रात का बीएफ

छवि स्रोत,भोजपुरी एक्स एक्स एक्स सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

वीडियो में सेक्सी हिंदी: रात का बीएफ, वो नहा कर आई थी, उसके बाल गीले थे और रेड कलर की ब्रा ओर पेंटी में मेरे सामने आकर खड़ी हो गई.

बीएफ सेक्सी डाउनलोडिंग वीडियो

अब मुझसे रुका नहीं गया तो मैं अपनी जीभ निकाल कर उसकी चूत के बाह्य विशाल लबों को चाटने लगा. सीकसी विडियोमेरी माताजी शादी से पहले दूसरे धर्म से थी, परदे बुर्के वाली थी, वो बहुत पुरानी सोच वाली महिला थीं मगर मेरे पापा बिल्कुल विपरीत थे.

लेकिन कुछ धक्कों में ही मेरी बीवी नताशा का दम घुटने लगा और किड को अनमना होकर अपना लंड बाहर निकालना पड़ा. आवाज वाली हिंदी बीएफमैंने भी घर का काम खत्म किया और मैं भी रूम में आ गयी।मैंने राजीव को जगाया, मैंने उनसे कहा- राजीव मुझे आज चुदाई करनी है!पर राजीव ने मुझे कहा- नहीं, मेरा मन नहीं कर रहा।और फिर वो सो गए.

मैंने मौसा जी को नमस्ते की और अजय मेरे पैर छूने के लिए झुका तो मैंने रोक दिया.रात का बीएफ: एक घंटे बाद मुझे फिर थोड़ा दर्द हुआ तो देखा कि उसका लंड मेरी गांड के अन्दर फिर से घुस गया था.

चाची मेरे लिए चाय बना लाईं और कहने लगीं- बेटा जूता उतार कर आराम से बैठ जा मैं जरा कपड़े धो कर अभी आई.ऋतिक मेरे पास मेरे बिस्तर पर आकर बैठ गया और बोला- तू जो भी बोल रहा था.

हिंदी में बीएफ पिक्चर मूवी - रात का बीएफ

वो बोली- अब फिर करोगे? इतनी सुबह सुबह?मैंने उसे अपने लंड की ओर इशारा करके दिखाया- इसे देखो, ये जिद कर रहा है!तो वो हंसती हुई बोली- बच्चों की सारी जिदें पूरी नहीं करते… नहीं तो बच्चे जिद्दी हो जाते हैं.मैं अब भाभी के पीछे से ऊपर चढ़ कर उनके बाल पकड़ कर बुरी तरह से गांड मार रहा था.

शर्म के मारे भाभी एक हाथ से अपना चेहरा और एक हाथ से अपने उभारों को ढकने की नाकाम कोशिश करने लगीं. रात का बीएफ मुझे हल्की हल्की नींद आने लगी थी तो भाभी ने मुझसे बोला- एक जादू दिखाऊं?तो मैं बोला- दिखाओ.

उसके होंठों को चूसते हुए मैंने अपने हाथ उसके शरीर पर फिराना शुरू किया.

रात का बीएफ?

मैं मुस्करा दिया और उन्होंने बताना शुरू कर दिया- आप जानते हैं हनुमंत सिन्हा तथा बलवंत सिन्हा दोनों भाई एक साथ रहते हैं. मैंने चाय पी औऱ मार्केट गया औऱ वहां से गजरा आदि लाकर छाया के घर में रख दिया. वो मनहूस मेरी सहेली अलका जिसने मुझे बिगाड़ा था… उसकी चूत में कीड़े पड़ें साली के… मुझे ऐसी घिनौनी लत लगा गई थी कि मैं चाह कर भी सुधर नहीं सकती थी.

शाम हो गयी, फिर रात हुई, खाना खाकर अब सब सोने की तैयारी करने लगे, मैं रीना की मामी के लड़के के साथ लेटा हुआ था जो तब छोटा था, स्कूल में पढ़ रहा था. लेकिन वास्तव में तो आज का दिन सफ़ेद पत्नी के मुंह में दो मोटे लंडों का दिन था!थोड़ा विश्राम कर चुकने के बाद दोनों मर्द अपने स्थान बदल चुके थे और जमैका ने मेरी पत्नी को अपने लंड पर गांड रखते हुए बैठा दिया. तभी माँ उठ गयी और कमरे का लाइट ऑफ़ करके नाइट बल्ब जला दिया और मेरे पास आकर बोली- उठ कर बैठ तू!तो मैं डर गया और कुछ नहीं बोला तो उन्होंने कस के डाँटा.

जोया केवल ब्रा में ही रह गई थी, इससे उसकी मदमस्त चूचियां भी ब्रा फाड़ कर बाहर आने के लिए मचल रही थीं. मैंने भी अपने लंड को उनकी चुत पे रख कर धीरे से धक्का दे दिया, तो वो बोल पड़ीं- आह, क्या मजा है यार. अब पढ़ें किहमने सुहागरात कैसे मनाईरोहण ने रूम लॉक किया, फिर लाइट ऑफ कर दी और मुझे गोद में उठा कर बेड पर लेटा दिया.

कमरे के बीच में दयाल, राकेश और सतीश नंगे होकर घुटनों के बल बैठे हुए थे. मैंने कहा- इट्स ओके!वो आगे को चल दी, पर उनकी मादक खुशबू अभी भी आ रही थी.

मेरे मुँह में लार बन गई थी और मैं अब पूरे लंड को अच्छी तरह मुँह में भर कर लंड चूस रही थी.

जबरदस्त चुदवाती है और गजब का चूसती है लंड, लो आरती पियो मेरे लंड का माल, अब मैं छोड़ रहा हूं।मैं बोली- हां, पूरा मेरे मुंह में खाली कर दो!और मैंने अपना मुंह खोल दिया, पूरा लंडरस सुरेश का अंदर गटगट पीने लगी.

मैंने पूछा- कौन है?तो पता चला कि मेरी सास का कॉल है औऱ पायल अपनी माँ से बात करने के लिए बाल्कनी में चली गई. मेरी कामुकता अपनी चरम पर आ चुकी थी, मैंने छाया के होंठों के ऊपर अपने होंठ रख दिए और चूसने लगा, उसके मम्मों को भी दबाने लगा. मैंने सोचा पता नहीं क्या हुआ, सो में उनको जगाने के लिए उठा, पर इतने में दीदी ने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और ज़ोर से मुझे पकड़ लिया.

मैंने तुरंत अपना लंड भाभी की चुत में से निकाल कर पूरा माल भाभी के पेट पे डाल दिया. कुछ देर बाद मैं अपनी जीभ निकाल कर उसके होंठों पर फेरना लगा, उसने मेरी जीभ पाने होंठों में पकड़ ली और चूसने लगी. मयूरी फिर बोली- दरवाज़ा अन्दर से बंद कर दिया पापा? क्योंकि मैं नहीं चाहती कि इस अवस्था में हमें कोई बाहर का आदमी देखे.

तभी मुझे याद आया कि मेरा फोन ऊपर है, सो मैंने सोचा कि जाकर ले आती हूँ.

जैसे ही लंड पे चुत का पानी लग गया, मैंने लंड भाभी के चुत में डाल दिया. मैं वहीं खड़ी ही थी कि मैंने देखा एक कोई आ रहा है तो मैं आगे की तरफ चलने लगी. मुझे भरोसा था कि वो जरूर आएगा, मेरे लिए नहीं तो तेरे लिए जरूर आएगा.

उसकी आँख एकदम लाल हो गई और वो बहुत गिड़गिड़ाते हुए आँखों से मुझे अलग होने के लिए कहने लगी. उसे थोड़ा दर्द हुआ, मैंने नीचे से ज़ोर का धक्का दिया तो मेरा मोटा लंड स्वाति की चूत को चीरता हुआ अन्दर घुस गया. मैं उनको देखता तो मेरा मन करने लगता था कि अभी इनकी गांड चूचे सब दबा दूँ.

अब उसने कामिनी की गांड अपने हाथ में लिये लिये अपना मोटा लंड उसकी चूत में पूरा घुसा दिया.

मैं उसके बेड रूम के अन्दर गया तो देखा कि बाथरूम का दरवाजा थोड़ा सा खुला था. आनन्द ने ब्रा का हुक खोल दिया और मोना के दोनों कबूतरों को आज़ाद कर दिया.

रात का बीएफ रियल चुदाई कहानी का पिछला भाग :छोटी बहन की कामुकता जगा कर बुर चोदन करवाया-1आपने मेरी इस रियल चुदाई कहानी में अब तक जाना कि मेरी बहन ने मुझे मजदूर लड़के से सेक्स करते देखा और मुझे धमकाने लगी. मैंने कान में पूछा- क्या जल्दी करूँ?कल्याणी बोली- वही जो मम्मी पापा का खेल होता है.

रात का बीएफ मैं एक बार में ही अपना सुपारा डालना चाहता था और ये जानता था कि इससे इसे बहुत दर्द होगा. इस धक्के के बाद उसने मुझे गाल पर बहुत ज़ोर से थप्पड़ मारा, मुझे बहुत गुस्सा आया और मैंने ना आओ देखा ना ताव.

घर पर चाची के अलावा क़िसी को भी ना देख कर मैंने पूछा- आंटी बच्चे कहां हैं?उन्होंने कहा- बेटा वो तो अभी अभी स्कूल चले गए, अब 2 बजे तक आएंगे.

हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ साड़ी वाली

कुछ पल तो मैंने ज़ब्त किया लेकिन फिर प्रिया को दोनों कन्धों से पकड़ कर पीछे हटाया और बहुत कोमलता से वापिस बिस्तर पर लिटा कर प्रिया की कैपरी का हुक खोला और साथ ही ज़िप नीचे की और अपने दोनों हाथ प्रिया के कूल्हों के दाएं-बाएं जमा दिये. सुकुमारी भौजी के 3 वर्ष के बेटे ने जितना दूध 3 महीनों में न पिया होगा उससे अधिक दूध मैंने कुछ ही देर में चूस लिया. फिर भाभी ने कहा- बहुत अच्छा लग रहा है, थोड़ी सी विक्स मेरी पीठ पर भी लगा दो.

इसमें आनन्द का बचना भी मुश्किल था, पर जब तक मोना कोई पहल न करे और मुझे उस पर पूरा भरोसा था कि वो नहीं करेगी. खैर जाने के लिए मैंने बाइक निकाली और बाइक पर मेरे पीछे मेरा भाई आकर बैठ गया. यहाँ तक कि उसकी जवानी देख कर उसके ससुर और पति के बड़े भाई यानि जेठजी भी मन ही मन उसे चोदने की सोचते होंगे.

फिर हम गोवा पहुँच गए, उसी दिन मेरी भैया से बात हुई तो उनकी जॉब बंगलौर में किसी कम्पनी में लग गई थी.

उस सफ़र में कोई बात तो खास नहीं हुई लेकिन वो मेरा हाथ रास्ते भर पकड़े रहा. हैलो दोस्तो, अन्तर्वासना सेक्स कहानी के आप सभी पाठकों को मेरा प्यार, नमस्कार!जैसा कि मैंने आपको पहले की कहानीरात को आ जाना. अंधेरे का फ़ायदा लेते हुए मेरी बहन उस लड़के के लंड के साथ खेलने लगीं.

वो 10:20 बजे आया, मैंने धीरे से दरवाजा बंद कर दिया और उसे मेरे रूम में ले गई. पहले तो कहानी प्यार और मोहब्बत से शुरू हुई और धीरे धीरे 4-5 हफ्तों में चूमा चाटी का सिलसिला शुरू हो गया. सुरेंदर मुझे सन्डे की शाम को चाय पर बुलाते और तब भाभी से भी कुछ बात हो जाती थी.

उसने काजल के मुँह में अपना लंड घुसाया और उसके मुँह को अपने लंड से चोदने लगा. मैं जब भी छुट्टियों में घर आता, पायल भाभी हमारे घर ज़रूर आतीं और मुझसे मेरी कॉलेज और पढ़ाई के बारे में पूछतीं.

उसकी चूचियों के निप्पल गुलाबी थे, अब तक उसके निप्पल टाइट हो गए थे जिन्हें मैं मुँह में लेकर चूसने लगा. और एक बार दे दी तो फिर तो जब चाहो तब उसकी चूत और मेरा लंड खेल सकेंगे. जब उनको लगा गांड ढीली हो गई तो उन्होंने अपने लंड पर थूक लपेटा और मेरी गांड पर टिका कर अपनी एक टांग मेरी कमर पर रखी और जोर का धक्का दे दिया.

मैं दीदी को उठा कर दीदी के रूम में ले गया और बेड पर लेटा दिया और खुद बेड परचढ़ कर दीदी की साइड में लेट गया.

अदिति बेटा, तू इतनी बदल कैसे गयी, पहचान में ही नहीं आ रही आज तो?”अच्छा, ऐसा क्या दिख रहा है मुझमें जो पहले नहीं दिखाई दिया आपको?” बहूरानी जरा इठला कर बोली. मैंने सिगरेट बुझाई और पूछा- अब कौन आएगा?इतना पूछते ही वो तीनों जिन्होंने रिया को चोदा था, वो लपक कर मेरे पास आये. तो एक दिन जब मुझे ठीक लगा मैंने सानिया से पूछ ही लिया- मैंने उस दिन ट्रेन में जो भी किया तुम्हारे साथ… तो तुम्हें वो बुरा लगा था क्या?मेरे इस मेसेज से फिर 2 दिन तक सानिया का कोई जवाब नहीं आया।फिर तीसरे उसका मेसेज आया- गुड मॉर्निंग!तो मैंने फिर वही बात पूछ ली.

फिर मैंने और जूही ने लंच किया और जूही अपने घर निकल गयी, मैं अपने घर आ गया. तभी मैंने एक और झटका मारा और पूरा 8 इंच का लंड चूत में समा गया तो उसने हाथ पैर जमीन पर मारने चालू कर दिए क्योंकि उसकी आवाज मेरे मुंह से बाहर नहीं जा रही थी क्योंकि मैंने उसके होंठ जोर से दबा रखे थे।मैं कुछ सेकंड रुका और उसके होंठ छोड़ कर लंड अंदर बाहर करने लगा.

”मैंने रोशनी की पतली कमर को पकड़ के उसे पिंकी के बाजू में लेटा दिया- विक्की, अब तुम दोनों टांगों को उलटे भी शेप में फैला दो. विनोद ने खुश होते हुए मुझे बताया कि यहां पे कल मेरी कजिन की शादी है. सैम- तो शालू तुम्हें अगले 20 दिन तक मेरी गर्लफ्रेंड बनके रहना है बस और ऐसे करते मुझे अच्छा तो नहीं लग रहा है.

चोदने वाला बीएफ भेजो

एक घंटे की बाद मुझे फिर से जोश आ गया और मैं फिर से उसकी मारने को तैयार हो गया.

मेरा भी गरमागरम लावा उनकी चूत में फूट पड़ा ‘आह… जान… आइ एम कमिंग… आह…’मैं भाभी के ऊपर ही गिर पड़ा और कुछ मिनट तक हम दोनों बेजान लाशों की तरह पड़े रहे. मेरी गांड में मूसल लंड गया तो बरबस ही अपने आप मेरी चीख निकल गई- आ आ ओ ओह. मैं दुबली पत्नी नन्हीं सी जान बेड पर थी और वे तीनों मुझे चूस रहे थे.

जैसे ही मैं चूसने के लिए मुँह नीचे करने लगा तो उसने कसम दी और रोने लगी. बस और ये आखिरी बार है, इसके बाद मैं मिनी के साथ कुछ भी करने को कभी नहीं कहूँगा. गांड मारी बीएफरवि ने अच्छे से समझाया कि नहीं या और एक राउंड समझाने के लिए क़ह दूँ?कल्याणी- नहीं.

आप लैपटॉप मंगा लो। मैंने यश से बोला तो वो दूसरे दिन ही खरीद लाए। फिर धीरे-धीरे मेरी दोस्त ने फेसबुक, चैट आदि करना सिखा दिया।”गुड. जब झूला चालू हुआ तो सोनी ने मुझसे कहा- नवीन, तुझे शर्म नहीं आई अपनी बड़ी बहन के साथ ऐसा करते हुए? मैं तो तुझे अपने भाई के साथ साथ अपना एक बहुत अच्छा दोस्त समझने लगी थी, पर तूने तो सब पे पानी फेर दिया.

बॉस नहीं मान रहे थे तो मैं उनके गोद में बैठ गई और उनके होंठों को चूम लिया. कुछ देर के बाद वो शांत हुई और फिर अपनी गांड उठा कर हिलाने लगी, जिससे मैं समझ गया कि प्रिया की चुत का दर्द अब कम हो गया है, अब धक्के लगाना शुरू कर देना चाहिए. वो तो तुम्हारा लंडवा भी सेक्सी है परन्तु पहले इस साली बहन की लौड़ी मेरी मासूम बेटी को पूरी नंगी तो कर लो स्टीव.

संजय मेरे इतने करीब आ चुका था कि हम दोनों की सांसों की गरमाहट एक दूसरे में समा रही थी. उसकी चूत पर कोई बाल महसूस नहीं हुए मुझे… इसका मतलब या तो उसकी झांटें अभी आई नहीं थी या उसने आज ही अपनी झांटें साफ़ की होंगी. मैं झट से उठा और अपने कपड़े उतार कर नंगा होकर दीदी के कमरे में आ गया.

जांघें तो पूरी नंगी सी और जो मेरा बहुत ही निकला और उठान लिए है हिप्स और पूरी नंगी जैसी दिखने लगी.

जब मेरे ताऊजी के लड़के की शादी होने वाली थी, तब हमारा पूरा परिवार उसकी शादी के लिए उसके शहर में गए थे. इसके पहले चोदी तो बहुत सी लड़कियां थीं लेकिन पहली बार पड़ोसन को चोदने जा रहा था.

जब लंड पेल रहा था तो वो केवल मेरी दोनों जांघों के बीच में लंड करके बहुत तेज आगे पीछे करने लगा. मैंने अन्तर्वासना की बहुत सी रियल कहानी पढ़ी हैं मुझे इधर की चुदाई की कहानी पढ़ कर बहुत मजा भी आया. मेरे पापा बोले- ठीक है सुरेश भाई, अपनी बीवी को छोड़ दो, मैं आरती की शादी तुझसे कर दूंगा.

मैं चिल्ला उठी- ऊईईईई आहहह…मेरी चीख सुन कर अंकल और जोश में आकर जोर जोर से दोनों चूचे दबाने लगे और फिर अपने मुंह में भर लिया मेरे एक एक बूब को दोनों ने और बदल बदल कर जैसे चूसना शुरू किया, मैं पागल हो उठी ‘ओहहह आहहह…’ करने लगी, मेरे मुंह में भाभी के पापा का लंड था जिसे मैं चूस रही थी और वो मेरे बूब्स को मसलने और चूसने में लगे थे. मैं डर रहा था कहीं करण की माँ या फिर करण घर पर ना आ जाए क्योंकि करण कॉलेज कुछ देर पहले ही निकला था. मेरे वहाँ पहुँचने से पहले ही बहन ने निकलने की पूरी तैयारी कर रखी थी.

रात का बीएफ पर वो किसी काम के सिलसिले में बाहर गया हुआ था और मेरी आदत लगभग रोज ही चुत चुदाई की हो गयी थी. मुझे उनकी आँखों में एक अलग ही चमक दिख रही थी, ऐसा लग रहा था जैसे वो किसी आग में जल रही हों और मुझसे उसको शांत करवाना चाहती हों.

बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी पिक्चर

अब मैं और भाभी मौके की तलाश में रहते और जब भी हमें मौका मिलता, हम चुदाई कर लेते. मैंने कपड़े पहने, मेकअप किया, लिप एंड आई लाइनर, लिपस्टिक आदि लगा ली ताकि यहाँ के लड़के भी मेरा जलवा देख सकें और बाहर आ गई. मुझे तो पता ही था कि मुझे क्या देखना है और मैं पहले एक बार देख भी चुकी थी तो मुझे कोई दिक्कत नहीं हो रही थी.

चोद लेना।”क्या चोदने दोगी?”जो तुम अब चोद रहे हो।”क्या चोद रहा हूँ?”मधु मेरी कमर पर चपत लगाते हुए ऊउऊ. तो मैं गाण्ड हिलाने लगी। यश मेरा इशारा समझ गया और झटके मारने लगा। मुझे अलग ही नशा सा छा रहा था और मैं यश से लिपटती जा रही थी। परन्तु मेरे भाग्य में चुदने का पूरा सुख नहीं लिखा था।”क्यों अब क्या हुआ?”थोड़ी देर बाद मुझे अपनी चूत में कुछ गिरता हुआ महसूस हुआ और यश मेरे ऊपर हाँफते हुए लेट गया। मैं नीचे से गाण्ड उचकाती रही. ब्लू वीडियो में हिंदीममता मुझसे बात कर रही थी और मेरी नज़रें उसके चूची के पहाड़ों पर टिकी थीं जिसे उसने भी पकड़ लिया और अपनी साड़ी ठीक करने लगी.

‘ओह, मेरी प्यारी मंजरी, आज मौका मिला है मुझे तुम्हें अपनी पत्नी बनाने का!’ कह कर पुलकित ने मंजरी को बांहों में जकड़ कर ऊपर को उठा लिया तो मंजरी ने अपनी आँखें बंद कर लीं.

वो उठ कर घोड़ी बन गईं और मैंने भाभी की चूत पर अपना लंड रख कर जैसे ही धक्का दिया, मेरा लंड बड़े आराम से अन्दर चला गया. मैं किसी की बीवी हूँ, तुम मुझसे बहुत छोटे हो, मैं तुम्हें संजय भाई कहकर बुलाती हूँ.

मैंने 69 की अवस्था में होते हुए अपना लंड उनके मुख के पास किया और उसे उनके होंठों से छुआ दिया. उन्हें इस रूप में देखकर मेरा लंड लोहे की तरह टाईट हो गया, ऐसा लग रहा था, जैसे अभी पैन्ट फाड़ कर बाहर आ जाएगा. रविवारीय बैठक में निर्णय लिया गया कि उन सीडी को नष्ट कर दिया जाए, पर एक बार उन्हें देख लिया जाए.

वो बोला- सरिता, तुम्हारी चूत तो बिल्कुल गुलाबी रंग और कितनी खूबसूरत है, तुम्हें पाकर मजा आ गया.

मैंने काफी जगह अपने रेज़्यूमे दिए थे, जिस वजह से मुझे कुछ दिन बाद एक मधुरा नाम की लड़की ने फोन किया. भाभी की चूत चुदाई के कारण इतनी गर्म हो रही थी कि मेरे लौड़े को भी उनकी चूत खा जाना चाहती थी. मैंने अपने उसी दोस्त को फ़ोन किया और उसे बता कर उन्हें लेकर चल पड़ा और खेतों के रास्ते से ही कोठड़े (खेत वाले कमरा) पर ले आया.

नेपाली सेक्स करते हुए वीडियोक्योंकि बाल गीले होने के कारण उनकी नाईटी हल्की भीग सी गई थी और शरीर से चिपक गई थी. यह मेरी सच्ची कहानी है तो हो सकता है सेक्स कम और अन्य बातें थोड़ी सी ज्यादा मिले जिसके लिए माफ़ी चाहूँगा आपसे पहले ही!वैसे यह अपने आप में ही काफी रोचक घटना है, उम्मीद है कि आपको पसंद आएगी। यह घटना जोधपुर की ही है.

एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स सनी लियोन बीएफ

मेरे पड़ोस में एक भाभी रहती हैं, उनका नाम पायल है और उनका फिगर 36-30-38 है. जरा भी रहम नहीं आया आपको अपनी बहूरानी पर?”अच्छा, अब तू मुझे ही दोष दे रही है? रात को तू ही तो ‘लव यू… लव यू…’ बोल कर कह रही थी- कुचल डालो इसे… फाड़ के रख दो मेरी चूत आज… बहुत सताती है ये!इसका मतलब यह थोड़ी न के आप सच में ही रौंद डालो मेरी कोमल जगह को बेरहमी से; चाहे कोई जिये या मरे; आपकी बला से!”बहूरानी थोड़ा तुनक कर बोलीं लेकिन उनकी आँखें से शरारत झलक रही थी. जिसके साथ तुम्हारा चक्कर है… उसका!”नहीं यार, तुमसे छुटकारा पाने के लिए मैंने ऐसे ही झूठ कहा था.

मैंने शावर बंद किया और चाची को दीवार से सटा दिया, मैं घुटनों के बल बैठ गया और अपना मुँह चाची की दोनों जाँघों के बीच घुसा दिया. उसने मेरे कपड़े निकालने शुरू कर दिये और थोड़ी ही देर में हम दोनों नंगे हो गए. फिर हम दोनों कूपे से बाहर निकले और कम्पार्टमेंट के तीन चार चक्कर लगा डाले ताकि टहलना हो जाय और हाथ पैर खुल जायें.

मोना को भी मेरे लंड का पानी का स्वाद शायद बुरा नहीं लगा इसलिए उसने जोया के मुँह में जीभ डाल कर उसके मुँह को साफ करना शुरू कर दिया. अपनी फ्री सेक्स स्टोरी के बारे में बताने से पहले मैं अपने और अपने परिवार के बारे में बताना चाहूँगा. मैंने फिर अपना लण्ड पूरी ताकत के साथ उसकी कुंवारी बुर में डाल दिया, वो बहुत ही जोर से चीखी लेकिन मैंने इसकी परवाह न करते हुए कई धक्के लगा दिए। उस बुर की सील टूट गयी थी, वो लगभग अधमरी से हो गयी थी, कुतिया वाली पोजीशन की वजह से हर धक्के के बाद वो आगे की तरफ गिर जाती.

तो बॉस ने पूछा- क्या हुआ नेहा? तुमको अच्छा नहीं लग रहा है?मैं- सर अपको एक बात बतानी है. उसके बाद बहुत प्यार से उसको फँसाना, तब आएगी दिव्या रानी हमारे लंड के नीचे.

कुछ देर तक उसकी चूत के दाने को सहलाने के बाद वह फिर से थोड़ी शान्त हुई.

मयूरी को ये सब कारगुजारियां एक नई उम्मीद दिला रही थीं कि ये नया लंड उसकी जम कर चुदाई करने वाला है. प्यार की बीएफमेरे फ्रेंड्स इतने ज्यादा हैं कि कोई ना कोई फोन या मैसेज करता ही रहता है. बांग्ला में बीएफ चाहिएअन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर आपका स्वागत है!धन्यवादरवीराज मुंबई[emailprotected]. ! आप सब यूं ही प्रतिक्रिया देते रहिए इससे हम लेखकों का हौसला बढ़ता है।इस सेक्स स्टोरी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि छोटी के मानसिक इलाज के लिए मैंने छोटी और उसकी माँ के सामने तनु के साथ सेक्स की शुरुआत कर दी थी.

लगभग बाहरवीं कक्षा तक तो उसकी कोई गर्लफ्रैंड तक नहीं थी।बाहरवीं क्लास में उसकी चचेरी भाभी अंजना उनके घर कुछ दिनों के लिये आई उसे फुद्दू से चोदू बना गयी।अंजना की उम्र 38 साल के आसपास थी.

फिर एक दिन मैं व्हिस्की की बोतल लेकर घर गया और टीवी पर ब्लू फ़िल्म देखते हुए व्हिस्की पीने लगा. यह कह कर मैंने भाभी को ज़ोर से बेड पर पटका और उनकी टांगें चौड़ी करते हुए अपना लंड भाभी की चूत के छेद पर रगड़ने लगा. वह पर हम दोनों ने खाना खाया और उसके बाद चाचा बोले- आज हम दोनों होटल के रूम में चुदाई करेंगे!लेकिन मैंने अब फिर चाचा को मना कर दिया क्योंकि मैं नहीं चाहती थी मुझे और चाचा को कोई होटल रूम में जाते आते देख ले.

फिर सैम ने मुझसे पूछा कि शालू तुम्हें किस साइज़ के कपड़े होते हैं?मैंने कहा- एक्सएल हों या डबल एक्सएल हों. अंकित ने झड़ते हुए बड़बड़ाते हुए कहा- किसी दिन तुझे सैंडविच बना कर चोदने का मन है माया रानी. उसका लण्ड भी एकदम कड़क हो गया। फिर उसने भी अपने कपड़े उतार दिए और नंगा हो गया।मुझे मजा आ रहा था तो हम दोनों बिस्तर पर आ गए.

इंडियन सेक्स बीएफ फुल एचडी

सो जल्दी से नहाने घुस गए। थोड़ी देर में मैं नहा-धो कर तैयार हो गया था।मैं कमरे से बाहर निकला और मैंने मधु को आवाज दी. दस मिनट की चुदाई के बाद आनन्द ने लिंग को बाहर निकल कर मोना की योनि के ऊपर अपने वीर्य की पिचकारी डाली. अब दो दिन बाद ही बताऊँगी, अभी सो जा मेरे प्यारे भाई!मैं- ओ के प्यारी दीदी!दो दिन तक मैं सोचता रहा कि आख़िर दीदी कौन सी बात बताना चाहती हैं.

मैंने जल्दी से अपने कपड़े पहने और करवट बदल के सोने की कोशिश करने लगा.

मेरा नाम स्वयं है। मैं ऑफिस के काम से डलास शहर जो कि टेक्सास(अमेरिका) में है.

तभी दीदी ने मेरे हाथ को छोड़ दिया और मेरे लंड को हाथ में पकड़ लिया फिर लंड पर हाथ को ऊपर नीचे करने लगी, मैंने भी मौका देखा और दीदी के ऊपर चढ़ गया। दीदी ने मुझे हैरानी से देखा मैंने भी सर हिला कर इशारा किया कि मैं कुछ नहीं करूँगा जब तक आप नहीं बोलोगी. तभी माँ उठ गयी और कमरे का लाइट ऑफ़ करके नाइट बल्ब जला दिया और मेरे पास आकर बोली- उठ कर बैठ तू!तो मैं डर गया और कुछ नहीं बोला तो उन्होंने कस के डाँटा. गूगल मेरा व्हाट्सएप खोलोरोशनी रोने लगी- राहुल क्या हम अब हमेशा इसी तरह कुत्तों जैसे चिपक जाएंगे.

मैंने धीरे से उनकी लुंगी हटा दी और उनका मुरझाया हुआ लंड हाथ में ले कर सहलाने लगी. फिर मैं रात को पहले से ही जाकर बेसमेंट के रूम में खूब पुराना सामान रखा है, वहाँ जाकर छुप गया. मैं उसके ऊपर झुका और उसने खुद ही मेरा लंड पकड़ कर सही जगह पर रख कर उसे ज़न्नत का रास्ता दिखा दिया.

फिर अचानक ही उन्होंने मुझसे सवाल किया- तुम्हें कैसी लड़की पसंद है?मैं भाभी की बात को सुन कर चौंक गया. इसलिए उन्होंने अपनी चाहत जताई थी कि कोई माकूल व्यक्ति किसी दूसरे शहर में मिले और उन्होंने मेरी कहानी पढ़ने के बाद सोचा कि मुझसे बात करें.

दीदी- सन्नी, लंड चूसने के लिए तुमने सारे कपड़े क्यूँ उतार दिए?मैं- अरे दीदी जब मस्ती ही करनी है तो पूरी तरह करो ना!दीदी- नहीं सन्नी, मैं इस से आगे कुछ नहीं करूँगी.

सुबह उठा तो रात का सीन आँखों के सामने आ गया और लंड फिर से खड़ा हो गया. मैंने पेंटी को पहना तो अच्छा लगा तो मैंने सोचा कि अन्दर यही पहने रहूंगी और ऊपर जो अमित पहली बार में दी थी, वो पहन लूँगी. मेरा उत्साह थोड़ा कम सा हुआ मगर फिर भी मैंने फिर अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर लगाया और एक झटके में उसकी चूत में पेल दिया.

एडल्ट सेक्सी एडल्ट सेक्सी तो फ्रेंड्स कैसी लगी मेरी प्यासी भाभी की चूत चुदाई की रियल कहानी… कुछ गलती लगी हो तो माफ करना और मुझे मेल जरूर करना. उन्होंने खुद मेरे लंड को अपने हाथों से अपनी चुत के छेद पर सैट किया और मुझसे बोली- अब लगाओ धक्का.

जैसे ही वो कुछ शांत हुई, मैंने धीरे धीरे लंड अन्दर बाहर करना शुरू किया. वो बोली- हम्म… तो ये बात है जनाब… फिर अब तक मेरे को बोला क्यों नहीं तुमने?मैं बोला- बस मैं कहने से डरता था, कहीं तुम मना ना कर दो. वो मुझे अपने में इस तरह भींच रही थीं, जैसे वो मुझे अपने अन्दर तक लेना चाहती हों.

सेक्सी ब्ल्यू फिल्म व्हिडिओ बीएफ

मैं एक वीक बुआ के यहाँ रुका और रोज़ हमने ओरल सेक्स किया, चुदाई नहीं हो पा रही थी, शायद इसकी वजह हमारा भाई बहन का रिश्ता था. यह सुन कर मैंने पैंटी और ब्रा भी निकाल दी और जो नई थी उस पैंटी को पहन लिया. वो सिर्फ ब्रा में थी, उसके गोल मटोल सुडौल चुचे मुझे अपनी ओर बुला रहे थे कि मैं उनको अपने मुँह में दबा लूँ और उनको चूस चूस के पूरा खा जाऊं.

अब मैं हमेशा शनिवार का इन्तजार करती हूँ कि कब उसके पास जाऊं और चूत व गांड की चुदाई करवाऊं. एक रात वर्षा मुझे बोली- दीदी, अब कब उस मजदूर से चुदवायेंगे? आठ दिन कब के हो गये हैं?मैं बोली- वर्षा, क्या तेरी चूत पहले की तरह अंदर से जल रही है?वो बोली- दीदी वैसे तो नहीं जल रही, पर जलने से पहले चुदवा लें तो ठीक रहेगा ना?मैं बोली- नहीं वर्षा, ऐसे बार बार नहीं चुदाते, और मेरा और किशोर का भी अब झगड़ा हो गया है.

हम दोनों एक ही वाटर राइड पर सवार हो गए। आगे मधु बैठी थी और मैं उसके पीछे उसकी कमर को पकड़ कर बैठा था.

मुझे ना जाने आज क्या हो गया था कि में संजय की बातों को सुनते जा रही थी. वे सिगरेट पी रही थीं, ऐसा लगता था वो दो पैग लगा कर फूफा जी से चुदवाने ही आई थीं. मैं ज़िद करने लगा तो वो मान गईं, फिर बोलीं- ओन्ली टच करने की बात हुई है.

फिर जल्दी ही मेरा दोस्त रुक गया और बिल्कुल आराम से लंड आगे पीछे करने लगा, शायद उसका माल छूट गया था. अब क्या हुआ?मेरी सब समझ में आ गई कि दीदी भी मुझसे चुदाना चाहती हैं. एसी की ठंडक में गरम पानी पीकर मुझे और जोश चढ़ गया और मैंने उन्हें संभलने का मौका न देते हुए अपनी उंगली उनकी चूत में डाल दी और अंगूठे से उनके दाने को रगड़ने लगा.

इस धक्के के बाद उसने मुझे गाल पर बहुत ज़ोर से थप्पड़ मारा, मुझे बहुत गुस्सा आया और मैंने ना आओ देखा ना ताव.

रात का बीएफ: अक्सर मैं उनके घर दिन में 2 बजे के करीब जाया करता था, जब वो बिस्तर में अकेले बैठे रहती थीं. दर्द तो मुझे भी बहुत हो रहा था क्योंकि उन्होंने गांड ज़्यादा बार मरवाई नहीं थी और उनकी गांड बहुत टाइट थी.

कुछ दिनों बाद मेरा बर्थ डे आने वाला था और महेश ने सरप्राइज पार्टी का इंतजाम किया हुआ था. तब मैं भाभी के पास गया और भाभी के कोमल पैर को पकड़ कर माफी मांगने लगा. यह बात मुझे पता चली तो मैं तो खुशी से पागल हो गया, पर मम्मी को पता ना चल जाए इसलिए नॉर्मल रहा और सिंपली हाँ बोल दिया.

थोड़ी देर वैसे ही पड़े रहने के बाद दोनों ने एक दूसरे को साफ किया और किस किया.

मैंने सोचा पता नहीं क्या हुआ, सो में उनको जगाने के लिए उठा, पर इतने में दीदी ने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और ज़ोर से मुझे पकड़ लिया. फिर उन लड़कों से मेरी हाथापाई वाली लड़ाई हो गई और मेरे हाथ में से भी खून आने लगा था. पूरी नंगी होकर मम्मे मेरी तरफ तानकर बोली- सर कैसी लग रही हूँ मैं आज?आह.