पुरानी वाली बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो बीएफ डांस

तस्वीर का शीर्षक ,

गुजराती वीडियो बीएफ: पुरानी वाली बीएफ, फिर हम तीनों ने अपने अपने गिलास उठाए और गिलासों को खाली करके साईड में रखी टेबल पर रख दिए.

बीएफ फिल्म हिंदी में सेक्सी बीएफ

अब सुनीता शायद थक चुकी थी लेकिन मेरा लंड अभी तक सर उठाए खड़ा हुआ था और अपनी विजय पताका फहराने के लिए लालायित था. मराठी भाभी की चुदाई बीएफमैंने भाभी से पूछा- भाभी आप रो क्यों रही हैं?वो बोलीं- ऐसे ही बस रोना आ गया.

अब बता तू भोसड़ी की कहानी सुनेगी या भोसड़े की सुनेगी?स्नेहा- भोसड़े की तो सुन ली, अब पहले ममता की भोसड़ी की सुना दो. 16 साल हिंदी बीएफसैम ने मां की निक्कर … जो वो पहनने वाली थीं, उसे एक हाथ से नीचे खींच रखी थी और दूसरे हाथ की 3 उंगलियां मां की चूत में घुसाई हुई थीं.

आप परिस्थिति समझ सकते हैं कि मेरी गांड फ़टी हुई थी … पैर और हाथ कांपने लग गए थे, होंठ सूख रहे थे.पुरानी वाली बीएफ: जैसे ही मेरी गांड लंड लेने लायक हो जाएगी, मैं अपने भाई से ही अपनी गांड मरा लूंगी.

उसकी कमर इतनी तेजी से मेरे लौड़े पर उछल रही थी कि वो मुझे एक चिकनी मछली सी फिसलती महसूस हो रही थी.किसी तरह इंतज़ार की घड़ियां खत्म हुई और वो रात आ गई जिसका वो दोनों बेसब्री से इंतज़ार कर रहे थे.

बीएफ एचडी वीडियो एचडी वीडियो - पुरानी वाली बीएफ

तभी उसने दोनों हाथ से मेरा सर पकड़ लिया और अपना लंड मेरे मुख में डाल दिया और जोर से धक्के देने लगा.प्रभा खूबसूरत तो थी ही मगर उसकी चुस्त ड्रेस के कारण वो और भी मादक लगती थी.

पढ़ाई का बहाना बनाकर हम छत पर चले जाते थे और चुदाई का मजा लेते थे।हम लोगों के बीच में जो भी शर्म थी वो खत्म हो चुकी थी। भाई बहन जैसा कोई रिश्ता नहीं बचा था हमारे बीच।एक दिन विवेक और शिवम दोनों ने प्लान बनाया- क्यों न हम दोनों अपनी अपनी बहन को चोदें?शिवम बोला- बहन मान जाएगी?विवेक बोला- तुम लूसी को तैयार करो, मैं कविता को तैयार करता हूं. पुरानी वाली बीएफ खैर यही रोमांच तो चाहिए था शेखर को!धारा के होंठों पर उंगलियाँ फेर कर शेखर को महसूस हुआ कि उसके होंठ बिल्कुल गुलाब की नाज़ुक पंखुड़ियों की तरह से थे, जिसका रसपान करने को हर मर्द आतुर हो जाए.

जिसे मैंने पी लिया और मुस्कुरा कर उसकी तरफ देखा और उसके लंड को चाट कर साफ कर दिया.

पुरानी वाली बीएफ?

रात को जब मीरा कमरे में सोने गयी, तो निखिल अपना बिस्तर नीचे लगा रहा था. मेरी पहली कहानीकिस्मत से मिली चुदाई की जॉबदो साल पहले आयी थी, जिसे आप लोगों ने बहुत प्यार दिया था. आपको ये बीवी को चुदवाया स्टोरी कैसी लगी मुझे मेल में जरूर बताईयेगा.

उन्होंने बोला- अगर ये खाली ही रहती हो … तो इसको मेरे यहां रोज़ भेज दिया कीजिए. जब वो चाचा के घर गयी तो उसने खिड़की से क्या देखा!हाय फ्रेंड्स, मैं सोनिया कमल … सेक्स कहानी को आगे लेकर हाजिर हूँ. लंड इस तरह अकड़ गया था कि मेरा बस चलता तो मैं फोटो में घुस कर मौसी की दोनों चूचियों को मसल कर मज़े ले लेता.

भाभी पीछे से भी अपनी लचकती कमर के पूरे दर्शन करवाती थीं … और पेट का तो क्या कहना … भैनचोद ऐसा लगता था कि भाभी के पेट में ही लंड चुभा दूं. कुछ देर बाद मैंने उसे उठाकर जमीन में लिटा दिया और उसके ऊपर चढ़ गया. मैंने कहा- हां मुझे मालूम है बेबी … मगर मैं पूरा मैदान देखने के बाद काम भी शुरू करता हूँ.

अब मुझे खुद गुस्सा आ गया तो मैंने उसकी गांड पर बहुत जोर से बेल्ट मारी तो वह बहुत बुरी तरीके से तड़प गया. जिसने अभी तक ना पढ़ी हो … वो पहले इन्हें जरूर पढ़ लें, ताकि इस सेक्स कहानी का पूरा मजा आए.

अंजू भाभी मेरी गोद में बैठकर मुझे खाना खिला रही थीं और मैं अंजू भाभी को.

उसने मुझे हैंगआउट पर अपनी बीवी की नंगी फोटो भेजी जिसे देखकर मेरा मन भी उसकी चुदाई के लिए मचल गया.

छेद इतना तंग और छोटा था कि टाँगें फैलाने के बाद भी रास्ता दिखाई नहीं दे रहा था. मैंने लंड पर ढेर सारा थूक लगाया और एक ही झटके में आंटी की चुत में अपना लंड डाल दिया. उसकी बढ़ती सांसें उसकी सहमति की गवाही दे रही थीं, पर मैं कोई जल्दबाज़ी नहीं चाहता था.

लेकिन गौतम ने मेरे सर को पकड़ लिया था और वो धीरे धीरे झटके देता हुआ अपना स्पर्म मेरे मुँह में निकाल रहा था. मैंने जल्दी से ताई की चुत में 5-10 झटके मारे और सारा वीर्य उनकी चुत में डाल दिया. हस्बैंड फ्रेंड सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि शादी के बाद से मेरी चूत की प्यास नहीं बुझी थी। अपने पति के दोस्त के साथ मैंने यह हसरत कैसे पूरी की, मजा लें.

इसमें से ऊपर गीज़र का तार भी गया है, तो पहले किसी बिजली वाले को बुला कर ये तार हटवाओ, तभी मैं काम करूंगा.

नशे में होने के कारण वो और भी सेक्सी और चुदास से भरी हुई लग रही थीं. मौसी Xxx कहानी में पढ़ें कि मैं अपनी गर्लफ्रेंड की मौसी के साथ रियल ओरल सेक्स कर चुका था. रीमा जैसे ही निखिल के कमरे में पहुंची, तो उसने अपना मोबाइल उठा लिया.

हैलो, मैं पार्थ एक बार फिर से आपके सामने अपनी सेक्स कहानी लेकर हाजिर हूँ. उसने अपना पर्स और शॉपिंग के बैग वहीं एक कोने में रख दिए और खुद ही टॉयलेट ढूंढने का फैसला किया. मुझे उसकी हरकत थोड़ी अजीब लगी, वो दरवाजे पर गयी तो देखा कि एक गबरू जवान लड़का खड़ा था.

फच्च फच्च करके लंड अन्दर बाहर होने लगा; उसकी चूत का पानी बाहर आने लगा.

मैं अपने बाथरूम में आ गयी और अपने सारे कपड़े उतार कर मोबाइल में पोर्न चलाने लगी. मैं रात में बिना कपड़े के ही सोता हूँ, सिर्फ हाफ पैंट पहने रहता हूँ.

पुरानी वाली बीएफ मैं पूरी ताकत से आंटी की चुत चोद रहा था और पूरे रूम में बस छप छप की आवाज़ आ रही थी. मैं- फ़लक, कुछ दिखाओ न?फ़लक- कितना तो दिख रहा है, मुझे शर्म आ रही है.

पुरानी वाली बीएफ उधर वो मेरे लंड पर कूदती कूदती झड़ गई और ‘आह दादू …’ कहती हुई मेरे सीने से लटक गई. मैं अपनी गांड को सहलाते हुए बुदबुदाने लगा कि आज बरसों पुरानी मनोकामना पूरी हो जाएगी, पर हालत क्या होगी, इतने बड़े लौड़े से कहीं मेरी गांड फट ही ना जाए.

[emailprotected]हॉट यंग इंडियन चुदाई कहानी का अगला भाग:गांव की कमसिन कली की चुत का मजा- 2.

इंडियन गे सेक्स

मैंने उसकी चुत को देखा तो उसकी वैक्सिंग ऐसी लगी जैसे कुछ दिन पहले ही चुत की झांटें साफ़ की गई हों. चार महिलाओं ने तो मेरे साथ सेक्स करने की भी इच्छा जाहिर की और उन में से एक महिला ने तो मेरे साथ अपनी रात रंगीन कर भी ली, जो कि मेरे शहर चंडीगढ़ से कोई सो किलोमीटर लुधियाना में रहती है. अब मैं अंदर ही अंदर खुश भी थी क्योंकि मैं अपने चूतिया पति को अपने साथ शादी में लेकर भी नहीं जाना चाहती थी.

शर्म उसका गहना थी और अब मैं उससे उसका गहना उतार कर उसे बेशर्म कर देना चाहता था।मैं रोहन के पास सोफे पर ही बैठ गया और मैंने नेहा को रोहन की गोद से अपनी गोद में खींचने की कोशिश की तो रोहन ने नेहा पर पकड़ ढीली कर दी. हमारे होंठ धीरे धीरे एक दूसरे को छू रहे थे और सांसें एक शरीर से दूसरे शरीर में जा रही थीं. आंटी बोलीं- कौन?मैंने कहा- मेरा मतलब है आंटी कि आप मेरी भी भूख मिटा दो, जैसे आपने उस बुड्डे की बुझा दी है.

ब्लू फिल्म हल्की आवाज़ में चला कर देखने लगी और मैंने अपने आपको गर्म कर लिया.

इतना तक ही होता तो ठीक था मगर कुछ ही दिनों बाद एक ऐसी घटना घटी जिसने मेरे जीवन में झंझावात ला दिया. इधर बहुत सी कहानियों को पढ़ने के बाद मेरे मन में भी आया कि मैं अपनी सेक्स कहानी आप सभी पाठकों के साथ साझा करूं. मैं- तो ठीक है शीना, मैं भी पूरी कोशिश करूंगा कि तुम्हें कोई तकलीफ न हो.

सबको लगता था कि मैंने नेहा और प्राची को चोदने के लिए अंकित से दोस्ती की है।बारहवीं के बाद अंकित पढ़ाई के लिए ओडिशा चला गया, उसके परिवार में सिर्फ उसके मां बाप और प्राची थी।कुछ काम होने पर मुझे ये लोग बुला लिया करते थे।एक दिन मैं अंकित के घर गया तो घर पे सिर्फ प्राची थी. दूसरी बार दिन में भाभी को चोदने का मौक़ा मिला तो मैंने भाभी की गांड मारी. उसने अपने हाथों से मेरा सिर अपनी चूत पर दबा लिया और अपनी चूत को ऊपर नीचे कर के मेरे मुंह पर रगड़ने लगी.

प्रिया अपनी चुत में गगन का लंड ले रही थी और रोमा गगन के मुँह पर बैठ कर अपनी चुत उससे चटवा रही थी. मैंने भी फरियाल से कहा- जान मेरा भी निकलने वाला है … कहां लोगी?फरियाल बोली- आह … तुम मेरी चूत में ही निकाल दो और मेरी चूत की प्यास मिटा दो.

वो सब बारी बारी मेरे गले लगीं और शहज़ाद को जीजू कहते हुए उसके भी गले लगने लगीं. वो मुझे पूरी दिन नंगी रखती थीं, चाहे कोई भी आ जाए, जिससे मेरी शर्म खुल जाए. मैंने उसके हाथ से डिल्डो लिया और उसके मुंह में डाल कर गीला कर दिया, फिर उसकी गांड पर लगा दिया.

नमस्कार दोस्तो, मैं राज़ शर्मा हिन्दी सेक्स कहानी पर आपका स्वागत करता हूं.

वो देसी कुतिया सी बिलबिलाती हुई आवाजें कर रही थी और मैं डॉबरमैन कुत्ता सा उसकी चूत को भोसड़ा बनाने पर तुला हुआ था. धारा लम्बी-लम्बी साँसें लेने लगी और शेखर के बालों को मज़बूती से अपनी उंगलियों में फँसा कर खींचने लगी. मेरी गांड अभी तक सील पैक थी, मेरे मन में आता था कि कोई मर्द उसको भी अपने फौलादी लंड से फाड़ दे और मेरे दोनों छेद चालू कर दे.

मुझे उसकी चुत चाटने में मजा नहीं आ रहा था तो मैंने उसकी चूत को थोड़ा ही चाटा और उसे उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया. डॉक्टर भाभी की नंगी जांघों को फैला कर मैंने उनकी चूत को सूंघा और अगले ही पल जीभ लगा कर उनकी चूत को बेतहाशा चाटने और काटने लगा.

जींस से पूरे बदन की नाप मेरे बड़े बड़े नितम्बों का आकार और शर्ट के ऊपरी भाग से मम्मों की झलक किसी को भी आकर्षित करने के लिए काफी थी. सूरज भैया की शादी हुए एक साल से ज्यादा हो गया है, पर भाभी अभी भी ऐसी ही लगती हैं कि उनकी आज ही शादी हुई हो. मगर वो मानस का कोई प्रतिकार किए बिना उसका काला लंड किसी बाजारू रंडी की तरह चूस रही थी.

जिओटीवी कॉलेज

मैंने भाभी से पूछा कि ये आप क्या कर रही हैं?भाभी कहने लगीं- यही तो मेरी उदासी का कारण है मुदित … अगर तुम मुझे खुश देखना चाहते हो तो जो मैं कर रही हूँ … मुझे कर लेने दो.

मैं दीदी को आप से तुम पर और वैशाली बोलते हुए बोला- वैशाली, क्या तुम मुझसे शादी करोगी … अगर मैं तुम्हारी और तुम्हारे हस्बैंड की हर ज़िम्मेदारी उठा लूं तो?ठीक है कर लूंगी, पर अब जो करने आए हो, वो करो. वो गिरने को हुईं, तभी पता नहीं कैसे मैंने उन्हें पकड़ने के चक्कर में उनकी मोटी गांड पर अपने दोनों हाथ लगा दिए. आप सभी के द्वारा मेरी कहानियों को बहुत पसंद किया जाता है और ढेर सारे ईमेल भी मुझे मिलते हैं जिन्हें पढ़कर मुझे बहुत अच्छा लगता है.

मैंने घर के अन्दर जाकर दरवाजा बन्द कर दिया; पलट कर उसे देखा तो आह भर कर रह गया. मैं- हां भाभी … पर आपको कोई दिक्कत तो नहीं है ना!भाभी- नहीं … अब जल्दी से पी लो. सेक्सी बीएफ पिक्चर सुहागरातरुचि चुत खोल कर लेट गयी और साथ ही चंचल और ऋतु अपने में मगन हो गयी अर्थात वो दोनों एक दूसरे के मम्मों को दबा रही थी, तो कभी चुत में उंगली डाल रही थी … तो कभी एक दूसरे को चाट रही थी.

और बताओ कैसे याद किया?मैं- कुछ नहीं बस बोर हो रहा था तो सोचा चलो आपके साथ दो दो पेग ही लगा लूं. खैर, बुझे हुए मन से शेखर ने धारा को जवाब दिया- ठीक है धारा जी … आपका इंतज़ार रहेगा.

फ़लक ने एकदम मेरी मुट्ठी को अपने हाथ से दबाया और जोर से आ … आ … आ … आ… करने लगी. [emailprotected]हॉट यंग इंडियन चुदाई कहानी का अगला भाग:गांव की कमसिन कली की चुत का मजा- 2. करीब 6 बजे मैं नहाकर अपने कमरे में आई और आज मैंने साड़ी पहनने का फैसला किया क्योंकि शहज़ाद को मैं साड़ी में बहुत अच्छी लगती थी.

चाची ने गैस को सिम पर करके दूध उबलना रख दिया और एक थाली में खाना ले आई और डाइनिंग टेबल पर लगा दिया. मैंने बिना देरी किये एक चूचे को अपने मुँह में भर लिया और जोर जोर से चूसने लगा तो मामी बोली- आराम से करो, अभी तो पूरी रात पड़ी है खा ही जाओगे क्या?मैं दूसरा हाथ मामी की चूत पर ले गया तो महसूस किया कि इस बार मामी की चूत बिलकुल साफ़ सुथरी और पहले से काफी गीली थी. इस बार मैंने ताई की गांड को चोदने के लिए कहा, तो उन्होंने मना कर दिया.

अंदर बहुत ही मद्धम सी नीली रोशनी बिखरी थी लेकिन इतनी मद्धम कि कुछ देख पाना सम्भव नहीं था.

कुछ देर बाद मैंने फिर से धक्का लगाया, जिससे मेरा पूरा लंड चुत की गहराई में अन्दर तक घुसने लगा था. मैंने पूछा- क्या हुआ? छुओगी नहीं इसको?शीना- अंकल, आप का लन्ड तो बहुत लम्बा और मोटा है.

नर्म मुलायम उंगिलयों का स्पर्श शेखर को झकझोर गया, शेखर एकदम से चौंक गया. या फिर तुम मेरे मुंह को बंद करके मुझे चोदो! नहीं तो रूपाली मेरी आवाजे सुन लेगी. आपकी ही अरुणिमा[emailprotected]कॉलेज गर्ल Xxx कहानी का अगला भाग:मुझे अपनी चुत गांड चुदवाने को लंड चाहिए- 3.

मैं भी चाची के चिकने और रसीले होंठों पर टूट पड़ा और उन्हें चूसने लगा. उन्होंने अपना पैंट खोल दिया और 8 इंच का काला लंड बाहर निकाल कर बोले- ले चूस इसे … साले अगर ढंग से नहीं चूसा या दांत लगाया, तो मार खाएगा. वो अपनी चूत में लंड सैट करके बैठ गईं और गांड हिलाते हुए चुदाई करने लगीं.

पुरानी वाली बीएफ मैं आपको उर्वशी के बारे मैं बता चुका हूँ कि वो एक हंसमुख लड़की है, जो बस अपनी लाइफ को एन्जॉय करना चाहती है. मैं दिल्ली के पास का रहने वाला हूँ और दिल्ली में नर्सिंग का छात्र हूँ.

हॉट सेक्स मूवीस

जब तक लड़की 19 साल की नहीं होती है, उसे लंड चुत और माल से दूर रखा जाता है. उस वक्त उसको लन्ड चूत के अंदर चाहिये था चाहे वो मेरा हो या राहुल का!मैंने एक बार फिर कमर की मदद से लन्ड चूत के बाहर हिलाते हुए जरा सा अंदर किया और नेहा की सिसकारी निकल गयी।मैंने फिर से पूछा- राहुल से चुद रही हो न जान?लंड की भूखी नेहा सिर हिलाकर हामी भरने लगी. खासकर मैं कम उम्र के नए नए जवान हुए लड़के से मेरी चुदाई करवाना चाहती हूं.

उसके पापा जी शिक्षक थे और इस वजह से भी उसके घर का माहौल कुछ अलग किस्म का था. मीरा ने भी उसको उकसाने के लिए एक झीनी सी नाइटी पहनी थी जो उसकी जांघों से खुली थी. सेक्सी वीडियो बीएफ बंगालीवे मुझसे कहने लगी- राज, 2 बज गए हैं, अब बस ऐसे ही सो जाओ, मैं पूरी तरह से रज(तृप्त) गई हूँ.

लेकिन वे मुझे तड़पा रहे थे, वे बार-बार मेरी चूत में से अपना लंड निकाल रहे थे जिससे मुझे बहुत गुस्सा आ रहा था.

तमन्ना- जान… आ…ह…आ…ह… उम्म… जान!मैंने उसकी कमर पकड़कर उसे अपने ऊपर लिटाकर बांहों में कसा और पलटकर उसके ऊपर आ गया. नेहा- हां तो? क्या अभय भैया ने तुझे नंगी देख लिया था … जो उसने तुम्हें वहीं पटक चोद दिया?ये कहती हुई नेहा मुस्कुरा दी.

ऐसे करते करते भाभी ने मुझको अपनी बांहों में जकड़ लिया और गांड उठाते हुए झड़ गईं. जैसे ही उसने मेरी कमर का नाप लिया तो मेरी चूत से पानी रिसता हुए मेरी टांगों से बहने लगा. मैंने एक दो बार सोचा कि उसे फोन करूं, मगर न जाने क्या सोच कर मैं रह गया.

मुझे तेज पेशाब लग रही थी, तो मैं सीधा बाथरूम में घुस गया और बिना कुछ देखे पेशाब करने लगा.

एक दिन मैंने अचानक प्रभा के पास जाकर उससे कहा- क्या आप मुझसे दोस्ती करोगी?उसने तुरंत नहीं बोलते हुए कहा- नहीं, मैं लड़कों के साथ दोस्ती नहीं करती और करना भी नहीं चाहती हूं. धारा- हम्म। हो सकता है आपको भी ये सुख मिल जाए?शेखर यह पढ़ कर बस मुस्करा दिया और उसने जवाब में भी बस एक स्माइली भेज दी. लगभग बीस मिनट तक धकाधक चुदाई चली … फिर हम दोनों एक साथ में ही झड़ने को हो गए.

बीएफ सेक्सी film.comरात को नींद पूरी ना होने की वजह से उसकी आँखें वैसे ही लाल थीं तो अपनी लाल-लाल आँखों का हवाला देकर तबियत ठीक ना होने का बहाना बनाया और आधे दिन की छुट्टी लेकर फ़्लैट की तरफ़ निकल गया. हॉट लव सेक्स कहानी का अगला भाग:मेरी प्यारी चाची का बर्थडे गिफ्ट- 5.

गांव की सेक्सी वीडियो मूवी

अब इसी तरह मैंने अपने धोबी का घर का पता किया और उसके घर को भी देख लिया. औरत को शारीरिक सुख भी मिलना चाहिए, जो तुम्हारे पापा उन्हें नहीं दे पाते. असल में मैं आपको बताऊं कि मेरे पूरे शरीर पर एक भी बाल नहीं है, क्योंकि मैं जिम जाता हूँ तो मेरी बॉडी भी अच्छी है और इसीलिए मैं अपनी बॉडी को सेक्सी बनाने के लिए अक्सर वैक्सिंग करता रहता हूँ.

मैंने नीचे की तरफ देखा तो दीदी की चूत के होंठ अभी भी झटके मार कर बूंद बूंद पानी निकाल रहे थे. उसने एक-एक करके 10-12 बार धारा को हेल्लो धारा … कहाँ चली गयीं आप” लिखा लेकिन उधर से कोई जवाब नहीं आया. अब आगे सेक्स विद बॉस इन ऑफिस:अब ऑफिस जाकर काम करने का मन तो कर नहीं रहा था क्योंकि मेरी चूत से हल्का हल्का पानी भी टपक रहा था, पेंटी गीली हो चुकी थी।मैं 1 ब्रा और पेंटी को हमेशा अपने बैग में रखती हूँ.

ये सब देख और सुन कर मुझे पता ही नहीं चला कि कब मेरा हाथ मेरी पैंटी में चला गया और मैं चूत की क्लिट मसलने लगी. कभी मैं अपनी सीट पर सो जाता, कभी उठ जाता, कभी अपनी पुस्तकें पढ़ने लगता, कभी कुछ खा लेता, कभी इधर-उधर टहलने लगता. उसके मुँह से चुत की बात सुनकर मैं दंग रह गयी और बोली- तुम पागल हो गए हो.

वो किसी तरह से उठीं और दीवार के सहारे अपने कमरे में जाकर सो गईं और मैं भी अपने कमरे में सो गया. रात भर में भाबी की हालत बुरी तरीके से चुदाई के कारण खराब ही चुकी थी.

उसी समय फरियाल ने मुझे अपनी बांहों में लेकर अपने एक बोबे को मेरे मुँह में डाल कर मुझे कसके जकड़ लिया.

सोनम की तरफ देख के उसने झट से उसके खुले हुए मुँह में अपना लंड पेल दिया और जोर जोर उसका मुँह चोदने लगा. सेक्सी एचडी वीडियो हिंदी बीएफमैंने उसकी जांघों पर झुकते हुए उसकी योनि पर अपने हाथ रख दिए और उसी वक्त रीतू के मुँह से पूरे ज़ोर से एक आह निकली. बीएफ हिंदी गाणेदोस्तो, ये था सेक्स विद माय स्टेप मॉम … अब तक मैं अपनी मां के साथ सेक्स करने लगा था और मां भी मेरे साथ सहज हो गई थीं. उसका लंड मेरी गांड से रगड़ता रहा और मैं भी अपनी गांड हिलाते हुए उसके लंड से अपनी मस्ती को बढ़ाने लगी.

हमारी लम्बी चली चुदाई में आशारा पस्त होकर ऐसे लुढ़क गई कि उसकी नींद ही लग गई.

जब प्रभा ने एकदम से मुझे ना कह दिया, तो मैंने भी उसको कुछ नहीं बोला और वापस अपनी कुर्सी पर आकर बैठ गया. शेखर की पत्नी रेणु शायद धारा से कहीं ज़्यादा खूबसूरत थी और उसे देखने वाले का भी ऐसा ही कुछ हाल होता था।मगर पता नहीं शेखर धारा के लिए इतना विचलित क्यूँ हो रहा था. उसने अपने लंड की फोटो भेजी और मुझे लंड दिखा आकर कहा- पहले से देख लोगे तो डर कम हो जाएगा.

कुछ देर बातों ही बातों में मैंने उससे उसकी गर्लफ्रेंड के बारे में पूछा, तो उसने मुझे साफ मना कर दिया कि उसकी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है. मुझसे थोड़ा बहुत बोलती और मजाक करती है क्योंकि मैं काफी सालों से सार्थक के घर जा रहा हूं. उसने राज को उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया और खुद को राज की जगह पर कुर्सी पर पैर फैला कर बैठ गया.

हिंदी में सेक्स फिल्म वीडियो में

अगले दिन दोपहर को शहज़ाद फिर मेरे घर आया और हमारे साथ खाना खाकर बाहर ही बैठ गया था क्योंकि मेरी बेटी उससे नाराज़ थी. पेशाब के साथ उसका सफेद माल भी बाहर आ रहा था।मैंने भी पेशाब कर के लंड को धो लिया।प्राची और मैंने नीचे कुछ नहीं पहन रखा था, हम दोनों ने वैसे ही खाना खाया।हम लोग आराम से खाना खाते हुए बात कर रहे थे. मैंने चाची को नहीं छोड़ा और उनकी दोनों चूचियों को आगे से पकड़ कर लण्ड को पीछे से उनके पेटिकोट को उठा कर चूतड़ों में फंसा दिया.

खाना देने वाला आया था।सबने खाना खाया फिर रूपाली नीतू को ले कर कमरे में घुस गई और मैं रूपाली के कमरे में टहलता रहा.

लेकिन देखा कि भाबी नींद में हैं, तो चुपचाप मैंने उनकी दोनों टांगें फैला दीं और लंड चुत में सैट करके एक ही झटके में लौड़ा अन्दर पेल दिया.

अब इन दोनों भाई बहन अभय और ममता में चुदाई की कहानी ने किस तरह से रंग लिया, वो सब मैं आपको अगले भाग में लिखूंगी. बहुत सोचने के बाद वो मान गईं और पूछने लगीं- तुम्हारा दोस्त किधर है?मैंने कहा- वो मेरे किसी काम से गया है, आने से पहले मुझे फोन करेगा. किसका बीएफमैंने कहा- ज़रा रुको तो भाभी जी, मुझे इस गुलाब की ख़ूशबू को सूंघ तो लेने दो.

मैंने कहा- फ़लक, जो मैं कह रहा हूँ वही करो, जैसे भी हैं तुम बाहर आ जाओ, मैंने देखना है कि यह कितने छोटे हैं और तुम्हें कौन सा साइज चाहिए?फ़लक बोली- सर, इन कपड़ों के बटन ही बंद नहीं हो रहे हैं. उसके बाद शिवम ने मुझे नीचे पीठ के बल पटका और मेरी एक टांग उठाकर अपना लंड मेरी चूत में फिर से घुसा दिया. मेरे ब्वॉयफ्रेंड की बहन को लड़के का आइटम चैक करना था, लेकिन उस लड़के के घर से कोई नहीं आया था इसीलिए उसने मुझसे लड़के की ताकत को चैक करने के लिए कहा.

मैं एक बार आपको चखना चाहता हूँ क्योंकि अब मेरी बीवी तो गांव में रहती है और इधर काफी साल से मैं उसके पास गया भी नहीं हूँ. भाभी मेरे पास ही कुर्सी पर बैठी थीं, उनका शरीर देखकर मैं पागल हो रहा था.

दोस्तो, अब इस सेक्स कहानी में मुझे उसकी चुदाई होने की उम्मीद जगने लगी थी.

उसने अब दोनों पैरों से मेरे लंड को जकड़ लिया और पैरों को लंड पर आगे पीछे करने लगी।मैं नेहा को और वो मुझे मस्त करने में व्यस्त थे।नेहा को मैं घोड़ी बना कर ही उसकी चूत में पीछे से पूरी जीभ डाल रहा था और उसकी गाँड को नोंचते हुए उस पर हाथ से जोर जोर की थाप मार रहा था जिसका मज़ा नेहा सिसकारियों में जता रही थी. दोस्तो, आप सब कैसे हैं, मैं दुआ करती हूँ कि सब स्वस्थ होंगे और लॉकडाउन में चुदाई की कहानियों का मजा ले रहे होंगे. धीरे धीरे मैं रूचि के कान के पास चूसने लगा, इससे उसे सहा न गया और उसने मेरे लंड को पकड़ लिया और हिलाने लगी.

हिंदी बीएफ पूरी फिल्म इन बातों में न तो शेखर ने और ना ही धारा ने कोई सेक्स का टॉपिक छेड़ा. जब मेरा लंड अपनी औकात में आ गया, तो वोलंड पर चढ़ गईऔर अपनी चुत में लंड सैट कर लिया.

उसने मां का मुँह दबाते हुए कहा- धीरे … नहीं तो आपका लड़का जाग जाएगा. मेरा दोस्त 20 साल की उम्र का जालंधर का रहने वाला है और उसकी मां का नाम अंजू है. बस चल दी और कुछ दूर चलने के बाद मैंने अपने नकाब का ऊपरी कपड़ा हटाया तो ब्रा और कुछ भी ना पहने होने की वजह से मेरी 34 की चुचियां एकदम साफ नजर में आने लगी थीं.

दिस वीडियो

उसने रीमा की चुत से खून निकलता नहीं देखा तो वो समझ गया कि रीमा पहले से ही चुदाई के मज़े ले चुकी है. पन्द्रह मिनट बाद मैं आंटी की चुत में ही झड़ गया और उन्हीं के ऊपर लेट गया. मैंने जल्दी से अपनी उंगली हटा ली और कहा- ये क्या कर रही हो आंटी?आंटी बोलीं- कुछ नहीं, तू इसमें अपनी उंगली डाल और खुजली कर.

उस दिन चुदाई के दौरान जब निखिल मीरा को सोफे पर लिटा कर उसकी एक टांग हवा में उठाकर उसे चोदे जा रहा था. जैसे मैं उसके पास पहुंची और उसे हिलाया तो वो एकदम से चौंक कर उठ गया.

लेकिन मैं चाहती थी कि उसको थोड़ा और समय मिले जिससे उसमें और एनर्जी आ जाए.

मैंने भाभी को अपना लौड़ा चूसने के लिए बोला और ताई को भाभी की चुत चाटने के लिए कहा. मन में तो आपके भी हसरतें होंगी … तो फिर संकोच कैसा?इतना कह कर वो फिर से मुझे चूमने लगी. लेकिन जब मेरे स्कूल का सफर खत्म हुआ, तो उदय सर अपने गांव वापस चले गए और वहीं उनकी शादी हो गयी.

मेरा लन्ड कड़क होने के साथ साथ फूलता जा रहा था और रोहन मस्त हो उसे चूसने में व्यस्त था।कुछ देर चूसने के बाद रोहन बाथरूम में मुंह का पानी थूक कर मेरे पास आया और मेरी जाँघों को सहलाते हुए मेरे लन्ड के आसपास चाटने लगा. ट्रिपल सेक्स से संगीता दर्द के मारे सिर्फ़ चिल्ला रही थी- आह निकालो … मुझे दर्द हो रहा है मेरी फट रही है … प्लीज. तभी मैंने जल्दी ही दो, फिर तीन उंगलियां चुत के अन्दर डालनी चाहीं, तो वो जा ही नहीं पाईं.

फिल्म देखते देखते मैंने अपने सारे कपड़े निकाल दिए और पूरा नंगा हो गया.

पुरानी वाली बीएफ: दोस्तो, मेरे पास चुदाई की बहुत सारी कहानियां हैं, लेकिन ये वाली छोटी चूत वाली सेक्स कहानी आपको कैसी लगी, आप जरूर बताएं. इधर मैं रुचि के मम्मों चूस रहा था और उधर लंड से चंचल की चुदाई चल रही थी.

भाभी की चूत से रस निकलने लगा था जिससे लंड सटासट अन्दर बाहर हो रहा था. दोस्त की बीवी की चुदाई कहानी के पिछले भागमेरे सेक्सी जिस्म को मिले दो और लंडमें अब तक आपने पढ़ा था कि मेरे पति अमित के दो दोस्त राजेश और प्रशांत मेरी चुदाई के लिए मुझे पटाने में लगे थे. मैं समझ गया कि ये पहली चुदाई में लंड का रस अपनी चुत में ही लेना चाहती थी, इसलिए इसने अपने पीरियड को ध्यान में रख कर मुझे चोदने बुलाया था.

फिर कुछ देर के बाद मेरे देवर भी फिर से तैयार हो गए और उन्होंने अपना लंड मेरी गांड में डालना चाहा.

सीने से रगड़ खाती चूचियों और कविता की गर्म सांसों से मेरा लण्ड फिर से कड़क होने लगा था लेकिन कविता के कहने पर मैंने बाहर निकाल लिया. कब से सपने सजाये हैं अपनी बीवी के नंगे जिस्म को किसी गैर की बांहों में देखने के लिए। उसकी चूत में किसी और का लन्ड देखने के लिये।मैंने मुस्करा कर हामी भरी और रोहन से कहा- तुम्हारे सपने आज पूरे हो जायेंगे. फिर भाभी और नीचे आ गईं और मेरे लोअर के ऊपर से ही लंड को किस करने लगीं.