हिंदी लड़की का बीएफ

छवि स्रोत,गोल्डन ओपन सागर

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी चोदने वाली चूत: हिंदी लड़की का बीएफ, कुछ देर बाद वो मुझसे पूछने लगीं- बोलो मज़ा आया या नहीं असली लंड से.

डू से लड़कियों के नाम

उसने अपनी जीभ मेरे मुँह में घुसा दी तो मैं एकदम से बहक गई और मैंने भी उसकी जीभ को अपनी जीभ से चूसना शुरू कर दिया. मां बेटा की सेक्सी मूवीएक तरफ तो चुत लंड की वासना के कारण हम दोनों अलग नहीं होना चाहते थे, दूसरी तरफ अपने साथियों के सामने खुद को लज्जित सा महसूस कर रहे थे.

वो मुझसे बोली- भैया आज आपने जो मुझे सुख दिया है, वो मैं कभी नहीं भूलूंगी. कुर्ला मटका सटकामाँ ने 5 दिन बाद आने का कहा और काम्या का ख्याल रखने को कह कर निकल गईं.

जब ट्रेन काफी लेट हो गई और मेरा टाइम पास नहीं हो रहा था, तो मैं स्टेशन के पास ही बने हुए माल गोदाम की तरफ चल दिया.हिंदी लड़की का बीएफ: उसने किसी तो फोन मिलाया और स्पीकर पर रख कर पूछा- अशोक जी कैसे हैं आप?वो बोला- अच्छा हूँ.

सुबह 10 बजे नींद खुली, नहा कर दोपहर भाभी के घर पंहुचा, भाभी टीवी देख रही थी, गुड़िया सो रही थी.जब मैं देख आया कि कामिनी और विवेक बिना किसी चिंता के नंगे पड़े सो रहे हैं, मुझको समझ आ गया कि कामिनी के दिल में से अपने यार से मेरे सामने चुदने का डर बिल्कुल निकल चुका था.

सेक्सी फिल्म वाला - हिंदी लड़की का बीएफ

इसको भी उन्होंने सीसी कैमरे में रिकॉर्ड कर लिया और मुझको दिखा कर बोलीं- अगर कभी मुँह खोला तो यह सब तुम्हारे पापा को दिखा दूँगी.इसी चक्कर में मेरे दोस्त आपका खड़ा हो जाता है कि साली चुत भी चुदाई के लिए मिलेगी और पैसा भी मिलेगा.

उन्होंने बिना रहम खाए 10-15 धक्के दे दिए और इतने में ही उनका माल निकल गया. हिंदी लड़की का बीएफ समीर कभी कभी मेरे गाल पर एक धीमे से चांटा भी मारता था और गालियाँ देते हुए बोलता था- चूस, अंदर तक ले!इसी बीच समीर ने अपना लंड मेरे मुँह से खीच लिया और अपनी गोली मेरे मुँह में भर दी.

मैं उन्हीं दिनों की कहानी लिखने जा रहा हूँ, जो बिल्कुल सत्य घटना पर आधारित है.

हिंदी लड़की का बीएफ?

मैंने उससे कहा- आज तुम लोगों से मेरा बदला पूरा हो गया… तुमने तो मुझे अपने सामने अपने दोस्तों से चुदवाया था मगर मैंने तुम्हें तुम्हारी माँ से ही अपने सामने चुदवा दिया और इसकी फिल्म भी बना ली है. मेरा हाथ सीधा मेरी चुत पे चला गया और मैंने अपनी चुत में उंगली शुरू कर दी. भाभी की आँखों से आँसू आ गए, वो चीखती रही पर मैंने उनको पूरा पकड़ के रखा था और होंठ से होंठ चिपके होने के कारण आवाज दब गई, वो पैर चलाने लगी, मैंने होंठ छोड़े तो भाभी की आँखों में आँसू थे.

उसका फिगर जो कोई एक बार देख ले, उसका लंड तुरंत खड़ा हो जाए, उसको देख कर तो बूढ़े का भी लंड खड़ा हो जाये… वह ऐसी सुंदर नारी है।उसका फिगर 34-28-38 का था और उसकी गांड तो मुझे बहुत ही ज्यादा पसंद आती थी. फिर उसने अपनी बायीं बांह मेरी कमर पर लपेट ली और मुझे अपनी तरफ करवट दिला दी. चाचा के जाने के बाद अब चाची ने कहा- बच्चू… अगर ये बातें मैं आपके चाचा जी को बता दूँ तो जानते हो क्या होगा?मैंने चाची से कहा- प्लीज़ आप ये बात किसी से नहीं कहना… मैंने आप पर भरोसा करके आपको ये सारी बातें बताई हैं.

इसके बाद उसने आधा लंड बाहर निकाल कर जोर से झटका मार कर अन्दर कर दिया और अब वो बार बार लंड को अन्दर बाहर करने लगा. मैंने और भी देर करना उचित नहीं समझा और दो सेकेण्ड के अन्दर ही मैंने अपने तने हुए लंड को चाची की चूत में प्रवेश करवा दिया. लेकिन टंकियाँ अलुमिनियम की थी इसलिए मैंने रत्नेश भैया के कपड़े अपने पीठ और सिर के पीछे रख लिए ताकि मुझे टंकियाँ पीठ में चुभे नहीं।अब मैं मुँह चुदाई के लिए तैयार था और टिक हुआ आराम की मुद्रा में था, लेकिन मैंने अपने मुँह को थोड़ा ऊपर की ओर किया हुआ था जिससे लन्ड मुख में डालने में आसानी रहे।अब महाराजा रत्नेश राजपूत को अंतिम आनन्द प्रदान करने की बारी थी और इसमें मैं जी जान लगा देना चाहता था.

उसने अगले ही पल मॉम की पैंटी खींच कर निकाल दी और मॉम को उठा कर किचन के काउंटर पे बिठा कर चुचों को दोबारा चूसने लगा. हल्के हल्के काले भूरे बाल उसकी बुर को मानो सबकी वासना भरी नजर से उसे बचाने के लिए पहरा दे रहे थे.

मैंने मामी को पूछा- आपको सकिंग आती है क्या?उसने कहा- वो क्या होता है?मैंने कहा- मेरे लंड को मुंह में लेकर आगे पीछे करने को सकिंग कहते हैं.

”मैंने सलवार को ऊपर खींचा और बिना नाड़े को बांधे, नीचे की बर्थ पर ही लेट गई और कुछ देर बाद मैंने आँखें बंद कर लीं.

मेरा लंड आज कल बिंदु की चूत से मज़े ले रहा था और उसकी चूत मेरे लंड से अपनी भूख मिटा कर मजे ले रही थी. परंतु दोस्तो, मुझे जो मजा औरत की सुन्दर चूत मारने में आता है वह किसी और छेद में नहीं आता. मेरे अन्दर आते ही उसने बेड रूम का डोर बंद किया और मुझसे बोला कि मैं उसे होंठ से होंठ मिला कर चुम्बन करूँ.

ऐसे में मेरे अंदर का शैतान जाग गया और मैं भी थोड़ा अपने गांड को बाहर निकाल के खड़ा हो गया और मज़े लेने लगा. पर मैंने एक हाथ से उसका मुँह बंद किया और आखिरी झटके में पूरा लंड उसकी गांड में उतार दिया. प्रिया के पसीने की खुशबू के साथ साथ प्रिया के पसीने का का हल्का सा नमकीन स्वाद साथ में शायद डियो का कसैला सा स्वाद था.

अलका… तुम्हारे हाथ ही नहीं पांव भी बहुत अधिक सुन्दर हैं… बहुत कम लड़कियां हैं जिन्हें प्रकृति अति सुन्दर पैरों से सुसज्जित करती है… तुम्हारे पैरों को निहारते निहारते न आँखें थकती हैं और न ही दिल भरता है… ये इतने हसीन हैं किसी विज्ञापन कंपनी के लिए नेल पोलिश, फुट क्रीम, सैंडल्स या पायजेब के लिए मॉडल बन सकते हैं.

अंकल- मुझे आप पर शक तो वहीं चाय वाले के पास हो गया, जब मैंने आपकी गांड देखी थी. उसने मुझसे दूध पिलाने का कहा तो मैं उसकी छाती पर चढ़ गई और उसको अपने चूचे चुसाने लगी. तभी कामिनी की अन्दर से आवाज आई- कौन है स्वीटी?विवेक ने कुछ नहीं कहा.

पर मैं चुदाई के नशे में इतना चूर था कि उस दर्द को सहने की कोशिश करने लगा. दीदी ने मेरा चेहरा पकड़ कर मेरा मुँह अपने एक चूचे पर रख दिया और मैं दीदी का बोबा चूसने लगा. मगर ट्रेन का टिकट न होने के कारण बस से अजमेर के लिए जाना तय किया और कुछ समय बाद चल पड़े.

उसके बाद एजेंसी वाले आपको फिर कभी फ़ोन नहीं करते और अगर आपने उनको फ़ोन किया, तो फ़ोन नहीं उठाते.

अब तो वे कभी मेरे मम्मों को दबा देतीं, कभी मेरे हिप्स में चपत मार देतीं… ये अब आम बात हो गई थी. आप ठीक कहती हैं, लेकिन वो ऐसा नहीं चाहता…” बड़े वाले ने सफाई दी- वैसे आपकी कोई सहेली नहीं है हमारे साथ दोस्ती करने के लिए?आपका मतलब है, इकट्ठे आपके और आपके भाई के साथ?” नताशा ने आश्चर्य से पूछा.

हिंदी लड़की का बीएफ जिसका नतीजा होता था कि लंड को पानी निकालने के लिए और टाइम मिल जाता था. उन्होंने मुझे सीधा बिठाया और अपने लंड मेरे मुँह में दे दिया और उनके लंड ने मेरे मुँह में जोरदार लावे की पिचकारी मारी और मैं लंड चाटने लगा.

हिंदी लड़की का बीएफ लंड धीरे धीरे अन्दर जाने लगा, वो सिसकारियां ले रही थी और अपने निचले होंठ को अपने दांतों से दबा रही थी. कुछ देर देखने के बाद मैंने उसकी बाँह पकड़ कर उससे कहा- ज्योति, यह सब क्या है?ज्योति सकपकाते हुए बोली- भैया, मुझे मेरी ये आए दिन परेशान करती है और ऐसे करने से मुझे बहुत मजा आता है.

मैं चाहती हूँ कि जब वो अपना मुँह दिखाना नहीं चाहता, तो तुम भी क्यों दिखाओ.

कामुकता कहानियां

उसको अपनी गोद में बैठा कर उस पर धक्के लगा रहा था और वो भी गांड उठा कर चुदाई के मज़े ले रही थी. दीदी की आंखें और बाल गहरे काले और होंठ फूल की पंखुड़ियों की तरह पतले और लाल हैं. दोस्तो, कैसी लगी मेरी रियल देसी सेक्स स्टोरी, इसके बारे में कमेंट जरूर करें.

मैंने उसके पास रखी वैसलीन की शीशी ली और उसमें से उसने मेरे लंड पे वैसलीन से मालिश कर दी. फिर मैं एक सुनसान पहाड़ पर बाइक ले कर चला गया, ये पहाड़ ज्यादा ऊँचा नहीं था, मैंने मोटर साईकिल भी पहाड़ पर चढ़ा दी. उधर मेरी पतिव्रता पत्नी ने एरिक के लंड को अपनी नर्म गुलाबी जीभ से चाटना जारी रखा.

आरुषि- अच्छा जी, बहुत बातें आती है आपको!फिर हमने कुछ खाया पिया और उस दिन आरुषि को जल्दी के कारण और कोई ख़ास बात नहीं हो पाई.

मैं भी लैपटॉप वगैरह बंद करने लगा और बाकी की ब्लेंक रिकॉर्डिंग फ़ास्ट फॉरवर्ड करने लगा. ”मैंने पिंकी के पसीने से भरे स्ट्रॉबेरी को देखा और यही मौका था कि मैं रोशनी के पीठ पीछे पिंकी की स्ट्राबेरियों को चूस लूँ. मैंने उसके पास रखी वैसलीन की शीशी ली और उसमें से उसने मेरे लंड पे वैसलीन से मालिश कर दी.

तुझे रंडी बना कर ऐसे चोदूंगा कि आज तक जितने लंड लिए हैं, सबको भूल जाएगी. हम दोनों ने साथ में खाना खाते वक़्त एक दूसरे के अंगों का पूरा मजा लिया. अब मेरी उंगलियां हरकत में आकर चूत के स्पॉट को दबाने लगीं; उनकी म्म्म्म्म.

सड़क पर चलते हुए आर्थर ने हमसे हमारे साथ ही घूमने की अनुमति मांगी क्योंकि उसे मास्को के रास्ते नहीं मालूम थे. मैंने मना कर दिया तो वो बोला कि ठीक है… कोई बात नहीं, तुम आराम से बेड पर बैठो.

प्रिया ने हौले-हौले अपनी आँखें खोली तो मुझे सीधे अपनी काली कज़रारी आँखों में झांकते पाया।झट से प्रिया ने मेरी ही आँखों पर अपना हाथ रख दिया- आप मुझे ऐसे ना देखो प्लीज़… मैं तो शर्म से ही पिघल जाऊँगी. फिर माँ ने मेरे रूम को अन्दर से बंद करके मुझसे अपनी चूत चुसवानी शुरू की वो भी पूरी रात भर चुदाई को देख कर अब तक बहुत गरम हो चुकी थीं. उसने तुरंत बैग से वैसलीन निकाली और अपने लंड पर लगा ली, कुछ वैसलीन मेरी गांड पर भी लगा दी.

आपस में खुलापन होने के कारण मैं अक्सर उसको अपनी जीएफ के किस्से सुनाता रहता था कि आज मैंने ऐसा किया, आज मैंने कैसे अपनी जीएफ को किस के लिए पटाया.

मैंने उससे कहा- नहीं अभी मुझे इस मुसीबत से निकलने का कोई रास्ता बताओ. मेरा हिम्मत बढ़ी और मैंने कहा- मेरा नम्बर ले लीजिए, अगर रात को किसी तरह की परेशानी हो तो आख़िर पड़ोसी ही काम आएगा ना. मैंने बोला- ऐसे कैसे दिखाओगी अपनी सील, ऐसे थोड़े ही मुझे कुछ दिखेगा.

दोस्तो, मैं आपको बताना भूल गया कि हम पहले भी हंसी मजाक और थोड़ी बहुतफोन पर सेक्स चैटकिया करते थे. उसने मुझे पूरी नंगी करके मुझसे डांस करवाया और मम्मों को बुरी तरह से खींचना शुरू कर दिया.

फिर हम यहां शिफ्ट हो गए और मैंने अपनी वासना शांत करने के लिए तुमको फंसाया… सॉरी समीर. गिरने से लगी चोट को भुला के वो मुझे अपने आलिंगन में समेटे जा रहा था. मुझे उसकी बात ठीक लगी और मैंने उसकी चुत के चिथड़े उड़ाने शुरू कर दिए.

रानी चटर्जी कहां की रहने वाली है

उसने पापा से कहा कि मेरे देवर की डेथ हो गई है, इसलिए उसको वहाँ भेजना पड़ा.

धीरे धीरे प्यार परवान चढ़ रहा था हमारा, हम अक्सर ही बाहर घूमने जाया करते थे. दीदी ने मेरे लंड पर चुम्मा लिया और टॉप निकाल कर पीठ के बल टेबल पर लेट गईं. मैंने कहा- वो कैसे?वो बोली- क्या आप भी जीजू उंगली तो इतनी छोटी होती है तो वो तो आसानी से ही जाएगी न.

मैंने भाभी को ओके कह दिया और उन्होंने मुझे अपने घर का पता मैसेज कर दिया. फिर यूं ही बात होने लगी और वो मुझसे पूछने लगा कि कैसी हो ऋतु और तेरी पढ़ाई वगैरह कैसी चल रही है. सेक्स की मूवीदोस्तो, आप अपने विचार और चूत की प्यास बुझाने के लिए मुझे मेल जरूर करें.

करीब 10 मिनट पूरी रफ्तार से चुदाई के बाद वो अपनी गांड पूरा ऊपर उठाने लगी और मुझे कस कर पकड़ते हुए उसने अपनी चुत धारा फिर से छोड़ दी. लंड को अन्दर लिए लिए मैंने उसे अपने ऊपर कर लिया, वह मेरे ऊपर चढ़ कर जोर जोर से लंड को अन्दर बाहर करने लगी.

तभी मेरी मॉम ने कहा- जा पीछे मेहता जी फैमिली रहने आई है, उनके घर जाकर उनको ये बिल दे आ. उधर मनीष भी बहुत खुश है कि मैं आज भी उसकी वाइफ के जैसे उसकी हर माँग पूरी करती हूँ. मैंने कहा- आंटी जी, आप क्या कर रही हो?उन्होंने कहा- बेटा वो ही करने लगी, जो तुम बाथरूम में जा करते हो, मैं तुम्हारी यहीं पर मुठ मार देती हूँ.

कुछ देर एक दूसरे के होंठों का रसपान करने के बाद जैसे ही उसका हाथ मेरे मम्मे पे आया, मानो एक करंट सा लग गया हो मुझे. मैंने बस के कंडक्टर से पूछा तो उसने बोला कि यहां एक यात्री और आएगा. मैं मज़ा लेने लगी और दस मिनट बाद भाई ने सलवार को उतारने की कोशिश की.

मैंने सोचा कि जब भाईजान खुद ही यह सब चाहते हैं, तो मुझे भी खुल कर मज़ा लेना चाहिए.

मैंने उससे लंड चूसने के लिये बोला तो वो मुंडी हिला कर मना करने लगी. मुझे मकान मलिक ने सामान उतारने में मदद करने को कहा और हमने मिलकर सामान मेरे बाजू वाले एक रूम वाले सैट में रख दिया.

मैंने कहा- अब ये तुम्हारी चूत में जाने के तड़प रहा है इसलिए कुछ ज्यादा ही बड़ा हो गया!उसने कहा- फिर रोका किसने है?मैंने भी ज्यादा देर करना ठीक नहीं समझा, हम दोनों ही गरम हो रहे थे, सोचा कि लोहा गरम है, मार दे हथौड़ा!मैं उसके नंगे बदन के ऊपर आ गया और उसकी टांगों को चौड़ी करवा दिया और अपना लोडा उसकी चूत पर रख के रगड़ने लग गया. उसने कहा- ओके वो उससे निपट लेगा और मुझसे बोला- रोज एक बार मुझसे चुदने के लिए आ जाना. मुझे लगा था कि ये लंड को धीरे धीरे अन्दर करेगा मगर उस जालिम ने तो चुत तो फाड़ कर ही रख दिया.

दिशा को प्रीति और दीक्षा की चूत चाटने का काम मिला जिसे वो बखूबी निभा रही थी, जिससे प्रीति की चूत ने दिशा के मुख में अपना कामरस छोड़ दिया. मैं पूजा को चोदना चाहता था, पर मैंने कभी उसको इस बात के लिए नहीं बोला. मेरा गाउन आगे से खुला हुआ था, इसलिए मेरी चुत और मम्मों की छटा पूरी साफ नज़र आ रही थी.

हिंदी लड़की का बीएफ सभ्य महिला शब्द इसलिए लिखा है कि शारीरिक प्यास किसी भी सभ्य महिला को भी तन की प्यास बुझाने का अधिकार होता है. मेरी मामी दिखने में बहुत खूबसूरत है, उसकी फिगर 38 34 36 है यानि चुचे ही सबसे बड़े हैं, देखते ही मन करता है कि बस कस के दबा दूँ.

देहाती गांव की सेक्सी मूवी

फिर मैंने शांत होते हुए उससे फिर से पूछा कि ये वीडियो तुमने कब बनाया और क्यों बनाया?उसने कहा कि वो मुझे पिछले 1 साल से फॉलो कर रहा है और उसने मेरी तस्वीरें भी मुझे दिखाईं, जो उसने चुपके से खींची थीं. मॉम डैड अपने अपने काम पे निकल गए और मैं भी नवीन को लेकर स्टेशन निकल गया. मोहन भी जोर से मेरा मुँह चोदने लगा था और मैं भी मोहन को पूरा साथ दे रही थी.

मैंने उसकी पैंटी के चारों तरफ उसकी जाँघों पर बड़ी गरमाई से किस किया. पर अभी चूत की आग बाकी थी, बाहर आकर पहले तो हमने एक दूसरे को पौंछा ताकि सर्दी न लगी, और फिर एसी ओन करके नंगे ही कम्बल में घुस गए. लौंडिया लंदन सुनाएंगेपहले तो उसने हाथ हटा लिया, पर जब मैंने उसकी चूत सहलाई तो उसने भी थोड़ी देर बाद उसे पकड़ लिया और लंड सहलाने लगी.

मगर एक बात है हमें शादी के बाद कोई ऐसा काम नहीं करना होगा, जिसमें किसी एक को भी पता ना हो या वो ना चाहे.

ऐसा लग रहा था कि भगवान ने बड़ी नाप आदि लेकर से उसकी गांड को तराशा है. ये सुनकर मैं दंग रह गया और मैंने उसे ये कहकर टाल दिया कि वो देख रही थी मैं तो नहीं देखता.

जब लंड उसके मुंह में था तो ऐसा लग रहा था जैसे मेरा लंड किसी लड़की की चूत में जा रहा है. मेरी महान पत्नी ने फ़ौरन आर्थर का ‘बदमाश’ लंड अपने मुंह में भर कर चूसना शुरू कर दिया. उसने मेरे एक मम्मे पे धीरे धीरे जीभ फिराना शुरू कर दिया और दूसरा हाथ वो धीरे धीरे मेरी लाडो की तरफ ले जाने लगी, पर मैंने उसे बीच में ही रोक दिया और उसे दूसरी तरफ धक्का देकर उसके ऊपर आ गई.

नमस्कार दोस्तो, मैं रोनित जयपुर, राजस्थान से हूँ। सबसे पहले मेरी ओर से सभी चूत और लंडों को प्रणाम! आज मैं आप सब लोगों के सामने अपनी एक सच्ची कहानी पेश करने जा रहा हूँ, आशा करता हूं कि आप सब को यह पसंद आएगी। यह मेरी अन्तर्वासना पर पहली कहानी है, आप सबसे कहानी पढ़ने और मेरे प्रथम प्रयास पर सहयोग की अपेक्षा करता हूं.

भाबी मेरे लिए कोल्डड्रिंक बिस्किट नमकीन और ना जाने बहुत सी चीजें लेकर आ गईं. मैंने कहा- आज तो चुदवा रही थी ना!वो बोली कि कहां चुदवाया है?मैंने बोला- तो क्या गांड दिखा रही थी उसको?वो अब थोड़ा घबराई और बोली कि सिर्फ कपड़े ही निकाले थे. फिर वो मेरे पास आया और मेरा घूँघट उठा कर उसने मुझे मेरे होंठों पर एक जोरदार चुम्मी की और इसी तरह वो मुझे चूमते चूमते वो मेरे मम्मों को सहलाने लगा और हल्के से दबाने लगा.

सेक्स राजस्थानी सेक्स वीडियोजैसे ही रात के 12 बजते थे तो टीवी पर केबल वाला ब्लू फिल्म भी दिखाता था, तो उस रात भी मैं ब्लू फिल्म देखने का वेट कर रहा था. अब उसने मेरी पेंटी उतार दी और मेरे ऊपर लेट कर उसने अपना खड़ा लंड मेरी चुत के छेद में ज़ोर से घुसा दिया.

जोड़ी मोटू पतलू की जोड़ी

फिर जाने से पहले वो बोला- अगले साल जब मैं वापिस आऊँगा तब तक यह पूरे संतरे बन चुके होंगे. गांड मरवाए काफी दिन हो गए थे तो मेरी गांड बहुत टाइट हो गई थी, जिससे उनका लंड मेरी गांड में नहीं जा रहा था, मैंने कहा- अंकल कोई क्रीम या तेल लगा लो. जब चंदर ने चुत से भी पूरी मस्ती कर ली तो मेरा मूत निकलने वाला था, मैंने उससे कहा कि मुझे बाथरूम में जाने दो, मेरा मूत निकलने वाला है.

वो अलमारी से टॉर्च लेकर आई और मुझे दी और फिर से टांगें चौड़ी करके मेरे सामने बैठ गई, मैंने इस बार अपने दोनों हाथों से उसकी चूत चौड़ी की और टॉर्च अपने मुँह में पकड़कर झाँकने लगा. उसने 4-5 बार अपना लंड मेरी चुत में डालने की कोशिश की मगर चुत का रखवाला (चुत की झिल्ली जो फटती है, पहली चुदाई में) उसे अन्दर ही ना जाने दे रहा था. अगले दिन वो पुलिस अधिकारी सच में मेरे घर पर आया और मुझसे राखी बँधवा कर बोला- अपने भाई को क्या मिठाई नहीं खिलाओगी?मैंने कहा- मुझे नहीं पता था कि आप सच में आएंगे, मैं तो इसे एक मज़ाक समझ कर भूल भी गई थी.

एक बार उनके पति दो दिन के लिए बाहर जाने लगे तो उन्होंने मुझे बुला कर इन दो दिनों में उनकी बीवी की दोबारा से अच्छी तरह से चुदाई करके उनकी बीवी की कामुकता को शांत करने को कहा. मैंने हैलो बोला, तो उधर से पायल की आवाज़ आई और उसने कहा- रिया है क्या?मैं तो पहले चौंका और फिर बोला- कौन रिया. हम एक दूसरे की बाँहों में लिपट कर कुछ समय तक लेट कर प्यार की बातें करते रहे.

मैं जल्दी में बाथरूम की तरफ दौड़ा, तभी मुझे एहसास हुआ कि बगल वाले बाथरूम में ममता दीदी हैं. बाल थोड़े थोड़े उगे हुए थे, किन्तु यह दिख रहा था कि बहुत गहरे काले रंग के झांटों के रोयें हैं.

मैंने उसे अपनी तरफ लेते हुए उसके सिर को अपने छाती पर रख लिया और उसे चुप कराने लगा.

भाभी के फिगर के बारे में बता दूँ, गोरा रंग, काली बड़ी बड़ी आँखें और फिगर 32-26-30… गजब का फिगर था, जो देखे उसका लण्ड खड़ा हो जाये. रानी चटर्जी के सेक्सी फोटोऔर इस दवा का असर कम से कम 6-7 घंटे रहता है, आज पता नहीं कैसे आपकी नींद खुल गई. सेक्सी देखने वाली फिल्मबालू मुझसे बोले- वन्द्या मेरी जान, आंखें खोल दीजिए!मैंने आंखें खोली तो वो अपनी दोनों टांगें मेरे उपर इधर उधर किया हुए थे, सामने मेरे हाथ में लंड देख कर एकदम अलग फीलिंग आई, मैं लंड को देखे जा रही थी. अब मुझे ऐसा लगा कि शायद भाभी की नींद खुल गई है और वो सोने का नाटक कर रही है.

मैंने मन ही मन तय कर लिया कि अगर अलका की चुदाई मिल गई तो जैसे ही मेरे घर के ठीक पीछे वाला घर, जब कभी भी खाली होगा, तो वो घर सत्येन को अलॉट कर दूंगा.

तत्काल प्रिया बेचैन हो उठी और अपनी उंगली मेरे मुंह में इधर उधर मोड़ने-तोड़ने लगी. मैं तो खुद ही ऐसा कोई काम नहीं करना चाहती, जिससे घर में किसी को भी किसी तरह का शक़ हो आ परेशानी हो. बहुत आलीशान कॉलोनी है जिसमें करीब डेढ़ सौ परिवार और चालीस बैचलर लड़के और बिन ब्याही लड़कियां रहती हैं.

उस दिन मेरा मूड थोड़ा ऑफ था क्योंकि उस दिन मेरे 18000 रुपये खो गए थे. यह घटना आज से करीब 2 साल पहले जब मैं अपने चाचा के घर भोपाल मध्यप्रदेश में एग्जाम के सिलसिले में गया था. मैंने कहा- ठीक है!और फिर उसने नकली लण्ड को अपनी चूत के ऊपर बाँध लिया और लड़कों की तरह चोदने लगी और मुझे किस करने लगी.

సెక్సీ స్టోరీస్

सर्वप्रथम उसके दोनों हाथ मेरे सर के पिछली ओर आ जमे और मुझे और मेरे होंठों को नीचे की ओर गाईड करने लगे, दूसरे, प्रिया के मुंह से रह रह कर तेज़ सिसकारियाँ और आहें निकलने लगी- सी… ई… ई. मैंने तुरंत उसकी ब्रा पेंटी उठाई और नाक के पास ले जाकर लम्बी सांस भरते हुए सूँघा. नीचे वो अपने गधे जैसे मोटे काले पठानी लंड से मेरी चुत चोद रहा था और ऊपर मेरा मुँह को उसकी जुबान चोदने लगी थी.

मैं भी सोने का नाटक कर रही थी और मुझे पूरा यकीन था कि अब मोहन कुछ भी नहीं कर सकता.

फिर उसने धक्कों का दौर जो शुरू किया, तो वो ख़त्म ही नहीं हो रहा था, पता नहीं साले ने आज क्या आज खाया हुआ था.

मेरी निगाहों को पढ़ कर चाची ने मुझसे अपनी नजर चुरा ली और हंसने लगीं. मेरा लंड उनकी पेट को छू रहा था, कुछ देर ऐसे ही उनके गले लगाने के बाद मैं धीरे धीरे अपना हाथ उनकी गांड पे ले गया और हल्के हल्के सहलाने लगा. इंग्लिश सेक्सी एचडी व्हिडिओफिर ऐसे ही मसलते मसलते मैं अपना हाथ उनके बलाउज में डालकर उनके एक चूचूक को मसलने लगा उनके मुंह से सिसकारियां निकल गई- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआ आह्हह….

मैंने अंकल से कहा- अंकल आप ऐसी बात मत कहिए, मैं आपका यह काम कर दूँगा. वे इस तरह की बातें करते हुए रोने लगीं और मेरे करीब होकर मेरे कंधे पर सर रख कर सुबकने लगीं. उनकी सांसों की गर्मी और मेरे सांसों की गर्मी टकरा रही थी और उनका लन्ड मेरी चूत में पैंटी के ऊपर से ही चुभ रहा था.

मैं बस उनकी बात को सुनकर मुस्कुरा कर रह गया और धीरे से मन में कहा कि हाँ रानी अबकी बार तेरी चूत में मेरी पिचकारी चल जाए तो ही लंड को चैन आ पाएगा. मैं उनकी इस बात को सुनकर उनकी तरफ हंस कर सवालिया निगाहों से देखने लगा कि किस जगह रंग लगा देती थीं.

मैंने भाभी की चूचियों को चूसा तो इस बार उन्होंने मेरे लंड को हिलाकर खड़ा किया और किचन से मक्खन लेकर आईं.

आईईई… मुझे डर लगने लगा है! कोई मुझे बचाओ…” नताशा अपने हाथों से अपनी आँखें छुपाती हुई नाटकीय अंदाज़ में चिल्लाई. मैं भाभी के जाने के लगभग 3 मिनट बाद खदान में चला गया, तो वहां पर भाभी खड़ी थी. मैं डर रही थी, घबरा रही थी, मैं कुछ नहीं बोली, वो मेरे पास ग्लास लेकर आए, बोले- वन्द्या तू भी पिएगी, आज पी ले तुझे बहुत मजा आएगा!मैं बोली- नहीं, मैं नहीं पीती, ना कभी पियूंगी!तो उसने तुरंत जल्दी जल्दी दो ग्लास दारु पी और सीधे आकर मुझे अपनी बाहों में भर लिया, मेरे सामने खड़े होकर मेरे होठों पर अपने होंठ रख दिए.

वीडियो रोमांस जैसे ही कुछ समय रुक कर निकला तो देखा मैंने बाहर आकर तो मेरी गांड ही फट गई. उसने कहा- जब प्यार किया तो डरना क्या? कल जैसे ही सब चले जाएंगे, मैं तुम्हे फ़ोन कर दूंगी.

वो बोला कि अगर में चाहता तो तेरी चुत में भी वीर्य डाल सकता था मगर मुझे पता है कि 9 महीने वाली प्राब्लम हो सकती है इसीलिए मैंने तुम्हारा मुँह चुना था. तभी प्रिया अपने बाल व्यवस्थित करने के उपरान्त मेरी ओर झुकी, उसकी कज़रारी आँखों में शरारत की गहन झलक थी. भाभी अपने हाथों में लंड ले मेरे मुँह के पास फेरने लगीं और मैंने जैसे ही मुँह खोला, राजू ने गप से अपना लंड अन्दर पेल दिया.

स्कूल गर्ल सेक्सी

एक तकिया मैंने उसकी गांड के नीचे टिका दिया और पहले उसकी प्रदेश पे हाथ फेरा. क्यों मेरी जान मजा आया, पानी में आग भुझवा कर?”अर्पिता- जानू, एक बार तो मेरी सांस अटक गयी थी. पर इस बार वो मुझे घूरती रही, मैंने भी हिम्मत करके आँखों से आंखें मिलायी और पहले की तरह कान पकड़ कर सॉरी कहा और भाभी ने स्माइल पास की.

मैंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी, तो उन्होंने मुझे चार बार चूमा और मेरे होंठों को अपने होंठों से मसला भी. जब इतना बड़ा उपकार किया है तो फिर पूरी जिंदगी मेरी भाबी बन कर रहो ना.

वो मेरे से ज्यादा गांड हिला रहा था- हाँ बहुत अच्छे शाबाश…मैं पूरे दम से उसकी गांड में लगा हुआ था.

हम लोगों ने उनसे पहले ही कह दिया था कि यहां पर एक लव गार्डन है, वहां मिलने आना है. और रम की बोटल खोल के फ़िर मेरे ऊपर बैठ गईं और एक चूचे को पकड़ कर मेरे मुँह में दे दिया. मैं उनकी चुत को बड़ी बेदर्दी और प्यार के मिले जुले प्रयासों से चाटे जा रहा था.

बाल थोड़े थोड़े उगे हुए थे, किन्तु यह दिख रहा था कि बहुत गहरे काले रंग के झांटों के रोयें हैं. मैं पूरी तन्मयता से लंड चूस रहा था साथ में उसकी गोटियों को सहलाने लगा था, जिससे उसकी कामुक कराहें और भी जोर से निकलने लगी थीं. मेरे पापा मुझे बैठाने के बाद मेरे लिए फल, नमकीन, बिस्कुट और पानी खरीद कर के लाये, मुझे देने के बाद वहाँ से चले गए.

ऊपर से नीचे तक उसकी हाथ की पांचों उंगलियों को अपने मुँह में ले कर चूसा.

हिंदी लड़की का बीएफ: मैंने लन्ड उसकी चुत से निकाल दिया और उसकी चुत की दरार पर रगड़ने लगा, इसके साथ साथ उसके बूब्स दबाने लगा वो जोश में थी तो लंड निकलने से परेशान हो चली… ऊपर से उसकी चुत के बाहर लन्ड की रगड़ और चूचियों का चूसा जाना उससे बर्दाश्त नहीं हुआ, वो कहने लगी- संजू अंदर डालो प्लीज़!मैंने उससे पूछा- पहले ये बताओ कि कल रात मज़ा आया?उसने फिर मेरी बात को अनसुना कर दिया और अंदर डालने को कहने लगी. मतलब समझ गई कि कल तक इसी तरह बिना ड्रेस में रहना है, पूरी तरह से नंगी.

तभी मैंने अपना लंड उसकी चुत से पूरा बाहर खींच लिया और दुगनी ताकत से दूसरा जोरदार धक्का लगा दिया जिससे मेरा लंड प्रीति की चूत में करीब 7 इंच तक घुस गया लेकिन इस बार प्रीति को इतना तेज दर्द हुआ कि उसकी एकदम से आँखें ही बाहर को आ गई थी।थोड़ी देर के लिये मैं रुक गया और 7 इंच तक ही अपने लंड को धीरे धीरे आगे पीछे धकेलता रहा. मैं काफी देर तक उसके ऊपर लेटा रहा और चूत और लंड एक दूसरे का मद रस सोखते रहे. चुत की फांकों को वो जितना भी खींच सकता था, उतना खींच खींच कर बाहर को ला रहा था.

तो मैडम की आँखों में से पानी निकल आया और वो कराहते हुए बोलीं- बस और अन्दर नहीं.

आज कोई ख़ास बात है क्या?”पता नहीं पर घर पर तू जितनी अच्छी लगती थी, आज उससे ज़्यादा अच्छी लग रही है. एक बार मेरे पति को उनकी कंपनी ने बिज़नेस वर्क के लिए 2 महीने के लिए दिल्ली भेजा. जैसे ही भाबी गईं, भैया ने मुझे अपने ऊपर लिटा लिया और मेरी कमर और गांड पे हाथ फेरने लगे.