एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर हिंदी

छवि स्रोत,साथिया भोजपुरी

तस्वीर का शीर्षक ,

मकई खेत का सेक्सी: एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर हिंदी, फिर उसने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत के छेद पे लगाया और बोली- अब धक्का लगाओ!मैंने जोर लगाया तो मेरे लंड का सुपारा अंदर चला गया, मुझे ऐसे लगा जैसे मैं कोई जन्नत की सैर कर रहा हूँ.

जोश की गोली खाने से क्या होता है

तो क्या? मुझे तो है!तो मैं बोला- आपको क्या कमी है? इतना अच्छा घर है, गाड़ी है, पैसे वाली हो ही. करीना की सेक्सपहली बार मेरी गांड में मुझे सेटिस्फेक्शन मिला, पूर्ण संतुष्टि मिली.

इस बार मैंने उसके होंठ चूस लिए और उसकी पीठ से हाथ डालकर उसकी गांड को सहलाने लगा. लंबे समय तकमनीषा दर्द से चिल्ला रही थी, पर मैंने हाथों से उसके मुँह को दबा रखा था.

मैंने अपनी बीच की उंगली योनि में घुसाई तो महसूस हुआ कि अन्दर रस से मेरी योनि लबालब भरी है और बहुत ही चिपचिपी हो चुकी थी.एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर हिंदी: अभी भाभी कुछ समझ पातीं मैंने अपने लंड का सुपारा उनकी चूत की फांकों में फंसा दिया और रगड़ने लगा.

फिर रजत ने मयूरी को उठाया और उसके गुलाबी रसीले होंठों पर अपने होंठ रख दिए.सेल्सगर्ल भी मुझसे मजे लेते हुए हुए बोली- साइज बताइए सर?आप जितना पहनती हैं उतना ही दिखाइए?” मैंने कहा।मैं 32 नम्बर की ब्रा पहनती हूं!” सेल्स गर्ल ने बेबाकी से कहा।अबकी बार चौंकने की बारी मेरी थी.

गंदी पिक्चर वीडियो - एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर हिंदी

मैं झाड़ू मारते मारते अपने घर से थोड़ा बाहर आ गयी ताकि मैं भी उस लड़के से थोड़ा बात कर सकूँ.देसी विदेशी सब तरह के लोगों के झुंड के झुंड इस प्राचीन धरोहर को निहार रहे थे.

क्या लंड में जंग लग गई है?उसके मुँह से इतना सुनते ही मैं कंट्रोल बाहर हो गया और मैंने अपनी वाइफ को सेक्स के लिए पूरी नंगी कर दिया. एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर हिंदी अभी तक आपने पढ़ा कि मुझे छोटी चाची ने बड़ी चाची की चुदाई देकते पकड़ लिया और अपने कमरे में ले गयी.

वन्द्या की सगी मौसी का लड़का मेरे चाचा का बेटा है लालजी, उसने वन्द्या के बारे में सब बताया है कि यह पहले ही सब करवा चुकी है, पता नहीं कितने लोगों से चुदवाई है, यह तो यही जानती होगी.

एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर हिंदी?

मैं अब परेशान हो गयी थी अपनी चूत की प्यास से … और अब मुझे नए लंड से चुदवाने का मन कर रहा था. साथ ही साथ अब मेरा हाथ अब उसके चूचों से होता हुआ उसके पेट को सहला रहा था और एक हाथ से उसके गोल गोल गोरे और नरम नरम चूचों को सहलाते हुए दबा रहा था. चोदते वक़्त उसके मम्मे ज़ोर से हिल रहे थे, जो मुझे बहुत अच्छे लग रहे थे.

इसको लेकर फ्रेंड्स ने मिलके मुझे फोर्स किया कि तू बता कि तुझे कौन सी पसंद है. अब मैंने एक हाथ उसकी टी-शर्ट के अन्दर डाल दिया और उसके मम्मे दबाने लगा. मेरे एक स्तन का सारा रस पीने के बाद उन्होंने दूसरे स्तन को अपने मुँह में ले लिया और उसे भी चूसने लगे.

फिर ज्योति ने फाटक से लिंग को मुह में भर लिया और जोर जोर से चूसने लगी वो … जैसे पोर्न फिल्मों में लड़कियां चूसती हैं. अशोक- बेटा… पहले बार गांड की चुदाई की वक्त थोड़ा बेरहम होना पड़ता है नहीं तो काम को अंजाम नहीं मिल पाता. यह देखकर वो भी जोश में आ गया और उसने झट से मेरी चड्डी भी नीचे कर दी.

माइक ने भी पूछा- क्या तुम्हें मजा आया?उसने उत्तर दिया कि ये मेरे जीवन का मेरा सबसे अच्छा पल था. माइक ने धक्के ऐसे मारने शुरू कर दिए कि उसके धक्कों की एक एक ठोकर मुनीर की योनि की गहराई में जाने लगा.

मैं करवट लेकर पायल से ऐसे सटकर सोया कि मेरा लंड उसकी गांड पर सैट हो जाए.

अचानक उन्होंने मेरे सिर को पकड़ कर एक ज़ोर से झटका मेरे मुँह में मार दिया और अपना पूरा लंड मेरे मुँह में गले तक घुसेड़ दिया.

फिर मैं झड़ने वाला था, मैंने स्पीड बढ़ाई और जैसे ही निकलने को आया, मैंने लंड बाहर निकाला और गांड के ऊपर छोड़ दिया. अब उनका लंड पूरा तनकर 7 इंच का रॉड जैसा तन कर मेरी चूत में रगड़ मार रहा था. उस वक्त मुझे मेरे कॉलेज वाले दिन याद आने लगते हैं कि कैसे मैं अपने बॉयफ्रेंड से होटल में जाकर चुदवाती थी.

मैंने उसके पीछे जाकर उसको गुड इवनिंग कहा और उसके पीछे सटकर खड़ा हो गया. आज मेरा मन पहले से ही चुत चुदाई करवाने का था तो मैंने सोचा कि आज अपनी दीदी के देवर से अपनी चुत को चटवाने का मजा भी ले लूँ. इस पोज में मैं बैड से नीचे उतर कर खड़ा हो गया और उसे बेड के किनारे पर लिटा दिया.

मैंने सोचा कि घर जाकर वैसे भी बोर ही होना है, अब यहाँ आ ही गए हैं तो क्यों ना पूरा बुकस्टोर घूम लिया जाए.

सच में उसका 34-29-33 का फिगर रोशनी में ब्रा और पेंटी में गौरी क्या माल लग रही थी. मयूरी की पीठ का आकार बहुत की प्रभावशाली था और उसकी गांड तो बस… कमाल की थी. अब भाभी से कण्ट्रोल नहीं हो रहा था, वो बार बार लंड डालने की गुजारिश कर रही थीं.

वो अपने दर्द पर ध्यान देते हुए कहने लगी- तो देखो ना कि कहाँ गड़ा है?रजत का गला सूख रहा था. सो अब उस नजर से इसे समझने की कोशिश करने लगा।जब तक वीडियो खत्म होता, उससे पहले ही वह बाथरूम से निकल आई और उसे देख के मेरा मुंह खुश्क हो गया।उसने कपड़े उतार दिये थे और फिल्मी स्टाईल में ही एक टॉवल से खुद को लपेट लिया था। नीचे वह क्या पहने थी क्या नहीं. तुम चुपचाप उसके लैटर मुझे दे दो वरना मुझे तुम्हारे पिता जी को स्कूल में बुलाना पड़ेगा और हो सकता है तुम्हारा नाम भी काटना पड़े.

मैंने उसका हाथ पकड़ा और अपने कच्छे के ऊपर से अपने लिंग पर रख दिया और उसे सहलाने की इशारा किया.

बाद में मैंने धीरे धीरे मजे ले ले कर चोदना चालू किया, तो वो भी मजे ले रही थी. फिर मैंने कहा- बहुत दिन हो गए हैं रोमांस किये!तो वो बोली- तुम्हारा क्या प्लान है जानू?उसको सब पता रहता है, वह जानती थी कि मैं पहले ही प्लानिंग बना लेता था.

एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर हिंदी इसके बाद मैं एना के कहने पर मैं उसको गोद में उठा कर बेडरूम में ले गया और उसे लेटा कर उसके ऊपर चढ़ गया. यह सुन कर वो बहुत खुश हुईं और बोलीं कि कल शाम को ही हम लोग आते हैं.

एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर हिंदी तारा ने मेरी दुविधा को समझ लिया और उसने मेरा हाथ पकड़ कर भीतर खींचा. जैसे ही दोनों को थोड़ा अकेले में वक्त मिला, दोनों ने एक दूसरी को अपने साथ हुई घटना का पूरा ब्यौरा हंस हंस कर बताया.

वैसे मैं कभी घर से बाहर नहीं निकलती थी लेकिन अब चूत को लंड चाहिए था इसलिए मैं अब अपनी जवानी को दिखाना चाहती थी.

नंगी फोटो नंगी

अभी मेरे पति गुज़रे कुछ ही दिन हुए थे कि मेरे चाचा और चाची मेरे पास आए और बोले कि लाला तुम्हारे नाम से सब कुछ कर गए है या नहीं. शीतल अब भी बिस्तर ठीक कर रही थी, मयूरी शीतल से पीछे से चिपकते हुए उसके गर्दन वाले भाग पर प्यार भरा चुम्बन देते हुए बोली बच्चों की तरह ठुमकते हुए- माँ…शीतल- हाँ बेटा, उठ गया मेरा बच्चा?मयूरी- हाँ माँ… पर…शीतल- हाँ. जैसे ही मेरी निगाहें नीचे गईं तो मैंने देखा सामने पान की दूकान पर सत्यम खड़े थे और वे ऊपर ही देख रहे थे.

मेरे सर की निगाहें हमेशा मेरे ऊपर रहती थीं, वो कैसे भी मेरी गांड पाना चाहते थे. कभी उनके बूब्स दबाता, कभी उनकी मोटी गांड सहलाता और फिर मुठ मारके सो जाता. मेरी योनि तो खुद इतनी गीली हो चुकी थी कि माइक और मुनीर के संभोग के दौरान ही मुझे लगा कि मैं स्वयं झड़ जाऊंगी.

नेहा बहुत सुन्दर थोड़ी सांवली दुबली पतली, लंबी करीब 5 फुट 4 इंच की थी.

मैंने उसके हाथ चूत पर से हटा दिए जिन्हें उसने थोड़ी सी ना नुकुर के बाद हटा लिया और उसकी चूत अब मेरे सामने अनावृत थी. फिर जल्द ही वो दिन भी आ गया, उन्होंने मुझसे फोन करके कॉलेज के बाद अपने केबिन में आने को कहा. मैंने हल्के से अपने रूम का डोर खोला और दबे पांव मनीषा के रूम में चला गया.

ये कहते हुए उसने मेरा सर अपनी ब्लाउज में रुई सी मुलायम चूची पर दबा लिया. फिर थोड़ी देर बाद मैंने अपना लंड बाहर निकाला, जैसे ही मैंने अपना लंड बाहर निकाला मानो एक अजीब सी मादक खुश्बू सारे कमरे में फ़ैल गई. फिर वो बोला- मेरी भी किस्मत देखो, जिसे मैं चाहता हूँ वो किसी और को चाहती है.

जेठानी की बात सुन कर तारा तो जैसे ख़ुशी से झूम गयी, पर उसने अपने आव भाव किसी को पता नहीं चलने दिए. अब माइक ने सामने आते हुए लिंग पे हाथ से ढेर सारा थूक मला और एक हाथ से तारा की कमर पकड़ कर झुक कर लिंग योनि में घुसने का प्रयास किया.

अब मैंने भाभी को बिस्तर पर लिटा दिया और अपना मुँह उनकी चूत पे रख करभाभी की चूत चाटने लगा. अब आगे:चाची फुंफकार मारते हुए बोले जा रही थीं- ओह … आह … चोद … चोद मुझे … अपनी छिनाल चाची को चोद मेरे राजा भतीजे … मेरे चूत की आग मिटा मेरे चोदू भतीजे … तेरे लंड ने मेरी चूत की गहराई की आग को और बढ़ा दिया रे … चोद जोर जोर से. उसी दिन शाम की ट्रेन थी, मैंने खाना बनाया और सब खाना खाकर हम लोग निकल गए.

मुस्कान मेरा लंड चूस रही थी, पर दो उंगलियों के गांड में चलने से उसने अपने मुँह से लंड को बाहर निकाल लिया और ‘अअअअअ ओऊआआ.

अंकित ने समाली अंकल को कहा- अंकल जी, मेरी बहन वन्द्या की गांड और जोर जोर से चोदो. उनकी गुदा का छेद अब एकदम नरम और चिपचिपा गीला था, खुला हुआ भी लग रहा था. यह सब में अपनी मर्ज़ी के बिना, डॉक्टर किस सलाह पर ही कर रही थी ताकि उसे होश आ जाए.

इतने दिनों से बाहर रहकर थोड़ा बहुत फ़्लर्ट करना तो मैं सीख ही चुका था और इससे पहले मैं दिल्ली में 3 चूतों को भोग भी लगा चुका था. दस मिनट के संभोग के बाद दोनों की सांसें तेज़ हो चली थीं और तारा धक्कों के साथ कराह और सिसकारी भरने लगी थी.

तू तो इसमें बहुत सुन्दर लग रही है पर इसे उतारना तो है ही ना नहीं तो मैं दूध कैसे पियूंगा?”तो अभी तक दूध पीते बच्चे हो आप, क्यों?”हां… और भूख भी लगी है मुझे!”हम्म्म्म तो ये लो पी लो!” कम्मो ने कहा और अपने हाथ पीछे ले जाकर ब्रा का हुक खोल दिया. चुत में से पानी और मेरे माल का मिक्स धार छोड़ता हुआ नीचे गिरने लगा, जिसे स्नेहा ने उंगलियां डाल के ऊपर अपने पेट पर रगड़ लिया. फिर उसने कहा- मुझे थूकना है!मैंने कहा- बाथरूम में जाकर थूक दो!तो वह बोली- आप मुझे अपनी बांहों में उठाकर ले जाओ.

रात को चोदा

मैं भी हल्की हल्की सिस्कारियाँ लेने लगी और उसके बाद वो मेरी चूत में अपना जीभ डाल कर मेरी चूत को चाटने लगा.

इसी बीच उन्होंने कहा- उस रात जो काम तुमने अधूरा छोड़ दिया था, आज उसको पूरा करो!जो हुकुम मेरे आका!” यह कह कर मैं उनके कपड़ों को उनके बदन से अलग करने लगा. अआआआ … उईईईई … मर गईईई … ईई …ई …” उसने फिर से मेरी कमर को कस कर पकड़ लिया. खूब लम्बे काले घने केश जिनकी चोटी उसकी कमर तक आती थी और वो अपनी चोटी गोद में लिये यूं ही उँगलियों में लपेट रही थी.

दीदी, वैसे आपकी शादी से पहले एक बार तो सेक्स करना बनता है, उसके बाद तो मेरी किस्मत. मैंने आज तक कोई ऐसी ब्लू फिल्म में चुदाई नहीं देखी, जैसे यह वन्द्या चुदवाती है. इंग्लिश पिक्चर चोदने कीइस बार मैं उसकी चूत को अच्छे से चाटना चाहता था क्योंकि मुझे चूत चाटने में बहुत मजा आता है.

मैं अपनी चूत को बहुत साफ़ रखती हूँ इसलिए उसको मेरी चूत चाटने में बहुत मजा आ रहा था. अब मैं भी चुप ना रहा और जैसे ही पूजा ने मेरे लंड को अपनी चूत से लगाया, मैंने अपनी कमर को एक झटके के साथ हिलाकर उसकी चूत में अपना लंड पूरा जड़ तक पेल दिया.

दोनों को थोड़ा अजीब लग रहा था पर अब बात करना इतना जरूरी हो गया था कि क्या कहें. अगले साल मैं भी वहीं चली जाऊंगी।मैं- ओके तो अब हम कहाँ जा रहे हैं?साक्षी- मेरे घर. ज्योति ने मुझे किस किया और पूछा- आज तुमको क्या हो गया था? मुझे इतना दर्द हो रहा था और तुम इतनी जोर से किये जा रहे थे?मैं बोला- पता नहीं क्या हुआ था यार!फिर मैंने उसकी चुत को देखा तो वह सूज गयी थी.

कुछ समय में वो अपने दर्द को भूलकर चुत चुदाई का मजा बंद आँखों से लेने लगी. उनके बेड पे आते ही मैंने उन्हें दबोच लिया और उनके मम्मों को मसलने लगा. सही भी था वो अपने फोन लेने, देखने, छूने, महसूस करने की जल्दबाजी स्वाभाविक भी थी.

इसके लिए बाहर के पुरुषों के पास जाने से ज्यादा अच्छा और सुरक्षित विकल्प महिलाओं के लिए घर के पुरुष ही होते हैं.

उसने उस पर एक क्रीम चिकनाई के लिए लगाई और उसे फिर से उसके गुप्तांग में घुसा धक्के मारने लगी. वे अपने एक हाथ से अपनी एक चूची को मसल रही थीं और दूसरे हाथ से चूत में लम्बा वाला बैंगन डाल रही थीं.

अंकित बोला- तू साली बहुत मस्त चीज़ है वन्द्या … अब रूक जा, तुझे अभी तो नहीं पर दो दिन के अंदर इतने अमीर बड़े लोगों के साथ सुलवाऊंगा कि तेरी लाइफ बन जाएगी. उसने चुदाई शुरू की और कमरे में दोनों की जाँघों की तकरने की थप-थप की आवाज़ गूंज रही थी, साथ ही साथ मयूरी की तेज़ चुदाई की वजह से आहें भी निकल रही थी. मैंने अपने होंठों से उसका मुँह बंद किया और झटके से अपना भी लंड अन्दर डाल दिया.

इतना कहकर उन्होंने मेरा एक हाथ पकड़ कर रज़ाई के अन्दर से ही अपने मम्मों पर रख दिया और मेरी तरफ देखते हुए मुस्कारने लगीं. वे अभी थोड़े जवान हैं और गांव में रहने से उनकी कद काठी भी बहुत अच्छी बनी हुई थी. मैं अपना कड़क लंड उनकी चुत पर घिसते हुए, उनकी गदरायी जाँघों पर अपनी जांघें घिसते हुए और ज्यादा गरमी पैदा कर रहा था.

एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर हिंदी मयूरी- करेंगे मेरे भाई… पर तू थोड़ा सब्र रख… मेरा जन्मदिन आ रहा है… तुझे ये तोहफा मैं उसी दिन दूंगी. मेरी छाती थोड़ी फूली हुई सी है, लड़कियों के जैसे मेरे नर्म नर्म से थे.

धंधा वाली

हम दोनों स्वाति के घर पे चले गए और घर में घुसते ही मैंने स्वाति को अपनी ओर खींच लिया और उसे किस करना शुरू कर दिया. उसकी उम्र 21 साल है उसके शरीर की बनावट ऐसी है कि मोहल्ले और कॉलेज के सभी लड़के उसे भूखे कुत्ते की तरह देखते हैं … कि कब मौका मिले और कब उसकी जवानी लूट लें!और मेरी ननद का कहना है कि मैं उससे चार गुना ज़्यादा सेक्सी हूँ. जैसे ही मैंने अपना मुँह उसकी चूत पर लाकर रखा, वो तो पागल हो गई और उसने अपनी चुत खोल दी.

मामी की चुत से ढेर सारा पानी निकल रहा था, जो कि उनकी झांटों पर लगा हुआ था. अआआआ … उईईईई … मर गईईई … ईई …ई …” उसने फिर से मेरी कमर को कस कर पकड़ लिया. ब्लाउज गला डिजाइनदेसी विदेशी सब तरह के लोगों के झुंड के झुंड इस प्राचीन धरोहर को निहार रहे थे.

ये अभी सोच ही रहे थे कि उतने में डोरबेल बज गयी और पायल की आवाज आयी- जीजू, दरवाजा तो खोलो ना…वो बेचारी इतनी बारिश में आयी थी, मैंने ऊपर कंधे पर दूसरा तौलिया डाल दिया और दरवाजा खोला तो बाहर पायल पूरी तरह से भीगी हुई खड़ी थी.

वो सब पायल के आस पास थे, लेकिन अब भी पायल को कुछ गलत नहीं लग रहा था. क्योंकि गांव में मुझे कुंए पर या फिर किसी भी घर में कोई न कोई सेक्सी औरत या लड़की नहाते हुए या कपड़े पहनते हुए दिख ही जाती थी.

बाद में मेरे भाई ने मुझे बताया था कि वो बहुत सारी लड़कियों को चोद चुका था और उसको सेक्स कर बहुत अच्छा अनुभव है. उसकी फोटो मैंने जय को भेजी तो वो शालिनी का दीवाना हो गया। मैंने जय को उसका रेट बताया और बात पूरी पक्की कर ली।2 दिन बाद रविवार था, जय ठीक समय पर मेरे पास आ गया. वो ऊपर नीचे होकर झटके मारने लगी और मैंने उसके एक निप्पल को मुँह में ले लिया और दूसरे चूचे को हाथ से दबाने लगा.

थोड़ी देर के दर्द के बाद पायल भी दोनों छेदों में लंड का मजा लेने लगी.

दोस्तो, ये थी मेरी कहानी गर्लफ्रेंड के साथ सेक्स की … आपको कैसी लगी. उसमे आयल निकाल लो और यहीं रख लो।” मुझे बताते हुए वह खुद टेबल पे लेट गयी और साथ लाये दूसरे तौलिये को रोल करके सरहाने की जगह रख दिया।अब खुद उस तौलिये पे चेहरा टिकाती औंधी हो गयी और आँखें मूँद लीं- जैसे समझ में आये करो. मेरा लंड धीरे धीरे अन्दर घुसने लगा, पर चूत सिकुड़ी हुई थी इसलिए शायद मेरा लंड अन्दर ठीक से जा नहीं पा रहा था.

बाल नरम करने का तेलमैं कभी उनके निचले होंठों को अपने दोनों होंठों के बीच रखता, तो कभी ऊपर के होंठों को चूसता. क्या करूँ?उसने अपना मुँह खोला और कहा- अपना पूरा माल मेरे मुँह में डाल दे.

गर्ल गर्ल गर्ल गर्ल

तो मैं वापस लौटने लगा और एक तिराहे पर पहुंच गया, जहाँ मुझे मालूम भी नहीं लगा कि मैं आया कहाँ से था. बीच बीच में रेशमा मुझसे फोन पर बात कर लेती थी, कभी कभी फोन सेक्स भी हो जाया करता था. उसके 2 दिन बाद पूर्वी ने मुझे फिर से अपने घर पर बुलाया और हमने पूरी रात भर सेक्स किया, जिसमें पूर्वी ने खुद से मुझे उसकी गांड फिर से मारने को बोला.

और इस तरह शुरू हो गया पहली बार एक प्रगाढ़ चुम्बन का दौर एक पिता और पुत्री के बीच …दोनों बाप बेटी चुम्बन के दौर का पूरी तरह से आनन्द लेने में जुट गए. अब तो रजत ने अपनी एक उंगली भी उसके गांड के छेद पर रख कर रगड़ना शुरू कर दिया था. फिर सारी खिड़कियां बंद करके फर्श पर चार पांच गद्दे एक के ऊपर एक बिछा कर बढ़िया मोटा बिस्तर चुदाई के लिए तैयार कर लिया और कम्मो का हाथ पकड़ कर उसे बिस्तर पर गिरा लिया और उसे दबोच कर मैं उसके ऊपर चढ़ बैठा.

मैं जैसे ही उनके पास से निकली तो बड़ी बड़ी मूंछों वाले लड़के ने मेरे बाल पकड़कर पीछे खींच लिया और जोर से अपनी बांहों में जकड़ लिया. मैं उनका संभोग देख अपनी योनि को अपने हाथों से और भी तेज रगड़ रही थी. यह कहकर मैंने उस का लंड जोर से पकड़ कर दबाया और बोली- इसके बिना तुम्हें नहीं पता कि मेरी रातें कितनी मुश्किल से बीती हैं.

उसने मेरे साथ एक लम्बी सेक्स चैट की और मैं फोन बंद करके मुठ मार कर सो गया. दिल्ली की भीड़, ट्रैफिक, गगनचुम्बी इमारतें और सजे धजे बाज़ार ये सबकुछ अचंभित कर रहा था उसे.

तो मैंने बोला- ठीक है!मैं नहाया, खाना खाया और बाइक निकाल कर घर से निकल गया.

हम तुमसे पैसे ऐंठने के लिए तुम्हारा इलाज़ करेंगे मगर कोई परिणाम नहीं निकलेगा. सैक्स power capsule patanjali वीडियोउसने मेरी तरफ दवाई का पत्ता बढ़ा दिया तो मैंने दूध नहीं पिया लेकिन 1 की जगह 2 गोलियां खा लीं और 15 मिनट बाद फिर से चार्ज हो गया. देसी भाभी का सेक्सी वादन & गांडअंकित ने पूरी ताकत लगा कि जैसे ही अपना लंड घुसाया, मैं इतनी जोर से चिल्लाने लगी और रोने लगी कि जैसे मेरी जान निकलने लगी हो. मेरा हाथ लगने से शायद वो मदहोश होने लगीं, मैं भी खुजाने के बहाने उनकी पीठ सहलाने लगा और थोड़ा सा हाथ आगे ले जाकर उनके मम्मों को टच करने लगा, इससे वो एकदम सिहर से गईं.

स्नेहा की आँखें बंद थीं, होंठ खुले हुए थे और चेहरे पर संतुष्टि के भाव थे.

मैंने प्रिया से पूछा- स्टार्ट कहां से करें … बेड से … या बाथरूम से?तो प्रिया बोली- बाथरूम से. मुझे मालूम है कि भारत में इतने बड़े लंड नहीं पाए जाते हैं, लेकिन मुझे ऊपर वाले नेलम्बा और मोटा लिंगदिया है. जो होगा देखा जाएगा लेकिन ऐसा गलत काम में आप हमें सम्मिलित नहीं कर सकती.

देख लो अगर तुम्हारे पास रखे हुए हो तो क्योंकि घर में खाने को भी कुछ नहीं है. जैसे ही मेरे बूब्स दबे, मुझे कुछ-कुछ होने लगा और मेरे को आप बहुत समय नहीं लगा और मैं भूलने लगी कि मैं कहाँ लेटी हूं और सच कहूं तो भूल ही गई की यहाँ 15-20 लोग इस हाल में लेटे हैं. चाची- और ताकत लगा … चूत फाड़ दो मेरी … दो साल से लंड के लिये तरस रही थी मेरे चूत … फाड़ दो चूत को … चोद … और चोद.

मेरा व्हाट्सएप खोलो

मेरा लंड पिस्टन की तरह अन्दर बाहर हो रहा था और भाभी के मस्त चुचे तूफ़ान मचा रहे थे. चूंकि बेड पर सोने की मेरी आदत नहीं है, तो मैं टीवी देखते हुए सोफे पर ही सो जाता था. तभी पापा ने पीछे से अपने हाथ से अपनी बेटी की गांड को धीरे-धीरे सहलाना चालू कर दिया.

मैंने उसकी पैंटी नीचे की तरफ सरकाई और कम्मो ने अपनी कमर उठा कर पैंटी उतर जाने दी.

मैंने लड़के को फोन करके बताया भी मगर उसने कहा- मेरा कोई बाप नहीं है, मैं अब उसे नहीं देखने आऊंगा.

पर मैं वैसी ही हालत में आंख बंद किए लेटी हुई थी, सोई बनी हुई थी परन्तु मुझे इतना डर लग रहा था इतनी घबराहट कि लगता था धरती फट जाए और मैं उसमें समा जाऊं. मैं दूसरे हाथ से उसके दूसरे चुचे को दबाने लगा और एक हाथ उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाने लगा. रपे वीडियोअशोक- अच्छा?मयूरी- हाँ…अशोक- फिर?मयूरी- फिर मैंने ये निश्चय किया कि मैं आपको आपका हक़ जरूर दूंगी अगर आप की मर्ज़ी हुई तो.

सायं 5 बजे मैंने हिमानी का दरवाजा खटखटाया तो उसने एकदम दरवाजा खोल दिया. क्योंकि शौर्य ने कभी ऐसी कोई हरकत या इशारा नहीं किया कि जिससे ऐसा लगे कि उसे लड़कों में रुचि हो. मैं उसको बोली- तुम अपने ऑफिस क्यों नहीं गए?तो वो बोला- मुझे काम करने का मन नहीं करता है.

इससे पहले भी मैंने ऐनल सेक्स यानी गुदा मैथुन यानि गांड मारने की बात की थी लेकिन उस समय पूर्वी ने यह बोल कर मना कर दिया था कि बाद में कभी ट्राई करेंगे. और इस तरह से अचानक, मुझे अंदाजा नहीं था, उसने पूरा जोर लगाकर मेरी गांड में अपना लन्ड इतनी जोर से घुसा दिया कि मुझे लगा कि मैं दर्द के मारे मर गई.

चल आज साबित हो गया कि तू सिर्फ मेरी है और मुझको धोखा नहीं दे रही है.

चाची की भी तबियत खराब हो गई थी, तो वो भी खेत में नहीं गईं और घर पर आराम करने के लिए लेट गईं. फिर उसने मेरे पजामे को नीचे कर दिया, अब मैं मेरे आशिक़ के सामने ऊपर उठा शमीज, उसके अंदर नीली ब्रा और काली चड्डी में थी. मैंने उसकी टांग थोड़ा ऊपर उठाकर अपने कंधे पर ली और लंड को उसकी चूत की फांकों पर रगड़ने लगा.

अंग्रेजी सेक्सी चुदाई वीडियो मैंने कहा- शाम का टाइम है, देख लो?बोली- सब देख लिया… तो चल।हम चल दिये. मुझे ईमेल के जरिये बहुत संदेश प्राप्त हुए, बहुत से लोगों ने मेरी दूसरी कहानी की नायिका से मिलने की इच्छा जताई।दोस्तो, मैं एक कॉल बॉय हूँ, अपनी किसी दोस्त और अपनी किसी भी ग्राहक के संपर्क सूत्र बता नहीं सकता, यह मेरे उसूल के खिलाफ है।अभी तक मैंने कई लड़कियों और भाभियों की चुदाई की है और उनको भरपूर आनंद भी दिया पर उनकी बिना सहमति कहानी नहीं लिख सकता हूँ.

ये सब उसने अकेली प्लान किया था और उसने सारी बात अपने परिवार में किसी को भी बताई नहीं थी. मैं दिखने में अच्छा लगता हूँ और मैंने जिम जा कर थोड़ी अच्छी बॉडी भी बना ली है।बात आज से तीन महीने पहले की है जब हमारे आफिस में एक नई लड़की ने जॉइन किया था, उसका नाम कोमल था, उसकी उम्र 21 साल थी दिखने में एकदम सीधी सादी, गोरा रंग, कसा हुआ शरीर, लंबे बाल।वो जयपुर के पास ही किसी गांव से यहाँ जॉब करने आयी थी, उसका पहला दिन था आफिस में तो वो किसी से कोई ख़ास बात नहीं कर रही थी. इस प्रक्रिया में मोटे तौर पर अगर देखा जाए तो सिर्फ हमारे टोपे ही एकसाथ नताशा के मुंह में घुस पा रहे थे, लेकिन हसीन नताशा पूरी लगन के साथ उन्हें अपनी नर्म गर्म गुलाबी जीभ से चाटती जा रही थी.

टेलर मशीन

मेरे इतना कहते ही समाली अंकल ने कस के मुझे पकड़ लिया और मेरे मुँह में अपने मुँह को रखकर मेरे जीभ को चूसने लगे. तो वो बोली- देखते हैं आज तेरे केले का दम…यह कह कर वो मुझसे लिपट गई. विक्रम- यह नहीं हो सकता?मयूरी- क्यूँ नहीं हो सकता?विक्रम- इसने मेरी गर्लफ्रेंड के साथ…मयूरी- अरे भैया… तुम पागल हो क्या? रजत भी तो यही बोल सकता है? पर तुम दोनों समझ क्यूँ नहीं रहे कि सपना ने तुम दोनों का चूतिया काटा है वो भी एक साथ… रजत ने जो भी किया उसकी मर्जी से ही किया न? उसके साथ को जबरदस्ती तो नहीं की न?विक्रम- वो जो भी है? पर मैं इस धोखेबाज के साथ कुछ शेयर नहीं कर सकता.

मैं उसको तुरंत बिस्तर पर ले आया और उसके साथ किस्सम-किस्सी चालू कर दी. शादी के बाद अनु तो नहीं देती, लेकिन बुआ जी का और मेरा रिश्ता आज भी मस्त है.

फिर 3-4 क्लास के बाद हमारी छुट्टी हो गई और हम एक्स्ट्रा समय में पढ़ने के लिए दूसरे कमरे में आ गए.

चाची और जोर जोर से हिलने लगीं, चाची अपनी गांड पटक पटक कर चाचा को चोद रही थीं. मैंने उससे पूछा- तुम्हारे घर वाले मानेंगे?वो बोला- हां मान जायेंगे मगर आपको उनके पास जाना पड़ेगा. थोड़ी देर बाद मैंने मौसी की चूत में उंगली चलाना तेज़ कर दिया और जोर जोर से अन्दर बाहर करते हुए मौसी की चुत को मजा देने लगा.

मुझे तो मेरा पति रोज एक बार तो चोदता ही है, फिर भी मैं संतुष्ट नहीं हो पाती हूँ, सो मैं दूसरे के पास भी चली जाती हूँ. इतने में अंकित मुझे बोला- वन्द्या, तू अपनी टॉप थोड़ा ऊपर कर ले! तेरे दूध भी देख लूं!उस टॉयलेट में जहां हम दोनों घुसे थे, उसमें बिल्कुल जगह नहीं थी. फिर उसने पायल के एक मम्मे को अपने मुँह में खींचा तो उसका पूरा चूचा तो मुँह में समा ही नहीं रहा था.

हम दोनों के अलावा पार्क में थोड़े और लोग थे, जो लोग अपनी गर्लफ्रेंड के साथ इसी तरह के कार्यक्रमों में बिजी थे.

एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर हिंदी: पर वो अनजान बनते हुए बोली- चलो दोनों लोग… खाना तैयार है… और वक्त भी हो गया है. उसकी आँखों में अनुनय विनय का भाव आ गया और सलवार पर उसकी पकड़ स्वयमेव ढीली पड़ गयी और उसने सलवार छोड़ कर अपने हाथ ऊपर कर दिए.

ज्योति ने मुझे किस किया और पूछा- आज तुमको क्या हो गया था? मुझे इतना दर्द हो रहा था और तुम इतनी जोर से किये जा रहे थे?मैं बोला- पता नहीं क्या हुआ था यार!फिर मैंने उसकी चुत को देखा तो वह सूज गयी थी. तुम अपने घर पहुंचे या नहीं?मैंने भी रिप्लाई किया- रेशमा जी, मैं ठीक ठाक से अपने रूम पर पहुँच गया हूँ. तो उसने मुझे रोका और मुझे लेटने को कहा और वो मेरे लंड के ऊपर बैठकर अपनी गांड को ऊपर नीचे करने लगा.

मैंने बाथरूम के दरवाजे को हल्का सा धक्का दिया तो वो खुल गया, उसने सिटकनी नहीं लगाई थी.

मैंने अपने लंड के सुपारे को उसकी चूत की दोनों फांकों के बीच में लगाकर पहले तो धीरे धीरे घिसकर उसकी चुत को सहलाया और फिर धीरे से सुपारे को उसके प्रवेशद्वार पर लगा दिया. हम कार में बैठ गए, उसने मेरे लंड पे हाथ फेर दिया, जिससे मेरा लंड और बेकाबू होने लगा. वो लड़का मुझे चोद रहा था और मैं अपनी गांड हिला हिला कर उसका साथ दे रही थी.