बीएफ सेक्स अंग्रेजी वीडियो

छवि स्रोत,वीडियो भारती सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

ससस वीडियो: बीएफ सेक्स अंग्रेजी वीडियो, इससे अमृता (काल्पनिक नाम) थोड़ी नाराज़ सी हो गई और घर पर थोड़ा नखरे वाला व्यवहार करने लगी.

सेक्सी फिल्म एचडी मारवाड़ी

इधर रोहित भी सुनीता की चूत का उद्घाटन करने के लिए कोई न कोई तरीका सोच रहा था. सेक्सी वीडियो सेक्सी भोजपुरी सेक्सीफ़क मी।अब वो अपनी गांड उछालने लगीं। अब मैं शुरू में हल्के से धक्के दे रहा था पर आंटी ने कहा- और जोर से.

जल्दी से अपना मूसल डाल दो।मैंने उन्हें बिस्तर पर लिटा दिया और चाची ने भी अपनी टांगें उठा कर चूत चुदवाने के लिए खोल दी, एकदम देसी चुदाई का तरीका था यह! चाची की चुत इतनी कोमल और खूबसूरत थी कि जी चाहता था कि कच्चा खा जाऊँ साली को।उन्होंने मेरे लंड को पकड़ लिया मुझसे लिपट गईं। तब मैंने सोचा कि इस वक्त चाची को ज्यादा तड़पाना सही नहीं है. पुलिस वालों की सेक्सी चुदाईभाभी की चुदाई शुरू हो गई थी, भैया ने भाभी की टाँगों को खोल कर, अपना लंड हाथ में लेकर उसे भाभी की चूत पर रखकर एक झटका मारा.

तब से ये लंड तुम्हें चोदने को तड़प रहा है। अब तो ये तुम्हें चोद कर ही शांत होगा.बीएफ सेक्स अंग्रेजी वीडियो: तुम ही बताओ क्या करूँ मैं?’ रमा ने सिसकते हुए कहा।‘ओह रमा हिम्मत मत हारो.

’ गुरूजी ने थोड़े से तेल को रमा के कन्धों पर उड़ेलते हुए कहा।‘जी गुरु जी!’ रमा बस यह ही कह पाई.वो भी मेरा साथ देने लगीं। करीब दो मिनट तक हम दोनों ऐसे ही एक-दूसरे में खोए हुए रहे। फिर मैंने उनके मम्मों को सहलाना शुरू किया। भाभी ने भी मेरा साथ देते हुए अपनी टी-शर्ट उतार दी। उन्होंने पिंक ब्रा पहनी थी.

हरियाणवी सेक्सी वीडियो भेजो - बीएफ सेक्स अंग्रेजी वीडियो

थोड़ी देर बाद मैंने छेद से झाँक कर देखा तो भैया सो गये थे, ख़र्राटों की आवाज़ आ रही थी.जिसे हल्का टेस्ट करने के बाद बाकी बह जाने दिया मैंने!फिर मैंने अपने सारे कपड़े उतारे और मेरे लंड महाराज को मैंने अमृता के सामने पेश किया.

बस मुझे पेशाब लग गई, मैं जब पेशाब करने जा रहा था तो सोचा कि वहीं मुठ भी मार लूँगा. बीएफ सेक्स अंग्रेजी वीडियो मैं तुरन्त उसके घर पहुँचा, उसने लाल रंग की मेक्सी पहनी हुई थी, उस लिबास में वो कयामत लग रही थी।मैंने उसे गोद में उठा लिया और उसके होंठों को चूसने लगा। फिर मैंने उसे पलंग पे पटक दिया और खुद उसके ऊपर लेटकर उसके पूरे बदन को मेक्सी पर से ही चूमने लगा।लगभग 15 मिनट की चूमा चाटी के बाद मैंने उसकी मेक्सी को निकाल दिया.

कमाल की हो तुम।’ अब मैं अपनी गांड उछाल रही थी। उसका लंड पूरा अन्दर जा रहा था। हम दोनों ने हर एंगल से चुदाई की.

बीएफ सेक्स अंग्रेजी वीडियो?

पहले तो मैंने भी सोचा कि जाने का कार्यक्रम रद्द कर देता हूँ लेकिन जिसकी शादी थी, वो मेरी प्यारी साली थी, उसका कई बार फोन आया- जीजू, आपको मेरी शादी में ज़रूर आना है, चाहे कुछ भी हो जाए!उससे बात करने के बाद मैंने भी सोचा कि चलो इस बार अकेले ही ससुराल चलते हैं. उसने मेरे लंड और कंडोम को हाथ लगा के देखा कि मैं झड़ा या नहीं… फिर गुस्से से बोली- मादरचो… बिना झड़े निकाल लिया… चल जल्दी से घुसा के निपट जा…मेरा लौड़ा तैयार था उसकी चूत में जाने के लिये… मैं तुरंत ही उसके ऊपर आ गया और उसकी चूत पर अपने लौड़े से उस पर मारने लगा, फ़िर सीधा उसकी चूत में डाल दिया. फिर वो मुझे अपने हाथ से पिलाने लगी, मैंने हल्के से उसकी जाँघ पर हाथ लगाया तो उसका जिस्म काँप उठा.

‘तो तुम भी तैयार हो जाओ, हम दोनों ही साथ चलते हैं।’‘नहीं, तुम अकेले जाओगे और मैं अकेली!’मैं उसकी बात समझ गया था। मैं तैयार हो गया, प्रिया ने मुझे नाशता करा दिया और टिफिन भी दे दिया।मैं टिफिन लेकर निकल पड़ा. दोस्तो बस एक ही बात बोलूँगा… अगर आपने कभी थ्रीसम चुदाई नहीं की है तो एक बार ज़रूर करिएगा… जो मजा थ्रीसम में है वो किसी में नहीं… और लड़कियों से कहूँगा कि एक बार गांड ज़रूर मरवायें. सभी जगह जोर-जोर से किस करते हुए मेरे मम्मों को मसले जा रहा था। मुझे दो सालों में पहली बार ऐसा मजा आ रहा था.

मेरी चूत को मेरी जीभ से जलन होने लगी, फिर मैं पूरे लंड को अपने मुँह के अन्दर लेने लगी।आह्ह. मैंने खुद से अपना पेटीकोट निकाल दिया और पेंटी बाकी थी जो उसने खुद से निकाल दी. उसका घर बहुत ही शानदार था, उसके बारे में मैं आपको पहले बता ही चुका हूँ लेकिन सबसे ज्यादा सेक्सी उसकी नशीली आँखें थी जो बेहद खूबसूरत थी.

दोपहर को भाभी मेरे घर पे आई और शक्कर लेकर चली गई, लेकिन मेरी ओर बड़ी अंतरवासना भरी निगाहों से देख कर…फिर मैं हिम्मत करके उनके घर गया, उन्होंने मुझे बैठने को कहा और वो थोड़ी देर बाद जूस लेकर आई. थोड़ी देर मैं आंटी के नंगे बदन के ऊपर ही लेटा रहा… अभी लंड आंटी की चूत में ही था, लंड झड़ने के बाद भी खड़ा ही था तो आंटी बोली- तेरा सेक्स पवर तो बहुत ज़यादा है!फिर हम दोनों बेड पर पड़े रहे.

उन्होंने मुझे कैसे पटा कर टॉयलेट में अपनी चूत चुदवाई, इस सेक्सी कहानी में पढ़ें.

उसके हाथ अब मेरी जाँघों को थामे हुए थे और उसका चेहरा मेरी तरफ़ ऊपर की ओर मेरे चेहरे को निहार रहा था.

दर्द होता है।बाद में मैं धीरे-धीरे उसकी नाइटी के ऊपर से ही उसके मम्मों को मस्ती से सहलाने लगा और उसको किस करने लगा। वो अब हल्के स्वर में सीत्कार करने लगी थी। मैंने उसका एक हाथ पकड़ कर मेरे बरमूडा पे रखा तो उसने हटा लिया। मैंने फिर से पकड़ कर रखा तो भी उसने अपना हाथ वापिस ले लिया. मैं उत्सुकतावश उसके समीप गया तो देखा कि वो वीट क्रीम को अपनी चूत पर लगा रही थी. वो कोचिंग से मेरे घर आई और उसने मुझसे पूछा कि घर के सब लोग किधर गए?मैंने कहा- बाहर गए हैं रात को आएंगे।उसने मेरे कज़िन को चुपके से फोन कर दिया.

‘उफ्फ्फ आआह्ह…’ मेरे अंदर का प्रेशर बढ़ने लगा, लगने लगा कि मैं अब रोक नहीं पाऊँगा. लेकिन आप बिना पूरी तरह देखे ही फ्लर्ट अच्छा कर लेते हैं।मैंने थोड़ा चैक करने के लिए दोअर्थी भाषा बोलते हुए कहा- करने के लिए देखने की क्या जरूरत है?नूरी ने भी आँख मार कर कहा- बिना देखे करने में मजा भी नहीं आता है।इस पर वो और मैं हंस कर एक-दूसरे की तरफ देखने लगे। मुझे भी इस पर मौका मिलता देख. मैं एक ठंडी आह भरते हुए हंसा- चलो भाई, देखेंगे किसी दूसरे मोटे लंड वाले गधे को भी!‘हाँ मेरे प्यारे पतिदेव! मजा आ जाएगा.

लेकिन वो हवस में पागल हो चुका था और मैं उसके इस मजे को खराब नहीं करना चाहता था तो मैं उसका साथ देता रहा… मेरे हाथ उसकी पसीने से गीली हो चुकी गांड पर कसे हुए थे जिस पर हल्के हल्के बाल भी थे.

तो मेरे मन में उसे चोदने की चाहत जग गई थी।एक मजे की बात ये थी कि जैसे मैं उसे चोदना चाहता था, वैसे वो भी मुझसे चुदना चाहती थी।जब भी उसे मौका मिलता. हम एक लकड़ी के मकान में गए, वहाँ पर एक बिस्तर था, गद्दा बिछा हुआ था, हल्की सी रोशनी थी और बहुत अच्छी खुशबू आ रही थी. उसने बोला- सीधे यूनिवर्सिटी के सामने वाले हॉस्टल में आ जाओ, मैं वहीं मिलता हूँ!मैंने सीधा एक ऑटो पकड़ा और उसे बोला- मुझे यूनिवर्सिटी तक पहुंचा दो.

मेरे मना करने के बाद भी दिन ऐसे ही कट गया और फिर रात हुई दोनों का प्रोग्राम चला!आज वो होने वाला था जो मैंने कभी सोचा नहीं था!वे दोनों नीचे उतर कर आये, मुझे लगा कि अब खाना खायेंगे. भाभी ने अन्दर ब्रा बहन रखी थी।कसम से भाभी की क्या मस्त रसभरी चुची थीं. लेकिन तभी एक और उससे भी दमदार धक्के ने मेरी पत्नी की गांड को फाड़ दिया.

क्योंकि रोज तो वो अपने पति से चुदवाती ही थी और चूत उसकी गीली हो चुकी थी।अब लंड अन्दर जाने के बाद मैंने उसके होंठों को चूसना शुरू किया और साथ ही मम्मों को अपने हाथों से दबाना भी चालू कर दिया। धीरे-धीरे चुदाई में गर्मी आने लगी और मेरे धक्कों की रफ़्तार भी बढ़ने लगी। वो आँखें बंद करे और अपने होंठों को रसपान करते हुए चुदवाए जा रही थी।एक बार बीच में सिर्फ उसने कहा- और जोर से.

अगले दिन वो मेरे पास आकर बैठ गया। मेरी चुत तो चुदाई की तमन्ना में पानी छोड़ने लगी. थोड़ी देर बाद मैं बोला- चाची, कुछ हो रहा है!तो वो बोली- तू लंड मत निकालना, अंदर ही होने दे जो हो रहा है…थोड़ी देर बाद मैं झड़ गया और चाची के ऊपर गिर गया.

बीएफ सेक्स अंग्रेजी वीडियो उसके गाल और नेक को अपने लार से सने होंठों से सहलाते हुए गीला कर दिया।फिर 69 पोज़िशन में आकर मैंने उसकी शेव्ड चुत को चाटना शुरू कर दिया. तुम्हारा लंड देख कर मेरे मुँह में पानी आ गया था। तुम्हारे लंड को चूसकर और इसका रस पी कर मैं तुम्हारे लंड की बहुत ही मदहोश और दीवानी हो गई हूँ। आज से दिन में जितनी बार भी तुम अन्दर आना, बस मुझे इशारा कर देना.

बीएफ सेक्स अंग्रेजी वीडियो यह हिंदी चुदाई स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!तोली ने नताशा की गांड चाटना जारी रखा और जीभ द्वारा उसकी चुदाई करना भी… इस बीच नताशा से अपना लंड चुसवाते राजू ने अपना दायाँ हाथ नीचे डालकर नताशा की चूत की क्लिट कुरेदने लगा. मेरा लंड अब खड़ा हो गया था और वो भी गर्म होने लगी थी, वो बोली- अब मेरी पेंटी उतारो!मैंने उसकी पेंटी उतार दी.

लेकिन जब अनुज उसकी चूत में झड़ गया तो वह दुपट्टे से अपनी चूत पौंछती हुई उठकर खड़ी हुई.

ब्लू फिल्म चाहिए सेक्सी में

तब मैंने झटके देना शुरू किया। मैं उसकी बिल्कुल मासूम सी बुर में मेरा बड़ा और मोटा लंड अन्दर-बाहर करते हुए उसकी बुर की चुदाई रहा था।वो भी नीचे से अपने कूल्हे उठा-उठा कर मज़े लेकर मुझसे अपनी बुर की चुदाई करवा रही थी। उसके मुँह से बड़ी अज़ीब सी आवाज़ें आ रही थीं ‘ऊओ समर. ‘ऊह्ह्ह ह्ह… मेरी वंदु… उम्म्म्म… उम्मम…’ मैं भी अपनी उत्तेजना को दर्शाते हुए वंदु को इधर-उधर चूमते हुए अपने लंड को ज़बरदस्त झटकों के साथ उसकी चूत में पेलता रहा. पंकज और सुनीता ने एक किस की और अपने नंगे जिस्म एक दूसरे के नंगे जिस्म से अलग कर लिए और वाशरूम में जाकर एक साथ फ्रेश हुए और फिर पंकज सुनीता से विदा ले अपने घर को चला गया.

यस बस अब तो अपना भी झड़ने वाला है।’यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैं अपनी मासूम पत्नी को पहली बार इतना खुश देख रहा था. ममता की धड़कनें इतनी तेज थीं कि उसकी चूचियों का उठना और गिरना साफ नजर आ रहा था।प्रशांत ने हल्के से ममती की चुन्नी खींच ली. मैं जब पेशाब करने जा रहा था तो मैंने अपने रूम में हलचल देखी, मुझे लगा कि कोई घुस गया है.

क्योंकि वो भी अब कण्ट्रोल नहीं कर पा रही थी। तभी तुम यहाँ आए और तुम्हारी और संदीप की अच्छी दोस्ती हो गई। फिर तुम उसके घर के सबसे मिल-जुल भी गए तो अंजलि ने तुम्हें ही चुना। क्योंकि तुम पर कोई भी डाउट नहीं करेगा, पर तुम इतनी आसानी से हाथ नहीं आने वाले थे, ये हमें समझ में आ गया। क्योंकि संदीप हमेशा तुम्हारे बारे में अच्छा-अच्छा ही कहता था।‘फिर.

मुझे फ्रेश होने जाना है।मैंने कहा- ठीक है बाथरूम उस तरफ है।वो जाने लगा. ’वो दोनों अपनी पहाड़ी भाषा में बात कर रहे थे।राजू ने धीरे से अपना हाथ चोली के ऊपर उसकी चूची पर रख दिया और उसके सुन्दर मुस्कराते चेहरे को देख रहा था. मैंने उन्हें बोला- आप पीछे घूम जाओ!जैसे वो दोनों पीछे घूमी, मैं अपना अण्डरवीयर उतार कर बिस्तर में घुस गया, उन्हें बोला- अब आप घूम सकती हो.

’मैंने उनका टॉप उतार फेंका, फिर उनकी लैगीज के अन्दर हाथ डाला तो उनकी चूत भीग चुकी थी। फिर मैंने वो भीगी चूत में अपनी दो उंगलियां डाल दीं। भाभी एकदम से सिहर उठीं. कब मेरे हाथ उसकी चुची पर चले गये, पता ही नहीं चला… इतनी नर्म मुलायम चुची थी उसकी… जन्नत का अहसास दिला रही थी. मैं आप सभी अन्तर्वासना के पाठको को प्रणाम करता हूँ, आपकी वजह से ही मैं एक बार फिर से अपना नया अनुभव प्रस्तुत करने के लिए प्रेरित हुआ हूँ.

मुझे तो जैसे नशा सा छाने लगा।उसने मेरे लंड को ऊपर से ही कसके दबाया, तो मैं समझ गया कि वो अब गरम हो गई है।मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए. !उसकी शक्ल रोने जैसे हो गई।मैंने कहा- कुछ भी ग़लत नहीं होगा, बस थोड़ा बहुत ही करूँगा।फिर मैं उसके ऊपर लेट गया और उसके चूचे मसलने लगा.

तो मैंने एक थप्पड़ उनकी गांड में दे मारा और लंड चुत में घुसेड़ दिया।‘हइईईई मर गइईईई उफफ्फ़ आआहह. रात को खाना खाकर हम दोनों सोने चले गए।मैं अपनी सालगिरह की सोचते हुए सो गई. मैंने चड्डी निकालने की कोशिश की और भाई ने मदद करके चड्डी निकाल दी। अब पहली बार भाई का लिंग मेरी आँखों के सामने था हाय.

चाय पीकर जाओ ना।अंजलि भी कहने लगी- आ जाओ दस मिनट तो ही लगेंगे।अब मैं उनके साथ आंटी के आ घर में आ गया और आंटी किचन में चली गईं। इस वक्त हम दोनों हॉल में थे, तभी अंजलि शरारती मूड में मेरे बगल में चिपकी हुई बैठी थी.

मेरी सिहरन एकदम से बढ़ गई और मैं रोने लगी।जीजा जी बोले- रो क्यों रही हो, आज नहीं तो कल तुमको चुदना तो था ही बस लंड का फर्क है. बड़ी माल किस्म की आइटम लग रही थीं।फिर भाभी ने मुझे थोड़ा वर्क देकर कहा- मैं नहाने जा रही हूँ. मैंने अपने घुटनों पर बैठ कर उसकी पेंटी को उतारा तो उसकी पेंटी गीली हो चुकी थी, मैंने जीभ से उसका सारा रस जो पेंटी पर लगा हुआ था, चाट कर साफ किया.

एक बार उसके चाचा की लड़की ने देख लिया तो…आप सब को मेरी सेक्सी स्टोरी कैसी लगी?[emailprotected]. अह ह उम्म्हउसने कस कर एक हाथ से चादर को पकड़ लिया और दूसरे हाथ से मेरे कंधों को पकड़ा.

तो मैं तो एकदम से दंग रह गया।फिर भाभी बोलीं- देवर जी प्यार तो मैं भी आपसे बहुत करती हूँ. ’ करने लगी।मैंने उसकी टांगें खोलीं और उसकी चूत पर चूमा, तो उसने चूत पसार दी।फिर मैंने अपने कपड़े उतारे, उसको चोदने लगा।उसने पहले मना किया. अब चोट मार ही देना चाहिए।मैंने पास रखी टेबल से वैसलीन उठाई और थोड़ी उसकी चुत के मुँह पर और थोड़ी अपने लंड के सुपारे पर लगा ली।मैंने लंड डालने की थोड़ी कोशिश की तो वो चिल्ला पड़ी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआअहह.

हिंदी स्कूल की बीएफ

तुम पहले जल्दी से मेरी चूत बजाओ।मैंने उनको चोदते हुए बोला- सर ने कहा था कि 8 बजे चले जाना।भाभी बोलीं- तुम क्यों परेशान हो.

नीचे मुठ मार रहे सुनील के लंड से जवानी के जोश ने जैसे ही धार मारी तो छत पर खड़ी सुनीता उसे देखते ही रह गई. कुछ ही देर में मैंने पोजिशन बदल ली और सुनीता को अपनी गोद में बिठा कर उसकी चूत में लंड डालता हुआ बोला- रोहित से सील खुलवाने के बाद किस से चुदी बहनचोद रांड?और साथ ही सुनीता की चुची को अपने होंठों में ले लिया. मेरे हाथ पहले ही संगीता भाभी के सिर पर थे जिनसे मैंने उनके सिर को दबा लिया और साथ ही अपने कूल्हों को ऊपर उठा कर अपने पूरे सुपारे को उनके मुँह में घुसा दिया.

जोर से दबा दिया, झुक के चुम्बन किया, चूस लिया उसके मस्त भर भरे चूतड़ों को. ‘दिखा तो?’राहुल ने झट से कपड़े खोल दिये और रमा को अपने कच्छे के थोड़ा नीचे खरोंचे दिखाने लगा।रमा ने उन पर सेवलोन लगा दिया पर फिर उसकी नज़र तंबू बने हुए राहुल के कच्छे पर गई और सोचने लगी ‘हाय राम क्या लौड़ा है इस लड़के का… अभी इसी के नाम की मुठ मार रही थी और अब ये मेरे सामने है. सेक्सी फिल्म चोदा चोदी ब्लू फिल्मयूँ अचानक लंड को उस अवस्था में छोड़े जाने की वजह से मैं लगभग चौंक सा गया था और अपनी आँखें खोलकर वंदु की तरफ़ यूँ देखने लगा मानो मैं उससे पूछ रहा होऊँ कि लंड को इतना तड़पा कर यूँ छोड़ क्यूँ दिया!हमारी नज़रें मिलीं और वंदु ने अपने चेहरे पर उत्तेजना से भरे भाव के साथ मुस्कुराते हुए मेरी आँखों में देखा जो उससे बिना कुछ कहे सवाल किए जा रही थीं.

एक दिन फोटोस्टेट की दुकान पर दिल्ली में गेस्ट टीचर की जॉब के लिए फॉर्म भरवा रहा था, तभी नज़र सामने बैठी एक लड़की पर पड़ी. बिना ब्रा के तो बहुत जबरदस्त दिख रही हैं।मैं हँस पड़ी और उससे ज़्यादा कुछ नहीं कहा।उसने हिम्मत करके पूछा- तुम्हारा साइज क्या है?मैंने उसे अपनी चुची का नाप बता दिया.

मैंने पहले से ही तेल पास रखा हुआ था, अपने लंड पे और उसकी चूत पे मैंने थोड़ा तेल लगाया, मैंने फिर से अपना लंड उसकी चूत पे रखते हुए हल्का सा धक्का दिया जिससे मेरे लंड का टोपा उसकी चूत के अंदर गया और उसके मुँह से चीख निकल गई, उसकी आँखों से आँसू आने लगे. तो मैं सोने की कोशिश करने लगा, पर नींद ही नहीं आ रही थी। फिर मैं अपने बिस्तर से उठकर जूनियर हॉस्टल की तरफ जाने लगा. एक घंटे के बाद मैंने देखा कि वो राम के साथ हंस हंस कर कैन्टीन में बात कर रही थी.

तो भाभी बिल्कुल ही पागल हो गईं।वो मुझे चूत चूसने के लिए मना करने लगीं कि मत चूसो. दर्द भरे मज़े से!आज मेरे मुँह से से वो आवाज़े निकलवा रही थी जो मैं कभी मैं अपने सेक्स पार्टनर से सुनता था- आआ आह्ह… स्स स्साआअह्ह…आआह्ह ओह्ह ओ आआह्ह… ओह येस कोमल स्स्स स्साआ अह्ह्ह्ह… उफ्फ अहह आह्ह आआह्ह ओह्ह ओ ओ ओ आह अहह कोमल… आआह्ह… ओह येस… ओह येस… ओह येस बेबी सक इट… ओह येस बेबी सक इट… आआ आह्ह… स्स स्साआअह्ह… अअह. अब तो ये सब मेरी बर्दाश्त के भी बाहर हो गया था इसलिये संगीता भाभी को रोकने की बजाय मैं खुद ही अब अपनी कमर को‌‌ ऊपर नीचे हिला कर अपने लंड को उनके मुँह में अन्दर बाहर करने लगा… साथ ही मैं अपने हाथ को‌ वापस खींच कर उनकी चूत पर ले आया और उनकी चूत को मैं भी अब जोर से चूमने चाटने लगा.

फिर मैंने उससे पूछा कि अगर वो कहे तो मैं जाकर उससे बात करूँ?नताशा बोली- ठीक है!‘ये भी हो सकता है कि वो खुद ही अपनी वाइफ के साथ हो, और वो मेरी तरह की हो.

मैं मिंटू हरियाणा से हूँ, उम्र 28 साल, लंड साढ़े 6 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है, अच्छे परिवार से हूँ लेकिन ज्यादा पैसे कमाने के लिए औरतों, लड़कियों, भाभियों की चुदाई और मालिश का काम भी कर लेता हूँ लेकिन सिर्फ हरियाणा में ही!ज्यादा चूतिया बातें ना करते हुए अपनी असली कहानी पर आता हूँ जो मेरी पहली ग्राहक की है जिससे मेरा संपर्क मेरी fb id से हुआ. उफ़ रेशम सी मुलायम स्किन, दूध सा सफ़ेद रंग और हमेशा गीली बड़ी सी काली झांटों वाली चूत!’मुदस्सर ने मेरी छोटी बहन रूबी का बखान करते हुए मेरी पत्नी अमिता की चूत में उंगली घुसा दी- पर तेरी चूत बहुत कसी है जान.

‘अब बता… मेरा लंड तुझे कितना पसंद है?’भाभी बोली, ‘आप जानते हैं, फिर भी मुझसे बुलवाना चाहते हैं?’‘बता ना मेरी जान?’अचानक मेरी नज़र चाबी के छेद पर पड़ी. मुझे जल्दी है, मैं बस माँ को गाड़ी में बिठाने आया था, वह गाँव जा रही हैं। नीलम ने भी साथ आने की जिद की तो इसको भी साथ ले आया।मैंने पूछा- हैलो नीलम कैसी हो?उसका उत्तर मिला- ठीक हूँ।मैंने अपने भाई से कहा- तुम तो कॉलेज जा रहे हो ना. 15 मिनट बाद मेरा भी स्पर्म निकालने लगा और मैंने अपना पूरा स्पर्म उनकी पूस्सी में डाल दिया.

मैं आधी नींद में था, मैंने सोचा की मेरी दीदी का हाथ होगा क्योंकि मेरी बगल में हमेशा वही होती है तो मैंने भी हाथ के ऊपर अपना हाथ रख दिया. वो भी अजीत को नेकेड देख कर हॉट हो गई थी, पर हम अभी भी किसिंग की एक्टिंग कर रहे थे।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!अब अजीत और सुनीता 69 की पोज़िशन में हो गए. जब भी उनका या मेरा मन करता तो हम दोनों बेहिचक संभोग करते। कई बार तो मैंने चाची को सेक्सी वीडियो दिखा कर चुदाई किया।इसके बाद तो मैंने एक बार उनके मायके में जाकर उनकी सौतेली माँ के साथ भी संभोग किया। उनके पिताजी दूसरी शादी करके इन वाली मम्मी को घर में लाए हैं, पर उनके बूढ़े लंड में इतनी जान कहाँ.

बीएफ सेक्स अंग्रेजी वीडियो मेरी खीर को हाथ नहीं लगाना वो उपवास की खीर है।यह कह कर वो नहाने चली गई।मैं होल में से उन्हें देखने लगा, वो जानबूझ कर मुझे चुत में उंगलियां डाल-डाल कर दिखाती रहीं।बाहर मैं जोर-जोर से मुठ मारने लगा. आंटी सेक्स की यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!थोड़ी देर बाद आंटी को मैंने घोड़ी बनने बोला, वो बन गई, मैं फिर आंटी की चूत मारने लगा.

ननद भाभी का सेक्सी वीडियो

बस अभी आई।इतना कहकर वो बेडरूम में गईं फिर आईं तो देखा कि वो मेकअप करके आई थीं।आते ही भाभी ने कहा- अब चलो।तो मैंने भी उनसे कहा- आप बाहर गेट के बाहर रुकिए. हम दोनों ही उनके पास गए, उन्होंने भी उसे विश किया।फिर अंजलि ने मेरी नम्रता आंटी से पहचान करा दी।आंटी ने मुझसे कहा- हाँ बहुत सुना है तुम्हारे बारे में. फिर मुझे दर्द होने लगा तो मैं उस पर झपट पड़ा, मेरे हाथ उसकी चुची पर पड़ गए, वो अपनी बांहों से अपनी चुची छुपा कर भाग ने लगी तो मैंने उसके चूतड़ पर दांत से काट लिया और गांड की दरार में उंगली कर दी.

वो मेरी चुत को अपनी उंगली से चुदाई करके शांत कर देते। मैं कभी-कभी उनके लंड को मुँह में ले लेती ओैर इस तरह दोनों अपनी कामवासना की तुष्टि करने लगे।एक दिन जब उनके घर के सब लोग एक सप्ताह के लिए बाहर जा रहे थे। मुझसे दादा जी का ख्याल रख लेने का कहा गया और वो सब उन्हें छोड़ कर चले गए।उसी दिन मैंने अपनी मम्मी से कहा- मम्मी आज मैं स्कूल नहीं जा रही हूँ।मम्मी ने कहा- तो ठीक है. घर की छत पर, खंडहर में मुदस्सर मेरी गांड मारता मैं उसकी जमकर गांड मारता था. वीडियो में चुदाई वाली सेक्सीइतने में साहिल ने आकर भूमि की काली चड्डी उतार फेंकी और उसकी गुलाबी फूली हुई रसीली चूत को चाटने लगा.

मेरी बहन की चुदाई पर अपने विचार मुझे निम्न इमेल पर भेजें![emailprotected].

और रही मजे की तो तुम्हारे साथ तो मजे मैं करुंगा रात में!यह सुन कर रेशमा ने शर्म से अपनी आँखें नीचे कर ली. मैं मौसी की चुदाई किये जा रहा था और मैंने अपना माल मौसी की चूत में ही छोड़ दिया.

मैंने भाभी की चड्डी को एक बार अपने लंड से रगड़कर अलग किया और छुटने को तैयार था. मज़ा आएगा, आजकल तो ऐसा चलता है।फिर मैंने उनके मुँह में जबरदस्ती अपना लंड पेल दिया और मुँह चोदने लगा। मेरा लंड ज़्यादा मोटा होने के वजह से उनके मुँह में दर्द होने लगा। फिर मैंने उन्हें खड़ा किया और कहा- आंटी सेक्स करने मतलब चुदने का इरादा है या नहीं?तो वो बोली- राहुल इरादा तो है. उनका शरीर एकदम फिट था। मैंने उनका लंड मुँह में ले लिया। मेरे मुँह में लंड नहीं आ रहा था.

‘क्या मेम साब, बहुत बड़ा है आपका, बहुत काम करना पड़ेगा!’ उसने मेरी चुची को देख के बोला, काम के बहाने वो मेरे स्तनों के बारे में बोल रहा था.

सुनील ने कहा- हमारी इतनी किस्मत कहाँ!तभी सुनीता ने एकदम कहा- एक बात पूछूं क्या?सुनील ने हाँ में जवाब दिया. क्योंकि मैं उसको देर तक चोदना चाहता था।मैंने धीरे-धीरे स्पीड को बढ़ाया, मेरा लंड पिस्टन की तरह अन्दर-बाहर हो रहा था, ‘छप. फिर मुझे ऐसा करना गलत लगने लगा कि मैं अपनी ही बहन के साथ क्या करता हूँ.

वैश्या सेक्सीतो उसने मेरे लंड को थोड़ी जगह दी अन्दर जाने के लिए उसने मेरे लंड को अपनी गांड ढीली करके अन्दर जाने दिया. मैं सिर्फ़ अपनी पिंक पेंटी में उसके सामने चुदने को बेताब पड़ी थी।उसने पेंटी को बिना उतारे.

पाकिस्तान सेक्सी बीपी वीडियो

इसे सोचते ही मेरा तो रोम-2 सिहर उठता है!! मेरी प्यारी-नशीली नताशा ने क्या गज़ब का डबल एनल परफॉरमेंस दिया!!!‘अगर सच पूछो तो मेरी भी वही इच्छा है, जो कि तुम्हारी. ’‘ठीक है दीदी, आज तुमने जो मेरे लिए किया है, उसे मैं कभी नहीं भूलूँगी. मैं एक ठंडी आह भरते हुए हंसा- चलो भाई, देखेंगे किसी दूसरे मोटे लंड वाले गधे को भी!‘हाँ मेरे प्यारे पतिदेव! मजा आ जाएगा.

और मैं अपनी पूरी ताकत लगाकर अपनी जीवनसंगिनी के मुंह और जीभ को चोदने लगा था!!आखिर मैं भी फट पड़ा, मेरे लंड से गाढ़े वीर्य की बूंदे भल-भल करके निकल पड़ी जिन्हें मेरी अर्धांगिनी ने बड़े प्यार से पीना शुरू कर दिया!मैं अभी पूरा नहीं झड़ा था और मैंने लंड को अपनी गोरी चमड़ी वाली वाइफ के मुंह से निकाल कर उसके साफ-गोरे चेहरे पर झड़ना जारी रखा. हालाँकि ज़िंदगी ने बहुत मौके दिए पर मैंने कभी किसी लड़की की तरफ नहीं देखा, शायद यही मेरी ज़िंदगी की सबसे बड़ी भूल थी. उसके सामने वो मुझे छेड़ रही थी- सुनो, बिस्तर पे सिर्फ़ मेरा बॉयफ्रेंड या पति ही बैठेगा.

राजू द्वारा खाली की गई गांड में देर से चूत मारते तोली ने अपना लंड ट्रान्सफर कर दिया और दुगने जोश के साथ लंड को मेरी पत्नी की गांड में काफी गहरे घुसाने लगा!इतने हैवी लंड द्वारा अपनी गांड में गहरे धक्के लगने पर नताशा की चीखें तेज हो गई, वो मस्ती और दर्द की मिली-जुली, बच्चों सरीखी पतली आवाज में चीखने लगी. होऊँ भी क्यों नहीं!मैंने उसे कहा- ऐसे ही जाओगी?तो उसने कहा- अभी नहीं… कुछ इन्तजार करो!परंतु मेरे कहने पर उसने मुझे प्यारी सी किस दी फिर मैं कार से उतर गया और रूम में चला गया. यूँ अचानक लंड को उस अवस्था में छोड़े जाने की वजह से मैं लगभग चौंक सा गया था और अपनी आँखें खोलकर वंदु की तरफ़ यूँ देखने लगा मानो मैं उससे पूछ रहा होऊँ कि लंड को इतना तड़पा कर यूँ छोड़ क्यूँ दिया!हमारी नज़रें मिलीं और वंदु ने अपने चेहरे पर उत्तेजना से भरे भाव के साथ मुस्कुराते हुए मेरी आँखों में देखा जो उससे बिना कुछ कहे सवाल किए जा रही थीं.

फिर भी आप कहेंगे तो मैं पूरी चुदाई की कहानी भी लिखूंगा।ये मेरा अपनी चुदाई की कहानी लिखने का पहला अनुभव है. और मेरे मम्मों का बड़ा हिस्सा ब्रा के ऊपर से भी झांक रहा था।इधर मैंने कुरती को खुद से अलग किया तब तक सुधीर मेरे सामने घुटनों पर आ गया था।जी हाँ साहब, कोई कितना भी अकड़ू हो, चूत के सामने घुटने टेक ही देता है।सुधीर भी अब दूर नहीं रह पाया और आकर सीधे मेरी नाभि को किस करने लगा, मेरी पतली गोरी चिकनी कमर को सहलाने लगा।मेरे हाथ उसके बालों को सहलाने खींचने लगे… अब मुझसे भी नहीं रहा जा रहा था.

ट्रेन में काफी तो स्टूडेंट्स ही थे, मैंने उनसे दोस्ती की और बातें करते-2 तकरीबन 3 घंटे बाद मैं इलाहाबाद पहुंच गया.

जिससे वो और उछलने लगी। फिर मैंने उसके टॉप को उतार दिया और उसके ब्रा के ऊपर से उसके मम्मों को दबाने लगा।बहुत मजा आ रहा था।साली मोटी होने की वजह से बहुत मजा दे रही थी। मैं पागलों की तरह उसके चूचों को दबाए जा रहा था। फिर मैं अपने हाथों को उसकी पैंटी में डाल कर उसकी चूत को सहलाने लगा। उसकी चूत काफी फूली हुई थी. भाभी सेक्सी वीडियो डॉट कॉमउफ़ यार क्या नशा है उसके ऐसा करने में!और वो मुझसे लिपट गई, मैंने उसकी पीठ सहलाता रहा. सनी लियोन का सेक्सी सेक्सी वीडियोउन दिनों मैंने कभी सेक्स फिल्म नहीं देखी थी इसलिए मुझे नहीं पता था कि नीग्रो लोगों का इतना लंबा होता है. मैं खुश हो गया, इसका मतलब है कि हमारा रूम पूरी तरह से साउंड प्रूफ था.

जरा मेल करके बताओ न यार!दिव्या को मुझसे मिल कर अच्छा लगता था, वो कहती थी कि तुम हो तो थोड़ा अच्छा लगता है.

तभी सोच रहा तेरे फ्लैट पर ही शिफ्ट हो जाऊँ।दिव्या ने आँखें बड़ी करके कहा- हट पागल।मैंने उसको लिफ्ट में दबाया और उसकी चुची ड्रेस के ऊपर से ही चूस ली।दिव्या- छोड़ ना यार. तो मुझे मम्मे दबाने में मज़ा आता था। जब वो गर्म हो जाती तो धीरे-धीरे मेरे लंड को मसलने लगती और मेरे होंठों पर दबाव बढ़ा देती।ये सब रोज का हो गया था, मुझे अब सीधे चुदाई करनी थी, संगीता भी चुदने को बेताब थी. क्योंकि वो चल नहीं पा रही थी। फिर मैंने उसे बिस्किट दिए और टीवी चला कर उसे समझाया कि किसी को बताना नहीं है.

बड़े बड़े बूब्स, गोरा चिट्टा रंग, बड़ी सी गांड… सबसे अच्छी बात इसके होंठ बहुत रसीले हैं. ’ कहकर उसकी बात को इग्नोर कर दिया और उससे कहा- चलो दिव्या मेरे रूम में चलते हैं. क्योंकि बेचारा लंड पूरी रात से आंटी को चोदता रहा था।फिर मैं थोड़ी देर सोया.

सपना चौधरी सेक्सी बीएफ

मैंने उसे उसकी ब्रा उतारने को कहा तो उसने मुस्कुराते हुए अपनी आँखें बंद की और सर नीचे झुका लिया शर्म से… लेकिन कुछ ही पल में उसने चेहरा ऊपर किया और अपने बूब्स पर हाथ फिराते हुए सामने से ही हुक खोल दिया ब्रा का. वो बहुत गर्म होने लगी और ज़ोर ज़ोर से सिसकारी लेने लगी, उसकी चूत के बारे में क्या बताऊँ दोस्तो… एक मुलायम चूत फूली हुई चिकनी मक्खन की तरह… मन कर रहा था कि खा जाऊँ उसकी चूत को… लेकिन उसमें अभी लंड जो डाल कर उसकी चूदाई करनी थी ना… इसलिए रुक गया. तो भी कम से कम दिन में हम दोनों दो बार तो चुदाई का मज़ा लेते ही थे। वो और भी मस्त और चुदक्कड़ हो गई थी।’‘ओह गॉड.

वो टेबल पर झुकता हुआ अपना चेहरा मेरे नजदीक लाकर बोला- सुन्दर वाइफ है? इंडियन है?‘बहुत सुन्दर, ब्लॉन्ड रशियन वाइफ.

आभा ने हल्की चीख और मदहोशी के साथ डिल्डो आसानी से बर्दाश्त कर लिया।वो दोनों इस काम में पूर्व प्रशिक्षित थी इसलिए दोनों में गजब का तालमेल दिखा। अब मेरे लिये ये समझना मुश्किल ना था कि वो गांड में लंड या डिल्डो पहले भी डलवा चुकी हैं।खैर हम सब एक बार फिर कामुकता की पराकाष्ठा पर पहुंच गये.

उसका इलाज करवाया और उसके घरवालों को सूचना दी।उसने हमें बहुत थैंक्स कहा। उससे बातों- बातों में हमने उससे उसका नाम पता आदि पूछ लिया था। उसका नाम चिंकी था। (यह नाम बदला हुआ है)अब मैं रोज उससे मिलने जाता था. उससे मिलने आया है, यह सुन कर वो परेशान हो गई, वो झुंझला कर बोली- इसीलिए मैं इसका फोन ही नहीं उठा रही थी. हिंदी सेक्सी बीपी भोजपुरी‘हां, ऐसे ही बोलने का, लंड को लंड बोलने में ही ज्यादा मजा आता है!’ ऐसे बोल कर वो मेरे मुख में धक्के देने लगा, उसके विशाल लंड के धक्कों से मेरी सांस फूलने लगी, तो मैंने उसका लंड बाहर निकाल लिया, तो वो अपने लंड को मेरे गाल पर मारने लगा.

और सब अलग अलग फ्लेवर का कंडोम लाना।’सब चले गए और मैं संडे की प्लानिंग करने लगा, भूमि को भी प्लान समझा दिया कि क्या करना है। संडे को ठीक आठ बजे तीनों ठरकी पहुंच गए मेरे घर. तब से एक साथ सोते थे। मुझे थोड़ा बहुत सेक्स के बारे में पता हो चुका था. अन्तर्वासना साईट मुझे कारण मुझे एक कुंवारी बुर की चुदाई करने को मिली.

उसने पानी की ट्रे उन तीनों के सामने रखी मुस्कुराते हुए… भूमि जैसे ही झुकी उसे डीप नैक वाले टॉप से उसके बूब्स झलकने लगे. नेहा समझ गई और सुमन को किस करने लगी और मौका देख मैंने एक जोरदार धक्का मारा.

इसे सोचते ही मेरा तो रोम-2 सिहर उठता है!! मेरी प्यारी-नशीली नताशा ने क्या गज़ब का डबल एनल परफॉरमेंस दिया!!!‘अगर सच पूछो तो मेरी भी वही इच्छा है, जो कि तुम्हारी.

उसने अपनी हथेली दिखा कर उनका अभिवादन किया, जिसका मेरे दोनों सम्बन्धियों ने अपनी हथेलियाँ हिला कर जवाब दिया. फिर मैंने और भाभी ने साथ में ब्रेकफास्ट किया।मैं- भाभी में बाहर जा रहा हूँ।भाभी- कब तक आओगे??मैं- शाम तक आ जाऊँगा।भाभी- ठीक है. आपको बताते चलूँ कि औरत के कंधे और कान की लटकन पर किस करने और काटने से उनके अंदर सेक्स की उत्तेजना काफी तेजी से जागृत होती है.

मंदसौर का सेक्सी वीडियो वो बहुत बेचैन हो रही थी।फिर मैं अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा और अब वो पागल सी होने लगी, वो सिसकार कर बोलने लगी- हय. चलो नई कहानी पर आता हूँ, बात कोलेज की है, मैंने इस बार फर्स्ट ईयर का पेपर दिया था, मैंने इस साल बहुत मजे किये, उन दिनो में मैंने कई लड़कियों को फंसाया.

मेरी सेक्सी कहानी पर मुझे आपके विचारों भरी मेल का इंतज़ार रहेगा…[emailprotected]. अपनी ममेरी बहन की कामुकता देख कर कुछ देर तो मुझे समझ नहीं आया कि करूं तो क्या?पहले तो सोचा कि जब लड़की खुद ही चूदाई के लिए आ रही है तो मैं क्यों पीछे हटूं?मैंने मुड़ कर उसको किस करना शुरू कर दिया और वो बहुत मज़े से मेरा साथ देने लगी. वहाँ बहुत सारी लड़कियाँ थी, कुछ सुंदर थी तो कुछ साधारण सी दिखने वाली…मैंने एक लड़की को दूर से पसंद किया और उसके पास जाकर उसका रेट पूछा.

बीएफ वाली बीएफ

’चाची मेरी पैंट के ऊपर से ही मेरे लंड को सहलाने लगीं। मैं उनकी चुची को दबाते हुए क़िस किए जा रहा था।हम दोनों के कपड़े कब उतर गए. 15 मिनट तक हम दोनों एक दूसरे को स्मूच करते रहे, उनकी पूरी जीभ को अपने मुख में लेकर बहुत प्यार से चूस रहा था और वो लंबी लंबी साँसें भर रही थीमैंने मेरी कज़िन सिस्टर साड़ी का पल्लू हटाया और ब्लाउज खोल दिया. उसकी चुची काफी गर्म हो रही थी कुछ तनी भी हुई थी।मैंने उसके खड़े निप्पल को अपनी उंगली और अंगूठे में लिया और धीरे धीरे मसलने लगा.

और वो अब गर्म हो गई है… तुमने देखा ना कैसे अपनी चूत को मसल रही थी! अगर किसी और के साथ कुछ उल्टा सीधा किया तो प्रॉब्लम होगी. ’मैं- चाचा मेरे से अब रहा नहीं जा रहा, अब चोद दे।चाचाजी- अभी नहीं चोदूंगा.

देखने में घर ज्यादा अच्छा नहीं था पर रहने लायक तो था ही, उसने गेट का ताला खोला और हम अंदर चले गये, उसने मुझसे बोला- अगर फ्रेश होना चाहते हो तो हो सकते हो.

20 मिनट में हम तीनों का पानी निकल चुका था और अब मेरा लंड चुदाई से थक चुका था लेकिन मेरी गर्लफ्रेंड ने उसे चूस कर कुछ ही देर में दोबारा तैयार कर दिया. मैंने उसे पूरा ब्लाउज उतारने को कहा तो वो मान गई और पूरा बलाऊज उतार कर साड़ी के साथ ही रख दिया. रमा कुछ नहीं बोली, उसकी आंखों में खुशी और संतुष्टि के आँसू थे।बाबा जी उसकी भावना समझ गए और उसके कान में बोले- पगली, बाबा तीन महीने बाद फिर आयेंगे… पर तुम यहाँ से जाते ही अपने पति के साथ एक बार जरूर सम्बन्ध बना लेना.

मेरी लार टपक गई, मेरी भानजी कविता का पूरा गदराया बदन था, उसका यौवन शरीर से फूट रहा था।जल्दी ही मैंने कविता से दोस्ती कर ली। अब हम दोनों आपस में खूब बात करते थे. ’ भाभी मेरे पास आई और मेरे पजामे का नाड़ा खोल दिया- उतारो इसे और अपना लंड खड़ा करो मेरे सामने… बहुत मजा आता है तुझे दूसरों को नंगा देखने में… अब बता कैसा लग रहा है तुझे?साड़ी में से उनका नंगा पेट और प्यारी सी नाभि देखकर तो मेरा लंड तो पहले ही खड़ा था. मैं- नहीं भैया बहुत तकलीफ़ होगी।राहुल- नहीं बहाना कुछ नहीं चलेगा।मैं- नहीं राहुल भैया मेरी चूत आपका लंड नहीं झेल पाएगी।राहुल- अरे डर मत.

सुनील ने पहले तो न नुकर किया और फिर सुनीता के ज्यादा जोर देने पर वाशरूम में घुस गया.

बीएफ सेक्स अंग्रेजी वीडियो: निचोड़ डाल मुझे।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!वो 69 में होकर मेरा लंड फिर से चूसने लगी, जिससे मेरा माल निकल गया और वो माल खा गई।अब उसने अपनी चुत मेरे मुँह की तरफ़ की. बाहर मत आना।थोड़ी देर में वो कमरे में आई और जब मैंने पूछा तो उसने बताया कि उसने दादी से बोल दिया है कि अब वो पढ़ने जा रही है.

मैंने उसके होठों में अपनी जीभ घुसेड़ दी और नाइटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाता हुआ उसकी जीभ को चूसने लगा. थोड़ा और नीचे जाने पर उसका गीलापन मेरी उंगली में लग चुका था। मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत के अन्दर डालना चाही तो वो अन्दर नहीं गई क्योंकि सुहाना ने पैर सिकोड़ कर रखे थे. तो वह अपनी चुची जानबूझ कर दिखाती थीं।मेरे चाचा सरकारी नौकरी करते हैं। वह साल में दो-तीन बार ही घर आ पाते हैं। इसलिए चाची अधिक चुदाई नहीं कर पाती थीं।अब धीरे-धीरे चाची मुझसे घुलने-मिलने लगी थीं। हम दोनों के बीच मजाक के साथ छूने-पकड़ने का मजाक भी चलने लगा था।चाची किचन में खाना बनातीं तो मैं चाची को पीछे पकड़ लेता, उनके पेट में हाथ डाल कर मसलता.

हुआ कुछ यूँ कि दोस्तों एक दिन घूमते हुए मुझे रास्ते में एक बहुत सेक्सी लड़की दिखी तो जब मैं उसकी तरफ देख रहा था तो इसने मुझे देख लिया.

उसने अपना नाम जीनत (काल्पनिक नाम) बताया और फिर शुरू हो गई हमारी बात… तो धीरे धीरे हम दोनों कुछ ही दिनों में बहुत खुल कर बात करने लगे थे और कुछ ही दिनों क्या मुश्किल से सात दिन बाद वो मुझे बोली- मुझे आपसे मिलना है!तो मैंने भी हाँ कर दी मिलने के लिए!उसने मेरा नम्बर मांग लिया और कहा- मैं खुद आपको कॉल करूँगी शाम को!और कहा- मुझे कुछ बताना है आपको!तो मैंने भी हाँ कह दिया और इंतज़ार करने लगा. ’ बोला।हम लोग ऐसे ही बात करते-करते सेक्स की बातें करने लगे।फिर एक दिन ऐसा आया कि उसने मुझे अपने घर बुलाया क्योंकि उसका पति अक्सर बाहर ही रहता था। उस दिन जब मैं उसके घर गया तो वो एक सोफे पर बड़ी मादक अंदाज में बैठी थी। इस तरह बैठे हुए वो एकदम स्वर्ग की अप्सरा सी लग रही थी। क्या मस्त ड्रेस पहन रखी थी उसने. मैंने भाभी के पैरों को फैला कर लेटाया और उसकी चुत चाटने लगा।भाभी भी मेरे सर पर हाथ फेरते हुए मस्त आवाज़ में ‘आअहह.