कहानी दार बीएफ

छवि स्रोत,दुर्गा मां का गीत

तस्वीर का शीर्षक ,

देसी चुदाई हॉट सेक्सी: कहानी दार बीएफ, वहीं पास पड़े सोफे पर उसने फ्लॉरा को लेटा दिया और पागलों की तरह उसकी चुत चाटने लगा.

लंबे बाल वाली

सुमन ने बताया- यह लड़की हाथ से निकल चुकी है और उस लड़के के साथ पिक्चर देखने व बाहर घूमने जाती है, शायद यह उससे चुदवा भी चुकी होगी. हॉस्टल की लड़कियों कीमैं उसको बोलूंगी कि मेरा भाई रोज इसी समय बजे अपने रूम में मुठ मारता है और मैं इस छेद से रोज उसको देखती हूँ.

लगभग दस मिनट तक धीरे धीरे धक्के मारने के बाद जब मैंने तेज़ धक्के लगाने शुरू किये तब माला भी अपने कूल्हे ऊपर उठा कर मेरा साथ देने लगी. भूतनी की कहानीभाभी ने अचानक से मुझे यूं नाइटी के अन्दर झाँकते हुए देखा तो वो मुझे घूर कर देखने लगीं.

करीब 5 महीने हो गए थे, पर हम दोनों को चुदाई का मौका ही नहीं मिल रहा था.कहानी दार बीएफ: उस रात रिया ने मुझे सोने नहीं दिया, बदल बदल कर हमने अपने सारे छेदों की चुदाई रात भर की.

बाल बनाए और टीवी देखने लगे।मैंने उससे ‘आई लव यू’ कहा और उसने भी ‘आई लव यू टू’ कहा। मैंने उसको एक दवाई दी ताकि वो प्रेग्नेंट ना हो और कहा- इसे पानी के साथ पी लो।उसने दवाई खा ली, तभी बेल बजी और मेरी माँ और उसकी माँ डॉक्टर के यहाँ से लौट आई थीं।उसके बाद उसने होमवर्क किया.उसने सरिता के कंधे पकड़े और सरिता ने लंड को मुहं से निकाला तो सरिता बोली- चलिये अब लंड से मेरी बुर को जल्दी से चोदिए क्योंकि मेरी बुर में पता नहीं क्या क्या हो रहा है.

सेक्सी वीडियो करने का - कहानी दार बीएफ

फिर जब उसका ऑफिस से निकलने का टाइम होता है, उस वक्त मैं वहाँ गया और उसको कॉल किया.वो लंड पेलने के मूड में आ गया और अपना मुँह संगीता की चूत के पास लेकर गया और उस पर चूम लिया.

उन्होंने अपना पैर मेरी जाँघों पर रखा और मैंने अपनी उंगली से उनकी जाँघों को सहलाना स्टार्ट कर दिया, जिससे उनकी आग में मानो घी सा पड़ गया. कहानी दार बीएफ वह भी जरूरत पड़ने पर मुझे जगाती थी, बहुधा मैं जाग ही जाता था, फिर भी नीलम का स्पर्श पाने के लिये सोने का नाटक करते हुए बिस्तर में पड़ा रहता था.

ये दुनिया बहुत खराब है, इसमें जीना है तो इसके तौर-तरीके सीखने जरूरी है.

कहानी दार बीएफ?

इसके बाद जब भी हम कभी मामा के घर जाते या मामा लोग मेरे घर आते, तो मैं और मेरी मामी खूब मस्ती करते. वो थोड़ी सी कसमसाईं क्योंकि बहुत दिनों बाद उनकी चूत को लंड नसीब हुआ था. अब दोनों ही ज़्यादा उत्तेजित हो गए थे, सुमन की चुत रिसने लगी थी, अब ज़्यादा देर बैठना ख़तरे से खाली नहीं था और यही हाल गुलशन जी का था.

ऐसे करने से रानी की आँखें नशीली हो चलीं और वो बिस्तर पर पैर फैला कर लेट गई. फिर मैंने भाभी को घोड़ी बनाया और उनकी चुत में अपना लंड डाल कर फिर चुदाई करने लगा. उसने इशारा किया तो मैंने दूसरे धक्के में पूरा लंड उसकी चुत में पेल दिया और उसे फिर से दर्द होने लगा.

जैसे ही उसकी चुत चोदने को मिलेगी, मैं आपको अपनी चुदाई की कहानी लिख दूंगा. आज उसने जो मॉर्डन ड्रेस लिए थे, उनमें से एक ब्लैक जींस और उस पर रेड टॉप पहना था, जिसमें उसकी सुंदरता का बखान करना मुश्किल है. मैंने एक लंबा सा किस करते हुए कहा- सुमित क्या-क्या करता है?दीदी बोली- वो तो बहुत जल्दी हार मान लेता है.

वो मुझसे छूटने की भरपूर कोशिश में थी, पर मैंने नहीं छोड़ा, मैं लंड को मूसल की तरह बुर में ठोके हुए ऐसे ही लेटा रहा. इस ऑडियो में लड़के ने लड़की से पूछा कि लड़की को किस तरीके से, किस पोज में ज्यादा मजा आता है.

बोलो क्या कहना चाहते हो?बोला- मेम साब, आप बहुत खूबसूरत हो। आपकी आँखें बहुत मस्त हैं।मैंने उसकी इस बात पर अपनी चुत में बड़ी ठंडक सी महसूस की और हंस दी।उसने मुझसे फिर कहा- आपकी ननद नहीं दिख रही हैं?मैंने कहा- वो देर रात तक पढ़ती रही हैं इसलिए सो रही हैं.

लगभग 10-15 पिचकारियों के बाद मेरा तूफ़ान शांत हुआ और वीर्य को उसकी बच्चेदानी के मुंह तक भर दिया.

सारा दिन वहाँ वक्त बिताने के बाद शाम को डिनर के टाइम पर ही वापस आया. मेरे भाई ने लंड को मेरी चूत से निकाल लिया और मेरी गांड में डालने लगा. वह थोड़ा ऊपर उठी तो मैंने उसे पीछे से नंगी करके उसकी कैप्री नीचे खिसका दी.

मैं सोनू की बेचैनी समझ गया और उसके घुटनों को थोड़ा मोड़कर उसकी चूत पर लण्ड लगाकर पोजीशन ली. नीचे बैठी हसीना को आप अपने ख्यालों में लाकर तरह तरह से चोदते हुए मूठ मार सकते हो. इस समय स्मृति मेरे समक्ष केवल ब्रा पैंटी में थी, वो इतनी सुन्दर दिख रही थी कि मैं ब्यान नहीं कर सकता.

उस मज़िल पे 4 कमरे थे, मैंने पहले कमरे में देखा, वहां पर कुछ औरतों के बातें करने की आवाज़ आ रही थी, तो मैंने अन्दर जाना उचित नहीं समझा.

जैसे ही मैं अस्पताल में गया, मुझे हमेशा की तरह लौंडे, मर्द और लंड के ही ख्याल आ रहे थे क्योंकि जब भी मैं सार्वजनिक स्थानों पर जाता हूँ मेरी लंड की भूख अपने आप ही जाग जाती है क्योंकि वहाँ पर कई सारे अंजान जवान मर्द होते है जिनसे हमारा कोई सम्बन्ध नहीं होता है, फंस जाये तो अपना काम बन जाये, नहीं तो कोई बात ही नहीं. वो थोड़ा पीछे हुई और हम दोनों बेड पर गिर पड़े और उसका नाजुक सा शरीर मेरे नीचे मचलने लगा. कहानी जारी रहेगी और आगे की कहानी में आप लोगों बताऊंगा कि मुझे पूजा को पटाने के लिए कौन कौन से पापड़ बेलने पड़े और किस तरह मैंने एक कुंवारी लड़की की सील तोड़ी.

दो शानदार मोटे, चिकने लंड केलों की तरह चूत और गांड के अन्दर-बाहर चलने लगे! मेरी नताशा ख़ुशी से मीठी-2 सिसकारियां भर रही थी. क्योंकि मेरी काफी गर्लफ्रेंडस थी, मैंने सेक्स भी काफी बार किया हुआ था, तो मैं लड़कियों के बात करने और उनके चाल चलन के तरीके से समझ सकता हूँ, कौन लड़की कैसी होगी. उसने हल्के गुलाबी रंग की ब्रा पहनी हुई थी, वो एक परी से कम नहीं लग रही थी.

मगर रोहित ने क्या किया, जब सविता भाभी ने ब्रा और थोंग पेंटी पहन कर रोहित के सामने अपने शरीर की नुमाइश की.

वो सोफे पर अपने पैर पसारे हुए बैठा था और मैं उसके ठीक सामने खड़ी थी. दोस्तो मैं वहीं खड़े होकर उन्हें झाँक कर देखता था और मुठ मार लिया करता था.

कहानी दार बीएफ कंडोम, वेसलीन, पानी, पेन किलर और बाकी जिस भी चीज़ की जरुरत पड़ सकती थी, सब मैंने पलंग के सिरहाने इकट्ठा कर लिया. तो मैं सविता के कमरे मैं गया और उसकी सारी ड्रेस देखी, एक ड्रेस मुझे बहुत सेक्सी लगी, मैंने उसे वो पहन कर जाने को बोल दिया और किस कर के उसे भेज दिया.

कहानी दार बीएफ उसकी चूचियाँ ब्रा के अंदर समा ही नहीं रही थी ऐसा लग रहा था मानो उसने बहुत छोटी ब्रा पहन रखी है. जिस साइज़ के लंड के लिए चुत को अभ्यास हो उससे बड़ा लंड जब चुत में जाएगा तो कुछ दर्द तो होता ही है.

नीतू- दीदी ये अपने क्या कर दिया मेरे पूरे बदन में चिंटियां सी रंगने लगी थीं.

ससुर बहू की सेक्सी फिल्म बीएफ

मिलते ही अंकल बोलने लगे कि मैं कितना बड़ा हो गया हूँ, मुझको उन्होंने बहुत पहले देखा था. वो किस करते हुए नीचे को आ गईं और मेरी चड्डी निकाल कर मेरे लंड के ऊपर लेट गईं. मैं कराहने लगी और रोते हुए बोली- मैं आपको कल रात गांड मारने दे दूँगी पर अभी छोड़ दीजिए.

यार मनोज! क्या होता होगा तुम्हारा इस सर्दी में बिना सेक्स के? ये बोले. मेरी बात सुनकर उसे यकीन हो गया कि मैंने सच में उसे नींद की गोली दी थी और वह खुलकर मेरा साथ देने लगी. ’‘अच्छा तो आज तक कितनों से चुद चुकी हो?’‘कॉलोनी के ही 5 पड़ोसी हैं, दोपहर को जब मेरा मन होता है.

उसके बाद तो गुलशन रोज अनिता को चोदने लगे और वो भी उनके बड़े लंड की आदी हो गई.

मैं फिर दोस्तो में बिज़ी हो गया, वहाँ मेहमान खाना ख़ाकर चले गये थे, मेरे दोस्त की फॅमिली और दुल्हन की फॅमिली के लोग ही बचे थे, हम सबको खाना खाने बोला गया मुझे ज़ोर से पेशाब लगी थी तो मैं अपने दोस्तो से बोला- तुम लोग प्लेट्स लो, मैं आता हूँ. अब मैंने चांस मारा, दीदी की साड़ी को उनके सीने से हल्का सा हटाया तो उनके मम्मों की लाइन दिखने लगी. मुझे लगने लगा कि मुझे वो सब नहीं देखना था, पर मुझे नहीं पता था कि मेरा बेटा वहां पेशाब कर रहा है.

अब मैंने उसके एक चूचे को अपने मुँह में भर लिया और चूसने लगा और एक हाथ से उसके दूसरे चूचे को पकड़ कर दबाने और मसलने लगा. वह बहुत जोश में आ गई, चिल्लाने लगी- फ़क मी… फ़क म… आह आह… औ औ घुसा दो पूरा आह…ले ले मेरा लौड़ा… आज तो तेरी गांड फाड़ दूंगा।”दोनों भयंकर जोश में चुदाई कर रहे थे. सुमन अच्छी तरह जानती थी कि उसकी माँ किचन से एक घंटे पहले बाहर नहीं आने वाली.

इसलिए अब तक जितने भी लोगों से दोस्ती की है और जिनसे रिलेशन बने, वो हमेशा मेरी रिस्पेक्ट करते है और मैं उनकी. कुछ धक्के मारने के बाद मैंने लंड बाहर निकाल कर लड़की की गांड को चेक करने की गर्ज से हाथों से छेद को थोड़ा फैलाया, तो मुझे लगा कि अभी भी छेद काफी तंग था और दोस्तों के मूसल लंडों के लिए उसे अभी और फैलाना चाहिए.

और वो अपने मजबूत पैरों से धम धम करता हुआ मेरे पीछे पीछे सीढ़ियों पर आने लगा. उनकी तबीयत ठीक नहीं तो यहाँ रुक गई थीं और उन्होंने पापा को कॉल पर बता दिया था. लेटे हुए चंगेज़ ने अब उसका लंड गांड में घुसए हुए ही उसके पेट के ऊपर लेटी नताशा के पैर आपस में जोड़, अपने हाथों द्वारा, बाईं तरफ ऊपर की ओर उठा दिए, जिससे अब लड़की को अपनी गांड में घुसे हुए दोनों लंड साफ़ नजर आने लगे!मेरी पत्नी को इस पोज में अपनी गांड मरवाते हुए बहुत मजा आ रहा था और वो इठलाते हुए अपनी जीभ पतली कर, अपने होठों पर फेर रही थी.

मैंने उसके अंडरआर्म्स के बीच हाथ डाला और उसे उठा कर किचन की ओर चलने लगा.

उधर पण्डित जी मेरे स्तनों को भींच भींच कर दूध दुहने की नाकाम कोशिश में लगे पड़े थे और बीच बीच में वो अपनी कमर उठा उठाकर तेज तेज लिंग को मेरी योनि में मर्दन कर देते थे. मैं और रॉबर्ट रूम के लिविंग एरिया में सोफे पर बैठ गए और डील की बातें करने लगे. मैंने इसी बीच कमर को जोर से दबा कर उनके ऊपर चढ़ गया, मेरा लंड जड़ तक फिसलते हुए घुस गया.

‘वो क्या है न भइयाजी, वो ऐसे में कहने वाली बात को न है को, तनिक अपना कान इधर लाइए, हम बताते हैं. पूरा प्रोग्राम बना कर चारों यार शुक्रवार को दोपहर को ही अपने अपने ऑफिस में आधे दिन की छुट्टी टिका कर निकाल पड़े.

कविता भी जीजू की दीवानी थी तो उसने भी हंस कर गले लगा कर विनय को गाल पर किस दिया. फिर उसने हम दोनों से सॉरी बोला और कहा कि यार अब करने का मन तो होता है ना. साथियो, मेरी इस सेक्स स्टोरी पर आप मर्यादित भाषा में ही कमेंट्स करें.

सेक्सी बीएफ चोदने वाली देहाती

मैंने उससे बात की, तो वो भी उसी विषय में फेल हुई थी, जिसमें मैं फेल हुआ था.

अब मेरा पूरा लंड उनकी चूत में चला गया था और वो जोर जोर से अह्ह्ह्हह… उम्म्ह… अहह… हय… याह… स्स्स्स… की सिसकारियाँ ले रही थी. अब बाकी चुत चुदवाने की मुराद कैसे पूरी हुई और संग में गांड का क्या हुआ वो सब आपको अगले भाग में चुत खोल कर पूरी चोदन कहानी लिखूंगी. पूजा के होंठ काफी गर्म थे और उसकी जीभ मेरे मुंह के अन्दर जाकर मेरी जीभ को चाटने लगी.

थोड़ी ही देर में मामा की नींद भी खुल गई और वो भी उठकर कपड़े पहन कर फ्रेश होने चले गए. मैं अपने घर वापस आ गया और अगले दिन सुबह जॉगिंग के समय भाभी से फिर मुलाकत हुई. सांडा आयल के फायदेलंड की चोट से वो भी मस्ती से चिल्ला उठी और बोलने लगी- आह… और जल्दी करो… फाड़ दो अपनी बहन की चूत को… बहुत मोटा लंड है तेरा… आह… मजा आ गया.

भाभी की चूत चाटते हुए मैंने अपनी एक उंगली उनकी चूत में डाल दी और अन्दर-बाहर करने लगा. हैलो दोस्तो, मुझे अपने से बड़े उम्र की लड़कियाँ या भाभियाँ बहुत पसंद हैं.

मेरे प्रिय पाठको, आप सबका धन्यवाद जो आपको मेरी पिछली हिन्दी सेक्स स्टोरीजमेरी बीवी की सहेली के साथ डर्टी सेक्सऔरबस के सफर में मिली कामुकता भरी एक अनजान भाभीअच्छी लगी. मैंने मामा जी के लिए अपनी चुत की झांटें भी साफ़ कर ली थीं ताकि उनको चिकनी चुत का सरप्राइज दे सकूँ. दूसरे दिन अंकल और पूजा चले गए और मैं वासना भारी निगाहों से उसका इंतजार करने लगा.

मैं आपकी नाइटी खोलता हूँ।भाभी भी मान गईं और उन्होंने मेरी शर्ट को खोल दिया और साथ ही साथ मेरे पैंट और चड्डी को भी उतार दिया।उसके बाद मैंने नाइटी खोली।ओह माय गॉड. ’ओह वाउ क्या मज़ा आ रहा था। उनके चूचे ही ऐसे थे, जिसे देखके कोई भी मर्द का खड़ा हो जाएगा।उसके बाद मैंने भाभी को बिस्तर पे लिटाया और उन्हें किस करने लगा। पहले गले पर और फिर से उनके मम्मों को चूसने लगा, चाटने लगा। इतना ज्यादा चाटने लगा कि मेरे थूक से उनके चूचे पूरे गीले हो गए।मैं- भाभी कैसा लग रहा है?काजल- चूसते रहो प्रिंस. मैं उनका इशारा समझ गई और उनको बैठा कर उनके खड़े लंड को प्यार करने लगी.

क्योंकि उन्हें आईसीयू में दाखिल किया गया था और हमारे लिए कमरा नहीं था.

पूजा अगर चाहती तो उठ कर भाग बाथरूम की तरफ सकती थी मगर ये सूसू नहीं उसका चुत रस आने वाला था और आप जानते हो ये मज़ा ऐसा होता है इसमें इंसान बेबस हो जाता है। वो चाहकर भी नहीं उठ पा रही थी और अब इतने करीब आकर तो सवाल ही पैदा नहीं होता था कि वो उठ जाए।पूजा ने कस कर संजय की जाँघ पकड़ लीं और अपने दाँत भींच लिए उसकी चुत से गर्म लावा बहने लगा था।पूजा- आह ससस्स उफ़फ्फ़ मामू आह. सब्र करो बच्चू आज चूत मिलेगी तेरे को!” मैंने लंड को थपकी दे दे कर जैसे सांत्वना दी.

मुझे मजा आ रहा है।मैंने उसको और ज़ोर से चोदने लगा और फ्रेंच किसिंग भी करता रहा। कुछ धक्कों के बाद मैं भी झड़ गया और सारा माल उसकी चुत में ही छोड़ दिया।हम दोनों पसीने-पसीने हो गए थे, तब भी एक-दूसरे में चिपके रहे।कुछ देर बाद फिर से जवानी मचलने लगी।उसके बाद उसने मुझे जीभ किस किया और डॉगी पोज़िशन में बैठ गई। मैंने उसके हाथों को पीछे से पकड़ा और लंड चुत में डालकर चुदाई चालू की।अबकी बार वो कह रही थी- अह. थोड़ी देर सबीना की गांड को मैं जोर से चोदने लगा अब मैंने रफीक को बेड से नीचे उतर कर मैंने जमीला को सबीना के नीचे से आगे खिसक कर सबीना की चुचियों पर मुँह ले जाने को कहा तो जमीला आगे खिसक गई और अब उसके मुँह पर सबीना की मस्त बड़ी चुचियाँ थी, जिनको वो चूसने लगी और सबीना का मुँह भी जमीला की चुचियों पर आ गया. अब तू आँखें बंद करके आराम से लेट जा और पैर पूरे खोल दे, फिर देख आज तेरा सारा दर्द कैसे बाहर निकालता हूँ.

मैंने हैरानी से पूछा- तो आप अपनेदोस्त की बीवीको अपना लंड चुसा रहे थे?उसने कहा- क्यूं इसमें इतने हैरान होने वाली कौन सी बात है… मैं तो उसकी चूत भी मार चुका हूँ. अगर आप चाहते हैं कि मैं और भी कहानियां में आपके साथ शेयर करूँ, तो आप बताएं कि ये चुदाई की कहानी कैसी लगी. पर सोनू बोली- नहीं जीजी, मैं ही बैड पर सो जाऊँगी, आप तकलीफ मत लो।बेचारी मीना और मेरे अरमानों पर पानी फिर गया।देर रात तक वे दोनों दूसरे कमरे में बात करती रही और मैं आप के कमरे में आकर सो गया।रात को मैं भी मुठ मार के सो गया तो कुछ देर बाद मुझे महसूस हुआ कि कोई मेरे लंड को सहला रहा है।मैंने सोचा कि मीना है शायद… पर मैं गलत था, ये तो कामदेव मुझ पर मेहरबान हो गए।मेरे लंड पे सोनू का हाथ था.

कहानी दार बीएफ बाजू में ही शहद की बोतल रखी थी, मैंने वो खोली और शहद उसकी बुर और चुचों पर डाल दी. उं कामुक और हसीं यादों को अपने दिल में समाए हम वापिस हिन्दुस्तान आ गयी.

घोड़ा वाला बीएफ एचडी वीडियो

लेटे हुए चंगेज़ ने अब उसका लंड गांड में घुसए हुए ही उसके पेट के ऊपर लेटी नताशा के पैर आपस में जोड़, अपने हाथों द्वारा, बाईं तरफ ऊपर की ओर उठा दिए, जिससे अब लड़की को अपनी गांड में घुसे हुए दोनों लंड साफ़ नजर आने लगे!मेरी पत्नी को इस पोज में अपनी गांड मरवाते हुए बहुत मजा आ रहा था और वो इठलाते हुए अपनी जीभ पतली कर, अपने होठों पर फेर रही थी. आपने कपड़े क्यों निकाले हुए थे और मेरी लूली पर आपने गीला-गीला क्या लगाया था. दोनों लंड काफी फंसे हुए मुंह के अन्दर घुसे हुए थे, और सच पूछिये तो नताशा को मुंह चलाने के लिए जगह ही नहीं मिल पा रही थी, उसकी जीभ भी हमारे लंडों के बीच फंस सी गई थी और किसी भी प्रकार की क्रिया नहीं हो पा रही थी.

सुमन- आप ऐसे क्यों बोल रही हो दीदी? मैंने मना कब किया, मौका आएगा तब मैं भी कर लूँगी ना. वो बोला- तुम तो भीग गई हो? शमीज को उतार कर सुखा लो, घर जाओगी तो मम्मी पूछेगी. जंगल मे मंगलमाआआ आआआऐन तो गईई ईईई… आआअह…’थोड़ी देर की चुदाई के बाद वो झड़ने लगी.

अब पापा एकदम नंगे थे, उनका लम्बा मोटा गुलाबी लंड हवा में लहरा रहा था.

मैं उसके ऊपर आ गया और उसकी गोरी मांसल खुली टांगों के बीच उसकी गुलाबी रंगत वाली चूत को खोल कर देखा, छेद इतना तंग लग रहा था जैसे इसमें कभी कुछ गया ही नहीं था. मैं सोने जाने लगा तो वो बोलीं- चलो अन्दर वाले बेड पर वहीं सो जाना, कुछ देर बातें करते हुए सो जाएंगे.

इस बार जब चाची ने कुछ नहीं कहा तो मुझे लगा कि शायद चाची सो गई हैं, मैंने धीरे से अपनी एक आंख खोली तो देखा चाची जाग रही थीं. मैंने अपनी एक उंगली सुलेखा की गांड में कर दी, सुलेखा चुदाई के मज़े से सिसकार रही थी और बोले जा रही थी- उफ़ उई आह आह चोद चोद साले चोद. गुलशन- वाह भाई आज तो मज़ा आ गया, मगर एक बात बताओ मॉल में तुमने ऐसा क्यों कहा कि आपको किसी की इच्छा से क्या लेना-देना! क्या मैं तुम्हें कभी किसी बात के लिए मना करता हूँ.

पर एक दिन चंद्रा भाभी अपने बच्चे के साथ आंगनबाड़ी से सामान ले रही थीं.

अब मोना ने नीतू को चुदाई के लिए एकदम तैयार कर दिया था मगर वो सही मौके की तलाश में थी. बहूरानी जी बेझिझक मेरी आँखों में आँखे डाल के मुस्कुरा मुस्कुरा के लंड चूसती फिर अपनी चूत में लंड लेकर लाज शर्म त्याग कर मेरी नज़र से नज़र मिलाते हुए उछल उछल कर लंड का मज़ा लेती और अपनी चूत का मज़ा लंड को देती और झड़ते ही मुझसे कस के लिपट जाती, अपने हाथ पैरों से मुझे जकड़ लेती, अपनी चूत मेरे लंड पर चिपका देती और जैसे सशरीर ही मुझमें समा जाने का प्रयत्न करती. कॉलेज के बाद सब अपने अपने घर की तरफ़ निकल लिए मगर आज सुमन और टीना के साथ फ्लॉरा भी आ गई और ये तीनों टीना के घर में आ गईं.

नेपाली क्सक्सक्सयार मैं भी तो यहीं हूँ।फ्लॉरा- नहीं यार मैं नहीं कर सकती।टीना- अच्छा जाने दे. वो इठला कर बोली- अभी इसमें से दूध कैसे निकलेगा?मैंने कहा- वो तुम मुझ पर छोड़ दो.

इंडियन बीएफ सेक्सी गर्ल्स

अब मेरी समझ में आ गया कि वो लड़कियां चुत चुसाई की बातें कैसे मज़े लेकर करती थीं. चुत के पानी छोड़ने से अन्दर तक चिकनी हो गई थी, इसलिए लंड आराम से पूरा अन्दर चला गया. इतना कह के मैंने फिर से उन्हें पकड़ना चाहा, पर उन्होंने मेरा हाथ झटक दिया.

उसकी क्रीम कलर की पैंटी पूरी तरह ट्रांसपेरेंट हो गई थी और मुझे उसकी झांटें साफ़ दिख रही थींअनुराधा- भैया. इन 7 सालों में मैंने मौसी के बदन का हर वो सुराख जिसमें मेरा लंड घुस सकता था, मैंने चोद दिया. फिर क्या पता वो मेरा स्पर्म ही दें या नहीं? क्या पता एक बार में गर्भ धारण होगा भी या नहीं?मैंने उसे बताया कि जब आदमी और औरत फ्री सेक्स करते हैं तो लेडी सेक्स के मजे से हार्मोन छोड़ती है जो प्रेग्नेंसी में हेल्प करते हैं.

इनकी एक साथी टीना को भूल गए, आप सोच रहे होंगे इसने भी मज़े किए थे, ये कैसे बच गई. मैं उससे छूट कर भागने लगती तो मेरा भाई मुझे पकड़ कर रोमांस करने लगता. मैंने फिर से चाची को पकड़ लिया पर इस बार चाची ने मुझे धक्का दे दिया.

मेरी चूत के पानी को मामा ने अपनी जीभ से चाट कर साफ कर दिया और मेरी चूत के अन्दर तक अपनी खुरदरी जीभ घुसेड़ रहे थे. अब नजारा बदल गया, बेड के एक तरफ से मैं खड़ा होकर सबीना की गांड मार रहा था तो दूसरी तरफ खड़ा होकर रफीक जमीला की चूत चोद रहा था और सबीना और जमीला एक दूसरे की चुचियों को दबाते हुए चूस रही थी.

सुमन इस हरकत से एकदम सिहर गई और जल्दी से पीछे हो गई, उसने अपनी टी-शर्ट ठीक की और गुलशन जी से नज़रें चुराने लगी.

कुछ देर एक दूसरे की बाहों में रहने के बाद हमने उसे फिर से कुर्सी पे बिठाया।रिया ने तीन सिगरेट जलाई और एक मेरी को देते हुए कहा- मेरी, अब कुछ देर तुम हमारी मेहमान बन जाना। आज शाम हम तो अपने घर के लिए निकल लेंगे। मगर हम कभी तुमको भूल नहीं पाएंगे।फिर मैंने टी-केटल से चाय बनाई और हम तीनों ने टिपिकल लड़कियों वाली” बकवास करते करते कुछ देर तक बातें की. सुहागरात का वीडियोमैंने धीरे से देखा तो एक लड़की मस्त गाउन में खड़ी फ्रिज से पानी की बोतल निकाल रही थी. इंग्लिश सेक्सी ब्लू पिक्चर वीडियोचाची झट से बोलीं- मैं भी फिल्म देखूंगी, मैं बच्चों को सुला कर आती हूँ. मैंने खुश होते हुए कहा- ठीक है…कल दोपहर को मैं तुम्हें ये सब होते हुए दिखा दूंगा.

सविता भाभी को प्रेम की याद आते ही वे उस समय की यादों में डूब गईं जब उनका विवाह हो रहा था.

कुछ ही पलों की चुसाई में मेरे लंड से माल निकलने वाला था तो मैंने उनसे पूछा कि क्या वो मेरा मुँह में ही लेंगी, तो उन्होंने इशारा किया कि अन्दर ही आने दो. टीना- यार अब वक़्त आ गया है, सबको दिखाने का कि तू सारे टास्क को पूरा करके एकदम फास्ट बन गई है. यों ही बात करते-करते अब मेरे और सरिता के विचार क्लियर हो चुके थे एक दूसरे के लिए, हम दोनों ही हवस में पागल थे, बस मौका ढूंढ रहे थे एक दूसरे को पा लेने का और वह मौका मिला मुझे रात के खाने के बाद.

मगर जाने दे यार फिर कभी देखूँगी आज तो वैसे भी सब साथ हैं।टीना- मेरी जान हाथ आया मौका वेस्ट नहीं करना चाहिए. मैंने भी अपनी शर्ट उतार फेंकी और अपने नंगे सीने से उसके बूब्स दबा कर उसे अपने बाहुपाश में जकड़ लिया और उसका निचला होंठ चूसने लगा. मेरी बहन अनुराधा का शरीर एकदम से ऐंठ गया और उसकी कुंवारी चूत से रस का ढेर सारा स्खलन हुआ, वो आनन्द से चीखने लगी, अपनी गांड को जोर-जोर से हिलाने लगी.

सेक्सी बीएफ फुल मूव्ही

मैंने भी देर न करते हुए खींच कर और एक जोरदार धक्का दे दिया और इस बार पूरा लंड सुमन भाभी की चूत में चला गया. बातों बातों में मैंने उससे कहा कि तूने तो मुझे गुरु दक्षिणा दी ही नहीं. उसने डीवीडी प्लेयर जल्दी से बंद कर दिया और नॉर्मल टीवी चालू करके निकलने लगी।मैंने उसे रोका और बोला- अरे बैठो ना.

मुझे इसकी बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी पर जब मैंने ऋतु का तृप्ति भरा चेहरा देखा तब उसकी बंद आँखें और हलकी मुस्कराहट से भरा चेहरा देखा तो मुझे एक सुखद अहसास हुआ और मैं भी पूरे जोश के साथ अपने लंड को उसकी चूत में अन्दर बाहर करने लगा.

तो ये बात तुम कैसे कह सकती हो?फ्लॉरा- व्ववो यार ये तो कॉमन सी बात है.

वो अक्सर गुलशन को छेड़ने के लिए पापा कहती और वो उससे गुस्सा करते, बस. उसने फिर से बात शुरु की, वो बोला- हाँ तो कहाँ थे हम?मैंने कहा- रवि की बात बता रहा था मैं!वो बोला- हाँ, अब बता कैसे-कैसे क्या-क्या हुआ तुम्हारे बीच में और कैसे उसने गांड मारी तेरी?मैंन कहानी बताना शुरु किया कि कैसे मैंने रवि को पहली बार देखा और उस पर फिदा हो गया… पहली रात कैसे उसके लंड को चूसा और अगले दिन बारात में लेकर जाते हुए कार में फिर उसके लंड को चूसा. miyaa खलीफाsexi विडियोबोलो क्या कहना चाहते हो?बोला- मेम साब, आप बहुत खूबसूरत हो। आपकी आँखें बहुत मस्त हैं।मैंने उसकी इस बात पर अपनी चुत में बड़ी ठंडक सी महसूस की और हंस दी।उसने मुझसे फिर कहा- आपकी ननद नहीं दिख रही हैं?मैंने कहा- वो देर रात तक पढ़ती रही हैं इसलिए सो रही हैं.

लेकिन मेरा तौलिया निकल गया तो तेरी जाँघों के टच से मेरा लंड खड़ा हो गया. अभी तो ये कमीना मेरी चूत को जीभ से ही ऐसे चोद रहा है जिसका कि मैं बता नहीं सकती आहहह… ऐसे ही चूस बहन के लौड़े!जमीला ने सबीना के मुँह को पीछे किया और एक दूसरे को किस करते हुए मेरे मस्ताना पर उछलने लगी. अनीता तिवारी की खुशामद सुन कर हंस पड़ी और बात को आगे बढ़ाते हुए कहा- तिवारी जी दरअसल बात उन दिनों की है जब मैं कॉलेज के पहले साल में थी, मेरी एक सहेली थी, मतलब कि है प्रिया उसकी और मेरी खूब बनती थी, और उन दिनों हम एक ही हॉस्टल के रूम को शेयर करते थे, प्रिया को सेक्स मैगज़ीन पढ़ने का बहुत ही शौक था, उसके बेग में सेक्स मैगज़ीन मिल ही जाती थी, और ऊपर से वह रात को बिना कपड़ों के सोती थी.

! क्योंकि अगर तूने नाटक किया तो अगली बार तेरी गांड में पूरा हाथ डाल दूँगा. आप तो जानते हो ज़माना कितना ख़राब है आजकल!”अरे तो अदिति को यहीं बुला लो ना.

मैंने उन्हें तसल्ली दी- पण्डित जी, अगर आप सोच रहे हैं कि मैं आप पर नाराज़ हूँ, तो ऐसा बिल्कुल नहीं है.

एक के बाद एक ना जाने कितनी पिचकारियां फ्लॉरा के हलक में उतर गईं और फ्लॉरा मज़े से पूरा रस गटक गई. थोड़ी देर बाद मेरी बहन को नींद आने लगी तो उसने पूजा से कहा- चलो चलते हैं, मुझे नींद आ रही है. मैं पिछले पंद्रह दिनों से दिन रात एक किये हुए था, न ठीक से सोना न खाना.

घोड़ा लड़की वाह… क्या मजा आ रहा था इस जवान इंडियन मर्द के लंड को छूकर…लेकिन उस कमीने आदमी को सब्र तो था ही नहीं! उसने तुरंत अपनी पैन्ट खोली और अपना लम्बा लौड़ा बाहर निकाल दिया और बोला- ले चूस ले, फिर मैं गांड में डालूँगा. ’ शर्मिंदगी के कारण उसका चेहरा लाल हो गया था और वोह और भी कामुक दिख रही थी.

यहाँ मुझे पता चला कि इसके ऊपर भी एक मंजिल है, मैं सीढ़ियों से होता हुआ पांचवीं मंजिल पर दाखिल हुआ. मैंने धीरे धीरे ऊपर नीचे करते हुए उनके लिंग का अपनी योनि में मर्दन किया. अब संजय ने थोड़ी स्पीड भी बढ़ा दी थी और पूजा भी मस्ती में आने लगी थी.

बीएफ सेक्स हीरोइन

तभी एनाउन्सर ने हमें बताया कि आप अपना नम्बर सामने डिस्पले में देखते रहे और अपने नम्बर के विषय में बार-बार पूछ कर फालतू का परेशान न करें!इतना कहने के साथ ही पहला नम्बर डिस्पले हुआ. मैं भी मामा जी की जीभ को अपने अंदर खींचने लगी, मामा जी की खुरदरी जीभ मेरी मुँह में जैसे स्ट्रा-बेरी का अहसास करा रही थी. मैं वहाँ से गुज़रा तो उन्होंने मेरी तरफ कुछ हसरत भरी निगाह से देखा.

उसने बताया कि वो एक मैरिड औरत है और उनके पति आउट ऑफ़ इंडिया जॉब करते हैं और वो इधर एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करती है. मेरी हमेशा से तमन्ना थी कि कोई पुरुष मेरी चूत भी चाटे!’ वो बोली और उसने अपनी चूत ऊपर उठा दी.

इससे भाभी के स्तन और कड़े होकर उभर गए और निप्पल तो तन कर आमंत्रित करने लगे कि आओ मुझे चूस लो, काट लो …और मैं भला ये निमंत्रण कैसे अस्वीकार सकता था.

ये दुनिया बहुत खराब है, इसमें जीना है तो इसके तौर-तरीके सीखने जरूरी है. मैंने बाथरूम का दरवाज़ा खोला तो रानी का वो नंगा गोरा बदन… मस्त चूचियां और सफाचट चूत देख ली. मैंने देखा कि भाभी की चुत से खून आ गया, तब पता चला कि भाभी वर्जिन थीं.

इतना कह के मैंने फिर से उन्हें पकड़ना चाहा, पर उन्होंने मेरा हाथ झटक दिया. मैंने उसके दोनों कपड़े निकाल कर उसे बिल्कुल नंगी कर दिया और खुद भी पैंट और अंडरवियर निकाल दिया. सीधे उसी की जुबानी मजा लीजिएगा।मेरी शादी जुड़वें भाइयों में बड़े वाले लड़के से हो गई। मैं अपनी शादी को लेकर बहुत खुश थी। दोनों भाइयों की सूरत और बदन एक जैसे ही हैं। पहली बार में देखने से पता लगा पाना मुश्किल था।खैर.

वो अकड़ गई और उसकी चूत हवा में उठ गई और वो झड़ने लगी और उसकी चूत में से रस दनादन बहकर बाहर आने लगा.

कहानी दार बीएफ: मैंने उसके चेहरे पर उसके बहते आंसुओं को अपने हाथों से साफ़ किया और उससे कहा- बेबी, तुम क्यों अकेली फील करती हो. com/teen-girls/bahan-ki-jwan-beti-ki-bur-chudai-ki-lalsa-part-1/बुर की चुदाई की आवाजों से गूंज उठा था.

उन्होंने आँख मारते हुए कहा- क्या लिख कर दूँ?मेरा लंड भी पूरी तरह से तना हुआ था और मैंने खड़ा लंड उनकी चुत में पेल दिया. मेरी कामवासना अधूरी रह गई थी, मैंने बाथरूम जा कर अपनी चूत को साफ़ किया और आकर बेड पर लेट गई. मैं आपके सामने ऐसे नंगी पड़ी हूँ छी: नहीं भाई हमने ये सही नहीं किया.

मैंने उसको गाल पर किस कर दिया, वो थोड़ी सी शरमाई और फिर उसने मेरी गाल पर कर दिया.

तो यही थी टीना की सज़ा, उसकी करनी की सज़ा उसके भाई और माँ को भुगतनी पड़ी. मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाला तो मेरा वीर्य बाहर बहने लगा, पूजा की गांड के छेद तक मेरा वीर्य बह रहा था. मगर वो चीज है कि जब वो ऊपर लग रहा होता है ना मांस में… वो एक अलग चीज है.