सेक्स बीएफ बीपी

छवि स्रोत,सेक्सी पिक्चर सेक्सी पिक्चर नंगी पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

पिक्चर सेक्सी बीएफ हिंदी: सेक्स बीएफ बीपी, क्या जल्दबाज़ी की वजह सुमन ही थी?क्या मनजीत ने सुमन को हमारी चुदाई के बारे में बता दिया है?अगर नहीं बताया, तो मनजीत जब कमरे में मेरे से चुद रही थी … तब सुमन कहां थी और क्या कर रही थी?बहुत सारे सवाल दिल में लेकर मैं वहां से वापिस आ गया.

नंगी पूरी पिक्चर

हालांकि अब तो मेरा उन लोगों से कोई कांटेक्ट नहीं है … लेकिन मैं बहुत दिनों से दुविधा में था कि ये कहानी लिखूं या ना लिखूं. ગુજરાતી દેશીउसने एक दो बार विरोध किया लेकिन बात अब उसके काबू से भी बाहर होती जा रही थी.

अंजलि बोली- चोद ना यार … रुक क्यों गया?मैंने उसके होंठों पर उंगली रखी और मेघा की तरफ इशारा किया. सेक्सी पिक्चर वीडियो में गानामुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे कोई गर्म चूल्हें में मैंने लंड घुसेड़ दिया हो.

तभी ट्रेन ने एक झटका लिया और मैंने मौके का फायदा उठा कर लंड अन्दर पेल दिया.सेक्स बीएफ बीपी: उसने मुझसे पूछा- कभी तुमने उसके साथ सेक्स किया था?मुझे इतना मालूम नहीं था कि वो ये सब पूछना पसंद भी कर सकती है … लेकिन दिल खुश हुआ कि आज इसके साथ कुछ हो सकता है.

मैं शुरू से ही हॉस्टल में रहा हूँ, तो गांव वालों की नज़र में मैं बिल्कुल शरीफ और समझदार लड़का था.पंजाबन की कुंवारी चूत चूसते हुए मुझे जो मजा उस वक्त मिल रहा था वो मैं यहां शब्दों में नहीं बता सकता.

चुदाई करते हुए वीडियो दिखाएं - सेक्स बीएफ बीपी

मेरा लंड आज तक इतने उफान पर नहीं आया, पर खुद की बहन के चुचे देख कर आज साला क़ुतुबमीनार को भी मात दे रहा था.मेरी और राहुल की जान पहचान ज्यादा पुरानी नहीं थी … बस पांच छह माह पुरानी दोस्ती थी.

माधवी भाभी बोलीं तो मैंने कहा- मैं कुछ बोलूं … तुम्हारी जैसी ही मेरी भी कुछ ख्वाहिशें है. सेक्स बीएफ बीपी यहां दुनिया भर से यात्री आते हैं तो स्टैण्डर्ड मेंटेन करना ही होता है.

इससे उसको हौसला थोड़ा और बढ़ा, तो उसने अब धीरे से मेरी नाइटी की डोरी को खोल कर मेरे सामने से हटा दी.

सेक्स बीएफ बीपी?

फिर जब अलग हुए, तो वो शर्मा रही थी और मुझसे नज़र ही नहीं मिला रही थी. फिर उसकी पैंटी निकाल कर मैंने उसकी चूत में मुंह लगा दिया और वो सिसकारने लगी. पहले तो मैंने सोचा जाने दो, मगर मन नहीं माना तो थोड़ी देर बाद मैं उसके गेट के पास आ गया और दरवाजा खटखटा दिया.

मेरी ससुराल में खेती की मजदूरी भी होती थी तो हम दूसरों के खेत में बटाई पर फसल करते थे. उसके होंठ इतने मुलायम थे जैसे गुलाब की पंखुड़ी हों।मैं भाभी के बोबे को पकड़ कर मसल रहा था और उनके निप्पल को बहुत बेदर्दी से चूम रहा था।अभी भाभी ने नाइटी नहीं उतारी थी मगर उसकी चूचियों के निप्पल उसकी ब्रा और नाइटी के अंदर भी पूरे तने हुए दिख रहे थे. मैं भी बिंदास अक्षय के कंधे पर सर रख अपनी गर्म सांसें उसकी गर्दन में छोड़ने लगी.

क्या तुम बताओगी?तो उसने कहा- नहीं।तब मैंने कहा- बस तो जिंदगी के मज़े लो! क्या तुम्हें मज़ा नहीं आ रहा है?तो बहन ने कहा- भाई, बहुत मज़ा आ रहा है।तब तक मम्मी ने नीचे से आवाज दी और ज्योति ने मुझसे कहा- भैया मुझे जाना होगा. मुझे अच्छा लग रहा था, तब भी अंकल के सामने खुद को रंडी तो नहीं शो कर सकती थी इसलिए मैं उनसे बचने का ड्रामा करने लगी. मेरी चूत चोदने के बाद उसने मेरी गांड भी मारी और अपना वीर्य मेरी चूत के बाहर निकाल कर मेरे ऊपर लेट गया और हम दोनों नंगे ही सो गए.

जब सोनाली से भी ये सब देखा न गया तो वो बोली- ऋषभ, ये सब अब बंद करो वर्ना फिर मैं भी खुद को नहीं रोक पाऊंगी. वैसे भी हम कुछ नाजायज तो कर नहीं रहे … अगर आपा जाग भी गयी तो हमने सेक्स करते देख खुद शर्मा कर बाहर चली जायेंगी और इसका एक और फ़ायदा यह होगा कि वो कल से हमारे कमरे में नहीं सोयेंगी.

मैं राजेश मास्टर की बेटी की चूत की चुदाई के लिए अब और इंतजार नहीं कर सकता था.

फिर अमन कमरे में आया तो उसके हाथ में एक शहद की बोतल थी जो वो किचन से उठा लाया था.

अब तो तेरे जीजू का लंड तेरी आपा की चूत में ऐसे जाएगा जैसे कुएँ में बाल्टी!इस तरह की मज़ेदार बात करते करते हम दोनों भाई बहन ने अलग अलग स्टाइल से चुदाई की. पापा की दूसरी शादी हमारे परिवार वालों को रास नहीं आई और परिवार ने पापा से बोलचाल बंद कर दी. फिर वो जोर जोर से चिल्लाते हुए आहें भरने लगा और उसके वीर्य की गर्म पिचकारी मेरे मुंह में आने लगी.

मैं दिखने में एकदम भरे हुए जिस्म की औरत हूं। मैं अपने बारे में इससे ज्यादा और कुछ नहीं बता सकती।मैं आज आप लोगों के सामने अपनी एक सच्ची कहानी लेकर आई हूं. मेरे झटकों की पटापट आवाज और पूजा आंटी की ‘अह्ह्ह उम्म्म्म उफ्फ अह्ह्ह अह्ह्ह आआअ ईईईइ … करो … जोर से और जोर से … आआह्ह्ह … सीईईईई अहह हह ह्ह्ह्ह ह्ह्ह मर गईईई. मैंने पिछली सेक्स कहानी में बताया था कि मैं गुजरात में भरुच का रहने वाला हूँ.

शनाज़ और मेरी सेक्स लाइफ काफी मजेदार थी, हम दोनों भाई बहन जो अब शौहर और बीवी हो चुके थे, ज़ोरदार चुदाई करते हैं.

अब आगे की हिंदी मस्तराम स्टोरी:धर्मपाल के दिमाग में हरदीप की तस्वीर घूम रही थी. प्रियंका सीधा हमारी तरफ आयी और बोली- ये सब क्या है … तुम में खुद हिम्मत नहीं थी, जो बच्चे को भेज रहे हो. फिर वो बोली- आज मेरी सुहागरात है।अब मैंने लंड निकाल लिया और उसे बिस्तर पर लिटा दिया.

उसने एक भद्दी सी गाली दी और कहा कि वो अगले स्टेशन पर नीचे फेंक देगा मुझे. जब मैडम को लगा कि ये नहीं दबेगी तो मैडम ने कहा- चल ठीक है, मैं तो वैसे ही डरा रही थी तुझे. मैंने अपनी बड़ी बहन को दिन में खुल कर कैसे चोदा?भाई बहन सेक्स स्टोरी के पिछले भागमेरी आपा की औलाद की ख्वाहिश-3में आपने पढ़ा कि मैं गलती से अपनी बहन की चुदाई कर चुका था.

पाठिकाओं के लिए सबसे जरूरी जानकारी वाली बात यह है कि मेरे लंड की लम्बाई 7.

मेरा यह पहला एक्सपीरियंस किसी मर्द के लंड को मुंह में लेकर चूसने का. तभी एक भिखारिन उनके आगे जा खड़ी हुई और अपने भिखारी अंदाज़ में माथे से हाथ लगा कर हाथ फैला कर बार बार खाने को मांगने लगी.

सेक्स बीएफ बीपी अब मंजुला बेडशीट अपनी मुट्ठियों में दबोच कर अपनी चुदास पर नियंत्रण रखने की भरपूर कोशिस कर रही थी. वो तेजी से सिसकार रही थी- आह्ह … प्रिया … ओह्ह … रुकना मत मेरी रानी … आह्ह … ओ माई गॉड … ओह्ह … आह्ह … और अंदर तक चाट … आह्ह … बड़ा मजा आ रहा है … आह्ह।थोड़ी देर यूं ही प्रियंका मेरे मुंह पर बैठी हुई मेरी जीभ से चुदती रही.

सेक्स बीएफ बीपी निधि खूब ज़ोर ज़ोर से मस्ती में चिल्ला रही थी- आआह राज़ मेरी जान और चोदो … फाड़ दो गांड … टुकड़े टुकड़े कर दो. लेकिन उसका दामाद पहले सास को चोदता है, फिर उस शादी के लिए राजी होता है.

हेमा चाची ने मेरे लंड को देखा और कहा- आज तो तुमने मेरे साथ पूरा दम लगा कर सेक्स किया है … अब इसे क्यों हिला रहे हो?मैंने कहा- हां चाची सेक्स तो फुल स्पीड में किया है, लेकिन आप सच बताना मजा आया या नहीं!हेमा चाची हंस कर बोलीं- हां भास्कर आज तो तुमने मुझे खुश कर दिया है.

आदिवासी फुल सेक्सी वीडियो

संजय बोला- अरे मम्मी वो मैं पीता नहीं हूँ … बस आज पी ली … प्लीज आप नीरजा को मत बोलिएगा. अब मंजुला बेडशीट अपनी मुट्ठियों में दबोच कर अपनी चुदास पर नियंत्रण रखने की भरपूर कोशिस कर रही थी. अब तक तो सब कुछ बढ़िया चल रहा था; इन्हीं ख्यालों में मैं आगे का तानाबाना बुनने लगा.

प्रीति के चूसने से मेरा लण्ड और टाईट हो गया तो मैंने प्रीति के चूतड़ों के नीचे तकिया रखा, अपने लण्ड पर जेल लगाया और मेरा लण्ड सरदारनी की चूत में जाने के लिए तैयार हो गया. लगभग अब तक हमें काफी वक्त हो चुका था और अब मैं अपने चरम सुख की ओर बढ़ रहा था. फिर अपने टीचर और फैमिली की इच्छाओं से जिये, फिर अपने पति की इच्छा से … और बाद में अपने बच्चों की मर्जी से हम लोग जीते आए हैं.

बल्कि जिस दिन लोग मुझे कम देखते थे, उस दिन मुझे लगने लगता था कि आज मेरी ड्रेस कुछ कम हॉट है, या इधर के लोग कुछ ज्यादा ही साधू किस्म के हैं.

अब हम दोनों की शादी हो गई है और अब जब भी मिलती हैं तो अपनी उन सब बातों को याद कर करके हंसती हैं।मेरी पिछली कहानी थी:ढोंगी बाबा तगड़ा चोदून्यू चुत के साथ लेस्बियन सेक्स की यह कहानी आपको कैसी लगी?. मेरी इस सेक्स कहानी में अभी मेरी चुदाई की कहानी की दास्तान बाकी है. उसने अपनी आंखें बंद कर ली थीं और वो मेरे हाथों की मालिश के मजे ले रही थी.

मैं एक बहाने से उसके घर गया और उसकी वासना भड़का कर उसके बिस्तर पर ही उसकी चूत चोदी. देखते ही देखते उसका लंड नीचे ही नीचे तन गया और मेरे हाथ पर दबाव बढ़ाने लगा. तो ड्रिंक्स की बात सुन कर ही मेरे मुँह में पानी आ गया और मैंने हाँ बोल दिया.

माँ कसम यारो … उनको चोदने में जितना मजा आया, उतना तो मेरी गर्लफ्रैंड को चोदने में मजा नहीं आया और ना ही मेरी गर्लफ्रैंड की दोनों मामी और उसके एक विधवा बड़ी माँ (मेरे गर्लफ्रैंड की माँ की बड़ी बहन) को!मैं आप लोगों को एक बात बता दूँ कि उसकी फैमिली की सभी लेडिस बहुत चुदक्कड़ हैं। जब मैं थर्ड ईयर में बाहर में रहता था तो वो मेरे साथ हर रात बिताती थी. इस बार उसके झटके ज्यादा लम्बे समय के लिए नहीं चले और वो मेरी योनि को अपने वीर्य से भर दिया.

उनके मुँह से आअह्ह … आआह्ह … की आवाज़ बहुत ही प्यारी लग रही थी।मैं उनको इस पोजीशन में 15 मिनट तक चोदता रहा. फिर वो चिल्लायी- क्या कर रहे हो? दिख नहीं रहा मैंने कपड़े नहीं पहने. मगर मुझे कुछ डर भी लग रहा था कि कहीं वो ये बात मेरे मम्मी पापा को न बता दें.

एडल्ट फिल्म देखने के कारण मैं कुछ मूड में आ गया और उसकी तरफ देखने लगा.

ऐसे ही उसने 3-4 बार किया और अरमान ने अपना पूरा लंड मेरी चुत में उतार दिया. उनके हाथ मेरे मोटे मोटे चूतड़ों पर आ गए, जिनको वो बड़ी ही मस्ती से मसलने लगे. मेरे शौहर तो बोल ही नहीं पा रहे थे और हवलदार उन्हें धक्के लगा कर बाहर करने लगे.

उन्होंने मेरा सिर पकड़ कर ऊपर उठाया और मेरी आंखों में आंखें डाल कर बोलीं- जो भी करना है … जल्दी कर लो. डिम्पल मुझसे छोड़ देने की विनती करने लगी, पर मैं पागलों की तरह उसे चूमने लगा और अपने लंड को आगे पीछे करने लगा.

शिवांश तो रास्ते में ही सो गया था और मेरे कंधे पर सिर रख कर सोया हुआ था. उसने अपनी जिन्दगी में अपनी चुदाई की मेहनत से यह मुकाम हासिल किया है. पर मेरी रंगीन मिजाजी सिर्फ पोर्न देखने और चुदाई की कहानियां पढ़ने तक और हुस्न वालियों की जवानी को देख देख उन्हें चोद पाने के दिवास्वप्न देखने तक ही सीमित है.

सेक्सी औरत और

भाभी अपनी कमर हिलाकर मुझे चोद रही थीं … नीचे से मैं भी धक्के लगाकर भाभी का साथ दे रहा था.

तो वो भी अपनी बुर पर हाथ रख कर सहलाने लगी।मैं बोली- तनु तू एक काम कर … लेट जा! फिर दोनों एक दूसरी की बुर तो मुंह से चाट कर पानी निकालती हैं।तो वो बेड पर लेट गई. मस्तराम हिंदी सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि एक लंड एक चूत को चोदकर और एक चूत एक लंड से चुदकर संतुष्ट नहीं रहती है. आज हम दोनों एक दूसरे की जरूरत पूरी कर सकते हैं?मैंने उसके गालों की पप्पी लेते हुए कहा- क्यों नहीं डार्लिंग.

मैं अपने ग्रुप में ही नहीं बल्कि पूरे कॉलेज में सबसे ज्यादा गोरी लड़की थी. अजय ने भी उसका हाथ पकड़ने की जगह उसको अपनी गोद में उठा लिया और वो दोनों किस करने लगे. सेक्सी चोलीयह बात मुझे पक्का पता थी।कुछ देर के लिए हम एक दूसरे से अलग हो गए और थक कर लेट गए.

उसने कंबल से अपने आपको ढक लिया … कुछ टाइम बाद वो आंखें बंद करके सो गई. एक बार फिर मैं उत्तेजना भरी सिसकारियाँ भरने लगी- उफ़्फ़ उफ़ उई मा … आह आह आह उफ़्फ़ हह यस आह आ ओह्ह आह उई मा!कुछ देर बाद मैं उठी और सागर को पकड़ कर बेड पर लिटा दिया.

फिर उसने मां के ब्लाउज को जोर से खींचा, तो चिटकनी वाले बटन लगे होने के कारण ब्लाउज़ खुल गया. मैंने कहा- तो और मूड बना दूँ क्या?मॉम इस पर कुछ नहीं बोलींराखी दीदी मेरे बाजू से उठकर दूसरी साइड चली गईं. और वहीं पास की शॉप से दो बर्गर, कुछ नमकीन के पैकेट्स, चिप्स, चोकलेट वगैरह और पानी की बोतल ले आया.

मनजीत ने मुझे टेढ़ी नज़रों से देखा और बोली- तुम कसम खाओ कि किसी को भी मेरे रिलेशन के बारे में नहीं बताओगे. मैंने पाया कि भाई के हाथ मेरे बूब्स पर थे और वो पीछे से अपना लंड मेरी गांड पर चुभा रहा था. मैंने अपने होंठ उसके होंठ से हटा कर उसके मम्मों पर लगा दिए और एक हाथ से उसकी चूत से खेलने लगा.

फिर एक पल की भी देर न करते हुए अमन ने जबरदस्ती अपना लंड चुत में जड़ तक उतार दिया.

मैं भी अब गेट के बिल्कुल पास आ कर खड़ा हो गया तो उसके पेशाब गिरने की आवाज़ आने लगी. अपना हाथ बढ़ाकर किरण ने मेरा लण्ड पकड़ लिया और अपनी मुठ्ठी में दबोच लिया.

कुछ समय में नीरजा देवी का विरोध शिथिल हो गया, उन पर भी अन्तर्वासना छा गयी. हम जैसे सामान्य दर्जे के और पिछली सीटों पर बैठने वाले छात्रों का सेक्शन अलग था. फिर वो बोली- आपने कल भी आवाज सुनी थी क्या?मैंने हां में सिर हिलाया.

और तुम वही रात वाली साड़ी पहन कर जल्दी से तैयार हो जाओ।लगभग 35 मिनट बाद मैं तैयार हो गयी. तभी मैं कुछ बात करने के लिहाज से बोला- आपा … जीजू किस तारीख को हिन्दूस्तान पहुँच रहे हैं?वैसे मैं भी जानता था कि रफ़ीक़ कब आने वाले हैं लेकिन ज़ोहरा से कुछ बात करके बात को आगे बढ़ना चाहता था. कुछ देर के लिए मैंने सोचा कि अगर ये मुझे चोदने को मिली तो मैं कैसे कैसे इसकी चूत लूंगा और क्या क्या करूंगा.

सेक्स बीएफ बीपी मेरे मन में भी अब जवानी की हिलोरें उठने लगी थीं और ऐसा लगने लगा था कि कोई मुझे रगड़ कर चोद दे. तभी मैंने देखा कि माया उन्हीं कपड़ों में बाल्कनी में कपड़े सुखाने गई और सामने वाले फ्लैट से एक आदमी उसे घूर रहा था.

अभी सेक्सी फिल्में

वेटर- आप भी करोगे क्या किसी के साथ?मैंने कहा- हां, बहुत मुश्किल से पटाई है, आज नहीं हुआ तो फिर कभी नहीं होगा. मैं बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी लेकिन वो दोनों किसी वहशी दरिंदे की तरह मुझे चोदे जा रहे थे. टी टी ने मेरा पर्स खोला और एक क्रीम निकाल कर अपने उंगली में लगाई और मेरी गांड के अंदर लगाने लगा.

आप सभी को मेरी हस्बैंड वाइफ ककोल्ड सेक्स स्टोरी को लेकर क्या कहना है प्लीज़ मेल करें. हेमा चाची ने मेरे लंड को देखा और कहा- आज तो तुमने मेरे साथ पूरा दम लगा कर सेक्स किया है … अब इसे क्यों हिला रहे हो?मैंने कहा- हां चाची सेक्स तो फुल स्पीड में किया है, लेकिन आप सच बताना मजा आया या नहीं!हेमा चाची हंस कर बोलीं- हां भास्कर आज तो तुमने मुझे खुश कर दिया है. भाई बहन की चुदाई कहानीवो सिसकारती रही- आह्ह … हा … हां … ओह्ह … जोर से … चोदो … घुसा दो … ओह्ह … चोदते रहो.

मंजुला ने अंतिम बार, चाहे झूटमूठ ही सही, अपनी पैंटी उतरने से रोक कर अपनी लाज बचाने की रस्मी कोशिश की पर अगले ही पल उसकी पैंटी नीचे की तरफ जांघों पर से फिसलती हुई पांवों से निकल कर मेरी मुट्ठी में थी.

लेकिन आप दोनों एक दूसरे से इतना चिपक कर कहां जा रहे हैं … ये देख कर मुझे दाल में कुछ काला लगा. अलीमा की कुंवारी चुत का उद्घाटन का पूरा किस्सा एक जवान लड़की की Xxx स्टोरी के रूप में मैं अगले भाग में लिखूंगा.

अब मुझे मेरी चूचियों के निप्पलों में सरसराहट सी होती हुई महसूस हो रही थी. बनारस से ट्रांसफर होकर लखनऊ आया तो जो फ्लैट मैंने किराये पर लिया, उसके सामने वाला फ्लैट चौरसिया जी का था. उसके ससुराल में वो अकेली औरत है, इसलिए वो लोग उसे एकदम देवी के तरह रखते हैं.

उन्होंने अपना गुस्सा मुझ पर निकालना शुरू कर दिया कि सुबह देर तक उठता है, कोई काम नहीं करता है वगैरह वगैरह.

वह भी अपनी चूत को सहलाने लगी जो मेरे लिए एक साफ साफ इशारा था कि ‘आ और चोद डाल मुझे!’बस फिर क्या था कामाग्नि और नशे में चूर मैं भी उस रंडी पर चढ़ बैठा. कभी मैं उसकी चूचियों के साथ खेलती और उसकी चूत को चाटा करती थी और कभी वो मेरी चूचियों को जोर से दबाते हुए मेरी चूत में उंगली कर दिया करती थी. वो सिसकारियां भरने लगी और उसने मेरे अंडरवियर में हाथ डाल दिया और लंड को सहलाने लगी।अब मैंने उसे बिस्तर पर बैठा दिया और खड़े होकर उसके मुंह को छूते हुए लंड को उसके गालों पर टच किया और फिर लंड मुंह में डाल दिया.

whatsapp धंधा करने वाली का नंबरप्रियम[emailprotected]गर्म जवानी की कहानी का अगला भाग:हवाई यात्रा में मिली एक हसीना- 4. मैं शुरू से ही इतनी गोरी हूँ कि मेरा रंग दूध में केशर मिला सा हल्का सिंदूरी सा नजर आता है.

सेक्सी कहानी ससुर बहू की

पहले कंधे और फिर चूची पर!तो वो बोली- दीदी, चूची पर क्यों कर रही हो?मैं बोली- अरे चूची पर ही तो पहननी है. दूसरे दिन बाबूजी मार्केट गये और वापस आकर सामान का झोला रसोई में रखा और खाकी रंग का एक लिफाफा मुझे देते हुए बोले- यह तुम्हारे लिए है. मंजुला के करवट लेते ही उसकी नंगी पीठ, उसके भरे भरे गोल चूतड़ और सुडौल पैर, सब कुछ मेरे सामने ट्यूबलाइट की तेज रोशनी में दमक रहा था.

एक घंटे बाद हमारी ट्रेन थी। मैंने सेकेण्ड क्लास एसी की सीट बुक की थी. उसके बाद मेरा ब्लाउज उतारकर और मेरी पूरी साड़ी उतार कर मुझे नंगी कर दिया. फिर मैंने उसकी चूत को लंड से सहलाया और वो अपनी चूचियों को मसलते हुए चूत को लंड पर रगड़वाने लगी.

कुछ देर तक गांड में लंड को पेलने के बाद मैंने उसकी गांड में ही पानी छोड़ दिया. जी ऍफ़ की चुदाई स्टोरी में पढ़ें कि मेरी गर्लफ्रेंड की शादी के बाद भी मुझे अपने घर बुलाया सेक्स के लिए. उस समय वासना के वशीभूत होने के कारण उस आदमी को सेक्स के अलावा कुछ भी नजर नहीं आ रहा था.

अरमान मुझे किस करने लगा और धीरे धीरे लंड को मेरी चुत में डालने लगा. अलीमा बलविंदर को रोकना चाहती थी लेकिन बलविंदर की मजबूत पकड़ से अलीमा उसे दूर ही नहीं कर पाई.

फिर भी धीरे धीरे मैंने उससे किसी न किसी बहाने से बात करने की कोशिश की.

मेरे हाथ पैर कांपने लगे तो टी टी ने मुझे उठा कर वापस गद्दे पर बिठाया और मुझे घोड़ी की तरह दोनों हाथों और घुटनों पर खडा़ कर दिया. भाई बहन का रोमांसदो तीन मिनट की चिल्लपौं के बाद प्रियंका ने भी चुदाई का मजा लेना शुरू कर दिया था. रंडी बाजार सेक्सी वीडियोपर जब कभी वो मेरे सामने आतीं, तो मैं उन्हें जी भरकर देखता और लाइन मारने की कोशिश करता रहता था. मैंने एक निप्पल को अपने मुँह में भर लिया और मजे लेकर चूसने लगा; हल्के हल्के दांतों से उन्हें खींचते हुए काटने लगा.

मैं एक शानदार होटल में गया उधर उन्होंने मुझसे उसका आईडी प्रूफ मांगा.

थोड़ी देर बाद वो नार्मल हुई और तब तक स्नैक्स के साथ हमारा एक एक पैग और हो चुका था. इसके बाद में मैंने उसकी दीदी की पेंटी भी निकाल दी और उसकी चूत में उंगली करने लगा. ऐसी ही एक शादी हुई, जहां मैं और मेरी मम्मी सम्मलित होने के लिए गई हुई थीं.

मैंने कहा- उनकी मृत्यु का कारण क्या था?राजेश बोला- वो सांप के काटने से मर गयी. राबिया बोली- बाजी हल्का सा दर्द है।बाजी- दर्द की तो दवा मैं दे दूंगी. वो तुरन्त बोलीं- आप कौन हैं और क्या चाहते हो?मैं आवाज बदल कर बोला- आप वादा करो और कसम खाओ कि मुझे जानने के बाद आप कोई रिएक्ट नहीं करोगी और मेरी बात मान लोगी.

स्कूल या लड़की

रूम तक पहुंचने से पहले ही उसने मेरी मां को पीछे से दबोच लिया और उसकी दोनों चूचियों को जोर से दबा दिया. मैं जिया से बोला- होटल चलेगी?तब जिया बोली- नहीं होटल नहीं … उधर खतरा रहता है. चार पैग के बाद संजय टल्ली हो गया और बोला कि मां जी एक बात बोलूं कि आपकी बेटी, आप पर तो बिल्कुल नहीं गयी है.

मैंने तुरन्त एक नई सिम ले ली और उस नम्बर से व्हाट्सएप शुरू कर लिया.

मैंने मॉम से फ्लर्टिंग करते हुए कहा- मॉम, आप बहुत सेक्सी लग रही हो.

उनकी बातों से मुझे मालूम चल गया था कि पहली बार की चुदाई में काफी दर्द होता है मगर पहली बार चुदाई करने वाला कोई अनुभवी चुदाई करने वाला हो तो चुत काफी आसानी से खुल जाती है. अब मेरा शक गहरा होता जा रहा था क्योंकि कोई चीज चूत में जा रही है और उसको पता भी नहीं चल रहा है? ये कैसे हो सकता था?मगर मेरे ऊपर अब सेक्स का भूत चढ़ गया था. मंगलसूत्र माला डिजाइनमैं- वो तो बाद की बात है मेरी जान … अभी तुम अपनी नंगी फ़ोटो भेजो, तो मूड बने.

वो थोड़ी देर बाद नॉर्मल हुई और बोली- मैं कहीं भागी थोड़ी जा रही हूं … जो इतना दर्द दे रहे हो. मेरे ऊपर चढ़ कर चुत में आठ दस बार अन्दर बाहर लंड किया और फुच्च फुच्च करके झड़ जाता है. तब मैं वहाँ के माहौल में ढला और मेरे घर के सामने की एक लड़की पटा ली जिसको मैं बहुत प्यार करता था.

फिर आगे बोली कि वो फ्लाइट से भोपाल आएगी क्योंकि उसे अपनी किसी खास सहेली से भोपाल में मिलना था. मैंने अब गरिमा की चूत से दूसरा हाथ निकाला और सोनाली के टॉप में घुसा दिया.

उसने जल्द ही सीधी होकर किसी बाजारू रंडी के जैसे अपनी टांगें फैला दीं और अजय ने उसकी चिकनी चुत में लंड पेल दिया.

हम दोनों एक दूसरे में चूमाचाटी में इतने मस्त हो गए थे कि हमें ये तक पता नहीं चला कि उसकी दीदी कब बाहर आ गयी. ड्रेसिंग टेबल के सामने खड़े होकर अपने बाल संवारे, लाइट मेकअप किया और लॉबी में आ गई, बाबूजी के सामने से इठलाते हुए रसोई में गई, अपना खाना निकाला और डाइनिंग टेबल पर बैठकर खाने लगी. वैसे तेरी जोरू का बदन काफी कसा हुआ है, शायद नई नई शादी हुई है तेरी.

ब्लू फिल्म देखना है मुझे दो मिनट लंड चुसवाने के बाद अजय ने माया को बिस्तर पर 69 में ले लिया और लंड चुत की चुसाई शुरू हो गई. ड्राईवर गाडी़ लेकर आया था पर मेरे शौहर ने उसे पैसे देकर टैक्सी से आने को कहा.

दोस्तो, यह थी मेरी कॉलेज लाइफ में पहली बार कुंवारी चूत की चुदाई की कहानी, जिसकी यादें आज भी ऐसे ही ताज़ा हैं, जैसे कि ये कल की बात हो. वो मुझे अपनी जीभ का रस पिलाने लगी और खुद भी मेरी जीभ को चूसते हुए मजा लेने लगी. अब ये किस्से कहानियों की बातें कितनी सच होती हैं ये तो सिर्फ कहानी लिखने वाले ही जानते होंगे पर मेरी तरफ से या उसकी तरफ से ऐसा कोई रिएक्शन नहीं हुआ.

hot শেক্স

मैंने कहा कि जब तक मैं नहा कर आती हूं तुम जरा सेट टॉप बॉक्स को देख लो. इस तरह जवान किरायेदारनी लड़की की चूत चुदाई करके मैंने अपनी पहली चुदाई की शुरूआत की. मैं एक बहाने से उसके घर गया और उसकी वासना भड़का कर उसके बिस्तर पर ही उसकी चूत चोदी.

कुछ देर लंड चुसवाने के बाद मैंने उसकी टांगों को फैला दिया और उसकी मैक्सी उसकी चूचियों तक चढ़ा दी. मैंने धक्का दिया तो मेरी मां की गर्म चूत में मेरा लंड गच्च से चला गया.

अब इस आग में घी का काम कर रही थी मेरे घर से दो घर छोड़कर रहने वाली मेरे पड़ोस की एक भाभी.

उसकी ख़ास पसंद टाईट लैगी और कुर्ती थी, जिसकी वजह से उसकी पूरी बॉडी उभर कर दिखती थी. संजय मेरी नंगी चुचियों पर हाथ घुमाने लगा और मेरे निप्पलों को अपनी उंगलियों के बीच में मसलने लगा. उन्हें लज्जा भी आ रही थी कि वो अपने दामाद की कमर से झूली हुई उसके लंड पर बैठी थीं.

मगर साफ पानी होने की वजह से मुझे दीपू की सफेद ब्रा और नीचे लाल चड्डी साफ दिख रही थी. उसके लन्ड में मेरी चूत की महक मुझे पागल बना रही थी।सागर मेरी चूत को चाटने लगा, मानो वो उसमें ही घुस गया हो।अब 15 मिनट तक इसी पोजीशन में मजा लेने के बाद सागर का लन्ड अकड़ा और मेरे मुंह में एक जोर की पिचकारी मारी. मम्मी ने उससे बातें करते हुए चाय बनाई तथा उन दोनों ने साथ में चाय पी.

हम दोनों की अम्मियों को जब हम दोनों की मुहब्बत की जानकारी हुई तो वे दोनों बहनें गुस्सा होने के बदले बहुत खुश हुई और हम दोनों का निकाह करवा दिया.

सेक्स बीएफ बीपी: अब वो रंडी मुझे देख के हंसने लगी और चली गई। अब वहाँ सिर्फ मैं और सीमा ही बैठे हुए थे तो हम दोनों ने बात करनी शुरू करी. मैं उसको तीन साल बाद देख रहा था, क्या मस्त लग रही थी।मैंने पंखा चालू किया और उसको पानी के लिए पूछा.

पांच मिनट बाद मैंने दीदी को डॉगी स्टाइल में किया और पीछे से ज़ोर से लंड पेल कर चुत के अन्दर बाहर करने लगा. प्रीति के चेहरे के भाव बता रहे थे कि वो पूरा लण्ड लेने को बेताब है. मैं अपने कपड़े उतारकर नहाने चली गई और नहाकर मैंने वही आगे से खुली वाली सेक्सी नाइटी को पहन लिया.

चूसते चूसते मैंने उसकी पैंटी उतार दी और उसकी चूत के अंदर उंगली करना चालू किया.

उसने टॉप और लैगी पहना था और लैगी पीछे से अंदर तक उसकी गांड में घुस गयी थी जिससे मेरी बहन की गांड उभर के आ रही थी. मैं- यह आप कैसी बातें कर रही हैं!अर्चना- चिंता मत करो, रिया को कुछ नहीं बताऊंगी. कुछ छोटी छोटी बातें और हैं जिन्हें मैं इस सच्ची कहानी में संक्षेप में लिख रहा हूं.