हीरोइन लोग का बीएफ

छवि स्रोत,2021 हिंदी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

हेलो सेक्सी हिंदी: हीरोइन लोग का बीएफ, मैंने बात शुरू करने और माहौल को हल्का करने के लिये बोला कि चाय या कॉफ़ी?वो बोली- कॉफ़ी.

साडीवाली बीएफ

मैंने अपनी कहानी के पिछले भागों में बताया कि कैसे मैंने अपने बेटे को पटाया और उसके साथ अय्याशी की. टीना की सेक्सी फोटोजब भैया का पानी भाभी की चूत में निकल गया, तो भाभी शांत पड़ी रह गईं और भैया उनके ऊपर से हट गए.

फिर उसने एक हाथ से लंड का चिकना टोपा चुत की फांकों पे फंसा दिया और एक जोर का धक्का लगा दिया. देवर भाभी का सेकसी विडियोनेहा मुझसे बोली- मैंने सुबह इशारा किया था, पता नहीं तुम समझे या नहीं?मैंने कहा- मैं इशारा समझ गया था.

रानी के चूचों का उतार चढ़ाव, उसकी दूध सी गोरी बाल रहित बग़लें, गुलाबी सी नाभि, उसके बिखरे हुए केश और मस्त चुदाई के बाद चेहरे पर छाये संतुष्टि के हाव भाव देख कर कामोत्तेजना से मेरा दिमाग झन्ना उठा.हीरोइन लोग का बीएफ: जब उसने बेडरूम का दरवाजा खोला तो मैं मनीषा को पलंग की साइड में लेटा कर उसके ऊपर लेट गया.

वह उठी और मुँह मेरी तरफ करके अपनी टाँगें चौड़ी करके मेरे लंड को चूत पर रगड़ने लग गई.मेरी दोनों बेगमें पूरी गर्म हो गयी, दोनों की चूत पूरी गीली हो गयी, दोनों ने अपना चूत रस मेरे लण्ड पर लगा कर उसे चिकना कर दिया.

बीएफ सेक्स व्हिडिओ इंडियन - हीरोइन लोग का बीएफ

शिखा बोली- तुमने फिर से अंदर ही अपना माल गिरा दिया?मैंने कहा- अरे कुछ नहीं होगा.जब थोड़ा सा अंधेरा हो गया तो हम लोग पार्क में एक तरफ पेड़ों के पीछे चले गये.

आज फिर से सुहागन होकर सहवास की चाहत से मेरी दबी हुई सिसकारियों को निकलने का अवसर मिल गया. हीरोइन लोग का बीएफ पर बर्दाश्त नहीं कर पायी, तो उंगली से खुजली मिटाने की कोशिश कर रही थी.

पति के तलाक के बाद मेरी जिंदगी कुछ खास नहीं थी, तलाक के 2 साल तक मैं चुदी नहीं थी, अपने जिस्म की आग को बस यूं हाथ से ही बुझा कर काम चला रही थी.

हीरोइन लोग का बीएफ?

नीतू … डरो मत … पहली बार ऐसा होता है … मैं तुम्हें दवाई ला दूंगा … फिर सब ठीक हो जाएगा. मैं अभी भी उसकी नाभि और घुमटी को चूस-चूस कर अपने दिमाग में एक नयी शुभ्रा को पैदा कर रहा था, जो मेरी चुदासी गर्लफ्रेंड हो चुकी थी. वो मुझे पकड़ कर बोली- आह … बहुत मजा आ रहा है यार … और तेज करो … फक मी फास्ट.

मेरी इंस्टाग्राम की आईडी है charliejoseph390मेल आईडी है[emailprotected]. मैंने चाची से कहा- जब आप भीग ही गये हो तो मेरे साथ ही नहा लो!चाची बोली- हट्ट बेशर्म … अगर किसी ने देख लिया तो?मैंने कहा- यहाँ पर कौन है देखने वाला. मैं बोली- जी सर, कहिये क्या बात है?वो बोले- क्या तुम अपनी इस जॉब से खुश हो?तो मैंने हां में सर हिला दिया.

कि यदि मैंने अपने पति को ऐसा बोला तो वो ना जाने मेरे बारे में क्या सोचेंगे. अंत में डॉक्टर ने कहा- आप लड़की को केवल इतना समझ दें कि गर्भधारण से कैसे बचना है और यदि दूसरे लोगों के पास जाएगी तो इसके क्या क्या रिस्क हैं. जिंदगी में पहली बार किसी को ऐसे चुदते हुए देखा था, तो दिल जोर जोर से धड़क रहा था.

जीजा ने मेरी टांगों को चौड़ी किया और अपना लंड मेरी चूत पर लगाते हुए कहने लगे- बता कैसे लेगी मेरा लंड?मैंने कहा- आशीष, जैसे तुम्हारा मन करे तुम वैसे चोद दो. मुझे देखते ही सुधा नीचे बैठ गई और मेरे लोअर को सरका कर मेरा लंड निकाल कर चूसने लगी.

मेरी जान ये करतूत नहीं, हमारे तुम्हारे प्रथम मिलन की निशानियां हैं, यह लुंगी तो मैं सुखाकर जिंदगी भर संभाल कर रखूंगा.

इधर उन दोनों की मादक आवाजों के बीच मैं चुदाई के लिए लंड तैयार कर रहा था.

बहुत दर्द कर रही है।मैंने हंसते हुए उसकी टांग उठा कर कहा- दिखाओ?और उंगली से उसकी गांड के छेद को सहलाते हुए बोला- बाप रे … यह तो आज कली से फूल बन गई है. अचानक दरवाजे पे आवाज हुई, मैं बोली- जी सर?बाहर बॉस थे, वो बोले- अंदर एक फाइल है, वो चाहिए. वह मेरे होंठों को चूसने लगी और फिर मेरा लंड दोबारा से तनाव में आने लगा.

कल रात और आज सुबह की जो बातें हुई थीं, वो मेरे दिमाग से उतर नहीं रही हैं. उसने हल्का सा जोर लगाया, जिससे उसका 8 इंच का आधा लंड मेरी चूत में उतर गया. करीब 20 मिनट के बाद ससुर जी का पानी निकलने को हुआ तो सुमीना बोली- पापा, अन्दर मत निकालना … नहीं तो मुझे गोली खानी पड़ेगी.

एक बार तो मैंने उनको बख्श दिया और फिर जब वो नहीं मानी तो मैंने उन पर पानी डाल दिया।चाची के सारे कपड़े गीले हो गये.

तभी उसके दिमाग़ में कोई बात आई और वो उठकर सीधा बाथरूम की तरफ़ भागा तो देखा रिया पेशाब करने बैठी ही थी. कई बार ऐसा होता है कि जब हमें जगह नहीं मिलती तो हम बाहर जाकर चुदाई करके आ जाते हैं. उसकी उभरी हुई गुदाज जाँघें और पकौड़ा सी चूत बिल्कुल मेरे लण्ड की टक्कर में आ गई.

थोड़ी देर तक मैं उसकी बंद पाव जैसी चूत को देखता रहा, जो बादामी रंग की थी. दी घर पे नई थी और उनको मालूम नहीं था कि घर में कौन सी चीज कहाँ पड़ी है तो वो बार बार मुझे आवाज लगाकर बुलाती थी और मैं जब भी उनके पास जाता, मैंने देखा कि वो मेरे एकदम नजदीक खड़ी रहती थी ताकि मैं उनकी बॉडी पूरी देख अकूँ और उत्तेजित होऊँ. जाऊं तो कैसे जाऊं? कोई देख लेगा तो? सारा दिन इन्हीं ख्यालों में उलझी रही.

उसको खड़ी कर पेटीकोट के नाड़े को खींचा, एक बार में पेटीकोट सीधा नीचे गिरा.

खैर थोड़ी देर तक वो मेरी गांड को चाटने के बाद खड़ी हुई और बोली- अब ये चाटम चटाई बहुत हुई. चूंकि मोनी ने अपने घुटने मोड़े हुए थे इसलिए मैं आगे की तरफ से उसकी सलवार को नहीं उतार सका.

हीरोइन लोग का बीएफ मैंने उससे कहा- ये सब तुम क्यों करती हो? और करना ही है तो अपने बॉयफ्रेंड के साथ क्यों नहीं करती?बिन्दू बोली- मेरा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है. मैंने अपना मोबाइल देखा वह तो खामोश था।ओह … यह तो मेज पर पड़ा कोई दूसरा मोबाइल बज रहा था? लगता है सुहाना अपना मोबाइल यहीं भूल गई है।मैंने फ़ोन को उठाया तो उधर से सुहाना की आवाज आई- सॉरी सर … मैं सुहाना बोल रही हूँ।ओह … हाँ … बोलो डिअर?”सर … वो मेरा मोबाइल …?”अरे हाँ … तुम अपना मोबाइल यही भूल गई लगती हो?”सॉरी सर! आप रख लेना.

हीरोइन लोग का बीएफ मैं लज्जा से अपनी चूची और चूत को छुपा रही थी, लेकिन मेरी चूचियां बहुत बड़ी हैं, इसलिए वो मेरे लाख कोशिशों के बावजूद भी छुप नहीं पा रही थीं. तो मैंने मेंहदी धोई और हीना को याद करके मेंहदी को चूम लिया और कपड़े बदल कर नीचे चला गया.

उस स्टोर रूम में सिर्फ अम्मी एवं अन्य घर के सदस्य को छोड़कर कोई नहीं जाता है.

माधुरी के सेक्सी वॉलपेपर

इधर मैं भी उसकी दोनों चूचियों से खेल रहा था।जब उसने काफी देर मेरा लंड चूस लिया तो मैंने उसे अपनी गोदी में उठाया और बेड पर लेटा दिया और उसकी दोनों जांघों के बीच बैठकर उसकी चूत पर लंड सेट किया. फिर मैंने उसकी कमर के नीचे एक तकिया रखा, जिससे उसकी बुर जरा ऊपर को उठ गई. कहानी का मजा लेने से पहले अगर आप मेरे और परिवार के बारे में कुछ जान लें तो आपको कहानी समझने में सुविधा होगी.

ऐसा कहना मेरी सभी सीमाओं को लांघना था, लेकिन नम्रता मुझसे दो कदम आगे थी. अच्छा ये बताओ कि तुम्हें सेक्स में क्या क्या करना पसंद है?मैं बोला- मुझे लंड चूसना सबसे ज्यादा पसंद है. वो बोली- अर्पित मुझे बारिश देखना बहुत अच्छा लगता है, देखो आज बादल भी धरती पे ऐसे बरस रहा है, जैसे ये दोनों एक दूसरे से मिलने के लिए जन्मों के प्यासे हों, जैसे हम तुम.

मुझे नहीं पता था कि उनकी पत्नी पड़ोस की किसी औरत के साथ बाजार गयी है.

इतना बड़ा लंड देख कर वो हैरान होकर मेरे कान में कहने लगी- इतना मोटा और लम्बा लंड तुमने मेरी बुर में कैसे ठोक दिया?मैंने कहा- अभी पूरा कहां ठोका है! मेरी रानी अभी तो सिर्फ एक चौथाई हिस्से से कम ही अंदर डालकर चलाया था. लंड का मजा मिलते ही वो गर्म होकर बोलने लगी- आह मेरी फुद्दी को फाड़ दो और तेज़ और तेज़ करो … आह आह आई आई शी शी शी. मेरे मुंह से अनायास ही निकल पड़ा- आह्ह … चाची … आप तो कमाल हो!चाची ने अपनी नजर उठाई और मेरी तरफ आंख मारकर फिर से मेरे लंड को लोअर के ऊपर से ही चाटने लगी.

मुझे आज भाभी की चूत को चूसने में मजा आ रहा था और दूसरी तरफ भाभी मेरे लंड को चूस कर मुझे और भी मजा दे रही थी. फिर धीरे से उन्होंने अपनी जीभ को मेरी गांड के छेद के नीचे रखा और उसे चाटना शुरू कर दिया. उसका शौक पूरा करना था इसलिए मैं उसको बाहर लेकर जाने लगा ताकि उसके खाने का शौक भी पूरा हो जाये और उसके बदन की हसरत भी.

मौसी ने मेरा हाथ अपने पेट पर रख दिया, मैं भी मौसी का इशारा समझ गया. मेरी दीदी की चुत में मेरे पति का लंड कैसे घुस सका, ये आपको मैं अपनी जीजा साली सेक्स कहानी के अगले भाग में लिखूंगी.

इसी बीच शीना मुझे अपनी तरफ खींचते हुए मेरे पीठ में नाखून बढ़ाते हुए झड़ने लगी. कभी वो बेड के किनारे पर लाकर चोदने लगते थे, तो कभी सोफे पर ले जाकर घोड़ी बना देते थे. मैंने जीजा का लंड अपने मुंह से बाहर निकाल लिया तो जीजा बोले- 2 मिनट रुक जाओ नहीं तो मैं तुम्हारे मुंह में ही पानी निकाल दूंगा अभी.

वो बोले- तू चिंता न कर, आज मैं तेरा यार आशीष हूं और तेरी जम कर चुदाई करूंगा.

हम दोनों की स्थिति एक जैसी ही है लगभग लेकिन तुम्हारी चूत ऐसी है कि अभी ज्यादा चुदी न हो. नम्रता थोड़ा पीछे हटते हुए बोली- ऐसे क्या देख रहे हो?मैं- कुछ नहीं यार, तुम्हारी चूत को चोदने और गांड मारने में इस कदर खो गया कि इस सेक्सी जिस्म को ध्यान से देख ही नहीं पाया. कई साइट्स पर सेक्स के लिए अड्वरटाइज़ भी पोस्ट किए, पर किसी का कोई फ़ायदा नहीं हुआ.

वाकई में इंडियन लौड़े बहुत दमदार होते हैं, मुझे बहुत मजा आया तुम्हारे लंड से चुदते हुए. थोड़ी देर बाद काजल आईने के सामने जा कर बोली- ओह … ये पहन कर अगर मैं आपके भाई के सामने गई, तो वो तो मुझ पर टूट पड़ेंगे और वहीं चोद डालेंगे.

वो मेरे कान की लौ को चाटने के बाद मेरे पेट को चाटने लगा और उसके बाद मेरी नाभि को चाटने लगा. आपको कुछ बुरा लगा हो तो माफी!आगे क्या हुआ कुकोल्ड सेक्स स्टोरीज इन हिन्दी के अगले भाग में!तब तक के लिए धन्यवाद. मैं धक्के ना मारते हुए नम्रता के ऊपर आ गया और उसके होंठों को चूसने लगा.

दिल्ली की वीडियो सेक्सी

वह धीरे धीरे ऊपर नीचे होकर लंड की सवारी करती रही और चूत के दाने को मेरे लंड पर रगड़ती रही.

मेरे मुख से हल्की मदभरी सिसिकारियां निकल रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह…उसने मेरी नाभि पे तेल गिराया … तो मेरे बदन में झुरझुरी पैदा हो गयी. उससे चुदाई की बात कहने के बाद क्या होता है, ये आप इस सेक्स कहानी के अगले भाग में जानेंगे. मैंने चाची को अपनी गोद में उठा कर बेड पर पटक दिया और उनके ऊपर चढ़ कर उन्हें किस करने लगा.

परन्तु एक बार ट्राई करके देख यार!हमारे जोर देने पर मुस्कान तैयार हो गयी. सुरेश अंकल मेरे जीवन में प्रथम पुरुष थे जो मुझे अच्छे लगे थे तो अब मैं उन्हें अपना बेस्ट से बेस्ट देना चाहती थी. बीएफ हिंदी साड़ी वालावसुन्धरा जी! आपने मेरे सवाल का जवाब नहीं दिया?”इतनी अच्छी शाम, इतना अच्छा साथ … आप कोई और बात कीजिये न प्लीज़! ” वसुन्धरा का मन नहीं था उस टॉपिक पर बात करने को और ऐसी बातों में ज़ोर-ज़बरदस्ती नहीं चलती.

कोई 10-15 मिनट बाद फिर से मेरे हर अंग को चूसने के बाद वो उठा और मेरी सहेली के बेड के दराज में क्रीम देखने लगा. मेरी इस पागल सहेली ने अपनी सबसे प्यारी चीज मुझे दे दी … तो क्या मैं उसकी एक ख्वाहिश पूरी नहीं कर सकती थी.

मेरी जीभ ने सीधा वहीं दस्तक दी और गांड के छेद के अन्दर बाहर जीभ होने लगी. हमारा संयुक्त परिवार है तो मेरे चाचा-चाची भी हमारे ही घर में हमारे साथ रहते हैं. बिमारी की गंभीरता को देखते हुए उनको हॉस्पिटल में भर्ती करवाना पड़ा.

मैं अपनी जीभ उस छेद के अन्दर लगा कर गांड के सूखेपन को गीला करने लगा. शाम को तब जागा, जब मेरे हॉस्टल के फ्रेंड ने घंटी बजा कर मुझे जगाया. अब मुझे चुदाई का ये खेल थोड़ा समझ आ गया था और मैं धीरे धीरे अपने लंड को भाभी की चूत के अन्दर बाहर कर रहा था.

अब आगे:जब हम बाथरूम में चुम्मा चाटी कर रहे थे, अचानक से आवाज़ सुन के हम लोग वापस अपनी खाट पे आके सो गए.

वो बोले- अगर तुम्हारी नौकरी पक्की कर दी जाये तो कैसा रहेगा?मैं बोली- ये तो आपके ऊपर है सर, मैं क्या कह सकती हूँ. मेरा आठ इंच लम्बा और तीन इंच मोटा मेरा लंड लोहे की रॉड जैसा गर्म हो गया था.

अब सब सो चुके थे, पर मेरी आंखों में नींद कहां थी … बस गुड़िया को चोदने की तरकीब सोच रहा था. हम्म… आह… ऐसे शब्द बोलते हुए सिसकारती रही।तभी मैंने अपनी जीभ को उस खुले छेद में लगाकर चलाना शुरू ही किया था कि वो अपनी गांड को हिलाने डुलाने लगी, मेरी जीभ की नोंक उसकी गांड के अन्दर थी. इसके साथ ही उसकी गांड में तेल से भरी अंगुली से गांड में हिलाने लगा.

आप लोगों के साथ ये बात शेयर करके मैंने अपने मन को हल्का करने की कोशिश की है. जब वो धक्के लगाते हुए थक जाती, तो रूक जाती और अपने निप्पलों को बारी-बारी मेरे मुँह में भर देती और मैं उन निप्पल को पीने का मजा लेने लगता. हम लोग उस दिन घर पूरा दिन बोर होते रहे इसलिए शाम को मैं और जीजू घूमने के लिए निकल गये.

हीरोइन लोग का बीएफ आज भी अकेले में मैं लड़कियों के कपड़े पहनकर अपनी इच्छा पूरी करता हूँ. इस तरह से काफी सहेलियों की चुदाई की बातें सुन कर मैं बहुत गरम हो जाती, पर मेरी चुत की प्यास बुझाने वाला कोई लंड नहीं था.

पानी छूटने वाला सेक्सी वीडियो

योनिमार्ग के साथ मेरा दाना भी रगड़ खाने की वजह से मेरी चुत फुरफुराने लगी थी. करीब तीन चार मिनट तक वो मेरे आसपास ही पौंछा लगाती रही पर मैं उतने टाइम में झड़ गया सिर्फ उरोज देख कर. मेरी चुत भी लंड लंड कर रही थी और इस चक्कर में मेरी चुत का किस तरह से भोसड़ा बन गया, अपनी इस सेक्स कहानी में मैं आपको यही सुना रही हूँ.

मेरा लंड तो पहले से तना हुआ था और मैंने जल्दी से अपने तने हुए लंड पर कॉन्डोम लगा लिया और मोनी के पीछे चिपक कर उससे सट गया. मेरा लंड चूत में पूरी तरह अन्दर जाता और हीना की बच्चेदानी पर ठोकर मार कर बाहर आ जाता था. বাবা মেয়েকে চুদলোउसने भी अपने दूसरे हाथ का पाना नीचे गिरा दिया और मेरे हिप्स पर अपने दोनों हाथ ले आया और जोर जोर से घुमाने लगा, उसकी उंगलियां मेरी गांड की दरार में, कभी-कभी मेरी गांड के छेद को छेड़ रही थी.

इसी दौरान मेरे एक बॉयफ्रेंड ने मुझको अन्तर्वासना पर सेक्स कहानी पढ़वाई.

मैं लज्जा से अपनी चूची और चूत को छुपा रही थी, लेकिन मेरी चूचियां बहुत बड़ी हैं, इसलिए वो मेरे लाख कोशिशों के बावजूद भी छुप नहीं पा रही थीं. मेरी गलती थी कि यदि मैं नेहा की शरीर की जरूरतों का प्रबंध कर देती तो आज ये रोहित हमारे लिए मुसीबत नहीं बनता.

उसने मेरे सीधे हाथ को प्यार से बेहद कोमलता से थामा और अपने होंठों के पास जाकर किस कर दिया. फिर लंड को उसकी गांड में घुसा कर उस की जोरदार चुदाई चालू कर दी।सुमन की आंखें मुझे ही देखे जा रही थी और मैं भी सुमन को ही देख रहा था. मैंने कहा- मैं तो एक दिन में ही उतार दूंगा इसकी शर्म!सीमा बोली- मैं और प्रियंका मिल कर अभी उतार देती हैं इसकी शर्म.

अभी तक की कहानी में आपने पढ़ा कि मौसी की लड़की के आने के बाद मेले वाले दिन मैंने उसको पटा लिया और रात में उसके साथ अच्छे से फ़ोरप्ले किया, पर बात चुदाई तक नहीं पहुँच पाई थी … क्योंकि मम्मी जाग गयी थीं.

मैंने गुप्ताइन की साड़ी और पेटीकोट एक साथ ऊपर उठा दिये और उसके चूतड़ों पर हाथ फेरने लगा. उसके बाद मैं नहाने गया और नहाने के बाद मैं एक घंटे के लिए बाहर गया. मुझे नहीं लगता आज रात तुम मुझे सोने दोगे, तो आज मैं भी थोड़ी पी लेती हूँ.

सनी लियोन हॉट पोर्न वीडियोअचानक उन्होंने उंगली चुत से बाहर निकाली, तो मैं व्याकुल हो गयी और नाराजगी से उनकी ओर देखा. उसका लंड कड़क देख कर मैं बेड पर सीधी लेट गयी और थॉमस मेरी चुत के पास आ गया.

सेक्सी नंगी पिक्चर एचडी में

फिर अगले दिन फिर से सुबह के ग्यारह बजे हम लोग प्रशिक्षण केंद्र में मिले. कभी अपनी गीली उंगलियों से मेरी चुत के दाने को छेड़ते, तो कभी अपनी बड़ी सी उंगलियां चुत के अन्दर लंड की तरह अन्दर बाहर करते. उसके होंठों को चूसते हुए उसके चूचों को दबाया और अब असली गांड चुदाई शुरू होने वाली थी.

कुछ ही देर में मैंने धीरे से प्रयास करते हुए पूरा लंड शिखा की गांड में उतार दिया. मेरी चूत में गजब की सुरसुरी मच रही थी मुझे लग रहा था कि मैं बस अब आई कि अब आई. भाभी बगल में चारपाई पर लेट गईं, जिससे भैया बाहर जाकर और लोगों के साथ सो गए.

फिर मैंने चाची और कंचन से कहा- मेरा खड़ा हो तब तक तुम दोनों आपस में ही सेक्स का मज़ा लो।मैंने कहा- जो भी जल्दी झड़ेगी, उसे ही अब लंड खड़े होते ही आखिर बार चोदूँगा. फिर मैं उसकी जींस के पास आ गयी और उसकी जींस का हुक खोल कर मैंने उसकी जींस उतार दी. अचानक बाली रानी ने जीभ की नोक सुपारी के छेद में घुसाने की कोशिश की.

”मैं मुस्कुराई- हर हक तुम्हारा है पर कपड़े खोल के करो न!ले मेरी जान!”और उसने मेरे ऊपर के कपड़े उतार दिए और मेरे निप्पल मसलने लगी।उधर बिस्तर पे:आ मालिनी, अपने होंठों का कमाल दिखा. उससे चुदाई की बात कहने के बाद क्या होता है, ये आप इस सेक्स कहानी के अगले भाग में जानेंगे.

चूंकि रंजना के साथ संभोग करने का यह मेरा पहला अनुभव था इसलिए लिंग चुसवाने और योनि चाटने का मेरा मन नहीं किया और न ही मुझे उसके आनंद के बारे में कोई ज्ञान था.

सोनम बेटा क्या बात है आजकल तू मिलती ही नहीं और तेरा चेहरा इतना उतरा हुआ क्यों है; क्या हुआ है तुझे?” उन्होंने मुझसे प्यार से पूछा. सेक्सी ब्लू वीडियो कॉमफिर तेरी ऐसी चुदाई करूँगा कि तूने कभी सोचा भी न होगी … और मैं भी वैसा कभी कर नहीं पाया होऊंगा. बीपी मराठी एचडीफिर धीरे से उन्होंने अपनी जीभ को मेरी गांड के छेद के नीचे रखा और उसे चाटना शुरू कर दिया. ”हां हां ठीक है, चली जाना, चल पहले चाय नाश्ता कर ले, कब से तेरा इंतज़ार कर रही हूं.

जब लगा कि मंजिल ज्यादा दूर नहीं है तो मैंने गुप्ताइन से कहा- आपके सिर के पास एक पैकेट रखा है, पकड़ा दीजिये.

मेरा बेटा डर के उठा और बोला- क्या हुआ मम्मी?मैं अपने शरीर को छिपाने का असफल प्रयास करते हुए बोली- छिपकली है वहां वंश. उसकी चूत के लबों को फैला कर मैंने वहां अपना लण्ड रगड़ना शुरू किया तो बोली- अब देर न करो, मुन्ने को मुन्नी के घर जाने दो. दोस्तो, यह थी मेरी और अदिति की प्रेमकहानी … इसके बाद हमारे बीच कई बार सेक्स हुआ, उसकी कहानी फिर कभी लिखूंगा.

मैंने लाल रंग का लांचा खरीदा और रेड ब्रा पेंटी और सुहागरात के लिये रेड गाउन लिया. मेरे नंगे बदन को देखकर उसने मुझे अपनी बांहों में ले लिया और अपनी गोद में बिठाकर मेरे मम्मों को दबाने लगा. इस कहानी से पहले मेरी एक कहानीबिहारी नौकर ने मेरी कुंवारी चूत को चोदाप्रकाशित हो चुकी है.

सेक्सी देते हुए

अरे साली जी मुझे तुम्हारी चिंता तुमसे ज्यादा है सो तुझे कोई टेंशन नहीं लेना है, सब मेरी जिम्मेवारी है. साली!! तेरी चूचियां तो केवल जोर से मरोड़ने के लिए बनी हैं!” रवि बॉस बोला और अगले 7-8 मिनट उसने बड़ी बेदर्दी से मेरे दूध की निप्पल्स को मरोड़-मरोड़ के भर्ता बना दिया. मैंने उसकी गर्दन में हाथ लगाया और करीब करके अपने होंठों को उसके होंठों से मिला दिया.

तो मैं पापा को शिमला घुमाने ले गयी और वहीं एक रात को बारिश की वजह से ठंड अधिक बढ़ गयी तो पापा और मैं कब एक दूसरे से चिपक गये पता ही नहीं चला.

रमेश ने अपने एक पैर को रिया की पीठ पर रखा हुआ था और रिया के बाल सहलाते हुए उसको खूब गालियाँ दे रहा था- मादरचोद, मां की लौड़ी, भोसड़ीवाली, चुदक्कड़ रांड …और भी कई अलंकारों से रमेश ने उसको नवाज़ा।रिया गालियां सुनकर और ज्यादा जोश में आ रही थी और लंड चूसने की उसकी गति बढ़ती जा रही थी.

मैंने कहा- तुम्हें अभी मज़ाक सूझ रहा है … इधर अंधेरे के कारण मेरी जान जा रही है. कामवासना से जलती मेरी बिटिया की नंगी टांगें फैलाकर मैंने उसकी कोमल और कुंवारी चूत में अपना लंड अन्दर घुसाना चाहा लेकिन उसकी चूत बड़ी टाईट थी इसलिए मेरा लंड फिसल गया. ಸೆಕ್ಸ್ ಕಮ್ ಸೆಕ್ಸ್ ಕಮ್धीरे धीरे उसकी मोनिंग तेज़ हो गई- आहह उम्म्ह… अहह… हाय … याहह हहह और चोदो मुझे कस कर चोदो … चोद दो मुझे प्लीज़ … मुझे चोदो और मत तड़पाओ।जब उसने ऐसा कहा कि और मत तड़पाओ तब मुझे पता चला कि उसे कुछ नहीं हुआ है.

मैंने भी थॉमस को बेड पर खींच लिया और उसके लंड को फिर से मुँह में लेकर चूसने लगी. शादी के दिन से ही उनके मोटे लंड की जोरदार चुदाई से मैं संतुष्ट होती आ रही हूँ. फिर मैंने तीन उंगलियां चूत में डालीं, तो भाभी अपने आपको रोक नहीं पाईं और झड़ गईं.

वो मुझसे बोली- आपको जो भी चाहिये, वो आपके बैग में है, खुद ही निकाल लो. उसने लण्ड को चूसना शुरू किया तो मैंने चूत में उंगली चलानी शुरू कर दी.

वह अब लगातार बड़बड़ा रही थी- सर मुझे रंडी बना दो… इस तरह से मेरी चुदाई करो कि मैं खुश हो जाऊं.

” उसने झुंझलाते हुए से कहा।ओह … सॉरी जान … अगर तुम पेट के बल होकर लेट जाओ तो बड़ी आसानी होगी. अपनी बहन के बारे में सोच कर ही मेरा लंड मेरी पैंट में खड़ा होना शुरू हो गया. मैंने अपना बायां हाथ वसुन्धरा के सर के नीचे लगाया और झुक कर अपना दायां हाथ वसुन्धरा के दोनों घुटनों के पीछे से घुमा कर उसको अपनी गोद में उठा लिया.

चुची की फोटो मुझे भाभी के साथ रात का प्रोग्राम फिक्स करना था, तो मैंने उन्हें कह दिया- आप ही ले आओ भैया, मैं जरा थकान सी महसूस कर रहा हूँ, तो आराम कर लेता हूँ. फिर अपने घुटनों पर ऊपर हुई और पीछे होते हुए मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत पर सैट किया, धीरे से नीचे बैठते हुए ‘अअअ भईया अअअअअ आई …’ उसने धीरे धीरे पूरा लंड अन्दर ले लिया.

दोस्तो, बिहारन चन्द्रा भाभी को मैंने किस तरह से चोदा और उन्हें चुदाई से पहले अपने सपनों में चोदने की कहानी सुना कर मजा दिया … ये सब मैं आपको इस सेक्स कहानी के अगले भाग में लिखूंगा. आपके मजे की अगली किश्त के साथ में एक बार फिर से आप लोगों के बीच में हूं. थोड़ी देर बाद मेरा दर्द मजे में बदल गया और मैं खुल कर ‘उँह आआह आआह आ आआह.

छोटे-छोटे बच्चे की सेक्सी पिक्चर

मैंने भाभी की चूत पर अपना मुँह लगाया और बहुत जोर से चूस दिया, तो भाभी की वासना से भरी हुई सिसकारी निकल पड़ी. साथ ही साढ़े छह इंच लम्बे मस्त लंड का मालिक हूँ … और सेक्स में बहुत देर तक एक्टिव रहता हूँ. अचानक दरवाजे पे आवाज हुई, मैं बोली- जी सर?बाहर बॉस थे, वो बोले- अंदर एक फाइल है, वो चाहिए.

जो भी रस उसकी उंगली में लगा था, वो सब मेरी जीभ पर उंगली चलाकर हटा रही थी. मगर ये कहानी मैं अन्तर्वासना के पाठकों के लिए लिखना चाहता था इसलिए हिन्दी में ही लिख रहा हूं.

जब थोड़ा सा अंधेरा हो गया तो हम लोग पार्क में एक तरफ पेड़ों के पीछे चले गये.

भाभी से कभी कभार थोड़ी बहुत बात हो जाती थी लेकिन भाभी के बारे में मेरे मन में कभी चोदने के विचार नहीं थे. उसके बाद मैंने अपनी छोटी भाभी को भी चोदा, उसकी कहानी अगली बार बताऊंगा. इसी बीच अनिता एक और बार झड़ गई और कहने लगी- अब मुझसे नहीं हो पायेगा!और शांत बैठ गई मेरे लंड पर!फिर मैंने हिम्मत जुटाई और उसे नीचे लेटा कर उसके ऊपर चढ़ गया और धीरे धीरे उसकी चूत चोदने लगा.

वो बोल पड़ी- भईया, प्लीज अपनी बहन की चूत में डालो और प्लीज आज जल्दी मत झड़ना. बाहर आ-जा नहीं सकते थे, सो खिड़की से खड़े होकर हम दोनों बाहर का नजारों का मजा ले रहे थे. मैंने उससे पूछा- पहले तुम बताओ कि तुमने किसी को पटाया है या नहीं?इस तरह हम दोनों लोग एक दूसरे के बारे में खुल कर पूछने लगे.

लंड को जब मैं बुर में अंदर बाहर करने लगा तो वो थोड़ा और अंदर जाने लगा.

हीरोइन लोग का बीएफ: संकोचवश मैंने कहा- जी ठीक है, आप जैसा कहेंगे मैं वैसा करने के लिए तैयार हूं. सच कहूँ, तो उस दिन हम दोनों को बहुत मज़ा आया, जो उसने बाद में मुझे बताया था.

फिर मैंने उसे घुमा दिया और उसके चूतड़ों पर किस किया … और एक बार जोर से उसकी गांड को मसल कर वापस अपनी जगह बैठ गया. किस करते समय मैंने उसके चुचे दबाना शुरू कर दिया, इससे वो बहुत गर्म हो गयी. वैसे तो मैं समझ गया था लेकिन मैंने अनजान बनते हुए भाभी से पूछा- भाभी, मैं कैसे रोक सकता हूँ?भाभी- राज, मैं इनकी माँ हूँ.

उन्होंने मुझे देखा तो अपने पीछेपीछे आने का इशारा किया लेकिन मैंने इन्कार में सिर हिला दिया.

मैंने ही अब उन दोनों को अपने से अलग किया और हम तीनों एक-दूसरे के साथ उसी मस्ती में नहाए … जिस मस्ती और प्यार में हम तीनों चुदाई कर रहे थे. तो सीमा बोली- उई आह्ह्ह … क्या कर रहे हो?मैंने कहा- साली, तेरी गांड मार रहा हूँ उंगली से, कैसा लग रहा है?वो बोली- आह … मज़ेदार … चोदो ऐसे ही आह!मैंने फिर कहा- बोल तेरी गांड में भी लंड डलवा दूँ क्या साली फक्ड गर्ल?वो बोली- नहीं अभी नहीं! ओह्ह बस चोद दो अब तो मुझे!मैंने भी जोर जोर से उसकी चूत को चोदना शुरू कर दिया. उसने अपनी छाती और मुँह बेड पर टिका दिये और चुदते हुए तरह तरह की आवाजें करने लगी- आह … आह … उम्म्ह … आह … मार दिया जालिम … फाड़ दी मेरी चूत … एक ही दिन में सारी जिंदगी की कसर निकाल दी.