मिया खलीफा बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,अमरीश पुरी फैमिली फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

देवासी बीएफ: मिया खलीफा बीएफ सेक्सी, उसने कहा- डरो मत जान, तुम जैसी सेक्सी औरत के लिए इतना मोटा लण्ड ही चाहिए!और उसने अपना मोटा लण्ड मेरे होंठों पर टिका दिया.

सपना चौधरी सेक्सी

मेरी चुदाई हिंदी स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मुझे मेरी गर्लफ्रेंड ने दगा दिया. अंग्रेजी में सेक्स वीडियो दिखाएंभाभी की ऐसी बात सुनकर मुझे और जोश आ गया और मैंने फिर से एक जोरदार धक्का दे दिया.

पता नहीं उर्वशी के मन में इतना प्यार क्यों उमड़ रहा था मिहिर के लिए! वो उसको ऐसे प्यार कर रही थी जैसे नई-नवेली प्रेमिका अपने प्रेमी पर प्यार का सागर उड़ेल देती है. बांसवाड़ा सेक्सी वीडियोमेरी चूचियां और गांड बड़ी बड़ी होने के कारण ऑफिस के सभी लोग मुझे बात करने के लिए मरते हैं.

मोनिषा आंटी की चूत को दस मिनट के भीतर ही मोनिषा आंटी जोर जोर से आहें लेने लगीं.मिया खलीफा बीएफ सेक्सी: मैं बोला- अगर मैं जबरदस्ती करने लगा तो?वो बोली- अच्छा जी, सीनाजोरी करोगे अपनी मामी के साथ?मैंने कहा- जी बिल्कुल, आपने पूरा हक दिया हुआ है मुझे.

करीब 15 मिनट बाद उसकी रफ्तार एकदम से बढ़ गई और वो मेरी गांड में ही झड़ गया.उसने उठ कर देखा तो वो घबरा कर रोने लगी लेकिन मैंने उसको समझा दिया कि यह पहले सेक्स के बाद निकलने वाला खून है.

यो व्हाट्सएप 2021 का नया - मिया खलीफा बीएफ सेक्सी

किस करते करते मैंने उसके चूत पर अपना मुंह रख दिया और उसने अपनी दोनों टांगों को सिकोड़ लिया और मेरा चेहरा कैद कर लिया.मैं बोला- सोच लो भाभी, मैं अपनी दोस्तों के साथ बहुत मस्करी करता हूं.

लेकिन आपने मुझे कल ही क्यों नहीं बुलाया?मामी ने कहा- मेरी मां कल शाम तक घर पर ही थी इसलिए नहीं बुलाया. मिया खलीफा बीएफ सेक्सी मैंने उनसे पूछा- मैं अन्दर चला जाऊं … उनसे मिल लूं, उनका कोई और काम तो नहीं बाकी है.

वो 21वें साल में है मैं उसके बदन को देख कर कई बार आकर्षित हो जाती हूं.

मिया खलीफा बीएफ सेक्सी?

ढीली होने की वजह से निर्मला का शरीर भारी पड़ गया था, जिसकी वजह से राजशेखर पूरा जोर नहीं लगा पा रहा था. गांव में ये सब नहीं चलता था और दूसरी जाति में शादी भी नहीं होती थी. फिर दोपहर के टाइम पर मैंने देखा कि पायल मेरी बहन के रूम में अकेली थी.

आखिर जिस किसी की खातिर सब आए थे वह एपिसोड उनकी आंखों के सामने सम्पन्न हो चुका था. उस समय ठंड का मौसम था, गेहूं की सिंचाई चल रही थी और तिलहन की फसल भी बड़ी हो गई थी. मेरी एक गर्लफ्रेंड थी लेकिन दूसरे शहर की … हम फोन पर खूब बातें करते.

अगले दिन मैं मैंने वियाग्रा और सिगरेट के कुछ पैकेट देखे, जिसमें कुछ ऐसा भी था, जिससे सेक्स करने की क्षमता बढ़ जाती थी. मैंने उसको डॉगी स्टाइल में आने के लिए कहा और वो जल्दी से उठ कर बेड पर मेरे सामने झुक गई. अन्तर्वासना की सेक्स कहानी पढ़ना मुझे बहुत पसन्द है और मैं सालों से यहां पर कहानियां पढ़ता आ रहा हूँ.

मेरा लंड अंडरवियर और जींस दोनों फाड़कर ज्योति की चूत में घुसने की ताबड़तोड़ कोशिश कर रहा था. अगर किसी पड़ोसी को पता लग जाता तो दोनों की ही बदनामी थी क्योंकि मेरे पिता जी भी बहुत सख्त आदमी हैं.

मैंने उनसे पूछा- भाभी आप ये क्या कर रही थीं?भाभी- कुछ नहीं देवर जी … तुम्हारे भैया की याद बहुत सता रही थी.

उसने मुझसे कहा- मुझे मालूम है कि तुम अकेले रहते हो, इसलिए मैं कुछ नाश्ता बना कर लाई हूँ.

मैं अब किसी भी पल झड़ सकती थी और करीब 10 मिनट के धक्कों के बाद एक पल आया कि मैं अपने पर काबू न रख सकी और जोरों से हिचकोले खाते हुए पानी छोड़ने लगी. मेरी समझ में आ गया कि लंड में दम हो, तो वो कितनी ही बार खड़ा हो सकता है. तभी रीता मेरे सामने जाकर खड़ी हो गयी और एक एक करके अपने कपड़े उतारने लगी और अपना नंगा बदन मुझे दिखाने लगी.

मेरी हालत खराब होते देख कर साहब ने सारी प्रक्रिया रोक दी और मेरे ऊपर लेट गये. जब से उसने नौकरी से निकलवाने की धमकी दी थी तब से ही उसको देख कर मेरी गांड में पसीना आ जाता था. दिसम्बर का महीना था, सब एक साथ सोए तो वहीं एक दोस्त ने मेरी रात को मार दी.

विमला और मैं और सरस्वती, इंटर के बाद गांव में ही रहीं और फिर सबसे पहले उसी की शादी हो गयी.

मैं उसके मम्मों को चूस रहा था और वो मेरे सिर को अपने मम्मों पर दबा रही थी. कुछ समय बाद मैं दो टिकट खरीद लिए और टिकट लेकर अपनी सीट पर आकर बैठ गया. दीदी ने सोमेश से कहा- मेरे लोकेश की किसी भी लड़की से दोस्ती करा दो यार.

उसकी चूत की मांसपेशियां मेरे लंड को दबोचने लगीं और मेरी आंख अपने आप बंद हो गयी. दिन में जो घटना हुई थी उससे लग रहा था कि अन्नु भी वही चाहती है जो मैं चाहता हूं. उसके बाद मैंने उसको वापस लिटा दिया और उसकी चूत में जीभ देकर तेजी से अंदर बाहर करने लगा.

लेकिन जब उसने बताया की विनर को बॉम्बे डाइंग का टावल सेट गिफ्ट मिलेगा तो सब तैयार हो गयी.

पहले तो उसने मना किया कि कोई उसे वहां देख ना ले, वरना प्रॉब्लम भी हो सकती थी. उसने तुरंत अपने मुँह से मेरा लंड निकाल दिया क्योंकि वो मेरा मुठ पीना नहीं चाहती थी.

मिया खलीफा बीएफ सेक्सी मैं हमेशा से ज़रीना की बुर का रसपान करना चाहता था और ख़ासकर तो उसकी गांड का तो दीवाना था. मैं सेक्स करने को तैयार भी थी फिर भी मुझसे जब तक हो रहा था मैं विरोध करती रही.

मिया खलीफा बीएफ सेक्सी और अब मैं इसे अपने उत्तेजक अंदाज में सिर्फ अन्तर्वासना के लिए लिख रहा हूँ. तभी पता नहीं क्या हुआ कि उसका टॉवल अचानक से गिर गया या उसने जानबूझ कर गिरा दिया.

मेरे मोटे चूतड़ और कम ऊँचाई की वजह से उसका लिंग मेरी योनि में गहराई तक नहीं जा रहा था.

बीपी सेक्सी बीपी बीपी बीपी

मैंने लंड उसके मुँह से निकाल लिया और आकर उसकी बुर पर मुँह रखकर उसे चाटने लगा. मगर जब पता चला कि मैं भी उनको देख रहा हूं तो उन्होंने चेहरे पर बनावटी गुस्से के भाव पैदा कर लिये. मैं अपने घर चला गया, लेकिन मैं घर जाने के बाद अपने रूम में यही सोचता रहा कि ये सब क्या था.

उसने कहा- अभी तुम जैसे उस अंग्रेजन को देख रहे थे, तो तुम्हारा मन क्या कर रहा था?मैंने कहा- कुछ नहीं … बस अन्दर थोड़ी गुदगुदी हुई. तुम तो पंदरह मिनट से गांड में लंड पेले हो, न झटके दे रहे न झड़ रहे हो।मैंने कहा- आज मैं बिना करे नहीं उठूंगा. मैंने कहा कि तुम्हें कैसे मालूम है?भाभी ने कहा- बस मुझे मालूम पड़ गया है.

और वैसे भी सुरेश कोई मेरा पति नहीं था कि मुझे ये जानकार जलन हो कि इसने मेरी सहेली के साथ संभोग किया.

उसके पिता सरकारी नौकरी में थे और हम 3 सहेलियां और वो अच्छे दोस्त थे. उस वीडियो में सोमेश दीदी को किस कर रहा था और दीदी की अंडरवियर में उंगली करते हुए कस कस कर अन्दर बाहर कर रहा था. मैं सोचने लगा कि काश मेरी बहन भी मुझसे पट जाए, तो मेरे पास अपने घर में ही दो रंडियां हो जाएंगी.

उसके बाद वो मेरे होंठों को पीने लगा और मैं भी चुदाई में उसका साथ देने लगी. सुरेश ने उसे पहले ही बता दिया था, रात को ही कि उसने मेरे साथ संभोग किया. कमाल की बात ये थी कि इस बार मेरे इंग्लिश में और भी ज्यादा अच्छे नंबर आए थे.

मैंने उससे बोला- सुरेश जोर जोर से चोदो न मुझे … झड़ने वाली हूँ मैं … आह … आह … ओह्ह … ओह्ह …बस फिर क्या था. कुछ देर तक मैं पड़ी रही और भाई का मोटा लंड मेरी चूत में अंदर बाहर होता रहा.

आज मैं उसको पूरी रोशनी में अपने दोस्त की बहन सुशी के पूरे शरीर को नंगा देख रहा था. मैंने उसे गौर से देखा, वर्षा दिखने में सांवली थी, लेकिन वो किसी गोरी लड़की से कम नहीं दिखती थी. हम दोनों तेजी से हांफ रहे थे मगर एक दूसरे पर पकड़ अभी भी पूरे जोर से थी.

मैं भी यही चाह रहा था … क्योंकि कल रात वीडियो देखने के बाद मुझे बहुत कुछ समझ में आने लगा था.

उनकी मुस्कराहट मुझे सब कुछ साफ़ बता रही थी, लेकिन अब भी झिझक के चलते उन्होंने मुझसे कुछ नहीं कहा था. मॉम के लंड चूसने से मेरा लंड मोटा हो गया और एकदम चुत चुदाई की हालत में फनफनाने लगा. मैं मैम के घर पहुंचा, उन्होंने गेट खोला और देखा कि वंदना मैम के बाल गुंथे हुए थे.

थोड़ी हिम्मत करके मैं अपना हाथ भाभी की जांघ पर ले गया और उनकी साड़ी को ऊपर की ओर खींचने लगा. एक धक्के में मेरा आधा लंड माँ की गांड में घुस गया था और मुझे बहुत ज्यादा दर्द होने लगा.

इस फौरान उनकी गांड मेरे मुँह पर आगे पीछे होती रही और मैं लगातार उनका छेद चाटता रहा. एक पल के लिए उसने मेरी रस बहाती चूत को देखा और हल्के से अपनी जीभ की नोक से चूत के दाने को चाट लिया. अब उनका लंड मेरे पेट में बुरी तरह गड़ रहा था, तो मैंने लंड पकड़ कर ऊंचा किया व जोर से सहला दिया.

सेक्सी मूवी हद वीडियो

काफी देर तक उसके चूचों को चूसने के बाद मैंने उसकी केपरी को भी निकलवा दिया.

मैंने कहा- क्यों … क्या तुम्हारे पास लाल रंग की ब्रा पैंटी नहीं है क्या?वो बोली- मेरे पास लाल रंग की ब्रा पैंटी के चार सैट हैं. मैंने उसे गोद में उठाया और टेबल पर बैठा कर उसकी ब्रा और शॉर्ट्स को उतार दिया. दूसरी बार करीब हमने 1 घंटे से ज्यादा देर तक सम्भोग किया था और अब इतनी थकान थी कि मैं दोबारा सो गई.

अब सिगरेट तो मैं भी पी लेता हूँ तो मेरा भी मन मचला कि यार सिगरेट पीने को मिल जाती, तो मज़ा आ जाता. वैसे तो मुझे कहानियां लिखने का शौक नहीं है लेकिन मैंने अन्तर्वासना पर जब सेक्सी कहानियां पढ़ीं तो मेरा भी मन किया कि मैं आप लोगों को अपनी कहानी बताऊं. सेक्स विडीयोसाथ ही मैं अपने दोनों हाथों से मैडम के मम्मों को जोर जोर से दबाने लगा.

वहाँ मेरे एक मित्र का एक हाउसिंग सोसाइटी में 2 कमरे का मकान भी खाली पड़ा था, जो मेरा देखा हुआ भी था. मेरा लंड एकदम फौलादी और कठोर है, जिसने अभी तक कई हसीनों को पानी पिलाया है.

मुझे तो ऐसा लग रहा था कि इनको अभी ही गिराकर इनके ऊपर चढ़ जाऊं, इनकी गांड में जीभ डाल दूं और चाटने में लग जाऊं. दोस्तों जैसा कि मैंने अपना नाम रसूल खान बताया … मैं बिहार में रहता हूँ और शादीशुदा हूँ. ऐसे ही एक दिन मेरी मां ने मुझे और चाची को रंगे हाथ चुदाई करते हुए पकड़ लिया तो चाची ने सारा इल्जाम मेरे सिर पर लगा दिया.

मैंने अपनी जेब से फोन निकाला और कैमरा ऑन करके वीडियो बनाना शुरू कर दिया. उसे चूचे चुसवाने में बहुत मज़ा आ रहा था और मुझे टाइट बूब्स चूसने में. नेहा दीदी ने सोमेश का लंड पकड़ कर अपनी चूत के दाने पर घिसा और गांड उठाकर लंड पेलने की कहने लगी.

पर मैं खुश था और उनकी चुत पर पागलों की तरह टूट पड़ा और बेरहमी से चुत को चाटने लगा.

वो भी मेरी बहन की शादी से एक दिन पहले!हरियाणा में आम तौर पर इसी तरह से दो शादियाँ एक दिन के आगे पीछे कर लेते हैं. बस फिर क्या था … इतना सुनते ही मैंने उसके बदन को कसकर जकड़ लिया और उसके होंठों में अपने होंठ डालकर उसे किस करने लगा.

रोनिता की आँखों में आँसू थे, वो ज़ोर से चिल्ला रही थी- निकालो प्लीज … बाहर निकालो … मुझे नहीं चुदवाना प्लीज निकालो …रोनिता को उस समय बहुत तेज दर्द हो रहा था. उसने दो मिनट तक अपने हाथों से ही मेरे लोअर में तने हुए लंड को सहलाया. मुझे लगा था कि जिस प्रकार से वो उत्तेजित था, दस मिनट में ही झड़ जाएगा.

तेरा पति तो खुश रखता है ना तुझे!सरस्वती- हां, इस बुढ़ापे में भी मेरी जान निकाल देता है. उसने कहा- कोई बात नहीं … आप कर दीजिए … कपड़े की कोई चिंता नहीं!मैंने मसाज क्रीम लेकर उसके टीशर्ट में हाथ डाला और धीरे धीरे उसकी पीठ पर हाथ फिराने लगा. आंटी ने एकदम आह भरी और बोलीं- बहुत जोर से करो …आंटी अब इतनी अधिक खुल चुकी थीं और बहुत प्यारी लग रही थीं.

मिया खलीफा बीएफ सेक्सी वह भी अलग अलग लौंडों से!मेरे मुख से अनजाने में सच बात निकल गई, मैं फंस गया।मामा जी- तो उन दोस्तों से अब नहीं करवाते?मैं- मैं जहाँ पढ़ा, वह शहर छूट गया, कालेज का शहर भी छूट गया. मेरे ख्याल से तो संभोग का असली मजा तब है, जब संभोग के बाद लगे कि बदन टूट गया.

साउथ सेक्सी फोटो

उसके बाद उसने मेरी चूत को हथेली रगड़ते हुए अपना लंड मेरी गांड में लगा दिया. वासना की कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने भाभी की वासना शांत की? भाई की शादी हुई तो भाभी से मेरी दोस्ती हो गयी. उन्होंने मेरी निक्कर के नीचे से हाथ डाला और मेरे लंड के पास की मालिश करने लगीं.

जैसे मेरा हाथ गांड पर गया, मैंने महसूस किया कि मेरी गांड का छेद काफी ज्यादा खुला हुआ है और मेरी गांड से इरफान का वीर्य आ रहा था. एक दिन मैंने उसको कॉल की तो वह कहने लगी- मैं स्कूल में हूँ, और बच्चों के एग्जाम चल रहे हैं, जल्दी छुट्टी हो जाएगी. ट्रिपल सेक्स वीडियो मेंमैं सीधा होकर लेटा था और विद्या मेरे ऊपर आकर मेरे सीने पर सिर रख कर लेट गई थी.

उसकी उंगली मेरी गांड में जाने लगी तो मुझे दर्द हुआ लेकिन थोड़ी ही देर में मजा आने लगा.

कुछ देर तक तो लिंग एक ही स्थिति में रहा, पर जब मैंने उसे पूरा मुँह में भर जुबान सुपारे पर फिरानी शुरू की, तो उसका लिंग आकार बढ़ाने लगा और कुछ पलों में फूल कर एकदम कड़क हो गया. अंधेरे में साफ नजर तो नहीं आ रहा था, लेकिन शायद वो पूजा थी, जो मिठाई लेकर आई थी.

लेकिन उस बीच और क्या-क्या हुआ और मेरे आने के बाद क्या हुआ वो मैं आपको अपनी आने वाली कहानियों के माध्यम से बताऊंगा. करीब 10 मिनट में ही हम दोनों के शरीर से पसीना बहने लगा और हम लंबी लंबी सांसें भरने लगे. इसके बाद मैंने उन्हें चूमना स्टार्ट कर दिया, उनके माथे में, होंठों में, गालों में चूमते हुए मैं उनको प्यार करने लगा.

तो मैंने फिर उसको बेड के किनारे पर घोड़ी बना कर पीछे से चूत में लंड डालता रहा.

इतना कह कर वो चला गया … और जाते जाते उसने मेरी बीवी को किस किया … उसकी चुत में उंगली डाल कर आगे पीछे की और मेरी बीवी के मुँह में उंगली डाल कर चला गया. जब वो अपनी गांड को मेरे पास आकर हिलातीं … तो क्या बताऊं … उस समय उनकी गांड बहुत ही प्यारी लगती थी. भगदड़ सी मची हुई थी जो हम दोनों को आगे की तरफ धकेल कर ले जाने का आमादा थी.

एक्स एक्स शायरीमैंने पूजा को दो सैट सेक्सी नाईट गाउन दिलाए … उसके लिए मैंने तीन जोड़ी ब्रा पेंटी भी खरीद लीं. मामी से बातें करते हुए मैंने मामी को चोदा अपनी बातों से … अपने लंड की मुठ मारी और उधर मामी की चूत को भी गर्म कर दिया.

सेक्स पिक्चर वीडियो हिंदी

मैंने संध्या के मुँह पर हाथ रख कर उसे उठाया, वो समझ गयी कि आज उसको वो आनन्द मिलने वाला है, जो शायद वो जानती थी कि उसकी दीदी ले चुकी है. मैंने स्माइल कर दी … उसने भी वापस स्माइल की, लेकिन बहुत हल्की शर्माते हुए. लेकिन आज जब मैंने तुम्हारे ब्रेअकप के बारे में सुना तो मुझे लगा कि हम दोनों एक दूसरे की जरूरत को पूरा कर सकते हैं, क्या मुझे सभी औरतों की तरह शारिरीक सुख लेने का कोई हक़ नहीं है?यह बोल कर वो रोती हुई अपने कमरे में चली गईं।अब मुझे भाभी पे दया और प्यार दोनों आ रहे थे.

मैंने सोचा कि शिफा भी क्या मस्त लड़की है, अगर मुझे इसे चोदने को मिल जाए, तो मज़ा न आ जाए ज़िंदगी का!मैं अपना लंड हिलाने लगा. उसके बैठने के बाद मैंने देखा कि उसके चूचे एकदम से टाइट होकर नुकीले हो चुके थे. वो मामी के चूचों को दोनों हाथों से जैसे निचोड़ते हुए उनका दूध निकालने की कोशिश कर रहे थे.

सुरेश के लिंग के धक्कों की वजह से कमरा थप … थप … की आवाजों से गूंज रहा था और मेरी योनि से तरल रिस रिस कर मेरी दोनों जांघों के सहारे बहने लगा था. तो प्लीज़ मुझे मेल ज़रूर करें जिससे आगे भी मैं मेरी रिश्तों में चुदाई की स्टोरी आप लोगों के साथ शेयर करता रहूँ!मेरी मेल आई डी है[emailprotected]. वैसे तो मुझे कहानियां लिखने का शौक नहीं है लेकिन मैंने अन्तर्वासना पर जब सेक्सी कहानियां पढ़ीं तो मेरा भी मन किया कि मैं आप लोगों को अपनी कहानी बताऊं.

दोस्तो, मेरी मस्तराम सेक्स स्टोरी कैसी लगी? ज़रूर बताएं, वैसे मेरी सेक्स लाइफ की शुरुआत कैसे हुई, ये मैं आपको अपनी अगली कहानी लिखूँगा जिसमें एक टीचर ने मुझे चुदक्कड़ बना डाला था. उस टाइम तक उसकी चूत पूरी गीली हो चुकी थी और पच पच की आवाज़ भी आने लगी थी.

कहानी का पिछला भाग:प्यासी टीचर चूत चुदाई ने मुझे चुदक्कड़ बनाया-3 मैम ने कहा- अब तुम मेरी चूत को चोदो.

मैं जब उससे पहली बार मिला था, तो उसे देख कर मेरे मुँह में पानी आ गया था. सेक्सी पिक्चर गाने वाली सेक्सीमैं जल्दी से उनके घर गया और अन्दर जाकर देखा तो असगर अपनी बहन ज़रीना के साथ लड़ाई कर रहा था. సెక్స్ బి.ఎఫ్ ఓపెన్एक दो बार मैंने उसके चूचों को दबा कर देखा और फिर उनको जोर से मसलने लगा. उसने मेरे लोअर को धीरे से उतारा और मेरे लंड को वासना भरी निगाहों से देखने की कोशिश में लगी दिखी.

हम दोनों का ये पहली बार बहन को चोद रहा था, इसलिए मैंने उससे कहा- तुम अपने नीचे तकिया रख लो.

उसने मेरे रस को पी लिया और मेरे होंठों से अपने होंठों को पौंछ दिया. चूंकि मैं परिवार का मुखिया हूं इसलिए जब भी परिवार में कोई शादी-ब्याह का कार्यक्रम होता था या फिर किसी अनहोनी के कारण किसी की मृत्यु के पश्चात क्रियाकर्म पर जाने की बात होती थी तो मैं ही सब जगह पर जाता था. हाय क्या मस्त चूत थी उसकी … उसने चूत को साफ़ भी किया हुआ था, इससे तो वो ज्यादा चमक रही थी.

माँ पता नहीं क्यों बहुत मुस्कुराईं और फिर हमें होम वर्क करने को कह कर लाला की दुकान पर चली गईं. मैंने उन्हें दस दिन इलाज करवाने का बोलते हुए कहा- ठीक तो जल्दी हो जाओगे, पर इलाज पूरे दस दिन करवाना पड़ेगा. मैं धक्के देने लगा, वे सहयोग कर रहे थे … बार बार चूतड़ उचका रहे थे.

मराठी सेक्सी वीडियो दिखाइए

लेकिन कुछ देर बाद मेरा लंड फिर से सख्त हो गया और अब मेरा मन माँ के बड़े बड़े चूतड़ों को देख कर उनकी गांड मारने का होने लगा. एक महीना बाद उसने मुझे प्रपोज किया और मैंने भी हां कर दी, क्योंकि मैं हेमंत के लंड को चूत में लेना चाहती थी. जब मुझे गांड घूरते हुए भाभी ने देखा, तो उन्होंने इशारे से मुझे अपने रूम में बुलाया.

मैंने सोनू की चूत को देखा तो उसकी चूत से हल्का सा लहू निकला हुआ था.

मुझे तो उसकी नाज़ुक सी छोटे से छेद वाली चुत को मुँह में भरके चूसने का बहुत मन कर रहा था.

इतना कह कर हम दोनों ने एक बार फिर एक दूसरे को चूमा, फिर अपने आपको सही किया. उसने अपने स्कूल में से छुट्टी ले ली और मुझे शहर के पास वाले बस स्टैंड से पिक करने को बोल दिया ताकि हम सुबह से साथ रह सकें और टाइम ज्यादा साथ बिता सकें. इंडियन बंगाली सेक्स वीडियोमेरे परिवार के लोग गाँव जा रहे थे और विभोर के मम्मी पापा दोनों लोग जॉब करते है.

मैंने उसकी कुवारी चूत में जीभ को अंदर तक डाल दिया तो वो तड़पने लगी. मेरा मन कर रहा था कि जाकर उसको आइ लव यू बोल दूं लेकिन मेरी हिम्मत नहीं हुई. उन्होंने बोला- नहीं नहीं बाहर नहीं रहते … वह दादा दादी के यहां पर गए हैं बच्चों को लेकर … बस 2 दिन बाद आ जाएंगे.

उस दिन के बाद से मैंने नोटिस करना शुरू कर दिया कि मामा और मामी के बीच में कुछ खास बात नहीं हो रही थी. मैं गांड से धक्के लगा रहा था तो वे बोले- थोड़ा ठहर जाओ!जबकि मेरे दोस्त मारते समय उत्साह दिलाते थे- हां और जोर से बहुत अच्छे।वे बोले- यार लेट जाओ!उन्होंने लंड निकाल लिया और अलग हो गए.

अक्सर हम दोनों भाई बहन और माँ भी उसकी दुकान पर बहुत कुछ सामान लाने के लिए जाते ही रहते थे.

अब वह 6 फुट का लंबा-चौड़ा आकर्षक व्यक्ति पूरी तरह से उन औरतों के बीच में नंगा हो गया था. हम लोगों ने रात में कुछ देर एक दूसरे से फ़ोन पर बात की और उसके बाद मैं रात का खाना खाने के बाद सो गयी. मेरा मोटा लंड उसकी चूत में घुसा तो उसकी चीख सी निकल गई ‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह …’मैंने भाभी की चूत में दूसरा धक्का दिया और अपना पूरा लंड उसकी चूत में उतार दिया.

एड़ी की हड्डी में दर्द उफ़्फ़ … क्या मारू फिगर था … सही से नहीं कह सकता, लेकिन बड़ी चिकनी लौंडिया थी. मैं- क्यों आपकी शादी उससे हुई है, तो मैं क्यों करूं … आपको कोई परेशानी है क्या?वो- जी हां.

आगे बढ़ते हुए मैंने ब्रा के स्ट्रिप को खोल कर एक साइड फेंक दी, जबकि गाउन अभी भी उसकी गांड और कमर तक था. कहानी का पिछला भाग:प्यासी टीचर चूत चुदाई ने मुझे चुदक्कड़ बनाया-3 मैम ने कहा- अब तुम मेरी चूत को चोदो. कुछ देर के बाद वो खुद ही गांड उठा उठा कर मेरे लंड को चूत में लेती हुई आराम से चुदने लगी.

सेकसी मुवी

तभी मैंने सुना कि मौसी मेनका को आवाज दे रही थी- अरे नंगी ही बैठे रहेगी क्या … कपड़े पहन ले. ऐसे करते करते एक दिन मैंने चैटिंग करते वक़्त सेक्स का विषय उठाया, तो वो ऑफ़लाइन चली गयी. ये सब सुनते ही मुझे कुछ कुछ होने लगा और अचानक मेरे मन में मैडम को चोदने का ख्याल आने लगा.

मैंने चुत की गुलाबी फांकों में लंड का सुपारा फंसा दिया और उसकी आँखों में देखा. फिर उसने अचानक से लंड बाहर निकाला और बोला- क्या हुआ जान?मैंने कहा- आराम से करो!वो हंसने लगा, बोला- सॉरी जान!और फिर उसने अपना मोटा लण्ड मेरे होंठों पर रख दिया और फिर से मेरे मुँह की चुदाई शुरू कर दी.

मैंने अपर्णा को देखा, तो मुझे अपनी बीवी की पहचान करना मुश्किल हो रहा था.

उसको शायद उम्मीद थी कि मैं अगला प्रहार उसकी चूत पर करूंगा, लेकिन मैंने चूत को निहारा और उसके बगल को चाटता और चूमता हुआ जांघों पर किस करने लगा. वो ओपन माइंडेड हुई, तो मैंने जानबूझ कर उससे पूछा- ये सेक्सी का मतलब क्या होता है?उसने कहा- तुम्हें सेक्सी का मतलब नहीं पता है?मैंने कहा- नहीं. मैं अपनी माँ के साथ ही सोता था, एक दिन एक माँ बेटे की चुदाई की कहानी पढ़कर मैं बहुत ज्यादा उत्तेजित हो गया.

आखिरकार पूर्वी भी जवानी पर है … उसे भी लंड की जरूरत होगी और उसके लिए वो कहीं बाहर क्यों जाए, जब घर पर मेरा लंड उपलब्ध है. कई बार तो मैंने उसके हाथ को अपने तने हुए लंड पर लगाने की कोशिश की लेकिन मैं कामयाब नहीं हो पाया. आनन्द ने कहा- देखा नेहा, सोमेश ने तुमको धोखा दिया … तुम्हें अब उसे छोड़ देना चाहिए.

साड़ी का पल्लू मेरे स्तनों से हट गया और उसकी गांठ मेरे कमर से खुल गयी.

मिया खलीफा बीएफ सेक्सी: जब मैं मॉम की पीठ पर तेल लगा रहा था, तब उनके मम्मों तक हाथ ले जाता था. जब मम्मी उसके साथ कमरे में होतीं, तो मैं चोरी चोरी देखता और उनकी चुदाई देख कर मुठ मारता.

कुछ देर तक स्वरा दीदी के चूचों को दबाने के बाद प्रिंसीपल ने मेरी दीदी के चूचों को छोड़ कर उसकी शर्ट को उतारना शुरू कर दिया. लेकिन मेरे इस तरह से अन्दर आ जाने से भाभी भी सकपका गईं और उन्होंने शर्म से सिर झुका लिया. मेरे शैतानी दिमाग में एक आइडिया आया और मैंने इस मौके का फायदा उठाने की सोची.

वो तेजी से मेरी दीदी की चूत मार रहा था और मैं बाहर खड़ा होकर अपने लंड की मुठ मार रहा था.

मैंने इस किस्म की रिश्तों में चुदाई की कहानी पढ़ रखी थी कि एक भाई ने बहन की चुत मारी. लेकिन कभी चूत चुदाई का मौका नहीं मिल पाया था क्योंकि हम लोग कहीं बाहर ही मिलते थे. भाभी बोली- वो कैसे?मैं बोला- भाभी आपको लंड चूसना और लंड से चुदवाना बहुत अच्छे से आता है.