात अपनी मुँह जुबानी सुना दिया। दोनों की ही चूत गीली हो उठीं।दोस्तो, इस कहानी में रस भरा पड़ा हुआ है इसको मैं पूरी सत्यता से आपके सामने लिख रहा हूँ.

उसका तो पता नहीं क्या होता होगा।सन्नी की बात सुनकर अर्जुन बस मुस्कुरा रहा था।एनी- तेरे को तो जानवर होना माँगता था. अर्जुन तो हावड़ा मेल की रफ़्तार से शुरू हो गया। उसने एनी की गाण्ड को बुरी तरह चोदना शुरू कर दिया। पूरे कमरे में एनी की ‘आहें’ और ‘पक्क.

तो आज इस साली फिरंगिन की चाल ना बदल दूँ तो मेरा नाम बदल देना।सन्नी ने एनी को कहा- मैं थोड़ा बाथरूम जाकर आता हूँ. पर पता नहीं इसे उस हालत में देखकर मुझे एक अजीब सा फील आने लगा। शायद एकदम कुँवारी लड़की का बदन देखकर वैसा फील होने लगा था।तभी उसने मेरी तरफ पीठ करते हुए कहा- ज़रा इस ब्रा के हुक्स निकाल दो।उसकी मुलायम और राउंडेड गाण्ड देख कर मेरे लंड में हलचल शुरू हो गईमैंने उसी हालत में ब्रा को अनहुक किया और उसने उस आखिरी कपड़े को अपने बदल से अलग कर दिया।मैं यकीन नहीं कर पा रहा था कि ये वही लड़की है. तब मैंने उसको चिपका करके खूब प्यार किया।सारिका ने तब कहा- भैया किसी को पता नहीं चलना चाहिए।मैंने कहा- पागल हो क्या? तुम मेरी बहन हो और यह हम दोनों के बीच ही रहेगा।फिर हम दोनों ने कपड़े पहने और बाल ठीक किए और जाते वक़्त कस कर एक-दूसरे से गले मिले और फिर वह तेजी से मेरे घर से बाहर निकल गई।वह अपनी दीदी के घर ना जाकर सीधे अपने घर को चली गई।इसके बाद मैंने सारिका को करीब दस बार चोदा.

जापानी सेक्सी वीडियो बस

इससे मेरा लण्ड खड़ा हो गया।वो मेरा लण्ड देख कर बोली- बाबू ये क्या है??मैंने जवाब दिया- ये तुम्हारे लिए रोज़ फ्लावर है.

मैं दर्द से तड़फ रही थी और राजू मुझे किस कर रहा था।भाई- ऋतु जब लड़की की सील टूटती है तो दर्द होता ही है. तैयार हो और चिकन बना दो।मेरी मॉम संगीता ने मुस्कुराते हुए उससे चिकन ले लिया और किचन में चली गईं।सपन ने मूवी वीसीआर में लगा दी और मेरे साथ देखने लगा। थोड़ी देर के बाद मेरी मॉम की 2-3 बार खांसने के आवाज़ आई. पहले तो कुछ देर जान-पहचान हुई।फिर तारा ने ज्यादा समय नहीं लिया और उनसे उनके कमरे की चाभी मांग कर हमें बोली- आप लोग आपस में बातें करो.

ऐसे में मुझे क्या करना चाहिए?अन्तर्वासना के समझदार पाठक पाठिकाओ, मुझे प्लीज़ बताओ कि मैं क्या करूं?. शायद उनसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था।मैंने भाभी की कमर पकड़ी और लंड को अन्दर-बाहर करने लगा।भाभी ‘आहह. बॉलीवुड xnxxएक बार भी बताना नहीं हुआ तुझसे? मैं उस दिन से वो नजारा याद करके रोज अपनी चूत में दो उंगली पेलती हूँ.

उसने अपना नाम बताया और कहा- मुझे ये नंबर मेरे किसी परिचित ने दिया है. मैं अपने घर आकर एक बैग में अपने कपड़े लिए और वाईफ को शहर से बाहर जाने के लिए बताया। उसने ज्यादा पूछताछ नहीं की.

वो पंजाबी थीं तो पंजाबी औरत का मज़ा तो आप जानते ही हैं।मैंने उनकी चूत पर से अपना मुँह हटा कर उनके लिप्स पर आ गया।वो उतावली हो कर मेरे कपड़े उतारने लगीं और मेरे लंड से खेलने लगीं।जैसे ही मैं उनके हाथ से लंड निकाल कर उनकी चूत पर रखने लगा. उसे देख कर पता चला कि वो काफ़ी जवान हो गई थी और उसके मम्मे भी काफ़ी बड़े हो गए थे।उसे देखते ही मेरी नियत डोल गई थी।पता चला कि वो कई दिनों से घर पर थी और अभी कुछ दिन और रुकने वाली थी। मुझे लगा कि मुझे ट्राई करना चाहिए।रोज सुबह जब वो घर के काम में मम्मी को हेल्प करती थी. उसे ‘हॉट-स्पॉट’ कहते हैं।इसी तरह आदमी के अंगों को छूने के बाद अगर लण्ड में हरकत होती है.

जिससे मेरा लण्ड पूरा गीला हो गया।मैं फिर भी लगातार झटके मारता रहा।रस से सराबोर लौड़े के झटकों के कारण उसकी चूत एक अलग ही आवाज कर रही थी ‘छप चप्प चप्पाक. वो शरमा गई और कुछ हड़बड़ा भी गई। हड़बड़ाहट की वजह से उसने टी-शर्ट ठीक नहीं की और कमोबेश मेरे भी होश उड़े हुए थे। अन्दर से हवस कब जग गई. गर्मियों में तो अक्सर पूल पार्टी होती रहती है।ऐसे ही एक बार पूल पार्टी में अपने दोस्तों के साथ गया था.

उसकी यह हालत देख कर मुझे और मज़ा आ रहा था, मैं जोश में जोर-जोर से धक्के मार रहा था।लगभग 6-7 मिनट के बाद वो झड़ने वाली हुई.

पोलो में पूरा उभरा हुआ दिखाई दे रहा था, पूरा 90 डिगरी में तना हुआ था।मैडम मेरे पास आई. उसने अपना सिर मेरे कंधे पर टिका दिया।मैं कोहनी से उसका एक चूचा दबाने लगा।वह धीरे-धीरे गर्म हो रही थी, मैं उसे पूर्ण उत्तेजित कर देना चाहता था।एक हाथ उसकी जाँघों पर फिराने लगा, उसने लैगी और एक कमीज पहनी हुई थी।फिर मैंने उसका मुँह अपनी तरफ करके उसके होंठों पर एक गहरा चुम्बन ले लिया। मैं बोला- आई लव यू हिना.

उसके पैरों को फैला दिया।अब मैंने अपना लंड उसकी चूत की फांक में फंसा दिया। अभी मेरे लंड का सुपाड़ा ही उसकी चूत में गया था. तो मैंने उन्हें अपने घर के हालात और अपनी समस्या के बारे में बता दिया।मेरी परेशानी को सुन कर उन्होंने कहा- वह मुझे पांच लाख रुपए दे देंगे. से करवा दी।उसके साथ बात करने के बाद भाभी ने मुझे गले लगा कर बधाई दी फिर उन्होंने मुझसे पूछा- कितने साल हो गए तुम दोनों को?मैंने कहा- अभी तो एक महीना ही हुआ है.

इस पर उनका जवाब सुनकर मैं हैरान रह गया।उन्होंने कहा- कुछ होने के लिए ही ये सब कुछ मैंने तुम्हारे साथ किया है।फिर क्या था. अपना लण्ड उसकी चूत में पेलने लगा। उसने मेरे लण्ड को पकड़ कर बाहर निकाल कर खुद अपनी गाण्ड के छेद में लगा दिया और एक हाथ से मेरे पीछे से गाण्ड को अपनी और धकेलने लगी. सिमरन और संजय भी नार्मल हो गए और हम फिर सभी बैठने लगे।हम दोनों टेबल के पास पड़े सोफे पर बैठे थे.

कैमरा मे बीएफ और गाड़ी में चूची नंगी करने की उत्तेज़ना के कारण उसकी आँखें मदहोश हो रही थीं।मैंने झुक कर उसके दायें निप्पल को मुँह में भर लिया और जोर से चूसा। उत्तेज़ना से मेरी बीवी प्रिया की सिसकी निकल गई और उसने अपने हाथों में मेरा सिर थाम कर एक ठंडी ‘आह. पर मैं बुर को रसगुल्ला समझ कर चाटता रहा।रिया भी मेरे मुँह में झड़ गई.

सनी लियोन का हॉट वीडियो सेक्सी

तो मैंने अनजान की तरह उनको पानी का गिलास दिया।उन्होंने पानी पिया और बोले- ये क्या चल रहा है. इसलिए मैं अब ज्यादा घर में नहीं रहता और एग्जाम हो जाने के बाद मैं हॉस्टल चला जाऊँगा और फिर कभी वापस घर नहीं आऊँगा. तो देखा कि मामा तो ऑफिस के काम से बाहर गए हुए थे और मेरा भाई यानि उनका लड़का कोचिंग में था। घर में सिर्फ मामी और मेरी बहन जिसका नाम तृषा था.

और साथ में लौंडिया भी और हमें उल्लू बना के जाना चावे है।रतन सिंग- साब जी मन्ने तो झोल लगे सै. ह्ह्ह्म्म…’मैं उसकी पीठ चूमते-चूमते उसकी कमर के पास आ गया और उस पर अपनी जीभ चलाने लगा।अब तो उसकी हालात और भी ख़राब हो गई और उसकी चूत पानी छोड़ने लगी. এক্স বাংলা বিএফउनके फेस को चाटने लगी।उन्होंने भी मेरा पूरा साथ दिया। काफ़ी देर तक हम यूँ ही एक-दूसरे को जकड़ कर प्यार करते रहे.

उसने एनी का सर पकड़ा और लौड़ा उसके मुँह में ठूंस दिया। वो बेचारी क्या करती.

और थोड़ा उठ कर मेरे नग्न स्तनों को ललचाई निगाहों से घूरने लगे।ऐसा लग रहा था जैसे मेरे भरे-भरे मांसल स्तनों जैसी कोई चीज़ पहले उन्होंने कभी देखी ही नहीं थी।फिर अचानक से एक झटके में उन्होंने मेरे एक स्तन को हाथ से पकड़ा और उसे मसलते हुए अपना मुँह मेरे दूसरे स्तन पर लगा कर चूचुक को ऐसे चूसने लगे. उसकी 36-30-38 की फिगर देखकर किसी का भी खड़ा होकर कड़ा हो जाए।उसके मम्मों को देख कर तो ऐसा लगता है.

पर उसने मुझे अपनी ब्रा पूरी तरह से खोलने नहीं दी।मैंने भी जबरदस्ती करना छोड़ दिया क्योंकि मैं जानता था कि मेरा आधा काम हो गया है।सो मैंने फिर से उससे बातें करनी शुरू कर दीं और बीच-बीच में स्मूच और किस का सिलसिला चलता रहा और मम्मों भी बाहर से प्रेस करता रहा। इसी बीच मैंने मैंने फिर से अपना हाथ अन्दर डाला और मुँह से ऊपर की तरफ से मम्मों का जो हिस्सा मेरे मुँह को मिला. जिसे मैं भी आप सभी के साथ बांटना चाहूँगा।मैं विजय 35 साल की उम्र का हूँ. तो उसके मम्मे भी इतनी जोर से हिल रहे थे कि मेरी पकड़ाई में नहीं आ रहे थे। मुझको भी अब और मज़ा आ रहा था।थोड़ी देर बाद उसने मुझसे कहा- मैं थक चुकी हूँ.

अब रुकना नहीं हो रहा मेरे से।तो मैंने भी अपनी ऊपर नीचे होने की स्पीड बढ़ा दी, बस कुछ ही झटकों में वो ‘ओइईई ईईईई.

मैंने खिड़की से झाँक कर देखा कि पापा माँ के ऊपर हैं और दोनों एकदम नंगे थे। मुझे ये सब अजीब सा लगा और मैं वहाँ से चली गई।यह सुनकर उसने मेरे पास आकर बोला- चल आज हम माँ-पापा वाला खेल खेलते हैं।मैंने भी जोश-जोश में ‘हाँ’ बोल दिया. वो कुछ ही धक्के लगाकर मेरी चूत में ही झड़ गया और काफ़ी देर मेरे ऊपर ही पड़ा रहा। अब वो थक चुका था और उसका मन भी भर गया था।मुझे सूसू आ रही थी. जिससे मेरे जोश के कारण मेरी स्पीड और तेज हो गई।भाभी फिर से दुबारा झड़ गईं। मुझे भाभी को चोदते हुए काफ़ी समय हो चुका था.

बिहारी ब्लूपर उन्हें यह सब नहीं बताया।मैं जानती थी कि 3-4 घंटों के बाद जब सुन्न वाली दवा का असर ख़त्म होगा. मैंने उसे ‘लव यू’ कहा और एक प्यार भरा चुम्मा दिया।अब हम दोनों एक-दूसरे के बदन को सहला रहे थे.

सेक्सी वीडियो दे सेक्सी वीडियो दे

उसके सूट की बाजू में से झाँकते उसके मम्मे बरबस मुझे अपनी तरफ खींच रहे थे।सफाई करते-करते मैं उससे इधर-उधर की बातें भी कर रहा था. मैं दूर तक जाने भी उन्हें तक देखता रहा और उनकी बहन को चोदने की कल्पना में खो गया।अगली बार उनकी बहन की चुदाई के बारे में लिखूंगा कि क्या हुआ. तो हम फ्रेंड्स हैं और किसी के सामने तो तुम हम दोनों को ही भाभी बोलोगे।मैंने कहा- ठीक है।कुछ देर मस्ती हुई फिर हम सबने खाना खाया। खाने में प्रीत ने चिकेन बना रखा था। सबने खाना खा लिया और अब नेहा बोली- मैं चलती हूँ।नेहा के जाने के बाद प्रीत मेरे पास आई और बोली- मुझे मेरा गिफ्ट चाहिए यश।मैंने बोला- क्या चाहिए।तो प्रीत बोली- यश आज रात के लिए तुम मेरे पति बनोगे।मैं जानबूझ कर हैरान हुआ- क्या?‘हाँ.

प्लीज मेरी प्यास बुझा दो।मैंने भी बिना टाइम लगाए उसकी चूत पर लंड रख दिया।उसने डरते हुए कहा- बाबू. अब सुनो। मुझे जल्दी तुम्हारा लण्ड अपनी चूत में चाहिए। इसलिए में तुम्हारा लण्ड मुँह में नहीं लूँगी।तुम लण्ड पहले मेरी चूत पर रगड़ना. मैं अपने कमरे में कुर्सी पर बैठ कर मुठ मारने लगा।तभी आवाज आई- संजय जो तुमने कपड़े पहन रखे हैं उन्हें भी निकाल दो.

जिससे मैं कुछ उत्तेजित हो जाती थी।मैं आपको बता दूँ कि मैं थोड़े डीप नेक के टॉप इस्तेमाल करती हूँ। मेरे सूट्स के गले काफी खुले हुए होते हैं. उसने मेरे हाथ को पकड़ लिया। मैंने उसके हाथ को उठा कर अपने लण्ड पर रखा और मेघा की कच्छी में हाथ डाल दिया. अभी तो इस कहानी की बस शुरुआत हुई है। अगर मुझे आप लोगों ने मेरा उत्साह बढ़ाया तो मैं इस कहानी को आगे भी लिखूँगा और सबके सामने लेकर आऊँगा।वैसे भी अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है.

कहाँ से ली?बोला- घर के पास वाली दुकान से!मैंने कहा- दिखाना कपड़ा कैसा है?यह कहकर मैंने उसकी जींस का जायजा लेना शुरु किया. लेकिन क्या करूँ उनके बेपनाह प्यार के कारण दर्द भी सह लेती हूँ और वैसे भी अब धीरे-धीरे इन सबकी आदत मुझे भी पड़ती जा रही है।क्योंकि अगर अपने पति को खुश रखना है और उनका प्यार पाना है तो इतना तो सहना और करना ही पड़ेगा।अंत में बस इतना ही कहूँगी कि हो सकता है इस दुनिया में मेरे रोहित के जैसी चाहत रखने वाले काफ़ी मर्द होंगे.

क्योंकि मैं झूठ नहीं बोल सकता हूँ। जो मुझ पर इतना भरोसा करके आई थी उससे झूठ कैसे बोल देता।अब देखते हैं अगली बार कब मौका मिलता है।यह मेरी एकदम सच्ची कहानी है.

लगता था जैसे उसके पति ने कभी वहाँ हाथ भी नहीं लगाया था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने उसके दोनों फलक खोले और अपना मुँह उनमें डाल दिया. चूत लंड की चुदाई वीडियोमैं भी बिना देर किया सिगरेट फेंकता हुआ और दूसरों की नज़र से बचता हुआ उनकी कार में बैठ गया।उन्होंने मुझसे मेरी उदासी का कारण पूछा. देसी भाभी की सेक्सी फोटोउसे उस कमरे में ले गया।अब उधर उसे घोड़ी बना कर उसकी चूत पर थूक लगा दिया। मैंने अपने हाथ से अपने कड़क लण्ड को पकड़ कर उसकी चूत में डाल कर उसकी कमर पकड़ ली और जोर-जोर से फुल स्पीड से उसकी चुदाई करना चालू कर दी।इस पोज में उसकी झूलती चूचियाँ मुझे बड़ी अच्छी लग रही थीं. जो मुझे पागल किए जा रहा था। उसके दोनों मम्मे बिल्कुल गोल थे और दोनों पर बीच में एक भूरे रंग का छोटा सा बटन जैसा टंका था।मैं ऐसे ही उसे देखने लगा, तभी वो अचानक बोली- बस देखना ही था.

मीठी-मीठी सी ठण्ड का मौसम चल रहा था।सभी स्टार्टिंग वाली जगह पर अपने- अपने पार्टनर्स के साथ पहुँच गए।बस मैं और वो ही अकेले आने वाले थे मैंने देखा कि उसने उस दिन वाइट एंड ग्रे रंग का टॉप और ब्लू जीन्स पहनी हुई थी। ऐसे लिबास में मैंने उसे पहली बार ही देखा था।मैंने भी जीन्स और सफेद शर्ट ही पहना था। सभी वॉल्वो में चढ़ने लगे.

आप सभी पाठकों को मेरा प्रणाम।मेरा नाम अरूण कपूर है और मैं एक ‘गे’ हूँ। मैं पंजाब का रहने वाला हूँ। मुझे लंड चूसने में बहुत मज़ा आता है।मैं अन्तर्वासना का बहुत बड़ा फैन हूँ। मैं अन्तर्वासना की सभी कहानियां रोज़ पढ़ता हूँ। अन्तर्वासना से ही मुझे एक गे साईटhttps://www. तो मैं प्रीत को विश करने लगा!प्रीत मुझे देखे जा रही थी और फिर उसने मुस्कुराते हुए मोमबत्ती को फूंक मार कर बुझा दिया. जैसे हम एक-दूसरे को छोड़ेंगे ही नहीं।मुझे याद नहीं कि हम एक-दूसरे को कितनी देर तक यूँ ही बाँहों में लिए रहे होंगे।फ़िर मैंने उसके चेहरे को हाथों में लिया और उसके अधरों पर अपने अधर रख दिए, हम एक-दूसरे के अधरों को बहुत देर तक यूँ ही चूमते रहे.

आंटी ने मुझसे कहा- आज तुम यहाँ ही रह लो।मैंने कहा- आप मम्मी को फोन करके बता दें।आंटी ने मम्मी को फोन किया और बताया- वीर को आज मेरे पास रहने दें. तो मैंने भाभी को बताया- मेरी एक गर्लफ्रेंड भी है।भाभी ने मुझे च्यूंटी भरते हुए कहा- तुम तो बड़े छुपे रुस्तम निकले।वो उसके साथ बात करने की जिद करने लगीं. अनीता दीदी ने नेहा के गालों पर एक चुम्बन लिया और कहा- मैं जानती हूँ नेहा.

भोजपुरी सेक्सी गांव का

तब मुझे पता चला कि उस लेडी का बैग दूसरी ट्राली पर आ रहा है और जब तक मैं उससे बात करने लगा।फिर उसने मुझे बताया कि वो एक बड़ी कम्पनी में जॉब करती है और ऑफिस के काम से वो बैंगलोर गई थी। वो मुझे बहुत कुछ बता रही थी. उसकी चूत में साबुन लगाने लगा। मैंने साबुन से ही उसकी क्लिट को भी थोड़ा रगड़ दिया. तो बहन दोस्त का लंड मुँह में लेकर चूसने लगती थी और फिर कुछ देर बाद दोस्त का लंड चूत में और भाई का लंड मुँह में लेकर चूसती थी।वो लड़की बिल्कुल मेरी तरह ही मस्त थी.

तो वहाँ वो ही अंकल उस सीट पर बैठे हुए थे। उन्होंने उस लड़की को अपनी वाली सीट पर जाने के लिए बोला।वो सीट मेरी साइड में ही थी.

ताकि लोग रजिस्ट्रेशन के लिए आसानी से आ सकें। पहले ही दिन से काफ़ी लोगों ने अपने रजिस्ट्रेशन करा लिए जिनमें से एक लड़की थी.

उसने बताया कि – उसके पति एक प्राइवेट कंपनी में काम करते हैं और रात को लेट आते हैं। मेरा बच्चा अभी छुट्टियाँ होने की वजह से नाना-नानी के घर गया हुआ है और जल्दी ही वापस आ जाएगा। वो आते ही कंप्यूटर पर गेम खेलने के लिए धूम मचाएगा. इसलिए मैंने उसकी गाण्ड के छेद में खूब सारी क्रीम लगा दी और अपने लौड़े पर भी क्रीम मल ली।फिर मैंने अपना लंड काजल की गाण्ड पर रखा और एक जोरदार धक्का मारा। एक ही बार में मैंने अपना पूरा लंड काजल की गाण्ड में जड़ तक घुसेड़ दिया। मेरा लंड काजल की गाण्ड में ऐसे घुस गया था. एक्स विडियोज’शाज़िया ने अपने घर वालों के बाहर जाते ही मुझे फोन किया।मैं तो जैसे उसके फोन का वेट ही कर रहा था.

मैं भी अपनी गाण्ड उठा-उठा कर उससे अपना लौड़ा चुसवाने लगा। मेरे हाथ उसकी पीठ को सहला रहे थे। अब मुझसे भी रहा नहीं जा रहा था, मुझे महसूस हुआ कि मैं झड़ने वाला हूँ।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने अपने हाथों से आमिर के सर को पकड़ लिया और उसके बालों में ऊँगलियाँ डाल कर सहलाने लगा. करते हुए अपनी चूत के चीथड़े उड़वा रही थी।पर दोस्तों जिस पोज़ में अभी सोनी की चुदाई कर रहा था. (मै तुम्हें प्यार करता हूँ। तुम इतनी प्यारी हो।)’यह अभी भी जाने के मूड में नहीं, जबकि इसकी सास सीरियस है और पत्नी बुला रही है।‘हम कई कपल से मिला। ऐसा क्लास किसी में नहीं। You look like some queen of a royal family.

मैं गाय का दूध निकालने के बहाने आई हूँ। तुम्हारे भैया आज सुबह ही शहर गए थे. और जब फटते हैं तो सब कुछ फाड़ कर रख देते हैं!यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !रवि भी बिल्कुल ऐसा ही था.

घर के सभी लोग शादी में जा चुके थे और उन्हें अगले दिन वापस आना था। घर पर केवल हम दोनों ही थे.

हम दोनों लड़कियों की भी एक-एक डिमाँड पूरी होनी चाहिए।रॉनी- बिल्कुल ठीक कहा तुमने. तो मैंने किसी तरह जोर लगा कर उसे ऊपर किया और उनकी ब्रा के ऊपर से उनके मम्मे दबाने लगा।हाय. और साथ में यह भी सोच रहा था कि भाभी के घर में न होने की वजह से उनके लंड में भी कई दिन से माल इकट्ठा हो गया होगा.

जवान लड़कियों की सेक्सी वीडियो काफ़ी दिनों के बाद ऐसी मस्ती मिली।बाद में हम थोड़ी देर ऐसे ही लेटे रहे। मैं उसे किस करता रहा. खैर मैं ऐसे ही उसके नीचे पड़ा रहा और सुबह के करीब 4 बजे होंगे जब मुझे नींद आई.

जो अपने पति से अलग रह कर एक चार्टेड अकाउंटेंट के यहाँ काम करती थी।मैंने और ममता. और 5-7 झटकों में मैं चूत में ही झड़ गया।भाभी मेरे ऊपर ही लेट गईं और हम आपस में ऐसे ही होंठों को चूसने लगे।करीब 5 मिनट बाद भाभी पास ही लेट गईं और कपड़े से पहले मेरा लंड पोंछा फिर अपनी चूत साफ़ की।भाभी फिर मेरे लंड से खेलने लगीं और मैं उनकी चूचियां दबाने लगा और कभी चूतड़ों को सहलाने लगा।मैं बोला- जानू. तो मैंने बैग उसके ऊपर से रख लिया और उसके मुँह को अपने लण्ड के ऊपर दबा दिया। अब मैं जबरदस्ती पूरा लौड़ा उसके हलक में डालने लगा। लेकिन मेरा लण्ड लम्बा बहुत था.

चोदी चोदा चोदी चोदा सेक्सी वीडियो

पर उसने मना कर दिया।उसको मैंने पेनकिलर दी और उसकी चूत में मलहम लगाई।उससे उसको थोड़ा आराम मिला। अब हम बाहर आ गए. तो मैंने उसे पीछे से पकड़ कर दीवार के साथ लगा लिया और किस करने लगा. और तकिया झाड़ू समते कई चीजों का आक्रमण दोनों तरफ से होने लगता है।लड़की साथ में देखते ही.

मैं भी झड़ने वाली हूँ।मैंने अपना सारा पानी आंटी की चूत में ही छोड़ दिया।अब हम दोनों बिस्तर पर आकर एक-दूसरे के साथ लिपट गए। इतनी चुदाई में ही रात के 1. ’ किया। मैंने इशारे से चुदाई के लिए पूछा तो उससे कुछ बोला तो नहीं गया.

दबाने में इतना मजा आ रहा था कि क्या बताऊँ। हम दो जिस्म एक जान बन गए थे। इसी में 30 मिनट निकल गए।मैंने झट से भाभी की साड़ी ऊपर की और उनकी चड्डी निकाल दी, भाभी की झाँटों वाली चूत चाटने लगा।हम दोनों कुछ देर पहले तो हग कर आए थे.

तो वो इस तरह से अपने हाथ उठाकर मुड़ गई कि उसका कमीज मेरे हाथों उतरने सा लगा, मेरे सामने उसकी पूरी नंगी पीठ और गोरी मखमली कमर आ गई।जब उसकी ब्रा की पट्टी तक दिखने लगी. ’ निकल गई।मैंने अब और जोर से धक्का लगाया तो लंड एकदम चूत को चीरता हुआ अन्दर घुस गया. सबसे पहले लड़की की ‘हाँ’ होनी चाहिए और खासतौर पर लड़की हो या भाभी हो.

दूध पीना है।इस बार काजल समझ गई थी कि मैं ऐसा क्यूँ बोल रहा हूँ।फिर उसने शरमाते हुए कहा- ठीक है मैं आपके लिए दूध लाती हूँ।मैंने काजल को पकड़ लिया और कहा- जा किधर रही है. और ना ही उसके बस में था।पूजा सलवार तो उतार चुकी ही थी सो मैंने भी देर ना करते हुए उसकी पिंक कलर की पैन्टी को नीचे खींच दिया।अब हम दोनों नीचे से बिल्कुल नंगे हो गए थे और मैंने अपना लंड चूत पर रगड़ना शुरू कर दिया।इससे पूजा सिसकारियाँ लेने लगी ‘आहहाअ. लिंग आधा सरसराता हुआ मेरी योनि में घुस गया।पता नहीं उनको मेरी योनि में लिंग घुसा हुआ महसूस हुआ या नहीं.

मैंने उसी पल उसे कस कर अपनी छाती से लगा लिया और इससे उसका सीना मेरे मुँह के पास सट गया था।मैंने उसके सिर के ऊपरी हिस्से में उसके बालों में किस किया.

कैमरा मे बीएफ: ।वो खुद अपनी एक चूची को दबाने लगी और जोर की आवाज निकाल रही थी ‘आआअह्ह ह्हह्ह ऊऊह्ह्ह. तो उसकी चूत से पानी निकलने लगा। अब उसने उठ कर मेरी पैंट उतारी और अंडरवियर भी उतार दी और मेरे लंबे लण्ड को पकड़ कर मुठ्ठ मारने लग गई, कुछ देर के बाद लण्ड को अपने मुँह में ले लिया और आहिस्ता-आहिस्ता चूसने लगी।अब मुझे भी मज़ा आने लगा, मैंने ज़ोर से अपना लण्ड उसके मुँह के अन्दर पूरा पेल दिया.

तो क्षमा कीजिएगा।मेरे कमरे के बगल में रेंट पर रहने वाली पूजा है की हाइट भी मेरे जितनी ही है। वो ज्यादा गोरी तो नहीं. ’ की आवाज़ निकालने लगी। उसके मम्मे मेरे मुँह में लेने से पहले उसने अपने दोनों पैरों को चिपका कर आपस में जकड़ रखे थे। लेकिन चूचा मुँह में आते ही उसने अपने पैर खोल दिए और हवा में उठा कर मेरे हथियार को अपने दाने से मिलने के लिए जगह दे दी। साथ ही नीचे से अपने चूतड़ों को हिला-हिला कर मेरे हथियार से रगड़ने लगी।मुझे लगा लोहा गरम है. लेकिन अब वो वापस नहीं आ पा रहा था, उसके घरवालों ने उसका एडमीशन वहीं करवा दिया था।वो कभी-कभी आता था.

वो क्रीम बहुत सारी मैंने उनकी गाण्ड में घुसेड़ दी। इस क्रीम की ख़ासियत यह है कि इसे स्किन में जहाँ भी लगाया जाता है वहाँ की स्किन 3-4 घंटों के लिए सुन्न हो जाती है। बस इस क्रीम को ठीक से लगाकर 15 मिनिट वेट करना पड़ता है। क्रीम लगाकर मैं टॉयलेट चली गई।फिर वापस आकर मैंने वो रबर का लंड दोबारा पहना.

तो मम्मी ने बात शुरू की, पहले उन्होंने मुझसे पूछा- आजकल तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है या नहीं?मैंने बोला- अभी तो नहीं है. तो मैंने भी अपनी उंगलियों को हरकत देना शुरू कर दी।जल्द ही उसकी गाण्ड मेरी 3 उंगलियों की आदी हो गई और हम दोनों एक-दूसरे का लण्ड चूसने लगे।मेरे लण्ड से जूस निकलने ही वाला था जब मैंने उसके लण्ड को अपने मुँह में फूलता हुआ महसूस किया. और मैं उसे डायरी में पढ़ सकूँ।आप तो जानते ही हैं कि खड़े लौड़े के आगे ना दिमाग चलता है.