सेक्स बीएफ बीपी

छवि स्रोत,सेक्सी चूत लंड की वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

2 सेक्सी बीएफ: सेक्स बीएफ बीपी, उसने बाद उन्होंने कभी मुझसे चुदवाया नहीं… शायद वो सच्ची पतिव्रता औरत थी।उसके बाद मैं वहाँ से दूसरी जगह शिफ्ट हो गया।कैसी लगी दोस्तो आपको मेरी यह कहानी?आप सभी के उत्तरों का इंतज़ार है।[emailprotected].

एक्स हिंदी बीपी

उस दिन से आज तक हमारा रिलेशन है, उसको चोदते हुए मुझे तीन साल हो गए हैं, अब वो काफी जवान हो गई है, बहुत मज़ा देती है।दोस्तो, आपको मेरी ये कहानी कैसे लगी जरूर लिखना[emailprotected]. पोर्न वीडियो मूवीबहुत प्यासी हूँ।फिर क्या था, अंकल ने अपने कपड़े उतार दिए और नंगे हो गए.

नहीं तो आज में तेरे लंड को काट के फेंक दूँगी।मोना का गुस्सा देख कर राजू घबरा गया. पोर्न एचडी मूवीउस दिन मुझे पहली बार यह भी अहसास हुआ कि जब कोई अपना औपचारिकता करता है तो कितना बुरा लगता है। रोहन की औपचारिकता मुझे चूभ रही थी, और यही संकेत था कि रोहन कोई गैर नहीं, मेरा अपना है।वो ना चाहते हुए भी जाने लगा, पर मैंने उसका हाथ पकड़ा और की-रिंग जो मैंने उसी के लिए ली थी, उसे थमा दिया और मुस्कुराते हुए कहा- तुम्हारा सामान मेरे पास रह गया था। उसी को देने आई थी।अब उसकी और मेरी नजरें मिली.

पूरे स्टाफ को वो कैसे खुश रखती है और आज यहाँ के मालिक के साथ गई हुई है।’‘फिर.सेक्स बीएफ बीपी: पीछे से आलोक आ गया, मैंने माँ के चूतड़ को फैलाया और आलोक अपना लंड माँ की गांड में पेल दिया.

मैंने भी देर ना करते हुए उसकी चूत पर अपना 6 इंच लंबा लंड रखा और एक ही झटके में उसकी चूत में घुसा दिया.रामू काका बोले- अरे घंटे की माशूक है, साली लंड की यार है, इसके खसम से कुछ बनता नहीं है, तो मेरे पास आ जाती है.

સેકસી વીડિયો ગુજરાતી નવા - सेक्स बीएफ बीपी

लाल और काली धारीदार पैंटी में एक इंग्लिश माल लग रही थी।मैंने उसकी चुत को रगड़ते हुए उसकी पैंटी को भी उतार दिया। अह.अब मैंने उसे सीधा करके उसकी ब्रा उतार दी।उसकी दोनों चूची देख कर में उत्तेजित हुआ और उन्हें दबाने लगा, मैंने एक हाथ से एक चुची दबाई और दूसरे हाथ से दूसरी चुची का निप्पल मुँह में लिया।काफ़ी देर तक मैं चुची का मजा लेता रहा।फिर मैंने उसे पलंग पर लेटा दिया, उसके दोनों बूब्स के बीच में अपना लंड रखकर आगे पीछे हिलाने लगा.

हमारा लावा फटने की कगार पर ही था कि…‘आआआह्ह ह्ह… जस्सी… मेमेमे… रीरीरीरी… जान…’ कहते हुए मानसी ने मेरे लंड को अपने तपते हुए रसों से भिगो दिया. सेक्स बीएफ बीपी एक मैं हूँ बदकिस्मत… जिसके नसीब में मेरे स्वर्गीय पति सरीखा चूतिया लिखा था.

आपने मेरी पिछली दो कहानियोंगलती बीवी की सज़ा सास कोऔरसास के साथ मौसेरी साली की चुत चुदाईमें पढ़ा कि मेरी बीवी को सेक्स में कोई इंटरेस्ट नहीं था जिसकी सजा मेरी सास और साली को भुगतनी पड़ी.

सेक्स बीएफ बीपी?

देख लेना।फिर मैं अपने दोस्तों के साथ बाहर चला गया और भाभी से कहा कि आते-आते रात हो जाएगी. ’ की आवाज निकल गई। फिर मैंने सोनू भाभी को नीचे खड़ा किया और अपनी शर्ट को उतार दिया। फिर सोनू भाभी की कुर्ती को भी उतार दिया। सोनू भाभी की कुर्ती उतरते ही उनकी ब्लैक ब्रा में बड़े और मोटे व एकदम गोल मम्मे दिखने लगे। सच में. उसने पेंटी भी नहीं पहन रखी थी, उसके चिकने मुलायम नितम्बों को मैंने मसल दिया.

तब तक अन्नू बाथरूम से कपड़े बदलकर आ गई और फिर स्वाति के रूम में चली गई।अब मैं और रोहन ही रूम में बचे थे, रोहन ने अन्नू के जाते ही गेट को लॉक कर दिया और मेरे हाथ से टॉवल लेकर बिस्तर पर फेंक दिया. एज नहीं पूछूँगा तो पता कैसे लगेगा कि इसकी रैंगिंग किस तरह करनी है।टीना- हाँ ये भी सही है, चल बेबी, जल्दी से अपने बारे में बता।सुमन- जी मेरा नाम सुमन वर्मा है मेरी एज 19 साल है और मेरे पापा का नाम…विक्की- अबे चुप तेरे पूरे खानदान का नाम नहीं जानना हमें. तुम मेरा ये काम कर दो, मैं तुम्हारा हर आफीशियल काम बेझिझक कर दूँगी। यहाँ पर मेरे दोनों हाथों में लड्डू नज़र आ रहे थे और मैं मन ही मन मुस्कुरा रहा था।फिर मैंने कहा- ओके मैडम ये काम रात दस बजे के बाद शुरू करना होगा.

उसके बदन में एकदम से हलचल सी मच गई- हाय… राजे… हाय… अब और न तड़पाओ…उसने मुंह भींच के बड़ी मुश्किल से आवाज़ निकाली और फिर एक गहरी सीत्कार भरी. शाम को 7 बजे हमारी आँख खुली तो कोमल नँगी ही रसोई से पानी लाई।मैंने कहा- अभी कपड़े पहन लो जानेमन!मोहन बोला- राजेश भाई, चलो थोड़ा घूम के आते हैं, बेटे को भी लाना है।मैंने कहा- चलो!हम दोनों बाइक लेके निकल गए और 8. चुदाई की कोशिश करते वक़्त उसका पेट जरूर पहले चूत से जा टकराता होगा; ऐसे लोगों को चूत में लंड घुसाने में बहुत परेशानी होती है.

पर उसने उसकी गाण्ड को हाथ नहीं लगाने दिया, हमने बहुत मिन्नतें की पर वो नहीं मानी. उसे शांत कर दो।फिर मैं उसे नीचे बाथरूम में ले गया और गेट बंद कर लिया। उसने जल्दी से मेरे लंड को मुँह में ले लिया। मुझे ऐसा लग रहा था कि बस ये मेरे लंड को ऐसे ही चूसता रहे।मैंने पहले भी लंड चुसवाया था.

तो थोड़ी देर में बाद सुनयना भाभी वापस आईं और उन्होंने कहा- मैं दस मिनट में आती हूँ.

बस फिर क्या था, नशे में हम सब गर्म होने लगे।संदीप ने आंटी का ब्लाउज निकाल दिया और ब्रा भी निकाल कर उसने आंटी के मम्मों को चूसना चालू कर दिया।उसने मुझसे दूसरा थन चूसने के लिए कहा, पर मुझे थोड़ा अजीब सा लगा और मैं बस देखता ही रहा।संदीप ने कहा- दीप आजा ना.

मैंने धीरे से कहा- क्या करें?वह कुछ ना बोली, मैंने फिर उसकी कमर में हाथ डाला, उसने भी मेरी कमर पर हाथ रख दिया. मुझे तो खूब मजा आ रहा था, अब मेरे मुँह से भी सिसकारियां निकलने लगी, मैं अजय का लंड मुँह से निकाल कर हाथ से हिला रही थी और उसके दोस्त को और जोर से करने को बोल रही थी- और जोर से चोद मुझे!और वो जोर जोर से मुझे चोदने लगा. वो दुकान एक छोटे कॉम्प्लेक्स में थी और उसके साथ में एक सुनार की भी दुकान थी.

मैं भी जानबूझकर पास में शॉप के अन्दर छुप रहा था, उनका रिएक्शन देख रहा था. दोस्तो, मैं आपका संचित तलवाड़ा, होशियारपुर (पंजाब) से एक बार फिर हाज़िर हूँ। आज मैं अपनी एक और नई कहानी ‘शादीशुदा गर्लफ्रेंड की चूत में लन्ड’ लिखने जा रहा हूँ. क्या चोदू है।सोनिया भी अपने गोल गोल चूतड़ हिला कर मेरा साथ दे रही थी और अपनी फुद्दी का दाना मेरे अंदर बाहर होते लन्ड से रगड़ रही थी। उसकी गर्म फुद्दी से रस बह रहा था।‘अह्ह्ह… अह्ह्ह… हाँ… राजा… हाँ मेरी फुद्दी फिर से गर्म हो रही है… राजा… लगता है एक बार और झड़ जायगी.

उसके मम्मे… लगता था जैसे दो मुलायम गुलाबी संतरे उग आये थे उसके सीने पर… किशमिश जैसे निप्पल और उनका घेरा हल्के भूरे से रंग का था.

तो अलग-2 प्रकार के लंडों को अपने सभी छेदों में घुसवाने में क्या बुराई है!!!काफी देर तक गांड में घुसे हमारे लंड चुदाई करते रहने के बाद, छोटी सी गांड को आराम देने की गर्ज से बाहर निकल आए और नताशा ने चैन की साँस ली, लेकिन ज्यादा देर तक वो आराम नहीं कर पाई क्योंकि इस बार पहले राजू ने अपना लंड वापस गांड में घुसेड़ा और पीछे-2 मैं अपनी जानेमन की चूत में घुस गया. मैं कानपुर में रहता हूँ। मैं आज आप लोगों को अपनी एक चुदाई की कहानी सुना रहा हूँ। यकीन मानो कि ये कहानी एकदम सच्ची है। ये मेरी और मेरी कजिन सिस्टर यानि चचेरी बहन की चुदाई की कहानी है।मैं दस दिनों के लिए अपनी मौसी के घर रहने गया था। जब मैं वहाँ पहुँचा तो सब बहुत खुश हुए। मेरी मौसी तो सबसे ज़्यादा खुश थीं. ‘आआआ… ओओओ … ऊऊऊ…हाँ जान ऐसे! जरा जोर से स्वान, ताकत नहीं है क्या!’ मेरी प्यारी बीवी अपने हाथों को पीछे ले जाकर स्वान के कूल्हे पकड़ अपनी ओर खींचते हुए उसे जोरदार धक्के लगाने का चैलेंज देने लगी.

सुल्लू रानी ने अपने को थोड़ा और आगे सरकाया, उसका मुंह बिल्कुल मेरे मुंह पर आ गया. लेकिन अब वो यहाँ बाथरूम में कहाँ से आई। मैंने मेरी ब्रा देखी तब मुझे उसमे कोई चिपचिपी सी चीज़ लगी हुई मिली। मुझे पता चल गया कि ये वीर्य है और पक्का अविनाश ने ही मेरी ब्रा में मुठ मारी थी।मैंने बाहर आकर देखा तो अविनाश जा चुका था। मुझे बड़ा गुस्सा आया. वैसे ही उसने अपनी गांड घुमा ली और पलट कर सामने आ गई। जोर से मेरे लंड को मुठ मारकर सारा पानी अपने चेहरे पर गिरा लिया और मैं शांत होने लगा।हम दोनों एक बार फिर डव सोप से नहाए और मैंने इसी बीच मेम से पूछ लिया कि मेम आपने दो बार मेरे लंड का पानी गिराया.

तभी मेरी नजर खिड़की और सीट के बीच सिमट कर फंसे न्यूज पेपर पर पड़ी, शायद वो पीछे से आया था। मेरे मन में पता नहीं क्या आया कि मैंने सीट से पलटते हुए आधे ही खड़े होकर रोहन से पूछा.

वो बाइक के साथ अपनी गांड लगाकर खड़ा हुआ था, उसने दोनों हाथ छाती के पास लाकर बांध रखे थे और उसकी खाकी पैंट में से उसका मोटा सा सोया हुआ सा लंड अलग से दिख रहा था जो आधी सोई हुई अवस्था में मालूम हो रहा था. वो अपने समय पर निकली और जैसे ही उसने मुझे देखा उसके चेहरे पर घबराहट के चिन्ह उभरे और उसने झट से अपना सिर झुका लिया और स्पीड से साइकिल चलाती हुई निकल गई.

सेक्स बीएफ बीपी तो बस उसने उसी वक़्त त्रियाचरित्र शुरू कर दिया, उसकी आँखों से आँसू बहने लगे और उसने वहीं ज़मीन पर बैठ के सिर को घुटनों में दबा लिया।मोना- मुझे माफ़ कर दो काका, मेरी कोई ग़लती नहीं है. किस्मत से ट्रॅफिक ना मिलने के कारण मैं 12 बजे तक हॉस्टल पहुंच गई थी.

सेक्स बीएफ बीपी लड़कियों की मधुर आवाज में अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनें!वो मेरे लंड से खेलती रही और मैं उसके बूब्स को काटता रहा. उसने अभी तक वही साड़ी पहनी हुई थी।वो मस्ती में अआ ईईई उम्म्ह… अहह… हय… याह… उउऊ जैसी कामुक आवाजें निकाल रही थी।अब मैंने उसकी साड़ी को उसके बदन से अलग क़र दिया.

और मैं बाथरूम में चला गया लेकिन मैंने बाथरूम का दरवाजा नहीं बंद किया क्योंकि मुझे मालूम था कि लोहा गर्म है तो आज कुछ ना कुछ नया होने वाला था!मैं टायलेट में बैठा ही था (इंडियन स्टाईल) कि सुजाता की आवाज आई- सर चाय रेडी हो रही है!और उसने दरवाजा खोलने की कोशिश की तो दरवाजा खुल गया.

नेपाली के बीएफ सेक्सी

’ बोलकर वहां से कॉलेज के लिए निकल गई।उधर फ्लॉरा को पता नहीं रात को क्या हुआ था. रजनी ने भी मुस्करा कर बधाई स्वीकार की और मैंने दोनों को एक एक किस की. चारों ओर अँधेरा था… पर बराबर वाली विला में भी शायद पूल में एक जोड़ा था जिसकी हल्की हल्की आवाज उन्हें आ रही थी और वो भी शायद रतिक्रिया में मशगूल था.

अब मैंने दोबारा भाभी की गांड पर लंड का दबाव बढ़ाया तो लंड का बस अगला हिस्सा ही अन्दर गया, भाभी ने अपने शरीर को थोड़ा अकडा़ लिया।मैंने कहा- भाभी थोड़ा ढीला छोडो और खुद को सम्भालना!भाभी ने शरीर ढीला छोड़ा, मैंने फिर दबाव बनाया, लंड और थोड़ा अन्दर गया, मैं रुका और भाभी की चुची दबाने लगा।भाभी अब अपने चूतड़ों को हिलाने लगी. उसके बाद नीचे वाले लिप को किस किया।किस क्या कर रहा था मैं तो लगभग काट ही रहा था। भाभी को किस करते हुए कब मेरे हाथ उनके मम्मों पर आ गया, मुझे पता ही नहीं चला।मेरे होंठ उनके होंठों पर थे. थैंक्स!’ कहा।मैंने भी उसे ऐसा ही जवाब दिया और पास रखे क्रीम कलर की नेपकिन को पकड़ कर अपने शरीर को साफ करने लगी तो मुझे अहसास हुआ कि नेपकिन में तो वीर्य के साथ खून भी दिख रहा है.

जैसाकि निशा ने कहा है कि मैं उनके और मेरे बीच हुई कहानी को भी आपके सामने पेश करू तो ऐसा जल्दी ही करने की कोशिश करूंगा दोस्तों.

ये मेरे से नहीं हो सकता टीना तुम बात को समझो ये उफ़फ्फ़ कैसे होगा ये?टीना- ओके मत करो. कैसे किया और कितनी बार किया?सुमन शर्मा रही थी मगर टीना ने जोर दिया तो रात की सारी दास्तान उसने टीना को सुना दी और साथ में ये भी बता दिया कि आज से वो ये गंदी कहानी नहीं पढ़ेगी, इससे उसको रात बहुत परेशानी हुई।टीना- वाउ यार पहली बार में ही ऐसी स्पीड. मैंने उसे सॉरी बोला लेकिन वो नहीं मानी… वो भाव खा रही थी इसलिए मैंने ज़्यादा मनुहार नहीं की और कहा- ठीक है, मत बात कर!फिर थोड़ी देर बाद उसका कॉल आया मेरे दोस्त के नम्बर पर… वो बोला- बात कर!मैंने मना कर दिया क्योंकि अब मेरा टाइम था भाव खाने का!फिर तीसरी कॉल आने पर मैंने उससे बात की, फिर वो मान गई, थोड़े दिन बाद फिर हम डेट पर गये.

अम्मा की बात सुन कर मैंने हाथ मुंह धोये और बैठक में बैठ गया जहाँ अम्मा मुझे चाय दे कर फिर काम में लग गई. थोड़ी देर में वो फिर गर्म हुई और मेरी कमर को लपेट लिया अपने पैरों से! थोड़ी देर बाद वो बोली- मैं आने वाली हूँ!मैं बोला- मैं भी!बोली- अंदर ही डाल दो!मैं चार पांच धक्कों के बाद ही उसकी चूत में झड़ गया, वो भी झड़ गई. तुम नहीं गई क्या?सुमन- नहीं आंटी टीना ने मुझे किसी पार्टी के बारे में कुछ नहीं बताया?गायत्री- अच्छा ये क्या बात हुई तू भी तो उसकी दोस्त है, फिर तुझे नहीं पता ये बात तो मेरी भी समझ के बाहर है।टीना- हाय सुमन गुड मॉर्निंग आ गई तू.

मुझे आपके कमेंट्स जान कर ख़ुशी होगी तथा आगे और लिखने की प्रेरणा भी मिलेगी. इस बीच में मेरी बीवी की चूत ने तीन बार पानी छोड़ दिया था परन्तु लम्बी चुदाई करने बाद भी मैंने अपना पानी गिरने नहीं दिया.

मैंने अपनी नाक सुल्लू रानी की झांटों में रगड़ी, झांटों को अच्छे से सूंघ के सुगंध का आनन्द लिया. वो चिल्लाई…मैं भाभी की चूत से बहने वाले कामरस की भीनी भीनी खुशबू को सूंघने लगा. भाभी के गले पर चूमना चालू करते हुए पेटोकोट को नीचे करके उन्हें सीधा कर दिया.

तो सभी मुझे काफी सहयोग करते थे। अब मैं काफी कुछ सीख चुकी थी।एक दिन दफ्तर में फोन आया कि कुछ लोग नदी से बिना इजाजत के रेत ले जा रहे थे।यह सुनकर दीपक और चंदन जाने लगे।चंदन ने मुझसे कहा- सोफी तुम भी चलोगी.

क्या पियोगे?मैंने मज़ाक में बोल दिया- जो पिलाना हो पिला दो।वो बोलीं- ड्रिंक करते हो क्या?मैं बोला- हाँ. मैं ऑनलाइन काफ़ी सारी सेक्स स्टोरीज पढ़ती हूँ। मैं भी काफी दिनों से अपनी सच्ची कहानी लिखने की सोच रही थी और आज मैं आप लोगों को मेरी सच्ची चुदाई की कहानी बताने जा रही हूँ। मेरी हिन्दी काफ़ी अच्छी नहीं है. सेक्स करने से या चूत को चाटने से चूत में आनन्द की हिलोरें उठती हैं जो जमे हुए पुराने रस में हिलोरें उठतीं हैं और उसमें बाढ़ लाकर उसे तेजी से चूत से बाहर बहा देती हैं,’ मैंने उसे कुटिलता से समझाया.

अगले दिन सुबह रूबी की आँख तो 6 बजे ही खुल गई थी पर जब उसने अजय को उठाया तो वो कुनमुना कर वापिस सो गया. धीरे धीरे वो भी मुझे देखने लगी और हम एक दूजे को देख कर कभी कभी स्माइल दे दिया करते थे, लेकिन इस से आगे कुछ ना हुआ.

सचिन ने अगले राऊंड में मेरी चुदाई काफी देर तक की जिसमें मैं 2 बार झर चुकी थी. ’ मैं सिसकारियां भर रही थी और दिनेश सर अपने लंड का सारा पानी मेरी चुत के अन्दर छोड़ कर मेरे ही ऊपर निढाल हो गए।दिनेश सर मेरे ऊपर पड़े-पड़े मुझे किस करने लगे। 2 घंटे में उन्होंने मुझे 3 बार चोदा।इसके बाद हम दोनों ने कपड़े पहन लिए थे। तभी बेल बजी और उनका सेक्रेटरी आकर बोला- मैडम सैट पर पहुँच गई हैं. वो अब धीरे धीरे अपने हथियार को मेरे बदन के ऊपर रगड़ने लगे, मेरे पूरे बदन में बहुत ही गुदगुदी होने लगी और मुझ से अब जरा भी रहा नहीं जा रहा था.

सनी लियोन का बीएफ मूवी

दीपा- ठीक है, मैं तुम्हें मदद करूंगी! वैसे आज जब हम बात कर रहे थे तब नीलिमा ने कहा था अगर उसे उसके पति के अलावा किसी और से चुदाने का मौका मिला तो वो तुम्हें चुनेगी.

दोनों माँ-बेटी के बीच बड़ा प्यार था तो बस आख़िरकार हेमा ने ही उसको नाश्ता लाकर दिया।दोस्तो, ये पहला पार्ट है. नहीं तो कोई जग गया तो मुश्किल हो जाएगी।राहुल बोला- भाभी कोई नहीं जागेगा. मैं अब झरने वाली थी और आख़िरकार मैं सचिन के मुँह में ही झर गई, वो भी मेरा सारा पानी पी गए और पागलों की तरह मेरी बुर को चाटते जा रहे थे.

जिससे अमिता की गांड और चूत से रस टपकना शुरू हो गया।अमिता मज़े से जोर-जोर से सिसकारने लगी- उई आह आह. ऋषि ने मुझे बाद में प्रपोज़ भी किया तो मैंने उससे बता दिया- ऋषि, मैं सिर्फ़ अरेंज मैरिज करना चाहती हूँ वो भी उससे जो मेरे माँ बाप मेरे लिए ढूंढेंगे. देसी चुदाई नंगी30 बजे हिम्मत ने मुझे बताया कि वो ऑफिस निकल रहा है और बिमलेश अभी अकेली है और खुश भी है, तुम फोन कर लो!मैंने हिम्मत को कॉन्फ्रेंस में लिया और बिमलेश को फोन किया, घण्टी गई.

निष्ठा रो रही थी कि उसका मन नहीं लगता और वो नौकरी छोड़ कर उसके पास आना चाहती है क्योंकि ट्रान्सफर नहीं हो पा रहा है. वो बोली- उठ गये आप भैया?तो मैंने कहा- हाँ!और वो चली गई वापिस अपने रूम में.

वो बोली- चूस इसे!मैंने चूसना चालू कर दिया, मजा नहीं आया, मैं बोला- आंटी, गन्दा लग रहा है!तब आंटी ने कहा- पहली बार है, इसलिए लग रहा है, एक बार और कर, मजा आएगा!मैंने थैली निकाली और लंड पर लगाकर रबड़ बैंड लगा कर कंडोम बनाया. मैंने कहा- एक बार कोशिश तो मैं ज़रूर करुँगी, नहीं तो मुझे चैन नहीं मिलेगा. मैं उंगली से उसकी गांड भी साथ में चोदने लगा, ताबड़तोड़ धक्कों से वो ‘विक्रम विक्रम! आह आह चोद आह…’ की सीत्कारें भरने लगी.

तो उसने फिर अपनी दो उंगलियों को गीला किया और चुत में घुसाने लगा।अबकी बार पूजा को ज़्यादा दर्द हुआ उसने चादर कसके पकड़ ली मगर कोई आवाज़ मुँह से नहीं निकाली। बड़ी मुश्किल से संजय ने दो उंगली अन्दर घुसाईं. ‘ऐसे नहीं ठीक से बोल के वादा करो!’‘स्नेहा, मैं तुम्हारे साथ तुम्हारी इच्छा के विरुद्ध जबरदस्ती सेक्स या ऐसा कोई भी काम नहीं करूंगा जिसमें तुम्हारी मर्जी न हो!’‘भगवान की कसम खा के कहो?’‘मैं भगवान की कसम खा के कहता हूँ कि तुम्हारे साथ जबरदस्ती संभोग नहीं करूंगा. वो मैं बाद में बताऊँगा।फिर हम दोनों शाम का इंतजार करने लगे। दीदी ने सुनील को फोन करके सब प्लान बता दिया.

एक दिन मेरे घर में कोई नहीं था और पायल दीदी अपने घर की चाबी मुझे दे कर ‘रोमा, नीलेश जब घर आयें तो उन्हें ये चाबी दे देना, मुझे आज हॉस्पिटल से आने में देर हो जाएगी.

मेरी बहन के बदन का साइज़ 34-32-36 है, उसने उस दिन पिंक कलर का टाइट टीशर्ट पहना था और लेगिंग्स पहनी थी. तभी मैं अपनी पैंट उतार कर उनके साथ 69 पोजीशन में आ गया, उन्होंने हाथ डाल के मेरे अंडरवियर से मेरा लण्ड निकाला और और चिल्ला के बोली- बेटा, तेरा तो बहुत बड़ा है, तेरे मौसाजी का तो इससे आधा है और जल्दी भी झड़ जाता है, मैं हमेशा प्यासी रह जाती हूँ, आज मेरी प्यास बुझा दे बेटा!कह कर मेरा लण्ड पूरा मुख में ले लिया और चूसने लगी.

डर्टी सेक्स यह घटना अभी हाल ही में घटित हुई है, मेरी बीवी की सहेली और मेरे साथ!बात कुछ ऐसे है कि दोपहर का टाईम था, घर में मैं और मेरी बीवी ही थे, मेरा बेटा उसकी दादी के साथ गाँव गया हुआ था।हम दोनों सोये हुए थे, मैं अंडरवीयर में ही था कि तभी डोरबेल बजी।मैंने कमर पर टावेल बांध लिया और दरवाजा खोल दिया. तब पहले ने कहा- चल सौरभ, इसकी पैंट उतार और इसे नंगा कर… मेरा लंड तो आज सुबह से इसकी मारने के लिए खड़ा हुआ है लेकिन साला अब जाकर हाथ लगा है. 5 साल पहले की बात है, वो दूसरी शादी करके एक नई आंटी को ले आए। सच बताऊं दोस्तो, पहले दिन से ही में उस नई आंटी का दीवाना हो गया। क्या रंग था.

मैंने उसके होठों पर किस करना चाहा तो उसने रोक दिया और बोली- कोई देख लेगा!पास में ही एक बिल्डिंग है जो काफी दिनों से बंद पड़ी है. इसलिए वो खड़ी हो गई और राधा के पास बैठ कर उसके आँसू पोंछने लगी।राधा- आह क्क्क काका आपका आह. तेरा लंड टेड़ा है पर अब मेरा है-1अब तक आपने इस चुदाई की कहानी में पढ़ा कि मैंने भाभी से उनकी विवाहित जिन्दगी के बारे में जानना चाहा।अब आगे.

सेक्स बीएफ बीपी मेरा लंड भी नताशा के मुंह के अन्दर खूब तेज घर्षण के कारण बहुत गर्म हो चला था और मैं कामुकता के अधीन हुआ गैर मर्द के लंड को अपनी चूत में लिए लेटी अपनी पत्नी के मुंह को लपालप चोदे जा रहा था!‘आआह. मैंने भी देर ना करते हुए चाची की टाँगों को फैलाया और अपना लंड चाची की प्यारी सी चुत पर रख कर एक ही झटके में पूरा उनके अन्दर पेल दिया।चाची मस्ती में ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ करने लगीं और मुझे तो जैसे स्वर्ग का मजा ज़मीन पर ही मिल गया हो। मैं मस्त होके जोर-जोर से चाची की चुदाई करने लगा।वो मस्ती में ‘अह स्स ह.

हिंदी में बीएफ वाला

com/chudai-kahani/dosti-lund-ki-pyasi-roshni-1/लंड की प्यासी थी वो पूरे लंड को ऊपर-नीचे करके चूस रही थी. मैं किस लिए हूँ।काका के जाने के बाद मोना को अहसास हुआ कि औरत चाहे कितनी भी शरीफ क्यों ना हो, भले मजबूरी में सही मगर अपने पति के अलावा वो किसी के साथ सोती है. वो सोच कर उसके होंठों पे एक मुस्कान आ गई।दोस्तो, शाम तक ऐसा कुछ नहीं हुआ.

लंड का पानी निकलने को होता तो मैं वहीं रुक जाता!थोड़ी देर में भाभी धीरे से बोली- और तेज कर… तेज कर…और उनकी चुत ने लंड को जकड़ लिया. फिर मैं चॉकलेट्स ले आया, निकी के हाथ पैर बेड से बांध दिए और उसकी चुची, पेट और जांघों पर चॉकलेट और शहद लगाया, अपने हाथ से चूत के चारों ओर चॉकलेट लगाई, बूब्स और चूत पर चॉकलेट लगाते टाइम निकी पागल सी हो गई, वो बहुत उत्तेजित हो गई थी. सेक्स बाथरूम वीडियो’‘मैं अनूप!’‘टॉप के ऊपर ही सब कुछ करना है?’‘बाहर इतना मज़ा है तो अन्दर कितना मजा होगा?’‘तुम खुद ही देख लो ना.

आप बहुत सुन्दर हैं जूसीरानी की तरह… लेकिन अब मुझे आपके बाकी बदन के दर्शन करने हैं… तुम दोनों बहनों ने फैसला तो कर लिया कि मैं आपको चुदाई के मज़ा दूँ लेकिन मुझे भी तो हक़ है कि अच्छे से देख लूँ कि मैं आपको चुदाई के ख्याल से गर्म होता हूँ या नहीं… अगर मुझे आपके बदन को निहार के गर्मी न चढ़ी तो चुदाई कैसे होगी.

कुछ सटासट धक्कों के साथ मैंने लंड बड़ी मुश्किल के साथ पूरा घुसा दिया. बायीं करवट लेती नताशा राजू के मूसल लंड से गांड मराती हुई मेरे लंड को गपागप चूसती रही.

पर नहीं की और मुँह साफ करने लगी।अब मैंने उसे पकड़ा और जैसे ही उसकी चूत को चाटने लगा तो वो मचलने लगी और अजीब-अजीब आवाजें निकलने लगी। उसकी चूत ने अपना पानी छोड़ दिया और मैंने उसे चाट-चाट कर साफ कर दिया।अब मैं उसे देख रहा था और वो मुझे देखे जा रही थी. वो खिलखिला कर हंसी और बोली- भोसड़ी के, मेरी गांड पॉलिश मत कर!‘नहीं मैम ऐसी कोई बात नहीं है!’‘यार, तुम मुझे मैडम नहीं बोलो, सलोनी बोलो!’‘ओ. रानी भाभी की शादी को अभी सिर्फ सवा साल ही हुआ और वो न के बराबर चुदी है.

फिर गीता बोली- तो फिर तो हमे पहले की तरह खुल्ला टाइम तो नहीं मिलेगा.

मैं दर्द से मर ही गई थी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ और मेरी आँख से आँसू निकल आये. मुझे देख कर बोली- तू भी अपने सरे कपड़े खोल कर आ!मैंने वैसे ही किया, आंटी के बिस्तर पर प्लास्टिक की बेडशीट लगी हुई थी और उन्होंने अलमारी से नवरत्न तेल की शीशी निकाली और मेरे बालों से लेकर पूरे शरीर पर लगा दिया और खुद लेट कर मुझे बोली- अब तू मेरे पूरे शरीर पर लगा!मैं पहली बार किसी औरत के तेल लगा रहा था तो मजा आ रहा था. ’आगे से राहुल राहुल के अधखुले कच्छे से उसका लौड़ा माँ के मुँह से निकल गया तो माँ ने राहुल का लंड हाथ में ले लिया। पवन अंकल झटके मारते रहे ओर माँ ‘म्मा.

हिन्दी शेकशीरीना- फिर, मैं कबसे आना शुरू करूं?विक्रम- आप कल सुबह दस बजे से आ जाओ. उसके निप्पल को हल्का सा दांतों में दबा कर काटने लगे।दोस्तो, यह नज़ारा देख कर मोना बहुत उत्तेजित हो गई थी, उसकी चुत भी जलने लगी।मोना- अबे राजू कुत्ते.

बीएफ सेक्सी बीएफ हिंदी में बीएफ

मैं अपनी दोनों उंगलियों से उनके निप्पल जब भी दबाता, वो कहती- ये काफ़ी शरारती हो गए हैं, इन्हें दांतों से काटो!मैंने निप्पल को दांतों से काटना शुरू किया. रेशमा- कैसे?दीपा- मैं तुम्हें मेरे पति से चुदवाने में मदद करूंगी और तू मुझे रजत से चुदवाने में!रेशमा- हाँ पक्का… मेरी चुत में यह सोच कर ही पानी आ रहा है. वो ऋषि के साथ-साथ मुझे भी पढ़ा देंगी।मैंने ‘हाँ’ कर दी।फिर मैं डेली ऋषि के घर पर दोपहर में 2 घंटे के लिए जाता था, उसकी मम्मी रोज कुछ ना कुछ अच्छा खाना बना कर रखती थीं। पहले हम लंच करते थे फिर पढ़ाई। ऐसे ही सिलसिला रोज चलने लगा।एक दिन ऋषि की तबीयत खराब थी तो वो स्कूल नहीं आना चाहता था। जब सुबह मैं उसके घर गया तो उसकी मम्मी ने कहा कि उनकी तबियत ज़्यादा खराब है.

रात को संजय और बाकी सब भी मिलने आए थे।सुमन- मैं भी आना चाहती थी मगर पापा ने कहा कि सुबह चली जाना।टीना- और बता कैसा चल रहा है. नताशा के मुंह से ओह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह की मधुर ध्वनि कमरे में शास्त्रीय संगीत की भांति गूंजते हुए वातावरण को गुंजायमान कर रही थी. आंटी बोली- मुझे सब मालूम है, तुम और मयंक दोनों मुठ मारते हो… कपड़े तो मैं ही धोती हूँ ना तुम्हारे… सब समझती हूँ, चल इधर आ, आज तुझे सेक्स के बारे में समझाती हूँ.

करीब 15 मिनट यह दौर चला और उन्होंने कहा- बेटा, अब बरदाश्त नहीं होता, चोद दे अपनी इस गुलाम को… बना दे मेरे चूत का भोसडा!मौसी के मुख से ये बातें सुन कर मुझ में और जोश आ गया, मैंने कहा- मौसी, आज तो तेरी प्यास बुझा के ही रहूँगा!मैंने अपने लण्ड का सुपारा मौसी की चूत पे रखा और एक झटके में पूरा का पूरा लण्ड अंदर पेल दिया. हम अब भी 69 अवस्था में थे तो मैं अपने लंड को उसके मुँह के आगे ले गया और उसको चूसने के लिए बोला. ’ बोले जा रही थी। मैं भी देर ना करते हुए लंड पर कंडोम लगाने लगा, लेकिन उसने कंडोम लगाने से मना कर दिया। मैंने भी उसकी बात मान ली और शावर ऑन कर दिया। हम दोनों के गीले जिस्म एक-दूसरे से रगड़ रहे थे। मैंने उसकी टांगों को कंधों पर रखकर लंड चिकनी चुत पर रगड़ने लगा। वो पागल हुए जा रही थी और लंड पर दबाव डाल रही थी।‘आह आह जानू लंड डाल कर फाड़ दो ना चुत.

उसकी ब्रा खुलने के बाद उसके 36″ की चुची बाहर निकल कर आ गई, मैंने उसकी पेंटी भी निकाल दी, उसकी चूत बिल्कुल चिकनी पड़ी थी, मैंने उसकी चूत चूसना और खाना सुरू कर दिया. मेरी नज़र थोड़ी नीचे की तरफ गई तो देखा कि लड़के का लंड उसकी पैंट की चैन के पास एक साइड में किसी मोटे डंडे की तरह तनकर साइड में निकला हुआ है.

उसने पहले तो कुछ रिस्पोंस नहीं दिया लेकिन 3-4 बार स्माइल देने के बाद उसने भी स्माइल दी तो मेरी तो जैसे लाटरी लग गई थी, मैंने सोचा हंसी तो फंसी.

वो वैसे ही पड़ी है या किसी ने उसे टच किया है। ये भी देखना है कि क्या ब्रा और पेंटी में वीर्य जैसा कुछ लगा है कि नहीं। वीर्य का मतलब तो तुम जानती ही होगी. एक्स एक्स एक्स शॉटउसमें अगर ना हुई तो अंजाम बुरा होगा। तुम्हें कोई टास्क नहीं करना होगा बस हमारा ग्रुप जाय्न कर लो और धीरे-धीरे फास्ट बनो. सनी लियोन की एचडी सेक्सीमैं मना कर ही नहीं सकता था।जब मैं अमिता के घर पहुंचा तो दरवाजा खुला हुआ था तो मैंने अंदर आकर आवाज लगाई तो उसने कोई जबाब नहीं दिया. तो आप बोलो आपने क्या क्या प्लान किया है मेरे बर्थडे के लिए?भाभी- मैंने तो तुम्हारे लिए एक बढ़िया सा बर्थडे गिफ्ट प्लान किया है.

साथ ही उन्होंने आंटी को भी नंगा कर दिया। अंकल ने आंटी का सर पकड़ कर नीचे करके अपना लंड उनके मुँह में घुसा दिया.

इतना मज़ा आ रहा था जिसका कोई हिसाब नहीं…उसने भी आनन्द लेते हुए हल्की हल्की सीत्कार भरनी शुरू कर दी. मेरा लंड काफी लंबा, मोटा हैचलो स्टोरी पर आता हूँ:मैंने कभी सेक्स किसी आम लड़की के साथ किया नहीं था लेकिन हाँ, कॉल गर्ल्स से किया था. बाई गॉड फिर से रिपीट करती हूँ कि इन बातों को कभी भी किसी से नहीं कहूँगी… ओके?’‘ओके ओके.

उनके लंड की गर्मी उस वक्त मुझे क्या मजे दे रही थी यह लिखने की तो कोई जरूरत ही नहीं है. जीजू ने अब मेरी टाँगें अपने हाथ से अपने कंधे पे रख दी और मुझे लगा कि उसका लंड मेरे पेट तक घुस आया है. चल हम भी सो जाते हैं वरना सुबह दोनों लेट हो जाएँगे।मॉंटी- दीदी आज आपने फिर बियर पी ना.

किचन बीएफ

उससे मैं बड़ा खुश था।फिर बाथरूम में जाकर देखा तो मैं चकित सा रह गया। मेरी पतलून लंड के माल से पूरी तरह से भीग गई थी। आंटी के साथ जो कुछ किया था. अब चलो देर न करके हम चलते हैं असली बात की तरफ…जब हम फार्म हाउस पहुंचे तो हम हैरान हुए, वहाँ हर कुछ इंतजाम था, बड़ा हॉल, पांच बेडरूम, स्विमिंग पूल… वो सब कुछ जो मजे के लिए चाहिए. मैं अक्सर उनके बेटे के पास फोन करता, कभी कभी आंटी से बात हो जाती, मैं आंटी के साथ फोन पर डबल मीनिंग बात भी कर देता.

ल्लिंग जैसा लग रहा है दीदी।टीना- गुड अच्छा वैसे तो तू बहुत भोली बनती है.

मैंने उनके पेटीकोट को जाँघों तक उठाया तो भाभी बोलीं- अरे तेरे कपड़ों को तेल लग जाएगा.

राजे से दो तीन बार एकांत में कुछ क्षणों के लिए मिल पायी तो उसने हर बार मेरे मम्मे ज़ोरों से दबा के मुझे और भी अधिक काम विहल कर दिया. जब से मुझे इस घटना का मालूम हुआ तब से मैं सोचने लगी कि मोना कितनी साहसी लड़की है. इंडियन देहाती बफचुत से पानी निकल रहा था।मेरा लंड भी इधर पेंट फाड़ने पर आमादा था।नीलू चुदास से भर चुकी थी और अब वो चोदने का इशारा कर रही थी। मैंने मौका अच्छा देखते हुए अपने लंड को नीलू की चुत पर रख कर धीरे-धीरे अन्दर डालने लगा। मेरा लंड उसकी कसी हुई चुत में घुस ही नहीं पा रहा था।फिर मैंने बहुत सारा थूक लंड पे लगाया और धक्का दे मारा। मेरे लंड की टोपी चुत में घुस गई.

आप ऐसे हंस क्यों रही हो? मैंने कुछ ग़लत कहा क्या?टीना हंस-हंस के पागल हो रही थी, उसका पेट दर्द करने लगा था। काफ़ी देर बाद उसने अपने आपको संभाला।टीना- मुझे पता था तू ऐसा ही कुछ बताएगी. रानी मेरे ऊपर ही लेट गई तभी परीक्षित, जो हाँफ रहे थे, उनके लंड को मेरे मुँह के पास लेकर आये मैं उसे मुँह में लेकर चूसने लगी, और चिंटू जो मेरे पास में ही बैठे हुए थे उनके लंड को भी सहलाने लगी. कुशल बोला- हाय… काश हम फूल होते…उसका मतलब समझकर निष्ठा ने हंसते हुए उसे भी किस कर लिया और किचन में भाग गई क्योंकि उसे मालूम था कि अब अगर वो रुकी रही तो तबला बज जायेगा.

उसका मुंह पैरों पर, लंड चूत में और हाथ चूचों पर… ज़बरदस्त तालमेल से मेरी चुदाई हो रही थी जबकि जूसी लगी पड़ी थी वाइब्रेटर के नक़ली लौड़े के साथ. मैंने भी कुछ हरकत ना करते हुए चुपचाप से अपने होंठ खोल दिए और ऐसे खोले कि उसे लगा शायद नींद में ही मेरे होंठ खुल गए.

कुछ दिन बाद मेरे शौहर ने कहा- कल चलना है!मैंने कहा- कहाँ?तो बताया- संजय के पास… मेरी बात हुई है, मैंने कह दिया है अपने दोस्तों को बुला लेना!मैंने कहा- क्या मुझे रंडी बनाने का इरादा है?तो बोले- बन जाओ रंडी!मैंने कहा- ठीक है.

मैं बोला- मुझे भी तो मौका दो, मुझे क्यों छूने नहीं दे रही हो?जेसिका- इतनी बेसब्री? मुझे नहीं पता था कि तुम इतने बेसब्र हो जाओगे!मैं- बेसब्री नहीं यार, लंड को चूस रही हो, पर तुम्हारे शरीर को तो हाथ लगाने दो. किसी से डिसकस भी मत करना।मैंने भी किस करके उनको प्रॉमिस किया, जो आज तक मैंने निभाया भी है।चाची की चुदाई की सेक्स स्टोरी लिखने से पहले उस दिन से आज तक मैंने अपनी सरिता चाची को अनेकों बार चोदा है. वो मेरे पांवों को बेसाख्ता चाट रहा था, उँगलियों के नीचे वाला तलवे का हिस्सा, एड़ी, एड़ी और पंजे के बीचे का उभार वाला भाग सब मज़े से चटखारे लेते हुए!कहना न होगा कि मुझे इस सब में बहुत आनन्द आ रहा था.

सेक्स हिडीवो ‘समीर… आआआ ससस मेरी चुत का हलवा बना दिया तुमने!’हमारा पानी साथ निकल गया, हम 69 में आकर एक दूसरे का पानी चाट गए, बहुत मजा आया. वो बहुत खुश था।अगले दिन आकाश मेरे सामने आया तो मेरी साँसें रुक गईं।कई दिन तक तो ऐसे ही रहा वो मुझे छूता था तो मेरी साँसें रुक सी जाती थीं। वो ये बात समझ गया था इसलिए उसने मुझे टच करना बंद कर दिया था। सच में आकाश बहुत समझदार था.

बस नॉर्मल सा घर था। गायत्री के कहने पर सुमन सामने के कमरे में चली गई।टीना- अरे आओ मेरी प्यारी गुड़िया. सुन्दर ने मेरे मुँह के अंदर लंड को ठूंसे रखा और उसका लंड मेरे गले तक पहुँचा कर वो वापस बाहर निकाल लेता था, उसके ऐसे झटके कुछ 2-3 मिनट तक चलते रहे, उसका लंड पूरा लाल हो चुका था और मेरे होंठों के साइड से थूक बाहर आने लगा था. 20-25 शॉट लगाने के बाद मेरे लंड से माल निकलना शुरू हो गया था, मैंने लंड को सुहाना के मुंह पर कर दिया, सुहाना लंड को अपने मुंह में लेकर मेरे रस को पीने लगी.

हिंदी बीएफ सेक्सी वीडियो पिक्चर

अचानक एक दिन भैया का फ़ोन आया कि अमिता को मेरी कुछ मदद चाहिए तो मैं उनके घर चला जाऊँ. फिर भी मैंने दिल में ठान ली थी कि अंजलि को चोदूंगा जरूर!रात को उसके साथ बैठे-बैठे मैं टीवी देख रहा था और सोच रहा था कि उससे कैसे कहूँ। फिर मैंने टीवी के चैनल बदलना चालू किया तो एक चैनल पर ‘तेरे संग. मेरे 12वीं के बोर्ड के एग्जाम खत्म हो गए थे और रिजल्ट आने में कुछ महीने थे.

समझी!सुमन- वो तो निकाल दूँ मगर उसके बाद जो करना है वो सोच कर ही डर लग रहा है. उसके बाद हम फिर बेड पे लेट गए…[emailprotected]आदित्य को मेल करें-[emailprotected].

उसने अपने हाथ हटा लिए और मैंने उसकी ब्रा को सरका कर उसकी कमर तक कर दिया.

तो साथियो, पूजा तो इस चुसाई से इतनी गर्म हो गई थी कि उसका पूरा जिस्म हरकत करने लगा था। वो कमर को हिला-हिला कर मज़ा ले रही थी और आँखें बंद किए हुए गरम आहें भर रही थी।पूजा- आह. ’ कहते मुझसे चिपके रहते थे।टीना- वाउ यार तू तो किसी फिल्म की कहानी जैसे बता रहा है. तो अंजलि ने मना कर दिया। पर वो अपने हाथ से मेरे लंड को सहलाने लगी।मैंने उसको लिप किस करना स्टार्ट किया.

निश्छल नताशा अपना गुस्सा भूल कर देवर की हंसी में साथ देने लगी तो मैं भी सबका साथ देते हुए हँसने लगा. दोस्तो, यहाँ अब हमारे मतलब का कुछ नहीं, तो चलो वापस मोना के पास वहाँ शायद कुछ मिल जाए।गोपाल जब वापस आया तो मोना ने अपना मूड बदल लिया था और उसको सॉरी भी कहा। बस फिर क्या था दोनों ने जल्दी से पैकिंग की और गाँव के लिए निकल गए।दोस्तो, मैं आपको बता दूँ गोपाल के घर में उसके माँ-बाप के अलावा एक चाचा और चाची हैं, जिनकी कोई औलाद नहीं है और गोपाल भी इकलौता ही है. उससे मैं बड़ा खुश था।फिर बाथरूम में जाकर देखा तो मैं चकित सा रह गया। मेरी पतलून लंड के माल से पूरी तरह से भीग गई थी। आंटी के साथ जो कुछ किया था.

मेरा नाम सुशील शर्मा है, मैं लुधियाना में रहता हूँ, मेरी उम्र 23 साल की है, मैं दिखने में बहुत हैंडसम हूँ! मैं काफी समय से अन्तर्वासना का पाठक हूँ.

सेक्स बीएफ बीपी: मैंने मुँह को भाभी की देसी चुत पर रखा और जैसे गुब्बारे में हवा भरते हैं वैसे अपनी गरमागरम साँसें चुत में भरने लगा. मगर अपने मेरी लूली को मुँह में क्यों लिया?सुमन- क्यों तुम्हें अच्छा नहीं लगा क्या?मॉंटी- नहीं बहुत मज़ा आया मगर मुँह में लेने से क्या होता है.

भाभी जी ने मेरा नम्बर सेव किया और सीढ़ियों पर पहुँचते ही पलट कर पूछने लगी- आपका व्हाटसप नम्बर भी यही है ना?मैंने ‘जी भाभी जी…’ कहते हुए उन्हें घूर कर देखा. मैंने उसकी जांघें सहलाना शुरू किया, मैंने उसकी निकर और पेंटी भी उतार दी. आप अपनी प्रतिक्रियाए मुझे मेल करें, आपकी मेल का इंतजार रहेगा![emailprotected].

इस बार होली पर मुझे अपनी चाची की चुदाई की कहानी याद आ गई जो मेरे साथ पिछले साल हुई थी.

थोड़ी देर में निशा भाभी उसे ढूंढते हुए आई और बोली- यह यहाँ है और मैं परेशान हो रही थी!यह बोल कर वो अपने बेटे को उठाने की लिए झुकी, आय हाय… क्या बोबे थे मस्त 36″ के… देख कर मेरा लंड एकदम कड़क… मैं तो देखता ही रह गया और निशा भाभी ने मुझे पकड़ लिया, बोली- क्या देख रहे हो?मेरा तो दिमाग ही काम नहीं कर रहा था, हड़बड़ा कर मैं बोला- कुछ नहीं, कुछ भी तो नहीं…भाभी बिना बोले अपने बेटे को लेकर चली गई. अपने घुटने मेरी जाँघों के दोनों साइड में टिकाकर उसने चूत को ऐन लौड़े के उपर सेट किया और धीरे धीरे नीचे होना शुरू किया. सैक्स की कहानी लिखते हैं! पर हमारे अंदर भी इंसानियत है, हम भी तो सामाजिक प्राणी ही हैं।अब यार, मैं लेखक हूँ तो लौड़ा खड़ा करके घूमूँ क्या.