बीएफ नेपाली में

छवि स्रोत,हिंदी में सेक्सी फुल वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

कपड़े कैसे सिलते हैं: बीएफ नेपाली में, लौंडों की भी मारी, लौंडियां भी चोदीं और का बताऊं अपन से बड़ी उम्र की भाभियन की चूत भी खूबई चोदीं और जो आपकी मारके गऔ ऊकी गांड भी मारी.

निरहुआ हिंदुस्तानी 2

बहुत दिनों के बाद समझ आया कि जब तक हिम्मत नहीं करूँगा तब तक तो हाथ से ही काम चलाना होगा. हिंदी वीडियो सेक्स मूवीअब मॉम ने इस बार फिर से हाथ को अन्दर ही हटा दिया और थोड़ा साइड में सरक कर उस कज़िन से बोलीं- क्या हुआ तुझे? क्या कर रहा है?वो मॉम को देखने लगा, मॉम उसको देखने लगीं.

मेरे अब्बू की निगाहें उनकी जवान बेटी के सेक्सी बदन पर जैसे गड़ सी गई थी. पंजाबी वीडियो सेक्सी एचडीसागर- मेरे लंड का पानी? कब चखा?मीना- जब भाभी की चुत साफ कर रही थी, तब भाभी ने वहाँ अपनी चुत से तुम्हारे लंड का पानी निकाल के मेरे मुँह में चाटने को दिया था.

जब से मैंने उसके मम्मों को देखा था तो मेरा तो मन ही डोल गया था, मैं उसे अगली बार पढ़ने के लिए कह कर निकल आया.बीएफ नेपाली में: मैंने भी भाभी की चुत में उंगली डाल कर उनकी चुत को सहला कर मजा ले लिया.

लेकिन दो मिनट बाद ही मैंने उसे रोक दिया क्योंकि इससे तो मेरा स्खलन हो जाता.नशे में धुत्त पार्टी में कोई भी लड़का मुझे लाइन देता, मैं बहाना करके उसके साथ कभी कार में, तो कभी वाशरूम में चली जाती.

सेक्सी पिक्चर इंग्लिश पिक्चर - बीएफ नेपाली में

लेकिन मैंने उसके दोनों हाथ पीछे करके पकड़ लिए और धीरे धीरे उसकी गांड मारने लगा.मैं थोड़ी देर वहीं रुका रहा और उस को किस करता रहा, उस के चूचों को दबाता रहा.

थोड़ी देर बाद बस रुकी और लोग नीचे उतरने लगे, वो सभी दारू के लिए उतरे थे. बीएफ नेपाली में थोड़ी देर में फिर मैंने देखा कि भाभी कहीं दिख नहीं रही हैं तो मुझे लगा कि किसी काम से अन्दर गई होंगी.

भाभी के इतना समझाने पर राहुल ने अंजना को छोड़ा, अंजना ने अपने पर्स से लिपस्टिक निकाल कर अपने होंठों को ठीक ठाक सा किया और होटल से निकाल कर अपनी गाड़ी में बैठ कर घर लौट आये.

बीएफ नेपाली में?

उस दिन मुझको मोनिका को ऐसे उत्साहित देख कर लगा कि वो मुझको लाइक करती है. ”उस दिन मैं तुम्हारे हॉस्टल की फीस घर का रेंट और बाकी सब खर्चों को लेकर काफी परेशान थी. पहले किसी को सिखाना तो चाहिए न!इस पर चाची बोलीं- अरे मैं हूँ न… मैं तुम्हें सब कुछ सिखा दूंगी, पर आज रात को सब सो जाने के बाद.

मैंने उसके चूतड़ों को पकड़ कर थोड़ा सा ऊपर किया और छोड़ दिया, जिससे उसे अच्छा लगा क्योंकि लगता था कि इस तरह से चुदाई का ये उसका पहला अनुभव है. अगले दिन मुझे उसकी कजन ने प्रपोज कर दिया, पर मैंने उसे मना कर दिया क्योंकि एक तो मुझे वो पसंद नहीं थी और दूसरा उसको हां करने से ये चली जाती और बने बनाये काम की माँ चुद जाती. उन्होंने मुझे सब बोल दिया कि राहुल ने उसके साथ ऐसा किया और वो प्रेग्नेंट हैं.

रात में करीब 2 बजे मैंने मम्मी को हिला के चेक किया कि मम्मी सोई या नहीं… मम्मी उस समय गहरी नींद में थी. उसने मुझे थैंक्स बोला, फिर उसने कोई नम्बर मिलाया और वो फ़ोन पर बात करने लगी. उसे देख कर मैं सोफे पर से अपनी ब्रा उठा कर पहनने लगी।पर रोहण ने कहा- रहने दो माँ, ठीक है ऐसे ही।मैंने ब्रा नहीं पहनी.

मेरी गांड फटने लगी कि अगर भाई को भाभी ने सब बात दिया होगा, तो मेरी कितनी बेइज्जती होगी, मैं ये सोच सोच कर घबराने लगा. भाभी अब मुझे पकड़ कर नीचे करने लगीं, मैं समझ गया और नीचे भाभी का पेटीकोट उतार कर फेंक दिया.

अब सुभाष की हालत ऐसी थी कि उसको सिर्फ़ बेड पर ही लेटा रहना पड़ रहा था.

वौ तौ आपसे भी गांड मराबे तैयार हतो, आप मानेई नईं, आपको मैं पसंद आ गऔ.

मैंने उसकी गांड मारने की भी सोची लेकिन उसने कहा कि कल गांड का उद्घाटन करवा लूँगी. मैंने लंड निकाल लिया और उसकी चुन्नी से उसकी चूत और अपने लंड को साफ कर दिया. मेरे यूं उससे दूर हटते ही बहूरानी जी को जैसे हिस्टीरिया कर दौरा पड़ा हो, उसका सिर बर्थ पर दायें बायें होने लगा… उसके मम्में सख्त हो गये और निप्पल फूल कर भूरे अंगूर की तरह नज़र आने लगे.

आपको किसी चीज की जरूरत होगी तो प्लीज आप हमें फोन कर दीजिये, आपका वीकेंड हैप्पी हो. मैंने वो गाढ़ा पानी अपने हाथ में लिया और मीना के मुँह के पास लेकर उसको चाटने को कहा. मैं- याद है मुझे, मिनी वाली बात है ना?मैंने ये सोच कर कि अमित अभी कुछ और बताएगा ऐसा जानबूझ कर लिखा.

कुछ ही देर में मुझे काफी नशा हो गया था और निहारिका को भी नशा चढ़ गया था.

टेक फर्स्ट ईयर में एडमिशन लिया था मेरी सुंदरता और मेरे फिगर को देख कॉलेज के सभी स्टूडेंट मुझे आँहें भर कर देखते थे. वो दोनों हाथों से बस का ऊपर वाला डंडा पकड़ कर खड़ी हो गईं और उनका लड़का हमारे बीच में आ गया. मैं जब भी भाभी का चुम्बन लेने के लिए आगे बढ़ता तो भाभी अपने दोनों हाथ अपने गालों पर रख लेती.

उसको घर लाने से पहले ही रास्ते में मैंने कॉंडम का एक पैकेट ले लिया था. उस समय मुझे सेक्स की समझ तो थी पर मैं अनुभवी ना होने के कारण से मैं भाभी की कामुकता से भरपूर हरकतें समझ नहीं पाया. वो बोलीं- बस सेवा ही करना, मेवा मत खा जाना…भाभी ये कहते हुए हँसने लगीं.

लेकिन धीरे धीरे वक्त के साथ जब मैं जवान हुई तो मेरे अन्दर कई तरह तरह की गरम गरम फीलिंग आने लगी, मैं रातों में सेक्स के लिए तड़पने लगी.

” रूपिका ने मन में सोचा।रूपिका- गुड इवनिंग पापा।विक्रांत- गुड इवनिंग बेटा। तो तुम रश्मि से मिल चुकी हो. कहानी कुछ यूं शुरू हुई कि हमारा घर काफी बड़ा है, घर के पिछले हिस्से में एक और गेट है, जो एक गली की ओर खुलता है.

बीएफ नेपाली में मैं अपनी सास को बताया कि वो आज नहीं आ सकती लेकिन परसों आ सकती है, अगर आप कहें तो उसे परसों आने के लिए कह दूँ?मेरी सास थोड़ी मायूस सी दिखी, फिर बोली- चलो, परसों ही सही, बुला लो उसे!मैंने रिया को अपनी ससुराल का पता बताया और समझाया, और फिर वह दो दिन बाद मेरे घर आ गई. वो मुझसे अपनी चूत चुसवाते हुए सीत्कार रही थी- आह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्ह ऊह्ह्ह ओह्हह्ह मेरा राजा ये तुम क्या कर रहे हो.

बीएफ नेपाली में फिर उसने मुझे खाना खिलाया और घर ले जाने लगा कि रास्ते में मेरे हाथ पर अपना हाथ रख दिया. कल तो 6 इंच का लग रहा था, अब लगभग 7 इंच का है और मोटा भी हो गया है.

सुष्मिता ने मेरे लंड को देख कर कहा कि तुम्हारा तो बहुत ही बड़ा लंड है.

अच्छी सी डीपी

कहानी का पिछला भाग:रानी से रंडी बनने का सफर-1अभी तक मेरी सेक्सी कही में आपने पढ़ा कि आर्थिक तंगी के कारण मुझे अपनी शानो शौकत, बड़ा घर छोड़ कर एक छोटे घर में आना पड़ा. मैंने मॉम की गांड में थूक लगाया और लंड को उनकी गांड के छेद पे रख के घुसेड़ दिया. कुछ देर बाद मामी ने लंड को मुँह में ले लिया और वे पूरी तरह से कामुक होकर लंड चूस रही थीं.

उन्होंने मुझे लिटा दिया, औंधा कर दिया, अपनी भी पैन्ट और अंडरवियर उतार कर खूंटी पर टांग दिये. वो बोला- साले बाहर तो लड़कियां सैट करता फिरता है और तेरे घर के आगे से नदी बह रही है और तू डुबकी नहीं लगा रहा. मैं- चाची, मैं आपसे एक बात पूछूँ… वो आपकी अलमारी के ऊपर कौन सी किताब है?चाची- कौन सी वाली?मैं भी कहां मानने वाला था.

पहले तो मैं डर गया, पर ये क्या… वो तो खुद मेरे हाथ को अपनी चुत तक ले गईं.

आपके लंड में उतना दम नहीं है!मेरे पति बोले- तू रंडी है, तेरी चुत नहीं. बहुत ज्यादा मजा आ रहा था मुझे!फिर कुछ देर बाद मैंने आंटी को बिस्तर पर लेटाया, उनके चूतड़ों के नीचे एक तकिया रखा और उनकी साफ़ चूत चाटने लगा. उसने घर का दरवाजा खोला और अन्दर आकर हॉल में घुसते ही देखा तो… यह क्या…? उसे तो अपनी आँखों पर यकीन ही नहीं हुआ कि उसके घर में ये कामुकता का खेल चल रहा था.

ससुर जी अपनी जीभ को मेरी मम्मी की चूत पर रख कर चाटने लगे।मम्मी बे काबू होने लगी, वो अपने चूतड़ उछालने लगी, सिसकारियां भरने लगी- आआह… ज़्ज़ज़्ज़्ज़… हां… ससीईई… हां… अपनी समधन को आज खुश कर दो! आआह… धीरे… मैं गयी!फिर मम्मी ससुर जी के मुँह में झड़ गयी, ससुर जी उनका नमकीन अमृत पीने लगे. अब तक आपने इस इंडियन सेक्स स्टोरी के पिछले भाग में पढ़ा था कि मैं अपने गाँव गई हुई थी, मेरे गाँव में एक लड़के ने मुझे पकड़ लिया था और मेरी गांड की तरफ से मेरी जाँघों में लंड रगड़ कर माल निकाल कर भाग गया था. वह मेरे घर से 3 किलोमीटर पहले एक कॉलोनी में अपनी एक सहेली के साथ, जो कि उसके साथ ही कंपनी में काम करती है, एक डबल रूम फ्लैट में रहती है.

फिर मंजरी ने, फिर पुलकित ने, फिर मंजरी ने और इस तरह चुंबनों के आदान प्रदान का सिलसिला ही चल पड़ा. मैं पहले आपको उसके बारे में बता देता हूँ, उसका फिगर 34-28-34 का है, वो देखने बहुत ब्यूटीफुल है.

इस सेक्स स्टोरी में अभी तक आपने पढ़ा कि ठरकी ससुर दिनेश ने कामुकता की मारी बहू आरुषि की चूत चोद दी. तभी वो भी मेरे सामने टेबल पर चढ़ गईं और बिल्कुल मेरे सामने ही उनके चूचे आ गए. लगभग 5 मिनट के बाद मैं हाथ उसकी चड्डी के अंदर लेकर गया तो पता चला उसकी चूत पर बहुत झाँट थी.

घर दिखाने तो हम भी साथ जा सकते हैं, वो अकेला क्यों गया है और तब तक हम क्या बाहर खड़े होकर झक मारें?राजीव- अरे इसको क्या पूछता है, ये तो उसी की बोली बोलेगा.

मेरे पेरेंट्स रोज ऑफिस जाते हैं इसलिए कई बार तो मैं घर में बिल्कुल अकेला ही होता था. उसने बोला- हाँ बोल?मैंने बोला- मुझे तेरे साथ एक बार लिप किस करना है. हम दोनों महीने के आखिरी हफ्ते में एक दूसरे के साथ खूब मस्ती करते हैं.

मैंने नोटिस किया कि मेरा खडा लंड देख कर भाभी का चेहरा कामुकता से लाल हो गया था. वो पढ़ने लगी, दिव्या की एक्टिविटी से नहीं लगता था कि उसे अमित ने कुछ भी बताया हो.

कहानी कुछ यूं शुरू हुई कि हमारा घर काफी बड़ा है, घर के पिछले हिस्से में एक और गेट है, जो एक गली की ओर खुलता है. तब उन्होंने कुछ याद आया और मुझे मना किया कि अभी नहीं करो क्योंकि मेरा बेटा बाहर खेल रहा है. वह नंगा खड़ा था, उधर पेंट में से जीजाजी अपना लंड निकाल चुके थे, उनका मस्त लम्बा लंड तनतना रहा था.

पत्नी का सेक्स

असल में मैंने कमीज़ ऐसी पहनी हुई थी, जिसमें से मेरी गहरी क्लीवेज नज़र आ रही थी.

कुछ दिन बाद क्लास स्टार्ट हुई लेकिन वो कुछ दिन तक क्लास में नहीं आई. मैंने जल्दी से दीदी के सर को पकड़ा और दीदी के लिप्स को किस करने लगा, दीदी के साफ़्ट लिप्स मेरे लिप्स में क़ैद हो गये और मैं बड़े प्यार से उनके लिप्स का रस पीने लगा, दीदी पूरी तरह नंगी थी और मेरे नंगे बदन पर लेटी हुई थी, दीदी के बड़े बूब्स मेरी छाती से दबे हुए थे, मेरे दोनों हाथ दीदी की नंगी पीठ को सहला रहे थे।जबकि दीदी के दोनों हाथ मेरे सर पर बड़े प्यार से घूम रहे थे. मेरी मॉम की ऊपर को उठी हुई गांड की थिरकन को यदि पीछे से कोई देखे तो उसका कलेजा हिल जाए.

पुलकित भी हंस दिया- ओ के जी, तो क्या हम दोनों चॉकलेट और कचोड़ी एक साथ खा सकते हैं?मंजरी बोली- हाँ, क्यों नहीं!तो पहले तुम मुझे चॉकलेट खा कर दिखाओ!” पुलकित बोला. इसके बाद मैं आगे बढ़ा और उसकी सलवार में हाथ डालने लगा, तो उसने डालने नहीं दिया. मद्रासी सेक्सी पिक्चर वीडियोमैं एकदम से उछल पड़ी और चचा जान के बालों में हाथ डाल के उनके होंठों को जोर से काटने लगी.

मैंने कहा- अन्नू मेरी जान, तेरी चूत के चक्कर में मेरा लंड फूल कर कुप्पा हो गया है. विवेक मुझे अपने एक दोस्त के घर ले गया, उसने अपने दोस्त को फोन कर दिया कि हम पहुँचने ही वाले हैं.

उन्होंने मुझसे से कहा कि मैं दो दिन बाद ही आऊंगा तब तक सबका ध्यान रखना. पहले वो मेरी तरफ गुस्से से देखती रहीं और फिर भीड़ के कारण मेरे पास आकर खड़ी हो गईं. तुझे भी लंड चाहिए, तू नहीं लेगी तो इस तरह बिन पानी की मछली की तरह तड़पेगी.

मेरे प्यारे दोस्तो, मैं आपकी माया… मेरी पिछली चोदन कहानियों के उत्तर में मुझे आपके ढेर सारे आपके मेल मिले, मैंने सभी मेल पढ़े, लेकिन मैं सभी के जवाब नहीं दे सकी, पर दोस्तो, मैं आपके सभी मेल एकदम ध्यान से पढ़ती हूँ. बात गड़बड़ तब हुई, जब वो इनके घर एक रात रुका और सबके सोने के बाद मोनिका से मिलने की जिद करने लगा, जो मोनिका को गंवारा नहीं हो रहा था. मैंने अपनी चूत के बाल पहले से ही साफ़ करके रखे हुए थे कि मौक़ा मिलते ही भाई को अर्पित कर दूंगी अपनी चिकनी चूत!भाई मेरी चिकनी चूत चाट रहा था और मेरी तो हालत खराब हो रही थी, मेरे मुँह से आवाज़ निकलने लगी- आआअहह ऊहमम्म्म.

मैं- अच्छा अच्छा बोलो क्या करना होगा?महेश- अभी नहीं… छुट्टी के बाद ओके.

मुझे अपने पुरूषत्व पर शक हो रहा था और भाभी मुस्कराते हुए अपने कपड़े ठीक करके चली गईं. अदिति बेटा तेरे बदन की पोर पोर दुखने लगेगी और बुरी तरह थक जायेगी तू और मेरी तो कमर ही अकड़ जायेगी उठते बैठते.

अब मैंने उसे कमोड पर झुकाया और पानी की बौछारों के बीच हमारी चुदाई एक बार फिर से शुरू हो गई. फिर वो एक हाथ पीछे ले गया, मुझे घुमा दिया तो मैंने देखा कि वो एक हाथ से अपनी अंडरवियर निकाल रहा था. अब हम दोनों एक हो गये थे और वो चीखने चिल्लाने लगी थी और वो अपने दर्द से कराह रही थी.

फिर हम पहले की तरह लाइफ एन्जॉय करने लगे, पर जब भी हम आनन्द नाम सुनते तब वो समय कांटे की तरह चुभता. भाभी का नेचर मुझे कुछ अटपटा सा लगा क्योंकि वो भैया से लड़ाई सी लड़ती रहती थीं. दूसरी ड्रेस थोड़ा ज्यादा नीचे तक थी, घुटनों से थोड़ा ऊपर और इसकी खासियत यह थी कि इसमें बाईं तरफ वाला हाथ पूरी तरह से कपड़े दे ढका हुआ था.

बीएफ नेपाली में मैं उसे अपने केबिन में ले गया और कंप्यूटर पर बेसिक चीजें समझा कर मार्केट निकल गया. यह देख कर मैंने तपाक से सिराज का लंड अपने मुँह में लिया और जी जान लगा कर उसे चूसने लगी.

लड़की की पहली बार चुदाई

मामी की चुदाई की कहानी आपके कमेंट आने के बाद लिखूँगा, कमेंट करना ना भूलें. दोनों ड्रेस मुझे बहुत अच्छी लगीं और पसंद भी आईं, पर इन किसी भी ड्रेस में ब्रा नहीं पहनी जा सकती थी. मैं बोला- प्लीज एक बार डालने दो!बहुत बोलने के बाद वो तैयार हुई।मैंने क्रीम निकाली और अपने उंगली पर लगा कर उस की गांड में अंदर लगाई, मैंने खूब सारी क्रीम उस की गांड के अंदर और अपने लंड पर लगाई और दोनों हाथों से उस की गांड को फैला कर लंड उस की गांड में डालने लगा.

भाभी बोलीं- अब सर ही हिलाता रहेगा या अब मुझे गरम भी करेगा?मैंने भाभी से कहा- मुझे नहीं आता आप ही बताओ?भाभी ने अपना माथा पकड़ लिया और बोली कि मैं किस अनाड़ी के चक्कर में पड़ गई?मैं उनकी तरफ चूतियों सा मुँह बाए खड़ा था. उसने मुझे रोकने की बहुत कोशिश की लेकिन मेरे ऊपर तो चुदाई का भूत सवार था. स्त्री की कामोत्तेजना बढ़ाने की दवाउसने वो मुझे देते हुए कहा- तुम ड्रेस बदल लो, इसमें तुम्हें परेशानी होती है.

मैंने विवेक का लंड कई बार चूसा था पर आज उसका लंड कुछ ज्यादा ही तना हुआ सख़्त लग रहा था.

इन दो अंडर गारमेंट्स में उनके मोटे मोटे चूचे और बड़े बड़े चूतड़ देख के लंड खड़ा होने लगा. लेकिन मेरा ये मानना है कि उसको कोई भी एक बार देख ले तो उसकी चूत को कुल्फी की तरह चाट चाट कर ही चुदाई करेगा.

और भी थे… अब किस किस का नाम लूँ!ट्रेन अपनी रफ्तार से चली जा रही थी. मुझे फेसबुक पर चैटिंग करने का बहुत शौक है इसलिए मैं अधिकतर समय फेसबुक पर ही ऑनलाइन रहता हूँ. इस तरह से मैं एक बार फिर अविनाश के अलावा अनजान लड़कों से जम कर चुदने लगी.

क्या करें पर लौंडे बाज लंड को ऐसे ही माशूक लौंडे पसंद आते हैं, क्या करें, लंड की टक्कर झेलना आसान तो न था पर गांड को आदत पड़ गई गांड मराने में दर्द तो होता! पर मराते मराते धीरे धीरे आनन्द आने लगा, मैं ज्यादा ही माशूक था और माशूक लौंडों को गांड मराना ही पड़ती है.

ओह्ह्ह… फिर क्या बताऊँ दोस्तो, मेरी बहन उछल उछल कर चुदवाने लगी, उसके मुँह से आअह आआह आआअह उम्म्ह… अहह… हय… याह… उफ्फ्फ. काजल ने फिर से एक बार अपनी चूत में लंड से निकला हुआ गरमागर्म वीर्य महसूस किया, पर इस बार ये वीर्य उसके छोटे भैया के लंड से निकला हुआ था. मगर मैंने उन्हें छोड़ा नहीं, मैं ऐसे ही उन्हें अपनी बांहों में भर कर उनसे लिपटा रहा.

जापान सेक्स मूवीफिर मैंने उसको बेडरूम में लाकर बेड पर लिटा दिया और उसके ऊपर चढ़ गया. मैंने उसका लंड पकड़ कर ऊपर नीचे करना चालू किया।इधर सिराज मुझे बेतहाशा रौंद रहा था.

दुर्गा मां का गीत

तभी मेरे घर की डोरबेल बजी, हम दोनों डर गए, मैंने उसे जल्दी से बाथरूम में भेजा और खुद देखने गया कि कौन है. थोड़ी देर के बाद मेरा लंड पकड़ कर धीरे धीरे अपनी चुत के अन्दर घुसाने लगी. मैं अभी लंड चूस ही रही थी कि उसने पिचकारी छोड़ दी, जो पूरी कि पूरी मेरे मुँह में भर गई.

मैं बस उसके पीछे किसी कठपुतली की तरह चल दी और वहां से कॉलेज के पीछे की तरफ गार्डन एरिया है, जहां काफ़ी पेड़ हैं, वो वहां जाकर रुक गया. इस तरह हमारा प्रोग्राम सेट हो गया और मैं छह दिसम्बर की सुबह बैंगलोर जा पहुंचा. तुम कहो तो बंद कर दूं निकाल लूं?एक और चुम्बन लिया वह थोड़ा मुस्कराया.

उधर मेघा ने संजय को पार्क में बुलाया और उससे मिलने गई उसने टाइट टॉप और स्कर्ट पहना था. )मैंने अब शॉट नहीं मारा, मैं रुका रहा, उसका दर्द जब कुछ कम हुआ तो मैंने धक्का मार कर लंड पूरा अंदर डाल दिया. उसने मयूरी की ब्लैक कलर की पैंटी को उसकी चूत के ऊपर से हटाया और देखा कि मयूरी की चूत बहुत गीली हो चुकी थी.

भाभी मेरे लंड के तगड़े झटकों से पागल होने लगीं और ‘अह्ह्ह… उम्म्ह… अहह… हय… याह… ईईआह्ह्ह. फिर हमने पार्टी एन्जॉय की, विक्की ने मेरे साथ मेरी कमर में हाथ डाल कर, मेरी पीठ पर हाथ लगा कर बहुत डांस किया.

मेरा लंड टाइट हो गया था, जो मैंने उसके चूतड़ों पर लगा दिया और खड़े खड़े ही लंड रगड़ने लगा.

आप गाड़ी कैसे चला सकती हैं? ए जगत, वो दूसरी लड़की को देखना तो!जगत नाम का पुलिसिया लपक कर रिया के पास आया तो रिया ने खुद ही मुँह खोल दिया। दो पल उसकी सुंदरता देख कर जगत ने ऐलान कर दिया- ये लड़की भी बहोत पी हुई है जनाब!तब तक एक बन्दे को हमारी पिछली सीट पे पड़ी हुई बोतलें दिख गयी तो और बवाल मच गया. हिंदी सेक्स मूवी हिंदी मेंऔर मैंने भाभी के होंठों पर अपने होंठ रख दिए, भाभी के ब्लाउज के ऊपर से चुचे दबाने लगा. गांव वाली सेक्स वीडियोउसकी बात सुन के माया को होश आया के वो क्या कर रही थी और उसका चेहरा शर्म से लाल हो गया. जब मैंने टांगें चौड़ी कर लीं तो उन्होंने मेरी कई सारी फोटो निकाल लीं.

मैंने बैठकर लंड मुँह में ले लिया और थोड़ी देर चूस कर बोली- जल्दी करो.

लेकिन उनकी कामुकता परवान चढ़ी थी तो वो मेरी मैक्सी के ऊपर से मेरी चुचियों को दबाने लगे. उसने मेरी बेक पर किस की, तब मुझे ऐसा एहसास हुआ कि मैं जन्नत में आ गया हूँ।अब उसने मुझे सीधा कमर के बल लिटा दिया और अंडर वियर के ऊपर से ही मेरे लोड़े पर किस करने लगी, फिर उसने धीरे से मेरा अंडरवियर भी उतार दिया और मेरे लोड़े का सुपारा मुँह में भर लिया. मैं सफेद और रेड कॉंबिनेशन का सलवार सूट पहन कर कॉलेज गई तो सबकी नज़रें मुझे ही घूर रही थीं.

पापा जी ई ई… मुझे अपने लंड से चोदिये ना प्लीज!” बहूरानी अपनी आँखें मूँद कर अपनी कमर उठा कर बोली. फिर मैंने टिश्यू पेपर लेकर उसको अच्छे से साफ़ किया और थोड़ी देर तक वैसे ही टेबल पर चिपके पड़े रहे. मिलने क्यों नहीं आती?मैं बोली- वो छोड़ो, तुम्हें मेरा एक काम करना है.

नाभि मसाज

तभी उस लड़के ने अपनी पत्नी को गोद में बैठा लिया और उसके होंठ चूसने लगा. मुझे बेड पर लिटाया, फिर प्यार से मेरे पैन्ट खोली, फिर चड्डी उतारी और मेरा लंड पकड़ कर सहलाने लगीं. कुछ देर बाद धीरे धीरे वो मुझ से खुलने लगीं, तो हमारे बीच सेक्स की बातें होने लगीं.

उस समय के बाद काया भाभी का नेचर एकदम से बदल गया मतलब उनका उदास चेहरा खिल सा उठा.

माया के 36C के भारी भारी मम्मे अंकित के हर धक्के से ताल से ताल मिला रहे थे.

उस दिन मैं तुरंत अविनाश के साथ बाइक से एक पार्क में गई और वहां झाड़ियों की आड़ में उसके लंड को निकाल कर चूसने लगी. एक धर्म में तो रिश्तों में चुस्त चुदाई का खेल खुल्लम खुल्ला चलता है, तो हम में क्यों नहीं?मेरे घर वाले पुराने ख्यालात के हैं. विवाह पिक्चर फुल एचडीफिर हम दोनों तैयार हो कर कोचिंग चले गए और अब मुझे अमित की बातें ध्यान आने लगी थीं.

वहाँ उन्होंने मुझे बैठा कर कहा- देख राहुल, मुझे भी मजा चाहिए, पर ये बात किसी को मत बोलना. मेरा नाम मोहित है, मेरी उम्र 36 साल है, मैं शादीशुदा और दो बच्चों का पिता हूँ. ”मिलने आएगी या फिर तुझे ऊपर वाला कमरा किराए पर देना पड़ेगा हा हा हा.

मैं दिन में इधर उधर के काम में बहुत व्यस्त रहा था, इसलिए थकान ज्यादा हो गई थी. उसने कंडोम हटा कर मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और मैंने भी दो-चार धक्कों में ही सारा अमृत उसके मुँह में छोड़ दिया.

इसके बाद मैंने उसकी गांड के नीचे एक तकिया लगा लिया और उसकी दोनों टांगें फैला कर अपना लंड उसकी गांड पर सैट कर दिया.

लेकिन मैं 100% पक्की थी कि भाई कुछ नहीं कहेगा क्योंकि भाई कैसे भी लड़ते भिड़ते हों लेकिन एक जवान लड़की की दावत कभी नहीं छोड़ेगा, चाहे वो उसकी सग़ी बहन क्यों ना हो. पानी तो मेरी भी चुत से निकल रहा था, पूरे कमरे में हमारे बदन से निकले हुए गर्म कपड़े बिखरे पड़े थे. मैंने सुभाष से चुपके से पूछा कि सुभाषभाभी के साथ सुहागरातकैसी रही?उस पर सुभाष ने हंस कर कहा- एकदम मस्त रही.

జెనిలియా సెక్స్ मैंने लंड निकाल लिया और उसकी चुन्नी से उसकी चूत और अपने लंड को साफ कर दिया. रवि मुझे पीछे से मेरी चुत में धक्के पे धक्के पेल रहा था और मैं बहुत चीख और चिल्ला रही थी- ओह गॉड.

मेरे परिवार में हम दो भाई हैं और हमारी एक बहन है, बहन की शादी तीन साल पूर्व हो चुकी है, वो अपने पति के साथ अपनी ससुराल में रहती है. उसकी चूचियां ज़्यादा तो नहीं लेकिन हाँ मतलब भर की थी जो मेरे हाथ में आ रही थी और अब मैं उन्हें धीरे धीरे दबाता और उसे फ्रेंच किस भी करता जाता. थोड़ी देर के बाद मेरा लंड पकड़ कर धीरे धीरे अपनी चुत के अन्दर घुसाने लगी.

आलिया भट एक्स व्हिडीओ

मैं वहाँ पर अच्छा महसूस नहीं कर रहा था क्योंकि वहाँ बहुत गर्मी थी तो मैंने कहा- चलो अंदर कमरे में चलते हैं. वो मुझे देख कर बोली- क्या दीदी मुझे सच में लंड लेने की जरूरत है?मैं बोली- हां तुझे चुदवाना ही पड़ेगा. जब वो स्वेटर उतार रही होती तो उसकी चुची स्वेटर में से निकाल कर बाहर को आती तो मेरा दिल मचल उठता कि मैं भाग कर उनको अपने दोनों हाथों में थाम लूँ और पहले बड़े प्यार से सहलाऊँ, फिर उन्हें दबा दबा कर मसल डालूं!लेकिन दिल के अरमाँ दिल में ही दब कर रह जाते… अम्मी के खौफ के कारण!इसी तरह कुछ महीने बीत गए और गर्मियों का मौसम आ पहुंचा.

और फिर उसने मेरी जीन्स घुटनों तक खिसका कर अंडर वियर के ऊपर से लंड को मसलना शुरू किया. उसने मिनी स्कर्ट पहना था और ऊपर से डीप नेक का टॉप जिसमें से उसके मोटे मोटे मम्मे बाहर निकलने को तैयार हो रहे थे और उसकी सफेद गोरी टाँगें मेरे लंड को झड़ने से नहीं रोक पा रही थी.

3 महीने बाद मुझे उस शहर में जाना पड़ा, मैंने अंजलि दीदी को फ़ोन किया तो वो 10 बजे सुबह मुझे लेने बस स्टॉप आई.

मुझे अब पता चल गया था कि विक्की मेरे किस रूप को देखना चाहता था और मुझे भैया का भी डर नहीं था, तो मैंने तुरंत पहन ली. फिर वही हुआ, मैं जब कोचिंग जा रही थी, तो अमित और उसका एक दोस्त आया. आअह्ह आआह आह आअह और वो पी गयी।हम ऐसे ही लेटे रहे कुछ देर! जब वो उठने लगी तो उससे चला ही नहीं जा रहा था। कुछ टाइम बाद मैंने उसे उठाया और कपड़े पहनाये.

मैंने उससे पूछा- हम लोग कहां मिलेंगे?तो उसने बोला- जहां तुम चाहो!मैंने कहा- होटल में मिलें?तो उसने पहले तो थोड़ा सा नाटक किया, फिर होटल में आने के लिए तैयार हो गई. रोहण ने मुझे देखा और देखता ही रह गया, रोहण बोला- माँ, आप बहुत ही ब्यूटीफुल और सेक्सी लग रही हो! आप ऐसे ही कपड़े पहना करो!मैंने कहा- थैंक यू बेटा, अब मैं ऐसे ही कपड़े पहनूँगी।और मैंने अपने बेटे को हग किया, उसके गाल पर किस भी उसने भी मुझे गाल पर किस की. मेरी इस बात से भाभी के गाल लाल हो गये, भाभी गुस्से से बोलीं- नहीं करता मेरा मन.

दिव्या- तू आज पहन ले बस, फिर चाहे जो पहन लेना या उसके पास नंगी ही रहना.

बीएफ नेपाली में: तो इस पर दिव्या कहने लगी- यार तुम भी कैसी लड़की हो, उससे जाकर मिलो, देखो, उसे समझो, एक दूसरे को समय दो, जिसके लिए गर्लफ्रेंड और बॉयफ्रेंड बनाए जाते हैं. उसने मुझे गालों पर किस किया और फिर मैंने उसको बांहों में लेक़र उसके होंठों पर किस किया.

वो मेरे जाने के बाद 12 बजे घर से निकली और मैं उस दिन घर की चाभी ले जाना भूल गई थी. फिर हमारे पास दो दिन है, आराम से करना!जब वो आयी तब तक मैं अपने लैपटॉप में पोर्न चला चुका था. इस प्रक्रिया में थूक की प्रचूर मात्रा सदैव उसकी उंगलियों में विद्यमान रहती थी!उधर मेरी पत्नी ने किड के मोटे ताकतवर लंड को चूसते चूसते अब उसके अंडों को भी चाटना शुरू कर दिया तो वो आनन्द के अतिरेक में पागल हो गया, और आँखें बंद करके अपने लंड को और गहरे मेरी पत्नी के मुंह में ठोकने की चेष्टा करने लगा.

ओमार प्रसन्न चेहरे के साथ इतालियन भाषा में गाना गाने लगा और मोलेट मेरी पत्नी के साथ चुम्बन करने में मशगूल हो गया.

इतने सारे एसएमएस किए फिर भी एक तो रिप्लाई कर दिया करो, ज्यादा बिजी थीं क्या?मैं- नहीं बिजी नहीं थी बस मेरे मोबाइल में एसएमएस पैक नहीं है इसलिए नहीं किया. रात को उसका मेसेज आया कि आज तुम्हें क्या हो गया था तो मैंने सच बता दिया. मैं चेंजरूम से बाहर आई तो विक्की ने देखा और कहा- हाँ, अब हुस्न की परी लग रही हो.