बीएफ वीडियो बीएफ वीडियो बीएफ बीएफ बीएफ

छवि स्रोत,शीतल की चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ फिल्म चुदाई सेक्स: बीएफ वीडियो बीएफ वीडियो बीएफ बीएफ बीएफ, मैं एक बार एक रिश्तेदार की शादी में जाने के लिए तैयार हुआ और किसी कारण से इस शादी में मुझे अकेले ही जाना पड़ा.

कैटरीना कपूर की सेक्स वीडियो

और दूसरा मेरी बहुत टाइट गांड में घुसे हुए थे और वह दोनों सांड राक्षस की तरह दिखने वाले नीग्रो बेदर्दी से मुझे चोद रहे थे. क्ष्क्ष्क्षआप मेरी चूत को चोद दो ना!और वह उठी और अपने बैग से प्लास्टिक का लण्ड ले आई और बोली- भाभी, ये डालो मेरी कमीनी चूत में!सुमन को मैंने बेड पर लिटा लिया और सुमन ने अपनी टाँगें फैला ली.

यह मेरी पहली सेक्स स्टोरी है, यह एक सच्ची घटना है, जो मेरी मॉम के साथ की है. मुझे संभोग करना हैउसकी नजर मुझ पर पड़ी, उसको ध्यान ही नहीं था कि वो बिना कपड़े की बाहर आयी थी, उसने मुझसे पूछा- क्या काम है?मैंने उसकी तनी हुई चूचियों को देखते हुए कहा- कुछ नहीं, ये शंकर का हेडफोन देने आया था.

उसकी चुचियां मेरे सीने में दब गईं और वो अपने चूतड़ हिला कर चूत में लंड का मज़ा ले रही थी.बीएफ वीडियो बीएफ वीडियो बीएफ बीएफ बीएफ: मैंने करीब 15 मिनट तक उसकी गांड को चोदते हुए मैंने अपना सारा पानी उसकी गांड में छोड़ दिया और धड़ाम से उसके ऊपर गिर गया.

मैंने पूछा- खाला, मज़ा आ रहा है?वो धीरे से बोलीं- हाँ बहुत मज़ा आ रहा है … मेरी इस चूत का इलाज सिर्फ तुम्हारी चुदाई ही है … हायईई … म्म्म्मम!मैंने धक्के तेज किए तो वो जोर-जोर से चिल्लाने लगीं.सलोनीकेचेहरेकोदेखकरलगरहाथाकिवोकुछसोचरहीहै,कुछकश्मकशमेंहै किक्याकरे औरक्यानकरे!फिरएकगहरीसाँसलीऔरउठ करबाथरूम चलीगई.

कंडोम कैसे लगाएं - बीएफ वीडियो बीएफ वीडियो बीएफ बीएफ बीएफ

मैं उठ कर घुटनों के बल उसके मुँह के पास बैठ गया और लंड को उसके होंठों पे रख दिया.उसके बाद मैंने राहुल की शर्ट को उतार दिया और उसकी बनियान भी निकाल दी.

उसने कहा- मैंने कहा था ना कि मैं तुमसे अलग नहीं होंऊंगी, तो देखा … अलग नहीं हो रही ना!तब मैंने उससे पूछा- क्या मतलब?तब उसने कहा कि मैं 10 दिनों तक तुम्हारे साथ ही हूं. बीएफ वीडियो बीएफ वीडियो बीएफ बीएफ बीएफ कुछ देर बाद उनकी पढ़ाई ख़त्म होने के बाद वो अब उठकर सीधा बाथरूम में नहाने चली गई और मैं उनके बच्चों के पास बैठा था.

उस दिन सिंगल रूम खाली नहीं था तो मजबूरी में मैंने डबल्स वाला रूम लिया था.

बीएफ वीडियो बीएफ वीडियो बीएफ बीएफ बीएफ?

अब सोनल की बारी थी, सोनल ने अपना हाथ उनके लंड पर रखा और उसके साथ खेलने लगी. मेरी सेक्स कहानी के पहले भाग में अब तक आपने पढ़ा था कि मैं मेरे कॉलेज की सीनियर लड़की मालती के घर में थी, वो मेरी चूत में डालने के लिए एक डिल्डो ले आई थी. मैंने उसके पति के बारे में पूछा तो उसने बताया कि वह अपने पति के सामने शादी में जाने का बहाना करके आई है.

मजबूत शरीर और मूछों पर ताव देते हुए बोला- रेशमा कैसी हो, अन्नु कैसी हो?हमने कहा- हम तो ठीक हैं. मैंने फिर से गांड में उंगली कर दी और अपनी बाहें उसकी कमर में लेट कर उसको भींच लिया- हांआ. ”आज मैं ख़ुशी ख़ुशी अपने घर को निकल गया, आज मैं बहुत खुश था, मेरी कौशल्या से जो वासना की इच्छा थी, उस पर में एक सीढ़ी ऊपर चढ़ गया था.

सारिका की गांड को मैं जब भी याद करता हूँ तो मेरा लंड झट से खड़ा हो जाता है. चाची ने बताया कि रात को उनको घर पर अकेले में डर लगेगा तो उन्होंने मेरी माँ से कह दिया कि वह रोहन यानि कि मुझे उनके घर पर भेज दें। माँ ने भी चाची को हाँ कह दिया. उसमें वो क्या मस्त माल लग रही थी!सच में दोस्तो, इस वक्त मेरी बहन की नशीली जवानी के सामने सनी लियोनि भी फेल थी.

अनुप्रिया बोली- मम्मी का है, पापा मम्मी की चुदाई शुरू हो रही होगी, मम्मी हमें बुला रही हैं. मैंने आपको बहुत दिनों से छत पर कसरत करते हुए देखकर अपनी चूत में उंगली की है.

उधर एक भाभी रोज अपनी बाल्कनी में कपड़े सुखाने आती थी और उनसे मेरा आई कॉंटॅक्ट हो ही जाता था.

उस हिसाब से थोड़ा मैंने आने के लिए हां कहा था, पर पता नहीं राज अंकल ने इन लोगों को क्या बोला था.

मैं अकेला खड़ा होकर, बड़ा अजीब सा महसूस कर रहा था, लेकिन कर भी क्या सकता था. मेरा मन खूब चुदवाने को कर रहा था तो मैंने बोल दिया- जाओ, बुला लाओ।मेरे पति सच में चले गए तो मैं एकदम से सहम गई, मैंने उन्हें आवाज लगा कर रोकने की कोशिश की लेकिन उन्होंने मेरी नहीं सुनी. नाश्ते के समय बड़े चाचा ने पूछा कि लाइट किसने बंद की थी?तो छोटी चाची ने तुरंत कहा कि वो मुझे अजीब सा लग रहा था.

वो बोली- फिर तो मेमसाब आ जाएंगी फिर मेरी तरफ़ थोड़ा देखोगे?मतलब उसे भी नीचे आग लगी हुई थी. ओह माई गॉड … क्या कसी हुई चिकनी चूत है तेरी!” राजीव ने हैरान होकर कहा. मैं भी आह आह करता हुआ उसके ऊपर गिर गया, उसने मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया और मैं उसकी चूत के अन्दर ही झड़ गया.

जिस वक्त उसका फोन आया, उस वक्त मैं काम पर था और मैं और मेरा दोस्त, जिसका नाम आनन्द है.

मैंने सुन रखा था कि राजवाड़े के सामने बने उद्यान में गे एक्टिविटी चलती रहती है. ये सब मुझे शुरू में नहीं पता था कि लंड चूत की चुसाई में भी मजा आता है. मैंने भी ज्यादा जबरदस्ती नहीं की क्योंकि मुझे पता था कि अब तो ये मेरे हाथ में है.

ये सब देख मेरा लंड भी खड़ा हो गया और मैंने अलमारी से एक कंडोम निकाल कर और रवि की बहन को खूब चोदा. मैंने देखा देविका मैडम छाते के साथ हाथ में टिफिन लिए मेरे गेट पे खड़ी थी. इससे ज्यादा और मैंने उस समय पर कुछ नहीं किया था। जैसा उस दिन घटित हुआ था, वैसा मैंने आपको बता दिया.

पूरे गलियारे में सन्नाटा पसरा हुआ था, किसी के कमरे से आवाज़ नहीं आ रही थी.

वो अब आवाजें निकालने लगी और मेरे सिर को अपने पैरों में दबाने लगी और आहें भरने लगी. जगत अंकल कान में फिर बोले- चिंता नहीं करो वन्द्या … कुछ नहीं होगा चुपचाप बैठी रहो, किसी को कुछ पता नहीं होगा … तुम बेफिक्र रहो, ये मेरी जवाबदारी है.

बीएफ वीडियो बीएफ वीडियो बीएफ बीएफ बीएफ सलोनी सिर्फ मैरून कलर की ब्रा और पैंटी में थी जबकि मैं नीचे अभी भी कपड़ा पहने था. इस हालत में मैं बिल्कुल पागल सी हो गई और अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था.

बीएफ वीडियो बीएफ वीडियो बीएफ बीएफ बीएफ गुड़िया लगातार सिसिया रही थी- आह … आ … आऊ … बाबू स्लोली कर … दुख रहा है. उसने मुझे अपने साथ नहीं बल्कि किसी भी अन्य पुरुष, जो मुझे पसंद हो, उसके साथ सम्बन्ध बनाने का सुझाव देने लगा.

तेरी पढ़ाई कैसी चल रही है?मेरी नज़रें अभी भी मेरी प्यारी चाची के कसे हुए चूचों पर थी और चाची भी समझ गई थी, पर कुछ बोली नहीं.

सेक्सी मूवी बीएफ में

प्रिया ने अपने दोनों हाथों से मुझे अपनी बांहों में भर लिया और मुझे अपने करीब खींचने लगी. इधर जगत अंकल, छत्तू अंकल के साथ जो बड़ी-बड़ी मूछों वाले थे, उसके कानों में कुछ कुछ बोल रहे थे. मैं आज अपनी पहली सेक्स स्टोरी आप लोगों को बताने जा रहा हूँ कि कैसे मैंने अपने दोस्त की शादी में स्वीटी को पटाया और उसके साथ सेक्स किया.

मैंने उनसे पूछा कि 4 दिन मेरा खाना वाना कौन बनाएगा?मम्मी ने कहा- यह सब वंदना कर देगी. मैं कमरे के बाहर दबे पांव गया और कान लगा कर सुना कि आवाज़ कहां से आ रही है. इतनी गर्मी में उनके ठंडे हाथों की छुअन ने मेरे शरीर में सनसनी पैदा कर दी और मेरी गांड अकड़ने लगी.

तभी मैंने देखा कि उसकी पहली चूची, जिसको मैं अब तक चूस रहा था, उसका निप्पल बिल्कुल लाल हो गया था.

मेरी सेक्स कहानी के पहले भाग में अब तक आपने पढ़ा था कि मैं मेरे कॉलेज की सीनियर लड़की मालती के घर में थी, वो मेरी चूत में डालने के लिए एक डिल्डो ले आई थी. कभी वो मेरे दाने को च्युंगम की तरह खींचती, कभी वो अपनी जीभ से सहलाने लगती. इन्हीं मादक आवाजों के साथ नेहा की सिसकारियां भी कमरे में गूंजने लगी थीं.

फिर हम दोनों बेड पर आ गईं और हम दोनों ने कल की तरह दो तीन घंटे मस्ती की. कुछ देर के बाद मेरी चूत ने बहुत सारा पानी छोड़ दिया और मैं थोड़ा ठंडी हो गयी. मैंने नेहा से पूछा- फिर बोल … क्या करना है?नेहा कामुक मुस्कान के साथ बोली- हम दोनों की चुत को ठंडा करना है, बस तुम साथ दो.

लगता है कि अपने साथ तुम्हें ले जाऊं और तुम्हारे बदन से लिपटा ही रहूं. फिर करण पाल ने दस मिनट बाद लंड निकाला और उसे घोड़ी बना कर पीछे से लंड पेल दिया.

अनुप्रिया बोली- मम्मी का है, पापा मम्मी की चुदाई शुरू हो रही होगी, मम्मी हमें बुला रही हैं. अब तो मेरी बीवी उसके लंड और उसके शरीर से आकर्षित होकर खूब मजा ले रही थी. चाची बोली- बेटा, मैं तेरी चाची हूँ।मैंने अपना एक हाथ चाची की कमर पर फिराते हुए उसके पेटीकोट के अंदर से उसकी चूत पर रख दिया.

उसने कहा- ठीक है, मैं मम्मी को बोलूंगी कि आप मुझे पढ़ाने के लिए तैयार हैं.

नेहा जोर से मेरे मम्मे को दबाते हुए बोली- पागल हो क्या … हम दोनों बस में हैं. पहले तो मैंने इग्नोर किया … फिर मैं और रॉकी बिलासपुर की तरफ वापस आ गए. बातें करते हुए मैंने हिम्मत करके ज्योति से पूछा- तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड तो नहीं है न?उसने बताया कि उसे यह सब पसंद नहीं है.

नानाजी चारों तरफ टॉर्च की रोशनी से देखने लगे, लेकिन वे हमें नहीं देख पाए. अब तो मैं पूरी जान लगाकर उसका दूध पी रहा था और साथ साथ मेरा एक हाथ उसकी जाँघों पर और दूसरा पेट पर था.

अपनी दोनों उंगलियों से चाची की चूत को दबाया और फिर मैंने अपनी दोनों ही उंगलियों को चाची की चूत में डाल दिया. फ़िर हाथ फ़ेरते फ़ेरते उसने मेरे आंड को मसलना शुरू कर दिया और लंड के आस पास चाटती रही और साथ में दूसरे हाथ से मेरे निप्पल को मसलने लगी. फिर राहुल ने मेरी चूत में दोबारा से उंगली डाल दी और मेरी चूत में उंगली डालकर अंदर-बाहर करने लगा.

बीएफ वीडियो इंग्लिश हिंदी में

अपनी इस विशाल गांड वाली चाची को … आह … तू बहुत मस्त चोदता है रे!चाची की रंगीन बात सुन कर मैं और ताव में आ गया और जोर जोर धक्का देने लगा.

मैंने उसके दोनों हाथ जो मेरे घुटनों पर थे, उसको पकड़ कर अपनी जांघों के बीच लौड़े को ना छुए, ऐसे रख दिये. मैं अपने गांव गया, जहाँ चाची ने मुझे बहुत स्नेह दिया और रात को पिछली बार की तरह बदले में उन्हें प्यार दिया. कुछ ही देर बाद मेरी वासना के ज्वालामुखी फट पड़ा और मैं ज़ोरों से छूट पड़ी.

उस जगह पर चारों तरफ से बाउंड्री बनी थी और अगर कोई ऊपर आ भी जाता, तो वो हमें पहले ही दिख जाता. मैंने अपना हाथ मेरी पैंटी के ऊपर रखा, तो वह पूरी गीली हो गई थी, जैसे कि मैंने पेशाब कर दी हो. पूनम वीडियोअच्छा तो तुमको सब पता था?” कहते हुए मैंने नेहा को फिर से बिस्तर पर गिरा लिया.

मैंने कहा- क्या तुम्हें याद है कि आज मेरा जन्मदिन है?जब उसने जन्मदिन की बात सुनी तो वह खुद ही अपने आंसू पौंछने लगी. उसने दबा कर मेरे यौवन का रस चूसा औऱ पहली बार किसी लड़के का लंड देखा.

वो मेरी तरफ झुक कर पढ़ रही थी जिससे मुझे उसके टॉप से झांकती हुई चूचियों को देखने का मजा मिल रहा था. वह नींद से भरी बोलीं- आमिर, मेरी आदत मत बिगाड़ो, तुम तो कुछ दिनों में चले जाओगे और मैं तड़पती रह जाऊंगी. मगर फिर भाभी ने मुझ पर तरस दिखाते हुए मेरे एक‌ होंठ को आजाद कर दिया, जिससे मेरे हिस्से भी उनका एक होंठ आ ही गया.

मम्मी ने मेरे सर पर हाथ रखा और बोली- जोर से लगा क्या?मैं बोली- हां मम्मी, दर्द है. काफी देर की चुदाई के बाद अब हम दोनों चरम पर आ गए थे और एक दूसरे को होंठों में किस करते हुए बस अपने जोश का मजा ले रहे थे. मजबूत शरीर और मूछों पर ताव देते हुए बोला- रेशमा कैसी हो, अन्नु कैसी हो?हमने कहा- हम तो ठीक हैं.

दादाजी ने अपना हाथ सोनल की पीठ से सीने पर ले गए और उसके कड़क स्तन को जोर से मसल दिया.

उस वक्त वो साड़ी में ही होती थी और पूरी तरह से संभाल के अपने जिस्म को ढके रहती थी. मैंने इस डर से कि कहीं खाला मना न कर दें, मैंने उन्हें दबोच लिया और उनके रसीले होंठों को किस करने लगा.

तो ऊषा ने कहा- आज नीचे मत करो … कहीं बीच में ही मालकिन ने बुला लिया तो तुम्हें भी मजा नहीं आएगा … लाओ मैं आज हाथ से करके तुम्हारा निकाल देती हूं … नीचे किसी और दिन कर लेना. वो काला लंबा चौड़ा अब्दुल बोला- हां सही बोला भाई, चल बेड वाले गद्दे उठा कर नीचे डाल दे. मैं कोशिश किये जा रहा था … और प्रिया को मेरी इस कोशिश में मज़ा आ रहा था.

फिर उसने मुझे उठने को कहा और मैं भी अपनी प्यारी सहेली का कहना मानकर उठ कर बैठ गयी. मेरे धक्कों का माप बढ़ाने से एक बार तो नेहा हल्का सा कराही, मगर फिर धीरे धीरे उसके मुँह से हल्की हल्की सिसकारियां फूटनी शुरू हो गईं और उसके दोनों हाथ अपने आप ही मेरी पीठ पर आकर रेंगने लगे. उनके होंठ रखते ही जाने कैसी गर्मी मुझे होने लगी और उनकी सांसें मेरी सांसों से गरम-गरम अन्दर जाने लगी.

बीएफ वीडियो बीएफ वीडियो बीएफ बीएफ बीएफ मैंने अपना रूम शिफ्ट किया, तो एक बंगाली परिवार, जिसमें एक लड़का और पति पत्नी रहते थे. लड़की को अधूरे में कोई चोदना छोड़ दे तो वह सोच नहीं सकता कि लड़की की क्या हालत होती है.

सेक्सी चूत हिंदी

वो चिल्ला दी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…मैं रुक गया क्योंकि उसकी चूत टाइट थी और करीब 3-4 महीने से वो चुदी नहीं थी. हम दोनों ही एक दूसरे के होंठों को चूसते हुए अब अपने अपने अंगों के रस का स्वाद ले रहे थे, जो कि अजीब तो था मगर काफी उत्तेजक भी लग रहा था. आपसे कोई दिक्कत नहीं है, यह समझिए कि गाड़ी में आप दोनों के अलावा कोई नहीं है.

गांड सिर्फ़ दो बार मारने मिली थी, पर उसमें मुझे बदबू के कारण मज़ा नहीं आया था. मुझे क्रश करो … मेरे अंग अंग को चूमो, फिर चूसो, मैं सिर्फ तुम्हारे लिए ही बनी हूँ. मियां खलीफा सेक्सी मूवीइस वक्त मेरी इन कामुक आवाजों से मानो मैं मामा को चुदाई के लिए उकसा रहा था.

अब मैंने उसकी कमर पर दोनों तरफ़ हाथ रखे और ऊपर करते हुए टी-शर्ट और ब्रा दोनों एक साथ निकाल दिए.

इससे ज्यादा और मैंने उस समय पर कुछ नहीं किया था। जैसा उस दिन घटित हुआ था, वैसा मैंने आपको बता दिया. इस वक्त मेरी इन कामुक आवाजों से मानो मैं मामा को चुदाई के लिए उकसा रहा था.

करीब 5 मिनट और धक्के मारने के बाद उसकी टांगें कन्धे पर रखे रखे, मैं उसके ऊपर झुक गया और उसके होंठों को मुँह में लेकर चूसने लगा. वो भी जबरदस्त स्टेमिना वाली थी, अभी तक झड़ी नहीं थी और मेरे हर धक्के पर अपनी गांड पीछे करके मेरा पूरा साथ दे रही थी. फोटो देखी तो लंड हिनहिनाने लगा, कसम से क्या बताऊं यार आपको … एकदम गोरी चिट्टी हीरोइन जैसा फेसकट और आकर्षक शरीर की मालकिन थी.

भाभी बोली- ठीक है, तुम उसके बाजू में ही सो जाओ!मैं तो झट से मान गया.

पर तब तक वो भी डाउन हो चुका था, मैंने और मेरे दोस्त ने सहारा देकर उसे कमरे तक छोड़ा और हम अपने अपने कमरे में चले गये. भाभी के जालीदार ब्लाउज के नीचे उसकी लाल रंग की ब्रा की भी झलक मुझे दिखाई दे रही थी. पुनीत ने मेरे चेहरे पर पानी का छींटा डाला, तब मेरा होश लौटा और फिर मुझे दर्द का एहसास होने लगा.

पुणे कंपनी जॉबमेरे पापा जमीनों के बड़े दलाल थे और उस समय कमाई भी अच्छी थी, तो पैसा पापा से खूब मिल जाता था. मुझे पता चला कि उसका निकाह हो चुका था जबकि वो अभी केवल इक्कीस साल की थी.

देसी लड़कियों की बीएफ

उसके ख्वाब में मेरी मटकती हुयी मोटे चूतड़ों वाली गांड का गुलाबी छेद भी मचल रहा होगा. मैं तड़फ कर बोली- नहीं … मुझे नहीं करवाना है … प्लीज निकालो … बहुत दर्द हो रहा है, मम्मी बचाओ. अब आप बताओ कि जब ऊपरवाला ही छप्पर फाड़ कर दे रहा है, तो मैं क्यों मना करूँ.

उसकी नई-नई चूचियों को भींचते हुए उसकी चूत में लंड डालने का चस्का मुझे ऐसा लग चुका था कि मैं जल्दी ही अपने चरम पर पहुंच जाता था. दोस्तो, मेरा लंड का साइज़, तो वो ही बता सकती है, जिसने इसकी सेवा ली है. मैंने अपने हाथों से रूपा की चूत की फांकों को फैला लिया और अपनी जीभ निकाल कर रूपा की चूत के फांकों के बीच के दरार में डाल कर रगड़नी चालू कर दी.

जिसे नेहा अब जोरों से चूसने लगी और धीरे धीरे उसकी कमर की हरकत अपने आप ही तेज होने लगी. मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी टी-शर्ट को उठा रखा था, जिसे मैं बाहर निकल देना चाहता था, मगर वो तो मेरे होंठ व जीभ को चूसने में ही व्यस्त थी. फिर हमने होटेल से खाना ऑर्डर किया और यूं ही एक दूसरे से गरमगरम बातें करते हुए हंसी मजाक करते रहे.

मैं तो भाभी को देखता ही रह गया और फिर से भाभी ने अपना गिलास पूरा का पूरा केवल दारू से भर लिया. अरे …! मैं इस दवाई की बात थोड़े ही कर रहा था … म मैं …” मैं अभी उससे ये सब बोल ही रहा था.

मम्मी ने मेरे सर पर हाथ रखा और बोली- जोर से लगा क्या?मैं बोली- हां मम्मी, दर्द है.

मैं समझ ही नहीं पा रहा था कि सभी लोग मेरी जिन्दगी के साथ क्या मजाक कर रहे हैं… मुझे बिना पूछे मेरी शादी तय कर दी?फिर मैंने सोचा अकेले रहने से अच्छा है शादी कर लेना ठीक रहेगा. चीनी छोड़ने के फायदेशायद ऐसा ही हाल नेहा का था, पर वो अपना ये हाल दिखाना नहीं चाहती थी. मां बेटे के साथउस वक्त तक मुझे सेक्स का पूरा ज्ञान था लेकिन मैंने कभी सेक्स किया नहीं था. मुझे इस तरह से अपनी चूत पर लिक्विड चॉकलेट लगवा कर चटवाना बड़ा ही मजा दे रहा था.

खाला ने लंड को सहलाते हुए कहा- आज क्या बात है … ये ढीला क्यों नहीं हो रहा है?मैंने कहा- आज ये आपकी गांड मारे बिना नहीं रूकेगा.

वैसे ये अच्छा मौका भी था, मेरा वेतन भी काफी बढ़ रहा था और हमारा परिवार अब बढ़ने वाला भी था तो मैंने हां कह दी. लगभग 4 महीने हो चुके थे और एक दिन दोपहर के वक्त मेरे पास एक मैसेज आया. इसी कड़ी में मैंने उसको उसके नाम से फेसबुक पर सर्च किया, तो बड़ी मेहनत के बाद वो मिल गई.

मेरी सेक्सी कहानी के पिछले भागपड़ोसन भाभी के साथ सेक्स एंड लव-1में आपने पढ़ा कि कैसे मैं नैना के इतने करीब आ गया था हम दोनों ने एक दूसरे के होंठों के रस का मजा ले लिया था. मेरे लंड का साइज़ काफी बड़ा है, ये 7 इंच लंबा और 2 इंच पाइप के जितना मोटा है. मैं भी आलस से उठ कर खड़ा हो गया और नेहा को अपनी बाँहों में लेकर चूम लिया.

kajal सेक्स

मैं अन्तर्वासना का बड़ा फैन हूँ और इधर प्रकाशित हर चुदाई की कहानी को रोज पढ़ता हूँ. तेरी चूत में बहुत गर्मी है न, पति के होते हुए भी मुझसे चुद रही है साली. हमारे घर के अन्दर ऐसा कोई रोकटोक वाला माहौल नहीं था, इसलिए उस रात को हम सब एक साथ एक ही कमरे में सो रहे थे.

मामी की चूत में लंड डाल दिया और मामी ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाने लगीमामी के मुंह से कामुक सिसकारियाँ निकल रही थीं.

मैंने देखा कि वो रेड कलर की साड़ी में क्या कयामत लग रही थी और रेड कलर का ब्लाउज भी क्या बताऊं … उसको कितना मादक बना रहा था.

पहले तो वंदना को मुझसे बात करने में शर्म आ रही थी लेकिन थोड़ी देर बाद वह भी मुझसे ऐसी बातें करने लगी. मैंने उससे पूछा- क्या तुम तैयार हो?वो कुछ पल के लिए सोच में पड़ गया. कर्नाटका सेक्सीतो हमने स्लीपर बस में सीट बुक करवा ली और हमें एक डबल स्लीपर सीट मिल गयी.

मैं और मेरी पत्नी बहुत खुले विचारों के हैं, हमको अगर कोई लड़की या शादीशुदा औरत इस तरह की मिलती है तो हम दोनों ही साथ में उसकी चुदाई करते हैं. क्योंकि उनका एक बार स्खलित हो‌ चुका था और इसके लिए जो‌ भी मेहनत थी, वो सारी खुद भाभी ने ही की थी. अब तक उसका लंड पूरा खड़ा हो चुका था और उसने तुरंत उसे मेरे मुँह में पेल दिया.

बस एक मिनट में मुझे जोर जोर से रगड़ने के बाद अनवर के लंड का गरमा गरम लावा छूटने लगा और मेरी चूत में पूरा रस भर गया. फिर क्या था … पति ने वैसलीन की डिब्बी उठाई और थोड़ी सी वैसलीन लेकर उंगली के जरिये मेरी गांड में डालकर उंगली अन्दर बाहर करने लगे, जिससे मेरी गांड खुल गई और मेरे पति की उंगली मेरी गांड में आसानी से अन्दर बाहर होने लगी.

करीब रात 9 बजे उसका व्हाटसएप में मैसेज आया कि आज आप भी बहुत हैंडसम दिख रहे थे.

मेरी हां सुन सुखबीर पूरी तरह से व्याकुल हो गया, पर इधर पति दोबारा कब जाएंगे, अभी उसका भी कोई ठिकाना नहीं था. अब अंकल मेरी चूत के पास के बालों सहलाने लगे और इधर एक हाथ जो पीछे से लाए थे, उससे समीज के ऊपर से ही मेरे मम्मों को धीरे धीरे दबाने लगे. फिर वो मुझसे हाथ छुड़ा कर चली गयी और मैं भी सीधे बाथरूम में गया और मुठ मारने लगा क्योंकि मेरा लंड खड़ा हो चुका था.

सेक्सी फिल्म 2000 की हम दोनों ने फिर एक बार चुदाई की और वो मेरे कान में बहुत प्यार से बोली- प्लीज़ मुझे छोड़ कर कहीं मत जाना. तो मैं बोला- आप कल रात में क्यों रो रही थीं? कोई प्राब्लम हो गई थी क्या भाभी जी?भाभी जी बोलीं- नहीं आशिक.

फिर मैंने पूछा- क्या काम है?उसने तेज़ आवाज़ में कहा- तुम मेरे साथ दोपहर में क्या कर रहे थे?मैंने धीमी आवाज़ में जवाब दिया- क्या … क्या … कर रहा था मैं?उसने कहा- मेरी चूत के साथ क्यों खेल रहे थे?उसके मुंह से यह बात सुनकर तो मेरे होश ही उड़ गए। मैं चुपचाप वहीं पर खड़ा रहा। उसने फिर हँसना चालू किया और मैं उसे देखता रह गया. उनमें से एक बंदे ने मुझे अपनी गोद में उठाया और झोपड़ी में लेकर गया. तब नीरू ने मेरी पत्नी से कहा- जीजी, आप इसकी दोनों टांगों को चौड़ा करके फैला लो और मैं ऊपर इसके बूब्स और मुंह के पास जाती हूं ताकि इसे दर्द का अहसास कम से कम हो!तभी मेरी पत्नी ने मुझको मेरे कान में कहा- यह इस तरह आपको घुसाने नहीं देगी, आप अपना आधा लंड एक ही झटके में इसकी बुर में डालो और तुरंत लंड बाहर निकाल लेना ताकि इसकी झिल्ली फट जाए.

बीएफ दिखाओ

दस पंद्रह औरतों ने मुझे घेर रखा था … और उनके ब्वॉयफ्रेंड मुझे खा जाने वाली निगाहों से देख कर जल रहे थे. अब तक की इस मस्त सेक्स कहानी में आपने पढ़ा था कि नेहा अब खुलती जा रही थी उत्तेजना के वश उसने अब शर्म हया छोड़ दी और खुद ही अपनी चुत को मेरे मुँह पर घिसना शुरू कर दिया था. इससे मेरा काम‌ अब और भी आसान‌ हो गया‌ था क्योंकि अब प्रिया नेहा और सुलेखा भाभी तीनों को ही‌ एक‌ दूसरे के‌ बारे में मालूम हो गया था कि उनके मेरे साथ चुदाई के सम्बन्ध हैं‌ और तीनों को‌ ही‌ इससे शायद कोई‌ ऐतराज भी नहीं था.

हम इसी तरह ऑटो, सी-बीच और जहां भी मौका मिलता किसिंग और चुची दबाने या लंड सहलवाने का कार्यक्रम शुरू कर देते. अब मैं तेल की शीशी लेकर आया और वंदना की गांड पर लगा कर थोड़ा सा अपने लंड पर लगाया.

अब मैं रूपा की एक चूची दबा रहा था और एक मुँह में लेकर चूस रहा था, रूपा मस्ती में ‘सी … आऽऽहहह.

मेरी इस मस्तराम सेक्स स्टोरी के पहले भागगांव वाली साली की सहेली को चोदा-1अब मैंने उसके निप्पल को मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया. उधर पीछे नजर घुमाई तो जगत अंकल तो पूरा पेंट उतारे हुए हाथ से लंड रगड़े जा रहे थे. प्रिया ने नीचे ब्रा नहीं पहनी हुई थी इसलिये टी-शर्ट के निकालते ही, अब मेरे सामने दो आज़ाद सफेद कबूतर उछलने लगे.

मेरे मन की तो मानो मुराद पूरी हो गई और मैं बाइक पर सवार हुआ और उड़ते हुए सोहन के घर पहुंचा. उसने अपना मुँह मेरे चेहरे की तरफ किया, उसकी गर्म सांसें साफ सुनाई दे रही थीं. यही कोई 10 किलोमीटर का रास्ता काटा होगा कि पूजा का फोन आया और वो बोली कि आप मिरज को मत आओ, मैं सीधा सीटी में ही पहुंच जाऊंगी … उधर 10-30 तक आ पाऊंगी.

हम दोनों कभी कभी मिल तो लेते हैं, लेकिन चाची के संग दुबारा सेक्स सिर्फ़ एक बार ही करने का मौका मिला था.

बीएफ वीडियो बीएफ वीडियो बीएफ बीएफ बीएफ: उसके मुँह से एक आह निकली और उसने मेरे लंड को अपनी चूत में जज्ब कर लिया. मेरी बहन की बात से मैं गुस्सा तो था लेकिन तब भी इस बात को जानता था कि मेरी दीदी हॉस्टल में लड़कों के कितने लंड ले चुकी है.

मैंने उससे जानना चाहा कि रोज चूत का इंतजाम कैसे होता है?तो उसने मुझे बताया कि वो अपनी भाभी को भी चोदता है. मैंने उसे बेड पर लिटाया और अपना हाथ धीरे से उसके चूचुक तक पहुंचा दिया. मैं ब्रा के ऊपर से ही उसके दूध पीने लगा, मालिनी मेरे लौड़े से खेलने लगी.

मैंने धीरे से उसे बेड पे लिटाया, उसने झट से अपनी करवट बदल ली और दूसरी तरफ घूम कर लेट गयी.

मेरे मुँह से भी गरम चुदासी आवाजें निकल रही थीं- आआह्हह … आआह!फिर मैंने प्रमिला को कमर से पकड़ कर ऊपर उठा के अपने पेट से चिपका के उल्टा उठा लिया, जिससे प्रमिला का मुँह मेरे लंड की तरफ और प्रमिला की चुत मेरे मुँह की तरफ हो गई. यानि‌ कि‌ सुलेखा भाभी‌ को‌ भी अब नेहा और प्रिया के साथ ये सब करने से कोई ऐतराज नहीं था. आपको भाई बहन की सुहागरात की कहानी कैसी लगी, उसके लिए कमेंट्स कीजिये.