प्रियंका चोपड़ा का बीएफ पिक्चर

छवि स्रोत,કિસ ના પ્રકાર

तस्वीर का शीर्षक ,

अक्षय कुमार का नंगा फोटो: प्रियंका चोपड़ा का बीएफ पिक्चर, मैंने उसे लिफ्ट की दीवार के सहारे झुका दिया और उसके चूतड़ों पर चपत लगाना शुरु किया। मेरे हर एक वार से वो आगे खिसक जाती थी.

सेक्सी बीएफ मुसलमान का

क्योंकि इस खुशबू को चाटते हुए वंश मेरी चूत के अन्दर तक जीभ डाल रहा था जिससे इस दवा का असर मुझे भी होना था. कुंवारी लड़की का बीएफ दिखाइएनितिन ने भोला बनते हुए कहा- मैंने कुछ नहीं देखा, तुम निश्चिन्त रहो, इस उम्र में सभी देखते हैं.

अंकल बड़े मजे से उन्हें मसलने लगे और अपनी कमर हिलाते हुए लंड को मुँह के और अन्दर घुसाने लगे. लड़की का बीएफ वीडियोबेबी रानी ने सलाह दी कि चलो बाथरूम में शावर के नीचे चुदाई करते हैं.

मैंने मुस्कराते हुए चाबी को वापस रख दिया। मैंने पापा की कार की चाबी ली और चल दिया।हम लोग कार में बातें करते हुए जा रहे थे। हम निश्चित कर रहे थे कि हमे कहाँ कहाँ घूमना है.प्रियंका चोपड़ा का बीएफ पिक्चर: मैं 20 साल का हूँ और मैं आप सभी को आज अपने पहले सेक्स अनुभव के बारे में बताना चाहता हूँ।कहानी शुरू करने से पहले मैं आप सभी को अपनी भाभी के बारे में बताना चाहता हूँ.

मैं तो गर्म हो चुका था मगर शिखा भी अब गर्म होने लगी थी और उसको खाना बनाने में परेशानी होने लगी.उसके हाथ पीछे ले गया और उसकी ब्रा से बांध दिया। मैंने पट्टा उसके गले में पहनाया और उसे चलने का इशारा किया.

सेकसि विडिये - प्रियंका चोपड़ा का बीएफ पिक्चर

ऐसे सोचते ही मुझे खुद से शर्म हो आई और मैं औंधी लेट गयी और तकिये से अपनी चूत घिसने रगड़ने लगी.मुझे नहीं पता दीदी ने उनको कहां से ढूंढा था लेकिन उनको देख कर मुझे ऐसा लगने लगता था कि काश मैं भी इनके जितना ही चार्मिंग होता.

पर मेरा लौड़ा शायद गोलियों की असर की वजह से और शायद इतनी बार झड़ने की वजह से अब तक झड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था. प्रियंका चोपड़ा का बीएफ पिक्चर लेकिन दिन का समय होने की वजह से वो छत की सीढ़ियों और मीरा की छत पर रखे प्लांट्स की ओर आ गए.

बस उसका इतना कहना ही था कि मैंने आव देखा न ताव लंड को गांड में एक ही झटके में पेबस्त कर दिया.

प्रियंका चोपड़ा का बीएफ पिक्चर?

अब मैं बिल्कुल चुपचाप खड़ा था, तभी वो तीनों में से एक मेरे पास आई और मुझे किस करने लगी. जब इतने से मन नहीं भरता, तो कूल्हों को फैला देता, इससे उसके गांड का बादामी-भूरा छेद भी खुलकर सामने आ जाता. नम्रता- अरे वाह, अगर ऐसी बात है, तो फिर जो तुम कहोगे … वो सब मैं करूँगी.

वो मुझे बताने लगी कि कैसे उसके पति उसे चोदते हैं और बस 2-4 मिनट में पानी निकाल कर सो जाते हैं. तो दोस्तो, मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी, आप सभी के मेल के इंतजार में आपका अपना शरद सक्सेना. प्रियंका मेरे से एक साल बड़ी है … जबकि वनिता मेरे से एक साल छोटी है.

उसकी चुचियाँ इतनी बड़ी थी कि उसकी दोनों लड़कियों की बड़ी चुचियाँ भी उसी की देन थी. उनको हम तीनों के रिश्ते के बारे में ना वो जानती हैं और ना मैंने उन्हें बताया है. मैं सीधा लेट गया और पूनम ने मेरे सोये हुए लंड को अपने मुंह में भर कर फिर से चूसना शुरू कर दिया.

मैंने गाड़ी से बाहर आकर पूछा- कैसा लगा भाभी सरप्राइज?भाभी बोली- यह किसका खेत है मनीष?मैंने कहा- मेरा ही खेत है भाभी; और पास में ही एक तबेला भी है. आगे से तो उसने अपनी चूत को छिपा लिया मगर पीछे का वह सुनहरा दरवाजा खुला ही हुआ था.

मैंने पूछा कि सब कहां गए, तो उसने कहा कि सब लोग मार्केट गए हुए हैं.

मैंने गुस्से में आकर कहा- सर, आपने मुझे समझ क्या रखा है? मैं कोई बाजारू औरत नहीं हूं.

कभी मेरी चूत को होंठों से चूमने लगे और कभी जीभ अंदर देकर उसको चूसने चाटने लगते. मैं उसकी कमर को पकड़कर अब लगातार तेजी से धक्के लगाता रहा जिससे मोनी की कराहटें अब और भी तेज हो गयीं और कुछ ही देर बाद मेरा सँयम टूट गया. मैंने नम्रता को एक बार फिर पलंग पर बैठाया और उसके चूत के साथ खेलने लगा.

अब मैं भाभी के गाउन के बटन खोल रहा था और साथ ही साथ उन्हें चूम भी रहा था. अब अपनी और तारीफ करके मैं आपको बोर नहीं करूंगा और कहानी पर आता हूँ. मैं- क्या उसके पास रूम वगैरह नहीं है?मीता- नहीं नहीं … मैं उसके रूम में नहीं जाऊंगी.

उसकी बुर तो बहुत ज्यादा टाइट थी, लंड को उसकी बुर के अन्दर जाने में बहुत मेहनत करनी पड़ रही थी.

नम्रता भी जोश में अपनी चूचियों को भींच रही थी और दोनों मम्मे को बारी-बारी अपने मुँह की तरफ ले जाती और जीभ को निप्पल की तरफ चलाती. मैं- सरिता आज तक चुदाई से कोई भी नहीं मरा है … सभी लोग चुदाई करते हैं. उनके जाने के बाद हम तीनों ने मिलकर ढेर सारी बातें की … और पता ही नहीं चला कि कब लंच का टाइम हो गया.

कभी कभी तो भैया इतनी जोर से मुंह को धकेल देते थे कि उनका लंड मेरे गले में जाकर फंस जाता था. जब मेरी शादी हुई तो मैं अपने ससुराल गयी जो लखनऊ के एक जाने-माने इलाके में है. जब भी मौका मिलता था, मैं उसकी साड़ी उठा कर उसकी पैन्टी नीचे कर देता था और नीचे बैठ कर कभी चूत चूमता, तो कभी उंगली से चूत के दाने को मसल देता था, तो कभी मेरे लंड से चूत के ऊपर रगड़ता था या तो मेरी जानू की कोरी चूत के अन्दर लंड डाल देता था.

उसने मुझे अपनी बाँहों में लेकर बिस्तर पर पटक दिया और मेरे ऊपर आकर मेरी चूची को दबाने और मसलने लगा.

मैं नम्रता की पीठ से चिपक गया और उसके मम्मों को लेकर हौले-हौले मसलने लगा और फिर धीरे-धीरे उन मम्मों को भींचने की स्पीड तेज हो गयी. ऐसे ही एक दिन की बात है जब मैं नहा रहा था। मेरी आदत है खुले में नहाने की। नहाते समय मेरी चाची आकर मुझे छेड़ने लगी। वो मेरी चड्डी खींचने लगी.

प्रियंका चोपड़ा का बीएफ पिक्चर अब मैंने फोन को अपने मुंह से दूर करके जीजा से कहा- मुझे सच में बहुत दर्द हो रहा है. फिर कुछ पांच छह धक्के मारे तो सारा झड़ गयी और मैंने लण्ड बाहर निकाल कर घोड़ी बनी हुई दिलिया की चूत में डाल दिया.

प्रियंका चोपड़ा का बीएफ पिक्चर रितेश ने मीरा से कोई तरकीब सोचने को बोला ताकि वे दोनों खुल कर चुदाई का मज़ा ले पायें … न कि ऐसे छुप कर. कामुक भाव उसके चेहरे पर साफ नजर आ रहे थे। उसने हाथ पीछे किया और गाऊन का चेन खोल कर ब्रा का हुक खोल दिया। ब्रा निकाल कर मुझे देने लगी.

लेकिन वो कुछ नहीं बोलीं, बल्कि थोड़ा और झुक गईं, जिससे अब मुझे बोबों की दरार भी दिख रही थी.

सेक्सी xxx hd

मैं समझ गया कि वो इसको न करने के लिये मुझे पहले से ही चेतावनी देना चाहती है, पर मेरे दिमाग भी यह बात नहीं आयी. लंड को परदे में करते ही मीना उसे अपने हाथों में लेकर उसका टोपा ऊपर नीचे करने लगी और मैं ज़न्नत में पहुंचने लगा. मैंने भांग को दूध में मिलाकर उसे कामवाली नौकरानी को पिला दिया और उसके साथ रात भर सेक्स किया.

मैंने भाभी के मम्मों को उनकी मैक्सी के ऊपर से ही मसल दिया और उन्हें कसके पकड़ने लगा. उस टाइम साढ़े पांच होने ही वाले थे और सुरेश अंकल के आने का टाइम अभी नहीं हुआ था वे तो साढ़े पांच के थोड़ी देर बाद ही निकलते थे मेरे घर के आगे से. कुत्ता अपनी तरफ जोर लगाने लगा और कुतिया उस कुत्ते को अपनी तरफ खींचने लगी.

अंकल अपनी उंगली अन्दर बाहर करते समय चुत से निकल रहा रस अपनी जीभ से चाट रहे थे, कभी कभी उनकी जीभ मेरे चुत के दाने को टकरा जाती, तो मेरे पूरे बदन में बिजली दौड़ जाती.

खाना खाते समय मैंने खाने की तारीफ की, तो वो बहुत खुश हुई और बोली- थैंक्स सर. जैसे ही नम्रता लेटी, मैंने उसकी बुर में जीभ लगा दी और उसके उस कैसेले स्वाद से भरी हुई चूत को चाटने लगा. व्हाट दा फ़क … मेरा मन कह रहा था कि भाभी पूरी की पूरी नंगी खड़ी है मेरे सामने.

मैं- सोनल चिंता मत कर … मैं तुम्हें मजा करवाऊंगा और वो भी बहुत ज्यादा. लेकिन जितने विश्वास के साथ मैं आगे कदम बढ़ा रहा था मोनी मेरे उस भरोसे को पीछे धकेल देती थी और वह शायद नहीं चाहती थी कि मैं उसकी चूत को भी हाथ लगाऊं. तब तक मैं थोड़ा सहज हो गया, जूली डॉक्टर को समस्या बताई तो डॉक्टर ने पैंट उतारने को कहा.

पर उन दोनों के बैठने के ढंग से लग रहा था कि वो दोनों रिलेशन में हैं. मैं- क्या आप मेरे साथ चाय पीना पसंद करेंगी?चांदनी- हाँ, इसमें पूछने वाली क्या बात है.

हैलो, मेरा नाम अजय है और मैं नियमित रूप से अन्तर्वासना की कहानियां पढ़ता आ रहा हूँ. क्योंकि हमारा घर यहां दिल्ली में है तो वो महीने में एक बार ही घर आ पाते हैं।मेरे ससुर जी सेना से सेवामुक्त हैं और अधिकतर घर पर ही रहते हैं।मेरी ननद सुमीना अभी बी ए तृतीय वर्ष की छात्रा है और देवर एक प्राईवेट कम्पनी में काम करता है।मैं शादी के बाद छः महीने तो अपने पति के साथ ही रही. मैंने अपना काम चालू रखा। अब मैं धीरे-धीरे अपने लंड को आगे-पीछे करने लगा और धक्के की स्पीड भी धीरे-धीरे बढ़ाने लगा।एक जैसी पोजिशन में धक्के मारते-मारते मैं थकने लगा तो मैं चित लेट गया और जूली को अपने ऊपर कर लिया और फिर उसकी चूत में लंड डालकर नीचे से अपनी कमर उठा-उठाकर उसको चोदने लगा।जूली भी अब समझ चुकी थी.

अंकल ने अपना लंड दो तीन बार चुत के दरार पर रगड़ कर अंदाजा लिया- नीतू रानी … तैयार हो ना?तैयार … किस चीज … के लिए … आहआ आहह.

हम दोनों लोग जिस बिस्तर पर सेक्स कर रहे थे वो बिस्तर भी हम दोनों की चुदाई से गर्म हो गया था. बीस मिनट बाद मैंने उसकी चूत में ही रस छोड़ दिया और अपने कपड़े पहनने के बाद अपने घर वापस आ गया. एक रात को मामा और मामी की चुदाई देखते हुए मैंने शुभ्रा की गांड में लंड लगा दिया और उसको अपने रूम में नंगी कर लिया.

मम्मी- डॉक्टर साहिब, कई तो शादी के बाद भी नहीं छोड़ती हैं?डॉक्टर- ये वो होती हैं जिनको पति का संसर्ग नहीं मिलता, वे औरतें बाहर अपनी इच्छा पूरी करती हैं. मैं वहां उसके भाई की नशे वाली एक्टिंग करते हुए गया- अमीषी अमीषी … सो गई क्या?मैंने चादर हटाई उसके ऊपर से और बोला- वाह मेरी बहन … जब तू मेरे पास है, तो मुझको शादी की कोई जरूरत नहीं … ना तेरी शादी होने दूंगा, तुझ जैसी चूत फिर कभी मिलनी नहीं मुझको.

फिर मैं अपने कमरे में आया, तो वो मुझसे बोली- मैं कहां सोऊंगी?मैंने उससे कहा- इसी बिस्तर पर. मेरे एक रिश्तेदार के घर एक हफ्ते के बाद शादी पड़ी थी, जिसका कार्ड कल घर में आया था और उनकी तरफ से पूरी फैमिली को उसमें शामिल होने के लिये खास तौर पर मुझे फोन किया था. क्या हुआ बॉस? परेशान दिख रहे हैं आप?” मैंने कहा।दीपिका! मेरे सिर में बहुत दर्द है.

36 सेक्सी सेक्सी

जब मेरा हाथ उसके नितम्बों पर जाकर रुका तो मुझे पता चला कि मोनी ने आज भी नीचे से पैंटी नहीं पहनी हुई है.

मैं जब उसके चुचे कसकर दबाता, तो वो मेरे कूल्हे को काट लेती और अंडों को कसकर भींच लेती. मेरी चूत को सूंघने के बाद वो मेरी चूत को पेंटी के ऊपर से ही सहलाने लगा. जाने के वक्त मैंने उसे दर्द की दवा और गर्भनिरोधक दवा खिलाई और घर भेज दिया.

आपकी तबियत भी तो गड़बड़ है ना?पिंकी और नितिन कार से डॉक्टर के यहाँ निकल पड़े. उसकी ये बातें सुनकर मुझे भी कुछ कुछ होने लगा था … और मेरी चूत भी गीली होने लगी थी. സെക്സ്സ് കഥകള്नितिन चुदाई करते हुए सोचने लगा कि ये तो सीमा जी से भी ज्यादा सेक्सी माल निकली.

मेरी ये सेक्स कहानी ज्यादा पुरानी नहीं है, इसे बस एक महीना ही हुआ है. शाम को वह करीब 08:00 बजे आई और उसे वापस जाने में रात के 10:30 बज गए.

वह बार बार अपनी चूचियों के कोमल निप्पलों को अपने अंगूठे और उंगली से मसलती और जोर से आहें भरती. कुछ देर बाद बाद जब दर्द कम हुआ तो अनिल भैया ने मुझे घूमने को कहा … ताकि वे देख सकें कि हुआ क्या था. सुमन जोर से चिल्लाई- उम्म्ह… अहह… हय… याह… मम्मीईई ईईईई नहीईई ईई! नहीं … मत करो … मर जाऊंगी.

अब मुझे चुदाई का ये खेल थोड़ा समझ आ गया था और मैं धीरे धीरे अपने लंड को भाभी की चूत के अन्दर बाहर कर रहा था. आह्ह्हह माँआआआ आआ … अर्जुन उफ्फ … जोर से चोदो मेरे राजा … फाड़ दो मेरी चूत को … आह्ह्हह उम्म्म आह्ह्ह!” मेरी ऐसी आवाजों से कमरा भर गया. उसके चेहरे पे बहुत मासूमियत थी और हवा से उड़ उड़ के बाल बार बार उसके फेस पे आ रहे थे.

मैं बीच-बीच में उसकी गदराई हुई मांसल जांघों पर थप्पड़ मारता जा रहा था.

मैंने उसे बेड पर गिराया और उसकी ब्रा में हाथ डाला और उसके बूब्स को नाप कर देखा. नम्रता ने बिना कोई हड़बड़ी दिखाये, मेरे लंड को चाटकर साफ किया और फिर शीशे के सामने खड़े होकर चेहरे पर लगी मेरी मलाई को उंगली से लेकर चाट चाट कर अपना चेहरा साफ कर लिया.

उनके मोटे लंड से मैंने अपनी गांड कैसे मरवाई, वो अगले भाग पूरे विस्तार से बताऊंगी. नितिन के लिंग के आकार को लेकर मैं अपने आपको बहुत भाग्यशाली महसूस करती थी पर शर्मा सर का लिंग तो नितिन के लिंग से बड़ा महसूस हो रहा था. जैसे ही पैंटी मेरी बदन से अलग हुई, शर्मा सर ने उसे मेरे हाथों से छीन कर अपनी जेब में डाल लिया.

नम्रता ने बिना कोई हड़बड़ी दिखाये, मेरे लंड को चाटकर साफ किया और फिर शीशे के सामने खड़े होकर चेहरे पर लगी मेरी मलाई को उंगली से लेकर चाट चाट कर अपना चेहरा साफ कर लिया. मेरा तना हुआ लौड़ा एक बार कट के अंदर जाकर फिर से बाहर आ गया और मेरा अंडरवियर नीचे मेरे घुटनों तक सरका दिया शिखा ने. उसके बाद मैंने बाहर के लड़के और आदमियों को देखना बंद कर दिया और केवल सौरभ से ही जब दिल करता, रंगरलियां मना लेती थी.

प्रियंका चोपड़ा का बीएफ पिक्चर अब मैंने उसकी योनि के दाने को अपने लिंग से रगड़ना शुरू कर दिया।अब वह खुद मेरे लिंग को अपनी योनि में डालने का प्रयास करने लगी और कहने लगी- प्लीज जल्दी करो … आह्ह … अब नहीं बर्दाश्त हो रहा है … प्लीज।मैंने जोश में आकर उसके दूधों को फिर से मसलना शुरू कर दिया. मैंने पीछे सर में हाथ लगाया और बालों को पकड़ कर लंड हाथ में लेकर उसके मुँह में डालने लगा.

इंडियन सेक्सी बफ हद

वो बस यही कहती रही- प्लीज मुझे छोड़ दो! बहुत दर्द हो रहा है!‘आहह हह ईइइ इइ ऊइइ इइइ ऊइइ मां मोरे जाबो रे उरी मां गो आहह हहह ईइइ इइ ऊइइ इइइइ छेरे दाव!’ उसने बहुत मिन्नतें की लेकिन मैंने जरा भी रहम नहीं किया. उसके बाद वो फिर से हंसते हुए बोली- मानसी ने मुझे फोन पर पहले ही बता दिया था कि तू उसकी चूत को चोदने के लिए तड़प रहा है. दो-तीन धक्कों के बाद ही मेरा लंड और लंड के साथ साथ पूरा शरीर जैसे अकड़ने लगा.

मुझे उसकी चूत के दर्शन नहीं हुए क्योंकि उस लड़की का सिर मेरी तरफ था और टांगें दूसरी ओर. उफ़! कितना सहा था इस प्रेम की मारी ने!वसुन्धरा! तू है तो तो बेपनाह प्यार के काबिल लेकिन मैं एक शादीशुदा, बाल-बच्चेदार आदमी, तेरे प्यार का जबाब प्यार से नहीं दे सकता. वीडियो मोटी औरतदेर हो जाने हाइवे से दो तीन किलोमीटर दूर घर सुनसान रास्ता होने के कारण बहू ने मंजू को हमारे साथ ही चलने को बोला.

मैंने अपना लंड उसकी चूत पर सैट किया और उसकी पतली कमर पकड़ कर एक झटका दे मारा.

असल में आज उनको कुछ और ही ड्यूटी करनी थी जिसके लिये उन्होंने पहले से मन बना लिया था. जब भी मैं उसके घर जाता तो हमारे बीच में किस होती और ऊपर से ही एक दूसरे को सहला लेते थे.

हर बार उसके स्पर्श से मैं सिहर उठती और मेरे पूरे जिस्म में वासना की लहर दौड़ जाती. मैंने पूछा- क्या तुम्हें यह सब करना अच्छा लगता है?बिन्दू कुछ नहीं बोली. मैं उसकी गर्दन को नीचे की तरफ झुकाते हुए बोला- एक बार मुँह में लेकर इसको प्यार करो, फिर चली जाना.

वह बोली- मेरी चूत से तुम्हारे पेट की भूख शांत हो जायेगी क्या?मैंने कहा- वह सब छोड़ो, पहले तुम नीचे बैठो.

जब भी चाची अपने बेटे को दूध पिलाती थीं, तो मैं उनकी चुचियों को छिप कर देखा करता था. बोलते हुए ही उन्होंने अपना लंड बाहर खींचा और फिर जोर से अन्दर पेल दिया. फिर मैंने एक हाथ से उसके चूतड़ पर हाथ फेरकर एक चपत लगाई और उसे हट जाने का इशारा किया.

बफ पाकिस्तानीऔर मैंने पेटीकोट में हाथ डालकर उसकी चूत अपनी मुठ्ठी में दबा ली और अपने होठों से उसके होंठ सिल दिये. किस करते करते मैंने अपने हाथ को उसकी चूची से हटाकर उसकी पजामी के अन्दर डाल दिया.

कार्टून में सेक्सी मूवी

मैं अगले दिन जब ऑफिस गया, तो मेरी निगाहें उस खूबसूरत परी को खोज रही थीं. ऐसा करते-करते उसने अपनी एक उंगली मेरी गांड के अन्दर पूरी डाल दी और अपनी उंगली से मेरी गांड चोदने लगी. मैंने पूछा- कल रात को क्या खा लिया था तेरे पति ने?तो निहारिका ने कहा- पता नहीं, पर मुझे पूरी रात बजाया.

मैं उसके पैरों के बीच में बैठा और उसके चूतड़ों को किस करने लगा, जो बहुत गोरे थे. उस वक्त मेरी उम्र 23 साल है और मेरे चाचा की लड़की, जिसका नाम मेनका है, उसकी उम्र 19 साल की थी. मंजू बोली- भड़वे ऐसा कर के दिखा?मैं उठा, उसके ब्लाउज को जोर से खींचा.

मैं दोबारा दो तीन मिनट में दीदी की चुत के अंदर झड़ गया पर फिर भी उन्होंने कुछ नहीं कहा. फिर वो अपनी टांग को मेरी टांग पर चढ़ाकर मेरे लंड को अपनी चूत पर घिसने लगी और लंड को चूत के अन्दर लेने की कोशिश करने लगी. उन्होंने अपना हाथ मेरी ब्रा के अन्दर डाल दिया और मेरे स्तन दबाने लगे.

परन्तु मैंने सोचा कि यदि मैं इसके बारे में बताऊंगा तो ये मुकर जाएगी और मुझे ही झूठा बना देगी. इसके बाद मैंने उसको अपनी खाट पे बुलाया, पर उसके उठकर आकर बैठने से खाट आवाज़ करने लगी.

मेरी चूत को और चाटना चाहते हो क्या?मैं- नहीं इसकी महक को अपने नथुनों में बसाना चाहता हूं.

सोनल के चूत चाटे जाने से राधिका जोरों से सिसकारियां भर कर रही थी- आह ओह मेरी ननद रानी … अह आह अह और जोर से चाट ले मेरी चूत ओह अ आह ओह. भोजपुरी बीएफ एचडी मेंइस बार मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसके कंधों को कस कर पकड़ा और अंधा-धुंध धक्के लगाने लगा. बीएफ सेक्सी पिक्चर एचडीमैंने प्रतिभा से तुरंत पूछा- क्या खुशी भी इस बात को जान गई?प्रतिभा ने मुँह मटका के कहा- वाह जी वाह … मैं जान गई और तुमसे कह भी दिया, तो कोई फर्क नहीं पड़ा और खुशी जान गई होगी, ये सोचकर ही तुम्हारे चेहरे का रंग बदल गया. एक रोज शाम 7 बजे के करीब मैं अपनी बालकोनी में आया तो सामने वाली बड़ी खिड़की में से मुझे एक अजीब नजारा दिखाई दिया, जिसे देखकर मैं हैरान रह गया.

हालांकि अपने लंड मैं काफी देर तक मसलता रहा, जिसके कारण लसलसा लगने लगा था.

अदिति ने हंसते हुए खुद ही अपने हाथ से ब्रा खोल दी और बोली- अभी एक्सपीरियंस नहीं है तुम्हें!यह कह कर वो हंसने लगी. रमेश के लंड से वीर्य की 5-6 पिचकारियां निकलीं और बहुत सारा वीर्य उसने अपनी बेटी की गांड में भर दिया. नेहा की अपने हस्बैंड से नहीं बनती थी, प्रेग्नेंसी के बाद से झगड़ा होने के बाद अपनी माँ के पास आ गई थी और बच्चे की डिलीवरी भी यहीं हुई थी.

वो अपने नाखूनों को मेरी पीठ पर गड़ा रही थी, जिससे मेरा जोश और तेज हो गया था. मेरे घर वालों को आने में ज्यादा रात होने वाली थी इसलिए आज मैंने मूड बना लिया था कि सब कुछ सही रहा तो इससे चुद लूँगी. मेरी चूत पर थोड़े थोड़े बाल थे, जिससे उसके चूत चूसते समय उसको मेरी रेशमी झांटें और भी मजा दे रही थीं.

सेक्सी मराठी पाठवा

मैंने धीरे से भाभी के ऊपर हाथ रखा पहले उनके होंठों पर, फिर मम्मों पर हाथ फेरा. वो इतनी अधिक चुदक्कड़ हैं कि अगर किसी दिन वो ना चुदें, तो उनको चैन नहीं आता था. दिशा अपनी पूरी चूत खोल कर अपनी चूत पर मेरा सर दबा कर सीत्कार भरने लगी- आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… जीजाजी प्लीज धीमे चाटो … आह बर्दाश्त नहीं हो रहा.

ये कहानी बस दो साल पहले की है, जब मैं कॉलेज के लिए रोजाना मुज़फ़्फ़रपुर से सीतामढ़ी ट्रेन से आना जाना करता था.

उन्होंने इतनी जल्दी मेरे सारे कपड़े उतार दिए कि मुझे कुछ पता ही ना चला.

न! उसको तो आजतक कानोंकान भी खबर नहीं हुई कि कोई बर्बाद हुआ जा रहा है उसके पीछे. तभी भार्गव ने धीरे से अपना हाथ मेरी जांघ पर रखा और बोला- यार आशना … एक बात कहूँ … आज तुम्हारे उछलते हुए मम्मों को देखकर और तुम्हारी पतली और लचीली कमर को देखकर मेरा भी मन कर रहा है कि मैं तुम्हें मेरे लंड का स्वाद चखाऊं. ब्लू फिल्में सेक्सी बीएफउसने अंदर से कहा- आ गए जनाब!मैंने कोई जवाब नहीं दिया और बेड पर लेट गया।थोड़ी देर बाद जैसे ही बाथरूम का दरवाजा खोल कर रीना बाहर आई, मुझे पलंग पर देखकर एकदम से हैरान हो गई.

एक विस्फोटक चुदाई के बाद नींद का झोंका भी आता है और झपकी लेने के बाद सूसू भी लगती है और भूख भी. मैंने धीरे से उसके पेट को सहलाते हुए उसकी सलवार के नाड़े को खोल ही दिया. मेरे दिमाग में बस एक ही बात आई कि खुशी को भी तो ये बात पता नहीं चल गई.

मैं उसके शरीर पर जैसे लता पेड़ से चिपकती है वैसे चिपक चुकी थी और हमारे होंठों के बीच केवल कुछ सेंटीमीटर का फासला था. लड़कियों के लिए खड़े होकर सुस्सू करना कितना दिक्कत वाला होता है यह हम सभी जानते हैं.

उसके कहने के बाद हम दोनों ने अपनी पोजिशन बदल ली और मैंने अपने अकड़े हुए लंड पर जोर लगाया ताकि मैं मूत सकूँ … लेकिन धार निकलने का नाम नहीं ले रही थी, जबकि नम्रता मुँह खोले पानी का इंतजार कर रही थी.

उन्होंने मेरी गांड को दबाते हुए मेरी लोअर को नीचे करने की कोशिश की और अंडरवियर समेत मैंने अपनी लोअर अपने घुटनों तक निकाल दी. तभी याद आया कि अंकल जी का कड़क लंड कैसे मेरे पेट पर चुभ रहा था और अब वही लंड मेरी चूत में घुसेगा. तो मैंने अपना आखिरी अस्त्र यानि डेरी मिल्क सिल्क चाकलेट निकाला और जैसे ही उसके चूत पर रगड़ना चाहा तो देखा कि उसकी चूत पूरी तरह से खून से लथपथ हो गई थी और चादर पर भी सभी जगह खून लगा हुआ थातो मैंने उसे उठाया और कहा- जाओ और अपनी चूत को अच्छे से साफ कर के आओ.

हिंदी बीएफ इंग्लिश पिक्चर फिर मैंने उसकी कमीज ऊपर की … और अन्दर हाथ डालने की कोशिश की, पर उसकी कमीज बहुत ही ज्यादा टाइट थी. पैंटी थोड़ी लूज़ ही थी, तो पैंटी उंगली के साथ चुत के अन्दर चली गयी और मेरी पैंटी के ऊपर से ही मेरी चुत के होंठों का फूला हुआ आकार दिखने लगा.

यही मैं भी महसूस कर रही थी उस वक्त!मैं राज के साथ बिस्तर में पूरा आनंद उठा रही थी. चूँकि मेरा मुंह गुड्डी रानी की चूत से लगा हुआ था इसलिए मैं बेबी रानी की अंगड़ाई का मज़ा तो नहीं ले पाया मगर शायद गुड्डी रानी को सुस्सू करते देख उसको भी लग आयी. वो बोली कि वो मौसी के पास जा रही है और मुझे उनको छोड़ने जाना है।मैंने यह बात शुभ्रा को बताई तो बोली- चल कोई बात नहीं, अभी मम्मी नहाने जायेगी और फिर तैयार होगी तो कम से कम 30-40 मिनट तो लग ही जायेंगे, तब तक हम लोगों के पास मौका है।तभी मामी की आवाज आयी- लल्ला, मैं नहाने जा रही हूं.

सेक्सी वीडियो 9 साल की

चांदनी- अरे विपुल, तुम इतने गर्म क्यों हो … तुम्हारी तबियत तो ठीक है न?मैं- हां जी मैं ठीक हूँ. शुरुआत में तो उसे कुछ दर्द हुआ लेकिन अब वो मस्ती में अपनी गांड उठा कर मेरे लंड से चुदाई का मजा ले रही थी. एक दो तीन … तीन दो एक … एक एक दो … दो तीन तीन कहता हुआ मैं रिदम से दिलिया को चोदने लगा.

लावा भरा पड़ा था … शायद इसी वजह से कुछ 17-18 झटकों में मेरी पूरी गांड भर गई. लंड चूत को दो पल तक चाटने चूसने के बाद हम दोनों फिर से चुदाई करने में लग जाते थे.

उनका एक हाथ मेरे छाती पर था और वह मेरे स्तन मसल रहे थे, दूसरा हाथ मेरी चुत पर रख कर मेरी चुत के दाने को छेड़ रहे थे.

फ़िर धीरे धीरे हमारी मुलाकातें बढ़ने लगीं और फ़िर हमने अपनी फैमिली के बारे में भी एक दूसरे को बताया, तो पता चला हम दोनों ही शादीशुदा हैं. बेबी रानी लगता था कि नींद में भी चुदाई का स्वप्न देख रही थी क्यूंकि उसकी एक उंगली बार बार अपनी चूत पर चली जाती थी. अदिति मेरी शर्ट के बटन खोलने लगी, जब उससे खुले नहीं, तो उसने तोड़ डाले.

दादा दादी के जाने के बाद वो जब भी मुझसे बात करतीं, तो मुझसे डबल मीनिंग बात किया करती थीं. मुझ पर अपनी नजर गड़ाते हुए बोली- पागल है तू? जो मैगजीन में लड़कियों को नंगी देख रहा है और बुर-चूत की कहानी पढ़कर मुठ मार रहा है? जबकि तेरे ऊपर तो कितनी ही लड़कियां पागल हैं. क्योंकि बाहर के देशों में इससे भी कम उम्र की लड़कियां लंड का मजा ले चुकी होती हैं.

पर हिम्मत तो मेरी भी नहीं हो रही थी कि मैं उसे किस करूं और उसके कपड़े उतार कर चढ़ जाऊं उसके ऊपर और पेल दूँ उसे।मैं थोड़ा सा हिम्मत करके उसके पास जाकर लेट गया और उसका सिर अपनी बाजू में रख कर उसके हाथों को अपने हाथ में लेकर पहले उसके हाथ में ही किस किया। मेरी गर्लफ्रैंड ने कुछ नहीं कहा बस नजरें झुका ली.

प्रियंका चोपड़ा का बीएफ पिक्चर: ”कहने को तो मैं आप को ‘तू’ कह कर भी बुला सकता हूँ वसुन्धरा जी! लेकिन अभी आपने मुझे ऐसा अधिकार दिया नहीं है. तो कमला चाची ने बताया- मोनी के पति को बहला-फुसलाकर उसके चाचा-चाची ने उनके गाँव के घर तो पहले ही ले लिया.

मेरी टाइट चूत को चोद कर उनका लंड भी शांत रहता था और उनका महान लंड मेरी चूत को भी अच्छी तरह खुश रखता था. वो अब मुझसे कई तरह की बात करने लगी थी और अपनी और उस लड़के की मुलाकात के बारे में और उस लड़के के बारे में भी बताने लगी थी. फिर तैयार कैसे हो गई?तो उसने कहा- पता नहीं कैसे मेरा मन कर गया और मैं अपने आप को रोक नहीं पाई.

मैं गाड़ी के पास गया, तो उसने शीशा नीचे करके मुझे बैठने के लिए बोला.

तभी मुझे कुछ सूझा, तो मैंने अपने एक दोस्त से पूछा कि औरतों की टांगों के बीच में क्या होता है. मीरा रितेश के लंड को सहला रही थी, वो कभी लंड के सुपारे को चूम रही थी. मैंने सौरभ से बोल दिया था कि चुदाई करते वक्त अंदर डिस्चार्ज नहीं करना है, नहीं तो मैं उसे हाथ नहीं लगाने दूंगी.