एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी बीएफ चूत की

तस्वीर का शीर्षक ,

आयशा टाकिया न्यूड xxx: एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ, मैं भी अपनी फुल स्पीड में आ गया और पूरी ताकत से उनकी चुदाई की मुराद पूरी करने लगा.

बीएफ वीडियो एचडी में

एक तो दवा का असर, ऊपर से मेरी नर्म गर्म बीवी … मैंने उसकी नाइटी खोली और उसकी बड़ी बड़ी चूचियों को चूसने लगा, जोर जोर से दबने लगा. हिंदी में ओपन ब्लू फिल्मयह कहानी कुछ 2 साल पहले की है, जब मैं दिल्ली पुलिस की कोचिंग के लिए अपना गांव छोड़कर सोनीपत शहर में अपनी बुआ के घर रहने चला गया था.

जब वो बाहर आईं, तो मैंने पूछा- आपने क्या लिया?तो उन्होंने कहा- कुछ नहीं, तुम्हारे मतलब का नहीं है. नंगी फिल्म वीडियो दिखाएंतो मैं उसके कंधों को मसाज देते हुए धीरे धीरे एक एक करके उसकी नर्म मुलायम चुचियों को अपने मुँह में लेकर चुसकने लगा था.

सासू माँ- अब जो कुछ मैं तुझसे कहने वाली हूँ, उसे ध्यान से सुनना और समझना कि हम लोग तुझसे कितना प्यार करते हैं.एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ: उसके बाद मैंने उसकी चड्डी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाना जारी रखा.

अंडर आर्म्स से लेकर नीना के बालों को सूंघते वक्त वह भैंसे की तरह फों-फों की आवाज निकालने लगा, जिससे मेरी बीवी मदहोश होने लगी.वो चारों गाड़ी से उतरे, वे चारों ही पहवान किस्म के थे … जबकि उनके मुकाबले मैं एकदम दुबला पतला हूँ.

बीएफ भाभी बीएफ - एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ

मैं पूरा जोर लगा कर धक्का मारते हुए चिल्लाया- हाय सीईईई … क्या कसी है मामी तुम्हारी गांड … मजा आ गया …मामी जी- अह्ह्ह फाड़ डालो.मैंने जल्दी से अपनी सलवार को ऊपर किया, झट से कमरे के दरवाजे की कुंडी को खोलकर बिस्तर पर जाकर लेट गई.

धीरे धीरे हम दोनों में सीनियर जूनियर का फर्क खत्म हो गया और हम अच्छे दोस्त बन गए. एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ ”मैंने उसे 10 का नोट दिया, जिसे उसने अपनी स्कर्ट में कहीं छुपा लिया.

अगर आपको कहीं जाना है तो क्या मैं आपको छोड़ दूँ?कुछ देर वह मेरे सामने ही खड़ी होकर मुझे देखती रही.

एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ?

एक दूसरे की बांहों में लिपटे हुए एक अजीब सी सुगंधनुमा महक सलोनी के जिस्म से आ रही थी. इतना कहकर वो अपने घर चली गयी।उन 3 दिनों में मैंने भाभी की गांड भी मारी और अच्छा चुदाई का दौर चला। मुझे अब जब कभी भी मौका मिलता है, मैं भाभी की चुदाई करता हूँ। उनका गुलाम बनकर, कभी सेवक बनकर और कभी कुत्ता बनकर।और जब भी मैं चुदाई करता हूँ भाभी की चूत का गोल्डन रस, मूत जरूर पीता हूँ. मेरे पास सोचने का समय नहीं था, मैं और ज़ोर-ज़ोर से उनके मुंह में लंड घुसाने-निकालने लगा.

’‘ठीक है, ऐसा करते हैं, मैं तेरी दीदी के सामने तेरी एक चुम्मी ले लूंगा. ऐसा कुछ नहीं, जब मिलना हो, तो मिल लेता हूँ, जब बात करना हो, तो कर लेता हूँ, ऐसे चैटिंग वगैरह कम ही करते हैं. फिर बोली- जो बात वहां बोल रहे थे, उसे साबित कर सकते हो?मुझे उसके इस बर्ताव से बहुत हैरानी हुई.

पर एक बंदा ऐसा भी निकला जिसका मेल तो पहुंचा ही, पर वो खुद भी पहुँच गया. उस लड़की में न जाने क्या बात थी कि हमारी बातें जल्दी ही सेक्स पर पहुंच गईं. अब वो मुझे बोलने लगी- मेरी चूत में लंड डाल!मैं मना करता रहा पर वो नहीं मानी, वो बोली- तेरा लंड तो तेरे भाई से भी तगड़ा है.

अभी शायद रात के एक या दो बज रहे होंगे और अब वह थोड़ा सा मुझसे अलग हो कर लेट गई. मेरा जवाब सुनकर मैनेजर सर बोले- तुम्हारी उम्र में तो मैंने बहुत सारी गर्लफ्रेंड्स बनाई थीं.

मुझे दिखाई कम ही दे रहा था, लेकिन फिर भी मैंने ऊपर तक कम्बल से दोनों को ढक लिया था.

दूसरे हाथ से मैंने उसके कुर्ते के ऊपर से बोबे बाहर निकाल दिए और दबाने लगा.

मैडम ने जल्दी से अपना गाउन निकाल फेंका और मेरे सामने घोड़ी बनकर बेड पर झुक गई. मैंने 3 जून के लिए मम्मी से पहले ही बता दिया था कि मुझे और मेरी सहेली को सतना जाना है. अब मैंने कहा- वैसे तुम्हारे पति को कभी पता नहीं चलेगा और मैं ऐसी बातें किसी को बताता भी नहीं हूँ.

साथ ही अपने चेहरे यानि नाक, गाल, होंठ और ठुड्डी से लंड के हर कोने को रगड़ने लगी. मैंने उसको समझाया और उसकी ससुराल के बारे में जानना चाहा, तो उसने बताया कि उधर सब चूतिये भरे हुए हैं. मैंने भी एक जोरदार झटके के साथ अपना लंड उनकी चुत की गहराई में उतार दिया और उनके ऊपर लेट गया.

मैंने तन्वी से ज़ोर से कहा ताकि वो लड़का भी सुन सके- चल यार, बाथरूम चलते हैं।फिर हम दोनों बाथरूम चली गयी।जैसा कि मुझे उम्मीद थी, वो लड़का भी बहाना सा करके हमारे पीछे पीछे आ गया।हम दोनों ने मज़ाक में गुस्से से उससे कहा- तुम हम दोनों का पीछा क्यूँ कर रहे हो, बताऊँ अभी भैया को? अभी हड्डी पसली एक कर देंगे।वो लड़का सच में डर गया और सॉरी बोल के चला गया।उसके जाने के बाद हम दोनों खूब हँसी.

रूम में चैक इन करते हुए ही वो मुझसे चिपक गईं और मुझे पागलों की तरह चूमने लगीं. अब एक दिन रात को मैं मेरे सगे मामा, मामा का बेटा और रवि मामा शादी में गए. फिर भी मैंने डरते डरते मैडम से लंच के लिए पूछा तो वो बोली- चलो ठीक है, चलते हैं.

पापा अपने मज़बूत हाथों से मेरी चूचियों को ज़ोर से दबाते जिससे मेरी चीख निकल जाती थी और उनका हाथ धीरे धीरे मेरी लेगिंग्स की तरफ बढ़ने लगा. इन आँसुओं की वजह से वो इतनी गीली हो चुकी थी कि लंड कैसे अंदर फिसल गया कुछ पता ही नहीं लगा. मगर जल्दी ही उन्होंने मेरी चूचियों को छोड़कर मेरी पैंटी को मेरी जांघों से भी उतार दिया.

मगर आप लोगों की मदद से अगली बार इस कहानी में दूसरा किरदार भी हो सकता है.

वैसे तो मम्मी पापा मुझे डिस्टर्ब नहीं करते थे, शायद उनका भी यही कार्यक्रम चलता होगा, पर मैं भी बिना रिस्क लिए सब सोने के बाद ही मेरा कार्यक्रम शुरू करती. इस कहानी पर अपनी राय देने के लिए आप कमेंट बॉक्स में कमेंट करें या फिर नीचे दी गई मेल आई-डी मेल करें.

एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ मैंने 3 जून के लिए मम्मी से पहले ही बता दिया था कि मुझे और मेरी सहेली को सतना जाना है. उसने काफी देर तक मेरे स्तनों से दूध पिया और फिर धीरे धीरे मुझे पेट, नाभि से चूमता हुआ मेरी योनि तक पहुंच गया.

एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ तो आपकी भी ज़िम्मेदारी बनती है कि उसकी और उसकी बीबी की इज़्ज़त का पूरा सम्मान करे. फिर मैंने उसके ऊपर लेटकर उसको होंठों पर किस करना शुरू किया और उसके चूचों को भी दबाता रहा.

तांत्रिक ने कहा- तुझे अपने बेटे से शादी करनी होगी और इसको जीवन भर इसको पति के हर सुख देने होंगे.

ब्लू पिक्चर इंग्लिश पिक्चर

कंडोम पहनते ही मैडम ने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मेरा लंड अपने हाथ से चूत पर सेट कर लिया. मैंने गांड में हाथ डालना चाहा, मगर नाड़ा टाइट बंधा था, तो मैंने कुर्ता ऊपर किया और पीछे से उसकी पीठ पर हाथ फेरने लगा. अब आगे:मीना को बिस्तर में शांत पड़ी देख मैं समझ गया कि उसको कल रात हुए हवस के खेल से उबरने में समय लगेगा.

ऐसे ही मामी की मालिश भी होने लगी और मैं उनकी चूत में लंड पेल कर उनके दूध के ऊपर हाथ लगाता हुआ उनको चोदने लगा. तीन बार लगातार चुदाई के बाद मैं भी थक गया था और वह भी काफी थकी हुई लग रही थी. मुझे चोदने के बाद कुछ देर तक वो आरती के मम्मों से खेलता रहा और फिर उसकी भी चुदाई शुरू कर दी.

काफी देर तक प्रयास करने पर दोपहर तक फ़ोन लगा तो प्रीति ने बताया कि वो अपनी बेटी के यहां जा रही है, क्योंकि 2 महीने के बाद उसे बच्चा होने वाला था.

वो बार बार अपना फेसबुक आईडी बदलती रहती थी और मुझे हर बारी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजती रहती थी. थोड़ी देर बाद जब मेरा लंड सिकुड़ने लगा, तो मैंने उसपे से कंडोम निकाल कर साइड में रख दिया और हर्षिता के बगल में आकर लेट गया. फिर अपने लंड को मेरे छेद पर लगाकर अपना पूरा भार मेरे शरीर पर डालते हुए मेरे ऊपर लेटने लगा.

अगले दिन सुबह मैंने उसे कॉल किया- कहां पर हो जान?वो बोली- कॉलज जाने की तैयारी कर रही हूँ. यह बहुत ही अच्छा मौका था हम दोनों के लिए क्योंकि घर पर हमें इतनी आज़ादी नहीं मिल पाती थी. उसने भी रेसपोंड किया, वो भी अपनी जीभ को हलचल में लायी और कुछ ही पलों में हम दोनों की जीभ लड़ने लगी.

उनकी चूचियाँ भी मंझले आकार की थीं, पर नितंब बड़े-बड़े थे, पीछे को निकले हुए. मैंने उसे बातों ही बातों में पूछा- अब तो तुम बड़ी हो गयी हो, कोई बॉयफ्रेंड बनाया या नहीं.

मुझे भाला इस बात पर क्या ऐतराज हो सकता था, मैंने भी हाँ कर दी और तय किये गए समय पर उसे ऋषिकेश बस स्टैंड पर लेने चला गया. पांच मिनट तक पागलों की तरह अपनी बेटी की चूची चूसने के बाद उन्होंने मेरी चूचियों को ब्रा से आज़ाद कर दिया, फिर मुझे थोड़ा अपनी कमर को ऊपर करने को कहा और एक ही झटके में मेरी लेगिंग्स मेरी चड्डी सहित उतारकर अपनी बेटी को उन्होंने नंगी कर दिया. मैंने एक और जोरदार झटका मारा, जिससे मेरा पूरा का पूरा लंड भाभी की चूत में समा गया.

मैंने उसे फिर अंग्रेजी में लिखा कि हम दोस्त ही रहेंगे लेकिन मेरे लिए अपने आप को उसके सामने कण्ट्रोल करना बहुत मुश्किल होगा.

फिलहाल मैं बाइक काफ़ी तेज चला रहा था … ताकि जल्दी पहुंच जाएं … रात का समय था. अगर आप लोगों को लगता है कि चोदना चाहिए तो प्लीज मुझे कमेंट्स करके बताएं. मामा का इतना कहना हुआ कि तभी उस जगह पर कोई बुड्ढा सा आदमी अचानक अन्दर आ गया.

प्रोफेसर साहेब शरीर से मोटी तोंद वाले, गंजे व्यक्ति थे, उनकी आँखों पर मोटा चश्मा चढ़ा था, और वे खुश्क टाइप के आदमी थे. अपनी कमर और पीठ पर मेरे हाथ का स्पर्श पाकर भाभी और बेचैन सा होने लगीं और मुझसे कसके लिपट गईं.

रात को वलीमा दावत के बाद अब्बा जान ने बुलाया और कहा- कल रात जो चीखने चिल्लाने की आवाज़ आयी थी, वह हमारी तहज़ीब के मुताबिक ठीक नहीं है, जो भी करो नज़ाकत को देख कर करो. उसके लंड के घर्षण से मेरी गांड में इतना आनंद आ रहा था कि गद्दे पर रगड़ लगते-लगते मेरे लंड ने नीचे पिचकारी मार दी और मैं उससे पहले ही झड़ गया. डॉली अपने कपड़े चेंज करने में लगी थी और हम चुदाई में इसी स्टाइल में पिले पड़े थे.

कॉफी फेशियल

अपनी प्रतिक्रियाएं मुझे इस मेल आई डी पर ज़रूर दें, आपका प्यार ही मेरी प्रेरणा है.

उसने अचानक मुझे नीचे कर दिया और मेरे ऊपर आकर मेरे कपड़े उतारने चालू कर दिए. भाभी ने मेरे हाथ पर पूरे जोर से नाखून चुभा दिए, साथ ही कुछ ही देर में भाभी ने भी पानी छोड़ दिया. साथ ही अपने शरीर का भार लंड पर डालने लगीं, तो मेरा खड़ा मूसल लंड उनकी चुत में जाने लगा.

प्रेम बोला- वाह बृजेश, क्या गांडू लाया है, सिर्फ निकुंज के लिए ही? हमें चुदाई नहीं करने देगा क्या?आदिल भी बोला- मुझे भी तो अपने लंड की प्यास बुझानी है. मेरी जांघों की थाप जब उसके चूतड़ों पर पड़ती तो उस आवाज़ से वातावरण कामुक हो उठता. जीएफ बीएफ वीडियोमैंने भी अपना हाथ उनके कंधे से होते हुए उसकी सीट की पुश्त पर रख दिया.

मैंने उससे बातचीत करके अपने करीब थोड़ा ला दिया था और वो भी मेरे साथ कुछ ज्यादा ही घुलमिल गई थी. तुम एक काम करो कि सामने कुछ कमरे बुक करवा रखे हैं, तुम वहीं चले जाओ.

मैंने कहा- आपकी शादी भी हो चुकी है?वो बोला- हां, मेरी तो तीन साल की एक बेटी भी है. चूंकि रिया की चूत वीर्य से भरी थी, एकदम चिकनी थी, इसलिए एक ही झटके में पूरा लंड अन्दर घुस गया. कुछ देर बैठने के बाद हम दोनों अपने घर पे आने लगे, तो उसने धीरे से मेरे हाथ में एक कागज की एक चिट्ठी पकड़ा दी.

फिर मैंने अपने लंड को उसकी गांड से बाहर निकाला और अपनी मुट्ठ मारने के लिए कहा. मैं- सच कह तो मम्मी जी, मुझे अभी भी भरोसा नहीं हो रहा है कि हितेश गे है … इसलिए मैं. मैं तो सोच रहा था कि इसको दर्द होगा मगर यह तो आराम से पूरा लंड ले गई.

फिर मैंने दीदी से नजर बचाकर उससे बोल दिया कि आज रात को मेरे कमरे में ही आ जाना.

मैंने कहा कि कपड़े पहन लो, आप अपनी जगह पर लेटो और मैं बाहर जाता हूं. उसके बाद जो भी हुआ, उसकी पूरी सच्चाई मैं अपनी एक पूर्व की कहानीकमसिन लड़की की मोटे लंड की चाहतमें लिख चुकी हूं.

और तो और मामा ने बोल भी दिया कि अब मुझे आने की जरूरत नहीं है, तू अपने हिसाब से इलाज कर दे. अब मैंने कहा- वैसे तुम्हारे पति को कभी पता नहीं चलेगा और मैं ऐसी बातें किसी को बताता भी नहीं हूँ. हम दोनों चूमा चाटी में लगे रहे और अपनी उत्तेजना को चुदाई की हद तक ले आए.

उसके मुंह में जब मेरा लंड जा रहा था तो मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था. उसने कुछ ना कहा और मुझे अपने ऊपर लिटा लिया, हम एक दूसरे को चूम ही रहे थे कि उसने अपना लिंग मेरी योनि पे लगा कर रगड़ा. वे मेरा लंड पकड़ कर सहलाने लगीं और फिर मेरे इशारे पर लंड को मुँह में भरके चूसने लगीं.

एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ उन्होंने मुझे पहचाना नहीं, क्योंकि अब मैं दाढ़ी मूंछ रखने लगा था और थोड़ा वजन भी बढ़ गया था. पर उसे कैसे पता चला?रमेश- वो सुबह उठकर यहां आ गई थी, तो उसने सब कुछ देख लिया था, पर मैंने उसे कह दिया है कि वो हमारे मालिक हैं.

सेक्सी वीडियो गाना में

उस दिन भी वो खुले गले का टॉप पहन के आयी थी और मेकअप भी प्यारा किया हुआ था. अब मैं सहम गई।तब दीदी ने मुस्कराते हुए कहा- रचना, तू भी जवान हो गई है, तुझे भी मस्ती का हक है। तू घबरा क्यों रही है? तू अपनी दीदी के घर आई है और तेरी चूत को शांत करने की जिम्मेदारी मैं ही लूंगी. वो मेरे बगल में दूसरी तरफ मुँह करके सिर्फ लोअर और पैंटी नीचे करके मेरा लंड पैंट से निकाल के रगड़ने लगी अपनी चूत पर.

जीजा जी इतनी देर से नई सील पैक फुद्दी को ठोक रहे थे तो कितनी देर रह सकते थे. मेरी पिछली कहानी थीऑफिस की चुदक्कड़ देसी गर्ल की चूत चुदाईमैं आप सबको बता दूँ कि यह कहानी कोई गप्प नहीं है, ये मैं खुद का ही अनुभव लिख रहा हूँ. हिंदी सेक्सी ब्लू फिल्म ओपनऐसे ही नजरों के खेल में देखते ही देखते मेरा लंड खड़ा हो गया था। मेरा मन कर रहा था कि अभी उठ कर जाऊं और उसकी चूचियों को दबा दूं।तभी उसने मुझे मेरी हरकत के साथ पकड़ लिया कि मैं उसकी चूचियों को देख रहा हूँ.

मेरी मुलाक़ात उन दोनों से हुई, बातें हुई, और अच्छी पहचान बन गई क्योंकि मैं भी मज़ाक और जोक्स का माहिर था, तो हमारी खूब जमने लगी.

सुधा ने बताते हुए कहा- मैंने भी मामी से जोश में आकर कह दिया कि अगर मामी तैयार है तो छेद से चुदाई का सीन दिखाने की बजाय मैं तो उनके सामने ही अपनी चूत को चुदवाकर दिखा दूंगी. मेरी बीवी ने जब से मेरे बारे में कमर दर्द का इलाज बताया था, तब से मेरी मामी का नजरिया मेरी ओर कुछ अलग ही नजर आने लगा था.

मेरा इतना करना ही हुआ था कि उनकी सांसें तेज़ तेज चलने लगीं और उन्होंने मुझे कसके अपनी बांहों में जकड़ लिया. मामी जी के रसीले होंठ चूसने के बाद मैं उनके बड़े बड़े मुलायम स्तनों की तरफ बढ़ा. एक बार की चुदाई के बाद कल्पना भाभी काफी रिलैक्स नज़र आ रही थीं, पर थकान का असर अब भी उनके चेहरे पर साफ दिख रहा था.

कुछ समय बीता और फिर एक दिन उसने मुझे बताया कि उसकी वो शादी टूट गयी है.

कोमल के गीले कपड़ों के ऊपर से उसकी गीली चूत को रगड़ने में जो मजा मुझे आ रहा था वह बहुत ही कमाल का था. मैंने कहा- मामी जी, मामाजी के बाद आपका भांजा आपको सुख देने चाहता है। आप चिंता न करें मामी जी, इसके बारे में किसी को पता नहीं चलेगा. मगर धीरज अभी भी जल्दी में नहीं था, उसने मेरे होंठों और मम्मों को बुरी तरह से चूमना चाटना और दबाना शुरू कर दिया.

बंगाली सेक्सी वीडियो बफपर तुम फिकर मत करो, हमारा एक दूसरा फ्लैट भी है, जो दूसरे अपार्टमेंट में है, हम दोनों वहां चले जाएंगे. दोबारा लगभग 4 बजे मैं उनके घर गया कि उनके हाथ से बनी चाय पी जाए, तो वह चादर ओढ़कर सोई हुई थी.

लिपस्टिक डिजाइन

वहाँ पर मैंने नया पूरा मेकओवर करवाया और बाल भी स्टाइल करने को बोला।तन्वी ने कहा- तू कृति सेनन जैसे करा ले, तेरे पे बहुत अच्छे लगेंगे. थोड़ी देर बाद 9 बजे सुबह सोनम की दीदी की विदाई हो गई और मैं अपने घर चली आई. मैंने कहा- मैं कहाँ मरवाने को कह रहा हूँ? बस मेरे ऊपर चढ़ जाओ, जैसे लड़का लड़की को चोदने के लिए उसके ऊपर चढ़ता है वैसे.

मैं ऊपर वाले से विनती कर रहा था कि ये रिया की बैंड बजा कर छोड़ दें, कहीं साले गांड मारने के शौकीन हुए तो मेरी गांड का बाजा बजने में देर नहीं लगेगी. लंड को चाटना, चूमना, सहलाना, जांघों को प्यार करना, बॉल्स को चूमना चाटना. दोस्तो, लंड चुसाने में जो मजा है, उसे मैं लफ्जों में बयान नहीं कर सकता.

बुड्डे रमेश से रूपा के भरे हुए बदन को ठीक से संतुष्ट करना नहीं हो पाया, तो रूपा ने अपने आस पड़ोस के मजदूरों के साथ संबंध बना लिए थे. मैंने कभी किसी लड़की के मुंह से नहीं सुना था कि वह ब्लू फिल्म देखती है. जब वह मेरे पास पानी लेकर आई तो मुझे झुककर पानी का गिलास पकड़ाने लगी.

जीजू ने मुझे कुसुम दीदी यानि कि उनकी पत्नी को इस बारे में कुछ न बताने का विश्वास दिलाया और कहा कि कल शायद दोबारा फिर से वही रंगीन नजारा देखने का इंतजाम वह मेरे लिए कर देंगे. मैंने देखा कि सीमा ने पजामे के नीचे से लाल रंग की चड्डी पहनी हुई थी.

अंकल ने मुझे पकड़ कर बेड पर बिठाया, मेरा तो गला सूखा पड़ गया था, मैंने अंकल को बताया तो वो फ्रिज के पास गए और फ्रिज से स्लाइस की बोतल निकालकर मुझे दी.

कुछ देर बाद रितिका भी अपनी कमर को ऊपर नीचे करते हुऐ मेरा साथ दे रही थी, उसकी आँखों में मस्ती साफ नजर आ रही थी, वो मस्ती के साथ चुदवा रही थी।और करीब दस मिनट के बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए और जब कुछ देर बाद हम उठे, चादर पर नजर दौड़ाई तो वो रेड एंड व्हाइट हो चुकी थी. देहाती हिंदी बीएफबाकी समय हम दोनों ने सेक्स और घूमने फिरने में बिताया और फिर एक दूसरे से बिछड़ गए।तो यारो, ये थी मेरी और सलोनी के बीच बने सम्बन्धों की आपबीती, ये अलग बात है कि हमारे रास्ते अलग नहीं हुए. बीएफ सेक्सी वीडियो दोजब बाहर आकर देखा और बातें सुनी तो पता लगा कि दीदी अपने बोयफ़्रेंड से बात कर रही है और अपने बॉयफ्रेंड को बता रही है कि पापा एक सप्ताह के लिए बाहर गए हैं. मैं गरीब घर से हूं, तो इस तरह से स्पेशली मेरे लिए खाने पीने को किसी ने मुझे इसके पहले इस तरह से नहीं पूछा था.

मेरी इस हरकत पर वह कामुक होकर अह्ह्ह ह्ह्ह अह्ह ह्ह्ह्ह हाह्हाह अहहः ऊउम्म जैसी आवाज़ें करने लगी.

वह बोली- जब से बाइक पर तुम्हारा टच हुआ है तब से मेरी चूत में खुजली हो रही है. उसके बाद उन्होंने मुझसे कहा- विशु बेटा आज तुम यहीं रुक जाना और हमारे साथ ही खाना खा लेना. इस सुनहरे ख्बाव से बाहर निकलें और जिंदगी की सच्चाई को समझने के साथ-साथ अपनाने की आदत भी डालें.

मैं और मेरा भाई जो मुझसे डेढ़ साल बड़ा है, हम दोनों एक ही कॉलेज में पढ़ाई करते हैं, हम दोनों के लिए पापा ने कॉलेज जाने के लिए एक स्कूटी दे रखी है, कॉलेज में मेरी बहुत सारी सहेलियां हैं जो काफी स्मार्ट और खूबसूरत हैं और मैं भी कम नहीं हूँ, मैं दिखने में गोरी, चिट्टी, अपने उम्र से काफी बड़ी लगती हूं. वो मुझे देखते हुए बोली- तुमको कैसे पता?तो मैंने उसकी चुत के पानी वाली पूरी बात बता दी. मैं जाने लगा, तो वो पीछे से मुझसे गले लग गई और सॉरी सॉरी बोल कर उसने मुझको कस के पकड़े रखा.

रोमांटिक भोजपुरी

जब हम सहेलियां सेक्स के बारे में बात करतीं, तब मेरी भी चुत में गुदगुदी होती थी. मैं- हां, ठीक है मम्मी जी …अब कल्पना ने मुझे बताया कि जब मम्मी जी ने आपको वीडियो कॉल किया था, तब मैं भी थी उनके साथ, मम्मी जी ने ही फ्रंट कैमरे पर अपनी उंगली रख दी थी ताकि आप हमें ना देख पाओ. मैंने हैल्लो किया और पूछा- कौन?वहाँ से आवाज़ आई- सोचो कौन!मैंने कहा- मुझे नहीं पता आप कौन हैं.

उसने पूछा- कहां जा रहा है?मैंने नवीन को पकड़ लिया और वहीं उसको गले से लगा लिया.

दूसरी तरफ से लड़की की इतनी प्यारी आवाज सुनकर मेरे दिल में लड्डू फूटने लगे.

कुछ दिनों बाद भाभी का कॉल आया और वे कहने लगीं- आज रात को खाना खाने मेरे घर आ जाओ. उसके मुँह में कई मिनट तक लंड अन्दर बाहर करने के बाद उसने बाहर निकाला, तो रिया ज़ोर ज़ोर से साँस लेने लगी. इंग्लिश में बीएफ फिल्म‘भैया, ये… ये क्या?’‘शैली, समझ मेरी बात को, ये मैं हूँ और अब उपिंदर मेरा बॉयफ्रेंड है.

जूस पीने के बाद मैं लेडी संग झप्पी मार कर बेड पर लेट गया और उसे किस करने लगा. मैंने टोपी एडजस्ट करके एक इतने ज़ोर का धक्का लगाया कि मेरा लंड चूत में सैट हो गया. उसका साइज़ 34-28-36 होगा। उसको देख कर ही चोदने का मन करने लगा। मगर आज तो मेरा पहला ही दिन था.

उसने फिर से मेरा हाथ हटाने की कोशिश की मगर अब मुझसे रुका नहीं जा रहा था. फिर भाभी में मुझे बेड पर बैठने को कहा और बोली- मैं नहा कर आती हूँ, तू 5 मिनट बैठ.

मगर इस बार मुझे ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ी और मैं ज्याफ देर तक रुका भी नहीं.

मैं अपने लिंग को आगे की ओर धकेलने लगा और अचानक से मेरे लिंग ने मामी की साड़ी पर ही बहुत सारा लावा उगल दिया. घर आते से ही मुझे सिर्फ वह सब याद आ रहा था, जो रात में मेरे साथ झाड़ी के पीछे उन दो पटेलों ने किया और उसके बाद सार में मामा ने किया. न जाने कैसे खुद बा खुद ही मेरा मुंह थोड़ा सा खुल गया और पलक झपकते ही मैडम की जीभ मेरे मुंह में चली गयी.

सेक्सी बीएफ हिंदी साडीवाली बस इतना सुनते ही मैंने उसके घर की बस पकड़ी और कुछ ही देर में उसके घर पहुँच गया. अब मुझे गांव के किसी बुजुर्ग या पहलवान किस्म के आदमी के लंड की तलाश थी.

मैंने उसी मदद की और फिर मैंने उसके चुचों पर, उसकी जांघ पर, गांड पर किस करता रहा. तुम मुझे मदद करोगी ना?”अंकल के बोलते ही मैंने शर्माकर सिर्फ हां में सिर हिलाया. करीब एक किलोमीटर अन्दर चलने के बाद बहुत सी झाड़ियां सी आईं, वहां उन्होंने गाड़ी रोक ली.

कुत्ता लड़की की सेक्सी वीडियो

लेडी ने मेरी जांघ पर हाथ फेरते हुए पूछा- फिर तुम क्या करते हो?मैंने उसका हाथ अपने लंड की तरफ बढ़ता हुआ महसूस किया. देख मेरा लंड कितना ताव में है!यह बोलकर अनन्त ने अपनी जाँघिया उतार दी।बाप रे! ये क्या था, मैं देखती रह गई. ट्रेनिंग शुरू होने के दो हफ्ते बाद ही सब लोगों ने घूमने जाने का प्लान बनाया तो मैंने मना कर दिया क्योंकि मुझे लोगों की भीड़ के साथ घूमना पसंद नहीं है.

लेकिन दोस्तो, इस प्रेमलीला में जितना वक़्त फोरप्ले में बिताओगे, उतना ही मजा आपको और आपकी साथी दोनों को मिलेगा. पायल एकदम से लंड घुसने से दर्द से चिल्ला पड़ी- ओ हरामी … साले जीजू दुखता है ना … क्या कर रहे हो यार.

अब आगे:नींद सपना को भी नहीं आ रही थी; थोड़ी देर बाद उसने मेरी तरफ करवट ली और बोली- लगता है आपको नींद नहीं आ रही है … तभी तो मोबाइल में लगे पड़े है कितनी देर से!यार, तुम जैसी हसीन खूबसूरत लड़की अगर बराबर में लेटी हो तो जल्दी नींद कैसे आएगी?” मैंने मजाक करते हुए कहा।तो क्या चाहते हैं आप?”कुछ नहीं … बस मुझे तो लिपट के सोने की आदत है.

मैंने कहा- बिल्कुल … मैं आपका दास हूँ आज की रात पूरी बाकी है, जो मन हो वो करवाइये. चूत में तो लंड को अन्दर खुद मेहनत करनी पड़ती है, लेकिन मुँह में लंड की सेवा, लड़की की जुबान करती है … आह … कैसी लपर लपर करके लंड को चारों तरफ से सहलाते हुए मजा देती है … इस मजा को शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता है. उसके बाद अनुष्का ने मेरी पैंट की चेन खोल दी और मेरी पैंट की चेन के अंदर से हाथ डालकर मेरे कच्छे के ऊपर से मेरे लंड को सहलाने लगी.

वो बहुत कोशिश कर रही थी कि उसकी आहें ना निकलें क्यूंकि आस पास के फ्लैट में हमारे ऑफिस के लोग रहते थे. भाभी मेरे लंड को पकड़ कर बोली- तू तो सच में बड़ा हो गया है, इतना बड़ा लंड तो तेरे भाई का भी नहीं है. ये देख कर मैं चिल्लाया- साली रांड में कब से तेरी चूत के लिए तरस रहा था.

ननकू अब चौकस रहने लगा था लेकिन फिर भी मीना और चिन्टू मौका पाकर घर से बाहर खेत खलिहान में मिलने लगे.

एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ: मेरी तरफ से कोई विरोध ना पाने पर उसने मेरी जांघों को सहलाना शुरू कर दिया. मेरी भाभी जैसी चुड़क्कड़ भाभियों के साथ आजकल मैं बहुत चैटिंग करता हूँ.

भाभी ने मेरा पैंट उतारा और मेरे बाबूराव को हाथ में पकड़ कर उससे खेलने लगीं. मैंने उसे को पूछा कि क्या हुआ?पर वो शर्माए और मुझे कुछ बताये ना!मेरे बहुत पूछने पर वो शर्मा कर बोली- मम्मी, वो कुछ करते नहीं हैं. मैं नए ब्रा और पैंटी लेने गयी थी और मेरी पसंद देख प्रीति ने भी मुझसे सुझाव माँगा कि वो अपने लिए किस तरह के ले.

मैंने उसे पतली डोरी वाली पैंटी दिलवाई क्योंकि उसके चूतड़ और जांघें बहुत अच्छे आकर में सुडौल थे.

मैंने धीरे से उसके कानों में कहा कि उसके बूब्स बहुत ही ज्यादा सेक्सी हैं और उसका जिस्म बहुत ही मखमली है. वैसे मैं सब कुछ पहले से जानती थी, सब कुछ पढ़ चुकी थी सेक्सी कहानियों में, कमलेश सर मुझे सब पहले ही पढ़वा चुके थे. क्यों तुम्हें नीतू कैसा लगा?”मेरी तो उनसे नजरें मिलाने की भी हिम्मत नहीं हो रही थी.