मोटी औरत की बीएफ हिंदी में

छवि स्रोत,ಕನ್ನಡ ಬ್ಲೂ ಫಿಲಂ ಸೆಕ್ಸ್

तस्वीर का शीर्षक ,

మల్లు సెక్స్ వీడియోస్: मोटी औरत की बीएफ हिंदी में, कुछ ही देर में हम दोनों भूखे परिंदों के तरह एक दूसरे को चूस रहे थे.

ब्लू पिक्चर हिंदी में हिंदी में

कॉल कट दो गई और वो दीदी से बोली- वो दरवाजे पर हैं, मैं उन्हें अन्दर लेकर आती हूं. فلم هندي سكسये बात तब की है, जब मेरी इंजीनियरिंग के दूसरे वर्ष की परीक्षा ख़त्म हुई थी.

मैं सर की पूरी प्लानिंग समझ रही थी और मैं अंदर से बहुत खुश थी कि आज मुझे नया लंड मिल ही जाए शायद!फिर भी मैं दिखावा करती हुई बोली- सर आप ये मुझे कहाँ ले जा रहे हैं? ये कॉलेज का रास्ता नहीं है. मोटे लंड सेबिना किसी समस्या के और बिना अपनी पहचान बताने के साथ ही किसी और की पहचान बताये बिना भी अपनी बात रख सकते हैं.

तभी तो कोमल ने भी अपने ऊपरी कपड़े निकाल फेंके और पेंटी को एक ओर करके अपनी चूत में उंगली करनी शुरू कर दी.मोटी औरत की बीएफ हिंदी में: ऐसे संबंधों में मर्द अक्सर संबंध बना भी लेते हैं और औरतों को बदनाम भी कर देते हैं.

वो अपने एक बेटे और बेटी के साथ दिल्ली की अब अपर मिडल सोसाइटी में रहती थी.इसलिए मैं उसके सामने कुछ नहीं बोलती थी क्योंकि मुझे पता था कि अगर मैंने उसकी मर्जी के खिलाफ उस किरायेदार लड़के से बात की तो वो घर पर मेरी शिकायत कर देगा.

ब्लू फिल्म वीडियो हिंदी एचडी - मोटी औरत की बीएफ हिंदी में

सोनिया- हाय … अपने लंड को अपने हाथों में होल्ड करो और सोचो कि मैंने पकड़ रखा है तुम्हारा लंड.कामुक स्त्री से सेक्स का सबसे बढ़िया फायदा यही है कि उसे बस गर्म करने की देरी होती है, उसके बाद वो खुल कर रतिक्रिया में साथ देती है!मैं पूजा की पेंटी के अंदर उंगली डाल चूत का द्वार खोजने लगा तभी पूजा अपनी कमर को ऊपर उठा कर चूत में उंगली जाने का रास्ता दिखाने लगी!उंगली के चूत के बाहरी परत पर लगते ही मैंने उसकी चूत को मसलना और रगड़ना शुरू कर दिया.

वो रोहित की गोद में लैपटॉप की तरफ सर करके लेट गई और बीएफ देखने लगी. मोटी औरत की बीएफ हिंदी में उसके बाद मैंने लंड को जड़ घुसाने की कोशिश की लेकिन ऐसा लगा जैसे कोई दीवार सामने आ गयी हो.

कहानी को आगे लिखूँ, इससे पहले मैं खुद के बारे में बता दूं, मेरा नाम शरद (बदला हुआ नाम) है.

मोटी औरत की बीएफ हिंदी में?

उन्होंने मेरे मदमस्त नयनों की वजह से मेरा नाम मृगनयनी रख दिया, जो वो मुझे मेरे ना रहने पर कहते थे. वो बोली- वो सब तो ठीक है लेकिन अभी जो दर्द होने वाला है उसको मैं बर्दाश्त कैसे करूंगी?मैंने कहा- उसके लिए मैं तुम्हें पहले से ही एक दवाई दे दूंगा. मेरी बहन ने भी हम दोनों के लंड हाथ में ले लिए और आगे पीछे करने लगीं.

इस गांड चुदाई स्टोरी में पढ़ें कि पिता ने अपनी बेटी की कामवासना जगा कर उसे चुदाई करवाने पर मजबूर कर दिया. सबा की रसीली चुचियों को चूसने के बाद मैं फिर से धीरे धीरे नीचे की तरफ बढ़ने लगा. मैंने भी तुरंत उनकी दोनों चूचियों को अपने हाथों में भर कर भींचना शुरू कर दिया.

यह बोलकर मैंने रानी को जकड़ के उसके चेहरे पर चुम्मियों की बरसात कर डाली. फिर मैंने उनकी पैंटी को ऊपर से किस किया, तो वो एकदम से चुदासी हो गईं और तड़पने लगीं. हम दोनों का पानी मेरी चूत से निकल कर बिस्तर पर गिर गया और बिस्तर की चादर खराब गई थी.

मेम समझ गईं कि मैं अब उनकी गांड मारने वाला हूँ, वो भी गांड उठाने लगीं. मैं धीरे धीरे उनकी चुत पर हाथ फेरने लगा और वो बिन पानी के मछली की तरफ तड़फने लगी और जोर जोर से सिसकारियां लेने लगीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… ह्म्म्म … अमन्न आह अआआह आह.

उसने मेरा सर पकड़ कर रखा था, तो मैं उसका लंड बाहर नहीं निकाल पाई और मुझे उसका पानी पीना पड़ा.

कहानी का पूरा मजा लेने के लिए नये पाठकों को यह सब जानना जरूरी हो जाता है.

मेम ने साड़ी को अपनी नाभि के नीचे से बाँधी हुई थी, जिससे मेम का सपाट और चिकना पेट मुझे बड़ा ही कामुक लग रहा था. दोस्तो, कैसी लगी मेरी दो पति के साथ वाली सेक्स कहानी, मुझे जरूर बताइए और कोई सुझाव हो तो वो भी बिना संकोच के जरूर भेजिए. कुछ ही पलों में वो अपनी चूत को सिकोड़ने लगी थी और पूरी तरह से मेरे लंड पर बैठ कर अपनी गांड मटकाने लगी.

हालाँकि उसके बेटे के बहुत सारे दोस्त थे लेकिन उनमें से उसका सबसे अभिन्न मित्र था अंकित. दूसरी ख़ुशी ये थी कि मुझे वो जानकारी मिली थी, जिसकी तैयारी में मैं अभी से लग गया था. मैंने फिर उन्हें अलग करके सुनीता की चूत में अपना लौड़ा डाल दिया और धक्के मारने लगा.

कुछ देर बाद उसने मुँह ऊपर करके मेरी आँखों में देखा और कुछ क्षण बाद मेरे होंठ उसके रसीले होंठों को चूम रहे थे.

मैंने कहा- दर्द हो रहा है क्या जानू?तो उन्होंने कहा- मेरी जान … तेरे लिए तो मैं सब सहन कर सकती हूँ, तू धीरे धीरे कर. भाभी का नाम मैं यहां पर नहीं बताना चाहता हूं फिर भी सम्बोधन के लिहाज से मैं उनको सरिता नाम दे रहा हूं. बीच बीच में मैं उनके निप्पल को भी दांतों से दबा देता था, इस पर वो पागल हो जा रही थीं.

इतनी देर की चुदाई के दौरान दोनों दो दो तीन तीन बार झड़ चुकी थी कुछ देर बाद वन्दना दोबारा से झड़ गयी. मैंने उसकी बात मान ली और वो लड़के को पिक करके मैं अपने रूम पर ले आया. मैंने बड़े ही प्यार से कच्छे के अंदर हाथ डाल कर अपने यार के लंड को उसके कच्छे से आजाद कर दिया.

जब मैं चढ़ी, तो मेरी सीट वाले केबिन में पहले से दो गबरू जवान फौजी बैठे थे.

जब वो मेरे लिए खाना लगा कर लाईं, तब भी मैं नीची नजरें करके बैठा हुआ था. भाबी नशीली आंखों से भैया का लंड हिलाते हुए बोलीं- शर्मा क्या रहा है? अब देखता है, तो बोल न कि देखता हूं … इसमें बुराई क्या है.

मोटी औरत की बीएफ हिंदी में मैंने भी चूत खोल दी और चूत पर थपकी देते हुए बोली- आ जाओ मेरे शेरों … आज मेरी फुद्दी को तसल्ली करवा दो. मैंने उसकी चूत के मुंह पर लंड को सेट कर दिया और उसकी टांगों को फैलाते हुए उसकी चूत में लंड को घुसा दिया.

मोटी औरत की बीएफ हिंदी में मैंने पूछा- फिर क्या बात है?वो बोला- रहने दो, तुम सुनोगी तो तुम्हें अच्छा नहीं लगेगा. अब हम दोनों को जब भी मौका मिलता है, तो किसी होटल में जाकर सेक्स कर लेते हैं.

सारिका ने मुझे किस किया और बोली- मैं चली सोने … पर तू आज इसकी चीखें निकलवा … और इसकी आग ठण्डी कर दे.

सेक्सी वीडियो ब्लू हिंदी

मैंने चाची को बांहों में भरा और उनको चूमते हुए कहा- आप चिंता मत करो जान. मेम बोलीं- इस परी के साथ शाम रंगीन नहीं करोगे?मैंने उन्हें उसी पल अपनी बांहों में ले लिया और किस करने लगा. हां लेकिन मुझे जिस्म की नुमाईश करने में बड़ा मजा आता है और भाई का बस चले, तो वो हमेशा मुझे नंगी ही रखे.

तब मुझे लगा कि हाँ ये तो सिद्धू है जो छोटा सा लड़का था मेरे शादी के वक़्त में. पीछे से मनोज ने भी उसके गाउन के अंदर हाथ डाला और पहले तो मम्मे दबाये फिर एक हाथ से उसकी जांघ सहलाने लगा. अपने दोनों हाथों को पूजा मेरे गले में डाल मुझे अपनी बांहों में कसने लगी मानो अपने सीने में घुसा देना चाहती हो.

जाते जाते मम्मी ने चाची को बोल दिया था कि दीपू घर पर ही है, जब तुम फ्री हो जाओ, तब उसके लिए खाना बना आना और देख लेना कि वो ठीक से पढ़ रहा है या नहीं.

फिर ऐसे ही मैंने लंड फंसाए फंसाए ही उसे अपने ऊपर गिरा लिया और उसकी बगलों को चूमने चाटने लगा. ये सुनकर वो झट से नीचे बैठ गयी और मेरा तना हुआ लंड अपने मुँह में भर कर चूसने लगी. मैं बोला- यार, मैंने भी कई भाभियों के साथ सेक्स किया है, लेकिन उन सबमें से तुम्हारे साथ सेक्स करने में बड़ा मजा आया.

जब लंड ने आन्दोलन करना शुरू कर दिया, तो मैंने हिम्मत करते हुए सोच ही लिया कि आज ही मोसी को चोदने का मौका है, मौक़ा हाथ से नहीं जाने देना चाहिए. अभी मैंने केला तो नहीं उठाया था, पर मैं अपनी दो उंगलियों में चूत के दाने को मसलते हुए सहलाने लगी थी. वो अपने भरे हुए दूध मेरे सामने दिखाने में वो कोई शर्म महसूस नहीं करती.

फिर पैंट की चेन खोलकर उसने अपना लंड बाहर निकाला और मेरे हाथ में दे दिया. इधर मेरी साली ने मेरी गर्दन को घुमा कर मेरे होंठों को अपने होंठों में ले लिया.

उसके चेहरे के भावों से यह पता लग रहा था कि वह नील की इस चुनौती को स्वीकार करके विजयश्री का स्वाद चखने के लिए जैसे तैयार लग रही है. सब उठी, कपड़े बदले और अपने अपने घर … इस वादे से कि इस बार सैटरडे पार्टी में धमाल होगा. जब वो वीडियो खत्म हुई तो राखी गांड उठा-उठा कर अपने छेद में मेरी जीभ का मजा ले रही थी.

एक दो बार ऊपर नीचे होकर मैंने लन को फुद्दी में सैट किया और मजे से उछलने लगी.

विकास ने मुझे अपने लंड पर बैठने के लिए कहा तो मैं गांड को उसके लंड के टोपे पर रख कर बैठ गया और मेरी गांड में उसका लंड उतर गया. फिर जब मेरी मामी को आखिर में होश आएगा … तो वो मुझे अपने से दूर धकेल देंगी और बोलेंगी कि अभी नहीं रॉकी … कोई भी देख लेगा. ” कहकर मधुर ठहाका लगा कर हंसने लगी।तुमने अपने दाव-पेंच नहीं बताये क्या उसे?”ए … हे … हे … मेरे जैसी सीधी थोड़े ही होती हैं सभी लड़कियाँ? मुझे तो तुमने ठीक से मनाया भी नहीं उस रात? हूंह …” कहकर मधुर ने नाराज़ सा होने का नाटक किया।आओ आज मना लेता हूँ।” कहकर मैंने मधुर को अपनी बांहों में भरने की कोशिश की।हटो परे! वो.

फिर जब उन्होंने देखा कि कोई शुरूआत हो ही नहीं रही है तो फिर हल्का सा खांसने लगे. कोमल ने हमें भी साथ चलने को कहा, हमने भी बिना समय गंवाए साथ पकड़ लिया.

जैसे जैसे जेठजी की बातें बढ़ती जा रही थीं, वैसे वैसे जेठजी के शॉर्ट्स में हलचल भी बढ़ती जा रही थी. बस वहां से 7 बजे चली और 7:45 पर मैं वापिस कॉलेज वाले बस स्टॉप पर उतर गया. अब तुम मुझे रंडी समझो या वेश्या समझो … वो तुम देख लो! लेकिन जो भी सच था वो मैंने तुमको बता दिया है.

एक्स एक्स गुजराती

फिर मैंने टाइम देखा, तो मैंने सोचा कि दूसरा राउंड लेने की जगह अब चलना ठीक होगा … क्योंकि मुझे भी अपने काम पर जाना था और उसको भी अपने घर पर जाना था.

हम उनसे विनती करने लगे- सर हमें छोड़ दो! हम दोबारा ऐसी गलती नहीं करेंगे. उनके जाने के बाद मैंने लंड को बाहर निकाल कर मुठ मारी और फिर सो गया. महेश ने अपनी बेटी के चूतड़ों को पकड़ कर चौड़ा किया और साथ ही एक ज़ोर का धक्का लगा दिया.

मैंने उत्सुकता वश जानने की कोशिश की तो जवाब में एक कातिल मुस्कान ही मिली. फिर उसने अपने कपड़े निकाल दिये और अपने लंड को मेरी चूत पर रगड़ने लगा. सेक्सी मूवी बीएफ हिंदी मेंमुझे भी अगर मन नहीं लगता था, तो मैं भी भाभी के यहां ही समय पास करता था.

दीपा नहीं मानी तो उसने दीपा को आलिंगन करके दीपा किस दिया और कहा- प्लीज. मगर न तो उसने बताया और न ही मुझसे ये सवाल पूछा कि क्या मैं किसी को चाहता हूँ.

” महेश ने थोड़ा आगे होते हुए अपनी बहू को पीछे से अपनी बांहों में भर लिया।पिता जी यह आप क्या कर रहे हैं?” नीलम ने अपने ससुर के खड़े लंड को अपने चूतड़ों पर साड़ी के ऊपर से ही महसूस करके ज़ोर से साँसें लेते हुए कहा।बहू सच कह रहा हूँ, मैं तुमसे प्यार करने लगा हूँ. उसमें से निकल रहा पानी वो पूरा का पूरा चाट गए।उनकी खुरदरी जीभ से मुझे बहुत मजा आ रहा था, वो पूरी जीभ को ऊपर नीचे करते हुए चाट रहे थे। मैं तो बस अपने बदन को नागिन की तरह हिला रही थी और बस मुँह से सिसकारी ही निकल रही थी- आअह्ह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआ ऊऊईईई आऊच उईईई माँआआहन ह्ह्ह्ह आआअह्ह बसस्स स्स्स्स्स करोओओओओ आआअह्ह्ह … नहीं ईईई ईईई नाआआआ!मगर वो कहाँ रुकने वाले थे. ‘सुहास … आह आह … साले एक बार में ही कितना अन्दर तक पेल देते हो … आह सुहास आह बेबी … चोदो मुझे.

मैंने पीछे होकर अपने लंड को बाहर निकाल दिया था।उन्होंने झटके से मेरी तरफ देखा. अन्तर्वासना पर मेरी यह पहली कहानी है अगर कोई गलती हो तो दिल पर मत लेना. पहले मैं अन्तर्वासना का धन्यवाद करता हूं जिसके माध्यम से हम जैसे लेखक और पाठक अपनी बात शेयर कर सकते हैं.

फिर संजू लंड से नीचे उतरी, तो उसकी चूत से ढेर सारा वीर्य रोहित के लंड पर ही गिर गया.

5 इंच से ज्यादा नहीं है और वो अन्दर डालते ही 8-10 झटकों में ही निकल जाते हैं. चाची जब आईं, तो मैं नंगा लेटा हुआ था और जानबूझ कर आह … आह … चिल्ला रहा था, ताकि चाची को लगे कि मुझे सच्ची में दर्द हो रहा है.

मैं उनके पैर के अंगूठे को मुँह ले कर चूसने लगा, जिससे चाची तिलमिला उठीं. मैंने सोचा कि अब जो भी बात थी, वो पता चल जाएगी कि वो मुझसे चुदना चाहती थीं कि नहीं. मैं सोनम को यह कह रही थी- ये ब्रा तेरे दूध के लिए मस्त है, इसको ले ले.

कहानी के अगले और अंतिम भाग में जानें कि महेश, समीर, नीलम और ज्योति की किस्मत ने क्या फैसला किया. मैं भी उसकी इस बात से थोड़ा चौंक गया कि ये इसको क्या हो गया … आज ये ऐसे क्यों बात कर रहा है. मैंने कुछ देर तक उसके लंड को सहलाया और फिर अपने हाथ को चुपके से सूंघ कर देखा.

मोटी औरत की बीएफ हिंदी में उसने मुझे अपनी तरफ किया और मेरे कान में कहा- मजा करना है क्या?मैंने उसको कुछ नहीं बोला. फिर अचानक ही मेरी गति तेज हो गई और मैं अपने ही दातों से होंठों को काटने लगी.

बीपी सेक्सी फिल्में

मैंने डॉक्टर से पूछा- इनको सख्त बनाये रखने के लिए क्रीम से मसाज करती हो क्या?वो बोली- यस!तब मैंने उसके चूचों को अपने हाथ में लेकर देखा. आधा आधा जाने के बाद पूजा थोड़ा सहज हो गयी; धीरे- धीरे लन्ड अंदर बाहर जाने लगा, अब पूजा दर्द की जगह मजा ले रही थी. मेरी पिछली कहानीमैंने दूसरे लंड से चुदने की इच्छा पूरी कीपर आपने मुझे ढेरों मेल किये.

जॉली मुस्कुराया और रिया को अपनी गोद में लेकर अपने बेडरूम में घुस गया. ऊपर पैंटी उछली तो वो पंखे में जाकर अटक गयी और पंखे ने उसको कहां फेंका मैं नहीं देख पाई. छोटी वाली बीएफउठ के कुहनियों के बल हो गयी और शिकवे के अंदाज़ में बोली- राजे मैं अब तेरे से नाराज़ हूँ … तूने मेरे साथ भेद भाव किया मादरचोद!मैंने मुस्कुराते हुए पूछा- क्या हुआ मेरी जान? क्या गुस्ताखी हुई इस ग़ुलाम से रानी जी की शान में?साले … सब रानियों को चुदाई के बाद चूत चाट के सफाई करता है … लंड चटवा के साफ़ करवाता है … बहन के लंड मेरी चूत को तौलिये से क्यों साफ किया? न ही हरामज़ादे ने लंड साफ़ करने का मौका दिया.

मेरे हाथ पकड़ के उन्होंने मुझे अपने पास खींचा और अपनी बांहों में लेकर डांस करने लगे.

उसने मुझे टाइटली पकड़ लिया और अपने लंड को मेरी गांड पर रख कर धक्का मार दिया. अभय ने विवेक से कहा- इसको सहज करने के लिए हमें भी पहले सहज होना होगा.

इसलिए मुझे उसकी बात का बुरा नहीं लगा क्योंकि वो मेरे अच्छे के लिए कह रहा था. ”(रुको … अभी के लिए इतना काफी है, रात को मिलते हैं)मैं कुछ कह पाती, तब तक उसने कॉल कट कर दिया. ऐसा देख कर मैं एक ही बात सोच रहा था कि इस लड़की के नाम से कितने दिन मैंने लंड हिला कर अपना पानी निकाला है आज उसी को चोद रहा हूँ।करीब 10 मिनट की चुदाई के बाद पूजा बुरी तरह से मुझसे लिपट गई और झड़ गई।मगर मैं अभी भी तेज़ रफ्तार से चुदाई किये जा रहा था।अब उसकी सिसकारी तेज़ आवाज में बदल गई थी- बस अंकल, रहने दो … नहीं ना! बस करो न!ऐसा ही कहते जा रही थी.

ऐसे ही कई दिनों तक मैं उसको फोन करती रही लेकिन उसने मेरे फोन का कोई जवाब नहीं दिया.

पर मैं अपने दिल की बात जेठजी को कैसे कहती इसलिए मैंने सोचा कि चलो जेठजी को कुछ हिंट दे दी जाए, शायद वो समझ जाएं. वो बोली- मेरा वो पूरा दर्द कर रहा है … और अब शक्ति भी नहीं रह गई है. ”फिर तुमने क्या बोला?”बोलना क्या था मैंने उसे बोला तुम तो बस चुपचाप अपनी टांगें चौड़ी करके लेट जाना फिर जो करना होगा तुम्हारा पति अपने आप कर लेगा.

नंगी ladkiश्वेता दीदी- तो कहां जा रही हो?तब दीदी धीरे से आवाज में बोली- मैं टॉयलेट जा रही हूं. यहां नीचे से मैं उसकी चूत को जितना ज्यादा हो सकता था, फैला कर उसमें अपने जीभ और नाक डाल रहा था.

क्सक्सक्स मुंबई

उसकी हल्की गुलाबी त्वचा पर लम्बे काले बाल किसी भी औरत को जलने के लिए मजबूर कर सकते थे. दोस्तो, कैसे हो आप सब!मैं संजय एक बार फिर आप सबके लिए एक और मजेदार कहानी लेकर आया हूं. उस टाइम ना तो मेरे पास फ़ोन होता था और सेक्स फिल्म देखना तो बहुत दूर की बात थी.

कई बार इस साइट के माध्यम से सेक्सी भाभी और चुदक्कड़ आंटी को खोजने में भी मुझे काफी सहायता मिली है. जब मैं अंडरवियर पहन कर गेट खोलने गया, तो देखा कि सामने के घर में रहने वाली भाभी थीं. उसी समय चाची के मुँह से बहुत जोर से सिसकारी निकली- हाय माँआआआ मर गई … आह आह ओह मेरी जान श्श्श्श्श्श यस उन्ह आंह …चाची भी लगातार मेरे लंड को पूरा मुँह में ले कर चूसने लगीं.

इशिता … इशिता कुछ ज्यादा ही नशा करने लगी है … कल रात भी नशे में घर आई थी. तभी पीछे की खिड़की खुली और अंदर से एक हाथ ने मुझे भी अंदर आने का इशारा किया. मैं एक हाथ से उसके मम्मे सहलाने लगा, तो उसने मेरे सर को दबाते हुए मेरे होंठों को अपने चूचों पर रख दिया.

जब मैं अंडरवियर पहन कर गेट खोलने गया, तो देखा कि सामने के घर में रहने वाली भाभी थीं. मैं खुद ही नंगी होकर अपनी चूत को फैलाते हुए भाई के लंड पर बैठने लगी.

कोई 5 मिनट के बाद मैं भी निकल गया और एक ऑटो में बैठकर अपने रूम के लिए रवाना हो गया.

फिर मैंने उसकी चूत पर तेल लगाया और उसकी चूत पर फिर से अपने लंड का सुपारा रख दिया. हिंदी बीपी सेक्सी ब्लूपता नहीं उसने क्या समझा और बोली- सुबह-सुबह क्या शरारत सूझी है तुम्हें?मैंने उससे बोला– हां मैं सुबह-सुबह दूध पीता हूं. अमेरिकन सेक्सी बीएफअभय का लंड मेरी गांड में लग रहा था और मेरी गांड में एक कसक सी उठने लगी थी. अब मुझसे रहा नहीं गया, तो मैंने ठीक जेठजी के कमरे के सामने जाकर जेठजी को आवाज लगाई.

मैं रीता का नम्बर लेना चाह रहा था क्योंकि वो फेसबुक पर ऑनलाइन नहीं आती थी.

”अरे … मैं छोड़ दूंगा ना!”रहने दीजिये ना सर!”मैं आ रहा हूँ … साथ चलेंगे कॉलेज. मनोज ने धीरे से उसके कान पर से बाल हटाये और कान को जीभ से चाटा और दांत से दबाने की कोशिश की. अब मैंने उसकी व्यस्तता का फायदा उठाते हुए उसकी गांड पर भी जीभ को चलाना शुरू कर दिया.

कुछ देर बाद चुत को चूसने लगा, जिस कारण परी मैम एक बार फिर झड़ऩे लगीं. मैं दिल्ली का रहने वाला हूं और मेरा लंड छोटा मतलब साढ़े चार इंच का है. मैंने अन्दर देखा कि बाथरूम में बाथटब था, मैंने सोचा उसी में इसके साथ कुछ किया जाए.

ब्लूफिल्म

जैसे जैसे मेरा लंड चूत में अन्दर जाता, उसकी चूत की गर्मी और वीर्य का गीलापन मेरे लंड को और भड़का देता. मेरा वीर्य निकलने को हुआ तो मैंने भाभी की ब्रा में ही वीर्य छोड़ दिया. संजय की गोलियां भी एकदम फूली हुई थीं, गुच्छेदार झांटे और फूली हुई गोलियों के साथ तो लंड का आकर्षण गजब ढाने लगा.

कुछ ही देर में मेरी चूत में पानी आ गया और हम दोनों लोग एक दूसरे से बात करते हुए सेक्स करने लगे थे.

मेरे हाथ अभी मासी के मम्मों पर ही थे … बस मैंने चूचे दबाना बंद कर दिए थे.

भाभी की चूत को ऊपर से नीचे की ओर चाटने के क्रम में मैंने अपनी जीभ भाभी की चूत में डाल दी. उसकी चूचियों पर गुलाबी रंगत लिए हुए निप्पल इतने कड़क हो चले थे मानो चुत से ज्यादा उनमें आग भरी हो. ब्लू देहाती सेक्सी वीडियोइस पोज़ की अच्छी बात ये थी कि इसमें लंड चूत के दाने को रगड़कर अन्दर बाहर हो रहा था, जिससे और भी मज़ा आ रहा था.

उसने अपनी शर्ट के बटन खोले और मेरी माँ को पकड़ कर अपने सीने से लगाया और कहा- साली रांड … खाए होंगे तूने लंड … लेकिन एक बार मेरे लौड़े का स्वाद चख कर देख तुझे मजा न आ जाए तो कहना. तब तक भाबी ने अपना पैग उठाया और मेरी तरफ जाम उठाते हुए बोलीं- चियर्स. मैंने अपनी तीनों बुआ को आपस में लेस्बियन सेक्स करते हुए बहुत पहले देख लिया था.

मैंने उसको पानी का गिलास भर कर दिया और वो गोली खाने के लिए कह दिया. बाथरूम से बाहर निकल कर वापस जाते वक़्त वो रुकी और उसने कहा कि आप टीसी से बोलकर कोई सीट ले लो.

विनय ने अपना टी-शर्ट को निकाल दिया और मैंने उसके पैंट को खोल दिया, तो उसने वो भी निकाल दिया.

इस बात से सब औरतें भी वाकिफ होती हैं इसलिए सब मेरी तरफ देख कर मुस्करा रही थीं. तभी किसी के आने की आहट हुई तो मैंने अमन को खुद से अलग किया और जल्दी से अपनी टीशर्ट पहन ली. क्योंकि एक तो इस होली में मैंने स्वीटी आंटी के साथ मस्त होली खेली और होली खेलने के दौरान हीं हम दोनों ने संभोग किया.

फुल एचडी बीएफ मेरे जिस्म की आग मेरे पति के बॉस ने मेरी जोरदार चुदाई करके ठंडी कर दी. सुनील ने ‘जरा जरा बहकता है मेरा मन …’ गाना अपने मोबाईल पर चला दिया और कमरे की लाईट बहुत धीमी कर दी.

तो मैंने उसे बताया- दर्द सा हो रहा है।उसने कहा- थोड़ा सा और होगा!और उसने और अंदर डालने की कोशिश करी. मेरी माँ ने फुंफकार भरते हुए कहा- अच्छा तू मादरचोद भी है … साले तेरे जैसे कई लंड मैंने अपनी चुत से छील कर बाहर निकाल दिए. हॉट भाभी मुझसे चुदने की आरजू विनती करती रहीं, लेकिन मैं उनको तड़पाने में लगा रहा.

सेक्सी वीडियो ब्लू फिल्म

इतने दिनों तक सेक्स नहीं कर सकने के तनाव ने मुझे तुम्हारे करीब ला दिया. उसने अपनी टांगों को मेरी कमर पर लपेट दिया और वो तेज तेज आवाजें करते हुए झड़ने लगी. वो मेरे लंड को पकड़ कर हिलाने लगी तो मैंने उसकी चूत पर फिर से लंड को लगा दिया.

उन दिनों सर्दियों में मैं अपने गांव में सवेरे के टाइम खेतों की तरफ घूमने निकला था. फिर उसके सामान्य होते मैंने एक जोरदार धक्का मार कर पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया.

मेरा पूरा बदन पापा के बदन के ऊपर था और हम दोनों के जिस्म गर्म हो चुके थे.

सच पूछो तो मेरे लिए ये घड़ी अभी तक के बिताये हुए सारे समय में सबसे खूबसूरत थी. जैसे ही उसने अपने लंड को मेरी चूत पर लगा कर धक्का दिया तो बिना किसी ताकत के उसका लंड मेरी चूत में उतर गया. उसको लगता कि इन सारी चीजों की वजह से शायद अंकित को कुछ समझ में आ जाये और वो अपनी तरफ से पहल करे.

वार्डन से इसकी शिकायत करने पर उसने सबसे पूछताछ की लेकिन किसी के पास पैसे नहीं मिले. थोड़े दिन की परेशानी हुई, मगर फिर धीरे धीरे मेरी बीवी भी नॉर्मल हो गई. उसके पैसे लौटाने के बाद मैंने उसकी पैंटी को खींच दिया और उसकी योनि को चाटने लगा.

मैंने थोड़ी दूर जाने के बाद मेम से कहा- हम लोग पहले मूवी देखते हैं, बाद में डिनर करेंगे.

मोटी औरत की बीएफ हिंदी में: दोनों का लंड था बहुत मस्त लम्बा भी और मोटा भी।काफी देर तक चूसने के बाद उन दोनों ने मुझे बिस्तर पर पटक दिया और मेरे ऊपर आ गए, दोनों मेरे जिस्म से खेलने लगे कोई पुद्दी चाट रहा था कोई दूध से खेल रहा था।मेरी सिसकारी पूरे कमरे में गूँज रही थी।कुछ देर बाद अभिजीत में मेरे पैरों को फैला दिया और लंड को पुद्दी में लगा कर एक बार में ही अन्दर डाल दिया. लेकिन जब उसकी नजर मुझ पर पड़ी, तो शर्मा कर वह भाभी के घर में अन्दर भाग गई.

एक घंटे बाद वापिस चाची कब आ गईं और आते ही उन्होंने मुझे बांहों में भर लिया और एक हाथ से मेरे लंड पर रगड़ने लगीं … इतना सब कब हो गया, मुझे कुछ भी होश नहीं था. आस पास किसी को ना देखकर मैंने धीरे से आवाज दी, उसने दरवाजा खोल दिया. कुछ देर तक भाभी की चूत को चाटने के बाद उसने भाभी के पैरों को फैला दिया.

मगर मुझे समझ नहीं आ रहा था कि वो चूत में डालने के लिए कह रही थी या गांड में.

मैं एक बार वन्दना को अकेले में चोदना चाहता था तो मेरे दिमाग में एक आईडिया आया. सुबह पांच बजे करीब मेरी आंख खुली तो मुझे थोड़ा होश आया और मैंने देखा कि पापा मेरी बगल में ही नंगे पड़े हुए थे. वन्दना जोर जोर से सांस ले रही थी जिससे उसके चुचे ऊपर नीचे हो रहे थे.