मौसी की सेक्सी बीएफ हिंदी

छवि स्रोत,नंगी फिल्म दिखाएं वीडियो में

तस्वीर का शीर्षक ,

पीटर सैक्स shake saxy: मौसी की सेक्सी बीएफ हिंदी, हिना- मुझे मारेगा तो नहीं ना?मैं- आप अपनी दोनों बहनों से पूछ लें कि मैं औरत का कितना ख्याल रखता हूं.

हिंदी सेक्सी वीडियो बीएफ फुल एचडी में

चूंकि पार्क में बहुत सारे लड़के पढ़ने आते थे, तो सबके साथ मिलकर ही रहना पड़ता था. बीएफ सेक्सी देसी देहातीउसके बाद उसने अपनी चड्डी को भी उतार दिया और फिर उसका लंड मेरे सामने एकदम से आजाद हो गया.

मैंने कहा- मेरे से ऐसी बात कभी भी ना करना कि मैं किसी और के लंड की तरफ देखूं. रिया का सेक्ससाथ ही मैं 2 उंगलियां उसकी चुत में डाल कर अन्दर बाहर कर रहा था, जिससे वो और भी ज्यादा गर्म हो गई थी.

सबसे पहले राहुल और शबनम ने नजदीकी बढ़ाई और लगभग चिपट कर धीरे धीरे हिल रहे थे.मौसी की सेक्सी बीएफ हिंदी: पहले पहले मुझे बहुत शर्म सी आती, पर धीरे धीरे मेरी शर्म गायब होने लगी.

मैंने पूछा- वो कैसे?फिर वो उठी और अपनी अलमारी खोल कर उसके अंदर से एक पिंक कलर का लंड की शेप वाला खिलौना सा लेकर आई.इस पर रीतिका बोली- कोई बात नहीं चाची … लंड के मज़े करो और मेरे पति को ख़ुश कर दो.

साउथ में बीएफ - मौसी की सेक्सी बीएफ हिंदी

मैं और वो एक दूसरे से हमेशा खुश थे और एक दूसरे से बहुत प्यार भी करते थे.मैंने उससे ब्रा पैंटी भी निकालने को कहा, तो शुरू में तो उसने शर्म के मारे नहीं निकाली.

कहीं ऐसा न हो कि मैं आपके गंदे कमेंट्स के कारण आगे कहानी लिख ही न पाऊं. मौसी की सेक्सी बीएफ हिंदी मेरी एक टांग उठा कर उसने हवा में कर दी और अपने लौकी टाइप के लंड को चूत में डाल कर मुझे चोदना शुरू कर दिया.

आज सच में मुझे ऐसा लग रहा था, मैं पहली बार किसी मजबूत मर्द के साथ हूँ.

मौसी की सेक्सी बीएफ हिंदी?

” महेश ने अपना मुंह लटकाते हुए कहा।थैंक्स पिता जी, मगर आप मुझसे ख़फ़ा तो नहीं हैं?” नीलम ने अपने ससुर का लटका हुआ मुँह देखकर पूछा।नहीं बेटी, मैं भला तुमसे कैसे नाराज़ हो सकता हूं. एक बार फिर से मैं आप लोगों के लिए अपनी बीवी की चुदाई की कहानी लेकर आया हूं. फिर उसने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा- अब मुझे रहा नहीं जाता, जल्दी से अपना अन्दर डालो.

फ्रेश होकर सब नाश्ते के लिए इकट्ठे हुए तो अनीता ने देखा कोई सर्वेंट नहीं है. मैंने बिना देर किए उन्हें जल्दी से अपनी बांहों में भर लिया और जोर से उनके गालों को चूम लिया. मैंने बहाने से आंटी की मैक्सी को थोड़ी सी और ऊपर सरका दिया तो आंटी की जांघों के बीच में उनकी जालीदार कच्छी के अंदर उनकी चूत छिपी हुई थी.

इस बार सिर्फ अंडरवियर में मेरे पास आ कर लेट गया। उसने धीरे से मेरी पीठ पर हाथ रखा मैंने डर से आंखें बंद कर ली. शबनम ने तो आते ही सिगरेट जला ली, तो शबनम ने भी उसका साथ देते हुए सिगरेट जला ली और आज उसने सब मर्दों के सामने ही नायरा और सीमा से भी सुट्टे लगवा लिए. कोई दस मिनट की धुआंधार चुदाई के बाद भाभी थक गयी थीं … तो अब कमान मैंने संभाली और चुत में लंड फंसाए हुए ही मैंने भाभी को अपने नीचे ले लिया.

”गौरी ने कुछ बोला तो नहीं पर कुछ सोचते हुए मेरे पास वाले सिंगल सोफे पर बैठ गई। मैं तो चाहता था वो मेरे वाले सोफे पर ही साथ में बैठ जाए पर चलो आज साथ वाले सोफे पर बैठी है कल मेरे बगल में बैठेगी और फिर मेरी गोद में। लंड महाराज तो बैठने के बजाय और ज्यादा अकड़ गए।गौरी ने मेरे लिए एक प्लेट में प्लेट में सैंडविच रख दिए और ऊपर सॉस डाल कर मुझे पकड़ा दिया।तुम भी तो लो?”मैं बाद में ले लूंगी. अपनी बात बनती देख मैंने कहा- ना अंकल को पता चलेगा … और ना ही किसी और को … क्योंकि ये बात हम दोनों ही किसी को नहीं बताएंगे.

इसलिये मैंने धीरे से उसके दोनों चूतड़ों को अपने हाथों से कस कर पकड़ा और एक जोर का धक्का उसकी गांड में दे मारा, जिससे मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी गांड में समा गया.

परन्तु यहां मुझे अपनी सभी सेवाएं वेरोनिका के साथ बांटनी थीं क्योंकि वो भी यहां एक एस्कॉर्ट थी.

फिर मैं आस-पास की औरतों और लड़कियों को नहाते हुए देखने की जुगत में लगा रहता, लेकिन ढंग से कभी भी किसी लड़की को ढंग से नंगी नहीं देख पाया. इस पोज में चोदने के बाद उन्होंने मुझे दीवार के सहारे लगा लिया और पीछे से मेरी गांड में लंड डाल दिया और चोदने लगे. राहुल ने वाशरूम का गेट बंद किया और जब वो यूज करके बहर आ रहा था तो उसने गेट के पीछे टंगी सारिका की लाल रंग की झीनी शोर्ट नाईट ड्रेस दिखीं.

तो दोस्तो, इस समय मैं अपनी कॉलेज फ्रेंड चारू के साथ होटल के रूम में पूरे मजे लेते हुए उसके चूतड़ दबा रहा था और काट रहा था. भोला और जीजा दोनों यही बातों कर रहे थे और दोनों ही मेरी चूत और गांड को चोदने में लगे हुए थे. ज्योति- ओके ठीक है … कोई बात नहीं, मैं भी थोड़ा पार्टी में रहूंगी, तो फोन नहीं हो पाएगा … बाई.

राजीव ने शबनम को गोदी में उठा कर बेड पर लिटा दिया और फिर धीरे से उससे चिपक गया.

तो वो आँख दबा कर बोली- क्या लाए हो इसमें?मैंने कहा- ख़ुद खोल कर देखो. मैंने उसकी चूची को दबाना चालू किया और आगे को मुँह करके उसके होंठों को अपने होंठों में भर लिया. जैसे ही उसने दरवाजा बंद किया, मैंने पीछे से जाकर उसे जोर से पकड़ लिया और उसे पलटा के अपने सीने से लगा लिया.

वो एकदम से कड़क होने लगी थीं- ओह वरुण जोर से चोद … आह और जोर से … मैं आने वाली हूं. मैंने अपना लंड धीरे से थोड़ा सा बाहर निकाल कर एक जोरदार धक्का मार दिया. वो भी मेरा लंड पूरी स्पीड से चूस रही थी, जिससे मेरे भी सब्र का बांध टूट गया और मैं उसके मुँह में झड़ गया.

फिर उसने मॉम को झुकने को बोला और अपना 8 इंच का मोटा लंड मॉम के मुँह में दे दिया.

दो मिनट में ही मैं चुत की गर्माहट से चुत के अन्दर ही अपना रस भरने लगा. आंटी के चूचे इतने बड़े थे कि मेरे दो हाथों की पकड़ में ही नहीं आ रहे थे.

मौसी की सेक्सी बीएफ हिंदी ” नीलम ने अपने ससुर की बात सुन कर बेड से नीचे उतरते नंगी होने की तैयारी करते हुए कहा।नहीं बेटी, मैं तुमसे कभी कुछ नहीं कहूँगा. तभी मुझे एहसास हुआ कि शायद उसका दूसरी बार भी स्खलन हो गया, क्योंकि उसकी पकड़ मेरे बालों पर कमज़ोर पड़ रही थी.

मौसी की सेक्सी बीएफ हिंदी कुछ देर पहले तक जिन आंखों में सेक्स की प्यास थी उनमें अब मुझे दर्द साफ-साफ दिखाई दे रहा था. सोनू मुझे ऊपर छाती पर से और नीचे जांघों पर चूत के ऊपर से मसल रहा था.

मैंने उसका पूरा पानी अपने मुँह में ले लिया, जबकि वह अभी भी मेरे लंड को चूसे ही जा रही थी और एक हाथ से मेरी गोलियों को भी सहला रही थी.

ब्लू फिल्म सेक्सी राजस्थानी

फिर हमने सोचा कि क्यों न अपने माल को विदेश में भी भेजने का प्रयास किया जाये. फिर उसने मुझे अपने केबिन में बुलाया और पूछने लगा कि तुम्हारे सामने एक गैर मर्द ने तुम्हारी बीवी की चुदाई कर दी तो तुम्हें बुरा नहीं लगा?मैंने कहा कि शुरू में तो मुझे बहुत गुस्सा आया था लेकिन फिर बाद में सब नॉर्मल लगने लगा था. ”समझ गयी। अच्छा मैं तो सुबह आ ही रही हूँ। तुमने कुछ सोचा कि कल परसों होली पे क्या करना है?”करना क्या है, मेरे पास सफेद रंग वाली पिचकारी है, एक बार तेरे अंदर और एक बार कामिनी के अंदर छोड़ दूंगा.

मैं अपने बेडरूम, जिसमें मेरी वाइफ ने बताया था, में घुस गया और अन्दर से दरवाजा लगा कर कपड़े चेंज करने लगा. एक बार लंड से चुदने के बाद मेरी चूत का मुँह उसके लंड के साइज़ में खुल गया था. उन्होंने उनके दोस्त को कॉल किया- यार मेरी एक बहू है, उसे थोड़ा चैक करना है, क्लिनिक से जाते वक्त घर होकर जाना.

खैर कैसे भी मैंने अपने आप को संभाला और कहा- फिर मेजबान और मेहमान दोनों तैयार हैं तो शुरू करें पार्टी?उसने कहा- यहाँ नहीं।फिर कहाँ, कहीं और चलना है क्या?” मैंने पूछा.

हिना- जीशान अकेला हम तीनों को कैसे खुश करेगा?मैं- आ गयी है मेरी दवाई. तुम दोनों ने मुझसे बड़े होने के बावजूद भी मुझे तुम्हारे साथ खेलने का मौका दिया. जब तक मैं तुम्हें देख रहा हूँ तुम भी मुझे देखो ना …”नीलम का सिर झुका हुआ था इसलिए जैसे ही महेश उसके सामने जाकर खड़ा हुआ उसका फनफनाता हुआ लंड सीधा नीलम की आँखों के सामने आ गया। नीलम की साँसें अपने ससुर के लंड को इतना क़रीब से देखकर उखड़ने लगीं और उसका पूरा जिस्म गर्म होने लगा, महेश का लंड बुहत ज़ोर से झटके खा रहा था। नीलम की आँखें अब भी अपने ससुर के लंड पर टिकी हुयी थीं.

उसी समय मुझे मालूम हुआ कि आंटी भी किसी अंकल के साथ चुदाई का मजा लेती हैं. जब तक घर वाले वापस आये मैंने चाची को कभी स्नानघर में तो कभी किचन में चोदा. ये बोलते हुए स्मायरा अपने चूतड़ों को लंड के झटके की लय से लय मिलाते हुए उछाल रही थी.

भाभी की बिना बालों वाली गुलाबी चूत का दीदार करके मैं तो समझो पागल सा हो गया था. हम दोनों सोफे से उतर कर फर्श पर आ गए और बिछड़े प्रेमियों की तरह लिपट कर किस करने लगे.

ऊपर उसने टाइट टी-शर्ट पहन रखी थी … जिसमें उसके मम्मों के उभार साफ नजर आ रहे थे. खैर फिर वो शाम आ ही गयी जिसका मुझे इंतज़ार था। कैब का कॉल आया और मैं घर से बाहर आ कर सड़क पर खड़ा होकर इंतजार करने लगा. इसलिये मैंने धीरे से उसके दोनों चूतड़ों को अपने हाथों से कस कर पकड़ा और एक जोर का धक्का उसकी गांड में दे मारा, जिससे मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी गांड में समा गया.

नौकरी लगने के बाद कोई आप जैसी खूबसूरत सी लड़की पसंद आई तो कर लूंगा.

तब चूत के दर्द का कुछ अहसास हुआ पर इस परम आनन्द के आगे वो दर्द कुछ भी नहीं था।फिर मैं बाथरूम गयी औऱ फ्रेश होकर रॉकी के साथ नंगी ही सो गई।सुबह जब दरवाजे पर दस्तक हुई तो हमारी आंख खुली और जल्दी से कपड़े पहन कर मैंने ही दरवाजा खोला।बाहर प्रभात और निक्कू खड़े थे।घड़ी में समय देखा तो 10. ” समीर ने अपनी बहन को निहारते हुए कहा।बस अब आगे कुछ भी बोले तो मेरे मरा मुंह देखोगे. इसके बाद मैं उसके ऊपर आ गया और मैंने अपना लिंग उसकी योनि पर रगड़ना शुरू कर दिया.

मैं अपनी दोस्त को पिक करने बताई हुई जगह पर पहुंच गया और और करीब 20 मिनट के बाद हम दोनों मेरे दोस्त के घर पंहुच गए. फिर मैं मॉम की चुचियों को ऐसे चूसने लगा जैसे कोई छोटा बच्चा दूध पीता है.

अंधेरे में ज्यादा कुछ दिखाई तो नहीं दे रहा था लेकिन उसके चूचे बहुत मस्त लग रहे थे और बिल्कुल कसे हुए थे. मेरे पति से मैं बिल्कुल भी खुश नहीं थी, लेकिन मेरी माँ अकेली थी, पापा नहीं थे, तो मैं जैसे भी करके निभा रही थी. इस पर वो बोलीं- लेकिन इस तरीके से?मैं उन्हें बीच में रोकते हुए बोला- क्यों नहीं … क्या ये हमारी जरूरत नहीं है?इस पर वो एकदम शांत हो गईं.

देवर भाभी चोदा चोदी

फिर कुछ देर रुकने के बाद मैंने फिर से एक जोरदार झटका मारा, तो मेरा आधा लंड उसकी चूत में जा चुका था.

जोश तो भरा हुआ पहले से ही था, बस गर्मी बाहर निकालने की जरूरत थी। ये काम एक आंटी ने कर दिया।नेहरू नगर दिल्ली में मेरे घर के पास एक आंटी किराए पर रहती थी। सोनम नाम था आंटी का। क्या बताऊं दोस्तो … क्या माल थी वो, आस पास के सभी लोग उसकी कमर, गोरेपन और चूचियों के दीवाने थे. ज्योति अपने पिता की हरकत को लेकर और समीर अपनी बीवी के बदले की भावना को लेकर. दीदी प्रशांत के लंड से चुदने लगी और उसके मुंह से तेज-तेज आवाजें होने लगीं.

तभी भाभी ने झुक कर अपने मम्मों को दिखाते हुए कहा- मेरा एक काम करोगे?मैंने कहा- हाँ क्या काम है बताओ?भाभी ने कहा- ये लो ट्यूब … इससे मेरे बदन की मालिश कर दो. मैंने उसे आंख मार कर धीरे से कहा- तू टेन्शन ना ले … मैं तेरी जुगाड़ फिट कर दूँगा. सेक्सी पिक्चर वाली बीएफमैंने जाकर आंटी से पूछा तो उन्होंने बताया कि उनके पैर में मोच आ गई है और उनको बहुत ज्यादा दर्द हो रहा है.

मगर मैं उससे नजर बचाकर आगे निकल गई क्योंकि गांव में बदनामी बहुत जल्दी हो जाती है. उसे भी लंड चुसवाने में बहुत मज़ा आ रहा था और मैं अनुभवी रंडी की तरह उसका लंड चूस रही थी.

अगर शबनम अपनी बाहें ऊपर उठती तो शायद उसके मम्मे नीचे से हवा ले जाते. तौलिये से उसने अपनी चूत और पिछवाड़ा साफ किया और अब पंकज उसके ऊपर चढ़ कर उसकी चुदाई करने लगा. हर बार जब आप मुझे गले लगाती हैं या मैं आपको छूता हूं, तो मुझे एक अलग ही भावना महसूस होती है.

उसका रंग दूध जैसा गोरा है, वह अपने बालों को खुले रखती है, जो मुझे बहुत ही ज्यादा पसंद है. सर के लंड को अपने हाथों से हिलाते हिलाते, मैंने सर को बेड पर धक्का दे दिया. तभी मैंने उसको उठा के बिस्तर पर नीचे लिटा दिया और अपना लंड उसकी चूत के मुहाने पर रख कर एक हल्का सा झटका दिया … ताकि लंड का सिर्फ अग्रिम भाग चूत के अन्दर चला जाए.

मेरे साथ वो जो हुआ था, उसके आधार से ही मैंने अपनी सेक्स स्टोरी लिखी थी.

अंकल बोला- ये बात तो मैं शुरू से ही जानता था कि आज तुम जरूर कुछ करोगी क्योंकि तुम्हारे पति ने मुझे पहले ही कॉल करके बता दिया था. अब राहुल को भी हंसी आ गयी और उसने सारिका से कहा- आपकी लिपस्टिक फैल गयी है, उसे ठीक कर लें.

” अब उसने एक चुस्की सी लगाई, उसने थोड़ा सा मुँह बनाया शायद कॉफी कुछ कड़वी लगी होगी।क्यों है ना मस्त?”थोड़ी तड़वी सी है?”अरे तुम पहली बार पी रही हो ना इसलिए ऐसा लग रहा है। जब इसकी आदत पड़ जाएगी तो बहुत मज़ा आएगा. मेरी पत्नी वैसे तो सुन्दर है, मगर अब वो मोटी हो गयी है और सेक्स भी कम करती है. अचानक वो जोर से मुश्ताक से लिपट गयी … मुश्ताक ने उसका और अपना टॉवल अलग कर दिया … गर्म नंगे जिस्म एक जान होकर फिर लिपट गए.

यह खेल 10-15 मिनट तक चला और संजना जोरदार तरीके से झड़ गयी और उसकी चीखें निकल गयी. फिर मैं वहां से आ गया क्योंकि पवन की गैर-मौजूदगी में वहां पर मेरा ज्यादा समय के लिए रुकना ठीक नहीं था. मैं और भाभी बहुत अच्छे से घुल मिल गए थे, पर उनको लेकर मेरे दिमाग में कभी कोई गलत बात नहीं आई थी.

मौसी की सेक्सी बीएफ हिंदी लग रहा था कि कहीं उन्होंने अपनी बेटी से सब कुछ सच सच न बता दिया हो. आंटी के चूचे इतने बड़े थे कि मेरे दो हाथों की पकड़ में ही नहीं आ रहे थे.

एक्स एक्स एक्स फुल सेक्सी वीडियो

उसके बाद मैंने उसके टॉप को निकाल दिया और ब्रा के ऊपर से ही उसके दूध को दबाने लगा तो उसके मुंह से आहा … ऊंह … ऊम्ह की कामुक आवाजें निकलने लगीं. तभी ममता बोली- सविता तू तो पूरी गीली हो रही है … तू कहे, तो अंकल को बुला लूं?मैंने कहा- क्या अभी ऐसा हो सकता है. चूत से रस निकल निकल कर उसकी जांघें गीली कर चुका था।तकरीबन 10 मिनट की भीषण चुसाई के बाद अचानक मुकुल राय को लगने लगा जैसे उसकी शक्ति का केंद्र बिंदु उसका लंड बन गया है.

मुट्ठ मारने के दौरान उठने वाले वेग में लंड को हाथ का स्पर्श देने का मजा भी कुछ कम नहीं होता। यही हस्तमैथुन का आनंद है!मेरा हाथ जोश में आ चुके मेरे लिंग की तेजी के साथ मुट्ठ मारने लगा. एक कोई तीसरा लड़का कार चलाने लगा और दस मिनट बाद हम एक घर पर पहुंच गए. ब्लू फिल्म चुदाई फिल्मकुरते के नीचे उसने सफेद ब्रा और अन्दर काली पैंटी पहनी थी, जोकि उसने मुझे फ़ोन पर बता दिया था.

झड़ने के कुछ देर बाद तक मैं उसके ऊपर लेटा रहा और फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला। लंड वीर्य से सन चुका था। मैं एक तरफ लेट गया और उसने लंड मुंह में लेकर साफ किया और हम दोनों थोडी देर ऐसे ही लेटे रहे। फिर हमने कपड़े पहने, एक-दूसरे को किस किया और बाहर आ गये.

रानी के जाने के बाद नीता ने एक एक के कमरे में जाकर उन्हें उठाया … सब बहुत खुश थीं. लंड का कठोर रूप अब उसके सामने था और वो रूप उसके तन बदन में आग लगा रहा था.

वो बोली- सॉरी … पैर गीले थे इसलिए फर्श पर गीलेपन की वजह से मेरा पैर फिसल गया. तभी वह बोली- सूट में मुझे आराम नहीं लग रहा है … मैं कपड़े बदल लूँ?मैंने ओके कह दिया. सीमा तो बौरा गयी थी … कह रही थी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आज मजा आ गया मेरे राजा … आज फाड़ दो मेरी चूत को!दस मिनट कि धक्का मुक्की के बाद मुश्ताक ने अपना माल सीमा की चूत में भर दिया.

हमें यह भी पता था कि हम दोनों की शादी नहीं होनी है लेकिन एक बार मिलकर हमें अपनी मुलाकात यादगार बनानी थी।इसी बीच उसके घर पर मेरे डिपार्टमेंट की रेड पड़ गयी.

पर मैंने उसके होठों को दबाते हुए दूसरा धक्का दिया और इस बार मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया. इसकी उन्मुक्त कहानियों को पढ़ कर मेरा भी मन हुआ कि मैं अपनी कहानी आप सबको बताऊं. मैंने बनियान से उसको ढकने की नाकाम सी कोशिश की क्योंकि बनियान ढकने के बाद भी लौड़े का उठाव साफ दिखाई दे रहा था.

बीएफ सेक्स भोजपुरीएक बार मन तो किया कि जाकर चाची के चूचों को मैं अभी अपने हाथ से दबा ही दूं लेकिन फिर कुछ सोच कर मैं रह गया. सीमा ने सुइट का दरवाजा लॉक किया और आगे के प्रोग्राम का खुलासा किया.

सुहागरात की सेक्सी वीडियो हिंदी में

उसने वहीं शबनम को घोड़ी बनाया और अपना मूसल पीछे से उसकी चूत में दाखिल करा दिया. कुछ देर मस्ती से लंड चुसवाने के बाद मुझे लगने लगा कि मैं झड़ने वाला हो गया हूँ, मैंने रीना की चूची दबाते हुए उससे कहा- अब रूक जा मेरी जान …वो ये सुनकर रूक गई और मैंने लंड उसके मुँह से निकाल दिया. बात जायज़ थी क्योंकि मर्द तीन दिन को जा रहे थे तो एक्स्ट्रा चुदाई तो बनती ही थी.

अंकित का लगातार उसके घर में रहना उसकी कल्पनाओं को और बढ़ावा दे रहा था. मैंने कहा- अब तो तुम मेरी पत्नी हो ही गई हो, मैंने तुमसे दिल से शादी कर ली है. इसके बाद उसकी चुत की पूरी फांक में जीभ को ऊपर से नीचे तक फेरते हुए चूत चाटने लगा.

पति को भी पता चल गया था कि मैंने चुदाई की पूरी तैयारी कर ली है और इसी वजह से मैंने मैक्सी के नीचे कुछ भी नहीं पहना है. मेरी पत्नी रीतिका ने अपनी प्रीति चाची से भी पूछा- कहो चाची, कैसी रही दामाद के साथ रात?प्रीति बोली- दामाद का लंड तो मैं कभी नहीं छोड़ूँगी. इससे उसके शरीर में एक सिहरन सी दौड़ गयी उम्म्ह… अहह… हय… याह…उसने अपनी टांगों को पूरा खोल कर मुझे आमंत्रण दिया कि हाँ उसे ये सब बहुत अच्छा लग रहा है.

कंघी उठाकर लम्बे बालों को मांग निकालते हुए व्यवस्थित किया और चप्पलें पहन कर दरवाजे की तरफ बढ़ा. तुम्हें उसकी नहीं अपनी पड़ी है क्योंकि तुम मेरे जाने के बाद ही पिता जी के साथ रंगरेलियां मनाओगी.

मैंने उसकी चूत में अपनी 3 उंगलियों को एक साथ डाल दिया, जिससे वो चिल्ला उठी.

तब से हमारे बीच झगड़े होते रहते हैं और हमारे बीच में दूरियां बहुत बढ़ गई थीं. ब्लू फिल्म पंजाबी ब्लू फिल्मवो मुझे नीचे लिटा कर मेरे ऊपर आ गयी और फिर से मेरा लंड चूसना शुरू कर दिया. इंग्लिश सेक्स नंगा” महेश ने अपने दोनों हाथों से ज्योति का चेहरा ऊपर करके उसके होंठों की तरफ घूरते हुए कहा।नहीं पिता जी, मैं यह न कर पाऊंगी. लेकिन यह सब जानने के बाद भी जीजा ने मुझे फोन देने से मना नहीं किया.

तभी उन्होंने कहा- क्या हुआ शिवा?मैंने कहा- कुछ नहीं चलें?भाभी ने कहा- हां चलो.

लेकिन मैंने उनकी चूत को बदस्तूर चाटना जारी रखा, जिससे भाभी की चूत फिर से गर्म हो गई थी. भाभी के मुँह से जोर जोर से आह उह की सिसकारियां निकलने लगीं और वो मेरा सिर अपनी चूत पर दबाने लगीं. मैं नौकरी ढूँढ रहा था, तो मेरी बुआ जी ने मुझे एक जगह जॉब बताई और कहा कि मैं उनके यहां आ जाऊं, तो वहीं से जॉब के लिए इंटरव्यू दे दूं, तो आसान रहेगा.

और ऊपर से मामी की दी हुई ये धमकी … वो भी इतना आगे बढ़ने के बाद।तभी मुझे सीढ़ियों से अखिल उतरता नजर आया. वो बोला- तुमको मज़ा आया?मैंने कहा- हां मजा बहुत आया, पर दर्द भी हुआ. कभी काजल सुमिना के चूचों को चूस लेती तो कभी सुमिना आशा के चूचों को मुंह में भर रही थी.

सेक्सी ब्लू फिल्म व्हिडिओ

मेरा मन करता है की मैं भाभी के पीछे जाकर अपने दोनों हाथों से उनके दोनों चूतड़ों को दबोच कर मसल दूँ. उन लोगों ने अपने अपने कमरे में टीवी न लगाकर यहीं हाल में एक बड़ा टीवी लगा रखा था इसलिए मनोरंजन भी साथ साथ ही होता था. मैं कहानी में शायद ये न बता पाऊँ कि मैं कितनी देर किस किया, कितनी देर ओरल किया और कितनी देर शॉट लगाये।बस मेरे लिए मेरी और मेरे पार्टनर की तृप्ति ही सर्वोपरि होती है।आइये ज्यादा बोर न करते हुए आपको अपनी देवर भाभी की कहानी पर ले चलता हूँ। मैं पुणे के खराड़ी एरिया में रहता हूँ यहीं मेरा ऑफिस भी है।मेरे दूर के रिश्ते के भैया भाभी भी इसी एरिया में रहते हैं.

मैंने आंटी के निप्पलों की तरफ मुंह बढ़ाया तो उन्होंने मुझे रोक लिया.

दोस्तो, अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली सेक्स कहानी है और सत्य घटना पर आधारित है.

फिर मैंने उसको सीधा करके उसकी मखमली चिकनी चुत पर अपना 7 इंच का लंड रख दिया. वो एक बार पीछे पलट कर देखने लगी लेकिन बिना कुछ बोले फिर से आगे की तरफ देखती हुई रास्ता बनाने लगी. वीडियो सेक्सी एचडी बीएफउन्होंने अपने एक हाथ की दो उंगली से कुछ ऐसा इशारा किया, जैसे वो कोई छोटी सी चीज के लिए बता रही हों.

जिससे नीलम पूरी तरह से गर्म हो रही थी और उसका ध्यान इस तरफ नहीं गया कि उसकी गांड के साथ क्या किया जा रहा था. एक बार मेरी आईडी पर एक औरत की फ्रेंड रिकवेस्ट आई, तो मैंने उसकी आईडी में फोटो देखी. इस तरह के खयाल मेरे मन में आ रहे थे।मैं आंटी के पास गया डरता-डरता हुआ।आंटी बोली- तुम्हारा नाम हिमांशु है?मैं बोला- जी हां।फिर वो बोली- नेहा ने तुम्हारे बारे में कुछ बताया है मुझे।मैं- जी, मैं कुछ समझा नहीं?वो बोली- नेहा कह रही थी कि एक दिन तुम मुझे गंदी नजरों से देख रहे थे और साथ में कुछ और भी कर रहे थे.

मेरे हर धक्के के साथ वो चिल्लाये जा रही थी- हाँ ह हाँ … और ज़ोर से हाँ … साहिल आज मुझे पूरी अपनी बना लो, बुझा दो मेरी प्यास … चोदो और ज़ोर से प्लीज!और ऐसे ही चिल्लाते हुए वो अकड़ने लगी और झड़ गई. मैं सोचता हूँ कि दिल्ली की औरत हो या लड़की … सेक्स के विषय में बिल्कुल नहीं शरमाती.

हालांकि अभी तक की मस्ती में किसी को नहीं मालूम था कि उसका पार्टनर या और लड़कियां किस किस से मस्ती कर चुकी हैं या आज उनके साथ कौन होगा.

मगर उन सब ने मिल कर मेरे यार को तीन-चार थप्पड़ मारे और आशीष उनके चंगुल से छूट कर भाग गया. जैसे ही मैंने अपना हाथ बाहर निकाला तो उन्होंने दूसरा धक्का मार दिया. प्रिया के साथ मैंने जो मजे लिये उसकी शुरूआत खुद उसने की थी लेकिन जब फिर मैंने आगे बढ़ने की कोशिश की तो वो खुद पीछे हट गयी.

गांव की भाभियों की चुदाई मैं उनको बोली- अपनी आँखें बंद करिए!भैया ने अपनी आँखें बंद की और मैंने उनके गाल पर एक किस दी. सारिका ने भी उसके बालों को पीछे से दबा कर होंठों का मिलन और मजबूत कर दिया.

वो तो चुदने के हिसाब से ही रेडी हुई थी, उसे देख कर साफ़ दिखाई दे रहा था. मुझे लग रहा था कि यही क्रिया अगर किसी पार्टनर के साथ होती तो आनंद इससे कहीं ज्यादा और बेहतर संतोष देने वाला होता!लंड की मुट्ठ मारने के बाद शरीर की उर्जा कम हो गई थी जिससे धीरे-धीरे पलकें भारी होने लगीं. पति ने चलते हुए ही अपना लंड दो-तीन बार मेरी गांड पर लगा कर ये बता दिया था कि आज मेरी गांड की चुदाई जमकर होने वाली है.

रंडी की चुदाई चुदाई

जैसे ही लण्ड मूसल की तरह टाइट हुआ, डॉली ने मुझे धक्का देकर लिटा दिया और उचक कर मेरे ऊपर चढ़ गई. इस पर मैं कुछ बोलता, तब तक ज्योति ने ही बोल दिया- नहीं भाईसाब, शादी गांव में हुई थी. मैंने उसकी तरफ कातर भाव से देखा, तो उसने कहा- घबराओ मत, पहली बार में ऐसा होता ही है.

उसके चूचे इतने बड़े थे कि मेरे एक हाथ में उसका एक दूध पूरा नहीं आता था. सर ने मेरी निगाहों का पीछा किया और हम दोनों से भी पूछा- आप दोनों भी मुझे कंपनी दो ना.

मेरी इस बात पर उसने अन्जान बनते हुए पूछा- मोबाइल में ऐसा क्या देख लेते हो जो संतुष्ट हो जाते हो?अब मैंने भी शर्म छोड़ते हुए अपना मोबाइल फोन निकाला और पॉर्न वीडियो चला कर उसके सामने कर दिया.

अब वो मेरे कपड़े निकालने लगीं और मेरी शर्ट और बनियान निकाल कर मेरी चौड़ी छाती चूमने लगीं. मैं उठा और उनके पैर छुए और उन्होंने भी मुझे हंस के देखा और कहा- खुश रहो. शबनम को राहुल ने अपनी ओर खींचा तो शबनम ने अपने हाथ उसके सर के पीछे ले जाकर उसे किस कर कर लिया.

ससुर का लंड नीलम की चूत में घुस चुका था और उसे अब भी यकीन नहीं हो रहा था कि उसके साथ खुले आसमान के नीचे दिन दहाड़े ये सब हो रहा है. सीमा ने शावर खोला और अपनी चूत को और मुश्ताक के लंड को धोकर साफ़ किया. उसने मुझे जगाया और मेरे लिए कॉफी बनाई और हम दोनों ने साथ में कॉफी पी.

उसने भी अपने लंड पर हाथ फेरते हुए कहा- अरे ऐसी थकान उतारूंगा कि बार बार याद करोगी.

मौसी की सेक्सी बीएफ हिंदी: मैं बोली- हम यहां पर क्या कर रहे हैं?वो बोला- अगर घर में सेक्स नहीं कर सकते तो यहां पर कर लेते हैं. फ्रेंची भी जांघों पर फंसी हुई थी और मेरा तना हुआ लंड मेरे हाथ में था.

फिर मैंने उसको दीवार के पास खड़ा किया और उसकी झुकाते हुए उसकी चुत को पीछे की ओर निकाल लिया. जैसे ही मैंने अपना हाथ बाहर निकाला तो उन्होंने दूसरा धक्का मार दिया. मैं- क्या चाचा ने आपकी चूत और नाभि को कभी नहीं चाटा चाची?चाची- नहीं … वहां भी कोई चाटता है क्या?मैं- अरे चाची जान, आपने अभी तक ज़िन्दगी की असली मज़ा नहीं लिया है.

जब मैं आफिस से लौटा तो उनकी बेटी को खाना खिलाने के बहाने वहीं रुक गया.

उसने मेरे वापस आते ही मुझे चाय पिलाई और मेरे पास बैठ कर काफी देर तक बातें करती रही और उनके पति के बारे में बात करते हुए रोई भी. उसके बाद मैंने उसके हाथ को अपने लंड पर दबा दिया और उसके हाथ से ही अपने लंड को सहलाने लगा. वो बार-बार मुझे ना करती रही लेकिन उसकी हर ना मुझे हां छुपी हुई दिखाई दे रही थी.