प्रियंका चोपडा के बीएफ

छवि स्रोत,বিএফ বই দেখব

तस्वीर का शीर्षक ,

xxx जबरदस्ती: प्रियंका चोपडा के बीएफ, मैंने मोनी की कमर को पकड़कर उसे अब जोरों से अपने लंड पर दबा लिया और हल्के-हल्के धक्कों के साथ उसकी चूत में ही उस कॉन्डोम‌ को अपने वीर्य से भरना शुरू कर दिया.

सेक्ष्य वीडियो

मैंने उसके पास जाकर उससे पूछा- बेटी, ये सब क्या कर रही थी?मगर वो घबरायी हुई थी और कुछ ना बोली. बीएफ चोदा चोदी एचडी वीडियोवो मेरे सफ़ेद गले, चूची, क्लीवेज, मेरे गाल सब जगह पर चुम्मा ले रहा था.

उन बातों को बीते हुए आठ साल हो गये थे मगर आज जब जीजा जी फिर से मुझे बाइक पर बिठाकर ले जाने की बात कर रहे थे तो वही पुरानी यादें फिर से ताजा हो गईं. ऑंटी के साथतो उसने बोला- सर आप भी साथ में चलिए न?मैंने बताया- नहीं आप जाइए, मैं आज टिफिन नहीं लाया.

फिर मैं चुपचाप अपने कमरे में आ गयी और सोचा कि इस बारे में बात सुबह को करेंगे.प्रियंका चोपडा के बीएफ: मैंने देखा तो हेतल मेरे लंड के नीचे पड़ी हुई पूरी तरह चुदासी होकर मेरा लंड अपनी चूत में ले रही थी.

अब अपनी और तारीफ करके मैं आपको बोर नहीं करूंगा और कहानी पर आता हूँ.फिर मैंने भी उसकी तारीफ करते हुए कहा- तुम भी बहुत शानदार तरीके से चुदवाती हो.

मोटी महिलाओं की बीएफ - प्रियंका चोपडा के बीएफ

कुछ ही देर में मेरे लंड से पानी निकल गया और हम दोनों किस करने के बाद सो गये.उसकी चूत का द्वार मेरी पहुंच के बहुत करीब था जिसको मैं हर हाल में पाना चाहता था इसलिए मैंने अपने लंड को उसकी चूत के मुहाने पर हल्का सा घिसा और फिर अन्दर की तरफ धकेलने लगा तो मेरे लंड का सुपाड़ा उसकी चूत में घुसते समय कहीं जैसे अटक सा गया.

थोड़ी देर बाद मौसी ने मेरा हाथ अपने चूत से हटा दिया और साड़ी के ऊपर से ही अपने पेटीकोट से अपनी चूत साफ करने लगीं. प्रियंका चोपडा के बीएफ में परीक्षा के बाद एक इंटरव्यू दिया, जिसमें मेरा सिलेक्शन हो गया और मेरी नौकरी तय हो गई.

अचानक दरवाजे पे आवाज हुई, मैं बोली- जी सर?बाहर बॉस थे, वो बोले- अंदर एक फाइल है, वो चाहिए.

प्रियंका चोपडा के बीएफ?

मैं बोला- तुझे तो गांड मरवाना भी अच्छा नहीं लगता था?वो बोली- आपने सिखा दिया. मेरे बेटे वंश के पांच साल के होते ही मेरे पति ने उसे बोर्डिंग में डाल दिया था. वह फिर मेरी तरफ देखकर गुस्से में बोली- करते क्यों नहीं हो?मैं बोला- पहले बोलो … हां मेरा पति हिजड़ा है.

दस मिनट लंड चूसने के बाद उसका लंड भी एकदम खड़ा हो गया और मेरी लार से एकदम चिकना भी हो गया. मुझे पता लगा कि पहले भी कई लड़कियाँ यहाँ काम कर चुकी हैं मगर ज्यादा दिन कोई टिक नहीं सकी. मैंने देखा कि अब शलाका भी खुद ही अपनी गांड को मेरे लंड की तरफ धकेल रही थी.

मैं बोला- एक काम कर दो भाभी, तुम अभी मेरा लंड चूस कर शांत कर दो, चुत रात में चोद लूँगा. बाथरूम से बाहर आकर मेरी बिटिया ने कहा- पापा, आज मैं मम्मी की शादी की साड़ी पहनूंगी और आज रात हम सुहागरात मनाएंगे. फिर मैं उसकी एक चूची को मुँह में लेकर चूसने लगा और एक हाथ से उसकी दूसरी चूची को दबाने लगा.

उन्होंने जो नाईटी पहनी हुई थी, उससे पूरा सिनेमा साफ साफ नजर आ रहा था. मेरी चोट से मीना की एक जोरदार चीख उस कमरे में गूँज गयी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’वो कराहते हुए बोली- आराम से डालो जान.

मैं काफी देर तक उसकी चूत को घूरता रहा और सोचने लगा कि मेरी बेटी की इतनी मस्त चूत … मेरे सामने नंगी!मैं तो जैसे पागल सा हो गया … मेरा लंड कड़क हो गया था.

तब रिया पीछे मुडी और हंसते हुए बोली- अरे, डैड मजाक किया था, डालो ना।इस पर रमेश ने उसके बालों को कसकर खींचा और बोला- साली देख अब तू, कैसे तेरी गाँड का गड्ढा बनाता हूं मैं.

मैं उसका हाथ पकड़ कर लंड को उसके हाथ में पकड़ाते हुए बोला- थोड़ी देर और रुक जाओ. अब आगे की न्यूड लेडी हॉट सेक्स स्टोरी:थॉमस की जीभ मेरे मुँह में आ गई थी और मेरी थॉमस के मुँह में थी. उसकी तेज सिसकी निकल पड़ी- आआआ ईइइइ उइइ आह हहह उम्म्ह! मेरे जाबो गो मां!और उसे यह कहते हुए छोड़ दिया कि अब हिसाब बराबर।उसकी चूत गर्म रोटी की तरह फूल कर सूज गई थी और उससे हिला भी नहीं जा रहा था.

इस बार मेरी और हरकेश की स्पीड काफी तेज थी और हम दोनों ही जोरदार धक्के लगा रहे थे. उधर जीजू मुझे मना रहे थे- अरे रुक जाओ रानी … ये कोई नई बात है क्या … जीजा साली में इतना तो चलता है. इसी बीच राजेश ने जोर देकर मुझे अपने ऊपर से उतार दिया, लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी.

अचानक उसने मुझे धक्का देकर बेड पर गिरा दिया और मेरे ऊपर चढ़कर मेरे लण्ड को फिर से अंदर ले लिया.

उसके बाद जब मुझे आभास हो गया कि अनिता पूरी तरह से गर्म हो चुकी है तो मैंने फिर से उसकी चूत चाटी और अपने लन्ड को उसकी चूत पर रगड़ने लगा. उसने कहा- अब बर्दाश्त नहीं होता, जल्दी से मेरी पैंटी उतारकर मेरी चुत को संतुष्ट कर दो. अब बस बेडरूम में टंगी घड़ी की टिक टिक की स्पष्ट आवाज गूंज रही थी या मेरे नीचे लेटी निष्ठा की गहरी सांसों के उतार चढ़ाव से उनके स्तनों की उठान का दबाव मुझे महसूस हो रहा था.

मैं उसके गुलाबी होंठ चूसते निप्पल पर आया और एक निप्पल को अपने होंठों में दबा आकार चूसने लगा. नहीं तो तुम, इधर एक राउण्ड बुर फाड़ते और तुरन्त ही दूसरे राउण्ड के लिए तुम तैयार हो जाते. इसमें से उसके निप्पल बाहर आ जा रहे थे और चूत को ढंके हुए थे, पर गांड के हिस्सा खुला हुआ था.

पाँच मिनट के बाद मेरे अन्दर का ज्वालामुखी फट पड़ा और ढेर सारा लावा उसमें से निकलकर मीना के अन्दर समा गया, जिस पर तुरंत मीना ने अपनी शबनमी बूँदों की बरसात कर दी और हम दोनों इसी तरह दस मिनट तक एक दूसरे से चिपके रहे.

कुछ पल बाद वो भी मेरे लंड को चूसने लगी, लेकिन उस अच्छे से लंड चूसना नहीं आ रहा था. मैं पूरी मस्ती में आ गयी थी … मेरी दोनों आंखें बंद हो चुकी थीं … और मैं चुदाई के पूरे मज़े ले रही थी.

प्रियंका चोपडा के बीएफ शुरुआत में तो वह एकदम शांत थी लेकिन दो-चार मिनट के बाद ही वह अजीब-अजीब आवाजें निकाल रही थी- उम्म याह उम्म याह ओह इइइइइ आईईईई ओ मां!और मेरा सर पकड़ कर अपनी चूत पर पूरी ताकत से दबाने लगी. आंखें बन्द करके मैं मूत निकलने का इंतजार करने लगा और जैसे-जैसे लंड ने पेशाब की धार छोड़नी शुरू की वैसे-वैसे मुझे बड़ी राहत मिलने लगी.

प्रियंका चोपडा के बीएफ फिर उसकी चूत की मांसपेशियां सिकुड़ सिकुड़ कर मेरे लंड से वीर्य की एक एक बूँद निचोड़ने लगीं. मीता- हैलो … चलें?मीता ने आज ब्लैक जींस और एक पीले रंग की टाइट सी शर्ट पहनी थी.

शोना बोली- क्यों ऊपर क्यों चलना है?मैं बोला- यार, ऊपर चलके एक बार अच्छे से चुदाई करते हैं ना!उसने कहा- कोई आ गया तो?मैंने कहा- अभी कोई नहीं आएगा, भैया पापा बाहर गए हैं.

सुपर बाउल xxxiii

वो इतने मदमस्त तरीके से मेरी गांड को चाट रहा था, जैसे कोई कुत्ता चाट रहा हो … उफफ्फ. फिर मेरे हाथों को अपने हाथों में लेकर मुझे बेड तक लाये और बेड पर बैठते हुए बोले कि वाउउउउ, इस नाईटी में तुम बहुत सेक्सी लग रही हो. यह एक ओपन रेस्टोरेंट था; 9 बज रहे होंगे; हल्की-हल्की चाँद की रोशनी में यह नजारा काफी सुन्दर लग रहा था।मेरे डेट के प्लान से वो काफी खुश हुई। हम अपने टेबल की ओर बढे, मैंने चेयर खींची, वो मेरे सामने बैठ गयी।चाँद की हल्की रोशनी में टेबल पर लगी कैंडल की रोशनी में मैं उसके चेहरे को देख पा रहा था.

खांसी की वजह से संजना ने अपना मुँह मेरे लौड़े से हटा लिया और उसी वक्त शीना ने लपक कर मेरा लंड अपने मुँह में घुसा दिया. सुबह निहारिका का फोन आया और उसने कहा- सुना तुमने, इससे तुमको पता चला गया होगा. उसकी चूत के आस-पास से धार बाहर निकल रही थी, तब तक आधी कुप्पी खाली हो चुकी थी.

मैंने उसके गाल पर एक किस करते हुए हंस कर कहा- हम्म … मुझे लग रहा है अब तू मेरा ब्वॉयफ्रेंड बनने लायक हो गया है.

वो मुझे ठोकते हुए बीच बीच में मेरे होंठ चूसता, मेरे चुचे चूसता, दबाता … जिससे मुझे थोड़ा आराम मिलने लगा. मेरी सिसकारी निकल पड़ी- स्शह आह्ह!उसने उंगली अंदर बाहर करनी शुरू कर दी. हम दोनों ने एक दूसरे को किस करना चालू किया और मैं चाची की चुचियों को मसलने लगा.

मैंने लंड बाहर निकालकर नम्रता को बेड पर पटक दिया और खुद उसके सीने पर चढ़कर लंड को उसके मुँह के पास ले आ गया. मैं उसके और करीब को आ गया और फिर मैंने उसके चेहरे की अपनी तरफ घुमाया. तो वो कहने लगे- मेरे ऊपर नहीं … ये तुम्हारे ऊपर है कि तुम क्या चाहती हो, पक्की नौकरी या टाइम पास नौकरी?मैं बोली- वो कैसे?वो मेरा हाथ दबाते हुए बोले- अगर जैसा मैं कहूँ, तुम वैसा करने को राजी हो जाओ तो कल से ही तुम्हारी नौकरी यहाँ पर पक्की समझो.

कपड़े बदलने जरूरी थे, गीले कपड़ों में मेरी हालात पहले ही पतली हो रही थी. तो हुआ यूं कि मेरी मामी की भाभी यानि मामा की सलहज (मामा के साले के पत्नी) की हार्ट अटैक से मौत हो गयी थी, तो मैं उनके मायके गया था.

इस पोजीशन में हम पूरे 8 मिनट तक रहे और अब मैं उनकी चूत में अपनी उंगली करने लगा था. ” यह बोलकर अंकल ने मेरी टांगें और फैला दीं और एक जोर का धक्का दे दिया. जब तक तेरे मुंह से गाली गलौच नहीं निकलेगी, तब तक मुझे कुछ मजा नहीं आने वाला!अब मैं समझ चुका था.

ओह शिट! जल्दबाजी में मैंने बाथरूम का दरवाजा बन्द नहीं किया था और पता नहीं शुभ्रा कब से वहां खड़ी होकर मुझे मूतता हुआ देख रही थी। उसके चेहरे पर गुस्सा साफ दिखाई पड़ रहा था.

उन्होंने देर ना करते हुए मुझे धक्का मारकर लेटा दिया और वो अपने पैर चौड़े करके मेरे ऊपर बैठने लगी. वो भी चुदाई से बहुत खुश थी और गांड उठा कर मेरे झटकों का जवाब दे रही थी. दोनों कन्धों के बीच … ज़रा नीचे, ब्रा के स्ट्रैप में मेरी उंगलियां उलझ-उलझ जाती थी लेकिन फिर नीचे नितम्बों की ओर गतिमान हो जातीं थी.

”उनकी बातें मेरे कानों में गर्म लावा डाल रही थीं, मुझे यकीन नहीं हो रहा था कि प्रमोशन के लिए नितिन ये भी कर सकता है. उसने सूट भी हरे रंग का ही पहना हुआ था ताकि कोई ये न जान सके कि खेत में कोई है.

और अन्दर का नजारा देखा कर मेरे होश उड़ गये … अन्दर कोई और नहीं मेरे ससुर और उनकी सगी बेटी यानि कि मेरी ननद सुमीना थी. सो मेरे पास अपने लंड के बातों को मानने के अलावा कोई रास्ता नहीं था. फिर सहेली के पापा ने बोला- तुझे अब तक कितनों ने भी चोदा हो, कोई बात नहीं … पर अब तुझे मैं ही चोदूंगा.

मेवाती सेक्स

प्यासे को मानो कुआँ मिल गया हो, अंकल बरसों से प्यासे आदमी की तरह मेरी चुत के अन्दर के चॉकलेटी रस को पीने लगे.

नम्रता अब तेज गति के साथ धक्के लगाती जा रही थी, जितनी तेज वो धक्के लगा रही थी, उतना ही मुझे मजा आ रहा था. तभी मीता का फ़ोन आया- आप कहां हो?मैं- मैं घर पर ही हूं, बाइक की चाभी नहीं मिल रही है … तो लेट हो गया. उसकी चूत का द्वार मेरी पहुंच के बहुत करीब था जिसको मैं हर हाल में पाना चाहता था इसलिए मैंने अपने लंड को उसकी चूत के मुहाने पर हल्का सा घिसा और फिर अन्दर की तरफ धकेलने लगा तो मेरे लंड का सुपाड़ा उसकी चूत में घुसते समय कहीं जैसे अटक सा गया.

तो हुआ यूं कि मेरी मामी की भाभी यानि मामा की सलहज (मामा के साले के पत्नी) की हार्ट अटैक से मौत हो गयी थी, तो मैं उनके मायके गया था. उसने मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसा और फिर उससे चुदने के लिए बुरी तरह से तड़पने लगी और मुझे खुद ही अपने ऊपर खींचने लगी. सेक्सी वीडियो बीएफ एचडी में हिंदीमेरी चूत उसका पूरा लंड अन्दर ले रही थी और वो जोर जोर से धक्के मेरी चूत में मार रहा था.

मैं- मजा तब आएगा, जब मैं तुम्हारी चुत का कबाड़ा करूंगा मेरी राधिका रानी. अब हम बस फिल्म देख रहे थे। फिल्म ख़त्म हुई। हम हॉल से बाहर आये। वो वाशरूम गयी, फिर हम उसी काम्प्लेक्स के मॉल में शॉपिंग करने गए। हम पति-पत्नी की तरह हाथ में हाथ डाले चल रहे थे जैसे वो मेरे साथ डेट पे आयी हो।वहाँ पर हमने कुछ शॉपिंग की। उसने मेरे लिए 2 टी-शर्ट ली, अपने लिए उसने कुछ नहीं लिया क्योंकि उसे अगले 2 दिनों तक कुछ पहनना ही नहीं था.

गहरे नीले रंग की इस पैंटी और ब्रा में अदिति काम की देवी लग रही थी, जिसको देख के कोई भी अपने आप पर से कंट्रोल खो देगा. सुधा ने झट से अपनी ड्रेस उठाई और मेरे को बोली- देर न करो … मुझे जल्दी से चोदो. क्योंकि तीसरी बार क़ुबूल है कहते ही अगले एक झटका दे मारा और पूरे लंड को गटक गई.

गिलास भर कर उसे रिया के हाथ में दे दिया और बोला- ये ले रंडी, पी ले इस अमृत को सारा, तेरा सारा खाना हजम हो जायेगा. गहरे नीले रंग की इस पैंटी और ब्रा में अदिति काम की देवी लग रही थी, जिसको देख के कोई भी अपने आप पर से कंट्रोल खो देगा. मैंने आगे से अपने ब्लाउज को थोड़ा ऊपर किया और बॉस के केबिन में चली गयी.

जैसा कि आप सभी ने पिछली कहानीभाई और आशिक ने की 3 सम चुदाईमें पढ़ा था कि मैंने अपने मौसी के लड़के यानि अपने मौसेरे भाई और राजीव से किस प्रकार खुली छत पर जोरदार बारिश में थ्री-सम सेक्स करवा कर मजा लिया था.

रमेश ने फिर अपना लण्ड रिया की गांड पर रखा और पूछा- क्यों रे रंडी की बच्ची, लण्ड चाहिए?रिया- हहम्म, हां चाहिए मुझे डैडी. मेरे दिमाग में बस एक ही बात आई कि खुशी को भी तो ये बात पता नहीं चल गई.

डॉक्टर ने कहा- मैं शाम को आ जाऊंगी, फिर सब कर के दिखाना, तब तक आराम करो. फिर रवि बॉस ने मेरी दाईं चूची को पकड़ा और अपने मुंह में तेजी से घुसा लिया और वहशी की तरह चूसने लगा. मैंने अपना लंड मुस्कान के मुंह के पास किया तो मुस्कान ने अपने एक हाथ से मेरा लंड अपने मुंह में ले लिया और पीछे उसकी चूत में मोनू ने लंड डाला हुआ था.

पर उनको कुछ फर्क नहीं पड़ा, वे मेरे दोनों हाथों को मेरे सर के ऊपर ले आये और अपने एक हाथ से पकड़ लिया, दूसरे हाथ से मेरा स्तन मसलते हुए हल्के हल्के धक्के देना शुरू कर दिया. चाची के निप्पलों की घुंडी मेरी जीभ पर लगती तो मैं उसको दांतों से काट लेता था और चाची स्स्स … करके मुझे अपने सीने से लगा लेती थी. मैंने उसे बेड पर गिराया और उसकी ब्रा में हाथ डाला और उसके बूब्स को नाप कर देखा.

प्रियंका चोपडा के बीएफ मौका मिलते ही चुसवाता भी बहुत था जिसके कारण मेरे बूब्स का आकार नॉर्मल से थोड़ा बड़ा हो गया था. नम्रता- हां मेरे राजा, बस ऐसे ही मेरी गांड चुदाई चालू रखो, बहुत मजा आ रहा है.

इंग्लिश सेक्सी पिक्चर इंग्लिश सेक्सी

मैं नीचे लेट गया और वो मेरे ऊपर आकर मेरे लंड को पकड़ कर चुत में सैट करने लगी. और तुम सिर्फ होटल में बैठी थीं … कुछ और तो नहीं करने गई थी ना!मीता- नहीं, मैं उससे सिर्फ बात करने गई थी … थैंक्स. उस नजारे को देख कर लग रहा था जैसे आज मैंने किसी पोर्न स्टार की चूत मारी है.

उनके स्पर्श में मर्दानगी थी, पर उस वक्त मुझे तकलीफ ना हो, उसका भी ख्याल वे रख रहे थे. अब आगे:इत्तेफाक तो होता नहीं है, लेकिन करिश्मा कब हो जाए, कोई बता नहीं सकता. रोने वाली बीएफहम तीनों का नशा फट चुका था।कुछ देर बाद मैं उठा और कपड़े पहन कर जाने लगा तो हरकेश ने पूछा- कहां जा रहे हो?मैंने कहा- तुम यहीं रुको, मैं एक बोतल और लेकर आता हूं.

मैंने फिर टोका- यार ये गलत बात है, तुम मेरी तारीफ करना बंद करो और जो कहने वाली थीं, वो कहो.

पहले तो मैंने उसकी फांकों के आस-पास जीभ चलाना शुरू किया, फिर फांकों को फैलाकर अन्दर लालिमा युक्त घेरे पर अपनी जीभ चलाने लगा. उससे बातचीत के दौरान मैंने उससे साथ सहानुभूति जताई और कहा कि आपका पति नादान है, जो आप जैसी खूबसूरत बीबी से तलाक़ चाहता है.

मेरे लंड को सीमा ने अपने मुंह में लेकर चुसना शुरू कर दिया ताकि वो खड़ा होकर गांड में जाने के लिए रेडी हो जाए. गुप्ताइन ने शर्मा कर आँखें नीचे कर लीं लेकिन लण्ड पर से हाथ नहीं हटाया. मैंने भी नम्रता को अपनी तरफ खींचकर अपने से चिपकाते हुए कहा- जान, पहले तुम्हारी झांट ही बनाता हूं, उसके बाद तुम्हारी चिकनी चूत के रस के साथ बियर पीयूंगा.

फिर गर्लफ्रेंड ने भी मेरे हाथ पर किस किया। अब थोड़ी हिम्मत आ गई और थोड़ी आगे वो बढ़ी, थोड़ा आगे मैं बढ़ा.

वहाँ मैंने उसकी चूत देखी तो वो वो लाल होकर पूरी तरह से सूज गई थी। मैंने उसकी फूली चूत पर एक किस किया तो वो शरमा कर रूम में भाग आयी।थोड़ी देर आराम करने के बाद मैंने और उसने एक और राउंड चालू किया. एक बार फिर बेड पर कुतिया की तरह करके इस बार गांड के ऊपर लण्ड को रख कर सुपारे के ऊपर तेल लगा कर उस की गांड में डालता हुआ बोला- साली, आराम से करवाती तो दर्द नहीं होता!करीब करीब पूरा लंड मैंने एक ही धक्के से पेल दिया. अभी तक उसकी चुदाई करते हुए मुझे बीस मिनट हो गए थे और अब मैं झड़ने वाला था.

गुजराती बीएफ फुल एचडीमैंने कहा- क्या देख लिया था?भाभी हँसते हुए बोली- तुम्हें नहीं पता क्या?मैं- नहीँ भाभी, मैं तो यहाँ इसलिये आया था कि मां ने बताया कि बाजार से आपके लिए कुछ सामान लेकर आना है. मैंने कहा- ठीक है माँ, मगर मुझे आपकी चुत का पानी चाटना है, मुझे बहुत अच्छा लगा था.

पेनडर्म प्लस क्रीम

दो-तीन मिनट में उसने हथियार डाल दिये और मैंने पूरा लौड़ा उसकी गांड में उतार दिया. उसके बाद हम थका थका महसूस कर रहे थे तो बाथरूम में जाकर गर्म पानी से नहाये. उन्होंने इतनी जल्दी मेरे सारे कपड़े उतार दिए कि मुझे कुछ पता ही ना चला.

फिर मेरी जानू की आवाज आई- भाभी, आपके पपीते तो बहुत बड़े हो गई हैं, लगता है मेरे भैया रोज़ इसकी खातिरदारी करते हैं. उनकी गांड के दोनों उभरे हुए चूतड़ों बीच मैं जब मैंने अपना उंगली घुसा दी. मैं मन ही मन सोचती किस गांडू से शादी हो गयी मेरी?”इस तरह एक साल गुजर गया.

फिर हम तीनों ने एक साथ शावर लिया और मैंने शावर में ही जूली को किस करना शुरू कर दिया. हम काम के बहाने से एक दूसरे की तारीफ़ कर देते थे और मुस्करा देते थे. काली ब्रा के ऊपर से मैं उसके दोनों मम्मों को ज़ोर ज़ोर से मसलने लगा.

उस वक्त हरकेश बिस्तर पर लेटा हुआ था और सुमन उसके लंड पर कूद रही थी. क्या गजब की चूची हैं मेरी बिटिया की!उसके बाद मैं अपनी बिटिया को बिस्तर पर लिटा के उसके पूरे नंगे और सेक्सी बदन को चूमने लगा.

दीपाली- तुम मीरा रोड में रहते हो?मैं- हां … और तुम कहां रहती हो?दीपाली- मैं भायंदर में रहती हूँ.

नम्रता ने मेरे दोनों कलाईयां पकड़ीं और मेरे हाथों को अपने मम्मों पर रख दिए. एक्स मूवी फिल्मउसी समय उसकी इस आदत ने मुझको गरमा दिया था और उसके साथ सेक्स करने को उत्तेजित कर दिया था. ब्लू सेक्सी वीडियो चलाएंतब तक मेरा दर्द सिकाई और क्रीम के लगाने से कम हो चुका था परन्तु लण्ड फिर भी तना हुआ था. मैं उनके घर गई तो भैया ने जाते ही मुझे अपनी बांहों में भर लिया और मुझे चूसने लगे.

नीचे स्कर्ट जैसी कोई मॉडर्न ड्रेस थी। मैं सिर्फ शॉर्ट्स में था। उसने खाना लगाया.

अब हम दोनों काफी खुल चुके थे और मुझे पता था कि आज की रात एक बांके गबरु जवान का लंड मेरी चूत का बैंड बजाने वाला है. मैं जानता था कि जब तक मानसी मामा के लड़के राज का लंड अपनी चूत में नहीं लेगी वो हेतल को यहां से नहीं जाने देगी. वैसे तो मैं एक पैग में मैनेज कर लेता था, मगर आज शुभ्रा ने भी डिमांड रख दी, सो शुभ्रा के जाने के बाद मैंने अपनी पॉकेट चेक की तो पाया कि एक क्वार्टर के लिये पैसे हैं। मैं चुपचाप बहाना बनाकर घर से निकला और एक क्वार्टर खरीद कर ले आया।मामा अपने दोस्तों के साथ बिजी थे, इसलिये उनकी तरफ से कोई दिक्कत होने वाली नहीं थी.

मैं उनकी बात सुनकर हैरानी से उनकी ओर देखने लगी और सोचने लगी कि कहां मैं दूसरे स्कूल में धक्के खाने की सोच रही थी, यहां तो मुझे चूत के बदले में प्रमोशन भी फ्री मिल रहा है. डॉक्टर मुस्करायी और बोली- आमिर, अंडरवियर भी उतारिये, मैंने आपको बचपन में कई बार नंगा देखा है और फिर डॉक्टर से कैसी शर्म?मैंने धीरे धीरे अंडरवियर नीचे कर दिया और लण्ड सरसराता हुए तन कर बाहर आ गया. तो शर्मा सर भी उतनी ही फुर्ती से उठे और दरवाजे मैं पैर फंसाकर मुझे दरवाजा बंद करने से रोक दिया- इतनी जल्दी भी क्या है … मुझे भी तुम्हें सुसु करते हुए देखना है.

तेरे नाल प्यार हो गया सॉन्ग

उन्होंने कहा- अब मेरी चुत चाटो!तो मैं अपने घुटनों के बल बैठ गया, उन्होंने अपने पैर फैलाये और मैं उंगलियों से दीदी की चुत में अपनी जीभ डाल कर चाटने लगा और एक हाथ ऊपर करके दीदी की चूची दबाने लगा. मैंने संजना को अपनी तरफ खींचा और अपना लौड़ा संजना के मुँह में घुसा दिया, जिससे लंड चिकना हो जाए और शीना की गांड मारने में मुझे कोई तकलीफ ना हो. आह्ह … होह … अह्ह … मेरी सांस फूल रही थी और वीर्य की पिचकारियां चाची की चूत में लग रही थीं.

सच में जब माणिक मेरी जांघों को हल्का हल्का मसल रहा था, तब मुझे ये सब बहुत अच्छा लग रहा था.

इतना कह कर मैंने उसके मम्मी की नाइटी पहन ली और उसके पापा के बेडरूम में चली गई.

उसके घर में फ्रेश होने के बाद तुषार मुझे अपने बाइक पर बिठाकर उधर ले आया, जहां मैंने एक्टिवा रख दी थी. मोर्निंग वाक पर आने वालों की भीड़ रोज की तरह ही थी; जहां मैं बैठी थी वहां भी आसपास इक्के दुक्के लोग आ जा रहे थे. बीएफ वीडियो एचडी वीडियो एचडीफिर रमेश को देख रिया बोली- ये देखो डैड, तुमको ये देखकर अच्छा लगेगा।रमेश- क्या?रिया ने अपनी चूत फैला कर दिखा दी.

कुछ ही देर में मैंने धीरे से प्रयास करते हुए पूरा लंड शिखा की गांड में उतार दिया. रिया मस्ती में ठुकवाती जा रही थी।सिसकारते हुए वो बोली- आह्ह डैडी, ये तो बहुत अच्छा माल तैयार हो रहा है, मुझे खिलाओगे न?रमेश- हां डार्लिंग. [emailprotected]भाई बहन का सेक्स कहानी का अगला भाग:छोटी बहन ने मस्तराम कहानी पढ़ते पकड़ लिया-2.

रितेश भी मौके की नज़ाकत देख कर तेज़ी से धक्के लगाने लगा और करीब 10-15 मिनट की चुदाई के बाद दोनों झड़ गए. बस एक बार फिर जीभ ने जल्दबाजी कर दी और बिना इजाजत लिए उस छेद के अन्दर प्रवेश कर गया और अपना काम करना शुरू कर दिया.

मैंने अपने सारे कपड़े पहन लिए और उस कामवाली को भी उसके सब कपड़े ठीक करते हुए पहना दिए.

मैं सोचने लगा कि भाभी के साथ क्या नया करना चाहिए? उसके बाद मेरे दिमाग में एक आइडिया आया. तभी वसुन्धरा की पेंटी में अटका हुआ उस की चुनरी का सितारा, पेंटी के फैब्रिक से आज़ाद हो गया जिसका एहसास तत्काल वसुन्धरा को भी हो गया. इससे मेरी हिम्मत और बढ़ गई और मैं अपने हाथों को उसकी जांघों पर फिराने लगा.

সেক্স ভিডিও ডটকম সেক্স ভিডিও घर वालों तक उनके प्रेम प्रसंग की बात पहुंची और उनकी शादी भी तय हो गई. जब कई दिन मानसी की गांड मारे हुए हो गये तो मैंने उसको एक रात चुपके से अपने कमरे में बुलाया और दरवाजा बंद करके उसकी गांड की चुदाई कर डाली.

अदिति ने हंसते हुए खुद ही अपने हाथ से ब्रा खोल दी और बोली- अभी एक्सपीरियंस नहीं है तुम्हें!यह कह कर वो हंसने लगी. ईशश … अंकल क्या कर रहे हो?”नीतू तुम्हारी चुत की खुशबू सूंघ रहा हूँ. फ़िर दो दिन बाद हम वापस आ गए और मैंने विनीता को फ़ोन करके सब बताया, तो वो बहुत ज़ोर से हंसी.

कहानियां दिखाइए

चाची दो पल बाद मुझे सहलाते हुए बोलीं- तेरा माल बहुत ज्यादा निकलता है. मुझसे भी रुक पाना बर्दाश्त नहीं हो रहा था, लेकिन हीना की पकड़ में मुझे छटपटाने का ज्यादा अवसर नहीं मिल रहा था. घर पहुंची तो मेरा दिल जोर जोर से धड़क रहा था और मेरी मम्मी घर के बाहर ही मुझे खोज रहीं थीं.

मेरी गांड दवा के प्रभाव से सुन्न हो चुकी थी, तो मुझे पता ही नहीं चला. मेरी सहेली की तरह मैं भी बॉयफ्रेंड बनाना चाहती थी और एक पड़ोस के लड़के से मेरी बात शुरू हो गयी.

अगर चूत से बच्चियां निकालतीं तो शायद चूत का चौबारा हो जाता लेकिन ऑपरेशन के कारण चूत की कसावट ज्यों की त्यों सलामत रही.

जब नींद खुली तो मेरे शरीर ने कहा कि बेटा चुदाई बहुत हो गई … चल कुछ खा पी भी ले. मैं भी समझ गया कि आज मौसी की चुदाई मेज़ पर ही करनी पड़ेगी और शायद मौसी भी यही चाहती हैं. कहकर वो मुझे घूरते हुए रसोई में चली गयी, इधर मामी बड़बड़ाते हुए बोली- ये लड़की नहीं सुधरेगी।शुभ्रा गिलास लिये हुए वापिस आकर खाना खाने लगी और हल्के से अपना हाथ उसने मेरी जांघ पर फेर दिया.

वैसे लड़के अक्सर लड़की को देख कर चोदने की प्लानिंग करना शुरू कर ही देते हैं. हीना कुछ देर धीमी गति से कमर हिलाती रही, फिर शांत होकर उसने मेरे सीने पर सर टिका दिया. अचानक से अंकल पीछे हट गए, मुझे ऊपर से नीचे देखते हुए बोले- नीतू … आज पहली बार तुम्हें नंगी देखूंगा.

सभी को नमस्ते![emailprotected]अन्तर्वासना साईट का आइकॉन मोबाइल होम स्क्रीन पर डालें.

प्रियंका चोपडा के बीएफ: मैंने उनको जोर से दबोच लिया और उनके होंठ अपने होंठों में लेकर कसके चूसने लगा. मुझे देख कर उनकी आंखें खुशी से चमक उठीं, मेरा हाथ पकड़ कर मुझे घर के अन्दर खींचा और किसी ने देखा नहीं, इसकी तसल्ली करके दरवाजा अन्दर से लॉक कर दिया.

मैं और देखना चाहती थी कि ये और क्या करेंगे।अचानक से सुमीना और तेज चिल्लाने लगी- आअ अअहह हह पाहपहापा पापपापापाह पहाहप गयी मैं तो आअअह अअहांआ आआ आआ गया!और यह कहते हुए अपने दोनों हाथों से अपने पापा का मुँह अपनी चूत पर दबा लिया. मैं तुरन्त ही घूम गयी और 69 की पोजिशन में आकर उनके लंड को चूसने का मजा लेने लगी. इंटरव्यू दूसरे शहर में था तो मैं डॉली के साथ वहां चली गयी और सबकुछ ठीक से निपट गया और कुछ दिनों बाद रिजल्ट आया तो मुझे प्रोबेशनरी अधिकारी की जॉब मिल गयी थी.

घर पहुंची तो मेरा दिल जोर जोर से धड़क रहा था और मेरी मम्मी घर के बाहर ही मुझे खोज रहीं थीं.

नम्रता ने शायद लंड मसलते हुए देख लिया था, इसलिए उसने मुझसे अपने आपको छुड़ाया और मुझे पलंग पर बैठने के लिए बोलकर खुद नीचे बैठ गयी. मैं बोली- मैंने बताया न दीदी हमारे बीच सब कुछ बहुत अच्छा है, लेकिन आप ये बार-बार क्यों पूछ रही हो?फिर दीदी बोली- सुबह जब तू जीजू के पास गयी थी न. जब भाभी किचन में चीनी लेने गई तो मैंने भैया के लंड पर हाथ फेर दिया.