सेक्सी वीडियो बीएफ औरत

छवि स्रोत,मणिपूर सट्टा

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ देसी बीएफ मूवी: सेक्सी वीडियो बीएफ औरत, वो आदमी उठा और कॉन्डम को लड़की के हाथ में थमाकर वापस से सीट पर जा बैठा.

धोने वाली मशीन

मैं मज़े से उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसके निकले हुए रस को चाट रहा था. सेक्सी पंजाबी एचडी वीडियोमैंने उसे चूमते हुए कहा- क्या केवल एक गुलाब के फूल से प्यार का इजहार होता है.

आपा हमारे घर आई हुई थी तो मुझे अपनी बीवी की चूत चुदाई का मौक़ा नहीं मिल रहा था तो मैं बहुत बेचैन था. सेक्सी हिंदी अंग्रेजी वीडियोतो मैंने उसकी कुंवारी चूत कैसे फाड़ी?मेरे अन्तर्वासना के पाठक दोस्तो, आप सभी को नमस्कार, मेरा नाम जयेश है.

फिर उसने अपने पेटीकोट का नाड़ा खोला और उसको हल्का सा नीचे सरका लिया.सेक्सी वीडियो बीएफ औरत: अंकल का मोटा लंड मेरी चुत को चीरता हुआ अन्दर घुसा, तो मेरी चीख निकल गई ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’लेकिन अंकल मुझे दबादब चोदने लगे.

मैंने अपना 6 इंच का लंड उनके चूत के उपर रगड़ना शुरू कर दिया और तब तक रगड़ता रहा जब तो उन्होंने खुद नहीं कहा- दामाद जी, जल्दी से मेरी चूत के अन्दर डाल दो!मैंने जैसे ही दबाव बढ़ाया तो सासु माँ बोली- दामाद जी, धीरे से डालना, कई साल से मेरी चूत में लंड नहीं गया है तो दर्द होगा.जब उस दिन हूर ने जब यह बात मुझे बताई, तो मेरा खुशी का ठिकाना नहीं रहा.

गावरान सेक्सी व्हिडिओ मराठी - सेक्सी वीडियो बीएफ औरत

बाहर से मेरे शौहर की आवाज आई- डेजी अंदर हो क्या?मैं दरवाजा खोलने को हुई तो नीरज ने हाथ पकड़ लिया और इशारा करने लगा कि दरवाजा न खोलूं.जब से मैंने शोभाभाभी की गांड मारी, उसके बाद तो मैं कई बार भाभी की गांड चोद चुका हूँ.

मैं उन्हें अपनी बांहों में लेना चाहता था, तो मैं शोभा भाभी की इजाजत लेकर उनके रसोई में चला गया. सेक्सी वीडियो बीएफ औरत वो अपनी चूचियों को मेरे मुँह में देते हुए नीचे से अपनी गांड उठा उठा कर लंड ले रही थीं.

उसके लंड को चूसते चूसते मेरे लिप्स बिल्कुल लाल हो गए थे।अब समीर कुछ देर के लिए रुका और अज़ीम की तरफ बढ़ा और जाकर उसका लंड चूसने लगा.

सेक्सी वीडियो बीएफ औरत?

सर्दियों के दिन होने की वजह से अम्मी अपनी बेड पर रजाई में बैठी थी तो शकील भी उसी रजाई में बैठ गया. हम 69 की पोजिशन में आ गए।पांच मिनट बाद भाभी का पानी निकल गया लेकिन मेरा लन्ड अभी पूरे जोश में था. मैं चुपचाप पड़ा रहा और वो भी मस्ती से सोती रही। उसकी गर्म सांसें मुझे मदहोश कर रही थी और उनकी ब्लाउज वाली मोटी छाती करीब से धड़कती हुई दिख रही थी।उनकी चूची 38 या उससे भी ज्यादा की होंगी शायद ऐसा लग रहा था। मैं तो उनकी इस तरह नजदीकी से पिघल गया और मेरा लंड खड़ा हो गया.

अब आप लोगों का ज्यादा समय नष्ट ना करते हुए सीधे अपनी कहानी पर आता हूं।बात आज से करीब 8 साल पहले की है मैं एक रिश्तेदार की शादी में गया था. उमेश सर ने बोला- अगर तुमको कोई दिक्कत ना हो, तो मैं तुम्हारी कुछ फोटो ले लूं. मैंने जब सैट-टॉप बॉक्स को देखा तो उसमें कोई स्मार्ट कार्ड ही नहीं लगा था.

हूर को एक बार चोद लेने के बाद दुबारा हम दोनों को मिलने का मौका नहीं मिल रहा था, लेकिन हम लोग रोज़ क्लास में किस और गले मिल लेते थे. माँ हल्का सा मुस्कुराई और कहा- चल लेट जा।और वो मेरा लण्ड चूसने लगी।मैं बस उन्हें ही देखे जा रहा था और सोच रहा था कि मेरी माँ नंगी कितनी ख़ूबसूरत लग रही है. उस दिन मैंने अम्मी के पैरों की और कमर की मालिश की क्योंकि उनको बहुत तेज दर्द हो रहा था.

बाबा का लंड 7 इंच का था जो मेरी चूत में अंदर मेरे पेट तक जाकर ठोक रहा था. मैंने जोश में कहा- मैं नहीं मानती?उसने मेरे निप्पल को काट कर कहा- कभी अपनी मां को कहना कि खन्ना अंकल दवा की दुकान वाले कुछ बता रहे थे शादी वाली बात, बोल रहे थे कि गिफ्ट देना है तुम्हारे पापा को.

अम्मी ने दूध में नींद की गोली डाली और अपने गिलास बिस्तर के पास रख लिया.

भाभी ने मेरी गर्म सांसों को महसूस किया और बस मेरे होंठों की तरफ अपने होंठ कर दिए.

अब आगे की फ्री फैमिली सेक्स कहानी:अगले दिन सब कुछ नॉर्मल था सिवाय अंजलि के … वो कुछ ज्यादा ही खुश थी।नाश्ते के वक़्त मैंने मजे लेने के लिए धीरे से पूछ लिया- क्या हुआ मेरी जान … माँ बनने वाली है क्या जो इतनी खुश हो रही है?अंजलि शर्मा गयी और हंसने लगी।मौसा अपने बैंक चले गये. अब तो मेरी दीदी की गांड भी उठ कर मेरे लंड से लड़ने की कोशिश कर रही थी. मेरे एक चचेरे भाई ने मुझे सोती हुई को किस किया और मेरे बूब्ज़ भी दबाये थे.

उल्फ़त के बेड पर बैठते ही मैंने उसे अपनी तरफ खींचा और उसके होंठों पर लिप किस कर दिया. वो सागर के झटके झेलने लगी और उनकी मुंह से कामुक कराहने की आवाज़ उफ़ हह ओह्हआह आह आह हह आ रही थी. उसके मोटे मोटे चूतड़ों को दबाते हुए मैं अपना लंड उसकी गांड पर ही रगड़ने लगा.

चाची के मुंह से चीख निकलने ही वाली थी कि मैंने चाची के मुंह पर हाथ रख दिया.

शाम को मैंने उससे पूछा- कुछ चलेगी?खुशबू- हां यार आज मूड तो हो रहा है … एक दो पैग ले लूंगी. फिर वो बोली- अच्छा वो सब छोड़ो … मुझे यह बताओ कि कल रात को आपके सपनों में आपको मेरी चूत कैसी लगी?मैं बोला- एक अलग सी महक थी … अलग सा नशा था. कुछ देर बाद हम दोनों घर के लिए निकलने को हुए, तब मैंने उसे जूस की दुकान पर ले जाकर जूस पिलाया और घर आ गए.

इसलिए हमारा बिस्तर पास में ही रहता था तो हम एक ही रजाई में चिपक कर सोने लगे. उनकी आहों को सुनकर मेरी हिम्मत बढ़ने लगी थी क्योंकि मामी गर्म हो रही थी और मैं यही चाहता था. मेरी बहन मेरी हरकतों से गर्म हो गई थी और उसकी कच्छी काफी गीली हो गयी थी.

मैं इत्मीनान से उसकी काम उत्तेजना को देख रहा था और उसे अधिक ज्यादा भड़काने का प्रयास कर रहा था।मैंने भी उसे कसकर अपनी बांहों में भर लिया.

भाभी के नर्म जिस्म को छूते ही लंड अकड़ गया और उसके टोपे को गीला होते देर न लगी. मैंने बोला- आप दोनों के गिलास कहां हैं?उन्होंने बोला- हम दूध पीकर क्या करेंगी?मैंने बोला- नहीं … मैं आपके लिए भी ले कर आता हूं.

सेक्सी वीडियो बीएफ औरत अंकल एक हाथ से मॉम के मम्मों को दबा रहे थे, तो दूसरी हाथ से उनकी चूत सहला रहे थे. उसकी चूत के बारे में कल्पना करने मात्र से ही मेरा लंड टन्न से खड़ा हो जाता था.

सेक्सी वीडियो बीएफ औरत अब मैंने पूरी स्पीड से धक्के देना शुरू किया और वो दर्द में चीखने लगी. उसने अपनी मामी की कमर में हाथ डाल और कहा- मेरी जान, इसको सब पता है.

प्रिया- आहह हहह हहह सर ऐसे ही कीजिये … मज़ा आ रहा है … आआहह … उह्ह्ह ह्ह हां … और ज़ोर से चोदो न … और ज़ोर से आईईई … सर प्लीज आह … मैं बस तुम्हारी हूं … हां और उह्ह्ह्ह ह्ह ज़ोर से चोद मुझे … उह्ह्ह्ह ह्ह्ह्ह.

బిఎఫ్ ఎక్స్ ఎక్స్

अब मैं धीरे धीरे उसकी कमर पर किस करता हुआ, उसकी पीठ को चाटता हुआ उसके ऊपर अपने शरीर को रगड़ने लगा. मुझे बड़ा दर्द भी हुआ, लेकिन मैं नशे में थी, तो ज़्यादा कुछ मालूम नहीं चला. जैसे ही मैंने लंड चुत के अन्दर डालने की कोशिश की, तो उसने कहा- बहुत दर्द हो रहा है.

फिर मैंने नीचे से एक झटका दे दिया और उसकी जोर से चीख निकल गयी- आह्ह … आईई … मम्मी … मर गयी … ओह्ह … मां … आह्ह।वो लंड से ऊपर सरकने लगी. मुझे बड़ा मजा आ रहा था और मोनिका रजाई में मुँह छिपाकर आआआ… कर रही थी. वो बोली- इतना मस्त लड़के को कैसे पटा लिया मम्मी आपने!मैंने कहा- तुम्हारी मम्मी किसी से कम है क्या?वो खुश हो गई और चुदने के मचलने लगी.

उसने अपने नाखून मेरी पीठ पर गड़ा दिए थे। मैंने धक्के लगाने चालू रखे.

नीता की चुदाई का मौका मुझे नहीं मिल पाया।अगली सुबह मैं उठा तो नीता और शिल्पी पहले से ही जागी हुई थीं क्योंकि वो आज रात को आंटी के रूम में सोई थी।कल जब से नीता ने मेरा लंड चूसा था तब से ही मेरे अंदर चुदाई की तलब लगी हुई थी. उसके बाद मौसी की लड़की कोमल लौट आई और फिर चुदाई का मौका मिलना कम हो गया. मेरा कमरा और मेरे माता पिता का कमरा अगल बगल में ही था, जिससे उनके कमरे की कुछ आवाजें मैं आसानी से सुन सकता था.

’ अब तो मैं मस्ती में न जाने क्या क्या बोले जा रही थी, मुझे खुद भी कुछ पता नहीं था. फिर मैंने अपने लंड को रानी की चूत से निकाल दिया और पिंकी को रानी के ऊपर ही घोड़ी बनने के लिए कहा. प्रिया मैडम ऐसे बोल रही थीं, जैसे वो बहुत दूर से भाग कर आ रही हों और उनकी सांस फूल गयी हो.

तब मैंने अपनी पैंट की जेब से कंडोम निकाला और उसे पकडाते हुए कहा- लो इसे मेरे लंड पर चढ़ा दो. उसके हाथ मेरे बालों पर जमे थे और वो बार बार लंड से चुदाई करने के लिए कह रही थी.

मैंने उसे छेड़ते हुए कहा- आज कितनों को मारने वाली हो?उसने भी तपाक से बोल दिया- कितनों का तो पता नहीं, पर आपको जरूर मारने का विचार है. और कसकर मेरे बदन से लिपट गयी।चार पांच झटके खाने के बाद उसका बदन ढीला पड़ गया। इसके बाद वो बोली- भइया, थोड़ी देर रुक जाओ, दर्द हो रहा है. फिर वो मेरी बच्चेदानी के पास ही तेज पिचकारी के साथ झड़ गया। उस अहसास को मैं शब्दों में बयाँ नहीं कर सकती।इसी तरह से उस कॉलबॉय ने मेरी पूरी रात में 3 बार चूत और 1 बार गांड मारी।अगली सुबह मैंने, शनाया ने और वो कॉलबॉय ने साथ साथ बाथरूम में शावर लिया और लंड चूत का सहलाने का प्रोग्राम चला.

मैंने अपने सारे जिस्म का बोझ अपने दोनों हाथों पर डाला और फिर से अपना लंड थोड़ा सा बाहर निकाल कर जोर जोर से धक्के मारने लगा.

मैं अपनी विधवा मां और तलाकशुदा मौसी के साथ पूर्वी उत्तर प्रदेश के एक छोटे गांव में रहता हूं। दोनों का बदन सेक्सी चोदने लायक है भरा हुआ. जैसे ही दो लेक्चर्स के बाद मैं लाइब्रेरी के पास गया तो वहाँ पर मुझे कोई दिख नहीं रहा था. वहां पर उसकी मम्मी और बुआ और सब रिश्ते की महिलाएं ही थीं, वो सब भी साथ बैठ कर पी रही थीं.

जैसे भी मैंने गुडबाइ बोला और नीचे तक आया, तभी भाभी का मैसेज आया- मैं एक बात कहूँ?मैंने बोला- हां जी बोलिए ना. उसने मुझे बाकी की कहानी सुनाई कि वह अपने पति के खिलाफ एक केस लड़ रही है और अपने पति से वह तलाक चाहती थी। मैंने उसकी पूरी बात सुनी और उसको सहजता से काम लेने की हिदायत दी.

मेरा सुपारा अन्दर चला गया और वह जोर से चिल्ला उठी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मैं उसके होंठों को चूसने लगा और उसके निप्पलों को सहलाने लगा. मेरे इस ड्रेस की वजह से सब मुझे ही देख रहे थे, लेकिन मुझे इस ड्रेस में अपने बेटे से बचना था. चूत का मजा मिलते ही धक्के अपने आप लगने शुरू हो गये और धीरे धीरे मेरी रफ्तार बढ़ने लगी.

दिसावर गली

थोड़ी देर बाद दोनों बुआ भी पानी में वैसे ही उतर गईं और मुझसे बोलीं कि आज तेरी वजह से हमे खुले में नहाने मिला.

मैं इस बार उसके एक दोस्त से कैसे चुदी और उसके बाद मेरे तीन ब्वॉयफ्रेंड ने मुझे कैसे पेला, साथ ही मैं अपने सगे चाचा से कैसे चुद गई … ये सब मैं आपको अगली सेक्स कहानी में लिखूंगी. कभी मेरी जीभ को चूस रही थी और कभी मेरे होंठों को चूस रही थी।मैं गर्म होने लगा था. फिर मैंने उससे कहा- सोनी, मुझे 11 बजे जाना है और मैं 5 बजे तक आ जाऊंगा, तुम यहीं रहना और कुछ चाहिए हो तो फोन करके मंगा लेना.

जब वापस आई तो मेरी आंखें खुली रह गई।उसने पिंक कलर की हाफ नाइटी पहन रखी थी और अंदर ब्रा और पैंटी भी नहीं थी।वो साड़ी में एक पतिव्रता नारी की तरह गयी थी और जब वापस आई तो एक सेक्स बम बनकर आई. तब मेरी बीवी शनाज़ ज़ोहरा आपा से बोली- आपा … अभी कुछ देर पहले तो आप बहुत खुश थी. देहाती गर्ल सेक्स वीडियोफिर हम पटना से वेस्ट बंगाल आ गए और इस बार मैं अकेले नहीं बल्कि अपनी रखैल के साथ आया था.

चारू हंसते हुए बोली- क्या नाम रखें फिर आपका?मैं- दीवाना …ये सुनकर वो जोर जोर से हंसने लगी।इस प्रकार मेरा और चारू का हंसी मजाक होता रहता. यह कज़िन सिस सेक्स कहानी तब की है जब मैं 2016 में अपने इंटर के एग्जाम दे चुका था.

चूंकि हम दोनों ने कुछ देर पहले ही कोल्ड ड्रिंक पिया था तो उसके होंठों की मिठास और ज्यादा बढ़ गयी और साथ ही ज्यादा मादक भी लग रही थी. वो मस्ती में सिसकारने लगी और उसकी चूत से निकल रहे रस का स्वाद मुझे मेरे मुंह में आने लगा. वो कहने लगे कि अगर किसी चीज की ज़रूरत हो बता देना, शर्माना मत। इसे अपना ही घर समझना.

जब मुझे लगा कि अब यह नहीं चीखेगी तो मैंने अपने लंड को फिर बाहर निकाल लिया और थूक से गीला किया. मेरी लम्बाई 5 फुट 7 इंच है, रंग सांवला है, शरीर ठीक-ठाक है और मेरा लंड 6. तब तक भाभी ने चड्डी-ब्रा भी उतार दी।मैंने बहुत सा तेल अपने लण्ड पर लगाया और ज्योति की फूली हुई चूत पर लगाया।अब वापस टांगों के बीच आकर मैंने लगाया निशाना चूत पर और कर दिया लण्ड को उसके हवाले। दे झटके … दे घचाक … शुरू हो गया हमारा चुदाई का प्रोग्राम।हम लगातार एक-दूसरे के साथ लिप-किस में होड़ लगाये हुये थे और नीचे लण्ड अपना काम कर रहा था.

इसी के साथ मैं धीरे धीरे एक हाथ नीचे ले जाकर उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी फुद्दी को सहलाने लगा.

कुछ ही पलों में मैंने ज़िप पूरी नीचे तक सरका दी और उसको रोकते हुए उसकी ड्रेस को ऊपर की तरफ से उतारा. मैं उसके पीछे एक कुत्ते की तरह हुआ और अपने छोटू को उसकी मुनिया में प्रवेश करवाया.

उसने लंड का अहसास पाते ही ज़ोर से एक आह भरी, जिससे मुझे समझ आ गया कि वो झड़ चुकी थी. मैंने उनकी ब्रा खोल दी और उनके नंगे होचे मदभरे मम्मों को जोर जोर से दबाने लगा और स्मूच करने लगा. ’ का मतलब पूछते हुए उनसे साफ़ शब्दों का इस्तेमाल किया- आपका मतलब वो सेक्स में आपको खुश नहीं रख पाते हैं.

फिर मैंने अपने लंड का टोपा आइला की चूत पर रखा और उसकी दोनों टांगों को अपने कंधे पर रखकर उसके मम्मों को पकड़ लिया. आप उसको केवल हग कर रहे थे।मैं उसके पास चिपक कर बैठ गया और उसके कंधे पर हाथ रख कर बात करने लगा।उसने अपना पैर उठाकर मेरे पैर पर रखा।मैंने उसकी जांघ पर हाथ रख दिया. मैंने उसके लंड को पकड़ कर उसकी गोटियों को भींच दिया और वो सॉरी बोलने लगा.

सेक्सी वीडियो बीएफ औरत हालांकि अलग होकर भी हम दोनों एक दूसरे से आंखों ही आंखों में बात करते रहे. इतनी जबरदस्त चुदाई करने के बाद भी जब मैं नहीं झड़ा तो मैंने उसको सीधी कर लिया.

देसी सेक्स हॉट

थोड़ी देर लंड चूसने के बाद मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था तो मैंने बोला- जल्दी से टेबल पर आ जा … मुझे लंड अन्दर डालने दे. उसे उल्टी होने लगी तो उसने लंड को बाहर निकाल दिया लेकिन मैंने थोड़ा रुक कर फिर से उसके मुंह में लंड दे दिया. मैंने अपना लंड उसके मुँह पर, उसकी आंखों में, उसके नाक पर, उसके कानों में, उसकी गर्दन और उसके बालों पर भी रगड़ा और फिर सारा माल उसको पिला दिया.

ननदोई ने मेरी ननद को लंड मुंह में लेने को बोला तो दीदी ने मना कर दिया. तो उसने भी धीरे से कहा- आपने रवि अंकल के साथ जो किया तो उन्हें तो नींद आ गई पर मुझे नींद नहीं आ रही. बेबी फोटो गैलरी ब्यूटीफुल डाउनलोडफिर हम दोनों बैठ कर बातों में खो गए, पुरानी यादें एक एक करके सामने आने लगीं.

कुछ देर भाभी के आमों से खेलने के बाद मैं थोड़ा नीचे को हो गया और अब मैं उनकी नाभि को चूमने लगा था.

अब कभी वो आगे होतीं, तो कभी पीछे होकर मेरे खड़े लंड को अपनी गांड के साथ रगड़ देतीं. कुछ देर बाद मैं झड़ने को हुआ, तो मैंने मां की चुत में ही सारा वीर्य खाली कर दिया.

फिर मैंने उसकी ब्रा को हटा कर उसे उठाया और वहीं डेस्क पर लिटा दिया. ठीक उसी वक़्त ज़ोहरा आपा ने पिछली रात की फ़रिश्ते के आने का वाकिया अम्मी को बताया. उनके मुंह से अब आह्ह … ओह्ह … आईई … आह्ह … करके चुदाई की कामुक सिसकारियां निकल रही थीं.

मैंने अपने धक्के मारने की स्पीड बढ़ा दी और एक हाथ से उसके बोब़े मसलने लगा ताकि उसे भी मजा आने लगे.

फिर उसने धीरे धीरे मेरी गर्दन को चूमते हुए मुझे नीचे लिटा लिया और मेरी पूरी बॉडी को चूमने लगी. मैं उत्तर प्रदेश के मेरठ ज़िले का रहने वाला हूं और फिलहाल नोएडा में रहता हूं. दोस्तो, किस तरह से मेरे मम्मी के यार से मेरी चुत चुदाई का आगाज हुआ, ये मैं आपको सेक्स कहानी के अगले हिस्से में बताऊंगी.

52 गज का दामन djकुछ देर बाद उसने मुझे चुदाई की पोजीशन में लिटा दिया और अपना लंड मेरी चूत पर रख कर एक ज़ोर का झटका दे मारा. मैं उधर ही रुक गया और उसकी तरफ हाथ से हाय किया, तो उसने भी मुझे रिप्लाई दिया.

चाचा भतीजी

एक तरफ वो मेरे लंड को चूस रही थी और मैं उसके मुंह में लंड को पेल रहा था. तीन-चार बार में उसने अच्छे से दूध घाटी को, मेरे स्तनों के किनारों को चाटा और उन्हें गीला कर दिया. मुझे समझ नहीं आया कि क्या लिखूं … तो मैंने लिख दिया- डू यू नो मी?उसने बोला- जी हां मिस्टर सेकंड फ्लोर … मैंने आपकी डीपी से आपको पहचान लिया है.

भाभी की चूत से लार जैसा रस टपक रहा था, जिसकी एक भी बूँद में बर्बाद होते नहीं देख सकता था. उसके लंड को चूसते चूसते मेरे लिप्स बिल्कुल लाल हो गए थे।अब समीर कुछ देर के लिए रुका और अज़ीम की तरफ बढ़ा और जाकर उसका लंड चूसने लगा. हवस के जोश में हिम्मत पता नहीं कहां से आयी कि मैं दरवाजा खोल कर भाभी के रूम में पहुंचा.

आप मम्मी-पापा को आप ये बोल देना कि मेरे दोस्तों ने उनके घर पर पार्टी प्लान की है, हमें वहाँ जाना पड़ेगा।तो दीदी मान गयी।शाम को हम पापा के पास गए और जैसा प्लान किया था, वैसा बोल दिया।पर पापा ने मना कर दिया। क्यूंकि वे अपने घर की लड़की को रात को कहीं बाहर जाने नहीं दे सकते थे।पर बाद में मैंने भी कहा- पापा, कुछ गलत नहीं होगा. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:मेरी गर्लफ्रेंड की सुहागरात की कहानी-2. उसके बाद मैंने गौर किया कि जिस जगह पर लंड होता है उस जगह से उसकी जीन्स फूली हुई थी तो मेरा हाथ अनायास ही जीन्स के ऊपर से ही उस जगह पहुँच गया जहाँ पर लंड होता है.

मैंने शोभा भाभी की गांड में उंगली चलाई और सुमन भाभी की गांड से लंड खींच कर शोभा भाभी की गांड में लंड पेल दिया. आंटी ने अपने गुलाबी होंठों से मेरे लंड को पूरा दबा लिया और अन्दर लेकर लंड चूसने की आवाज निकलने लगी.

मैंने उसे हैलो बोलते हुए अपना हाथ आगे किया, तो उसने घबराते हुए केवल मुँह से हैलो बोल दिया.

बस इस कहानी के माध्यम से मैं अपने दिल के बोझ को हल्का करना चाहता हूं कि मैंने उसके साथ क्या क्या गलत किया. राजस्थानी इंडियन सेक्सउसने मेरे लंड को उसके ऊपर से सहलाया और मुझे बेड पर लिटा कर मेरे ऊपर चढ़ गयी. प्रेगनेंसी में नींद की गोलीफिर दिन में 10 बजे हम सब बाड़े में गए, वहां हम तीनों ने टैंक में पानी में चुदाई की. उसने मुझे कसकर बांहों में भर लिया और फिर उसकी पकड़ ढीली होती चली गयी.

मगर बारिश से बचने के लिए उस समय उससे अच्छी जगह और नहीं मिल सकती थी.

अब मेरा लौड़ा पूरा अन्दर उसकी बच्चेदानी तक जाने लगा।उसने अपनी चूत को टाईट करना शुरू कर दिया और तेज़ तेज़ लंड के झटकों से उसकी सिसकारी निकल पड़ी और इसी दौरान उसके मुंह से सीत्कार फूटे- आह्ह … आह्ह … ओह्ह …ऐसे करके वो झड़ गई और उसकी चूत के पानी से मेरा लंड पूरा गीला हो गया. पर राजीव उससे बोलने लगा- प्लीज़ यीशा, इतना कुछ हो गया है तो थोड़ा और हो जाने दो. फिर मन में आया कि तुमसे मिल लिया जाये और भाभी के हाथ की एक प्याली चाय पी ली जाये।संदीप अपनी आंखों को मलते हुए- हां यार … क्यों नहीं, गर्म गर्म चाय तो हो ही जाए, आजा अंदर!मैं अंदर घर में आ गया.

मेरी उम्र 23 साल है और मेरे लंड का साइज 7 इंच है, जो किसी भी लड़की को खुश करने के लिए काफी है. आह्ह … चोदे मेरे बच्चे … आह्ह … और चोद।मैं चाची की सिसकारियों से और ज्यादा उत्तेजित हो गया और तेजी से उसकी चूत में लंड पेलने लगा. मॉम चिल्लाती रहीं मगर अंकल ने एक नहीं सुनी और वो मॉम की गांड मारते रहे.

अर्चना सेक्सी वीडियो

अब आगे:नमस्कार दोस्तो मैं फिर से हाजिर हूँ अपनी कहानी को लेकर!तो पीहू को खेत में चोदने के बाद मैं उसे उसके घर छोड़ने गया। वहाँ मैंने पीहू को उसका गिफ्ट नीले रंग की जीन्स और सफेद रंग का टॉप उसे दिया।उसे पीहू लेकर काफी खुश हो गयी. लेकिन मैं इस बात से एकदम अनजान अपनी आपा की चूत में अपनी बीवी की चूत समझ कर उंगली कर रहा था. अबकी बार आधा लंड उसकी चुत में घुस गया और वो जोर से चिल्ला उठी- उईईई … आआह्ह मर गयी.

उसने कुछ ध्यान न देते हुए मुझे अन्दर आने को कहा मगर साथ ही हिदायत भी दी कि सोसाइटी के किसी भी इंसान के सामने कुछ हरकत न करूं.

उसकी बुर की गर्मी से मेरा लण्ड भी पिघल गया और ढेर सारा वीर्य उसकी बुर में ही छोड़ दिया.

ज़ोर से और जोर चोदो … आह तुम्हारी बहन 19 साल की हो गई है … आज तक लंड के बिना तरस रही थी. मैं- तो क्या हुआ, तू मेरे लिए इतना नहीं कर सकती … मैं तुझे खूब प्यार करूंगा. राजस्थानी फिल्मी गानाकुछ मिनट बाद जब कॉलेज आ गया तो मैंने कहा- जाओ और अपना काम करके आ जाओ, मैं कॉलेज के गार्डन में बैठा रहूँगा … वहां आ जाना.

दोनों इस समय बेड पर ही थे, तो मैं उनके चूचों को कुछ जोर से दबाने लगा. मैं उसके होंठों को चूम रहा था था और मेरे लंड का माल और उसकी चुत का पानी उसके मुँह से मुझे स्वाद देने लगा था. मैंने फिर से अन्दर झांक कर देखा, तो भाभी ने पल्लू कमर में खौंस लिया था और वो कुछ सामान उठाने का प्रयास कर रही थीं.

करीब दस मिनट बाद लंड फिर से तन गया और मैं टाइम ना गंवाते हुए भाभी के ऊपर चढ़ गया. मुझको 10 साल पुरानी बात आज भी याद है कि मैं सेक्स प्रति कितना उत्तेजित हुआ करता था.

उसी समय एक ही झटके में फूफा जी ने अपने लंड को अम्मी की फूलों की खाई में उतार दिया.

माधवी भाभी को साइड में सुला कर पीछे से उनकी गांड से चिपक गया और उनकी चुत में लंड डाल दिया. फिर अगले दस मिनट तक मैंने उसको प्यार से मजे ले लेकर चोदा और फिर उसकी चूत में तीसरी बार खाली हो गया. मेरे पूछने पर भाभी ने बताया कि मेरे पति मुझे अच्छे से नहीं चोद पाते हैं.

आदिवासी सेक्सी वीडियो भेजें मैं लिहाजवश अपनी नजरें नीचे करके कह देता था- जी भाभी जी, पढ़ाई ठीक चल रही है. मेरा निकाह मेरी खाला की बेटी से हुआ था और मैं अपनी बीवी शनाज़ की गर्म चूत के मजे ले रहा था.

उल्फ़त- आह भाईजान मर गई प्लीज़ मुझे छोड़ दो … प्लीज भाई छोड़ दो … मैं मर जाऊंगी. वो भी उसके मुँह से सेक्सी आवाज निकलने लगी जिससे मैं और भी जोश में आ गया. माँ- वाह मेरे राजा … क्या मस्त चोदता है तू … जब गांड इतनी अच्छी मारता है, तब तो तू मेरी चूत का भोसड़ा बना देगा.

जापानी स्कूल गर्ल सेक्स वीडियो

मैंने मम्मी की चूत के नीचे मुँह खोल लिया और मम्मी ने अपनी पेशाब से मेरी प्यास बुझा दी. सोनिया भाभी की शादी को 3 साल हो गए थे, पर अब तक कोई बच्चा नहीं हुआ था. मैंने बोला- भाभी मैं कॉलबॉय नहीं हूँ … वैसे कहिए आपकी क्या फरमाइश है?भाभी बोलीं- पहले खाना खा लो, मुझे भी खाना है.

हम दौड़कर एक झोपड़ी की ओर भागे क्योंकि हम गाड़ी से काफी दूर आ गये थे. मैंने मोबाइल में साढ़े सात बजे का अलार्म लगा दिया और उसकी आवाज कम कर दी ताकि अलार्म बजे तो मम्मी जी को ना सुने.

मैंने उसी पल टीचर की जांघ पर हाथ रखा और बोला- प्लीज़ सर एक बार मान जाइए, आप लोग जो भी बोलेंगे, मैं करने को तैयार हूँ.

तो वो बोली- मुझे मेरे बेटे को स्कूल लेने जाना है, तुम बाद में आ जाना. पिछले भागमामा की कमसिन बेटी की बुर चुदाईमें अब तक आपने पढ़ा था कि मेरी ममेरी बहन उल्फ़त मेरे लंड से खेलने के लिए कमरे में आ गई थी. जब मैं पहली बार क्लास में गया, तो पता चला कि मेरे क्लास की बहुत सी लड़कियों ने भी यहीं एडमिशन लिया था.

मैं भी उसका पूरा साथ दे रहा था।करीब 10 मिनट किस करते हुए हम एक-दूसरे के कपड़े उतार चुके थे. लेकिन सागर ने उन्हें पकड़ लिया और वो नाटक करते हुए बोली कि उनका पैर हल्का सा मुड़ गया है।सागर ने मामी का ये नाटक तुरंत समझ लिया और उनको अपने गोद पर कमर से खींच कर बिठा लिया और उनका दोनों पैर उठा कर अपने पैरों पर रख लिया. उसी समय एक ही झटके में फूफा जी ने अपने लंड को अम्मी की फूलों की खाई में उतार दिया.

साली तेरी सारी होशियारी निकाल के रख दूंगा कुछ ही देर में, साली मेरी बाइक को टक्कर मार कर भाग रही थी, रांड कहीं की… आह्ह … अब चुद साली.

सेक्सी वीडियो बीएफ औरत: मैंने और प्रशान्त ने मम्मी की चूत में एक साथ अपना अपना लंड घुसा दिया और मम्मी जोर जोर से चीखने लगीं- आह मेरी फट गई … जल्दी से बाहर निकालो, मुझे दर्द हो रहा है, दोनों एक साथ नहीं करो. बीस मिनट तक बड़ी बुआ की गांड मारने के बाद वैसे ही छोटी बुआ की गांड मारनी शुरू कर दी.

ये सेक्स कहानी मेरी पहली देसी कहानी है और मेरे साथ रियल में हुई एक सच्ची घटना है. प्रिन्सिपल ने मुझसे बोला- देखिए आप शाम को मेरे रूम पर आइए, फिर बात करते हैं. उस दिन मैंने अम्मी के पैरों की और कमर की मालिश की क्योंकि उनको बहुत तेज दर्द हो रहा था.

इधर मामी तड़प रही थी, सागर को बोल रही थी- मेरी जान, अब तड़पाओ मत मुझे.

तो मैंने भी जबाव में पूछा- हैलो आप कौन?भाभी- मैं सोनिया … पहचाना!मैंने तुरंत उन्हें पहचान लिया और जबाव में उन्हें भाभी जी नमस्ते की. जब मामी की जीभ मेरे लंड के टोपे पर आकर प्यार से सहलाती थी तो मैं स्वर्ग में पहुंच जाता था।धीरे धीरे करके वो लंड को अंदर तक मुंह में भरने लगी. एक दिन वैशाली ने मुझे फोन करके अपने घर का पता बता कर कुछ कपड़े मंगवाये कि इस बहाने मैं उनका घर देख लूं.