दिल्ली कॉलेज बीएफ

छवि स्रोत,क्सक्सक्स सेक्सी वीडियो सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

राज शर्मा की कहानी: दिल्ली कॉलेज बीएफ, उसने जानबूझ कर यह सब कहा होगा ताकि वो उसकी चूत पर जल्दी से अपना लंड डाले.

सेक्सी वीडियो कुत्ता बिल्ली

उसको ठीक कराकर घर छोड़ने में रात हो गयी, जिसका धन्यवाद उसने मेरे होंठों पर किस करके दिया. सेक्सी पिक्चर राजा वीडियो मेंमयूरी ने फिर से जोर देते हुए कहा- अब तुम दोनों अंदर जाओगे या मैं अपने हाथ से ही अपने आपको सुखी कर लूँ.

फिर वो मेरे ऊपर आकर बोले- सीमा मेरा वजन झेल लोगी ना?मैंने बोला- हां. सेक्सी वीडियो दो लड़कों के साथअशोक- अच्छा?मयूरी- हाँ…अशोक- फिर?मयूरी- फिर मैंने ये निश्चय किया कि मैं आपको आपका हक़ जरूर दूंगी अगर आप की मर्ज़ी हुई तो.

इन्होंने मेरे पति का नाप मँगवाया हुआ है जो एक बार टेस्ट करोगी, तो किसी लड़के का लंड लेना भूल जाओगी.दिल्ली कॉलेज बीएफ: मामी ने मुझे बोला कि अब से रोज तुम्हीं मुझे चोदोगे और अगर ऐसा नहीं किया तो मैं तुम्हारे मामा को बता दूँगी कि रोहन मेरा वीडियो बना रहा था.

जैसे मेरी चूत में लंड घुसा लगा कि मैं मर गई, मुझे इतना तेज दर्द हुआ, तो समाली अंकल जल्दी से अपने होंठों से मेरे होंठों को काटने लगे.जैसे ही वो स्खलित हुईं, मैंने अपना लंड तैयार किया और उनकी रस छोड़ती हुई योनि में लगभग तीन इंच तक घुसा दिया, जिससे वो एकदम फड़फड़ा उठीं, वो कराहते हुए बोलीं- अबे भोसड़ी के,मादरचोद.

हिंदी सेक्सी मारवाड़ी एचडी - दिल्ली कॉलेज बीएफ

हमारे पड़ोस में एक भइया भाभी हैं और इस कहानी की नायिका यही भाभी जी हैं जिनका नाम आयशा है.”मैंने हंस कर उसकी साड़ी खींच कर निकाल दूसरे हाथ से उसके 36 साइज के चूतड़ दबा दिए.

जब मेरी प्रमोशन होगी, तब मैं तुमे अपने साथ ही रखूँगी और तुम्हारी रिपोर्ट किसी से कह कर बनवाया करूँगी. दिल्ली कॉलेज बीएफ अब मैंने मुस्कान से कहा- जान, मैंने तो तुम्हारी चूत को गीला कर दिया है, अब मेरे लंड को भी थोड़ा प्यार दे दो.

अब मैंने भी अपने सारे कपड़े निकाल दिए और उसके बगल में नंगा होकर लेट गया.

दिल्ली कॉलेज बीएफ?

मैंने उन्हें कहा- पांच मिनट आराम तो कर लो!उन्होंने कहा- नहीं मेरे राजा, मैंने तुम्हें आराम करने के लिए नहीं बुलाया है. उसे वो ड्रेस देते समय एकदम जोर से बिजली कड़की और लाईट चली गयी, वो एकदम से डर गयी और मुझे पकड़ लिया. स्कूटी के झटकों से वो मेरे लंड पर अपनी मस्त गर्म गर्म और नर्म नर्म गांड भी घिस रही थी.

लेकिन नौकरानी तो बहुत समझदार थी, उसे मालूम था कि उसकी मालकिन आज चुदने वाली है मुझसे … उसने मुझे दूर से आंख मारी और वह बाहर चली गई. अब मैंने लंड को चुत पर रखकर जैसे ही धक्का लगाया, तो लंड का सुपारा चुत में गायब हो गया और दर्द का रंग एकदम साफ से उसके चेहरे पर झलकने लगा. जैसे ही चाचा ने अपनी एक उंगली को चाची की चूत में घुसाया कि चाची का पूरा बदन सनसना उठा और वो अपने बदन को ऐंठते हुए चूतड़ उछालते हुएऔर बड़बड़ाने लगीं- ओह.

फिर मैंने उसे कास के अपनी बांहों में जकड़ लिया और उसको नाईटसूट पहनने को कहा, वो बाथरूम में जाकर एक झीना सा गाउन पहन कर आ गई. विक्रम- अरे हाँ… कल तो तुम्हारा जन्मदिन भी है न… वाओ!फिर तीनों भाई-बहन ने आपस में खूब चुदाई की. मैंने उसको अहसास दिलाया कि मेरे लिये हमारी दोस्‍ती ज्‍यादा मायने रखती है।कुछ दिन बाद उसने मुझसे पूछा- क्या तुम्हारे माता-पिता ने तुम्हारी शादी अभी तक कहीं पक्की नहीं की?मैंने कहा- मेरे पिता तो बहुत जल्दी कर रहे हैं मगर मैं ही नहीं मानती.

मैंने देखा कि मामी अपनी पेंटी उतार कर अपनी उंगलियों को चुत में घुसा रही हैं और अपनी बुर को रगड़ रही हैं. लंड को चुत में निकालने डालने का यह क्रम बिना रुके लगातार आधे घंटे तक चलता रहा.

उनके पास लाइसेंस होता है करने का और हम लोगों के पास नहीं है इसलिए हम लोग बॉयफ्रेंड बनाती हैं चुदाई करने के लिए, अब समझी!हा यार … मतलब तू भी चुदाई करती है मानसी अभी से?”मानसी- हाँ, मैं तो कई बार कर चुकी हूँ.

माइक ने एक और आखरी हल्का धक्का दिया और तारा के ऊपर अपना पूरा वजन गिरा दिया.

मैं शहर की रहने वाली हूँ तो आप लोगों को तो पता होगा कि मैं कितना फैशन में रहती हूँ. मैं जानबूझ कर तौलिया ऐसे बाँधती थी ताकि वो किसी दिन उसके सामने नीचे गिर जाए और वो मेरी चूत और मम्मों के दर्शन कर ले. मैंने उसकी टांगों को फैलाया और उसके दोनों घुटनों को थोड़ा मोड़ा तो वह घबराने लगी और बोली- यह तो बहुत मोटा है, मुझे डिल्डो से ही मजा दे दो.

सर ने मुझे घुटनों के बल बैठने को कहा और अपना लंबा और मोटा लंड मेरे मुँह के सामने रख दिया और चूसने को बोला. कम्मो के गले से दुपट्टा निकाल कर उसके मम्में सहलाते हुए उसे चूमने लगा, उसके शहद से मीठे होंठ चूसने लगा और सलवार के ऊपर से ही उसकी जांघें सहलाते हुए मेरा हाथ उसकी चूत तक पहुँचने लगा. उसके बाद से उनका व्यवहार मेरी तरफ कुछ अलग सा हो गया था, वो मुझसे बातें करते, मेरी क्लास में खूब तारीफ करते.

खैर अब वो शहर छोड़कर जा चुकी हैं लेकिन उनका दिया वो तोहफा अभी भी है.

मैंने झटके मारने शुरू कर दिए और हर झटके से उसकी सिसकारियां निकलने लगीं. मैं अक्सर अपनी मौसी के घर जाता रहता हूँ, क्योंकि मैं अपनी मौसी को बहुत पसंद करता हूँ. धन्यवाद अन्तर्वासना, आपने मेरी पहली गे सेक्स स्टोरीऐसे बना चंद्रप्रकाश से चंदा रानीको अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित किया.

वो बस अपने काम में बिजी रहते थे और कभी कभी मूड बनता था तो एक या दो बार मुझे चोद लेते थे. मामा और मामी का अपने बेडरूम में सोते थे और मैं बाहर हॉल में सोफे पे सोता था. नींद में उसकी नाइटी ऊपर की ओर खिसक गई थी और नीचे उसने पैंटी पहनी हुई थी.

वो नम्बर देने में बहाने बनाने लगी तो मैंने भी बोल दिया- क्या तुम्हें मुझ पर भरोसा नहीं है?तो अंत में उसने भी नंबर दे ही दिया.

पर मैंने एक शर्त रखी कि मैं आऊंगा पर आपके घर नहीं बल्कि किसी होटल में रुकूँगा. कुछ पल बाद प्रिया का दर्द कुछ कम हुआ और वो अपनी गांड को हिलाकर मेरा लंड अपनी चूत में लेने लगी और उसकी मादक सिसकारियां निकलने लगीं ‘ओह्ह हह … आहह … उहह हहहह …’कुछ ही देर में अब प्रिया अपनी गांड को जोर जोर से हिलाना शुरू कर दिया और मैंने भी अपनी चुदाई की स्पीड ओर तेज कर दी.

दिल्ली कॉलेज बीएफ आज से जैसा दिनेश बोलता है, तू वैसा ही कर ले, तू मेरी रंडी और रखैल बन जा, तेरा पूरा खर्चा मैं उठाऊंगा. तभी समाली अंकल, जिनका घर था, बोले- इतनी देर में वन्द्या खुली है तू, लाल जी ने सब बताया है कि तेरे सामने सभी रंडियां भी फेल हैं.

दिल्ली कॉलेज बीएफ कॉलेज में लंच के टाइम उसने अपने एक दोस्त को बोला कि मिलने के लिए रूम चाहिए, हमें रूम मिल गया. कुछ देर के बाद दोनों कपड़े पहनने लगे और मैं दबे पांव अपने बिस्तर पर चला गया.

मयूरी आंखें बंद करके इन सुखद पलों का आनंद लेने लगी, साथ ही साथ वो रजत के लंड के साथ खेलती रही.

सील पैक चुदाई वीडियो

मैं पागल सा हो गया, खिड़की भी बन्द थी, अब उन दोनों की चुदाई कैसे देखूँ. जब मैंने ऐसा कहा तो उसने प्यार से मेरी तरफ देखा और मेरे गाल पे किस करके भाग गई. काफ़ी देर मेरे चेहरे को प्यार करने के बाद में वो मेरी गर्दन पर किस करने लगे.

मेरे पड़ोस में एक लड़की थी, जिसका नाम स्नेहा था और उसके साथ मेरी सामान्य बातें होती रहती थीं. तभी मनोहर ने अपना लौड़ा मेरे मुँह के पास लाकर बोला- साली छिनाल वन्द्या, चल आज मेरे लंड को इतना चूस. मैं उनके सामने घुटने टेक कर बैठा और उनकी मस्त चिकनी टांगों पर हाथ रखते धीरे धीरे सहलाने लगा.

मैंने कहा- तुम्हें उसकी कसम होगी, जिसको तुम सब से ज़्यादा प्यार करते हो … अगर नहीं बताओगे तो.

एक तो प्रिया की इतनी मस्त कमर और ऊपर से उसकी गोरी गांड देख कर मन कर रहा था कि बस उसकी चुदाई करता रहूँ. यूं ही उसे चूसते चूसते मैंने उसकी स्कर्ट और पेंटी निकाल दी और चूत के आस पास जीभ फिराने लगा. क़रीब 15 मिनट की लगातार चुत-चटाई में मयूरी एक बार झड़ गयी और रजत अपनी कामुक सगी बहन के कामरस का एक एक बून्द चाट गया.

मैंने उसका फेसबुक खोलकर देखा तो पायल ने अलग नाम से अकाउंट बनाया था. दो दिन के बाद मेरे बड़े भाई की लड़की और उसका पति आया था, सब मेहमान नवाजी में लग गए. जब मुझे लगा कि कुछ गड़बड़ नहीं हुई है, तो मैं फिर से नेहा के कॉलेज की तरफ जाने लगा.

मैंने उसका टावेल उतार दिया और किस करते हुए एक हाथ से उसकी चूचियां दबाने लगा. प्रिया ये सब लेटे लेटे देख रही थी और मस्त चुदाई को लेकर अपनी आँखों में वासना की खुमारी दर्शा रही थी.

कम्मो बताओ न लंच में क्या क्या खाने का मन है तेरा?” मैंने अपने हाथ का दबाव उसकी जांघ पर बढ़ाते हुए पूछा. मगर उसे कितने पैसे दोगी?मैंने कहा- जो भी यहाँ का रेट होगा, वो दूँगी. इतने में जो सबसे एजेड अंकल थे, वे आए और सीधे मेरी चूत में अपना मुँह रख दिए और बोले- इसकी तो चूत बहुत बह रही है.

कुछ देर तक मैं नीचे से बिना कोई हरकत किये ऐसे ही प्रिया के बदन पर लेटे हुए उसके होंठों व गालों को चूमता चाटता रहा और उसे सांत्वना देने के लिये उसके सिर के बालों को भी प्यार से सहलाता रहा, जिससे प्रिया कुछ शांत होने लगी.

किस मूड में थी यह जालिम औरत। मैं कशमकश का प्रदर्शन करता उसे देखता रह गया और वह उठ कर बाथरूम में घुस गयी।वैक्सिंग के सामान को हटा कर मैं उसी टेबल पर बैठ कर मसाज का वीडियो देखने लगा। यह कोई नयी चीज नहीं थी. लेकिन रेस लगाते हुए क्या कोई धीमी रफ़्तार से भाग कर जीतने की सोच सकता है! कुछ धक्के लगाने के बाद मेरे लंड ने स्वतः रफ़्तार पकड़ ली और मैं दुबारा हुचक-हुचक कर चुदाई करने लगा. ये कह कर आंटी ने अब अपनी जांघें और अधिक चौड़ी करके कपड़े धोने की स्पीड बढ़ा दी.

फिर उन्होंने मुझे अपनी तरफ को किया और बोले कि मुझे तुम बहुत अच्छा लगते हो और मैं तुम्हें प्यार करना चाहता हूँ. मयूरी- पर, माँ को पूरी बात नहीं पता?अशोक- कौन सी बात नहीं पता शीतल को?मयूरी मुस्कुराते हुए- माँ को ये नहीं पता की मैंने अपने भाइयों से पहले से चुदवाया हुआ है.

अब मैं नारी के नग्न सौन्दर्य का आनन्द लेते हुए उसकी मदमस्त जवानी के रस को भोगने में लग गया था. आख़िर मैंने ही फैसला कर लिया कि मैं अब इसके साथ नहीं रहूंगी और रोते रोते धीरज को अपनी बात कह दी। मगर इसका भी उस पर कोई असर नहीं हुआ।धीरज ने चुपचाप अपनी बदली भी शहर की दूसरी शाखा में करवा ली। अब मुझसे सिवा घर पर मिलने के अलावा और कोई समय नहीं मिलता था और घर पर वो मुझसे कोई बात नहीं करते थे। दुखी होकर एक दिन मैं ही अपने पिता के घर चली आई, उनसे कहा कि मैं कुछ दिन आपके साथ रहना चाहती हूँ. मामी के नाख़ून से मेरे पीठ पे बहुत सारे निशान बन गए, लेकिन मैंने उस पर इतना ध्यान नहीं दिया.

करीना कपूरsex

हमारे बीच जो अनैतिक सम्बन्ध परिस्थितिवश बने वो अलग बात है पर मैं अच्छे से जानता हूं मेरी बहू कोई बिगड़ी या बदचलन नहीं है जो मुझे कोई लड़की पटा के सौंप दे और चुदाई की व्यवस्था भी बना दे.

उसका नाम गौरी था, अब आपको तो पता ही होगा कि बंगाली आइटम कितने हॉट और रसीले होती हैं. मेरा सुडौल व कड़क लंड मामी की नर्म, रसीली और गुनगुनी गर्म चूत में सटाक से फिसलता हुआ एक ही बार में गहराई तक जा धंसा. और वो अपने पापा की एकदम नजदीक बैठी है इसलिए जरा सा भी हिलने-डुलने पर उसकी चूचियां उसके पापा की चेहरे से टकरा रही थी.

दूसरे ही पल पूरा लंड जोर के धक्के के साथ पहले से भी ज्यादा अन्दर तक घुसेड़ दिया. फिर उसने सोचा कि अपने भाइयों को टारगेट करती हूँ, पर किस भाई को, छोटे को या बड़े को … यह फिर बहुत मुश्किल सवाल था, बहुत सोचने के बाद उसने फैसला किया कि दोनों पर लाइन मारी जाये, जो पट गया उसी का लंड अपनी चुत में डलवा लूंगी, पर चुदाई तो होकर रहेगी. पिक्चर सेक्सी नेपालीसबसे पहले मैंने अपना बैग खोल कर सेक्स वर्धक गोली निगल ली; ऐसी दवा मैं हमेशा अपने साथ इसी प्रकार की इमरजेंसी के लिए रखता हूं; हालांकि सामान्य तौर पर इसकी जरूरत नहीं पड़ती लेकिन जब लड़की ‘चोदना’ हो तो अपना हथियार भी भीषण युद्ध के लिए तैयार होना चाहिये ताकि सामने वाली से अपना लोहा मनवा सके और कामयुद्ध को निर्णायक रूप से जीत सके; ऐसा न हो कि मेरे लंड के नाम पर बट्टा लगे.

थोड़ी देर बाद मामी जी ने अपनी लेफ्ट जाँघ को उठा कर मेरी कमर पे रख दी और प्यार से मेरे होंठों को चूमने लगीं. मैंने खूब बारीकी से चेक किया केबिन में कोई भी सीसीटीवी कैमरा नहीं था; केबिन का दरवाजा भी ठीक ठाक था; कहने का मतलब वहां पूरी प्राइवेसी थी.

अंधेरे में अपने मैंने लंड को थोड़ा आगे किया तो दीदी की गांड का स्पर्श हुआ. वो सब को सरप्राइज कर देना चाहती थी और इसीलिए उसने सबको एक दूसरों से चुदवा भी दिया था पर फिर भी किसी को अपने सिवा किसी और की चुदाई के बारे में कुछ जानकारी नहीं थी, जैसे कि विक्रम और रजत को मयूरी और शीतल की बीच हुई चुदाई और मयूरी और अशोक के बीच हुई चुदाई के बारे में कोई जानकारी नहीं थी. उसने मेरी चूत में उंगली और हाथ रख कर कहा- चाचा ऐसी गुलाबी मस्त चूत मैंने अपनी जिंदगी में नहीं देखी.

शाम को शीतल के जागने के बाद मयूरी उससे मिली और शीतल ने पूरे विस्तार से उसे अपने दोनों बेटों से चुदने की गाथा बताई और दोनों माँ बेटी बहुत खुश हुई क्योंकि दोनों ने अपनी जंग जीत ली थी. मुझे कोई भी काम होता था तो मैं उस लड़के के साथ उसकी बाइक से बाजार जाती थी और बाजार से सामान लाती थी. हाँ इतना ज़रूर वादा करती हूँ कि जितने दिन मैं यहाँ हूँ, तुम ही मेरे परमानेंट एस्कॉर्ट रहोगे.

हम दोनों एक दूसरे को झकझोरते हुए और मदमस्त चुदाई के बाद चरम पर पहुंच चुके थे.

पहली बार किसी लड़की की मसाज कर रहे हो?उसकी इस बिंदास भाषा से मैं भी थोड़ा खुल गया और बोला- मसाज तो बहुतों की की है, लेकिन आप में तो अलग ही बात है. कुछ देर बाद मैंने प्रिया को डॉगी स्टाइल में आने को बोला और मैं उसके पीछे घुटनों के बल खड़ा हो गया.

हाय मार डाला चोदू राजा, ठीक है कर ले, पर पहले मुझे तेरा मोटा तगड़ा गोरा-गोरा लंड अपने हाथ में पकड़ना है. चाचा- क्या करूँ रानी, तुम्हारी चूत ही ऐसी है कि चोदे बिना नहीं ठहर सकता. फिर उसने मेरी समीज उतारनी चाही पर मैंने मना कर दिया क्योंकि मैं अभी तक किसी के सामने नंगी नहीं हुई थी, मुझे शर्म आ रही थी.

फिर उन्होंने पूछा कि अब हम दोनों बाकी का प्यार कब करेंगे?मैंने कहा- जब भी आप बोलो?फिर मैं वहां से चला गया. मुनीर के अलग होते ही तारा माइक के ऊपर घोड़े पे बैठने के अंदाज़ में बैठ गयी और लिंग को हाथ से पकड़ योनि की दिशा दिखा बैठ गयी. अभी मैं ये सब सोच ही रहा था कि भाभी ने अपने पैर से पीछे से मुझे टच किया और अपने ऊपर आने का इशारा किया.

दिल्ली कॉलेज बीएफ कुछ देर तक मैं नीचे से बिना कोई हरकत किये ऐसे ही प्रिया के बदन पर लेटे हुए उसके होंठों व गालों को चूमता चाटता रहा और उसे सांत्वना देने के लिये उसके सिर के बालों को भी प्यार से सहलाता रहा, जिससे प्रिया कुछ शांत होने लगी. दीमा के लंड ने ब्लोंड लड़की का मुंह वापस कब्ज़ा कर उसमे अपने मोटे लंड द्वारा उथल-पुथल करनी शुरू कर दी थी और मैं नताशा की दूसरी, बाईं बांह और वक्ष स्थल के बीच में लंड को घिसने लगा था.

राजस्थानी माल

मेरी मंशा जानकर वो पहले तो मुस्कुराईं फिर अपने दोनों पैर खोल कर मेरा स्वागत किया।मैंने भी देर न करते हुए अपने होंठ उनके नीचे वाले होठों (चूत) पर लगा दिये और अपने तरीके से पहले धीरे धीरे अपनी जीभ से फिर जल्दी जल्दी उनके चूत के दाने से खेलने लगा और वो मस्ती में सिसकारियां भरने लगी. मैं जयपुर से दिल्ली आया, मेरी भाभी और भतीजी दोनों मुझे देखकर बहुत खुश हुईं. मैं तेरी मम्मी की भी कल परसों में अपने किसी दोस्त या इन समाली अंकल से चुदाई करवा दूंगा.

पर बार बार माइक और मुनीर द्वारा पूछने पर अब मेरे दिल में हलचल सी होने लगी. मैं- ठीक मैडम … नो इश्यू!मैडम बोली- मेरा नाम रीता है औऱ तुम मुझे रीता ही बुलाओ. सेक्सी चुदाई दिखाएं वीडियोअब मैंने अपना हाथ उनकी मैक्सी के अन्दर से ही मम्मों पर से हाथ हटाकर उनकी चूत को सहलाने लगा.

अब मैं अपने पति से कोई खास बात भी नहीं करती थी। बल्कि अगर यह कहा जाए की एक ही छत के नीचे जैसे दो अंजान हस्तियाँ रहती हों, हम ऐसे ही रहते थे।कुछ दिन बाद रात को सोते हुए मेरे पति ने मेरे मम्मों को दबाया तो मैंने कहा- छोड़ो … बच्चा जाग जाएगा, बहुत मुश्किल से सोया है.

एक लम्बे अरसे के बाद मुझे परम आनन्द प्राप्त हुआ था चूत चुदवा कर!तब से लेकर मैं जब भी अपने घर में अकेली रहती हूँ या जब भी मुझे चुदवाने का मन करता है तो मैं उसको बोल देती हूँ और वो मुझे बहुत अच्छे से चोदता है और मेंरी चूत का प्यास बुझाता है. मैंने फिर तीसरी मंजिल पर आकर मनीषा के रूम में जाकर देखा, मनीषा निढाल होकर सो रही थी.

मैं मन में ‘मिलने का मन कर रहा था या चुदवाने का मन कर रहा था’- ओके. लेकिन ऐन वक्त पर मैंने उसके मुंह पर हाथ रख लिया था। थोड़ी देर बाद मैंने हाथ हटाया तो बोली- आज तो मार ही दिया तुमने, इतने सालों से चुदी नहीं हूँ।मैंने उसकी तरफ फ्लाइंग किस दी और उसके मम्मों को हाथ से दबाने लगा, उसकी आंखें बंद होने लगी, मैं भी अब गाड़ी को पटरी पर लाने लगा और धक्कों की रफ्तार बढ़ा दी. मैं अपनी पीठ से उसके मम्मों को रगड़ रहा था, फिर भी वो मजे से उसी स्थिति में बैठी रही.

स्त्री काफी मोटी ओर लंबी चौड़ी थी, वहीं मर्द का शरीर किसी पहलवान की तरह था.

जैसे ही मैंने अपना मुँह उसकी चूत पर लाकर रखा, वो तो पागल हो गई और उसने अपनी चुत खोल दी. मैंने मुस्कान की टांगों की तरफ आते हुए अपना मुँह उसकी चुत पर टिका दिया. रह रह कर बातों ही बातों में अपनी शादी शुदा सहेली की चुदाई के पहले दर्द और उसके बाद के मजे बारे में बात करके वो उत्तेजित हो जाती, जिसको वह अपनी उंगलियों से शांत कर लिया करती थी.

इंडियन चाची सेक्सी वीडियोमैंने बोला- इतनी उम्र का?तो वो बोली- उम्र से क्या होता, वो कितना पैसा मेरे लिए खर्च करता है और जितना सेक्स का मजा देता है, ऐसा तो कोई 25 साल का लड़का भी नहीं देगा. कोमल भाबी अपनी गांड मटकाते हुए चली गईं, मैंने कपड़े पहने और लिफ्ट से उनके घर आ गया, दरवाजा खुला था.

जबरदस्ती चोदने वाली वीडियो

इसके बाद मैंने उसको बेड पे चित लेटा दिया और अपना मुँह उसकी चुत पे रख दिया. उसने एक हाथ से मेरी पेंटी नीचे खिसका दी और अपना हाथ चुत पर रख दिया. उसके आनंद की कोई सीमा नहीं थी और वो इसकी व्याख्या शब्दों में नहीं कर सकता था.

मेरी साड़ी उतारने के बाद उन्होंने अपना कुर्ता भी उतार दिया और मुझे बेड लिटा दिया. मैं कभी कभी उससे मिलने के लिए शाम को अकेली ही घूमने निकल जाती थी और जब देखती थी कि मेरे पड़ोस की औरतें भी आ गयी तो उस लड़के को बोल देती थी जाने के लिए … और उसके बाद मैं अपने पड़ोस के औरतों के साथ घूमती थी. मैंने उनके पैन्ट को खोल कर चड्डी को खिसका कर उनके लंड को हाथ में ले लिया.

इस अचानक हुई घटना में कुछ भी हो, मुझे तो बहुत मजा आया और किसी की मदद हुई सो अलग. उनके लंड से उनके प्रीकम वाले वीर्य की खुशबू आ रही थी, जो कि मुझे और उत्साहित कर रही थी. जैसे ही मैंने अपनी उंगली को प्रिया की चुत के प्रवेशद्वार पर रखा, प्रिया ने सुबकते हुए कामुक आवाज में कहा- अआह्ह्ह … महेश्श्श्शश …उसने अपने दोनों हाथों से मेरे हाथ को जोर से पकड़कर अपनी कमर को ऊपर उठा लिया.

तो वह उठ कर पानी लेने गई, पीछे से मैंने उसकी बड़ी गाण्ड और चौड़े नंगे पटों को देखा तो मैं बेहोश होने को हो गया. वो अपना ब्लाउज और जैकेट उतारने के लिए रुकी और कपड़े उतार कर वापस लौड़ा चूसने लगी.

मैं उसका जोश देखते हुए उस पर चढ़ गया और मैं उसके पूरे जिस्म को चूमने लगा.

फिर रात में चाय देने के लिए मैं उनके कमरे में गई, तो उन्होंने मुझे पकड़ लिया और बोले- आज रात जब सब सो जाएं तो मेरी प्यास बुझाने तुझे आना ही है. गांव की रंडी की सेक्सीमैंने तुरंत ही सर के लंड को अपने मुँह में ले लिया और एक अबोध की तरह कुल्फी सा लंड चूसना शुरू कर दिया. द्याती सेक्सी व्हिडिओयह कहानी मैं ऋचा के लिए लिख रहा हूं और मेरी आप सबसे गुजारिश है कि अपनी एक नियमित पाठिका की हिम्मत के लिए अन्तर्वासना पर प्रकाशित इस ट्रू सेक्स स्टोरी पर अपने कमेंट्स करें. लेकिन उसने मुझे अपने अंतिम कपड़े यानि ब्रा और पेंटी को अलग करने से पहले रोक दिया.

मैं फट से उठा और गर्लफ्रेंड को साथ में लेकर चाची के कमरे में चला गया.

कपड़े धोते समय उनके हिलते भारी मम्मे मुझे साफ दिख रहे थे, क्योंकि उन्होंने अभी भी गाउन पहन रखा था, वो भी बिना ब्रा के. चाची ने भाभी को बोला- तुम और दिव्येश खेत में जाकर बैलों को पानी पिला कर चारा आदि डाल आओ. मयूरी रसोई में कुछ काम कर रही थी की रजत ने अचानक से पीछे से जाकर उसकी चूचियों को दबोच लिया.

समझे मेरे भोले राजा?तब मैंने पूजा की चूचियों को जोर से दबाते हुए कहा- तो ऐसे बोलो ना कि तुम्हें टॉयलेट जा कर अपनी चूत से सीटी बजानी है. उस पत्र में मैंने लिखा था:मनोज (मैं तुम्हें प्रिय नहीं लिख रही हूँ क्योंकि मैं नहीं जानती कि मैं इसकी हक़दार हूँ)यह तो तुम्हें पता ही है की मेरी शादी मेरी मर्ज़ी के बिना तुम्हारे बाप से कर दी गई थी. मेरा लंड मोटा होने की वजह से भाभी को बहुत दर्द हुआ और वो ज़ोर से चिल्लाने लगीं- उईई ईईईईई माँ … मैं तो मर गयी! आह … प्लीज़ मुझे छोड़ दो.

तेलगू हीरोइन सेक्स

मैं बहुत दिनों से तुमसे यह सब कहना चाहती थी लेकिन कभी हिम्मत नहीं हुई. यहां दिल्ली में भी कई ब्रांचेज होंगी पर वो सब देखने ढूँढने का समय नहीं था हमारे पास. सबसे सेक्सी थी अंग उसकी लगभग नंगी और मोटी मांसल टाँगें और उनके बीच जांघों में, निक्कर में फंसी और उभरी हुई उसकी चूत, जिसे देख कर मैं पागल और बेहाल हो गया था.

शीतल अपने पति से यह छुपा रही थी कि वो अपने बेटों से कुछ अलग ही सम्बन्ध स्थापित करने वाली है.

लाल साड़ी पहनने के साथ गले में लटकता हुआ मंगलसूत्र, मांग में सिन्दूर, माथे पर बिन्दी और होंठों पर चटक लाली, उनकी ये अदा मुझ पर किशोरावस्था से ही कहर ढा रही थी, जिसे कैश करने का मौका युवावस्था में उस रात मिल चुका था.

सुरा का असर होने लगा था, तो मैं अपने रूम में जाने की ज़िद करने लगा. फिर उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या मैंने कभी किसी से प्यार किया है?तो मैंने ना में सिर हिला दिया. मराठी भाभी का सेक्सी पिक्चरभाभी ने बोला- पास में एक झाड़ है, उसके पत्ते ले आओ, उनके रस से मालिश करूँगी, तो ठीक हो जाएगा.

मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में आपको बता दूँ कि वो बहुत सेक्सी और हॉट लड़की है, उसका फिगर बहुत मस्त है. तभी मुझे मेरे पड़ोस वाले भैया की आवाज सुनाई दी, वो मेरी मम्मी से बातें कर रहे थे. पर मैंने इस तरह उसके कंधे पर अपना सिर रखा कि मेरी गर्म सांसें उसकी कान की लौ और गरदन को छूने लगीं.

जानती हैं किसलिए? क्योंकि मैं आपसे दिल ही दिल में बहुत प्यार करता था. कुछ देर बाद जब भाभी की चुत का पानी निकल गया तो वे एकदम से निढाल सी होकर लेट गईं.

पूरी कर दीजिये।” वह आंखें चमकाती हुई मुझे देखने लगी।क्या?”अपना लंड मेरी चूत में घुसा कर मेरे ऊपर लद जाइये और मुझे दबा लीजिये.

उससे मैंने कहा- तुम अभी चलो मेरे घर पर … सब कुछ तुम्हारे सामने ही बोलूंगी, तुम्हें पता लग जाएगा।उसने कहा- नहीं, कल चलूँगा आज नहीं. मैंने उसकी पैंटी नीचे की तरफ सरकाई और कम्मो ने अपनी कमर उठा कर पैंटी उतर जाने दी. ऐसे ही एक दिन इन्टरनेट पर खोजते हुए अन्तर्वासना साइट मिली, तो इसे पढ़ना शुरू किया.

भाई बहन की सेक्सी वीडियो सॉन्ग अब मैं उसके चूचों को एक हाथ से सहला रहा था, तो दूसरी तरफ उसके होंठों को चूसे जा रहा था, जिससे उसका दर्द कम हो जाए. तभी उसकी गांड ने मेरे लंड को एक झटका सा मारा, मैं समझ गया कि इसको लंड की चोट चाहिए.

फिर भी टीचर और ज़ोर लगा के अन्दर डालने की कोशिश कर रहे थे और इसमें मैं भी उनका साथ देने की कोशिश कर रहा था. अंकल का लंड ऐसे हुआ, जैसे लगा कि कोई फूल खिल गया हो और चमकने लगा हो. क्योंकि आप जब गिटार बजाते हो तो मैं यहीं होती हूँ, मगर आप तो अपने धुन में होते हो, तो किसी को देखते नहीं हो.

सेक्सी वीडियो पेज

मैंने कहा- ठीक चल रहा है भैया!मैं अक्सर घर में टाइट लेगिंग और टीशर्ट पहनती हूँ जिससे मेरे दूध साफ उभरे हुए नजर आती हैं, वो भैया शायद मेरे दूध को ही देख रहे थे. इसके बाद उसने फैसला किया कि अब वो किसी ना किसी से चुदाई करवा के ही मानेगी।उसने बहुत सोचा कि सबसे आसान है कि किसी लड़के को पटाओ और खूब चुदाई करवाओ. मगर क्योंकि उसने आपके नाम पर बहुत सा पैसा कर दिया है, इसलिए शायद आपको मेरी ज़रूरत ना पड़े.

प्रिय पाठको, आपकी पुन्नी फिर से आपके समक्ष एक नई कहानी ले कर हाज़िर हुई है. इसके बाद मैंने अपना लंड मनीषा की चुत पर रखा और उसके गले में बांहें डालकर उसके कानों में फुसफुसाया- अब तो तू तैयार हो ना!मनीषा ने अपनी आंखें बंद करते हुए हल्के से कहा- पंकज फाड़ दे मेरी चुत को.

कुछ ही देर में चुदास चरम पर आ गई और मैं थोड़ा झुक कर आंटी के बाल पकड़ कर उनकी चूत चोदने लगा.

वो बाथरूम नहाने गयी और जानबूझकर नहाने के बाद पहनने वाले कपड़े लेकर नहीं गयी. अब उसकी चुत हल्की सी फ़ैल चुकी थी, तो ज़्यादा टाइट महसूस नहीं हो रहा था. अब मैंने उनके पैरों से चूमना शुरू किया और उनकी जांघों व नाभि को किस करता हुआ दोनों स्तनों तक पहुंच कर उन्हें मुँह में भर कर चूसा, चूमा और जीभ से चाटने के साथ-साथ हाथों से भी दबाया, सहलाया व मरोड़ा.

दुनिया का कोई भी इंसान मेरे हुस्न को दीदार करने के बाद मुझे चुदाई के लिए मन नहीं कर सकता था. उसने बोला- पंकज मुझे ज़रा भी अहसास नहीं था कि तू यूं ही अचानक डाल देगा. थोड़ी देर बाद मैंने उनका घाघरा गांड तक ऊपर उठा लिया और मौसी की गांड के छेद में जुबान डाल कर गांड के छेद को चाटने लगा.

मेरा मन उन्हें चूसने को हुआ तो मैं उनके निप्पल को होंठों से दबाकर चूसने लगा.

दिल्ली कॉलेज बीएफ: मेरा भाई कोई और नहीं, मेरी रिश्तेदारी में एक चाचा हैं, उनका बेटा है जिसका मेरे घर हमेशा आना जाना लगा रहता है. भाभी की नशीली आँखें देख कर मैं जान गया था कि जो आग लगी है, वो बाल्टी के पानी से नहीं बुझेगी, उसके लिए भाभी के कुएं में मेरा हैंडपंप चलाना पड़ेगा.

मैं- और अंकल, तबियत ठीक है ना?शर्मा जी- सच में पूछ रहा है या कुछ चाहिए?आपको बता दूं कि शर्मा जी अकेले ही रहते थे, उनकी कोई संतान नहीं थी और बीवी भी बहुत समय पहले ही चल बसी थीं, इसलिए वे मुझे अपने बेटे समान ही मानते थे. मगर अब मेरे दिल में यह जानने की इच्छा थी कि यह अपने चाचा के साथ में क्यों रहना नहीं चाहती. डार्लिंग, तुम्हें घुड़सवारी पसंद है ना! चलो, आज नए घोड़े के ऊपर बैठ कर मजे लो, और मैं पीछे खड़ा होकर तुम्हारी प्यारी सी गांड को ठोकूंगा!” मैंने नताशा के मूड के अनुसार एक शानदार ऑफर पेश किया.

फिर कुछ दिन हुए ही थे कि मुझे एक मौका मिला, उसमें रिस्क था, पर कहते हैं ना जब चुदाई करने का बहुत सर चढ़ जाता है, तो बस उसको चुदाई करने के सिवा और कुछ नहीं दिखता.

आज तू अपनी इस रानी की चुत को फाड़ दे और आज गुरुपूर्णिमा भी है, मुझे अपनी दासी बना लो और मुझे चुदाई का गुरुज्ञान दे दो. अब मैं उनके बड़े बड़े मम्मों को भी सूट के बाहर निकाल कर दबाने और चूसने लगा. करीब 10 मिनट तक वैसे ही वो मेरे लंड पर उछलती रही।अब मैंने उसे घोड़ी बना दिया, मैं बेड के नीचे खड़ा हो गया और उसकी गांड को पकड़ लिया.