सेक्स बीएफ साड़ी

छवि स्रोत,कहानी चुत

तस्वीर का शीर्षक ,

सविता भाभी पोर्न: सेक्स बीएफ साड़ी, लता भाभी थी तो बहुत सुन्दर परन्तु घर पर ढीली सी साड़ी, सर्दी के कारण सिर पर स्कार्फ, पैरों में जुराबें और गर्म स्वेटर पहनती थी, जिसमें उनका हुस्न छिपा हुआ रहता था.

पंजाबी सैड सॉन्ग

मैंने चूत में उंगलिया घुमाते हुए बोला- बता भी दे अब किसका लंड लिया था. नवाबजादे फिल्मफिर तू मिल गया और तेरे भैया तो कल ही चोदेंगे ना, तब तक मैं बिना लंड के नहीं रह सकती.

मैं राजनीति शास्त्र का छात्र हूं, इसी अभ्यास के दौरान मुझे एक माह के लिए इन्टर्नशिप करनी थी, जिसमें मुझे मेरे ग्रुप के साथ अलग अलग जगह पे काम करना होता था. सेक्सी 2002हम दोने की ही पता भी नहीं चला कि मैंने कब गुलाबो को नंगी कर दिया। सिर्फ नथ रहने दी.

उसके बाद रीना ने मेरे लंड को आधी लंबाई तक अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगी.सेक्स बीएफ साड़ी: इस बार उनके शरीर ने पहले से भी ज़ोरदार झटका लिया, और उनके गले से ऐसी आवाज़ निकली, जैसे उनकी साँस फँस गई हो.

कुछ दिनों बाद किसी कारण से कॉलेज को कुछ दिनों के लिए बंद कर दिया गया और मेरे मामा का लड़का अपने घर चला गया.कितना सुकून मिल रहा था मुझे!उसे भी खूब मजा आ रहा था क्यूंकि वो भी हर धक्के के साथ गांड को पीछे धकेल कर साथ दे रही थी मेरा.

सेक्सी मूवी जाने वाली - सेक्स बीएफ साड़ी

इस दौरान बुआ जी का भी लम्बी बीमारी के बाद स्वर्गवास हो गया।एक दिन शाम को मैं दीदी के घर गई तो वहाँ जीजू की ही हमउम्र गठीले बदन का एक युवक जीजू के साथ बैठा हुआ था.मुझे प्यार से बैठाकर बोले- तुम किसी से कुछ कहना मत!फिर मुझे एक हजार रूपये भी दिये.

यह सब तुमने कहां से सीखा?मैंने कहा- भाभी जी! अब आप खड़ी होकर खाना बनाओ, यह बात मैं फिर किसी दिन बताऊंगा. सेक्स बीएफ साड़ी जब गेट से अपार्टमेंट आते हुए अकेली थी, तो शायद चेहरे पे एक राहत सी थी और शायद एक मुस्कुराहट भी.

झुकने के कारण मुझे उसके टॉप के अंदर से उसकी लाल रंग की ब्रा दिखाई दे गई.

सेक्स बीएफ साड़ी?

रवि मामा ने फिर से मुझसे लड़कियों की बातें करना शुरू कर दीं और वो आज तो अपनी जुगाड़ों के बारे में भी बताने लगे थे. फिर रात को उसका मैसेज आया और थोड़ी देर बात करने के बाद बोली कि उसका घूमने का मन है. मेरे दिमाग ने काम करना बंद कर दिया, समझ में ही नहीं आ रहा था कि क्या करूँ … इसलिए मैंने मम्मी जी को कहा- मम्मी जी, मुझे थोड़ा और टाइम दे दीजिए सोचने के लिए … कल मैं आपको अपना फाइनल डिसिजन बताती हूँ.

सबसे सेक्सी तेरी आंखें हैं … इन तेरे गुलाबी होंठों का तो क्या कहना. मैं खुद पर गर्व महसूस कर रहा था कि ऐसी औरत, जिसको चोदने का सपना हर मर्द देखना चाहेगा, उन्होंने मुझे सामने से चुदवाने के लिए बुलाया है. मैंने तो कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि अनुष्का वर्मा की चूत को देख पाऊंगा.

मैंने उसके आंसू पौंछे, उसे प्यार किया, उसके कंधों पर हाथ रख कर कहा- मेरी जान, मैं तुम्हें छोड़ कर कहीं नहीं जा रहा. थोड़ी देर बाद वो थोड़ा ठीक हुई तो हंसती हुई बोली- ऐसे भी कोई चोदता है क्या?तो मैंने कहा- तुमने ही कहा था जोर से चोदने को. बातों बातों में उसने मुझे काफ़ी सारे कॉंप्लिमेंट दिए, जैसे आप बहुत सुंदर हो.

इस तरह मेरी बीवी उस रंग से सराबोर होकर मस्त मदहोशी में प्रशांत के सीने से लिपट गई, क्योंकि चूत में प्रशांत के गरम सफेद पानी के बौछार की गर्मी ने उसे भी झाड़ दिया. फिर उन्होंने मुझे चूत चाटने को कहा, लेकिन मैंने मना कर दिया और कम्बल के अन्दर घुस के उनको किस करने लगा और मम्मों को मसलने लगा.

उससे ऐसा लग रहा था कि भाभी भी सेक्स के लिए प्यासी है।मैं भाभी के होंठ 10 मिनट तक चूसता रहा.

मामा ने भी बोल दिया- जब तक इलाज न हो जाए, तब तक तुझे ही मालिश करना है.

माला को कोई पहले से ही चोद रहा है, ये बात विजय को काफ़ी देर बाद पता लगा. मैंने कहा कि फूल को फूल दे रहा हूँ … समझ नहीं आता, कौन ज्यादा खूबसूरत है. आमतौर पर लड़की पहली बार में किसी मर्द को अपना सब कुछ नहीं सौंपती, पर मैं भी नए ज़माने की लड़की हूँ, मुझे पता था की इस सफर के बाद हम दोनों के रास्ते अलग हो जायेंगे और शायद हम फिर कभी भी न मिलें, तो मुझे आपके साथ सेक्स करने में कोई हर्ज़ महसूस नहीं हुआ क्योंकि एक तो आप अन्जान थे, दूसरा आपसे मुझे कोई डर नहीं था.

कपडे हाथ में लेकर अपने कमरे में जाने लगी तो मुझसे चला भी नी जा रहा था. जब चुदाई खत्म हुई तो दोनों बहुत बुरी तरीके से पसीने से भीग चुके थे. मुझे पहली बार इतना मोटा और लंबा लंड चूसने को मिला था, वो भी एक हैंडसम जवान लड़के का मस्त लंड चूसने को मिला था.

रवि मामा की हाइट 5 फिट 10 इंच के करीब थी, मतलब खानदान में सबसे ऊंचे लंबे आदमी थे.

मैंने उसकी तरफ मुंह घुमाया और उससे कहने लगी- मैं नीचे क्या पहनूँ अब?मैं उसके सामने खड़ी थी और मेरा बेटा राजन मुझसे कुछ ही दूरी पर खड़ा हुआ था. भाभी की जोरदार चीख निकल गई आह मर गई … उम्म्ह… अहह… हय… याह… उईईईइ धीरू मर गई मैं आःह ऊऊऊ शीईईई …भैया पर तो चूत का भूत सवार था. मैं उसके पास जाकर बैठ गया और उसका हाथ अपनी हाथों में लेकर सहलाते हुए बोला- बोल सीखना चाहती है कि नहीं.

मैं आंटी को चोदते हुए कभी उनके होंठ चूस रहा था, तो कभी उनके मम्मों को दबा रहा था. ऊषा बोली- थोड़ी तारीफ खाना बनाने वाली की भी कर दो! उस चिकन की तारीफ तो आपने कर दी मगर इस चिकनी की तारीफ भी कर दो थोड़ी सी!मामा भी कम थोड़े ही थे, बोले- कुछ दिखे तो तभी तो तारीफ करें? अगर खाने को वह भी मिले तभी तो पता चलेगा कि चिकन अच्छा है या चिकनी?ऊषा अपने नैन घुमाते हुए बोली- घबराइये नहीं, अभी तो सब लोग खाना खा रहे हैं. वो कपल 45 साल के उम्र के आसपास का कपल था और वे दोनों दिखने में स्मार्ट थे.

मैंने बैडमैन के पूरे कपड़े उतारे और लंड मुँह में लेकर चूसने लगी और वो तड़पने लगा.

मैंने धीरे-धीरे भाभी के मुंह की तरफ गांड को धकेलते हुए उसके मुंह की चुदाई करनी शुरू कर दी. मैंने अपने खाने का अरेंजमेंट एक होटल से कर लिया था वहां से डेली टिफिन आ जाता था.

सेक्स बीएफ साड़ी चाची नीचे बैठ कर मेरे पैर की नस को दबा कर देख रही थीं, पर उस वक़्त मेरा ध्यान अपने दर्द पर कम और चाची के बड़े बड़े मम्मों पर ज़्यादा था. वहां उन्होंने अपनी शॉपिंग की और एक लेडिज स्टोर से अपने लिए ब्रा पेंटी भी खरीद की.

सेक्स बीएफ साड़ी मैंने भाभी की बुर में लंड डाल दिया, लेकिन दोस्तों अति उत्तेजना की वजह से मैं न जाने क्यों 2 मिनट भी टिक नहीं पाया. उसने अपनी चूत पर कोई महक लगाई हुई थी जिससे उसकी चूत को चूसने में मुझे मीठा सा स्वाद मिल रहा था.

एक साथ खाने का मजा भी तो अलग होता है न! ना-नुकर करते हुए भी लोग ज्यादा खा लेते हैं.

हिजरा सेक्सी

सुदीप ने मेरी टी-शर्ट मेरी चुचियों तक ऊपर करके मेरे मम्मों को अपने मुँह में ले लिया. वो अति उत्तेजना में मेरे बाल खींचने लगीं, मैं भी भाभी की पीठ को जोर जोर से दबाए जा रहा था और चुचे चूसे जा रहा था. आपके अलावा अन्य किसी को तो मालूम नहीं है न?रमेश- नहीं मालिक यहां कोसों दूर तक हमारे सिवा कोई और नहीं है.

उन्होंने स्कर्ट और टॉप पहना था और उनके खुले से गले वाले टॉप से क्लीवेज दिख रहे थे. ट्रैक पैंट में खड़े हुए मेरे लंड पर शिखा का हाथ अच्छे तरीके से पकड़ बनाने लगा था. रात को वलीमा दावत के बाद अब्बा जान ने बुलाया और कहा- कल रात जो चीखने चिल्लाने की आवाज़ आयी थी, वह हमारी तहज़ीब के मुताबिक ठीक नहीं है, जो भी करो नज़ाकत को देख कर करो.

मैं समझ रहा था कि ये बिस्तर से उठ कर भागने की कोशिश करेगी, लेकिन वो बिस्तर से नहीं उठी.

भाभी ने भी अपना राज खुलता देखा, तो वे भी कुछ दिनों बाद इस शहर छोड़ कर चली गईं. मैंने होंठों पर रखकर उसे पीने लगी, ठंडा मैंगो जूस मेरे सूखे गले को ठंडक दे रहा था. मैंने बेड पर लेटा कर भाभी की नाइटी को ऊपर कर दिया और भाभी के सेक्सी जिस्म पर टूट पड़ा.

मेरे हाथ के स्पर्श से जैसे उन्हें करंट सा लगा और वो चौंक कर मुझसे और लिपट गईं. मैं फिर दोबारा अपने घुटनों के बल भाभी की छातियों के ऊपर चढ़कर उनके मुंह में लंड देने लगा. उसने बोला- बंध्या, तेरी गांड तो आइटम बम है … क्या गजब की गांड है … तेरे कूल्हे मस्त हैं.

मैं बोला- क्या हुआ? ऐसे क्यों बोल रही हो?सोना मेरी पत्नी ने कहा- मैं किसी और से प्यार करती हूँ. फिर मैंने एकदम से थोड़ी हिम्मत करके बोल दिया- कोई समस्या नहीं है, बस थोड़ा सैलरी का प्रॉब्लम है.

मामी भी अपनी सहेलियों के साथ मजे ले रही थीं और मैं अकेला बोर हो रहा था. जब मैं वैन लेकर उनके बंगले पर पहुंचा तो मैडम ने मुझे भी अंदर आने के लिए कहा. मेरे दोनों हाथ उनकी पीठ और कमर पर अभी भी अपना काम कर रहे थे, जिसमें उनकी ब्रा का स्ट्रिप थोड़ी रुकावट पैदा कर रहा था.

उसने तो पता नहीं उसके कितने मजे लिए होंगे मगर हम और आप तो कहानी के जरिए उसके पूरे मजे ले सकते हैं.

वो भी फिर से जाग गई … और लगभग 10 मिनट की गरम लड़ाई में हम दोनों एक साथ झड़ गए. ’ भी कर रही थींमैंने इसके बाद एक हाथ पेटीकोट पर ले जाकर उनका नाड़ा खोल दिया. मुझे सेक्स के बारे में ज्यादा कुछ नहीं पता था लेकिन अनन्त और विनय जिस तरह से कुसुम दीदी को अपने नीचे लेटा कर उसके बदन को भोग रहे थे.

इतना कहते हुए वो अपने पेंट की चैन खोलने लगे, लेकिन मैंने उनका हाथ पकड़ते हुए उन्हें रोक दिया. मैंने उसे काफी देर तक चूमा, फिर उसकी टीशर्ट उतार दी, उसकी छाती को चूमने लगा.

मूवी देखने के टाइम उन्होंने मेरा हाथ पकड़ लिया और मेरे कंधे पे सर रख के बैठ गईं. फिर मैंने सोचा कि आज मैं भी अपने बेटे राजन के साथ फ्लैट पर ही सो जाती हूँ. मैं अपने लिंग को आगे की ओर धकेलने लगा और अचानक से मेरे लिंग ने मामी की साड़ी पर ही बहुत सारा लावा उगल दिया.

देहाती एक्स एक्स एक्स हिंदी

दादी उन्हें पिछले पंद्रह साल पहले ही छोड़ कर चली गई थीं, तब मैं सिर्फ 3 साल की थी.

लेकिन उसने मेरे सामने एक शर्त भी रख दी- चार दिन के लिए मैं आपकी रहूँगी, उसके बाद आप मेरे साथ कॉन्टैक्ट नहीं रखोगे. आपके मेल लगातार मिल रहे हैं, गुजारिश है कि ये सिलसिला चालू रहना चाहिए. उनके आने के बाद फिर रात में दो बार उनके साथ और एक बार हम तीनों ने साथ में सेक्स किया.

क्या उसमें तुम मेरी मदद करोगी?मैं- मुझसे क्या मदद चाहिए आपको?मैं बहुत ही कंफ्यूज हो गयी थी. उन सबके लंड इतने लंबे और मोटे थे कि मुझे एक अजीब सा रोमांच होने लगा. वीडियो सेक्सी एचडी मूवीअंकल ने अपना एक हाथ मेरे पीठ पर लेकर आ गए और दूसरा हाथ मेरे सिर के पीछे ले आए.

अगली बार फिर से संजय की बारी आई तो मणि ने पूछा- पहली बार सेक्स कब किया?संजय ने बोला- स्कूल में 12 वीं क्लास में. इतना कह कर मैंने उसकी स्कर्ट ऊपर कर दी और उसकी लाल रंग की पेंटी निकाल कर फेंक दी.

उसकी चुचियाँ ठीक मेरी छाती से रगड़ खा रही थी और मैं उसके होंठों का रसपान कर रहा था. परंतु आज जब मेरे साथ कुछ कामुक घटनाएं हुई हैं तो मैंने उसे अंतर्वासना पर लिखने के जहमत उठाई है. हॉस्टल में कमरा नहीं मिलने के कारण रहने के लिए कोई ठिकाना नहीं था और मैं पहले किसी दोस्त के कमरे में ठहरा था.

उस महिला का काल्पनिक नाम प्रीति है, जबकी उसके पति का नाम सुखबीर है. उनकी हाइट 5 फुट 3 इंच होगी, वह थोड़ी सी प्लस साइज़ थी, जो मेरी भी पसंद है. और अगर तुम्हारी सैलरी बढ़ती भी है, तो बस 10% बढ़ेगी क्योंकि यह कंपनी का रूल है.

धीरे-धीरे जैसे-जैसे हम क्लोज़ होते गए, रज़िया भाभी मुझसे ज़्यादा मज़ाक करने लगी.

मेरी चुत पर लगे पानी से चमकते बाल देख कर उसकी भी आंखों में चमक आ गयी थी. तो मैं एकदम से बोला- भाभी, आपने मुझे क्यों नहीं बताया?यह सुनकर भाभी हंसने लगी और बोली- तू अभी बच्चा है.

उसके बाद मैं अपने काम में बिजी हो गयी, पर दिमाग में अब अलग तरह की एक्साइटमेंट होने लगी. डॉली उनसे बोली- कैसा लगा हमारा घोड़ा?मिसेज पाटिल भी अब नार्मल हो गई थीं. मगर मेरी चालू बीवी भी खेली खाई चुदक्क्ड़ थी, अगले दो मिनट के भीतर ही वह उछल कर बेड से बाहर आ गई और प्रशांत को जीभ निकाल कर ठेंगा दिखाने लगी.

थोड़ी देर बाद मुझे इस दर्द में भी मज़ा आने लगा और मैं मज़े से अपने पापा से चुदने लगी। मेरी चुदाई की चाहत इतनी ज्यादा थी कि मैं पापा से ‘और जोर से … और जोर से …’ कहने लगी और वो मुझे जोरदार धक्के लगाने लगे लेकिन मैं उनके धक्कों से और तगड़ा झटका चाहती थी. चाची बोलीं- साले … ऐसे देखना पसंद है क्या?मैं शरमाते हुए बोला- हां. दर्द के मारे गुलाबो के आंसू निकल आये पर मैं इसकी परवाह किए बिना लगा रहा। फिर थोड़ी देर के बाद उसका शरीर अकड़ गया और फिर वो झड़ गयी।कहानी चलती रहेगी.

सेक्स बीएफ साड़ी जहाँ पर मेरी मुलाकात शिखा से हुई जो मेरी फील्ड में जॉब ढूंढ रही थी. मैंने कहा- तुम क्या मुझे पागल समझती हो जो इस तरह की बात किसी को बताऊँगी? मैं मिल बाँट कर खाने वाली हूँ.

गुजराती रंडी की चुदाई

मैं कुछ नहीं बोला और भाभी को दोबारा कुर्सी पर उसी पोजीशन में बैठा लिया और भाभी की एक चूची को अपने मुंह में चूसने लगा. दीदी की सासू माँ बोलने लगी- ये एक हफ्ते से चल रहा है ना … पूछो मुझे कैसे मालूम … याद है मैं एक दिन जब सुबह मंदिर से आयी, तुमने दरवाजा खोला और तुम्हारी दीदी बाथरूम में थी. उसने अपनी चूत पर कोई महक लगाई हुई थी जिससे उसकी चूत को चूसने में मुझे मीठा सा स्वाद मिल रहा था.

मामा ने ऊषा को बेड पर लेटा दिया और ऊषा उठकर खुद ही मामा को नीचे लेटा कर उनके लंड पर बैठ कर सवारी करने के लिए तैयार होने लगी. थोड़ी देर चुसवाने के बाद मैंने उसे फिर से लिटाया और उसके ऊपर चढ़ गया. ತಮಿಳ್ ಸೆಕ್ಸ್ ವೀಡಿಯೋಸ್कैसे भी करके मेरी शादी हो गई, जिस लड़की से शादी हुई वो मुझे पसंद नहीं करती थी.

अच्छा लग रहा है ना?” उन्होंने दूसरे नितंब पर हाथ फेरते हुए पूछा।मैंने सहमति में सिर हिलाया और थोड़ी आगे होकर उनके और पास आ गयी.

यह हरकत चाची ने चुपके से देख ली, पर मेरा ध्यान तो सिर्फ़ बड़े बड़े मम्मों पर टिका हुआ था. मैंने उनकी गर्दन को चूम लिया और अब मैं लंबी सांसों से उनके जिस्म की मदहोश करने वाली महक को अपने अन्दर भरने लगा.

ऊपर से ये जवान बहू है तो कौन पूरी करेगा उसकी वासना की इच्छा?दीदी की सासू माँ वो बोले ही जा रही थी, हम सुन रहे थे. उन्होंने बताया कि वह बहुत बिज़ी रहते हैं और चाहते हैं कि यहां पर किसी प्रकार की डिस्टरबेंस न हो. वंश के मुँह से सिर्फ ‘आअहह फ्फ्फ मम्मी डार्लिंग … स्वीटहार्ट कविता आई लव यू.

मामी ने जवाब दिया- अच्छा, ठीक है फिर! नेकी और पूछ-पूछ? कहकर मामी हँसने लगी.

वो भी मुझे किस करते हुए मेरे कानों में जुबान डाल के फिराने लगी और मैं एकदम से भड़क उठा, मुझे गुदगुदी होने लगी. उसकी इतनी सी उम्र में इतनी चुदाई हो चुकी थी कि उसकी चुत का भोसड़ा बन चुका था. इस कहानी पर अपनी राय देने के लिए आप कमेंट बॉक्स में कमेंट करें या फिर नीचे दी गई मेल आई-डी मेल करें.

தமிழ் sexvideosतो बहुत देखे होंगे मगर आज मैं आपको पूरी पिक्चर दिखाने की कोशिश करूंगा. इतना कहने के बाद मैंने ज़ोर से धक्का मारा तो मेरा पूरा लंड माँ की गांड को फाड़कर अन्दर तक घुस गया और फिर मैं धीरे-धीरे अपनी सगी माँ की गांड को मारने लगा.

एक्स एक्स पंजाबी वीडियो

जैसे ही अंडरवियर को खोला, उसका 7 इंच का लंड उछल कर बाहर आ गया और मेरे करीब होने के कारण सीधे मुँह पे टकरा गया. मैंने उसके लिप्स को किस किया और उसे अपने बदन से चिपका कर रगड़ने लगा. नहीं जाने की वजह उसने बताई कि माँ भाई जल्दी चले गए थे, सुबह का उसने ही घर का सारा काम किया.

अंकल अकेले ही रहते थे, इसलिए उनके खाने की व्यवस्था भी हमारे ही यहां की थी. रमेश- वो छोटे मालिक जरा देखिए तो छोटी बहू को चलने में शायद कुछ तकलीफ हो रही है? देखिए ना कैसे पैरों को पसार के चल रही हैं. थोड़ी ही दूर चले थे कि एक बड़ी सी गाड़ी बगल से निकली उसमें कुछ लौंडे बैठे थे.

वह कहने लगी- मैं तुम्हारे आगे हाथ जोड़ती हूं, अब और देर न करो दीपक … अपना लंड मेरी चूत में डाल दो प्लीज. तब भी मुझे काफी आशा थी कि एक न एक दिन भाभी मेरे लंड को पक्का मौका देगी. मेरे प्यारे दोस्तो, कैसे हो आप सब!आज मैं आपके लिए दिल छू लेने वाली एक कहानी लेकर आया हूँ जो कि कुछ समय पहले ही घटित हुई है.

हालांकि हम दोनों अलग अलग रूम में रहते थे, लेकिन डिनर वगैरह साथ में ही करते थे. वैसे तो मेरी एक कहानी यहाँ बहुत पहले भी प्रकाशित हो चुकी है उसका नामफुफेरी भाभी की चुदाईहै.

एक दिन मैंने उससे पूछा- कभी किस किया है?वो बोला- नहीं … नहीं किया अभी तक.

आहना ने मुझसे कहा- अब अपना लिंग मेरी योनि में डालो … मैं कब से तड़प रही हूँ … मुझे और मत तड़पाओ. ग्लैमर पुराना मॉडलजिस लड़के ऋषभ की मैंने तेरे से बात करी थी, उसी जॉब के लिए … वह आ गया है. भारतीय हिंदी सेक्स वीडियोउसकी बात मेरी समझ में नहीं आई तो मैंने कहा- आपको क्या काम है और क्या चाहिये?वो मेरी बात सुनकर हँसने लगी और बोली- आज तुम अकेली ही सो जाओगी क्या?मैं- नहीं, मेरे साथ बच्चे भी सो रहे हैं. कभी कभी मामी के गले में ज्यादा अन्दर पेल देता, तो वो मेरे लंड को बाहर निकाल लेतीं और जोर जोर से सांस लेने लगतीं.

तो मैंने पूछा- क्या हुआ, कैसा लग रहा है?तो थोड़ी देर चुप रहने के बाद वह बोली- छोड़ो, तुम नहीं समझोगे.

फिर मैंने अपने होंठों को गोल करके उनकी मांसपेशियों को अपने मुंह के अंदर खींचा. उसके बाद दो महीने तक सेक्सी भाभी के साथ मेरा चुदाई का खेल चलता रहा. उसने मुझसे फ्लैट की चाबी मांगी लेकिन मैंने उसको चाबी देने से मना कर दिया.

चार पांच मिनट तक मैंने उसे ऐसे देखा, फिर उसने कपड़े पहन लिए और मैं वहां से चला गया. कंडोम पहनते ही मैडम ने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मेरा लंड अपने हाथ से चूत पर सेट कर लिया. मैंने कहा- मैं क्या डाक्टर हूँ कि मैं तुम्हारा इलाज करूँ?मतलब मैंने मामी को मना कर दिया.

भाभी की सेक्सी ब्लू

इस तरह रोज मैं उसे अपने चाचा से चुदाई के लिये उकसाने लगा और हमारी बातचीत होती रही. जगह इतनी कम थी कि पहले मामी नीचे की तरफ मुँह करके लेट गई और मैं उनकी तरफ मुँह करके लेट गया. दस मिनट की लंड चुसायी के बाद उसने फिर से किस करना शुरू कर दिया और मेरा होंठ काट लिया.

सोनू मेरे लंड को अपने नाजुक हाथों की उंगलियों से आगे पीछे करती रही और मेरी नजरों में देखती रही.

अब मैं अपनी चूत में बैंगन डालूं या खीरा?यह कहते-कहते नीना रोने का नाटक करने लगी.

मैं खुद में मस्त रहती और वे दोनों मेरे सामने भी सब बातें करते रहते। पर जल्दी ही दोनों के चक्कर के बारे में सबको मालूम हो गया।दीदी और विनय भैया घबराने लगे. और रात का इंतज़ार करने लगी।रात को मैं खाना खाकर अपने रूम में पापा के आने का इन्तजार करने लगी. हिंदी पिक्चर दिखाओ सेक्सीउसकी बातें सुनकर मैं बहुत खुश हो गई और उससे बोली- आशीष तू बहुत मस्त है.

मैंने कहा- क्यों?वो बोली- बस 5-10 मिनट के लिए मिलना है, तो ठीक है आज मिल लो और अगर अच्छे से मिलना है, तो कल माँ और भाई किसी रिश्तेदार की शादी में जाएंगे, तब मिल लेना. मैं रूम पर जाते ही छत पर चढ़ा, वो भी स्कूल से आते ही छत पर आई और मुझको वहां पाकर नीचे चली गई. एक प्लेट में 20 रोटियां रखी थीं और एक दो कटोरियों में सब्जी डाली गई थी.

आज मैं मानो रवि मामा का मूसल सा लंड अपने मुँह में भरने को उतावला हो रहा था. उनके आने के बाद फिर रात में दो बार उनके साथ और एक बार हम तीनों ने साथ में सेक्स किया.

मैं- ह्हम्म क्या मस्त गांड है आपकी … ऊऊऊ कल रात की चुदाई कैसे भूल सकता हूँ.

उनके सीधे खड़े होते ही, उनकी गांड से वीर्य की धार बह कर बाहर निकलते हुए, उनकी जांघों से होते हुए नीचे फर्श पर गिरने लगी थी. तुम दोनों आज रात बाहर खाना खाओ, रात घर जाते वक्त फिर चाबी लेकर जाना. उसके बाद अनुष्का ने खुद ही अपनी बिकनी खोल दी और उसके दूध जैसे चूचे मेरे सामने खुलकर आ गये.

सेक्सी पिक्चर वीडियो पंजाबी मैंने उसकी गांड की दरार को अपने हाथ से चौड़ी किया और अपना लंड उसकी गांड में धकेल दिया. गुड … वैरी गुड राजे … देख मैंने तेरा वीर्य पी लिया है इसलिए अब तू मुझे मैडम जी न बोला कर … अब से तू मुझे बाली रानी कहा करेगा … अब से मैं तेरी रानी और तू मेरा गुलाम राजा … आयी समझ मादरचोद.

उसने भी होंठों पर कटीली मुस्कान लाते हुए फिर कहा- हंस क्यों रहे हो … बताओ न क्या लोगे?मैंने भी कह दिया- जो चाहे पिला दो?वो आंखें झुका कर हंसते हुए ये कहते हुए अन्दर जाने लगी कि मैं चाय लाती हूँ. दस मिनट की मम्मों और होंठों की चुसाई के बाद उन्होंने मुझे बेड पर धक्का दे दिया. मेरे चूचे बहुत भारी थे इसलिए मेरे कपड़े मेरे बड़े-बड़े चूचों को संभाल नहीं पा रहे थे.

पड़ोसन भाभी की चुदाई

उसको देखते ही वह पागल से हो गये- वाह … इसको कहते हैं चूचक … कितना प्यारा और रसीला है. मैं उसके होंठों को प्यार से चूस रहा था और उसकी आँखों में देखा तो वो प्यार से मुझे देख रही थी. मामी ने जवाब दिया- अच्छा, ठीक है फिर! नेकी और पूछ-पूछ? कहकर मामी हँसने लगी.

वह बोली- दीपक, तुम भी मुझे प्यार करो न प्लीज … मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ. आशीष बाइक लेकर आया था, तो मुझसे बोला कि बंध्या मैं और तुम चलते हैं.

मैं जब भी उसके मम्मों को जोर दबा देता तो उसकी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की आवाज निकल जाती.

मैंने कल बताया था न!फिर वो आशीष से बोली- भैया, यह मेरी फ्रेंड बंध्या है, हम दोनों साथ रहते हैं एक ही क्लास में पढ़ते हैं. नीचे जाकर मैंने दीदी को आवाज दी तो शिखा ने बताया कि वह घर पर नहीं हैं. फिर मैंने अपना हाथ उसकी सलवार में हाथ डाला और नाड़ा खोल दिया, जिससे उसकी सलवार ढीली पड़ गयी.

मैं बोली- तेरे लिये ही तो जिम और योग करके शरीर को ऐसा मस्त बनाया है. अगले दिन प्रीति ने खुशी से झूमते हुए मुझे फ़ोन कर सारी बात बताई और कहा कि उसके जीवन में जैसे फिर से जवानी लौट आयी है. उसे जन्नत मिल गयी। अब तुम्हें जब भी मौका मिले, मुझे चोदते रहना।फिर भाभी उठी और बाथरूम की ओर जाने लगी तो मैंने देखा कि उनकी जांघें कांप रही हैं और वो थोड़ा लड़खड़ाकर चल रही है।मैं भी उनके पीछे बाथरूम में गया.

फिर मैंने उसके बदन को किस करना शुरू किया और धीरे-धीरे किस करते हुए उसकी चूत की तरफ आने लगा.

सेक्स बीएफ साड़ी: वह बोली- क्यों, तुम्हारा मन नहीं भरा क्या अभी?मैंने कहा- तुम्हारा भर गया क्या?शिखा ने एकदम से मेरे गले में बांहें डाल दीं और फिर बोली- नहीं, मेरा मन भी नहीं भरा है. जब घर पहुंचा तो देखा मां वापस आ गई थीं और मेरे सारे अरमान कांच की तरह बिखर गए थे.

दोबारा लगभग 4 बजे मैं उनके घर गया कि उनके हाथ से बनी चाय पी जाए, तो वह चादर ओढ़कर सोई हुई थी. दो दिनों बाद वो मुझसे बोला- रात को अपने कमरे का दरवाजा खुला रखना, जब सब सो जायेंगे तब मैं आकर तुमको मस्त माल दिखाऊँगा. मैं उसको चित लिटा कर उसकी बुर की फांकें खोल कर जीभ से चूत को चाटने लगा.

जब दोनों की चुम्मा-चाटी समाप्त हो गई तो सुधा पूछने लगी- जीजा को कहाँ छिपा दिया है?सुधा बोली- यार ममता तू तो अभी से इतना पजेसिव हो रही है.

मैं यह सुन कर खुश हो गया और सरोज भाभी के कपड़ों के ऊपर से ही जोर से एक बार उसकी चूत मसल कर बाहर आ गया. इतनी गजब खुशबू आ रही थी उनके शरीर से … वो मुझे मदहोश करती जा रही थीं. मैंने कहा- आप मेरा नम्बर लेकर क्या करोगी?उसने कहा- आपने मेरी हेल्प की, आप मुझे बहुत अच्छे इन्सान लगे.